0
🌊🌎🌈
*✭﷽✭*
  ╭┅━┅━┅┅━─────━┅┅━┅━┅╮
     *🌐SAR KI HIFAZAT KIJIYE🌐*
  ╰┅━┅━┅┅━─────━┅┅━┅━┅╯
                *★ POST NO-01 ★*
               *╂───────────╂*
                    *☞ Aagaaz _,*
*◈_ Hadeese Baala me Pehli Hidayat Sar aur Usse Mutalliq A’aza ki Hifazat ki di gayi he, isse ye Muraad nahi k Sar ko Mahaz jismani Bimariyo se bachaya jaye aur Dava vagera ke Zariye se uski Hifazat ke tareeqe akhtyar kiye jaye, Balki Maqsood ye he k Sar aur Usse Mutalliq A’aza ko har us Bimari se mehfooz rakha jaye jisse Shariyat me muma’anat vaarid hui he ,*

*◈_ Maslan – Hamara Sar Allah ke Darbaar ke alawa kisi aur ke Darbaar me na Jhuke, Hamari Aankhe na-jaa’iz cheezo ko na dekhe, Hamare Kaan Haraam Awaaz ko na Sune Hamari Zabaan na-jaa’iz baato ka talaffuz na kare ,*

*◈_ Qurane Kareem aur Ahadees e Taiyaba me in cheezo ki Hifazat per mukhtalif andaaz me zor diya gaya he, Jiski Qadre Tafseel in sha Allah Agle Part se pesh ki jayegi ,*

*⚀•RєԲ:➻┐*
*Allah se Sharm Kijiye, 40,*           •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-01 ★*
            *╂───────────╂*
                    *☞ आगाज़ _,*
*★_ हदीसे बाला में पहली हिदायत सर और उससे मुताल्लिक़ आज़ा की हिफाज़त की दी गई है, इससे यह मुराद नहीं कि सर को महज़ जिस्मानी बीमारियों से बचाया जाए और दवा वगैरा के ज़रिए से उसकी हिफाज़त के तरीक़े अख्तियार किए जाएं, बल्कि मक़सूद यह है कि सर और उसे मुताल्लिक़ आज़ा को हर उस बीमारी से महफूज़ रखा जाए जिससे शरीयत में मुमा'नत वारिद हुई है ।*

*★_ मसलन- हमारा सर अल्लाह के दरबार के अलावा किसी और के दरबार में ना झुके, हमारी आंखें नाजायज़ चीज़ों को ना देखें, हमारे कान हराम आवाज़ को ना सुने, हमारी ज़बान नाजायज़ बातों का तलफ़्फ़ुज़ ना करें ।*

*★_ क़ुरआने करीम और हदीसे तैय्यबा में इन चीज़ों की हिफाज़त पर मुख्तलिफ अंदाज में जोर दिया गया है, जिसकी क़दरे तफसील इंशा अल्लाह अगले पार्ट से पेश की जाएंगी ।*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,40*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-02 ★*
               *╂───────────╂*
              *☞ Shirk Se Bachna ▣*
*◈_ Sar ki Hifazat ka Avval sabaq ye he k Aadmi ka dimaag kisi bhi haal me Allah Rabbbul izzat ke saath ibaadat me kisi doosre ko Sharek karne ka ravadaar na ho, isliye k Allah Ta’ala ke alawa doosre ko ma’abood banana ya samajhna Islam ki nazar me Na-qabile maafi Jurm he,*

*◈_ Allah Ta’ala ka irshad he:- Surah An- Nisa ,)*
*(Tarjuma) :- Beshak Allah Ta’ala nahi bakhshta usko Jo uska shareek kare ,aur bakhshta he usse niche ke Gunaah jiske chahe ,*

*◈_ Hadees Sharif me Sakhti ke saath Shirk ki muma’anat vaarid hui he aur na sirf Shirke Haqeeqi ( Yani ma’abood samajh kar gairullah ko sajda karna vagera) Balki Shirke Shaiba ( Yani gairullah se ma’abood jesa maamla karna ) se bhi bachne ki talqeen farmayi gayi he ,*

*◈_ Marzul Wafaat me Aap Sallallahu Alaihivasallam ne Ummat ko Jo chand Aham tareen Vasiyate irshad farmayi unme ek ye bhi thi k ,*
*”_ Khabardar ! Tumse pehli ummato ke log apne Ambiya aur Nek logo ki Qabro ko Sajdagaah bana lete the, Khabardar ! Tum Qabro ko Sajdagaah mat banana, Mai'n Tumko is kaam se rokta hu’n ,”*

*📓 Muslim Sharif, 1/201,*

*◈_ Lihaza Sar ki Hifazat is baat me he k Hamara Sar Allah Ta’ala ke Darbaar ke alawa kisi ke saamne na jhuke aur Allah Ta’ala jesi Ta’zeem aur kisi ki na ki jaye ,*

*⚀•RєԲ:➻┐Allah se Sharm Kijiye, 40,*
            •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-02 ★*
            *╂───────────╂*
                *☞ शिर्क से बचना _,*
*★_ सर की हिफाज़त का अव्वल सबक यह है कि आदमी का दिमाग किसी भी हाल में अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त के साथ इबादत में किसी दूसरे को शरीक़ करने का रवादार ना हो, इसलिए कि अल्लाह ताला के अलावा दूसरे को मा'बूद बनाना या समझना इस्लाम की नज़र में ना का़बिले माफी जुर्म है ।*

*★_ अल्लाह ताला का इरशाद है, ( सूरह निसा ) तर्जुमा :-  बेशक अल्लाह ताला नहीं बख्शता उसको जो उसका शरीक़ करें और बख्शता है उससे नीचे के गुनाह जिसके चाहे _,"*

*★_ हदीस शरीफ में सख्ती के साथ शिर्क की मुमा'नत वारिद हुई है और ना सिर्फ शिर्के हक़ीकी़ (यानी माबूद समझकर गैरूल्लाह को सजदा करना वगैरा) बल्कि शिर्के शैबा ( यानी गैरूल्लाह से माबूद जैसा मामला करना ) से भी बचने की तलकीन फरमाई गई है,*

*★_ मर्जुल वफात में आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उम्मत को जो चंद अहम तरीन वसीयतें इरशाद फरमाईं उनमें एक यह भी थी कि, "_ खबरदार ! तुमसे पहली उम्मतों के लोग अपने अंबिया और नेक लोगों की क़बरों को सजदा गाह बना लेते थे, खबरदार ! तुम क़बरों को सजदा गाह मत बनाना, मैं तुमको इस काम से रोकता हूं *( मुस्लिम शरीफ- 1/ 201)*

*★_ लिहाज़ा सर की हिफाज़त इस बात में है कि हमारा सर अल्लाह ताला के दरबार के अलावा किसी के सामने ना झुके और अल्लाह ताला जैसी ताज़ीम और किसी की ना की जाए _,*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _40,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
               *★ POST NO-03 ★*
               *╂───────────╂*
     *☞ Ek Galat Fehmi Ka ijaala ▣*
*◈_ Aaj kal Qabro KE saamne Sar Jhukane aur Matha tekne ka Rivaaj aam he, Jab logo'n ko is bad Amali se mana kiya jata he aur unke saamne Sahih Ahadeed padhi jati he Jinme Qabro KE Sajde se muma’anat Kï gayi he to unme se baaz Be – Tofeeq log ye taveel karte he’n k, ” Hadees me jis Sajde se mana kiya gaya Wo Namaz wala Sajda he yani Qabro ko esa sajda na kiya jaye jesa Namaz me hota he, iske alawa doosri tarah sar jhukana mana nahi he ,”*

*◈_ Hala'nki Ye taveel bilkul be- asal he , Yaha'n Jo Hukm Sajde ka he Wahi Hukm Ruku ya kisi bhi tarah Matha tekne ka he aur is tarah Kï sabhi ibaadaat jesi harkate Gairullah ke liye Na-jaa’iz aur Haraam he, Khud Fuqha ne iski sarahat farmayi he ,*

*”_ Aur isi tarah Jaahil log ulma Sarbaravar Hazraat KE saamne Zameen choomne ka Amal karte he’n Wo Haraam he aur is Amal ka karne wala aur isse Raazi hone wala dono gunahgar he’n, isliye k ye But Kï ibaadat KE mushabe he, aur kya iski takfeer (Kufr ka Fatwa lagana, Kaafir thehrana ) Kï jayegi ? To agar ibaadat aur Tazeem Kï niyat se ho to takfeer ( Kufr) hogi aur agar mahaz ahatram ke tor per ho to takfeer ( Kufr ) to na hogi magar Wo gunahe Kabira hoga _," (Durre Mukhtar )*

*◈"_ Aur Fatawa Zahidi me he k Ruku KE qareeb tak Jhuk kar Salam bhi Sajde hi KE Hukm me he aur muheet me he k Badshah KE saamne Jhukna makrooh tehrimi he aur Fuqha KE Zaahir Kalam se yahi maloom hota he k is tarah Kï taqbeel ( choomna, Bosa dena) per Sajde hi ka Hukm lagaya gaya he _,"* *(Shaami ,9/428)*

*◈_ Bahar haal Fuqha Kï in ibaraat se ye tay ho gaya he k Muma’nat sirf Namaz jese Sajde tak mehdood nahi he balki jis tarah bhi had se zyada tazeem Kï jaye aur ibaadat Kï soorat apnayi jaye Wo gairullah KE saamne mamnoo he, isliye Jo Shakhs bhi Allah se Sharm karega Wo Apne Sar ko kabhi bhi Qabro vagera KE saamne jhukane Kï jurrat na kar sakega ,*

*⚀•RєԲ:➻┐Allah se Sharm Kijiye, 42,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-03 ★*
            *╂───────────╂*
       *☞ एक ग़लत फहमी का इजाला _,*
*★_ आजकल कब्रों के सामने सर झुकाने और माथा टेकने का रिवाज़ आम है, जब लोगों को इस बद अमली से मना किया जाता है और उनके सामने सही हदीस पढ़ी जाती है जिनमें क़ब्रो के सजदे से मुमानत की गई है तो उनमें से बाज़ बेतौफीक़ लोग यह तावील करते हैं कि हदीस में जिस सजदे से मना किया गया वह नमाज़ वाला सज्दा है यानी क़बरों को ऐसा सज्दा ना किया जाए जैसा नमाज़ में होता है, इसके अलावा दूसरी तरह सर झुकाना मना नहीं है ।*

*★_ हालांकि यह तावील बिल्कुल बे असल है, यहां जो हुक्म सज्दे का है वही हुक्म रुकू या किसी भी तरह माथा टेकने का है और इस तरह की सभी इबादात जैसी हरकतें गैरुल्लाह के लिए नाजायज़ और हराम है, खुद फुक़हा ने इसकी सराहत फरमाई है ।*

*"_ और इसी तरह जाहिल लोग उलमा सरबरावर हज़रात के सामने ज़मीन चूमने का अमल करते हैं वह हराम है, और इस अमल का करने वाला और इससे राज़ी होने वाला दोनों गुनहगार हैं, इसलिए कि यह बुत की इबादत के मुशाबे ( बराबर)  हैं, और क्या इसकी तकफीर ( कुफ्र का फतवा लगाना या काफिर ठहराना ) की जाएगी ? तो अगर इबादत और ताजी़म की नियत से हो तो तकफीर ( कुफ्र ) होगी और अगर महज़ अहतराम के तौर पर हो तो तकफीर ( कुफ्र) तो ना होगी मगर वह गुनाहे कबीरा होगा_,"  (दुर्रे मुख्तार )*

*★_ और फतावा जा़हीदी में है कि रुकू के क़रीब तक झुक कर सलाम भी सजदे ही के हुक्म में हैं और मुहीत में है कि बादशाह के सामने झुकना मकरूह तहरीमी है और फुक़हा के ज़ाहिर कलाम से यही मालूम होता है कि इस तरह की तक़बील ( चूमना, बोसा देना ) पर सज्दे ही का हुक्म लगाया गया है _," (शामी - 9/428)*

*★_ बरहाल फुक़हा की इन इबारात से यह तय हो गया है की मुमानत सिर्फ नमाज़ जैसे सजदे तक महदूद नहीं है बल्कि जिस तरह भी हद से ज़्यादा ताज़ीम की जाए और इबादत की सूरत अपनाई जाए वह गैरुल्लाह के सामने मना है,  इसलिए जो शख्स भी अल्लाह  से शर्म करेगा वह अपने सर को कभी भी कब्रों वगैरा के सामने झुकाने की जुर्रत ना कर सकेगा ।*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _42,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-04 ★*
               *╂───────────╂*
       *☞ Shirk e Khafi.(Riyakari )-1,*
*◈_ Shirk Kï ek qism aur he Jise Shirke Khafi ya Riyakari ke Naam se Jana jata he, iska matlab ye he k Allah Kï ibaadat isliye Kï jaye taki koi doosra Shakhs isse khush ho, Ya isse koi Duniyavi maqsad ho Ya Shohrat v izzat, Daulat vagera uske zariye haasil ho jaye, Shariyat Kï Nazar me Ye Amal Chahe Kufr v Shirk ke darje ka nahi lekin apni zaat ke aitbaar se nihayat mabgooz ( nafrat ke qabil ) he aur insaan Kï saari mehnat ko barbaad kar deta he ,*

*◈_ Jo Shakhs Akhirat ke Amal ko muzayyan kare Hala'nki Wo Akhirat ka taalib na ho to us per Asmaan v zameen me laanat Kï jati he_ , (Targeeb , 1/32)*

*◈_ Jo Akhirat KE kisi Amal se Duniya ka taalib ho uske chehre per fatkaar hoti he, uska zikr mita diya jata he aur uska naam Jahannam me likh diya jata he _, (Targeeb v Tarheeb ,1/32)*

*◈_ Jo Shakhs Namaz ko isliye achcha padhe taki log use dekhe aur Jab tanhaai me jaye to Namaz kharab padhe (Adaab v Sharayat ka lihaaz na rakhe ) to ye esi ahanat he jiske zariye se Wo Allah ta’ala Kï toheen kar raha he _," (Targeeb v Tarheeb ,1/33,)*

*⚀•RєԲ:➻┐Allah se Sharm Kijiye, 42,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-04 ★*
            *╂───────────╂*
          *☞ _शिर्के खफी ( रियाकारी ) _,"*
*★_ शिर्क की एक क़िस्म और है जिसे शिर्के खफी या रियाकारी के नाम से जाना जाता है, इसका मतलब यह है कि अल्लाह की इबादत इसलिए की जाए ताकि कोई दूसरा शख्स इससे खुश हो या इससे कोई दुनियावी मक़सद हो या शोहरत व इज़्ज़त, दौलत वगैरह उसके ज़रिए हासिल हो जाए ।*

*★_ शरीयत की नज़र में यह अमल चाहे कुफ्र व शिर्क के दर्जें का नहीं लेकिन अपनी जा़त के एतबार से निहायत मबगूज़ ( क़ाबिले नफरत ) है और इंसान की सारी मेहनत को बर्बाद कर देता है_,*
*"_ जो शख्स आखिरत के अमल को मुज़य्यन करे हालांकि वह आखिरत का तालिब ना हो तो उस पर आसमान व जमीन में लानत की जाती है_," ( तरगीब - 1/32)*

*★_ जो आखिरत के किसी अमल से दुनिया का तालिब हो उसके चेहरे पर फटकार होती है, उसका ज़िक्र मिटा दिया जाता है और उसका नाम जहन्नम में लिख दिया जाता है _," (तरगीब व तरहीब- 1/32)*

*★_ जो शख्स नमाज़ को इसलिए अच्छा पढ़े ताकि लोग उसे देखें और जब तन्हाई में जाए तो नमाज खराब पढ़े ( आदाब व शरायत का लिहाज ना रखें) तो यह ऐसी अहानत है जिसके ज़रिए से वह अल्लाह ताला की तोहीन कर रहा है _," *( तरगीब व तरहीब -1/33)*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _42,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-05 ★*
               *╂───────────╂*
        *☞ Shirk e Khafi.(Riyakari )-2,*
*◈_ Jisne Riya ke qasd se Roza rakha usne Shirk kiya, Jisne dikhawe ke liye Namaz padhi usne Shirk kiya aur Jisne Shohrat ke liye Sadqa kiya usne bhi Shirk kiya_,"  (Targeeb v Tarheeb ,1/33)*

*◈_ Shirke Khafi ye he k Aadmi khada ho kar Namaz padhe aur Jab ye dekhe k koi Shakhs use dekh raha he to apni Namaz khoob achchhi kar de_,"  (Ibne maaja ,310 Targeeb v Tarheeb ,1/33)*

*◈_ Ey logo ! Chhipe hue Shirk se bachte raho ,*
*Sahaba Kiraam ne arz kiya ,” Ya Rasulallah Sallallahu Alaihivasallam Chhipa hua Shirk kya he ?*
*"_To Aapne farmaya k ek Aadmi Namaz ke liye khada ho to logo ko uski taraf dekhne Kï vajah se apni Namaz ko khoob koshish karke muzayyan kare to ye poshida Shirk he_,"  (Targeeb v Tarheeb ,1/34)*

*◈_ Mai'n Sabse zyada tum per jis baat ka Andesha karta hu Wo Shirke Asgar he_,*
*Sahaba Raziyallahu anhum ne puchha ,k Shirke Asgar kya hota he. ?*
*To Aap _ﷺ_ne jawab diya ye Riya he ,Allah ta’ala logo ko unke Amaal ka badla dete waqt irshad farmayega k unhi logo ke paas jao jinko Duniya me tum ( apni ibaadat ) dikhate the to dekho kya tum unke paas koi badla paoge _," ( Targeeb v Tarheeb ,1/34)*

*◈_ Allah Ta’ala se panaah mango Jubbul Hujn ( Gam Kï Ghaati ) se,*
*"_Sahaba Raziyallahu Anhum ne arz kiya, Ya Rasulullah _ﷺ_ Jubbul Hujn kya he ?*
*To Aap _ﷺ_ne irshad farmaya k Wo Jahannam me esi Vaadi he jisse Khud Jahannam har din Chaar So ( 400 ) martaba panaah maangti he _,*

*"_Aap _ﷺ_se puchha gaya k ,Ey Allah ke Rasool ﷺ usme kon log Dakhil honge ,?*
*To Aap _ﷺ_ne farmaya k Riyakariyo’n ke liye ise taiyar kiya gaya he _",(Targeeb v Tarheeb ,1/34)*

*◈_ Ye irshadat hamari tambeeh ke liye kaafi he k Hume Apne har us Amal v Aqeede se mehfooz karna chahiye Jo Allah ta’ala se Sharm Karne ke taqaze ke manafi ho, Riyakari aur ibaadat me Allah KE saath doosre ko shareek Karna dar haqeeqat Allah ta’ala ke saath nihayat be hayai aur be sharmi he ,*

*⚀•RєԲ:➻┐Allah se Sharm Kijiye, 43,*               •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-05 ★*
            *╂───────────╂*
       *☞ शिर्के खफी (रियाकारी )-2,*
*★_ जिसने रिया के क़स्द से रोज़ा रखा उसने शिर्क किया, जिसने दिखावे के लिए नमाज़ पढ़ी उसने शिर्क किया और जिसने शोहरत के लिए सदका किया उसने भी शिर्क किया _," (तरगीब व तरहीब -1/33)*

*★_ शिर्के खफी यह है कि आदमी खड़ा होकर नमाज़ पढ़े और जब यह देखे कि कोई शख्स उसे देख रहा है तो अपनी नमाज़ खूब अच्छी कर दे_," ( इब्ने माजा- 310, तरगीब व तरहीब -1/33)*

*★_ ऐ लोगो ! छिपे हुए शिर्क से बचते रहो,  सहाबा किराम ने अर्ज़ किया :- या रसूलल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ! छिपा हुआ शिर्क क्या है ? तो आपने फरमाया कि एक आदमी नमाज के लिए खड़ा हो तो लोगों को उसकी तरफ देखने की वजह से अपनी नमाज को खूब कोशिश करके मुजय्यन करें तो यह पोशीदा शिर्क है _, ( तरगीब व तरहीब- 1/34)*

*★_ मैं सबसे ज्यादा तुम पर जिस बात का अंदेशा करता हूं वह शिर्के असगर है, सहाबा रजियल्लाहु अन्हुम ने पूछा कि शिर्के असगर क्या होता है ? तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने जवाब दिया :- यह रिया है, अल्लाह ताला लोगों को उनके आमाल का बतला देते वक्त इरशाद फरमायेगा कि उन्हीं लोगों के पास जाओ जिनको दुनिया में तुम (अपनी इबादत) दिखाते थे तो देखो क्या तुम उनके पास कोई बदला पाओगे _," ( तरगीब व तरहीब -1/34)*

*★_ अल्लाह ताला से पनाह मांगो जुब्बुल हुज्न (गम की घाटी ) से,  सहाबा रजियल्लाहु अन्हुम ने अर्ज़ किया - या रसूलल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम! जुब्बुल हुज्न क्या है ? तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया कि वह जहन्नम में ऐसी वादी है जिससे खुद जहन्नम हर दिन चार सौ मर्तबा पनाह मांगती है _,"*
*"_आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से पूछा गया कि ऐ अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ! उसमें कौन लोग दाखिल होंगे ? तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया कि रियाकारियों के लिए इसे तैयार किया गया है_," (तरगीब व तरहीब -1/34 )*

*★_ यह इर्शादात हमारी तंबीह के लिए काफी हैं कि हमें अपने हर उस अमल व अक़ीदे से महफूज़ करना चाहिए जो अल्लाह ताला से शर्म करने के तकाज़े के मनाफी हो, रियाकारी और इबादत में अल्लाह के साथ दूसरे को शरीक़ करना दर हक़ीक़त अल्लाह ताला के साथ निहायत बेहयाई और बेशर्मी है _,*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _43,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-06 ★*
               *╂───────────╂*
                 *☞ Takabbur -1 ▣*
*◈_ Allah Ta’ala se Haya karne ka ek aham taqaza ye he k hamara Sar aur Hamara dimaag Kibr v khudnumai se poori tarah Paak ho ,Kibriyai sirf aur sirf zaate ilaahi ko Zeba deti he, Qurane Kareem Khule lafzo me Elaan karta he, (Surah Al-Jathiya, Aayat 37)*

*"_وَلَهُ الْكِبْرِيَاءُ فِي السَّمَاوَاتِ وَالْأَرْضِ وَهُوَ الْعَزِيزُ الْحَكِيمُ_,*

*( Tarjuma)_” Aur usi ke liye badaai he Aasmano me zameen me aur wahi he Zabardast hikmat wala ,*

*◈_ Zameen per Akad kar chalna aur Sar ko takabbur ke andaz me rakhna Quran Hadees Kï Nazar me Sakht Na- pasandida he ,Qurane Kareem me farmaya gaya :- ( Surah Al-Isra, Aayat 37)*

*"_وَلَا تَمْشِ فِي الْأَرْضِ مَرَحًا إِنَّكَ لَن تَخْرِقَ الْأَرْضَ وَلَن تَبْلُغَ الْجِبَالَ طُولًا_,*

*( Tarjuma)_ ” Aur mat chal zameen per Akadta hua tu faad na daalega zameen ko aur na pahunchega pahado tak lamba ho kar ,*

*⚀•RєԲ:➻┐Allah se Sharm Kijiye, 46,*               •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-06 ★*
            *╂───────────╂*
                   *☞ तक़ब्बुर -1,*
*★_ अल्लाह ताला से हया करने का एक अहम तकाजा़ यह है कि हमारा सर और हमारा दिमाग किब्र व खुदनुमाई से पूरी तरह पाक हो, किबरियाई सिर्फ और सिर्फ जा़ते इलाही को ज़ेबा देती है,  क़ुरआने करीम खुले लफ्जों में ऐलान करता है :- (सूरह अल जाथिया आयत 37)*

*"_( तर्जुमा) और उसी के लिए बढ़ाई है आसमानों में जमीन में और वही है जबरदस्त हिकमत वाला _,"*

*★_  जमीन पर अकड़ कर चलना और सर को तकब्बुर के अंदाज में रखना कुरान हदीस की नज़र में सख्त ना पसंदीदा है, क़ुरआने करीम में फरमाया गया :- ( सूरह अल इसरा आयत 37)*

*"_( तर्जुमा ) और मत चल ज़मीन पर अकड़ता हुआ तू फाड़ ना डालेगा ज़मीन को और ना पहुंचेगा पहाड़ों तक लंबा होकर _,"*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _46,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-07 ★*
               *╂───────────╂*
                *☞ ▣ Takabbur -2 ▣*
*◈_ Allah Ta’ala Farmate he’n ,Badaai meri chaadar he aur Azmat meri izaar he, Jo inme se koi cheez bhi mujhse lene Kï koshish karega ,Me use Jahannam me Dakhil karunga _,*

*⚀•RєԲ: Abu Daowd-2/66, ibne maaja 308, Muslim 2/ 329,*

*◈_ Koi bhi Esa Shakhs Jannat me Dakhil nahi ho sakega jiske Dil me Raai ke daane ke barabar bhi Takabbur ho _,*

*⚀•RєԲ: Muslim-1/5, Tirmizi 2/20, Mishkaat 2/433,*

*◈_ Tumhare se pehli ummato ka ek Shakhs Takabbur Kï bina per tehband latka ta tha to use zameen me dhansa diya gaya aur Wo qayamat tak dhansta hi chala ja raha he _,*

*⚀•RєԲ: Nasa’i 2/298, Targeeb v Tarheeb 3/356,*

*◈_ Jo Shakhs badaai ki vajah se Apne Kapde ( Takhne se ) niche latkaye to Allah Ta’ala qayamat ke din uski taraf Rehmat Kï Nazar na farmayenge _,*

*⚀•RєԲ: Bukhari Sharif 2/860, Targeeb v Tarheeb 3/357,*

*◈_ Jo Shakhs Apne ko bada samjhe aur Chaal me Takabbur ka izhaar kare to Allah Ta’ala se Wo is haal me milega k Allah Ta’ala us per gussa hoga ,*

*⚀•RєԲ: Ravaah Tabrani, Targeeb V Tarheeb,3/357*

*◈_ Khulasa ye he k Takabbur aur Khud pasandi esi bad tareen khaslat he Jo insaan ko Duniya v Akhirat kahi ka nahi chhorti, Fir Allah Ta’ala ke muqable me Takabbur karna nauzu billah nihayat be hayai Kï baat he ,*

*◈_ Tavazo ke zariye insaan bulandi ke naqabile tasavvur maqaam tak pahunch jata he aur Takabbur Kï vajah se agarche khud ko kitna hi bada samajhta rahe magar logo Kï Nazar me Kutte aur Khinzeer se badtar ho jata he ,,Allah Ta’ala is manhoos Buraai se Hume mehfooz rakhe aur Apni zaate Kaamil se haya karne Kï tofeeq bakhshe ,,( Aameen )*

*☆ Next -Zaban Ki Hifazat Kijiye, Soon in Sha Allah ☆*

*⚀•RєԲ:➻┐ Allah se Sharm Kijiye, 46,*
              •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-07 ★*
            *╂───────────╂*
                    *☞ तक़ब्बुर -2,*
*★_ अल्लाह ताला फरमाते हैं:- बढ़ाई मेरी चादर है और अज़मत मेरी ईजार है, जो इनमें से कोई चीज़ भी मुझसे लेने की कोशिश करेगा मैं उसे जहन्नम में दाखिल करूंगा _," (अबू दाऊद 2/66, इब्ने माजा - 308, मुस्लिम-2/329),*

*★_ कोई भी ऐसा शख्स जन्नत में दाखिल नहीं हो सकेगा जिसके दिल में राई के दाने के बराबर भी तक़ब्बुर हो _", (मुस्लिम- 1/5,  तिर्मिज़ी -2/20, मिशकात -2/433)*

*★_ तुम्हारे से पहली उम्मतों का एक शख्स तक़ब्बुर की बिना पर तेहबंद लटकाता था तो उसे ज़मीन में धंसा दिया गया और वह क़यामत तक धंसता ही चला जा रहा है_," ( नसाई-2/298, तरगीब व तरहीब-3/356)*

*★_ जो शख्स बड़ाई की वजह से अपने कपड़े (टखने से) नीचे लटकाए तो अल्लाह ताला क़यामत के दिन उसकी तरफ रहमत की नज़र ना फरमाएंगे _," ( बुखारी शरीफ-2/860,  तरगीब व तरहीब -3/357)*

*★_ जो शख्स अपने को बड़ा समझे और चाल में तक़ब्बुर का इज़हार करें तो अल्लाह ताला से वह इस हाल में मिलेगा कि अल्लाह ताला उस पर गुस्सा होगा_," ( रवाह तबरानी, तरगीब व तरहीब -3/357)*

*★_ खुलासा यह है कि तक़ब्बुर और खुद पसंदी ऐसी बदतरीन खसलत है जो इंसान को दुनिया व आखिरत कहीं का नहीं छोड़ती, फिर अल्लाह ताला के मुकाबले में तक़ब्बुर करना नाउज़ुबिल्लाह निहायत बेहयाई की बात है ।*

*★_ तवाज़ो के जरिए इंसान बुलंदी के ना का़बिले तसव्वुर मक़ाम तक पहुंच जाता है, और तक़ब्बुर की वजह से अगरचे खुद को कितना ही बड़ा समझता रहे  मगर लोगों की नज़र में कुत्ते और खिंजी़र से बदतर हो जाता है, अल्लाह ताला इस मनहूस बुराई से हमें मेहफूज़ रखे और अपनी जा़ते कामिल से हया करने की तौफीक बख्शे ,( आमीन )*

*★_ अगला सबक़ - ज़ुबान की हिफाज़त कीजिए, जल्द इंशा अल्लाह,*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _46,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
💕 *ʀєαd,ғσʟʟσɯ αɳd ғσʀɯαʀd*💕 
                    ✍
        *❥ Haqq Ka Daayi ❥*
http://www.haqqkadaayi.com
*👆🏻हमारी अगली पिछली सभी पोस्ट के लिए साइट पर जाएं ,* 
          ╰┄┅┄┅┄┅┄┅┄┅┄┅┄╯
https://www.youtube.com/channel/UChdcsCkqrolEP5Fe8yWPFQg
*👆🏻 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिए ,*
https://wa.me/message/YZZSDM5VFJ6IN1
*👆🏻वाट्स एप पर हमसे जुड़ने के लिए हमें मेसेज कीजिए _,*
https://t.me/haqqKaDaayi
*👆🏻 टेलीग्राम पर हमसे जुड़िए_,*
https://groups.bip.ai/share/YtmpJwGnf7Bt25nr1VqSkyWDKZDcFtXF
*👆🏻Bip बिप पर हमसे जुड़िए_,*

Post a Comment

 
Top