0
✭﷽✭

                  *✿_سیرت النبی ﷺ_✿*
         *✭ SEERATUN NABI ﷺ.✭* 
             *✿_सीरतुन नबी ﷺ. _✿*
           *🌹صلى الله على محمدﷺ🌹*
            ▪•═════••════•▪                           
           *┱✿_: Huzoor Akram ﷺ Ka Pehla Umrah _,*

★_ Huzoor Akram ﷺ ne Masjide Nabvi ke Darwaze per Ahraam baandh liya tha ,Quresh ke Kuchh Logo ne jab Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ke Saath Hathiyar dekhe to Wo bokhla Kar Makka Muazzama pahunche aur Quresh ko bataya k Musalman Hathiyar le Aaye Hai'n...aur Unke Saath to ghudsawaar dasta bhi Hai , Quresh ye sun Kar bad hawaas hue aur Kehne lage :- Humne To Koi Esi Harkat nahi ki Jo us Mu'ahide ke khilaf ho , Balki hum Mu'ahide ke paaband Hai'n, Jab Tak Suleh naame ki muddat baqi hai hum uski Pabandi karenge ,Fir Aakhir Muhammad( ﷺ) kis buniyad per Humse Jung Karne Aaye Hai'n_"

★_ Aakhir Quresh ne Makraz bin Hafz ko Quresh ki jama'at ke Saath rawana Kiya , Unhone Aapse mulaqaat ki aur Kaha - Aap Hathiyar band ho Kar haram me dakhil Hona chahte Hai'n,Jabki Mu'ahida ye nahi hua tha _,"
Us per Aap ﷺ ne farmaya :- Hum Hathiyar le Kar Haram me dakhil nahi ho'nge , Mu'ahide ke tahat Sirf miyano me rakhi hui Talwaare Hamare Saath hongi ..baqi Hathiyar hum bahar Chhod Kar Jayenge _,"
Makraz ne Aap ﷺ ki Baat sun Kar itminan Ka izhaar Kiya aur Quresh ko ja Kar itminan dilaya ,

★_ Jab Huzoor Aqdasﷺ ke Makka Muazzama me dakhile Ka Waqt Aaya to Quresh ke bade bade Sardaar Makka Muazzama SE Nikal Kar Kahi'n chale gaye, Un logo ko Huzoor Aqdasﷺ SE bugz tha ,Dushmani thi ,Wo Makka Muazzama me Huzoor Aqdasﷺ ko Bardasht nahi Kar sakte they, isliye Nikal gaye, Aakhir Aap ﷺ aur Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum Makka Muazzama me dakhil hue , Huzoor Aqdasﷺ us Waqt Apni ountni Qaswa per sawaar they, Sahaba kiraam Aap ﷺ ke Daaye'n baaye'n Talwaare liye chal rahe they aur Sab - Labbek Allahumma Labbek " padh rahe they, Rawana hone se Pehle baqi Hathiyar Aap ﷺ ne Ek Jagah mehfooz Kara diye they, Wo Jagah Haram SE qareeb hi thi , Musalmano ki ek jama'at ko un Hathiyaro ki nigrani ke liye muqarrar Kiya gaya tha,

★_ Makka ke Mushriko ne Musalmano ko Bahut muddat baad dekha tha ..Wo Unhe Kamzor Kamzor SE lage to Aapas me Kehne lage:- Yasrib ke Bukhar ne Muhajireen ko Kamzor Kar diya hai _,"
Ye Baat Aap ﷺ tak Pahunchi to Hukm farmaya :- Allah Ta'ala us Shakhs per Rehmat farmayega Jo in Mushriko ko Apni Jismani Taaqat dikhayega _,"
Is buniyad per Aap ﷺ ne Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko hukm diya k Tawaaf ke Pehle Teen chakkaro me ramal kare Yani Akad Akad Kar aur Seena Taan kar chale aur Mushrikeen ko dikha de k hum Poori Tarah Taaqatwar Hai'n _,
Uske baad jab Musalmano ne Ramal shuru Kiya to Makka ke doosre Mushriko ne un Mushriko SE jinhone Musalmano ko Kamzor bataya tha ,Kaha - Tum to keh rahe they k Unhe Yasrib ke Bukhar ne Kamzor Kar diya hai, Halanki ye to Poori Tarah Taaqatwar Nazar aa rahe Hai'n _,"

★_ Us Waqt Aan Hazrat ﷺ ne Apni Chaadar is Tarah Apne Ouper daal rakhi thi k Daaya'n Kandha khula tha aur Uska pallu baaye'n Kandhe per tha , Chunache Tamaam Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne bhi ese hi Kar liya ,is Tarah Chaadar Lene ko iztiba'a Kehte Hai'n...
Aur Akad Kar chalne ki Ramal Kehte Hai'n..Ye islam me pehla iztiba'a aur pehla Ramal tha ..Ab Hajj Karne wale ho ya Umra Karne wale ,Unhe ye Dono Kaam Karne Hote Hai'n_,

★_ Nabi Kareem ﷺ Mu'ahide ke mutabiq teen din tak Makka Muazzama me thehre , Teen Din poore hone per Aap ﷺ ne Makka Muazzama SE bahar nikal Aaye ,Us dauraan Aap ﷺ ne Hazrat Maimuna binte Haaris Raziyllahu Anhu se Nikaah farmaya, Unka Pehla Naam Barrah tha , Huzoor Akram ﷺ ne Naam Tabdeel Kar Ke Maimuna rakha _,

*★_ हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का पहला उमरा _,*

★_ हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मस्जिदे नबवी के दरवाजे पर अहराम बांध लिया था , कुरेश के कुछ लोगों ने जब सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम के साथ हथियार देखें तो वह बौखला कर मक्का मुअज्जामा पहुंचे और कुरेश को बताया कि मुसलमान हथियार ले आए हैं और उनके साथ तो घुड़सवार दस्ते भी हैं। कुरेश यह सुनकर बदहवास हुए और कहने लगे - हमने तो कोई ऐसी हरकत नहीं की जो उस मुआहिदे के खिलाफ हो बल्कि हम मुआहिदे के पाबंद हैं जब तक सुलह नामे की मुद्दत बाकी है हम उसकी पाबंदी करेंगे फिर आखिर मोहम्मद (सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ) किस बुनियाद पर हम से जंग करने आए हैं _,"

★_ आखिर कुरेश ने मकरज़ बिन हफ्स को कुरेश की एक जमात के साथ रवाना किया, उन्होंने आपसे मुलाकात की और कहा - आप हथियारबंद होकर हरम में दाखिल होना चाहते हैं जबकि मुआहिदा यह नहीं हुआ था ," उस पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया-  "_ हम हथियार लेकर हरम में दाखिल नहीं होंगे , मुआहिदे के तहत सिर्फ मियानों में रखी हुई तलवारे हमारे साथ होगी बाकी हथियार हम बाहर छोड़कर जाएंगे _," 
मकरज़ ने आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की बात सुनकर इत्मिनान का इजहार किया और कुरेश को जाकर इत्मिनान दिलाया ।

★_ जब हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के मक्का मुअज्जमा में दाखिल होने का वक्त आया तो कुरेश के बड़े बड़े सरदार मक्का मुअज्जमा से निकलकर कहीं चले गए , उन लोगों को हुज़ूर अक़दस सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम से बुग्ज़ था दुश्मनी थी वह मक्का में मोहम्मद सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को बर्दाश्त नहीं कर सकते थे इसलिए निकल गए । आखिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम और सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम मक्का मुअज्जमा में दाखिल हुए, हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उस वक्त अपनी ऊंटनी क़सवा पर सवार थे, सहाबा किराम आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के दाएं बाएं तलवारे लिए चल रहे थे और सब "लब्बेक अल्लाहुम्मा लब्बेक" पढ़ रहे थे, रवाना होने से पहले बाकी हथियार आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने एक जगह महफूज करा दिए थे वह जगह हरम से करीब थी मुसलमानों की एक जमात को उन हथियारों की निगरानी के लिए मुकर्रर किया गया था ।

★_ मक्का के मुशरिकों ने मुसलमानों को बहुत मुद्दत बाद देखा था वह उन्हें कमजोर कमजोर से लगे तो आपस में कहने लगे - यसरिब के बुखार ने मुहाजिरीन को कमजोर कर दिया है _," यह बात आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम तक पहुंची तो हुक्म फरमाया - अल्लाह ताला उस शख्स पर रहमत फरमाएगा जो मुशरिकों को अपनी जिस्मानी ताक़त दिखाएगा _,"
इसी बुनियाद पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को हुक्म दिया कि तवाफ के पहले 3 चक्करों में रमल करें यानी अकड़ अकड़ का और सीना तान कर चले और मुशरिक को दिखा दे कि हम पूरी तरह ताकतवर है । 
उसके बाद जब मुसलमानों ने रमल शुरू किया तो मक्का के दूसरे मुशरिकों ने उन मुशरिको से जिन्होंने मुसलमानों को कमजोर बताया था कहा - तुम तो कह रहे थे उन्हें यसरिब के बुखार ने कमजोर कर दिया है हालांकि यह तो पूरी तरह ताकतवर नजर आ रहे हैं _,"

★_ उस वक्त आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपनी चादर इस तरह अपने ऊपर डाल रखी थी कि दाया कंधा खुला था और उसका पल्लू बाएं कंधे पर था , चुनांचे तमाम सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने ऐसे ही कर लिया , इस तरह चादर लेने को इज़तिबा कहते हैं और अकड़ कर चलने को रमल कहते हैं , यह इस्लाम में पहला इज़्तिबा और पहला रमल था , अब हज करने वाले हो या उमरा करने वाले उन्हें दोनों काम करने होते हैं ।

★_ नबी करीम सल्लल्लाहु अलेहि वसल्लम मुआहिदे के मुताबिक तीन दिन तक मक्का मुअज्जमा में रहे , तीन दिन पूरे होने पर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मक्का मुअज्जमा से बाहर निकल आए,  इस दौरान आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत मैमूना रज़ियल्लाहु अन्हा से निकाह फरमाया, उनका पहला नाम बराह था , हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने नाम तब्दील करके मैमुना रखा ।
 ╨─────────────────────❥
*★_ Mauta Ki Jung _,*

★_ Umre SE Faarig ho Kar Huzoor Nabi Kareem ﷺ Madina Munavvara pahunche to Ek Sangeen Waqia pesh Aa gaya, Aan Hazrat ﷺ ne Ek khat Rom ke Badshaah Hirakkal ke Naam bheja tha , Ye Khat hazrat Haaris bin Umer Azdi Raziyllahu Anhu le Kar rawana hue , Mauta ke Muqaam per pahunche to Sharjeel Gasaani ne Unhe rok liya ,Ye Sharjeel Qaisare Rom ki taraf se Shaam ke us ilaaqe Ka Badshaah tha , Sharjeel ne Hazrat Haaris bin Umer Raziyllahu Anhu se Puchha :- tum Kaha'n ja rahe ho ? Kya tum Muhammad( ﷺ) ke Qaasid me SE ho ?
Jawab me Unhone Kaha- Haa'n , Mai'n Muhammad ﷺ Ka Qaasid Hu'n _,"
Ye Sunte hi Sharjeel ne Unhe Rassiyo'n SE bandhwa diya aur Fir Unhe qatl Kar diya, Aan Hazrat ﷺ ke qaasido me SE ye Pehle Qaasid Hai'n Jinhe Shaheed Kiya gaya _,"

★_ Allah Ke Rasool ﷺ ko is waqie SE  Bahut Ranj hua ,Aapne Foran Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum Ka Ek Lashkar Taiyaar Kiya, Uski Tadaad Teen Hazaar thi , Huzoor Aqdasﷺ ne un logo ko Shahe Rom se Jung Karne Ka Hukm farmaya aur us Lashkar Ka Sipahsalaar Hazrat Zaid bin Haarisa Raziyllahu anhu ko muqarrar farmaya , Jab Ye Lashkar kooch Karne Ke liye Taiyaar ho gaya to Huzoor Akram ﷺ ne irshad farmaya :- 
"_ Agar Zaid bin Haarisa Shaheed ho Jaye to Unki Jagah Jaafar bin Abi Taalib Lashkar ke Ameer honge ,Agar Jaafar bin Abi Taalib bhi Shaheed ho Jaye to Abdullah bin Rawaha unki Jagah lenge aur Agar Abdullah bin Rawaha bhi Shaheed ho Jaye to Musalman Jis per Raazi Ho'n, use Apna Ameer Bana Le'n _,"

★_ Jab Aap ﷺ ne ye hidayat farmayi, Us Waqt ek Yahoodi Shakhs bhi waha'n mojood tha aur Ye Sab Sun raha tha, Usne Kaha - Agar ye waqa'i Nabi Hai'n to Mai'n qasam kha Kar Kehta Hu'n k Jin logo ke Naam inhone liye Hai'n Wo Sab Shaheed ho Jayenge _,"
Ye Baat Hazrat Zaid bin Haarisa Raziyllahu Anhu ne sun li to bole - Mai'n Gawaahi deta Hu'n k Aan Hazrat ﷺ Sachche Nabi Hai'n _,"

★_ Aap ﷺ ne Ek Safed Rang Ka Parcham Taiyaar Kiya aur Zaid bin Haarisa Raziyllahu Anhu ko de diya, Fir Aap ﷺ ne Mujahideen ko Nasihat farmayi - 
"_ Jaha'n Haaris bin Umer ko qatl Kiya gaya hai ,Jab Tum waha'n pahuncho to Pehle un logo ko Islam ki Dawat dena , Wo Dawat qubool Kar Le'n to Theek ,Varna Allah Ta'ala se unke muqable me madad maangna aur unse Jung Karna _,"
Lashkar ko rawana Karte Waqt Musalmano ne Kaha:- Allah Tumhara Saathi ho ,Tumhari madad farmaye aur tum logo ko Khayr aur Khushi ke Saath Hamare darmiyaan waapas laye _,"

★_ Jab ye Lashkar rawana hua to Aap ﷺ Sanyatal Vida ke Muqaam tak Unhe rukhsat Karne Ke liye Saath chale , Waha'n pahunch Kar Unhe Nasihat ki :- Mai'n tumhe Allah SE darte rehne ki Nasihat karta Hu'n ,Tumhare Saath jo Musalman Hai'n,Un Sabke liye Aafiyat maangta Hu'n , Allah Ka Naam le Kar Aage bado, Allah Ke aur Apne Dushmano SE Shaam ki sarzameen me ja Kar Jung Karo ... waha'n tumhe ibaadatgaaho aur Khaanqaho me rehne Wale ese log milenge Jo Duniya se Kat gaye Hai'n,Unse na ulajhna ,Kisi Aurat per Kisi Bachche per Talwaar mat uthana ,na Darakhto ko kaatna aur na imaarto ko mismaar karna _,"
Aam Musalmano ne bhi Unhe rukhsat Hote hue Kaha - Allah Tumhari Hifazat farmaye aur tumhe maale ganimat ke Saath waapas laye _,"

★_ In Duao'n ke Saath Lashkar rawana hua aur Shaam Ki Sarzameen me pahunch Kar Padaav daala, Us Waqt Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko Maloom hua k Rom Ka Badshaah Shahanshahe Hiraqqal Do Laakh foj ke saath  unke muqable ke liye Taiyaar hai ,Iske alawa Arab  ke Nasraani Qaba'il bhi chaaro taraf se aa Kar Hiraqqal ki Fauj e shamil ho gaye Hai'n aur Unki tadaad bhi Ek Laakh ke qareeb hai ,is Tarah Lashkar ki tadaad Teen Laakh tak ja Pahunchi thi , Unke paas beshumaar ghode , Hathiyar aur Saazo Samaan bhi tha ,Uske muqable me Musalmano ki Kul Tadaad Sirf Teen Hazaar thi aur Unke paas Saazo Samaan bhi bara'e Naam tha ,

★_ Ye Tafsilaat Maloom hone  per islami Lashkar wahi'n ruk gaya ,Do Raat tak Unhone waha'n qayaam Kiya aur Aapas me mashwara Kiya, Kyunki itni badi tadaad wale Dushman se sirf teen Hazaar Aadmiyo'n ke muqabla karne ke bare me socha bhi nahi ja Sakta tha , Qudrati Baat hai k Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum Ajmaien ye sun Kar Pareshan hue they, Kisi ne mashwara diya :- 
"_ Hume Chahiye Yaha'n Ruk Kar Rasulullah ﷺ ko ittela de'n Taki Hume Pichhe ya Waapsi Ka Hukm farmaye'n _," 
Is per Hazrat Abdullah bin Rawaha Raziyllahu Anhu ne purjosh lehje me Kaha :- 
"_ Logo ! Tum usi Maqsad SE Jaan bacha rahe ho Jiske liye Watan SE nikle ho ,Tum Shahadat ki Talash me nikle they ,Hum Dushman SE na to tadaad ke bal per ladte Hai'n aur na Taaqat ke bal per, Hum to Sirf Deen ke liye ladte Hai'n, Deen ke zariye hi Allah Ta'ala ne Hume sarfaraaz farmaya hai ,Ab ya Hume Fateh hogi ya Shahadat Naseeb hogi _,"

★_ Ye Purjosh Alfaz sun Kar Sahaba kiraam bol uthe:- Allah ki qasam ! Ibne Rawaha ne bilkul Theek Kaha _", Chunache Uske baad Lashkar Aage rawana hua aur Yaha'n tak k Mauta ke Muqaam per pahunch gaye, Usi Muqaam per Romi Lashkar bhi Musalmano ke Saamne aa gaya, Hazrat Zaid bin Haarisa Raziyllahu Anhu ne Rasulullah ﷺ Ka parcham Haath me liya aur Dushman ki taraf bade ,Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum unki qayadat me Romi Lashkar per hamla aawar hue , Musalmano ne Zabardast hamla Kiya tha , Udhar Romi bhi Aakhir Teen Laakh they ,Unhone bhi bharpoor Hamla Kiya , Talwaaro SE Talwaare takrane lagi ,Neze AUR Teer chalne lage , Zakhmiyo ki Awaaze Buland hone lagi ,Ghodo ke hinhinane aur Ounto'n ke bilbilane ki Awaaze goonjne lagi .. is Haalat me Zaid bin Haarisa Raziyllahu Anhu Parcham uthaye Jung Kar rahe they ,Un per Josh ki ek naqabile Bayan Kaifiyat taari thi ..unke Haatho kitnne hi Romi Jahaanam Raseed hue .. Aakhir wo ladte ladte Shaheed ho gaye ,

★_ Us Waqt Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ne Parcham le liya ,Wo Apne Surkh Rang ke ghode per sawaar they, Ab Musalman unki qayadat me Jung Karne lage ,Unhone is qadar Shadeed Jung ki k Bayan SE bahar hai ,Ladte Ladte unka Ek Baazu kat gaya , Unhone parcham Baaye Haath me Pakad liya, Kuchh hi der baad Kisi ne unke Baaye Baazu per waar Kiya aur Wo bhi kat gaya, Unhone parcham ko Apni goad ke sahare sambhaale rakha aur usi Haalat me Shahadat Ka Jaam nosh farmaya ,

★_ Us Waqt Hazrat Abdullah bin Rawaha Raziyllahu Anhu aage Aaye aur parcham uthaya , Unhone Ghode ke Bajaye Paidal Jung Karna munasib Jana aur Dushmano se muqabla shuru Kar diya, Unhone bhi Bahut dileri se Jung ki Yaha'n tak k Shaheed ho gaye, Ab Musalman aur Iysaai Ek doosre ki safo me ghus chuke they... Dushmano ki tadaad Chunki Bahut zyada thi aur Musalman Sirf 3 Hazaar they ...Lihaza unki tadaad ko is tadaad SE koi nisbat hi nahi thi ,isliye in Halaat me Baaz Musalmano ne Paspayi Akhtyar Karne Ka iraada Kiya ..Lekin us Waqt Hazrat Uqba bin Aamir Raziyllahu Anhu pukaare :- Logo ! Agar insaan Seene per zakhm kha Kar Shaheed ho to ye usse behtar Hai k Peeth per zakhm kha Kar mare _,"

★_ Ese me Hazrat Saabit bin Arqam Raziyllahu Anhu ne Aage bad Kar gira hua parcham utha liya aur Buland Awaaz me bole :- Musalmano ! Apne me SE Kisi Ko Ameer bana lo ..Taki Parcham use diya ja sake _," Bahut SE Sahaba pukaar uthe - Aap hi Theek Hai'n _,"
Ye sun Kar wo bole - Lekin Mai'n Khud Ko is qabil Nahi samajhta _," in Halaat me Sabki Nazre Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu per padi ..Sabne Unhe Ameer banane per ittefaaq Kar liya ,

★_ Ye bhi Kaha jata hai k Khud Hazrat Saabit bin Arqam Raziyllahu Anhu ne hi parcham unke hawale Kiya tha aur Kaha tha - Jung ke Usool aur Fun Aap mujhse zyada jaante Hai'n _,"
Is per Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu bole - Nahi mere muqable me Aap is Parcham ke zyada Haqdaar Hai'n, Kyunki Aap un logo me SE Hai'n Jo Gazwa Badar me Shareek ho chuke Hai'n _,"

★_ Aakhir Sabka ittefaaq Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu per ho gaya, Ab Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu ki qayadat me Jung shuru hui,

*★_ मौता की जंग _,*

★_उमरे से फारिग होकर हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मदीना मुनव्वरा पहुंचे तो एक संगीन वाकि़या पेश आ गया, आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने एक खत रोम के बादशाह हिरक्कल के नाम भेजा था यह खत हजरत हारिस बिन उमैर अज़दी रज़ियल्लाहु अन्हु लेकर रवाना हुए । मौता के मुकाम पर पहुंचे तो शरजील गसानी ने उन्हें रोक लिया ,यह शरजील कैसरे रोम की तरफ से शाम के उस इलाके का बादशाह था, शरजील ने हजरत हारिस बिन उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु से पूछा - तुम कहां जा रहे हो ,क्या तुम मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के कासिद में से हो?,
 जवाब में उन्होंने कहा- हां मैं मोहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का कासिद हूं , यह सुनते ही शरजील ने उन्हें रस्सियों से बंधवा दिया और फिर उन्हें कत्ल कर दिया ।आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्ल्म के कासिदों में से यह पहले काशिद हैं जिन्हें शहीद किया गया।

★_ अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को इस वाक़िए से बहुत रंज हुआ, आपने फौरन सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम का एक लश्कर तैयार किया ,इसकी तादाद 3000 थी, हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन लोगों को शाहे रोम से जंग करने का हुक्म फरमाया और उस लश्कर का सिपहसालार हज़रत ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु को मुकर्रर फरमाया ।जब यह लश्कर कूच करने के लिए तैयार हो गया तो हुजूर सल्लल्लाहु वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- 
"_ अगर ज़ैद बिन हारिसा शहीद हो जाए तो उनकी जगह जाफर बिन अबी तालिब लश्कर के अमीर होंगे अगर जाफर बिन अबी तालिब भी शहीद हो जाएं तो अब्दुल्लाह बिन रवाहा उनकी जगह लेंगे और अगर अब्दुल्लाह भी रवाहा भी शहीद हो जाएं तो मुसलमान जिस पर राज़ी हो उसे अपना अमीर बना लें _,"

★_ जब आप सल्लल्लाहो सल्लम ने यह हिदायत फरमाई उस वक्त एक यहूदी शख्स भी वहां मौजूद था और यह सब सुन रहा था उसने कहा -अगर यह वाक़ई नबी है तो मैं कसम खाकर कहता हूं कि जिन लोगों के नाम इन्होंने लिए हैं वह सब शहीद हो जाएंगे _,"
यह बात हजरत ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु ने सुन ली तो बोले :- मैं गवाही देता हूं कि आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम सच्चे नबी हैं _,"

★_ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने एक सफेद रंग का परचम तैयार किया और ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु को दे दिया फिर आपने मुजाहिदीन को नसीहत फरमाई :- "_जहां हारिस बिन उमैर को कत्ल किया गया है जब तुम वहां पहुंचो तो पहले उन लोगों को इस्लाम की दावत देना वह दावत कुबूल करलें तो ठीक, वरना अल्लाह ताला से उनके मुकाबले में मदद मांगना और उनसे जंग करना _,"
लश्कर को रवाना करते वक्त मुसलमानों ने कहा -अल्लाह ताला तुम्हारा साथी हो तुम्हारी मदद फरमाए और तुम लोगों को खैर और खुशी के साथ हमारे दरमियान वापस लाएं _,"

★_ जब यह लश्कर रवाना हुआ तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम सनयतुल विदा के मुकाम तक उन्हें रुखसत करने के लिए साथ चले , वहां पहुंचकर उन्हें नसीहत की :-"_ मैं तुम्हें अल्लाह से डरते रहने की नसीहत करता हूं तुम्हारे साथ जो मुसलमान है उन सब के लिए आफियत मांगता हूं ,अल्लाह का नाम लेकर आगे बढ़ो ,अल्लाह के और अपने दुश्मनों से शाम की सर ज़मीन में जाकर जंग करो.. वहां तुम्हें इबादतगाहों और खानकाहों में रहने वाले ऐसे लोग मिलेंगे जो दुनिया से कट गए हैं उनसे ना उलझना ,किसी औरत पर किसी बच्चे पर तलवार मत उठाना, ना दरख्तों को काटना और ना ही इमारतों को मिसमार करना _,"
आम मुसलमानों ने भी उन्हें रुखसत होते हुए कहा -अल्लाह तुम्हारी हिफाज़त फरमाए और तुम्हें माले गनीमत के साथ वापस लाएं_,"

★_ इन दुआओं के साथ लश्कर रवाना हुआ और शाम की सर ज़मीन में पहुंचकर पड़ाव डाला, इस वक्त सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को मालूम हुआ कि रोम का बादशाह शहंशाह ए हिरक्कल 2 लाख फौज के साथ उनके मुकाबले के लिए तैयार हैं उसके अलावा अरब के नसरानी क़बाइल चारों तरफ से आकर हिरक्कल की फौज में शामिल हो गए हैं और उनकी तादाद भी एक लाख के करीब है, इस तरह लश्कर की तादाद 3 लाख तक जा पहुंची थी , उनके पास बेशुमार घोड़े हथियार और साजो सामान भी था,  इसके मुकाबले में मुसलमानों की कुल तादाद सिर्फ तीन हजार थी और उनके पास साजो सामान भी बराये नाम था।

★_ यह तपसीलात मालूम होने पर इस्लामी लश्कर वहीं रुक गया 2 रात तक उन्होंने वहां क़याम किया और आपस में मशवरा किया क्योंकि उनकी इतनी बड़ी तादाद वाले दुश्मन से सिर्फ 3 हज़ार आदमियों के मुकाबला करने के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता था ,कुदरती बात है कि सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम यह सुनकर परेशान हुए थे । किसी ने मशवरा दिया :- हमें चाहिए यहां रुक कर रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को इत्तेला दें ताकि  हमें कहला भेजें या वापसी का हुक्म फरमाएं _,"
उस पर हजरत अब्दुल्लाह बिन रवाहा रज़ियल्लाहु अन्हु ने पुरजोश लहजे में कहा :- लोगों तुम उसी मक़सद से जान बचा रहे हैं जिसके लिए वतन से निकले हो हम शहादत की तलाश में निकले थे , हम दुश्मनों से ना तो तादाद के बल पर लड़ते हैं और ना ताकत के बल पर ,हम तो सिर्फ दीन के लिए लड़ते हैं दीन के ज़रिए ही अल्लाह ताला ने हमें सरफराज़ फरमाया है अब या हमें फतेह होगी या शहादत नसीब होगी_,"

★_ यह पुरजोश अल्फाज़ सुनकर सहाबा किराम बोल उठे- अल्लाह की क़सम ! इब्ने रवाहा ने बिल्कुल ठीक कहा _," चुनांचे उसके बाद लश्कर आगे रवाना हुआ और यहां तक कि मौता के मकाम पर पहुंच गए उसी मुकाम पर रोमी लश्कर भी मुसलमानों के सामने आ गया, हजरत ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु ने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का परचम हाथ में लिया और दुश्मन की तरफ बढ़े ,सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम उनकी क़यादत में रोमी लश्कर पर हमलावर हुए, मुसलमानों में जबरदस्त हमला किया था, उधर रोमी भी तीन लाख थे उन्होंने भी भरपूर हमला किया ,तलवारों से तलवारें टकराने लगी, नेज़े और तीर चलने लगे जख्मियों की आवाजें बुलंद होने लगी घोड़ो के हिनहिनाने ऊंटों के बिलबिलाने की आवाजें गूंजने लगी.. इस हालत में ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु परचम उठाएं जंग कर रहे थे और मुसलसल आगे बढ़ रहे थे उन पर जोश की एक ना काबिले बयान कैफियत तारी थी.. उनके हाथों कितने ही रोमी जहन्नम रसीद हुए.. आखिर वह लड़ते लड़ते शहीद हो गये ।

★_ उसी वक्त हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु ने परचम ले लिया, यह अपने सुर्ख रंग के घोड़े पर सवार थे अब मुसलमान उनकी क़यादत में जंग करने लगे, उन्होंने इस क़दर शदीद जंग की के बयान से बाहर है ,लड़ते-लड़ते उनका एक बाजू कट गया उन्होंने परचम बाएं हाथ में पकड़ लिया कुछ ही देर बाद किसी ने उनके बाएं बाजू पर वार किया और वह भी कट गया उन्होंने परचम को अपनी गौद के सहारे संभाले रखा और इसी हालत में शहादत का जाम नौश फरमाया ।

★_ उस वक्त हजरत अब्दुल्लाह बिन रवाहा रज़ियल्लाहु अन्हु आगे आए और परचम उठाया उन्होंने घोड़े के बजाय पैदल जंग करना मुनासिब जाना और दुश्मनों से मुकाबला शुरू कर दिया उन्होंने बहुत दिलेरी से जंग की यहां तक कि शहीद हो गए ,अब मुसलमान और ईसाई एक दूसरे की सफों में घुस चुके थे और जंग घमासान की हो रही थी, दुश्मनों की तादाद चूंकि बहुत ज्यादा थी और मुसलमान सिर्फ तीन हजार थे ..लिहाजा उनकी तादाद को इस तादाद से कोई निसबत ही नहीं थी इसलिए इन हालात में बाज़ मुसलमानों ने पसपाई अख्त्यार करने का इरादा किया लेकिन उस वक्त हजरत उक़बा बिन आमिर रज़ियल्लाहु अन्हु पुकारे - लोगों अगर इंसान सीने पर जख्म खा कर शहीद हो तो इससे बेहतर है की पीठ पर जख्म खाकर मरे _,"

★_ ऐसे में हजरत साबित बिन अरकम रज़ियल्लाहु अन्हु ने आगे बढ़कर गिरा हुआ परचम उठा लिया और बुलंद आवाज से बोले - मुसलमानों अपने में से किसी को अमीर बना लो ताकि परचम उसे दिया जा सके _," बहुत से सहाबा पुकार उठे- आप ही ठीक हैं _," यह सुनकर वह बोले- लेकिन मैं खुद को इस काबिल नहीं समझता _,"
इन हालात में सबकी नजरें खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु पर पड़ी.. सबने उन्हें अमीर बनाने पर इत्तेफाक कर लिया ।

★_ यह भी कहा जाता है कि खुद हजरत साबित बिन अरकम रज़ियल्लाहु अन्हु ने ही परचम उनके हवाले किया था और कहा था-  जंग के उसूल और फन आप मुझसे ज्यादा जानते हैं _," इस पर हजरत खालिद बिन वालीद रज़ियल्लाहु अन्हु बोले - नहीं मेरे मुकाबले में आप इस परचम के ज्यादा हकदार हैं क्योंकि आप उन लोगों में से हैं जो गज़वा बदर में शरीक हो चुके हैं _,"

★_ आखिर सबका इत्तेफाक हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु पर हो गया, अब हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु की क़यादत में जंग शुरू हुई ।

 ╨─────────────────────❥
*★_ Allah Ki Talwaar _,*

★_ Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu ne Parcham sambhalte hi Dushman per Zabardast hamla Kiya, Is Tarah Jung Ka paasa Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ke haq me palat gaya ,is Tarah Musalmano Ka roab chha gaya aur Dushman Mazzed ladayi SE katrane lage , Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne baahami mashware SE is had tak Kamyaabi haasil Karne Ke baad Waapsi Akhtyar ki ,
Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu ne Fauj Ka Ameer bante hi Lashkar Ka agla hissa Pichhe Kar diya aur Pichhe hisse ko aage le Aaye ,isi Tarah Daaye hisse ko baaye jaanib SE le Aaye,is Tarah Unhone poore Lashkar ki Tarteeb badal Kar rakh di ,
Jab Romiyo SE aamna Saamna hua to unhe har taraf Naye log Nazar Aaye ,is Tarah Unhone khayal Kiya k Musalmano ko kumak (Madad ke liye Fauj ) pahunch gayi hai ,

★_ Ye Jung musalsal 7 din tak jaari rahi thi ,imaam Bukhari Reh. ne Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu se rivayat ki hai k Jung Mauta ke moqe per unke haath se 9 talwaare tooti ,Sirf Ek Yamani Talwaar baqi reh gayi Thi,Jo Aakhir tak Aapke Haath me rahi ,

★_ Udhar mauta ke Muqaam per ye Jung ho rahi thi aur idhar Madina Munavvara me Kya ho raha tha ? Waha'n Ka manzar ye tha k Allah Ta'ala ne Aan Hazrat ﷺ ko Saara haal bata diya ,Aap ﷺ ne Sahaba kiraam ko Jung ki khabre sunane ke liye Masjide Nabvi me bulaya aur Khud mimbar per Tashreef farma hue ,us Waqt Aap ﷺ ki Aankho'n me Aa'nsu they ...Aapne batana shuru Kiya :- 
"_ Logo Khayr Ka Darwaza..khyr Ka Darwaza..Khyr Ka Darwaza khul gaya hai , Mai'n tumhe Tumhare Lashkar ke bare me batata Hu'n , Wo log Yaha'n se rukhsat ho Kar chale gaye, Yaha'n tak k Dushman SE unki mutbhed ho gayi aur Zaid bin Haarisa Shaheed ho gaye, Unke liye Magfirat ki Dua maango , Fir Jaafar ne Parcham liya aur badi Saabit qadmi SE lade Yaha'n tak k wo bhi Shaheed ho gaye, Unke liye bhi Magfirat ki Dua Karo , Fir Abdullah bin Rawaha ne Parcham uthaya aur Wo bhi Shaheed ho gaye, Fir Khalid bin Waleed ne Parcham utha liya, Wo Lashkar ke Ameer nahi they ,Wo khud Apni Zaat ke Ameer they ..Magar Wo Allah ki talwaaro me SE ek Talwaar Hai'n,isliye Allah ki madad Taiyaar hai , Allah Ta'ala ne us Talwaar ko kaafiro per so'nt diya hai ,Allah Ta'ala ne Dushman per Fateh Naseeb farmayi _,"

★_ Uske baad Huzoor Akram ﷺ ne Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu ke bare me Dua farmayi :- Ey Allah ! Wo Teri Talwaaro me se ek Talwaar hai ,Tu uski madad farma _," Usi din SE Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu ko Saifullah Kaha Jane laga _,

★_ Hazrat Asma bint Umes Raziyllahu Anha Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ki Bivi thi, Jis Roz Us Ladayi me Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu aur Unke Saathi Shaheed hue,Nabi Kareem ﷺ unke Ghar Tashreef laye aur Farmaya :- Jaafar ke Bachcho ko mere paas Lao _," Hazrat Asma Raziyllahu Anha Bachcho ko Aapke pass le aayi , Huzoor Akram ﷺ Unhe pyaar Karne lage aur Saath me rote bhi rahe Yaha'n tak k Huzoor Akram ﷺ ki Daadhi mubarak Aansuo'n SE tar ho gayi ,

★_ Hazrat Asma Raziyllahu Anha ko Hairat hui,poochhne lagi :- Allah Ke Rasool ! Aap per mere Maa'n Baap qurban ! Aap Kyu'n ro rahe Hai'n , Kya Jaafar aur Unke Saathiyo'n ke bare me koi khabar aayi hai ?
Jawab me Huzoor Akram ﷺ ne farmaya :- Haa'n ! Wo aur Unke Saathi Aaj hi Shaheed hue Hai'n _,"
Wo Ek dam Khadi ho gayi'n aur rone lagi ,

★_ Yaha'n ye Baat Qabile gor hai k us Waqt Jaafar aur Unke Saathi Madina Munavvara SE Bahut Faasle per Mulk Shaam me lad rahe they aur waha'n SE Kisi Tarah bhi Khabar Aane Ka koi zariya nahi tha ,Ab Zaahir hai ,Allah Ta'ala ne ba zariye Wahi khabar Huzoor Akram ﷺ ko di thi , Aapne Hazrat Asma ko buland Awaaz SE rote dekha to farmaya :- Ey Asma ! Na Been (Noha) Karna Jaa'iz hai aur na Rona Peetna Chahiye _,"
Jald hi waha'n Aurte'n Jama ho gayi , Wo bhi ye khabar Sun kar rone lagi,Noha AUR Maatam Karne lagi ,Kisi ne Huzoor Akram ﷺ ko aa Kar bataya :- Aurte'n Bahut Maatam aur Noha Kar rahi Hai'n _,"
Aap ﷺ ne unse irshad farmaya :- Jaa Kar Unhe Khamosh Karo _,"
Wo gaye aur Jald hi waapas aa Kar bole :- Allah Ke Rasool ! Wo Khamosh nahi ho rahi _,"
Huzoor Akram ﷺ ne irshad farmaya:- Jaao ! Unhe Khamosh Karne ki Koshish Karo aur agar na maane to unke moonh me Mitti Fai'nko _,"

★_ Uske baad Aap ﷺ ne Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ke Bachcho ke bare me Dua farmayi :- Ey Allah ! Jaafar Behatreen Sawaab ke Haqdaar ho gaye Hai'n ,Tu unki Aulaad Ko unka Behatreen Jaa'naaheen bana _,"
Uske baad Aap ﷺ waha'n se waapas Tashreef laye aur Apne Ghar Walo Se farmaya :- Jaafar Ki Bivi Bachcho SE gaafil na ho Jana ,Aaj Wo Bahut gamgeen Hai'n ,Unke liye Khana Taiyaar Kar Ke bhejo _,"

★_ Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ke bare me Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Allah Ta'ala ne Jaafar ke Dono baazu'o ki Jagah per Do Par laga diye Hai'n Wo unke zariye Jannat me udte Firte Hai'n _,"

★_ Hazrat Abdullah bin Umar Raziyllahu Anhu Kehte Hai'n k Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ki laash per unke Seene aur Mondho'n ke darmiyaan hisse me 90 zakhm aaye they ,Ye Talwaar aur Neze ke they ,
Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu us Roz they bhi Roze SE , Hazrat Abdullah bin Umar Raziyllahu Anhu Kehte Hai'n k Mai'n Hazrat Jaafar ke paas Shaam ke Waqt pahuncha ,Wo Maidane Jung me Zakhmo SE choor pade they , Maine Unhe Paani pesh Kiya to unhone farmaya :- 
"_ Mai'n Roze SE Hu'n ,Tum ye Paani mere moonh ke paas rakh do ,Agar Mai'n Suraj Guroob hone tak zinda raha to is Paani SE Roza Aftaar Kar lunga _,"
Hazrat ibne Umar Raziyllahu Anhu farmate hai'n k Suraj Guroob hone se Pehle Wo Shaheed ho gaye ,

★_ Hazrat Abdullah bin Umar Raziyllahu Anhu se rivayat hai ,Ek martaba hum Rasulullah ﷺ ke Saath they , Achanak Aap ﷺ ne Aasmaan ki taraf moonh uthaya aur Wa Alaikum Assalam wa rahmatullah farmaya ,logo ne arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Ye Aapne kyu farmaya ?
Jawab me irshad farmaya :- Abhi mere paas se Jaafar ibne Abi Taalib Farishto ke Jamghat me guzre Hai'n, Unhone mujhe Salam Kiya tha _,"

★_ Gazwa Mauta SE Waapas Aane Wala Lashkar jab Madina Munavvara ke qareeb pahuncha ,To Wahi'n aa Kar Allah Ke Rasool aur Musalmano ne unse mulaqaat ki , Shehar me Bachcho ne Ash'aar GA Kar Unhe Khush Aamdeed Kaha ,Us Waqt Aap ﷺ Apni Sawaari per Tashreef la rahe they, Un Bachcho ko dekh Kar farmaya :- Inhe utha Kar Sawariyo'n per bitha lo aur Jaafar ke Bachcho ko mere Pichhe bitha do _,"
Chunache esa hi kiya gaya aur is Tarah Ye Lashkar Madina Munavvara me dakhil hua ,Teen Laakh Dushmano ke muqable me Sirf Teen Hazaar Sahaba Ka muqabla Karna aur Unke beshumaar logo ko qatl Kar Ke Lashkar Ka Sahi salamat waapas Madina Munavvara lot Aana Ek bahut badi Kamyaabi thi ..is Bahut badi Kamyaabi per Jis qadar bhi Khushi Mehsoos ki Jati thi Kam thi ,

*★_अल्लाह की तलवार _,*

★_ हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु ने परचम संभालते ही दुश्मन पर जबरदस्त हमला किया इस तरह जंग का पासा सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम के हक़ में पलट गया ,इस तरह मुसलमानों का रौब छा गया और दुश्मन मज़ीद लड़ाई से कतराने लगे ,सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने बाहमी मशवरे से इस हद तक कामयाबी हासिल करने के बाद वापसी अख्तियार की, हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु ने फ़ौज का अमीर बनते ही लश्कर का अगला हिस्सा पीछे कर दिया और पिछले हिस्से को आगे ले आए, इसी तरह दाएं हिस्से को बाएं जानिब और बाएं को दाएं जानिब ले आए, इस तरह उन्होंने पूरे लश्कर की तरतीब बदलकर रख दी। 
जब रोमियो से आमना सामना हुआ तो उन्हें हर तरफ नए लोग नजर आए इस तरह उन्होंने ख्याल किया कि मुसलमानों को कुमक ( मदद को फौज) पहुंच गई है ।

★_ यह जंग मुसलसल 7 दिन तक जारी रही थी, इमाम बुखारी रहमतुल्लाहि अलैहि ने हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु से रिवायत की है कि जंगे मौता के मौक़े पर उनके हाथों से नौ तलवारें टूटी सिर्फ एक यमनी तलवार बाक़ी रह गई थी जो आखिर तक आपके हाथ में रही _,

★_इधर मौता के मुकाम पर जंग हो रही थी और उधर मदीना मुनव्वरा में क्या हो रहा था ? वहां का मंजर यह था कि अल्लाह ताला ने आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को सारा हाल बता दिया ,आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने सहाबा किराम को जंग की खबरें सुनाने के लिए मस्जिद-ए-नबवी में बुलाया और खुद मिंबर पर तशरीफ फरमा हुए, उस वक्त आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की आंखों में आंसू थे ..आपने बताना शुरू किया :- 
"_ लोगों खैर का दरवाज़ा... खैर का दरवाज़ा.. खैर का दरवाज़ा खुल गया है, मैं तुम्हें तुम्हारे लश्कर के बारे में बताता हूं उन गाज़ियों के बारे में बताता हूं , वह लोग वहां से रुखसत हो कर चले  गए यहां तक कि दुश्मन से उनकी मुठभेड़ हो गई और ज़ैद बिन हारीसा शहीद हो गए, उनके लिए मग्फिरत की दुआ मांगो , फिर जाफर ने परचम लिया और बड़ी साबित कदमी से लड़े यहां तक कि वह भी शहीद हो गए उनके लिए भी मगफिरत की दुआ करो, फिर अब्दुल्लाह बिन रवाहा ने परचम उठाया और वह भी शहीद हो गए,  फिर खालिद बिन वलीद ने परचम उठाया, वह लश्कर के अमीर नहीं थे वह खुद अपनी जा़त के अमीर थे.. मगर वह अल्लाह की तलवारों में से एक तलवार हैं इसलिए अल्लाह की मदद तैयार है अल्लाह ताला ने उस तलवार को काफिरों पर सौंत दिया है अल्लाह ताला ने दुश्मन पर फतह नसीब फरमाई _,"

★_ इसके बाद हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु के बारे में दुआ फरमाई :- ऐ अल्लाह ! वो तेरी तलवारों में से एक तलवार है तू उसकी मदद फरमा _,"
उसी दिन से हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु को सैफुल्लाह कहा जाने लगा ।

★_ हसरत असमा बिन्त उमेस रज़ियल्लाहु अन्हा हजरत जाफर रजियल्लाहु अन्हु की बीवी थी । जिस रोज उस ( मोता की ) लड़ाई में हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु और उनके साथी शहीद हुए नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम उनके घर तशरीफ लाए और फरमाया :-  जाफर के बच्चों को मेरे पास लाओ _,"
हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा बच्चों को आपके पास ले आई, हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उन्हें प्यार करने लगे और साथ में रोते भी रहे यहां तक की आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की ढाड़ी मुबारक आंसुओं से तर हो गई ।

हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा को हैरत हुई पूछने लगी :- अल्लाह के रसूल ! आप पर मेरे मां-बाप कुर्बान , आप क्यों रो रहे हैं क्या जाफर और उनके साथियों के बारे में कोई खबर आई है ? जवाब में हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया - हां ! वह और उनके साथी आज ही शहीद हुए हैं _,"
वो एकदम खड़ी हो गई और रोने लगीं ।

★_ यहां यह बात काबिले गौर है कि उस वक्त हजरत जाफर और उनके साथी मदीना मुनव्वरा से बहुत फासले पर मुल्के शाम में लड़ रहे थे और वहां से किसी तरह भी खबर आने का कोई ज़रिया नहीं था, अब ज़ाहिर है अल्लाह ताला ने बा ज़रिया वही खबर हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को दी थी। 
आपने हजरत असमा को बुलंद आवाज से रोते देखा तो फरमाया :- ऐ असमा ,ना बीन ( नौहा ) करना चाहिए और ना रोना पीटना चाहिए _," 
जल्द ही वहां औरतें जमा हो गई.. वह भी यह खबर सुनकर रोने लगीं, नोहा और मातम करने लगी , किसी ने हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को आ कर बताया :- औरतें बहुत मातम और नौहा कर रही है _,"
आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनसे इरशाद फरमाया - जाकर उन्हें खामोश करो _,"
वह गएं और जल्दी वापस आकर बोले :- अल्लाह के रसूल ! वह खामोश नहीं हो रही हैं _,"
हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-  जाओ उन्हें खामोश करने की कोशिश करो और अगर ना माने तो उनके मुंह में मिट्टी फैंको _,"

★_ उसके बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु के बच्चों के बारे में दुआ फरमाई :- ऐ अल्लाह ! जाफर बेहतरीन सवाब के हकदार हो गए हैं तू उनकी औलाद को उनका बेहतरीन जांनशीन बना _,"
उसके बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम वहां से वापस तशरीफ लाएं और अपने घर वालों से फरमाया :- जाफर के बीवी बच्चों से गाफिल ना हो जाना आज वह बहुत गमगीन हैं, उनके लिए खाना तैयार करके भेजो _,"

★_ जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु के बारे में आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- अल्लाह ताला ने जाफर के दोनों बाजुओं की जगह पर दो पर लगा दिए हैं वह उनके ज़रिए जन्नत में उड़ते फिरते हैं _,"

★_ हजरत अब्दुल्लाह बिन‌ उमर रजियल्लाहु अन्हु कहते हैं कि हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु की लाश पर उनके सीने और मोढों के दरमियानी हिस्से में 90 जख्म आए थे यह तलवार और नेज़े के थे ।
हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु उस रोज थे भी रोज़े से , हजरत अब्दुल्लाह बिन उमर रजियल्लाहु अन्हु कहते हैं कि मैं हजरत जाफर के पास शाम के वक्त पहुंचा वह मैदान-ए-जंग में ज़ख्मों से चूर पड़े थे मैंने उन्हें पानी पेश किया तो उन्होंने फरमाया मैं रोज़े से हूं तुम यह पानी मेरे मुंह के पास रख दो, अगर मैं सूरज गुरूब होने तक जिंदा रहा तो इस पानी से रोज़ा इफ्तार कर लूंगा _," हजरत इब्ने उमर रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि सूरज गुरूब होने से पहले ही वह शहीद हो गए _,"

★_ हजरत अब्दुल्लाह बिन उमर रजियल्लाहु अन्हु से रिवायत है कि एक मर्तबा हम रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के साथ थे, अचानक आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने आसमान की तरफ मुंह उठाया और वा अलैकुम अस्सलाम व रहमतुल्लाह फरमाया , लोगों ने अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! यह आपने क्यों फरमाया ? 
जवाब में इरशाद फरमाया - "_अभी मेरे पास से जाफर इब्ने अबी तालिब फरिश्तों के जमघट में गुज़रे हैं उन्होंने मुझे सलाम किया था _,"

★_ गज़वा मौता से वापस आने वाला लश्कर जब मदीना मुनव्वरा के करीब पहुंचा तो वहीं आकर अल्लाह के रसूल और मुसलमानों ने उनसे मुलाकात की । शहर में बच्चों ने अश'आर गाकर उन्हें खुशामदीद कहा , उस वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम अपनी सवारी पर तशरीफ ला रहे थे उन बच्चों को देखकर फरमाया -  इन्हें उठाकर सवारियों पर बिठा लो और जाफर के बच्चों को मेरे पीछे बिठा दो_," चुनांचे ऐसा ही किया गया और इस तरह वह लश्कर मदीना मुनव्वरा में दाखिल हुआ। तीन लाख दुश्मनों के मुकाबले में सिर्फ तीन हजार सहाबा का मुकाबला करना और उनके बेशुमार लोगों को क़त्ल करके सही सलामत वापस लौट आना एक बहुत बड़ी कामयाबी थी ..इस बहुत बड़ी कामयाबी पर जिस क़दर खुशी महसूस की जाती थी कम थी _,
 ╨─────────────────────❥
*★_ Quresh ki Bad Ahadi _,*

★_ Us Jung ke baad Makka Fatah hua , Ye Gazwa Ramzan 8 Hijri me pesh Aaya , Huzoor Aqdasﷺ aur Quresh ke darmiyaan Hudebiya ke Muqaam per Jo Mu'ahida hua tha, Usme ye bhi Tay paya tha k Doosre Arab Qabilo me SE koi Qabila bhi dono fareeqo me SE Kisi bhi Tarah SE is Sulah naame me Shamil ho Sakta Hai,Yani agar Koi Qabila Rasulullah ﷺ ki taraf se us Mu'ahide me Shamil Hona Chahe to Wo esa Kar Sakta Hai,is Soorat me wo un Shara'it Ka paband Hoga Jinke paband Quresh they , is Shart ki Ru se Bani Bakar Ka Qabila Quresh ki taraf se aur Bani Khaza Ka Qabila Rasulullah ﷺ ki taraf se is Suleh me Shamil hua ,Jabki in Dono Qabilo me bahut purani dushmani thi ,Dono ke darmiyaan kaafi qatl v gaaratgiri ho chuki thi ,Khoon ke badle baqi they ...Lekin islam ki Aamad ne in Dushmaniyoo ko daba diya tha ,

★_ Ab hua Ye k Bani Bakar ke Ek Shakhs ne Rasulullah ﷺ ki shaan me toheen Amez Shayr likhe aur Unki gaane laga , Bani Khaza ke Ek Nojawan ne un Ash'aar ko sun liya ,Usne bani Bakar ke Shakhs ko Pakad Kar maara ,isse Wo zakhmi ho gaya, is per Dono Qabile Ek doosre ke khilaf uth khade hue Kyunki purani dushmani to unme Pehle SE chalti aa rahi thi,

★_ Bani Bakar ne Saath me Quresh SE bhi madad maang li , Quresh Sardaaro ne Unki darkhwast qubool Kar li , unki madad ke liye Aadmi bhi diye aur Hathiyar bhi ,fir ye sab mil Kar ek Raat Achanak Bani Khaza per toot pade ,Wo log us Waqt befikri SE soye hue they, un Logo ne Bani Khaza ko be dardi SE qatl Karna shuru Kiya ,Bani Khaza ke Baaz Afraad jaane bachane ke liye waha'n SE bhaage aur ek makaan me ghus gaye ..Quresh ne Unhe waha'n bhi ja ghaira aur fir us Makaan me ghus Kar Unhe qatl Kiya ,

★_ Is Tarah Quresh ne Bani Bakar ki madad ke Silsile me is Tarah Suleh Naame ki dhajjiya'n uda di, Jab Ye Sab Kar bethe to Ahsaas hua k ye Humne Kiya kya ,Ab Wo Jama ho Kar Apne Sardaar Abu Sufiyaan ke paas Aaye aur Saara Waqia sun Kar Unhone Kaha :- 
"_ Ye esa Waqia hai k Mai'n Agarche isme Shareek nahi Hu'n ,Lekin be Talluq bhi nahi raha aur Ye Bahut Bura hua ,Allah ki qasam ! Muhammad ( ﷺ) ab Humse Jung Zaroor karenge ..aur Mai'n tumhe bataye deta Hu'n..Meri Bivi Hinda ne Ek bahut Bhayanka Khwab dekha hai ,Usne dekha k Hujoon ki taraf se Khoon Ka Ek Dariya behta hua Aaya aur Khamdama tak pahunch gaya, Log us Dariya ko Dekh Kar sakht pareshan aur bad hawaas ho rahe Hai'n _,"

★_ Is per Quresh ne unse Kaha :- "_Jo Hona tha Wo to ho chuka , Ab Aap Muhammad ( ﷺ) ke paas Jaye'n aur unse Naye sire SE Mu'ahida Kare'n..Aap ke Siva ye Kaam koi nahi Kar Sakta _,"

★_ Is per Abu Sufiyaan Apne Gulaam ke Saath Madina Munavvara ki taraf rawana hue, Udhar unse Pehle Bani Khaza Ka Ek wafad Aap ﷺ ki khidmat me pahunch gaya aur Jo Kuchh hua tha , Tafseel SE Bayan Kar diya,
Huzoor Akram ﷺ us Waqt Masjide Nabvi me Apne Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ke Saath Tashreef farma that ,Bani Khaza ki dardbhari rudaad sun Kar Huzoor Aqdasﷺ ki Aankho'n me Aa'nsu aa gaye aur irshad farmaya :- Agar Mai'n Khaza ki madad unhi cheezo SE na Karu'n Jinse Mai'n apni madad karta Hu'n to Allah Ta'ala Meri madad na farmaye _,"
Usi Waqt Asmaan per ek Badli aa Kar tairne lagi , Huzoor Aqdasﷺ ne usko Dekh Kar irshad farmaya :- Ye Badli Bani Khaza ki madad ke liye Buland hui Hai _,"

★_ Ummul Momineen Hazrat Maimuna Raziyllahu Anha Farmati Hai'n k Ek Raat Rasulullah ﷺ mere paas they ,Raat me uth Kar Unhone Namaz padhne ke liye wazu Kiya ,Esi Haalat me Maine Unhe "Labbek Labbek Labbek" farmate Suna Yani Mai'n Haazir Hu'n.. Mai'n Haazir Hu'n.. Mai'n Haazir Hu'n, Saath me Aap ﷺ ne ye bhi farmaya :- Mai'n madad karunga , Mai'n madad karunga, Mai'n madad karunga _,"
Ab waha'n koi aur to tha nahi .. Chunache Maine arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Maine Aapko teen Baar Labbek aur Mai'n madad karunga,farmate hue Suna Hai ..ye kya maamla hai ?
Jawab me Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Bani Khaza ke Saath koi Waqia ho gaya hai _,"

★_ Uske Teen Din baad Bani Khaza Aap ﷺ ke paas pahunche they..Goya Allah Ta'ala ne Pehle hi Aap ﷺ ko khabar de di thi ,Jabki Abu Sufiyaan is Koshish me they k is Silsile me Sabse Pehle Wo Huzoor Akram ﷺ se ja Kar mile ..Yani unke waha'n pahunchne se Pehle Musalmano ko us waqie ki khabar na ho , Huzoor Akram ﷺ ne Apne Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko bhi Pehle hi in Alfaz me khabar de di thi :- Bas Yu'n Samjho ! Naye sire SE Mu'ahida Karne aur uski muddat badhane ke liye Abu Sufiyaan Aaya hi Chahta hai _,"

★_ Fir Abu Sufiyaan SE Pehle hi Bani Khaza Ka wafad Madina Munavvara pahunch gaya, Ye log Huzoor Aqdasﷺ SE mil Kar waapas rawana hue to Raaste me Abu Sufiyaan SE unka Saamna hua ,Abu Sufiyaan unse Kuchh puchhne ki Koshish ki Lekin Wo bataye bager aage bad gaye..taaham Abu Sufiyaan ne bhaanp liya k ye log usi Silsile me Madina Munavvara gaye they ,

*★_ Madina Munavvara pahunchte hi Abu Sufiyaan Sidhe Apni Beti Yani Nabi Kareem ﷺ ki zoja Mohatrama Hazrat Ummul Momineen Umme Habiba Raziyllahu Anha ke paas gaye ..Ghar me dakhil hone ke baad jab Abu Sufiyaan ne bistar per bethna chaha to Ummul Momineen Umme Habiba Raziyllahu Anha ne bistar lapet Diya ,Ye Dekh Kar Abu Sufiyaan hairatzada reh gaye, Unhone Kaha :- Beti ,Ye kya  ! Mehmaan ke Aane per bistar bichhate Hai'n ya uthate Hai'n _,"
Hazrat Umme Habiba Raziyllahu Anha ne farmaya :- Ye Rasulullah ﷺ Ka bistar hai ...aur Aap abhi Mushrik Hai'n _,"

★_ Ye Sun kar Abu Sufiyaan bole :- Allah ki qasam ! Mere paas se Aane ke baad tujhme kharabiya'n paida ho gayi Hai'n _,"
Is per Hazrat Umme Habiba Raziyllahu Anha ne farmaya :- Ye Baat Nahi ,Balki Baat ye Hai k Mujhe islam ki hidayat ata ho gayi hai ,Jabki Aap Pattharo ko poojte Hai'n,Un buto ko Jo na sun sakte Hai'n aur na Dekh sakte Hai'n..Aap per tajjub hai,Aap Qabila Quresh ke Sardaar aur buzurg Hai'n, Samajhdaar Aadmi Hai'n aur Ab tak Shirk me doobe hue Hai'n _,"
Unke Jawab me Abu Sufiyaan bole :- To kya Mai'n Apne Baap Daada Ka Deen Chhod Kar Muhammad ( ﷺ) ke Deen ko Akhtyar Kar Lu'n _,"

★_ Fir Abu Sufiyaan waha'n SE Nikal Kar Huzoor Akram ﷺ ki khidmat me Haazir hue, Lekin Aap ﷺ ne Naye sire SE Mu'ahida Karne SE inkaar farmaya, Ab Wo Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke paas gaye ... Unhone bhi koi Baat na suni ..Wo Baar Baar Sabhi bade logo ke paas gaye Lekin Kisi ne Unse Baat na ki ..Aakhir Abu Sufiyaan Mayoos ho gaye aur waapas Makka lot aaye , Unhone Quresh per waaze Kar diya k Wo bilkul nakaam lote Hai'n ,

★_ Idhar Abu Sufiyaan ke rawana hone ke baad hi Nabi Akram ﷺ ne Musalmano ko kooch Ka Hukm farmaya, Musalmano ke Saath Huzoor Akram ﷺ ne Apne Ghar Walo ko bhi Taiyaari Ka Hukm farmaya, Lekin ye wazahat nahi farmayi thi k Kaha'n Jana hai , Aap ﷺ ne Aas Paas ke Dehaato me ye Paigaam bhej diya, Un logo ko Hukm hua k Ramzan Ka Mahina Madina Munavvara me guzaare , is elaan ke foran baad Charo taraf se logo ki Aamad shuru ho gayi ,Is moqe per Aap ﷺ ne Dua farmayi :- Ey Allah ! Quresh ke Jasooso aur Sun gin Lene Walo ko rok de ,Taki hum unke ilaaqe me Achanak ja pade'n _,"

*★_ क़ुरेश की बद अहदी _,"*

★__ इस जंग ( मौता की जंग ) के बाद मक्का फतह हुआ ,यह गज़वा रमज़ान आठ हिजरी में पेश आया , हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम और कुरेश के दरमियान हुदेबिया के मुकाम पर जो मुआहिदा हुआ था उसमें यह भी तय पाया था कि दूसरे अरब क़बीलों में से कोई क़बीला भी दोनों फरीक़ो में से किसी भी तरफ से इस सुलह नामे में शामिल हो सकता है यानी अगर कोई क़बीला रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की तरफ से इस मुआहिदे में शामिल होना चाहे तो वह ऐसा कर सकता है इस सूरत में वह उन शराइत का पाबंद होगा जिन के पाबंद कुरेश थे, इस शर्त की रू से बनी बकर का क़बीला कुरेश की तरफ से और बनी खज़ा का कबीला रसूलुल्लाह की तरफ से इस सुलह में शामिल हुआ , जबकि इन दोनों कबीलों में बहुत पुरानी दुश्मनी थी दोनों के दरमियान काफी क़त्लों गारत गिरी हो चुकी थी, खूंन के बदले बाकी थे... लेकिन इस्लाम की आमद ने उन दुश्मनियों को दबा दिया था।

★_ अब हुआ यह कि बनी बकर के एक शख्स ने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की शान में तोहीन आमेज़ शेर लिखें और उनको गाने लगा, बनी खजा के एक नौजवान ने उन अश'आर को सुन लिया, उसने बनी बकर के शख्स को पकड़कर मारा इससे वह जख्मी हो गया, इस पर दोनों क़बीले एक दूसरे के खिलाफ उठ खड़े हुए क्योंकि पुरानी दुश्मनी तो उनमें पहले से चलती आ रही थी ,

★_ बनी बकर ने साथ में कुरैश से भी मदद मांगी, कुरेशी सरदारों ने उनकी दरखास्त कुबूल कर ली उनकी मदद के लिए आदमी भी दिए और हथियार थी ,फिर यह सब मिलकर एक रात अचानक बनी खजा पर टूट पड़े, वह लोग उस वक्त बेफिक्री से सोए हुए थे उन लोगों ने बनी खज़ा को बेदर्दी से कत्ल करना शुरू किया ,बनी खज़ा के बाज़ अफराद जाने बचाने के लिए वहां से भागे और एक मकान में घुस गए.. क़ुरेश ने उन्हें वहां की जा घेरा और फिर उस मकान में घुसकर उन्हें कत्ल किया ।

★_ इस तरह क़ुरेश में बनी बकर की मदद के सिलसिले में उस सुलह नामे की धज्जियां उड़ा दी, जब यह सब कर बैठे तो एहसास हुआ कि यह हमने क्या किया, अब वह जमा होकर अपने सरदार अबू सुफियान के पास आए, सारा वाक़या सुनकर उन्होंने कहा :- 
"_ यह ऐसा वाकि़या है कि मैं अगरचे इसमें शरीक नहीं हूं लेकिन बे ताल्लुक भी नहीं रहा और यह बहुत बुरा हुआ ,अल्लाह की क़सम मोहम्मद ( सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम) अब हमसे जंग जरूर करेंगे और मैं तुम्हें बता देता हूं.. मेरी बीवी हिन्दा ने एक बहुत भयानक ख्वाब देखा है उसने देखा है कि हुजून की तरफ से खून का एक दरिया बहता हुआ आया और खंदमा तक पहुंच गया लोग उस दरिया को देखकर सख्त परेशान और बदहवास हो रहे हैं _,"

★_इस पर क़ुरेश ने उनसे कहा :- "_ जो होना था , वह तो हो चुका, अब आप मोहम्मद (सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम) के पास जाएं और उनसे नए सिरे से मुआहिदा करें ..आपके सिवा यह काम कोई नहीं कर सकता _,"

★_ उस पर सुफियान अपने एक गुलाम के साथ मदीना मुनव्वरा की तरफ रवाना हुए, उधर उनसे पहले बनी खजा़ का एक वफद आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में पहुंच गया और जो कुछ हुआ था तफसील से उसे बयान कर दिया ।
हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उस वक्त मस्जिद-ए-नबवी में अपने सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम के साथ तशरीफ़ फरमा थे बनी खज़ा की दर्द भरी रूदाद सुन कर हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की आंखों में आंसू आ गए और इरशाद फरमाया :- अगर मैं बनी खज़ा की मदद उन्हीं चीजों से ना करूं जिनसे मैं अपनी मदद करता हूं ,अल्लाह ताला मेरी मदद ना फरमाए _,"
उसी वक्त आसमान पर एक बदली आकर तैरने लगी , हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उसको देख कर इरशाद फरमाया-  यह बदली बनी खज़ा की मदद के लिए बुलंद हुई है _,"

★_ उम्मुल मोमिनीन हजरत मैमूना रज़ियल्लाहु अन्हा फरमाती हैं कि एक रात रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम मेरे पास थे, रात में उठ कर उन्होंने नमाज पढ़ने के लिए वज़ु किया ,ऐसी हालत में मैंने उन्हें लब्बेक लब्बेक लब्बेक फरमाते सुना यानी मैं हाजिर हूं मैं हाजिर हूं मैं हाजिर हूं ..साथ में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने यह भी फरमाया - मैं मदद करूंगा मैं मदद करूंगा मैं मदद करूंगा_,"
अब वहां कोई और तो था नहीं, चुनांचे  मैंने अर्ज किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! मैंने आपको तीन बार लब्बेक और मैं मदद करूंगा फरमाते हुए सुना है यह क्या मामला है ?
जवाब में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-  बनि खज़ा के साथ कोई वाकि़या हो गया है _,"

★_ उसके 3 दिन बाद बनी  खजा़ आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के पास पहुंचे थे गोया अल्लाह ताला ने पहले ही आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को खबर दे दी थी जबकि अबू सुफियान इस कोशिश में थे कि इस सिलसिले में सबसे पहले वह हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से जाकर मिले यानी उनके वहां पहुंचने से पहले मुसलमानों को इस वाक्ये को खबर ना हो , हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को पहले ही इन अल्फाज़ में खबर दे दी थी :- 
"_ बस यूं समझो ,नए सिरे से मुआहिदा करने और उसकी मुद्दत बढ़ाने के लिए अबू सुफियान आया ही चाहता है _,"

★_ फिर अबू सुफियान से पहले ही बनी खज़ा का वफद मदीना मुनव्वरा पहुंच गया ,यह लोग हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से मिलकर वापस रवाना हुए तो रास्ते में अबू सुफियान से उनका सामना हुआ, अबू सुफियान ने उनसे कुछ पूछने की कोशिश की लेकिन वह बताएं बगैर आगे बढ़ गए ..ताहम अबू सुफियान ने भांप लिया कि यह लोग उसी सिलसिले में मदीना मुनव्वरा गए थे ।

★_ मदीना मुनव्वरा पहुंचते ही अबू सुफियान सीधे अपनी बेटी नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की ज़ौजा मोहतरमा हजरत उम्मुल मोमिनीन उम्मे हबीबा रज़ियल्लाहु अन्हा के पास गए, घर में दाखिल होने के बाद जब अबू सुफियान ने बिस्तर पर बैठना चाहा तो उम्मुल मोमिनीन हजरत उम्मे हबीबा रज़ियल्लाहु अन्हा ने बिस्तर लपेट दिया ,यह देखकर अबू सुफियान हैरतज़दा रह गए , उन्होंने कहा :-  बेटी यह क्या ! मेहमान के आने पर बिस्तर बिछाते हैं कि उठाते हैं _," 
हजरत उम्मे हबीबा रज़ियल्लाहु अन्हा ने फरमाया - यह रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का बिस्तर है और आप अभी मुशरिक है _,"

★_ यह सुनकर अबू सुफियान बोले:- अल्लाह की क़सम! मेरे पास से आने के बाद तुझ में खराबियां पैदा हो गई है _," 
इस पर हजरत उम्मे हबीबा रज़ियल्लाहु अन्हा ने फ़रमाया :-  यह बात नहीं , बल्कि बात यह है कि मुझे इस्लाम की हिदायत अता हो गई है जबकि आप पत्थरों को पूजते हैं उन बुतों को जो ना सुन सकते हैं और ना देख सकते हैं.. आप पर ताज्जुब हैं आप क़बीला कुरेश  के सरदार है और बुज़ुर्ग है , समझदार आदमी है और अब तक शिर्क में डूबे हुए हैं _," 
उनके जवाब में अबु सुफियान बोले :- तो क्या मैं अपने बाप दादा का दीन छोड़कर मोहम्मद (सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम) के दीन को अख्तियार कर लूं _,"

★_ फिर अबु सुफियान वहां से निकल कर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए लेकिन आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम नए सिरे से मुआहिदा करने से इंकार फरमा दिया,अब वह अबू बकर रज़ियल्लाहु अन्हु के पास गए उन्होंने भी कोई बात ना सुनी.. वह बार-बार सभी बड़े लोगों के पास गए लेकिन किसी ने उनसे बात ना की , आखिर अबू सुफियान मायूस हो गए और वापस मक्का लोट आए उन्होंने कुरेश पर वाज़े कर दिया कि वह बिल्कुल नाकाम लौटे हैं ,

★_ अबु सुफियान के रवाना होने के बाद ही नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने मुसलमानों को कूच का हुक्म फरमाया, मुसलमानों के साथ हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने घर वालों को भी तैयारी का हुक्म फरमाया लेकिन यह वजाहत नहीं फरमाई थी कि कहां जाना है , आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने आस-पास के देहातों में यह पैगाम भेज दिया उन लोगों को हुक्म हुआ कि रमजान का महीना मदीना मुनव्वरा में गुजारे, इस ऐलान के फौरन बाद चारों तरफ से लोगों की आमद शुरू हो गई इस मौके पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने दुआ फरमाई :-  ऐ अल्लाह !कुरेश के जासूसों और गिन सुनने वालो को रोक दें ताकि हम उनके इलाके में अचानक जा पड़े _,"

 ╨─────────────────────❥
*★_ Quresh Ko Hazrat Haatib bin Abi Balta Raziyllahu Anhu Ka Khat _,*

★_ idhar Huzoor Aqdasﷺ ye ahatyaat farma rahe they k Kisi Tarah Quresh ko unki Taiyariyo'n Ka ilm na ho...udhar Aap ﷺ ke Ek Sahabi Hazrat Haatib bin Abi Balta Raziyllahu Anhu ne Quresh ke teen bade Sardaaro ke naam khat Likha ,Us khat me Unhone Aan Hazrat ﷺ ki Taiyariyo'n ki ittela di thi ,Ye khat Unhone ek Aurat ko diya aur usse Kaha :- Agar tum ye khat Quresh tak pahuncha do to tumhe Zabardast ina'am diya jayega _,"
Usne khat Pahunchana Manzoor Kar liya ,is per Hazrat Haatib Raziyllahu Anhu ne use das dinaar aur ek Qeemti Chaadar di aur usse Kaha :- Jaha'n tak Mumkin ho is khat ko poshida rakhna aur aam raasto SE Safar na Karna .. Kyunki Jagah Jagah nigrani Karne wale bethe Hai'n _,"

★_ Wo Aurat Aam Raasta Chhod Kar ek aur Raaste SE Makka Muazzama ki taraf rawana hui ,Uska Naam Saarah tha, Wo Makka ki ek gulkara thi , Madina Munavvara me Aan Hazrat ﷺ ke paas aa Kar Musalman hui thi, Usne Apne khasta haali ki shikayat ki to Aap ﷺ ne usk madad bhi ki thi ,Fir ye Makka Chali gayi,Lekin waha'n ja Kar islam se fir gayi ..fir ye waha'n Nabi Kareem ﷺ ki shaan me toheen Amez Ash'aar padhne lagi ,In Dino Saarah dobara Madina Munavvara aayi hui thi ..Hazrat Haatib Raziyllahu Anhu ne use ye khat diya to Wo ye Kaam Karne per razamand ho gayi,

★_ Usne Wo khat Apne Sar ke baalo me chhupa liya aur Madina Munavvara SE rawana hui ..udhar ye rawana hui ,idhar Allah Ta'ala ne Apne Rasool ko iske bare me khabar bhej di, Asmaan SE ittela milte hi Aapne Apne Chand Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko unke Ta'aqub me rawana farmaya ,Aap ﷺ ne unse farmaya :- "_ Wo Aurat tumhe Fala Muqaam per milegi ..Uske paas Ek khat hai ,khat me Quresh ke khilaf Hamari Taiyariyo'n ki ittela hai ,Tum log us Aurat SE Wo khat Chheen lo ..Agar wo khat dene SE inkaar kare to use Qatl Kar dena _,"

★_ Ye Sahaba Hazrat Ali,Hazrat Zuber,Hazrat Talha aur Hazrat Miqdaad Raziyllahu Anhum they ,Hukm milte hi ye us Muqaam ki taraf rawana ho gaye..Nabi Kareem ﷺ ke farmaan ke Ayn mutabiq Wo Aurat Theek usi Muqaam per jate hue Mili , Unhone use ghair liya, Unhone us Aurat SE Puchha :- Wo khat Kaha'n hai ? Usne qasam kha Kar Kaha :- mere paas koi khat nahi hai _,"
Aakhir use ount SE niche uthara gaya ,talashi li gayi Magar Khat na Mila ,is per Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ne farmaya :- Mai'n qasam kha Kar Kehta Hu'n Rasulullah ﷺ Kabhi galat Baat nahi Kehte ..,"

★_ Jab Us Aurat ne dekha k ye log Kisi Tarah nahi maanenge to Usne Apne Sar ke Baal Khol daale aur Unke niche chhupa hua khat nikaal Kar Unhe de diya, Baharhaal in Hazraat ne khat la Kar Huzoor Aqdasﷺ ki khidmat me pesh Kiya, Khat Hazrat Haatib bin Abi Balta Raziyllahu Anhu ne Likha tha aur usme darj tha k Allah Ke Rasool ﷺ ne Jung ki taiyari shuru Kar di hai aur ye Taiyari Zaroor tum logo ke khilaf hai ,Maine munasib Jana k tumhe ittela de Kar Tumhare Saath bhala'i Karu'n _,"

★_ Huzoor Aqdasﷺ ne Hazrat Haatib Raziyllahu Anhu ko talab farmaya, Unhe khat dikhaya aur Puchha _," Haatib ! Is khat ko pehchante ho ?"
Jawab me Unhone arz Kiya :- "_ Ey Allah ke Rasool ! Mai'n pehchanta Hu'n ..mere bare me jaldi na kijiye ,mera Quresh SE koi Talluq nahi, Jabki Aapke Saath Jo Muhajireen Musalman Hai'n Un Sabke Quresh ke Saath rishtedariya'n Hai'n..is vajah se Mushrik hone ke bavjood waha'n waha'n mojood unke rishtedar mehfooz Hai'n..Wo Unhe Kuchh nahi Kehte ..Lekin Chunki Meri unse Rishtedari nahi ,isliye mujhe Apne Ghar Walo ke bare me tashveesh rehti hai..Meri bivi aur beta waha'n fa'nse hue Hai'n..so Maine Socha ,is moqe per Quresh per ye ahsaan Kar du'n..Taki Wo mere Ghar walo ke Saath zulm na Kare'n aur bas...is khat se Musalmano ko koi nuqsaan nahi pahunch Sakta ..Quresh per Allah Ka Qahar Naazil hone wala Hai _,"

★_ Unki Baat sun Kar Aan Hazrat ﷺ ne Apne Sahaba Raziyllahu Anhum SE farmaya :- Tumne Haatib ki Baat suni , inhone sab Kuchh sach bata diya ..Ab tum log kya Kehte ho ?
Is per Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Mujhe ijazat dijiye k is Shakhs ka Sar qalam Kar du'n, Kyunki ye Munafiq ho gaya hai _,"
Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- Ey Umar ! Ye Shakhs un logo me SE hai Jo Gazwa Badar me Shareek hue they aur Umar tumhe kya pata , Mumkin hai Allah Ta'ala ne Ahle Badar se ye farma diya ho k tum Jo Chahe Karo ,Maine Tumhari magfirat Kar di hai _,"

★_ Nabi Kareem ﷺ Ka ye irshad mubarak sun Kar Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki Aankho'n me Aa'nsu aa gaye, Idhar Allah Ta'ala ne Surah Al Mumtahna ki ye Aayat Naazil farmayi :- 
*"_( Tarjuma )*_ Ey imaan walo ! Tum mere Dushmano aur Apne Dushmano ko Dost mat bana'o k unse Dosti Ka izhaar Karne lago ,Halanki Tumhare paas Jo Deen aa chuka hai Wo Uske munkir Hai'n Wo Rasool ko aur tumhe is Bina per Shehar Badar Kar chuke Hai'n k Tum Allah Ta'ala per imaan le Aaye ho _,"

*★_ क़ुरेश को हजरत हातिब बिन अबी बलता रज़ियल्लाहु अन्हु का खत _,*

★_ इधर तो हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम यह अतियात फरमाते रहे थे कि किसी तरह कुरेश को उनकी तैयारियों का इल्म ना हो, उधर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के एक सहाबी हजरत हातिम बिन अबी बलता रज़ियल्लाहु अन्हु ने कुरेश के तीन बड़े सरदारों के नाम खत लिखा, उस खत में उन्होंने आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की तैयारियों की इत्तेला दी थी, यह खत उन्होंने एक औरत को दिया और उससे कहा- अगर तुम यह खत कुरेश को पहुंचा दो तो तुम्हें जबरदस्त इनाम दिया जाएगा ,उसने खत पहुंचाना मंजूर कर लिया ,इसपर हजरत रज़ियल्लाहु अन्हु ने उसे 10 दीनार और एक कीमती चादर दी और उससे कहा -जहां तक मुमकिन हो इस खत को पोशीदा रखना और आम रास्तों से सफर ना करना क्योंकि जगह-जगह निगरानी करने वाले बैठे हैं_,"

★_ वह औरत आम रास्ता छोड़कर एक और रास्ते से मक्का मुअज़्ज़मा की तरफ रवाना हुई, उसका नाम साराह था वह मक्का की एक गुलकार थी, मदीना मुनव्वरा में आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास आकर मुसलमान हो गई थी उसने अपनी खस्ता हाली की शिकायत की तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उसकी मदद भी की थी फिर यह मक्का चली गई लेकिन वहां जाकर इस्लाम से फिर गई फिर यह वहां नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की शान में तौहीन आमेज़ अशआर पढ़ने लगी , इन दिनों साराह दोबारा मदीना आई हुई थी, हजरत हातिब रजियल्लाहु अन्हु ने उसे खत दिया तो वह यह काम करने पर रजामंद हो गई ।

★_ उसने वह खत अपने सर के बालों में छुपा लिया और मदीना मुनव्वरा से रवाना हो गई.. उधर वह रवाना हुई, उधर अल्लाह ताला ने अपने रसूल को इस बारे में खबर भेज दी, आसमान से इत्तेला मिलते ही आपने अपने चंद सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम उसके ता'क्कुब में रवाना फरमाऐ, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनसे फरमाया- वह औरत तुम्हें फलां मुकाम पर मिलेगी.. उसके पास एक खत है, खत में कुरेश के खिलाफ हमारी तैयारियों की इत्तेला है ,तुम लोग उस औरत से वह खत छीन लो.. अगर वह देने से इनकार करें तो उसे कत्ल कर देना_,"

★_ यह सहाबा हजरत अली, हजरत जुबेर, हजरत तलहा और हजरत मिक़दाद रजियल्लाहु अन्हुम थे, हुक्म मिलते ही वे उस मुकाम की तरफ रवाना हो गए नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के फरमान के मुताबिक वह औरत ठीक उसी मुकाम पर जाते हुए मिली, उन्होंने उसे घेर लिया ,उन्होंने उस औरत से पूछा- वह खत कहां है? उसने क़सम खाकर कहा -मेरे पास कोई खत नहीं है , आखिर उसे ऊंट से नीचे उतारा गया तलाशी ली गई मगर खत ना मिला, इस पर हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु ने फरमाया - मैं कसम खाकर कहता हूं रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम कभी गलत बात नहीं कहते..,"

★_जब उस औरत ने देखा है कि ये लोग किसी तरह नहीं मानेंगे तो उसने अपने सर के बाल खोल डाले और उनके नीचे छुपा हुआ खत निकालकर उन्हें दे दिया, बहरहाल इन हजरात ने खत ला कर हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में पेश किया, खत हजरत हातिब बिन अबी बलता रज़ियल्लाहु अन्हु ने लिखा था और उसमें दर्ज था कि अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने जंग की तैयारी शुरू कर दी है और यह तैयारी ज़रूर तुम लोगों के खिलाफ है मैंने मुनासिब जाना कि तुम्हें इत्तेला देकर तुम्हारे साथ भलाई करूं _,"

★_ हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हजरत हातिब रजियल्लाहु अन्हु को तलब फरमाया, उन्हें खत दिखाया और फिर पूछा - हातिब इस खत को पहचानते हो  ?
जवाब में उन्होंने अर्ज़ किया - ऐ अल्लाह के रसूल ! मैं पहचानता हूं ..मेरे बारे में जल्दी न कीजिए, मेरा कुरेश से कोई ताल्लुक नहीं जबकि आपके साथ जो मुहाजिरीन मुसलमान है उन सब की कुरेश के साथ रिश्तेदारियां हैं.. इस वजह से मुशरिक होने के बावजूद वहां मौजूद उनके रिश्तेदार महफूज हैं.. वह उन्हें कुछ नहीं कहते.. लेकिन चूंकि मेरी उनसे रिश्तेदारी नहीं इसलिए मुझे अपने घर वालों के बारे में तशवीश रहती है.. मेरी बीवी और बेटा वहां फंसे हुए हैं सो मैंने सोचा इस मौके पर कुरेश पर यह एहसान कर दूं ताकि वह मेरे घर वालों के साथ जुल्म ना करें और बस.. इस खत से मुसलमानों को कोई नुकसान नहीं पहुंच सकता कुरेश पर अल्लाह का क़हर नाज़िल होने वाला है _,"

★_ उनकी बात सुनकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने सहाबा रजियल्लाहु अन्हुम से फरमाया :- "_ तुमने हातिब की बात सुनी इन्होंने सब कुछ सच-सच बता दिया है ..अब तुम लोग क्या कहते हो ?
इसपर हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :- "_ ऐ अल्लाह के रसूल ! मुझे इजाज़त दीजिए इस शख्स का सर कलम कर दूं क्योंकि यह मुनाफिक हो गया है _,"
आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- "_ ऐ उमर ! यह शख्स इन लोगों में से हैं जो गज़वा बदर में शरीक हुए थे और उमर तुम्हें क्या पता मुमकिन है अल्लाह ताला ने अहले बदर से यह फरमा दिया हो कि तुम जो चाहे करो मैंने तुम्हारी मग्फिरत कर दी है_,"

★_ नबी करीम सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम का यह इरशाद मुबारक सुनकर हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की आंखों में आंसू आ गए , इधर अल्लाह ताला ने सूरह अल मुमताहाना की यह आयत नाजिल फरमाई :- 
"_ (तर्जुमा )_ ऐ ईमान वालो ! तुम मेरे दुश्मनों और अपने दुश्मनों को दोस्त मत बनाओ कि उनसे दोस्ती का इजहार करने लगो हालांकि तुम्हारे पास जो दीन आ चुका है वह उसके मुनकिर हैं वह रसूल को और तुम्हें इस बिना पर शहर बदर कर चुके हैं कि तुम अल्लाह ताला पर ईमान ले आए हो _,"

 ╨─────────────────────❥
 *★_ Makka Ki Taraf Kooch _,*

★_ Iske baad Aan Hazrat ﷺ ne Madina Munavvara SE Kooch farma diya, Madina me Apna qaaim Muqaam Abu Hazrat Raham Kulsoom ibne Hasan Ansari Raziyllahu Anhu ko banaya ,Aap ﷺ 10 Ramzan Ki Madina Munavvara SE rawana hue, is Gazwe me Huzoor Aqdasﷺ ke Saath 10 Hazaar Sahaba they, Ye Tadaad injeel me bhi aayi hai.. waha'n ye Kaha gaya hai k ,"- Wo Rasool 10 Hazaar Qudsiyo ke Saath Faraan ki chotiyo'n SE utrega _," 
Is moqe per Muhajireen Aur Ansar me SE koi Pichhe nahi raha tha ,Unke Saath Teen so ghode aur No So ount they ,
In Muqaddas Sahaba Ke alawa Raaste me Kuchh Qaba'il bhi shamil ho gaye they ,

★_ Is Safar me Rozo ki Rukhsat ki ijazat bhi hui ,Yani Jiska ji Chahe Safar me Roza rakh le ,Jo rakhna na Chahe Wo baad me rakhe ...is Tarah Safar aur Jung ke moqo per ijazat ho gayi , Safar Karte Karte Aakhir Lashkar Marzahran ke Muqaam per pahunch gaya , Us Muqaam Ka Naam Ab Batne Mard hai , Lashkar ki rawangi SE Pehle Chunki Aap ﷺ ne ye Dua farmayi thi k Quresh ko islami Lashkar ki Aamad ki khabar na ho ..isliye Unhe khabar na ho saki ,

★_ Marzahran ke Muqaam per pahunch Kar Raat ke Waqt Musalmano ne Aag jalayi ,Chunki 12 Hazaar ke qareeb tadaad thi ,isliye Bahut Door door tak Aag ke Alaaw Roshan ho gaye ,Jis Waqt ye Lashkar Madina Munavvara SE rawana hua tha Usi Waqt Huzoor Aqdasﷺ ke Chacha Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu Makka se Hijrat Kar Ke Madina Munavvara ki taraf rawana hue they Taki Nabi Kareem ﷺ ke paas pahunch Kar islam qubool Karne Ka elaan Kar de'n ,Lekin Nabi Kareem ﷺ ki unse mulaqaat Raaste hi me ho gayi , Ye mulaqaat Muqaame Hajifa per hui , Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu Yahi'n SE Aap ﷺ ke Saath chal pade , Unhone Apne Ghar ke afraad ko Madina Munavvara bhej diya, 

★_ Us moqe per Allah Ke Rasool ﷺ ne unse farmaya :- Ey Chacha ! Aapki ye Hijrat usi Tarah Aakhri Hijrat hai Jis Tarah Meri Nabuwat Aakhri Nabuwat hai _,"
Ye Aap ﷺ ne isliye farmaya k Aam tor per Musalman Quresh ke zulm se tang aa Kar Madina Munavvara Hijrat Karte they,Lekin Ab Aap ﷺ Makka Fateh Karne Ke liye Tashreef le ja rahe they, Uske baad to Makka se Hijrat ki zarurat hi Khatm ho Jati , isliye Aap ﷺ ne ye farmaya k Ye Aapki usi Tarah Aakhri Hijrat hai Jis Tarah Meri Nabuwat Aakhri hai ,
Aap ﷺ ke is farmaan SE Aap ﷺ ke baad Nabuwat Ka Daava Karne walo Ka Mukammal tor per rad ho gaya , ( Khatme Nabuwat Zinda Baad )

★_ Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu is khayal se Makka ki taraf chale k Quresh ko bataye'n ,Allah Ke Rasool Kaha'n tak aa chuke Hai'n aur Quresh ke Haq me Behtar hai k Makka Muazzama SE Nikal Kar Pehle hi Aapki khidmat me Haazir ho Jaye'n _,"
Idhar ye is iraade se nikle , udhar Abu Sufiyaan, Badeel bin Warqa aur Hakeem bin Huzaam Aan Hazrat ﷺ ke mutalliq khabre haasil Karne Ke liye nikle ... Kyunki itna un logo ko us Waqt Maloom ho gaya tha k Aan Hazrat ﷺ ne Lashkar ke Saath Madina Munavvara SE Kooch farmaya hai ..Lekin Unhe ye Maloom na ho saka tha k Aap ﷺ kis taraf gaye Hai'n,

★_ Ab Jo ye bahar nikle to hazaaro jagaho per Aag Roshan dekhi to buri Tarah ghabra Gaye , Abu Sufiyaan ke moonh SE nikla :- Maine Aaj ki Raat jesi Aag Kabhi nahi dekhi aur na itna bada Lashkar Kabhi dekha ..ye to itni Aag hai Jitni Arafa ke din Haaji Jalate Hai'n _,"
Jis Waqt Abu Sufiyaan ne ye Alfaz kahe ,usi Waqt Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu waha'n se guzre , Unhone Alfaz sun liye ,Chunache Unhone un Hazraat Ko dekh liya aur Unki taraf aa gaye, Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu bhi Hazrat Abu Sufiyaan ke Dost they , 
"_ Abu Hanzla ! Ye tum ho ? Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu bole , Abu Hanzla Abu Sufiyaan ki Kunniyat thi, _," Haa'n ,ye Mai'n Hu'n _aur mere Saath Badeel bin Warqa aur Hakeem bin Huzaam Hai'n..tum Kaha'n ?
Jawab me Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ne Kaha :- "_Allah ke Rasool ﷺ Tumhare muqable me itna bada Lashkar le Aaye Hai'n...Ab Tumhare liye faraar ka koi Raasta baqi nahi raha_,"

★_ Abu Sufiyaan ye sun kar ghabra Gaye aur Kehne lage :- "_ Aah ! Ab Quresh Ka Kya Hoga ..koi tadbeer bata'o _,"
Ye sun kar Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ne Kaha :- "_ Allah ki qasam ! Agar Aan Hazrat ﷺ ne tum per qaabu pa liya to Tumhara Sar qalam Kara denge ...isliye Behtar Yahi hai k Mere Khachchar per sawaar ho jao Taki Mai'n tumhe Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me le jau'n aur Tumhari Jaan Bakhshi Kara Lu'n _,"
Hazrat Abu Sufiyaan foran hi Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ke Pichhe Khachchar per sawaar ho gaye,

★_ Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu aur Abu Sufiyaan us Jagah se guzre Jaha'n Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne Aag jala rakhi thi, Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne Unhe dekh liya,foran uth Kar unki taraf Aaye aur Pukaar uthe :- "_ Kon ,Allah ka Dushman Abu Sufiyaan _,"
Ye Kehte hi Hazrat Umar Raziyllahu Anhu Nabi Kareem ﷺ ki taraf daud pade , Ye dekh Kar Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ne bhi Khachchar ko aid laga di aur Hazrat Umar Raziyllahu Anhu se Pehle Nabi Kareem ﷺ ke Kheme tak pahunchne me kamyaab ho gaye..fir Jaldi se Khachchar se utar kar Kheme me dakhil hue., Unke foran baad Hazrat Umar Raziyllahu Anhu bhi Kheme me dakhil ho gaye .aur bol uthe :- 
"_ Ya RasuLullah ! Ye Dushmane Khuda Abu Sufiyaan hai , Allah Ta'ala ne is per bager Kisi Mu'ahide ke Hume qaabu ata farmaya hai Lihaza mujhe ijazat dijiye k Mai'n iski Gardan maar du'n _,"
Magar iske Saath hi Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ne farmaya :- "_Ey Allah ke Rasool ! Mai'n inhe panaah de chuka Hu'n _,"

★_ Ab manzar ye tha k Hazrat Umar Raziyllahu Anhu nangi Talwaar so'nte khade they k udhar Hukm ho idhar wo Abu Sufiyaan ka Sar qalam Kar de'n..Doosri Taraf Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu keh rahe they :- "_ Allah ki qasam ! Aaj Raat mere alawa koi Shakhs iski Jaan bachane ki Koshish Karne wala nahi hai _,"

*★_ मक्का की तरफ कूच _,*

★__ उसके बाद आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने मदीना मुनव्वरा से कूच फरमा दिया , मदीना में अपना क़ायम मक़ाम अबु हजरत रहम कुलसूम बिन हसन अंसारी रज़ियल्लाहु अन्हु को बनाया । आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम 10 रमज़ान को मदीना मुनव्वरा से रवाना हुए इस गज़वे में मुसलमानों के साथ 10 हज़ार सहाबा थे, यह तादाद इंजील में भी आई है वहां यह कहा गया है कि -वह रसूल 10 हज़ार क़ुदसियों के साथ फारान की चोटियों से उतरेगा _,"
इस मौके पर मुहाजिरीन और अन्सार में से कोई पीछे नहीं रहा था ,उनके साथ 300 घोड़े और 900 ऊंट थे , इन मुकद्दस सहाबा के अलावा रास्ते में कुछ क़बाइल भी शामिल हो गए थे।

★_ इस सफर में रोजों की रुखसत की इजाज़त भी हुई यानी जिसका जी चाहे सफर में रोज़ा रख ले ,जो रखना ना चाहे वह बाद में रखें ..इस तरह सफर और जंग के मौकों पर यह इजाज़त हो गई । 
सफर करते करते आखिर लश्कर मरज़ोहरान के मुका़म पर पहुंच गया उस मुका़म का नाम अब बतने मर्द है । लश्कर की रवानगी से पहले चूंकि आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने यह दुआ फरमाई थी कि क़ुरेश को इस्लामी लश्कर की आमद की खबर ना हो... इसलिए उन्हें खबर ना हो सकी ।

★_ मरज़ोहरान के मुका़म पर पहुंच कर रात के वक्त मुसलमानों ने आग जलाई चूंकि 12 हजार के करीब तादाद थी इसलिए बहुत दूर-दूर तक आग के अलाव रोशन हो गए, 
जिस वक्त यह लश्कर मदीना मुनव्वरा से रवाना हुआ था उसी वक्त हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के चाचा हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु मक्का से हिजरत करके मदीना मुनव्वरा की तरफ रवाना हुए थे ताकि नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास पहुंचकर इस्लाम कुबूल करने का ऐलान कर दें.. लेकिन नबी करीम सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम से रास्ते ही में मुलाक़ात हो गई, यह मुलाक़ात मुक़ामे हजीफा पर हुई.. हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु यहीं से आपके साथ चल पड़े , उन्होंने अपने घर के अफराद को मदीना मुनव्वरा भेज दिया।

★_ इस मौके पर अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया :-  ऐ चचा ! आपकी यह हिजरत उसी तरह आखरी हिजरत है जिस तरह मेरी नबुवत आखरी नबुवत है _,"
यह आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इसलिए फरमाया कि आमतौर पर मुसलमान कुरेश के जुल्मों से तंग आकर मदीना मुनव्वरा हिजरत करते थे लेकिन अब आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम मक्का फतह करने के लिए तशरीफ ले जा रहे थे उसके बाद तो मक्का से हिजरत की ज़रूरत ही खत्म हो जाती, इसलिए आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया कि यह आपकी उसी तरह आखरी हिजरत है जिस तरह मेरी नबूवत आखरी है ।
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के इस फरमान से आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के बाद नबूवत का दावा करने वालों का मुकम्मल तौर पर रद हो गया । ( खत्मे नबूवत जिंदाबाद )

★_ हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु इस खयाल से मक्का की तरफ चले कि कुरेश को बताएं अल्लाह के रसूल कहां तक आ चुके हैं  और कुरेश के हक़ में बेहतर यह है कि मक्का मुअज़्ज़मा से निकलकर पहले ही आप की खिदमत में हाजिर हो जाएं। 
इधर यह इस इरादे से निकले उधर अबू सुफियान, बदील बिन वरका और हकीम बिन हुज़ाम आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के मुताल्लिक खबरें हासिल करने के लिए निकले क्योंकि इतना उन लोगों को उस वक्त मालूम हो गया था कि आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम लश्कर के साथ मदीना मुनव्वरा से कूच फरमाया है लेकिन यह मालूम ना हो सका था कि आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम किस तरफ गए हैं ।

★_ अब जो यह बाहर निकले तो हजारों जगहों पर आग रोशन देखी तो बुरी तरह घबरा गए। अबु सुफियान के मुंह से निकला :- "_ मैंने आज की रात जैसी आग कभी नहीं देखी और ना इतना बड़ा लश्कर कभी देखा.. यह तो इतनी आग है जितनी अरफा के दिन हाजी जलाते हैं _,"
जिस वक्त अबू सुफियान ने यह अल्फाज़ कहे, उसी वक्त हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु वहां से गुजरे, उन्होंने यह अल्फाज सुन लिए चुंनाचे उन्होंने इन हजरात को देख लिया और उनकी तरफ आ गए , हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु भी हजरत अबू सुफियान के दोस्त थे । 
*"_अबु हंज़ला.. यह तुम हो !  हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु बोले । अबु हंजला अबू सुफियान की कुन्नियत थी। 
"_हां , यह मैं हूं और मेरे साथ बदील बिन वरक़ा और हकीम बिन हुज़ाम हैं ...तुम कहां ?"
जवाब में हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने कहा - अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम तुम्हारे मुकाबले में इतना बड़ा लश्कर ले आए हैं.. अब तुम्हारे लिए फरार का कोई रास्ता बाकी नहीं रहा _,"

★_ अबू सुफियान यह सुनकर घबरा गए और कहने लगे - "_ आह ! अब क़ुरेश का क्या होगा .. कोई तदबीर बताओ _,"
यह सुनकर हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने कहा :- अल्लाह की क़सम ! अगर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने तुम पर का़बू पा लिया तो तुम्हारा सर कलम करा देंगे.. इसलिए बेहतर यही है कि मेरे खच्चर पर सवार हो जाओ ताकि मैं तुम्हें आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही सल्लम की खिदमत में ले जाऊं और तुम्हारी जान बख्सी करा लूं _,"
हजरत अबू सुफियान फौरन ही हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु के पीछे खच्चर पर सवार हो गए।

★_ हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु और अबू सुफियान उस जगह से गुजरे जहां हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने आग जला रखी थी , हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने उन्हें देख लिया और उठकर उनकी तरफ आए और पुकार उठे - "_कौन अल्लाह का दुश्मन अबू सुफियान_," 
यह कहते ही हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु नबी करीम सल्लल्लाहु अलेहि वसल्लम की तरफ दौड़ पड़े, यह देखकर हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने भी खच्चर को ऐड लगा दी और हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु से पहले नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के खेमे तक पहुंचने में कामयाब हो गए फिर जल्दी से खच्चर से उतरकर खेमे में दाखिल हो गए । उनके फौरन बाद हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु भी खैमे में दाखिल हो गये और बोल उठे :- 
"_या रसूलल्लाह ! यह दुश्मने खुदा अबु सुफियान है अल्लाह ताला ने इस पर बगैर किसी मुआहिदे के हमें क़ाबू अता फरमाया है लिहाजा मुझे इजाजत दीजिए कि मैं इसकी गरदन मार दूं _," 
मगर इसके साथ ही हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने फरमाया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! मैं इन्हें पनाह दे चुका हूं _,"

★_ अब मंजर यह था कि हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु नंगी तलवार सोंते खड़े थे की उधर हुक्म हो इधर वह अबू सुफियान का सर क़लम कर दें ..दूसरी तरफ हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु कह रहे थे :- "_अल्लाह की क़सम! आज रात मेरे अलावा कोई शख्स की जान बचाने की कोशिश करने वाला नहीं है _,"
 ╨─────────────────────❥
*★_ Ye Badshahaht nahi Nabuwat Hai _,*

★_ Aakhir Nabi Rehmat ﷺ ne irshad farmaya :- Abbaas ! Abu Sufiyaan ko Apne Kheme me le Ja'o aur Subeh inhe mere paas le Aana _,"
Subeh ko Azaan hui to log Tezi SE Namaz ke liye lapakne lage , Abu Sufiyaan Lashkar me ye HAL chal dekh Kar ghabra gaye , Unhone Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu se Puchha :- Abul Fazal ,Ye kya ho raha Hai ?
Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ne bataya :- Log Namaz ke liye ja rahe Hai'n _,"
Hazrat Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu dar asal is khayal se ghabraye they k Kahi'n unke bare me koi Hukm na diya gaya ho ,Fir Unhone dekha ,log Rasulullah ﷺ ke wazu Ka Pani Jama Kar rahe Hai'n, Fir Unhone dekha ,Allah Ke Rasool Ruku Karte Hai'n to sab log bhi Aapke Saath Ruku Karte Hai'n aur Aap Sajda Karte Hai'n to Log bhi Sajda Karte Hai'n_,

★_ Namaz ke baad Unhone Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu se Kaha :- Ey Abbaas ! Muhammad ( ﷺ) Jo bhi Hukm dete Hai'n,log foran uski tameel Karte Hai'n_,"
Jawab me Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu bole :- Haa'n ,Agar Aan Hazrat ﷺ logo ko khane pine SE rok de'n to ye us per bhi Amal Karenge _,"
Is per Abu Sufiyaan bole :- "_ Maine Zindgi me in Jesa Badshaah nahi dekha ,na Kiara esa hai , na Qaisar ..aur na Bani Azfar Ka Badshaah _,"
Ye sun Kar Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ne farmaya :- Ye Badshahaht nahi Nabuwat Hai _,"

★_ Fir Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu Unhe le Kar Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Aaye , Aap ﷺ ne Abu Sufiyaan ko Dekh Kar farmaya :- "_ Abu Sufiyaan ! Afsos hai ,Kya abhi Wo Waqt nahi Aaya k tum " La ilaaha illallaah " ki gawahi do _,"
Abu Sufiyaan foran bole :- Mai'n Gawaahi deta Hu'n k Allah Ke Siva koi Ma'abood nahi aur Aap Allah ke Rasool Hai'n_,"
Unke Saath Badeel bin Warqa aur Hakeem bin Huzaam bhi imaan le Aaye..ye Log waapas nahi gaye they..balki wahi'n ruk Kar Halaat Ka intezar Karne lage they _,"

★_ Uske baad Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Logo me Amaan aur Jaan Bakhshi Ka elaan Kara dijiye _,"
Aap ﷺ ne farmaya :- Haa'n ! Jisne Haath rok liya ( Yani Hathiyar na uthaya ) Use Amaan hai aur Jisne Apne Ghar Ka Darwaza band Kar liya use Amaan hai aur Jo Shakhs Tumhare Ghar me aa jayega use bhi Amaan hai..aur Jo Shakhs Hakeem bin Huzaam ke Ghar me dakhil ho Jayega use bhi Amaan hai _,"
Saath hi Aapne Abu Rudeha Raziyllahu Anhu ko ek Parcham de Kar farmaya :- "_ Jo Shakhs Abu Rudeha ke parcham ke niche aa jayega use bhi Amaan hai_,"
Fir Aapne Abu Sufiyaan,Hakeem bin Huzaam aur Badeel bin Warqa ke bare me hidayat farmayi :- in teeno ko Vaadi ke Tang hisse ke paas rok lo Taki Jab Allah Ka Lashkar waha'n SE guzre to Wo isko Achchhi Tarah dekh Le'n _,"

★_ Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ne esa hi kiya ..is Tarah Tamaam Qaba'il Hazrat Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu ke Saamne SE guzre ,Jo Qabila bhi unke Saamne SE guzarta ,Teen martaba naara Takbeer buland karta ,is Azeem Lashkar ko dekh Kar Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu bol uthe :- Allah ki qasam ! Abul Fazal ! Aaj Tumhare Bhatije ki mumlikat Bahut Zabardast ho chuki hai_,"
Jawab Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ne farmaya :- "_ Ye Saltnat aur Hukumat nahi Balki Nabuwat aur Risaalat hai _,"

★_ Fir Jab Nabi Kareem ﷺ logo ke qareeb pahunche to Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu ne Buland Awaaz me Kaha :- Ey Giroh Quresh ! Ye Muhammad ﷺ Apna Azeem Lashkar le Kar Tumhare Saro per pahunch gaye Hai'n.. isliye Ab Jo mere Ghar me dakhil ho Jayega use Amaan hogi ..,"
Ye sun Kar Quresh Kehne lage :- Kya Tumhara Ghar me hum sabke liye kaafi ho Jayega ?
Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu ne Jawab diya :- Jo Shakhs Apne Ghar Ka Darwaza band Kar lega use bhi Amaan hai, Jo Masjide Haraam me dakhil ho Jayega use bhi Amaan hai aur Jo Hakeem bin Huzaam ke Ghar me panaah lega use bhi Amaan hai aur Jo Hathiyar daal dega use bhi Amaan hai _,"

★_ Ye Sunte hi log daud pade ..aur jise panaah ki Jo Jagah mil saki .. waha'n ja ghuse , is Tarah Makka Muazzama Jung ke bager Fateh hua ,Ye Tareekh insaniyat Ka munfard Waqia hai k Ek magloob Qaum bager Kasht v Khoon ke Apne jaani Dushmano per Gaalib aa gayi aur usne koi inteqam na liya ho ,
Is Aam Maafi ke elaan ke bavjood 11 Aadmi ese they Jinke bare me Huzoor Akram ﷺ ne Hukm farmaya tha k inhe qatl Kar diya Jaye , Yaha'n tak k agar inme SE koi Khana Kaaba Ka Parda bhi Pakad Kar khada ho Jaye ,use bhi qatl Kiya Jaye ,inme Abdullah bin Abi Sarah bhi they ,Ye Hazrat Usman Raziyllahu Anhu ke Raza'i Bhai they ,ye baad me Musalman ho gaye they, isliye qatl nahi kiye gaye they , Doosre Ikrama bin Abu Jahal they ,Ye bhi baad me Musalman ho gaye they, Garz un 11 me SE zyadatar Musalman ho gaye they isliye qatl hone se bach gaye ,

★_ Us Roz Kuchh Mushriko ne muqabla Karne ki bhi Thaani ,Unme Safwaan bin Umayya, Ikrama bin Abu Jahal aur Suhail bin Amru shamil they, Ye log Apne Saathiyo'n ke Saath Khamdama ke Muqaam per Jama ho gaye,Khamdama Makka Muazzama Ka Ek pahaad hai ,In logo ke muqable ke liye Nabi Kareem ﷺ ne Hazrat Khaalid bin Waleed Raziyllahu Anhu ko bheja ,us muqable me 28 ke qareeb Mushrik maare gaye, baqi bhaag nikle ,

*★_ यह बादशाहत नहीं नबुवत है _,*

★_ आखिर नबी रहमत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया -"_ अब्बास ! अबू सुफियान को अपने खेमे ले ले जाओ और सुबह उन्हें मेरे पास ले आना _",
सुबह को आज़ान हुई तो लोग तेजी से नमाज के लिए लपकने लगे, अबू सुफियान लश्कर में हलचल देखकर घबरा गए उन्होंने हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु से पूछा :- अबुल फ़ज़ल ! यह क्या हो रहा है ? हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने बताया :- लोग नमाज के लिए जा रहे हैं _,"
हजरत अबू सुफियान रज़ियल्लाहु अन्हु दर असल इस ख्याल से घबरा गए थे कि कहीं उनके बारे में कोई हुक्म ना दिया गया हो,  फिर उन्होंने देखा लोग रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के वज़ु का पानी जमा कर रहे हैं ,फिर उन्होंने देखा , अल्लाह के रसूल रुकू करते हैं तो सब लोग भी आपके साथ रुकू करते हैं और आप सजदा करते हैं तो लोग भी सजदा करते हैं ,

नमाज के बाद उन्होंने हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु से कहा :- "_ ऐ अब्बास ! मोहम्मद (सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम) जो भी हुक्म देते हैं लोग फौरन उसकी तामील करते हैं _,"
जवाब में हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु बोले :- हां ,अगर आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम लोगों को खाने पीने से रोक दें यह  उस पर भी अमल करेंगे _,"
इस पर अबू सुफियान बोले :- मैंने ज़िन्दगी में इन जैसा बादशाह नहीं देखा, ना किसरा ऐसा है ना कैसर.. और ना बनी अज़फर का बादशाह _," 
यह सुनकर हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने फरमाया - यह बादशाहत नहीं ,नबूवत है _,"

★_ फिर हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु उन्हें ले कर आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में आए, आप सल्लल्लाहु अलेही  वसल्लम ने अबू सुफियान को देखकर फरमाया :- अबू सुफियान ! अफसोस है ,क्या अभी वो वक्त नहीं आया कि तुम ला इलाहा इलल्लाह की गवाही दो_," 
अबू सुफियान फौरन बोले :- "_ मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं और आप अल्लाह के रसूल है _,"
उनके साथ बदील बिन वरका और हकीम बिन हुज़ाम भी ईमान ले आए , यह लोग वापस नहीं गए थे वहीं रुक कर हालात का इंतजार करने लगे थे ।

★_ इसके बाद अबु सुफियान रज़ियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! लोगों में अमान और जान बख्शी का ऐलान करा दीजिए _,"
आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फ़रमाया :-  हां , जिसने हाथ रोक लिया ( यानी हथियार ना उठाया) उसे अमान है और जिसने अपने घर का दरवाजा बंद कर लिया उसे अमान है और जो शख्स तुम्हारे घर में आ जाएगा उसे भी अमान है ... और जो शख्स हकीम बिन हुज़ाम के घर में दाखिल हो जाएगा उसे भी अमान है _,"
साथ ही आपने अबु रूदेहा रज़ियल्लाहु अन्हु को एक परचम देकर फरमाया :- जो शख्स अबु रूदेहा के परचम के नीचे आ जाएगा उसे भी अमान हैं _,"
फिर आपने अबू सुफियान ,हकीम  बिन हुज़ाम और बदील बिन वरक़ा के बारे में हिदायत फरमाई :-  इन तीनों को वादी के तंग हिस्से के पास रोक लो ताकि जब अल्लाह का लश्कर वहां से गुज़रे तो वो इसको अच्छी तरह देख सकें _,"

★_ हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने ऐसा ही किया इस तरह तमाम क़बाईल हजरत अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु के सामने से गुज़रे , जो क़बीला भी उनके सामने से गुजरता 3 मर्तबा नारा तकबीर बुलंद करता ,इस अज़ीम लश्कर को देखकर अबू सुफियान रज़ियल्लाहु अन्हु बोल उठे :- "_ अल्लाह की क़सम ! अबुल फ़ज़ल ! आज हमारे भतीजे की मुमलिकत बहुत जबरदस्त हो चुकी है _,"
जवाब में हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने फरमाया :- "_ यह सल्तनत और हुकूमत नहीं बल्कि नबूवत और रिसालत है_,"

★_ फिर जब नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम लोगों के क़रीब पहुंचे तो अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु ने बुलंद आवाज में कहा :- "_ ऐ गिरोह क़ुरेश ! यह मोहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अपना अज़ीमुश्शान लश्कर ले कर तुम्हारे सरो पर पहुंच गए हैं.. इसलिए जो मेरे घर में दाखिल हो जाएगा उसे अमान होगी_,"
यह सुनकर कुरेश कहने लगे :- "_क्या तुम्हारा घर हम सबके लिए काफी हो जाएगा ?_,"
अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु ने जवाब दिया :- "_जो शख्स अपने घर का दरवाजा बंद कर लेगा उसे भी अमान है जो मस्जिद ए हरम में दाखिल हो जाएगा उसे भी अमान है और जो हकीम बिन हुज़ाम के घर में पनाह लेगा उसे भी अमान है और जो हथियार डाल देगा उसे भी अमान है_,"

★_ यह सुनते ही लोग दौड़ पड़े और जिसे पनाह की जो जगह भी मिल सकी वहां जा घुसे , इस तरह मक्का मुअज़्ज़मा जंग के बगैर फतह हुआ , यह तारीख इंसानियत का मुंफर्द वाक़िया है एक मगलूब क़ौम बगैर कश्त व खून के अपने जानी दुश्मनों पर गालिब आ गई और उसने कोई इंतकाम ना लिया हो ,
इस आम माफी के ऐलान के बावजूद 11 आदमी ऐसे थे जिनके बारे में हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया था कि इन्हें क़त्ल कर दिया जाए यहां तक कि अगर इनमें से कोई खाना काबा का पर्दा भी पकड़कर खड़ा हो जाए उसे भी क़त्ल किया जाए, इनमें अब्दुल्लाह बिन अबी सराह भी थे,यह हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु के रजा़ई भाई थे यह बाद में मुसलमान हो गए थे इसलिए कत्ल नहीं किए गए ,दूसरे इकरमा बिन अबी जहल थे यह भी बाद में मुसलमान हो गए थे , गर्ज़ इन 11 में से ज्यादातर मुसलमान हो गए थे इसलिए क़त्ल होने से बच गए।

★_उस रोज कुछ मुशरिकों ने मुकाबला करने की भी ठानी, उनमें सफवान बिन उमैया, इकरमा बिन अबी जहल और सुहेल बिन अमरू शामिल थे , यह लोग अपने साथियों के साथ खंदमा के मुकाम पर जमा हुए खंदमा मक्का मुअज्ज़मा का एक पहाड़ है, इन लोगों के मुकाबले के लिए नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु को भेजा, इस मुकाबले में 28 के करीब मुशरिक मारे गए बाकी भाग निकले ।

*★_ Jab But moonh ke Bal girne lage _,*

★_ Aakhir Nabi Kareem ﷺ Makka Muazzama me dakhil hue ..Aap ﷺ us Waqt Apni ountni Qaswa per sawaar they, Aap ﷺ ke Pichhe Hazrat Usama bin Zaid Raziyllahu Anhu Bethe they ,Aap ﷺ ne Yamani Chaadar Ka Ek palla Sar per lapet rakha tha..aur Aajizi aur inksaari SE Sar ko Kajaawe per rakha hua tha..us Waqt Aap ﷺ farma rahe they :- "_ Ey Allah  Zindgi aur Aysh Sirf Aakhirat Ka Hai _,"

★_ Huzoor Akram ﷺ Kad'a ke Muqaam SE Makka me dakhil hue,Ye Muqaam Makka ki Baala'i Simt me hai ..Makka me dakhil hone se Pehle Aap ﷺ ne gusl bhi farmaya tha ,Aap ﷺ ne Shoeb Abi Taalib ke Muqaam per qayaam farmaya, Ye Wohi ghaanti thi ,Jisme Quresh ne Aap ﷺ ko teen Saal tak rehne per majboor Kar diya tha...aur Wo teen Saal Musalmano ke liye intehayi Dukh aur Dard ke Saal they , Jab Huzoor Akram ﷺ Shehar me dakhil hue aur Makka ke Makanaat per Nazar padi to Allah ki Hamd v Sana Bayan ki ,
Makka me Huzoor Akram ﷺ Peer ke din dakhil hue ..Jab Aap ﷺ ne Makka se Hijrat ki thi, Wo bhi Peer Ka din tha ,

★_ Aakhir Huzoor Akram ﷺ Haram me dakhil hue ...Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu Aap ﷺ ke barabar chal rahe they..aur Aap ﷺ unse baate Kar rahe they.Fir Aap ﷺ Baitullah me dakhil hue aur Apni ountni per Bethe Bethe hi Kaaba Ke 7 Tawaaf kiye ,Hazrat Muhammad bin Maslama Raziyllahu Anhu Aap ﷺ ki ountni ki muhaar pakde hue they, Un chakkaro ke Dauraan Aap ﷺ ne Haath mubarak se Hajre Aswad Ka istelam Kiya Yani Bosa dene Ka ishara Kiya ,

★_ Us Waqt Kaaba me 360 But they , Arab ke har Qabile Ka but alag alag tha , Huzoor Akram ﷺ ke Haath me us Waqt ek Lakdi thi ,Jisse har But ko hilaate chale gaye..But moonh ke Bal girte chale gaye..us Waqt Aap ﷺ Surah Bani israiyl ki Aayat number 81 tilawat farma rahe they...Uska Tarjuma ye Hai :- 
*"_ Haq Aaya aur Baatil guzar gaya aur waqa'i Baatil cheez to Yu'nhi aani Jani hai _,"

★_ Tawaaf ke Dauraan Huzoor Akram ﷺ Hubl but ke paas pahunche, Quresh ko is But per bahut Fakhr tha ,Wo uski ibaadat per bahut Fakhr Karte they,Ye Quresh ke sabse bade Buto me SE ek tha , Aap ﷺ ne Wo Lakdi us But ki Aankho'n per maari ..fir Aap ﷺ ke Hukm se But ko tukde tukde Kar diya gaya ,
Us Waqt Hazrat Zuber bin Awaam Raziyllahu Anhu ne Hazrat Sufiyaan Raziyllahu Anhu se Kaha :- "_ Ey Abu Sufiyaan ! Hubl Tod diya gaya...tum us per Fakhr Kiya Karte they_,"
Ye sun Kar Hazrat Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu bole :- "_ Ey ibne Awaam ! Ab un Baato Ka Kya faayda _," 
Fir Huzoor ﷺ muqame Ibrahim per pahunche, Us Waqt ye Muqaam khana Kaaba SE Mila hua tha ...Uske baad Huzoor Akram ﷺ ne Hazrat Ali Raziyllahu Anhu se farmaya:- Mere Kaandho per khade ho Kar Kaaba ki Chhat per Chadh Ja'o aur Chhat per Bani Khaza Ka Jo But hai ..us per chot maaro _,"
Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ne Hukm ki tameel ki aur Chhat per Chadh Kar But ko Zarb lagayi ..ye Apni salakho se nasb Kiya gaya tha..Aakhir ukhad gaya, Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ne usko utha Kar niche Fai'nk diya ,

★_ Ab Huzoor Akram ﷺ ne Hukm farmaya :- "_ Bilaal ! Usman bin Talha SE Kaaba ki chabiya'n le aao _,"

*★_ जब बुत मुंह के बल गिरने लगे _,*

★_आखिर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम मक्का मुआवजा में दाखिल हुए , आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम उस वक्त अपनी ऊंटनी कसवा पर सवार थे आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पीछे हजरत उसामा बिन ज़ैद रज़ियल्लाहु अन्हु बैठे थे, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने यमनी चादर का एक पल्ला सर पर लपेट रखा था और आजिज़ी और इंकसारी से सर को कजावे पर रखा हुआ था , उस वक्त आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम फरमा रहे थे :- ऐ अल्लाह ! जिंदगी और ऐश सिर्फ आखिरतत का है _,"

★_ हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम कदा के मुकाम से मक्का में दाखिल हुए यह मुकाम मक्का की बालाई सिम्त में है.. मक्का में दाखिल होने से पहले आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने गुस्ल भी फरमाया था, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने शोएब अबी तालिब के मुकाम पर क़याम फरमाया यह वही घाटी थी जिसमें कुरेश ने आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को 3 साल तक रहने पर मजबूर कर दिया था और वह तीन साल मुसलमानों के लिए इंतेहाई दुख और दर्द के साल थे ,जब हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम शहर में दाखिल हुए और मक्का के मकानात पर नज़र पड़ी तो अल्लाह की हम्दो सना बयान की, मक्का में हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम पीर के दिन दाखिल हुए जब आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मक्का से हिजरत की थी वह भी पीर ही का दिन था।

★_ आखिर हुजूर सल्लल्लाहू वसल्लम हरम में दाखिल हुए अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के बराबर चल रहे थे और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से बातें कर रहे थे फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम बैतुल्लाह में दाखिल हुए.. ऊंटनी पर बैठे-बैठे ही काबे के सात तवाफ किए, मोहम्मद बिन मुस्लिमा रज़ियल्लाहु अन्हु आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की ऊंटनी की मुहार पकड़े हुए थे, इन चक्करों के दौरान आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हाथ मुबारक से हजरे अस्वद का इस्तेलाम किया यानी बौसा देने का इशारा किया ।

★_ उस वक्त काबा में 360 बुत थे अरब के हर कबीले का बुत अलग अलग था ,हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के हाथ में उस वक्त एक लकड़ी थी जिससे हर बुत को हिलाते चले गए बुत मुंह के बल गिरते चले गए उस वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम सूरह बनी इसराइल की आयत नंबर 81 तिलावत फरमा रहे थे उसका तर्जुमा यह है :- 
"_हक़ आया और बातिल गुज़र गया और वाकई बातिल चीज़ तो आनी जानी है _,"

★_  के दौरान हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम हुब्ल बुत के पास पहुंचे , क़ुरेश को इस बुत पर बहुत फख्र था वह उसकी इबादत बहुत फख्र से किया करते थे यह क़ुरेश के सबसे बड़े बुतों में से एक था, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वह लकड़ी उसकी आंखों पर मारी फिर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के हुक्म से बुत को टुकड़े-टुकड़े कर दिया गया । उस वक्त हजरत जुबेर बिन अवाम रजियल्लाहु अन्हु ने हजरत अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु से कहा - ऐ अबु सुफियान ! हुब्ल तोड़ दिया गया तुम उस पर फख्र किया करते थे _,"
वह सुनकर हजरत अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु बोले :- अब उन बातों का क्या फायदा _,"
फिर हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम मुका़मे इब्राहीम पर पहुंचे उस वक्त वह मुका़म खाना काबा से मिला हुआ था उसके बाद हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु से फरमाया :-  मेरे कंधों पर खड़े होकर काबा की छत पर चढ़ जाओ छत पर बनी खज़ा का जो बुत है इसको चौट मारो_,"
हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु ने हुक्म की तामील की और छत पर चढ़कर बुत को ज़र्ब लगाई..यह अपनी सलाखों से नसब किया गया था आखिर उखड़ गया.. हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु ने उसको उठाकर नीचे फेंक दिया ।

★_ अब हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- बिलाल ! उस्मान बिन तलहा से काबे की चाबियां ले आओ _,"

*★_ Ibrahim  Alaihissalam Ki Tasveer Ko bhi Mita Diya gaya _,*

★_ Chaabiya'n aa gayi to Darwaza khola gaya aur Aan Hazrat ﷺ Kaabe me dakhil hue,Aap ﷺ ne isse Pehle Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ko hukm diya k Kaabe me pahunch Kar waha'n Bani hui Tasaveer mita de'n , Chunache Aap ﷺ ke andar dakhil hone se Pehle hi Tasaveer mitayi ja chuki thi Lekin Tasaveer me Ek Tasveer Hazrat Ibrahim Alaihissalam ki bhi thi ,
Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne usko nahi mitaya tha ,Us per Nazar padi to Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Umar Raziyllahu Anhu se farmaya :- Umar ! Kya Maine tumhe hukm nahi diya tha k Kaabe me koi Tasaveer baqi na Chhodna _,"

★_ Is moqe per Aap ﷺ ne ye bhi irshad farmaya :- "_ Allah Ta'ala un logo ko Halaak kare jo esi cheezo ki Tasaveer banate Hai'n Jinhe Wo paida Nahi Kar sakte ...Allah Ta'ala Unhe Halaak kare , Wo Achchhi Tarah jaante Hai'n k Ibrahim Alaihissalam na Yahoodi they ,na Nasraani Balki Wo Pakke Sachche Musalman they _,"
Iske baad us Tasveer Ko bhi Mita Diya gaya, Fir Huzoor Akram ﷺ ne waha'n do sutoono ke darmiyaan me do raka'at Namaz Ada farmayi ,

★_ Jab Aap aur Aapke Chand Saathi Kaabe ke andar dakhil hue they, Us Waqt Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu pehra dene ke liye Darwaze per khade ho gaye, Wo mazeed logo ko andar dakhil hone se rokte rahe ,
Fir Aan Hazrat ﷺ bahar Tashreef laye aur Muqame Ibrahim per pahunche, Muqame Ibrahim us Waqt Khana Kaaba se mila hua tha, Aap ﷺ ne waha'n do raka'at Ada ki ,Uske baad Aabe Zamazam manga Kar piya aur Wazu farmaya,
Sahaba kiraam us Waqt lapak lapak Kar Huzoor Akram ﷺ ke wazu Ka Pani le Kar Apne chehro per malne lage ,Matlab ye k Wo Aapke Wazu ke Pani ko niche nahi girne de rahe they, Mushrikeen Makka ne jab ye Haalat dekhi to pukaar uthe :- Humne Aaj tak esa manzar dekha na Suna ...na ye Suna k  koi Badshaah is darje ko pahuncha ho _,"

★_ Allah Ke Rasool ﷺ jab Haram me aa Kar beth gaye to log Aap ﷺ ke ird gird Jama ho gaye, Ese me Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu uth Kar gaye aur Apne Waalid Abu Qahafa Ka Haath Pakad Kar Unhe le Aaye, Abu Qahafa ki Binaayi Jati rahi thi, Idhar Jo'nhi Aap ﷺ ki nigaah Hazrat Abu Qahafa per padi to farmaya :- Ey Abu Bakar ! Tumne Waalide Mohatram ko Ghar per hi kyu na rehne diya , Mai'n Khud unke Paas Chala jata _,"
Is per Abu Bakar ne arz Kiya:- Allah Ke Rasool ! Ye'n is Baat ke zyada Haqdaar Hai'n k Khud chal Kar Aapke pass aaye'n _,"

★_ Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ne Abu Qahafa ko Aan Hazrat ﷺ ke Saamne bitha diya, Aan Hazrat ﷺ ne Apna daste mubarak unke Seene per faira aur farmaya :- Musalman ho Kar izzat aur Salaamti Ka Raasta Akhtyar Karo _,"
Wo usi Waqt Musalman ho gaye, Aan Hazrat ﷺ ne farmaya:- Abu Bakar ! Tumhe Mubarak ho _,"
Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu bole :- Qasam hai us zaat ki Jisne Aapko Haq aur Sadaqat ke Saath Zaahir farmaya,Mere Waalid Abu Qahafa ke islam ke muqable me Aapke Chacha Abu Taalib imaan le aate to ye mere liye zyada Khushi ki Baat Hoti _,"

*★_ इब्राहीम अलैहिस्सलाम की तस्वीर को भी मिटा दिया गया _,*

★_ चाबियां आ गई तो दरवाजा खोला गया और आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम काबा में दाखिल हुए, आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इससे पहले हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु को हुक्म दिया था कि काबे में पहुंचकर वहां बनी हुई तस्वीरें मिटा दें ,आप सल्ला वसल्लम के अंदर दाखिल होने से पहले ही तस्वीरें मिटाई जा चुकी थी लेकिन तस्वीरों में एक तस्वीर हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम की भी थी ,हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने उसको नहीं मिटाया था ,उस पर नज़र पड़ी तो आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु से फरमाया-  "_उमर क्या मैंने तुम्हें हुक्म नहीं दिया था कि काबे में कोई तस्वीर बाकी ना छोड़ना _,"

★_ इस मौके पर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- "_अल्लाह ताला उन लोगों को हलाक करें  जो ऐसी चीजों की तस्वीर बनाते हैं जिन्हें वह पैदा नहीं कर सकते... अल्लाह ताला उन्हें हलाक करे ,वह अच्छी तरह जानते हैं कि इब्राहिम अलैहिस्सलाम ना यहूदी थे ना नसरानी बल्कि वह पक्के सच्चे मुसलमान थे _,"
इसके बाद उस तस्वीर को भी मिटा दिया गया, फिर हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने वहां दो सुतूनों के दरमियान में 2 रका'त नमाज अदा फरमाई ।

★_ जब आप और आपके चंद साथी काबा के अंदर दाखिल हुए थे उस वक्त हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु पहरा देने के लिए दरवाजे पर खड़े हो गए वह मजीद लोगों को अंदर दाखिल होने से रोकते रहे ।
फिर आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम बाहर तशरीफ लाए और मुक़ामे इब्राहिम पर पहुंचे, मक़ामें इब्राहिम उस वक्त खाना काबा से मिला हुआ था, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वहां दो रकाते अदा की, उसके बाद आबे जमजम मंगा कर पिया और वज़ु फरमाया, सहाबा किराम उस वक्त लपक लपक कर हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के वजू का पानी लेकर अपने चेहरों पर मलने लगे ,मतलब यह कि वो आपके वज़ु के पानी को नीचे नहीं गिरने दे रहे थे। मुशरिकीने मक्का ने जब यह हालत देखी तो पुकार रूठे :- हमने आज तक ऐसा मंजर देखा ना सुना.. ना यह सुना है कि कोई बादशाह इस दर्जे को पहुंचा हो_,"

★_ अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलेह वसल्लम जब हरम में आकर बैठ गए तो लोग आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के इर्द-गिर्द जमा हो गए ,ऐसे में हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु उठ कर गए और अपने वालिद अबू क़हाफा का हाथ पकड़कर उन्हें ले आए अबु क़हाफा की बीनाई जाती रही थी, इधर जोंही आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की निगाह हजरत अबू क़हाफा पर पड़ी तो फरमाया ‌:- "_अबू बकर ! तुमने वालिद मोहतरम को घर पर ही क्यों ना रहने दिया ,मैं खुद उनके पास चला जाता _,"
इस पर अबू बकर ने अर्ज किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! यह इस बात के ज्यादा हकदार हैं कि खुद चलकर आपके पास आएं _,"

★_ फिर हजरत अबू बकर रज़ियल्लाहु अन्हु ने अबु क़हाफा को आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के सामने बैठा दिया , आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपना दस्ते मुबारक उनके सीने पर फैरा और फरमाया :- "_ मुसलमान हो कर इज़्ज़त और सलामती का रास्ता अख्तियार करो_,"
वह उसी वक्त मुसलमान हो गए , आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया :- "_अबू बकर तुम्हें मुबारक हो _,"
हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु बोले:- "_ क़सम है उस जात की जिसने आपको हक़ और सदाक़त के साथ ज़ाहिर फरमाया मेरे वालिद अबु क़हाफा के इस्लाम के मुकाबले में आपके चाचा अबू तालिब ईमान ले आते तो यह मेरे लिए ज्यादा खुशी की बात होती _,"

*★_ Hazrat Ibrahim Alaihissalam Ke Baalo Ki Safedi _,*

★_ Us Waqt Hazrat Abu Qahafa Raziyllahu Anhu ke Baal budhape ki vajah se bilkul Safed ho chuke they, Huzoor Akram ﷺ ne unse farmaya:- in Baalo ko mehandi se tang lo ..Lekin Syaah khizaab na lagao _,"

★_ Mo'rkheen ne Likha hai k Sabse Pehle Hazrat Ibrahim Alaihissalam ko Apne Baalo ki Safedi Ka Ahsaas hua tha,Jab zyada Umar hone per Baal Safed hone lage to unhone Allah Ta'ala SE arz Kiya k Ey Baari Ta'ala ye kesi Badsoorti hai Jisse Mera roop badnuma ho gaya hai , is per Allah Ta'ala ne irshad farmaya :- 
"_ Ye Chehre Ka waqaar hai ,islam Ka Noor hai ,Meri izzat ki qasam ! Mere Jalaal Ki qasam ! Jisne ye Gawaahi di k mere Siva koi Ma'abood nahi aur ye k Meri Khudayi me koi Shareek nahi aur Uske Baal budhape ki vajah se Safed ho gaye to Qayamat ke Din mujhe is baat se Haya aayegi k Uske liye Mizaane Adl qaa'im Karu'n ya Uska Naama A'amaal Saamne Lau'n ya Use Azaab du'n _,"
Is per Hazrat Ibrahim Alaihissalam ne Dua ki :- Ey Parwardigaar fir to is Safedi ko mere liye aur zyada Kar de _,"
Chunache Uske baad unka Sar barf ki Tarah Safed ho gaya, isse Maloom hua k Budhape ki Safedi aur Khud Budhapa Allah Ta'ala ki Bahut badi ni'amat hai aur Momin ke liye Umar ki ye manzil bhi Shukr Ka Muqaam hai ,

★_ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ke gharane ko ye Fazilat bhi haasil hai k unka Saara Ka Saara gharana hi Musalman hua ,Koi Ek fard bhi na raha Jo Musalman na hua ho ,

*★_ हजरत इब्राहीम अलैहिस्सलाम के बालों की सफेदी _,"*

★_ उस वक्त हजरत अबू क़हाफा रज़ियल्लाहु अन्हु के बाल बुढ़ापे की वजह से बिल्कुल सफेद हो चुके थे हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उनसे फरमाया:- "_ इन बालों को मेहंदी से रंग लो ...लेकिन सियाह खिज़ाब ना लगाओ_,"

★_ मो'अरखीन ने लिखा है कि सबसे पहले हजरत इब्राहीम अलैहिस्सलाम को अपने बालों की सफेदी का एहसास हुआ था जब ज्यादा उम्र होने पर बाल सफेद होने लगे तो उन्होंने अल्लाह ताला से अर्ज़ किया कि ऐ बारी ता'ला ! यह कैसी बदसूरती है जिससे मेरा रूप बदनुमा हो गया है। इस पर अल्लाह ता'ला ने इरशाद फरमाया :- "_ यह चेहरे का वकार है इस्लाम का नूर है मेरी इज्ज़त की क़सम मेरे जलाल की क़सम ! जिसने यह गवाही दी कि मेरे सिवा कोई माबूद नहीं और यह कि मेरी खुदाई में कोई शरीक नहीं और उसके बाल बुढ़ापे की वजह से सफेद हो गए तो क़यामत के दिन मुझे इस बात से हया आएगी कि उसके लिए मीज़ाने अद्ल क़ायम करूं या उसका नामा आमाल सामने लाऊं या उसे अज़ाब दूं _,"
इस पर हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम ने दुआ की :- "_ ऐ परवरदिगार ! फिर तो इस सफेदी को मेरे लिए और ज़्यादा कर दें _," 
चुनांचे इसके बाद उनका सर बर्फ की तरह सफेद हो गया। इससे मालूम हुआ कि बुढ़ापे की सफेदी और खुद बुढ़ापा अल्लाह ताला की बहुत बड़ी नियामत है और मोमिन के लिए उम्र की यह मंजिल भी शुक्र का मुका़म है।

★_ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के घराने को यह फजी़लत भी हासिल है कि उनका सारा का सारा घराना ही मुसलमान हुआ कोई एक फर्द भी ना रहा जो मुसलमान ना हुआ हो ।
 ╨─────────────────────❥
*★_ Hazrat Ikrama bin Abu Jahal Ka Islam Lana _,*

★_ Ikrama bin Abu Jahal un 11 Afraad me se ek they Jinke qatl ka Hukm Aan Hazrat ﷺ ne diya tha, ..is Hukm ki vajah ye thi k Unhone aur Unke Baap Abu Jahal ne Musalmano ke Saath bahut zyaadti ki thi , ...Ye Hukm Sunte hi ikrama Yaman ki taraf bhaag nikle , Us Waqt tak unki Bivi Hazrat Umme Hakeem bint Haaris Musalman ho chuki thi, Unhone Huzoor Akram ﷺ se Hazrat Ikrama ke liye Amaan talab kar li aur Unke Ta'aqub me gayi , Hazrat Ikrama Bahri Jahaaz me sawaar ho chuke they Taki Kisi doosre milk chale Jaye'n, Ye Bahri Jahaaz se Unhe waapas le aayi aur unse Kaha :- Mai'n Tumhari taraf se us Shakhsiyat ke paas se aayi Hu'n Jo Sabse zyada rishtedariyo'n Ka khayal Karne wale aur Sabse Behatreen insaan Hai'n , Tum Apni jaan Halaakat me mat daalo Kyunki Mai'n Tumhare liye Amaan haasil kar chuki Hu'n _,"

★_ Is Tarah Hazrat Ikrama Raziyllahu Anhu Apni Bivi ke Saath Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Haazir hue aur islam le Aaye, Hazrat Ikrama Raziyllahu Anhu Bahut Behatreen Musalman Saabit hue ,Wo Bahut Zabardast Jung Ju bhi they ,khoob Jihaad Kiya ,bade Sahaba me Aapka shumar hua ,Junge Yarmook me Romiyo'n ke khilaf ladte hue Shaheed hue,

★_ Isi Tarah baqi logo ko bhi Amaan mil gayi ,Unme Hinda bint Haaris bhi thi, Aan Hazrat ﷺ ne unke qatl Ka bhi Hukm diya tha ,Ye Hazrat Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu ki Bivi thi...Unke qatl ka Hukm Aapne is Bina per diya tha k Gazwa Uhad me Unhone Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ka musla Kiya tha, Yani unke naak kaan vagera kaate they ...Lekin Unhe bhi maafi mil gayi aur ye bhi Musalman ho gayi ,

★_ Safwaan bin Umayya ke bhi qatl ka Hukm hua tha, Unhe bhi maafi mil gayi aur ye bhi Musalman ho gaye, Kaab bin Zuber ko bhi maafi mil gayi, Ye Apne Ash'aar me Aap ﷺ ko Bura bhala Kehte they ,Ye bhi Musalman ho gaye,

★_ Isi Tarah Wehshi ne Gazwa Uhad me Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ko Shaheed Kiya tha..
Aan Hazrat ﷺ ne unke bhi qatl ka Hukm farmaya tha Lekin ye bhi Musalman ho gaye,

*★_ हजरत इकरमा बिन अबी जहल का इस्लाम लाना _,*

★_ इकरमा बिन अबी जहल उन 11 अफराद में से एक थे जिनके क़त्ल का हुक्म आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने दिया था , इस हुक्म की वजह यह थी कि उन्होंने और उनके बाप अबू जहल ने मुसलमानों के साथ बहुत ज्यादतियां की थी यह हुक्म सुनते ही इकरमा यमन की तरफ भाग निकले , उस वक्त तक उनकी बीवी उम्मे हकीम बिन्ते हारिस मुसलमान हो चुकी थी उन्होंने हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम से हजरत इकरमा के लिए अमान तलब कर ली और उनके ताकुब में गई, हजरत इकरमा बाहरी जहाज में सवार हो चुके थे ताकि किसी दूसरे मुल्क में चले जाएं ,यह बाहरी जहां से उन्हें वापस ले आईं और उनसे कहा :- मैं तुम्हारी तरफ से उस शख्सियत के पास से आई हूं जो सबसे ज्यादा रिश्तेदारियों का ख्याल करने वाले और सबसे बेहतरीन इंसान है तुम  अपनी जान हलाकत में मत डालो क्योंकि मैं तुम्हारे लिए मान हासिल कर चुकी हूं_,"

★_ इस तरह हजरत इकरमा रजियल्लाहु अन्हु अपनी बीवी के साथ आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए और इस्लाम ले आए । हजरत इकरमा रजियल्लाहु अन्हु बहुत बेहतरीन मुसलमान साबित हुए, वह बहुत ज़बरदस्त जंगजू भी थे खूब जिहाद किया बड़े सहाबा में आपका शुमार हुआ जंगे यरमूक में रोमियो के खिलाफ लड़ते हुए शहीद हुए।

★_ इसी तरह बाकी लोगों को भी अमान मिल गई इनमें हिंदा बीन्ते हारिस भी थी आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनके क़त्ल का भी हुकुम दिया था यह हजरत अबु सुफियान रजियल्लाहु अन्हु की बीवी थी उनके क़त्ल का हुक्म आपने इस बिना पर दिया था कि गज़वा उहद में उन्होंने हजरत हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु का मुसला किया था यानी उनके नाक कान वगैरह काटे थे लेकिन इन्हें भी माफी मिल गई और यह भी मुसलमान हो गई।

★_ सफवान बिन उमैया के भी कत्ल का हुक्म हुआ था इन्हें भी माफी मिल गई और यह भी मुसलमान हो गए, काब बिन जुबेर को की माफी मिल गई यह अपने अशआर में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को बुरा भला कहते थे यह भी मुसलमान हो गए।

★_ इसी तरह वहशी ने गज़वा उहद में हजरत हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु को शहीद किया था, आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही  वसल्लम ने उनके भी क़त्ल का हुक्म फरमाया था लेकिन यह भी मुसलमान हो गए ।

*★_ Hazrat Ameer Mu'awiya Raziyllahu Anhu Ka Quboole islam_,*

★_ Fir us Roz Yani Fateh Makka ke Din Huzoor Aqdasﷺ Safa Pahaadi per ja bethe aur log giroh dar giroh Aapki khidmat me Haazir ho Kar islam qubool Karte rahe ,Tamaam Chhote bade Mard Haazir hue, Aurte'n bhi aayi ,sab Apne islam Ka elaan Karte rahe ,

★_ Ek aur Sahabi Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Haazir hue to Aap ﷺ ke Roab SE Kaa'npne lage aur dehshat zada ho gaye, Huzoor Aqdasﷺ ne Unki Haalat dekh kar farmaya :- Daro nahi ! Mai'n koi Badshaah nahi Hu'n ..Balki Mai'n to Quresh ki ek esi Aurat Ka beta Hu'n Jo mamooli Khana khaya Karti thi_,"

★_ Us Waqt Jin logo ne islam qubool Kiya,unme Hazrat Ameer Mu'awiya bin Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu bhi they, Hazrat Ameer Mu'awiya Raziyllahu Anhu Kehte Hai'n k Suleh Hudebiya ke moqe per hi islam ki Muhabbat mere Dil me Ghar Kar chuki thi,Maine is Baat Ka Zikr Apni Walida se Kiya to unhone Kaha :- Khabardaar ! Apne Waalid ki khilaf varzi na Karna _,"
Iske bavjood Maine islam qubool Kar liya Magar usko Chhupaye raha ,Fir Kisi Tarah mere Waalid Abu Sufiyaan ko pata Chal gaya... Unhone naraazgi ke Andaz me mujhse Kaha :- Tumhara Bhai Tumse Kahi zyada Behtar Hai ... Kyunki Wo mere Deen per qaaim hai _,"

★_ Fir Fateh Makka ke moqe per Maine Apne Deen ko Zaahir Kar diya aur Aan Hazrat ﷺ se mulaqaat ki , Aap ﷺ ne mujhe Khush Aamdeed Kaha ,Fir Mai'n Kaatibe Wahi ban gaya Yani Qur'an ki Naazil hone wali Aayaat Huzoor Aqdasﷺ mujhse likhwaya Karte they, 
Usi Roz Hazrat Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu ki Bivi Yani Hazrat Ameer Mu'awiya Raziyllahu Anhu ki Walida Hinda Raziyllahu Anha bhi Musalman hui ,Unke alawa beshumaar Aurte'n us Roz islam layi aur Aap ﷺ se Bayt hui ...Lekin Aap ﷺ ne Aurto'n se musafa nahi farmaya,

★_ Hazrat Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha Farmati Hai'n k Aan Hazrat ﷺ ne Kabhi bhi Kisi Aurat SE musafa nahi farmaya,Matlab ye k Aurto'n se Aap ﷺ Zubaani Bayt liya Karte they,

★_ Fateh Makka ke moqe per Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- "_ Mere Parwardigaar ne mujhse isi Fateh aur Nusrat Ka vaada farmaya tha _,"

*★_ हजरत अमीर मुआविया रज़ियल्लाहु अन्हु का क़ुबूले इस्लाम_,*

★_ उस रोज़ यानी फतह मक्का के दिन हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम सफा पहाड़ी पर जा बैठे और लोग गिरोह दर गिरोहो आप की खिदमत में हाजिर होकर इस्लाम कुबूल करते रहे ,तमाम छोटे-बड़े मर्द हाजिर हुए, औरतें भी आईं, सब अपने इस्लाम का एलान करते रहे ।

★_एक और सहाबी आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के रौब से कांपने लगे और दहशत ज़दा हो गए , हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उनकी हालत देखकर फरमाया :- "_ डरो नहीं मैं कोई बादशाह नहीं हूं बल्कि मैं तो क़ुरेश की एक ऐसी औरत का बेटा हूं जो मामूली खाना खाया करती थी _,"

★_उस वक्त जिन लोगों ने इस्लाम कुबूल किया उनमें हजरत अमीरे मुआविया बिन अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु भी है, हजरत अमीरे मुआविया रजियल्लाहु अन्हु कहते हैं कि सुलह हुदेबिया के मौके पर ही इस्लाम की मोहब्बत मेरे दिल में घर कर चुकी थी मैंने इस बात का जिक्र अपनी वाल्दा से किया तो उन्होंने कहा :- "_खबरदार अपने वालिद की खिलाफ वर्जी़ ना करना _," इसके बावजूद मैंने इस्लाम कुबूल कर लिया मगर उसको छुपाए रखा, फिर किसी तरह मेरे वालिद अबू सुफियान को पता चल गया उन्होंने नाराज़गी के अंदाज ने मुझसे कहा :-"_तुम्हारा भाई तुम से कहीं ज्यादा बेहतर है.. क्योंकि वह मेरे दीन पर क़ायम है _,"

★_ फिर फतेह मक्का के मौके पर मैंने अपने दीन को ज़ाहिर कर दिया और आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से मुलाक़ात की ,आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने मुझे खुशामदीद कहां, फिर मैं कातिबे वही बन गया यानी कुरान की नाजि़ल होने वाली आयात हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मुझसे लिखवाया करते थे _,"
उसी रोज हजरत अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु की बीवी यानी हजरत अमीरे मुआविया रजियल्लाहु अन्हु की वालिदा हिंदा रज़ियल्लाहु अन्हा भी मुसलमान हुई, इनके अलावा बेशुमार औरतें उस रोज़ इस्लाम लाईं और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से  बैत हुई ...लेकिन आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम में औरतों से मुसाफा नहीं फरमाया ।

★_ हजरत आयशा सिद्दीका रजियल्लाहु अन्हि फरमाती हैं "_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने कभी भी किसी औरत से मुसाफा नहीं फरमाया _," मतलब यह है कि औरतों से आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम जुबानी बैत लिया करते थे ।

★_फतह मक्का के मौके पर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया:- "_ मेरे परवरदिगार ने मुझसे इसी फतेह और नुसरत का वादा फरमाया था_,"
 ╨─────────────────────❥
*★_ Khana Kaaba ki Chabiya'n_,*

★_ Khana Kaaba ki chaabi Usman bin Talha ke paas thi ,Unse mangwa Kar Khana kaaba ko khola gaya tha,Fir Darwaze per Taala laga diya gaya aur Aap ﷺ ne chaabi fir Usman bin Talha Ko de di ..Us Waqt tak Wo islam nahi laye they Magar Huzoor Aqdasﷺ Ka ye Sulook dekh Kar Wo bhi Musalman ho gaye,

★_ Aan Hazrat ﷺ ne farmaya :- Ey Bani Talha ! Ye chaabi Hamesha ke liye Tumhare khandaan ko di gayi aur nasl dar nasl ye Tumhare hi khandaan me rahegi _,"
Is moqe per ye Baat Yaad rakhne Ke qaabil hai k Hijrat se Pehle ek Roz Allah Ke Rasool ﷺ Apne Chand Sahaba Ke Saath Khana Kaaba me dakhil hona chahte they , Lekin Usman bin Talha Bahut bigde they aur chaabi dene se saaf inkaar Kar diya tha, Huzoor Aqdasﷺ ko Bura bhala bhi Kaha tha ,Us Waqt Aan Hazrat ﷺ ne farmaya tha:- Usman ! Anqareeb ek din dekhoge k ye Kunji mere Haath me hogi aur Mai'n jise chahunga use dunga _,"

★_ is per Usman bin Talha ne Kaha tha :- "_ Us Din Quresh Halaak aur barbaad ho chuke honge ?"
Huzoor ﷺ ne Jawab me irshad farmaya tha :- "_ Nahi, Balki us Din Abaad aur Sar Buland ho Jayenge _,"
Hazrat Usman bin Talha Ko ye Tamaam Baate Yaad aa gayi Jab Aap ﷺ ne Wo chaabi unke hawale ki ...Aap ﷺ ne irshad farmaya :- "_ Usman ! Maine Tumse Kaha tha na k Ek din tum dekhoge,Ye Chaabi mere Haath me hogi aur Mai'n Jise chahunga ye Chaabi use dunga _,"
Ye sun Kar Hazrat Usman bin Talha Raziyllahu Anhu ne Kaha :- "_ Mai'n Gawaahi deta Hu'n k Aap Allah ke Rasool Hai'n _,"

*★_ खाना काबा की चाबियां _,*
★_ खाना काबा की चाबी उस्मान बिन तलहा के पास थी उनसे मंगवा कर खाना काबा को खोला गया था फिर दरवाजे पर ताला लगा दिया गया और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने चाबी फिर उस्मान बिन तलहा को दे दी, उस वक्त तक वो इस्लाम नहीं लाए थे मगर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का यह सुलूक देख कर वह भी मुसलमान हो गए।

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया :- "_ए बनी तलहा ! यह चाबी हमेशा के लिए तुम्हारे खानदान को दी गई और नस्ल दर नस्ल यह तुम्हारे ही खानदान में रहेगी_,"
इस मौके पर यह बात याद रखने के काबिल है की हिजरत से पहले एक रोज़ अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अपने चंद सहाबा के साथ खाना काबा में दाखिल होना चाहते थे लेकिन उस्मान बिन तलहा बहुत बिगड़ गए थे और चाबी देने से साफ इनकार कर दिया था , हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को बुरा भला भी कहा था। उस वक्त आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया था :- "_उस्मान ! अनक़रीब एक दिन देखोगे यह कुंजी मेरे हाथ में होगी और मैं जिसे चाहूंगा उसे दूंगा _,"

★_ इस पर उस्मान बिन तलहा ने कहा था:-  उस दिन कुरेश हलाक और बर्बाद हो चुके होंगे ?"
हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम जवाब में इरशाद फरमाया था :- "_ नहीं ,बल्कि उस दिन आबाद और सर बुलंद हो जाएंगे _,"
हजरत उस्मान बिन तलहा को ये तमाम बातें याद आ गई जब आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वह चाबी उनके हवाले की । आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- उस्मान! मैंने तुमसे कहा था ना एक दिन तुम देखोगे यह चाबी मेरे हाथ में होगी और मैं जिसे चाहूंगा यह चाबी दूंगा _" 
यह सुनकर हजरत उस्मान बिन तलहा रज़ियल्लाहु अन्हु ने कहा :- "_मैं गवाही देता हूं कि आप अल्लाह के रसूल है _,"

*★_ Agar Fatima bint Muhammad bhi Chori Karti to Mai'n unka bhi Haath kaat deta_,*

★_ Fir us Roz Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ko hukm diya k Kaabe ki Chhat per Chadh Kar Azaan de'n, Chunache Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ne Azaan di ,iske baad Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- Jo Shakhs Allah per aur Qayamat ke Din per imaan rakhta hai,Wo Apne Ghar me koi But na chhode ,Usko Tod de'n _,"

★_ Log Buto ko todne lage ,Hazrat Abu Sufiyaan Raziyllahu ki Bivi Hinda Raziyllahu Anha jab Musalman ho gayi to Apne Ghar me rakhe But ki taraf badi aur Lagi usko thokre maarne ,Saath me Kehti Jati thi :- Hum log Teri vajah se bahut dhokhe aur Guroor me they _,"

★_ Fir Rasulullah ﷺ ne Gardonawah me bhi Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko bheja ..Taki un ilaaqo me rakhe Buto ko bhi Tod diya Jaye , Baaz ilaaqo me logo ne ba qaaida ibaadat gaah bana rakhi thi,unme But rakhe gaye they.. Mushrikeen un buto ko aur ibaadat khano Ka utna hi Ahatraam Karte they jitna k Kaaba Ka ,Do Din me Jaanwar bhi qurban Karte they,Jis Tarah k Kaaba me kiye jate they,Had ye k un ibaadat khano Ka tawaaf bhi Kiya jata tha,Garz har Khandan Ka alag but tha ,

★_ Fateh Makka ke baad Huzoor Akram ﷺ ne 19 Din tak waha'n qayaam farmaya,is dauraan Aap Qasr Namaze Padhte rahe , is dauraan Ek Aurat ne chori kar li , Huzoor Akram ﷺ ne Uska Haath kaatne Ka Hukm farmaya, Uski Qaum ke log Jama ho Kar Hazrat Osama bin Zaid Raziyllahu Anhu ke paas Aaye k wo Aan Hazrat ﷺ se sifarish Kar de'n, Hazrat Osama Raziyllahu Anhu ne Jab Us Aurat ki Sifarish ki to Aap ﷺ ke Chehre Ka rang badal gaya ,Farmaya :- Kya Tum Allah Ke muqarrar Karda Sazao'n me sifarish Karte ho ?"
Hazrat Osama Raziyllahu Anhu ne foran arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Mere liye istagfaar farmaye'n _,"

★_ Aan Hazrat ﷺ usi Waqt khade hue ,Pehle Allah ki hamdo Sana Bayan ki fir ye Khutba diya :- 
"_ Logo'n ! Tumse Pehli qaumo ko Sirf isi Baat ne Halaak Kiya k unme koi ba izzat Aadmi chori Kar leta to use saza nahi dete they ,Lekin agar koi Kamzor Aadmi chori karta to use saza dete they...Qasam hai us zaat ki Jiske qabze me Meri Jaan hai..Agar Fatima bint Muhammad bhi Chori Karti to Mai'n unka bhi Haath kaat deta _,"
Uske baad Aap ﷺ ke hukm se us Aurat Ka Haath kaat diya gaya,

★_ Fir Huzoor Akram ﷺ ne Utaab bin Used Raziyllahu Anhu ko Makka Muazzama Ka waali muqarrar farmaya,Unhe Hukm farmaya k logo ko Namaz padhaya Kare'n, Ye Pehle Ameer Hai'n jinhone Fateh Makka ke baad Makka me Jama'at ke Saath Namaz padhayi, Aap ﷺ ne Hazrat Mu'aaz bin Jabal Raziyllahu Anhu ko Utaab bin Used Raziyllahu Anhu ke paas chhoda ..Taki Wo logo ko Hadees aur Fiqha ki Taleem de'n _,

*★_ अगर फातिमा बिन्त मोहम्मद भी चोरी करतीं तो मैं उनका भी हाथ काट देता _,*

★_ फिर उस रोज़ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु को हुक्म दिया कि काबे की छत पर चढ़कर अज़ान दें, चुंनाचे हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु ने अज़ान दी, उसके बाद आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- जो शख्स अल्लाह पर और क़यामत के दिन पर ईमान रखता है वह अपने घर में कोई बुत ना छोड़ें ,उसको तोड़ दे_,"

★_ लोग बुतों को तोड़ने लगे, हजरत अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु की बीवी हिंदा रज़ियल्लाहु अन्हा जब मुसलमान हो गई तो अपने घर में रखे बुत की तरफ बड़ी और लगी उसको ठोकरें मारने, साथ में कहती भी जाती थी :- हम लोग तेरी वजह से बहुत धोखे और गुरुर में थे_,"

★_ फिर रसूले करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने गरदोनवाह में भी सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को भेजा ताकि उन इलाकों में रखें बुतों को भी तोड़ दिया जाए , बाज़ इलाकों में लोगों ने बाका़यदा इबादत खाने बना रखे थे उनमें बुत रखे गए थे मुशरिकीन उन बुतों का और इबादत खानो का उतना ही अहतराम करते थे जितना कि काबा का , 2 दिन में जानवर भी कुर्बान करते थे जिस तरह की काबा में किए जाते थे, हद यह कि उन इबादत खानों का तवाफ भी किया जाता था , गर्ज़ हर खानदान का अलग बुत था।

★_ फतह मक्का के बाद हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने 19 दिन तक वहां क़याम फरमाया ,इस दौरान आप कसर् नमाजे़ पढ़ते रहे ।
इस दौरान एक औरत ने चोरी कर ली, हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उसका हाथ काटने का हुक्म फरमाया ,उसकी कौ़म के लोग जमा हो कर हजरत उसामा बिन ज़ैद रज़ियल्लाहु अन्हु के पास आए कि वह आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से सिफारिश कर दें,  उसामा रज़ियल्लाहु अन्हु जब उस औरत की सिफारिश की तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के चेहरे का रंग बदल गया, फरमाया-  क्या तुम अल्लाह के मुकर्रर करदा सज़ाओं में सिफारिश करते हो ?
हजरत उसामा रज़ियल्लाहु अन्हु ने फौरन अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! मेरे लिए इस्तगफार फरमाएं _,"

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उसी वक्त खड़े हुए, पहले अल्लाह की हम्दो सना बयान की फिर यह खुतबा दिया :- "_ लोगो तुमसे पहली क़ौमों को सिर्फ इसी बात ने हलाक किया कि अगर उनमें कोई बाइज्जत आदमी चोरी कर लेता तो उसने सजा नहीं देते थे लेकिन अगर कोई कमजोर आदमी चोरी करता तो उसे सज़ा देते थे , क़सम है उस जा़त की जिसके कब्जे में मेरी जान है अगर फातिमा बिन्ते मोहम्मद भी चोरी करतीं तो मैं उनका भी हाथ काट देता _," उसके बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के हुक्म से उस औरत का हाथ काट दिया गया ।

★_ फिर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उताब बिन उसैद रज़ियल्लाहु अन्हु को मक्का मुअज्ज़मा का वाली मुकर्रर फरमाया, उन्हें हुक्म फरमाया कि लोगों को नमाज़ पढ़ाया करें , यह पहले अमीर हैं जिन्होंने फतेह मक्का के बाद मक्का में जमात के साथ नमाज़ पढ़ाई । आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत मुआज़ रज़ियल्लाहु अन्हु को उताब बिन उसैद रज़ियल्लाहु अन्हु के पास छोड़ा ताकि वह लोगों को हदीस और फिक़हा की तालीम दें ।

 ╨─────────────────────❥
*★_ Gazwa Hunain _,*

★_ Fateh Makka ke baad Gazwa Hunain pesh Aaya, Hunain Taa'if ke qareeb gaa'nv hai , Is Gazwe ko Gazwa Hawazin aur Gazwa Awtaas bhi Kehte Hai'n,
Jab Allah Ta'ala ne Apne Nabi ﷺ Ke Haatho per Makka Fateh farmaya to Sabhi Qabilo ne ita'at qubool Kar li Magar Qabila Bani Hawazin aur Bani Saqeef  ne ita'at qubool Karne SE inkaar Kar diya, Ye Dono Qabile Bahut Sarkash aur Magroor they , Apne Guroor me Kehne lage :- "_ Khuda ki qasam ! Muhammad ko ab tak ese logo se saabqa pada hai Jo Jungo SE Achchhi Tarah waaqif hi nahi they _,"

★_ Ab unhone Jung ki taiyari shuru Kar di.. Unhone Maalik bin Auf Nazeeri ko Apna Sardaar banaya ( Ye baad me Musalman ho gaye they ) Jab Maalik bin Auf ko Sabne muttafiq tor per Tamaam Qabilo Ka Sardaar Bana liya to har taraf se Mukhtalif Qabile badi tadaad me aa aa Kar Lashkar me Shamil hone lage ,
Aakhir Maalik bin Auf ne Apna ye Lashkar le Kar Awtaas ke Muqaam per ja Kar Padaav daala ,

★_ Idhar Jab Aan Hazrat ﷺ ko Khabre mili k Bani Hawazin ne Ek bada Lashkar Jama Kar liya hai to Aap ﷺ ne Apne Ek Sahabi Hazrat Abdullah bin Abi Hudood Aslami ko unki jasoosi ke liye rawana Kiya aur rukhsat Karte hue unse farmaya :- Unke Lashkar me Shamil ho Jana aur Sunna k wo kya Faisle Kar rahe Hai'n ?"
Chunache Wo Bani Hawazin ke Lashkar me Shamil ho gaye..Unki baate Sunte rahe , Fir waapas aa Kar Aan Hazrat ﷺ ko Saari Tafsilaat sunayi , Qabila Bani Hawazin wale Apne Saath Apni Aurte'n, Bachche aur Maal aur Daulat bhi le Aaye they , Jab Aan Hazrat ﷺ ko ye ittela mili to muskuraye aur irshad farmaya:- in sha Allah ! Kal ye sab Kuchh Musalmano ke liye maale ganimat banega _,"

★_ Aan Hazrat ﷺ Bani Hawazin SE muqable ke liye 12 Hazaar Ka Lashkar le Kar rawana hue , inme do Hazaar Nojawan Makka Muazzama aur Gardonawah ke they ,Baqi 10 Hazaar Wo Sahaba they Jo Aap ﷺ ke Saath Aaye they aur Jinke Haath per Allah Ta'ala ne Makka Fateh karaya tha , Jab islami Lashkar Dushman Ke Padaav ke qareeb pahunch gaya to Aap ﷺ ne Lashkar ki Safbandi farmayi , Muhajireen Aur Ansar me Jhande Taqseem farmaye , Muhajireen Ka Parcham Aapne Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ke Supurd farmaya, Ek Parcham Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas Raziyallahu Anhu ko aur Ek Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ko bhi inayat farmaya, Ansar me SE Aap ﷺ ne Parcham Hibaab bin Manzar Raziyllahu Anhu ko ata farmaya ,Ek Parcham Usaid Raziyllahu Anhu ko inayat farmaya,

★_ Jab Huzoor Akram ﷺ Apne Khachchar per sawaar hue to Do Zireh pehne hue thi ,Khod ( Lohe Ka Helmet) bhi pehan rakha tha ... Huzoor Akram ﷺ Apne Lashkar ko le Kar Aage bade ,
Mushriko ke Lashkar ki tadaad 20 Hazaar thi aur Unhone Apne Lashkar ko pahaado aur Darro me chhupa rakha tha, Jo'nhi islami Lashkar Vaadi me dakhil hua , Mushrikeen ne Achanak un jagaho SE Musalmano per Hamla Kar diya aur Zabardast Teerandaazi shuru Kar di, Ye log they bhi Bahut Maahir Teerandaaz , unka nishana bahut pukhta tha , Is Achanak aur Zabardast hamle se Musalman ghabra gaye, Unke Paanv ukhad gaye .. Mushrikeen ke hazaaro Teer Ek Saath aa rahe they, Bahut SE Musalman moonh fair Kar bhaage Lekin Allah Ke Rasool Apni Jagah jame rahe ,Ek inch bhi Pichhe na hate ,

★_ Musalmano ke Lashkar me us Roz dar asal Makka ke Kuchh Mushrik bhi chale Aaye ..ye maale ganimat ke Laalach me Aaye they ..Jab Zabardast Teerandaazi hui to ye Ek doosre ko Kehne lage :- Bha'i moqa hai Maidaan SE bhaag nikalne Ka ..is Tarah Musalmano ke Hausle past ho Jayenge _,"
Iske Saath Wo Ek dam bhaag khade hue ,Unhe bhaagte dekh Kar Baaz ese Musalman Jinhone Fateh Makka ke Waqt islam qubool Kiya tha Ye Samjhe k unke Saathi Musalman bhaag rahe Hai'n, Un per ghabrahat taari ho gayi Wo bhi bhaagne lage , is Tarah Ek doosre ko bhaagta dekh Sab pareshan ho gaye..Lihaza baqiyo ke bhi Paanv ukhad gaye,

★_ Aan Hazrat ﷺ ke Aas paas Sirf Chand Sahaba reh gaye..unme Hazrat Abu Bakar, Hazrat Umar ,Hazrat Ali ,Hazrat Abbaas, Unke bete Hazrat Fazal ,Rabi'a bin Haaris aur Aan Hazrat ﷺ ke chachazaad Bhai Abu Sufiyaan bin Haaris Raziyllahu Anhu shamil they..inke alawa 90 ke qareeb aur Sahaba kiraam they .. Goya Aapke Aas Paas Sirf 100 ke qareeb Sahaba reh gaye, Huzoor Akram ﷺ us Waqt farma rahe they :- Mai'n Allah Ka Rasool Hu'n ! Mai'n Muhammad bin Abdullah Hu'n ! Mai'n Allah Ka Banda aur Uska Rasool Hu'n _,"

★_ Iske Saath Aap ﷺ ne Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu se farmaya :- Abbaas ! Logo ko pukaaro aur Kaho , Ey giroh Ansar ! Ey Bayte Rizwan walo ! Ey Muhajireen _,"
Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu Buland Awaaz me pukaare .. Musalmano ko bulaya ..Jo Musalman Huzoor Akram ﷺ ke gird Jama they , Unhone Mushriko per Zabardast hamla Kar diya, Idhar Aap ﷺ ne Kankriyo'n ki ek mutthi uthayi aur Dushmano ki taraf faink di, Saath me farmaya :- Ye Chehre bigad Jaye'n _,"

★_ Us Waqt Tak Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu aur Chand doosre Sahaba ki Awaaz sun Kar bhaagte hue Musalman bhi waapas palat chuke they aur Unhone jam Kar ladna shuru Kiya ..is Tarah Jung Ek Baar fir ho chuki thi.. Kankriyo'n ki us mutthi ko Allah Ta'ala ne Apni Qudrat se Dushmano ki Aankho me Kya giri k wo buri Tarah bad hawaas ho gaye...Wo buri Tarah bhaagne lage,

★_ Is Jung ke shuru hone se Pehle Lashkar ki tadaad dekh Kar ek Sahabi ne Kaha tha :- Ey Allah ke Rasool ! Aaj Hamari tadaad is qadar hai k Dushman se shikasht nahi kha sakte _,"
Aan Hazrat ﷺ ko ye Baat Bahut nagawaar guzri thi , Ye Alfaz bahut gira'n Mehsoos hue they Kyunki inme Fakhr aur Guroor ki bu thi ..Allah Ta'ala ke Nazdeek bhi ye Jumla na Pasandida tha ,Shayad isliye shuru me Musalmano ko shikasht hui thi, Lekin Fir Allah ne Karam farmaya aur Musalmano ke qadam jam gaye aur fir Mushriko ko shikasht hui ,
Hunain me Mushriko ki shikasht ke baad bahut SE log Musalman ho gaye, Wo Jaan gaye they k Rasulullah ﷺ ko Allah Ta'ala ki madad Haasil hai ..,

★_ Fir Aap ﷺ ne Hukm farmaya-"_ Tamaam Qaidi aur Maale ganimat Ek Jagah Jama Kar diya Jaye _,"
Jab ye Maal aur Qaidi Jama ho gaye to Aap ﷺ ne ye sab Kuchh Jo'arana ke Muqaam per bhijwa diya ..Gazwa Taa'if se Waapsi tak ye Saara Samaan wahi'n raha ,Yani Uske baad Musalmano me Taqseem hua ,
Fir Aan Hazrat ﷺ ko Maloom hua k Bani Hawazin aur Uska Sardaar Maalik bin Auf shikasht khane ke baad Taa'if pahunch gaye Hai'n, Taa'if us Waqt bhi Ek bada Shehar tha ,Un logo ne waha'n Ek Qile me panaah le Rakhi thi ,

★_ Ye ittela Milne per Huzoor Akram ﷺ Taa'if ki taraf rawana hue, Aapne har Awwal dasta Pehle rawana farmaya, Us Daste Ka Salaar Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu ko muqarrar farmaya, Aakhir ye Lashkar Taa'if pahunch gaya aur Us Qile ke paas ja thehra Jisme Maalik bin Auf aur Uska bacha khucha Lashkar panaah le chuka tha,

*★__ गज़वा हुनैन _,*

★_ फतेह मक्का के बाद गज़वा हुनैन पेश आया , हुनैन ताइफ के करीब एक गांव है , इस गज़वे को गज़वा हवाजि़न और गज़वा अवतास भी कहते हैं। 
जब अल्लाह ताला ने अपने नबी सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के हाथों पर मक्का फतह फरमा दिया तो सभी क़बीलों ने इता'त क़ुबूल कर ली मगर क़बीला बनी हवाजि़न और बनी सकी़फ ने इता'त कुबूल करने से इंकार कर दिया । यह दोनों कबीले बहुत सरकश और मगरूर थे ,अपने गुरुर में वह कहने लगे :- खुदा की क़सम! मोहम्मद को अब तक ऐसे लोगों से साबका़ पड़ा है जो जंगों से अच्छी तरह वाक़िफ भी नहीं थे_,"

★_ अब उन्होंने जंग की तैयारी शुरू कर दी उन्होंने मालिक बिन ऑफ नज़ीरी को अपना सरदार बना लिया( यह बाद में मुसलमान हो गए थे ) जब मालिक बिन ऑफ को सबने मुत्तफिक तौर पर तमाम क़बीलों का सरदार बना लिया तो हर तरफ से मुख्तलिफ क़बीले बड़ी तादाद में आकर लश्कर में शामिल होने लगे, आखिर मालिक बिन ऑफ ने अपना यह लश्कर लेकर अवतास के मुकाम पर जाकर पड़ाव डाला ।

★_ इधर जब आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को खबरें मिली कि बनी हवाज़िन ने एक बड़ा लश्कर जमा कर लिया है तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने एक सहाबी हजरत अब्दुल्लाह बिन अबी हदूद असलमी को उनकी जासूसी के लिए रवाना किया और रुखसत करते हुए उनसे फरमाया :- उनके लश्कर में शामिल हो जाना और सुनना कि वह क्या फैसले कर रहे हैं _,"  
चुंनाचे वह बनी हवाजि़न के लश्कर में शामिल हो गए उनकी बातें सुनते रहे फिर वापस आकर आन हजरत सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को सारी तफसीलात सुनाई, क़बीला बनी हवाजिन वाले अपने साथ अपनी औरतें बच्चे और माल और दौलत भी ले आए थे , जब आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को यह इत्तेला मिली तो मुस्कुराए और इरशाद फरमाया :- इंशा अल्लाह कल यह सब कुछ मुसलमानों के लिए माले गनीमत बनेगा_,"

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम बनी हवाज़िन से मुकाबले के लिए 12 हजार का लश्कर लेकर रवाना हुए इनमें 2 हजार नौजवान मक्का मौज़्ज़मा और गर्दोनवा के थे , बाक़ी 10 हजार वो सहाबा थे जो आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के साथ आए थे और जिनके हाथ पर अल्लाह ताला ने मक्का फतह कराया था ,जब इस्लामी लश्कर दुश्मन के पड़ाव के करीब पहुंच गया तो आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने लश्कर की सफबंदी फरमाई, मुहाजिरीन और अंसार में झंडे तक्सीम फरमाएं, मुहाजिरीन का परचम आपने हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु के सुपुर्द फरमाया ,एक परचम हजरत साद बिन अबी वकास रज़ियल्लाहु अन्हु को और एक हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु को भी इनायत फरमाया,  अंसार में से आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने परचम हिबाब बिन मंजर रज़ियल्लाहु अन्हु को अता फ़रमाया, एक परचम हजरत उसैद रज़ियल्लाहु अन्हु को इनायत फरमाया ।

★_ जब हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अपने खच्चर पर सवार हुए तो 2 जि़रहें पहने हुए थे खोद( लोहे का हेलमेट ) भी पहन रखा था, हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम अपने लश्कर को लेकर आगे बढ़े , मुशरिकों के लश्कर की तादाद 20 हजार थी और उन्होंने अपने लश्कर को पहाड़ों और दर्रों में छुपा रखा था, जोंही इस्लामी लश्कर वादी में दाखिल हुआ मुशरिकीन ने अचानक उन जगहों से मुसलमानों पर हमला कर दिया और ज़बरदस्त तीरंदाजी शुरू कर दी, यह लोग थे भी बहुत माहिर तीरंदाज उनका निशाना बहुत पुख्ता था, इस अचानक और ज़बरदस्त हमले से मुसलमान घबरा गए उनके पांव उखड़ गए, मुशरिकीन के हजारों तीर एक साथ आ रहे थे बहुत से मुसलमान मुंह फेर कर भागे लेकिन अल्लाह के रसूल अपनी जगह जमे रहे एक इंच भी पीछे ना हटे ।

★_मुसलमानों के लश्कर में उस रोज़ दरअसल मक्का के कुछ मुशरीक भी चले आए.. यह माले गनीमत के लालच में आए थे... जब ज़बरदस्त तीरंदाजी हुई तो यह एक दूसरे को कहने लगे -भई मौक़ा है मैदान से भाग निकलने का ...इस तरह मुसलमानों के हौसले पस्त हो जाएंगे _,"
इसके साथ वह एकदम भाग खड़े हुए उन्हें भागते देखकर बाज़ ऐसे मुसलमान जिन्होंने फतेह मक्का के वक्त इस्लाम कुबूल किया था यह समझे कि उनके साथी मुसलमान भाग रहे हैं उन पर घबराहट तारी हो गई वह भी भागने लगे इस तरह एक-दूसरे को भागता देख सब परेशान हो गए लिहाजा बाकि़यों के भी पांव उखड़ गए।

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के आसपास सिर्फ चंद साहब रह गए उनमें हजरत अबू बकर हजरत उमर हजरत अली हजरत अब्बास, उनके बेटे हजरत फ़ज़ल रबिया बिन हारिस और आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के चचाजाद भाई अबू सुफियान बिन हारिस रजियल्लाहु अन्हु शामिल थे , इनके अलावा 90 के करीब और सहाबा किराम थे गोया आपके आसपास सिर्फ सौ के क़रीब सहाबा रह गए । 
हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उस वक्त फरमा रहे थे :- "_ मैं अल्लाह का रसूल हूं ! मैं मोहम्मद बिन अब्दुल्लाह हूं ! मैं अल्लाह का बंदा और उसका रसूल हूं !"

★_ इसके साथ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु से फरमाया :- "_अब्बास लोगों को पुकारो और कहो एक गिरोह अन्सार ! ए बैते रिज़वान वालों ! ए मुहाजिरीन _," 
हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु बुलंद आवाज में पुकारे... मुसलमानों को बुलाया.. जो मुसलमान हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के गिर्द जमा थे उन्होंने मुशरिकों पर ज़बरदस्त हमला कर दिया ,इधर आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने कंकरियों की एक मुट्ठी उठाई और दुश्मनों की तरफ फेंक दी साथ में फरमाया :- "_यह चेहरे बिगड़ जाएं _,"
★_ उस वक्त तक हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु और चंद दूसरे सहाबा की आवाज़ सुनकर भागते हुए मुसलमान भी वापस पलट चुके थे और उन्होंने जंग करना शुरू कर दिया... इस तरह जंग एक बार फिर हो चुकी थी .. कंकरियों की उस मुट्ठी को अल्लाह ताला ने अपनी कुदरत से दुश्मनों की आंखों तक पहुंचा दिया यह उनकी आंखों में क्या गिरी कि वह बुरी तरह बदहवास हो गए ..वह बुरी तरह भाग निकले ।

★_ उस जंग के शुरू होने से पहले लश्कर की तादाद देखकर एक सहाबी ने यह कहा था :- "_ ऐ अल्लाह के रसूल ! आज हमारी तादाद इस क़दर है कि दुश्मन से शिकस्त नहीं खा सकते_,"
आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को यह बात बहुत नागवार गुज़री थी, यह अल्फाज़ बहुत गिरां महसूस हुए थे क्योंकि इनमें फख्र और गुरुर की बू थी.. अल्लाह ताला के नजदीक भी यह जुमला नापसंदीदा था शायद इसीलिए शुरू में मुसलमानों को शिकस्त हुई थी.. लेकिन फिर अल्लाह ने करम फरमाया और मुसलमानों के कदम जम गए और फिर मुशरिकों को शिकस्त हुई । हुनैन में मुशरिकों की शिकस्त के बाद बहुत से लोग मुसलमान हो गए ,वह जान गए थे कि रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को अल्लाह ताला की मदद हासिल है ।

★_ फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- "_तमाम कैदी और माले गनीमत एक जगह जमा कर दिया जाए _," जब यह माल और कैदी जमा हो गए तो आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने यह सब कुछ जौराना के मुकाम पर भिजवा दिया,  गज़वा ताइफ से वापसी तक यह सारा सामान वहीं रहा यानी उसके बाद मुसलमानों में तक़सीम हुआ ।
फिर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को मालूम हुआ कि बनी हवाज़िन और उसका सरदार मालिक बिन ऑफ शिकस्त खाने के बाद ताइफ पहुंच गए हैं, ताइफ उस वक्त भी एक बड़ा शहर था, उन लोगों ने वहां एक किले में पनाह ले रखी थी ।

★_ यह इत्तेला मिलने पर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ताइफ की तरफ रवाना हुए ..आपने हर अव्वल दस्ता पहले रवाना फरमाया इस दस्ते का सालार हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु को मुकर्रर फरमाया,  आखिर यह लश्कर ताइफ पहुंच गया और उस किले के पास जा ठहरा जिसमें मालिक बिन ऑफ और उसका बचा खुचा लश्कर पनाह ले चुका था ।
 ╨─────────────────────❥
*★_ Taa'if Ka Muhaasra _,*

★_ Mushriko ne Jo'nhi islami Lashkar ko dekha, Unhone Qile per se Zabardast Teerandaazi ki ..un teero se bahut se Musalman zakhmi ho gaye,Ek Teer Hazrat Abu Sufiyaan bin Harb Raziyllahu Anhu ki Aankh me laga ,Unki Aankh bahar nikal aayi ,Ye Apni Aankh hatheli per rakhe Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Aaye aur Arz Kiya :- "_ Allah Ke Rasool ! Meri ye Aankh Allah Ke Raaste me Jati rahi_,"
Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- "_ Agar tum chaho to Mai'n Dua karunga aur Tumhari Ye Aankh waapas Apni Jagah per Theek ho jayegi ..Agar Aankh na chaho to fir badle me Jannat milegi _,"
Is per Unhone farmaya :- "_ Mujhe to Jannat hi Azeez hai _,"
Ye Kaha aur Aankh Fai'nk di ...,

★_ Gazwa Taa'if me Jo log Teero SE zakhmi hue they Unme SE 12 Aadmi Shahadat pa gaye, Aakhir Aan Hazrat ﷺ Qile ke paas se hat Kar Us Jagah aa gaye Jaha'n Ab Masjide Taa'if hai ,
Qile Ka Muhaasra jaari tha k Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu Lashkar se Aage Nikal Kar Aage bade aur Pukaare ,:- Koi hai Jo mere muqable per Aaye ?"
Unki Lalkaar ke Jawab me koi muqable ke liye na Aaya ,Qile ke Ouper se Abdiyalail ne Kaha :- "_ Humme SE koi Shakhs bhi Qile SE Utar Kar Tumhare paas nahi aayega ,Hum Qila band rahenge , Hamare Paas khane pine Ka itna Samaan hai k Hume barso kaafi ho Sakta Hai..Jab Tak Hamara galla Khatm Nahi ho jata ,Hum bahar nahi aayenge ..tum us Waqt tak thehar sakte ho to thehre raho _,"

★_ Muhaasre ko jab Kai din guzar gaye to Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne Aan Hazrat ﷺ se Puchha :- Aap Taa'if walo per Faislakun hamla kyu nahi farma rahe _,"
Iske Jawab me Aan Hazrat ﷺ ne farmaya :- Abhi mujhe Taa'if walo ke khilaf Kaarwayi Karne Ka Hukm nahi mila...Mera khayal hai k hum is Waqt is Shehar ko Fateh nahi karenge _,"
Aakhir Allah Ta'ala ki taraf se hukm na Mila to Huzoor Akram ﷺ ne waapsi Ka Hukm farma diya..,

★_ Logo ko Fateh ke bager waapas Jana Achchha na laga ...Aan Hazrat ﷺ ne unki Nagawaari bhaanp li , Chunache farmaya :- "_ Achchha to fir hamle ki taiyari Karo _,"
Logo ne foran Taiyaari ki aur Qile per Dhaava bol diya ..is Tarah Bahut SE Musalman zakhmi ho gaye, Uske baad Aap ne fir elaan farmaya:- "_ Ab hum in sha Allah rawana ho rahe Hai'n _,"
Is martaba ye elaan sun Kar log Khush ho gaye..aur farmabardaari ke Saath kooch ki Taiyari Karne lage , Ye dekh Kar Aap ﷺ ha'ns pade ...Aapko hansi is Baat per aayi k Pehle to ladne per Taiyaar they aur Waapas Jaana Bura Mehsoos Kar rahe they..Ab kis qadar jald aur Khushi se waapas Jane ke liye Taiyaar ho gaye,

★_ Dar Asal Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne Jaan liya k Allah Ke Rasool ki raay hi bilkul Durust thi , Waapas Rawangi ke waqt Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- Allah Ta'ala ke Siva koi Ma'abood nahi, Uska vaada Sachcha hai ,Usne Apne Bande ki madad farmayi ...us Akele ne " Ahzaab " ko shikasht di _," ( Ahzaab Ka Matlab hai Wo Fauj Jisme bahut se giroh Jama Ho'n ),
Kuchh aage badne per Aap ﷺ ne farmaya :- "_ Hum lotne wale Hai'n, Tauba Karne wale Hai'n aur ibaadat Karne wale Hai'n Apne Parwardigaar ki aur uski taareefe Bayan karte Hai'n _,"

★_ Taa'if Wo Shehar tha Jaha'n ke logo ne Hijrat se Pehle bhi Huzoor Nabi Akram ﷺ ko Bahut sataya tha ,Lahu Luhaan Kar diya tha,Magar iske bavjood Pehle bhi Huzoor Akram ﷺ ne Bad Dua nahi ki thi aur Ab bhi Aap ﷺ Taa'if ke logo ke liye ye Dua farmayi :- Ey Allah ! Bani Saqeef ko hidayat ata farma aur Unhe Musalman hone ki Haisiyat se Hamare paas bhej de _,"

★_ is ladayi me Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke bete Hazrat Abdullah Raziyllahu Anhu bhi zakhmi hue they, Us zakhm ke Asar se wo Chand Saal baad Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ki khilafat ke daur me inteqal Kar gaye ,

★_ Waapsi ke Safar me jab Aan Hazrat ﷺ Jo'arana ke Muqaam per pahunchne ke liye nasheeb me utre to waha'n Suraqa bin Maalik mile , Suraqa Wo Shakhs Hai'n k Jab Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke Saath Makka se Madina ki taraf Hijrat ki to unhone ina'am ke lalach me Aap ﷺ Ka Ta'aqub Kiya tha , Nazdeek pahunchne per unke Ghode ke Paanv Zameen me dhans gaye they , Unhone Maafi Maangi to ghode ke Paanv Nikal Aaye ,Ye Fir qatl ke iraade SE Aage bade to fir ghode ke Paanv dhans gaye, Teen Baar esa hua ,Aakhir Unhe Aqal aa gayi aur Sachche Dil se Maafi maangi ..fir waapas lot gaye they ,Us Waqt ye Musalman nahi hue they Lekin Unhone Aap ﷺ se Kaha tha :- "_ Ey Muhammad ! Mai'n Jaanta Hu'n..Ek Din Saari Duniya me Aapka bilbaala hone wala Hai ...Aap logo ki jaano ke Maalik honge ..isliye mujhe Apni taraf se ek Tehreer likh dijiye Taki jab Aapki Hukumat ke Daur me Aapke Paas aau'n to Aap mere Saath izzat SE pesh aaye'n _,"

★_ Unki darkhwast per Aap ﷺ ne Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ya unke Gulaam Aamir bin Abi Fahirah Raziyllahu Anhu se Tehreer likhwa Kar Unhe Di thi.. Suraqa bin Maalik ab Huzoor Akram ﷺ se mulaqaat ke liye hi Aaye they aur Jo'arana ke Muqaam per ye mulaqaat ho gayi,..us Muqaam per Musalman Gazwa Hunain Ka maale ganimat muntaqil Kar chuke they..Suraqa bin Maalik us Waqt ye pukaar rahe they :- Mai'n Suraqa bin Maalik Hu'n..aur mere paas Allah Ke Rasool ﷺ ki Tehreer mojood hai _,"
Unke Alfaz sun Kar Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- Aaj Wafa , Muhabbat aur Vaade Ka din hai ,use mere qareeb Lao _,"

★_ Sahaba kiraam ne Suraqa ko Aan Hazrat ﷺ ke qareeb la khada Kiya ..Aap unse Bahut Meharbani SE pesh Aaye ,
Fir Aap ﷺ ne Hunain ke Maale Ganimat Ka hisaab lagwaya aur Usko Musalmano me Taqseem farmaya,

★_ Hunain me Jo Qaidi Haath lage they Unme Aan Hazrat ﷺ ki Raza'i Behan Sheema bint Halimma Sa'adiya bhi thi ,Yani Aapki Daaya Hazrat Halima Sa'adiya ki beti thi aur Bachpan me Aapki Doodh Shareek Behan thi ,Jab Ye Giraftaar hui thi to Sahaba se Kehne lagi k Mai'n Tumhare Nabi ki Behan Hu'n...Lekin Unhone Sheema ki baat per Yaqeen nahi Kiya tha ,

★_ Aakhir Ansar ki ek Jama'at Unhe Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me le aayi ,Sheema Jab Aapke Saamne aayi to boli :- Ey Muhammad ! Mai'n Aapki Behan Hu'n _,"
Aan Hazrat ﷺ ne unse Puchha :- is Baat Ka Kya Saboot hai ?_," 
Jawab me Sheema Boli'n- Mere Anguthe per Aapke Kaatne Ka nishan hai Jab Maine Aapko goad me utha rakha tha_,"
Aan Hazrat ﷺ ne us nishan ko pehchan liya ,

★_ Pehchante hi Aap khade ho gaye, Unke liye Apni Chaadar bichhayi aur Unhe izzat se bithaya , Us Waqt Aapki Aankho'n me Aa'nsu aa gaye aur farmaya : -Tum Jo Kuchh maangogi diya jayega ..Jis Baat ki Sifarish karogi , Qubool ki jayegi _,"

★_ Is Per Sheema ne Apni Qaum ke Qaidiyo'n ko riha Karne Ka mutalba Kiya , Qaidiyo'n ki Tadaad 6 Hazaar thi, Aan Hazrat ﷺ ne ye Sab Qaidi Sheema ke hawale Kar diye aur Unhone sabko Chhod diya ,Ye Had Darja Sharifana Sulook tha ,is Tarah Sheema Apni Qaum ke liye behad Ba Barkat Saabit hui...Uske baad Bani Hawazin ke doosre Qaidiyo'n ko bhi rihayi mil gayi ,

★_ Maalik bin Auf Jung ke Maidaan SE Faraar ho Kar Taa'if chale gaye they ,Jabki unke Ghar wale Qaidi bana liye gaye they, Aan Hazrat ﷺ ne Unhe bhi riha Kar diya tha, Jab Maalik bin Auf Raziyllahu Anhu ko Apne gharane ke Saath Aan Hazrat ﷺ ke husne Sulook Ka pata Chala to Wo bhi Taa'if se Nikal Kar Aap ﷺ ki khidmat me Haazir hue..Aan Hazrat ﷺ us Waqt Jo'arana ke Muqaam per they .. Inhone islam qubool Kar liya, Aan Hazrat ﷺ ne Unhe Bani Hawazin ke un logo Ka Ameer bana diya Jo Musalman ho gaye they,

★_ Jo'arana se Aan Hazrat ﷺ Makka Muazzama rawana hone lage to Umre Ka Ahraam baandh liya , Waha'n se rawana ho Kar Raat ke Waqt Makka me dakhil hue, Aap ﷺ musalsal Labbaik ( Yani Talbiya ) Padhte rahe, Umre SE Faarig ho Kar Huzoor Akram ﷺ 27 Ziqa'adah ko waapas Madina Munavvara Tashreef laye , Fateh Makka ke baad Arab ke Tamaam Qaba'il per islam ki dhaak beth gayi aur Wo Joq dar Joq islam qubool Karne lage ,

*★_ ताइफ का मुहासरा _,*

★_ मुशरिकों ने ज्योंहि इस्लामी लश्कर को देखा उन्होंने किले पर से जबरदस्त तीरंदाजी की उन तीरों से बहुत से मुसलमान जख्मी हो गए, एक तीर हजरत अबू सुफियान बिन हर्ब रजियल्लाहू अन्हू की आंख में लगा उनकी आंख बाहर निकल आई, यह अपनी आंख हथेली पर रखें आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में आए और और अर्ज़ किया :- अल्लाह के रसूल मेरी यह आंख अल्लाह के रास्ते में जाती रही _,"
आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- "_ अगर तुम चाहो तो मैं दुआ करूंगा और तुम्हारी आंख वापस अपनी जगह पर ठीक हो जाएगी.. अगर आंख ना चाहो तो फिर बदले में जन्नत मिलेगी_," 
इस पर उन्होंने फरमाया :- मुझे तो जन्नत ही अज़ीज़ है _," यह कहा और आंख फेंक दी....,

★_ गज़वा ताइफ में जो लोग तीरों से जख्मी हुए थे उनमें से 12 आदमी शहादत पा गए , आखिर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम क़िले के पास से हटकर उस जगह आ गए जहां अब मस्जिद ए ताइफ है , किले का मुहासरा ज़ारी था कि हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु लश्कर से आगे निकलकर आगे बढ़े और पुकारे :- "_कोई है जो मेरे मुकाबले में आए _,"
उनकी ललकार के जवाब में कोई मुकाबले के लिए ना आया, किले के ऊपर से अबदियालैल ने कहा :- "_ हममे से कोई शख्स भी किले से उतर कर तुम्हारे पास नहीं आएगा हम किला बंद रहेंगे हमारे पास खाने-पीने का इतना सामान है कि हमें बरसों काफी हो सकता है जब तक हमारा गल्ला खत्म नहीं हो जाता हम बाहर नहीं आएंगे तुम उस वक्त तक ठहर सकते हो तो ठहरे रहो _,"

★_ मुहासरे को जब कई दिन गुज़र गए तो हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से पूछा :- "_आप ताइफ वालों पर फैसला कुना हमला क्यों नहीं फरमा रहे _,"
इसके जवाब में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया:- "_ अभी मुझे ताइफ वालों के खिलाफ कार्रवाई करने का हुक्म नहीं मिला... मेरा ख्याल है कि हम इस वक्त इस शहर को फतेह नहीं करेंगे_," 
आखिर अल्लाह ताला की तरफ से हुक्म ना मिला तो हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वापसी का हुक्म फरमा दिया ।

★_ लोगों को फतेह के बगैर वापस जाना अच्छा ना लगा..आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनकी नागवारी भांप ली चुनांचे फरमाया:- "_ अच्छा तो फिर हमले की तैयारी करो_,"
लोगों ने फौरन तैयारी की और किले पर धावा बोल दिया, इस तरह बहुत से मुसलमान जख्मी हो गए ,इसके बाद आपने फिर एलान फरमाया :- "_अब हम इंशा अल्लाह रवाना हो रहे हैं _,"
इस मर्तबा यह ऐलान सुनकर लोग खुश हो गए और फरमाबरदारी के साथ उसकी तैयारी करने लगे, यह देखकर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम हंस पढ़ें ,आपको हंसी इस बात पर आई कि पहले तो लड़ने पर तैयार थे और वापस जाना बुरा महसूस कर रहे थे अब किस क़दर जल्द और खुशी से वापस जाने के लिए तैयार हो गए ,

★_ दरअसल सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने जान लिया कि अल्लाह के रसूल की राय ही बिलकुल दुरुस्त थी,  वापस रवानगी के वक्त आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- "_ अल्लाह ताला के सिवा कोई माबूद नहीं उसका वादा सच्चा है उसने अपने बंदे की मदद फरमाई..उस अकेले ने "अहज़ाब"  को शिकस्त दी ( अहज़ाब का मतलब है वह फौज जिसमें बहुत से गिरोह जमा हों )_," 
कुछ आगे बढ़ने पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- "_ हम लोटने वाले हैं तोबा करने वाले हैं और इबादत करने वाले हैं अपने परवरदिगार की और उसकी तारीफें है बयान करते हैं _,"

★_ ताइफ वह शहर था जहां के लोगों ने हिजरत से पहले भी हुजूर नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को बहुत सताया था लहूलुहान कर दिया था मगर इसके बावजूद पहले भी हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने बद्दुआ नहीं की थी और अब भी आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने ताइफ के लोगों के लिए यह दुआ फरमाई :- "_ ऐ अल्लाह ! बनी सक़ीफ को हिदायत अता फरमा और उन्हें मुसलमान होने की हैसियत से हमारे पास भेज दें_,"

★_ इस लड़ाई में हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु के बेटे हजरत अब्दुल्लाह रज़ियल्लाहु अन्हु भी जख्मी हुए थे उस जख्म के असर से वह चंद साल बाद हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के खिलाफत के दौर में इंतकाल कर गए ।

★_ वापसी के सफर में जब आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम जौराना के मुकाम पर पहुंचने के लिए नशीब में उतरे तो वहां सुराका बिन मालिक मिले,  सुराक़ा वो शख्स है कि जब आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हजरत अबू बकर रज़ियल्लाहु अन्हु के साथ मक्का से मदीना की तरफ हिजरत की तो उन्होंने इनाम के लालच में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का ता'क़ुफ ( पीछा ) किया था, नजदीक पहुंचने पर उनके घोड़े के पांव जमीन में धंस गए थे उन्होंने माफी मांगी तो घोड़े के पांव निकल आएं, फिर क़त्ल के इरादे से आगे बढ़े तो फिर घोड़े के पांव धंस गए ,तीन बार ऐसा हुआ आखिर उन्हें अक़ल आ गई और सच्चे दिल से माफी मांगी , फिर वापस लौट गए थे । उस वक्त यह मुसलमान नहीं हुए थे लेकिन उन्होंने आपसे कहा था :- ए मोहम्मद! मैं जानता हूं एक दिन सारी दुनिया में आपका बोलबाला होने वाला है आप लोगों की जानों के मालिक होंगे .. इसलिए मुझे अपनी तरफ से एक तहरीर लिख दीजिए ताकि जब आप की हुकूमत के दौर में आपके पास आऊं तो आप मेरे साथ इज्जत से पेश आएं _,"

★_ उनकी दरखास्त पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु या उनके गुलाम आमिर बिन अबी फ़हीरा रजियल्लाहु अन्हु से तहरीर लिखवा कर उन्हें दी थी , 
सुराका बिन मालिक अब हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से मुलाकात के लिए ही आए थे और जौराना के मुकाम पर यह मुलाकात हो गई,  उस मुकाम पर मुसलमान गज़वा हुनैन का माले गनीमत मुंतकिल कर चुके थे,  सुराक़ा बिश मालिक उस वक्त यह पुकार रहे थे - मैं सुराका़ बिन मालिक हूं और मेरे पास अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की तहरीर मौजूद है _,"
उनके अल्फाज सुनकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-  आज वफा मोहब्बत और वादे का दिन है उसे मेरे क़रीब लाओ_स

★_ सहाबा किराम ने सुराक़ा बिन मालिक को आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के करीब ला खड़ा किया, आप उनसे बहुत मेहरबानी से पेश आए ।
फिर आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हुनैन के माले गनीमत का हिसाब लगवाया और उसको मुसलमानों में तक़सीम फरमाया।
★_ हुनैन में जो कैदी हाथ लगे उनमें आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की रजा़ई बहन शीमा बिन्ते हलीमा सादिया भी थी यानी आप की दाया हजरत हलीमा सादिया की बेटी थी और बचपन में आपकी दूध शरीक बहन थी, जब यह गिरफ्तार हुईं थी तो सहाबा से कहने लगी कि मैं तुम्हारे नबी की बहन हूं लेकिन उन्होंने शीमा की बात पर यकीन नहीं किया था।

★_ आखिर अंसार  की एक जमात उन्हें आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में ले आई शीमा जब आपके सामने आईं तो बोलीं- ए मोहम्मद! मैं आपकी बहन हूं _," आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनसे पूछा - "_इस बात का क्या सबूत है ?"
जवाब में शीमा बोली :-  मेरे अंगूठे पर आपके काटने का निशान है जब मैंने आपको गोद में उठा रखा था _,"
आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उस निशान को पहचान लिया ।

★_ पहचानते ही आप खड़े हो गए उनके लिए अपनी चादर बिछाई और उन्हें इज्जत से बिठाया, उस वक्त आपकी आंखों में आंसू आ गए और फ़रमाया :- "_ तुम जो कुछ मांगोगी दिया जाएगा ..जिस बात की सिफारिश करोगी कुबूल की जाएगी _,"

★_इस पर शीमा ने अपनी कौ़म के कैदियों को रिहा करने का मुतालबा किया कैदियों की तादाद 6000 थी ,आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने यह सब क़ैदी शीमा के हवाले कर दिया और उन्होंने सबको छोड़ दिया । यह हद दर्जा शरीफाना सुलूक था इस तरह सीमा अपनी कौ़म के लिए बेहद बा बरकत साबित हुई ,उसके बाद बनी हवाज़िन के दूसरे कैदियों को भी रिहाई मिल गई ।

★_मालिक बिन ऑफ जंग के मैदान से फरार होकर ताइफ चले गए थे जबकि उनके घरवाले क़ैदी बना लिए गए थे , आन हजरत सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने उन्हें भी रिहा कर दिया था, जब मालिक बिन ऑफ  को अपने घराने के साथ आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के हुस्ने सुलूक़ का पता चला तो वह भी ताइफ से निकलकर आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की खिदमत में हाजिर हो गए , आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम उस वक्त जौराना के मुक़ाम पर थे उन्होंने इस्लाम कबूल कर लिया ।आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने उन्हें बनी हवाजि़न के उन लोगों का अमीर बना दिया जो मुसलमान हो गए थे।

जौराना से आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम मक्का मुअज़्ज़मा रवाना होने लगे तो उमरे का अहराम बांध लिया वहां से रवाना होकर रात के वक्त मक्का में दाखिल हुए आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम लब्बेक( यानी तलबिया) पढ़ते रहे, उमरे से फारिग होकर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम 27 ज़िलका़दा को वापस मदीना मुनव्वरा तशरीफ लाए, फतह मक्का के बाद अरब के तमाम क़बाइल पर इस्लाम की धाक बैठ गई और वह जोक़ दर जो़क़ इस्लाम कुबूल करने लगे।
 ╨─────────────────────❥
*★_ Gazwa Tabook _,*

★_ Rajhab 9 Hijri me Gazwa Tabook pesh Aaya, Aan Hazrat ﷺ ko Apne Jasooso ke zariye ittelaat mili k Romiyo ne Shaam me bahut Zabardast Lashkar Jama Kar liya hai aur Ye k Unhone Apne har Awwal dasto ko Balqa ke Muqaam tak faila diya hai...Balqa Ek mash'hoor Muqaam tha , In ittelaat ki buniyaad per Aan Hazrat ﷺ ne Taiyari Ka Hukm farmaya..Aap ﷺ Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko Jung ki taiyari Ka Hukm farmate they to ye nahi batate they k Jana Kaha'n hai ...matlab ye k is Baat ko khufiya rakhte they Lekin Gazwa Tabook ki bari me Aapne maamla Raaz me nahi rakha , isliye k Romiyo Ka Lashkar bahu zyada Faasle per tha ... Raaste ki takaleef Ka Andaza kiye bager chal padna munasib nahi tha ..iske alawa Dushman ki tadaad bhi bahut zyada thi , isliye iske mutabiq Taiyari Karne ki zarurat thi ,

★_ Gazwa Tabook Aan Hazrat ﷺ Ka Aakhri Gazwa hai , iske baad Aap ﷺ Kisi Gazwe me Tashreef na le ja sake ,Albatta muhimaat ke liye Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko rawana farmate rahe ,

★_ Samaane Jung aur Zarurat ki Doosri cheezo ke liye Aan Hazrat ﷺ ne imdaad Ka elaan farmaya..is elaan Ka Sunna tha k Sahaba kiraam ne Apna Maal aur Daulat Pani ki tarah kharch Kiya , Hazrat Usman Raziyllahu anhu ne to is qadar Daulat lutayi k koi doosra Shakhs miqdaar ke lihaaz se unki barabari na Kar saka , Unhone 900 ount ,100 ghode ,10 Hazaar Dinaar aur inke alawa beshumaar zaade raah diya ,Hazrat Usman Raziyllahu anhu ki fayyazi Ka Haal Dekh Kar Aan Hazrat ﷺ ne farmaya:- "_ Ey Allah ! Mai'n Usman se Raazi Hu'n, Tu bhi unse Raazi ho ja _,"

★_ Ek Rivayat ke mutabiq Aap ﷺ kaafi Raat gaye tak unke liye Dua farmate rahe ,
Aap ﷺ ne unke liye ye Alfaz bhi irshad farmaya :- "_ Aaj ke baad Usman Ka koi Amal Unhe nuqsaan nahi pahuncha Sakta _,"
Ye Alfaz Kehte Waqt Aap ﷺ un Dinaaro ko ulat palat rahe they , Hazrat Usman Raziyllahu anhu ke alawa Jo doosre maaldaar Sahaba they , Unhone bhi Lashkar ki taiyari me Zabardast imdaad di , Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu to qurbani me Sabse badh gaye , Wo Apne Ghar Ka Saara Samaan le Aaye ..uski Tadaad Chaar Hazaar Dirham ke barabar thi ,

★_ Aan Hazrat ﷺ ne unse Puchha :- Abu Bakar ! Apne Ghar Walo ke liye bhi Kuchh chhoda hai ya Nahi ?
Jawab me Unhone arz Kiya :- Maine unke liye Allah aur Allah Ka Rasool chhoda hai _,"
Hazrat Umar Raziyllahu Anhu Apna nisf Maal laye ,Hazrat Abdur Rahman bin Auf Raziyllahu Anhu bhi Bahut SA Maal laye , Aurto'n ne Apne zevraat utaar Kar bheje ,Hazrat Aasim bin Adi Raziyllahu Anhu ne 70 waqsq Khajooro ke diye ,Ek wasq itne wazan ko Kehte Hai'n Jitna Wazan ek ount per laada ja Sakta ..ye wazan Taqriban pone Chaar Tan hai ,

★_ Aakhirkaar Jung ki taiyari Mukammal hui , Aan Hazrat ﷺ tees Hazaar ke Lashkar ke Saath rawana hue, is Lashkar me 10 Hazaar ghode they ,AaPne Muhammad bin Maslama Raziyllahu Anhu ko Madina me Apna qaaim Muqaam banaya ,

★_ is Lashkar me Kuchh munafiqeen bhi shamil hue ..unme munafiqo Ka Sardaar Abdullah bin Ubai Salool bhi tha ..Ye muhim Chunki bahut dushwaar thi ..Taveel Faasle wali thi , isliye Aksar munafiqeen shuru hi SE Saath nahi dete they, Fir Jane Walo me se bhi Bahut so ki himmate Jawab de gayi aur Wo Kuchh hi door chalne ke baad waapas lot gaye ,is Tarah munafiqo Ka pol khul gaya,

★_ Huzoor Akram ﷺ ne is Gazwe ke liye Ka'i Parcham Taiyaar karaye they ,Sabse bada Parcham Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ke Haath me diya, 

★_ Is Safar Ke Dauraan Tabook ki taraf jate hue Aan Hazrat ﷺ aur Sahaba Kiraam Raziyllahu Anhum un khandaraat ke paas se guzre Jo Qaume Samood Ka watan tha aur Jinhe Allah Ta'ala ne Azaab se tabaah v barbaad kar diya tha , Us Muqaam se guzarte waqt Aan Hazrat ﷺ ne Apne Sar mubarak per Kapda daal liya tha aur Sawaari ki raftaar tez Kar di thi Taki jald SE jald waha'n SE guzar Jaye'n aur Aap ﷺ ne Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum se farmaya tha :- In khandaraat ke paas rote hue guzro , Kahi'n tum bhi is Bala me giraftaar na ho jao Jisme ye Qaum hui thi_,"

★_ Aapne Ye elaan bhi farmaya:- Aaj Raat un per Aandhi Ka Zabardast Toofan aayega ,Jiske Paas ount ya ghoda hai ,Wo usko baandh Kar rakhe _,"
Saath me Aap ﷺ ne Hukm farmaya:- "_ Aaj raat ko koi Shakhs tanha Apne Padaav se bahar na Jaye Balki Kisi na Kisi Ko Apne Saath Zaroor rakhe _,"

★_ Fir ittefaaq ESA hua k Ek Shakhs Kisi zarurat SE tanha bahar nikal gaya ,Natija ye hua k Uska Dam ghut gaya , Ek doosra Shakhs Apne Ount ki Talash me nikal gaya ,Uska Anjaam ye hua k Hawa use uda le gayi aur Pahaado per ja Fai'nka, Aan Hazrat ﷺ ko jab in Waqiaat Ka ilm hua to farmaya :- Kya Maine Kaha nahi tha k koi tanha na Jaye ? Bahar Jana pad Jaye to Kisi Ko Saath le Kar nikle _,"

★_ Is Safar Ke Dauraan Ek Roz Pani bilkul Khatm ho gaya ,Pyaas ne logo ko pareshan Kar diya, Aakhir logo ne Aan Hazrat ﷺ se Zikr Kiya, Aap ﷺ ne Dua ke liye Haath utha diye ,Aap ﷺ us Waqt tak Haath uthaye rahe jab tak k baarish na ho gayi ,aur itni baarish hui k sab sairaab hi gaye , Lashkar ne Apne Bartan Bhar liye ,

★_ in Halaat me Aap ﷺ ko ountni gum ho gayi , Aap ﷺ ne ountni ko Talash Karne Ka Hukm farmaya.. Lashkar me Kuchh Munafiq reh gaye they ..Wo waapas nahi gaye they..is moqe per Wo Kehne lage :- Muhammad ﷺ Ka Daava to ye Hai k Wo Nabi Hai'n..aur Ye Musalmano ko Aasmaan ki khabre sunane Hai'n Lekin Unhe ye Maloom nahi k unki ountni Kaha'n Hai ?"
Aan Hazrat ﷺ tak Munafiqeen ki ye baate foran hi pahunch gayi ,

★_ Aap ﷺ ne logo ke Saamne irshad farmaya :- mujh tak Kuchh logo ki ye Baat pahunchi hai ,Allah ki qasam ! Mai'n unhi Baato ko Jaanta Hu'n Jo Allah Ta'ala mujhe bata dete Hai'n..aur ountni ke bare me mujhe abhi Allah Ta'ala ne bataya hai k Wo Fala Vaadi me hai ,uski muhaar Ek Darakht ki tehni me ulajh gayi hai ,Tum log waha'n Ja'o aur ountni ko mere paas le aao _,"
Log waha'n gaye to ountni ko usi Haalat me paya jesa k Aan Hazrat ﷺ ne farmaya tha ,

Safar Jaari tha k Hazrat Abuzar Gafari Raziyllahu Anhu Ka ount thak gaya..jab ount Kisi Tarah chalne ke liye Taiyaar na hua to tang aa Kar Hazrat Abuzar Raziyllahu Anhu ne Samaan us per se utaar Kar Apne Sar per rakh liya aur Paidal chal pade , Yaha'n tak k Aan Hazrat ﷺ tak Pahunch gaye, 
Log Aap ﷺ ko Pehle hi khabar de chuke they k Abuzar Pichhe reh gaye Hai'n.. Kyu'nki unka ount thak gaya hai, Ye Sun kar Aap ﷺ ne farmaya :- Use Uske Haal per Chhod do ..Agar Abuzar me koi Khayr Hai to Allah Ta'ala use Tum tak pahuncha dega aur agar Khayr Ke bajaye Buraa'i hai to samajh lo ..Allah ne tumhe usse Aman de diya _,"

★_ Fir Logo ne door SE Kisi Ko aate dekha to Aan Hazrat ﷺ ko ittela di ,Aap ﷺ ne farmaya :- Abuzar honge ,Allah un per Rehmat farmaye ,Akele hi Paidal chale aa rahe Hai'n, Akele hi marenge _, ( Yani unki maut Veerane me hogi )aur Akele hi dobara zinda ho Kar Qayamat me uthenge _,"

★_ Hazrat Abuzar Gafari Raziyllahu Anhu ke bare me Aan Hazrat ﷺ ki ye pesh goi lafz ba lafz Poori hui , Hazrat Usman Raziyllahu Anhu ke zamane me wo Rabzah ke Veeran Muqaam per chale gaye they.. Wahi'n unki maut waaqe hui thi , 
Aakhir islami Lashkar ne Tabook ke Muqaam per pahunch Kar Padaav daala, Waha'n pahunch Kar Maloom hua k Tabook ke chashme me Pani bahut Kam hai , Lashkar ki zarurat usse Poori nahi ho Sakti , Aan Hazrat ﷺ ne usme SE Apne Daste Mubarak me Pani liya aur Usko moonh me le Kar waapas chashme ke dahane per Kulli Kar di ..Chashma usi Waqt ubalne laga aur Poora bhar gaya , is Tarah Sabne Pani se sairabi haasil ki ,

★_ Ye ilaaqa us Waqt bilkul Banjar tha .us moqe per Nabi Akram ﷺ ne Hazrat Mu'aaz Raziyllahu Anhu se irshad farmaya :- "_Ey Mu'aaz ! Agar Tumhari Umr ne wafa ki to tum dekhoge ye ilaaqa baago bahaar ban Jayega _,"
Yani gardo pesh ki ye Sar Zameen bagaat wali Nazar aayegi , Morkh Allama ibne Abd Albar Undlus likhte Hai'n k Maine Wo ilaaqa dekha tha ..Tamaam Ka Tamaam Bagaat se bhara hua tha ,

★_ Tabook ke Muqaam tak pahunchne se ek Raat Pehle Aan Hazrat ﷺ Ek Raat soye to Subeh Aap ﷺ ki Aankh dayr se khuli ,Bedaar hue to Suraj Sava Neze ke qareeb Buland ho chuka tha,isse Pehle Raat ko Aap ﷺ ne Bilaal Raziyllahu Anhu ko jaag Kar nigrani Karne aur Fajar ke Waqt uthane Ka Hukm diya tha ,
Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu tek laga Kar beth gaye they, ittefaaq se unki bhi Aankh lag gayi thi, Wo bhi sote reh gaye they ,is Tarah Namaz Ka Waqt Nikal gaya ,

★_ Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu se farmaya :- Kya Maine Tumse nahi Kaha tha k Hume Fajar ke Waqt jaga dena ?
Jawab me Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Jis Cheez ne Aapko gaafil Kar diya,usi ne mujhe Gaafil Kar diya_," Yani mujhe bhi neend aa gayi,
Aap ﷺ ne waha'n SE Padaav uthane Ka hukm farmaya aur Uske baad Fajar ki Namaz Ada ki gayi Yani ye Qaza Namaz thi ,

★_ Tabook ke Safar Ke Dauraan Ek Jagah fir Pani Khatm ho gaya..Aan Hazrat ﷺ ko ye Baat batayi gayi to Aap ﷺ ne Hazrat Ali Aur Hazrat Zuber Raziyllahu Anhu ko hukm diya :- Kahi'n Pani Talash Kar Ke Lao _,"
Ye Dono Hazraat waha'n se chal Kar Raaste per aa bethe..jald hi Unhone door se ek Budhi Aurat ko aate dekha ..Wo ount per sawaar thi ,Usne paanv dono taraf latka rakhe they aur Mashkizo me Pani Bhar rakha tha , Unhone usse pani maanga ,is per wo boli ,:- Mai'n aur mere  Ghar wale Tumse zyada Pani ke zarurat mand hai'n.. mere  Bachche yateem Hai'n _,"
Is per Unhone Kaha :- Tum Pani samet Hamare Saath Rasulullah ke paas chalo _,"
Ye sun Kar wo boli :- Kon Rasulullah ! Wo jaadugar ..Jinko bedeen Kaha jata hai..fir to Yahi Behtar Hai k Mai'n unke paas na jau'n_,"

★_ Uska Jawab sun Kar Hazrat Ali aur Hazrat Zuber Raziyllahu Anhu use zabardasti Aan Hazrat ﷺ ke paas le Aaye .. Huzoor Akram ﷺ ne jab Unhe Budhiya ko is Tarah late dekha to unse farmaya :- ise Chhod do _,"
Fir usse irshad farmaya ;- Kya tum Hume Apne Pani ko istemal Karne ki ijazat dogi , Tumhara Pani Jo'n Ka to'n jitna tum le Kar aayi ho utna hi mehfooz rahega _,"
Budhiya boli :- theek hai ,
Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Abu Qatada Raziyllahu Anhu se farmaya:- Ek Bartan le aao _,"
Wo Bartan le Aaye , Aap ﷺ ne us Aurat Ka Mashkiza khola aur Us Bartan me thoda sa Pani liya ..Fir Aap ﷺ ne Apna Daste Mubarak usme daala ..aur Logo se farmaya :- mere qareeb aa Ja'o aur Pani Lena shuru Kar do _,"

★_ Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne dekha ..Pani us Bartan me Chashme ki Tarah ubal raha tha.. Yu'n Lagta tha Jese Aap ﷺ ki ungliyo'n se Nikal raha ho ,Sab us Bartan SE Pani Lene lage , pine lage ,Apne Jaanwaro Ko bhi pilane lage ,Fir Unhone Apne khali Bartan Bhar liye.. Yaha'n tak k Tamaam Jaanwar sairaab ho gaye,Tamaam Bartan Bhar gaye aur Pani us Bartan me usi Tarah Josh maar raha tha..Ab Aap ﷺ ne Wo Pani waapas usi Aurat Ke Mashkize me daal diya aur Uska moonh band karne ke baad farmaya :- "_ Tum logo ke paas Jo Kuchh ho ,le aao _,"
Aap ﷺ ne Ek Kapda bichha diya ..Sahaba kiraam Uske Liye Gosht , Khajoor vagera le Aaye, Aap ﷺ ne Wo Sab use de Kar farmaya :- "_ Humne Tumhare Pani me se Kuchh nahi liya ..ye sab cheeze le Ja'o ,Apne Yateem Bachcho ko khila dena _,"

★_ Aurat Hairat zada thi ..Usne ye Saara manzar Apni Aankho'n se Dekha tha ,Esa Manzar Usne Zindgi me Kabhi nahi dekha tha..Jab ye Apne Ghar pahunchi to Ghar walo ne Kaha k tumne bahut dayr laga di ,is per Usne Saara Waqia sunaya ..Us Basti ke logo ko bhi is waqie Ka ilm ho gaya, Aakhir ye Budhiya Basti ke logo ke Saath Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Haazir hui ,Usne aur Uske Qabile walo ne Aan Hazrat ﷺ ke Haath per Kalma padha ,

★_ Gazwa Tabook me Ek moqe per khane Ka Samaan Khatm ho gaya, Haalat Yaha'n tak Pahunchi k Ek Khajoor mil Jati to Ek Poori jama'at le Kar beth Jati ..fir sab baari baari use chooste ..aur doosre ki taraf bada dete ,Aakhir logo ne arz Kiya :- "_ Agar Aap ijazat de'n to hum Apne Ount Zibah Kar Ke kha le'n_,"
Is per Hazrat Umar Farooq Raziyllahu Anhu ne Kaha :- "_ Ey Allah ke Rasool ! Agar Aapne ye ijazat de di to Sawaari ke Jaanwar Khatm ho Jayenge ..Aap unse farmaye'n k Jiske Paas bhi koi cheez bachi hui ho ,Wo le Aaye ..fir Aap us khuraak me Barkat ki Dua Kare'n _,"

★_ Chunache esa hi kiya gaya, Ek kapda bichhaya gaya..Jiske Paas Koi cheez thi ,Wo le Aaya ..jab sab Cheeze Kapde per Jama ho gayi to Aap ﷺ ne unme Barkat ki Dua ki aur farmaya :-Ab tum log Apne Apne Bartan is khuraaq SE Bhar lo _,"
Sab Apne Bartan bharne lage ,Sabne khoob sayr ho Kar khaya bhi aur Bartan bhi bhare , poore Lashkar me koi Bartan esa na raha Jo Bhar na liya gaya ho ,

★_ Tabook ke Muqaam per pahunch Kar Aan Hazrat ﷺ 10-15 din thehre , Romi Chunki islami Lashkar se Khof zada ho gaye they isliye muqable per na Aaye ..aur is Tarah Tabook ke Muqaam per Jung na ho saki ,
Is dauraan Aap ﷺ Qasr Namaze Padhte rahe Yani musafir ki namaz ,Jisme Zuhar ,Asr aur isha ki Farz namazo me Chaar Chaar raka'at ki Do raka'at Ada ki Jati Hai ,

*★_ गज़वा तबूक _,*

★_ रज्जब नो हिजरी में गज़वा तबूक पेश आया ,आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को अपने जासूसों के जरिए इत्तेला मिली कि रोमियो ने शाम में बहुत जबरदस्त लश्कर जमा कर लिया है और यह कि उन्होंने अपने पर अव्वल दस्तों को बलक़ा के मुकाम तक फैला दिया है ,बलका़ एक मशहूर मुकाम था ,इन इत्तेलात की बुनियाद पर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने तैयारी का हुक्म फरमाया ..आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को जंग की तैयारी का हुक्म फर्माते थे तो यह नहीं बताते थे कि जाना कहां है मतलब यह कि इस बात को खुफिया रखते थे लेकिन गज़वा तबूक के बारे में आपने मामला राज़ में ना रखा इसलिए कि रोमियो का लश्कर बहुत ज्यादा फासले पर था ...रास्ते की तकालीफ का अंदाजा किए बगैर चल पड़ना मुनासिब नहीं था, इसके अलावा दुश्मन की तादाद भी बहुत ज्यादा थी इसलिए उसके मुताबिक तैयारी करने की ज़रूरत थी ।

★_गज़वा तबूक आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का आखरी गज़वा है इसके बाद आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम किसी गज़वे में तशरीफ ना ले जा सके अलबत्ता मुहिमात के लिए सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को रवाना फरमाते रहे ।

★_सामाने जंग और ज़रूरत की दूसरी चीजों के लिए आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इमदाद का ऐलान फरमाया ,इस ऐलान का सुनना था कि सहाबा किराम ने अपना माल और दौलत पानी की तरह खर्च किया ,हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु ने तो इस क़दर दौलत लुटाई कि कोई दूसरा शख्स मिक़दार के लिहाज़ से उनकी बराबरी ना कर सका, उन्होंने 9 सौ ऊंट 1 सौ घोडे, 10 हज़ार दिनार और उनके अलावा बेशुमार ज़ादे राह दिया , हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु की फैयाजी़ का हाल देखकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया :-ऐ अल्लाह ! मैं उस्मान से राज़ी हूं तू भी उससे राज़ी हो जा_,"

★_ एक रिवायत के मुताबिक आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम काफी रात गए तक उनके लिए दुआएं फरमाते रहे ,आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनके लिए यह अल्फाज़ भी इरशाद फरमाए :- "_आज के बाद उस्मान का कोई अमल उन्हें नुकसान नहीं पहुंचा सकता _,"
यह अल्फाज कहते वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उन दिनारों को उलट-पुलट रहे थे, हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु के अलावा जो दूसरे मालदार सहाबा थे उन्होंने भी लश्कर की तैयारी में जबरदस्त इमदाद दी, हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु तो कुर्बानी में सबसे बढ़ गए वह अपने घर का सारा सामान ले आए , उसकी तादाद 4 हज़ार दिरहम के बराबर थी।

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने उनसे पूछा:- "_ अबू बकर ! अपने घर वालों के लिए भी कुछ छोड़ा है या नहीं ?
जवाब में उन्होंने अर्ज किया :- मैंने उनके लिए अल्लाह और अल्लाह का रसूल छोड़ा है_,"
हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु अपना निस्फ माल लाए, हजरत अब्दुर्रहमान बिन औफ रज़ियल्लाहु अन्हु भी बहुत सा माल लाए ,हजरत अब्बास बिन अब्दुल मुत्तलिब भी बहुत माल लाए, औरतों ने अपने जेवरात उतार कर भेजें , हजरतआसिम बिन अदी रज़ियल्लाहु अन्हु ने 70 वसक़ खजूरों के दिए ,एक वसक़ इतने वज़न को कहते हैं जितना वज़न 1 ऊंट पर लादा जा सके , यह वज़न तक़रीबन पोने चार टन बनता है ।

★_ आखिरकार जंग की तैयारी मुकम्मल हो गई, आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम 30 हज़ार के लश्कर के साथ रवाना हुए ,इस लश्कर में 10 हज़ार घोड़े थे , आपने मोहम्मद बिन मसलमा रज़ियल्लाहु अन्हु को मदीना मुनव्वरा में अपना क़ायम मुका़म बनाया ।

★_ इस लश्कर में कुछ मुनाफिकी़न भी शामिल हुए उनमें मुनाफ़िक़ों का सरदार अब्दुल्लाह बिन उबई सलून भी था ,यह मुहिम चूंकि बहुत दुश्वार थी तवील फासले वाली थी इसलिए अक्सर मुनाफिकी़न तो शुरू ही से साथ नहीं देते थे फिर जाने वालों में से भी बहुत सो की हिम्मत जवाब दे गई और वह कुछ ही दूर चलने के बाद वापस लौट गए ,इस तरह मुनाफिक़ीन का पोल खुल गया ।

★_ हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इस जंग के लिए कई परचम तैयार करवाए थे, सबसे बड़ा परचम हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के हाथ में दिया ।

★_ इस सफर के दौरान तबूक की तरफ जाते हुए आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम और सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम उन खंडहरात के पास से गुज़रे जो क़ौमें समूद का वतन था और जिन्हें अल्लाह ताला ने आज़ाब से तबाह व बर्बाद कर दिया था, उस मुकाम से गुज़रते वक्त आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने अपने सर मुबारक पर कपड़ा डाल लिया था और सवारी की रफ्तार तेज़ कर दी थी ताकि जल्द से जल्द वहां से गुज़र जाएं और आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हु से फरमाया था इन खंडहरात के पास से रोते हुए गुज़रो कहीं तुम भी उस बला में गिरफ्तार ना हो जाओ जिसमें यह कौ़म हुई थी _,"

★_ आपने यह ऐलान भी फरमाया :- आज रात उन पर आंधी का ज़बरदस्त तूफान आएगा जिसके पास ऊंट या घोड़ा है वह उसको बांध कर रखें _,", साथ ही आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हुक्म फरमाया :- " _ आज रात कोई शख्स तन्हा अपने पड़ाव से बाहर ना जाए बल्कि किसी ना किसी को अपने साथ ज़रूर रखें _,"

★_ फिर इत्तेफाक़ ऐसा हुआ कि एक शख्स किसी ज़रूरत से तंहा बाहर निकल गया नतीजा यह हुआ कि उसका दम घुट गया । एक दूसरा शख्स अपने ऊंट की तलाश में निकल गया उसका अंजाम यह हुआ कि हवा उसे उड़ा ले गई और पहाड़ों पर जा फैंका। आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को जब उन दोनों वाक़िआत का इल्म हुआ तो फरमाया :- "_ क्या मैंने कहा नहीं था कि कोई तन्हा ना जाएं ? बाहर जाना पड़ जाए तो किसी के साथ लेकर निकले_,"

★_ इस सफर के दौरान एक रोज़ पानी बिल्कुल खत्म हो गया , प्यास ने लोगों को परेशान कर दिया ,आखिर लोगों ने आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से जिक्र किया ,आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने दुआ के लिए हाथ उठा दिये, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उस वक्त तक हाथ उठाएं रहे जब तक कि बारिश ना हो गई और इतनी बारिश हुई कि सब सैराब हो गए, लश्कर ने अपने बर्तन भर लिए ।

★_ इन हालात में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की ऊंटनी गुम हो गई ,आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने ऊंटनी को तलाश करने का हुक्म फरमाया । लश्कर में कुछ मुनाफिक रह गए थे ..वह वापस नहीं गए थे.. इस मौके पर वो कहने लगे :- मोहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का दावा तो यह है कि वह नबी हैं और यह मुसलमानों को आसमान की खबरें सुनाते हैं लेकिन उन्हें यह मालूम नहीं कि उनकी ऊंटनी कहां है ?
आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम तक मुनाफिकीन की यह बातें फौरन ही पहुंच गई ।

★_ आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने लोगों के सामने इरशाद फरमाया :- मुझ तक कुछ लोगों की यह बात पहुंची है, अल्लाह की क़सम ! मैं उन्हीं बातों को जानता हूं जो अल्लाह ताला मुझे बता देते है ...और ऊंटनी के बारे में मुझे अभी अल्लाह ताला ने बताया है कि वह फलां वादी में है उसकी मुहार एक दरख्त की टहनी में उलझ गई है ,तुम लोग वहां जाओ और ऊंटनी को मेरे पास ले आओ _," 
लोग वहां गए तो ऊंटनी को उसी हालत में पाया जैसा कि आज हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया था ।

सफर जारी था कि हज़रत अबूज़र गफारी रज़ियल्लाहु अन्हु का ऊंट थक गया जब किसी तरह चलने के लिए तैयार ना हुआ तो तंग आकर हजरत अबूज़र रज़ियल्लाहु अन्हु ने सामान उस पर से उतार कर अपने सर पर रख लिया और पैदल चल पड़े, यहां तक कि आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम तक पहुंच गए ।
लोग आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को पहले ही खबर दे चुके थे कि अबूज़र पीछे रह गए हैं क्योंकि उनका ऊंट थक गया है , यह सुनकर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया :- उसे उसके हाल पर छोड़ दो.. अगर अबूज़र में कोई खैर है अल्लाह ताला उसे तुम तक पहुंचा देगा और अगर खैर के बजाय बुराई है तो समझ लो अल्लाह ने तुम्हें उससे अमन दे दिया _,"

★_ फिर लोगों ने दूर से किसी को आते देखा तो आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को इत्तेला दी, आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया :-  अबूज़र होंगे , अल्लाह उन पर रहमत फरमाए अकेले ही पैदल चले आ रहे हैं अकेले ही मरेंगे ( यानी उनकी मौत वीराने में होगी) और अकेले ही दोबारा ज़िंदा होकर क़यामत में उठेंगे _,"

★_ हजरत अबूज़र गफारी रज़ियल्लाहु अन्हु के बारे में आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की तरफ से पेशगोई लफ्ज़ बा लफ्ज़ पूरी हुई , हजरत उस्मान रज़ियल्लाहु अन्हु के ज़माने में वह रबज़ह के वीरान मुकाम पर चले गए थे ..वहीं उनकी मौत वाक़े हुई थी, 
आखिर इस्लामी लश्कर ने तबूक के मुका़म पर पहुंचकर पड़ाव डाला , वहां पहुंचकर मालूम हुआ कि तबूक के चश्मे में पानी बहुत कम है लश्कर की जरूरत उससे पूरी नहीं हो सकती, आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उसमें से अपने दस्ते मुबारक में पानी लिया और उसको मुंह में लेकर वापस चश्मे के दहाने पर कुल्ली कर दी , चश्मा उसी वक्त उबलने लगा और पूरा भर गया, इस तरह सब ने पानी से सैराबी हासिल की।

★_ यह इलाका़ उस वक्त बिलकुल बंजर था उस मौक़े पर नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत मुआज़ रज़ियल्लाहु अन्हु से इरशाद फरमाया :- ऐ मुआज़ ! अगर तुम्हारी उम्र ने वफा की तो तुम देखोगे यह इलाका बागो बहार बन जाएगा _,"
यानी गर्दो पेश की यह सरज़मीन बागात वाली नज़र आएगी, मोरखा अल्लमा इब्ने अब्द अलबर उंदलुस लिखते हैं कि मैंने वह इलाका देखा था ..तमाम का तमाम बागात से भरा हुआ था ।

★_तबूक के मुकाम तक पहुंचने से एक रात पहले आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम एक रात सोए तो सुबह आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की आंख देर से खुली, बेदार हुए तो सूरज सवा नेजे़ के क़रीब बुलंद हो चुका था , इससे पहले रात को आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु को जाग कर निगरानी करने और फजर के वक्त उठाने का हुक्म दिया था। 
हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु टेक लगाकर बैठे थे इत्तेफाक से उनकी भी आंख लग गई थी, वह भी सोते रहे थे ,इस तरह नमाज का वक्त निकल गया ।

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु से फरमाया :- क्या मैंने तुमसे नहीं कहा था कि हमें फजर के वक्त जगा देना _,"
जवाब में हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :- "_ अल्लाह के रसूल! जिस चीज़ में आपको गाफिल कर दिया उसी ने मुझे गाफिल कर दिया _," यानी मुझे भी नींद आ गई । आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वहां से पड़ाव उठाने का हुक्म फरमाया और उसके बाद फजर की नमाज़ अदा की गई, यानी ये कजा़ नमाज़ थी ।

★_तबूक के सफर के दौरान एक जगह फिर पानी खत्म हो गया , आन हजरत सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को यह बात बताई गई तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत अली और हजरत जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हु को हुक्म दिया -कहीं पानी तलाश करके लाओ_," 
यह दोनों हजरात वहां से चलकर रास्ते पर आ बैठे, जल्द ही उन्होंने दूर से एक बूढ़ी औरत को आते देखा ,वो ऊंट पर सवार थी, उसने पांव दोनों तरफ लटका रखे थे और मशकीज़ों में पानी भर रखा था ,उन्होंने उससे पानी मांगा, इस पर वह बोली :- मैं और मेरे घरवाले तुमसे ज्यादा पानी के जरूरतमंद हैं ..मेरे बच्चे यतीम हैं _," 
इस पर उन्होंने कहा- तुम पानी समेत हमारे साथ रसूलुल्लाह के पास चलो _,"
यह सुनकर वह बोली-"_ कौन रसूलुल्लाह ? वह जादूगर ..जिनको बेदीन कहा जाता है.. फिर तो यही बेहतर है कि मैं उनके पास ना जाऊं _,"

★_ उसका जवाब सुनकर हजरत अली और हजरत जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हुम उसे जबरदस्ती आन हजरत  सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के पास ले आए .. हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने जब उन्हें बुढ़िया को इस तरह लाते देखा तो उनसे फरमाया :- "_ उसे छोड़ दो_," 
फिर उससे इरशाद फरमाया :- क्या तुम हमें अपने पानी को इस्तेमाल करने की इजाजत दोगी, तुम्हारा पानी ज्यों का त्यों जितना तुम लेकर आई हो उतना ही महफूज़ रहेगा _,"
बुढ़िया बोली:-  ठीक है ।
आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हजरत अबू क़तादा रज़ियल्लाहु अन्हु से फरमाया :- एक बर्तन ले आओ _,"
वह बर्तन ले आए ,आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उस औरत का मशकीज़ा खोला और उस बर्तन में थोड़ा सा पानी लिया .. फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपना दस्ते मुबारक उसमें डाला और लोगों से फरमाया :- "_ मेरे क़रीब आ जाओ और पानी लेना शुरू कर दो_,"

★_सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने देखा पानी से बर्तन में चश्मे की तरह उबल रहा था .. यूं लगता था जैसे आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की उंगलियों से निकल रहा हो, सब उस बर्तन से पानी लेने लगे.. पीने लगे ..अपने जानवरों को भी पिलाने लगे ..फिर उन्होंने अपने खाली बर्तन भर लिए.. यहां तक कि तमाम जानवर सैराब हो गए, तमाम बर्तन भर गए और पानी उस बर्तन में उसी तरह जोश मार रहा था.. अब आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वह पानी वापस उस औरत के मशकीज़े में डाल दिया और उसका मुंह बंद करने के बाद फरमाया:- तुम लोगों के पास जो कुछ हो ले आओ_,"
आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने एक कपड़ा बिछा दिया सहाबा किराम उसके लिए गोश्त खजूर वगैरा ले आए आप सल्लल्लाहु अलेही सल्लम ने वह सब उसे देकर फरमाया :- हमने तुम्हारे पानी में से कुछ नहीं लिया.. यह सब चीजें ले जाओ अपने यतीम बच्चों को खिला देना _,"

★_औरत हैरत ज़दा थी उसने यह सारा मंजर अपनी आंखों से देखा था ऐसा मंजर उसने जिंदगी में कभी नहीं देखा था ,जब यह अपने घर पहुंची तो घर वालों ने कहा कि तुमने बहुत देर लगा दी इस पर उसने सारा वाक़या सुनाया, उस बस्ती के लोगों को भी इस वाक्य का इल्म हो गया आखिर यह बुढ़िया बस्ती के लोगों के साथ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुई उसने और उसके कबीले वालों ने आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के हाथ पर कलमा पढ़ा ।

★_ गज़वा तबूक में एक मौके पर खाने का सामान खत्म हो गया हालत यहां तक पहुंची की एक खजूर मिल जाती तो एक पूरी जमात लेकर बैठ जाती है फिर सब बारी-बारी उसे चूसते और दूसरों की तरह बढ़ा देते , आखिर लोगों ने अर्ज़ किया :-अगर आप इजाजत दें तो हम अपने ऊंट ज़िबह करके खा लें _,"
इस पर हजरत उमर फारूक रज़ियल्लाहु अन्हु ने कहा :- ऐ अल्लाह के रसूल अगर आपने यह इजाज़त दे दी तो सवारी के जानवर खत्म हो जाएंगे ,आप इनसे फरमाइए की जिसके पास भी कोई बची हुई चीज़ हो वह ले आए फिर आप उसे खुराक में बरकत की दुआ करें _"

★_ चुनांचे ऐसा ही किया गया एक कपड़ा बिछाया गया जिसके पास कोई चीज़ थी वह ले आया जब सब चीज़ें कपड़े पर जमा हो गई तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनमें बरकत की दुआ की और फरमाया :- अब तुम लोग अपने अपने बर्तन इस खुराक़ से भर लो _,"
सब अपने बर्तन भरने लगे, सबने खूब सैर हो कर खाया भी और बर्तन भी भरें पूरे लश्कर में कोई बर्तन ऐसा ना रहा जो भर ना लिया गया हो ,

★_ तबूक के मुका़म पर पहुंचकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम 10-15 दिन ठहरे, रोमी लश्कर इस्लामी लश्कर से खौफ ज़दा हो गए थे इसलिए मुक़ाबले पर ना आए और इस तरह तबूक के मुकाम पर जंग ना हो सकी ,
इस दौरान आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम कसर नमाज़ पढ़ते रहे यानी मुसाफिर की नमाज़ जिसमें ज़ुहर असर और ईशा की फर्ज नमाज़ों में 4-4 रकात की 2 रकात अदा की जाती है _,
 ╨─────────────────────❥
*★_ Tabook SE Waapsi _,*

★_ Aakhir Tabook se Waapsi Ka Safar shuru hua .. Raaste me Chand munafiqo ne Huzoor Akram ﷺ ko Khayi me dhakka de Kar qatl Karne ki Sazish ki ,Lekin unki Sazish ki Allah Ta'ala ne Aap ﷺ ko wahi ke zariye khabar de di..is Tarah unki Sazish nakaam hui ,

★_ Madina Munavvara Ka Safar Abhi Ek din Ka baqi tha aur islami Lashkar Zi Awan ke Muqaam per Padaav daale hue tha k Allah Ta'ala ki taraf se hukm Naazil hua k Masjide Zaraar ko gira de'n..Ye Masjid Munafiqo ne banayi thi ..Wo us Masjid ko Apni Sazisho Ka markaz banana chahte they..Jis Waqt Huzoor Akram ﷺ Tabook ke liye rawana hue they aur us Masjid Ke paas se guzre they ,Tab Un Munafiqo ne Aap ﷺ se us Masjid me 2 raka'at Ada Karne ki darkhwast ki thi ,Us Waqt Aap ﷺ ne irshad farmaya tha k Waapsi per padhenge ..Lekin Waapsi per Allah Ta'ala ne Unki Sazish se ba Khabar Kar diya tha,

★_ Chunache Huzoor Akram ﷺ ne Sahaba kiraam ko hukm diya_,:- Us Masjid me Ja'o aur Jin logo ne wo Masjid banayi hai ,Unki Aankho'n ke saamne usko Aag laga Kar gira do ..Us Masjid ko banane wale bade Zaalim log Hai'n _,"
Chunache Sahaba ne Hukm ki tameel ki..Magrib aur isha ke darmiyaan Waqt me esa Kiya gaya, Masjid ko bilkul Zameen barabar Kar diya gaya ,

★_ Jab Huzoor Akram ﷺ  Lashkar ke Saath Madina Munavvara me dakhil hue to farmaya :- "_ Ye Shehar Pakiza aur Pur Sukoon hai ,Mere Parwardigaar ne isko Abaad Kiya hai ,Ye Shehar Apne Baahindo ke Mel kuchel ko is Tarah nikaal deta hai Jis Tarah Lohaar ki Bhatti lohe ke Mel kuchel ko door Kar Ke saaf Kar deti thi hai _,"
Fir Uhad ke pahaad ke liye farmaya :- "_ Ye Uhad Ka pahaad hai,Ye Pahaad Humse Muhabbat karta Hai aur hum bhi isse Muhabbat karte Hai'n _,"

★_ Is Safar me Jane se Kuchh logo ne Ji churaya tha .. Madina Munavvara me dakhil hote hi Huzoor Akram ﷺ ne Hukm farmaya :- Jab tak Mai'n Hukm na du'n,Tum us Waqt tak un logo se na bolna, na unke Saath uthna bethna ,

*★_ तबूक से वापसी _,*

★_ आखिर तबूक से वापसी का सफर शुरू हुआ , रास्ते में चंद मुनाफिक़ों न हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को खाई में धक्का देकर क़त्ल करने की साज़िश की,  लेकिन उनकी साजिश की अल्लाह ताला ने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को वही के जरिए खबर दे दी ..इस तरह उनकी साज़िश नाकाम हुई ।

★_ मदीना मुनव्वरा का सफर अभी एक दिन का बाक़ी था और इस्लामी लश्कर जी़वान के मुकाम पर पड़ाव डाले हुए था कि अल्लाह ताला की तरफ से हुक्म नाजि़ल हुआ कि मस्जिदे ज़रार को गिरा दें यह मस्जिद मुनाफ़िक़ों ने बनाई थी वह इस मस्जिद को अपनी साजिशों का मरकज़ बनाना चाहते थे । जिस वक्त हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम तबूक के लिए रवाना हुए थे और इस मस्जिद के पास से गुजरे थे तब मुनाफिकों ने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से इस मस्जिद में 2 रकात अदा करने की दरख्वास्त की थी.. उस वक्त आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया था कि वापसी पर पढ़ुंगा ..लेकिन वापसी पर अल्लाह ताला ने उनकी साजिशों से बा खबर कर दिया था ।

★_ चुनांचे हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सहाबा किराम को हुक्म दिया :- "_उस मस्जिद में जाओ और जिन लोगों ने वह मस्जिद बनाई है उनकी आंखों के सामने उसको आग लगाकर गिरा दो ..उस मस्जिद को बनाने वाले बड़े जालिम लोग हैं _,"
चुनांचे सहाबा ने हुक्म की तामील की , मगरिब और इशा के दरमियानी वक्त ने ऐसा किया गया,  मस्जिद को बिल्कुल ज़मीन के बराबर कर दिया गया ।

★_ जब हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम लश्कर के साथ मदीना मुनव्वरा में दाखिल हुए तो फरमाया :-"_ यह शहर पाकीज़ा और पुरसुकून है, मेरे परवरदिगार ने इसको आबाद किया है यह शहर अपने बाशिंदों के मेल कुचेल को इस तरह निकाल देता है जिस तरह लोहार की भट्टी लोहे के मेल कुचेल को दूर करके साफ कर देती है _,"
उहद पहाड़ के लिए फरमाया:- "_ यह उहद का पहाड़ है यह पहाड़ हमसे मोहब्बत करता है और हम भी इससे मोहब्बत करते हैं_,"

★_ इस सफर में जाने से कुछ लोगों ने जी चुराया था, मदीना मुनव्वरा में दाखिल होते ही हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- "_जब तक में हुक्म ना दूं तुम उस वक्त तक उन लोगों से ना बोलना ना उनके साथ उठना बैठना _,"

*★_ Teen Sahaba Ka 50 Din Ka Boycott _,*

★_ Ye Hukm milte hi Sab Sahaba Kiraam Raziyllahu Anhum ne un logo se alayhgi Akhtyar Kar li ,Khud Aan Hazrat ﷺ ne bhi Baat Cheet band Kar di ,Sahaba kiraam ne to Yaha'n tak Kiya k Agar un logo me se Kisi Ka Baap aur Bhai bhi tha to Usne usse bhi Baat Cheet tark Kar di ,

★_ Jab Huzoor Akram ﷺ Tabook ke liye rawana hue they,us Waqt munafiqo ki ek jama'at Madina Munavvara hi me reh gayi Thi ,Unki tadaad 80 ke qareeb thi , Unhone Tabook per na Jane ke liye Mukhtalif heele bahane kiye they ..Lekin unke alawa Teen Musalman ese they Jo Sirf Susti ki vajah se nahi gaye they, Ye Hazrat Ka'ab bin Maalik, Murara bin Rabi'a aur Hilaal bin Umayya Raziyllahu Anhum they ,In hazarat se Musalmano ne baat Cheet tark Kar di, Jab inhone Aap ﷺ ki khidmat me Haazir ho Kar Apna Apna Ujr pesh Kiya to Aap ﷺ ne unse farmaya :- Tum log jao ,Allah Ta'ala Tumhare haq me Faisla farmayenge _,"

★_ Chand Din baad Aap ﷺ ne Unhe Apni biviyo'n se bhi alag rehne Ka Hukm farma diya ,
Unhone Apni Biviyo'n ko Apne Maa'n Baap ke Ghar bhej diya.. Albatta Hazrat Hilaal bin Umayya Raziyllahu Anhu Budhe they ,Unke budhape ki vajah se Unhe itni ijazat di gayi k Bivi Ghar me reh Kar khidmat Kar Sakti hai..Lekin rahenge alag alag ,

★_ Is Tarah 50 Din guzar gaye, Sab log in teen Hazraat se Baat cheet Chhod chuke they, 50 Din baad Allah Ta'ala ne Unki Tauba qubool farmayi ,Logo ne Unhe mubarakbaad di ..Teeno Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Haazir hue..Aap ﷺ ne bhi Unhe mubarakbaad di ..Un Hazraat ne is Khushi me Apna Bahut sa Maal Sadqa Kiya ,

*★_ 3 सहाबा का 50 दिन का बायकॉट _,*

★_ यह हुक्म पाते ही सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने उन लोगों से अलहदगी अखत्यार कर ली , खुद आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने भी बातचीत बंद कर दी , सहाबा किराम ने तो यहां तक किया कि अगर उन लोगों में किसी का बाप और भाई भी था तो उसने उससे भी बातचीत तर्क कर दी ।

★_ जब हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम तबूक के लिए रवाना हुए थे उस वक्त मुनाफ़िक़ों की एक जमात मदीना मुनव्वरा ही में रह गई थी इनकी तादाद 80 के क़रीब थी,  उन्होंने तबूक पर ना जाने के लिए मुख्तलिफ हीले बहाने किए थे.. लेकिन उनके अलावा 3 मुसलमान ऐसे थे जो सिर्फ सुस्ती की वजह से नहीं गए थे ,यह हजरात काब बिन मालिक, मुरारा बिन रबी'अ और हिलाल बिन उमैया रजियल्लाहू अन्हूम थे, इन हजरात से मुसलमानों ने बातचीत तर्क कर दी, जब उन्होंने आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हो कर अपना अपना उज्र पेश किया तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इनसे फरमाया :-  तुम लोग जाओ ,अल्लाह तो तुम्हारे हक़ में फैसला फरमाएंगे _,"

★_ चंद दिन बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन्हें अपनी बीवियो से भी अलग रहने का हुक्म फरमा दिया, उन्होंने बीवियों को अपने मां बाप के घर भेज दिया, अलबत्ता हजरत हिलाल बिन उमैया रजियल्लाहू अन्हू बूढ़े थे उनके बुढ़ापे की वजह से उन्हें इतनी इजाजत दी गई थी कि बीवी घर में रहकर खिदमत कर सकती हैं लेकिन रहेंगे अलग-अलग..,

★_ इस तरह 50 दिन गुज़र गए , सब लोग इन तीन हजरात से बातचीत छोड़ चुके थे, 50 दिन बाद अल्लाह ताला ने इनकी तौबा कुबूल फरमाई,  लोगों ने उन्हें मुबारकबाद दी .. तीनों आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए.. आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने भी इन्हें मुबारकबाद दी.. इन हजरात ने इस खुशी में अपना बहुत सा माल सदका़ किया ।

 ╨─────────────────────❥
*★_ Waqia Raji'a aur Waqia Barre Ma'una _,*

★_ Gazwa Tabook ke baad Aan Hazrat ﷺ ne Kisi Jung me Khud hissa nahi liya , Albatta Sahaba kiraam ko Mukhtalif Muhimaat per Aap rawana farmate rahe, Jin Muhimaat me Aan Hazrat ﷺ ne bizzat khud hissa nahi liya ,un Muhimaat ko Siraya Kaha jata hai, Siraya ,Sirya ki Jama hai ..Ese Siraya Gazwa Tabook se Pehle bhi hue aur baad me bhi , Aap ﷺ ne Apni Zindgi mubarak me 46 martaba ke qareeb Sahaba kiraam ko Siraya ke liye rawana farmaya, Unme se Waqia Raji'a aur Waqia Barre Ma'una bahut dardnaak aur Mash'hoor Hai'n, Pehle Waqia Raji'a ki tafseel Padhiye ,

★_ Qabila Azal aur Qabila Qarah Ka Ek giroh Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Haazir hua , un logo ne Kaha :- Ey Allah ke Rasool ! Hamare ilaaqe me Deen sikhane ke liye Apne Kuchh Sahaba bhej dijiye _,"
Rasulullah ﷺ ne Apne 6 Sahaba ko unke Saath bhej diya, Unke Naam ye Hai'n - Mursid bin Abu Mursid Ganvi ,Khalid bin Bakeer Laysi , Aaaim bin Saabit bin Abul Aflah ,Khabeeb bin Adi ,Zaid bin Dasna aur Abdullah bin Taariq Raziyllahu Anhum ,
Huzoor Akram ﷺ ne Mursid bin Abu Mursid ko un per Ameer muqarrar farmaya, Wo un logo ke Saath rawana ho gaye, Aakhir ye log Raji'a ke Muqaam per pahunche, Raji'a Hijaaz ke Ek Zile me waaqe tha ,

★_ Yaha'n pahunch Kar Qabila Azal aur Qarah ke logo ne Qabila Huzail ko Awaaz di , Qabila Huzail ke log foran aa gaye..goya Sazish Pehle hi Taiyaar Kar li gayi Thi..Ye log unhe Sazish ke tahat laye they, .. Qabila Huzail ke logo ki tadaad 100 ke qareeb thi ,
In logo ne un Sahaba ko ghair liya .. Unhone bhi Talwaare so'nt li ..is Tarah Jung shuru ho gayi..is Jung ke Natije me Hazrat Mursid,Khalid bin Bakeer, Hazrat Aasim aur Abdullah bin Taariq Raziyllahu Anhum Shaheed ho gaye, Zaid bin Dasna aur Khabeeb bin Adi Raziyllahu Anhu giraftaar ho gaye, Hazrat Zaid bin Dasna Raziyllahu Anhu ne Gazwa Badar me Umayya bin Khalf ko qatl Kiya tha , Uske bete Safwaan ne Apne Baap ke qatl Ka badla Lene ke liye inhe un logo se Khareed liya aur qatl Karwa diya , Reh gaye Khabeeb bin Adi Raziyllahu Anhu Unhe Makka se bahar Ta'neem ke Muqaam per laya gaya..Taki Unhe Faa'nsi per latka de'n, Us Waqt Hazrat Khabeeb bin Adi Raziyllahu Anhu ne unse farmaya :- "_ Munasib Samjho to qatl Karne se Pehle mujhe 2 raka'at Namaz Ada Kar lene do _,"
Unhone ijazat de di , Hazrat Khabeeb Raziyllahu Anhu ne 2 raka'at bahut Achchhi Tarah itminan aur Sukoon se padhi ,Fir un logo se farmaya :- "_ Mera Ji Chahta tha ,Ye 2 raka'at zyada lambi padhu'n ..Lekin tum khayal Karte k Mai'n Maut ke Khof se Namaz lambi Kar raha Hu'n _,"

★_ Tareekhe islam me qatl se Pehle 2 raka'at Namaz Sabse Pehle Hazrat Khabeeb bin Adi Raziyllahu Anhu ne Ada ki , Iske baad Faa'nsi ke Takhte per khada Kiya gaya aur Achchhi Tarah baandha gaya ,Us Waqt inhone farmaya :- "_ Ey Allah ! Maine Tere Rasool Ka Paigaam pahuncha diya , Pas Tu bhi Rasulullah ﷺ ko is Baat ki khabar pahuncha de k in logo ne mere Saath kya Kiya _,"
Iske baad inhe Shaheed Kar diya,

*★_ Qureshe Makka ki ek Aurat Salafa ke Do bete Hazrat Aasim Raziyllahu Anhu ke Haatho qatl hue they, Usne mannat maani thi k Koi mujhe Aasim (Raziyllahu Anhu) Ka Sar la Kar dega to Mai'n uski Khopdi me sharab daal Kar piyungi, 
Hazrat Aasim Raziyllahu Anhu ko us mannat Ka pata tha , Chunache Shaheed hone se Pehle Unhone Dua ki thi k Ey Allah Meri laash unke Haath na lage , Chunache jab Unhe Shaheed Kar diya gaya aur Wo log laash ko uthane ke liye bade to un per Shehad ki makkhiyo ne hamla Kar diya..Wo bhaag khade hue , Fir Unhone Faisla Kiya k Raat ke Waqt laash utha lenge , Raat ko to Shehad ki makkhiya nahi hongi , Lekin Raat ko Allah Ta'ala ne Pani Ka Ek rela bheja Jo Laash ko baha le gaya,

★_ is Tarah Allah Ta'ala ne Unki Laash ki Hifazat farmayi ,
Hazrat Khabeeb Raziyllahu Anhu ki Dua bhi Poori ho gayi ..Aan Hazrat ﷺ ko wahi ke zariye bataya gaya k unke Saath kya Sulook Kiya gaya, Aan Hazrat ﷺ ne Hazraate Sahaba kiraam ko bhi ye khabar sunayi ,

★_ Waqi'a Raji'a ke Dino hi me Barre Ma'una Ka Waqia pesh Aaya, uski tafseel Kuchh Yu'n hai :- Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke paas Qabila Bani Aamir Ka Sardaar Aaya , Aap ﷺ ne use islam ki Dawat di, islam qubool Karne Ke bajaye Usne Kaha :- Mai'n samajhta Hu'n k Aapka Paigaam Nihayat Sharifana aur Achchha hai ,Behtar ye Hai k Aap Apne Kuchh Sahaba ko Najad Walo ki taraf bhej de'n , Waha'n Qabila Bani Aamir aur Bani Sulem Abaad Hai'n ,Wo waha'n Deen ki Dawat de'n ,Mujhe Ummeed hai k Najad ke log Aapki Dawat qubool karenge ,
Is per Aan Hazrat ﷺ ne farmaya :- Mujhe Najad walo ki taraf se Andesha hai .. Kahi'n mere Sahaba ko nuqsaan na pahunchaye _,"

★_ Ye Baat Aap ﷺ ne isliye farmayi k Abu Aamir Ka Chacha Aamir bin Tufel islam Ka Badtareen Dushman tha aur waha'n ke log bhi sakht Mukhtalif they , Aapki Baat sun Kar Abu Aamir ne Kaha :- Aapke Sahaba Meri panaah me honge ,Meri zimmedari me honge _,"
Aap ﷺ ne usse vaada Kar liya .. Vaada le Kar Abu Aamir Chala gaya , Aapne Hazrat Manzar bin Amru Raziyllahu Anhu ko 40 ya 70 Aadmiyo'n ke Saath rawana farmaya ,
Ye Sabke sab Nihayat Aabid aur Zaahid Sahaba they , Aan Hazrat ﷺ ne Unhe Ek khat bhi likh Kar diya , Ye Log Madina Munavvara se rawana hue aur Barre Ma'una per ja thehre , Barre Ma'una Bani Aamir aur Bani Sulem ki sarzameen ke darmiyaan tha , Bar kunve ko Kehte Hai'n,Yani Ma'una Ka kunva ,us ilaaqe ko Hirrah Kaha jata hai, Yaha'n Siyaah Patthar Kasrat se they ,

Yaha'n pahunch Kar in Hazraat ne Hazrat Haraam bin Malhan Raziyllahu Anhu ko Aan Hazrat ﷺ Ka khat de Kar Aamir bin Tufel ki taraf bheja ,
Hazrat Haraam Raziyllahu Anhu Uske paas pahunche aur Aan Hazrat ﷺ Ka khat use diya , Usne Khat padna bhi gawara na Kiya , Idhar Hazrat Haraam Raziyllahu Anhu ne khat dete Waqt unse Kaha - Ey Log Mai'n Rasulullah ﷺ ke qasid ki Haisiyat se Tumhare paas aaya Hu'n, isliye Allah aur Uske Rasool per imaan le aao _,"

★_ Abhi ye Alfaz keh rahe they k Aamir bin Tufel ne Ek Shakhs ko ishara Kiya.. Wo unke Pichhe Aaya aur Pehlu me neza de maara , Neza unke Jism ke aar paar ho gaya, Foran hi unke moonh se nikla :- Allahu Akbar ! Rab e Kaaba ki qasam Mai'n kamyaab ho gaya _,"
Unhe Shaheed Karane ke baad Aamir bin Tufel ne Apne logo se Kaha :- Ab iske baqi Saathiyo'n ko bhi qatl Kar do _," Unhone esa Karne se inkaar Kar diya..Kyunki Unhe ye Baat Maloom thi k ye Aane wale Hazraat Abu Aamir ki panaah me Hai'n ,

★_ Unki taraf se inkaar sun Kar Aamir bin Tufel ne Bani Sulem ko pukara  , Uski  pukaar per Qabila Asab ,Ra'al aur Zakwaan ke log foran aa gaye, Ye sab Musalmano ki taraf badhe aur Unhe ghair liya, Musalmano ne jab ye Soorate Haal dekhi to foran Talwaare so'nt li ..Jung shuru ho gayi..Aakhir ladte ladte ye Sahaba kiraam Shaheed hi gaye ,inme Sirf Ka'ab bin Zaid Raziyllahu Anhu zinda bach gaye, Wo Shadeed zakhmi they , Unhone inhe murda khayal Kiya.. baad me inhe Maidane Jung se uthaya gaya tha .. aur ye un Zakhmo se Tandurast ho gaye they,

★_ Inke alawa Hazrat Amru bin Umayya Raziyllahu Anhu aur Unke Saath Ek aur Sahabi bhi is ladayi me zinda bach gaye..Jab Mushriko ne Musalmano ko ghaire me liya tha to ye Dono us Waqt ount charane gaye hue they, Jab idhar un Sahaba ko Shaheed Kiya ja raha tha, Us Waqt Aan Hazrat ﷺ Madina me khutba irshad farma rahe they , 
Ghaire me Aane ke baad Musalmano ne ye Dua maangi, :- Ey Allah , Hamare paas tere Siva esa koi zariya nahi k Jo Hamari taraf se tere Rasool ko ye khabar pahuncha de ,

★_ Allah Ta'ala ne Unki Dua qubool farmayi .. Hazrat Jibraiyl Alaihissalam ne foran Aan Hazrat ﷺ ko is waqie ki khabar di, Aap ﷺ ne Khutbe ke Dauraan hi ye khabar Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko sunayi :- Tumhare Bhai Mushriko se do Chaar ho gaye, Mushriko ne Unhe Shaheed Kar diya hai _,"

★_ udhar Amru bin Umayya Zamri Raziyllahu Anhu aur Unke Saathi ount charane gaye they ,in Dono ne Padaav ki taraf Murdaar khor parindo ko mandlate dekha to pareshan ho gaye, Samajh gaye k koi Khaas Waqia pesh aa gaya hai , Chunache ye foran Apne Saathiyo'n ki taraf rawana hue, us Waqt tak Sahaba kiraam ke qatil wahi'n mojood they, 
Ye holnaak manzar dekh Kar Hazrat Amru bin Umayya Raziyllahu Anhu ke Saathi ne Puchha :- Ab kya raay hai _,"
Hazrat Amru bin Umayya Raziyllahu Anhu bole :- "_ Meri raay hai k hum Rasulullah ﷺ ke paas chale Jaye aur is saanhe ki khabar de'n _,"
Is per unke Saathi ne farmaya :- Magar Jis jagah Manzar bin Amru Raziyllahu Anhu jesa Aadmi Shaheed ho chuka hai , Mai'n waha'n se Apni Jaan bacha Kar nahi Jaunga _,"
Achchhi Baat hai ... Mai'n bhi Taiyaar Hu'n_,"

★_ Ab Dono ne Talwaare So'nt li, Dushman ko Lalkaara aur unse Jung shuru Kar di,
Aakhir kaar Hazrat Amru bin Umayya Raziyllahu Anhu giraftaar hue Jabki unke Saathi Sahabi Shaheed ho gaye , Aamir bin Tufel ki Maa'n ne Ek Gulaam Azaad Karne ki mannat maan rakhi thi , Usne Apni Maa'n ki mannat Poori karne ki khatir Amru bin Umayya Raziyllahu Anhu ko Azaad Kar diya, 
Ye Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Haazir hue aur Saara Waqia sunaya, Aap ﷺ ko bahut ranj hua , Saare Sahaba gamgeen ho gaye ,
Iske baad Aan Hazrat ﷺ ne Aamir bin Tufel ke liye Bad Dua ki , Bad Dua ke Natije me wo Taaoun ke marz me mubtila ho Kar halaak ho gaya ,

★_ Barre Ma'una ki ladayi ki khaas baat ye Hai k un Shaheed hone wale Sahaba me Hazrat Aamir bin Fahira Raziyllahu Anhu bhi they, Jab ye Shaheed hue to Allah Ta'ala ne Unki Laash ko Ouper utha liya , Unki Laash fir Zameen per utaar di gayi , Unhe qatl hone walo me Talash Kiya gaya, Lekin unki Laash na mili , Ye Baat sun Kar Aan Hazrat ﷺ ne farmaya :- Aamir bin Fahira ki Laash ko Farishto ne dafan Kiya hai _,"

★_ Aan Hazrat ﷺ ko us waqie se itna Sadma hua tha k musalsal ek maah tak Subeh ki Namaz me Duae Qunoot Naazila padhte rahe aur Barre Ma'una per Shaheed kiye Jane Wale Sahaba Ke qatilo ke Haq me Bad Dua Karte rahe , Is Tarah Aan Hazrat ﷺ Waqia Raji'a ke qatilo ke Haq me bhi Bad Dua farmate rahe ,

*★_वाक़िआ रजी'अ और वाक़िआ बर्रे म'ऊना _,*

★_ गज़वा तबूक के बाद आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने किसी जंग में खुद हिस्सा नहीं लिया अलबत्ता सहाबा किराम को मुख्तलिफ मुहिमात पर आप रवाना फरमाते रहें , जिन मुहिमात में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने बिज़्ज़ात खुद हिस्सा नहीं लिया , उन मुहिमात को सिराया कहा जाता है ,सिराया सिरया कि जमा है ..ऐसे सिराया गज़वा तबूक से पहले भी हुए और बाद में भी, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपनी जिंदगी मुबारक में 47 मर्तबा के क़रीब सहाबा किराम को सिराया के लिए रवाना फरमाया,  इनमें से _वाक़िआ रजी'अ और वाक़िआ बर्रे म'ऊना बहुत दर्दनाक और मशहूर हैं , पहले वाक़िआ रजी'अ की तफसीलात पढ़ते हैं ।

★_ कबीला अज़ल और क़बीला क़ारेह का एक गिरोह आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुआ, इन लोगों ने कहा- ए अल्लाह के रसूल ! हमारे इलाके में दीन सिखाने के लिए अपने कुछ सहाबा भेज दीजिए _,"
रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने अपने छह सहाबा को उनके साथ भेज दिया, उनके नाम यह है मुर्शीद बिन अबू मुर्शीद  गनवी , खालिद बिन बकीर लैयसी, आसिम बिन साबित बिन अबुल फलह , खबीब बिन अदी, जैद बिन दसना और अब्दुल्लाह बिन तारिक़ रज़ियल्लाहु अन्हुम ,
हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मुर्शिद बिन अबू मुर्शिद को उन पर अमीर मुकर्रर फरमाया , वह उन लोगों के साथ रवाना हो गए ,आखिर यह लोग रजी'अ के मुकाम पर पहुंचे ,  रजी'अ हिजाज के एक ज़िले में वाक़े था।

★_ यहां पहुंचकर क़बीला अज़ल और क़ारेह के लोगों ने क़बीला हुज़ेल को आवाज दी क़बीला हुज़ैल के लोग फोरन आ गए.. गोया साजिश पहले ही तैयार कर ली गई थी यह लोग उन्हें साजिशों के तहत लाए थे ..कबीला हुज़ैल के लोगों की तादाद 100 के क़रीब थी , उन लोगों ने इन सहाबा को घेर लिया इन्होंने भी तलवारें सौंत ली.. इस तरह जंग शुरू हो गई , इस जंग के नतीजे में हजरत मुर्शीद ,खालिद बिन बकीर, हजरत आसिम और अब्दुल्लाह बिन तारिक़ रज़ियल्लाहु अन्हु शहीद हो गए,  ज़ैद बिन दसना और खबीब बिन अदी रज़ियल्लाहु अन्हु गिरफ्तार हो गए,  हजरत ज़ैद बिन दसना रज़ियल्लाहु अन्हु ने गज़वा बदर में उमैया बिन खल्फ को क़त्ल किया था उसके बेटे सफवान ने अपने बाप के कत्ल का बदला लेने के लिए इन्हें उन लोगों से खरीद लिया और कत्ल करवा दिया । 
रह गए खबीब बिन अदी रज़ियल्लाहु अन्हु , इन्हें मक्का से बाहर ता'नीम के मुकाम पर लाया गया ताकि इन्हें फांसी पर लटका दें .. उस खबीब बिन अदी रज़ियल्लाहु अन्हु ने फरमाया :- "_ मुनासिब समझो तो क़त्ल करने से पहले मुझे 2 रकात नमाज़ अदा कर लेने दो _,"
उन्होंने इजाज़त दे दी ,हजरत खबीब बिन अदी रज़ियल्लाहु अन्हु ने 2 रकात बहुत अच्छी तरह इत्मिनान और सुकून से पढ़ी फिर उन लोगों से फरमाया:-  मेरा जी चाहता था यह 2 रकात ज्यादा लंबी पढ़ू लेकिन तुम ख्याल करते कि मैं मौत के खौफ से नमाज़ लंबी कर रहा हूं _,"

★_ तारीखे इस्लाम में क़त्ल से पहले 2 रकात नमाज सबसे पहले हजरत खबीब बिन अदी रज़ियल्लाहु अन्हु ने अदा की, उसके बाद फांसी के तख्ते पर खड़ा किया गया और अच्छी तरह बांधा गया , उस वक्त उन्होंने फरमाया:-  ए अल्लाह ! मैंने तेरे रसूल का पैगाम पहुंचा दिया ,पस तू भी रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को इस बात की खबर पहुंचा दें कि इन लोगों ने मेरे साथ क्या किया है _,"
इसके बाद इन्हें शहीद कर दिया गया ।

★_ कुरैशे मक्का की एक औरत सलाफा के दो बेटे हैं हजरत आसिम रज़ियल्लाहु अन्हु के हाथों कत्ल हुए थे , उसने मन्नत मांगी थी कि कोई मुझे आसिम (रज़ियल्लाहु अन्हु) का सर लाकर देगा तो मैं उसकी खोपड़ी में शराब डाल कर पिउंगी , हजरत आसिम रज़ियल्लाहु अन्हु को उस मन्नत का पता था , चुनांचे  शहीद होने से पहले उन्होंने दुआ की थी कि अल्लाह मेरी लाश उनके हाथ ना लगे _,"
चुनांचे जब इन्हें शहीद कर दिया गया तो और वह लोग लाश को उठाने के लिए बड़े तो उन पर शहद की मक्खियों ने हमला कर दिया वह भाग खड़े हुए फिर उन्होंने फैसला किया कि रात के वक्त लाश उठा लेंगे रात को तो शहद की मक्खियों नहीं होंगी.. लेकिन रात को अल्लाह ताला ने पानी का एक रेला भेजा जो लाश को बहा ले गया ।

★_ इस तरह अल्लाह ताला ने उनकी लाश की हिफाज़त फरमाई , हजरत खबीब रज़ियल्लाहु अन्हु की दुआ भी पूरी हो गई.. आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि सल्लम को वही के जरिए बताया गया कि उनके साथ क्या सुलूक किया गया, आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सहाबा किराम को भी यह खबर सुनाई ।

★_ वाक़िआ रजी'अ के दिनों में बर्रे म'ऊना का वाक़या पेश आया इसकी तफसील कुछ यूं है :- 
हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास क़बीला बनी आमिर का सरदार आया आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उसे इस्लाम की दावत दी , इस्लाम कबूल करने के बजाय उसने कहा :- मैं समझता हूं कि आपका पैगाम निहायत शरीफाना और अच्छा है बेहतर यह है कि आप अपने कुछ सहाबा को नजद वालों की तरफ भेज दे वहां क़बीला बनी आमिर और बनी सलेम आबाद है वह वहां दीन की दावत दें मुझे उम्मीद है कि नजद के लोग आप की दावत कुबूल करेंगे _,"
इस पर आज हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया:- मुझे नजद वालों की तरफ से अंदेशा है कहीं वह मेरे सहाबा को नुकसान ना पहुंचाएं _,"

★_ यह बात आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इसलिए फरमाई कि अबू आमिर का चचा आमिर बिन तुफेल इस्लाम का बदतरीन दुश्मन था और वहां के लोग भी सख्त मुखालिफ थे,  आपकी बात सुनकर अबू आमिर ने कहा :- आपके सहाबा मेरी पनाह में होंगे मेरी जिम्मेदारी में होंगे_,"
आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उससे वादा कर लिया , वादा लेकर अबू आमिर चला गया,  आपने हजरत मंजर बिन अमरू रज़ियल्लाहु अन्हु को 40 या 70 आदमियों के साथ रवाना फरमाया , यह सब के सब निहायत आबिद और जाहिद सहाबा थे , आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन्हें एक खत भी लिख कर दिया,  यह लोग मदीना मुनव्वरा से रवाना हुए और बर्रे म'ऊना पर जा ठहरे, बर्रे म'ऊना बनी आमिर और बनी सुलेम की सरज़मीन के दरमियान था , बर कुवे को कहते हैं यानी म'ऊना का कुआं, उस इलाक़े को हीराह कहा जाता है यहां सियाह पत्थर कसरत से थे ।

★_यहां पहुंच कर इन हजरात ने हजरत हराम बिन मल्हान रज़ियल्लाहु अन्हु को आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का खत देकर आमिर बिन तुफेल की तरफ भेजा, हजरत हराम रज़ियल्लाहु अन्हु उसके पास पहुंचे और आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का खत उसे दिया, उसने खत पढ़ना भी गवारा ना किया, इधर हजरत हराम रज़ियल्लाहु अन्हु ने खत देते वक्त उनसे कहा :- ऐ लोगों ! मैं रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के कासिद की हैसियत से तुम्हारे पास आया हूं इसलिए अल्लाह और उसके रसूल पर ईमान ले आओ _,"

★_ अभी वह यह अल्फाज कह रहे थे कि आमिर बिन तुफेल ने एक शख्स को इशारा किया ..वह उनके पीछे आया और पहलू में नेजा़ दे मारा , नेजा़ उनके जिस्म के आर पार हो गया, फौरन ही उनके मुंह से निकला :- अल्लाहु अकबर ! रब्बे काबा की कसम मै कामयाब हो गया _,"
उन्हें शहीद कराने के बाद आमिर बिन तुफेल ने अपने लोगों से कहा :-  अब इसके बाक़ी साथियों को भी क़त्ल कर दो _,"
उन्होंने ऐसा करने से इंकार कर दिया क्योंकि उन्हें यह बात मालूम थी यह आने वाले हजरात अबू आमिर की पनाह में है ।

★_ उनकी तरफ से इंकार सुनकर आमिर बिन तुफेल ने बनी सुलेम को पुकारा, उसकी पुकार पर क़बीला अस्ब ,र'अल और ज़कवान के लोग फौरन आ गए, यह सब मुसलमानों की तरफ बढ़े और उन्हें घेर लिया, मुसलमानों ने  जब यह सूरते हाल देखी तो फौरन तलवारें सौत ली..जंग शुरू हो गई..  आखिर लड़ते-लड़ते यह सहाबा किराम शहीद हो गए, उनमें सिर्फ का'ब बिन ज़ैद रज़ियल्लाहु अन्हु जिंदा बच गये ,  यह शहीद जख्मी थे उन्होंने इन्हें मुर्दा ख्याल किया.. बाद में इन्हें मैदान-ए-जंग से उठाया गया था और यह उन जख्मों से तंदुरुस्त हो गए थे ।

★_ इनके अलावा हजरत अमरू बिन उमैया रजियल्लाहू अन्हू और उनके साथ एक और साहाबी ने भी इस लड़ाई में जिंदा बच गए , जब मूशरिको ने मुसलमानों को घेरे में लिया था तो यह दोनों उस वक्त ऊंट चराने गए हुए थे । 
जब इधर इन सहाबा को शहीद किया जा रहा था उस वक्त आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मदीना में खुतबा इरशाद फरमा रहे थे , 
घैरे में आने के बाद मुसलमानों ने यह दुआ मांगी :- ऐ अल्लाह हमारे पास तेरे सिवा ऐसा कोई जरिया नहीं जो हमारी तरफ से तेरे रसूल को यह खबर पहुंचा दे _,"

★_ अल्लाह ताला ने उनकी दुआ कुबूल फरमाई , हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने फौरन आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को इस वाक़ए की खबर दी , आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने खुतबे के दौरान ही यह खबर सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को सुनाई, "_ तुम्हारे भाई मुशरिक़ों से दो चार हो गए , मुशरिक़ों ने उन्हें शहीद कर दिया है _,"

★_ उधर अमरू बिन उमैया ज़मरी रज़ियल्लाहु अन्हु और उनके साथी ऊंट चराने गए हुए थे उन दोनों ने पड़ाव की तरफ मुर्दार खोर परिंदों को मंडलाते देखा तो परेशान हो गए , समझ गए कि कोई खास वाकि़या पेश आ गया है चुनांचे यह फौरन अपने साथियों की तरफ रवाना हुए उस वक्त तक सहाबा किराम के क़ातिल वहीं मौजूद थे ।
यह होलनाक मंजर देखकर हजरत अमरू बिन उमैया रजियल्लाहू अन्हू के साथी ने पूछा:- अब क्या राय है _,"
अमरू बिन उमैया रज़ियल्लाहु अन्हु बोले - मेरी राय है कि हम रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास चले जाएं और इस सानहे की खबर दें _,"
जिस पर उनके साथी ने फरमाया-  मगर जिस जगह मंजर बिन अमरू रज़ियल्लाहु अन्हु जैसा आदमी शहीद हो चुका है मैं वहां से अपनी जान बचाकर नहीं जाऊंगा _,"
"_अच्छी बात है मैं भी तैयार हूं_,"

★_ अब दोनों ने तलवारे सौंत ली,  दुश्मन को ललकारा और उनसे जंग शुरू कर दी । आखिरकार हजरत अमरू बिन उमैया रजियल्लाहू अन्हू गिरफ्तार हो गए जबकि उनके साथी सहाबी शहीद हो गए , 
आमिर बिन तुफेल की मां ने एक गुलाम आजाद करने की मन्नत मान रखी थी, उसने अपने मां की मन्नत पूरी करने की खातिर अमरू बिन उमैया रजियल्लाहू अन्हू को आजाद कर दिया , यह आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए और सारा वाक़या सुनाया । आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को बहुत रंज हुआ, सारे सहाबा गमगीन हो गए,
इसके बाद आन हजरत सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने आमिर बिन तुफेल के लिए बद्दुआ की, बद्दुआ के नतीजे में वह ताऊन के मर्ज़ में मुब्तिला होकर हलाक हो गया ।

★_ बर्रे म'ऊना की लड़ाई की खास बात यह है कि उन शहीद होने वाले सहाबा मे हजरत आमिर बिन फहीरा रज़ियल्लाहु अन्हु भी थे , जब यह शहीद हुए तो अल्लाह ताला ने इनकी लाश को ऊपर उठा लिया ..इनकी लाश फिर जमीन पर उतार दी गई,  इन्हें कत्ल होने वालों में तलाश किया गया लेकिन उनकी लाश ना मिली .. यह बात सुनकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- आमिर बिन फहीरा की लाश को फरिश्तों ने दफन किया है _,"

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को उस वाक़िए से इतना सदमा हुआ था कि मुसलसल 1 माह तक सुबह की नमाज में दुआ ए कुनूते नाजि़ला पढ़ते रहे और बर्रे म'ऊना पर शहीद किए जाने वाले सहाबा के कातिलों के हक में बद्दुआ करते रहे , इसी तरह आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम वाक़िआ रजी'अ के का़तिलों के हक़ में भी बद्दुआ फरमाते रहे 
 ╨─────────────────────❥
*★_ Do Jhoote Nabi Kazzaab Taliha aur Muselma _,*

★_ Gazwa Tabook ke baad Siraya bheje Jane Ka Silsila jari raha ,is Dauraan Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me har taraf se wadad aane lage ,Yani log wafado ki shakl me aa aakar islam qubool Karne lage , Ek Roz Bani Hanifa Ka wafad aaya , Usme Muselma Kazzaab bhi tha , Un logo ne us Shakhs ki kapdo me dhaa'np rakha tha , Us Waqt Aan Hazrat ﷺ Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ke darmiyaan Tashreef farma they aur Aap ﷺ ke Haath me Khajoor ki tehni thi , Tehni ke sire per Kuchh patte bhi they , Muselma ne Aapke Nazdeek aa Kar Kaha :- Aap mujhe Apni Nabuwat me Shareek Kar lijiye _,"
Aan Hazrat ﷺ ne Uski ye behooda Baat ke Jawab me irshad farmaya :- Agar Tu mujhse ye Tehni bhi maange to Mai'n to Tujhe ye bhi nahi de Sakta _,"

★_ Nabi Akram ﷺ uski Aamad se Pehle ye Sahaba kiraam se farma chuke they k Maine dekha hai k mere Haath me Sone ke do kangan Hai'n, Allah Ta'ala ne hi mujhe wahi ki k un per foonk maare , Maine Foonk maari to Dono kangan ud gaye , isse Maine ye tabeer li k Do Kazzaab Yani Jhoote Nabi Zaahir hone wale Hai'n ,
Ye Do Jhoote Taliha aur Muselma they , Taliha to Yaman ke Shehar San'a Ka rehne wala tha aur Muselma Amama Ka , Dono ne Huzoor ﷺ ki Zindgi mubarak hi me Nabuwat Ka jhoota Daava Kar diya tha ,

★_ Us Waqt Yahi Muselma Aaya tha , Waapas Apne logo me Ja Kar Usne ye Baat uda di k Muhammad ﷺ ne mujhe Nabuwat me hissedar bana liya hai , Fir ye Qurane Kareem ki Ayaat ki naqaali me utpataang qism ke arbi jumle bolne laga aur logo se Kehne laga k mujh per ye wahi aayi hai... Apni ulti sidhi karamaat dikhane laga , Farzi mojzaat dikhane laga , is Tarah log Uske gird Jama hone lage , us rusiyaah ne Aan Hazrat ﷺ ko ek khat bhi Likha tha , usme Likha  :- Mujhe Aapki Nabuwat me Shareek Kar liya gaya hai .. hum Dono Aadhe Aadhe ke Maalik Hai'n Magar Quresh ke log insaaf Pasand nahi Hai'n _,"

★_ Aan Hazrat ﷺ ne Uske Jawab me ye khat likhwaya :- 
"_ Bismillahirrahman nirraheem, Ye khat Muhammad ﷺ ki taraf se Muselma Kazzaab ke Naam hai , Salamti ho us per Jisne Hidayat aur Sidhe Raaste ki Pervi ki , Amma Baad ! Ye rue Zameen Allah ki milk hai , Wo Apne Bando me jise Chahe Uska Vaaris bana de , Dar Haqeeqat Behtar Anjaam to Allah se darne walo Ka hi hota hai _,"

★_ Aap ﷺ ne ye khat do Qasido ke zariye bheja , Usne khat padh Kar un dono se Kaha :- Kya tum bhi wahi Baat Kehte ho Jo Unhone khat me Likha hai ?
Jawab me Dono Qasido ne farmaya :- Haa'n , hum bhi Yahi Kehte Hai'n _,"
Is per Usne Kaha :- Agar Qasido ko qatl Karna dastoor ke khilaf na hota to Mai'n Tumhari gardane maar Deta _,"

*★_ दो झूठे नबी कज़्ज़ाब तलीहा और मुसेलमा_,*

★_ गजवा तबूक के बाद सिराया भेजे जाने का सिलसिला जारी रहा , उस दौरान आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हर तरफ से वफद आने लगे यानी लोग वफदों की शक्ल में आकर इस्लाम कुबूल करने लगे , एक रोज़ बनी हनीफा का वफद आया , उसमें मुसेलमा कज़्ज़ाब भी था उन लोगों ने उस शख्स को कपड़ों में ढ़ांप रखा था,  उस वक्त आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम के दरमियान तशरीफ़ फरमा थे और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के हाथ में खजूर की टहनी थी, टहनी के सिरे पर कुछ पत्ते भी थे । मुसेलमा ने आपके नज़दीक आकर कहा :-  आप मुझे अपनी नबूवत में शरीक़ कर लीजिए _," आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उसकी बेहूदा बात के जवाब में इरशाद फरमाया :-  " अगर तू मुझसे यह टहनी भी मांगे तो मैं तो तुझे यह भी नहीं दे सकता _,"

★_ नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उसकी आमद से पहले यह सहाबा किराम से फरमा चुके थे कि मैंने देखा है कि मेरे हाथ में सोने के दो कंगन हैं अल्लाह ताला ने ही मुझे वही की कि इन पर फूंक मारें, मैंने फूंक मारी तो दोनों कंगन उड़ गए , इससे मैंने यह ताबीर ली कि दो कज़्ज़ाब यानी झूठे नबी ज़ाहिर होने वाले हैं ।
यह दो झूठे तलीहा और मुसेलमा थे , तलीहा तो यमन के शहर सन'आ का रहने वाला था और मुसेलमा अमामा का , दोनों ने हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की जिंदगी मुबारक ही में नबूवत का झूठा दावा कर दिया था ।

★_ उस वक्त यही मुसेलमा आया था, वापस अपने लोगों में जाकर उसने यह बात उड़ा दी कि मोहम्मद सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मुझे नबूवत में हिस्सेदार बना लिया है , फिर वह क़ुरआने करीम की आयत की नक्काली में उटपटांग किस्म के अरबी जुमले बोलने लगा और लोगों से कहने लगा कि मुझ पर यह वही आई है ..अपनी उल्टी-सीधी करामात दिखाने लगा , फर्जी मौजजात दिखाने लगा .. इस तरह लोग उसके गिर्द जमा होने लगे , उस रूसियाह ने आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को एक खत भी लिखा था , उसमें लिखा :- मुझे आपकी नबुवत में शरीक कर लिया गया है हम दोनों आधे आधे के मालिक हैं मगर कुरेश के लोग इंसाफ पसंद नहीं है _,"

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने उसके जवाब में यह खत लिखवाया :-
"_ बिस्मिल्ला हिर्रहमानिर्रहीम , यह खत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की तरफ से मुसेलमा कज़्ज़ाब के नाम है । सलामती हो उस पर जिसने हिदायत और सीधे रास्ते की पैरवी की , अम्मा बाद ! यह रूए ज़मीन अल्लाह की मिल्क है ,वह अपने बंदों में जिसे चाहे उसका वारिस बना दे, दर हक़ीक़त बेहतर अंजाम तो अल्लाह से डरने वालों का ही होता है _,"

★_ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने यह खत दो क़ासिदों के ज़रिए भेजा । उसने खत पढ़कर उन दोनों से कहा :- क्या तुम भी वही बात कहते हो जो उन्होंने लिखा है ?
जवाब में दोनों कासिदों ने फरमाया:-  हां हम भी यही कहते हैं ।
इस पर उसने कहा :- अगर कासिदों को कत्ल करना दस्तूर के खिलाफ ना होता तो मैं तुम्हारी गर्दने मार देता _,"

*★_ Rom Ke Badshaah Hirakkal aur Iraan ke Badshaah Kisra ke Naam Khat _,*

★_ Us Jhoote ke khilaf Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ke daur me Jung ladi gayi , Us Jung ki Jung Yamama Kehte Hai'n, Usme Muselma Kazzaab Hazrat Wehshi bin Harb Raziyllahu Anhu ke Haatho maara gaya tha,
Hazrat Wehshi Raziyllahu Anhu Wo Hai'n Jinke Haatho Gazwa Uhad me Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu Shaheed hue they .. baad me Musalman ho gaye they,

★_ Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Duniya ke Badshaaho ke Naam khutoot likhwaye aur un khutoot me Un Badshaaho ko islam ki Dawat di , Rom ke Badshaah Hirakkal ko bhi khat likhwaya , Ye khat Hazrat Dahiya Kalbi Raziyllahu Anhu le Kar gaye , Rom ke Badshaah khud ko Qaisar kehalwate they , Qaisar ne Aap ﷺ ke khat Ka Ahatraam Kiya ..Lekin imaan Lana Uske muqaddar me nahi tha ,

★_ isi Tarah Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Iraan ke Badshaah Kisra Parvez ke Naam khat likhwaya, Ye Khat Abdullah Sahmi Raziyllahu Anhu le Kar gaye , Usne khat sunne se Pehle hi use chaak Karne Ka Hukm diya, Uske Hukm per Aan Hazrat ﷺ Ka khat faad diya gaya, Usne Apne Darbaar se Qaasid ko bhi nikaal diya, Hazrat Abdullah bin Huzafa Sahmi Raziyllahu Anhu Apni Sawaari per bethe aur waapas rawana hue, Madina Munavvara pahunch Kar Unhone Saari tafseel Suna di , 
Ye sun Kar Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- Kisra ki Hukumat tukde tukde ho gayi _,"

★_ Udhar Kisra Parvez ne Apne Yaman ke Haakim ko Likha :- mujhe Maloom hua hai k Quresh ke Ek Shakhs ne Nabuwat Ka Daava Kiya hai , Tum Foran use giraftaar Kar Ke mere paas bhej do _,"
Yaman ke Governor Bazaan ne do Aadmi bhej diye , Dono Madina pahunch Kar Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Haazir hue, Unki Daadhi mundhi hui aur moonche badi hui thi , Aan Hazrat ﷺ ne unke Huliye ko dekh Kar farmaya :- "_Tumhara bura ho ! Ye Tumne Apne Chehre kese bana rakhe Hai'n, Tumhe esa Huliya Akhtyar Karne Ka Hukm kisne diya ?"
Jawab me wo bole :- Hamare Parwardigaar Kisra ne _,"
Aan Hazrat ﷺ ne ye sun Kar irshad farmaya:- "_ Ab Jao aur Kal mere paas aana _," 
Dono chale gaye ,

*★_ रोम के बादशाह हिरक्कल और ईरान के बादशाह किसरा परवेज़ के नाम ख़त _,*

★_उस झूठे के खिलाफ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के दौर में जंग लड़ी गई , उस जंग को जंगे यमामा कहते हैं, उसमें मुसेलमा कज़्जाब हजरत वहशी बिन हर्ब रजियल्लाहू अन्हू के हाथों मारा गया था, हजरत वहशी रज़ियल्लाहु अन्हु वह हैं जिनके हाथों गज़वा उहद में हजरत हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु शहीद हुए थे,.. बाद में मुसलमान हो गए थे ।

★_ हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने दुनिया के बादशाहों के नाम खुतूत लिखवाएं और उन खुतूत में उन बादशाहों को इस्लाम की दावत दी , रोम के बादशाह हिरक्कल को भी खत लिख गया , यह खत हजरत दहिया कलबी रज़ियल्लाहु अन्हु ले कर गए, रोम के बादशाह खुद को कैसर कहलाते थे कैसर ने आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम  के ख़त का एहेतराम किया लेकिन ईमान लाना उसके मुकद्दर में नहीं था ।

★_ इसी तरह हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम ने ईरान के बादशाह किसरा परवेज़ के नाम खत लिखवाया, यह खत अब्दुल्लाह साहमि रज़ियल्लाहु अन्हु लेकर गए , उसने खत सुनने से पहले ही उसे चाक करने का हुक्म दिया उसके हुकम पर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के ख़त को फ़ाड़ दिया गया , उसने अपने दरबार से क़ासिद को भी निकाल दिया , हजरत अब्दुल्लाह बिन हुज़ाफा साहमी शाह रज़ियल्लाहु अन्हु अपनी सवारी पर बैठे और वापस रवाना हो गए, मदीना मुनव्वरा पहुंचकर उन्होंने सारी तफसील सुना दी ,
यह सुनकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- किसरा की हुकूमत टुकड़े टुकड़े हो गई _,"

★_ उधर किसरा परवेज़ ने अपने यमन के हाकिम को लिखा :-  मुझे मालूम हुआ है कि कुरैश के एक शख्स ने नबूवत का दावा किया है,  तुम फौरन उसे गिरफ्तार करके मेरे पास भेज दो_,"
 यमन के गवर्नर बाज़ान ने दो आदमी भेज दिए, दोनों मदीना पहुंचकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए , उनकी डाढ़ियां मुंडी हुई और मूछे बड़ी हुई थी , आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- तुम्हारा बुरा हो ! यह तुमने अपने चेहरे कैसे बना रखे हैं ? तुम्हें ऐसा हुलिया अख्त्यार करने का हुक्म किसने दिया ?"
जवाब में वह बोले :- हमारे परवरदिगार किसरा ने _,"
आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- "_अब जाओ और कल मेरे पास आना _,"
दोनों चले गए ।

*★_ Shaahe Habsha Najaashi ke Naam Khat _,*

★_ Is dauraan Allah Ta'ala ne Aap ﷺ ko wahi ke zariye khabar di k Allah Ta'ala ne Kisra per Uske Bete ko musallat Kar diya hai, Wo Fala Mahine aur Din use Qatl Kar dega ,
Is wahi ke baad Aap ﷺ ne un Dono ko bulaya aur ye ittela Unhe Di , Saath hi Aap ﷺ ne Bazaan ke Naam khat likhwaya k Allah Ta'ala ne mujhse vaada farmaya hai k Wo Kisra ko Fala Mahine aur Fala Din qatl Kar dega _,
Bazaan ko ye khat mila to Usne socha , Agar Wo Nabi Hai'n to jesa Unhone Likha hai, Wesa hi Hoga ,

★_ Chunache isi Tarah hua .. Uske Bete Sherviya ne usi din use qatl Kar diya Jiski peshangoi ho chuki thi , Bazaan ko jab ye ittela mili to Usne Foran Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Qasid bheja aur Apne aur Apne Saathiyo'n ke islam qubool Karne ki ittela di ,

★_ Aan Hazrat ﷺ ne Shaahe Habsha Najaashi ke Naam bhi khat likhwaya , Najaashi ke paas jab ye khat pahuncha to unhone us maktoob mubarak ko Aankho'n se lagaya , Takht se utar Kar Zameen per aa bethe aur islam qubool Kiya , Fir Haathi Daa'nt Ka Sandookchi mangwa Kar Huzoor Akram ﷺ Ka khat mubarak usme adab se rakha , Uske Khat ke Saath Aap ﷺ ne unke Naam Ek doosra khat bhi likhwaya , Usme Aap ﷺ ne likhwaya k Najaashi Hazrat Umme Habiba Raziyllahu Anha se Aan Hazrat ﷺ Ka Nikaah Kar de'n ,
Najaashi ne us khat ko bhi chooma .. Aankho'n se lagaya aur Hukm ki tameel ki aur Hazrat Umme Habiba Raziyllahu Anha se Aan Hazrat ﷺ Ka Nikaah padhaya , Ye Dono Khat Hazrat Amru bin Umayya Zamri Raziyllahu Anhu le Kar gaye they ,

*★_ शाहे हब्शा नजाशी के नाम ख़त _,*

★_ इस दौरान अल्लाह ताला ने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को वही के जरिए खबर दी कि अल्लाह ताला ने किसरा पर उसके बेटे को मुसल्लत कर दिया है वह फलां महीने और दिन उसे क़त्ल कर देगा , 
इस वही के बाद आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने उन दोनों को बुलाया और यह इत्तेला उन्हें दी ,  साथ ही आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने बाजा़न के नाम खत लिखवाया कि अल्लाह ताला ने मुझसे वादा फरमाया है कि वह किसरा को फलां महीने और फलां दिन क़त्ल कर देगा ,
बाज़ान को यह ख़त मिला तो उसने सोचा अगर वह नबी हैं तो जैसा उन्होंने लिखा है वैसा ही होगा ।

★_ चुनांचे इसी तरह हुआ.. उसके बेटे शेरविया ने उसी दिन उसे क़त्ल कर दिया जिसकी पैशनगोई हो चुकी थी , बाज़ान को जब यह इत्तेला मिली तो उसने फौरन आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि सल्लम की खिदमत में क़ासिद भेजा और अपने और अपने साथियों के इस्लाम कुबूल करने की इत्तेला दी ।

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने शाहे हब्शा नजाशी के नाम भी ख़त लिखवाया , नजाशी के पास जब यह ख़त पहुंचा तो उन्होंने उस मकतूब मुबारक को आंखों से लगाया,  तख्त से उतर कर जमीन पर आ बैठे और इस्लाम कुबूल किया,  फिर हाथी दांत की संदूकची मंगवा कर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का ख़त मुबारक उसमे अदब से रखा , उस ख़त के साथ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनके नाम एक दूसरा ख़त भी लिखवाया , उसमें आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने लिखवाया कि नजाशी हजरत उम्मे हबीबा रज़ियल्लाहु अन्हा से आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का निकाह कर दें । 
नजाशी ने उस ख़त को भी चूमा.. आंखों से लगाया और हुक्म की तामील की और हजरत उम्मे हबीबा रज़ियल्लाहु अन्हा से आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का निकाह पढ़ाया , यह दोनों ख़त हजरत अमरू बिन उमैया जमरी रज़ियल्लाहु अन्हु लेकर गए थे ।

*★_ Do Jhoote Nabi Kazzaab Taliha aur Muselma _,*

★_ Gazwa Tabook ke baad Siraya bheje Jane Ka Silsila jari raha ,is Dauraan Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me har taraf se wadad aane lage ,Yani log wafado ki shakl me aa aakar islam qubool Karne lage , Ek Roz Bani Hanifa Ka wafad aaya , Usme Muselma Kazzaab bhi tha , Un logo ne us Shakhs ki kapdo me dhaa'np rakha tha , Us Waqt Aan Hazrat ﷺ Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ke darmiyaan Tashreef farma they aur Aap ﷺ ke Haath me Khajoor ki tehni thi , Tehni ke sire per Kuchh patte bhi they , Muselma ne Aapke Nazdeek aa Kar Kaha :- Aap mujhe Apni Nabuwat me Shareek Kar lijiye _,"
Aan Hazrat ﷺ ne Uski ye behooda Baat ke Jawab me irshad farmaya :- Agar Tu mujhse ye Tehni bhi maange to Mai'n to Tujhe ye bhi nahi de Sakta _,"

★_ Nabi Akram ﷺ uski Aamad se Pehle ye Sahaba kiraam se farma chuke they k Maine dekha hai k mere Haath me Sone ke do kangan Hai'n, Allah Ta'ala ne hi mujhe wahi ki k un per foonk maare , Maine Foonk maari to Dono kangan ud gaye , isse Maine ye tabeer li k Do Kazzaab Yani Jhoote Nabi Zaahir hone wale Hai'n ,
Ye Do Jhoote Taliha aur Muselma they , Taliha to Yaman ke Shehar San'a Ka rehne wala tha aur Muselma Amama Ka , Dono ne Huzoor ﷺ ki Zindgi mubarak hi me Nabuwat Ka jhoota Daava Kar diya tha ,

★_ Us Waqt Yahi Muselma Aaya tha , Waapas Apne logo me Ja Kar Usne ye Baat uda di k Muhammad ﷺ ne mujhe Nabuwat me hissedar bana liya hai , Fir ye Qurane Kareem ki Ayaat ki naqaali me utpataang qism ke arbi jumle bolne laga aur logo se Kehne laga k mujh per ye wahi aayi hai... Apni ulti sidhi karamaat dikhane laga , Farzi mojzaat dikhane laga , is Tarah log Uske gird Jama hone lage , us rusiyaah ne Aan Hazrat ﷺ ko ek khat bhi Likha tha , usme Likha  :- Mujhe Aapki Nabuwat me Shareek Kar liya gaya hai .. hum Dono Aadhe Aadhe ke Maalik Hai'n Magar Quresh ke log insaaf Pasand nahi Hai'n _,"

★_ Aan Hazrat ﷺ ne Uske Jawab me ye khat likhwaya :- 
"_ Bismillahirrahman nirraheem, Ye khat Muhammad ﷺ ki taraf se Muselma Kazzaab ke Naam hai , Salamti ho us per Jisne Hidayat aur Sidhe Raaste ki Pervi ki , Amma Baad ! Ye rue Zameen Allah ki milk hai , Wo Apne Bando me jise Chahe Uska Vaaris bana de , Dar Haqeeqat Behtar Anjaam to Allah se darne walo Ka hi hota hai _,"

★_ Aap ﷺ ne ye khat do Qasido ke zariye bheja , Usne khat padh Kar un dono se Kaha :- Kya tum bhi wahi Baat Kehte ho Jo Unhone khat me Likha hai ?
Jawab me Dono Qasido ne farmaya :- Haa'n , hum bhi Yahi Kehte Hai'n _,"
Is per Usne Kaha :- Agar Qasido ko qatl Karna dastoor ke khilaf na hota to Mai'n Tumhari gardane maar Deta _,"

*★_ दो झूठे नबी कज़्ज़ाब तलीहा और मुसेलमा_,*

★_ गजवा तबूक के बाद सिराया भेजे जाने का सिलसिला जारी रहा , उस दौरान आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हर तरफ से वफद आने लगे यानी लोग वफदों की शक्ल में आकर इस्लाम कुबूल करने लगे , एक रोज़ बनी हनीफा का वफद आया , उसमें मुसेलमा कज़्ज़ाब भी था उन लोगों ने उस शख्स को कपड़ों में ढ़ांप रखा था,  उस वक्त आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम के दरमियान तशरीफ़ फरमा थे और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के हाथ में खजूर की टहनी थी, टहनी के सिरे पर कुछ पत्ते भी थे । मुसेलमा ने आपके नज़दीक आकर कहा :-  आप मुझे अपनी नबूवत में शरीक़ कर लीजिए _," आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उसकी बेहूदा बात के जवाब में इरशाद फरमाया :-  " अगर तू मुझसे यह टहनी भी मांगे तो मैं तो तुझे यह भी नहीं दे सकता _,"

★_ नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उसकी आमद से पहले यह सहाबा किराम से फरमा चुके थे कि मैंने देखा है कि मेरे हाथ में सोने के दो कंगन हैं अल्लाह ताला ने ही मुझे वही की कि इन पर फूंक मारें, मैंने फूंक मारी तो दोनों कंगन उड़ गए , इससे मैंने यह ताबीर ली कि दो कज़्ज़ाब यानी झूठे नबी ज़ाहिर होने वाले हैं ।
यह दो झूठे तलीहा और मुसेलमा थे , तलीहा तो यमन के शहर सन'आ का रहने वाला था और मुसेलमा अमामा का , दोनों ने हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की जिंदगी मुबारक ही में नबूवत का झूठा दावा कर दिया था ।

★_ उस वक्त यही मुसेलमा आया था, वापस अपने लोगों में जाकर उसने यह बात उड़ा दी कि मोहम्मद सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मुझे नबूवत में हिस्सेदार बना लिया है , फिर वह क़ुरआने करीम की आयत की नक्काली में उटपटांग किस्म के अरबी जुमले बोलने लगा और लोगों से कहने लगा कि मुझ पर यह वही आई है ..अपनी उल्टी-सीधी करामात दिखाने लगा , फर्जी मौजजात दिखाने लगा .. इस तरह लोग उसके गिर्द जमा होने लगे , उस रूसियाह ने आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को एक खत भी लिखा था , उसमें लिखा :- मुझे आपकी नबुवत में शरीक कर लिया गया है हम दोनों आधे आधे के मालिक हैं मगर कुरेश के लोग इंसाफ पसंद नहीं है _,"

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने उसके जवाब में यह खत लिखवाया :-
"_ बिस्मिल्ला हिर्रहमानिर्रहीम , यह खत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की तरफ से मुसेलमा कज़्ज़ाब के नाम है । सलामती हो उस पर जिसने हिदायत और सीधे रास्ते की पैरवी की , अम्मा बाद ! यह रूए ज़मीन अल्लाह की मिल्क है ,वह अपने बंदों में जिसे चाहे उसका वारिस बना दे, दर हक़ीक़त बेहतर अंजाम तो अल्लाह से डरने वालों का ही होता है _,"

★_ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने यह खत दो क़ासिदों के ज़रिए भेजा । उसने खत पढ़कर उन दोनों से कहा :- क्या तुम भी वही बात कहते हो जो उन्होंने लिखा है ?
जवाब में दोनों कासिदों ने फरमाया:-  हां हम भी यही कहते हैं ।
इस पर उसने कहा :- अगर कासिदों को कत्ल करना दस्तूर के खिलाफ ना होता तो मैं तुम्हारी गर्दने मार देता _,"

*★_ Rom Ke Badshaah Hirakkal aur Iraan ke Badshaah Kisra ke Naam Khat _,*

★_ Us Jhoote ke khilaf Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ke daur me Jung ladi gayi , Us Jung ki Jung Yamama Kehte Hai'n, Usme Muselma Kazzaab Hazrat Wehshi bin Harb Raziyllahu Anhu ke Haatho maara gaya tha,
Hazrat Wehshi Raziyllahu Anhu Wo Hai'n Jinke Haatho Gazwa Uhad me Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu Shaheed hue they .. baad me Musalman ho gaye they,

★_ Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Duniya ke Badshaaho ke Naam khutoot likhwaye aur un khutoot me Un Badshaaho ko islam ki Dawat di , Rom ke Badshaah Hirakkal ko bhi khat likhwaya , Ye khat Hazrat Dahiya Kalbi Raziyllahu Anhu le Kar gaye , Rom ke Badshaah khud ko Qaisar kehalwate they , Qaisar ne Aap ﷺ ke khat Ka Ahatraam Kiya ..Lekin imaan Lana Uske muqaddar me nahi tha ,

★_ isi Tarah Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Iraan ke Badshaah Kisra Parvez ke Naam khat likhwaya, Ye Khat Abdullah Sahmi Raziyllahu Anhu le Kar gaye , Usne khat sunne se Pehle hi use chaak Karne Ka Hukm diya, Uske Hukm per Aan Hazrat ﷺ Ka khat faad diya gaya, Usne Apne Darbaar se Qaasid ko bhi nikaal diya, Hazrat Abdullah bin Huzafa Sahmi Raziyllahu Anhu Apni Sawaari per bethe aur waapas rawana hue, Madina Munavvara pahunch Kar Unhone Saari tafseel Suna di , 
Ye sun Kar Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- Kisra ki Hukumat tukde tukde ho gayi _,"

★_ Udhar Kisra Parvez ne Apne Yaman ke Haakim ko Likha :- mujhe Maloom hua hai k Quresh ke Ek Shakhs ne Nabuwat Ka Daava Kiya hai , Tum Foran use giraftaar Kar Ke mere paas bhej do _,"
Yaman ke Governor Bazaan ne do Aadmi bhej diye , Dono Madina pahunch Kar Aan Hazrat ﷺ ki khidmat me Haazir hue, Unki Daadhi mundhi hui aur moonche badi hui thi , Aan Hazrat ﷺ ne unke Huliye ko dekh Kar farmaya :- "_Tumhara bura ho ! Ye Tumne Apne Chehre kese bana rakhe Hai'n, Tumhe esa Huliya Akhtyar Karne Ka Hukm kisne diya ?"
Jawab me wo bole :- Hamare Parwardigaar Kisra ne _,"
Aan Hazrat ﷺ ne ye sun Kar irshad farmaya:- "_ Ab Jao aur Kal mere paas aana _," 
Dono chale gaye ,

*★_ रोम के बादशाह हिरक्कल और ईरान के बादशाह किसरा परवेज़ के नाम ख़त _,*

★_उस झूठे के खिलाफ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के दौर में जंग लड़ी गई , उस जंग को जंगे यमामा कहते हैं, उसमें मुसेलमा कज़्जाब हजरत वहशी बिन हर्ब रजियल्लाहू अन्हू के हाथों मारा गया था, हजरत वहशी रज़ियल्लाहु अन्हु वह हैं जिनके हाथों गज़वा उहद में हजरत हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु शहीद हुए थे,.. बाद में मुसलमान हो गए थे ।

★_ हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने दुनिया के बादशाहों के नाम खुतूत लिखवाएं और उन खुतूत में उन बादशाहों को इस्लाम की दावत दी , रोम के बादशाह हिरक्कल को भी खत लिख गया , यह खत हजरत दहिया कलबी रज़ियल्लाहु अन्हु ले कर गए, रोम के बादशाह खुद को कैसर कहलाते थे कैसर ने आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम  के ख़त का एहेतराम किया लेकिन ईमान लाना उसके मुकद्दर में नहीं था ।

★_ इसी तरह हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम ने ईरान के बादशाह किसरा परवेज़ के नाम खत लिखवाया, यह खत अब्दुल्लाह साहमि रज़ियल्लाहु अन्हु लेकर गए , उसने खत सुनने से पहले ही उसे चाक करने का हुक्म दिया उसके हुकम पर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के ख़त को फ़ाड़ दिया गया , उसने अपने दरबार से क़ासिद को भी निकाल दिया , हजरत अब्दुल्लाह बिन हुज़ाफा साहमी शाह रज़ियल्लाहु अन्हु अपनी सवारी पर बैठे और वापस रवाना हो गए, मदीना मुनव्वरा पहुंचकर उन्होंने सारी तफसील सुना दी ,
यह सुनकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- किसरा की हुकूमत टुकड़े टुकड़े हो गई _,"

★_ उधर किसरा परवेज़ ने अपने यमन के हाकिम को लिखा :-  मुझे मालूम हुआ है कि कुरैश के एक शख्स ने नबूवत का दावा किया है,  तुम फौरन उसे गिरफ्तार करके मेरे पास भेज दो_,"
 यमन के गवर्नर बाज़ान ने दो आदमी भेज दिए, दोनों मदीना पहुंचकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए , उनकी डाढ़ियां मुंडी हुई और मूछे बड़ी हुई थी , आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- तुम्हारा बुरा हो ! यह तुमने अपने चेहरे कैसे बना रखे हैं ? तुम्हें ऐसा हुलिया अख्त्यार करने का हुक्म किसने दिया ?"
जवाब में वह बोले :- हमारे परवरदिगार किसरा ने _,"
आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- "_अब जाओ और कल मेरे पास आना _,"
दोनों चले गए ।
 ╨─────────────────────❥
*★_ Hajjatul Vida Ke Liye Rawangi _,*

★_ 10 Hijri me Aan Hazrat ﷺ ne Hajj Ka iraada farmaya, Is Hajj ko Hajjatul Vida Kaha jata hai ,
Aan Hazrat ﷺ  Ziqa'adah  24 ko Hijri 10 Jumeraat ke din Madina Munavvara se Hajjatul Vida Ke Liye rawana hue ,

★_ Rawangi Din ke Waqt hui , Rawana hone se Pehle Baalo me Kangha Kiya , Sar mubarak me Tel lagaya , Madina Munavvara me Zuhar ki Namaz Ada farmayi aur Asar ki Namaz Zulhulefa me Ada farmayi , Is Safar me Aan Hazrat ﷺ ki tamaam Azwaaj Mutahraat bhi Saath thi, Unki tadaad us Waqt 9 thi , Unhone ounto per bodajo me Safar Kiya ,
Aan Hazrat ﷺ Apni ountni Qaswa per sawaar they, Ye ountni jab Aap ﷺ ko le Kar uthi to Aap ﷺ us Waqt Ahraam me they , Qaswa per us Waqt ek Purana Kajawa tha Jo Chaar Dirham qeemat Ka raha hoga aur Aap ﷺ ke Ouper Chaadar bhi mamooli si thi ,

★_ Us Waqt Aap ﷺ ye Dua padh rahe they :- 
"_ ( Tarjuma ) Ey Allah ! Is Hajj ko maqbool bana de aur esa bana de Jisme na to riyakaari aur Dhoka ho aur na dikhawa aur Zaahir bardaari ho _,"
Safar Ke Dauraan Hazrat Jibraiyl Alaihissalam Haazir hue, Unhone arz Kiya:- Aap Apne Sahaba ko Hukm de'n k Talbiya me Apni Awaaz Buland Kare'n, Ye Hajj Ka Sha'aar hai ,
Chunache Huzoor Akram ﷺ ne Sahaba ko esa Karne Ka Hukm farmaya, Unhone Buland Awaaz me Talbiya shuru Kar diya, 

★_ Raaste me Aan Hazrat ﷺ ne Zotawi ke Muqaam per Padaav daala, Raat wahi'n qayaam farmaya, Subeh ki Namaz padh Kar waha'n se rawana hue , Yaha'n tak k Makka ke Saamne pahunch gaye aur wahi'n qayaam farmaya, Fir Din me Chaasht ke Waqt Makka Muazzama me dakhil hue, Baab e Abde Munaaf se Khaana Kaaba me dakhil hue, Ye Darwaza Baab e Salam ke Naam Se mash'hoor hai , Baitullah per Nazar padte hi Aap ﷺ ne in Alfaz me Dua farmayi :- 
"_ (Tarjuma ) Ey Allah ! Tu khud Salaamti wala Hai aur Teri hi taraf se Salaamti aati hai , Pas Ey Hamare Parwardigaar Tu Hume Salaamti ke Saath zinda rakh aur is Ghar ki izzat aur dabdabe me izafa hi izafa farma _,"

★_ Fir Baitullah ke gird Tawaaf kiya , Saat chakkar lagaye , Tawaaf ki ibtida Aap ﷺ ne Hajre Aswad se ki , Pehle Uske paas gaye aur Usko chhua , Us Waqt Aap ﷺ ki Aankho'n me Aa'nsu aa gaye, Tawaaf ke Pehle Teen chakkaro me ramal farmaya Yani Seena Taan kar tez raftaar se chakaar lagaye , baqi Chaar chakkaro me mamooli raftaar se lagaye , Tawaaf se Faarig hone ke baad Hajre Aswad ko bosa diya , Apne Dono Haath us per rakhe aur unko Chehre mubarak per faira , Tawaaf se Faarig hone ke baad Aan Hazrat ﷺ ne maqame Ibrahim per Do raka'at Namaz padhi , Fir Aabe Zamazam nosh farmaya _,

★_ Ab Aap ﷺ Safa Pahaadi ki taraf chale , Us Waqt Aap ﷺ ye Aayat padh rahe they :- 
"_ ( Tarjuma ) Beshak Safa aur Marva Allah Ke Sha'aar me se hai _," ( Surah Baqrah ) 
Huzoor Akram ﷺ ne safa aur Marva ke darmiyaan saat chakkar lagaye, Ye do pahadiya'n hai'n inke darmiyaan chakaar lagane ko Sa'i Karna Kehte Hai'n, Pehle teen fairo me Aap tez tez aur baqi Chaar me aam raftaar se chale , Jab Safa per chadhte aur Kaaba ki taraf moonh Kar Lete to us Waqt Allah ki Toheed Yu'n bayan farmate :- 
"_( Tarjuma ) Allah Ta'ala ke Siva koi Ma'abood nahi, Allah Sabse bada hai , Allah Ta'ala ke Siva koi Ma'abood nahi, Wo tane Tanha hai , Usne Apna Vaada Poora Kar diya, Apne Bando ki madad ki aur Usne Tane Tanha Mutahda lashkaro ko shikasht di_,"

★_ Marva per pahunch Kar bhi Huzoor ﷺ ne Allah ki Hamd v Sana Bayan farmayi, Safa aur Marva ke darmiyaan Sa'i ke baad Aan Hazrat ﷺ ne un logo ko Ahraam kholne Ka Hukm farmaya Jinke Saath qurbani ke Jaanwar nahi they , Jinke Saath qurbani ke Jaanwar they Unhe Hukm farmaya k Wo Ahraam ko barqaraar Rakhe'n _,"

★_ 8 Zil Hijja ko Huzoor  ﷺ Mina ke liye rawana hue, Mina ki taraf rawangi se Pehle un Tamaam logo ne Ahraam baandh liye Jo Pehle Ahraam khol chuke they, Mina me Aan Hazrat ﷺ ne Zuhar , Asar , Magrib aur isha ki Namaze Ada farmayi , Raat wahi'n guzaari , Wo Juma ki Raat thi , Subeh ki Namaz bhi Aap ﷺ ne Mina me padhi , Suraj Tulu hone ke baad waha'n se Arafaat ki taraf rawana hue, Aap ﷺ ne Hukm farmaya k mere liye ount ke Baalo Ka Ek qubba bana diya Jaye , Maidane Arafaat me Huzoor Akram ﷺ us qubbe me thehre , Yaha'n tak k Zawaal Ka Waqt ho gaya, Us Waqt Huzoor ﷺ ne Apni ountni Qaswa ko lane Ka Hukm farmaya, Qaswa per sawaar ho Kar Aap ﷺ Vaadi ke andar pahunche aur ountni per bethe bethe hi Musalmano ke Saamne khutba diya _,

★_ Is Khutbe me Aan Hazrat ﷺ ne farmaya :- "_ Logo ! Meri Baat suno ! Dekho Mai'n Jaanta nahi k is Saal ke baad is Jagah Mai'n Tumse Kabhi milunga ya nahi ,
Logo ! Sun lo , Tumhare Khoon ( Yani Tumhari Jaane ) aur Tumhare Amwaal ek doosre per Apne Rab se Milne tak ( Yani Zindgi bhar ) usi Tarah qabile Ahatraam hai'n Jis Tarah Tumhare liye ye din aur ye mahina qabile Ahatraam hai , 
Dekho tum ( Marne ke baad ) Anqareeb Apne Rab se miloge , Wo Tumse Tumhare A'amaal ke mutalliq Sawal karega aur Mai'n ( har Amal ke mutalliq ) Tamaam Ahkaam tumhe pahuncha chuka Hu'n , Pas jiske paas ( Kisi ki ) Amaanat ho , use Chahiye k Wo us Amaanat ko maangne per us Shakhs ke hawale Kar de Jisne Amaanat daar samajh Kar Amaanat rakhwayi thi _,"

★_ Dekho Har qism Ka sood ( Jo Kisi Ka Kisi ke zimme tha ) saaqit Kar diya gaya , Albatta Tumhara Asal Maal Tumhare liye Halaal hai , na tum zyaadti karoge aur na Tumhare Saath zyaadti ki jayegi , Allah Ta'ala ne Faisla Kar diya hai k Ab koi Sood Jaa'iz Nahi aur Abbaas bin Muttalib Ka Saara sood saaqit Kar diya gaya,
Islam lane se Pehle Zamana Jaahiliyat me Jo bhi qatl Ka muqadma tha , Wo bhi Khatm Kar diya gaya ( ab iska inteqam nahi liya Jayega ) aur Sabse Pehle Jo qatl Ka badla Mai'n Khatm karta Hu'n Wo ibne Rabiya bin Haaris bin Abdul Muttalib Ka qatl hai aur ibne Rabiya ne Banu Lays me Doodh piya tha , Bazeel ne use Qatl Kar diya tha, Pas ye pehla qatl hai Jisse Mai'n Maafi ki ibtida Kar raha Hu'n _,"

*★_ Logo ! Gor se suno , Shaitaan is baat se Mayoos ho chuka hai k ab is sarzameen me Kabhi uski ibaadat ki jayegi , Lekin agar uski ita'at karoge to Wo Tumhare un Gunaaho se Jinhe tum mamooli samajhte ho , Raazi ho Jayega , isliye tum log Deen ke maamle me Shaitaan se bachte aur darte raho _,"

★_ Logo ! Gor se suno , Tumhari Aurto'n per Tumhara haq hai aur tum per Aurto'n Ka Haq hai , Aurto'n ke Saath husne Sulook aur bhala'i Karte raho Kyunki Wo Tumhare paas Qaidiyo'n ki tarah Hai'n , Tumne Unhe Allah ki Amanat ke tor per haasil Kiya hai , 
Logo !  Meri Baat samajhne ki Koshish Karo , Maine to ( har Hukm ) pahuncha diya aur Tumhare Andar wo cheez chhodi hai k agar use mazbooti se pakde rakha , to Kabhi Gumrah na honge aur Wo khuli hui cheez hai kitaabullah aur Sunnat Rasulullah _,"

★_ Logo ! Meri Baat sun Kar gor karo, khoob samajh lo k har Musalman doosre Musalman Ka Bhai hai aur Tamaam Musalman Bhai Bhai hai'n , Lihaza Kisi bhi Aadmi ke liye Apne Bhai ki koi cheez ( bila ijazat ) Halaal nahi , Haa'n Magar us Waqt jab wo Dil ki khushi se koi cheez khud de de , Pas Tum log Apne Aap per Kisi bhi Haalat me zulm mat Karna , 
Logo ! Bata'o Maine Tablig Ka Haq Ada Kar diya ?"
Logo ne Jawab me Kaha :- "Yaqinan Yaqinan " 
Is per Aap ﷺ ne Aasmaan ki taraf rukh Kiya aur Shahadat ki ungli utha Kar farmaya :- 
"_ Allahumma Ash'had , Allahumma Ash'had, Allahumma Ash'had _,( Ey Allah Aap gawaah rahiyega , Ey Allah Aap gawaah rahiyega, Ey Allah Aap gawaah rahiyega ) _,"

★_ Khutbe se Faarig ho Kar Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ko Azaan Ka Hukm diya, Azaan ke baad Zuhar ki Takbeer Kahi gayi aur Namaz Ada ki gayi, Fir Asar ki Namaz ke liye Takbeer Kahi gayi aur Namaz Ada ki gayi, Yani Dono Namaze ek Saath Ada ki gayi, Dono Namazo ke liye Azaan Ek Kahi gayi aur Takbeere alag alag hui _,

*★_ Arafaat me Ek jama'at khidmate Aqdas me Haazir hui , Unhone Puchha :- Hajj kis Tarah Kiya jata hai ?
Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- "_ Hajj dar asal waqoofe Arafaat Ka Naam hai Yani Arafaat me theharna Hajj Karna hai , Arafaat Ka Poora Maidaan waqoof ki Jagah hai _,"

★_ Ab Aap ﷺ Mash'arul Haraam Yani Muzdalfa ke liye rawana hue, Us Waqt Aap ﷺ ne Hazrat Usama bin Zaid Raziyllahu Anhu ko Apne Pichhe bithaya , Aap ﷺ logo ko itminan se chalne Ka Hukm farmate rahe , Is Tarah Muzdalfa pahunche, Yaha'n magrib aur isha ki Namaze ek Saath Ada farmayi , Ye Dono Namaze isha ke Waqt padhi gayi, Aurto'n aur Bachcho ke liye Aap ﷺ ne Hukm farmaya k Aadhi Raat ke Ek ghante baad hi Muzdalfa se Mina rawana ho Jaye'n Taki waha'n hujoom hone se Pehle Shaitaan ko Kankriya'n maar sake'n _,

★_ Fajar Ka Waqt hua to Aan Hazrat ﷺ ne Muzdalfa me moonh andhere hi Namaz padhayi, Fir Suraj nikalne se Pehle Muzdalfa se Mina ki taraf rawana hue, Jamrah Uqba ( Bade Shaitaan ) per pahunch Kar Aap ﷺ ne Saat Kankriya'n maari , Shaitaan ko Kankriya'n maarne ke Amal ko Rami Kehte Hai'n, Ye Kankriya'n Muzdalfa se chun li Jati Hai'n , Har Kankri maarte Waqt Aap ﷺ Allahu Akbar farmate rahe , Us Waqt bhi Aap ﷺ ountni per sawaar they, Hazrat Bilaal aur Hazrat Usama Raziyllahu Anhu Aap ﷺ ke paas they , Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ne Aap ﷺ ki ountni ki lagaam Pakad rakhi thi aur Hazrat Usama Raziyllahu Anhu Aap ﷺ ke Ouper Kapde se Saaya kiye hue they , 

★_ Is moqe per Aan Hazrat ﷺ ne Musalmano ko khutba diya , Usme Ek doosre ke Maal aur izzat ko Haraam qaraar diya , 
Aap ﷺ ne Zilhijja ki Dasvi Tareekh ko hurmat Ka Din qaraar diya aur farmaya :- 
"_ Ey logo ! Tumhara Khoon , Tumhara Maal aur Tumhari izzat aur namoos Tumhare darmiyaan Ek doosre per usi Tarah Haraam Hai'n Jis Tarah ye Din Tumhare liye Hurmat Ka Din hai , Jis Tarah is Shehar ki hurmat hai aur Jis Tarah is Mahine ki hurmat hai _,"
Ye Alfaz Ka'i baar farmaye ... Aakhir me daryaft farmaya :- Ey logo ! Kya Maine Tablig Ka Haq Ada Kar diya _,"
Logo ne iqraar Kiya , Fir Aap ﷺ ne farmaya :- 
"_ Ab tumme se Jo mojood hai , Wo gaa'ib tak ye Tablig pahuncha de'n .. mere baad tum kufr ki tareekiyo'n me lot na Jana k Aapas me Ek Doosre ki gardane maarne lago _,"

★_ Huzoor Akram ﷺ ne Logo se ye bhi farmaya k wo mujhse Hajj ke manasik ( Arkaan ) seekh lo , Kyunki Mumkin hai is Saal ke baad mujhe Hajj Ka moqa na mile _," 
( Aur esa hi hua .. Kyunki is Hajj ke Sirf Teen Maah baad Huzoor Akram ﷺ ki wafaat ho gayi thi ),

★_ iske baad Aap ﷺ Mina me Qurbani ki Jagah Tashreef laye aur 63 ount qurban farmaye , Ye sab Jaanwar Aap ﷺ Madina Munavvara hi se laye they aur Apne daste mubarak se zibah farmaye , goya Apni Umar ke har Saal ke badle ek Jaanwar qurban farmaya ,

★_ Qurbani ke Gosht me se Aap ﷺ ke liye Kuchh Gosht pakaya gaya aur Aap ﷺ ne tanawul farmaya, 
Baqi Ounto'n ko zibah Karne Ke liye Aap ﷺ ne Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ko hukm farmaya, Kul 100 ount they, is Tarah 37 ount Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ne zibah farmaye,

★_ Huzoor Akram ﷺ ne un Jaanwaro Ka gosht aur Doosri Cheeze logo me Taqseem Karne Ka Hukm farmaya, Mina Ka Tamaam Muqaam qurbani Karne ki Jagah hai , iske Kisi bhi hisse me Jaanwar qurban Kiya ja Sakta Hai ,

★_ Qurbani se Faarig hone ke baad Aap ﷺ ne Sar Mundwaya, Sar Mubarak ke Baal Sahaba kiraam me Taqseem kiye gaye, Us Waqt Huzoor Akram ﷺ ne Dua farmayi :- 
"_ ( Tarjuma ) Ey Allah ! Sar mundwane walo ki magfirat farma _,"
Sar mundwane ke baad Huzoor Akram ﷺ ko Hazrat Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha ne khushbu lagayi ,

★_ Ab Huzoor Akram ﷺ Makka Jane ke liye Sawaari per Tashreef farma hue, Makka pahunch Kar Zuhar se Pehle Tawaaf kiya, Ye Tawaafe ifaaza tha Jo Hajj me Farz hai , iske bager Hajj nahi hota , Fir Huzoor Akram ﷺ ne zamzam ke kunwe se zamzam nosh farmaya, Kuchh Pani Apne Sar mubarak per bhi chhidka , Fir Aap ﷺ Mina waapas Tashreef le gaye, Wahi'n Zuhar ki Namaz Ada ki ,

★_  Aap ﷺ Mina me teen din thehre , Teen Din tak, Teen Din tak Rami Jamraat ki, Yani Shaitaano ko Kankriya'n maari , Mina ke qayaam ke baad Huzoor Akram ﷺ Makka Tashreef laye aur Sahaba kiraam ko hukm farmaya :-
"_ Logo ! Apne watan lotne se Pehle Baitullah Ka tawaaf Kar lo _,"
Ise Tawaafe Vida Kehte Hai'n Yani Rukhsat Hote Waqt Ka Tawaaf.. aur ye har Haaji per Waajib hai ,

*★_ हज्जतुल विैदा के लिए रवानगी _,*

★_ 10 हिजरी में आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हज का इरादा फरमाया, इस हज को हज्जतुल विदा कहा जाता है । 
आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम 24 ज़िका़'दा 10 हिजरी जुमेरात के दिन मदीना मुनव्वरा से हज्जतुल विदा के लिए रवाना हुए ।

★_ रवानगी दिन के वक्त हुई, रवाना होने से पहले बालों में कंघा किया सर मुबारक में तेल लगाया ,  मदीना मुनव्वरा में ज़ोहर की नमाज़ अदा फरमाई और असर की नमाज ज़ुलहुलैफा में अदा फरमाई,  इस सफर में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की तमाम अज़वाज मुताहरात भी साथ थी, उनकी तादाद उस वक्त 9 थी । उन्होंने ऊंटों पर बोदजो में सफर किया ।
आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अपनी ऊंटनी क़सवा पर सवार थे , ऊंटनी जब आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को लेकर उठी तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उस वक्त अहराम में थे,  क़सवा पर उस वक्त एक पुराना कजावा था जो 4 दिरहम क़ीमत का रहा होगा और आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के ऊपर चादर भी मामूली सी थी ।

★_ उस वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम यह दुआ पढ़ रहे थे :- 
"_(तर्जुमा) ऐ अल्लाह ! इस हज को मक़बूल बना दें और ऐसा बना दें जिसमें ना तो रियाकारी और धोखा हो और ना दिखावा और जा़हिरदारी हो _,"
सफर के दौरान हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम हाज़िर हुए , उन्होंने अर्ज़ किया :- आप अपने सहाबा को हुक्म दें कि तलबिया में अपनी आवाज बुलंद करें यह हज का श'आसर है _,"
चुनांचे हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सहाबा को ऐसा करने का हुक्म फरमाया, उन्होंने बुलंद आवाज़ में तलबिया शुरू कर दिया ।

★_ रास्ते में आन हज़रत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने जो़तवी के मुकाम पर पढ़ाव डाला, रात वहीं क़याम फरमाया, सुबह की नमाज पढ़कर वहां से रवाना हुए यहां तक कि मक्का के सामने पहुंच गए और वहीं क़याम फरमाया , फिर दिन में चाश्त के वक्त मक्का मुअज़्ज़मा में दाखिल हुए, बाबे अब्दे मुनाफ से खाना काबा में दाखिल हुए , यह दरवाज़ा बाबे सलाम के नाम से मशहूर है । बैतुल्लाह पर नज़र पड़ते ही आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इन अल्फाज़ में दुआ फरमाई :-
"_ (तर्जुमा ) ऐ अल्लाह ! तू खुद सलामती वाला है और तेरी ही तरफ से सलामती आती है , पस ऐ हमारे परवरदिगार तू हमें सलामती के साथ जिंदा रख और इस घर की इज्ज़त और दबदबे में इज़ाफ़ा ही इज़ाफ़ा फरमा _,"

★_ फिर बैतुल्लाह के गिर्द तवाफ किया, सात चक्कर लगाए । तवाफ की इब्तदा आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरे अस्वद से की, पहले उसके पास गए और उसको छुआ , उस वक्त आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की आंखों में आंसू आ गए, तवाफ के पहले 3 चक्करों में रमल फरमाया यानी सीना तान कर तेज़ रफ्तार से चक्कर लगाए , बाक़ी चार चक्कर मामूली रफ्तार से लगाए , तवाफ से फारिग होने के बाद हजरे अस्वद को बोसा दिया , अपने दोनों हाथ उस पर रखें और उनको चेहरा मुबारक पर फैरा, तवाफ से फारिग होने के बाद आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मका़मे इब्राहीम पर 2 रकात नमाज़ पढ़ी फिर आबे जमजम नोश फरमाया _,,

★_ अब आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम सफा पहाड़ी की तरफ चलें, उस वक्त आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम यह आयत पढ़ रहे थे :- 
"_ (तर्जुमा)- बेशक सफा और मरवा अल्लाह के श'आर में से है _," ( सूरह बकरा)
हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सफा और मरवा के दरमियान सात चक्कर लगाए, यह दो पहाड़ियां है इनके दरमियान चक्कर लगाने को स'ई  करना कहते हैं, पहले 3 फैरों में आप तेज़ तेज़ और बाक़ी चार में आम रफ्तार से चले , जब सफा पर चढ़ते और काबा की तरफ मुंह कर लेते तो उस वक्त अल्लाह की तोहीद यूं बयान फरमाते :-
"_( तर्जुमा )- अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं अल्लाह सबसे बड़ा है अल्लाह ताला के सिवा कोई माबूद नहीं वह तन्हे तन्हा है उसने अपना वादा पूरा कर दिया अपने बंदों की मदद की और उसने तने तन्हा मुतहिदा लश्करों को शिकस्त दी _,"

★_ मरवा पर पहुंच कर भी हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने अल्लाह की हम्दो सना बयान फरमाई, सफा और मरवा के दरमियान स'ई के बाद आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने उन लोगों को अहराम खोलने का हुक्म फरमाया जिनके साथ कुर्बानी के जानवर नहीं थे,  जिनके साथ कुर्बानी के जानवर थे उन्हें फरमाया कि वह अहराम को बरक़रार रखें ,

★_ 8 जि़लहिज्जा को हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम मीना के लिए रवाना हुए , मीना की तरफ रवानगी से पहले उन तमाम लोगों ने अहराम बांध लिए जो पहले अहराम खोल चुके थे, मीना में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने ज़ोहर असर मगरिब और ईशा की नमाज से अदा फरमाई, रात वहीं गुजारी , वह जुम्मे की रात थी , सुबह की नमाज भी आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मीना में पड़ी,  सूरज तुलू होने के बाद वहां से अराफात की तरफ रवाना हुए,  आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हुक्म फरमाया कि मेरे लिए ऊंट के बालों का एक कुब्बा बना दिया जाए _," मैदाने आफत में हुजूर अकरम सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम उसमें ठहरे यहां तक कि ज़वाल का वक्त हो गया, उस वक्त हुजूर सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने अपनी ऊंटनी क़सवा को लाने का हुक्म फरमाया , क़सवा पर सवार होकर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम वादी के अंदर पहुंचे और ऊंटनी पर बैठे-बैठे ही मुसलमानों के सामने खुतबा दिया,

★_ इस खुतबे में आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया :- 
"_ लोगों ! मेरी बात सुनो , देखो मैं जानता नहीं कि इस साल के बाद इस जगह मैं तुमसे कभी मिलूंगा या नहीं , लोगों ! सुन लो तुम्हारे खून ( यानी तुम्हारी जानें ) और तुम्हारे अमवाल एक दूसरे पर अपने रब से मिलने तक (यानी जिंदगी भर ) इस तरह का़बिले एहतराम है जिस तरह तुम्हारे लिए यह दिन और यह महीना का़बिले एहतराम है, देखो तुम (मरने के बाद) अनक़रीब अपने रब से मिलोगे, वह तुमसे तुम्हारे आमाल के मुताल्लिक सवाल करेगा और मैं (हर अमल के मुताल्लिक़) तमाम अहकाम तुम्हें पहुंचा चुका हूं , पस जिसके पास किसी की अमानत हो उसे चाहिए कि वह उस अमानत को मांगने पर उस शख्स के हवाले कर दे जिसने अमानत दार समझकर अमानत रखवाई थी _,"

★_ देखो हर कि़स्म का सूद ( जो किसी का किसी के ज़िम्मे था ) साकि़त कर दिया गया, अलबत्ता तुम्हारा असल तुम्हारे लिए हलाल है , ना तुम ज़्यादती करोगे और ना तुम्हारे साथ ज्यादती की जाएगी , अल्लाह ताला ने फैसला कर दिया है कि अब कोई सूद जायज़ नहीं और अब्बास बिन अब्दुल मुत्तलिब का सारा सूदा साक़ित कर दिया गया, इस्लाम लाने से पहले जमाना जहिलियत में जो भी क़त्ल का मुकदमा था वह भी खत्म कर दिया गया (अब उसका इंतकाम नहीं लिया जाएगा) और सबसे पहले जो क़त्ल का बदला मै खत्म करता हूं वह इब्ने रबिया बिन हारिस बिन अब्दुल मुत्तलिब का क़त्ल है और इब्ने रबिया ने बनू लैस में दूध पिया था, बज़ील ने उसे क़त्ल कर दिया था , यह पहला क़त्ल है जिससे मैं माफी की इब्तदा कर रहा हूं _,"

★_ लोगो गौर से सुनो ! शैतान इस बात से मायूस हो चुका है कि अब इस सरज़मीन में कभी उसकी इबादत की जाएगी लेकिन अगर उसकी इता'अत करोगे तो वह तुम्हारे उन गुनाहों से जिन्हें तुम मामूली समझते हो, राज़ी हो जाएगा , इसलिए तुम लोग दीन के मामले में शैतान से बचते और डरते रहो _,"

★_ लोगों ! गौर से सुनो ! तुम्हारी औरतों पर तुम्हारा हक़ है और तुम पर उन औरतों का हक़ है,  औरतों के साथ हुस्ने सुलूक और भलाई करते रहो क्योंकि वह तुम्हारे पास कैदियों की तरह है,  तुमने उन्हें अल्लाह की अमानत के तौर पर हासिल किया है ,
लोगों ! मेरी बात समझने की कोशिश करो मैंने तो ( हर हुक्म ) पहुंचा दिया और तुम्हारे अंदर वह चीज़ छोड़ी  है कि अगर उसे मज़बूती से पकड़े रखा तो कभी गुमराह ना होंगे और वह खुली हुई चीज़ है किताबुल्लाह और सुन्नते रसूलुल्लाह _,"

★_ लोगों ! मेरी बात सुनकर गौर करो , खूब समझ लो कि हर मुसलमान दूसरे मुसलमान का भाई है और तमाम मुसलमान भाई भाई हैं लिहाज़ा किसी भी आदमी के लिए अपने भाई की कोई चीज़ ( बिना इजाजत)  हलाल नहीं, हां मगर उस वक्त जब वह दिल की खुशी से कोई चीज़ खुद दे दे , पस तुम लोग अपने आप पर किसी भी हालत में जुल्म मत करना , 
लोगों ! बताओ मैंने तबलीग का हक़ अदा कर दिया ?
लोगों ने जवाब में कहा :- यकीनन यकीनन " 
इस पर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने आसमान की तरफ रुख किया और शहादत की उंगली उठाकर फरमाया :- "_ अल्लाहुम्मा अशहद अल्लाहुम्मा अशहद अल्लाहुम्मा अशहद _,"( ऐ अल्लाह आप गवाह रहिएगा ऐ अल्लाह आप गवाह रहिएगा ऐ अल्लाह आप गवाह रहिएगा ) _,"

★_ खुतबे से फारिग होकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु को अज़ान का हुक्म दिया , अज़ान के बाद ज़ुहर की तकबीर कहीं गई और नमाज अदा की गई , फिर असर की नमाज के लिए तकबीर कही गई और नमाज अदा की गई , यानी दोनों नमाज़े एक साथ अदा की गई , दोनों नमाजो़ के लिए अज़ान एक कही गई और तकबीर अलग-अलग हुई ।

★_ अराफात में एक जमात खिदमते अक़दस में हाजिर हुई,  उन्होंने पूछा - हज किस तरह किया जाता है ?
आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- "_हज दरअसल वकू़फे अराफात का नाम है _," यानी अराफात में ठहरना हज करना है, अराफात का पूरा मैदान वक़ूफ की जगह है ।

★_ अब आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मश'अरूल हराम यानी मुज़दलफा के लिए रवाना हुए,  उस वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत उसामा बिन ज़ैद रज़ियल्लाहु अन्हु को अपने पीछे बिठाया, आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम लोगों को इतमिनान से चलने का हुक्म फरमाते रहे, इस तरह मुज़दलफा पहुंचे, यहां मगरिब और इशा की नमाज़े एक साथ अदा फरमाई, यह दोनों नमाजे ईशा के वक्त पढ़ी गई , औरतों और बच्चों के लिए आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हुक्म फरमाया कि आधी रात के एक घंटे बाद ही मुज़दलफा से मीना रवाना हो जाएं ताकि वहां हुजूम होने से पहले शैतान को कंकरिया मार सकें ।

★_ फजर का वक्त हुआ तो आन हजरत सल्लल्लाहु अलेहि वसल्लम ने मुज़दलफा में मुंह अंधेरे ही नमाज पढ़ाई फिर सूरज निकलने से पहले मुज़दलफा से मीना की तरफ रवाना हुए, जमराह उक़बा (बड़े शैतान) पर पहुंचकर आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने सात कंकरिया मारी,  शैतानों को कंकरिया मारने के अमल को रमी कहते हैं , यह कंकरिया मुज़दलफा से चुन ली जाती हैं, हर कंकरी मारते वक्त आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अल्लाहु अकबर फरमाते रहे, उस वक्त भी आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ऊंटनी पर सवार थे,  हजरत बिलाल और हजरत उसामा रज़ियल्लाहु अन्हुम आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास थे, हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु ने आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की ऊंटनी की लगाम पकड़ रखी थी और हजरत उसामा रज़ियल्लाहु अन्हु ने आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के ऊपर कपड़े से साया किए हुए थे ,

★_ इस मौक़े पर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेह वसल्लम ने मुसलमानों को खुतबा दिया, उसमें एक दूसरे के माल और इज्ज़त को हराम क़रार दिया 
आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने ज़िलहिज्जा की दसवी तारीख को हुरमत का दिन क़रार दिया और फरमाया :- 
"_ ए लोगों ! तुम्हारा खून तुम्हारा माल और तुम्हारी इज्जत और नामूस तुम्हारे दरमियान एक दूसरे पर उसी तरह हराम है जिस तरह यह दिन तुम्हारे लिए हुरमत का दिन है जिस तरह इस शहर की हुरमत है और जिस तरह इस महीने की हुरमत है _,"
यह अल्फाज कई बार फरमाए...  आखिर में दरयाफ्त फरमाया:- "_ ए लोगो ! क्या मैंने तबलीग का हक़ अदा कर दिया ?
लोगों ने इक़रार किया ।
फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- 
"_ अब तुममे से जो मौजूद है वह गायब तक यह तबलीग पहुंचा दे..  मेरे बाद तुम क़ुफ्र की तारीकियों  में लौट ना जाना कि आपस में एक दूसरे की गर्दने मारने लगो _,"

★_ हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने लोगों से यह भी फरमाया कि वह मुझसे हज के मनासिक (अरकान ) सीख लें क्योंकि मुमकिन है इस साल के बाद मुझे हज का मौका ना मिले _," 
( और ऐसा ही हुआ क्योंकि इस हज के सिर्फ तीन माह बाद हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की वफात हो गई थी )

★_ इसके बाद आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम मीना में कुर्बानी की जगह तशरीफ लाए और ६३ ऊंट कुर्बान फरमाए, यह सब जानवर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मदीना मुनावारा ही से लाए थे और अपने दस्ते मुबारक से ज़िबह फरमाए , गोया अपनी उम्र के हर साल के बदले एक जानवर कुर्बान फरमाया ।

★_ कुर्बानी के गोश्त में से आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के लिए कुछ गोश्त पकाया गया और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम में तनावुल फरमाया , बाक़ी ऊंटों को ज़िबह करने के लिए आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु को हुक्म फरमाया, कुल १०० ऊंट थे, इस तरह 37 रूट हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु ने ज़िबह फरमाएं ,

★_ हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने जानवरों का गोश्त और दूसरी चीजें लोगों में तक़सीम करने का हुक्म फरमाया,  मीना का तमाम मुकाम कुर्बानी करने की जगह है इस के किसी भी हिस्से में जानवर कुर्बान किया जा सकता है।

★_ कुर्बानी से फारिग होने के बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सर मुंडवाया, सर मुबारक के बाल सहाबा किराम में तक़सीम किए गए, उस वक्त हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने दुआ फरमाई :-
*"_ (तर्जुमा)_ ऐ अल्लाह सर मुंडवाने वालों की मगफिरत फरमा _,"
सर मुंडवाने के बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को हजरत आयशा सिद्दीका रजियल्लाहु अन्हा ने खुशबू लगाई ।

★_अब हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मक्का जाने के लिए सवारी पर तशरीफ़ फरमा हुए, मक्का पहुंचकर ज़ोहर से पहले तवाफ किया, यह तवाफे इफाज़ा था जो हज में फर्ज है इसके बगैर हज नहीं होता , फिर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने ज़मज़म के कुएं से ज़मज़म नौश फरमाया, कुछ पानी अपने सर मुबारक पर भी छिड़का,  फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मीना वापस तशरीफ ले गए, वहीं ज़ोहर की नमाज़ अदा की ।

★_ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मीना मे 3 दिन ठहरे, तीन दिन तक रमी जमरात की यानी शैतानों को कंकरिया मारी,  हर शैतान को सात-सात कंकरिया मारी, मीना के बयान के बाद हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मक्का तशरीफ लाए और सहाबा किराम को हुक्म फरमाया :- "_ लोगों ! अपने वतन लौटने से पहले बैतुल्लाह का तवाफ कर लो _," 
इसे तवाफे विदा कहते हैं यानी रूखसत होते वक्त का तवाफ और यह हर हाजी पर वाजिब है ।

 ╨─────────────────────❥
*★_ Hajj se Waapsi _,*

★_ Tawaafe Vida Ke baad Aan Hazrat ﷺ Madina Munavvara ki taraf rawana hue, Waapsi ke Safar me gadeer kham naami talaab ke Muqaam per Aan Hazrat ﷺ ne Apne Sahaba ko Jama farmaya, unke Saamne khutba diya Jisme farmaya :-
"_ Logo ! Dar Haqeeqat Mai'n bhi Tumhari Tarah Ek Bashar Hu'n aur Banda Hu'n , Mumkin hai Ab jald hi mere Rab Ka Qaasid mere paas aa Jaye , ( Yani Mera bulawa aa Jaye ) aur Mai'n Uske aage Sar tasleem kham Kar du'n, Mai'n bhi Allah Ke Saamne jawabdah Hu'n aur tum bhi jawabdah ho , Ab tum kya Kehte ho ?"

★_ Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne Jawab diya :- Hum Gawahi dete Hai'n k Beshak Aapne Tablig Ka Haq Ada Kar diya, isme Poori Mehnat farmayi aur Nasihat Tamaam Kar di _,"
Tab Aan Hazrat ﷺ ne farmaya :- "_ Kya tum iski gawahi nahi dete k Allah Ta'ala ke Siva koi Ma'abood nahi aur ye k Muhammad Uske bande aur Rasool Hai'n aur ye k Jannat Dozakh aur maut barhaq Cheeze Hai'n aur ye k Qayamat Aane Wali cheez hai , isme Kisi shak v shub'ha ki koi gunzaish nahi aur ye k Allah Ta'ala un logo ko dobara zinda Kar Ke uthayega Jo Qabro me pahunch chuke Hai'n ?"
Sahaba kiraam ne arz Kiya :- Beshak hum in sab Baato ki gawahi dete Hai'n _,"

★_ is per Huzoor ﷺ ne farmaya :- Ey Allah ! Aap gawaah rahiyega _,"
Fir farmaya :- Logo ! Qur'an per Jane rehna , Mai'n Tumhare darmiyaan do bhaari Cheeze chhode ja raha Hu'n. ,Ek Allah ki Kitaab , doosre Apne Ghar wale ( Jisme Azwaaj Mutahraat aur Aap ﷺ ki Sahabzaadiya'n sab aa gayi'n ) .. tum muntshir ho Kar foot mat daal Lena , Yaha'n tak k tum Hauze Kausar per mere paas jama ho jao _,"
Is moqe per Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ke bare me Aap ﷺ ne ye Alfaz farmaye :-
"_ Mai'n Jiska Mauli aur Aaqa Hu'n Ali bhi Uska Mauli aur Aaqa Hai'n, Ey Allah Jo Ali Ka madadgaar ho Tu bhi uska madadgaar ho ja .. aur Jo usse Dushmani rakhe Tu bhi usse Dushmani rakh , Jo usse Muhabbat rakhe Tu bhi usse Muhabbat rakh, Jo usse bugz rakhe Tu bhi usse bugz rakh ..Jo uski madad kare Tu bhi uski madad Kar aur jo uski i'anat kare Tu bhi uski i'anat farma , Jo bhi use Ruswa kare Tu use Ruswa farma , Ye Jaha'n bhi Ho'n Tu Haq aur Sadaqat ko Uska Saathi bana _,"

*"_ Lafze Maula ke Bahut se ma'ani hai'n , Yaha'n Aan Hazrat ﷺ ki Muraad ye thi k Hazrat Ali Raziyllahu Anhu Tamaam Ahle imaan ke liye Buzurg, Sardaar aur Qabile Ahatraam Hai'n, Maula Ka Ek Matlab madadgaar bhi Hai , Garz Maula ke 20 ke qareeb ma'ani hai'n ,

★_ Mash'hoor Muhaddis imaam Nav'vi Reh.se Puchha gaya k Aan Hazrat ﷺ Ka ye Jo irshad Hai  k Mai'n Maula Hu'n, Uske Mauli Ali bhi hai'n, Kya is irshad Ka ye Matlab hai k Hazrat Abu Bakar aur Hazrat Umar Raziyllahu Anhum ke muqable me Hazrat Ali Raziyllahu Anhu imaamat ke zyada Haqdaar Hai'n ?"
Is Sawal ke Jawab me imaam Nav'vi Reh.ne farmaya :- 
"_ is Hadees se ye Matlab nahi nikalta Balki un Ulma ke Nazdeek Jo us Maidaan me numaya Hai'n aur jinki tehqeeq per Aitmaad Kiya ja Sakta Hai, is Hadees Ka Matlab ye hai k Jiska Madadgaar, Aaqa aur Mehboob Mai'n Hu'n to Ali bhi Uske Madadgaar,  Aaqa aur Mehboob Hai'n _,"

*★_ हज से वापसी _,*

★_ तवाफे विदा के बाद आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मदीना मुनव्वरा की तरफ रवाना हुए,  वापसी के सफर में गदीरे खम नामी तालाब के मुकाम पर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने सहाबा को जमा फरमाया, उनके सामने खुतबा दिया जिसमें फरमाया :- 
"_ लोगों दर हकीकत मै भी तुम्हारी तरह एक बशर हूं और बंदा हूं , मुमकिन है अब जल्द ही मेरे रब का क़ासिद मेरे पास आ जाए ( यानी मेरा बुलावा आ जाए)  और मैं के आगे सरे तस्लीम खम कर दूं , मैं भी अल्लाह के सामने जवाबदेह हूं और तुम भी जवाबदेह हो, अब तुम क्या कहते हो ?"

★_ सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने जवाब दिया :- 
"_ हम गवाही देते हैं कि बेशक आपने तबलीग का हक़ अदा कर दिया इसमें पूरी मेहनत फरमाई और नसीहत तमाम कर दी_,"
तब आन सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया :-
 "_क्या तुम इसकी गवाही नहीं देते कि अल्लाह ताला के सिवा कोई माबूद नहीं और यह कि मोहम्मद उसके बंदे और रसूल है और यह की जन्नत दोजख और मौत बरहक़ चीज़ें हैं और यह कि मरने के बाद दोबारा जिंदा होना बरहक़ है और यह कि क़यामत आने वाली चीज़ है, इसमें किसी शक व शुब्हा की कोई गुंजाइश नहीं और यह कि अल्लाह ताला उन लोगों को दोबारा जिंदा कर के उठाएगा जो कब्रों में पहुंच चुके हैं ?"
सहाबा किराम ने अर्ज़ किया :-  "_बेशक हम इन सब बातों की गवाही देते हैं _,"

★_ इस पर हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया :- 
"_ अल्लाह आप गवाह रहिएगा_,"
फिर फरमाया :- "_ लोगो ! कुरान पर जमे रहना, मैं तुम्हारे दरमियान दो भारी चीजें छोड़े जा रहा हूं एक अल्लाह की किताब दूसरे अपने घर वाले ( जिसमें अज़वाज मुताहरात और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की साहबजादियां सब आ गईं ) ... तुम मुंतसिर होकर फूट मत डाल लेना, यहां तक कि तुम हौजे कौसर पर मेरे पास जमा हो जाओ _,"
इस मौके पर हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु के बारे में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने यह अल्फाज़ फरमाएं :- 
"_ मैं जिसका मौली और आक़ा हूं अली भी उसके मोली और आक़ा है,  ऐ अल्लाह ! जो अली का मददगार हो तू भी उसका मददगार होजा और जो उससे दुश्मनी रखे तू भी उससे दुश्मनी रख जो उससे मोहब्बत रखें तू भी उससे मोहब्बत रख जो उससे बुग्ज़ रखे तू भी उससे बुग्ज़ रख..  जो उसकी मदद करें तू भी उसकी मदद कर और जो उसकी इआनतत करें तू भी उसकी इआनत फरमा जो भी उसे रुसवा करें तू उसे रुसवा फरमा, यह जहां भी हों तू हक़ और सदाक़त को उसका साथी बना _,"

"_ लफ्ज़ मौला के बहुत से मानी है यहां आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की मुराद यह थी कि हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु तमाम अहले इमान के लिए बुजुर्ग सरदार और काबिले एहतराम है , मौला का एक मतलब मददगार भी है, गर्ज़ मौला के 20 के क़रीब मानी हैं ,

★_ मशहूर मुहद्दिस इमाम नववी रहमतुल्लाहि अलेही से पूछा गया :- 
"_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का यह जो इरशाद है कि जिसका मैं मौला हूं उसके मौली अली भी हैं , क्या इस इरशाद का यह मतलब यह है कि हजरत अबू बकर और हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हुम के मुकाबले में हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु इमामत के ज्यादा हक़दार हैं ?
इस सवाल के जवाब में इमाम नववी रहमतुल्लाहि अलैहि ने फरमाया :- 
"_ इस हदीस से यह मतलब नहीं निकलता बल्कि उन उलमा के नजदीक जो उस मैदान में नुमाया है और जिनकी तहकी़क पर एतमाद किया जा सकता है , इस हदीस का मतलब यह है कि जिसका मददगार आक़ा और महबूब में हूं,  तो अली भी उसके मददगार आक़ा और महबूब है _,"

*★_ Hazrat Osama bin Zaid Raziyllahu Anhu ko Ameer banana _,*

★_ is Safar se Waapsi per Aap ﷺ ne Raaste me Zulhulefa ke Muqaam per Raat basar farmayi aur Raat ke Waqt Madina Munavvara me dakhil hone ko Pasand nahi farmaya, Fir jab Aap ﷺ ki Nazar Madaina Munavvara per padi to Teen martaba Takbeer Kahi aur ye Kalmaat padhe :-
"_ Allah Ta'ala ke Siva koi Ma'abood nahi, Wo Tanha hai , Uska koi Shareek nahi, Hukumat aur Tareef usi ke liye hai aur wi har cheez per Poori Qudrat rakhta hai, Hum Tauba Karte hue aur Apne Parwardigaar ko Sajda Karte hue aur uski Tareefe Karte hue lotne wale Hai'n, Allah Ka vaada Sachcha ho gaya, Usne Apne Bande ki madad farmayi aur sab giroho ko us tanha ne shikasht di _,"

★_ Fir Subeh ke Waqt Aap ﷺ Madina Munavvara me dakhil hue, 
11 Hijri me Peer ke din jabki Maahe Safar ki Aakhri Tareekhe thi , Aan Hazrat ﷺ ne Romiyo ki Azeem Saltnat ke Khilaf Taiyaari Ka Hukm farmaya, Usse Agle Roz Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Osama bin Zaid Raziyllahu Anhu ko bula Kar farmaya :- 
"_ Us Muqaam ki taraf bado Jaha'n Tumhare walid Shaheed hue they aur us ilaaqe ko islami shehsawaro se pamaal Karo , Mai'n tumhe us lashkar Ka Ameer banata Hu'n... Nihayat tezi se Safar Kar Ke Apni manzil ki taraf bado Taki Jasooso ki ittelaat se Pehle Dushman Ke sar per pahunch jao .. Agar Allah Ta'ala tumhe un per Fateh ata farmaye to un logo ke darmiyaan zyada dayr mat theharna aur Apne Saath Jasoos aur Mukhbir le Jana _,"

★_ Agle Roz Budh ke din Rasulullah ﷺ ke Sar mubarak me dard shuru ho gaya , Uske baad Bukhaar bhi ho gaya, Jumeraat ke din Aap ﷺ ne Takleef ke bavjood Apne daste mubarak se Hazrat Osama Raziyllahu Anhu ko parcham diya, 

★_ Hazrat Osama bin Zaid Raziyllahu Anhu Apna Parcham le Kar islami Lashkar ke Saath rawana hue , Wo us Waqt bilkul Nojawan they .. Us Nojawani ki Haalat me Aan Hazrat ﷺ ne Unhe Lashkar Ka Salaar muqarrar farmaya tha Jabki Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum me bade bade Mumtaz aur Tajurbe Kaar log mojood they , is buniyad per Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum me se Kuchh Hazraat ne is Baat ko Mehsoos Kiya k Jab itne bade aur Tajurbe Kaar Hazraat mojood Hai'n to Ek Nav Umar ko Sipah Salaar kyu muqarrar farmaya gaya,

*★_ हजरत ओसामा बिन ज़ैद रज़ियल्लाहु अन्हु को अमीर बनाना _,*

★_ इस सफ़र से वापसी पर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने रास्ते में इस ज़ुलहुलैफा के मुकाम पर रात बसर फरमाई और रात के वक्त मदीना मुनव्वरा में दाखिल होने को पसंद नहीं फरमाया, फिर जब आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की नज़र मदीना मुनव्वरा पर पड़ी तो 3 मर्तबा तकबीर कही और यह कलमात पड़े :-
"_ अल्लाह ताला के सिवा कोई माबूद नहीं वह तन्हा है उसका कोई शरीक़ नहीं, हुकूमत और तारीफ उसी के लिए है और वह हर चीज़ पर पूरी कुदरत रखता है, हम तौबा करते हुए और अपने परवरदिगार को सजदा करते हुए और उसकी तारीफ करते हुए लौटने वाले हैं, अल्लाह का वादा सच्चा हो गया उसने अपने बंदे की मदद फरमाई और सब गिरोहों को उस तन्हा ने शिकस्त दी _,"

★_ फिर सुबह के वक्त आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मदीना मुनव्वरा में दाखिल हुए,  11 हिजरी में पीर के दिन जब कि माहे सफर की आखिरी तारीखें थी आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने रोमियों की अजीम सल्तनत के खिलाफ तैयारी का हुक्म फरमाया, उसके अगले रोज़ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत ओसामा बिन ज़ैद रज़ियल्लाहु अन्हु को बुलाकर फरमाया:-
"_ उस मका़म की तरफ बढ़ो जहां तुम्हारे वालिद शहीद हुए थे और उस इलाक़े को इस्लामी शह सवारों से पालन करो, मैं तुम्हें उस लश्कर का अमीर बनाता हूं , निहायत तेज़ी से सफर कर के अपनी मंजिल की तरफ बढ़ो ताकि जासूसों की इत्तेलात से पहले दुश्मन के सर पर पहुंच जाओ, अगर अल्लाह ताला तुम्हें उन पर फतह अता फरमाए तो उन लोगों के दरमियान ज्यादा देर मत ठहरना और अपने साथ जासूस और मुखबिर ले जाना _,"

★_ अगले रोज़ बुध के दिन रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के सर मुबारक में दर्द शुरू हो गया उसके बाद बुखार भी हो गया जुमेरात के दिन आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने तकलीफ के बावजूद अपने दस्ते मुबारक से हजरत ओसामा रज़ियल्लाहु अन्हु को परचम बना कर दिया ।

★_  हजरत ओसामा बिन ज़ैद रज़ियल्लाहु अन्हु अपना परचम लेकर इस्लामी लश्कर के साथ रवाना हुए, वह उस वक्त बिलकुल नौजवान थे ऐसी नौजवानी की हालत में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन्हें लश्कर का सालार मुकर्रर फरमाया था, जबकि सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम में बड़े-बड़े मुमताज़ और तजुर्बेकार लोग मौजूद थे , इस बुनियाद पर सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम में से कुछ हजरात ने इस बात को मेहसूस किया कि जब इतने बड़े तजुर्बेकार हजरात मौजूद हैं तो 1 नव उम्र को सिपहसालार क्यों मुकर्रर फरमाया गया ।

*★_ Aan Hazrat ﷺ ki Naraazgi _,*

★_ Jab Aan Hazrat ﷺ ko in Baato Ki khabar hui to sakht naraaz hue , Yaha'n tak k us Waqt Apne Hujre mubarak se bahar Tashreef laye.. us Waqt Aap ﷺ ke Sar mubarak per Patti bandhi hui thi aur Badan mubarak per ek Chaadar thi ,

★_ Aan Hazrat ﷺ Masjid me dakhil hue aur Mimbar per Tashreef laye , Allah ki hamdo Sana Bayan farmayi, fir Sahaba kiraam ko khitaab farmaya :- 
"_ Logo ! Ye kesi baate Hai'n Jo Osama ko Ameer banane per tum logo ki taraf se mujh tak Pahunchi Hai'n ? Isse Pehle jab Mai'ne Osama ke Waalid ko Ameer banaya tha to us Waqt bhi is qism ki Kuchh Baate sunne me aayi thi , Qasam hai Allah Az v Jal ki k wo Yani Zaid bin Haarisa Ameer banne ke liye mo'zij tareen Aadmi they aur Ab unke baad unka beta Ameer banne ke liye mo'zij tareen hai , Ye Dono Baap bete ese Hai'n k inse Khayr hi Ka gumaan rakho, Kyunki Wo tumme se Behatreen logo me se ek hai _,"

★_ Ab Jo Sahaba Hazrat Osama Raziyllahu Anhu ke Lashkar me Jane Wale they , Wo Aan Hazrat ﷺ se mulaqaat ke liye Aane lage , us Waqt Aap ﷺ ki tabiyat kaafi nasaaz thi , iske bavjood farma rahe they,:- "_Osama Ke Lashkar ko rawana Kar do ..,"

★_ Apni Tabiyab ki kharabi ke peshe Nazar Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ko lashkar ke Saath Jane se rok diya tha aur Unhe Hukm farmaya tha k wo logo ko Namaz padhaye'n ,
Itwaar ke Roz Aap ﷺ ki Takleef me izafa ho gaya .. Hazrat Osama Raziyllahu Anhu Apne Lashkar ke Saath Madina Munavvara se bahar thehar gaye they , Waha'n se Aap ﷺ ki mulaqaat ke liye Aaye .. jab wo Aan Hazrat ﷺ ke Hujre mubarak me dakhil hue to Aap ﷺ Aankhe'n band kiye nidhaal si Haalat me Lete hue they,

★_ Hazrat Osama Raziyllahu Anhu ne Aahista se Aap ﷺ Ka Sar mubarak dabaya aur Peshani ko bosa diya, Aap ﷺ ne koi Baat na ki , Dono Haath Ouper ki taraf uthaye aur unko Osama per rakh diya, Hazrat Osama Raziyllahu Anhu samajh gaye k Aap ﷺ unke liye Dua farma rahe Hai'n, Uske baad Osama Raziyllahu Anhu fir Apne Lashkar me lot gaye ...,

★_ Lashkar us Waqt Jarf ke Muqaam per tha , islami Lashkar rawana hone ki taiyari Kar raha tha k Madina Munavvara se Paigaam mila :- "_ Aan Hazrat ﷺ ki tabiyat nasaaz ho gayi hai ..Aap na Jaye'n _,"
Is Tarah ye lashkar rawana na ho saka ..,

*★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की नाराज़गी _,"*

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को इन बातों की खबर हुई तो सख्त नाराज़ हुए यहां तक कि उसी वक्त अपने हुजरे मुबारक से बाहर तशरीफ लाए , उस वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के सर मुबारक पर पट्टी बंधी हुई थी और बदन मुबारक पर एक चादर थी ।

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मस्जिद में दाखिल हुए और मेंबर पर तशरीफ लाए, अल्लाह की हम्द ओ सना बयान फरमाई, फिर सहाबा किराम को खिताब फरमाया :- 
"_ लोगों यह कैसी बातें हैं जो ओसामा को अमीर बनाने पर तुम लोगों की तरफ से मुझ तक पहुंची हैं इससे पहले जब मैंने ओसामा के वालिद को अमीर बनाया था तो उस वक्त भी इस किस्म की कुछ बातें सुनने में आई थी , क़सम है अल्लाह अज व जल की कि वह यानी ज़ैद बिन हारिसा अमीर बनने के लिए मौज़िज तरीन आदमी थे और अब उनके बाद उनका बेटा अमीर बनने के लिए मौज़िज तरीन है यह दोनों बाप बेटे ऐसे हैं इनसे खैर ही का गुमान किया जा सकता है , लिहाजा ओसामा के बारे में खैर ही का गुमान रखो क्योंकि वह तुम में से बेहतरीन लोगों में से एक हैं _,"

★_ अब जो साहबा हजरत ओसामा रज़ियल्लाहु अन्हु के लश्कर में जाने वाले थे वह आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से मुलाक़ात के लिए आने लगे , उस वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की तबीयत काफी नाराज़ थी इसके बावजूद फरमा रहे थे , "_ओसामा के लश्कर को रवाना कर दो...,*

★_ अपनी तबीयत की खबर के के पेशे नज़र आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को लश्कर के साथ जाने से रोक दिया था और उन्हें हुक्म फरमाया था कि वह लोगों को नमाज पढ़ाएं ,
इतवार के रोज़ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की तकलीफ में इज़ाफ़ा हो गया, हजरत ओसामा रज़ियल्लाहु अन्हु अपने लश्कर के साथ मदीना मुनव्वरा से बाहर ठहर गए थे वहां से आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की मुलाक़ात के लिए आए, जब वह आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के हुजरे मुबारक में दाखिल हुए तो आप सल्लल्लाहु अलेहि वसल्लम आंखें बंद किए निढाल सी हालत में लेटे हुए थे ,

हजरत ओसामा रज़ियल्लाहु अन्हु ने आहिस्ता से आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का सर मुबारक दबाया और पेशानी को बसा दिया, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने कोई बात ना कि दोनों हाथ ऊपर की तरफ उठाए और उनको ओसामा पर रख दिया , हजरत ओसामा रज़ियल्लाहु अन्हु समझ गए कि आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उशके लिए दुआ फरमा रहे हैं.. इसके बाद ओसामा रज़ियल्लाहु अन्हु फिर अपने लश्कर में लौट आए ।

★_ लश्कर उस वक्त जर्फ के मुकाम पर था,  इस्लामी लश्कर रवाना होने की तैयारी कर रहा था कि मदीना मुनव्वरा से पैगाम मिला :- "_ आन हजरत सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम की तबीयत नासाज़ हो गई है ..आप ना जाएं _,"
इस तरह यह लश्कर रवाना ना हो सका ।

 ╨─────────────────────❥
*★_ Aakhri Ayyam _,*

★_ Tabiyat kharab hone se Pehle ek Roz Aan Hazrat ﷺ aadhi Raat ke Waqt Qabristan Baqi me Tashreef le gaye aur waha'n har Momin ke liye Magfirat ki Dua farmayi ,
Qabristan se waapas lote to sar Mubarak me Shadeed dard shuru ho gaya , Huzoor Akram ﷺ ne Sayyada Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha ko sar Dard ke bare me bataya , Unhone sar dabana shuru Kiya ..sar Dard ke Bukhar bhi shuru ho gaya,

★_ Marz Shuru hone ke baad bhi Aan Hazrat ﷺ Apni Tamaam Azwaaj ke Yaha'n baari ke mutabiq Tashreef le jate they, Jis Din Aap ﷺ Hazrat Maimoona Raziyllahu Anha ke Yaha'n Tashreef le gaye us din marz me shiddat paida ho gayi, Tab Aap ﷺ ne Apni Tamaam Azwaaj ko bulaya aur unse ijazat li k Aapki timaardaari Hazrat Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha ke Hujre me ho , Sabne Khushi se iski ijazat de di ,

★_ Fir Huzoor ﷺ per gashi taari rehne lagi .. Bukhar ki shiddat zyada hui to Aan Hazrat ﷺ ne Mukhtalif Ku'nwo se 7 mashke Pani mangwayi aur Apne Ouper daalne Ka Hukm farmaya, Aan Hazrat ﷺ per un 7 Mashko Ka Pani daalna shuru Kiya gaya, Yaha'n tak k Aap ﷺ ne khud hi farmaya :- Bas kaafi hai _,"

★_ Zindgi me in Aakhri Ayyam me Aan Hazrat ﷺ farmaya Karte they :- Ey Ayesha ! Mujhe Khaybar me Jo Zehar diya gaya tha Uski Takleef me ab Mehsoos karta Hu'n _,"
Iska Matlab hai k Aakhri Dino me us Zehar Ka Asar dobara Zaahir ho gaya tha aur is Tarah Huzoor ﷺ ki rihlat ( wafaat ) darja Shahadat ko pahunchi ,

★_ Pani Apne Ouper daalne ke baad Aap ﷺ Hujre mubarak se bahar nikle , Us Waqt bhi Aap ﷺ ke Sar mubarak per Patti bandhi hui thi, Sabse Pehle Aap ﷺ ne Shohda Uhad ke liye Dua maangi , Bahut der tak unke liye Dua farmate rahe, fir irshad farmaya :- 
"_ Allah Ta'ala ne Apne Bando me se ek Bande ke Saamne ek taraf Duniya rakhi aur Doosri Taraf wo sab Kuchh rakha Jo Allah Ta'ala ke paas hai, Fir us Bande ko Akhtyar diya k Wo un Dono Cheezo me se koi Ek chun le , Us Bande ne Apne liye wo Pasand Kiya Jo Allah Ta'ala ke paas hai _,"

★_ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu in Baato Ka Matlab foran samajh gaye k Aan Hazrat ﷺ ki unse Muraad Apni Zaat hai , Chunache rone lage aur Arz Kiya :- "_ Ey Allah ke Rasool hum Apni jaane aur Apni aulaade Aap per Qurban Kar denge _,"
Aan Hazrat ﷺne Unhe rote hue dekh Kar farmaya :- "_ Abu Bakar khud ko sambhalo _,"
Fir logo se Mukhatib ho Kar irshad farmaya :- 
"_ Logo ! Saath dene ke aitbaar se Apni Daulat kharch Karne Ke aitbaar se jis Shakhs Ka mujh per Sabse zyada Ahsaan hai Wo Abu Bakar Hai'n _,"
Ye Hadees Sahih hai , isko 10 se zyada Sahaba ne naqal Kiya hai ,

★_ Fir Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- "_ Masjid se mile hue Tamaam Darwaze band Kar diye Jaye'n , Bas Abu Bakar Ka Darwaza rehne diya Jaye , Kyunki Mai'n Us Darwaze me Noor dekhta Hu'n , Sohbat aur rafaqat ke aitbaar se Mai'n Kisi Ko Abu Bakar se Afzal nahi samajhta _,"

★_ Ek Rivayat me hai :- "_ Abu Bakar mere Saathi Hai'n aur mere gamgusaar Hai'n , isliye Masjid me khulne wali har khidki band Kar do , Sivaye Abu Bakar ki khidki ke _,"
Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ke bare me ye bhi irshad farmaya :- Mere Saathi Abu Bakar ke bare me mujhe Takleef na pahuncha'o _,"

★_ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ke bare me Aan Hazrat ﷺ Ka ye bhi irshad Hai ',:- "_ Jab Logo ne mujhe jhoota Kaha tha to Abu Bakar ne mujhe Sachcha Kaha tha , Jab logo ne Apna Maal rok liya tha to Abu Bakar ne mere liye Apne Maal ko fayyazi se kharch Kiya , Jab logo ne mujhe be Yaar v madadgaar Chhod diya tha to Abu Bakar ne Meri gam khwari ki thi _,"

*★_ Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ne Aan Hazrat ﷺ se arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Ye kya Baat hai k Aapne Abu Bakar ka Darwaza to khula rehne diya aur baqi logo ke Darwaze band Karwa diye _,"
Unki Baat ke Jawab me Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- Ey Abbaas ! Na Mai'ne Apne Hukm se khulwaye aur na band karwaye _,"
Matlab ye tha k esa Karne Ka Hukm Allah Ta'ala ne diya hai ,

★_ Apne Ouper 7 mashko Ka Pani dalwane ke baad Aan Hazrat ﷺ ne ifaqa Mehsoos farmaya to Muhajireen se irshad farmaya :- 
"_ Ey Muhajireen Ansar ke Saath Nek Sulook Karna , Khayr Ka Sulook Karna Kyunki ye log Meri panaah gaah they , inke pass mujhe thikana mila , isliye inki bhalaiyo ke badle me inke Saath bhala'i Karna aur inki buraiyo se darhuzar Karna _,"
Itna farmane ke baad Aan Hazrat ﷺ mimbar se utar Aaye , 

★_ Apne marzul wafaat me Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ko hukm diya k Wo Namaz padhaye'n, Wo Namaz isha ki thi ... Jab Hazrat Billal Raziyllahu Anhu ne Azaan di to Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- Mere liye Bartan me pani Lao _,"
Aap ﷺ ne wazu Kiya , Fir Masjid me Jane Ka iraada farmaya Magar gashi taari ho gayi, 
Kuchh dayr baad ifaaqa hua to daryaft farmaya :- Kya Logo ne Namaz padh li ?"
Sahaba kiraam ne arz Kiya :- Log Aapka intezar Kar rahe Hai'n _,"

★_ Us Waqt Aap ﷺ ne fir Pani lane Ka Hukm diya, Wazu Kiya , fir Masjid me Jane Ka iraada farmaya, Lekin fir gashi taari ho gayi, Uske baad fir ifaaqa hua to Puchha :- Kya logo ne Namaz padh li ?"
Sahaba kiraam ne arz Kiya :- Nahi , log Aapka intezar Kar rahe Hai'n _,"
Ab fir Aap ﷺ ne wazu Kiya, Namaz Ka iraada farmaya Lekin gashi taari ho gayi, ifaaqa hone per Aap ﷺ ne fir Puchha aur Aap ﷺ ko fir Yahi bataya gaya, Tab Aap ﷺ ne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ko hukm bheja k wo Musalmano ko Namaz padhaye'n ,

★_ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ko jab ye Hukm mila to unhone Hazrat Umar Farooq Raziyllahu Anhu se farmaya :- Ey Umar tum Namaz padha do _,"
Is per Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Aap iske zyada Haqdaar Hai'n _,"
Aakhir Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ne Namaz padhayi... Iske baad Aan Hazrat ﷺ ki wafaat tak Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu hi Namaz padhate rahe ,

★_ Aan Hazrat ﷺ ki Zindgi mubarak me is Tarah Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ne 17 Namaze padhayi, is dauraan Subeh ki ek Namaz me Aan Hazrat ﷺ unki imaamat me Doosri raka'at me Shareek hue aur Apni Pehli raka'at baad me Ada farmayi,
Us Namaz Ke liye Aap ﷺ Do Aadmiyo'n ka Sahara le Kar Masjid tak Aaye they, Un do me Ek Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu they , 

★_'Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu us Waqt Namaz padha rahe they.. Unhone Aan Hazrat ﷺ ko Tashreef late dekha to foran Pichhe hatne lage taki Aan Hazrat ﷺ imaamat farmaye'n Magar Aap ﷺ ne Unhe iShare se farmaya k Pichhe na hate'n , Fir Aap ﷺ ne Apne Dono Saathiyo'n ko hukm diya to unhone Aap ﷺ ko Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ke baaye'n jaanib bitha diya,
Is Tarah Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ne khade ho Kar Namaz Ada ki , unke Pichhe baqi Tamaam Sahaba ne bhi khade ho Kar Namaz Ada ki aur Aan Hazrat ﷺ ne Beth Kar Namaz Poori farmayi ,

★_ Imaam Tirmizi ne Likha hai k Aan Hazrat ﷺ ne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ke Pichhe teen martaba Namaz padhi , 
Is bare me ye rivayat bhi Hai k Pehlu martaba Hazrat Umar Raziyllahu Anhu imaamat Karne lage they , Aan Hazrat ﷺ ne jab unki Awaaz suni to irshad farmaya :- "_ Nahi ... Nahi .. Nahi ..Abu Bakar hi Namaz padhaye'n _,"
Aan Hazrat ﷺ Ka ye irshad sun Kar Hazrat Umar Raziyllahu Anhu Pichhe hat aaye they aur Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Aage badh Kar Namaz padhayi thi ,

★_ Fir Aakhri Roz Aan Hazrat ﷺ ne Sar mubarak parde ke bahar se nikaal Kar Masjid me dekha, Log Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke Pichhe Namaz Ada Kar rahe they , Ye dekh Kar Aap ﷺ muskura diye , ye din peer Ka din tha , Wohi din Jisme Aan Hazrat ﷺ ne wafaat payi , Muskura Kar Sahaba kiraam ko dekhne ke baad Aap ﷺ ne parda gira diya , 

★_ us Waqt logo ne Mehsoos Kiya k Huzoor Aqdasﷺ ki tabiyat ab Pehle se Behtar hai aur ye k Aap ﷺ ki Takleef me kami ho gayi hai, so Aapke Aas paas mojood Sahaba Apne gharo ko chale gaye, Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu bhi Madina Munavvara ke qareeb "maskh " naami dehaat chale gaye Jaha'n unki doosri Zoja Mohatrama Ka ghar tha , Ye Jagah Madina Munavvara se ek ya dedh meel ke Faasle per thi , Jane se Pehle Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ne Aan Hazrat ﷺ se ijazat li thi aur uski vajah ye thi k us Roz Subeh Aap ﷺ ke rukhe Anwar per bahut bashashat thi , Chehra Anwar chamak raha tha , Lihaza logo ne khayal Kiya tha k Aap ﷺ ki Haalat sambhal gayi Thi,

★_ Lekin dopahar ke qareeb Aap ﷺ Ka Bukhar tez ho gaya, Ye khabar Sunte hi Tamaam Azwaaj Mutahraat fir Aap ﷺ ke paas aa gayi , Aap ﷺ per us Waqt Baar Baar gashi taari ho rahi thi, hosh me aate hi farmate :- Mai'n Apne rafeeq Aala ki bargaah me Haazir hota Hu'n _,"

★_ Jab Aan Hazrat ﷺ ki tabiyat zyada kharab hui to Apna Haath mubarak Paani me daal Kar Apne chehra Anwar per fairne lage , Us Waqt Aap ﷺ farma rahe they:- Ey Allah ! Maut ki Sakhtiyo per Meri madad farma _,"
Sayyada Fatima Raziyllahu Anha Farmati Hai'n k jab Maine Rasulullah ﷺ per Bechaini ke asaar dekhe to Mai'n pukaar uthi :- Haay mere Waalid ki Bechaini ! "
Ye sun Kar Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- Aaj ke baad fir koi Bechaini Tumhare Baap ko nahi hogi _,"

*★_ आखरी अय्याम _,*

★_ तबीयत खराब होने से पहले एक रोज़ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम आधी रात के वक्त कब्रिस्तान बकी़ में तशरीफ ले गए और वहां पर मोमिन के लिए मग्फिरत की दुआ फरमाई , कब्रिस्तान से वापस लौटे तो सर मुबारक में शदीद दर्द शुरू हो गया, हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सैयदा आयशा सिद्दीका रजियल्लाहु अन्हा को सर दर्द के बारे में बताया उन्होंने सर दबाना शुरू किया .. सर दर्द के साथ बुखार भी शुरू हो गया ,

★_ मर्ज़ शुरू होने के बाद भी आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अपनी तमाम अज़वाज के यहां बारी के मुताबिक तशरीफ ले जाते थे, जिस दिन आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम हजरत मैमूना रज़ियल्लाहु अन्हा के यहां तशरीफ ले गए उस दिन मर्ज़ में शिद्दत पैदा हो गई तब आप सल्लल्लाहु अलेहि वसल्लम ने अपनी तमाम अज़वाज को बुलाया और उनसे इजाज़त ली कि आपकी तीमारदारी हजरत आयशा सिद्दीका रज़ियल्लाहु अन्हा के हुजरे में हो, सब ने खुशी से इसकी इजाज़त दे दी ।

फिर हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर गशी तारी रहने लगी बुखार की शिद्दत ज्यादा हुई तो आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मुख्तलिफ कुंओ से 7 मशके पानी मंगाई और अपने ऊपर डालने का हुकुम फरमाया,  आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम पर उन 7 मशकों का पानी डालना शुरू किया गया यहां तक कि आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने खुद ही फरमाया- बस काफी है ।

★_ जिंदगी के आखरी अय्याम में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम फरमाया करते थे :-
"_ ऐ आएशा ! मुझे खैबर में जो ज़हर दिया गया था उसकी तकलीफ मै अब महसूस करता हूं _," 
इसका मतलब है कि आखरी दिनों मेउस ज़हर का असर दोबारा ज़ाहिर हो गया था और इस तरह हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की रिहलत ( इंतकाल) दर्जा शहादत को पहुंची ।


★_ पानी अपने ऊपर डलवाने के बाद आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम हुजरे मुबारक से बाहर निकले, उस वक्त भी आप सल्लल्लाहु अलेहि वसल्लम के सर मुबारक पर पट्टी बंधी हुई थी, सबसे पहले आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने शोहदा ए उहद के लिए दुआ मांगी, बहुत देर तक उनके लिए दुआ फरमाते रहे, फिर इरशाद फरमाया :-
"_ अल्लाह ताला ने अपने बंदों में से एक बंदे के सामने एक तरफ दुनिया रखी और दूसरी तरफ वह सब कुछ रखा जो अल्लाह ताला के पास है फिर उस बंदे को अख्तियार दिया कि वह उन दोनों चीजों में से कोई एक चुन ले उस बंदे ने अपने लिए वह पसंद किया है जो अल्लाह ताला के पास है _,"

★_ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु इन बातों का मतलब फौरन समझ गए ,कि आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की उनसे मुराद अपनी जा़त है, चुनांचे रोने लगे और अर्ज किया :-  ऐ अल्लाह के रसूल हम अपनी जाने और अपनी औलादें आप पर कुर्बान कर देंगे _,"
आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन्हें रोते हुए देख कर फरमाया :- अबू बकर खुद को संभालो _,"
फिर लोगों से मुखातिब होकर इरशाद फरमाया :- "_ लोगों साथ देने के ऐतबार से और अपनी दौलत खर्च करने के ऐतबार से जिस शख्स का मुझ पर सबसे ज्यादा एहसान है वह अबू बकर है _,"
यह हदीस सही है इसको १० से ज्यादा सहाबा ने नक़ल किया है ।

★_ फिर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- "_ मस्जिद से मिले हुए तमाम दरवाजे बंद कर दिए जाएं बस अबू बकर का दरवाज़ा रहने दिया जाए क्योंकि मैं उस दरवाजे में नूर देखता हूं , सोहबत और रफाक़त के एक बार से मैं किसी को अबू बकर से अफज़ल नहीं समझता _,"

★_ एक रिवायत में है :- "_ अबू बकर मेरे साथी हैं और मेरे गम गुसार हैं, इसलिए मस्जिद में खुलने वाली हर खिड़की बंद कर दो सिवाय अबू बकर की खिड़की के _,"
आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के बारे में यह भी इरशाद फरमाया :-  मेरे साथी अबू बकर के बारे में मुझे तकलीफ़ ना पहुंचाओ _,"

हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के बारे में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का यह भी इरशाद मुबारक है :-
"_ जब लोगों ने मुझे झूठा कहा था अबू बकर ने मुझे सच्चा कहा था जब लोगों ने अपना माल रोक लिया था तो अबू बकर ने मेरे लिए अपने माल तो फैयाजी़ से खर्च किया जब लोगों ने मुझे छोड़ दिया था तो अबू बकर ने मेरी गमख्वारी की थी _,"

★_ हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से अर्ज किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! क्या बात है कि आपने अबू बकर का दरवाजा तो खुला रहने दिया और बाकी लोगों के दरवाजे बंद करवा दिए _,"
उनकी बात के जवाब में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- 
"_ ऐ अब्बास ! ना मैंने अपने हुक्म से खुलवाए और ना बंद करवाएं _,"
मतलब यह था कि ऐसा करने का हुक्म अल्लाह ताला ने दिया है ।

★_ अपने ऊपर सात मशकों का पानी डलवाने के बाद आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इफाक़ा महसूस फरमाया तो मुहाजिरीन से इरशाद फरमाया:- 
"_ ऐ मुहाजिरीन अन्सार के साथ नेक सुलूक करना, खेर का सुलूक करना क्योंकि यह लोग मेरी पनाहगाह थे, इनके पास मुझे ठिकाना मिला, इसलिए इनकी भलाईयों के बदले में इनके साथ भलाई करना और इनकी बुराइयों से दर गुज़र करना _,"  
इतना फरमाने के बाद आन‌ हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मिंबर से उतर आए ,

★_ अपने मर्ज वफात में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को हुक्म दिया कि वह नमाज पढ़ाएं,  वह नमाज ईशा की थी....  जब हजरत बिलाल ने आज़ान दी तो आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया - मेरे लिए बर्तन में पानी लाओ _,"
आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वज़ु किया , फिर मस्जिद जाने का इरादा फरमाया मगर गशी तारी हो गई , कुछ देर बाद इफाक़ा हुआ तो दरयाफ्त फरमाया -क्या लोगों ने नमाज पढ़ ली ? सहाबा किराम ने अर्ज़ किया-  लोग आपका इंतजार कर रहे हैं,

उस वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फिर पानी लाने का हुक्म दिया, वज़ु किया, फिर मस्जिद में जाने का इरादा फरमाया लेकिन फिर गशी तारी हो गई , उसके बाद फिर इफाक़ा हुआ तो पूछा -क्या लोगों ने नमाज पढ़ ली ?
सहाबा किराम ने फिर अर्ज किया :- नहीं , लोग आपका इंतजार कर रहे हैं _,"
अब फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वज़ु किया, नमाज़ का इरादा फरमाया लेकिन गशी तारी हो गई , इफाका़ होने पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फिर यही पूछा और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को यही बताया गया , तब आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को हुक्म भेजा कि वह मुसलमानों को नमाज़ पढ़ाऐं _,

★_ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को जब यह हुक्म मिला तो उन्होंने हजरत उमर फारूक रज़ियल्लाहु अन्हु फरमाया - ऐ उमर तुम नमाज पढ़ा दो _,"
इस पर हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया- आप इसके ज्यादा हकदार है _,"
आखिर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने नमाज पढ़ाई, उसके बाद आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की वफात तक हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ही नमाज़ पढ़ाते रहे ।

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की जिंदगी मुबारक में इस तरह अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने 17 नमाज़े पढ़ाई,  इस दौरान सुबह की एक नमाज में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उनकी इमामत में दूसरी रकात में शरीक हुए और अपनी पहली रकात बाद में अदा फरमाई,
उस नमाज के लिए आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम दो आदमियों का सहारा लेकर मस्जिद तक आए थे, उन दो में से एक हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु थे।

★_ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु उस वक्त नमाज पढ़ा रहे थे उन्होंने आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को तशरीफ लाते देखा तो फौरन पीछे हटने लगे ताकि आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम इमामत फरमाएं, मगर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन्हें इशारे से फरमाया कि पीछे न हटें, फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने दोनों साथियों को हुक्म दिया तो उन्होंने आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के बांऐं जानिब बिठा दिया,
इस तरह हजरत अबू बकर रज़ियल्लाहु अन्हु ने खड़े होकर नमाज अदा की , उनके पीछे बाक़ी तमाम सहाबा ने भी खड़े होकर नमाज़ अदा की और आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने बैठकर नमाज पूरी फरमाई ।

इमाम तिरमिज़ी ने लिखा है कि आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के पीछे 3 मर्तबा नमाज पढ़ी, 
इस बारे में यह रिवायत भी है कि पहली मर्तबा हजरत उमर रजियल्लाहु इमामत करने लगे थे आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने जब उनकी आवाज़ सुनी तो इरशाद फरमाया :-  नहीं.. नहीं.. नहीं.. अबू बकर ही नमाज पढ़ाएं _,"
आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का यह इरशाद सुन कर हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु पीछे हट आए थे और हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने आगे बढ़कर नमाज पढ़ाई थी ।

★_ फिर आखरी रोज़ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सर मुबारक परदे के बाहर से निकालकर मस्जिद में देखा , लोग अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के पीछे नमाज़ अदा कर रहे थे यह देखकर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम मुस्कुरा दिए, यह दिन पीर का दिन था वही दिन जिसमें आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वफात पाई, मुस्कुराकर सहाबा इकराम को देखने के बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने पर्दा गिरा दिया,

★_ उस वक्त लोगों ने महसूस किया कि हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की तबीयत पहले से बेहतर है और यह कि आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की तकलीफ में कमी हो गई है, सो आपके आसपास मौजूद सहाबा अपने घरों को चले गए, हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु मदीना मुनव्वरा के क़रीब "मस्ख " नामी देहात चले गए जहां उनकी दूसरी ज़ौजा मोहतरमा का घर था, यह जगह मदीना मुनव्वरा से एक या डेढ़ मील के फासले पर थी, जाने से पहले हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से इज़ाजत ली थी और और उसकी वजह थी कि उस रोज सुबह आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के रुखे अनवर पर बहुत बशाशत थी, चेहरा अनवर चमक रहा था लिहाज़ा लोगों ने ख्याल किया था कि आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की हालत संभल गई थी,

★_ लेकिन दोपहर के क़रीब आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का बुखार तेज़ हो गया, यह खबर सुनते ही तमाम अज़वाज मुताहरात फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के पास आ गई,  आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम पर उस वक्त बार-बार गशी तारी हो रही थी, होश में आते ही फरमाते :-  मैं अपने रफीक़े आला की बारगाह में हाजिर होता हूं _,"

★_ जब आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की तबीयत ज्यादा खराब हुई तो अपना हाथ मुबारक पानी में डालकर अपने चेहरे अनवर पर फेरने लगे, उस वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम फरमा रहे थे - "_ ऐ अल्लाह ! मौत की सख्तियों पर मेरी मदद फरमा _,"
सैयदा फातिमा रज़ियल्लाहु अन्हा फरमाती है कि जब मैंने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम पर बैचेनी के आसार देखें तो मैं पुकार उठी :- हाय मेरे वालिद की बेचैनी !"
यह सुनकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- आज के बाद फिर कोई बैचेनी तुम्हारे बाप को नहीं होगी _,"
 ╨─────────────────────❥
*★_ Safar e Aakhirat _,*

★_ Huzoor Akram ﷺ per wafaat ke Waqt Jo is qadar Takleef aur Bechaini ke asaar Zaahir hue , usme bhi Allah Ta'ala ki Hikmat hai.., Ye k agar Kisi Musalman ko maut ke Waqt is Tarah Takleef aur Bechaini ho to Huzoor Akram ﷺ ki Takleef ko Yaad Kar ke khud ko tasalli de Sakta Hai ,

★_ Yani Dil me keh Sakta Hai k Jab Allah Ke Rasool per maut ke Waqt itni Takleef guzri to Meri kya Haisiyat hai ? Yu'n bhi maut ki sakhti Momin ke darjaat Buland hone Ka sabab banti hai , Hazrat Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha Farmati Hai'n :- Aan Hazrat ﷺ per maut ki Takleef ke baad ab Mai'n Kisi per bhi maut ke Waqt Sakhti ko nagawaar Mehsoos nahi Karti _,"
Jab Aan Hazrat ﷺ ko Takleef Hoti thi to farmaya Karte they :- 
"_ Ey Tamaam logo ke Parwardigaar ! Ye Takleef door farma de aur shifa ata farma de k Tu hi shifa dene Wala hai, Teri di hui shifa hi asal shifa hai Jisme Bimaari Ka Naam v nishaan nahi hota _,"

★_ Hazrat Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha Farmati Hai'n k Jab Aap ﷺ ki Bechaini badhi to Maine Aap ﷺ Ka Daaya Haath Apne Haath me le liya aur dua ke Yahi kalamaat padh Kar dam Karne lagi , Fir Aap ﷺ ne Apna Haath mubarak kheench liya aur ye Dua padhi :- Ey Allah ! Meri Magfirat farma aur mujhe rafeeq Aala me Jagah ata farma _,"

★_ Aan Hazrat ﷺ ko jab bhi koi Takleef Hoti Aafiyat aur shifa ki Dua Kiya Karte they, Lekin jab marze wafaat hua to usme shifa ki Dua nahi maangi , Hazrat Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha Farmati Hai'n k is Haalat me mere Bhai Abdur Rahman Raziyllahu Anhu Aaye , Unke haath me miswaak thi ,
Aan Hazrat ﷺ us miswaak ko dekhne lage , Mai'n samajh gayi k Miswaak ki khwahish Mehsoos Kar rahe Hai'n, Kyunki Miswaak Karna Aap ﷺ ko bahut Pasand tha , Chunache Maine Puchha :- Aapko Miswaak du'n _,"

★_ Aan Hazrat ﷺ ne sar mubarak se Haa'n Ka ishara farmaya , Maine Miswaak daanto se naram Kar Ke di, Us Waqt Aan Hazrat ﷺ mujhse Sahara liye hue they, Ummul Momineen Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha Farmati Hai'n :- 
"_ mere Ouper Allah ke khaas inamaat me se ek inaam ye bhi Hai k Aan Hazrat ﷺ Ka inteqal mere Ghar me hua , Aapka jism mubarak us Waqt mere Jism se Sahara liye hua tha , Wafaat ke Waqt Allah Ta'ala ne Mera luaab dahan Aap ﷺ ke luaab dahan se mila diya, Kyunki us Miswaak ko Maine naram Karne Ke liye chabaya tha aur Aan Hazrat ﷺ ne usse Apne daanto per faira tha _,"

★_ Huzoor Aqdasﷺ per behoshi taari hui to sab Azwaaj Mutahraat Aas Paas Jama ho gayi'n ,
Marz ke Dauraan Aan Hazrat ﷺ ne 40 Gulaam Azaad farmaye , Ghar me us Waqt 6 ya 7 Dinaar they , Huzoor Aqdasﷺ ne Sayyada Ayesha Raziyllahu Anha ko hukm diya k in Dinaaro ko Sadqa Kar de'n .. Saath hi irshad farmaya :- Muhammad Apne Rab ke paas kya Gumaan le Kar Jayega k Allah Ta'ala se mulaqaat ho aur ye Maal Uske paas ho _,"

★_ Sayyada Ayesha Raziyllahu Anha ne usi Waqt un Dinaaro ko Sadqa Kar diya , Aan Hazrat ﷺ ki Bimaari se Chand Roz Pehle Hazrat Abbaas Raziyllahu Anhu ne Khwab dekha tha k Chaand Zameen se uth Kar Aasmaan ki taraf Chala gaya, Unhone Huzoor Aqdasﷺ ko Khwab sunaya tha .. Khwab sun Kar Aap ﷺ ne farmaya tha :- "_ Ey Abbaas ! Wo Tumhara Bhatija hai _,"
Yani ye Aap ﷺ ki wafaat ki taraf ishara tha ,

★_ Apni Sahabzaadi Sayyada Fatima Raziyllahu Anha se Aap ﷺ ko be panaah Muhabbat thi , Alalat ke Dauraan Aap ﷺ ne Unhe bula bheja , Wo Tashreef La'yin to unke kaan me Kuchh Baate ki , Wo sun Kar rone lagi , Fir unke kaan me Kuchh farmaya to Wo ha'ns padi , Baad me Unhone Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha ko bataya k Pehle Aap ﷺ ne farmaya k Mai'n isi marz me wafaat pa Jaunga , ye sun Mai'n ro padi .. Doosri Baar farmaya k khandaan me Sabse Pehle tum mujhse milogi , Ye sun Kar Mai'n Ha'ns padi ,
Chunache Aan Hazrat ﷺ ke inteqal ke Kuchh arse baad Sabse Pehle Aap ﷺ ke gharane me Hazrat Fatima Raziyllahu Anha Ka hi inteqal hua ,

★_ Wafaat se ek din Pehle Aan Hazrat ﷺ ne logo se irshad farmaya :- "_ Yahood aur Nasaara per Khuda ki laanat ho, Unhone Apne Paigambaro ki qabro ko ibaadatgaah bana liya _,"
Ye bhi farmaya k Yahoodiyo'n ko Jazeeratul Arab se nikaal do aur farmaya :- "_ Logo Namaz ... Namaz ... Namaz Ke bare me Allah Se daro aur Apne Gulamo Ka khayal rakho _,"

★_ Wafaat se Pehle Hazrat Jibraiyl Alaihissalam Malikul Maut ke Saath Aaye , Unhone arz Kiya :- "_ Ey Muhammad ﷺ Allah Ta'ala Aapke Mushtaaq Hai'n _,"
Ye sun Kar Aan Hazrat ﷺ ne farmaya :- "_ To Hukm ke mutabiq Meri rooh qabz Kar lo _,"

★_ Ek Rivayat ke mutabiq Hazrat Jibraiyl Alaihissalam Malikul Maut ke Saath Aaye they, Unhone Aan Hazrat ﷺ se arz Kiya tha :- 
"_ Ey Allah ke Rasool ! Ye Malikul Maut Hai'n aur Aapse ijazat maangte Hai'n.. Aapse Pehle Unhone Kisi se ijazat nahi maangi aur na Aapke baad Kisi se ijazat maangenge , Kya Aap Unhe ijazat dete Hai'n ?"
Aan Hazrat ﷺ ne Unhe ijazat de di, Tab Izraiyl Alaihissalam andar Aaye , Unhone Aapko Salam Kiya aur Arz Kiya :- 
"_ Ey Allah ke Rasool Allah Ta'ala ne mujhe Aapke paas bheja hai , Agar Aap mujhe Hukm de'n k Mai'n Aapki Rooh qabz Karu'n to Mai'n esa hi karunga aur agar Aap Hukm farmaye'n k Chhod do to Mai'n esa hi karunga _,"