0
🎍﷽ 🎍*             
       ┯━══◑━═━┉─◑━═━━══┯
   *●• SHOHAR BIVI KE HUQOOQ •●* 
 ╥────────────────────❥
*⊙⇨1- Bivi ke huqooq kushada dili se Ada kijiye,*

★_ Bivi ke saath achchhe sulook ki zindgi guzare, uske huqooq kushada dili se Ada kare, Allah ta’ala ka irshad he :-
”_ aur unke saath bhale tareeqe se zindgi guzare,”

★_ Nabi Kareem Sallallahu Alaihivasallam ne Hajjatul Vida ke mauke per hidayat farmayi,
”_ Logo'n Suno! Aurto'n ke saath achchhe sulook se pesh aa'o, Kyu'nki woh tumhare paas qaidiyo ki tarah hai, tumhe unke saath sakhti ka bartav karne ka koi haq nahi, Siva is soorat me jab unki taraf se koi khuli hui nafarmani saamne aaye, agar woh esa kar bethe to fir khwab gaaho me unse alahda raho aur unhe maaro to esa na maarna k koi shadeed chot aaye, aur fir jab woh tumhare kehne per chalne lage to unko khwahm khwah sataane ke bahane na dhoondo,

★_ Dekho suno! Tumhare kuchh huqooq tumhari biviyo per hai aur tumhari biviyo ke kuchh huqooq tumhare ouper hai, un per tumhare huqooq ye hai k tumhare bistaro ko un logo se na rundwaye jinko tum napasand karte ho aur tumhare gharo me ese Logo'n ko hargiz na ghusne de, jinka aana tumhe nagawar ho,

★_ aur suno! Unka tum per ye haq he k tum unhe achchha khila'o aur achchha pehna'o, ”
⇨( yani unke khilane pilane ka esa intezam kijiye Jo zojen ki bemisal qurbat, qalbi talluq aur jazba e rafaqat ki shayane Shan ho),
*( Riyazus Saleheen- Baab Al Wasiyat Bil Nisa  )*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 70 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
*☞1-बीवी के हुक़ूक़ कुशादा दिली से अदा कीजिए,*

⚀ _ बीवी के साथ अच्छे सुलूक की ज़िंदगी गुज़ारे, उसके हुक़ूक़ कुशादा दिली से अदा करे,अल्लाह ताला का इरशाद है,
"_और उनके साथ भले तरीके से ज़िंदगी गुज़ारे"

⚀ _ नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हज्जतुल विदा के मौके पर हिदायत फरमाई,
"_लोगों सुनो !औरतों के साथ अच्छे सुलूक से पेश आओ,क्योंकि वो तुम्हारे पास कैदियों की तरह है,तुम्हे उनके साथ सख्ती का बर्ताव करने का कोई हक नही,सिवा इस सूरत में जब उनकी तरफ से कोई खुली हुई नाफरमानी सामने आए,अगर वो ऐसा कर बैठे तो फिर ख्वाब गाहों में उनसे अलहदा रहो और उन्हें मारो तो ऐसा न मारना के कोई शदीद चोट आए, और फिर जब वो तुम्हारे कहने पर चलने लगे तो उनको ख़्वाम खाह सताने के बहाने न ढूंढो,

⚀ _ देखो सुनो!तुम्हारे कुछ हुक़ूक़ तुम्हारी बीवियों पर है और तुम्हारी बीवियों के कुछ हुक़ूक़ तुम्हारे ऊपर हैं,उन पर तुम्हारे हुक़ूक़ ये हैं कि तुम्हारे बिस्तरों को उन लोगों से न रुंदवाएँ जिनको तुम नापसंद करते हो और तुम्हारे घरों में ऐसे लोगों को हरगिज़ न घुसने दे, जिनका आना तुम्हे नागवार हो,

⚀ _ और सुनो!उनका तुम पर ये हक़ है कि तुम उन्हें अच्छा खिलाओ और अच्छा पहनाओ
(यानी उनके खिलाने पिलाने का ऐसा इंतज़ाम कीजिए जो ज़ोजेन कि बेमिसाल क़ुरबत ,क़ल्बी ताल्लुक़ और जज़्बा ए रफाकत की शायाने शान हो,)_,*
*( रियाज़ुस सालेहीन - बाब वसीयत बिल निसा )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 70 ,*  

 ╥────────────────────❥ 
*☞ 2- Jaha'n tak ho Sake Bivi se Khush guman rahe'n,*

★_Agar usme Shakl o soorat, adaat, akhlaq ya saliqa aur hunar ke etbaar se koi kamjori bhi ho to Sabr ke saath usko bardasht kijiye aur uski khubiyo'n per nigah rakhte hue darguzar, iysaar aur maslihat se kaam lijiye,

★Allah ta’aala ka irshad he,

*"_ فَإِن كَرِهْتُمُوهُنَّ فَعَسَىٰ أَن تَكْرَهُوا شَيْئًا وَيَجْعَلَ اللَّهُ فِيهِ خَيْرًا كَثِيرًا _,*

*”( Tarjuma )*_ Fir agar wo tumhe ( kisi vajah) se napasand ho to ho sakta he k ek cheez tumhe pasand na ho magar khuda ne usme tumhare liye bhalai rakh di ho,”

   *↳® Surah An-nisa 19_,*

★_ Huzoor Akram Sallallahu Alaihivasallam ka irshad he,
”_ Koi momin apni momina Bivi se nafrat na kare, agar Bivi me koi Aadat usko napasand ho to ho sakta he k doosri khaslat ( khubi) usko pasand aa jae,”

   *↳ ®Muslim Sharif_,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 71 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
        *☞ 2-जहां तक हों सके बीवी से खुश गुमान रहें _,*

⚀ _  अगर उसमे शक्ल व सूरत ,आदात ,अख़लाक़, या सलीक़ा और हुनर के एतबार से कोई कमजोरी भी हो तो सब्र के साथ उसको बर्दाश्त करे और उसकी खुबियों पर निगाह रखते हुए दरगुज़र ईसार और मसलिहत से काम लीजिए,

⚀ _  अल्लाह ताला का इरशाद है,
( तर्जुमा ) ''"फिर अगर वो तुम्हे (किसी वजह )से नापसंद हो तो हो सकता है कि एक चीज़ तुम्हे पसंद ना हो मगर खुदा ने उसमे तुम्हारे लिए भलाई रख दी हो _"
     *(सूरह अन निसा-19)*

⚀ _  हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का इरशाद है,

"कोई मोमिन अपनी मोमिना बीवी से नफरत न करे,अगर बीवी में कोई आदत उसको नापसंद हो तो हो सकता है कि दूसरी खसलत (खूबी) उसको पसंद आ जाए"_,*
      *( मुस्लिम शरीफ )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 71 ,*  

 ╥────────────────────❥
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
        *☞ 2-जहां तक हों सके बीवी से खुश गुमान रहें _,*

⚀ _  अगर उसमे शक्ल व सूरत ,आदात ,अख़लाक़, या सलीक़ा और हुनर के एतबार से कोई कमजोरी भी हो तो सब्र के साथ उसको बर्दाश्त करे और उसकी खुबियों पर निगाह रखते हुए दरगुज़र ईसार और मसलिहत से काम लीजिए,

⚀ _  अल्लाह ताला का इरशाद है,
( तर्जुमा ) ''"फिर अगर वो तुम्हे (किसी वजह )से नापसंद हो तो हो सकता है कि एक चीज़ तुम्हे पसंद ना हो मगर खुदा ने उसमे तुम्हारे लिए भलाई रख दी हो _"
     *(सूरह अन निसा-19)*

⚀ _  हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का इरशाद है,

"कोई मोमिन अपनी मोमिना बीवी से नफरत न करे,अगर बीवी में कोई आदत उसको नापसंद हो तो हो सकता है कि दूसरी खसलत (खूबी) उसको पसंद आ जाए"_,*
      *( मुस्लिम शरीफ )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 71 ,*  
 ╥────────────────────❥
*☞ 03- Bivi ke saath Darguzar aur Karam ki Ravish akhtyar Kijiye_,*

★_ Bivi ke saath afu, darguzar v karam ki ravish akhtyar kare, Bivi ki nadaanio aur sharkashio se Chashmposhi kijiye,

★_ Allah ta’ala ka irshad he,

*"__ يَا أَيُّهَا الَّذِينَ آمَنُوا إِنَّ مِنْ أَزْوَاجِكُمْ وَأَوْلَادِكُمْ عَدُوًّا لَّكُمْ فَاحْذَرُوهُمْ وَإِن تَعْفُوا وَتَصْفَحُوا وَتَغْفِرُوا فَإِنَّ اللَّهَ غَفُورٌ رَّحِيمٌ _,*

”(Tarjuma) _Momino tumhari baaz bivio’n or baaz aulad tumhare dushman hai’n, so unse bachte raho aur agar tum afu ( darguzar) v karam aur chashmposhi se kaam lo to yaqeen rakho ki Khuda bahut hi zyada Raham karne wala he,”

*↳® Surah Taghabun, 18,*

★_ Ek Hadees paak me Nabi Kareem Sallallahu Alaihivasallam ka irshad he,
”_ Aurto’n ke saath achchha sulook Karo, aurat pasli se paida ki gayi he aur pasliyo’n me sabse zyada ouper ka hissa teda he, usko sidha karoge to toot jayegi aur agar usko chhode rakhoge to tedi hi rahegi, pas aurto’n ke saath achchha sulook Karo,”

*↳® Bukhari Sharif, Muslim Sharif_,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 72,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
  *☞ 3-बीवी के साथ दरगुज़र और करम की रविश इख़्तेयार कीजिए,*

⚀ _  बीवी के साथ अफु, दरगुज़र व करम की रविश इख़्तेयार करें,बीवी की नादानियों और सरकशियों से चश्मपोशी कीजिए,

⚀ _  अल्लाह ताला का इरशाद है :-
"(तर्जुमा )_,मोमिनो तुम्हारी बाज़ बीवियां और बाज़ औलाद तुम्हारे दुश्मन हैं,सो उनसे बचते रहो और अगर तुम अफु (दरगुज़र)व करम और चश्मपोशी से काम लो तो यकीन रखो कि खुदा बहुत ही ज़्यादा रहम करने वाला है"
*(सूरह तगाबुन-18)*

⚀ _  एक हदीस पाक में नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का इरशाद है,
"_औरतों के साथ अच्छा सुलूक करो,औरत पसली से पैदा की गई है और पसलियों में सबसे ज़्यादा ऊपर का हिस्सा टेढ़ा है,उसको सीधा करोगे तो टूट जाएगी और अगर उसको छोड़े रखोगे तो टेढ़ी ही रहेगी ,पस औरतों के साथ अच्छा सुलूक करो"
*(बुखारी शरीफ ,,मुस्लिम शरीफ_,)*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 72 ,*  
 ╥────────────────────❥
*☞  04- Bivi ke saath Khush Akhlaqi ka Bartaav Kijiye, aur Pyar Mohabbat se Pesh aaiye,◆*

★_ Apni khush Akhlaqi aur naram mizaji naapne ka asal maidan gharelu zindgi he,

★_ Nabi Kareem Sallallahu Alayhi vasallam ka irshad he,

”_ Kaamil imaan wale momin woh hai’n Jo apne akhlaq me sabse achchhe hai’n,aur tumme sabse achchhe log woh hai’n Jo apni bivio’n ke haq me sabse achchhe ho’n, ”

*↳ ®Ibne maaja,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 73 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
*☞ 4-बीवी के साथ खुश अख़लाक़ी का बर्ताव कीजिए ,और प्यार मोहब्बत से पेश आइए,*

⚀ _  अपनी खुश अख़लाक़ी और नरम मिज़ाजी नापने का असल मैदान घरेलू ज़िंदगी है,

⚀ _  नबी करीम सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम का इरशाद है,

"क़ामिल ईमान वाले मोमिन वो है जो अपने अख़लाक़ में सबसे अच्छे हैं,और तुममे सबसे अच्छे लोग वो है जो अपनी बीवियों के हक़ में सबसे अच्छे हों,_,*
*( इब्ने माजा )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 73 ,*  
 ╥────────────────────❥
*☞ 05 – Poori Faraakh dili se Rafiqa e hayaat ( Bivi) ki zarooriyaat poori kijiye,◆*

★_ Aur kharch karne me tangi na kare, apni mehnat ki kamai ghar walo per kharch karke sukoon aur masarrat mehsoos kijiye,

★ Nabi Kareem Sallallahu Alayhi vasallam ka irshad he,

” _Ek dinaar wo he Jo tumne khuda ki raah me kharch kiya, ek dinaar wo he Jo tumne kisi gulaam ko azaad karane me kharch kiya,ek dinaar wo he Jo tumne kisi faqeer ko sadqa me diya, aur ek dinaar wo he Jo tumne apne ghar walo per kharch kiya, inme sabse zyada ajr aur sawab us dinaar ke kharch karne ka he Jo tumne apne ghar walo per kharch kiya,”

*↳® Riyazussaleheen,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 73 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
*☞ 5-पूरी फराख दिली से रफ़िक़ा ए हयात(बीवी )की ज़रूरियात पूरी कीजिए_,*

⚀ _  और खर्च करने में तंगी न करे,अपनी मेहनत की कमाई घर वालों पर खर्च कर के सुकून और मसर्रत महसूस कीजिए,

⚀ _  नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का इरशाद है,

"_एक दीनार वो है जो तुमने खुदा की राह में खर्च किया,एक दीनार वो है जो तुमने किसी गुलाम को आज़ाद कराने में खर्च किया,एक दीनार वो हैं जो तुमने किसी फकीर को सदके़ में दिया,और एक दीनार वो है जो तुमने अपने घर वालों पर खर्च किया,इनमे सबसे ज़्यादा अजर् व सवाब उस दीनार के खर्च करने का है जो तुमने अपने घर वालों पर खर्च किया"_,*

    *( रियाज़ुस्सालिहीन )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 73 ,*  
 ╥────────────────────❥
*☞ 6- Bivi ko Deeni Taleem dijiye, ◆*

★_ Bivi ko deeni ahkaam aur tehzeeb sikhae, islami akhlaq se araasta kijiye, har mumkin koshish kihiye k woh ek achchhi bivi aur Khuda ki nek bandi ban sake, aur mansabi faraiz ko ba-khubi Ada kar sake,

★ Allah ta’ala ka irshad he,
يَا أَيُّهَا الَّذِينَ آمَنُوا قُوا أَنفُسَكُمْ وَأَهْلِيكُمْ نَارًا

” imaan walo apne aapko aur apne ghar walo ko jahannam ki aag se bachao,”َ
*↳® Surah At Tahrim, 6,*

★Allah ta’aala ka irshad he,
وَاذْكُرْنَ مَا يُتْلَىٰ فِي بُيُوتِكُنَّ مِنْ آيَاتِ اللَّهِ وَالْحِكْمَةِ

” aur tumhare gharo’n me Jo Khuda ki aayate’n padi jati hai’n aur hikmat ki baate’n sunai jati hai’n unko yaad rakho, ”
*↳®Surah Al Ahzab, 34*

★ Allah ta’ala ka irshad he,
وَأْمُرْ أَهْلَكَ بِالصَّلَاةِ وَاصْطَبِرْ عَلَيْهَا

” aur apne ghar walo ko namaz ki takeed kijiye aur khud bhi uske paband raho, ”
*↳® Surah Taha, 132*

★ Nabi Kareem Sallallahu Alayhivasallam ka paak irshad he,
” _Jab koi mard raat me apni bivi ko jagata he aur wo do no milkar 2 raka’at namaz padte hai’n to shohar ka naam zikr karne walo me aur bivi ka naam zikr karne walio’n me likh liya jata he,”
*↳® Abu Dauod shrif_,*

★ Khalifa e Saani Hazrat Umar Rd raat me khuda ki huzoor me khade ibadat karte rehte fir jab Sahar ka waqt aata to apni rafiqa e hayaat ( bivi) ko jagate aur kehte,
” utho – namaz pado, ‘ aur fir yahi aayat tilawat farmate,

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 74 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
   *☞ 6-बीवी को दीनी तालीम दीजिए,*

⚀ _ बीवी को दीनी अहकाम और तहज़ीब सिखाए,इस्लामी अख़लाक़ से आरास्ता कीजिए,हर मुमकिन कोशिश कीजिए कि वो एक अच्छी बीवी और खुदा की नेक बंदी बन सके,और मंसबी फ़राइज़ को बखूबी अदा कर सके,

⚀ _अल्लाह ताला का इरशाद है,
"_ईमान वालों अपने आप को और अपने घरवालों को जहन्नम की आग से बचाव"
*(सूरह अत तहरिम-6)*

⚀ _अल्लाह ताला का इरशाद है,
"और तुम्हारे घरों में जो खुदा की आयतें पढ़ी जाती है और हिकमत की बातें सुनाई जाती है उनको याद रखो"
*(सूरह अल अहज़ाब-34)*

⚀ _अल्लाह ताला का इरशाद है,
"और अपने घरवालों को नमाज़ की ताकीद कीजिए और खुद भी उसके पाबंद रहो"
*(सूरह ताहा -132)*

⚀_  नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का पाक इरशाद है,_ "जब कोई मर्द रात में अपनी बीवी को जगाता है और वो दोनों मिलकर 2 रकात नमाज़ पढ़ते हैं तो शौहर का नाम ज़िक्र करने वालों में और बीवी का नाम ज़िक्र करने वालियों में लिख लिया जाता है"
*( अबु दाऊद शरीफ )*

⚀ _ख़लीफ़ा ए सानी हज़रत उमर रज़ियल्लाहु अन्हु रात में खुदा की हुज़ूर में खड़े इबादत करते रहते फिर जब सहर का वक़्त आता तो अपनी रफ़िक़ा ए हयात (बीवी) को जगाते और कहते,
"_उठो नामाज़ पढ़ो और फिर यही आयात तिलावत फरमाते,_,*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 76 ,*  ╭
 ╥────────────────────❥
*☞ 7- Ek se zyada biviya’n ho to sabke saath barabari ka sulook kijiye, ◆*

★ _Nabi Kareem Sallallahu Alayhivasallam apni Bivio’n ke saath bartaav me barabari ka bada ahatmam farmate the,

★ Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya, :-
”_ agar kisi shakhs ki 2 biviya’n ho aur usne unke saath insaaf aur barabari ka sulook na kiya to qayamat ke roz wo shakhs is haal me aayega k uska aadha dhad gir gaya hoga, ”

*↳ ® Tirmizi Sharif_,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 75 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
 *☞ 7-एक से ज़्यादा बीवियां हो तो सब के साथ बराबरी का सुलूक कीजिए,*

⚀ _  नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अपनी बीवियों के साथ बर्ताव में बराबरी का बड़ा एहतेमाम फरमाते थे,

⚀ _  आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया,
"_अगर किसी शख्स की 2 बीवियां हो और उसने उनके साथ इंसाफ और बराबरी का सुलूक न किया तो क़यामत के रोज़ वो शख्स इस हाल में आएगा के उसका आधा धड़ गिर गया होगा"_,*  *( तिर्मिज़ी शरीफ )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 75 ,*  
 ╥────────────────────❥
*☞ 8- Bivi nihayat Khush dili se shohar ki ita’at kare, aur ita’at me sukoon v masarrat mehsoos kare, ◆*

★_ Ye khuda ka hukm he, Qurane Paak he,
” Nek biviya’n ( shohar ki ) ita’at karne wali hoti hai’n”

★_ Nabi Kareem Sallallahu Alayhivasallam ka paak irshad he,
” Koi aurat shohar ki ijazat ke bager roza na rakhe, ”

*↳®Abu Dauod shrif_,*

★” Do qism ke aadmi wo hai’n jinki namaze unke saro se ounchi nahi jati,

1- ek us gulam ki namaz Jo apne aaqa se faraar ho jaye, jab tak k lot na aaye,

2- aur doosra us aurat ki namaz Jo shohar ki nafarmani kare, jab tak k shohar ki nafarmani se baaz na aa jaye,”

*↳ ®Attargeeb v tarheeb_,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 75 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*

*☞ 8-बीवी निहायत खुश दिली से शौहर की इताअत करे,और इताअत में सुकून व मसर्रत महसूस करे,,*

⚀ _  ये खुदा का हुक्म है,क़ुरआन पाक में,
"नेक बीवियां (शौहर की)इताअत करने वाली होती हैं"

⚀ _  नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का पाक इरशाद है,
"कोई औरत शौहर की इजाज़त के बगैर रोजा न रखे"
*( अबु दाऊद )*

⚀ _  "_दो किस्म के आदमी वो हैं जिनकी नमाज़ें उनके सरों से ऊंची नही जाती,

1-एक उस गुलाम की नमाज़ जो अपने आक़ा से फरार हो जाए,जब तक की लौट न आए,

2-और दूसरा उस औरत की नमाज़ जो शौहर की नाफरमानी करे,जब तक कि शौहर की नाफरमानी से बाज़ न आ जाए_,*
*( अत तरगीब व तरहीब )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 75 ,*  
 ╥────────────────────❥
*☞  9- Apni Aabru aur Asmat ki Hifazat ka ahatmam kijiye, ◆*

★_ un tamaam baato se aur kaamo se door rahiye jinse daaman asmat per dhabba lagne ka andesha ho, Khuda ki hidayat ka taqaza bhi he aur khush gawar zindgi ke liye bhi behad zaroori he, isliye k agar Shohar ke dil me is tarah ka koi shubha, shaq paida ho jaye to fir aurat ki koi khidmat, bhalai Shohar ko apni taraf maa’il nahi kar sakti, aur is maamle me mamooli kotahi se bhi Shohar ke dil me shaitan shubha, shaq daalne me kamyaab ho jata he,

★_ Nabi Kareem Sallallahu Alayhivasallam ka paak irshad he:-
”_ Aurat jab paancho waqt ki namaz pad le, apni Aabru ki hifazat kar le, apne shohar ki farmabardar rahe, to woh jannat me jis darwaze se chahe daakhil ho jaye,”

*↳®Attargeeb v tarheeb_,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 75 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
 *☞ 9-अपनी आबरू और अस्मत की हिफाज़त का एहतेमाम कीजिए,*

⚀ _उन तमाम बातों और कामों से दूर रहिए जिनसे दामने अस्मत पर धब्बा लगने का अंदेशा हो,खुदा की हिदायत का तकाज़ा भी है और खुश गवार ज़िंदगी के लिए भी बेहद ज़रूरी है,इसीलिए कि अगर शौहर के दिल मे इस तरह का कोई शुबहा ,शक पैदा हो जाए तो फिर औरत की कोई खिदमत ,भलाई शौहर को अपनी तरफ माइल नही कर सकती ,और इस मामले में मामूली कोताही से भी शौहर के दिल मे शैतान शुबहा ,शक डालने में कामयाब हो जाता है,

⚀ _नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का पाक इरशाद है:-
"_औरत जब पांचों वक़्त की नमाज़ पढ़ ले ,अपनी आबरू की हिफाज़त कर ले,अपने शौहर की फरमाबरदार रहे ,तो वो जन्नत में जिस दरवाज़े से चाहे दाखिल हो जाए"_,*
*( अत तरगीब व तरहीब )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 70 ,*  
*
 ╥────────────────────❥ 
*☞ 11- Hamesha apne qaul v Amal aur Andaz v Atvaar se shohar ko khush rakhne ki koshish kijiye, ◆*

★_ Kamyaab azdwaji zindgi ka raaz bhi yahi he, aur khuda ki raza aur Jannat ke husool ka raasta bhi yahi he,

★_ Nabi Kareem Sallallahu Alayhivasallam ka paak irshad he,
” _Jis aurat ne bhi is haal me inteqaal kiya k uska shohar usse raazi aur khush tha to woh jannat me dakhil hogi, ”

*↳® Tirmizi Sharif_,*

★_ Ek hadees paak me irshad he,
“_Jab koi Aadmi apni bivi ko jinsi zaroorat ke liye bulaye aur woh na aaye aur is bina per shohar raat bhar usse khafa rahe to esi aurat per subeh tak Farishte laanat karte hai’n, ”

*↳ ® Bukhari Sharif_,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 76 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
 *☞ 11-हमेशा अपने कॉ़ल व अमल और अंदाज़ व अतवार से शौहर को खुश रखने की कोशिश कीजिए,*

⚀ _  कामयाब अज़दवाजी ज़िंदगी का राज़ भी यही है,और खुदा की रज़ा और जन्नत के हुसूल का रास्ता भी यही है,

⚀ _  नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का पाक इरशाद है,
"_जिस औरत ने भी इस हाल में इंतेक़ाल किया कि उसका शौहर उससे राज़ी और खुश था तो वो जन्नत में दाखिल होगी"
*( तिर्मिज़ी शरीफ )*

⚀ _  एक हदीस पाक में इरशाद है,
"जब कोई आदमी अपनी बीवी को जिंसी ज़रूरत के लिए बुलाए और वो न आए और इस बिना पर शौहर रात भर उससे खफा रहे तो ऐसी औरत पर सुबह तक फरिश्ते लानत करते हैं"_,*
*( बुखारी शरीफ )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 76 ,*  *
 ╥────────────────────❥ 
*☞ 10- Shohar ki ijazat ke bager ghar se bahar na jaye, ◆*

★_ Khuda per imaan rakhne wali aurat ke liye ye jaa’iz nahi k wo apne shohar ke ghar me kisi ese shakhs ko aane ki ijazat de jiska aana shohar ko nagawaar ho aur wo ghar se esi soorat me nikle jabki uska nikalna shohar ko nagawaar ho aur shohar ke maamle me kisi doosre ka kehna na maane,

*↳ ® Attargeeb v tarheeb_,*

★_ yani shohar ke maamle me shohar ki marzi aur ishare per hi amal kijiye aur uske khilaf hargiz doosre ke mashwaro’n ko na apnaye,

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 76 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
 *☞10-शौहर की इजाज़त के बगैर घर से बाहर न जाए,*

⚀ _  खुदा पर ईमान रखने वाली औरत के लिए ये जाइज़ नही की वो अपने शौहर के घर मे किसी ऐसे शख्स को आने की इजाज़त दे जिसका आना शौहर को नागवार हो और वो घर से ऐसी सूरत में निकले जबकि उसका निकलना शौहर को नागवार हो और शौहर के मामले में किसी दूसरे का कहना न माने,

*( अत तरगीब व तरहीब )*

⚀ _  यानी शौहर के मामले में शौहर की मर्ज़ी और इशारे पर ही अमल कीजिए और उसके खिलाफ हरगिज़ दूसरे के मशवरों को ना अपनाए, _,*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 70 ,*  
 ╥────────────────────❥ 
*☞ 12- Apne Shohar ki Rafaqat ki Qadr kijiye, is azeem niyamat per khuda ka Shukr Ada kijiye, aur Niyamat ki Dil Jaan se qadr kijiye, ◆*

★ _Nabi Kareem Sallallahu Alayhivasallam ka paak irshad he,
”_ Nikah se behtar koi cheej mohabbat karne walo ke liye nahi payi gayi, ”

*↳®ا بن ما جا 1847*

★_ Ummul Momineen Hazrat Safiya Raziyllahu Anhu  Ko Aap Sallallahu Alayhivasallam se be inteha mohabbat thi, Chunache Jab Nabi Kareem ﷺ bimar hue, to intehai hasrat se boli,
”_ Kash Aap ﷺ ke bajaye me bimar ho jati, ”

Doosri Ummul Momineen ne is izhare mohabbat per ta’ajjub se unki taraf dekha to Aap ﷺ ne farmaya,
”_ Dikhawa nahi he, balki sach keh rahi he, ”

*↲® الاصلبۃ _,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 77 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
*☞ 12-अपने शौहर की रफाकत की क़दर कीजिए,इस अज़ीम नियामत पर खुदा का शुक्र अदा कीजिए,और नियामत की दिल जान से क़द्र कीजिए_,*

⚀ _  नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का पाक इरशाद है,
"_निकाह से बेहतर कोई चीज़ मोहब्बत करने वालों के लिए नही पाई गई"
*↳®ا بن ما جا 1847*

⚀ _  उम्मुल मोमिनीन हज़रत सफिया रज़ि. को आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से बे इंतिहा मोहब्बत थी ,चुनांचे जब नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम बीमार हुए ,तो इन्तेहाई हसरत से बोली,
"_काश आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के बजाए मैं बीमार हो जाती_"

दूसरी उम्माहातुल मोमिनीन ने इस इज़हारे मुहब्बत पर ताज्जुब से उनकी तरफ देखा तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फ़रमाया :- 
"_दिखावा नही है,बल्कि सच कह रही है"_,*
*↲® الاصلبۃ _,*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 77 ,*  
 ╥────────────────────❥ 
*☞ 13- Shohar ka Ahsaan maan kar uski Shukr guzaar rahiye, ◆*

★ _Aapka sabse bada mohsin aapka shohar hi he, Jo har tarah aapko khush rakhne me laga rehta he, Aapki har zaroorat ko poora karta he, aur aapko Aaraam pahuncha kar Araam mehsoos karta he,

★_ Hazrat Asmaa Raziyllahu Anha Farmati hai’n k Nabi Akram Sallallahu Alayhivasallam ne irshad farmaya,
”_ Tum per jinka ahsaan he unki nashukri se bacho, tumme ki ek apne maa’n baap ke yaha’n kaafi dino tak bin biyahi bethi rehti hai’n, fir Khuda unko Shohar ata farmata he, fir Khuda usko Aulaad se nawaazta he ( in tamaam ahsaanat ke bavjood) agar kabhi kisi baat per Shohar se khafa hoti he to keh uthti he k mene to tumhari taraf se koi bhalai dekhi hi nahi,

*↳® Al Adab Al Mufarrad◆*

★_ Nashukr aur Ahsaan faramosh Bivi ko tambeeh karte hue Nabi Akram ﷺ ne irahad farmaya,
” _Khuda Qayamat ke roz us Aurat ki taraf nazar uthakar bhi na dekhega Jo Shohar ki nashukr guzaar hogi, hala’nki Aurat kisi waqt bhi Shohar se be niyaaz nahi ho sakti,

*↳® Nasa’i,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 77 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
 *☞13-शौहर का एहसान मान कर उसकी शुक्र गुज़ार रहिए,*

⚀ _  आपका सबसे बड़ा मोहसिन आपका शौहर ही है, जो हर तरह आप को खुश रखने में लगा रहता है,आपकी हर ज़रूरत को पूरा करता है,और आपको आराम पहुंचा कर आराम महसूस करता है,
हज़रत अस्मा रज़ियल्लाहु अन्हा फरमाती हैं कि नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया ,
"तुम पर जिनका अहसान है उनकी नाशुक्री से बचो ,तुममे की  एक अपने माँ बाप के यहां काफी दिनों तक बिन ब्याह बैठी रहती हैं,फिर खुदा उसको शौहर अता फरमाता है,फिर खुदा उसको औलाद से नवाज़ता है(इन तमाम एहसानात के बावजूद)अगर कभी किसी बात पर शौहर से खफा होती है तो कह उठती है कि मैंने तो तुम्हारी तरफ से कोई भलाई देखी ही नही,
*( अल अदाब अल मुफर्रद )*

⚀ _  नाशुकर और एहसान फरामोश बीवी को तंबीह करते हुए नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया,
"_खुदा क़यामत के रोज़ उस औरत की तरफ नज़र उठाकर भी न देखेगा जो शौहर की नाशुकर गुज़ार होगी,हालांकि औरत किसी वक़्त भी शौहर से बेनियाज़ नही हो सकती, _,। *( नसाई )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 77 ,*  *
 ╥────────────────────❥ 
*☞ 14- Shohar ki Khidmat karke Khushi mehsoos kijiye, ◆*

★_ Shohar ki khidmat karke Khushi mehsoos kijiye aur Jaha'n tak ho sake khud takleef uthakar Shohar ko araam pahunchaye aur har tarah uski khidmat karke uska dil apne haath me lene ki koshish kijiye,

★_ Hazrat Aayesha Raziyallahu Anha apne haath se Nabi kareem Sallallahu Alaihivasallam ke kapde dhoti, Sar me Tel lagati, Kangha karti, Khushbu lagati aur Yahi haal doosri Sahabiya Khawateen ka bhi tha,

★_ Ek baar Nabi kareem Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya,

” _Kisi insaan ke liye ye jaa’iz nahi k wo kisi doosre insaan ko Sajda kare, Agar iski ijazat hoti to Bivi ko hukm diya jata k wo apne Shohar ko Sajda kare,

Shohar ka apni Bivi per azeem haq he, itna azeem haq k agar Shohar ka saara jism zakhmi ho aur Bivi Shohar ke zakhmi jism ko zuban se chaate tab bhi Shohar ka haq Ada nahi ho sakta,”

*↳® Musnad Ahmad,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 78 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
 *☞ 14-शौहर की खिदमत कर के खुशी महसूस कीजिए_,*

⚀ _  शौहर की खिदमत कर के खुशी महसूस कीजिए और जहां तक हो सके खुद तकलीफ उठाकर शौहर को आराम पहुंचाए और हर तरह उसकी खिदमत कर के उसका दिल अपने हाथ मे लेने की कोशिश कीजिए,

⚀ _  हज़रत आएशा रज़ियल्लाहु अन्हा अपने हाथ से नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के कपड़े धोती,सर में तेल लगाती ,कंघा करती, खुशबू लगाती,और यही हाल दूसरी सहाबिया ख्वातीन का भी था,

⚀ _  एक बार नबी करीम सलल्ललाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया ,

"_किसी इंसान के लिए ये जाइज़ नही की वो किसी दूसरे इंसान को सज्दा करे, अगर इसकी इजाज़त होती तो बीवी को हुक्म दिया जाता कि वो अपने शौहर को सजदा करे,

शौहर का अपनी बीवी पर अज़ीम हक़ है,इतना अज़ीम हक़ कि अगर शौहर का सारा जिस्म ज़ख्मी हो और बीवी शौहर के ज़ख्मी जिस्म को ज़ुबान से चाटे तब भी शौहर का हक़ अदा नही हो सकता"_,*
*( मुसनद अहमद )*
              
       ┯━══◑━═━┉─◑━═━━══┯
   *☞15- Shohar ke Ghar baar aur Maal v Asbaab ki Hifazat kijiye , ◆*

★ _Shadi ke baad Shohar  ke ghar hi ko apna ghar samjhe aur Shohar ke maal ko, Shohar ke Ghar ki ronak badane, Shohar ki izzat banane aur uske bachcho ka mustaqbil sanwaarne me hikmat aur kifayat v saliqe se kharch kijiye, Shohar ki taraqqi aur khush hali ko apni taraqqi aur khush hali samjhiye,

★_ Quresh ki Aurto’n ki tareef karte hue Nabi kareem Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya,
” Quresh ki aurte’n kya hi khoob aurte’n he’n,, Bachcho per nihayat meharban he’n, aur Shohar ke Ghar baar ki inthai hifazat karne wali he’n,

*↳® Bukhari, 5082_,*

★ _Aur Nabi kareem Sallallahu Alaihivasallam ne nek Bivi ki khubiya’n bayan karte hue farmaya,

” Momin ke liye khofe khuda ke baad sabse zyada mufeed aur Baa’ise khair niyamat Nek Bivi he, K Jab woh usse kisi kaam ko kahe to wo khush dili se anjaam de
aur Jab woh us per nigaah daale to wo usko khush kar de
aur jab woh uske bharose per qasam kha bethe to wo uski qasam puri kar de

aur jab woh kahi chala jaye to uske pichhe apni izzat v aabru ki hifazat kare aur Shohar ke maal v Asbaab ki nigrani me Shohar ki khair khwah aur wafadaar rahe, ”

*↳® ibne maaja, 1857_,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 79 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
 *☞ 15-शौहर के घर बार और माल व असबाब की हिफाज़त कीजिए,*

⚀ _  शादी के बाद शौहर के घर को अपना घर समझे और शौहर के माल को शौहर के घर की रौनक बढ़ाने ,शौहर की इज़्ज़त बनाने और उसके बच्चों का मुस्तक़बिल संवारने में हिकमत और किफायत व सलीके से खर्च कीजिए,शौहर की तरक़्क़ी और खुश हाली को अपनी तरक़्क़ी और खुश हाली समझिए

⚀ _  क़ुरैश की औरतों की तारीफ करते हुए नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया,
"_क़ुरैश की औरतें क्या ही खूब औरतें हैं ,,बच्चों पर निहायत मेहरबान हैं,और शौहर के घर बार की इन्तेहाई हिफाज़त करने वाली हैं,
*( बुखारी-५०८२)*

⚀ _  और नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने नेक बीवी की खूबियों को बयां करते हुए फरमाया,

"_मोमिन के लिए ख़ौफ़े खुदा के बाद सबसे ज़्यादा मुफीद और बाइसे खैर नियामत नेक बीवी हैं,
कि जब वो उससे किसी काम को कहे तो वो खुश दिली से अंजाम दे, और जब वो उस पर निगाह डाले तो वो उसको खुश कर दे
और जब वो उसके भरोसे पर क़सम खा बैठे तो वो उसकी क़सम पूरी कर दे

और जब वो कहीं चला जाए तो उसके पीछे अपनी इज़्ज़त व आबरू की हिफाज़त करे और शौहर के माल व असबाब की निगरानी में शौहर की खैर ख्वाह और वफादार रहे_,*
*( इब्ने माजा-१८५७_)*

*📝 मदनी मा'शरा- 79 ,*         
       ┯━══◑━═━┉─◑━═━━══┯

*☞ 16- Shohar ko Kamane ka aur Bivi ko Kharch karne ka Sawab milta he _,◆*

★ _Hazrat Aayesha Raziyallahu Anhu se rivayat he k Nabi kareem Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya,
” _Jab Aurat apne ( shohar) ke khane me kharch Kare aur bigaad ka tareeqa akhtyar karne wali na ho to usko kharch karne ki Vajah se sawab milega,

Aur Jo khajanchi he ( Jiske paas raqam ya maal mehfooz rehta he, agarche ye maalik nahi he magar us maal me se maalik ke hukm ke mutabiq jab Allah ki raah me kharch karega to ) usko bhi usi tarah sawab milta he ( jese maalik ko mila), ”

★_ Garz Ek maal se Teen shakhso ko sawab milega,
→1- Kamane wala,
→2- Uski Bivi jisne Sadqa kiya,
→3- Khajanchi aur jisne maal nikaal kar diya,

"_ Aur ek ki Vajah se doosre ke sawab me koi kami nahi hogi yani sawab batkar nahi milega balki har ek ko apne amal ka poora sawab diya jaega,”

*↳® Mishkaat, Bukhari, Muslim,*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 79 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
*☞ 16-शौहर को कमाने का और बीवी को खर्च करने का सवाब मिलता है_,*

⚀ _  हज़रत आएशा रज़ियल्लाहु अन्हा से रिवायात है की नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया,
"_जब औरत अपने (शौहर) के खाने में खर्च करे और बिगाड़ का तरीका इख़्तेयार करने वाली न हो तो उसको खर्च करने की वजह से सवाब मिलेगा,

और जो खजांची है(जिसके पास रक़म या माल मौजूद रहता है,अगरचे ये मालिक नही है मगर उस माल में से मालिक के हुक्म के मुताबिक जब अल्लाह की राह में खर्च करेगा तो ) उसको भी उसी तरह सवाब मिलता है (जैसे मालिक को मिला)_,"

⚀ _  गर्ज़ एक माल से तीन को सवाब मिलेगा,
1-कमाने वाला,
2-उसकी बीवी जिसने सदक़ा किया,
3-खजांची और जिसने माल निकाल कर दिया,

औए एक कि वजह से दूसरे के सवाब में कोई कमी नही होगी यानी सवाब बंटकर नही मिलेगा बल्कि हर एक को अपने अमल का पूरा सवाब दिया जाएगा_,*

*( मिशकात, बुखारी , मुस्लिम )*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 79 ,*  
      ┯━══◑━═━┉─◑━═━━══┯
*☞ 17- Safai, vagera ka bhi pura pura ahatmam kijiye _◆*

★_ Safai, Saliqa aur Aara’ish v Zeba’ish ka bhi pura pura ahatmam kijiye, Ghar ko bhi saaf suthra rakhiye aur har cheez ko saliqe se saja’iye aur Saliqe se istemal kijiye,

★_Saaf suthra ghar, qarine se saje hue saaf suthre kamre, gharelu kaamo me saliqa aur banaav singaar ki hui Bivi ki pakiza muskurahat se na sirf gharelu zindgi pyar muhabbat aur khairo barkat se malamaal hoti he balki ek Bivi ke liye apni aaqbat banane aur khuda ko khush karne ka bhi yahi zariya he,

★_ Ek baar Begam Usman bin Maz'uon Raziyallahu Anha se Hazrat Aayesha Raziyallahu Anha ki mulaqaat hui to aapne dekha k Begam Usman nihayat saada kapdo me he aur koi banaav singaar bhi nahi kiya he to Hazrat Aayesha Raziyallahu Anha ko bada tajjub hua aur unse puchha,

” _Bibi ! Kya Usman kahi bahar safar per gaye hue he’n,? ”

→is tajjub se andaza kijiye k Suhagino ka apne Shohar ke liye banaav singaar karna kesa pasandida kaam he,

★_Ek baar ek Sahabiya Raziyallahu Anha Nabi kareem Sallallahu Alaihivasallam ki khidmat me haazir hui, wo apne haatho me sone ke kangan pehne hui thi, Aap Sallallahu Alaihivasallam ne unko pehanne se mana farmaya, to kehne lagi,

” Ya Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam! Agar aurat Shohar ke liye banaav singaar na karegi to uski nazar se gir jaegi, ”
*↳® Nasa’i,*

→Huzur Sallallahu Alaihivasallam ki muman’at aur fir baad me sukoot se pata chalta he k agarche sone ka istemal Aurto’n ke liye jaa’iz he magar chuki ye aysh pasandi aur ta’iesh tak pahunchata he, isliye sone ka istemal bator aysh pasandi aur mufakhrat ke makrooh he,

→Lekin agar banaav singaar Shohar ke liye he to jaa’iz he,

*▩ Alhamdulillah Mukammal Hue ▩*

*_ 📝 Madni Ma'ashra- 82 ,*  ╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮
     *●• शौहर बीवी के हुक़ूक़ •●*
 *☞ 17-सफाई बगैरह का भी पूरा पूरा एहतेमाम कीजिए_,*

⚀ _  सफाई,सलीक़ा और आराइश व ज़ेबाइश का भी पूरा पूरा एहतेमाम कीजिए,घर को भी साफ सुथरा रखिए और हर चीज़ को सलीके से सजाइये और सलीके से इस्तेमाल कीजिए,

⚀ _ साफ सुथरा घर ,करीने से सजे हुए साफ सुथरे कमरे,घरेलू कामो में सलीक़ा और बनाव सिंगार की हुई बीवी की पाकीज़ा मुस्कुराहट से न सिर्फ घरेलू ज़िंदगी प्यार मुहब्बत और खैरो बरकत से मालामाल होती है बल्कि एक बीवी के लिए अपनी आख़िरत बनाने और खुदा को खुश करने का भी यही ज़रिया है,

⚀ _  एक बार बेगम उस्मान बिन मज़उन रज़ियल्लाहु अन्हा से हज़रात आएशा रज़ियल्लाहु अन्हा की मुलाक़ात हुई तो आपने देखा कि बेगम उस्मान निहायत सादा कपड़ो में है और कोई बनाव  सिंगार भी नही किया है तो हज़रत आएशा रज़ियल्लाहु अन्हा को बड़ा ताज्जुब हुआ और उनसे पूछा ,
"_बीबी! क्या उस्मान कही बाहर सफर पे गए हुए हैं?

⚀ _  इस ताज्जुब से अंदाज़ा कीजिए कि सुहागिनों का अपने शौहर के लिए बनाव सिंगार करना कैसा पसंदीदा काम है,

⚀ _ एक बार एक सहाबिया रज़ियल्लाहु अन्हा नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की खिदमत में हाज़िर हुई,वो अपने हाथों में सोने के कंगन पहने हुए थी,आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने उनको पहनने से मना फरमाया तो कहने लगी,

"_या रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम !अगर औरत शौहर के लिए बनाव सिंगार न करेगी तो उसकी नज़र से गिर जाएगी_," *( नसाई )* 

"_ हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की मुमानत और फिर बाद में सुकूत से पता चलता है कि अगरचे सोने का इस्तेमाल औरतों के लिए जाइज़ है मगर चुकी ये ऐश पसंदी और ताईश तक पहुंचाता है,इसीलिए सोने का इस्तेमाल बतौर ऐश पसंदी और मुफाखरत के मकरूह है,

लेकिन अगर बनाव सिंगार शौहर के लिए है तो जाइज़ है,

*__ अल्हम्दुलिल्लाह खत्म हुए_,*

*_ 📝 मदनी मा'शरा- 70 ,*  
╭┄┅┅◐═══◐══♡◐♡══◐═══◐┅┅┄╮

💕 *ʀєαd,ғσʟʟσɯ αɳd ғσʀɯαʀd*💕
                    ✍
        *❥ Haqq Ka Daayi ❥*
http://www.haqqkadaayi.com/search/label/Khawateen%20Column?m=0
*👆🏻Visit for All updates,*
                  ╰┄┅┄┅┄┅┄┅┄┅┄┅┄╯
*Telegram* https://t.me/haqqKaDaayi

Post a Comment

 
Top