0
🌊🌎🌈
*✭﷽✭*
╭┅━┅━┅┅━─────━┅┅━┅━┅╮
*JAGAH JI LAGANE KI DUNIYA NAHI*
╰┅━┅━┅┅━─────━┅┅━┅━┅╯
                *★ POST NO-01 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Duniya'n Ki Zaibo Zeenat Tark Karne Ki Hidayat_,*

❀__ Zere bahas Hadees ke Aakhir mai Khulasa ke Tor per ye Jumla irshad farmaya Gaya k _," Jo Shakhs Akhirat mai Kaamil Tor per Kamyaabi Ka ummedwaar ho use Duniya ki Zaibo Zeenat se dil hatana hoga aur poori tavajjoh Akhirat ki taraf karni padegi ,Allah Ta'ala ne Qur'ane Kareem mai Jabaja Duniya ki Zindgi ki be waq'ati ko waaze farmaya hai, ek jagah ( Surah An'am -32) irshad hai :-

"_Aur Duniyavi Zindgani to kuchh bhi nahi bajuz lahu v la'ib ke aur Akhirat Ka Ghar muttaqiyo ke liye behtar hai Kya tum Sochte samajhte nahi ho _,"

❀__Ek Doosri Aayat ( Surah Ankaboot -64) mai irshad Hai:-

"_Aur ye Duniyavi Zindgi Fi nafsa bajuz lahu v la'ib ke aur Kuchh bhi nahi aur Asal Zindgi Aalame Aakhirat hai, Agar inko iska ilm hota to esa na karte _,"

❀__Aur Surah Hadeed- Aayat -20 mai mazeed wazahat ke Saath elaan farmaya -

"__ Tum khoob Jaan lo k Akhirat ke muqable mai Duniyavi Zindgi Mahaz lahu v la'ib aur Zaahiri Zeenat aur Ba- ham ek doosre per Fakhr Karna aur Maal aur Aulaad mai ek Ka doosre se Apne ko zyada batlana hai , Jese Baarish barasti hai k uski paidawaar kaashtkaaro ko achchhi Maloom hoti Hai fir Woh Khushk ho jati hai so Tu usko zard dekhta hai fir Woh choora choora ho jati hai aur Akhirat Ka haal ye hai k usme ( kuffaar ke liye ) Sakht Azaab hai aur ( Ahle imaan ke liye ) Khuda ki taraf se magfirat aur Razamandi hai aur Duniyavi Zindgi Mahaz dhoke Ka Asbaab hai _,"
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* 
╭┅━┅━┅┅━─────━┅┅━┅━┅╮
*🌐जगह जी लगाने की दुनिया नहीं है🌐*
╰┅━┅━┅┅━─────━┅┅━┅━┅╯
                *★ पोस्ट नं-01 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ दुनिया की ज़ेबो ज़ीनत तर्क करने की हिदायत _,*

❀__ज़ेरे बहस हदीस के आखिर में खुलासा के तौर पर यह जुमला इरशाद फरमाया गया कि,_" जो शख्स आखिरत में कामिल तौर पर कामयाबी का उम्मीदवार हो उसे दुनिया की ज़ेबो ज़ीनत से दिल हटाना होगा और पूरी तवज्जो आखिरत की तरफ करनी पड़ेगी, अल्लाह ताला ने कुरान ए करीम में जा बजा दुनिया की ज़िंदगी की बेवक़ती को वाज़े फरमाया है, एक जगह (सूरह अना'म 32) इरशाद है :-
"_ और दुनियावी जिंदगानी तो कुछ भी नहीं बजुज़ लहू व लइब के और आखिरत का घर मुत्तक़ियों के लिए बेहतर है, क्या तुम सोचते समझती नहीं हो _,"

❀__एक दूसरी आयत (सूरह अंकबूत 64) में इरशाद है :-
"_ और यह दुनिया की जिंदगी फी नफ्सा बजुज़ लहू व लइब के और कुछ भी नहीं और असल जिंदगी आलम ए आखिरत है, अगर इनको इसका इल्म होता तो ऐसा ना करते _,"

❀__और सूरह हदीद आयत 20 में मज़ीद वजा़हत के साथ एलान फरमाया :- 
"_ तुम खूब जान लो कि आखिरत के मुक़ाबले में दुनियावी ज़िंदगी महज़ लहू व लइब और जा़हिरी ज़ीनत और बाहम एक दूसरे पर फखर करना और माल औलाद में एक का दूसरे से अपने को ज्यादा बतलाना है, जैसे बारिश बरसती है कि उसकी पैदावार काश्तकारों को अच्छी मालूम होती है फिर वह खुश्क हो जाती है सो तू उसको ज़र्द देखता है फिर वह चूरा चूरा हो जाती है और आखिरत का हाल यह है कि उसमें ( कुफ्फार के लिए) सख्त आजा़ब है और ( अहले ईमान के लिए) खुदा की तरफ से मग्फिरत और रजा़मंदी है और दुनियावी ज़िंदगी महज़ धोखे का असबाब है,
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,*          •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄
                *★ POST NO-02 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Duniyavi Zaibo Zeenat ki Misaal _,*

❀__Qur'ane Kareem mai Ka'i Jagah Duniya Ki na paydaari ko waaze misaalo ke zariye samjhaya gaya hai , *(Surah Yunus -Aayat -24 mai)* irshad hai :-

"__ Duniya ki Zindgi ki Wohi Misaal hai Jese Humne Paani utaara Asmaan se , Fir isse Zameen Ka sabza Jisko Aadmi aur Jaanwar Khaate hai'n gunjaan ho Kar nikla, Yaha'n Tak k Jab wo Zameen Apni Ronaq Ka poora hissa le chuki aur uski khoob Zaiba'ish ho gayi aur iske Maliko ne samajh liya k ab hum is per bilkul qaabiz ho chuke to Din mai Ya Raat mai is per Hamari Taraf se koi Hukm ( Azaab ) aa pada So humne isko esa Saaf Kar Diya k Goya Kal Woh Mojood hi nahi thi , Hum isi tarah Ayaat ko Saaf Saaf Bayan karte hai'n ese Logo'n Ke Liye Jo Gaur Karte Hai'n _,"

❀__Yani Jis tarah Zameen Barish ke Baad Shadaab Nazar aati hai Magar ye Shadaabi Aarzi hai ,Agar koi Aafat is per Naazil ho Jaye to iski Ronaq minato Secondo mai Kafoor ho jati hai,Yahi haal Duniya ki Zaibo Zeenat ka hai k Wo Mahaz waqti hai Chand Dino mai ye Ronaq be ronaqi mai Tabdeel ho Jane wali hai ,

❀__Duniya ki Khaiti Ka Anjaam yahi hai k Uske Pak Jane ke Baad use kaat Kar tukde tukde Kar diya Jata hai aur fir uska Bhus Hawa mai udta firta hai, Yahi haal is Duniya aur iske Maalo Mata'a aur Khazano Ka hai k ek Din Wo aane wala hai Jab Poore Aalam ko Tahas Nahas Kar diya jayega aur mamooli cheezo Ka to Kya poochhna bade bade Zabardast Pahaad dhuni Hui Roo'i ki tarah ude Ude firenge ,Lihaza Esi fana ho Jane wali Cheez mai Ji Lagana aur Din Raat bas isi ki dhun aur fikr mai rehna Aqalmandi Ka Kaam nahi hai ,
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-02 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ दुनियावी जे़बों ज़ीनत की मिसाल _,*

★_ क़ुरआने करीम में कई जगह दुनिया की ना पाएदारी को वाज़े मिसालों के ज़रिए समझाया गया है, (सूरह यूनुस, आयत 24 में) इरशाद है:-
"_ दुनिया की जिंदगी की वही मिसाल है जैसे हमने पानी उतारा आसमान से फिर इससे ज़मीन का सब्ज़ा जिसको आदमी और जानवर खाते हैं गुंजान होकर निकला, यहां तक कि जब वह ज़मीन अपनी रौनक का पूरा हिस्सा ले चुकी और उसकी खूब ज़ैबाइश हो गई और इसके मालिकों ने समझ लिया कि अब हम इस पर बिल्कुल काबिज़ हो चुके तो दिन में या रात में इस पर हमारी तरफ से कोई हुक्म ( अज़ाब ) आ पड़ा सो हमने उसको ऐसा साफ कर दिया कि गोया कल वह मौजूद ही नहीं थी, हम इसी तरह आयात को साफ-साफ बयान करते हैं ऐसे लोगों के लिए जो गौर करते हैं _,"

★_ यानी जिस तरह ज़मीन बारिश के बाद शादाब नज़र आती है मगर यह शादाबी आरज़ी है, अगर कोई आफत इस पर नाजि़ल हो जाए तो इसकी रौनक मिनटों सेकंडों में काफूर हो जाती है, यही हाल दुनिया की ज़ैबो ज़ीनत का है कि वह महज़ वक्ती है चंद दिनों में यह रोनक़ बे रोनक़ी में तब्दील हो जाने वाली है, 

★_ दुनिया की खैती का अंजाम यही है कि उसके पक जाने के बाद उसे काटकर टुकड़े-टुकड़े कर दिया जाता है और फिर उसका भुस हवा में उड़ता फिरता है, यही हाल इस दुनिया और इसके मालो मता और ख़ज़ाने का है, एक दिन वो आने वाला है जब पूरे आलम को तहस-नहस कर दिया जाएगा और मामूली चीज़ों का तो क्या पूछना बड़े-बड़े ज़बरदस्त पहाड़ धुनी हुई रूई की तरह उड़े उड़े फिरेंगे लिहाज़ा ऐसी फना हो जाने वाली चीज़ में जी लगाना और दिन-रात बस इसी की फिक्र में रहना अक़लमंदी का काम नही है ,
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-03 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Allah Ta'ala ki Nazar mai Duniya Ki Haisiyat _1,*

❀__ Tamaam Duniya aur iski Ni'amate Allah ki nazar mai qat'an be waq'at aur be haisiyat hai , isliye Allah Ta'ala Duniya ki Ni'amate Kuffaar ko poori farawani se marhamat Farmata hai aur Unka Kufr v Shirk un Ni'amato ke husool mai maane nahi ,Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam Ka irshad hai :-

"__ Agar Allah Ta'ala ki nazar mai Duniya ki haisiyat Machchhar Ke Par le barabar bhi hoti to isme se Kisi Kaafir ko ek Ghoont Paani bhi Naseeb na Farmata _,"

*🗂 Tirmizi Sharif-*

❀__Ek Martaba Aap Sallallahu Alaihivasallam Sahaba Kiraam Raziyallahu Anhum ke Saath tashreef le ja rahe they to Raaste mai Bakri Ka ek murdaar Bachcha Nazar pada to Aap Sallallahu Alaihivasallam ne Sahaba Raziyallahu Anhum se poochha k Kya Khayal hai is Bachche ke Ghar walo ne ise be Haisiyat samajh Kar Yaha'n faink diya hai , Sahaba Raziyallahu Anhum ne iski Taa'id farmayi to Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya :-

"__ Allah Ta'ala ke Nazdeek Duniya is Bakri ke Bachche ke Apne Ghar walo ki nazar mai zaleel hone se zyada be haisiyat aur be waq'at hai _,"

*🗂 Tirmizi Sharif- 2/58*

*"_Baqi hissa Agle Part mai__,*      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
             *★ पोस्ट नं-03 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ अल्लाह ताला की नजर में दुनिया की हैसियत -1,*

★_ तमाम दुनिया और इसकी नियामतें अल्लाह की नज़र में क़त'अन बेवक़'अत और बे हैसियत है इसलिए अल्लाह ताला दुनिया की नियामते कुफ्फार को पूरी फरावानी से मरहमत फरमाते हैं और उनका कुफ्र व शिर्क उन नियामतों के हुसूल में माने नहीं, आप हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का इरशाद हैं :-
"_ अगर अल्लाह ताला की नज़र में दुनिया की हैसियत मच्छर के पर के बराबर भी होती तो इसमें से किसी काफिर को एक घूंट पानी भी नसीब न फरमाता _," *( तिर्मिज़ी शरीफ )*

★_ एक मर्तबा आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम सहाबा किराम रज़ियल्लाहु अन्हुम के साथ तशरीफ ले जा रहे थे तो रास्ते में बकरी का एक मुर्दार बच्चा नज़र पड़ा तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सहाबा रजियल्लाहु अन्हुम से पूछा कि क्या ख्याल है इस बच्चे के घर वालों ने इसे बेहैसियत समझकर यहां फेंक दिया है, सहाबा रजियल्लाहु अन्हुम ने इसकी ताईद फरमाई तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-
"_ अल्लाह ताला के नज़दीक दुनिया इस बकरी के बच्चे के अपने घर वालों की नज़र में ज़लील होने से ज़्यादा बे हैसियत और बे वक़'अत है _," *( तिर्मिज़ी शरीफ -२/५८)*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-04 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Allah Ta'ala ki Nazar mai Duniya Ki Haisiyat _2,*

❀__Aur Ek Hadees mai Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya:-
"__ Beahak Duniya Khud bhi qabile Laanat hai aur isme Jo Cheeze hai'n Wo bhi qabile Laanat hai'n , Sivaye Allah Ta'ala ke zikr aur usse Mutalliq A'amaal ke aur Sivaye Aalim aur Muta'llim Ke _,"

*🗂 Tirmizi Sharif-2/54,*

★__ Yani Duniya mai Reh Kar agar insaan Allah se Gaafil aur Akhirat se be parvaah ho Jaye to ye k Duniya ki poori Zindgi aur uski Saari Ni'amate insaan ko Laanat ke toq mai mubtila karne wali hai'n, Lihaza Duniya se bas itna Talluq rehna chahiye Jitni uski zarurat hai ,

"_Isliye k Aap Sallallahu Alaihivasallam Ka irshad Hai k Duniya aur Akhirat ki Zindgi ka muqabla is tarah Karo k Ek Taraf to Mahaz ek ungli mai laga hua Paani Ka qatra ho aur Doosri taraf poora Ka poora Samandar ho Jiski athaah Ka koi andaza nahi, To ye qatra poori Duniya ki Zindgi hai Jo nihayat mehdood hai aur ye Samundar ki Misaal poori Akhirat hai Jo La Mehdood aur La Zawaal hai _,"

*🗂 Tirmizi Sharif-2/58*

"__Isliye Duniya mai Jitne Din rehna hai Utni Fikr yaha'n ke bare mai ki Jaye aur Akhirat mai Jitne Din rehna hai Utni Fikr waha'n ki karni Laazim hai ,
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-04 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ अल्लाह ताला की नजर में दुनिया की हैसियत -2,*

★_ और एक हदीस में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- 
"_बेशक दुनिया खुद भी का़बिले लानत है और इसमें जो चीज़ें हैं वह भी का़बिले लानत है सिवाय अल्लाह ताला के जिक्र और उससे मुताल्लिक आमाल के और सिवाय आलिम और मुताल्लिम के _," *( तिर्मीजी शरीफ २/५४)*

★_ यानी दुनिया में रहकर अगर इंसान अल्लाह से गाफिल और आखिरत से बेपरवाह हो जाए तो यह कि दुनिया की पूरी ज़िंदगी और उसकी सारी नियामतें इंसान को लानत के तोक़ में मुब्तिला करने वाली है, लिहाज़ा दुनिया से बस इतना ताल्लुक़ रहना चाहिए जितनी उसकी ज़रूरत है ।

★_ इसलिए कि आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का इरशाद है कि दुनिया और आखिरत की ज़िंदगी का मुक़ाबला इस तरह करो कि एक तरफ तो महज़ एक उंगली में लगा हुआ पानी का क़तरा हो और दूसरी तरफ पूरा का पूरा समंदर जिसकी अथाह का कोई अंदाज़ा नहीं, तो यह क़तरा पूरी दुनिया की ज़िंदगी है जो निहायत मेहदूद है और यह समुंदर की मिसाल पूरी आखिरत है जो ला मेहदूद है और ला ज़वाल है_," *( तिर्मिज़ी शरीफ -२/५८)*

★_ इसलिए दुनिया में जितने दिन रहना है उतनी फिक्र यहां के बारे में की जाए और आखिरत में जितने दिन रहना है उतनी फिक्र वहां की करनी लाज़िम है ,
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-05 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Giro'n Ki Shano Shoqat dekh kar Pareshan na ho _,*

❀__ Aam Tor per Duniya mai Kuffaar ki Shaan v Shoqat, Maal v Daulat aur Zaahiri aysho Araam dekh kar log Unki hirs karne mai pad Jate hai'n ya Dil tang ho Jate hai'n aur Ahsaase kamtari Ka shikaar ho Jate hai'n Aur Unki Daud mai Shamil hone ke liye Halaal v Haraam mai Tameez khatm Kar dete hai'n, Jesa k Aaj Kal ke Naamo nihaad v Daanishwaro Ka haal hai, To Unki tambeeh ke liye Allah Ta'ala ne irshad farmaya:- *_Surah Aal-e-Imran, Aayat 196-197,*

*"__لَا يَغُرَّنَّكَ تَقَلُّبُ الَّذِينَ كَفَرُوا فِي الْبِلَادِ ,مَتَاعٌ قَلِيلٌ ثُمَّ مَأْوَاهُمْ جَهَنَّمُ وَبِئْسَ الْمِهَادُ _,*

*"_ (Tarjuma )* _ Aapko Dhoka na de Kaafiro Ka Shehro mai Chalna firna ye faayda hai thoda sa, fir inka thikana Dozakh hai Aur Wo Bahut bura thikana hai _,"
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-05 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ गैरों की शानो शौकत देख कर परेशान ना हों _,*

★_ आमतौर पर दुनिया में कुफ्फार की शान व शौकत, माल व दौलत और ज़ाहिरी ऐशो आराम देखकर लोग उनकी हिर्स करने में पड़ जाते हैं या दिल तंग हो जाते हैं और एहसासे कमतरी का शिकार हो जाते हैं और उनकी दौड़ में शामिल होने के लिए हलाल व हराम में तमीज़ खत्म कर देते हैं, जैसा कि आजकल के नामो निहाद व दानिश्वरों का हाल है, तो उनकी तंबीह के लिए अल्लाह ताला ने इरशाद फरमाया :- ( सूरह आले इमरान आयत 196- 197 )
"_ (तर्जुमा)_ आपको धोखा ना दे काफिरों का शहरों में चलना फिरना यह फायदा है थोड़ा सा, फिर इनका ठिकाना दोजख है और वह बहुत बुरा ठिकाना है _,"
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-06 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Duniya se Ba Qadre Zarurat Hi Faayda Uthana Chahiye _,*

❀__ Duniya aur uski Sab chamak damak Mahaz Aarzi hai, insaan ki Zindgi mai agar koi Ni’amat Mayassar aa Jaye to Koi zamanat nahi k Woh Aakhri dam Tak baqi bhi rahe, isliye k Duniya tagayyur pazeer hai, Maal, Sahat, izzat aur Aafiyat ke aitbaar se Logo’n Ke Halaat Badalte rehte hai’n, Lihaza Duniya ki badi se badi Kahi Jane wali Ni’amat bhi na payedaar hai aur isse faayda uthane Ka silsila yaqinan khatm ho Jane Wala hai, Agar Zindgi mai na hua to Marne ke Baad yaqinan ho jayega ,Marne ke Baad na Bivi Bivi rahegi na Maal Maal rahega na Jaydaad aur Khaiti Baadi Saath hogi , in Sab ashya Ka Saath Chhoot jayega, isliye Qur’an v Hadees mai insaano ko hidayaat di gayi hai k Duniya ki Zaibo Zeenat ko maqsad na banaye balki uske muqable mai Akhirat ki la zawaal Ni’amate haasil karne ki jaddo jahad aur fikr karni chahiye ,

❀__ Aap Sallallahu Alaihivasallam Ka irshad Hai k ,”_ Is Maal mai badi mithaas hai ,Jo isko Sahi jagah kharch Kare to uske liye ye Behtreen madadgaar hai ,aur Jo ise Galat Tareeqe per kamaye to Wo us Jaanwar ki maanind halaak hoga Jo barabar khaata rehta hai aur uski Bhook kabhi khatm nahi hoti ( Bil Akhir Wo haiza se halaak ho jata hai ) _,”

*🗂( Bukhari Sharif -2/951 ,Muslim Sharif-1/ 336),*

“__ Aap Sallallahu Alaihivasallam ke is Mubarak irshad se Duniya ke istemal ki Asal had Maloom ho gayi k Duniya se sirf ba Qadre Zarurat aur bara e zarurat hi faayda uthana mufeed hai, Isme esa istemal k bas Aadmi 99 hi ke chakkar mai har Waqt mubtila rahe Aur Akhirat ko bilkul Bhool bethe ye intehayi khatarnaak hai ,
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-06 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ दुनिया से बा क़दरे ज़रूरत ही फायदा उठाना चाहिए,*

*★_ दुनिया और उसकी सब चमक-दमक महज़ आरजी है, इंसान की जिंदगी में अगर कोई नियामत मयस्सर आ जाए तो कोई ज़मानत नहीं कि वह आखरी दम तक बाक़ी रहे, इसलिए कि दुनिया तग़य्युर पजीर है, माल सेहत इज़्ज़त और आफियत के एतबार से लोगों के हालात बदलते रहते हैं, लिहाज़ा दुनिया की बड़ी से बड़ी कहीं जाने वाली नियामत भी ना पाएदार है और इससे फायदा उठाने का सिलसिला यक़ीनन खत्म हो जाने वाला है, अगर जिंदगी में ना हुआ तो मरने के बाद यक़ीनन हो जाएगा, मरने के बाद ना बीवी बीवी रहेगी ना माल माल रहेगा ना जायदाद और खेती-बाड़ी साथ होगी, इन सब अशिया का साथ छूट जाएगा, इसलिए कुरान हदीस में इंसानों को हिदायत दी गई है कि दुनिया की ज़ैबो ज़ीनत को मक़सद ना बनाएं बल्कि उसके मुका़बले में आखिरत की ला ज़वाल नियामतें हासिल करने की जद्दोजहद और फिक्र करनी चाहिए ,

★_ आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का इरशाद है कि, "_इस माल में बड़ी मिठास है जो इसको सही जगह खर्च करें तो उसके लिए यह बेहतरीन मददगार है और जो इसे ग़लत तरीक़े पर कमाए तो वह उस जानवर की मानिंद हलाक होगा जो बराबर खाता रहता है और उसकी भूख कभी खत्म नहीं होती ( बिल आखिर वह हैजा़ से हलाक हो जाता है ), *(बुखारी शरीफ- 2/ 951, मुस्लिम शरीफ- 1/ 336 )*

"_ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के इस मुबारक इरशाद से दुनिया के इस्तेमाल की असल हद मालूम हो गई कि दुनिया से सिर्फ बा क़दरे ज़रूरत और बराए ज़रूरत ही फायदा उठाना मुफीद है, इसमें ऐसा स्तेमाल कि बस आदमी 99 ही के चक्कर में हर वक्त मुब्तिला रहे और आखिरत को बिल्कुल भूल बैठे यह इंतेहाई खतरनाक है ,
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-07 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Halaal Tareeqe Se Duniya Kamane Wale Ko Khush khabri_,*

❀__ Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne Doosri Hadees mai irshad farmaya k , “_ Jo Shakhs Halaat Tareeqe se, Sawaal se bachne, Ghar walo ki zarurat poora karne aur Apne Padosiyo per Meharbani karne ki garaz se Duniya Talab Kare to wo Qayamat mai is Haal mai aayega k uska chehra Chohdhvi ke Chaand ki tarah chamakta hua hoga Aur Jo Shakhs Fakhr v mubahaat aur Naamvari ke liye Duniya kamaye to Wo Allah Ta’ala ke darbaar mai is Haal mai Haazir hoga k Allah Ta’ala us per Gussa ho'nge _,”

*🗂 Sho’abul imaan -7/ 298,*

“__ Lihaza Hume chahiye k Allah Ta’ala se Sharmo Haya ke Taqazo ko poora karne ke liye hum Duniya se Talluq uski had ke andar Reh Kar rakhe aur usse tajavuz na Kare, Allah Ta’ala Hume tofeeq marhamat farmaye, Aameen.
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-07 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ हलाल तरीक़े से दुनिया कमाने वाले को खुश खबरी _,"*

★_ आप हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने दूसरी हदीस में इरशाद फरमाया कि, "_जो शख्स हलाल तरीके से, सवाल से बचने, घरवालों की ज़रूरत पूरा करने और अपने पड़ोसियों पर मेहरबानी करने की गरज़ से दुनिया तलब करे तो वह क़यामत में इस हाल में आएगा कि उसका चेहरा चौधवी के चांद की तरह चमकता हुआ होगा और जो शख्स से फखर व मुबाहात और नामवरी के लिए दुनिया कमाए तो वो अल्लाह ताला के दरबार में इस हाल में हाज़िर होगा कि अल्लाह ताला उस पर गुस्सा होंगे _," *( शो'बुल ईमान -7/298)*

★_ लिहाज़ा हमें चाहिए कि अल्लाह ताला से शर्मो हया के तक़ाज़ों को पूरा करने के लिए हम दुनिया से ताल्लुक़ उसकी हद के अंदर रह कर रखें और उससे तजावुज़ ना करें, अल्लाह ताला हमें तोफीक़ मरहमत फरमाए, आमीन ।
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-08 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Duniya Aafiyat Ki jagah hai hi Nahi _,*

❀__ Duniya mai koi Shakhs ye daava nahi Kar Sakta k Wo Mukammal Tor per Aafiyat mai hai , Kyunki yaha’n har Shakhs ke saath kuchh na kuchh ese masle lage hue hai’n Jo baar baar uski Aafiyat mai khalal daalte rehte hai’n aur is maamle mai Ameer Gareeb ,chhote bade, Badshaah ya Ri’ayaa kisi mai koi Fark nahi hai ,

“_ Balki gor Kiya Jaye to Duniya mai Jo Shakhs Jitne bade Ohde per faa’iz hota Hai ya Jitna bada Maaldaar ya izzatdaar hota Hai Utna hi uske zahan per tafakkuraar aur Khatraat Ka Bojh hota Hai , Ese logo ki Jaan ke laale pade rehte hai’n, Har Waqt Commander ki nigrani mai rehte hai’n, Azaadana Apni Marzi se Kahi aana Jana Unke liye mushkil hota Hai, Fir har Waqt Badaa’i Jate rehne ke Khof se Unki Neende Haraam ho jati hai ,poori poori Raat Naram aur nazuk gaddo per karwate badalte guzar jati hai ,

❀__ Aur Farz kijiye agar insaan bilkul hi Aafiyat se ho, Maal Daulat izzat aur har lazzat ke husool Ka uske paas intezam ho fir bhi Wo poori tarah Aafiyat mai nahi ho Sakta, Kyunki Bhook ke Waqt use Bhook se aur pyaas ke Waqt Pyaas see saabqa padega aur Khaane pine ke Baad fir fizulaat ko nikaalne ki fikr hogi aur Uske taqaze ke Waqt becheni bardasht karni hogi, Agar ye fizulaat andar ja Kar ruk Jaye to fir unko nikaalne ke liye Kya tadbeere karni padegi, Algaraz Sab kuchh hone ke bavjood in fitri Masa’il Se insaan marte dam tak Nijaat nahi pa Sakta ,

❀__Iske bar khilaf Jannat Asal mai Aafiyat ki jagah hai, Jaha’n har tarah ki man chaahi Ni’amate Mayassar hogi aur Khaane pine ke Baad Ek hi Khushbudaar dakaar se Saara khaya piya hazam ho jayega , na becheni hogi na takleef aur na badbu Ka Ahsaas hoga, isliye Us Azeem Aafiyat ki jagah ko hi Asal Maqsood v Talab banana chahiye aur Duniya ki Zaibo Zeenat mai pad kar Jannat se gaafil nahi hona chahiye ,
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-08 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ दुनिया आफियत की जगह है ही नहीं _,*

★_ दुनिया में कोई शक से यह दावा नहीं कर सकता कि वह मुकम्मल तौर पर आफियत में है क्योंकि यहां हर शख्स के साथ कुछ ना कुछ ऐसे मसले लगे हुए हैं जो बार बार उसकी आफियत में खलल डालते रहते हैं और इस मामले में अमीर गरीब छोटे-बड़े बादशाह या रिआया किसी में कोई फर्क नहीं है,

"_बल्कि गौर किया जाए तो दुनिया में जो शख्स जितने बड़े ओहदे पर फाइज़ होता है जो जितना बड़ा मालदार या इज्जतदार होता है उतना ही उसके ज़हन पर तफक्कुरार और खतरात का बोझ होता है, ऐसे लोगों की जान के लाले पड़े रहते हैं हर वक्त कमांडर की निगरानी में रहते हैं, आजादाना अपनी मर्ज़ी से कहीं आना जाना उनके लिए मुश्किल है, फिर हर वक्त बढ़ाई जाते रहने के खौफ से उनकी नींदे हराम हो जाती है, पूरी पूरी रात नरम और नाजुक गद्दो पर करवटें बदलते गुज़र जाती है ,

★_ और फ़र्ज़ कीजिए अगर इंसान बिल्कुल ही आफियत से हो, माल दौलत इज्ज़त और हर लज़्ज़त के हुसूल का उसके पास इंतज़ाम हो फिर भी वह पूरी तरह आफियत में नहीं हो सकता क्योंकि भूख के वक्त उसे भूख से और प्यास के वक्त प्यास से साबक़ा पड़ेगा और खाने पीने के बाद फिर फिज़ूलात को निकालने की फ़िक्र होगी और उसके तक़ाज़े के वक्त बेचैनी बर्दाश्त करनी होगी, अगर यह फिजू़लात अंदर जाकर रुक जाए तो फिर उनको निकालने के लिए क्या तदबीरें करनी पड़ेगी, अलगर्ज़ सब कुछ होने के बावजूद फितरी मसाइल से इंसान मरते दम तक निजात नहीं पा सकता ।

★_ इसके बर खिलाफ जन्नत असल में आफियत की जगह है जहां हर तरह की मनचाही नियामते मयस्सर होंगी और खाने पीने के बाद एक ही खुशबूदार डकार से सारा खाया पिया हजम हो जाएगा, ना बेचैनी होगी ना तकलीफ और ना बदबू का एहसास होगा, इसलिए उस अज़ीम आफियत की जगह को ही असल मकसूद व तलब बनाना चाहिए और दुनियावी ज़ैबो ज़ीनत में पढ़कर जन्नत से गाफिल नहीं होना चाहिए ,
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-09 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Duniya Momin Ke Liye Qaidkhana hai _,*

❀__ Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya :- Duniya Momin Ke Liye Qaidkhana hai aur Kaafir Ke Liye Jannat hai _,”

*🗂 Muslim Sharif- 2/407*

❀__ Isliye Momin Ka Asal thikana Jannat hai jaha Asal Aafiyat hai, Is Asal thikane ke muqable mai Duniya ki Zindgi Qaidkhane se Kam nahi hai, Jaha’n insaan tarah tarah qanoon Ka paband hai aur iske bil muqabil Kaafir ko Aakhirat mai Sakht Tareen Azaab Ka Saamna karna hai, Lihaza Waha’n ke Azaab ke muqable mai jab Tak uski Jaan mai Jaan hai aur Jab Tak use Duniya mai Azaab se mohlat mili Hui hai Wo uske liye Jannat ke darje mai hai ,
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-09 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ दुनिया मोमिन के लिए कैदखाना है _,*

★_ आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- दुनिया मोमिन के लिए क़ैदाखाना है और काफ़िर के लिए जन्नत है_," *( मुस्लिम शरीफ 2/ 407)*

★_ इसलिए मोमिन का असल ठिकाना जन्नत है जहां असल आफियत है, इस असल ठिकाने के मुक़ाबले में दुनिया की जिंदगी कै़दखाने से कम नहीं है जहां इंसान तरह तरह के क़ानून का पाबंद है और इसके बिल मुक़ाबिल काफिर को आखिरत में सख्त तरीन अज़ाब का सामना करना है, लिहाज़ा वहां के अज़ाब के मुक़ाबले में जब तक उसकी जान में जान है और जब तक उसे दुनिया में अज़ाब से मोहलत मिली हुई है वह उसके लिए जन्नत के दर्जे में है ।
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-10 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Duniya Ki Muhabbat Har Buraa’i Ki Jad Hai _,*

❀__ Duniya se esa Talluq Jo Aakhirat se gaafil Kar de Yahi Tamaam Gunaaho aur Ma’asi ki Jad aur Buniyad hai, Aap Sallallahu Alaihivasallam Ka irshad Hai :-“_ Duniya ki Muhabbat har Buraa’i ki Jad hai _,”

*🗂 Sho’abul imaan - 7/338,*

❀__ Gor Karne se ye Baat Asaani se samajh mai aa jati hai k Duniya mai Jo Shakhs bhi Gunaah karta Hai Uska Asal muharrik Duniya se Talluq hi hota hai, Maslan Kisi ka Maal Na - Jaa’iz Tor per haasil Kare ya lahu v la’ib mai mubtila ho ya Badkaari aur Haraam kaari ke Raaste per chale ye Sab cheeze Duniya se Muhabbat hi ki vajah se Saamne aati hai,

“__ Sayyadna Iysa Alaihissalam ne irshad farmaya:- Duniya ki Muhabbat har Buraa’i ki Jad hai aur Maal khud hi mareez hai, Aapse Puchha gaya k Maal Ka marz Kya hai ? To irshad farmaya k jab Maal aata Hai to insaan Takabbur v Fakhro Guroor v Mubahaat se bahut Kam mehfooz reh pata hai aur agar bil Farz in Baato se mehfooz bhi reh Jaye fir bhi is Maal ke rakh rakhaav ki fikr insaan ko Allah Ta’ala ki Yaad se mehroom Kar hi deti hai _,”

*🗂 Sho’abul imaan -7/ 338,*

❀__Isi Bina per Awliya Allah ki Shaan ye hoti Hai k Unka Dil Duniya ki Muhabbat se Khaali hota Hai, Ek Hadees mai Aap Sallallahu Alaihivasallam ka irshad hai :-
“__ Jab Allah Ta’ala Apne Kisi Bande se Muhabbat farmata hai to usko Duniya se is tarah bachata hai Jese Koi Shakhs Apne mareez ko ( Sardi Ki Bimaari Ke Waqt ) Paani se bachata hai _,”

*🗂 Sho’abul imaan – 7/ 338,*

“__ isliye k Duniya se Talluq Allah Ta’ala se taqarrub mai Sabse Badi Rukawat hai, isi Bina per Allah Ta’ala Apne Khaas Bando ko Duniya ki Muhabbat se poori tarah mehfooz rakhta hai ,
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-10 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ दुनिया की मुहब्बत हर बुराई की जड़ है _,*

★_ दुनिया से ऐसा ताल्लुक़ जो आखिरत से गाफिल कर दे यही तमाम गुनाहों और मा'सी की जड़ और बुनियाद है, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का इरशाद है:-
"_ दुनिया की मोहब्बत हर बुराई की जड़ है_," *( शो'बुल ईमान-7/338)*

★_ गौर करने से यह बात आसानी से समझ में आ जाती है कि दुनिया में जो शख्स भी गुनाह करता है उसका असल मुहर्रिक दुनिया से ताल्लुक़ ही होता है, मसलन किसी का माल नाजायज़ तौर पर हासिल करें या लहू व लइब में मुब्तिला हो या बदकारी और हराम कारी के रास्ते पर चले, यह सब चीज़ें दुनिया से मोहब्बत ही की वजह से सामने आती हैं ।

★_ सैयदना ईसा अलैहिस्सलाम ने इरशाद फरमाया :- दुनिया की मोहब्बत हर बुराई की जड़ है और माल खुद ही मरीज़ है, आप से पूछा गया कि माल का मर्ज़ क्या है ? तो इरशाद फरमाया कि जब माल आता है तो इंसान तक़ब्बुर व फख्रो गुरूर व मोहब्बत से बहुत कम मेहफूज़ रह पाता है और अगर बिल फ़र्ज़ इन बातों से महफूज़ भी रह जाए फिर भी इस माल के रख रखाव की फिक्र इंसान को अल्लाह ताला की याद से महरूम कर ही देती है_," *( शो'बुल ईमान-7/ 338)*

★_ इसी बिना पर औलिया अल्लाह की शान यह होती है कि उनका दिल दुनिया की मोहब्बत से खाली होता है, एक हदीस में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का इरशाद है :- 
"_ जब अल्लाह ताला अपने किसी बंदे से मोहब्बत फरमाता है तो उसको दुनिया से इस तरह बचाता है जैसे कोई शख्स से अपने मरीज़ को (सर्दी की बीमारी के वक्त) पानी से बचाता है_," *( शो'बुल ईमान-7/ 338 )*

★_ इसलिए कि दुनिया से ताल्लुक़ अल्लाह ताला से तक़र्रूब में सबसे बड़ी रुकावट है, इसी बिना पर अल्लाह ताला अपने खास बंदों को दुनिया की मोहब्बत से पूरी तरह मेहफूज़ रखता है ।
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-11 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Duniya se Talluq Akhirat Ke Liye Muzir Hai_,*

❀__ Duniya se Talluq aur iski lazzato mai inhimaak Ba-Zaahir Bahut Achchha Maloom hota hai aur Bahut se log bas Duniyavi laazato hi ko Apna maqsad bana lete hai’n Lekin unhe Maloom nahi k Duniya mai ye WaQti Lazzate Akhirat ki Daaymi Ni’amato mai kami aur nuqsaan Ka Sabab hai’n Jo dar Haqeeqat Azeem Tareen nuqsaan hai ,

❀__Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne farmaya :- Jo Shakhs Apni Duniya mai Ji lagaye Wo Apni Akhirat Ka nuqsaan Karega aur Jo Shakhs Apni Akhirat se Muhabbat rakhe ( aur iske bare mai fikrmand rahe ) to wo sirf Apni Duniya Ka ( WaQti ) nuqsaan Karega _,” *( Bayhiqi Fi Sho’abul imaan-7/288, Majmauz Zawa’id-10/249)* … 

Lihaza baqi rehne wali Akhirat ki Zindgi ko Duniya ki Faani Zindgi per tarjeeh diya Karo ,

❀__Ek aur Rivayat mai irshad hai :- Duniya mai meethi Cheez Akhirat mai kadwahat Ka Sabab hai aur Duniya ki Kadwi Zindgi Akhirat mai mithaas Ka Sabab hai _” *( Sho’abul imaan-7/288, Majmauz Zawa’id-10/249)*

“❀__ Chunache Kitne log ese hai’n Jo Duniya mai nihayat Aysh v ishrat Araam v Raahat mai Zindgi guzaarte hai’n Lekin yahi gaflat wali Zindgi Unke liye Akhirat mai Sakht Tareen Azaab Ka Sabab ban jayegi , Aur isi tarah Kitne Allah ke Bande ese hai’n Jinki Zindgi Duniya mai nihayat tangi ke Saath guzarti hai lekin un Azma’isho mai Sabr ki badaulat Unka muqaam Akhirat mai is qadar Buland ho jayega Jiska Duniya mai tasavvur bhi nahi Kiya ja sakta, isliye Hamesha Akhirat banane ki fikr Laazim hai ,

“__ Ek Hadees mai Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya :- Jis Shakhs ke Dil mai Duniya ki Muhabbat Ghar Kar jaye to teen Baate usko chipat jati hai (1) Esi bad Bakhti Jiski Musibat kabhi khatm nahi hoti (2) Esi Hirs Jisse kabhi pet nahi bharta (3) Aur Esi khwahish Jo kabhi sharminda takmeel nahi hoti, Pas Duniya ( kisi ke liye ) talabgaar rahe Aur ( koi ) uska talabgaar rahe, Lihaza Jo Shakhs Duniya ke Pichhe Padta hai to Akhirat uska pichha pakad leti hai Yaha’n Tak k uski Maut aa jati hai aur (iske bar aks ) Jo Akhirat Ka talabgaar hota Hai to Duniya uska pichha karti Hai yaha’n Tak k Wo Apne muqaddar Ka rizq haasil Kar Leta hai _,” *( Ravaah Tabrani , Targeeb ,*
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-11 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ दुनिया से ताल्लुक़ आखिरत के लिए मुज़िर है,*

*★_ दुनिया से ताल्लुक और इसकी लज़्ज़तों में इन्हिमाक बा ज़ाहिर बहुत अच्छा मालूम होता है और बहुत से लोग बस दुनियावी लज़्ज़तों ही को अपना मक़सद बना लेते हैं लेकिन उन्हें मालूम नहीं कि दुनिया में यह वक्ती लज़्ज़तें आखिरत की दायमी नियामतों में कमी और नुकसान का सबब है जो दर हक़ीक़त अज़ीम तरीन नुक़सान है, 

★_ आप हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- जो शख्स अपनी दुनिया में जी लगाए वह अपनी आखिरत का नुक़सान करेगा और जो शख्स अपनी आखिरत मोहब्बत रखे (और इसके बारे में फिक्रमंद रहे) तो वह सिर्फ अपनी दुनिया का( वक्ती) नुक़सान करेगा_," *( बहकी़ फि शौबुल ईमान-7/288, मजमुअज़ ज़वाइद -10/249)*

"_लिहाजा बाकी रहने वाली आखिरत की जिंदगी को दुनिया की फानी जिंदगी पर तरजीह दिया करो, 

★_ एक और रिवायत में इरशाद है:- दुनिया में मीठी चीज़ आखिरत में कड़वाहट का सबब है और दुनिया की कड़वी जिंदगी आखिरत में मिठास का सबब है_," *( शौबुल ईमान -7/288, मज़मउज़ ज़वाइद -10/249)*

★_ चुनांचे कितने लोग ऐसे हैं जो दुनिया में निहायत ऐशो इशरत आराम व राहत में जिंदगी गुज़ारते हैं लेकिन यहीं गफलत वाली जिंदगी उनके लिए आखिरत में सख्त तरीन अज़ाब का सबब बन जाएगी और इसी तरह कितने अल्लाह के बंदे ऐसे हैं जिनकी जिंदगी दुनिया में निहायत तंगी के साथ गुज़रती है लेकिन उन आज़माइशो में सब्र की बदौलत उनका मका़म आखिरत में इस क़दर बुलंद हो जाएगा जिसका दुनिया में तसव्वुर भी नहीं किया जा सकता, इसलिए हमेशा आखिरत बनाने की फिक्र लाज़िम है ।

★_ एक हदीस में आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- जिस शख्स के दिल में दुनिया की मोहब्बत घर कर जाए तो तीन बातें उसको चिपट जाती है, (१) ऐसी बदबख्ती जिसकी मुसीबत कभी खत्म नहीं होती (२) ऐसी हिर्स जिससे कभी पेट नहीं भरता (३) और ऐसी ख्वाइश जो कभी शर्मिंदा तकमील नहीं होती, पस दुनिया (किसी के लिए ) तलबगार रहे और (कोई) उसका तलबगार रहे, लिहाज़ा जो शख्स दुनिया के पीछे पड़ता है तो आखिरत उसका पीछा पकड़ लेती है यहां तक कि उसकी मौत आ जाती है और (इसके बरअक्स) जो आखिरत का तलब गार होता है तो दुनिया उसका पीछा करती है यहां तक कि वह अपने मुकद्दर का रिज़क हासिल कर लेता है _," *(रवाह, तबरानी, तरगीब )*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-12 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Duniya Ki Muhabbat Dili Be itminani Ka Sabab Hai _,”*

❀__ Duniya se Talluq jab badhta hai to Saath mai Dili Be itminani bhi badhti jati hai aur Tamaam tar Asbaab v Wasa’il muhayya hone ke bavjood insaan sukoon se mehroom rehta hai , Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya :-

“__ Duniya Jis Shakhs ki maqsood ban Jaye to Allah Ta’ala uske Mamlaat paraganda ( Pareshan ) farma deta Hai’n Aur Mohtaajgi uski Aankho ke saamne Kar deta hai aur use Duniya mai Sirf isi qadar milta hai Jitna uske muqaddar mai hota hai aur ( iske bil muqabil ) Akhirat Jiska Nasbul Ayn hoti Hai to Allah Ta’ala uske Dil mai Gina ( Use Faqr Ka Khof nahi hota ,Uske Dil ko Badshaah bana deta hai ) daal deta hai’n aur Uske Mamlaat ko mujtama farma deta hai’n aur Duniya uske Paas Zaleel ho Kar aati hai _,”

*🗂 Sho’abul imaan-7/288,ibne Maaja, Targeeb v Tarheeb-4/56,*

❀__Aur Ek Hadees Qudsi mai Allah Ta’ala ne irshad farmaya :- 
“_ Ey insaan ! Meri Bandgi ke liye Yaksu ho ja to Mai’n Tere Seene ko Gina se bhar dunga aur Teri Zarurat poori Kar dunga aur agar tune esa nahi Kiya to Mai’n Tere Seene Ko Mashguliyat se bhar dunga aur teri Mohtaajgi door nahi Karunga _,”

*🗂 Sho’abul imaan – 7/289,*

“__ isliye Dili itminaan ke husool ke liye bhi zaruri hai k Duniya se Talluq aitdaal ki had mai rahe Aur agar talluq had se bad jayega to fir mehroomi hi mehroomi hai ,

❀__ Hazrat Anas Raziyallahu Anhu farmate hai’n k Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya:- Chaar cheeze Bad Bakhti ki Alaamat hai’n (1) Aankh se Aansu na nikalna (2) Dil Ka Sakht hona (3) Lambe Mansoobe baandhna (4) Duniya per Harees hona _,”

*🗂 Majmu’az Zawa’id - 10/226 ,*
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-12 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ दुनिया की मोहब्बत दिली बे इतमिनानी का सबब है,*

*★_ दुनिया से ताल्लुक जब बढ़ता है तो साथ में दिली बे इतमिनानी भी बढ़ती जाती है और तमामतर असबाब व वसाइल मुहैया होने के बावजूद इंसान सुकून से मेहरूम रहता है, आप हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया:-
*"_ दुनिया जिस शख्स का मक़सद बन जाए तो अल्लाह ताला उसके मामलात परागंदा (परेशान) फरमा देता हैं और मोहताजगी उसकी आंखों के सामने कर देता है और उसे दुनिया में सिर्फ उसी क़दर मिलता है जितना उसके मुकद्दर में होता है और (इसके बिल मुक़ाबिल) आखिरत जिसका नसबुल ऐन होती है तो अल्लाह ताला उसके दिल में गिना (उसे फक़्र का खौफ नहीं होता उसके दिल को बादशाह बना देता है) डाल देता है और उसके मामलात को मुजतमा फरमा देता है और दुनिया उसके पास ज़लील होकर आती है_,"
*( शो'बुल ईमान 7/288 इब्ने माजा, तरगीब व तरहीब 4/56)*

*★_ और एक हदीसे क़ुदसी में अल्लाह ताला ने इरशाद फरमाया :- ऐ इंसान ! मेरी बंदगी के लिए यकसू हो जा तो मैं तेरे सीने को ग़िना से भर दूंगा और तेरी जरूरत पूरी कर दूंगा और अगर तूने ऐसा नहीं किया तो मैं तेरे सीने को मशगूलियात से भर दूंगा और तेरी मोहताजगी दूर नहीं करूंगा _,"
*(शो'बुल ईमान 7/289)*

*★_ इसलिए दिली इतमिनान के हुसूल के लिए भी ज़रूरी है कि दुनिया से ताल्लुक़ एतदाल की हद में रहे और अगर ताल्लुक़ हद से बढ़ जाए तो फिर मेहरूमी ही मेहरूमी है ,

*★_ हजरत अनस रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- 
"_ चार चीज़ें बद बख्ती की अलामत हैं, (१) आंख से आंसू ना निकलना (२) दिल का सख्त होना (३) लंबे मंसूबे बांधना (४) दुनिया पर हरीस होना _,"
*(मजमु'अज़ ज़वाइद 10/226)*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,* •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-13 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Shoqeen Mizaaj Log Allah Ko Pasand nahi _,*

❀__ Shoqeen Mizaaj aur Fashion Parast Log Allah ki nazar mai Pasandida nahi hai’n, Nabi Kareem Sallallahu Alaihivasallam ne ese Logo ko Ummat ke Badtareen Afraad mai Shumaar farmaya hai , Irshade Nabvi hai :-
“__ Meri Ummat ke Badtareen Log Wo hai’n Jo Naazo Ni’amat mai Paida hue aur isi mai Pale badhe, Jinko Har Waqt bas Anw’a v Aqsaam ( tarah tarah ke qimti Qism ke ) khaano aur Tarah tarah KE Libaas Zaib tan ( Pehanne ) Karne ki fikr daaman geer rehti hai aur Jo (Takabbur ki vajah se) Mithaar Mithaar Kar Baat cheet Karte rehte hai’n _,”

*🗂 Kitabul Zuhad ibne Mubarak -263,*

❀__ Sayyadna Hazrat Umar bin Khattaab Raziyallahu Anhu Ka irshad hai k–Tum ( Zaibo Zeenat ke liye) baar baar Gusl khaano le chakkar lagane aur Baalo ki baar baar Safaa’i se bachte raho aur Umda umda qaalino ke istemal se bacho, isliye k Allah Ta’ala ke Khaas Bande Aysho ishrat ke Dildaada nahi Hote _,”

*🗂 Kitabul Zuhad -263 ,*
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-13 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ शौकीन मिजाज़ लोग अल्लाह को पसंद नहीं,*

★_ शौक़ीन मिजाज़ और फैशन परस्त लोग अल्लाह की नज़र में पसंदीदा नहीं है, नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने ऐसे लोगों को उम्मत के बदतरीन अफराद में शुमार फरमाया है,  इरशाद ए नबवी है :-
"_ मेरी उम्मत के बदतरीन लोग वह हैं जो नाजो़ नियामत में पैदा हुए और इसी में पले बढ़े, जिनको हर वक्त बस अनवा व अक़्साम (तरह तरह के की़मती क़िस्म के)  खानों और तरह-तरह के लिबास जे़ब तन (पहनने) करने की फिक्र दामनगीर रहती है और जो (तकब्बुर) की वजह से निथार निथार कर बातचीत करते रहते हैं_," *( किताबुल ज़ुहद इब्ने मुबारक -२६३)* 

★_ सैयदना हजरत उमर बिन खत्ताब रज़ियल्लाहु अन्हु का इरशाद है कि - तुम (ज़ैबो ज़ीनत के लिए ) बार-बार गुसलखानों के चक्कर लगाने और बालों की बार-बार सफाई से बचते रहो और उम्दा उम्दा कालीनों के इस्तेमाल से बचो इसलिए कि अल्लाह ताला के खास बंदे ऐशो इशरत के दिल दादा नहीं होते _,"
*( किताबुल ज़ुहद -२६३)"*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-14 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Duniya Se Be Ragbati Mojibe Sukoon Hai _,*

❀__ Duniya mai Reh Kar Duniya mai Madhosh na rehna insaan Ke Liye Sabse bada Sukoon Ka zariya hai, Esa Shakhs Zahiri Tor per Kitna hi Khasta Haal Kyu na ho Magar use Androoni Tor per Wo Dili itminaan Naseeb hota hai Jo bade bade Sarmaya Daaro ko bhi Mayassar nahi aata , isliye Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne farmaya :-
“__ Duniya se Be Ragbati Dil aur Badan Dono Ke Liye Raahat Hai _,”

*🗂 Kitabul Zuhad-210, Majmauz Zawa’id-10/286,*

❀__Duniya mai Sabse Badi Daulat Sukoon aur Aafiyat hai, Agar Sukoon na ho to Sab Daulate bekaar hai’n aur Ye Sukoon Tab hi mil Sakta Hai jab hum Duniya se Sirf Ba Qadre Zarurat aur Bara’e zarurat Talluq rakhe aur Allah ki Ni’amato per Shukr Guzaar reh Kar uski Raza per Raazi rahe’n ,

❀__Hazrat Luqman Alaihissalam ne irshad farmaya – Deen per Sabse Zyada Madadgaar Sift Duniya se Be Ragbati hai, Kyunki Jo Shakhs Duniya se Be Ragbat ho jata Hai Wo Khaalis Raza e Khudawandi ke liye Amal karta hai aur Jo Shakhs ikhlaas se Amal Kare usko Allah Ta’ala Ajro Sawab se Sarfaraz farma deta Hai_,”

*🗂 Kitabul Zuhad-274,*

“__ Ye Sift e Zuhad insaano ko logo Ka Mehboob bana deti Hai aur ese Shakhs ko qubuliyat indallaah aur indannaas Daulat Naseeb hoti hai _,,
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-14 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ दुनिया से बे रगबती मौजिबे सुकून है_,*

★_ दुनिया में रहकर दुनिया में मदहोश ना रहना इंसान के लिए सबसे बड़ा सुकून का ज़रिया है, ऐसा शख्स जाहिरी तौर पर कितना ही खस्ताहाल क्यों ना हो मगर उसे अंदरूनी तौर पर वो दिली इतमिनान नसीब होता है जो बड़े-बड़े सरमाया दारों को भी मयस्सर नहीं आता, इसलिए आप हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :-
"_ दुनिया से बे रगबती दिल और बदन दोनों के लिए राहत है_," *( किताबुल जुहाद -210, मजमुअज़ ज़वाइद 10 /286)*

★_ दुनिया में सबसे बड़ी दौलत सुकून और आफियत है, अगर सुकून ना हो तो सब दौलतें बेकार है और यह सुकून तभी मिल सकता है जब हम दुनिया से सिर्फ बा क़दरे जरूरत और बराए ज़रूरत ताल्लुक रखें और अल्लाह की नियामतों पर शुक्र गुजार रहकर उसकी रज़ा पर राज़ी रहें। 

★_ हजरत लुकमान अलैहिस्सलाम ने इरशाद फरमाया :- दीन पर सबसे ज्यादा मददगार सिफ्त दुनिया से बे रगबती है क्योंकि जो शख्स दुनिया से बे रगबत हो जाता है वह खालिस रज़ा ए खुदा बंदी के लिए अमल करता है और जो शख्स इखलास से अमल करे उसको अल्लाह ताला अजरो सवाब से सरफराज़ फरमा देता है_," *( किताबुल जुहाद -274 )*

★_ यह सिफ्त ए जुहद इंसानों को लोगों का महबूब बना देती है और ऐसे शख्स को क़ुबूलियत इंदल्लाह और इंदन्नास दौलत नसीब होती है_,"
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-15 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Qana’at Daa’imi Daulat Hai-1 _,*

❀__ Kasrat Ki fikr ki bajaye Ata e Khudawandi per Raazi rehna Qana’at kehlata hai aur Jis Shakhs ko ye Qana’at ki Daulat Naseeb ho Jaye Wo har haal mai magan rehta hai, Fir Wo kabhi ahsaase Kamtari mai mubtila nahi hota aur na doosre ki hirs karta Hai, Ek Hadees mai irshade Nabvi hai :-

“__ (Jis Shakhs ko Teen Sifaat haasil ho gayi ) Wo Fala pa gaya (1) Jo islam se musharraf ho (2) Jise ba Qadre Zarurat rozi milti ho (3) aur Allah ne use Apne diye hue rizq per Qana’at se nawaza ho _,”

*🗂 Sho’abul imaan-7/ 290,*

❀__ Ek aur Hadees mai Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya :-
“__ Tum Qana’at ko akhtyar Karo isliye k Qana’at esa Maal hai Jo Kabhi khatm nahi hota _,”

*🗂 Majmauz Zawa’id-10/256,*

❀__Aadmi Sabse Zyada Apni Aulaad ki rozi ke bare mai fikrmand rehta Hai aur Uske liye pehle hi se intezam Kar ke Jata Hai, Duae’n karta Hai, Mehnat v Jaddo jahad karta Hai, Janabe Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ne bhi iske mutalliq fikr farmayi, Bila shubha Agar Aap ye Dua farma dete k Aapke Khandaan Ka har fard Duniya ki har Daulat se be hisaab nawaza Jaye to yaqinan wo Dua Sharfe Qubuliyat haasil Kar jati, Lekin Aap Sallallahu Alaihivasallam ne Apne Khandaan ke liye kasrate Maal v Daulat ki Dua nahi farmayi balki Aap Sallallahu Alaihivasallam ne farmaya :-
“_ Ey Allah ! Muhammad ( Sallallahu Alaihivasallam ) ke Ahle Khandaan ki rozi quwat ( barabar sarabar ) muqarrar farma de _,”

*🗂 Muslim -2/409, Sho’abul imaan-7/291,*

“_ Yani na itni Kam ho k Makhlooq ke saamne Zillat Ka baa’is ho aur na itni zyada ho k Akhirat se gaafil Kar de ,

*”_ Baqi Hissa Agle Part mai_,*
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-15 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ क़नाअत दाइमी दौलत है :-1,*

★_ कसरत की फिक्र की बजाए अता ए खुदावंदी पर राज़ी रहना क़नाअत कहलाता है और जिस शख्स को यह क़नाअत की दौलत नसीब हो जाए वह हर हाल में मगन रहता है, फिर वह कभी एहसास ए कमतरी में मुब्तिला नहीं होता और ना दूसरे की हिर्स करता है, एक हदीस में इरशाद ए नबवी है :-
"_ (जिस शख्स को तीन सिफात हासिल हो गईं) वो फला पा गया (१) जो इस्लाम से मुशर्रफ हो (२)  जिसे बा क़दरे ज़रूरत रोज़ी मिलती हो (३) और अल्लाह ने उसे अपने दिए हुए रिज़्क़ पर क़नाअत से नवाजा़ हो _,"
*( शो'बुल ईमान- 7/ 290 )*

★_ एक और हदीस में आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-
"_  तुम क़नाअत को अख्त्यार करो इसलिए कि क़नाअत ऐसा माल है जो कभी खत्म नहीं होता_," *( मजमुअज़ ज़वाइद- 10/256)*

★_ आदमी सबसे ज्यादा अपनी औरत की रोज़ी के बारे में फ़िक्रमंद रहता है और उसके लिए पहले ही से इंतजाम करके जाता है, दुआएं करता है मेहनत व जद्दोजहद करता है, जनाबे रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने भी इसके मुताल्लिक फिक्र फरमाई, बिला शुबहा अगर आप यह दुआ करवा देते हैं कि आपके खानदान का हर फर्द दुनिया की हर दौलत से बेहिसाब नवाजा़ जाए तो यक़ीनन वह दुआ शरफे क़ुबूलियत हासिल कर जाती, लेकिन आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने अपने खानदान के लिए कसरत ए माल व दौलत की दुआ नहीं फरमाई बल्कि आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया :-
"_ ए अल्लाह ! मोहम्मद (सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम) के अहले खानदान की रोज़ी कु़वत ( बराबर सराबर ) मुकर्रर फरमा दे _," *( मुस्लिम- 2/ 409, शौबुल ईमान -7/291)*

"_यानी ना इतनी कम हो कि मखलूक़ के सामने जिल्लत का बाइस हो और ना इतनी ज़्यादा हो कि आखिरत से गाफिल कर दे _,"

*"_ बाकी हिस्सा अगले पार्ट में _,"*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-16 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Qana’at Daa’imi Daulat Hai -2_,*

❀__ Aap Sallallahu Alaihivasallam ne ye bhi irshad farmaya k Roze Qayamat Maaldaar aur Gareeb Sabko yahi Hasrat hogi k Unhe Duniya mai barabar sarabar rozi mili hoti _,” *( Targeeb -4/81)*

❀__Aur Aap Sallallahu Alaihivasallam Ka irshad Hai :- Allah Ta’ala Apne ata karda Maal KE zariye Apne Bande ko Aazmata hai Pas Jo Shakhs Allah ki Taqseem per Raazi rahe Allah Ta’ala use Barkat se nawaazta hai aur usko Wus’at ata Farmata hai aur Jo is per Raazi na rahe ( balki zyada ki hirs kare ) to usko Barkat se mehroomi rehti hai _,”

*🗂 Majmauz Zawa’id-10/257,*

“__ Algaraz ye Qana’at aur istagna e intehayi Sukoon aur izzat v Sharf ki Cheez hai ,

❀__ Ek Martaba Hazrat Jibraiyl Alaihissalam Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ki khidmat mai Haazir hue aur farmaya :-
“__ Ey Muhammad ( Sallallahu Alaihivasallam ) ! Aap Jitna chaahe rahe’n ( Bahar haal ) ek Din wafaat Paani hai aur Aap Jo chaahe A’amaal Kare’n unka Aapko badla mil Kar rehta Hai aur Aap Jisse chaahe ( Duniya mai ) Talluq rakhe’n use ( Bahar haal) Chhod Kar Jana hai, Aur Achchhi tarah Maloom ho k Momin ke liye sharf ki Baat uska Raat ko Namaz padhna hai aur Momin ki Asal izzat ki Cheez uska logo se mustagni rehna hai _,”

*🗂 Tabrani Ba Sanad Hasan Majmauz Zawa’id-10/216,*
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-16 ★*
            *╂───────────╂*
      *☞ क़नाअत दाइमी दौलत है -२,*

★_ आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने यह भी इरशाद फरमाया कि रोज़े क़यामत मालदार और गरीब सबको यही हसरत होगी कि उन्हें दुनिया में बराबर सराबर रोज़ी मिली होती_," *( तरगीब - 4/81)*

★_ और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का इरशाद है :-
"_ अल्लाह ताला अपने अता करदा माल के ज़रिए अपने बंदे को आज़माता है पस जो शख्स अल्लाह की तक्सीम पर राज़ी रहे अल्लाह ताला उसे बरकत से नवाज़ता है और उसको वुसअत अता फरमाता है और जो इस पर राज़ी ना रहे (बल्कि ज़्यादा की हिर्स करें) तो उसको बरकत से मेहरूमी रहती है _," *( मजमुअज़ ज़वाइद - 10/257)* 

*"_ अलगरज़ यह क़नाअत और इस्तगना इंतेहाई सुकून और इज़्ज़त व शर्फ की चीज़ है_,"

★_ एक मर्तबा हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में हाज़िर हुए और फरमाया:- 
"_ ए मुहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ! आप जितना चाहे रहें (बहर हाल) एक दिन वफात पानी है और आप जो चाहे अमल करें उनका आपको बदला मिलकर रहता है आज जिससे चाहे ( दुनिया में) ताल्लुक रखें उसे (बहर हाल) छोड़कर जाना है और अच्छी तरह मालूम हो कि मोमिन के लिए शर्फ की बात उसका रात को नमाज़ पढ़ना है और मोमिन की असल इज्ज़त की चीज़ उसका लोगों से मुस्तगनी रहना है _,"
*( तबरानी बा सनद हसन मजम'उज़ ज़वाइद 10/216)*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-17 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Duniya mai Musafir ki tarah Raho _,*

❀__ Hazrat Abdullah bin Umar Raziyallahu Anhu farmate hai’n k Ek martaba Aap Hazr Sallallahu Alaihivasallam ne mere Badan Ka Kuchh Hissa Haath mai Pakad Kar irshad farmaya :-
“__ Tum Duniya mai is tarah raho goya k Tum musafir ho _,”

*🗂 Bukhari Sharif-2/949,*

❀__ Yani Jis tarah Musafir Raaste mai theharne ki jagah se Dil nahi lagata balki Apni Manzile maqsood Tak pahunchne aur Waha’n ki Aafiyat ke liye har Waqt fikrmand rehta Hai, Isi tarah Momin ko Apne ” Musafire Akhirat ” hone Ka tasavvur har Waqt zahan mai rakhna chahiye, Ye Esi Azeem Nasihat hai Jo Tamaam Nasihato ko Jami’a hai , Aur Nabi Kareem Sallallahu Alaihivasallam ki muqaddas Zindgi isi Hidayat ki Amli Tafseer thi ,
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-17 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ दुनिया में मुसाफिर की तरह रहो _,*

★_ हजरत अब्दुल्लाह बिन उमर रज़ियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि एक मर्तबा आप हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मेरे बदन का कुछ हिस्सा हाथ में पकड़ कर इरशाद फरमाया :-
"_ तुम दुनिया में इस तरह रहो गोया कि तुम मुसाफिर हो _,"  *(बुखारी शरीफ- 2/ 949 )*

★_ यानी जिस तरह मुसाफिर रास्ते में ठहरने की जगह से दिल नहीं लगाता बल्कि अपनी मंजिले मकसूद तक पहुंचने और वहां की आफियत के लिए हर वक्त फिकर मंद रहता है, इसी तरह मोमिन को अपने मुसाफिर ए आखिरत होने का तसव्वुर हर वक्त ज़हन में रखना चाहिए, यह ऐसी अज़ीम नसीहत है जो तमाम नसीहतों को जामे है और नबी करीम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की मुकद्दस जिंदगी इसी हिदायत की अमली तफसीर थी ।
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-18 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Aap Sallallahu Alaihivasallam Ki Shaan _,*

❀__ Khadime Rasool Sallallahu Alaihivasallam Hazrat Abdullah ibne Masoud Raziyallahu Anhu farmate hai’n k Mai’n ek martaba Aap Sallallahu Alaihivasallam ki qayam gaah per Haazir hua ( Jisme koi Araam ki Cheez nahi thi ) aur Aap Sallallahu Alaihivasallam ek Khurri ( Khurduri ) Chataa’i per Araam farma they Jiski Sakhti ke nishanaat Aap Sallallahu Alaihivasallam ke Badane Aqdas per numaya ho rahe they, Mai’n ye manzar dekh Kar ro diya ,

To Aapne farmaya :- Miya’n Abdullah Kyu rote ho ? To Maine Arz Kiya k _Ey Allah ke Rasool Sallallahu Alaihivasallam ! Ye (Duniya ke Badshaah ) Qaisaro Kisra to Naram v Nazuk resham ke qaleen per lete aur Aap Sallallahu Alaihivasallam ( dono Jaha’n ke sardaar hone ke bavjood ) is Khurri Chataa’i per Tashreef farma hai’n, ( ya dekh Kar Mujhe Rona aa raha hai ) ,

Is per Aap Sallallahu Alaihivasallam ne farmaya :- Abdullah mat ro’o Kyunki Unke liye Duniya hi mai Sab kuchh hai aur Hamare Liye Akhirat ( ki Ni’amate hai’n ) aur Mujhe Duniya se kya Lena Dena, Meri aur Duniya ki Misaal to Esi hai Jese Koi Musafir Sawaar ( Araam ke liye ) Kisi darakht ke niche utar Kar Araam Kare aur Fir Kuchh der Baad use Chhod Kar chalta bane _,”

*🗂At Targeeb v Tarheeb- 4/98,*

❀__ Janabe Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ne Ummat ki rehnumayi aur Hidayat ke liye akhtyari Tor per Faqr Ka Raasta akhtyar Kiya aur Apne ” Uswah Mubaraka ” se Duniya se be Ragbat rehne ki Talqeen farmayi , Jiska Khulasa ye hai k Aadmi Jis Haal mai bhi rahe Akhirat se gaafil na rahe Aur Duniya ki Zaibo Zeenat aur Lahu v La’ib mai mubtila ho Kar Apni Akhirat Ka nuqsaan na Kare, balki Duniya mai Milne wale Fursat ke lamhaat ko Akhirat ki Kamyaabi ke husool Ka zariya banane ki bharpoor Koshish barabar karta rahe ,
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-18 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ आप सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम की शान_,* 

★_ खादिमे रसूल सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम हजरत अब्दुल्लाह इब्ने मस'ऊद रज़ियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि मैं एक मर्तबा आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के क़याम गाह पर हाज़िर हुआ ( जिसमें कोई आराम की चीज़ नहीं थी ) और आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम एक खूर्री ( खुरदूरी) चटाई पर आराम फरमा थे जिसकी सख्ती के निशानात आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के बदने अक़दस पर नुमाया हो रहे थे, मैं यह मंज़र देख कर रो दिया _,"

"_ तो आपने फरमाया :- मियां अब्दुल्ला क्यों रोते हो? तो मैंने अर्ज़ किया कि,  ए अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ! यह ( दुनिया के बादशाह ) क़ैसरो किसरा तो नरम व नाज़ुक रेशम के कालीन पर लेटें और आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ( दोनों जहां के सरदार होने के बावजूद) इस खुर्री चटाई पर तशरीफ फरमा हैं, ( यह देख कर मुझे रोना आ रहा है )

★_ इस पर आप सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम ने फरमाया :- अब्दुल्लाह मत रोओ क्योंकि उनके लिए दुनिया ही में सब कुछ है और हमारे लिए आखिरत (की नियामतें है ) और मुझे दुनिया से क्या लेना देना, मेरी और दुनिया की मिसाल तो ऐसी है जैसे कोई मुसाफिर सवार ( आराम के लिए) किसी दरख़्त के नीचे उतर कर आराम करे और फिर कुछ देर बाद उसे छोड़कर चलता बने _,"
*( अत तरगीब व तरहीब - 4/98 )*

★_ जनाबे रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उम्मत की रहनुमाई और हिदायत के लिए अख्त्यारी तौर पर फक़्र का रास्ता अख्त्यार किया और अपने " उसवाह मुबारका " से दुनिया से बे रगबत रहने की तलकीन फरमाई, जिसका खुलासा यह है कि आदमी जिस हाल में भी रहे आखिरत से गाफिल ना रहे और दुनिया की जे़बों ज़ीनत और लहु व ल'इब में मुब्तिला होकर अपनी आखिरत का नुक़सान ना करें बल्कि दुनिया में मिलने वाले फुर्सत के लम्हों को आखिररत की कामयाबी के हुसूल का ज़रिया बनाने की भरपूर कोशिश बराबर करता रहे _,
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-19 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Sahat Aur Waqt Ki Naqadri ,*

❀__Aam Tor per insaan Allah Ta’ala ki Do Azeem Ni’amato Sahat Aur Waqt ki nihayat Naqadri karta Hai aur in Ni’amato se use Jitna Faayda Uthana Chahiye aur Akhirat mai inke zariye Jitni Kamyaabi haasil karni chahiye usme Sakht Gaflat aur Susti se Kaam Leta hai ,Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya :-
“__ Do Ni’amate Esi hai’n Jinme Bahut se insaan Khasare mai Hai’n (1) Sahat v Aafiyat (2) Fursat Ke Lamhaat _,”

*🗂 Bukhari Sharif- 6142,*

❀__ Is Hadees ki Sharah mai farmate hue Muhaddis ibne Bataal Reh. ne farmaya k Sahat Aur Fursat Ke Lamhaat Allah Ta’ala ki Azeem Ni’amate hai’n, inki qadardaani ye hai k Allah Ta’ala ki ita’at ki Jaye aur Uske Mana karda cheezo se parhez kiya Jaye , Agar isme Kotaahi Hui ( Jisme ibtila Aam hai ) to wo Shakhs Akhirat ke khasare mai hoga ,

❀__Aur Allama ibne Jozi Reh. ne farmaya k Kabhi insaan Sahat mand hota Hai Magar use Fursat nahi milti aur Kabhi Fursat mai hota Hai Magar Sahat Saath nahi deti aur Jab ye Dono cheeze jama ho Jaye to us per Susti gaalib aa jati hai, Lihaza Jo Shakhs Susti ko door kar ke in Ni’amato ko ibaadat v ita’at mai lagaye Wo to faayde aur nafe mai rahega aur Jo Susti mai pad Kar Waqt Zaaya Kar dega uske liye khasaara hi khasaara hai ,

“_’Aur Allama Taybi Reh. ne farmaya k Yu’n Samjhiye k Sahat Aur Waqt insaani Zindgi ka Asal Sarmaya hai ,Ab ye insaan ki samajh hai k Wo inhe kiske haath farokht karta Hai, Agar Allah Ta’ala ke Kaam mai lagaye to Goya k Allah Ta’ala ke haath bech Kar uska Yaqeeni muawza haasil Kar ke Kaamyaab hoga aur agar WaQti Lazzato ya Susti mai inhe Zaaya Kar dega to zaahir hai k Usko Hasrat aur Afsos ke Siva kuchh haath nahi aayega _,

*🗂 Fatahul Baari-14/ 276-277,*
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-19 ★*
            *╂───────────╂*
*☞ सेहत और वक्त की नाक़दरी _,*

★_ आमतौर पर इंसान अल्लाह ताला की दो अज़ीम नियामतों सेहत और वक्त की निहायत नाक़दरी करता है और इन नियामतों से उसे जितना फायदा उठाना चाहिए और आखिरत में इनके ज़रिए जितनी कामयाबी हासिल करनी चाहिए उसमें सख्त गफलत और सुस्ती से काम लेता है, आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- 
"_ दो नियामतें ऐसी हैं जिनमें बहुत से इंसान खसारे में हैं (१) सेहत व आफियत (२) फुर्सत के लम्हात _," *( बुखारी शरीफ -6142)*

★_ इस हदीस की शराह में फरमाते हुए इब्ने ईद बताल रहमतुल्लाह ने यह फरमाया कि सेहत और फुर्सत के लम्हात अल्लाह ताला की अज़ीम नियामते हैं इनकी क़दरदानी यह है कि अल्लाह ताला की इता'त की जाए और उसके मना करदा चीज़ों से परहेज़ किया जाए, अगर इसमें कोताही हुई (जिसमें इब्तिला आम है ) तो वह शख्स आखिरत के खसारे में होगा _,"

★_ और अल्लमा इब्ने जोज़ी रहमतुल्लाह ने फरमाया कि कभी इंसान सेहतमंद होता है मगर उसे फुर्सत नहीं मिलती और कभी फुर्सत में होता है मगर सेहत साथ नहीं देती और जब यह दोनों चीज़ें  जमा हों जाएं तो उसको सुस्ती गालिब आ जाती है, लिहाज़ा जो शख्स सुस्ती को दूर करके इन नियामतों को इबादत व इता'त में लगाए वह तो फायदे और नफे में रहेगा और जो सुस्ती में पड़कर वक्त जा़या कर देगा उसके लिए खसारा ही खसारा है ।

★_ और अल्लामा तैयबी रहमतुल्लाह अलैहि ने फरमाया कि यूं समझिए कि सेहत और वक्त इंसानी जिंदगी का असल सरमाया है, अब यह इंसान की समझ है कि वह इन्हें किसके हाथ फरोख्त करता है, अगर अल्लाह ताला के काम में लगाए तो गोया कि अल्लाह ताला के हाथ बेच कर उसका यक़ीनी मुआवजा़ हासिल करके कामयाब होगा और अगर वक्ती लज़्ज़तों या सुस्ती में इन्हें जा़या़ कर देगा तो ज़ाहिर है कि उसको हसरत और अफसोस के सिवा कुछ हाथ नहीं आएगा _,"

*🗂️ फताहुल बारी -14/276-277,*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-20 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Har Waqt Taiyaar Rahe’n _,*

❀__ isliye Aqalmandi Ka taqaza ye hai k Aadmi har Waqt Aakhirat ke liye taiyaar rahe, Aur Aaj Ka Kaam Kal per na taale balki Zindgi mai Jitni bhi Nekiya’n Sameti ja sake Kam se Kam Waqt mai Samet le, Kyunki Pata nahi k fir moqa haath aaye ya na aaye ,

“_ Hazrat Abdullah ibne Umar Raziyallahu Anhu farmaya karte they- Jab Tu Shaam mai ho to Subeh Ka intezar mat Kar aur Jab Subeh mai ho to Shaam Ka intezar na Kar aur Sahat ke Zamane mai Marz ke Waqt Ka bhi Kaam Kar le ( Yani Sahat ke Waqt A’amaal Ka zakhira jama kar le Jo Marz mai Kaam aaye ) aur Zindgi mai Marne ke Baad ke liye zakhira ikattha Kar le , *( Bukhari Sharif- 2416)*

❀__Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne Ek Sahabi ko Nasihat karte hue farmaya :- Paanch Baato ko Paanch Baato se pehle ganimat samjho, Jawani ko Budhape se pehle, Sahat ko Bimaari se pehle, Maaldaari ko Faqro faaqa se pehle, Fursat ke Lamhaat ko Mashguliyat se aur Zindgi ko Maut se pehle_”, *( Fatahul Baari-14/282)*

“__ Is Hadees mai Un Paanch Asbaab ko Bayan kiya Gaya Hai Jinme Madhosh ho Kar insaan Akhirat se gaafil ho jata Hai, To Nabi Kareem Sallallahu Alaihivasallam ne farmaya k ye cheeze Mahaz Aarzi hai’n, Kuchh pata nahi kab inka tasalsul khatm ho Jaye aur fir Baad mai Hasrat ke Siva kuchh haath na aaye, Log Aam Tor per Jawani ke Zamane ko Khail Kood aur Tafrihaat mai Zaaya Kar dete hai’n Halanki ye itna qeemti Zamana hai k isme ibaadat v sawab Budhape ki ibaadat se Kahi’n zyada hai, Ek Hadeese Qudsi mai Allah Ta’ala ibaadat guzaar muttaqi Jawan se Khitaab Kar ke farmata hai k _,” Tera muqaam Meri Nazar mai Baaz Farishto ke barabar hai _,” *( Kitaabuz Zuhad- 117)*

❀__ Ek aur Rivayat mai Hai k,”_ Jo jawan Duniya ki lazzato aur Lahu v La’ib ko Mahaz Raza e ilaahi ke liye Chhod de to Allah Ta’ala usko” 72 Siddiqeen ” Ke barabar Ajr ata Farmata hai _,” *( Kitaabuz Zuhad-117)*

“_ Aur pehle ye Rivayat guzar chuki hai k ibaadat Guzaar Jawan ko Maidaane Mehshar mai Arshe Khudawandi ka Saaya ata Kiya jayega ,

❀__ Algaraz ye Nihayat qeemti Zamana Aam Tor per gaflat mai Zaaya Kar diya Jata hai aur is nuqsaan ki parvaah nahi ki jati, Yahi haal Sahat, Maaldaari aur Faraag Ayshi Ka hai, Zarurat hai k hum gaafil na rahe balki poori tarah taiyaar Reh Kar Akhirat ki taiyari karte rahe, Allah Ta’ala Mahaz Apne fazlo Karam se Hume Fikre Akhirat ki Daulat se Sarfaraz farmaye, Aameen,
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-20 ★*
            *╂───────────╂*
              *☞ हर वक्त तैयार रहें _,*

★_ इसलिए अक़लमंदी का तकाज़ा यह है कि आदमी हर वक्त आखिरत के लिए तैयार रहें और आज का काम कल पर ना टालें बल्कि ज़िंदगी में जितनी भी नेकियां समेटी जा सके कम से कम वक्त में समेट लें क्योंकि पता नहीं कि फिर मौक़ा हाथ आए या ना आए ।

★_हजरत अब्दुल्लाह इब्ने उमर रजि अल्लाह ने फरमाया करते थे:- जब तू शाम में हो तो सुबह का इंतजार मत कर और जब सुबह में हो तो शाम का इंतजार ना कर और सेहत के ज़माने में मर्ज़ के वक्त का भी काम कर लें  (यानी सेहत के वक्त आमाल का ज़खीरा जमा कर लें जो मर्ज में काम आए) और ज़िंदगी में मरने के बाद के लिए ज़ख़ीरा इकट्ठा कर लें_," *( बुखारी शरीफ 2416 )*

★_ आप हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने एक सहाबी को नसीहत करते हुए फरमाया :- पांच बातों को पांच बातों से पहले गनीमत समझो, जवानी को बुढ़ापे से पहले, सेहत को बीमारी से पहले, मालदारी को फक़्रो फाक़ा से पहले, फुर्सत के लम्हों को मशगूलियत से और जिंदगी को मौत से पहले_," *( फताहुल बारी- 14 /282 )*

★_ इस हदीस में उन पांच असबाब का बयान किया गया है जिनमें मदहोश होकर इंसान आखिरत से जो गाफिल हो जाता हैं, नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया:- यह चीज़ें महज़ आरजी है, कुछ पता नहीं कब इनका तसलसुल खत्म हो जाए और फिर बाद में हसरत के सिवा कुछ हाथ ना आए, लोग आमतौर पर जवानी के ज़माने को खेलकूद और तफरिहात में जा़या कर देते हैं हालांकि यह इतना की़मती ज़माना है कि इसमें इबादत व सवाब बुढ़ापे की इबादत से कहीं ज्यादा है, एक हदीसे कु़दसी में अल्लाह ताला इबादत गुज़ार मुक्तक़ी जवान से खिताब करके फरमाता है कि,
"_ तेरा मुका़म मेरी नज़र में बाज़ फरिश्तों के बराबर है_," *( किताबुज़ ज़ुहद- 117 )*

★_ एक और रिवायत में है कि,
"_  जो जवान दुनिया की लज़्ज़तों और लहू व लइब को महज़ रज़ा ए इलाही के लिए छोड़ दें तो अल्लाह ताला उसको 72 सिद्दीकी़न के बराबर अजर अता फरमाता है _," *(किताबुज़ ज़ुहद- 117)* 

★_ और पहले यह रिवायत गुज़र चुकी है कि इबादत गुजार जवान को मैदाने मेहशर में अरशे खुदावंदी का साया अता किया जाएगा _,"

★_ अलगर्ज़ यह निहायत कीमती ज़माना आमतौर पर गफलत में ज़ाया कर दिया जाता है और इस नुक़सान की परवाह नहीं की जाती, यही हाल सेहत मालदारी और फराग ऐशी का है, ज़रूरत है कि हम गाफिल ना रहे बल्कि पूरी तरह तैयार रहकर आखिरत की तैयारी करते रहें, अल्लाह ताला महज़ अपने फज़लों करम से हमें फिक्रे आखिरत की दौलत से सरफराज़ फरमाए, आमीन ।
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ POST NO-21 ★*
               *╂───────────╂*
*☞ Jannat Tak Jane Ka Raasta _,*

❀__ Hazrat Hasan Basri Reh. se mursalan Rivayat hai k Ek martaba Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya k- Kya Tumme se har Shakhs Jannat mai dakhil hona chahta hai ? Hazireen ne arz Kiya-Ji Haa’n ! Ya Rasulallah, To Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya :-
“__ To Apni Aarzue’n mukhtasar Karo aur Maut Har Waqt Apni Aankho ke Saamne rakho aur Allah Ta’ala se is tarah Haya Karo Jese Usse Haya Ka Haq hai _,”

Hazraate Sahaba Raziyallahu Anhum ne arz Kiya Ya Rasulallah Sallallahu Alaihivasallam! Hum Sab Allah Ta’ala se Haya karte hai’n, To Aap Sallallahu Alaihivasallam ne farmaya :-

“__ Allah Ta’ala se Haya Ka ye Matlab nahi hai, balki Allah se Haya ye hai k Tum Qabristaano aur Marne ke baad ki boshidgi ko mat bhoolo aur Sar ke mutallaqa cheezo ko mat faramosh Karo aur Pet aur usme Jane wali Cheezo se mat gaafil ho aur Jo Shakhs Akhirat ki izzat chahta ho Wo Duniya ki Zaibo Zeenat Chhod de ( Jab Aadmi esa Karega ) to wo Allah Ta’ala se Sharmane Wala hoga aur Us Waqt Wo Allah Ta’ala Ka taqarrub aur Wilayat haasil Kar payega _,”

*🗂 Kitaabuz Zuhad -107 ,*

❀__ Aap Sallallahu Alaihivasallam Ka ye Paak irshade Aali Musalman ko har Waqt Peshe Nazar rakhna chahiye aur Uska Aapas mai ek doosre se Zikr bhi karte rehna chahiye, Allah Kare k ye Hidayat hamare Dilo’n ki gehraa’i mai Utar Jaye aur Hume ese A’amaal Ki Tofeeq Naseeb ho jis se hum Duniya v Akhirat mai Apne Khaaliq v Maalik ke Mehboob aur muqarrab ban Jaye, Us Qadire mutlaq zaat se kuchh ba’ied nahi k zarre ko Aftaab aur Tinke ko Mahtaab bana de, Na Ahlo ko ahliyat se nawaz de, Khayr aur tofeeq sirf Usi ke akhtyar mai hai , Hum uski zaat se Daaren Ki Khayro Aafiyat ke Taalib hai’n, Beshak Wohi Duao’n Ka Sunne Wala aur Wohi Aajizo ko Sharfe Qubuliyat se nawaazne Wala hai _,,

*__ Alhamdulillah Mukammal hua _,*
      
*📝Allah se Sharm Kijiye _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
                *★ पोस्ट नं-21 ★*
            *╂───────────╂*
       *☞ जन्नत तक जाने का रास्ता _,*

★_ हजरत हसन बसरी रहमतुल्लाह से मुरसलन रिवायत है कि एक मर्तबा आप हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया कि :- "_क्या तुम में से हर शख्स जन्नत में दाखिल होना चाहता है ? हाजिरीन ने अर्ज़ किया :- जी हां ! या रसूलल्लाह,  तो आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया:-
"_ तो अपनी आरज़ुएं मुख्तसर करो और मौत हर वक्त अपनी आंखों के सामने रखो और अल्लाह ता'ला से इस तरह हया करो जैसे उससे हया का हक़ है _,"

हजराते सहाबा रजियल्लाहु अन्हुम ने अर्ज़ किया :- या रसूलल्लाह सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ! हम सब अल्लाह ता'ला से हया करते हैं, 
तो आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया:- 
"_ अल्लाह ताला से हया का यह मतलब नहीं है बल्कि अल्लाह से हया यह है कि तुम कब्रिस्तानों और मरने के बाद की बोशीदगी को मत भूलो और सर के मुताल्लक़ा चीज़ों को मत फरामोश करो और पेट और उसमें जाने वाली चीज़ों से मत गाफिल हो और जो शख्स आखिरत की इज्ज़त चाहता हो वह दुनिया की ज़ैबो ज़ीनत छोड़ दे (जब आदमी ऐसा करेगा) तो अल्लाह ताला से शर्माने वाला होगा और उस वक्त वह अल्लाह ता'ला का तक़र्रूब और विलायत हासिल कर पाएगा _,"

*🗂️ किताबुज़ ज़ुहद- 107,*

★_ आप सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम का पाक इरशादे आली मुसलमान को हर वक्त पेशे नज़र रखना चाहिए और उसका आपस में एक दूसरे से जि़क्रर भी करते रहना चाहिए, अल्लाह करे कि यह हिदायत हमारे दिलों की गहराई में उतर जाए और हमें ऐसे आमाल की तौफीक नसीब हो जिससे हम दुनिया व आखिरत में अपने खालिक़ व मालिक के मेहबब और मुक़र्रब बन जाएं, उस का़दिरे मुतलक़ ज़ात से कुछ ब'ईद नहीं कि ज़र्रे को आफताब और तिनके को माहताब बना दे, ना अहलों को अहलियत से नवाज दे, खैर और तोफिक़ सिर्फ उसी के अख्त्यार में है, हम उसकी जा़त से दारेन की खैरो आफियत के तालिब है, बेशक वही दुआओं का सुनने वाला और वही आजीज़ों को शर्फे क़ुबूलियत से नवाज़ने वाला है_, 

*"__ अल्हम्दुलिल्लाह पोस्ट मुकम्मल हुई_,*
      
 *📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _,*         •┄┄┅┅━━═۞═━━┅┅┄┄•
💕 *ʀєαd,ғσʟʟσɯ αɳd ғσʀɯαʀd*💕 
                    ✍
         *❥ Haqq Ka Daayi ❥*
http://www.haqqkadaayi.com
*👆🏻हमारी अगली पिछली सभी पोस्ट के लिए साइट पर जाएं ,* 
          ╰┄┅┄┅┄┅┄┅┄┅┄┅┄╯
https://www.youtube.com/channel/UChdcsCkqrolEP5Fe8yWPFQg
*👆🏻 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिए ,*
https://wa.me/message/YZZSDM5VFJ6IN1
*👆🏻वाट्स एप पर हमसे जुड़ने के लिए हमें मेसेज कीजिए _,*
https://t.me/haqqKaDaayi
*👆🏻 टेलीग्राम पर हमसे जुड़िए_,*
https://groups.bip.ai/share/YtmpJwGnf7Bt25nr1VqSkyWDKZDcFtXF
*👆🏻Bip बिप पर हमसे जुड़िए_,*

Post a Comment

 
Top