0
 💐🕌💐
◐══◐═══◐═══◐═══◐◐═══◐═◐
*◆_Bismillahir Rahmanir Raheem_*
◐══◐═══◐═══◐═══◐◐═══◐═◐ 
 *NAMAZ SUNNAT KE MUTABIQ HO*   
         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         
*◆-Namaz Paadhne Ka Tariqa 🍃*

*◆-Namaz Shuru Karne Se Pahile*

 *◆-(1)-Aapka Rukh Qible Ki Taraf hona Zaruri Hai*
*◆-(2)-Aapko Seedhe Khade Hona Chahiye Aur Aapki Nazar Sajde Ki Jagah Par Honi Chahiye Gardan Ko Jhuka Kar Thodi Ko Seene Se Laga Lena Bhi Makrooh Hai Aur Bila Vajah Seene Ko Jhuka Kar Khada Hona Bhi Durust Nahi Hai Is tarah Seedhe Khade Ho'n Ke Nazar Sajde Ki Jagah Par Rahe*

*◆-(3)-Aapke Paa'nv Ki Ungliyo'n Ka Rukh Bhi Qible Ki Janib Rahe Aur Dono Paa'nv Seedhe Qibla Rukh Rahe'n Paa'nv Ko Daye'n Baye'n Tirchha Rakhna Khilafe Sunnat Hai Dono Paa'nv Qibla Rukh Hona Chahiye*

*◆-(4)-Dono Paa'nv Ke Darmiyan Kam Az Kam 4 Ungal Ka Fasla Hona Chahiye*
*◆-(5)-Agar Jama'at Se Namz padh Rahe Hai To Aapkin Saf Seedhi Rahe Saf Seddhi Karne Ka Bahetreen Tariqa Ye Hai k Har Shakhs Apni Dono'n Ediyo'n Ke Aakhri Sire Saf Ya Uske Nishan Ke Aakhri Kinare Par rakah Le*

*❥ 6_Jama'at Ki Surat Me Is Baat Ka Bhi Itminaan Karl e'n K Daye'n Baye'n Khade Hone Walo'n Ke Bazuo'n Ke Saath Aapke Bazu Mile Huwe Hai'n Aur Beech Me Koi Khala Nahi Hai Lekin Khala Ko Pur Karne Ke Liye Itni Tangi Bhi Na Ki Jaye ke Itminan Se Khada Hona Mushkil Ho Jaye*

*❥ 7_Agar Agli Saf Bhar Chuki Ho To Nayi Saf Beech Me Se Shuru Ki Jaye Daye'n Ya Baye'n Kinare Se Nahi, Phir Jo Log Aaye'n Wo Is Baat Ka Khayal Rakhe K Saf Dono Taraf Se Barabar Ho*

*❥ 8_Pajame Ya Pent Ko Takhne Se Neeche Latkana Har Haal Me Na Jaa'iz Hai, Zahir Hai k Namaz Me Uski Shana'at Aur Badh Jati Hai, Lihaza Is Baat Ka Itminaan Kar le'n K Pajam Ya Pent Takhne Se U'ncha Hai*

*❥ 9_Haath Ki Aastine'n Poori Tarah Dhaki Honi Chahiye Sirf Haath khule rahe Baaz Log Aastine  Chadha Kar Namaz Padhte Hai'n Ye Tareeqa Durust Nahi Hai*

*❥10_ Es Kapde Pehan Kar Namaz Me Khade Hona Makrooh Hai Jinhe'n Pahen Kar Insan Logo'n Ke Saamne Na Jata Ho*

╘═━┅━┅━┅━┅┅━┅┅━┅┅━┅━┅═╛

*◆- नमाज़ सुन्नत के मुताबिक पढ़िए ,*
                   ❖══✰═══❖
     *◆_नमाज़ पढ़ने का तरीका़  ◆*

*◆- नमाज शुरू करने से पहले आपका रुख क़िब्ले की तरफ होना जरूरी है आपको सीधे खड़े होना चाहिए और आपकी नज़र सजदे की जगह पर होनी चाहिए, गर्दन को झुका कर ठोड़ी को सीने से लगा लेना भी मकरूह है और बिला वजह सीने को झुका कर खड़ा होना भी दुरुस्त नहीं है, इस तरह सीधा खड़ा हों कि नज़र सजदे की जगह पर रहे,* 

*◆आपके पांव की उंगलियों का रुख भी क़िब्ले की जानिब रहें और दोनों पांव सीधे किब्ला रुख रहे, पांव को दाएं बाएं तिरछा रखना खिलाफे सुन्नत है, दोनों पांवों क़िब्ला रुख होना चाहिए, दोनों पांव के दरमियान कम से कम चार उंगल का फैसला होना चाहिए,*

*◆अगर जमात से नमाज पढ़ रहे हैं तो आप की सफ सीधी रहे सफ सीधी करने का बेहतरीन तरीका यह है कि हर शख्स अपनी दोनों एड़ियों के आखिरी सिरे सफ या उसके निशान के आखिरी किनारे पर रखें ।*

*◆- जमात की सूरत में इस बात का भी इतमिनान कर लें कि दाएं बाएं खड़े होने वालों के बाजू के साथ आपके बाजू मिले हुए हैं और बीच में कोई खला नहीं है लेकिन खला को पुर करने के लिए इतनी तंगी भी ना की जाए कि इत्मीनान से खड़ा होना मुश्किल हो जाए,*

*◆- अगर अगली सफ भर चुकी हो तो नई सफ बीच में से शुरू की जाए दाएं या बाएं किनारे से नहीं, फिर जो लोग आएं वह इस बात का ख्याल रखें कि सफ दोनों तरफ से बराबर हो ,*

*◆- पाजामा या पेंट को टखने से नीचे लटकाना हर हाल में नाजायज़ है, जाहिर है कि नमाज़ में इसकी सुन्नत और बढ़ जाती है लिहाज़ा इस बात का इत्मीनान कर लें कि पजामा या पेंट टखने से ऊंचा रहे ,*

*◆- हाथ की आस्तीने पूरी तरह ढंकी होनी चाहिए सिर्फ हाथ खुले रहें बाज़ लोग आस्तीने चढ़ाकर नमाज़ पढ़ते हैं यह तरीका दुरुस्त नहीं है ,*

*◆- ऐसे कपड़े पहन कर नमाज में खड़े होना मकरूह हैं जिन्हें पहनकर इंसान लोगों के सामने ना जाता हो ,*
  
         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         

*✿-Namaz Shuru Karte Waqt :-*

*◆_1_Dil Me Niyat Kar Le'n K Mai'n fala'n Namaz Padh Raha Hu'n, Zaban Se Niyat Karna Zaruri Nahi*

*◆_2_Haath Kaano Tak Is Tarah Uthaye'n K Hatelyo'n Ka Rukh Qible Ki Taraf ho Aur Angutho'n Ke Sire Kaan Ki Lo Se ya To Bilkul Mil Jaye'n ya Uske Barabar Aa Jaye'n Aur Baqi Ungliya'n Upar Ki Taraf Seedhi Ho_,*

*◆_ Baaz Log Hathelyo'n Ka Rukh Qible Ki Taraf karne ke Bajaye Kaano Ki Taraf Kar Lete Hai'n, Baaz Log Kaano Ko Haatho'n Se Bilkul Dha'nk Lete Hai'n, Baaz Log Haatho'n Ko Puri Tarah Kaano'n Tak Uthaye bagair Halka Ishara Kar Lete Hai'n, Baaz Log kaan ki Lo Ko Haatho Se Pakad Lete Hai'n, Ye Sab Tariqe Galat Aur Khilafe Sunnat Hai'n, inko Chhodna Chahiye*

*◆_3_Mazkoora Baala ( Ouper bataye hue ) Tariqe Par Haath Uthate Waqt Allahu Akbar Kahe'n Phir Daaye'n Haath Ke Anguthe Aur Chohti Ungli Se Baay'en Po'nche (kalayi) Ke Gird Halqa Bana Kar Use Pakad Le'n Aur Baqi 3 Ungliyo'n Ko Baay'en Haath Ki Pusht Par Is Tarah Phelade'n K Teeno Ungliyo'n Ka Rukh Kohni Ki Taraf Rahe*

*◆_4_Dono Haatho'n Ko Naaf Se Zara Sa Niche Rakh Kar Mazkoora Baala Tariqe Se Baandh Le'n*

                   ❖══✰═══❖

*❖ _ नमाज शुरू करते वक्त_,*

*◆-१_दिल में नियत कर लें कि मैं फलां नमाज़ पढ़ रहा हूं ज़बान से नियत करना ज़रूरी नहीं ।*

*◆_२_ हाथ कानों तक इस तरह उठाएं की हथेलियों का रुख क़िब्ले की तरफ हो और अंगूठे के सिरे कान की लौ से या तो बिल्कुल मिल जाएं या उसके बराबर आ जाएं और बाक़ी उंगलियां ऊपर की तरफ सीधी हों,* 

*◆_बाज़ लोग हथेलियों का रुख क़िब्ले की तरफ करने के बजाय कानों की तरफ कर लेते हैं, बाज़ लोग कानों को हाथों से बिल्कुल ढक लेते हैं, बाज़ लोग हाथों को पूरी तरह कानों तक उठाए बगैर हल्का इशारा कर लेते हैं, बाज़ लोग कान की लो को हाथों से पकड़ लेते हैं । यह सब तरीके गलत और खिलाफे सुन्नत हैं, इनको छोड़ना चाहिए ।*

*◆_ ३_मज़कूरा बाला ( ऊपर बताए हुए ) तरीके़ पर हाथ उठाते वक्त अल्लाहु अकबर कहें फिर दाएं हाथ के अंगूठे और छोटी उंगली से बांये पोछे (कलाई) के गिर्द हल्का बनाकर उसे पकड़ लें और बाक़ी तीन उंगलियों को बाएं हाथ की पुस्त पर इस तरह फैला दें कि तीनों उंगलियों का रुख कोहनी की तरफ रहे,*

*◆_४_ दोनों हाथों को नाफ से ज़रा सा नीचे रखकर ऊपर बताए  हुए तरीके़ से बांध लें,*
           
         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         

*✿__Khade Hone Ki Halat Men* 

*◆-(1)_Agar Akele Namaz Padh Rahe Hai'n Ya Imamat Kar Rahe Hai'n To Pehle Sana ( Sub'hana Kallahumma) Phir Surah Fatiha ( Alhamdu Shareef) Phir Koi Aur Surat Padhe'n* 

*◆-Aur Agar Kisi Imam Ke Pichhe Namaz Padh Rahe Hai'n To Sirf Sana (Sub'hana Kallahumma) Padh Kar Khamosh Ho Jaye'n Aur Imam Ki Qira'at Ko Dhyan Laga Kar Sune'n, Agar Imam Zor Se NA Padh Raha Ho To Zaban Hilaye Bager Dil Hi Dil Me Surah Fatiha Ka Dhiyan Rakhe'n* 

*◆-( 2)_Namaz Me Qira'at Ke Liye Ye Zaruri Hai Ke Zaban Aur Ho'nto Ko Harkat De Kar Qira'at ki Jaye Balki Is Tarah Qira'at Ki Jaye K Khud Padhne Wala Usko Sun Sake, Baaz Log Is Tarah Qira'at Karte Hai'n K Zaban Aur Ho'nt Harkat Nahi Karte, Ye tareeqa Durust Nahi Hai, Baaz Log Qira'at Ke Bajaye DIL hi DIL Me Alfaz Ka Tasawwur Kar Lete Hai'n Is Tarah Bhi Namaz Nahi Hoti*

*◆-(3)_Jab Khud Qira'at Kar Rahe Ho'n To Surah Fatiha Padhte Waqt Behtar Ye Hai K Har Aayat Par Ruk Kar Saa'ns Tod De'n phir Doosri Aayat Padhe'n, Kai Kai Aayate'n Ek Saants Me Na Padhe'n, Masalan - (Alhamdu Lillahi Rabbil Aalmeen) Par Saa'ns TOD De'n, Phir (Ar Rahmaanir Raheem) Par Saa'ns Tod De'n, phir (Maaliki Yau Middeen) Par, Is Tarah Poori Surah Fatiha Padhe'n, Lekin Iske Baad Ki Qira'at Me Ek Saa'ns Me Ek Se Zyada Aayate'n Bhi Padh le'n To Koi Haraj Nahi*

*◆-(4)_Bager Kisi Zarurat Ke Jism Ke Kisi Hisse Ko Harkat Na De'n Jitne Sukoon Ke Saath Khade Ho'n Utna Hi Behtar Hai , Agar Khujli Vagera Ki Zarurat Ho To Sirf Ek Haath Istemal Kare'n Aur Wo Bhi Sirf Sakht Zarurat Ke Waqt Aur Kam Se Kam*

*◆-(5)_Jism Ka Saara Zor Ek Payr Par De Kar Doosre Payr Ko Is Tarah Dheela Chhod Dena K Usme Kham Aa Jaye, Namaz Ke Aadab Ke KhilafHai,i Isse Parhez Khare'n, Ya To Dono Payro'n Par Barabar Zor De'n Ya Ek Payr Par zor De'n To Is Tarah K doosre payr Me Kham Paida Na Ho*

*◆-(6)_Jamhayi (Bagaai) Aane Lage To Usko Rokne Ki Poori Koshish Kare'n*

*◆-(7)_Dakaar Aaye To Hawa Ko PehLe Moo'nh Me Jama Kar Liya Jaye Phir Aahista Se Bager Aawaz Ke Use Kharij Kiya Jaye Zor Se Dakar Lena Namaz Ke Aadab Ke Khilaf Hai*

*◆-(8)_Khade Hone Ki Haalat Me Nazre'n Sajde Ki Jaga Par Rakhe'n, Idhar Udhar Ya Saamne Dekhne Se Parhez Kare'n*

                   ❖══✰═══❖

      *"◆-_ खड़े होने की हालत में _,*

*◆-"_ अगर अकेले नमाज़ पढ़ रहे हो या इमामत कर रहे हो तो पहले सना ( सुब्हान कल्लाहुम्मा ) फिर सुरह फातिहा (अल्हम्दु शरीफ ) फिर कोई और सूरत पढ़ें और अगर किसी इमाम के पीछे नमाज़ पढ़ रहे हैं तो सिर्फ सना ( सुब्हना कल्लाहुम्मा) पढ़कर खामोश हो जाएं और इमाम की क़िरात को ध्यान लगाकर सुनें, अगर इमाम ज़ोर से ना पड़ रहा हो तो ज़ुबान हिलाए बगैर दिल ही दिल में सूरह फातिहा का ध्यान रखें ।*

*◆-"_ नमाज़ में क़िरात के लिए यह ज़रूरी है कि ज़ुबान और होठों को हरकत देकर क़िरात की जाए बल्कि इस तरह क़िरात की जाए कि खुद पढ़ने वाला उसको सुन सके, बाज़ लोग इस तरह क़िरात करते हैं कि जुबान और होंठ हरकत नहीं करते यह तरीक़ा दुरुस्त नहीं है, बाज़ लोग क़िरात के बजाए दिल ही दिल में अल्फाज़ का तसव्वुर कर लेते हैं, इस तरह भी नमाज़ नहीं होती ।*

*◆-"_जब खुद क़िरात कर रहे हो तो सूरह फातिहा पढ़ते वक्त बेहतर यह है कि हर आयत पर रूक कर सांस तोड़ दें फिर दूसरी आयत पढ़े, कई कई आयातो को एक सांस में ना पड़े ,"_ मसलन - "अल हमदुलिल्लाहि रब्बिल आलमीन" और सांस तोड़ दे, फिर "अर रहमान निर रहीम" और सांस तोड़ दे, फिर "मालिकी यव मिददीन" पर, इस तरह पूरी सूरह फातिहा पढ़ें लेकिन इसके बाद की कि़रात में एक सांस में एक से ज्यादा आयतें भी पढ़ ले तो कोई हर्ज़ नहीं ।*

*◆-"_ बगैर किसी जरूरत के जिस्म के किसी हिस्से को हरकत ना दें, जितने सुकून के साथ खड़े हों उतना ही बेहतर है, अगर खुजली वगैरा की जरूरत है तो सिर्फ एक हाथ इस्तेमाल करें और वह भी सिर्फ सख्त ज़रूरत के वक्त और कम से कम ।*

*◆-"_ जिस्म का सारा ज़ोर एक पैर पर देकर दूसरे पैर को इस तरह ढीला छोड़ देना की उसमें खम आ जाए नमाज़ के आदाब के खिलाफ है, इससे परहेज़ करें । या तो दोनों पैरों पर बराबर ज़ोर दें या एक पैर पर ज़ोर दें तो इस तरह कि दूसरे पैर में खम पैदा ना हो ,*

*◆-"_ जमहाई आने लगे तो उसको रोकने की पूरी कोशिश करें, डकार आए तो हवा को पहले मुंह में जमा कर लिया जाए फिर आहिस्ता से बगैर आवाज़ के उसे ख़ारिज किया जाए, ज़ोर से डकार लेना नमाज़ के आदाब के खिलाफ है ,*

*◆-"_ खड़े होने की हालत में नज़रें सजदे की जगह पर रखें इधर-उधर या सामने देखने से परहेज़ करें ,*
           
         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         

*✿_ Ruku Me Jate Waqt In Bato'n Ka Khayal Rakhe'n:-*

*◆-1)_Apne Upar Ke Dhad Ko Is Had Tak Jhukaye'n Ke Gardan Aur Pusht Taqriban Ek Sateh Par Aa Jaye'n Na Isse Zyada Jhuke'n Na Isse Kam*

*◆-2)_Ruku Ki Halat Me Gardan Ko na Itna Jhukaye'n K Thodi Seene Se Milne Lage Aur Na Itna Upar Rakhe Ke Gardan Kamar Se Buland Ho Jaye, Balki Gardan Aur Kamar Sateh Par Ho Jani Chahiye*

*◆-3)_ Ruku Me Dono Payr Seedhe Rakhen Un me Kham Na Ho'n*

*◆-4)_Dono Haath Ghutno'n Par Is Tarha Rakhe'n Ke Dono Hatho'n Ki Ungliya'n Khuli Huyi Ho'n Yani Har Do Ungliyo'n Ke Darmiyan Faasla Ho Aur Is Tarha Daye'n Haath Se Daye,n Ghutne Ko Aur Baye,n Haath Se Baye'n Ghutne Ko Pakad Le'n*

*◆-5)_Ruku Ki Haalat Me Kalaiya'n Aur Bazu Seedhe tane Huwe Rehna Chahiye Unme Kham Nahi Aana Chahiye*

*◆-6)_Kam A-z Kam Itni Der Ruku Me Ruke'n Ke Itminaan Se 3 Martaba _(SUB'HANA RABBIYAL AZEEM)_Kaha Ja Sake*

*◆-7)_Ruku Ki Halat Me NAzre'n Pao'n Ki Taraf Honi Chahiye*

*◆-8)_Dono Pao'n Par Zor Barabar Rehna Chahiye Aur Dono Pao'n Ke Takhne Ek Dusre Ke Bil Muqabil Rehna Chahiye*

                   ❖══✰═══❖

*❖_रुकू में जाते वक्त किन बातों का ध्यान रखें_,*

*◆-अपने ऊपर के धड़ को इस हद तक झुकाएं कि गर्दन और पुश्त तकरीबन एक सतह पर आ जाएं, ना इससे ज्यादा झुके ना इससे कम,*

*◆-रुकू की हालत में गर्दन को इतना ना झुकाएं कि ठोड़ी सीने से मिलने लगे और ना इतना ऊपर रखें कि गर्दन कमर से बुलंद हो जाये बल्कि गर्दन और कमर सतह पर हो जानी चाहिए,*

*◆-रुको मैं दोनों पैर सीधे रखें उनमे खम ना हो,*

*◆-दोनों हाथ घुटनों पर इस तरह रखें कि दोनों हाथों की उंगलियां खुली हुई हो यानी हर दो उंगलियों के दरमियान फासला हो और इस तरह दाएं हाथ से दाएं घुटने को और बाएं हाथ से बाएं घुटने को पकड़ लें,*

*◆-रुकु की हालत में कलाइयां और बाजू सीधे तने हुए रहना चाहिए उनमें खम नहीं आना चाहिए ,*

*◆-कम से कम इतनी देर रुकू में रुकें कि इतमिनान से 3 मर्तबा ( सुब्हाना रब्बियल अज़ीम ) कहां जा सके,*

*◆-रुकू की हालत में नज़रें पांव की तरफ होने चाहिए, दोनों पांव पर ज़ोर बराबर रहना चाहिए और दोनों पांव के टखने एक दूसरे के बिल मुक़ाबिल रहना चाहिए,*
           
         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         

  *✿ *Ruku Se Khade Hote Waqt_*

*◆-1)_Ruku Se Khade Hote Waqt Itne Seedhe Ho Jaye'n K Jism Me Koi Kham Baqi Na Rahe*

*◆-2)_Is Halat Me Bhi Nazar Sajde Ki Jagah Rehni Chahiye*

*◆-3)_Baaz Log Khade Hote Waqt Khade Hone Ke Bajaye Khade Hone Ka Sirf Ishara Karte Hai'n Aur Jism Ke Jhuka'o Ki Haalat Hi Me Sajde Ke Liye Chale Jate Hai'n, Unke Zimme Namaz Ka Lautana Wajib Ho Jata Hai, Lihaza Isse Sakhti Ke Saath Parhez Kare'n, Jab Tak Seedhe Hone Ka Itminaan Na Ho Jaye Sajde Me Na Jayen*

                   ❖══✰═══❖
           *❖_ रुकू से खड़े होते वक्त :-*

*◆-रुकू से खड़े होते वक्त इतने सीधे हो जाएं कि जिस्म में कोई खम बाक़ी ना रहे ,*

*◆-इस हालत में भी नज़र सजदे की जगह रहनी चाहिए,*

 *◆-बाज़ लोग खड़े होते वक्त खड़े होने के बजाय खड़े होने का सिर्फ इशारा करते हैं और जिस्म के झुकाव की हालत ही में सजदे के लिए चले जाते हैं उनके जिम्मे नमाज़ का लौटाना वाजिब हो जाता है, लिहाज़ा इससे सख्ती के साथ परहेज़ करें , जब तक सीधे होने का इत्मिनान ना हो जाए सजदे में ना जाएं ,*
         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         
*-✿_ Sajde Me Jate Waqt Is Tareeqe Ka Khayal Rakhe'n:-*

*◆-*1)_ Sabse Pehle Ghutno'n Ko Kham De Kar Unhe'n Zameen Ki Taraf Is Tarah Le jaye'n K Seena Aage Ko Na Jhuke, Jab Ghutne Zameen Par Tik Jaye'n To Uske Baad Seene Ko Jhukaye'n*

*◆-*2)_Jab Tak Ghutne Zameen Par Na Tike'n Us Waqt Tak Upar Ke Dhad Ko Jhukane Se Parhez Kare'n,*

*◆-"_ Aaj Kal Sajde Me Jane Ke Is Makhsoos Adaab Se Be Parwahi Aam Ho Gayi Hai, Aksar Log Shuru Hi Se Seena Aage Ko Jhuka Kar Sajde Me Jate Hai'n Lekin Sahi Tareeqa Wahi Hai Jo No1 Aur no 2 Me Bayan Kiya Gaya, Bager Kisi Uzr Ke Usko Na Chhodna Chahiye*

*◆-*3)_Ghutno'n Ke Baad Pehle Haath zameen Par Rakhe'n phir Naak Phir Peshani*

                   ❖══✰═══❖
*◆-"_ सजदे में जाते वक्त इस तरीके का ख्याल रखें :-*

*◆-"१)_ सबसे पहले घुटनों को खम देकर उन्हें ज़मीन की तरफ इस तरह ले जाएं कि सीना आगे को ना झुके, जब घुटने ज़मीन पर टिक जाएं तो उसके बाद सीने को झुकाएं,*

*◆-"_२)_जब तक घुटनें ज़मीन पर ना टिकें उस वक्त तक ऊपर के धड़ को झुकाने से परहेज़ करें ,*

*◆-"_ आजकल सजदे में जाने के इस मखसूस आदाब से बेपरवाही आम हो गई है, अक्सर लोग शुरू ही से सीना आगे को झुका कर सजदे में जाते हैं लेकिन सही तरीक़ा वही है जो नंबर एक और नंबर दो मे बयान किया गया, बगैर किसी उज्र के उसको ना छोड़ना चाहिए,*

*◆-"_ घुटनों के बाद पहले हाथ ज़मीन पर रखें, फिर नाक, फिर पेशानी ,*
         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         
             *✿_ Sajde Me)*

*◆-*1)_Sajde Me Sar Ko Dono Haatho'n Ke Darmiyaan Is Tarah Rakhe'n K Dono Angutho'n Ke Sire Kaano'n Ki Lo Ke Saamne Ho Jaye'n*

*◆-*2)_Sajde Me Dono Haatho'n Ki Ungliya'n Band Honi Chahiye Yani Ungliya'n Bilkul Mili Mili Ho'n Aur Unke Darmiyan Faasla Na Ho*

*◆-*3)_Ungliyo'n Ka Rukh Qible Ki Taraf Hona Chahiye*

*◆-*4)_Kohonya'n Zameen se Uthi Honi Chahiye Kohonyo'n Ko Zameen Par Tekna Durust Nahi*

*◆-*5)_Dono Baazu Pehluo'n Se Alag Hate Huwe Hone Chahiye Unhe Pehlu'on Se Bilkul Mila Kar Na Rakhen*

*◆-*6)_Kohonyo'n Ko Daye'n Baye'n Itni Door Tak Bhi na Phelaye'n Jisse Barabar Ke Namaz Padhne Wale Ko Takleef Ho*

*◆-*7)_Raane'n Pet Se Mili Huwi Nahi Honi Chahiye Pet Aur Rane'n Alag Alag Rakhi Jaye'n*

*◆-*8)_Poore Sjade Ke Dauraan Naak Zameen Par Tiki Rahe Zameen Se Na Uthe*

*◆-*9)_Dono Pao'n Is Tarha Khade Rakhe Jayen Ke ediya'n Upar Ho'n Aur Tamaam Ungliya'n Achchhi Tarah Mud Kar Qibla Rukh Ho Gayi Ho'n, Jo Log Apne Pao'n Ki Banawat Ki Wajah se Tamam Ungliya'n Modne Par Qadir Na Ho'n Wo Jitni Mod Sake'n Utni Modne Ka Ahatmam Kare'n, Bila Wajah Ungliyo'n Ko Seedha Zameen Par Tekna Durust Nahi*

*◆-*10)_Is Baat Ka Khayaal Rakhe'n K Sajde Ke Dauraan Pao'n Zameen Se Uthne Na Paye'n, Baaz Log Is Tarah Sajda Karte Hai'n K Pao,n Ki Koi Ungli Ek Lamhe Ke Liye Bhi Zameen Par Nahi Tikti, is Tarah Sajda Ada Nahi Hota Aur Natijatan Namaz Bhi Nahi Hoti, Isse Ahtmam Ke Saath Parhez Kare'n*

*◆-*11)_Sajde Ki Haalat Me Kam Az Kam Itni Der Guzare'n Ke 3 Martaba SUB'HANA RABBIYAL A'ALA Itminaan Ke Saath Keh Sake'n, Peshani Tekte Hi Foran Utha Lena Mana Hai*

                   ❖══✰═══❖
                  *❖__ सजदे में _,*

*◆-"१)_ सजदे में सर को दोनों हाथों के दरमियान इस तरह रखें कि दोनों अंगूठे के सिरे कानों की लो के सामने हो जाएं,*

*◆-"२)_ सजदे में दोनों हाथों की उंगलियां बंद होनी चाहिए यानी उंगलियां बिल्कुल मिली मिली हो और उनके दरमियां फासला ना हो,*

*◆-"३)_ उंगलियों का रुख क़िबले की तरफ होना चाहिए,*

*◆-"४)_ कोहनियां ज़मीन से उठी होनी चाहिए कोहनियों को ज़मीन पर टेकना दुरुस्त नहीं,*

*◆-५)_ दोनों बाज़ू पहलुओं से अलग हटे हुए होने चाहिए ,उन्हें पहलुओं से बिल्कुल मिलाकर ना रखें,*

*◆-"६)_ कोहनियों को दाएं बाएं इतनी दूर तक भी ना फैलाएं जिससे बराबर के नमाज़ पढ़ने वालों को तकलीफ हो,*

*◆-"७)_ रानें पेट से मिली हुई नहीं होनी चाहिए, पेट और रानें अलग-अलग रखी जाए,*

*◆-"८)_ पूरे सजदे के दौरान नाक ज़मीन पर टिकी रहे ज़मीन से ना उठे,*

*◆-"९)_दोनों पांव को इस तरह खड़े रखे जाएं की एड़ियां ऊपर हो और तमाम उंगलियां अच्छी तरह मुड़कर क़िब्ला रुख हो गई हों, जो लोग अपने पांव की बनावट की वजह से तमाम उंगलियां मोड़ने पर का़दिर ना हों वो जितनी मोड़ सके उतनी मोड़ने का अहतमाम करें, बिला वजह उंगलियों को सीधा जमीन पर टेकना दुरुस्त नहीं,*

*◆-"१०)_इस बात का ध्यान रखें कि सजदे के दौरान पांव ज़मीन से उठने ना पाएं, बाज़ लोग इस तरह सजदा करते हैं कि पांव की कोई उंगली एक लम्हे के लिए भी ज़मीन पर नहीं टिकती, इस तरह से सजदा अदा नहीं होता और नतीजतन नमाज़ भी नहीं होती, इससे अहतमाम के साथ परहेज करें,*

*◆-११)_सजदे की हालत में कम से कम इतनी देर गुजारे कि 3 मर्तबा सुबहानाना रब्बियल आ'ला इतमिनान के साथ कह सकें, पेशानी टेकते ही फोरन उठा लेना मना है,*

         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         
*✿_ Dono Sajdo'n Ke Darmiyan*

*◆-1)_Ek Sajde Se Uth Kar Itminaan Se Do Zanu Seedhe Baith Jaye'n Phir Doosra Sajda Kare'n, Zara sa Sar Utha Kar Seedhe Huwe Bagair Doosra Sajda Kar Lena Gunaah Hai Aur Is Tarah Karne Se Namaz Ka Lotana Wajib Ho Jata Hai*

*◆-2)_Baya'n Pao'n Bichha Kar Us Par Baithe'n Aur Daya'n pao'n Is Tarha Khada Kar le'n K Uski Ungliya'n Mud Kar Qibla Rukh Ho Jaye'n., Baaz Log Dono Pao'n Khade Kar ke Unki Edhiyo'n Par Baith Jate Hai'n Ye Tareeqa Sahi Nahi Hai*

*◆-3)_Baithne Ke Waqt Dono Haath Rano'n Par Rakhe Hone Chahiye Magar Ungliya'n Ghutno'n Ki Taraf Latki Huyi Na Ho'n Balki Ungliyo'n Ke Aakhri Sire Ghutne Ke Ibtidayi Kinare Tak Pahunch Jaye'n*

*4)_Baithne Ke Waqt Nazre Apni God Ki Taraf Honi Chahiye*

*5)_Itni Der Bethe'n K Usme Kam Az kam Ek Martaba " SUB'HANALLAH" Kaha Ja Sake Aur Agar Itni Der Baithe'n K Usme "_ALLAHUMMAGFIR LEE WARHAMNI WASTURNI WAJBURNI WAHDI NEE WAR ZUQNEE" Padha Ja Sake To Behtar Hai, Lekin Farz Namazo Me Ye Padhne Ki Zarurat Nahi Naflo'n Me Padh Lena Behtar Hai*

                   ❖══✰═══❖
     *◆ _ दोनों सजदों के दरमियान_,*

*◆-"१_ एक सजदे से उठकर इत्मीनान से दो जानू सीधे बैठ जाएं फिर दूसरा सजदा करें, जरा सा सर उठा कर सीधे हुए बगैर दूसरा सजदा कर लेना गुनाह है और इस तरह करने से नमाज़ का लौटाना वाजिब हो जाता है,* 

*◆-"२_बांया पांव बिछाकर उस पर बैठे और दाया पांव इस तरह खड़ा कर लें कि उसकी उंगलियां मुड़कर क़िब्ला रुख हो जाएं, बाज़ लोग दोनों पांव खड़े करके उनकी एड़ियों पर बैठ जाते हैं, यह तरीक़ा सही नहीं है ,*

*◆-"३_बैठने के वक्त दोनों हाथ रानों पर रखें होने चाहिए मगर उंगलियां घुटनों की तरफ लटकी हुई ना हो बल्कि उंगलियों के आखिरी सिरे घुटने के इब्तदाई किनारे तक पहुंच जाएं,* 

*◆-"४_बैठने के वक्त नज़रें अपनी गोद की तरह होनी चाहिए,*

*◆-"५_इतनी देर बैठे कि उसमें कम से कम 1 मर्तबा "सुब्हानल्लाह" कहां जा सके और अगर इतनी देर बैठे कि उसमें "अल्लाहुम्मगफिरली वरहमनी वसतुरनी वजबुरनी वाहदिनी वरज़ुक़नी " पढ़ा जा सके तो बेहतर है लेकिन फर्ज़ नमाज़ में यह पढ़ने की ज़रूरत नहीं, निफ्लों में पढ़ लेना बेहतर है ,*
         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         
*✿_ Doosra Sajda Aur Usse Uthna ,*

*◆-1) _ Doosre Sajde Me Bhi Is Tarah Jaye'n K Pehle Dono Haath Zameen Par Rakhe'n Phir Naak Phir Peshani*

*◆-2)_Sajde Ki Haiyat Wahi Honi Chahiye Jo Pehle sajde Me Bayan Ki Gayi*

*◆-3)_Sajde Se Uth te Waqt Pehle Peshani Zameen Se Uthaye'n Phir Naak phir Haath Phir Ghutne*

*◆-4)_ Uth te Waqt Zameen ka Sahara Na Lena Behtar Hai, Lekin Agar Jism Bhari Ho Ya Bimari Ya Budhape Ki Vajah Se Mushkil Ho To Sahara Lena Bhi Jaa'iz Hai*

*◆-5)_Uthne Ke Baad Har Rak'at Ke Shuru Me Surah Fatiha Ke Pehle "_BISMILLAHIR RAHMANIR RAHEEM" Padhe'n*

                   ❖══✰═══❖
     *❖_ दूसरा सजदा और उससे उठना _,*

*◆-१_ दूसरे सजदे में भी इस तरह जाए कि पहले दोनों हाथ ज़मीन पर रखें फिर नाक फिर पेशानी ,*

*◆-२_सजदे की हैयत वही होनी चाहिए जो पहले सजदे में बयान की गई ,*

*◆-३_ सजदे से उठते वक्त पहले पेशानी ज़मीन से उठाएं फिर नाक फिर हाथ फिर घुटने ,*

*◆-४_उठते वक्त ज़मीन का सहारा ना लेना बेहतर है लेकिन अगर जिस्म भारी हो या बीमारी या बुढ़ापे की वजह से मुश्किल हो तो सहारा लेना भी जायज़ है ,*

*◆-५_उठने के बाद हर रका'त के शुरू में सूरह फातिहा के पहले "बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम _" पढ़े ,*

         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         
           *❖__ Qa'ade Me _,*

*◆-1)_ Qa'ade Me Bethne Ka Tareeqa Wahi Hoga Jo Sajdo ke Beech me Baithne Ka Zikr Kiya Gaya*

*◆-2)_Attahiyaat Padhte Waqt Jab Ash'hadu Allah Par Pahunche To Shahadat Ki Ungli Utha Kar Ishara Kare'n Aur illallah Par Gira de'n*

*◆-3)_ ishare Ka Tareeqa Ye Hai K Beech Ki Ungli Aur Anguthe Ko Mila Kar Halqa Banaye'n chhingli Aur Uske Barabar Wali Ungli Band Karle'n Aur Shahadat Ki Unglk Ko Is Tarha Uthaye'n K Ungli Qible Ki Taraf Jhuki Huyi Ho, Bilkul Seedhi Aasmaan Ki Taraf Na Uthana Chahiye*
 
*◆-4)_ illallah Kehte Waqt Shahadat Ki Ungli ko Neeche Karle'n Lekin Baqi Ungliyo'n Ki Jo Haiyat ishare ke Waqt Banayi Thi Usko Aakhir Tak Bar Qaraar Rakhe'n*

                   ❖══✰═══❖
                    *❖_ क़ा'दे में _,*

*◆- १_का़'दे में बैठने का तरीक़ा वही होगा जो सजदों के बीच में बैठने का जिक्र किया गया,*

*◆- २_अत्ताहियात पढ़ते वक्त जब अशहदू अल्लाह पर पहुंचे तो शहादत की उंगली उठाकर इशारा करें और इल्लल्लाह पर गिरा दें,*

                   ❖══✰═══❖
                    *❖_ क़ा'दे में _,*

*◆- १_का़'दे में बैठने का तरीक़ा वही होगा जो सजदों के बीच में बैठने का जिक्र किया गया,*

*◆- २_अत्ताहियात पढ़ते वक्त जब अशहदू अल्लाह पर पहुंचे तो शहादत की उंगली उठाकर इशारा करें और इल्लल्लाह पर गिरा दें,*

*◆-३_इशारे का तरीका यह है कि बीच की उंगली और अंगूठे को मिलाकर हलका़ बनाएं छुंगली और उसके बराबर वाली उंगली बंद कर ले और शहादत की उंगली को इस तरह उठाएं की उंगली क़िब्ला की तरफ से झुकी हुई हो बिल्कुल सीधी आसमान की तरफ ना उठाना चाहिए,* 

*◆-इल्लल्लाह कहते वक्त शहादत की उंगली को नीचे कर लें लेकिन बाकी़ उंगलियों की जो हैयत इशारे के वक्त बनाई थी उसको आखिर तक बरक़रार रखें,* 

         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         
    *❖_"Salam_Phairte Waqt _,*

*◆-1)_Dono Taraf Salam Phairte Waqt Gardan Ko Itna Mode'n Ke Pichhe Baithe Aadmi Ko Aapke Rukhsar Nazar Aa Jaye'n*

*◆-2)_Salam Phairte Waqt Nazre'n Kandhe Ki Taraf Honi Chahiye*

*◆-3)_Jab Daye'n Taraf Gardan Phair Kar Salam "_Assalamu Alaikum Wa Rahmatullah" Kahe'n To Ye Niyat Kare'n K Daye'n Taraf Jo Insan Aur Farishte Hai'n Unko Salam Kar Raha Hu'n Aur Baye'n Taraf Salam Phairte Waqt Baye'n Taraf Mojood Insano Aur Farishton Ko Salam Karne Ki Niyat Kare'n*

      *(Duaa Ka Tareeqa)*

*◆-1)_Dua Ka Tareeqa Ye Hai K Dono Haath Itne Uthaye'n Jaye'n K Wo Seene Ke Saamne Aa Jaye'n, Dono Haatho'n Ke Darmiyan Mamuli Sa Faasla Ho, Na Haatho'n Ko Bilkul Milaye'n Aur Na Dono Ke Darmiyan Zyada Faasla Rakhe'n*

*◆-2)_ Dua Karte Waqt Haatho Ke Andruni Hisse Ko Chehre Ke Saamne Rakhe'n*

                   ❖══✰═══❖
              *❖_ सलाम फैरते वक्त _,*

*◆- १_ दोनों तरफ सलाम करते वक्त गर्दन को इतना मोड़ें कि पीछे बैठे आदमी को आपके रूखसार नज़र आ जाएं,* 

*◆-२_ सलाम फैरते वक्त नज़रें कांधें की तरफ होनी चाहिए ,*

*◆-३_ जब दाएं तरफ गर्दन फेर कर सलाम "अस्सलामु अलैकुम व रहमतुल्लाह" कहें तो यह नियत करें कि दाएं तरफ जो इंसान और फरिश्ते हैं उनको सलाम कर रहा हूं और बाएं तरफ सलाम करते वक्त बाएं तरफ मौजूद इंसानों और फरिश्तों को सलाम करने की नियत करें _,*

         *( दुआ का तरीक़ा )*

*◆-१_ दुआ का तरीक़ा यह है कि दोनों हाथ इतने उठाएं जाएं कि वह सीने के सामने आ जाएं, दोनों हाथों के दरमियान मामूली सा फासला हो, ना हाथों को बिल्कुल मिलाएं और ना दोनों के दरमियान ज्या़दा फासला रखें,*

*◆-२_ दुआ करते वक्त हाथों के अंदरूनी हिस्से को चेहरे के सामने रखें _,*

         •━━━━ ✽ • ✽ ━━━━•         

    *❖_*Khawateen Ki Namaaz-,*

*▶️ _ Peechhe Namaz Ka Jo Treeqa Bayan Kiya Gaya Wo Mardo'n Ke Liye Hai, Aurto'n Ki Namaz Mindarja Zail Mamlaat Me Mardo'n Se Mukhtalif Hai, Lihaza Khawateen Ko In Masa'il Ka Khayal Rakhna Chahiye*

*◆-1)_Khawateen Ko Namaz Shuru Karne Se Pehle is Baat Ka itminaan kar Lena Chahiye K Unke Chehre, Haatho'n, Aur Pao'n Ke Siwa Tamaam Jism Kapde Se Dhaka Huwa Hai*

*◆-Ba'az Khawateen Ki Kalaaiya'n Khuli Rehti Hai, Ba'az Khawateen Ke Kaan Khule Rehte Hai Ba'az Khawateen itna Chhohta Dupatta istemaal Karti Hai'n K Uske Neeche Baal Latke Nazar Aate Hai'n*

*◆-Ye Sab Tareeqe Na Jaa'iz Hai Aur Agar Namaz Ke Doraan Chehra, Haath Aur Pao'n Ke Siwa Jism Ka Koi hissa Bhi Chotha'i Ke Barabar Itni Der Khula Reh Gaya Jisme 3 Martaba "Sub'hana Rabbiyal Azeem" Kaha Ja Sake To Namaz Nahi Hogi Aur Usse Kam Khula Reh Gaya To Namaz Ho Jayegi Magar Gunah Hoga*

*◆-2)_Khawateen Ke Liye Kamre Me Namaz Padhna Bar'amde Se Afzal Hai Aur Bar'amde Me Padhna Sehan Se Afzal Hai*

*◆-3)_Aurto'n Ko Namaz Shuru Karte Waqt Haath Kano Tak Nahi Balki Kandho'n Tak Uthana Chahiye Aur Wo Bhi Dupatte Ke Andar Hi Se Uthane Chahiye, Dupatte Se Baahar Na Nikalne Paye*

*◆-4)_ Aurte'n Haath Seene Par Is Tarha Bandhe'n K Seedhe Haath Ki Hatheli Ulte Haath Ki Pusht Par Rakh de'n, Aurto'n Ko Mardo'n Ki Tarah Naaf Par Haath Na Baa'ndhna Chahiye*

*◆-5)_Ruku Me Aurto'n Ke Liye Mardo'n Ki Tarah Kamar Ko Bilkul Seedha Karna Zaruri Nahi Aurto'n Ko Mardo'n Ke Muqable me Kam Jhukna Chahiye*

               *📚Tahtaavi _141*

◆-6) Ruku Ki Halat Me Mardo'n Ko Ungliya'n Ghutno'n Par Khol Kar Rakhni Chahiye Lekin Aurto'n Ke Liye Hukm Ye Hai Ke Wo Ungliya'n Mila kar Rakhe'n Yani Ungliyo'n Ke Darmiyaan Faaasla Na Ho , (Durre Mukhtaar)*

*◆-7) Aurto'n Ko Ruku Me Apne Pao'n Bilkul Seedhe Na Rakhna Chahiye Balki Ghutno Ko Aage Ki Taraf Zara sa Kham Dekar (Jhuka Kar) Khada Hona Chahiye ( Durre Mukhtaar)*

*◆-8) Mardo'n Ko Hukm Ye Hai K Ruku Me Unke Baazu Pehluo'n se juda Aur Tane Huwe Ho'n Lekin Aurto'n Ko IS tarah Khada Hona Chahiye K Unke Bazu Pehluo'n Se Mile Huwe Ho'n_," (Eizaa)*

*◆-9) Aurto'n Ko Dono Pao'n Mila Kar Khada Hona Chahiye Khaas Tor Par Dono Takhne Taqreeban Mil Jane Chahiye, Pao'n Ke Darmiyaan faasla Na Hona Chahiye _," (Bahishti Zewar)*

*◆-10) Sajde Me Jate Waqt Mardo'n ke Liye Ye Tareeqa Bayaan Kiya Gaya Hai K Jab Tak Ghutne zameen Par Na Tike'n Us Waqt Tak Wo Seena Na Jhukaye'n Lekin Aurto'n Ke Liye Ye Tareeqa Nahi Hai Wo Shuru Se Hi Seena Jhuka Kar Sajde Me Jaa Sakti Hai*

*◆-11) Aurto'n Ko Sajda Is Tarah Karna Chahiye K Unka Pet Raano'n Se Bilkul Mil Jaye'n Aur Bazu Bhi Pehluo'n Se MiLe Huwe Ho'n, Neez Aurte'n Pao'n Ko Khada Karne Ke Bajaye Unhe'n Daye'n Taraf Nikaal KaR Bichha De'n*

*◆-12_ mardo'n ke liye Sajde me kohniya'n Zameen par rakhna mana hai lekin Aurato'n ko kohniyo'n samet Poori Baahe'n zameen par rakh leni chahiye (Durre Mukhtaar)*

*◆_13_ Sajdo'n ke darmiyaan aur attahiyaat padhne ke liye jab baithna ho to baaye kulhe per baithe aur dono paa'nv daa'nyi taraf ko nikal le'n aur daa'nyi pindli per rakhe'n, ( Tahtaavi )*

*◆- 14_ mardo'n ke liye ye hukm hai k ruku me ungaliya'n khol kar rakhne ka Ahatmam Kare'n aur Sajde me band rakhne Ka aur namaz ke baqi af'aal m unhe'n Apni haalat per chhod de'n, Na band karne Ka Ahatmam Kare'n na kholne ka, lekin Aurato'n ke liye har haalat me hukm ye hai k wo ungaliyo'n ko band rakhe'n yani unke darmiyaan faasla Na chhode, ruku me bhi Sajde me bhi, do sajdo ke darmiyaan bhi aur qa'ada me bhi _,*

*◆-15_Aurato'n ka jamaat karna makrooh hai, unke liye Akeli namaz padhna hi behtar hai, Albatta agar Ghar ke mahram afraad ghar me jamaat kar rahe ho'n to unke sath Jamaat me Shamil Ho jaane me kuchh harj nahi, lekin Ese me mardo'n ke bilkul pichhe Khade hona zaroori hai, barabar me khadi na Ho'n_,* 

*◆-📔 Namaz Sunnat Ke Mutabiq Pahye ,( Mufti Muhammed Taqi Usmani Sahab D.B)*

                   ❖══✰═══❖
          *❖"_खवातीन की नमाज़ -_,*

*◆-"_ पिछले पार्टों में नमाज़ का जो तरीक़ा बयान किया गया वह मर्दों के लिए हैं औरतों की नमाज़ कुछ तरीकों में मर्दों से मुख्तलिफ है लिहाज़ा खवातीन को इन मसाईल का ख्याल रखना चाहिए :-*

*◆-१_ ख्वातीन को नमाज़ शुरू करने से पहले इस बात का इत्मीनान कर लेना चाहिए कि उनके चेहरे हाथों और पैरों के सिवा तमाम जिस्म कपड़े से ढंका हुआ है ,*

*◆-"_ बाज़ खवातीन की कलाइयां खुली रहती है, बाज़ खवातीन के कान खुले रहते हैं, बाज़ खवातीन इतना छोटा दुपट्टा इस्तेमाल करती हैं कि उसके नीचे बाल लटके नज़र आते हैं _,*

*◆-"_यह सब तरीक़े नाजायज़ हैं और अगर नमाज़ के दौरान चेहरा, हाथ और पांव के सिवा जिस्म का कोई हिस्सा भी चौथाई के बराबर इतनी देर खुला रह गया जिसमें 3 मर्तबा "सुबहाना रब्बियल अज़ीम" कहा जा सके तो नमाज़ नहीं होगी और उससे कम खुला रह गया तो नमाज़ हो जाएगी मगर गुनाह होगा_,* 

*२_ खवातीन के लिए कमरे में नमाज़ पढ़ना बरामदे से अफ़ज़ल है और बरामदे में पढ़ना सहन से अफ़ज़ल है ,*

*◆-3_औरतों को नमाज़ शुरु करते वक्त हाथ कानों तक नहीं बल्कि कंधों तक उठाना चाहिए और वह भी दुपट्टे के अंदर ही से उठाने चाहिए दुपट्टे से बाहर ना निकलने पाएं,*

*◆-४_ औरतें हाथ सीने पर इस तरह बांधे कि सीधे हाथ की हथेली उल्टे हाथ की पुस्त पर रख दें, औरतों को मर्दों की तरह नाफ पर हाथ ना बांधना चाहिए ,*

*◆-५_ रुकू में औरतों के लिए मर्दों की तरह कमर को बिल्कुल सीधा करना ज़रूरी नहीं, औरतों को मर्दों के मुक़ाबले में कम झुकना चाहिए ,*

    *📗 ताहतावी - १४१,*

*◆-६_ रुकू की हालत में मर्दों को उंगलियां घुटनों पर खोलकर रखनी चाहिए लेकिन औरतों के लिए हुक्म यह है कि वह उंगलियां मिलाकर रखें यानी उंगलियों के दरमियान फासला ना हो_," (दुर्रे मुख्तार)*

*◆-७_औरतों के रुकू में अपने पांव बिल्कुल सीधे ना रखना चाहिए बल्कि घुटनों को आगे की तरफ जरा सा झुका कर खड़ा होना चाहिए _," (दुर्रे मुख्तार )*

*◆-८_मर्दों को हुक्म यह है कि रूकू में उनके बाजू पहलुओं से जुदा और तने हुए हों लेकिन औरतों को इस तरह खड़ा होना चाहिए कि उनके बाजू पहलुओं से मिले हुए हो _," ( ईज़ा)*

*◆-९_ औरतों को दोनों पांव मिला कर खड़ा होना चाहिए खासतौर पर दोनों टखने तक़रीबन मिल जानी चाहिए, पांव के दरमियान फासला ना होना चाहिए _," (बहिष्ती ज़ेवर )*

*◆-१०_ सजदे में जाते वक्त मर्दों के लिए यह तरीक़ा बयान किया गया है कि जब तक घुटने ज़मीन पर ना टिकें उस वक्त तक वह सीना ना झुकाएं लेकिन औरतों के लिए यह तरीक़ा नहीं है वह शुरू से ही सीना झुका कर सजदे में जा सकती है_,"*

*◆-११_ औरतों को सजदा इस तरह करना चाहिए कि उनका पेट रानों से बिल्कुल मिल जाए और बाजू भी पहलुओं से मिले हुए हों और औरतें पांव को खड़ा करने के बजाय उन्हें दाईं तरफ निकालकर बिछा दें _,"*

*◆-१२_मर्दों के लिए सजदे में कोहनियां जमीन पर रखना मना है लेकिन औरतों को कोहनियों समेत पूरी बांहें ज़मीन पर रख देनी चाहिए,( दुर्रे मुख्तार )*

*१३_ सजदों के दरमियान और अत्तहियात पढ़ने के लिए जब बैठना हों तो बाएं कूल्हे पर बैठे और दोनों पांव दाईं तरफ को निकाल ले और दाईं पिंड़ली पर रखें ( ताहतावी )*

*१४_ मर्दों के लिए हुक्म यह है कि वह रुकू में उंगलियां खोलकर रखने का एहतमाम करें और सजदे में बंद रखने का और नमाज़ के बाक़ी अफ'आल में उन्हें अपनी हालत पर छोड़ दें, ना बंद करने का अहतमाम करें ना खोलने का, लेकिन औरतों के लिए हर हालत में हुक्म यह है कि वह उंगलियों को बंद रखें, यानी उनके दरमियान फासला ना छोड़े, रुकू में भी, सजदे में भी, दोनो सजदों के दरमियान भी और का़अदे में भी ।*

*१५_ औरतों का जमात करना मकरूह है उनके लिए अकेली नमाज़ पढ़ना ही बेहतर है, अलबत्ता अगर घर के महरम अफराद घर में जमात कर रहे हों तो उनके साथ जमात में शामिल हो जाने में कुछ हर्ज नहीं लेकिन ऐसे में मर्दों के बिल्कुल पीछे खड़ा होना ज़रूरी है बराबर में हरगिज़ खड़ी ना हों ।*

*◆-📗 नमाज़ सुन्नत के मुताबिक पढ़िए, (मुफ्ती मोहम्मद तक़ी उस्मानी साहब ),*
╘═━┅━┅━┅━┅┅━┅┅━┅┅━┅━┅═╛   
      *✰_Haqq Ka Daayi Group_✰* http://www.haqqkadaayi.com
*Telegram*_ https://t.me/haqqKaDaayi 
      
*💕ʀєαd, ғσʟʟσɯ αɳd ғσʀɯαʀd 💕,*
╘═━┅━┅━┅━┅┅━┅┅━┅┅━┅━┅═╛
⚀     

Post a Comment

 
Top