0
🥀🌱🌱🌱🥀🥀🥀🌱🌱🌱🥀    
        *◐ _Ranj v Gam Ke Halaat _◐*
                  *(Kaise Guzare'n)*
                     ❖══✰═══❖
    
*◐☞01 Masa'ib v Takaaleef Ko Sabr v Sukoon Ke Saath Bardaasht Kijiye_,*

*❖_Masa'ib v Takaaleef Ko Sabr v Sukoon Ke Saath Bardaasht Kijiye, Kabhi Himmat Na Haariye aur Ranj v Gam Ko Kabhi Hadde Aitidaal Se  Na Badhne Dijiye_,*

*❖_Dunuya Ki Zindgi Me Koi Bhi Insan Ranj v Gam, Musibat v Takleef Aafaat Ya Nakaami Aur Nuqsaan Se Be Khauf Aur Mamoon Nahi Reh Sakta*

*❖_Albatta Momin Aur Kafir Ke Kirdar Me Ye Farq Zaroor Hota Hai K Kafir Ranj v Gam Ke Hujoom Me Pareshan Ho Kar Hosh v Hawaas Kho Baithta Hai Mayusi Ka Shikaar Ho Kar Haath Payr Chhod Deta Hai Aur Baaz Auqaat Gam Ki Taab Na Laa Kar Khud Kushi Kar Leta Hai*

*❖_Aur Momin Bade Bade Haadse Par Bhi Sabr Ka Daaman Haath Se Nahi Chhodta  Aur Sabr Ka Pekar Ban kar Chattaan Ki Tarha Jama Rehta Hai , Wo Yu'n Sochta Hai K Ye Jo Kuch Hua Taqdeer E ilaahi Ke Mutabiq Hua* 

*❖_Khuda Ka Koi Hukm Hikmat Wa Maslihat Se Khali Nahi Aur Ye Soch Kar K Khuda Jo Karta Hai Apne Bande Ki Bhetari Ke Liye Karta Hai ,Yaqinan Usme Khair Ka Pehlu Hoga , Momin Ko Esa Ruhani Sukoon v Itminaan Haasil Hota Hai Ke Gam Ki CHOT Me Lazzat Aane Lagti Hai Aur Taqdeer Ka Ye Aqidah Har Mushkil Ko Aasaan Bana Deta Hai*

__Qaran e Kareem Me Allah Ta"Ala Ka Irshad he_*
*_مآ اَصَابَ مَن مُّصِیْبَةٍ فِي الْأرْضِ وَلَا فِيْ أنْفُسِكُمْ اِلِّا فِي كِتٰبٍ مِّنْ قِبْلِ اَنْ نَبَرَّاَهَا اِنَّ ذٰلِكَ عَلَی اللّٰہِ یَسِیْر لِکَیْلَا تَاْسَوْ عَلٰی مَاَ فَاْتَکُمْ_*
*(Sure Hadeed Aayat No (22-23)*
 
*❖_Jo Masaaib Bhi Ruye Zameen Me Aate Hai Aur Jo Aafate'n Bhi Hum Par Aati Hai'n Wo Sab Usse Pehle K Hum Unhe Wajood Me Laye'n Ek Kitab Me ( Likhi Hui Mehfooz Aur Tay Shuda) Hai_,Isme Koi Shak Nahi K Ye Baat Khuda Ke Liye Aasan Hai TaKi Tum ApnI Nakaami Par Gam NA karte Raho !*

*❖_Yani Taqdeer Par Iman Laane Ka Ek Fayda Ye Hai Ke Momin Bade Se Bade Gam Ko Bhi Qaza v Taqdeer Ka Faisla Samajh Kar Apne Gam Ka ILAAJ Paa Leta Hai Aur Pareshan Nahi Hota,  Wo Har Maamle Ki Nisbat Apne Meharban Khuda Ki Taraf Kar Ke Khair Ke Pehlu Par Nigaah Jama Leta Hai Aur Sabr v Shukr Karke Har Shar Me Se Apne Liye Khair Nikaalne Ki Koshish Karta Hai*

*❖_Nabi E Kareem ﷺ Ka Irshad Hai :- "_Momin Ka Maamla Bhi Khoob Hi Hai ,Wo Jis Haal Me Bhi Hota Hai Khair Hi Samet Ta Hai, Agar Wo Dukh Bimari Aur Tangdasti Se Do Chaar Hota Hai To Sukoon Ke Saath Bardasht Karta Hai Aur Ye Aazma'ish Uske Haq Me Khair Saabit Hoti Hai Aur Agar Usko Khushi Aur Khush Haali Naseeb Hoti Hai To Shukr Karta Hai Aur Ye Khush Haali Uske Liye Kahir Ka Sabab Banti Hai*

*~(Muslim Kitabuz Zohad War-Raqa'iq Bab Al Momin7500)~*
                                       
▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ मसाइब व तक़लीफ को सब्र व सुकून के साथ बर्दाश्त कीजिए ◐*

*❖_मसाइब व तक़लीफ को सब्र व सुकून के साथ बर्दाश्त कीजिए, कभी हिम्मत ना हारिए और रंज व गम को कभी ल हद्दे ऐतदाल से ना बढ़ने दीजिए ,*

 *❖_ दुनिया की जिंदगी में कोई भी इंसान रंज व गम ,मुसीबत व तकलीफ ,आफत या नाकामी और नुक़सान से बेखौफ और मामून नहीं रह सकता ।*

*❖_ अलबत्ता मोमिन और काफ़िर के किरदार में यह फर्क तो ज़रूर होता है कि काफिर रंज व गम के हुजूम में परेशान होकर होशो हवास खो बैठता है मायूसी का शिकार होकर हाथ पैर छोड़ देता है और बाज़ औका़त गम की ताब ना ला कर खुदकुशी कर लेता है।*

*❖_ और मोमिन बड़े से बड़े हादसे पर भी सब्र का दामन हाथ से नहीं छोड़ता और सब्र का पेकर बनकर चट्टान की तरह जमा रहता है, वह सोचता है कि यह जो कुछ हुआ तक़दीर ए इलाही के मुताबिक हुआ, खुदा का कोई हुक्म हिकमत वह मसलिहत से खाली नहीं और यह सोच कर कि खुदा जो कुछ करता है अपने बंदे की बेहतरी के लिए करता है, यक़ीनन उसमें खैर का पहलू होगा, मोमिन को ऐसा रूहानी सुकून व इत्मिनान हासिल होता है कि गम की चोट में लज्जत आने लगती है और तक़दीर का यह अकी़दा हर मुश्किल को आसान बना देता है।*         
 *❖
*❖_ क़ुरआने करीम का मे अल्लाह ताला का इरशाद है :- जो मसाईब भी रूए जमीन में आते हैं और जो आफतें भी हम पर आती हैं वह सब इससे पहले कि हम उन्हें वजूद में लाएं एक किताब में (लिखी हुई महफूज और तयशुदा) है ,इसमें कोई शक नहीं कि यह बात खुदा के लिए आसान है ताकि तुम अपनी नाकामी पर गम ना करते रहो !*
*( सूरह हदीद , 22-23)*

*❖_ यानी तकदीर पर ईमान लाने का एक फायदा यह है कि मोमिन बड़े से बड़े गम को भी कजा़ व तकदीर का फैसला समझकर अपने गम का इलाज पा लेता है और परेशान नहीं होता वह हर मामले की निस्बत अपने मेहरबान खुदा की तरफ करके खैर के पहलू पर निगाह जमा लेता है और सब्र व शुक्र करके हर शर में से अपने लिए खैर निकालने की कोशिश करता है,*

*❖_ नबी करीम सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम का इरशाद है:- "_ मोमिन का मामला भी खूब ही है वह जिस हाल में भी होता है खैर ही समेटता है अगर वह दुख बीमारी और तंग दस्ती से दो चार होता है तो सुकून के साथ बर्दाश्त करता है और यह आजमाइश उसके हक़ में खैर साबित होती है और अगर उसको खुशी और खुशहाली नसीब होती है तो शुक्र करता है और यह खुशहाली उसके लिए खैर का सबब बनती है _,"* 
*( मुस्लिम किताबुज़ ज़ुहद वर -रक़ाइक़ बाब अल- मोमिन 7500)*

*📚 मदनी माशरा - हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔              
     
*◐☞ 2 _Takleef Ki Khabar Sunte Hi* *اِنَّ لِلّٰهِ وَاِنَّااِلَیْهِ رَاجِعُوْن (inna Lillahi Wa inna ilaihi Raji'uon) Padhiye_ ◐**

*❖_Jab Ranj v Gam Ki Koi Khabar Sune Ya Koi Nuqsaan Ho Jaye Ya Koi Dukh Aur Takleef Pahunche Ya Kisi Na Gahaani Musibat Me Khuda Na Khasta Girftaar Ho Jayen To Foran* 
   
          *اِنَّ لِلّٰهِ وَاِنَّااِلَیْهِ رَاجِعُوْن*
*(inna Lillahi Wa inna ilaihi Raji'uon) Padhiye,*
*"_ (Tarjama )Hum Khuda Hi ke Hai'n Aur Usi Ki Taraf Laut Kar Jane Wale Hai'n *(Muslim - 4126)* 

*❖Matlab Ye Hai Ke Hamare Paas Jo Kuch Bhi Hai Sab Khuda Hi Ka Hai Usi Ne Diya Hai Aur Wahi Lene Wala Hai , Hum Bhi Usi Ke Hai'n Aur Usi Ki Taraf Lot Kar Jayenge*

*❖_Hum Har Haal Me Khuda Ki Raza Par Raazi Hai'n, Uska Har Kaam Maslihat, Hikmat Aur insaaf  Par Mubni Hai ,Wo Jo Kuch Karta Hai Kisi Badi Khair Ke Peshe Nazar Karta Hai ,Wafadaar Gulam Ka Kaam Ye Hai Ke kisi Waqt Bhi Uske Mathe Par Shikan Na Aaye*,*
❖_*Quran e Kareem Me Allah Pak Irshad Farmata Hai*

*_وَلَنَبْلُوَنَّكُمْ بِشَيْئٍ مِّنَ الْخَوْفِ وَالْجُوْعِ وَنَقْصٍ مِّنَ لْاَمْوَالِ وَلْاَنْفُسِ وَثَّمَرٰتِ وَبَشِّرِالصّٰبِرِيْنَ ط اَلَّذِيْنَ اِذَآ اَصَابَتْهُمْ مُّصِيْبَتٌه قَالُوْآاِنَّالِلّٰهِ وَاِنَّآاِلَيْهِ رَاجِعُوْنَ ط_*
*_اُولٰئِکَ عَلَیْھِمْ صَلَوٰتٌ مَّنْ رَبَّھِمْ وَرَحْمَتٌه قف وَاُولٰئِکَ ھُمُ الْمُھْتَدُوْنَ ط_*.
*(_Sure Baqra Aayat No 156 157_*)

*❖_(Tarjama-)- Aur Hum Zaroor Tumhe Khof v Khatar, Bhook, Jaan v Maal Ke Nuqsaan Aur Aamadniyo'n Ke Ghaate Me Mubtila Karke Tumhari Aazmaa'ish Karenge Aur Khush Khabri Un Logo'n Ko Dijiye Jo Musibat Aane Par (Sabar Karte Hai)*

*"_Aur Kehte Hai Hum Khuda Hi Ke Hai'n Aur Khuda Hi Ki Taraf Hume Palat Kar Jana Hai Un Par Unke Rab Ki Taraf Se Badi inayaat Hongi Aur Uski Rehmat Hogi Aur Aise Hi Log Rahe Hidayat Par Hai'n* 

*❖_Nabi E Kareem ﷺ Ka irshad Hai :- "_ Jab Koi Banda Musibat Aane Par  inna Lillahi Wa inna ilaihi Raji'uon Padhta Hai To Khuda Uski Musibat Door Farma Deta Hai ,Usko Achche Anjaam Se Nawazta Hai Aur Usko Uski Pasand Deeda Cheez Uske Sile (Badle) Me Ataa farmata Hai* 

*~📗Ibne Maja Kitabul Janaiz Bab Ma Ja'aa Fis Sabr indal Museebah 1598~*
▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ २_ तकलीफ की खबर सुनते ही "इन्ना लिल्लाही व इन्ना इलैही राजिऊन" पढ़िए_ ◐*

*❖_ जब रंज व गम की कोई खबर सुनें या कोई नुक़सान हो जाए या कोई दुख तकलीफ़ पहुंचे या किसी नागहानी मुसीबत में खुदा ना ख्वास्ता गिरफ्तार हो जाएं तो फौरन " इन्ना लिल्लाही व इन्ना इलैही राजिऊन "पढ़िए,* 
*( तर्जुमा )* *हम खुदा ही के हैं और उसी की तरफ लौट कर जाने वाले हैं _,"* *(मुस्लिम- 2126)*

*❖_मतलब यह है कि हमारे पास जो कुछ भी है सब खुदा ही का है उसी ने दिया है और वही लेने वाला है, हम भी उसी के हैं और उसी की तरफ लौट कर जाएंगे, हर हाल में खुदा की रज़ा पर राज़ी हैं ,उसका हर काम मसलिहत, हिकमत और इंसाफ पर मुबनी है ,वह जो कुछ करता है किसी बड़ी खैर के पेशे नज़र करता है , वफादार ग़ुलाम का काम यह है कि किसी वक्त भी उसके माथे पर शिकन ना आए।*

*❖_कुराने करीम में अल्लाह पाक इरशाद फरमाते हैं :-*
*( तर्जुमा) -और हम जरूर तुम्हें खौफ व खतर, भूख, जान व माल के नुकसान और आमदनियों के घाटे में मुबतिला करके तुम्हारी आजमाइश करेंगे और खुशखबरी उन लोगों को दीजिए जो मुसीबत आने पर ( सब्र करते हैं और)  कहते हैं हम खुदा ही के हैं और खुदा ही की तरफ हमें पलट कर जाना है , उन पर उनके रब की तरफ से बड़ी इनायात होंगी और उसकी रहमत होगी और ऐसे ही लोग राहे हिदायत पर हैं _,"*
*(सूरह बक़राह ,आयत नंबर- 156 -157)*

*❖_नबी ए करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का इरशाद है:- "_ जब कोई बंदा मुसीबत आने पर " इन्ना लिल्लाही वा इन्ना इलैही राजिऊन" पड़ता है तो खुदा उसकी मुसीबत दूर फरमा देता है, उसको अच्छे अंजाम से नवाज़ता है और उसको उसकी पसंदीदा चीज़ उसके सिले (बदले) में अता फरमाता है _," (इब्ने माजा 1598)* 

*📚 मदनी माशरा - हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔              
*◐☞ 3-Masa'ib v Takaaleef Ko Sabr v Sukoon Ke Saath Bardaasht Kijiye_,*

*❖_Ek Baar Nabi E Kareem ﷺ Ka Chiraag Bujh Gaya To Aap ﷺ Ne(( INNA LILLAHI V INNA ILAIHI RAJI'UON)) Padha,Kisi Ne Kaha Ya RasuLullah Kya Chirag Ka Bujhna Bhi Koi Musibat Hai ? Aap ﷺ Ne Farmaya -Ji Ha'n Jis Baat Se Bhi Momin Ko Dukh Pahunche Wo Musibat Hai_*

*❖_Aur Nabi Sallallahu Alaihi Wasallam Ka irshad Hai -Jis Musalman ko Bhi Koi Qalbi Aziyat ,Jismani Takleef Aur Beemari , Koi Ranj V Gum  Aur Dukh Pahunchta Hai Yaha Tak K Agar Use Kaa'nta Bhi Chubh Jata Hai Aur Wo Us Par Sabr Karta Hai To Khuda Uske Gunaho'n Ko Muaaf Farma Deta Hai_*
             
   *_📚بخاری ومسلم کتاب*_
     *_البروالصلوۃ ولادب 6568_*

*❖_Hazrat Anas Raziyallahu Anhu Farmate Hai K Nabi E Kareem ﷺ Ne irshad Farmaya -Jitni Sakht Aazma'ish Aur Musibat Hoti Hai Utna Hi Bada Uska Sila Hota Hai_*

*❖_Aur Khuda Jab Kisi Giroh Se Muhabbat Karta Hai To Unko Mazeed Nikhaarne Aur Kundan Banane Ke Liye Aazma'ish Me Mubtila Kar Deta Hai , Pas Jo Log Khuda Ki Raza Par Raazi Rahe'n Khuda Bhi Unse Raazi Hota Hai Aur Jo Us Aazma'ish Me Khuda se Naraz Ho'n Khuda Bhi Unse Naraz Ho Jata Hai_*


*❖_Hazrat Abu Musa Ash'Ari Raziyallahu Kehte Hai'n K Nabi E Kareem ﷺ Ne Irshad Farmaya Jab Kisi Bande Ka Koi Bachcha Marta Hai To khuda Apne Farishto Se Puchta Hai_*
*"_Kya Tumne Mere Bande Ke Bachche Ki Jaan Qabz Karli ? Wo Kehte Hai'n- Haa'n, Phir Wo Unse Puchta Hai -To Mere Bande Ne Kya Kaha ?  Wo kehte Hai'n- is Musibat Me Usne Teri Hamd Ki " Inna Lillahi V Inna ilaihi Raji'uon" Padha ,*
*To Khuda Unse Farmata Hai -Mere is Bande Ke Liye Jannat Me Ek Ghar Tameer Karo Aur Uska Nam Baitul Hamd (Shukar Ka Ghar )Rakho_* 
      
 *📚ترمزی ابواب الجنائز 1021*

*◐☞_3-Kisi Bhi Haadse Par Sabar V Shukar Ka Daaman Haath Se Chhootne Na Paye _*

*❖_Kisi Takleef Aur Haadse Par Izhaar E Gam Ek Fitri Amr Hai, Albatta Is Baat Ka Pura Pura Khayal Rakhiye K Gam Ki Intehaayi Shiddat Me Bhi Zaban Se Koi Na Haq Baat Na Nikle Aur Sabr V Shukr Ka Daaman Haath Se Chhootne Na paye_*
   
*❖_Nabe E Kareem ﷺ Ke Sahaabzade Hazrat Ibrahim Raziyallahu Anhu Nabi ﷺ Ki God Me The Aur Jaa'n Kani Ka Aalam Tha, Ye Riqqat _Angez Manzar Dekh Kar Nabi ﷺ  Ki Mubarak Aankho'n Se Aa'nsu Tapakne Lage Aur Farmaya- Ey Ibrahim Hum Teri Judayi SE  Magmoom Hai'n Magar Zaban Se Wahi Niklega Jo Parwardigar Ki Marzi Ke Mutabiq Hoga*

 *📚 بخاری کتاب الجنائز  باب قؤل النبی انابک لمحزونون 1303*
  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ 3- मसाइब व तक़लीफ को सब्र व सुकून के साथ बर्दाश्त कीजिए ◐*

*❖_एक बार नबी ए करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का चिराग बुझ गया तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने (इन्ना लिल्लाही वा इन्ना इलैही राजिऊन ) पढ़ा,  किसी ने कहा _ या रसूलुल्लाह क्या चिराग का बुझना भी कोई मुसीबत है ? आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया-  जी हां , जिस बात से भी मोमिन को दुख पहुंचे वह मुसीबत है _,*

*❖ और नबी सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का इरशाद है -जिस मुसलमान को भी कोई क़ल्बी अज़ियत ,जिस्मानी तकलीफ़ और बीमारी, कोई रंज व गम और दुख पहुंचता है यहां तक कि अगर उसे कांटा भी चुभ जाता है और वह उस पर सब्र करता है तो खुदा उसके गुनाहों को माफ फरमा देता है _,"* *(बुखारी व मुस्लिम )*

*❖_हजरत अनस रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि नबी करीम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया- जितनी सख्त आज़माइश और मुसीबत होती है उतना ही बड़ा उसका सिला होता है और खुदा जब किसी गिरोह से मोहब्बत करता है तो उनको मजीद निखारने और कुंदन बनाने के लिए आज़माइश में मुब्तिला कर देता है , पस जो लोग खुदा की रज़ा पर राज़ी रहे खुदा भी उनसे राज़ी होता है और जो उस आज़माइश में खुदा से नाराज़ हो खुदा भी उनसे नाराज़ हो जाता है।"*

*❖_ हजरत अबू मूसा अश'अरी रज़ियल्लाहु अन्हु कहते हैं कि नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- "_जब किसी बंदे का कोई बच्चा मरता है तो खुदा अपने फरिश्तों से पूछता है क्या तुमने मेरे बंदे के बच्चे की जान कब्ज कर ली ? वह कहते हैं हां , फिर वह उनसे पूछता है तुमने उसके जिगर के टुकड़े की जान निकाल ली? वह कहते हैं हां , फिर वह उनसे पूछता है तो मेरे बंदे ने क्या कहा ? वह कहते हैं उस मुसीबत में उसने तेरी हम्द की और इन्ना लिल्लाही वा इन्ना इलैही राजिऊन पढ़ा,* 
*"तो खुदा उनसे फरमाता है- मेरे उस बंदे के लिए जन्नत में एक घर तामीर करो और उसका नाम बैतूल हम्द (शुक्र का घर )रखो_,"*  *(तिर्मीजी़ 1021)*

*◐☞किसी भी हादसे पर सब्र व शुक्र का दामन हाथ से छूटने ना पाए_,*

*❖_किसी तकलीफ़ और हादसे पर इजहार एक फितरी अम्र है अलबत्ता इस बात का पूरा पूरा ख्याल रखें कि गम की इंतेहाई शिद्दत में भी ज़ुबान से कोई नाहक बात ना निकले और सब्र व  शुक्र का दामन हाथ से छूटने ना पाए ।*

*❖_नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के साहबजादे हजरत इब्राहीम रज़ियल्लाहु अन्हू नबी सल्लल्लाहु अलेही सल्लम की गोद में थे और जांकनी का आलम था यह रिक़्क़त अंगेज़ मंजर देखकर नबी करीम सल्लल्लाहु अलेही सल्लम की आंखों से आंसू टपकने लगे और फरमाया- इब्राहीम हम तेरी जुदाई से मगमूम है मगर जुबान से वही निकलेगा जो परवरदिगार की मर्जी के मुताबिक होगा _,"*  *(बुखारी -1303 )*

*📚 मदनी माशरा -146, हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*                             

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔            *◐☞ 4_Koi Aisi Harkat Bhi Na Kare'n Jo Sharee'at Ke Khilaf Ho _*

*❖_Gam Ki Shiddat Me Bhi Koi Aisi Harkat Na Kijiye Jisse Na Shukri Aur Shikayat Ki Bu Aaye Aur Jo Shari'at Ke Khilaaf Ho , DHade'n Maar Maar Kar Rona ,Gireban Phaadna ,Galo'n Par Tamanche Marna, Cheekhna Chillana Aur Matam Me Sar Seena peetna Momin Ke Liye Kisi Tarha Jaiz Nahi_*

*❖_Nabi E Kareem ﷺ Ka irshaad Hai :- Jo Shakhs Girebaan Phaadta Galo'n Par Tamanche Maarta Aur Jahilyat Ki Tarah Cheekhta Aur Chillata Hai Been (Noha) Karta Hai Wo Meri Ummat Me Se Nahi_* 

    *📚ترمزی ابواب الجنائز999*

*❖_Hazrat Jaafar Tayyar Raziyallahu Anhu Jab Shaheed Hue Aur Unki Shaha'dat Ki Khabar Jab Unke Ghar Pahunchi To Unke Ghar Ki Aurte'n Cheekhne Chillane Lagi'n Aur Maatam Karne Lagi'n, Nabi E Kareem ﷺ Ne Kehla Bheja K Maatam Na Kiya Jaye, Magar Wo Baaz Na Aayi'n To Aap ﷺ Ne Dobara Mana Farmaya, Phir Bhi Wo Na Mani'n To To Aap ﷺ Ne Hukm Diya, inke Moonh Me Khaak (Mitti) Bhardo _*

        *📚بخاری کتاب الجنائ 1305*

*❖_Ek baar Aap ﷺ Ek Janaze Me Shareek The, Ek Aurat Angethi Liye Hue Aayi , Aap ﷺ Ne Usko itni SakhtI Se Daa'nta K Wo Usi Waqt Bhaag Gayi  سیرت النبی جلد ششم_* ◐*

*Aur Aap ﷺ ne ye irshad farmaya k Janaze ke Pichhe Koi Aag aur Raag na le Jaye _,*
❖_ Arab Me Ye Rasm Thi K Log Janaze Ke Peeche Chalte To Apni Chaadar izhaar e Gam Me  Phe'nk Dete the Sirf Kurta Pehne Rehte The,  Ek Martaba Aap ﷺ Ne Logon Ko Is Haal Me Dekha To Farmaya - "_Jahilyat Ki Rasm Akhtiyaar Kar Rahe Ho Mere Jee Me Aaya K Tumhare Haq Me esi Bad Dua Karu'n K Tumhari Soorte'n Hi Maskh (badal ) Ho Jaye'n,  Logo'n Ne Usi Waqt Apni Apni Chaadre'n Odh Lee'n Phir Kabhi esa Na Kya _* 

*(📚IBNE MAAJA- 148)*
▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ 4_कोई ऐसी हरकत भी ना करें जो शरियत के खिलाफ हो ◐*

*❖_ गम की शिद्दत में भी कोई ऐसी हरकत ना कीजिए जिससे ना शुक्री और शिकायत की बू आए और जो शरीयत के खिलाफ हो ,ढाड़े मार-मार का रोना, गिरेबान फाड़ना, गालों पर तमाचे मारना, चीखना चिल्लाना और मातम में सर सीना पीटना मोमिन के लिए किसी तरह जायज़ नहीं ।*


*❖_ नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का इरशाद है :- जो शख्स गिरेबान फाड़ता है, गालों पर तमाचे मारता और जाहिलियत की तरह चीखता और चिल्लाता और बीन (नोहा ) करता है वह मेरी उम्मत में नहीं_,* *( तिर्मीजी़ -999)*

*❖_हजरत जाफर तैयार रजियल्लाहू अन्हू जब शहीद हो गए और उनकी शहादत की खबर उनके घर पहुंची तो उनके घर की औरतें चीखने चिल्लाने लगी और मातम करने लगी, नबी करीम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने कहला भेजा कि मातम ना किया जाए मगर वह बाज़ ना आई तो आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने दोबारा मना फ़रमाया, फिर भी वह ना मानी तो आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने हुक्म दिया कि इनके मुंह में खाक भर दो _,*  *( बुखारी -1305)*

*❖_एक बार आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम एक जनाज़े में शरीक थे एक औरत अंगेठी लिए हुए आई ,आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उसको इतनी सख्ती से डांटा कि उसी वक्त भाग गई _,"*  *( सीरतुन नबी जिल्द शशम )* 

*"_और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया कि जनाजे़ के पीछे कोई आग और राग ना ले जाए ।*
*❖_अरब में यह रस्म थी के लोग जनाजे के पीछे चलते तो इज़हार ए गम में अपनी चादर फेंक देते थे सिर्फ कुर्ता पहने रहते थे ,एक बार आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने लोगों को इस हाल में देखा तो फरमाया :- "_जाहिलियत की रस्म अख्तियार कर रहे हो ,मेरे जी में आया कि तुम्हारे हक़ में ऐसी बद्दुआ करूं कि तुम्हारी सूरतें ही मस्ख हो जाएं _," , लोगों ने उसी वक्त अपनी अपनी चादरें ओढ़ ली और फिर कभी ऐसा ना किया _, (इब्ने माजा -148)*
*📚 मदनी माशरा -147, हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔              
*_◐☞5_ Bimaari Ko Bura Bhala Na Kahiye _*
*❖_ Bimaari Ko Bura Bhala Na Kahiye Aur Na Harfe Shikayat Zaban Par Laye'n Balki Nihayat Sabr V Zabt Se Kaam LiJiye Aur Ajre Aakhirat Ki Tamanna Kijiye, Beemari Jhelne Aur Aziyate'n Bardasht Karne Se Momin Ke Gunaah Dhulte Hai'n Aur Uska Tazkiya Hota Hai Aur Aakhirat Me Ajre Azeem Milta Hai_*

*❖_ Nabi Kareem ﷺ Ka Irshaad Hai  :- "_MominKo Jismani Aziyat Ya Bimaari Ya Kisi Aur vajah Se Jo Bhi Dukh Pahunchta Hai Khuda Ta'ala Uske Sabab Se Uske Gunaho'n Ko Is Tarha Jhaad Deta Hai Jese Darakht Apne Patto'n Ko Jhaad Deta Hai_* 
*_(📚 Muslim Baab Sawabul Momin 6559)_*

*❖_Ek Baar Nabi Kareem ﷺ Ne Ek Khatoon Ko Kaa'npte Dekh Kar Puchha , Ey Umme Saa'ib Ya Musyyab ! Kya Baat Hai Tum Kyu Kaa'np Rahi Ho ?  Kehne Lagi- Mujhe Bukhaar Ne Ghair Rakha Hai Usko Khuda Samjhe_*
*"_Nabi Kareem ﷺ Ne Hidayat Farmayi K - "_Nahi Bukhaar Ko Bura Mat Kaho IsLiye K Bukhaar is Tarah Aulaad e Aadam Ko Gunaho'n Se Paak Kar Deta Hai Jis Tarha Aag Lohe Ke Mel Ko Door Kar Ke Saaf Karti Hai_*

*_📚Muslim Kitabul Bar Wassalati Wal Adab Baab Sawabul Momin 6580_*
,*
*❖_ Hazrat Ataa Bin Rabaah Rahmatullah Apna EK Qissa Bayan Karte Hai'n K Ek Baar Kaaba Ke Paas Hazrat Abbas RaIyallahu Anhu Mujse Bole :- "_Tumhe Ek Jannati Khatoon Dikhau'n ? Mene Kaha :- "_ Zarur Dikhaye'n _," Kaha - "_ Dekho ! Ye Jo Kaali Kaloti Aurat Hai Ye Ek baar Nabi E Kareem ﷺ Ki khidmat Me Haazir Hui Aur Boli :- Yaa RasuLullah ﷺ ! Mujhe Mirgi Ka Esa Dora Padta Ha K Tan Badan Ka Hosh Nahi Rehta Aur Mai'n Is Haalat Me Bilkul Nangi Ho Jati Hu'n, Ya RasuLullah ﷺ ! Mere Liye Khuda Se Dua Kijiye_*

*❖ _Nabi E Kareem ﷺ Ne Irshad Farmaya :- Agar Tum Is Takleef Ko Sabr Ke Saath Bardasht Karti Raho To Khuda Tumhe Jannat Se Nawazega Aur Agar Chaho To Mai Dua Kardu'n K Khuda Tumhe Achcha Kar Dega _,"* 
*Ye Sunkar Wo Khatoon Boli :- Ya RasuLullah ﷺ !Mai'n is Takleef Ko Sabr Ke Saath Bardasht Karti Rahungi Albatta Ye Dua Farma dijiye K Mai'n Is Halat Me Nangi Na Ho Jaya Karu'n  _," To Nabi e Kareem ﷺ Ne Uske Liye Dua Farmai, Hazrat Ataa Kehte Hai'n K Mene us Daraaz Qad Khatoon Umme Rafz Ko Kaaba Ki Seedhyo'n Par Dekha _*

*_◐☞📚Muslim Kitabaul Momin Baab Sawabul Momin 6571_*
▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
*◐☞_बीमारी को बुरा भला ना कहिए _,*

*❖_ बीमारी को बुला बुरा भला ना कहिए और ना हर्फे शिकायत जुबान पर लाइए  बल्कि निहायत सब्र व ज़ब्त से काम लीजिए और अजरे आखिश्रत की तमन्ना कीजिए , बीमारी झेलने और अज़ियतें बर्दाश्त करने से मोमिन के गुनाह धुलते हैं और उसका तज़किया होता है और आखिरत में अजरे अज़ीम मिलता है_,*

*❖_ नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का इरशाद है :- "_ मोमिन को जिस्मानी अज़ियत या बीमारी या किसी और वजह से जो भी दुख पहुंचता है खुदा ता'ला उसके सबब से उसके गुनाहों को इस तरह झाड़ देता है जैसे दरख़्त अपने पत्तों को झाड़ देता है _," ( मुस्लिम 6559)*

*❖_ एक बार नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने एक खातून को कांपते देखकर पूछा :- ए उम्में साइब या मुसैयब ! क्या बात है तुम क्यों कांप रही हो ? कहने लगी -मुझे बुखार ने घेर रखा है, उसको खुदा समझे , नबी करीम सल्लल्लाहु अलेहि वसल्लम ने हिदायत फरमाई कि - नहीं बुखार को बुरा मत कहो इसलिए कि बुखार इस तरह औलादे आदम को गुनाहों से पाक कर देता है जिस तरह आग लोहे के मेल को दूर करके साफ करती है _,"  ( मुस्लिम -6570 )* 
*❖_हजरत अता बिन रबाह रहमतुल्लाह अपना एक किस्सा बयान करते हैं कि एक बार काबे के पास हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु मुझसे बोले :-  तुम्हें एक जन्नती खातून दिखाऊं ?  मैंने कहा -जरूर दिखाएं , कहां - देखो ! यह जो काली कलूटी है एक बार नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुई और बोली या रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ! मुझे मिर्गी का ऐसा दौरा पड़ता है कि तन बदन का होश नहीं रहता और मैं इस हालत में बिल्कुल नंगी हो जाती हूं ,या रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ! मेरे लिए खुदा से दुआ कीजिए _,"*
*नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया:- "_ अगर तुम इस तकलीफ को सब्र के साथ बर्दाश्त करती रहो तो खुदा तुम्हें जन्नत से नवाजेगा और अगर चाहो तो मैं दुआ कर दूं कि खुदा तुम्हें अच्छा कर देगा _,",*
*यह सुनकर वह खातून बोली - या रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ! मै तकलीफ को सब्र के साथ बर्दाश्त करती रहूंगी अलबत्ता यह दुआ फरमा दीजिए कि मैं इस हालत में नंगी ना हो जाया करूं _,", तो नबी करीम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उसके लिए दुआ फरमाई , _*
*हजरत अता कहते हैं कि मैंने उस दराज़ क़द खातून को काबे की सीढ़ियों पर देखा _," (मुस्लिम 6571 )*

*📚 मदनी माशरा - हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔              
*◐☞-6_ Kisi Ki Maut Par 3 Din Se Zyada Gum Na Manaye'n _*

*_❖_Kisi Ki Maut Par 3 Din Se Zyada Gam Na Manaye'n , Azeezo'n Ki Maut Par Gam Zadah Hona Aur Aa'nsu Bahana Ek Fitri Amr Hai Lekin Uski Muddat Zyadah Se Zyadah 3 Din Hai , Nabi E Kareem ﷺ Ne Irshad Farmaya :- "_ Kisi Momin Ke Liye Ye Jaa'iz Nahi K 3 Din Se Zyadah Kisi Ka Sog Manaye Albatta Bewah Aurt Ke Sog Ki Muddat 4 Mahine 10 Din Hai Is Muddat Me Na Woh Koi Rangeen Kapda Pehne Na Khushbu Lagaye Aur Na Koi Aur Banaw Singaar Kare_*
 *_( Tirmizi Kitabut Talaaq 119_)*

*_❖ Hazrat Zenab Binte Jahash Raziyallahu Anha Ke Bhai Ka intiqaal Hua To Chothe Roz Taazyat Ke Liye Kuch Khawateen Pahunchi ,Unhone SabKe Saamne Khushbu Lagayi Aur Farmaya Mujhe is Waqt Khushbu Lagane Ki Koi Haajat Nahi Thi Mene Ye Khushbu Mahaz Isliye Lagayi K Mene Nabi E Kareem ﷺ Se Ye Suna Hai K Kisi Musalman Khatoon Ko Shohar Ke Siwa Kisi Azeez Ke Liye 3 Din Se Zyadah Sog Manana Jaa'iz Nahi_*
*_(Tirmizi 1196_)*  

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ किसी की मौत पर 3 दिन से ज्यादा गम ना मनाएं ◐*

*❖_ किसी की मौत पर 3 दिन से ज्यादा गम ना मनाएं, अज़ीज़ों की मौत पर गमज़दा होना और आंसू बहाना एक फित्री अम्र है लेकिन इसकी मुद्दत ज्यादा से ज्यादा 3 दिन है । नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया :- किसी मोमिन के लिए यह जायज़ नहीं कि 3 दिन से ज़्यादा वह किसी का सौग मनाएं, अलबत्ता बेवा के सोग की मुद्दत 4 महीने 10 दिन है उस मुद्दत में ना वह कोई रंगीन कपड़ा पहने ना खुशबू लगाए और ना कोई और बनाव सिंगार करें _," (तिर्मीजी- 119)*

*_❖ हजरत जे़नब बिन्ते जहश रज़ियल्लाहु अन्हा के भाई का इंतकाल हुआ तो चौथे रोज़ ताजियत के लिए कुछ खवातीन पहुंची उन्होंने सबके सामने खुशबू लगाई और फरमाया - मुझे इस वक्त खुशबू लगाने की कोई हाजत नहीं थी मैंने यह खुशबू महज़ इसलिए लगाई कि मैंने नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से यह सुना है कि किसी मुसलमान खातून को शौहर के सिवा किसी अज़ीज़ के लिए 3 दिन से ज्यादा सौग मनाना जायज़ नहीं _, ( तिर्मीजी 1196 )*

*📚 मदनी माशरा - हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔              
*◐☞ 07 Ranj V Gam me Ek Doosre ko Sabr Ki Talqeen Kijiye_◐,*

*❖_Ranj V Gam Aur Musibat Me Ek Doosre Ko Sabr Ki Talqeen Kijiye , Nabi E Kareem ﷺ Jab Gazwa'e Ohad Se Waapas Tashreef Laaye To Khawateen Apne Apne Azizo'n Aur Rishtedaro'n Ka Haal Maloom Karne Ke Liye Haazir Huyi ,Jab Hazrat E Hamna Binte Jahash Raziayllahu Anha Nabi E Kareen ﷺ Ke Saamne Aayi To Aap ﷺ Ne Unko Sabr Ki Talqeen Farmayi Aur Kaha -Apne Bhai Abdullah Raziyallahu Anhu Par Sabr Karo , Unhone inna Lillahi V inna Ilaihi Raji'uon Padha Aur Dua e Magfirat Ki, Phir Aap ﷺ Ne Farmaya- Apne Mamu Hamza Raziyallahu Anhu Par Sabr Karo, Unhone Phir inna Lillahi V inna Ilaihi Raji'uon Padha Aur Dua E Magfirat Ki_*

*❖_ Hazrat Abu Talha Raziyallahu Anhu Ka Ladka Bimaar Tha, Wo Bachche Ko isi Haal Me Chhod Kar Apne Kaam Me Chale Gaye, Unke Jaane Ke Baad Bachche Ka intiqaal Ho Gaya,  Begam Abu Talha Ne Logo'n Se Keh diya K Abu Talha Ko ittela Na Hone Paye , Wo Shaam Ko Apne Kaam Se Wapas Ghar Aaye To Bivi Se Puchha Bachche Ka Kya Haal Hai , Boli'n Pehle Se Zyada Sukoon Me Hai ,Ye Keh kar Abu Talha Ke Liye Khana Laayi'n Unhone itminaan Se Khana Khaya Aur Let Gaye , Subha Huyi To Nek Bivi Ne Hakimana Andaaz Me Puchha -Agar Koi Kisi Ko Aariyatan Koi Cheez De Aur Phir Waapas Maange To Kya Usko Ye Haq Haasil Hai K Wo Us Cheez Ko Rok Le ? Abu Talha Raziyallahu Ne Kaha- Bhala Ye Haq Kese Haasil Ho Jayega , To SSabira Bivi Ne Kaha Apne Bete Par Bhi Sabr Kijiye_*
*_(Muslim Kitabul Fazail-6322)_*                                                          
▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ 7-रंज व गम में एक दूसरे को सब्र की तलक़ीन कीजिए ◐*

*❖_ रंज व गम में और मुसीबत में एक दूसरे को सब्र की तलक़ीन कीजिए ,नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम जब गज़वा उहद से वापस तशरीफ लाए तो खवातीन आपने अपने अज़ीज़ो और रिश्तेदारों का हाल मालूम करने के लिए हाज़िर हुईं, जब हज़र हमना रजियल्लाहु अन्हा नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के सामने आई तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनको सब्र की तलक़ीन फरमाई और कहा -अपने भाई अब्दुल्लाह रजियल्लाहु अन्हु पर सब्र करो । उन्होंने इन्ना लिलाही वा इन्ना इलैही राजिऊन पढ़ा और दुआएं मगफिरत की , फिर आप ने फरमाया - आपने मामू हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु पर सब्र करो, उन्होंने फिर इन्ना लिलाही वा इन्ना इलैही राजिऊन पढ़ा और दुआ ए मगफिरत की _,"*

*❖_  हजरत अबू तल्हा रजियल्लाहु अन्हु का लड़का बीमार था वह बच्चे को इसी हाल में छोड़ कर अपने काम में चले गए उनके जाने के बाद बच्चे का इंतकाल हो गया ,बेगम अबु तलहा ने लोगों से कह दिया कि अबु तलहा को इत्तेला ना होने पाए । वह शाम को अपने काम से वापस घर आए तो बीवी से पूछा- बच्चे का क्या हाल है ? बोलीं- पहले से ज्यादा सुकून में है ,यह कहकर अबू तलहा के लिए खाना लाईं, उन्होंने इत्मीनान से खाना खाया और लेट गए । सुबह हुई तो नेक बीवी ने हकीमाना अंदाज में पूछा -अगर कोई किसी को अरियतन कोई चीज़ दे दे और फिर वापस मांगे तो क्या उसको यह हक़ हासिल है कि वह उस चीज़ को रोक ले ? अबू तलहा रज़ियल्लाहु अन्हु ने कहा -भला यह हक़ कैसे हासिल हो जाएगा ? तो साबिर बीवी ने कहा -अपने बेटे पर सब्र कीजिए _,"* *( मुस्लिम -६३२२)*

*📚 मदनी माशरा - हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔              
*◐☞ 8- Raahe Haq Me Aane Wali Museebato'n Ka Khandah Peshani Se Istaqbaal Kijiye_,*

*❖_Raahe Haq Me Aane Wali Musibato'n Ka Khandah Pehsani Se Istaqbaal Kijiye Aur Us Raah Me Jo Dukh Pahunche Un Par Ranjidah Hone Ke Bajaye Masarrat Mehsoos Karte Huye Khuda Ka Shukr Ada Kijiye K Usne Apni Raah Me Qurbani Qubool Farmayi_*
        
*_❖_Hazrat Abdullah Bin Zubair Raziyallahu Anhu Ki Waldah Mohatrama Hazrat Asma Raziyallahu Anha Sakht Bimaar Padi'n , Hazrat Unki Ayadat Ke Liye Aaye , Maa'n Ne Unse Kaha- Bete Dil Me Ye Aarzu Hai Ke Do Baato'n Me Se Ek Jab Tak Na Dekhlu'n Khuda Mujhe Zindah Rakhe*
*_(1)Tu Maidan E Jung Me Shaheed Ho Jaye Aur Me Teri Shahaa'dat Ki Khabar Sunkar Sabr Ki Sa'aadat Haasil Karu'n _*
*_(2) Ya Tu Fatah Paye Aur Mai'n Tujhe Faateh Dekh Kar Apni Aankhe'n Thandi Karu'n _* 

*_❖_ Khuda Ka Karna Aisa Hua Ke Hazrat Abdullah Bin Zubair Raziyallahu Ne Unki Zinadgi Hi Me Jaame Shahadat Nosh Farmaya, Shahadat Ke Baad Hujjaaj Ne Unko Suli Par Latka Diya, Hazrat Asma Raziyallahu Anha Kaafi Za'eef Ho Chuki Thi'n Lekin Intehaayi Kamzori Ke Bavjood Bhi Woh Ye Riqqat Angez Manzar Dekhne Ke Liye Tashreef Laayi'n Aur Apne Jigar Goshe Ki Laash Ko Dekh Kar Rone Peetne Ke Bajaye Hujjaaj Se Khitaab Karte Hue Boli'n-"_ Is Sawaar Ke Liye Abhi Waqt Nahi Aaya Ke Ghode Ki Peeth  Se Neeche Utre _* 
▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ 8-राहे हक़ में आने वाली मुसीबतों का खंदा पेशानी से इस्तक़बाल कीजिए ◐*

*❖_ राहे हक में आने वाली मुसीबतों का खंदा पेशानी से इस्तक़बाल कीजिए और उस राह में जो दुख पहुंचे उन पर रंजीदा होने के बजाय मसर्रत महसूस करते हुए खुदा का शुक्र अदा कीजिए कि उसने अपनी राह में कुर्बानी को कुबूल फरमाई।*

*❖_ हजरत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हु की वाल्दा मोहतरमा हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा सख्त बीमार पड़ी हजरत उनकी अयादत के लिए आए, मां ने उनसे कहा -बेटे अव्वल मैं यह आरजू है की दो बातों में से एक जब तक ना देख लूं खुदा मुझे जिंदा रखें , या तू मैदाने जंग में शहीद हो जाए और मैं तेरी शहादत की खबर सुनकर सब्र की स'आदत हासिल करूं , या तू फतेह पाये और मैं तुझे फातेह देख कर अपनी आंखें ठंडी करूं,*

*❖ खुदा का करना कि हजरत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हु ने उनकी जिंदगी ही मे जामे शहादत नौश फरमाया, शहादत के बाद हिजाज ने उनको सूली पर लटका दिया, हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा काफी ज़'ईफ हो चुकी थी लेकिन इंतिहाई कमज़ोरी के बावजूद भी वह यह रिक़्कत अंगेज़ मंजर देखने के लिए तशरीफ लाई और अपने जिगर गोशे की लाश को देखकर रोने पीटने के बजाय हिजाज से खिताब करते हुए बोली - इस सवार के लिए अभी वक्त नहीं आया कि घोड़े की पीठ से नीचे उतरे _,"*

*📚 मदनी माशरा - हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔              
*◐☞ 9_ Dukh dard me Ek Doosre Ka Saath dijiye ◐*

*❖_ Dukh Dard Me Ek Doosre Ka Saath Dijiye Dosto'n Ke Ranj V Gam Me Shirkat Kijiye Aur Unka Gam Kam Karne Me Har Tarha Ka Tawun Kijiye, Nabi E Kareem ﷺ Ka Irshad Hai :- "_Saare Muslaman MilKar Ek Aadmi Ke Jism Ki Tarha Hai Ke Agar Uski Aankh Bhi Dukhe To Saara Badan Dukh Mehsoos Karta Hai Aur Sar Me Dard Ho To Saara Jism Takleef Me Hota Hai_*

*_((📚Muslim Kitabul Bar Wassalati Wal Adab 6589))_*

*_❖_Hazrat Jaafar Tayaar Raziyallahu Anhu Jab Shaheed Hue To Aap ﷺ Ne Farmaya :-Jaafar  Ke Ghar Khana Bhijwado Isliye K Aaj Unke Ghar Wale Gam Me Khana Na Paka Sakenge _*          
   
      *_📚Abu Daud Kitabul Janaiz 3132_*

*❖_  Hazrat Abu Hurerah Raziyallahu Anhu Ka Bayan Hai Ke Nabi E Kareem ﷺ Ne Irshad Farmaya :- Jis Shakhs ne Kisi esi Aurta Ki Taaziyat Ki Jiska Bachcha Mar Gaya Ho To Usko Jannat Me Dakhil Kiya Jayega Aur Jannat Ki Chadar Udhayi Jayegi_*
  
*_📚Timizi Abwabul Janaiz 1079_*

*❖_ Aur Nabi E Kareem ﷺ Ne Ye Bhi Irshad Farmaya - jis Shakhs Ne Kisi Musibat Zadah Ki Khabar Geeri Ki To Usko Utna Hi Ajr Milega Jitna Khud Musibat Zadah Ko Milega_* 

    *_📚Timizi  Mitabul Janaiz 1073_*

*_❖_Isi Silsile Me Nabi E Kareem ﷺ Ne Iski Bhi Takeed Farmayi K Janaze Me Shirkat Ki Jaye ,Hazrat Abu Hurerah Raziyallahu Anhu Ka Bayan Hai Ke NABI E KAREEMﷺ Ne Irshad Farmaya K Jo Shakhs Janaze Me Shareek Hua Aur Janaze Ki Namaz Padhi To Uako ek Qeerat Bhr Sawab Milega Aur Jo Namaze Janaze Ke Baad Dafan Me Bhi Shareek hua To Usko Do Qeerat Milenge, Kisi Ne Puchha_ Do Qeerat Kitne Bade Honge? Farmaya -Do Pahado'n Ke Barabar _*
        
         *_📚 Muslim Kitabul Janaiz 2189_*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ 9- दुःख दर्द में एक दूसरे का साथ दीजिए ◐*

*❖_ दुख दर्द में एक दूसरे का साथ दीजिए दोस्तों के रंज व गम में शिरकत कीजिए और उनका गम कम करने में हर तरह की मदद कीजिए , नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का इरशाद है- सारे मुसलमान मिलकर एक आदमी के जिस्म की तरह है कि अगर उसकी आंख भी दुखी तो सारा बदन दुख महसूस करता है और सर में दर्द हो तो सारा जिस्म तकलीफ में होता है _," *(मुस्लिम 6589))*

*❖_हजरत जाफर तैयार रजियल्लाहु अन्हु जब शहीद हुए तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया जा़फर के घर खाना भिजवा दो इसलिए कि आज उनके घरवाले खाना ना पका सकेंगे _, (अबू दाऊद- 3132)*

*❖_हजरत अबू हुरैरा रजियल्लाहु अन्हु का बयान है कि नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया- जिस शख्स ने किसी ऐसी औरतों की ताजियत की जिसका बच्चा मर गया हो तो उसको जन्नत में दाखिल किया जाएगा और जन्नत की चादर उड़ाई जाएगी _," (तिर्मीजी -1079)*

*❖_और नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने यह भी फरमाया जिस शख्स ने किसी मुसीबत ज़दा की खबर गीरी की तो उसको उतना ही अजर मिलेगा जितना खुद मुसीबत ज़दा को मिलेगा _," (तिर्मीजी 1073)*

*❖_इस सिलसिले में नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इसकी भी ताकीद फरमाई कि जनाजे में शिरकत की जाए, हजरत अबू हुरैरा रजियल्लाहु अन्हु का बयान है कि नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया जो शख्स जनाजे़ में शरीक हुआ और जनाजे़ की नमाज़ पढ़ी तो उसको एक की़रात भर सवाब मिलेगा और जो नमाज़े जनाज़ा के बाद दफन में भी शरीक हुआ तो उसको दो क़ीरात मिलेंगे , किसी ने पूछा -दो की़रात कितने बड़े होंगे ? फरमाया -दो पहाड़ों के बराबर _," (मुस्लिम- 2189)*

*📚 मदनी माशरा - हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔              
*◐☞ 10_Gaum Ke Hujoom Me Khuda Ki Taraf Ruju Kijijye_*

*❖_ Masaaib Ke Nuzool Aur Aur Gam Ke Hujoom Me Khuuda Ki Taraf Ruju Kijiye Aur Nihaayat Aajizi Ke Saath Namaz Padh Kar Khuda Se Dua Kijiye,  Qauraan E Kareem Me Para No 2 Aayat No 153 Surah Baqrah Me Allah Ta'ala Farmata Hai- "_ Momino Masaaib Aur Aazmaish Me Sabar Aur Namaz Se Madad Lo_"*

*❖_ Gam Ki Kaifiyat Me Aankho'n Se Aansu Behna Ranjida Hona Fitri Baat Hai Albatta Dhaade Maar Maar Kar Zor Zor se Rone Se Parhez Kijiye,  Nabi E Kareem ﷺ Rote To Rone Me Aawaz Nahi Hoti Thanda Saa'ns Lete Aankho'n se Aa'nsu Rawa Hote Aur Seene Se Aisi Aawaz Aati Jese Koi Haandi Ubal Rahi Ho Ya Chakki Chal Rahi Ho , Aap ﷺ Ne Khud Apne Gam Aur Rone Ki Kaifiyat in Alfaaz Me Bayan Farmayi :- "_Aankh Aa'nsu Bahaati Hai Dil Gamgeen Hota Hai Aur Ham Zabaan Se Wahi Kalma Nikaalte Hai'n Jisse Hamara Rab Khush Hota Hai_*

*_(📚Bukhari Abwabul Janaiz 1303)_*

*❖_ Hazrat Abu Hurerah Raziyallahu Anhu Farmate Hai Nabi E Kareem ﷺ  Jab FikrMand Hote To Aasman Ki Taraf Sar Utha Kar Farmate((سبحان اللہ العظیم Subhanallahil Azeem)) Paak V Bartar Hai Azmat Wala Khuda Aur Jab Zayadah Girya Wazari Aur Dua Ka inhemak Badh Jata To Farmate ((ُُّیاحیی یا قیوم Ya Hayyu Ya Qayyum))_* 

*_(📚Tirmizi Abwaud Dawaat 3436)_*_,* 

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ 10 - गम के हुजूम में खुदा की तरफ रुजू कीजिए ◐*

*❖_ मसाइब के नुज़ूल और गम के हुजूम में खुदा की तरफ रूजू कीजिए और निहायत आजिज़ी के साथ नमाज़ पढ़कर खुदा से दुआ कीजिए , कुरान ए करीम में पारा नंबर 2 आयत नंबर 153 सूरह बक़रा में अल्लाह ताला फरमाते हैं :- "_ मोमिनो मसाईब और आजमाईश में सब्र और नमाज़ से मदद लो_,"*

*❖_ गम की कैफियत में आंखों से आंसू बहना रंजी़दा होना फितरी बात है अलबत्ता दहाड़े मार-मार कर ज़ोर ज़ोर से रोने से परहेज़ कीजिए , नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम रोते तो रोने में आवाज़ नहीं होती ठंडा सांस लेते आंखों से आंसू रवा होते और सीने से ऐसी आवाज़ आती जैसे कोई हांड़ी उबल रही हो या चक्की चल रही हो । आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने खुद अपने गम और रोने की कैफियत इन अल्फाज़ में बयान फरमाई :- "_ आंख आंसू बहाती है दिल गमगीन होता है और हम ज़ुबान से वही कलमा निकालते हैं जिससे हमारा रब खुश होता है_,*
*( बुखारी -१३०३ )*

*❖_ हजरत अबू हुरैरा रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम जब फिक्रमंद होते तो आसमान की तरफ सर उठा कर के फरमाते - सुब्हानल्लाहिल अज़ीम. ( पाक व बरतर है अज़मत वाला खुदा ) और जब ज्यादा गिरया वजा़री और दुआ का इन्हेमाक बढ़ जाता तो फरमाते-  या हय्यू या क़य्यूम _,"*। *( तिर्मीजी -३४३६ )*

*📚 मदनी माशरा - हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
*◐☞_11 Pareshani ke Waqt Ye Duaye'n Padhye_ ◐**

*▩_Ranj V Gam Ki Shiddat Masa'ib Ke Nuzool Aur Pareshani* *V izteraab Me Ye Duaye'n Padhiye , Hazrat Sa'ad Bin Abi Waqaas Raziyallahu Anhu Kehte Hai'n K Nabi E Kareem ﷺ Ne Irshad Farmaya :- Hazrat Yunus Alaihis Salaam Ne Machhli Ke Pet Me Jo Dua Maangi Thi Wo Ye Thi -*
*_ LAA ILAAHA ILLA ANTA SUB'HANAKA INNI KUNTU MINAZ ZALIMEEN_*
*( Tere Siwa Koi Ma'abood Nahi Hai Tu Be Aib V Paak Hai Mai Hi Apne Upar Zulm Dhaane Wala Hu'n)*

*▩_ Pas Jo Musalman Bhi Apni Kisi Takleef Ya Tangi Me Khuda Se Ye Dua Mangta Hai Khuda Use Zarur Qubooliyat Bakhashta Hai*
   
*▩_Hazrat ibne Abbas Raziyallahu Anhu Ka Bayan Hai Ke Nabi E Kareem ﷺ Jab Kisi Gam Ya Ranj Me Mubtila Hote To Ye Dua Karte*
*_ LAA ILAAHA ILLALLAHUL AZEEMUL HALEEMU LAA ILAAHA ILLALLAHU RABBUL ARSHIL AZEEMI LAA ILAAHA ILLALLAHU RABBUS SAMAAWATI V RABBUL ARZI RABBUL ARSHIL KAREEM_* 

*_📚Bukhari Kitabud Dawaat Babud Dua 6346 V Muslim_*

*(Tarjama)-->*Khuda Ke Siwa Koi Ma'abood Nahi Hai Wo Arshe Azeem Ka Maalik Hai Khuda Ke Siwa Koi Ma'abood Nahi Hai Wo Aasman V Zameen Ka Maalik Hai Arsh Buzurg Ka Malik Hai_*

*▩_ Hazrat Abu Hurerah Raziyallahu Anhu Ka Bayan Hai Ke Nabi E Kareem ﷺ Ne Irshad Farmaya :- La Hawla Wala Quwwata illa Billah)_ Ye Kalma(99) Bimaryo'n Ki Dawa Hai Sabse Kam Baat Ye Hai Ke iska Padhne Wala Ranj V Gam Se Mehfooz Rehta Hai_,*
*(📚Mishkat 202)*
 
*📗 Madni Muaashra_ (Jild No -1-Safa No 153)_*
*🌼Hazrat Molana Yunus Sahab Palanouri Damat Aaliya🌼*
https://www.youtube.com/channel/UChdcsCkqrolEP5Fe8yWPFQg
*👆🏻 Subscribe Our YouTube Channel_,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ परेशानी के वक्त यह दुआएं पढ़िए ◐*

*❖_ रंज व गम की शिद्दत ,मसाइब के नुज़ूल और परेशानी व इज्तिराब में यह दुआएं पढ़िए , हजरत साद बिन अबी वका़स रज़ियल्लाहु अन्हु कहते हैं कि नबी ए करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- हजरत यूनुस अलैहिस्सलाम ने मछली के पेट में जो दुआ मांगी थी वह यह थी -*
*"_ला इलाहा इल्ला अन्ता सुबहानका इन्नी कुन्तु मिनज़ ज़ालिमीन _," ( तेरे सिवा कोई माबूद नहीं है तू बे ऐब व पाक है मैं ही अपने ऊपर जुल्म ढ़ाने वाला हूं )*

*❖_ पस जो मुसलमान भी अपनी किसी तकलीफ या तंगी में खुदा से यह दुआ मांगता है खुदा उसे जरूर कबूलियत बख्सता है।*

*❖_  हज़रत इब्ने अब्बास रजियल्लाहु अन्हु का बयान है कि नबी ए करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम जब किसी गम या रंज में मुब्तिला होते तो यह दुआ करते :-* 
*"_ ला इलाहा इल्लल्लाहुल अज़ीमुल हलीम,ला इल्लल्लाहु रब्बुल अरशिल अज़ीम, ला इलाहा इल्लल्लाहु रब्बूस समावाती व रब्बुल अरज़ि रब्बुल अरशिल करीम _,* 
  *(  बुखारी 6346 व मुस्लिम )*

*❖_ (तर्जुमा )- खुदा के सिवा कोई माबूद नहीं है वह अरशे अज़ीम का मालिक है खुदा के सिवा कोई माबूद नहीं है वह आसमान व ज़मीन का मालिक है अरशे बुजुर्ग का मालिक है _,"*

*❖_ हजरत अबू हुरैरा रजियल्लाहु अन्हु का बयान है कि नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया -*
*"__ ला हवला वला कु़व्वता इल्ला बिल्लाह _,"  यह कलमा 99 बीमारियों की दवा है ,सबसे कम बात यह है कि इसका पढ़ने वाला रंज व गम से महफूज़ रहता है _,"   (  मिशकात -202 )*

*📚 मदनी माशरा - हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔              
    
*◐☞_12 Massib V Aa'laam ( Raj v Gam ) Me Maut Ki Tamanna Na KiJiye_◐*

*▩_ Agar Kabhi Khuda na Khaasta Masa'ib V Aa'laam ( Raj v Gam ) is Tarah Gher le'n K Zindgi Dushwar Ho Jaye Aur Ranj V Gam Aisi Haibat Naak Shakl Akhtyaar Kar le'n K Aapko Zindgi Wabaal Maloom Hone Lage Tab Bhi Kabhi Maut Ki Tamanna Na Kijiye Aur Na Kabhi Apne Hatho'n Apne Ko Halaak Karne Ki Sharmnaak Harkat Ka Tasawwur Kijiye , Ye Buzdili Bhi Hai Aur Bad Tareen Qism Ki Khayanat  Aur Ma'asiyat Bhi , Aise izteraab Aur Becheni Me Barabar Khuda Se Ye Dua Karte Rahiye*

*"__ Allahumma Ahyini ma Kaanatil Hayaatu Khayralli Wa Tawaffani iza Kaanatil Wafaatu Khayralli _,* 

*"_( Tarjuma )_ KhudaYa ! Jab Tak Mere Haq Me Zinda Rehna Behtar Ho Mujhe Zinda Rakh Aur Jab Mere Haq Me Maut Hi Behtar Ho To Mujhe Maut De de*_

*_📚Bukhari Kitabud Daawat Babud Dua 1351_*

*◐☞_13 Jab Kisi Ko Musibat Me Mubtila Dekhe'n To Ye Dua Padhe'n_*

*▩_ Hazrat Abu Hurerah Raziyallahu Anhu Farmate Hai'n K Nabi E Kareem ﷺ Ne Farmaya :- "_ Jisne Bhi Kisi Ko Musibat Me Mubtila Dekh Kar Ye Dua Maangi (in sha Allah) Wo us Musibat Se Mehfooz Rahega Dua Ye Hai👇🏻*

*"_ Alhamdu Lillahil Lazee Aafani Mimmab Talaakallahu Bihee V Fazzalani Alaa Kaseerim Mimman Khalaqa Tafzeela_*

*◐( Tarjuma )_Khud Ka Shukr Hai Jisne Mujhe iss Musibat Se Bachaye Rakha Jisme Tum Mubtila Ho Aur Apni Bahut Si Makhluqaat Par Mujhe Fazilat Bakhshi*

*▩_Lekin Agar Ye Dua Mubtila Ke Saamne Padhe'n To Is Tarha Padhe'n Ke Wo Na Sune*

       *_📚Tirmizi Abwabud Da'awat 3_*

*_🥀Alhamdul Lillah Mukammal 🥀*
    
*📗 Madni Muaashra_ (Jild No -1-Safa No 154)_*
*🌼Hazrat Molana Yunus Sahab Palanouri Damat Aaliya🌼*
https://www.youtube.com/channel/UChdcsCkqrolEP5Fe8yWPFQg
*👆🏻 Subscribe Our YouTube Channel_,*

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔  
    *◐ रंज व गम के हालात कैसे गुज़ारें ◐*
                ❖══✰═══❖

*◐☞ मसाइब व आलाम ( रंजो गम ) में भी मौत की तमन्ना ना करें ◐*

*❖_ अगर कभी खुदा ना खास्ता मसाईब व आलाम ( रंजो गम) इस तरह घेर लें कि जिंदगी दुश्वार हो जाए और रंजो गम ऐसी हैबत नाक शक्ल अख्तियार कर लें कि आपको जिंदगी वबाल मालूम होने लगे तब भी कभी मौत की तमन्ना ना कीजिए और ना कभी अपने हाथों अपने को हलाक करने की शर्मनाक हरकत का तसव्वुर कीजिए , यह बुजदिली भी है और बदतरीन कि़स्म की खयानत और मासियत भी , ऐसे इज़तिराब और बेचैनी में बराबर खुदा से यह दुआ करते रहें :-*
*"_  अल्लाहम्मा आहयिनी मा कानतिल हयातु खैयरलली वा तवफ्फनी इजा़ कानतिल वफातु खैयरलली _,*
   
*❖_(तर्जुमा )_ खुदाया जब तक मेरे हक़ में जिंदा रहना बेहतर हो मुझे जिंदा रख और जब मेरे हक़ में मौत ही बेहतर हो तो मुझे मौत दे दे _,"* 
*(बुखारी- 6351 व मुस्लिम )*

*◐☞ जब किसी को किसी मुसीबत में मुब्तिला देखें तो यह दुआ पढ़िए ◐*

*❖_ हजरत अबू हुरैरा रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया :- "_ जिसने भी किसी को किसी मुसीबत में मुब्तिला देखकर यह दुआ मांगी ( इंशा अल्लाह) वह उस मुसीबत से महफूज़ रहेगा :-*
*"_ अल्हम्दुलिल्लाहिल लज़ी आफानी मिम्मब तलाकल्लाहु बिही व फज़़लनी अला कसीरिश मिम्मन खलाक़ा तफज़ीला _,*

*❖_( तर्जुमा ) _खुदा का शुक्र है जिसने मुझे इस मुसीबत से बचाए रखा जिसमें तुम मुब्तिला हो और अपनी बहुत सी मखलुक़ात पर मुझे फजी़लत बख्शी _,* 

*❖_लेकिन अगर यह दुआ मुब्तिला के सामने पढ़ें तो इस तरह पढ़े कि वह ना सुने _,*

*🥀 अल्हम्दुलिल्लाह मुकम्मल हुआ 🥀*

*📚 मदनी माशरा - हजरत मौलाना युनुस साहब पालनपुरी दा. _,*     

▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔              
      *✰_Haqq Ka Daayi Group_✰*     http://www.haqqkadaayi.com
*Telegram*_ https://t.me/haqqKaDaayi      ╚═════════════┅┄ ✭✭   
 
*💕ʀєαd, ғσʟʟσɯ αɳd ғσʀɯαʀd 💕,*
 
╘═━┅━┅━┅━┅┅━┅┅━┅┅━┅━┅═╛
⚀     

Post a Comment

 
Top