0
✭﷽✭

                  *✿_سیرت النبی ﷺ_✿*
         *✭ SEERATUN NABI ﷺ.✭* 
             *✿_सीरतुन नबी ﷺ. _✿*
           *🌹صلى الله على محمدﷺ🌹*
            ▪•═════••════•▪                           
           *┱✿__ Hijrat Ka Agaaz _,*

★__ Agle Saal Qabila Khazraj ke 10 aur Qabila Aus ke Do Aadmi Makka Aaye ,Unme SE 5 Wo they Jo Pehle Saal Uqba me Aap ﷺ se mil Kar gaye they, Un Logo'n se bhi Aap ﷺ ne Bayt li ,Aap ﷺ ne unke Saamne Surah An- Nisa ki Aayaat tilawat farmayi,
Bayt ke baad ye log waapas Madina munavvara Jane lage to Aap ﷺ ne unke Saath Hazrat Abdullah ibne Maktoom Raziyllahu Anhu ko bheja ,Aap ﷺ ne Hazrat Abu Mus'ab bin Umair ko bhi inke Saath bheja Taki wo naye Musalmano ko Deen sikhaye , Qur'an ki Taleem de'n ,Unhe Qari Kaha jata tha, Ye Musalmano me Sabse Pehle Aadmi Hai'n Jinhe Qari Kaha gaya ,

★__ Hazrat Mus'ab bin Umair Raziyllahu Anhu ne waha'n ke Musalmano ko Namaz padhana shuru ki ,Sabse Pehla Juma bhi inhone hi padhaya ,Juma ki Namaz Agarche Makka me farz ho chuki thi,Lekin waha'n Mushrikeen ki vajah se Musalman Juma ki Namaz Ada nahi Kar sake ,Sabse Pehla Juma Padhne walo ki tadaad 40 thi ,

★__ Hazrat Mus'ab bin Umair Raziyllahu Anhu ne Madina munavvara me Deen ki tablig shuru ki to Hazrat Sa'ad bin Ma'az aur Unke Chachazaad Bhai Hazrat Usaid bin Huzer Raziyllahu Anhum inke Haath per Musalman ho gaye, Inke islam lane ke baad Madina me islam aur tezi se failne laga ,
Iske baad Hazrat Mus'ab bin Umair Raziyllahu Anhu Hajj ke Dino me waapas Makka Pahunche , Madina munavvara me islam ki Kaamyabiyo ki khabar sun Kar Aap ﷺ Bahut Khush hue , Madina munavvara me Jo log islam la chuke they unme se Jo Hajj Ke liye Aaye they Unhone Faarig hone ke baad Mina me Raat ke Waqt Aap ﷺ se Mulaqaat ki ,Jagah aur Waqt Pehle hi Tay Kar liya gaya tha, in logo ke Saath chunki Madina se Mushrik log bhi Aaye hue they aur unse is Mulaqaat Ko poshida rakhna tha , isliye ye Mulaqaat Raat ke Waqt hui ,

★_ Ye Hazraat Kul 73 mard aur 2 Aurte'n thi , Mulaqaat ki Jagah Uqba ki ghaanti thi , Waha'n Ek Ek do do Kar Ke Jama ho gaye, is majme me 11 Aadmi Qabila Aus ke they ,Fir Aap ﷺ Tashreef laye ,
Aap ﷺ ke Chacha Hazrat Abbaas bin Abdul Muttalib Raziyllahu Anhu bhi Saath they ,inke alawa Aapke Saath koi nahi tha , Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu bhi us Waqt tak Musalman nahi hue they, Us Waqt Aap ﷺ goya Apne Chacha ke Saath Aaye they Taki is maamle ko khud dekhe'n ,
Ek Rivayat ke mutabiq us moqe per Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu aur Hazrat Ali Raziyllahu Anhu bhi Saath aaye they ,

 ★__ Sabse Pehle Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu ne unke Saamne Taqreer ki , Unhone Kaha :- 
"_ Tum log Jo Ahado Paimaan inse ( Rasulullah ﷺ SE ) Karo ,Usko har haal me Poora karna ,Agar Poora na Kar sako to Behtar Hai k koi Ahado Paimaan na karo _,"
Is per un Hazraat ne Wafadaari nibhane ke vaade kiye,

★_ Tab Nabi Akram ﷺ ne unse irshad farmaya:- Tum ek Allah ki ibaadat Karo aur Uske Saath Kisi Ko shareek na thehrao .. Apni zaat ki Had tak ye Kehta Hu'n k Meri himayat Karo aur Meri Hifazat Karo _,"
Us moqe per ek Ansari bole :- Agar hum esa Kare'n to Hume kya milega ?
Aap ﷺ ne irshad farmaya :- iske badle tumhe Jannat milegi _,"
Ab Wo sab bol uthe :- Ye nafe Ka Sauda hai ,hum ise Khatm nahi karenge ,

★__Ab un sabne Nabi Akram ﷺ se Bayt ki , Huzoor ﷺ ki Hifazat Ka vaada Kiya,Hazrat Bar'a bin Ma'aroor Raziyllahu Anhu ne Kaha :- Hum har haal me Aap ﷺ Ka Saath denge ,Aap ﷺ ki Hifazat karenge _,"
Hazrat Bar'a bin Ma'aroor Raziyllahu Anhu ye Alfaz keh rahe they k Abul Haisam bin Al Tayhaan Raziyllahu Anhu bol uthe :- Chahe hum Paise Paise ko mohtaaj ho Jaye'n aur Chahe Hume qatl Kar diya Jaye ,hum har qeemat per Aap ﷺ Ka Saath denge _,"

★_ Us Waqt Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu bole :- Zara Aahista Awaaz me Baat Karo .. Kahi'n Mushrik Awaaz na sun Le'n _,"
Us moqe per Abul Haisam Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ﷺ ! Hamare aur Yahoodiyo'n ke darmiyaan Kuchh Mu'ahide Hai'n ,Ab hum unko tod rahe Hai'n,esa to nahi Hoga k Aap ﷺ Hume Chhod Kar Makka aa Jaye'n _,"
Ye sun Kar Aap ﷺ muskuraye aur farmaya :- Nahi ! Balki Mera Khoon aur Tumhara Khoon Ek hai , Jisse tum Jung Karoge usse Mai'n Jung karunga ,Jise tum panaah doge Use Mai'n Panaah dunga _,"
Fir Aap ﷺ ne unse 12 Aadmi alag kiye Ye 9 Khazraj me se aur 3 Aus me se they , Aapne inse farmaya :- Tum mere Jaa'nisaar ho ...mere Naqeeb ho _,"
In 12 Hazraat me ye shamil they :- Sa'ad bin Ubaada, As'ad bin Rawaha , Bar'a bin Ma'aroor, Abul Haisam ibne Tayhaan, Usaid bin Huzer, Abdullah bin Amru bin Hizaam ,Ubaada bin Saamit aur Ra'afe bin Maalik Raziyllahu Anhum ,
Inme SE har Ek Apne Apne Qabile Ka numa'inda tha ,Aap ﷺ ne in Jaa'nisaaro se farmaya :- 
Tum log Apni Apni Qaum ki taraf se mere Kafeel ho Jese Iysaa Alaihissalam Ke 12 Hawaari unke Kafeel they aur Mai'n Apni Qaum Yani Muhajiro ki taraf se Kafeel aur Zimmedaar Hu'n _,"

 ★__ Is Bayt ko Bayte Uqba Saniya Kaha jata hai, Ye Bahut Aham thi ,Is Bayt ke hone per Shaitan ne Bahut waawela Kiya ,Cheekha aur Chillaya Kyunki ye islam ki Taraqqi ki buniyad thi ,
Jab Ye Musalman Madina pahunche to inhone khul Kar Apne islam qubool Karne Ka elaan Kar diya, Elaniya Namaze Padhne lage ,Madina munavvara me Halaat Saazgaar dekh Kar Nabi Kareem ﷺ ne Musalmano ko Madina munavvara ki taraf Hijrat Karne Ka Hukm diya Kyunki Quresh ko jab ye pata Chala k Nabi Akram ﷺ ne Ek Jungju Qaum ke Saath naata jod liya hai aur Unke Yaha'n thikana bana liya hai Unhone Musalmano Ka Makka me jeena aur Mushkil Kar diya, Takaleef dene Ka esa Silsila shuru Kiya k ab tak esa nahi Kiya tha ,Roz ba Roz Sahaba kiraam ki Pareshaniya'n aur Musibate badhti Chali gayi ,Kuchh Sahaba ko Deen se fairne ke liye Tarah Tarah ke Azaab diye gaye , Aakhir Sahab ne Apni Musibato ki fariyaad Aap ﷺ se ki aur Makka se Hijrat Kar Jane ki ijazat maangi , Huzoor Akram ﷺ Chand Din Khamosh rahe , Aakhir Ek Din farmaya :- Mujhe Tumhari Hijrat gaah ki khabar de di gayi hai ... Wo Yasrib hai ( Yani Madina )_,"

★__ Aur iske baad Huzoor Akram ﷺ ne Unhe Hijrat Karne ki ijazat de di , Is ijazat ke baad Sahaba Kiraam Ek Ek Do Do Kar Ke Chhup Chhipa Kar Jane lage, Madina ki taraf rawana hone se Pehle Nabi Akram ﷺ ne Apne Sahaba ke darmiyaan Bhai Chara farmaya, Unhe ek doosre Ka Bhai banaya , 

"_Maslan- Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu aur Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ke darmiyaan Bhai Chara farmaya,isi Tarah Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ko Hazrat Zaid bin Haarisa Raziyllahu anhu Ka Bhai banaya,Hazrat Usman Raziyllahu anhu ko Hazrat Abdurrahmaan bin Auf Raziyllahu Anhu Ka Bhai banaya, Hazrat Ubada bin Saamit Raziyllahu Anhu aur Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ke darmiyaan,Hazrat Mus'ab bin Umair Raziyllahu Anhu aur Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas ke darmiyaan,Hazrat Abu Ubaida bin Jarrah Raziyllahu Anhu aur Hazrat Abu Huzaifa Raziyllahu Anhu ke Gulaam Hazrat Saalim Raziyllahu Anhu ke darmiyaan, Hazrat Saied bin Zaid Raziyllahu Anhu aur Hazrat Talha bin Ubaidullah Raziyllahu Anhu ke darmiyaan aur Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ko khud Apna Bhai banaya,

★__Musalamano me se Jin Sahaba ne Sabse Pehle Madina ki taraf Hijrat ki Wo Rasoole Akram ﷺ ke Foofi zaad Bhai Hazrat Abu Salma Abdullah bin Abdullah Makhzumi Raziyllahu Anhu Hai'n , Inhone Sabse Tanha Jane Ka irada farmaya،Jab Ye Habsha se waapas Makka aaye they to inhe sakht takaleef pahunchayi gayi thi, Aakhir inhone waapas Habsha Jane Ka irada Kar liya tha Magar fir inhone Madina ke logo ke Musalman hone Ka pata Chala to ye Ruk gaye aur Hijrat ki ijazat Milne per Madina rawana hue , Makka se rawana Hote Waqt ye Apne ount per sawaar they hue aur Apni Bivi Umme Salma Raziyllahu Anha aur Apne Doodh pite Bachche ko bhi Saath sawaar Kar liya ,Jab inke Sasuraal walo ko pata Chala to Wo inhe rokne ke liye daude aur Raaste me ja pakda , inka Raasta rok Kar khade ho gaye ,

 ★__ Unhone inke Ount Ki muhaar pakdi aur bole :- Ey Abu Salma ! Tum Apne bare me Apni marzi ke mukhtaar ho Magar Umme Salma Hamari Beti hai ,Hum ye gawara nahi Kar Sakte k tum ise Saath le jao_,"
Ye keh Kar Unhone Umme Salma Raziyllahu Anha ke ount ki lagaam Kheench li ,Usi Waqt Abu Salma Raziyllahu Anhu ke Khandaan ke log Waha'n pahunch gaye aur bole :- Abu Salma Ka Beta Hamare Khandaan Ka Bachcha hai ,Jab Tumne Apni Beti ko iske qabze se chhuda liya to hum bhi Apne Bachche ko iske Saath nahi Jane denge _,"

★__ Ye keh Kar Unhone Bachche ko chheen liya ,is Tarah un zalimo ne Hazrat Abu Salma Raziyllahu Anhu ko unki Bivi aur Bachche se Juda Kar diya, Abu Salma Raziyllahu Anhu Tanha Madina munavvara pahunche ,
Umme Salma Raziyllahu Anha Shohar aur Bachche ki Juda'i ke Gam me rozana subeh sawere Makka se bahar Madina munavvara ki taraf Jane wale Raaste me ja Kar beth Jati aur Roti rehti ,Ek Din unka Ek Rishtedar udhar SE guzra ,Usne inhe rote dekha to taras aa gaya, Wo Apni Qaum ke logo me gaya aur unse bola :- Ttumhe is gareeb per raham nahi aata ... ise iske Shohar aur Bachche se Juda Kar diya,Kuchh to khayal Karo _,"
Aakhir unke Dil paseej gaye, Unhone Umme Salma Raziyllahu Anha ko Jane ki ijazat de di, Ye khabar sun Kar Abu Salma Raziyllahu Anhu ke Rishtedaro ne Bachcha Umme Salma Raziyllahu Anha ko de diya aur Unhe ijazat de di k Bachche ko le Kar Madina Chali Jaye ,

★__ Is Tarah Unhone Madina ki taraf Tanha Safar Shuru Kiya, Raaste me Hazrat Usman bin Talha Raziyllahu Anhu mile , Ye us Waqt Musalman nahi hue they, Kaaba ki Chaabi Bardaar they , Ye Suleh Hudebiya ke moqe per Musalman hue they, unki Hifazat ki garaz se unke ount ke Saath Saath chalte rahe , Yaha'n tak k Unhe Quba me pahuncha diya, Fir Hazrat Usman bin Talha Raziyllahu Anhu ye Kehte hue rukhsat ho gaye:- Tumhare Shohar Yaha'n mojood Hai'n _,"
Is tarah Umme Salma Raziyllahu Anha Madina Pahunchi , Aap Pehli Muhajir Khatoon Hai'n Jo Shohar ke bager Madina aayi ,Hazrat Usman bin Talha Raziyllahu Anhu ne inhe Madina pahuncha Kar Jo Azeem ahsaan Kiya tha, uski buniyad per Kaha Karti thi :- Maine Usman bin Talha se zyada Nek aur Shareef Kisi Ko nahi paya _,"

★__ Iske baad Makka se Musalmano ki Madina aamad shuru ho gayi , Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum Ek ke baad Ek aate rahe , Ansari Musalman unhe Apne gharo me thehrate , Unki zaruriyaat Ka khayal rakhte , Hazrat Umar Raziyllahu Anhu aur Ayaas bin Abu Rabiya Raziyllahu Anhu Bees Aadmiyo'n ke Ek Qafile ke Saath Madina pahunche, Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki Hijrat Khaas ki Khaas Baat ye Hai k Makka se Chhup Kar nahi nikle Balki Baqa'ada elaan Kar Ke nikle , Unhone Pehle Khana Kaaba Ka tawaaf Kiya ,fir Maqaame Ibrahim per do raka'at Namaz Ada ki ,iske baad Mushrikeen SE bole :-
"_Jo Shakhs Apne Bachcho ko Yateem Karna Chahta Hai,Apni Bivi ko Beva karna Chahta Hai ya Apni Maa'n ki god veeran Karna Chahta Hai...wo mujhe Jane se rok Kar dikhaye _,"

★__Unka ye elaan sun Kar saare Quresh ko Saa'np soongh gaya ,Kisi ne unka pichha Karne ki jurrat na ki ,Wo Bade Waqaar se un sabke Saamne rawana hue ,

: ★__ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu bhi Hijrat ki Taiyaari Kar rahe they, Hijrat se Pehle Wo Aarzu Kiya Karte they k Nabi Akram ﷺ ke Saath Hijrat Kare'n, Wo Rawaangi ki Taiyaari Kar chuke they, Ek Din Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne unse farmaya :- Abu Bakar ! Jaldi na karo , Ummeed hai ,Mujhe bhi ijazat Milne wali hai _,"

★__ Chunache Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu Ruk gaye, Unhone Hijrat ke liye Do ountniya'n Taiyaar Kar rakhi thi , Unhone un Dono ko 800 dirham me kharida tha aur Unhe chaar maah se khila pila rahe they,
Udhar Mushrikeen ne jab ye dekha k Musalman Madina Hijrat Karte ja rahe Hai'n aur Madina ke rehne wale bade Jung ju Hai'n.... Waha'n Musalman Roz ba Roz taaqat pakadte chale Jayenge to Unhe Khof mehsoos hua k Allah Ke Rasool bhi Kahi'n Madina na chale Jaye aur waha'n Ansar ke Saath mil Kar Hamare khilaf Jung ki Taiyaari na Karne lage ...to Wo sab Jama ho hue ...aur sochne lage k kya qadam uthaye'n _,

★__ Ye Quresh Darul Nadwa me Jama hue they, Darul Nadwa unke mashwara karne ki Jagah thi , Ye pehla pukhta Makaan tha Jo Makka me tameer hua , Quresh ke is Mashware me Shaitan bhi Shareek hua ,Wo insaani shakl me Aaya tha aur ek Budhe ke roop me tha ,Sabz rang ki Chaadar odhe hue tha ,Wo Darwaze per aa Kar thehar gaya ,use Dekh Kar logo ne Puchha :- Aap kon buzurg Hai'n ?
Usne Kaha - Mai'n Najd Ka Sardaar Hu'n,Aap log Jis garaz se Yaha Jama hue Hai'n, Mai'n bhi usi ke bare me sun Kar Aaya Hu'n Taki logo ki baate sunu aur ho sake to koi mufeed mashwara bhi du'n ,
Is per Qureshiyo ne use andar bulaya ,Ab unhone mashwara shuru Kiya , Unme se koi Bola :- Us Shakhs ( Rasulullah ﷺ) Ka maamla tum dekh hi chuke ho ,Allah ki qasam ab har Waqt is Baat Ka khatra hai k ye Apne naye aur Ajnabi madadgaaro ke Saath mil Kar hum per hamla karega ,Lihaza mashwara Kar Ke Uske bare me koi Ek koi Ek Baat Tay Kar lo _,"

★__ Waha'n mojood ek Shakhs Abul Bakhti bin Hisham ne Kaha :- Use bediya'n pehna Kar ek Kothri me band Kar do aur Uske baad Kuchh arse tak intezar Karo Taki uski bhi Wohi Haalat ho Jaye Jo us jese shayro ki ho chuki hai aur ye bhi unhi ki Tarah maut Ka Shikaar ho Jaye _,"
Is per Shaitan ne Kaha :- hargiz nahi ! Ye raay bilkul galat hai ,Ye khabar Uske Saathiyo'n tak pahunch jayegi ,Wo tum per hamla Kar denge aur Apne saathi ko nikaal Kar le Jayenge ...us Waqt tumhe pachhtana padega ,Lihaza koi aur tarteeb socho _,"

★__ Ab Umme bahas shuru ho gayi ,Aswad bin Rabiya ne Kaha :- Hum use Yaha'n se nikaal Kar jala watan Kar dete Hai'n...fir ye Hamari taraf se Kahi'n bhi Chala Jaye _,"
Is per Najdi Yani Shaitan ne Kaha :- Ye raay bhi galat hai, Tum dekhte nahi uski baate kis qadar Khoobsurat Hai'n ,Kitni mithi Hai'n ,Wo Apna Kalaam Suna Kar logo ke dilo ko moh leta hai , Allah ki qasam, agar tumne use Jala watan Kar diya to tumhe Aman nahi milega ,Ye Kahi'n ja Kar logo ke Dilo ko moh lega , Fir tum per hamla aawar Hoga ...aur Tumhari ye Saari Sardaari chheen lega ...Lihaza koi aur Baat socho _,"

★__ Is per Abu Jahal ne Kaha:- Meri Ek hi raay hai AUR isse Behtar raay koi nahi ho Sakti _,"
Sabne Kaha :- aur Wo kya hai ?
Abu Jahal ne Kaha :- Aap log har khandaan aur har Qabile Ka Ek Ek Bahadur aur Taaqatwar Nojawan Le'n, har Ek ko ek Ek Talwaar de'n ,Un sabko Muhammad per hamla Karne Ke liye subeh savere bheje ,Wo sab ek Saath us per Apni talwaaro Ka Ek bharpoor waar Kare'n...is Tarah use qatl Kar de'n ,isse hoga ye k Uske qatl me saare Qabile shamil ho Jayenge , Lihaza Muhammad ke khandaan walo me itni Taaqat nahi hogi k wo un Sabse Jung kare.... Lihaza Wo Khoon baha ( Yani fidye ki raqam ) Lene per aamada ho Jayenge,Wo hum Unhe de denge _,"
Is per Shaitan Khush ho Kar Bola :- Haa'n ,ye Hai Aala raaya ...mere khayal me isse Achchhi raay koi aur nahi ho Sakti _,"
Chunache is raay ko Sabne Manzoor Kar liya _,

★__ Allah Ta'ala ne Foran Jibraiyl Alaihissalam ko Huzoor Akram ﷺ ke paas bhej diya, Unhone arz Kiya :- Aap rozana jis Bistar per sote Hai'n, Aaj us per na soye'n _,"
Iske baad Unhone Mushrikeen ki sazish ki khabar di,
Chunache Surah Al Anfaal ki Aayat 30 me aata hai :-
 ( Tarjuma ) Aur is Waqi'e Ka bhi Zikr kijiye,Jab Kaafir log Aapki nisbat buri buri tadbeere Soch rahe they k Aaya Aapko Qaid Kar Le'n,Ya Qatl Kar dale ,Ya Jala watan Kar de'n aur Wo Apni tadbeere Kar rahe they aur Allah Apni Tadbeer Kar raha tha aur sabse mazboot tadbeer wala Allah hai _,"

★__ Garz Jab Raat Ek tihayi guzar gayi to Mushrikeen Ka tola Huzoor Akram ﷺ ke Ghar tak pahunch Kar Chhup gaya ...Wo intezar Karne laga k kab wo soye'n aur Wo sab ek dam un per hamla Kar de'n, Unki tadaad 100 thi ,

★__ Idhar Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Hazrat Ali Raziyllahu Anhu se farmaya :- Tum mere Bistar per so Ja'o aur Meri Yamani Chaadar oad lo _,"
Fir Aap ﷺ ne Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ko tasalli dete hue farmaya :- Tumhare Saath koi na khushgawaar Waqia pesh nahi aayega _,"

★__ Mushriko ke Jis giroh ne Aap ﷺ ke Ghar ko ghair rakha tha,Unme Hakeem bin Abul Aas ,Uqba bin Abi Mu'iyt, Nasr bin Haaris ,Usiad bin Khalf , Zam'a ibne Aswad aur Abu Jahal bhi shamil they, Abu Jahal us Waqt Dabi Awaaz me Apne Sathiyo'n se keh raha tha :- 
"_ Muhammad (ﷺ) Kehta hai,Agar tum Uske Deen ko qubool Kar loge to tumhe Arab aur Ajam ki Badahahat mil jayegi aur Marne Ke baad tumhe dobara Zindgi ata ki jayegi aur waha'n Tumhare liye esi Jannate hongi ,Ese Bagaat honge Jese Urdun ke Bagaat Hai'n,Lekin agar tum Meri Pervi nahi Karoge to tum sab tabaah ho Ja'oge,Marne Ke baad dobara zinda kiye Ja'oge to Tumhare liye waha'n Jahannam ki Aag Taiyaar hogi usme tumhe jalaya Jayega _,"

★_ Nabi Akram ﷺ ne Uske ye Alfaz sun liye ,Aap ye Kehte hue Ghar SE nikle :- Haa'n ! Mai'n Yaqinan yeh Baat Kehta Hu'n_,"
Iske baad Aap ﷺ ne Apni Mutthi me Kuchh Mitti uthayi aur ye Aayat tilawat farmayi :- 
"__ Yaseen,  qasam hai Hikmat wale Qur'an ki , Beshak Aap Paigambaro ke giroh me se Hai'n ,Sidhe Raaste per hai'n ,Ye Qur'an Zabardast Allah Meharban ki taraf se Naazil Kiya gaya hai Taki Aap ( Pehle to ) ese logo ko daraye Jinke Baap Dada nahi daraye gaye So usi se ye be khabar Hai'n, Unme SE Aksar logo per Baat Saabit ho chuki hai, So ye log imaan nahi layenge,Humne unki gardano me toq daal diye Hai'n , Fir Wo Thodiyo'n tak ad gaye Hai'n Jisse unke Sar Ouper ko uth gaye Hai'n aur Humne ek aad unke Saamne Kar di hai aur ek aad unke Pichhe Kar di hai Jisse Humne Unhe har taraf se ghair liya hai So wo dekh nahi sakte _,"

★__ Ye Surah Yaseen ki Aayaat 1 se 9 tak Ka Tarjuma hai ,in Ayaat ki Barkat se Allah Ta'ala ne Kuffar Ko waqti tor per andha Kar diya,Wo Aan'Hazrat ﷺ ko Apne saamne se jate hue na dekh sake ,
Huzoor ﷺ ne Jo Mitti fainki thi Wo un sabke saro per giri ,Koi Ek bhi esa na bacha jis per Mitti na giri ho ,
Jab Quresh ko pata Chala k Huzoor ﷺ unke Saro per khaak daal Kar ja chuke Hai'n to Wo sab Ghar ke andar dakhil hue ,Aap ﷺ ke Bistar per Hazrat Ali Raziyllahu Anhu Chaadar oad Kar so rahe they,Ye dekh Kar wo bole :- Khuda ki qasam, ye to Apni Chaadar oade so rahe Hai'n Lekin Jab Chaadar ulti gayi to Bistar per Hazrat Ali Raziyllahu Anhu Nazar Aaye , Mushrikeen Hairat zada reh gaye, Unhone Hazrat Ali Raziyllahu Anhu se Puchha :- Tumhare Sahab Kaha Hai'n ?
Magar Unhone Kuchh na bataya to Wo Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ko maarte hue bahar le Aaye aur Masjide Haraam tak laye ,Kuchh der tak Unhone Unhe roke rakha ,fir Chhod diya ,

 ╨─────────────────────❥     
*┱ ✿-हिजरत का आगाज़ _,*

★__ अगले साल कबीला खज़रज के 10 और कबीला औस के दो आदमी मक्का आए उनमें से पांच वो थे जो पहले साल उक़बा में आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम से मिल कर गए थे ।उन लोगों से भी आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने बैत ली ।आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनके सामने सूरह अन -निसा की आयात तिलावत फरमाई। 
बैत के बाद यह लोग वापस मदीना मुनव्वरा जाने लगे तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उनके साथ हजरत अब्दुल्लाह इब्ने मकतूम रज़ियल्लाहु अन्हु को भेजा । आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हजरत मुस'अब बिन उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु को भी उनके साथ भेजा ताकि वह नए मुसलमानों को दीन सिखाएं ,कुरान की तालीम दें ।उन्हें का़री कहा जाता था ।यह मुसलमानों में सबसे पहले आदमी हैं जिन्हें क़ारी कहा गया।

★_हजरत मुस'अब बिन उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु ने वहां के मुसलमानों को नमाज़ पढ़ाना शुरू की, सबसे पहला जुमा भी इन्होंने ही पढ़ाया । जुमा की नमाज़ अगरचे मक्का में फर्ज़ हो चुकी थी लेकिन वहां मुशरिकीन की वजह से मुसलमान जुमा की नमाज़ अदा नहीं कर सके । सबसे पहला जुमा पढ़ने वालों की तादाद 40 थी ।

★_ हजरत मुस'अब बिन उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु ने मदीना मुनव्वरा में दीन की तब्लीग शुरू की तो हजरत सा'द बिन माज़ और उनके चाचा जाद भाई हजरत उसैद बिन हुज़ैर रजियल्लाहु अन्हु इनके हाथ पर मुसलमान हो गए। इनके इस्लाम लाने के बाद मदीना में इस्लाम और तेज़ी से फैलने लगा ।
इसके बाद हजरत मुस'अब बिन उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु हज के दिनों में वापस मक्का पहुंचे। मदीना मुनव्वरा में इस्लाम की कामयाबियों की खबर सुनकर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम बहुत खुश हुए । मदीना मुनव्वरा में जो लोग इस्लाम ला चुके थे उनमें से जो हज के लिए आए थे उन्होंने फारिग होने के बाद मीना में रात के वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से मुलाक़ात की। जगह और वक्त पहले ही तैय कर लिया गया था ।इन लोगों के साथ चुंकी मदीना से मुशरिक लोग भी आए हुए थे और उनसे इस मुलाक़ात को पोशीदा रखना था इसलिए यह मुलाक़ात रात के वक्त हुई।

★_यह आज रात कुल 73 मर्द और दो औरतें थी । मुलाक़ात की जगह उक़बा की घाटी थी, वहां एक एक दो दो करके जमा हो गए। इस मजमें में 11 आदमी क़बीला औस के थे, फिर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम तशरीफ लाए ।
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के चाचा हजरत अब्बास बिन अब्दुल मुत्तलिब रज़ियल्लाहु अन्हु भी साथ थे , उनके अलावा आपके साथ कोई नहीं था। हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु भी उस वक्त तक मुसलमान नहीं हुए थे । उस वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम गोया अपने चाचा के साथ आए थे ताकि इस मामले को खुद देखें।

एक रिवायत के मुताबिक उस मौके पर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु और हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु भी साथ आए थे।

★__ सबसे पहले हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने उनके सामने तकरीर की, उन्होंने कहा :- तुम लोग जो अहदों पैमान इनसे (रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम से ) करो उसको हर हाल में पूरा करना ,अगर पूरा ना कर सको तो बेहतर है कि कोई अहदो पैमान ना करो ।
इस पर उन हजरात ने वफादारी निभाने के वादे किए।

★_तब नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया:- तुम एक अल्लाह की इबादत करो और उसके साथ किसी को शरीक़ ना ठहरावो,... अपनी जा़त की हद तक यह कहता हूं कि मेरी हिमायत करो और मेरी हिफाज़त करो_,"
उस मौके पर एक अंसारी बोले :- हम हमेशा करें तो हमें क्या मिलेगा? 
आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- इसके बदले तुम्हें जन्नत मिलेगी ।
अब वह सब बोल उठे:- यह नफे का सौदा है हम इसे खत्म नहीं करेंगे।

★_ अब उन सबने नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से बैत की । हुज़ूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की हिफाज़त का वादा किया। हजरत बरा बिन मारूर रज़ियल्लाहु अन्हु ने कहा :- हम हर हाल में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का साथ देंगे ,आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की हिफाज़त करेंगे_,"
हजरत बरा बिन मारूर रजियल्लाहु अन्हु यह अल्फाज़ कह रहे थे कि अबुल हैसम बिन तैहान रजियल्लाहु अन्हु बोल उठे :- चाहे हम पैसे पैसे को मोहताज हो जाएं और चाहे हम क़त्ल कर दिया जाए, हम हर क़ीमत पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का साथ देंगे_,"

★_ उस वक्त हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु बोले :-  ज़रा आहिस्ता आवाज़ में बात करो.. कहीं मुशरीक आवाज़ ना सुन ले _," 
उस मौके पर अबुल हैसम रज़ियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ! हमारे और यहूदियों के दरमियान कुछ मुआहिदें हैं अब हम उनको तोड़ रहे हैं ,ऐसा तो नहीं होगा कि आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम हमें छोड़कर मक्का आ जाएं।
यह सुनकर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम मुस्कुराए और फरमाया :-  नहीं , बल्कि मेरा खून और तुम्हारा खून एक है ,जिससे तुम जंग करोगे उससे मैं जंग करूंगा, जिसे तुम पनाह दोगे उसे मैं पनाह दूंगा _,"
फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनसे 12 आदमी अलग किए । यह 9 खज़रज में से और तीन औस में से थे ,आपने इनसे फरमाया :-तुम मेरे जांनिसार हो ..मेरे नक़ीब हो _,"

इन 12 हजरात में यह शामिल थे :-  सा'द बिन उबादा,असद बिन रवाहा,  बरा बिन मारूर, अबुल हैसम बिन तैयहान, उसैद बिन हुज़ैर, अब्दुल्लाह बिन अमरु बिन हिज़ाम, उबादा बिन सामित और राफे बिन मालिक रजियल्लाहु अन्हुम।
इनमें से हर एक अपने अपने क़बीले का नुमाइंदा था । आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इन जांनिसारों से फरमाया :- तुम लोग अपनी अपनी क़ौम की तरफ से मेरे कफील हो जैसे ईसा अलैहिस्सलाम 12 हवारी उनके कफील थे और मैं अपनी क़ौम यानी मुहाजिरो की तरफ से कफील और जिम्मेदार हूं ।

 ★__ इस बैत को बैते उक़बा सानिया कहा जाता है । यह बहुत अहम थी ,इस बैत को के होने पर शैतान ने बहुत वावेला किया चीखा और चिल्लाया क्योंकि यह इस्लाम की तरक्की़ की बुनियाद थी।

★_ जब यह मुसलमान मदीना पहुंचे तो इन्होंने खुलकर अपने इस्लाम क़ुबूल करने का ऐलान कर दिया। एलानिया नमाज़े पढ़ने लगे । मदीना मुनव्वरा में हालात साज़गार देखकर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने मुसलमानों को मदीना मुनव्वरा की तरफ हिजरत करने का हुक्म दिया। कुरेश को जब यह पता चला कि नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने एक जंगजू क़ौम साथ नाता जोड़ लिया है और उनके यहां ठिकाना बना लिया है तो उन्होंने मुसलमानों का मक्का में जीना और मुश्किल कर दिया। तकालीफ देने का ऐसा सिलसिला शुरू किया कि अब तक ऐसा नहीं किया था। रोज़ बा रोज़ सहाबा की परेशानियां और मुसीबतें बढ़ती चली गई। कुछ सहाबा को दीन से फेरने के लिए तरह-तरह के तरीक़े आजमाए गए, तरह-तरह के आजा़ब दिए गए । आखिर सहाबा ने अपनी मुसीबतों की फरियाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से की और मक्का से हिजरत कर जाने की इजाज़त मांगी। हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम चंद दिन खामोश रहे, आखिर एक दिन फरमाया :- 
"_ मुझे तुम्हारी हिजरत गाह की खबर दी गई है ...वह यसरब है (यानी मदीना)_,"

★_और इसके बाद हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन्हें हिजरत करने की इजाज़त दे दी । इस इजाज़त के बाद सहाबा किराम एक एक दो दो करके छुप छिपा कर जाने लगे , मदीना की तरफ रवाना होने से पहले नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने अपने सहाबा के दरमियान भाईचारा फरमाया उन्हें एक दूसरे का भाई बनाया।

"_मसलन हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु और हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु के दरमियान भाईचारा फरमाया, इसी तरह हजरत हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु को हजरत ज़ैद बिन हारीसा रजियल्लाहु अन्हु का भाई बनाया,  हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु को हजरत अब्दुर्रहमान बिन औफ रजियल्लाहु अन्हु का भाई बनाया, हजरत उबादा बिन सामित रजियल्लाहु अन्हु और हजरत बिलाल रजियल्लाहु अन्हु  के दरमियान, हजरत मुस'अब बिन उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु और हजरत साद इब्ने अबी वक़ास  के दरमियान , हजरत अबु उबैदा बिन जराह रजियल्लाहु अन्हु और हजरत अबु हुजै़फा रजियल्लाहू अन्हू के गुलाम हजरत सालिम रजियल्लाहु अन्हु के दरमियान,  हजरत सईद बिन ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु और हजरत तलहा बिन उबैदुल्लाह रजियल्लाहु अन्हु के दरमियान और हजरत अली रजियल्लाहु अन्हु को खुद अपना भाई बनाया।

★_ मुसलमानों में से जिन सहाबा ने सबसे पहले मदीना की तरह हिजरत की ,वह रसूले अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के फूफी जाद भाई हजरत अबू सलमा अब्दुल्लाह बिन अब्दुल्लाह मखज़ूमी रज़ियल्लाहु अन्हु है, इन्होंने सबसे पहले तन्हा जाने का इरादा फरमाया, जब यह हफ्सां से  वापस मक्का आए थे तो इन्हें सख्त तकालीफ पहुंचाई गई थी। आखिर इन्होंने वापस हफ्सा जाने का इरादा कर लिया था मगर फिर इन्हें मदीना के लोगों के मुसलमान होने का पता चला तो यह रुक गए और हिजरत की इजाजत मिलने पर मदीना रवाना हो गए। मक्का से रवाना होते वक्त यह अपने ऊंट पर सवार हुए और अपनी बीवी उम्मे सलमा रजियल्लाहु अन्हा और अपने दूध पीते बच्चे को भी साथ सवार कर लिया । जब उनके ससुराल वालों को पता चला तो वह इन्हें रोकने के लिए दौड़े और रास्ते में जा पकड़ा, उनका रास्ता रोक कर खड़े हो गए ।
 
★__ उन्होंने इनके ऊंट की मुहार पकड़ी और बोले :-  ऐ अबू सलमा ! तुम अपने बारे में अपने मर्जी के मुख्तार हो मगर उम्मे सलमा हमारी बेटी है, हम यह गवारा नहीं कर सकते कि तुम इसे साथ ले जाओ _,"
यह कहकर उन्होंने उम्मे सलमा रजियल्लाहु अन्हा के ऊंट की लगाम खींच ली , उसी वक्त अबू सलमा के खानदान के लोग वहां पहुंच गए और बोले :- अबू सलमा का बेटा हमारे खानदान का बच्चा है जब तुमने अपनी बेटी को उसके क़ब्जे से छुड़ा लिया तो हम भी अपने बच्चे को इसके साथ नहीं जाने देंगे _,"

★__ यह कह कर उन्होंने बच्चे को छीन लिया । इस तरह उन जालिमों ने हजरत अबू सलमा रजियल्लाहु अन्हु को उनकी बीवी और बच्चे से जुदा कर दिया । अबू सलमा रजियल्लाहु अन्हु तन्हा मदीना मुनव्वरा पहुंचे ।
उम्मे सलमा रजियल्लाहु अन्हा शोहर और बच्चे की जुदाई के गम में रोजाना सुबह सवेरे मक्का से बाहर मदीना मुनव्वरा की तरफ जाने वाले रास्ते में जाकर बैठ जाती और रोती रहती । एक दिन उनका एक रिश्तेदार उधर से गुज़रा उसने उन्हें रोते देखा तो तरस आ गया। वह अपनी क़ौम के लोगों में गया और उनसे बोला :-  तुम्हें उस गरीब पर रहम नहीं आता... उसे उसके शौहर और बच्चे से जुदा कर दिया कुछ तो ख्याल करो ।
आखिर उनके दिल पसीज गए, उन्होंने उम्मे सलमा रजियल्लाहु अन्हा को जाने की इजाजत दे दी। यह खबर सुनकर अबू सलमा रजियल्लाहु अन्हु के रिश्तेदारों ने बच्चा उम्मे सलमा रजियल्लाहु अन्हा को दे दिया और उन्हें इजाज़त दे दी कि बच्चे को लेकर मदीना चली जाएं।

★__ उन्होंने मदीना की तरफ तन्हा सफर शुरू किया। रास्ते में हजरत उस्मान बिन तल्हा रज़ियल्लाहु अन्हु मिले, यह उस वक्त मुसलमान नहीं हुए थे। काबा के चाबी बरदार थे । यह सुलह हुदेबिया के मौक़े पर मुसलमान हुए थे। उनकी हिफाज़त की गर्ज़ से उनके ऊंट के साथ साथ चलते रहे यहां तक कि इन्हें कुबा में पहुंचा दिया।  फिर हजरत उस्मान बिन तल्हा रजियल्लाहु अन्हु यह कहते हुए रुखसत हो गए :- तुम्हारे शौहर यहां मौजूद हैं ।
इस तरह उम्मे सलमा रजियल्लाहु अन्हा मदीना पहुंची । आप पहली मुहाजिर खातून हैं जो शौहर के बगैर मदीना आईं, हजरत उस्मान बिन तल्हा रजियल्लाहु अन्हु ने उन्हें मदीना पहुंचाकर जो अज़ीम एहसान किया था इसकी बुनियाद पर कहा करती थी -मैंने उस्मान बिन तल्हा से ज्यादा नेक और शरीफ किसी को नहीं पाया।

★__ इसके बाद मक्का से मुसलमानों की मदीना आमद शुरू हुई , सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हु एक के बाद एक आते रहे ,अंसारी मुसलमान उन्हें अपने घरों में ठहराते, उनकी जरूरियात का ख्याल रखते , हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु और अयाश बिन अबू रबिया रज़ियल्लाहु अन्हु 20 आदमियों के एक काफ़िले के साथ मदीना पहुंचे। हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की हिजरत की खास बात यह है कि मक्का से छुपकर नहीं निकले बल्कि बाका़यदा ऐलान करके निकले । उन्होंने पहले खाना काबा का तवाफ किया फिर मका़में इब्राहिम पर 2 रकात नमाज अदा की , उसके बाद मुशरिकीन से बोले :- "_ जो शख्स अपने बच्चों को यतीम करना चाहता है अपनी बीवी को बेवा करना चाहता है या अपनी मां की गोद वीरान करना चाहता है वह मुझे जाने से रोक कर दिखाएं _,"

★_उनका यह ऐलान सुनकर सारे कुरेश को सांप सूंघ गया किसी ने उनका पीछा करने की जुर्रत ना की, वह बड़े वका़र से उन सबके सामने रवाना हुए ।

★__ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु भी हिजरत की तैयारी कर रहे थे , हिजरत से पहले वह आरज़ू किया करते थे कि नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के साथ हिजरत करें । वह रवानगी की तैयारी कर चुके थे, एक दिन हुजूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया :- अबू बकर ! जल्दी ना करो ,उम्मीद है मुझे भी इजाज़त मिलने वाली है_,"

★_ चुनांचे हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु रुक गए, उन्होंने हिजरत के लिए दो ऊंटनियां तैयार कर रखी थी उन्होंने उन दोनों को 800 दिरहम में खरीदा था और उन्हें 4 माह से खिला पिला रहे थे।
इधर मुशरिकीन ने जब यह देखा कि मुसलमान मदीना हिजरत करते जा रहे हैं और मदीना के रहने वाले बड़े जंगजू हैं वहां मुसलमान रोज़ ब रोज़ ताकत पकड़ते चले जाएंगे तो उन्हें खौफ महसूस हुआ कि अल्लाह के रसूल भी कहीं मदीने ना चले जाएं और वहां अंसार के साथ मिलकर हमारे खिलाफ जंग की तैयारी ना करने लगे तो वह सब जमा हुए और सोचने लगे कि क्या क़दम उठाएं ।

★_ यह कुरेश दारुल नदवा में जमा हुए थे, दारुल नदवा इनके मशवरा करने की जगह थी यह पहला पुख्ता मकान था जो मक्का में तामीर हुआ । कुरेश के इस मशवरे में शैतान भी शरीक हुआ वह इंसानी शक्ल में आया था और एक बूढ़े के रूप में था। सब्ज रंग की चादर ओढ़े हुए था वह दरवाजे पर आकर ठहर गया, उसे देखकर लोगों ने पूछा- आप कौन बुजुर्ग हैं ? उसने कहा मैं नजद का सरदार हूं आप लोग जिस गरज़ से यहां जमा हुए हैं मैं भी उसी के बारे में सुन कर आया हूं ताकि लोगों की बातें सुनूं और हो सके तो कोई मुफीद मशवरा भी दूं । 
इस पर कुरैश ने उसे अंदर बुला लिया ,अब उन्होंने मशवरा शुरू किया उनमें से कोई बोला :-
"_ उस शख्स ( यानी रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ) का मामला तुम देख ही चुके हो, अल्लाह की कसम, अब हर वक्त इस बात का खतरा है कि यह अपने नए और अजनबी मददगारों के साथ मिलकर हम पर हमला ना कर दे, लिहाजा मशवरा करके उसके बारे में कोई एक बात तय कर लो ।

★_ वहां मौजूद एक शख्स अबुल बख्तरी बिन हिशाम ने कहा :- उसे बेड़ियां पहनाकर एक कोठरी में बंद कर दो और उसके बाद कुछ अर्से तक इंतजार करो ताकि उसकी भी वही हालत हो जाए जो उस जैसे शायरों की हो चुकी है और यह भी उन्हीं की तरह मौत का शिकार हो जाए।
इस पर शैतान ने कहा :- हरगिज़ नहीं यह वह बिल्कुल गलत है यह खबर उसके साथियों तक पहुंच जाएगी वह तुम पर हमला करेंगे और अपने साथी को निकाल कर ले जाएंगे ,उस वक्त तुम्हें पछताना पड़ेगा लिहाज़ा कोई और तरकीब सोचो।

★__ अब उनमें बहस शुरू हो गई , असवद बिना रबिया ने कहा :-  हम उसे यहां से निकाल कर जला वतन कर देते हैं फिर यह हमारी तरफ से कहीं भी चला जाए । 
इस पर नजदी यानी शैतान ने कहा :- यह राय भी गलत है तुम देखते नहीं उसकी बातें किस कदर खूबसूरत हैं कितनी मीठी है वह अपना कलाम सुना कर लोगों के दिलों को मोह लेता है ।अल्लाह की कसम अगर तुमने उसे जला वतन कर दिया तो तुम्हें अमन नहीं मिलेगा यह कहीं भी जाकर लोगों के दिलों को मोह लेगा फिर तुम पर हमलावर होगा और तुम्हारी यह सारी सरदारी छीन लेगा लिहाजा कोई और बात सोचो।

★_इस पर अबू जहल ने कहा :-  मेरी एक ही राय है और इससे बेहतर और कोई नहीं हो सकती। सब ने कहा :- और वह क्या है?
सबने कहा :- आप लोग हर खानदान और हर क़बीले का एक-एक बहादुर और ताक़तवर नौजवान लें, हर एक को एक एक तलवार दें, उन सबको मोहम्मद पर हमला करने के लिए सुबह सवेरे भेजें, वह सब एक साथ उस पर अपनी अपनी तलवारों का एक भरपूर वार करें ..इस तरह उसे क़त्ल कर दें , इससे होगा यह कि उसके क़त्ल में सारे क़बीले शामिल हो जाएंगे लिहाजा मोहम्मद के खानदान वालों में इतनी ताकत नहीं होगी कि वह उन सब से जंग करें लिहाजा वह खून बहा (यानी फिदये की रक़म) लेने पर आमादा हो जाएंगे ,वह हम उन्हें दे देंगे। 
इस पर शैतान खुश होकर बोला:- हां , यह है आला राय ... मेरे ख्याल में इससे अच्छी राय कोई और नहीं हो सकती _,"
चुनांचे इस राय को सब ने मंजूर कर लिया।

★__ अल्लाह ताला ने फौरन जिब्राइल अलैहिस्सलाम को हुजूर अकरम सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम के पास भेज दिया उन्होंने अर्ज़ किया :- आप रोज़ाना जिस बिस्तर पर सोते हैं आज उस पर ना सोएं _,"
इसके बाद उन्होंने मुशरिकीन की साजिश की खबर दी । चुनांचे सुरह अल अन्फाल की आयत तीस में आता है :- 
(तर्जुमा )- और इस वाक्य़ का भी जिक्र कीजिए जब काफिर लोग आपकी निस्बत बुरी बुरी तदबीरे सोच रहे थे कि आया आपको क़ैद कर लें या क़त्ल कर डालें या जला वतन कर दें और वो अपनी तदबीरें कर रहे थे और अल्लाह अपनी तदबीर कर रहा था और सबसे मज़बूत तदबीर वाला अल्लाह है_,"

★_ गर्ज़ जब रात एक तिहाई गुज़र गई तो मुशरिकीन का टोला हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के घर तक पहुंच कर छुप गया ..वह इंतजार करने लगा कि कब वह सोएं और वह सब एकदम उन पर हमला कर दें । उनकी तादाद 100 थी। 

★_इधर हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हजरत अली रजियल्लाहु अन्हु से फरमाया :- तुम मेरे बिस्तर पर सो जाओ और मेरी यमनी चादर ओढ़ लो _,"
फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु को तसल्ली देते हुए फरमाया:- तुम्हारे साथ कोई ना खुशगवार वाक़िया पेश नहीं आएगा _,"

★_मुशरिकों के जिस गिरोह ने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के घर को घेर रखा था उनमें हकीम बिन अबुल आस, उक़बा बिन अबी मुईत, नसर् बिन हारिस, उसेद बिन खल्फ, ज़मा इब्ने असवद और अबू जहल भी शामिल थे । अबू जहल दबी आवाज़ में अपने साथियों से कह रहा था :- 
"_ मोहम्मद ( सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम) कहता है , अगर तुम उसके दीन को कुबूल कर लोगे तो तुम्हें अरब और अजम की बादशाहत मिल जाएगी और मरने के बाद तुम्हें दोबारा जिंदगी अता की जाएगी और वहां तुम्हारे लिए ऐसी जन्नतें होंगी ऐसे बागात होंगे जैसे उरदुन के बागात हैं , लेकिन अगर तुम मेरी पेरवी नहीं करोगे तो तुम सब तबाह हो जाओगे मरने के बाद दोबारा जिंदा किए जाओगे तो तुम्हारे लिए वहां जहन्नम की आग तैयार होगी उसमें तुम्हें जलाया जाएगा _,"

★_ नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उसके यह अल्फाज़ सुन लिए , आप यह कहते हुए घर से निकले :-  हां ! मैं यक़ीनन यह बात कहता हूं ।
इसके बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने मुट्ठी में कुछ मिट्टी उठाई और यह आयात तिलावत फरमाई :- 
"_ यासीन !  क़सम है हिकमत वाले कुरा़न की , बेशक आप पैगंबरों के गिरोहों में से हैं ,सीधे रास्ते पर हैं , यह क़ुरान ज़बरदस्त अल्लाह मेहरबान की तरफ से नाजि़ल किया गया है ताकि आप (पहले तो ) ऐसे लोगों को डराऐं जिनके बाप दादा नहीं डराऐ गये सो उसी से यह बेखबर हैं उनमें से अक्सर लोगों पर बात साबित हो चुकी है सो यह लोग ईमान नहीं लाएंगे , हमने उनकी गरदनों में तौक डाल दिए हैं,  फिर वह ठोडियों तक अड गए हैं जिससे उनके सर ऊपर को उठ गए हैं और हमने एक आड़ उनके सामने कर दी है और एक आड़ उनके पीछे कर दी हैं जिससे हमने उन्हें हर तरफ से घेर लिया है सो वो देख नहीं सकते _,"

★__ यह सूरह यासीन की आयत 1 से 9 तक का तर्जुमा है , इन आयात की बरकत से अल्लाह ताला ने कुफ्फार को वक्ती तौर पर अंधा कर दिया , वह आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को अपने सामने से जाते हुए ना देख सके।  हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने जो मिट्टी फैकी थी वह उन सब के सरों पर गिरी, कोई एक भी ऐसा ना बचा जिस पर मिट्टी ना गिरी हो।  
जब कु़रेश को पता चला कि हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उनके सरों पर ख़ाक डालकर जा चुके हैं तो वह सब घर के अंदर दाखिल हुए ,आप सल्लल्लाहो वाले वसल्लम के बिस्तर पर हजरत अली रजियल्लाहु अन्हु चादर ओढ़ कर सो रहे थे ,यह देखकर वह बोले :- खुदा की क़सम! यह तो अपनी चादर ओढ़े सो रहे हैं ।
लेकिन जब चादर उल्टी गई तो बिस्तर पर हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु नज़र आए, मुशरिकीन हैरतज़दा रह गए, उन्होंने हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु से पूछा :-तुम्हारे साहब कहां हैं ?
मगर उन्होंने कुछ ना बताया । तो वह हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु को मारते हुए बाहर ले आए और मस्जिदे हराम तक लाए कुछ देर तक उन्होंने उन्हें रोके रखा फिर छोड़ दिया ।

*📕_ सीरतुन नबी ﷺ _ क़दम बा क़दम (मुसन्निफ- अब्दुल्लाह फारानी)- जिल्द-२ सफा- ,*
 ╨─────────────────────❥
★_ Makka Se Gaar E Saur Tak _,"*

★__ Ab Huzoor  ﷺ Ko Hijrat ke Safar per rawana Hona tha , Unhone Hazrat Jibraiyl Alaihissalam se Puchha :- Mere Saath doosra Hijrat Karne wala kon Hoga ?
Jawab me Hazrat Jibraiyl Alaihissalam ne Kaha:- Abu Bakar Siddiq honge _,"

★__ Huzoor ﷺ us Waqt tak Chaadar oade hue they, isi Haalat me Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke ghar pahunche, Darwaze per dastak di to Hazrat Asma Raziyllahu Anha ne Darwaza khola aur Huzoor ﷺ Ko dekh Kar Apne Waalid Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko bataya k Rasulullah ﷺ Aaye Hai'n aur Chaadar oade hue Hai'n , Ye Sunte hi Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu bol uthe :- Allah ki qasam ! Is Waqt Aap ﷺ yaqinan Kisi khaas Kaam se Tashreef laye Hai'n_,"
Fir Unhone Aap ﷺ ko Apni chaarpa'i per bithaya ,Aap ﷺ ne irshad farmaya:- Doosre logo ko Yaha'n se utha do _,"
Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ne Hairaan ho Kar arz Kiya:- Ey Allah ke Rasool ! Ye to sab mere Ghar wale Hai'n _,"
Is per Aap ﷺ ne farmaya :- Mujhe Hijrat ki ijazat mil gayi hai _,"
Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu foran bol uthe:- Mere Maa'n Baap Aap per Qurban ,Kya Mai'n Aapke Saath ja'unga ?"
Jawab me Huzoor ﷺ ne irshad farmaya :- Haa'n ! Tum mere Saath Ja'oge _,"

★_ Ye Sunte hi maare Khushi ke Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu rone lage ,Hazrat Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha farmati Hai'n - Maine Apne Waalid ko rote dekha to Hairaan hui ...isliye k Mai'n us Waqt tak nahi jaanti thi k insaan Khushi ki vajah se bhi ro Sakta Hai,
Fir Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Aap per mere Maa'n Baap qurban ! Aap in Dono ountniyo'n me se ek le Le'n ,Maine inhe isi Safar ke liye Taiyaar Kiya hai _,"
Is per Huzoor ﷺ ne farmaya:- Mai'n ye qeemat de Kar le Sakta Hu'n,
Ye sun Kar Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu rone lage aur arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Aap per mere Maa'n Baap qurban ! Mai'n aur Mera sab Maal to Aap hi Ka hai _,"
Huzoor ﷺ ne Ek ountni le li _,"

★__ Baaz Rivayaat me aata hai k Huzoor ﷺ ne ountni ki qeemat di thi ,Us ountni Ka Naam Qaswa tha ,Ye Aap ﷺ ki wafaat tak Aapke paas hi rahi , Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ki khilafat me uski maut waqe hui_,

 ★_ Sayyada Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha farmati Hai'n k Humne un Dono ountniyo'n ko jaldi jaldi Safar ke liye Taiyaar Kiya ,Chamde ki ek theli me khane pine Ka Samaan rakh diya, Hazrat Asma Raziyllahu Anha ne Apni Chaadar faad Kar Uske Ek hisse se Naashte ki theli baandh di ,Doosre hisse se Unhone paani ke bartan Ka moonh band Kar diya, Is per Aan'Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- 
"_ Allah Ta'ala Tumhari is oadhni ke badle Jannat me do oadhniya'n dega _,"

★__ Oadhni ko faad Kar do Karne Ke Amal ki Buniyad per Hazrat Asma Raziyllahu Anha ko zaatul Nataqeen Ka laqab Mila Yani Do Oadhni wali ,Yaad rahe k Nataaq us dupatte ko Kaha jata hai jise Arab ki Aurte'n Kaam ke Dauraan Kamar ke gird baandh leti thi ,

★__ For Raat ke Waqt Huzoor ﷺ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ke Saath rawana hue aur Pahaad Saur ke paas pahunche ,Safar ke Dauraan Kabhi Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu Huzoor ﷺ ke aage chalne lagte to Kabhi Pichhe , Aan'Hazrat ﷺ ne daryaft farmaya :- Abu Bakar esa kyu Kar rahe ho ?
Jawab me Unhone arz Kiya :- Allah Ke Rasool ! Mai'n is khayal SE pareshan Hu'n k Kahi'n Raaste me koi Aapki ghaat me na betha ho _,"

★__ Us Pahaad me Ek Gaar tha ,Dono gaar ke dahane tak pahunche to Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Qasam hai us zaat ki Jisne Aapko Haq de Kar bheja ,Aap Zara thehre ,Pehle gaar me Mai'n dakhil ho'unga ,agar gaar me koi moozi keeda hua to Kahi'n Wo Aapko nuqsaan na pahuncha de _,"

★_ Chunache Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu gaar me dakhil hue, Unhone gaar ko Haatho se tatol Kar dekhna shuru Kiya, Jaha'n koi suraakh milta Apni Chaadar se ek tukda faad Kar usko band Kar dete _,

 ★__ is Tarah Unhone Tamaam Suraakh band Kar diye Magar ek Suraakh reh gaya aur usi me Saa'np tha , Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne us Suraakh per Apni Edi rakh di , iske baad Aan'Hazrat ﷺ gaar me dakhil hue ,idhar Saa'np ne Apne Suraakh per edi dekhi to us per dank maara ,
Takleef ki shiddat se Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki Aankho'n se Aa'nsu Nikal pade Lekin Unhone Apne moonh se Awaaz na nikalne di ,Isliye k us Waqt Aan'Hazrat ﷺ unke zaanu per sar rakh Kar so rahe they, Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Saa'np ke dasne ke bavjood Apne Jism ko Zara si bhi Harkat na di ...na Awaaz nikali k Kahi Huzoor ﷺ ki Aankh na khul Jaye , Taaham Aankh SE Aa'nsu nikalne ko wo Kisi Tarah na rok sake ...Wo Huzoor ﷺ per gire ,Unke girne se Huzoor ﷺ ki Aankh khul gayi,

★_ Aap ﷺ ne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki Aankho me Aa'nsu dekhe to Puchha :- Abu Bakar kya hua ?
Unhone Jawab diya :- Aap per mere Maa'n Baap qurban ,mujhe Saa'np ne das liya hai,
Aap ﷺ ne Apna Lu'abe dahan Saa'np ke kaate ki Jagah per laga diya ,Isse Takleef aur Zehar Ka Asar foran door ho gaya,

★__ Subeh hui , Aan'Hazrat ﷺ ko Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke jism per Chaadar Nazar na aayi ,To daryaft farmaya :- Abu Bakar ! Chaadar Kaha'n hai ?
Unhone bata diya :- Allah Ke Rasool ! Mai'ne Chaadar faad faad Kar is gaar ke Suraakh band kiye Hai'n, 
Aap  ﷺ ne Dua ke liye Haath utha diye aur farmaya :- Ey Allah ! Abu Bakar ko Jannat me Mera Saathi banana ,
Usi Waqt Allah Ta'ala ne wahi ke zariye khabar di k Aapki Dua qubool Kar li gayi hai ,

★_ Udhar Quresh ke log Nabi Akram ﷺ ki Talash me us gaar ke qareeb aa pahunche, Unme se Chand Ek jaldi SE aage badh Kar gaar me jhaankne lage ,Gaar ke dahane per Unhe Makdi Ka jaala Nazar Aaya ,Saath hi do jungli Kabootar Nazar Aaye , Us per unme SE ek ne Kaha :- is gaar me koi nahi hai , Ek rivayat me Yu'n Aaya hai unme Umayya bin Khalf bhi tha ,Usne Kaha :- is gaar ke andar ja Kar dekho ,
Kisi ne Jawab diya :- Gaar ke andar ja Kar dekhne ki kya zarurat hai ,Gaar ke moonh per Bahut jaale lage hue Hai'n...Agar Wo andar jaate to ye jaale baaqi na rehte , na Yaha'n Kabootar ke Ande Hote _,"

★_ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne jab in logo ko gaar ke dahane per dekha to Aap ro pade aur dabi Awaaz me bole :- Allah ki qasam ! Mai'n Apni Jaan ke liye nahi rota , Mai'n to isliye rota Hu'n k Kahi'n ye log Aapko Takleef na pahunchaye _,"
Is per Nabi Akram ﷺ ne irshad farmaya :- Abu Bakar ! Gam na karo ,Allah Hamare Saath hai _,"
Usi Waqt Allah Ta'ala ne Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke Dil ki Sukoon bakhs diya , In Halaat me Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko Pyaas mehsoos hui ,Unhone Aan'Hazrat ﷺ se iska Zikr Kiya...to Aapne irshad farmaya :- is gaar ke darmiyaan me Ja'o aur Paani pi lo _,"
Siddiqe Akbar Raziyllahu Anhu uth Kar gaar ke darmiyaan me pahunche , Waha'n Unhe itna Behatreen Paani Mila k Shehad SE zyada Meetha ,Doodh SE zyada Safed aur Mushk se zyada khushbu wala tha , Unhone usme SE Paani piya,

 ★_ Jab Woh waapas Aaye to Aan'Hazrat ﷺ ne unse farmaya :- Allah Ta'ala ne Jannat ki nehro ke nigraa'n Farishte ko Hukm farmaya k is gaar ke darmiyaan me jannatul firdaus se ek chashma jaari Kar de'n Taki tum usme SE Paani pi sako _,"
Ye sun Kar Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Hairaan hue aur Arz Kiya :- Kya Allah Ke Nazdeek Mera itna Muqaam hai _,"
Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Haa'n ! Balki Ey Abu Bakar ! Isse bhi Zyada hai , Qasam hai us zaat ki Jisne mujhe haq ke Paigaam ke Saath Nabi Bana Kar bheja hai , Wo Shakhs Jo Tumse bugz rakhe ,Jannat me dakhil nahi Hoga _,"

★__ Garz Quresh mayoos ho Kar Gaare Saur se hat Aaye aur Saahli ilaaqe ki taraf chale gaye, Saath hi Unhone elaan Kar diya :- Jo Shakhs Muhammad ya Abu Bakar ko giraftaar kare ya qatl kare ,Use So ount ina'am me diye Jayenge ,

★__ Aap ﷺ aur Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu us gaar me Teen din tak rahe ,is Dauraan unke paas Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke bete Abdullah Raziyllahu Anhu bhi aate jate rahe , Ye us Waqt Kam Umar they Magar Halaat ko samajhte they, Andhera failne ke baad ye gaar me aa jate aur Andhere Fajar ke Waqt waha'n se waapas aa jate , isse Quresh ye khayal Karte k inhone raat Apne Ghar me guzaari hai , is Tarah Quresh ke darmiyaan din Bhar Jo Baate Hoti ,Ye unko Sunte aur Shaam ko Aan'Hazrat ﷺ ke paas pahunch Kar bata dete _,

★__ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke Ek Gulaam Hazrat Aamir bin Fahira Raziyllahu Anhu they ,Ye Pehle Tufel naami ek Shakhs ke Gulaam they, Jab ye islam le Aaye to Tufel ne in per zulm dhaana shuru Kiya , is per Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ne usse inhe khareed Kar Azaad Kar diya, Ye Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ki Bakriya'n charaya Karte they, 
Ye bhi in Dino gaar tak aate jate rahe, Shaam ke Waqt Apni Bakriya'n le Kar waha'n pahunch jate aur Raat ko wahi rehte ,Subeh Andhere Hazrat Abdullah Raziyllahu Anhu ke Jane ke baad ye bhi waha'n SE Apni Bakriya'n usi Raaste SE waapas late Taki unke Qadmo ke nishanaat mit Jaye , in teen raato tak inka barabar Yahi mamool raha, ye esa Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki hidayat per Karte they, 
Hazrat Abdullah Raziyllahu Anhu ko bhi Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne hi ye Hukm diya tha k wo din bhar Quresh ki baate Suna kare aur Shaam ko Unhe bataya kare , Aamir bin Fahira Raziyllahu Anhu ko bhi hidayat thi k din Bhar Bakriya'n charaya kare aur Shaam ko gaar me unka Doodh pahunchaya kare ,

★__ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki beti Asma Raziyllahu Anha bhi Shaam ke Waqt unke liye Khana pahunchati thi ,
In teen ke alawa us gaar Ka pata Kisi Ko nahi tha ,Teen din aur teen Raat guzarne per Aan'Hazrat ﷺ ne Hazrat Asma Raziyllahu Anha se farmaya :- Ab tum Ali ke paas Ja'o, Unhe gaar ke bare me bata'o aur unse Kaho ,Wo Kisi Rehbar Ka intezam Kar de'n, Aaj Raat Ka Kuchh Pahar guzarne ke baad wo Rehbar Yaha'n aa Jaye _,"

★_ Chunache Hazrat Asma Raziyllahu Anha Sidhi Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ke paas aayi ,Unhe Aap ﷺ Ka paigaam diya ,Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ne foran Ujrat Ka Ek Rahbar Ka intezam Kiya ,Uska Naam Ariqat bin Abdullah Laysi tha , Ye Rahbar Raat ke Waqt waha'n pahuncha , Nabi Akram ﷺ ne Jo'nhi ount ki bilbilane ki Awaaz suni ,Aap foran Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke Saath gaar se nikal Aaye aur Rahbar ko pehchan liya ,Aap ﷺ aur Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Ounto'n per sawaar ho gaye ,

★__ Is Safar me Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Apne Bete Abdullah Raziyllahu Anhu ke zariye Apne Ghar se wo raqam bhi mangwa li thi Jo waha'n mojood thi ... Ye raqam Chaar Paanch Hazaar dirham thi , Jab Siddiqe Akbar Raziyllahu Anhu Musalman hue they to unke Paas Chalees Pachaas Hazaar dirham mojood they, Goya ye Tamaam daulat Unhone Allah Ke Raaste me kharch Kar di thi ,Jate Waqt bhi Ghar me Jo Kuchh tha ,mangwa liya ... unke Waalid Abu Qahafa Raziyllahu Anhu us Waqt tak Musalman nahi hue they,Unki Beenayi Khatm ho gayi thi...Wo Ghar Aaye to Apni Poti Hazrat Asma Raziyllahu Anha se Kehne lage :- 
"_ Mera Khayal hai ,Abu Bakar Apni aur Apne Maal ki vajah se tumhe musibat me daal gaye Hai'n ( Matlab ye tha k Jate hue saare Paise le gaye Hai'n )_,"
Ye sun Kar Hazrat Asma Raziyllahu Anha ne Kaha :- Nahi Baba ! Wo Hamare liye Badi Khayro Barkat Chhod gaye Hai'n _,"

★_ Hazrat Asma kehti Hai'n :- Uske baad Maine Kuchh Kankar Ek theli me daale aur unki taaq me rakh diya, Usme mere Waalid Paise rakhte they ,fir us theli per Kapda daal diya aur Apne Dada Ka Haath un per rakhte hue Maine Kaha :- Ye dekhiye ! Rupiye Yaha'n rakhe Hai'n _,"
Abu Kahafa Raziyllahu Anhu ne Apna Haath Rakh Kar mehsoos Kiya aur bole :- Agar Wo ye Maal Tumhare liye Chhod gaye Hai'n tab fikr ki koi Baat nahi ,ye Tumhare liye kaafi hai _,"
Haalanki Haqeeqat ye thi k Waalid Sahab Hamare liye Kuchh bhi nahi chhod gaye they,

 ★_ Nabi Akram ﷺ ke Hijrat Kar Jane ki khabar Ek sahabi Hazrat Hamza bin Jundub Raziyllahu Anhu ko Mili to Kehne lage :- Ab mere Makka me rehne ki koi vajah nahi _,"
Fir Unhone Apne Ghar walo ko bhi Saath chalne Ka Hukm diya, ye gharana Madina Munavvara ke liye Nikal khada hua , abhi Tan'iym ke Muqaam tak Pahuncha tha k Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu inteqal Kar gaye _,

★_ Is moqe per Allah Ta'ala ne Surah An Nisa ( Aayat -100)  me ye Aayat Naazil farmayi :- 
"_ Aur jo Shakhs Apne Ghar se is niyat se Nikal khada hua k Allah aur Rasool ki taraf Hijrat karega ,fir use maut aa pakde ,Tab bhi Uska Sawab Allah Ta'ala ke zimme Saabit ho gaya aur Allah bade magfirat Karne wale Hai'n, bade Rehmat Khane wale Hai'n _,"

★_ Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Ek martaba Hazrat Hassan bin Saabit Raziyllahu Anhu se farmaya :- Hassan kya tumne Abu Bakar ke bare me bhi koi shayr Kaha hai ?
Unhone arz Kiya:- Ji Haa'n _,"
Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Sunao , Mai'n Sunna Chahta Hu'n ,
Hazrat Hassan bin Saabit Raziyllahu Anhu Bahut bade Shayar they, unko Shayare Rasool Ka khitaab bhi Mila hai , Huzoor Akram ﷺ ki farma'ish per Unhone Jo do shayr sunaye unka Tarjuma ye Hai :- 
"_ Hazrat Abu Bakar Siddiq Jo do me ke doosre they , us Buland v baala gaar me they aur jab Pahaad per pahunch gaye to Dushman ne unke ird gird chakkar lagaye ,
Ye Aan'Hazrat ﷺ ke Aashiq zaar they Jesa k ek Duniya jaanti hai aur us ishqe Rasool me unka koi saani ya barabar nahi tha ,

★_ Ye shayr sun Kar Aan'Hazrat ﷺ muskurane lage , Yaha'n tak k Aapke Daa'nt mubarak Nazar Aaye, fir irshad farmaya :- Tumne sach Kaha Hassan , Wo ese hi Hai'n jesa k Tumne Kaha ,Wo gaar wale ke Nazdeek ( Yani mere Nazdeek) Sabse zyada pyaare Hai'n ,koi doosra Shakhs unki barabari nahi Kar Sakta ,

★_ Hazrat Abu Darda Raziyllahu Anhu farmate hai'n k ek Roz Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne mujhe Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu se aage chalte Dekha to irshad farmaya :- 
"_ Ey Abu Darda ,ye kya tum us Shakhs se aage chalte ho jo Duniya aur Aakhirat me Tumse Afzal hai , qasam hai us zaat ki Jiske qabze me Meri Jaan hai, Ambiya  v Mursaleen ke baad Abu Bakar SE zyada Afzal Aadmi per na Kabhi Suraj Tulu hua hai aur na guroob hua _,"

★_ Hazrat Abdullah bin Amru bin Aas Raziyllahu Anhu se rivayat hai k Maine Rasulullah ﷺ ko ye farmate hue Suna :- Mere paas Jibraiyl Aaye aur Kehne lage k Allah Ta'ala Aapko Hukm deta hai k Abu Bakar SE mashwara Kiya kijiye _,"
Hazrat Anas Raziyllahu Anhu se rivayat hai k Rasulullah ﷺ ne irshad farmaya :- Meri ummat per Abu Bakar ki Muhabbat waajib hai _,"

Ye Chand Ahadees Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ki shaan me isliye naqal Kar di gayi Hai'n k wo Nabi Kareem ﷺ ke Hijrat ke saati they aur ye Azeem Ezaaz hai ,

 *📕_ Seeratun Nabi ﷺ_Qadam Ba Qadam ( Writer- Abdullah Farani ) -Jild -2 Safa- ,,*      
 ╨─────────────────────❥                   
*┱✿_ मक्का से गारे सौर तक _,*

★__ अब हुजूर सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को हिजरत के सफर पर रवाना होना था, उन्होंने हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम से पूछा :- मेरे साथ दूसरा हिजरत करने वाला कौन होगा ? 
जवाब में हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने कहा- अबू बकर सिद्दीक होंगे ।

★_ हुजूर सल्लल्लाहु अलेही  वसल्लम उस वक्त तक चादर ओढ़े हुए थे इसी हालत में हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु  के घर पहुंचे ,दरवाजे पर दस्तक दी तो हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा ने दरवाज़ा खोला और हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को देखकर अपने वालिद हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को बताया कि रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम आए हैं वो चादर ओढ़े हुए हैं। यह सुनते ही अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु बोल उठे :- अल्लाह की क़सम ! इस वक़्त आप सल्लल्लाहु अलेही  वसल्लम यक़ीनन किसी खास काम से तशरीफ लाए हैं _,"
फिर उन्होंने आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को अपनी चारपाई पर बिठाया, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम  ने इरशाद फरमाया :- दूसरे लोगों को यहां से उठा दो _,"
हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने हैरान हो कर अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! यह तो सब मेरे घरवाले हैं । 
इस पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया:- मुझे हिजरत की इजाज़त मिल गई है। हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु फौरन बोल उठे :- मेरे मां-बाप आप पर कुर्बान ! क्या मैं आपके साथ जाऊंगा? 
जवाब में हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- हां , तुम मेरे साथ जाओगे _,"

★_ यह सुनते ही मारे खुशी के हजरत अबु बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु रोने लगे । हजरत आयशा सिद्दीका रजियल्लाहु अन्हा फरमाती हैं -मैंने अपने वालिद को रोते देखा तो हैरान हुई ... इसलिए कि मैं उस वक्त तक नहीं जानती थी कि इंसान खुशी की वजह से भी रो सकता है ।
फिर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! आप पर मेरे मां-बाप कुर्बान ! आप इन दोनों ऊंटनियों में से एक ले लें , मैंने इन्हें इसी सफर के लिए तैयार किया है_," 
इस पर हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फ़रमाया :- मैं यह क़ीमत देकर ले सकता हूं ।
यह सुनकर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु रोने लगे और अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! आप पर मेरे मां-बाप क़ुर्बान ! मैं और मेरा सब माल तो आप ही का है _,"
हुजूर सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने एक ऊंटनी ले ली ।

★_ बाज़ रिवायात में आता है कि और हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने ऊंटनी की क़ीमत दी थी । उस ऊंटनी का नाम क़सवा था । यह आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की वफात तक आपके पास हीं रही , हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की खिलाफत मे उसकी मौत वाक़े हुई ।

★_  सैयदा आयशा सिद्दीका रजियल्लाहु अन्हा फरमाती हैं कि हमने उन दोनों ऊंटनियों को जल्दी-जल्दी सफर के लिए तैयार किया ,चमड़े की एक थैली में खाने-पीने का सामान रख दिया। हजरत समा रज़ियल्लाहु अन्हा ने अपनी चादर फाड़कर उसके एक हिस्से से नाश्ते की थैली बांध दी दूसरे हिस्से से उन्होंने पानी के बर्तन का मुंह बंद कर दिया । इस पर आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- अल्लाह ताला तुम्हारी इस ओढ़नी के बदले जन्नत में दो ओढनियां देगा ।

★_ओढ़नी को फाड़ कर दो करने के अमल की बुनियाद पर हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा को जातुल नताक़ीन का लक़ब मिला, यानी दो ओढ़नी वाली। याद रखें कि नताक़ उस दुपट्टे को कहा जाता है जिसे अरब की औरतें काम के दौरान कमर के गिर्द बांध लेती है।

★__ फिर रात के वक्त हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के साथ रवाना हुए और पहाड़ सौर के पास पहुंचे, सफर के दौरान कभी हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु हुजूर सल्लल्लाहु अलेह वसल्लम के आगे चलने लगते तो कभी पीछे। आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने दरयाफ्त फरमाया :- अबू बकर ऐसा क्यों कर रहे हो ? जवाब में उन्होंने अर्ज़ किया :-  अल्लाह के रसूल ! मैं इस ख्याल से परेशान हूं कि कहीं रास्ते में कोई आपकी घात में ना बैठा हो _,"

★_उस पहाड़ में एक गार था, दोनों गार के दहाने तक पहुंचे तो हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :- क़सम है उस जा़त की जिसने आपको हक़ देकर भेजा ,आप जरा ठहरे पहले गार में मै दाखिल होउंगा अगर गार में कोई मूजी कीड़ा हुआ तो कहीं वह आपको नुकसान ना पहुंचा दे।

★_ चुनांचे हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाह हू अन्हु गार में दाखिल हुए । उन्होंने गार को हाथों से टटोल कर देखना शुरु, किया जहां कोई सुराख मिलता अपनी चादर से एक टुकड़ा फाड़कर उसको बंद कर देते।

: ★__ इस तरह उन्होंने तमाम सुराख बंद कर दिए मगर एक सुराख रह गया और उसी में सांप था । हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने उस सुराख पर अपनी ऐडी रख दी इसके बाद आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम गार में दाखिल हुए । उधर सांप ने अपने सुराख पर ऐड़ी देखी तो उस पर डंक मारा। तकलीफ की शिद्दत से हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की आंखों से आंसू निकल पड़े लेकिन उन्होंने अपने मुंह से आवाज़ ना निकलने दी इसलिए कि उस वक्त आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उनके जा़नू पर सर रखकर सो रहे थे , हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने सांप के डसने के बावजूद अपने जिस्म को ज़रा सी भी हरकत ना दी...ना आवाज निकाली कि कहीं हुजूर सल्लल्लाहो वसल्लम की आंख ना खुल जाए,  ताहम आंख से आंसू निकलने को वह किसी तरह ना रोक सके... वो हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम पर गिरे, उनके गिरने से हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की आंख खुल गई।

★_आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की आंखों में आंसू देखे तो पूछा :- अबू बकर क्या हुआ ? 
उन्होंने जवाब दिया:-  आप पर मेरे मां-बाप क़ुर्बान , मुझे सांप ने डस लिया है । 
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने अपना लुआबे दहन सांप के काटे की जगह पर लगा दिया,  इससे तकलीफ और ज़हर का असर फौरन दूर हो गया। 

★_सुबह हुई आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के जिस्म पर चादर नज़र ना आई तो दरयाफ्त फरमाया :- अबू बकर ! चादर कहां है ?
उन्होंने बता दिया :- अल्लाह के रसूल! मैंने चादर फाड़ फाड़ कर इस गार के सुराख बंद किए हैं। आप सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ने दुआ के लिए हाथ उठा दिए और फरमाया:- ऐ अल्लाह ! अबू बकर को जन्नत में मेरा साथी बनाना । 
उसी वक्त अल्लाह ताला ने वही के जरिए यह खबर दी कि आपकी दुआ कबूल कर ली गई है।

★_ उधर क़ुरेश के लोग नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की तलाश में उस गार के क़रीब आ पहुंचे, उनमें से चंद एक जल्दी से आगे बढ़कर गार में झांकने लगे, गार के दहाने पर उन्हें मकड़ी का जाला नजर आया साथ ही दो जंगली कबूतर नज़र आए । उस पर उनमें से एक ने कहा- इस गार में कोई नहीं है ।
एक रिवायत में यूं आया है, उनमें उमैया बिन खल्फ भी था उसने कहा :- इस गार के अंदर जाकर देखो। किसी ने जवाब दिया- गार के अंदर जाकर देखने की क्या ज़रूरत है गार के मुंह पर बहुत जाले लगे हुए हैं.. अगर वह अंदर जाते तो यह जाले बाक़ी ना रहते, ना यहां कबूतर के अंडे होते_,

★_हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने जब इन लोगों को गार के दहाने पर देखा तो आप रो पड़े और दबी आवाज़ में बोले :- अल्लाह की क़सम ! मैं अपनी जान पर भी नहीं रोता , मैं तो इसलिए रोता हूं कि कहीं यह लोग आपको तकलीफ ना पहुंचाएं ।
इस पर नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-  अबू बकर ! गम ना करो , अल्लाह हमारे साथ है ।
उसी वक्त अल्लाह ताला ने हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु के दिल को सुकून बख्श दिया। इन हालात में अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को प्यास महसूस हुई उन्होंने आन'हजरत सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम से इसका जिक्र किया.. तो आपने इरशाद फरमाया :- गार के दरमियान में जाओ और पानी पी लो _,"
सिद्दीके अकबर रजियल्लाहु अन्हु उठकर गार के दरमियान में पहुंचे वहां उन्हें इतना बेहतरीन पानी मिला कि शहद से ज़्यादा मीठा, दूध से ज़्यादा सफेद ,और मुश्क से ज़्यादा खुशबू वाला था। उन्होंने उस में से पानी पिया ।

: ★__ जब वह वापस आए तो आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनसे फरमाया अल्लाह ताला ने जन्नत की नहरों के निगरां फरिश्ते को हुकुम फरमाया कि इस गार के दरमियान में जन्नतुल फिरदोस से एक चश्मा जारी कर दें ताकि तुम उसमें से पानी पी सको । 
यह सुनकर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु हैरान हुए और अर्ज़ किया :- क्या अल्लाह के नज़दीक मेरा इतना मुकाम है ?
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया- हां ! बल्कि इससे भी ज़्यादा है । क़सम है उस ज़ात की जिसने मुझे हक़ के पैगाम के साथ नबी बनाकर भेजा है वह शक्स जो तुमसे बुग्ज़ रखें जन्नत में दाखिल नहीं होगा।

★_गर्ज़ क़ुरेश मायूस होकर गारे सोर से हट आए और साहली इलाक़े की तरफ चले गए साथ ही उन्होंने ऐलान कर दिया जो शख्स मोहम्मद या अबू बकर को गिरफ्तार करे या क़त्ल करे उसे सौ ऊंट इनाम में दिए जाएंगे।

★_आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम और अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु उस गार में तीन दिन तक रहे इस दौरान उनके पास हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु के बेटे अब्दुल्लाह रजियल्लाहु अन्हु भी आते जाते रहे। यह उस वक्त कम उमर थे मगर हालात को समझते थे ।अंधेरा फैलने के बाद यह गार में आ जाते और अंधेरे फजर के वक्त वहां से वापस आ जाते ,इससे कुरेश यह ख्याल करते कि इन्होंने रात अपने घर में गुजारी है , इस तरह कुरेश के दरमियान दिन भर जो बातें होती उनको सुनते और शाम को आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के पास पहुंच कर बता देते।

★_ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के एक गुलाम हजरत आमिर बिन फहीरा रजियल्लाहु अन्हु थे । यह पहले तुफैल नामी एक शख्स के गुलाम थे जब यह इस्लाम ले आए तो तुफैल ने इन पर ज़ुल्म ढाना शुरू किया , जिस पर हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु ने उससे इन्हें खरीदकर आज़ाद कर दिया।  यह हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु की बकरियां चराया करते थे । 
यह भी उन दिनों गार तक आते जाते रहे , शाम के वक्त अपनी बकरियां लेकर वहां पहुंच जाते और रात को वहीं रहते हैं सुबह अंधेरे हजरत अब्दुल्लाह रज़ियल्लाहु अन्हु के जाने के बाद यह भी वहां से अपनी बकरियां उसी रास्ते से वापस लाते ताकि उनके क़दमों के निशान मिट जाए। इन तीन रातों तक इनका बराबर यही मामूल रहा ,यह ऐसा हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की हिदायत पर करते थे,  हजरत अब्दुल्लाह रज़ियल्लाहु अन्हु को भी हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने यह हुक्म दिया था कि वह दिन भर क़ुरेश की बातें सुना करें और शाम को उन्हें बताया करें। आमिर बिन फहीरा रज़ियल्लाहु अन्हु को भी हिदायत थी कि दिनभर बकरियां चराया करें और शाम को गार में उनका दूध पहुंचाया करें।

★__ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की बेटी असमा रज़ियल्लाहु अन्हा शाम के वक्त उनके लिए खाना पहुंचाती थी, इन तीन के अलावा उस गार का पता किसी को नहीं था,  3 दिन और 3 रात गुज़रने पर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम में हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा से फरमाया :-  अब तुम अली के पास जाओ उन्हें गार के बारे में बताओ और उनसे कहो, वह किसी राहबर का इंतजाम कर दें, आज रात का कुछ पहर गुज़रने के बाद वह रहबर यहां आ जाए _,"

★_ चुनांचे हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा सीधी हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु के पास आई, उन्हें आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का पैगाम दिया, हजरत अली रजियल्लाहु अन्हु ने फौरन उजरत का एक राहबर का इंतजाम किया , उसका नाम अरिक़त बिन अब्दुल्लाह लैयसी था, यह राहबर रात के वक्त वहां पहुंचा। नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने जूंही ऊंट के बिलबिलाने की आवाज सुनी फौरन अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के साथ गार से निकल आए और राहबर को पहचान लिया , आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम और हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ऊंटों पर सवार हो गए।

★_ इस सफर में हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने अपने बेटे अब्दुल्लाह रजियल्लाहु अन्हु के जरिए अपने घर से वह रकम भी मंगवा ली थी जो वहां मौजूद थी.. यह रकम 4 -5 हज़ार दिरहम थी , जब सिद्दीके अकबर रजियल्लाहु अन्हु मुसलमान हुए थे तो उनके पास 40 -50 हज़ार दिरहम मौजूद थे गोया के तमाम दौलत उन्होंने अल्लाह के रास्ते में खर्च कर दी थी, जाते वक्त भी घर में जो कुछ था मंगवा लिया ...उनके वालिद अबू कहाफा रज़ियल्लाहु अन्हु उस वक्त तक मुसलमान नहीं हुए थे उनकी बिनाई खत्म हो गई थी, वह घर आए तो अपनी पौती हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा से कहने लगे :- 
"_ मेरा ख्याल है ,अबू बकर अपनी और अपने माल की वजह से तुम्हें मुसीबत में डाल गए हैं ,( मतलब यह था कि जाते हुए सारे पैसे ले गए है )_," 
यह सुन हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा ने कहा -नहीं बाबा वह हमारे लिए बड़ी खैरो बरकत छोड़ गए हैं_,"

★_ हजरत असमा कहती हैं :- उसके बाद मैंने कुछ कंकर एक थैली में डालें और उनको ताक में रख दिया , उसमें मेरे वालिद पैसे रखते थे फिर उस थेली पर कपड़ा डाल दिया और अपने दादा का हाथ उन पर रखते हुए मैंने कहा :- यह देखिए रुपए यहां रखे हैं ,
अबु कहाफा रज़ियल्लाहु अन्हु ने अपना हाथ रखकर महसूस किया और बोले :- अगर वह ये माल तुम्हारे लिए छोड़ गए हैं तो फिक् कीर कोई बात नहीं यह तुम्हारे लिए काफी है _,"
हालांकि हक़ीक़त यह थी कि वालिद साहब हमारे लिए कुछ भी नहीं छोड़ गए थे ।,*

 *📕_ सीरतुन नबी ﷺ _ क़दम बा क़दम (मुसन्निफ- अब्दुल्लाह फारानी)- जिल्द-२ सफा- ,*
 ╨─────────────────────❥
★_ 100 Ounto'n Ka ina'am _,*

★_ Gaar se nikal kar Hazrate Aqdas  ﷺ aur Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Ounto'n per sawaar hue aur Rahbar ke Saath Safar Shuru Kiya , Hazrat Aamir bin Fahira Raziyllahu Anhu bhi Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke Saath usi ount per sawaar they ,
Garz ye mukhtasar sa Qafila rawana hua , Rahbar Unhe Saahil Samandar ke Raaste se le Kar ja raha tha, Raaste me koi Milta aur Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu se puchhta ,ye Tumhare Saath kon Hai'n , To Aap Uske Jawab me farmate- mere Saath mere Rahbar Hai'n ,
Yani mere Saath mujhe Raasta dikhane wale Hai'n, unka Matlab tha k ye Deen Ka Raasta dikhane wale Hai'n Magar puchhne wale is gol mil Jawab se Yu'n samajhte k ye Koi Rahbar ( Guide ) Hai'n Jo Saath ja rahe Hai'n ,

★_ Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke is Tarah Jawab dene ki vajah ye thi k Nabi Kareem ﷺ ne hidayat di thi k Logo'n Ko mere paas se taalte rehna ,Yani agar koi mere bare me Puchhe to tum Yahi gol mol Jawab dena , Kyunki Nabi ke liye Kisi Soorat me Jhoot bolna munasib Nahi.... Chahe Kisi bhi lihaaz se ho , Chunache Jo Shakhs bhi Aap ﷺ ke bare me Sawal karta raha ,Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu Yahi Jawab dete , Reh gaye Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu...Wo in Raasto SE Aksar Tijarat ke liye jate rehte they, Unhe Aksar log jaante they, Unse Kisi ne ye nahi Puchha k Aap kon Hai'n ,

★__ idhar Quresh ne 100 Ounto'n Ka elaan Kiya tha , Ye elaan Suraqa bin Maalik Raziyllahu Anhu ne bhi Suna Jo us Waqt tak imaan nahi laye they, Suraqa Raziyllahu Anhu Khud Apni Kahani in Alfaz me sunate Hai'n ,
Maine ye elaan Suna hi tha k mere paas Saahli Basti Ka Ek Aadmi Aaya ,Usne Kaha k Ey Suraqa ,Maine Kuchh logo ko Saahil ke qareeb jate dekha hai aur Mera Khayal hai k wo Muhammad ( ﷺ) aur Unke Saathi Hai'n ,
Mujhe bhi Yaqeen ho gaya k wo Aan'Hazrat ﷺ aur Unke Saathi hi ho sakte Hai'n, Chunache Mai'n utha ,Ghar gaya aur Apni Baandi ko Hukm diya k Meri Ghodi nikaal Kar chupke SE Waadi me pahuncha de aur wahi thehar Kar Mera intezar kare , iske baad Maine Apna Neza nikaala aur Apne Ghar ke pichhli taraf Nikal Kar waadi me pahuncha , Is Raazdaari me Maqsad ye tha k Mai'n Akela hi Kaam Kar daalu aur So Ounto'n Ka ina'am haasil Kar Lu'n , Maine Apni zira bhi pehan li thi , Fir Mai'n Apni Ghodi per sawaar ho Kar us taraf rawana hua, Maine Apni Ghodi ko Bahut tez daudaya Yaha'n tak k Aakhir kaar Mai'n Aan'Hazrat ﷺ se Kuchh faasle per pahunch gaya ,

★__ Lekin Usi Waqt Meri Ghodi ko thokar lagi ,Wo moonh ke bal niche giri , Mai'n bhi niche gira ,Fir Ghodi uth Kar hinhinane lagi , Mai'n utha ,Mere Tarkash me faal ke Teer they , Ye Wo Teer they Jinse Arab ke log Faal nikaalte they , Unme SE Kisi Teer per Likha hota tha , Karo , aur Kisi per Likha hota tha, na karo , Maine unme se ek Teer liya aur Faal nikaali ....Yani Mai'n jaanna chahta tha ,ye Kaam karu'n ya na karu'n ...Faal mai inkaar nikla Yani ye Kaam na karo , Lekin ye Baat Meri marzi ke khilaf thi , Mai'n 100 Ounto'n Ka ina'am haasil Karna Chahta tha , na wala Teer nikalne ke bavjood Mai'n Ghodi per sawaar ho Kar Aage badha Yaha'n tak k Aan'Hazrat ﷺ ke Bahut qareeb pahunch gaya Jo k us Waqt Qurane Kareem ki tilawat Kar rahe they aur Pichhe mud Kar nahi dekh rahe they, Albatta Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu mud Kar Baar Baar dekh rahe they ,

★__ Usi Waqt Meri Ghodi ki agli Dono Taa'nge ghutno tak Zameen me dha'ns gayi , Halanki waha'n Zameen sakht aur Pathrili thi , Mai'n Ghodi se utra ...use daa'nta ..Wo khadi ho gayi Lekin uski Taa'nge abhi tak Zameen me dha'nsi hui thi Wo Zameen SE na nikli, 
Maine fir Faal nikaali, inkaar wala teer hi nikla , Aakhir Mai'n pukaar utha ,
"_Meri taraf dekhiye , Mai'n Aapko koi nuqsaan nahi pahunchaunga aur na Meri taraf se Aapko koi nagawaar Baat pesh aayegi .... Mai'n Suraqa bin Maalik Hu'n , Aapka Hamdard Hu'n ..
Aapko nuqsaan Pahunchane wala nahi Hu'n ... mujhe Maloom nahi k Meri Basti ke log bhi Aapki taraf rawana ho chuke Hai'n ya nahi _,"

★_ Ye Kehne se Mera Matlab ye tha ,agar Kuchh aur log is taraf aa rahe honge to Mai'n Unhe rok dunga , is per Aan'Hazrat ﷺ ne Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu se farmaya - isse puchho ,ye kya Chahta Hai ,
Ab Maine Unhe Apne bare me bataya ... Apne iraade ke bare me bata diya aur bola , bas Aap Dua Kar dijiye k Meri Ghodi ki Taa'nge Zameen SE Nikal Aaye ... Mai'n vaada karta Hu'n ,ab Aap Ka pichha nahi karunga ,
Nabi Kareem ﷺ ne Dua farmayi, Aapke Dua farmate hi Hazrat Suraqa Raziyllahu Anhu ki Ghodi ke Paanv Zameen se Nikal Aaye ,

★_ Ghodi ke Paanv Jo'nhi bahar aaye ,Suraqa Raziyllahu Anhu fir us per sawaar hue aur Aap ﷺ ki taraf bade ,Aap ﷺ ne Dua farmayi :- Ey Allah ! Hume isse Baaz rakh _,"
Is Dua ke Saath hi Ghodi Pet tak Zameen me dha'ns gayi ,Ab unhone Kaha -  Ey Muhammad ! Mai'n qasam kha Kar Kehta Hu'n...mujhe is musibat se nijaat dila de'n.. Mai'n Aapka Hamdard Saabit ho'unga _,"
Nabi Akram ﷺ ne irshad farmaya :- Ey Zameen ! Ise Chhod de _,"
Ye farmana tha k unki Ghodi Zameen se nikal aayi ..,

Baaz tafaseer me Likha hai k Suraqa Raziyllahu Anhu ne Saar martaba vaada khilafi ki ..har Baar esa hi hua ..Baaz Rivayaat me hai k esa teen Baar hua.. Aakhir Hazrat Suraqa Raziyllahu Anhu samajh gaye they Wo Aap ﷺ tak nahi pahunch sakte .. Chunache Unhone Kaha - Mai'n Aapka pichha nahi karunga..Aap mere Samaan me se Kuchh Lena Chahe to le Le'n.. Safar me Aapke Kaam aayega _,"
Huzoor ﷺ ne unse Kuchh Lene se inkaar Kar diya aur Farmaya :- tum bas Apne Aapko roke rakho aur Kisi Ko hum tak na aane do _,"
Aap ﷺ ne Suraqa Raziyllahu Anhu se ye bhi farmaya :- Ey Suraqa ! Us Waqt Tumhara kya haal Hoga jab Tumhe Kisra ke kangan pehnaye Jayenge _,"
Suraqa Raziyllahu Anhu ye sun Kar Hairaan hue aur bole :- Aapne kya farmaya .. Kisra Baadshah ke kangan mujhe pehnaye Jayenge_,"
Irshad farmaya:- Haa'n ! Esa hi Hoga _,"

★_ Aan'Hazrat ﷺ ki ye Hairat Angez Peshango'i thi ... Kyunki us Waqt esa hone Ka qata'n koi imkaan door door tak nahi tha , lekin fir Ek waqt Aaya k Hazrat Suraqa Raziyllahu Anhu Musalman hue ,Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ke Daur me jab Musalmano ko futuhaat per Futuhaat hui aur Iraan ke Baadshah Kisra ko shikast faash hui to us maale ganimat me Kisra ke kangan bhi they ,Ye Kangan Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne Hazrat Suraqa Raziyllahu Anhu ko pehnaye aur us Waqt Suraqa Raziyllahu Anhu ko Yaad Aaya k Nabi Kareem ﷺ ne Hijrat ke Waqt irshad farmaya tha :- Ey Suraqa ! Us Waqt Tumhara kya haal Hoga jab Tumhe Kisra ke kangan pehnaye Jayenge _,"

★_ Apne imaan lane ki tafseel Suraqa Raziyllahu Anhu Yu'n Bayan karte Hai'n :- 
"_ Jab Rasulullah ﷺ Hunain aur Taa'if ke mu'arko se Faarig ho chuke to Mai'n unse milne ke liye rawana hua , Unse Meri Mulaqaat Jo'arana ke Muqaam per hui , Mai'n Ansari Sawaro ke darmiyaan se Lashkar ke us hisse ki taraf rawana hua Jaha'n Aap ﷺ Apni ountni per Tashreef farma they , Maine Nazdeek pahunch Kar arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Mai'n Suraqa Hu'n _,"
Irshad farmaya :- qareeb aa Ja'o _,"
Mai'n Nazdeek Chala Aaya aur fir imaan le Aaya _,"

★_ Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne Kisra ke kangan mujhe pehnate hue farmaya tha :- Tamaam tareefe us zaate Baari Ta'ala ke liye Hai'n Jisne ye Cheeze Shaahe Iraan Kisra bin Hurmuz se chheen li Jo ye Kaha Karte tha , Mai'n insaano Ka Parwardigaar Hu'n _,"

★_ Ye Suraqa Nabi Akram ﷺ se maafi Milne ke baad waapas palte aur Raaste me Jo bhi Aap ﷺ ki Talash me aata hua Unhe Mila ,ye use ye keh Kar lautate rahe :- Mai'n us taraf hi se ho kar aa raha Hu'n ...udhar mujhe koi nahi mila ..aur log jaante hi Hai'n Mujhe Raasto ki Kitni pehchan hai _,

★_ Garz us Roz ye Qafila Tamaam Raat chalta raha... Yaha'n tak k chalte chalte Agle din Dopahar Ka Waqt ho gaya, Ab door door tak koi aata Jaata Nazar nahi aa raha tha , Ese me Saamne Ek Chattaan ubhri hui Nazar aayi , Uska Saaya kaafi door tak faila hua tha , Huzoor Akram ﷺ ne Us Jagah per padaav daalne Ka iraada farmaya, Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu sawaari se utre aur Apne Haatho se Jagah ko Saaf Karne lage Taki Aap ﷺ Chattaan ke Saaye me so sake'n , Jagah saaf Karne Ke baad Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Apni posteen waha bichha Di aur Arz Kiya :- Allah Ke Rasool ! Yaha'n so Jaye'n.. Mai'n pehra dunga..,"
Huzoor Akram ﷺ so gaye , ese me Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Ek charwahe ko Chattaan ki taraf aate Dekha .. Shayad Wo bhi saaye me Araam Karna Chahta tha ,

★__ Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu foran us taraf mude aur usse bole :- Tum kon ho ? 
Usne bataya :- Mai'n Makka Ka rehne wala Ek charwaha Hu'n _,"
Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu bole - Kya tumhari Bakriyo'n me koi Doodh wali bakri hai _,"
Jawab me Usne Kaha - Haa'n hai ,fir Wo Ek Bakri Saamne laya , Apne Ek bartan me Doodh Doha aur Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko diya , Wo Doodh Ka bartan uthaye Aap ﷺ ke paas Aaye Jo k us Waqt so rahe they, Unhone Aap ﷺ ko jagana munasib na samjha , Doodh Ka bartan liye us Waqt tak khade rahe Jab tak k Aap ﷺ jaag nahi gaye , Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Doodh me Paani ki Dhaar daali Taki Wo thanda ho Jaye , Fir khidmat me pesh Kiya aur Arz Kiya :- Ye Doodh pi Lijiye _,"
Aap ﷺ ne Doodh nosh farmaya aur Puchha :- Kya rawangi Ka Waqt ho gaya _,"
Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne arz Kiya :- Ji Haa'n , ho gaya hai_,"
   ╨─────────────────────❥
★_ १०० ऊंटों का इनाम _,"*

★_ गार से निकल हजरते अक़दस सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम और हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ऊंटों पर सवार हुए और राहबर के साथ सफर शुरू किया , हजरत आमिर बिन फहीरा रज़ियल्लाहु अन्हु भी हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु के साथ उसी ऊंट पर सवार थे।
गर्ज़ यह मुख्तसर सा काफिला रवाना हुआ, रहबर उन्हें साहिल समंदर के रास्ते से ले जा रहा था रास्ते में कोई मिलता और अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु से पूछता कि तुम्हारे साथ कौन है,  तो आप उसके जवाब में फरमाते मेरे साथ मेरे रहबर हैं यानी मेरे साथ मुझे रास्ता दिखाने वाले हैं।  उनका मतलब था कि यह दीन का रास्ता दिखाने वाले हैं मगर पूछने वाले इस गोलमोल जवाब से यूं समझते कि यह कोई राहबर (गाइड) है जो साथ जा रहे हैं।

★_अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के इस तरह जवाब देने की वजह यह थी कि नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही ने हिदायत दी थी कि लोगों को मेरे पास से टालते रहना यानी अगर कोई मेरे बारे में पूछे तो तुम यही गोलमोल जवाब देना क्योंकि नबी के लिए किसी सूरत में भी झूठ बोलना मुनासिब नहीं ..चाहे किसी भी लिहाज़ से हो, चुंनाचे जो शख्स भी आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के बारे में सवाल करता रहा हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु यही जवाब देते रहे .. अब रह गए अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु, वो इन रास्तों से अक्सर तिजारत के लिए जाते रहते थे उन्हें अक्सर लोग जानते थे उनसे किसी ने यह नहीं पूछा कि आप कौन हैं।

★_ इधर क़ुरेश ने १०० ऊंटों का ऐलान किया था, यह ऐलान सुराका बिन मालिक रज़ियल्लाहु अन्हु ने भी सुना जो उस वक्त तक ईमान नहीं लाए थे , सुराका बिन मालिक रज़ियल्लाहु अन्हु, वो खुद अपनी कहानी इन अल्फाज़ में सुनाते हैं।
 मैंने यह ऐलान सुना ही था कि मेरे पास साहिल बस्ती का एक आदमी आया, उसने कहा कि ऐ सुराका ! मैंने कुछ लोगों को साहिल के करीब जाते देखा है और मेरा ख्याल है कि वह मुहम्मद ( सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम) और उनके साथी हैं। मुझे भी यकीन हो गया कि वह आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम और उनके साथी ही हो सकते हैं ।चुंनाचे में घर गया और अपनी बांदी को हुक्म दिया कि मेरी घोड़ी निकालकर चुपके से वादी में पहुंचा दें और वहीं ठहर कर मेरा इंतजार करें । इसके बाद मैंने अपना नेजा निकाला ,घर के पिछली तरफ निकल कर वादी में पहुंचा । इस राजदारी में मक़सद यह था कि मैं अकेला ही काम कर डालूं और सौ ऊंटों का इनाम हासिल कर लूं , मैंने अपनी ज़िरा भी पहन ली थी फिर मैं अपनी घोड़ी पर सवार हो कर उस तरफ रवाना हुआ । मैंने अपनी घोड़ी को बहुत तेज़ दौड़ाया यहां तक कि आखिरकार मैं आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के कुछ फासले पर पहुंच गया।

★_लेकिन उसी वक्त मेरी घोड़ी को ठोकर लगी वह मुंह के बल नीचे गिरी, मैं भी नीचे गिरा। फिर घोड़ी उठकर हिन हिनाने लगी ,मैं उठा मेरे तरकस में फाल के तीर थे, यह वो तीर भे जिनसे अरब के लोग फाल निकालते थे , उनमें से किसी तीर पर लिखा होता था करो और किसी पर लिखा होता था ना करो।  मैंने उनमें से एक तीर लिया और फाल निकाली यानी मैं जानना चाहता था यह काम करूं या ना करूं । फाल में इंकार निकला यानी यह काम ना करो लेकिन यह बात मेरी मर्ज़ी के खिलाफ थी मैं सौ ऊंटों का इनाम हासिल करना चाहता था , ना वाला तीर निकलने के बावजूद मैं घोड़ी पर सवार होकर आगे बढ़ा यहां तक कि आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के बहुत क़रीब पहुंच गया जो कि उस वक्त क़ुरआने करीम की तिलावत कर रहे थे और पीछे मुड़कर नहीं देख रहे थे अलबत्ता हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु मुड़कर बार-बार देख रहे थे।

★_उसी वक्त मेरी घोड़ी की अगली दोनों टांगे घुटनों तक जमीन में धंस गई हालांकि वहां जमीन सख्त और पथरीली थी , मैं घोड़ी से उतरा उसे डांटा वह खड़ी हो गई लेकिन उसकी टांगे अभी तक जमीन में धंसी हुई थी वह जमीन से ना निकली, मैंने फिर फाल निकाली, इंकार वाला तीर ही निकला । फिर मैं पुकार उठा -
"_ मेरी तरफ देखिए मैं आपको कोई नुकसान नहीं पहुंचाउंगा और ना मेरी तरफ से आपको कोई ना गवार बात पेश आएगी ..मैं सुराका बिन मालिक हूं ,आपका हमदर्द हूं, आप को नुकसान पहुंचाने वाला नहीं हूं ,मुझे मालूम नहीं कि मेरी बस्ती के लोग भी आपकी तरफ रवाना हो चुके हैं या नहीं _,"
 
★_यह कहने से मेरा मतलब यह था ,अगर कुछ और लोग इस तरफ आ रहे होंगे तो मैं उन्हें रोक दूंगा । इस पर आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु से फरमाया :- इससे पूछो यह क्या चाहता है ।
अब मैंने उन्हें अपने बारे में बताया ...अपने इरादे के बारे में बता दिया और बोला बस आप दुआ कर दीजिए कि मेरी घोड़ी की टांगे जमीन से निकल आए ...मैं वादा करता हूं अब आपका पीछा नहीं करूंगा।
नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने दुआ फरमाई, आपके दुआ फरमाते ही हजरत सुराक़ा रज़ियल्लाहु अन्हु की घोड़ी के पांव ज़मीन से निकल आए।

★_घोड़ी के पांव जोंही बाहर आए सुराका़ रजियल्लाहु अन्हु फिर उस पर सवार हुए और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की तरफ बढ़े। आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने दुआ फरमाई :-  ऐ अल्लाह ! हमें इससे बाज़ रख । इस दुआ के साथ ही घोड़ी पेट तक जमीन में धंस गई। अब उन्होंने कहा :- ऐ मोहम्मद ! मैं क़सम खाकर कहता हूं ..मुझे इस मुसीबत से निजात दिला दें.. मैं आपका हमदर्द साबित होउंगा_," 
नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- ऐ ज़मीन इसे छोड़ दे । 
यह फरमाना था कि उनकी घोड़ी जमीन से निकल आई ।

बाज़ तफासीर में लिखा है कि सुराका़ रजियल्लाहु अन्हु ने सात मर्तबा वादाखिलाफी की , हर बार ऐसा ही हुआ । बाज़ रिवायात में है ऐसा 3 बार हुआ ... आखिर हजरत सुराक़ा रज़ियल्लाहु अन्हु समझ गए थे, वो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम तक नहीं पहुंच सकते । चुंनाचे उन्होंने कहा :- मैं आपका पीछा नहीं करूंगा ..आप मेरे सामान में से कुछ लेना चाहे तो ले लें.. सफर में आपके काम आएगा। 
हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनसे कुछ लेने से इनकार कर दिया और फरमाया :- तुम बस अपने आप को रोके रखो और किसी को हम तक ना आने दो_,"
आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने सुराक़ा रज़ियल्लाहु अन्हु से यह भी फरमाया :- ऐ सुराक़ा ! उस वक्त तुम्हारा क्या हाल होगा जब तुम्हें किसरा के कंगन पहनाए जाएंगे_," 
सुराक़ा रज़ियल्लाहु अन्हु यह सुनकर हैरान हुए और बोले :- आप ने क्या फरमाया ..किसरा बादशाह के कंगन मुझे पहनाए जाएंगे _,"
इरशाद फरमाया :- हां , ऐसा ही होगा।

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की यह हैरतअंगेज पैशनगोई थी क्योंकि उस वक्त ऐसा होने का क़त'न कोई इमकान दूर तक नहीं था लेकिन फिर एक वक्त आया कि हजरत सुराक़ा रज़ियल्लाहु अन्हु मुसलमान हुए , हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु के दौर में जब मुसलमानों को फुतुहात पर फुतुहात हुई और ईरान के बादशाह किसरा को शिकस्त पाश हुई तो उस माले गनीमत में किसरा के कंगन भी थे , यह कंगन हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने हजरत सुराक़ा रज़ियल्लाहु अन्हु को पहनाए , और उस वक्त सुराक़ा रज़ियल्लाहु अन्हु को याद आया कि नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हिजरत के वक्त इरशाद फरमाया था :- ऐ सुराका़ ! उस वक्त तुम्हारा क्या हाल होगा जब तुम्हें किसरा के कंगन पहनाए जाएंगे ।

★__ अपने ईमान लाने की तफसील सुराका रज़ियल्लाहु अन्हु यूं बयान करते हैं :- जब रसूल करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम हुनैन और ताइफ के मो'रको से फारिग हो चुके तो मैं उनसे मिलने के लिए रवाना हुआ उनसे मेरी मुलाकात जोराना के मुकाम पर हुई । मैं अंसारी सवारों के दरमियान से लश्कर के उस हिस्से की तरह रवाना हुआ जहां आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम अपनी ऊंटनी पर तशरीफ फरमा थे, मैंने नजदीक पहुंचकर अर्ज किया :- ऐ अल्लाह के रसूल मैं सुराक़ा  हूं।
इरशाद फरमाया -क़रीब आ जाओ ।
मैं नजदीक चला आया और फिर ईमान ले आया।

★_हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने किसरा के कंगन मुझे पहनाते हुए फरमाया था- तमाम तारीफें उस जाते बारी ताला के लिए हैं जिसने यह चीजें शाहे ईरान किसरा बिन हुरमुज़ से छीन ली जो यह कहा करता था मैं इंसानों का परवरदिगार हुं ।

★_ यह सुराक़ा नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से माफी मिलने के बाद वापस पलटे और रास्ते में जो भी आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की तलाश में आता हुआ इन्हें मिला उसे यह कहकर लौटाते रहे ,मैं उस तरफ से ही होकर आ रहा हूं.. उधर मुझे कोई नहीं मिला.. और लोग जानते ही हैं मुझे रास्तों की कितनी पहचान है_,"

★_गर्ज़ उस रोज़ यह काफिला तमाम रात चलता रहा यहां तक कि चलते-चलते अगले दिन दोपहर का वक्त हो गया अब दूर दूर तक कोई आता-जाता नजर नहीं आ रहा था ऐसे में सामने एक चट्टान उभरी हुई नजर आई उसका साया काफी दूर तक फैला हुआ था। हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उस जगह पर पड़ाव डालने का इरादा फरमाया । हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु सवारी से उतरे और अपने हाथों से जगह को साफ करने लगे ताकि आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम चट्टान के साए में सो सके । जगह साफ करने के बाद हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने अपनी पोस्तीन ( चमड़े की खाल )वहां बिछा दी और अर्ज किया :-अल्लाह के रसूल ,यहां सो जाएं मैं पहरा दूंगा ।
हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम सो गए, ऐसे में हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु ने एक चरवाहे को चट्टान की तरफ आते देखा ,शायद वह भी साए में आराम करना चाहता था।

★_अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु फौरन उस तरफ मुड़े और उससे बोले- तुम कौन है ? उसने बताया- मैं मक्का का रहने वाला एक चरवाहा हूं। हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु बोले -क्या तुम्हारी बकरियों में कोई दूध वाली बकरी है ,जवाब में उसने कहा- हां है , फिर वह एक बकरी सामने लाया अपने एक बर्तन में दूध दोहा और हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को दिया , वह दूध का वह बर्तन उठाए आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास आए जो कि उस वक्त सो रहे थे उन्होंने आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को जगाना मुनासिब न समझा दूध का बर्तन लिए उस वक्त तक खड़े रहे जब तक कि आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम जाग नहीं गए। हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने दूध में पानी की धार डाली ताकि वह ठंडा हो जाए फिर खिदमत में पेश किया और अर्ज किया- यह दूध पी लीजिए ।
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम में दूध नौश फरमाया और पूछा क्या रवानगी का वक्त हो गया। हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया- जी हां हो गया है।
 ╨─────────────────────❥
★_ Hazrat Umme Ma'abad Ke Kheme Per_,*

★__ Ab ye Qafila fir rawana hua ... Abhi Kuchh door hi gaye honge k Ek khema Nazar Aaya , Kheme ke Bahar Ek Aurat bethi thi , Ye Umme Ma'abad Raziyllahu Anha thi ,Jo us Waqt tak islam ki Dawat se Mehroom thi , Inka Naam Aatika tha , Ye Ek Bahadur aur Shareef Khatoon thi ,
Unhone bhi Aane walo ko dekh liya , Us Waqt Umme Ma'abad Raziyllahu Anhu ko ye Maloom nahi tha k ye Chhota sa Qafila kin Hastiyo'n Ka Hai , Nazdeek aane per Huzoor ﷺ  Ko Umme Ma'abad Raziyllahu Anha ke paas Ek Bakri khadi Nazar aayi ..Wo Bahut hi Kamzor aur dubli patli si Bakri thi , Aap ﷺ ne Umme Ma'abad Raziyllahu Anha se daryaft farmaya - Kya iske thano me Doodh hai ?
Umme Ma'abad Raziyllahu Anha boli :- is Kamzor aur mariyal Bakri ke thano me Doodh Kaha'n se aayega _,"
Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Kya tum mujhe isko dohne ki ijazat dogi _,"
Is per Umme Ma'abad Raziyllahu Anha boli :- Lekin ye to abhi wese bhi Doodh dene wali nahi hui ... Aap khud sochiye ye Doodh kis Tarah de Sakti hai...Meri taraf se ijazat hai ,Agar isse Aap Doodh nikaal sakte Hai'n to nikaal Lijiye _,"

★__ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu us Bakri ko Huzoor Akram ﷺ ke paas le aaye , Huzoor ﷺ ne uski Kamar aur Thano per Haath faira aur Dua ki :- Ey Allah ! Is Bakri me Hamare liye Barkat ata farma _,"
Jo'nhi Aap ﷺ ne ye Dua maangi .. Bakri ke than Doodh SE Bhar gaye aur unse Doodh tapakne laga _,
Ye nazara dekh Kar Umme Ma'abad Raziyllahu Anha Hairat zada reh gayi ,

★__ Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Ek Bartan Lao _,"
Hazrat Umme Ma'abad Raziyllahu Anha bartan utha layi ..Wo itna bada tha k usse 8 -10 Aadmi sairaab ho sakte they , Garz Huzoor ﷺ ne Bakri Ka Doodh nikaala , Aap ﷺ ne Wo Doodh Pehle Umme Ma'abad Raziyllahu Anha ko diya , Unhone khoob sayr ho Kar piya , Uske baad unke Ghar walo ne piya , Aakhir me Nabi Akram ﷺ ne khud Doodh nosh farmaya aur fir irshad farmaya :- Qaum ko pilane wala khud Sabse baad me pita hai _,"
Sabke Doodh pi Lene ke baad Aap ﷺ ne fir Bakri Ka Doodh nikaal Kar Umme Ma'abad Raziyllahu Anha ko de diya aur waha'n SE aage rawana hue ,

★__ Shaam ke Waqt Umme Ma'abad Raziyllahu Anha ke Shohar Abu Ma'abad Raziyllahu Anhu lote ,wo Apni Bakriyo'n ko charane ke liye gaye hue they, Kheme per pahunche to waha'n Bahut sa Doodh Nazar Aaya ..Doodh dekh Kar Hairaan ho gaye ,Bivi se bole :- Ey Umme Ma'abad ! Ye Yaha'n Doodh kesa rakha hai ...Ghar me to koi Doodh dene wali Bakri nahi hai ? 
Matlab ye tha k Yaha'n Jo Bakri thi ,Wo to Doodh de hi nahi Sakti thi ,Fir ye Doodh Kaha'n se Aaya ?
Hazrat Umme Ma'abad Raziyllahu Anha bole :- Aaj Yaha'n se ek Bahut Mubarak Shakhs Ka guzar hua tha _,"
Ye sun Kar Hazrat Abu Ma'abad Raziyllahu Anhu aur Hairaan hue ,fir bole :- Unka Huliya bata'o _,"
Jawab me Umme Ma'abad Raziyllahu Anha ne Kaha :- 
"_ Unka Chehra Noorani tha , Unki Aankhe unki Lambi Palko ke niche chamakti thi ,Wo gehri Syaah thi , Unki Awaaz me narmi thi ,Wo darmiyane qad ke they ( Yani chhote qad ke nahi they ) ,na Bahut zyada lambe they , Unka Kalaam esa tha Jese Kisi ladi me Moti piro diye gaye ho , Baat Karne Ke baad jab Khamosh Hote they to un per Ba Waqaar Sanjeedgi Hoti thi , Apne Saathiyo'n ko Kisi Baat Ka Hukm dete they to Wo jald az jald usko Poora Karte they , Wo Unhe Kisi Baat se rokte they to foran ruk jate they, Wo intehayi Khush Akhlaaq they , Unki Gardan se Noor ki kirne footti thi ,Unke Dono Abro mile hue they, Baal Nihayat Syaah they , Wo door se dekhne per Nihayat shandaar aur qareeb se dekhne per Nihayat Haseen v Jameel lagte they, Unki taraf Nazar padti to fir Doosri Taraf hat nahi Sakti thi , Apne Saathiyo'n me wo Sabse zyada Haseen v Jameel aur Ba roab they , Sabse zyada Buland martaba they ,

★__ Hazrat Umme Ma'abad Raziyllahu Anha Ka Bayan Karda Huliya sun Kar unke Shohar bole :- Allah ki qasam ! Ye Huliya aur Sifaat to unhi Qureshi Buzurg ki hai ,Agar Mai'n us Waqt Yaha'n hota to Zaroor unki Pervi Akhtyar Kar leta aur Mai'n ab iski Koshish karunga _,"
Chunache rivayat me aata hai k Hazrat Umme Ma'abad aur Hazrat Abu Ma'abad Raziyllahu Anhum Hijrat Kar ke Madina Munavvara Aaye they aur Unhone islam qubool Kiya tha ,
Hazrat Umme Ma'abad Raziyllahu Anha ki Jis Bakri Ka Doodh Aap ﷺ ne doha tha ,Wo Bakri Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki khilafat ke zamane tak zinda rahi ,

Safa-290

 ╨─────────────────────❥
★_ हज़रत उम्मे मा'बद के खेमे पर _,*

★__ अब यह काफिला फिर रवाना हुआ अभी कुछ दूर ही गए होंगे कि एक खेमा नजर आया, खेमे के बाहर एक औरत बैठी थी यह उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा थी जो उस वक्त तक इस्लाम की दावत से महरूम थी। उनका नाम आतीका था ,यह एक बहादुर और शरीफ खातून थी,
उन्होंने भी आने वालों को देख लिया,  उस वक्त उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा  को यह मालूम नहीं था कि यह छोटा सा काफिला किन हस्तियों का है, नजदीक आने पर हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा  के पास एक बकरी खड़ी नजर आई वह बहुत ही कमजोर और दुबली पतली सी बकरी थी। आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा से दरियाफ्त किया -क्या इसके थनों में दूध है? 
उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा  बोली -इस कमजोर और मरियल बकरी के थन में दूध कहां से आएगा। 
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया -क्या तुम मुझे इसको दोहने की इजाजत दोगी । इस पर उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा  बोली -लेकिन यह तो अभी वैसे भी दूध देने वाली नहीं हुई.. आप खुद सोचिए दूध किस तरह दे सकती है ,मेरी तरफ से इजाजत है अगर इससे आप दूध निकाल सकते हैं तो निकाल लीजिए।

★_हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु उस बकरी को सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास ले आए। हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उस बकरी की कमर और थनों पर हाथ फेरा और दुआ की :- ऐ अल्लाह ! इस बकरी में हमारे लिए बरकत अता फरमा । 
ज्यूंही आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने यह दुआ मांगी ,बकरी के थन दूध से भर गए और उनसे दूध टपकने लगा , यह नज़ारा देख कर उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा हैरत ज़दा रह गई।

★_ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया - एक बर्तन लाओ । 
हजरत उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा  एक बर्तन उठा लाई, वह इतना बड़ा था कि उससे 8-10 आदमी सैराब हो सकते थे । गर्ज़ हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने बकरी का दूध निकाला ,  उसके थनों में दूध बहुत भर गया था,  आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वह दूध पहले उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा को दिया,  उन्होंने खूब सैर हो कर पिया,  उसके बाद उनके घर वालों ने पिया , आखिर में नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने दूध नोश फरमाया और फिर इरशाद फरमाया :- क़ौम को पिलाने वाला खुद सबसे बाद में पीता है _,"
सबके दूध पी लेने के बाद आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फिर बकरी का दूध निकाल कर उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा को दे दिया और वहां से आगे रवाना हुए।

★_ शाम के वक्त उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा के शौहर अबू मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हु लौटे ,वह अपनी बकरियों को चराने के लिए गए हुए थे , खेमे पर पहुंचे तो वहां बहुत सा दूध नज़र आया ,दूध देखकर हैरान हो गए , बीवी से बोले :-  ऐ उम्मे मा'बद ! यहां दूध कैसा रखा है घर में तो कोई दूध देने वाली बकरी नहीं है _",
मतलब यह था कि यहां जो बकरी थी वह तो दूध दे ही नहीं सकती थी फिर यह दूध कहां से आया। हजरत उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा बोली :- आज यहां एक बहुत मुबारक शख्स का गुज़र हुआ था । 
यह सुनकर हजरत अबू मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हू और हैरान हो गए , फिर बोले उनका हुलिया तो बताओ ।
जवाब में उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा  ने कहा :- 
"_ उनका चेहरा नूरानी था उनकी आंखें उनकी लंबी पलकों के नीचे चमकती थी वह गहरी सियाह थी उनकी आवाज में नरमी थी वह दरमियानी क़द के थे (यानी छोटे कद के नहीं थे ) ना बहुत ज्यादा लंबे थे उनका कलाम ऐसा था जैसे किसी लड़ी में मोती पिरो दिए गए हों बात करने के बाद जब खामोश होते थे तो उन पर बा वका़र संजीदगी होती थी अपने साथियों को किसी बात का हुक्म देते थे तो वह जल्द से जल्द उसको पूरा करते थे वह उन्हें किसी बात से रोकते थे तो फौरन रुक जाते थे वह इंतेहाई खुश अखलाक़ थे उनकी गर्दन से नूर की किरणें फूटती थी उनके दोनों अब्रो मिले हुए थे बाल निहायत सियाह थे वह दूर से देखने पर निहायत शानदार और क़रीब से देखने पर निहायत हसीन व जमील लगते थे उनकी तरफ नज़र पड़ती तो फिर दूसरी तरफ हट नहीं सकती थी अपने साथियों में वह सबसे ज्यादा हसीन व जमील और बा रौब थे सबसे ज्यादा बुलंद मर्तबा थे _,"

★_ हजरत उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा का बयान करदा हुलिया सुनकर उनके शौहर बोले :- अल्लाह की क़सम ! यह हुलिया और सिफात तो उन्हीं कुरेशी बुजुर्ग की है अगर मैं उस वक्त यहां होता तो जरूर उनकी पैरवी अख्तियार कर लेता और मैं अब इसकी कोशिश करूंगा _,"
चुनांचे रिवायत में आता है कि हजरत उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा और हजरत अबू मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हु हिजरत करके मदीना मुनव्वरा आए थे और उन्होंने इस्लाम कुबूल किया था।
 हजरत उम्मे मा'बद रज़ियल्लाहु अन्हा की जिस बकरी का दूध आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने दोहा था वह बकरी हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की खिलाफत के जमाने तक जिंदा रही ।
 सफा 290
 ╨─────────────────────❥
*★_ Madina munavvara me Aamad _,*

★__ Udhar Makka me Jab Quresh ko Nabi Kareem ﷺ Ka Kuchh pata na Chala to Wo log Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke Darwaze per Aaye , Unme Abu Jahal bhi tha , Darwaze per dastak di gayi to Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki Badi beti Hazrat Asma Raziyllahu Anha bahar nikli ,Abu Jahal ne Puchha :- Tumhare Waalid Kaha'n Hai'n ?
Wo Boli - mujhe nahi Maloom ,
Ye sun Kar Abu Jahal ne Unhe ek zordaar thappad maara , Thappad SE unke kaan ki  baali toot Kar gir gayi , is per bhi Hazrat Asma Raziyllahu Anha ne Unhe Kuchh na bataya , Abu Jahal aur Uske saathi badbadate hue nakaam lot gaye ,

★_ Idhar Madina Munavvara ke Musalmano ko ye khabar Mili k Allah Ke Rasool Makka Muazzama se Hijrat Kar ke Madina Munavvara ki taraf chal pade Hai'n...Ab to Wo Bechain ho gaye, intezar Karna unke liye Mushkil ho gaya, Rozana subeh savere Apne gharo se Nikal padte aur Hira ke Muqaam tak aa jate Jo Madina Munavvara ke Bahar Ek Pathrili Zameen hai , Jab Dopahar ho jati AUR dhoop me tezi aa Jati to mayoos ho Kar waapas lot aate , Fir Ek din esa hua ...Madina Munavvara ke log gharo se Maqaame Hira tak Aaye ,Jab kaafi Der ho gayi aur dhoop me tezi aa gayi to Wo fir waapas lotne lage , Ese me Ek Yahoodi Hira ke Ek ounche teele per chada ,Use Makka ki taraf se Kuchh Safed Libaas wale aate dikhayi diye , Us Qafile SE uthne wali gard SE Nikal Kar Jab Aan'Hazrat ﷺ waaze tor per Nazar Aaye to Wo Yahoodi pukaar utha:- Ey Giroh Arab ! Jinka tumhe intezar tha ,Wo log aa gaye _,"

★_ Ye Alfaz sunte hi Musalman waapas daude aur Hira ke Muqaam per pahunch gaye, Unhone Huzoor Aqdasﷺ aur Unke Saathiyo'n ko ek darakht ke saaye me Araam Karte paya , 
Ek Rivayat me hai k Paanch So SE Kuchh zyada Ansariyo ne Aap ﷺ Ka istaqbaal Kiya,
Waha'n se chal Kar Huzoor Aqdasﷺ Quba Tashreef laye , Us Roz Peer Ka din tha , Aap ﷺ ne Qabila Bani Amru bin Auf ke ek Shakhs Kulsoom bin Mu'adam Raziyllahu Anhu ke Ghar qayaam farmaya , Bani Amru Ka ye gharana Qabila Aus se tha , Unke bare me rivayat milti hai k Aap ﷺ ke Madina Munavvara Tashreef lane SE Pehle hi Musalman ho gaye they ,

★_ Quba me Huzoor ﷺ ne Ek Masjid ki buniyad rakhi , Uska Naam Masjide Quba rakha ,is Masjid ke bare me Ek Hadees me hai k Jis Shakhs ne Mukammal tor per wazu Kiya ,Fir Masjide Quba me Namaz padhi to use Ek Hajj aur Umrah Ka Sawab milega ..,"
Huzoor Aqdasﷺ Aksar is Masjid me Tashreef late rahe ,Is Masjid ki Fazilat me Allah Ta'ala ne Surah Tauba me Ek Aayat bhi Naazil farmayi ,
: ★_ Quba se Aap ﷺ Madina munavvara pahunche, Jo'nhi Aapki Aamad ki khabar Musalmano ko pahunchi ,Unki Khushi ki inteha na rahi , Hazrat Bar'a Raziyllahu Anhu farmate hai'n k Maine Madina walo ko Aan'Hazrat ﷺ ki Aamad per jitna Khush dekha utna Kisi aur moqe per nahi dekha...sab log Aap ﷺ ke Raaste me Dono Taraf ikatthe hue aur Aurte'n chhato per Chad gayi Taki Aapki Aamad Ka manzar dekh sake ,

★_ Aurte'n aur Bachche Khushi me ye Ash'aar Padhne lage :- 
*( Tarjuma ) :- Chodhvi Raat Ka Chaand hum per Tulu hua hai , Jab tak Allah Ta'ala ko pukaarne wala is sar Zameen per baqi hai ,Hum per is ni'amat Ka shukr Ada Karna waajib hai ,Ey Aane Shakhs Jo Humme Paigambar Bana Kar bheje gaye Hai'n Aap ese Ahkamaat le Kar Aaye Hai'n Jinki Pervi aur ita'at waajib hai_,"

★_ Raaste me Ek Jagah Huzoor ﷺ beth gaye , Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu Huzoor ﷺ ke paas khade ho gaye, Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu per budhape ke asaar Zaahir Hona shuru ho chuke they, Jabki Huzoor Aqdasﷺ Jawan Nazar aate they , Huzoor Aqdasﷺ ke Baal Syaah they ,Agarche Aap ﷺ Umar me Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu se Do Saal bade they ,
Ab hua ye k Jin logo ne Pehle Aap ﷺ ko nahi dekha tha , Unhone Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke bare me khayal Kiya k Allah Ke Rasool ye Hai'n aur Garam Joshi se unse Milne lage , Ye Baat Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ne foran mehsoos Kar li ...us Waqt tak dhoop bhi Huzoor Akram ﷺ per padne lagi thi, Chunache Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ne Apni Chaadar se Huzoor Akram ﷺ per Saaya Kar diya, Tab Logo'n ne jaana Allah Ke Rasool ye Hai'n ,

★_ Fir Nabi Kareem ﷺ us Jagah se rawana hue , Aap ﷺ ountni per sawaar they aur Saath Saath Bahut se log chal rahe they,Unme se kuchh sawaar they to Kuchh paidal ,Us Waqt Madina munavvara ke logo ki Zubaan per ye Alfaz they :- Allahu Akbar ! Rasulullah ﷺ Tashreef le Aaye _,"
Raaste me Aapki Khushi me Habshiyo'n ne Neza baazi ke kamalaat aur kartab dikhaye ...ese me Ek Shakhs ne Puchha :- Ey Allah ke Rasool ! Aap Jo Yaha'n se aage Tashreef le ja rahe Hai'n to kya Hamare gharo se Behtar koi Ghar chahte Hai'n ?
Uske Jawab me Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Mujhe Ek esi Basti me rehne Ka Hukm diya gaya hai Jo Doosri Bastiyo'n ko Fatah Kar legi _,"

★_ Ye Jawab sun Kar logo ne Nabi Kareem ﷺ ki ountni Ka Raasta Chhod diya ,Us Basti ke bare me sabko baad me Maloom ho gaya k wo Madina Munavvara hai ,
Madina Munavvara Ka pehla Naam Yasrib tha , Yasrib Ek Shakhs Ka Naam tha ,Wo Hazrat Nooh Alaihissalam ki Aulaad me se tha ,Madina Munavvara me Nabi Kareem ﷺ ki Aamad Juma ke Roz hui , Chunache us Roz pehla Juma padha gaya ,
: ★_ Juma ki ye Pehli Namaz Madina Munavvara ke Mohalle Bani Saalim ki Jis Masjid me Aapne Juma Ada Kiya ,Ab us Masjid ko "Masjide Juma " Kaha jata hai,Ye Quba ki taraf Jane wale Raaste ke baayi taraf hai , is Tarah ye Pehli Namaze Juma thi , Huzoor ﷺ ne is Namaz se Pehle khutba bhi diya tha, Is Pehle Khutbe me Jo Kuchh irshad farmaya, Uska Kuchh hissa ye tha :- 
"_ Pas Jo Shakhs Apne Aapko Jahannam ki Aag se bachana chahta hai to Zaroor bacha le ,Chahe wo aadhe chhuhare ke barabar hi kyu na ho ,Jise Kuchh bhi na aata ho Wo Kalma Tayyaba ko laazim Kar le , Kyunki Neki Ka Sawab doguna se le Kar Saat So guna tak Milta hai aur Salam ho Allah Ke Rasool per aur Allah ki Rehmat aur Barkat ho _,"

★_ Namaze Juma Ada Karne Ke baad Aan'Hazrat ﷺ Madina Munavvara  jane ke liye Apni ountni per sawaar hue aur uski lagaam dheeli Chhod di Yani use Apni marzi se chalne ki ijazat di , Ountni ne Pehle daaye aur baaye dekha ,Jese chalne se Pehle Faisla Kar rahi ho k kis simt me Jana hai, ese me Bani Saalim ke logo ( Yani Jinke Mohalle me Juma ki Namaz Ada ki gayi thi ) ne arz Kiya :- 
"_ Ey Allah ke Rasool ! Aap Hamare Yaha'n qayaam farmaiye , Yaha'n logo ki tadaad zyada hai , Yaha'n Aapki Poori Hifazat hogi ... Yaha'n daulat bhi hai ,Hamare paas hathiyar bhi Hai'n ..Hamare paas Bagaat bhi Hai'n aur Zindgi ki zarurat ki sab cheeze bhi mojood Hai'n _,"
Aap ﷺ unki Baat sun Kar muskuraye ,Unka shukriya Ada Kiya aur farmaya :- Meri ountni Ka Raasta Chhod do, ye Jaha'n Jana Chahe ise Jane do Kyunki ye mamoor hai _,"
Matlab ye tha k Allah Ta'ala ke Hukm se ountni khud chalegi aur use Apni manzil Maloom hai ,Aap ﷺ ne un Hazraat ko Dua di :- Allah Ta'ala tumhe Barkat ata farmaye_,"

★_ iske baad ountni rawana hui , Yaha'n tak k Bani Bayasa ke Mohalle me pahunchi , Yaha'n ke logo ne bhi Aap ﷺ se darkhwast ki k unke Yaha'n thehre'n ,Aap ﷺ ne Unhe bhi Wohi Jawab diya Jo Bani Saalim ko diya tha , isi Tarah Bani Sa'adah ke ilaaqe se guzre , in Hazraat ne bhi ye darkhwast ki ,Aap ﷺ ne Yahi Jawab farmaya, Ountni aage badi ,Ab ye Bani Adi ke Mohalle me dakhil hui , Yaha'n Aap ﷺ ke Daada Abdul Muttalib ki nanihaal thi ,Un logo ne arz Kiya :- Hum Aapke nanihaal wale Hai'n, isliye Yaha'n qayaam farmaiye, Yaha'n Aapki Rishtedari bhi hai ,Hum tadaad me bhi Bahut Hai'n ,Aapki Hifazat bhi badh Chadh Kar karenge ,Fir ye k hum Aapke Rishtedar bhi Hai'n,So Hume Chhod Kar na jaa'iye _,"

★_ Aap ﷺ ne Unhe bhi Wohi Jawab diya k ye ountni mamoor hai ,ise Apni manzil Maloom hai, Ountni aur aage badi aur usi Mohalle me Ek Jagah Beth gayi ,Ye Jagah Bani Maalik bin Najaar ke Mohalle ke paas thi aur Hazrat Abu Ayyub Ansari Raziyllahu Anhu ke Darwaze ke qareeb thi : ★_ Hazrat Abu Ayyub Ansari Raziyllahu Anhu Ka Naam khaalid bin Zaid Najaar Ansari tha ,Ye Qabila Khazraj ke they ,Bayte Uqba ke moqe per mojood they, Har moqe per Huzoor ﷺ ke Saath rahe , Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ke Daure khilafat me wo Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ke Bahut qareebi mu'awneen me se rahe , inki wafaat Yazeed ke Daur me Qustuntuniya ke Jihaad ke Dauraan hui ,

★_ Ountni beth gayi ,Abhi Aap ﷺ usse utre nahi they k wo Achanak fir khadi ho gayi ...Chand qadam chali aur thehar gayi..Aap ﷺ ne uski lagaam ba dastoor chhode rakhi thi, Ountni Uske baad waapas usi Jagah aayi Jaha'n Pehle bethi thi, Wo dobara usi Jagah beth gayi,Apni Gardan Zameen per rakh di aur moonh khole bager ek Awaaz nikali ,Ab Nabi Akram ﷺ usse utre,Saath hi farmaya :- 
"__ Ey mere Parwardigaar ! Mujhe mubarak jagah per utaarna aur Tu hi Behatreen Jagah thehrane wala Hai _,"
Aap ﷺ ne ye jumla Chaar martaba irshad farmaya, fir farmaya :- in sha Allah ! Yahi Qayaam gaah hogi _,"

★_ Ab Aap ﷺ ne Samaan utaarne Ka Hukm diya, Hazrat Abu Ayyub Ansari Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Kya Mai'n Aapka Samaan Apne Ghar le jau'n _,"
Aap ﷺ ne Unhe ijazat de di , Wo Samaan utaar Kar le gaye, Usi Waqt Hazrat As'ad bin Zarara Raziyllahu Anhu aa gaye, Unhone ountni ki muhaar thaam li aur ountni Ko le gaye , Chunache ountni unki mehmaan bani, Bani Najaar ke Yaha'n utarne per unke Bachcho ne Daf Haatho me le liye aur Khushi se sarshaar ho Kar unko bajane lage aur Ye Geet gaane lage _:- 
*( Tarjuma)* _ Hum Bani Najaar ke Padosiyo'n me se Hai'n ,Kis qadar Khush qismati ki Baat hai k Muhammad  ﷺ Hamare padosi Hai'n _,"

★_ Unki Awaaz sun Kar Nabi Akram ﷺ bahar nikal aaye , Unke Nazdeek Aaye aur farmaya :- Kya tum mujhse Muhabbat Karte ho ? 
Wo bole :- Haa'n ,Ey Allah ke Rasool _,"
Is per Aap ﷺ ne farmaya :- Allah Jaanta hai ,mere Dil me bhi Tumhare liye Muhabbat hi Muhabbat hai _,"

★_ Aan'Hazrat ﷺ Hazrat Abu Ayyub Ansari Raziyllahu Anhu ke ghar us Waqt tak thehre Jab tak k Masjide Nabvi aur Uske Saath Aap ﷺ Ka Hujra Taiyaar nahi ho gaya ,Aap Taqriban Gyarah ( 11) maah tak waha'n thehre rahe ,

 ╨─────────────────────❥
 *★_ मदीना मुनव्वरा में आमद _,"*

★__ उधर मक्का में जब कुरेश को नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का कुछ पता ना चला तो वह लोग हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहू अन्हू के दरवाजे पर आए उनमें अबू जहल भी था । दरवाजे पर दस्तक दी गई तो हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की बड़ी बेटी हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा बाहर निकली ।अबू जहल ने पूछा तुम्हारे वालिद कहां है ?  वह बोली -मुझे नहीं मालूम । यह सुनकर अबू जहल ने उन्हें एक जोरदार थप्पड़ मारा । थप्पड़ से उनके कान की बाली टूट कर गिर गई इस पर भी हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा ने उन्हें कुछ ना बताया , अबू जहल और उसके साथी बडबड़ाते हुए नाकाम लौट गए।

★_इधर मदीना मुनव्वरा के मुसलमानों को यह खबर मिली कि अल्लाह के रसूल मक्का मुअज्जमा से हिजरत करके मदीना मुनव्वरा की तरफ चल पड़े हैं । अब तो वे बेचैन हो गए इंतजार करना उनके लिए मुश्किल हो गया रोजाना सुबह सवेरे अपने घरों से निकल पड़ते और हीरा के मुका़म तक आ जाते जो मदीना मुनव्वरा के बाहर एक पथरीली ज़मीन है।  जब दोपहर हो जाती और धूप में तेजी आ जाती तो मायूस होकर वापस लौट आते , फिर एक दिन ऐसा हुआ.. मदीना मुनव्वरा के लोग घरों से मका़में हीरा तक आए, जब काफी देर हो गई और धूप में तेज़ी ना आ गई तो वे फिर वापस लौटने लगे , ऐसे में एक यहूदी हीरा के एक ऊंचे टीले पर चढ़ा उसे मक्का की तरफ से कुछ सफेद लिबास वाले आते दिखाई दिए, उस काफ़िले से उठने वाली गर्द से निकलकर जब आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम वाज़े तौर पर नज़र आए तो वो यहूदी पुकार उठा :- ऐ गिरोह अरब ! जिनका तुम्हें इंतजार था वो लोग आ गए _,"

★_यह अल्फाज़ सुनते ही मुसलमान वापस दौड़े और हीरा के मुका़म पर पहुंच गए । उन्होंने हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम और उनके साथियों को एक दरख्त के साए में आराम करते पाया। एक रिवायत में है कि 500 से कुछ ज्यादा अंसारियों ने आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का इस्तक़बाल किया । वहां से चलकर हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम क़ूबा शरीफ लाए , उस रोज़ पीर का दिन था । आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने क़बीला बनी अमरु बिन औफ के एक शख्स कुलसुम बिन मु'आदम रजियल्लाहु अन्हु के घर क़याम फरमाया , बनी अमरु का यह घराना क़बीला औस से था। उनके बारे में रिवायत मिलती है कि आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के मदीना मुनव्वरा तशरीफ लाने से पहले ही मुसलमान हो गए थे।

★_ क़ूबा में हुजूर सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने एक मस्जिद की बुनियाद रखी उसका नाम मस्जिदे क़ूबा रखा । इस मस्जिद के बारे में एक हदीस में है कि- जिस शख्स ने मुकम्मल तौर पर वज़ू किया फिर मस्जिद ए कुबा में नमाज पढ़ी तो उसे एक हज और उमरा का सवाब मिलेगा_,"
हुजूर अक़दस सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अक्सर इस मस्जिद में तशरीफ लाते रहे इस मस्जिद की फजी़लत में अल्लाह ताला ने सूरह तौबा में एक आयत भी नाजि़ल फरमाई।
: ★__ क़ूबा से आप सल्लल्लाहु सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मदीना मुनव्वरा पहुंचे । जूंही आप की आमद की खबर मुसलमानों को पहुंची उनकी खुशी की इंतेहा ना रही ,हजरत बरा रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं , मैंने मदीना वालों को आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की आमद पर जितना खुश देखा उतना किसी और मौक़े पर नहीं देखा । सब लोग आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के रास्ते में दोनों तरफ इकट्ठे हुए और औरते छतों पर चढ़ गई ताकि आप की आमद का मंज़र देख सकें।

★_औरतें और बच्चे खुशी में यह अश'आर पढ़ने लगे :- 
*(तर्जुमा)* _ चौदहवीं रात का चांद हम पर तुलु हुआ है जब तक अल्लाह ताला को पुकारने वाला इस सर ज़मीन पर बाक़ी है हम पर इस नियामत का शुक्र अदा करना वाजिब है , ऐ आने वाले शख्स जो हममें पैगंबर बनाकर भेजे गए हैं आप ऐसे ही अहकामात लेकर आए हैं जिनकी पैरवी और इता'त वाजिब है।

★_ रास्ते में एक जगह हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम बैठ गए, हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास खड़े हो गए। हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु पर बुढ़ापे के आसार ज़ाहिर होना शुरू हो चुके थे जबकि हुज़ूर अक़दस सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम जवान नज़र आते थे, हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के बाल सियाह थे अगरचे आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम उम्र में हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु से 2 साल बड़े थे।
अब हुआ यह कि जिन लोगों ने पहले आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को नहीं देखा था उन्होंने हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु के बारे में खयाल किया कि अल्लाह के रसूल यह हैं और गर्म जोशी से उनसे मिलने लगे । यह बात हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु ने फौरन महसूस कर ली । उस वक्त तक धूप भी हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम पर पड़ने लगी थी। हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने अपनी चादर से हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम पर साया कर दिया , तब लोगों ने जाना अल्लाह के रसूल यह है।

★_ फिर नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम उस जगह से रवाना हो गए । आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ऊंटनी पर सवार थे और साथ-साथ बहुत से लोग चल रहे थे उनमें से कुछ सवार थे तो कुछ पैदल । उस वक्त मदीना मुनव्वरा के लोगों की ज़ुबान पर यह अल्फाज़ थे :- अल्लाहु अकबर ! रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम तशरीफ ले आए_,"
रास्ते में आपकी खुशी में हबशियों ने नेज़ा बाज़ी के कमालात और करतब दिखाए । ऐसे में एक शख्स ने पूछा अल्लाह के रसूल आप जो यहां से आगे तशरीफ ले जा रहे हैं तो क्या हमारे घरों से बेहतर कोई घर चाहते हैं ? 
उसके जवाब में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- मुझे एक ऐसी बस्ती में रहने का हुक्म दिया गया है जो दूसरी बस्तियों को फतह कर लेगी_,"

★_ यह जवाब सुनकर लोगों ने नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की ऊंटनी का रास्ता छोड़ दिया । उस बस्ती के बारे में सबको बाद में मालूम हो गया कि वह मदीना मुनव्वरा है । मदीना मुनव्वरा का पहले नाम यसरिब था , यसरिब एक शख्स का नाम था वह हजरत नूह अलैहिस्सलाम की औलाद में से था । मदीना मुनव्वरा में नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की आमद जुमा के रोज़ हुई। चुनांचे उस रोज़ पहला जुमा पढ़ा गया ।
: ★_ जुमा की यह पहली नमाज मदीना मुनव्वरा के मोहल्ले बनी सालिम की जिस मस्जिद में आपने जुमा अदा किया उस मस्जिद को " मस्जिदे जुमा" कहा जाता है , यह क़ुबा की तरफ जाने वाले रास्ते के बाएं तरफ है । इस तरह यह पहली नमाजे जुमा थी, हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इस नमाज से पहले खुतबा भी दिया था ,इस पहले खुतबे में जो कुछ इरशाद फरमाया उसका कुछ हिस्सा यह था :-  
*"_ पस जो शख्स अपने आप को जहन्नम की आग से बचाना चाहता है तो जरूर बचा ले चाहे वह आधे छुआरे के बराबर ही क्यों ना हो , जिसे कुछ भी ना आता हो वह कलमा तैयबा को लाज़िम कर ले क्योंकि नेकी का सवाब 2 गुना से लेकर 700 गुना तक मिलता है और सलाम हो अल्लाह के रसूल पर और अल्लाह की रहमत और बरकत हो_",

★_नमाज़े जुमा अदा करने के बाद आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मदीना मुनव्वरा जाने के लिए अपनी ऊंटनी पर सवार हुए और उसकी लगाम ढ़ीली छोड़ दी यानी उसे अपनी मर्जी से चलने की इजाजत दी,  ऊंटनी ने पहले दाएं और बाएं देखा जैसे चलने से पहले फैसला कर रही हो कि किस सिम्त में जाना है,  ऐसे में बनी सालिम के लोगों ,(यानी जिनके मोहल्ले में जुमा की नमाज अदा की गई थी,) ने अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! आप हमारे यहां क़याम फरमाइए यहां लोगों की तादाद ज्यादा है यहां आपकी पूरी हिफाजत होगी ..यहां दौलत भी है हमारे पास हथियार भी है.. हमारे पास बागात भी है और जिंदगी की जरूरत की सब चीजें भी मौजूद है _,"
आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम उनकी बात सुनकर मुस्कुराए, उनका शुक्रिया अदा किया और फ़रमाया -मेरी ऊंटनी का रास्ता छोड़ दो यह जहां जाना चाहे इसे जाने दो क्योंकि यह मामूर है_,"
मतलब यह था कि अल्लाह ताला के हुक्म से ऊंटनी खुद चलेगी और उसे अपनी मंजिल मालूम है। आप सल्लल्लाहो सल्लम ने उन हजरात को दुआ दी :- अल्लाह ताला तुम्हें बरकत अता फरमाए _,"

★_इसके बाद ऊंटनी रवाना हुई, यहां तक की बनी बयासा के मोहल्ले में पहुंची , यहां के लोगों ने भी आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम से दरख्वास्त की कि उनके यहां ठहरे । आप सल्लल्लाहो वाले वसल्लम ने उन्हें भी वही जवाब दिया जो बनी सालिम को दिया था । इसी तरह बनी सादाह के इलाके से गुजरे इन हजरात ने भी दरख्वास्त की ,आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने यही जवाब फरमाया। ऊंटनी आगे बढ़ी ,अब यह बनी अदि के मोहल्ले में दाखिल हुई , यहां आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के दादा अब्दुल मुत्तलिब की ननिहाल थी उन लोगों ने अर्ज़ किया - हम आपके ननिहाल वाले हैं इसलिए यहां क़याम फरमाइए यहां आपकी रिश्तेदारी भी है हम तादाद में भी बहुत हैं आपकी हिफाज़त भी बढ़-चढ़कर करेंगे फिर यह कि हम आपके रिश्तेदार भी हैं , सो हमें छोड़कर ना जाएं _,"

★_ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन्हें भी वही जवाब दिया कि यह ऊंटनी मामूर है इसे अपनी मंज़िल मालूम है, ऊंटनी और आगे बढ़ी और उसी मोहल्ले में एक जगह बैठ गई यह जगह बनी मालिक बिन नजार के मोहल्ले के पास थी और हजरत अबू अय्यूब अंसारी रजियल्लाहु अन्हु के दरवाज़े के क़रीब थी ।
 ★__ हजरत अबू अयूब अंसारी रजियल्लाहु अन्हु का नाम खालिद बिन ज़ैद नजार अंसारी था, यह क़बीला खज़रज के थे, बैते उक़बा के मौके पर मौजूद थे हर मौके पर हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के साथ रहे। हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु के दौरे खिलाफत में वह हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु के बहुत क़रीबी मु'आवीन में से रहे, उन की वफात यजी़द के दौर में कुस्तुनतुनिया कि जिहाद के दौरान हुई ।

★_ ऊंटनी बैठ गई अभी आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम उससे उतरे नहीं थे कि वह अचानक फिर खड़ी हो गई, चंद कदम चली और ठहर गई ।आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उसकी लगाम बदस्तूर छोड़े रखी थी , ऊंटनी उसके बाद वापस उसी जगह जहां पहले बैठी थी, वह दोबारा उसी जगह बैठ गई अपनी गर्दन जमीन पर रख दी और मुंह खोले बगैर एक आवाज निकाली। अब नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम उससे उतरे ,साथ ही फरमाया:-  ए मेरे परवरदिगार मुझे मुबारक जगह पर उतारना और तू ही बेहतरीन जगह ठहराने वाला है_,"
आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने यह जुमला चार मरतबा इरशाद फरमाया ,फिर फरमाया :- इंशाल्लाह यही क़याम गाह होगी_,"

★_अब आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने सामान उतारने का हुक्म दिया, हजरत अबू अयूब अंसारी रजियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया -क्या मैं आपका सामान अपने घर ले जाऊं? 
आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन्हें इजाजत दे दी , वह सामान उतार कर ले गए ।उसी वक्त हजरत अस'अद बिन जरारा रज़ियल्लाहु अन्हु आ गये , उन्होंने ऊंटनी की मुहार थाम ली और ऊंटनी को ले गए। चुनांचे ऊंटनी उनकी मेहमान बनी, बनी नजार के यहां उतरने पर उनके बच्चों ने दफ हाथों में ले लिए और खुशी से सरशार होकर उनको बजाने लगे और यह गीत गाने लगे :- 
*(तर्जुमा )*_ हम बनी नजार के पड़ोसियों में से हैं ,किस कदर खुशकिस्मती की बात है कि मुहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम हमारे पड़ोसी हैं _,"

★_उनकी आवाज सुनकर नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम बाहर निकल आए, उनके नज़दीक आए और फरमाया :- क्या तुम मुझसे मोहब्बत करते हो ?
वह बोले -हां, ऐ अल्लाह के रसूल। 
इस पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- अल्लाह जानता है मेरे दिल में भी तुम्हारे लिए मोहब्बत ही मोहब्बत है_,"

★_आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम हजरत अबू अयूब अंसारी रजियल्लाहु अन्हु के घर उस वक्त तक ठहरे जब तक कि मस्जिद-ए-नबवी और उसके साथ आप सल्लल्लाहो वाले वसल्लम का हुजरा तैयार नहीं हो गया । आप तक़रीबन 11 माह तक वहां ठहरे रहे।।

 ╨─────────────────────❥
 *★_ Masjide Nabvi Ki Tameer _,*

★_ Aap ﷺ Jab Quba se Madina Munavvara Tashreef laye to Saath Aksar Muhajireen bhi Madina Munavvara aa gaye they ,Us Waqt Ansari Musalmano Ka jazba qabile deed tha ,Un sabko khwahish thi k Muhajireen unke Yaha'n thehre'n , is Tarah unke darmiyaan bahas hui , Aakhir Ansari Hazraat ne Muhajireen ke liye qur'a andazi ki , is Tarah Jo Muhajir jis Ansari ke hisse me Aaye wo unhi ke Yaha'n thehre ,Ansari Musalmano ne Unhe na sirf Apne gharo me thehraya Balki un per Apna Maal aur daulat bhi kharch Kiya ,

★_ Muhajireen ki Aamad se Pehle Ansari Musalman Ek Jagah Ba Jama'at Namaz Ada Karte they, Hazrat As'ad bin Zarara Raziyllahu Anhu Unhe Namaz padhate they ,Jab Aap ﷺ Tashreef laye to Sabse Pehle Masjid banane ki fikr hui , 
Aap ﷺ Apni ountni per sawaar hue aur uski lagaam dheeli Chhod di, ountni chal padi , Wo us Jagah ja Kar beth gayi Jaha'n Aaj Masjide Nabvi hai , Jis Jagah Musalman Namaz Ada Karte rahe they Wo Jagah bhi Uske Aas paas hi thi , Us Waqt waha'n Sirf diwaare khadi ki gayi thi.. un per Chhat nahi thi , Ountni ke bethne per Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Bas , Masjid is Jagah banegi _,"

★_ Iske baad Aap ﷺ ne As'ad bin Zarara Raziyllahu Anhu se farmaya :- Tum ye Jagah Masjid ke liye farokt Kar do _,"
Wo Jagah dar asal Do Yateem Bachcho Sahal aur Suhel ki thi ,aur As'ad bin Zarara Raziyllahu Anhu unke sarparast they , 
Ye rivayat bhi aayi hai k unke sarparast Ma'az bin Ufra Raziyllahu Anhu they , Aap ﷺ ki Baat sun Kar Hazrat Abu Ayyub Ansari Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Aap ye Zameen le Le'n , Mai'n iski qeemat un Dono ko Ada Kar deta Hu'n _,"
Aap ﷺ ne isse inkaar farmaya aur Das Dinaar me Zameen Ka tukda khareed liya ,Ye qeemat Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke Maal se Ada ki gayi , 
( Waah ! Kya qismat payi Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne k Qayamat tak Masjide Nabvi ke Namaziyo Ka Sawab unke naama A'amaal me Likha ja raha Hai )

★_Ye rivayat bhi Hai k Aap ﷺ ne un Dono Yateem ladko ko bulwaya  , Zameen ke Silsile me unse Baat ki ,Un Dono ne arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Hum ye Zameen hadiya Karte Hai'n _,"
Aap ﷺ ne un Yateemo Ka Hadiya qubool Karne SE inkaar farma diya aur Das Dinaar me Zameen Ka tukda unse khareed liya , Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ko hukm diya k wo Unhe das Dinaar Ada Kar de'n, Chunache Unhone wo raqam Ada Kar di ,

★_ Zameen ki khareed ke baad Aap ﷺ ne Masjid ki tameer shuru Karne Ka iraada farmaya, Iynte'n banane Ka hukm diya,fir gaara Taiyaar Kiya gaya ,Aap ﷺ ne Apne daste mubarak se Pehli iynt rakhi ,fir Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko Hukm diya k Doosri iynt wo rakhe , Unhone Aap ﷺ ki lagayi hui iynt ke barabar Doosri iynt rakh di , Ab Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ko bulaya gaya , Unhone Siddiqe Akbar Raziyllahu Anhu ki iynt ke barabar Teesri iynt rakhi , Ab Aapne Hazrat Usman Raziyllahu anhu ko bulaya , Unhone Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki iynt ke barabar Chothi iynt rakhi , Saath hi Aap ﷺ ne irshad y :- Mere baad Yahi Khalifa honge _," ( Mustadrak Haakim ne is Hadees ko Sahi Kaha hai ),

★_ Fir Huzoor Aqdasﷺ ne Aam Musalmano ko Hukm farmaya:- Ab patthar lagana shuru Kar do _,"
 ★__ Musalman Pattharo se se buniyade bharne lage , Buniyade Taqriban teen Haath ( Saade 4 fut ) gehri thi , iske liye iynto ki tameer uthayi gayi ,Dono jaanib Pattharo ki diwaare bana Kar Khajoor ki tehniyo ki Chhat banayi gayi aur Khajoor ke tano ke sutoon banaye gaye , Diwaaro ki ounchayi insaani qad ke barabar thi ,

★_ In Halaat me Kuchh Ansari Musalmano ne kuchh Maal Jama Kiya , Wo Maal Aap ﷺ ke paas laye aur Arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! is Maal se Masjid banaye aur usko araasta kijiye ,Hum kab tak chhappar ke niche Namaz padhenge _,"
Is per Huzoor Akram ﷺ ne irshad farmaya :- Mujhe masjido ko sajane Ka Hukm nahi diya gaya _,"
Is Silsile me Ek aur Hadees Ke Alfaz ye Hai'n :- Qayamat Qaa'im hone ki ek nishani ye Hai k log Masjido me Aara'ish aur Zaiba'ish Karne lagenge Jese Yahood aur nasaara Apne Kalisao'n aur Girjo'n me zaib v Zeenat Karte Hai'n _,"

★__ Masjide Nabvi ki Chhat Khajoor ki chhaal aur Patto ki thi aur us per thodi si Mitti thi , Jab Barish Hoti to Pani andar tapakta ... Ye Pani Mitti mila hota ..isse Masjid ke andar keechad ho jata , Ye Baat Mehsoos Kar Ke Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne arz Kiya :- Ya Rasoolallah ! Agar Aap Hukm de'n to Chhat per zyada Mitti bichha di Jaye Taki usme se Pani na rise , Masjid me na tapke _,"
Aap ﷺ ne irshad farmaya:- Nahi , yunhi rehne do _,"

★_ Masjid ke tameer ke Kaam me Tamaam Muhajireen aur Ansar Sahaba ne hissa liya , Yaha'n tak k Khud Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne bhi Apne Haatho se Kaam Kiya , Aap ﷺ Apni Chaadar me iynte'n Bhar Bhar Kar late Yaha'n tak k Seena mubarak gubaar Aalood ho jata , Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne Aan'Hazrat ﷺ ko iynte'n uthate dekha to Wo aur zyada ja-nafshani se iynte'n dhone lage , ( Yaha'n iynto se muraad patthar Hai'n ), Ek moqe per Aap ﷺ ne dekha k baqi Sahaba to Ek Ek patthar utha Kar la rahe Hai'n aur Hazrat Ammaar bin Yaasir Raziyllahu Anhu do patthar utha Kar la rahe they to unse Puchha :- Ammaar tum bhi Apne Saathiyo'n ki Tarah Ek Ek patthar kyu nahi late ?
Unhone arz Kiya :- isliye k Mai'n Allah Ta'ala se zyada se zyada Ajro Sawab Chahta Hu'n _,"

★_ Hazrat Usman bin Maz'uon Raziyllahu Anhu Bahut Nafees aur Safa'i Pasand they , Wo bhi Masjid ki tameer ke liye patthar dho rahe they, Patthar utha Kar chalte to usko Apne Kapdo SE door rakhte Taki Kapde kharaab na ho ,Agar Mitti lag Jati to foran chutki SE usko jhaadne lag jate ,Doosre Sahaba dekh Kar Muskura dete _,
 ★__ Masjid Ki Tameer ke baad Huzoor Akram ﷺ usme Paanch maah tak Baitul Muqaddas ki taraf moonh Kar Ke Namaze Padhte rahe , Uske baad Allah Ta'ala ke Hukm se qible Ka rukh Baitullah ki taraf ho gaya , Masjid Ka pehle farsh kachcha tha ,Fir us per Kankriya'n bichha di gayi , Ye isliye bichhayi gayi k ek Roz baarish hui ,Farsh geela ho gaya ,Ab Jo bhi aata ,Apni jholi me Kankriya'n Bhar Kar lata aur Apni Jagah per unko bichha Kar Namaz padhta ,Tab Nabi Kareem ﷺ ne Hukm diya k Saara Farsh hi Kankriyo'n Ka bichha do _,

★_ Fir Jab musalman zyada ho gaye to Nabi Kareem ﷺ ne Masjid ko badi Karne Ka iraada farmaya, Masjid ke Saath Zameen Ka Ek tukda Hazrat Usman Gani Raziyllahu Anhu Ka tha ,Ye tukda Unhone ek Yahoodi se kharida tha ,Jab Hazrat Usman Raziyllahu anhu ko Maloom hua k Huzoor ﷺ Masjid ko badi Karna Chahte Hai'n to unhone arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Aap mujhse Zameen Ka ye tukda Jannat ke Ek Makaan ke badle me Khareed Le'n _,"

Chunache Nabi Kareem ﷺ ne Zameen Ka wo tukda unse le liya , Masjide Nabvi ke bare me Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Agar Meri ye Masjid San'a ke Muqaam tak bhi ban Jaye ( Yani itni badi ho Jaye ) to bhi ye Meri Masjid hi rahegi ,Yani Masjide Nabvi hi rahegi _,,

★_ Isse Zaahir ho Raha Hai k Aapne Masjide Nabvi ke bade hone ki ittela Pehle hi de di thi aur hua bhi Yahi , Baad me iski tosi Hoti rahi hai aur iska Silsila jaari hai aur aage bhi jaari rahega ,

★_ Masjide Nabvi ke Saath hi Sayyada Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha aur Sayyada Sodah Raziyllahu Anha ke liye do Hujre banaye gaye, Ye Hujre Masjide Nabvi SE bilkul mile hue they , In Hujro ki chhate bhi Masjid ki Tarah Khajooro ki chhaal se banayi gayi thi ,
Masjide Nabvi ki Tameer tak Aap ﷺ Hazrat Abu Ayyub Ansari Raziyllahu Anhu ke Ghar me qayaam pazeer rahe , Aap ﷺ ne unke Makaan me Nichli manzil me qayaam farmaya tha, Hazrat Abu Ayyub Ansari Raziyllahu Anhu aur unki Bivi ne Aap ﷺ se darkhwast ki thi  :- Huzoor ! Aap Ouper wali manzil me qayaam farmaiye _,"
Is per Aap ﷺ ne Jawab me farmaya :- Mujhe niche hi rehne de'n .. Kyunki log mujhse Milne ke liye aayenge , isi me sahulat rahegi _,"

★_ Hazrat Abu Ayyub Ansari Raziyllahu Anhu farmate hai'n :- Ek Raat Hamari Paani ki ghadiya toot gayi , Hum ghabra gaye k Paani niche na tapakne lage aur Aap ﷺ ko Pareshani na ho ..to Humne foran us Paani ko Apne lihaaf me jazb Karna shuru Kar diya ..aur Hamare paas Wo Ek hi lihaaf tha aur Din Sardi ke they _,"
Iske baad Hazrat Abu Ayyub Ansari Raziyllahu Anhu ne fir Aap ﷺ se Ouper wali manzil per qayaam Karne ki darkhwast ki .. Aakhir Aap ﷺ ne unki Baat maan li ,,

★__ Unke Ghar ke qayaam ke Dauraan Aap ﷺ ke liye Khana Hazrat As'ad bin Zarara aur Hazrat Sa'ad bin Ubaada Raziyllahu Anhum ke Yaha'n se bhi aata tha ,
 ★_ Is tameer se Faarig hone ke baad Huzoor Akram ﷺ ne Hazrat Zaid bin Haarisa aur Hazrat Zaid bin Ra'afe Raziyllahu Anhum ko Makka bheja Taki Huzoor Akram ﷺ ke Ghar walo ko le Aaye , Huzoor Akram ﷺ ne Unhe Safar me kharch Karne Ke liye 500 dirham aur Do ount diye , Rehbar ke tor per unke Saath Abdullah bin Ariqat ko bheja , Sayyadna Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne ye akhrajaat Bardasht kiye , Unke Ghar walo ko lane ki zimmedari bhi inhe hi so'anpi gayi , Is Tarah ye Hazraat Makka Muazzama SE Aap ﷺ ki Sahabzadiyo Hazrat Fatima Raziyllahu Anha, Hazrat Umme Kulsum Raziyllahu Anha ko Aan Hazrat ﷺ Ki Ahliya Mohatrama Hazrat Sauda bint Zam'a Raziyllahu Anha aur Daaya Umme Eman Raziyllahu Anha ( Jo Zaid bin Haarisa Raziyllahu Anhu ki Ahliya thi ) aur Unke Bete Hazrat Usama Raziyllahu Anhu ko le Kar Madina munavvara aa gaye , Hazrat Usama bin Zaid Raziyllahu Anhu Aap ﷺ ki Daaya ke bete they aur Aap ﷺ ko Had Darja Azeez they ,

★__ Aap ﷺ ki Beti Hazrat Zenab Raziyllahu Anha chunki Shadi Shuda thi aur Unke Shohar us Waqt tak Musalman nahi hue they isliye Unhe Hijrat Karne SE rok diya gaya , Hazrat Zenab Raziyllahu Anha ne baad me Hijrat ki thi aur Apne Shohar ko Kufr ki Haalat me Makka Chhod aayi thi , Unke Shohar Abul Aas bin Rabi'a Raziyllahu Anhu they , Ye Gazwa Badar ke moqe per Kaafiro ke Lashkar me Shamil hue , Giraftaar hue , Lekin Unhe Chhod diya gaya ,Fir ye musalman ho gaye ,
Aap ﷺ ki Chothi Beti Hazrat Ruqayya Raziyllahu Anha Apne Shohar Hazrat Usman Raziyllahu Anhu ke Saath Pehle hi Habsha Hijrat Kar gayi thi, Ye baad me Habsha se Madia pahunche they ,

★__ Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke Ghar wale bhi Saath hi Madina munavvara aa gaye , Unme Unki Joza Mohatrama Hazrat Umme Romaan,Hazrat Ayesha Siddiqa aur unki Behan Hazrat Asma Raziyllahu Anhuma shamil thi , Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu ke bete Hazrat Abdullah Raziyllahu Anhu bhi Saath aaye ,Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki joza Hazrat Umme Romaan Raziyllahu Anha ke bare me Nabi Akram ﷺ ne farmaya tha :- Jis Shakhs ko Jannat ki Hooro me se Koi Hoor dekhne ki khwahish ho ,Wo Umme Romaan ko dekhe _,"

★_ Hijrat ke is Safar me Hazrat Asma Raziyllahu Anha ko Madina Munavvara Pahunchne se Pehle Quba me theharna pada ,Unke Yaha'n Hazrat Abdullah bin Zuber Raziyllahu Anhu paida hue , Bachche Ki Paida'ish ke baad Madina Pahunchi aur Apna Bachcha Aap ﷺ ki god me Barkat haasil kare ke liye pesh Kiya, Ye Hijrat ke baad Muhajireen ke Yaha'n Pehla Bachcha tha ,inki Paida'ish per Musalmano ko behad Khushi hui Kyunki Kuffar ne mash'hoor Kar diya tha k jabse Rasulullah ﷺ aur Muhajireen Madina Aaye Hai'n, inke Yaha'n koi Narina nahi hui Kyunki Humne in per Jaadu Kar diya hai , Hazrat Abdullah bin Zuber Raziyllahu Anhu ki paida'ish per un logo ki ye Baat galat Saabit ho gayi , isliye Musalmano ko Bahut Khushi hui ,

★_ Masjide Nabvi ki Tameer Mukammal ho gayi to Raat ke Waqt usme Roshni Ka masla Saamne aaye ,is Garz ke liye Pehle pehal Khajoor ki Shaakhe'n jalayi gayi ,Fir Hazrat Tameem Daari Raziyllahu Anhu Madina munavvara Aaye to Wo Apne Saath Qandeele ,Rassiya'n aur Zetoon Ka Tel laaye ,
[: ★_ Hazrat Tameem Daari Raziyllahu Anhu ne Ye Qandeele Masjid me latka diye , Fir Raat ke Waqt unko jala diya ,Ye Dekh Kar Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne farmaya :- Hamari Masjid Roshan ho gayi , Allah Ta'ala Tumhare liye bhi Roshni ka Samaan farmaye , Allah ki qasam ! Agar Meri koi aur Beti Hoti to Mai'n uski Shaadi Tumse Kar deta _,"
Baaz Rivayaat me hai k Sabse Pehle Hazrat Umar Farooq Raziyllahu Anhu ne Masjid me Qandeel jalayi thi ,

★__ Masjide Nabvi ki Tameer ke Saath Aap ﷺ ne do Hujre Apni Biviyo'n ke liye banwaye they , ( Baqi Hujre Zarurat ke mutabiq baad me banaye gaye ) , in do me se ek Sayyada Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha Ka tha aur Doosra Sayyada Sauda Raziyllahu Anha Ka , 
Madina Munavvara me wo Zameene Jo Kisi ki milkiyat nahi thi , Un per Aap ﷺ ne Muhajireen ke liye nishanaat laga diye, Yani ye Zameene unme taqseem Kar di , Kuchh Zameene Aapko Ansari Hazraat ne hadiya ki thi , Aap ﷺ ne unko bhi Taqseem farma diya aur un jagaho per un Musalmano ko basaya Jo Pehle Quba me thehar gaye they ,Lekin baad me jab Unhone Dekha k Quba me Jagah nahi hai to Wo bhi Madina chale Aaye they ,

★_ Aap ﷺ ne Apni Biviyo'n ke liye Jo Hujre banwaye Wo kachche they , Khajoor ki Shaakhe'n, patto aur chhaal se banaye gaye they , Un per Mitti leepi gayi thi ,
Hazrat Hasan Basri Rehmatullahi Alaih mash'hoor Taaba'i Hai'n aur ye To Aapko pata hi Hoga k Taaba'i use Kehte Hai'n Jisne Kisi Sahabi ko dekha ho , Wo Kehte Hai'n k Jab Mai'n Chhota tha to Hazrat Usman Gani Raziyllahu Anhu ki khilafat ke Daur me Ummahatul Momineen ke Hujro me jata tha ,Unki chhate is qadar nichi thi k us Waqt Agarche Mera qad Chhota tha, Lekin Mai'n Haath SE chhato ko chhoo liya karta tha ,
Hazrat Hasan Basri Rehmatullahi Alaih us Waqt paida hue they jab Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki khilafat ko abhi do Saal baqi they , Wo Nabi Kareem ﷺ ki Joza Hazrat Umme Salma Raziyllahu Anha ki Baandi Khayra ke bete they , Hazrat Umme Salma Raziyllahu Anha Unhe Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ke paas Kisi Kaam se bheja Karti thi , Sahaba kiraam Unhe Barkat ki Duae'n diya Karte they , Hazrat Umme Salma Raziyllahu Anha Unhe Hazrat Umar Farooq Raziyllahu Anhu ke paas bhi le gayi thi , Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne Unhe in Alfaz me Dua di thi :- 
"_ Ey Allah ! Inhe Deen ki samajh ata farma aur logo ke liye ye Pasandida Ho'n _,"

★__ Masjide Nabvi ke Charo taraf Hazrat Harisa bin Nomaan ke Makanaat they , Aan Hazrat ﷺ ne Apni Hayaat Mubarak me mut'addid Nikaah farmaye they ,Jinme Deeni Hikmate aur Maslihate thi , Jab bhi Aap ﷺ Nikaah farmate to Hazrat Harisa Raziyllahu Anhu Apna Ek makaan Yani Hujra Aap ﷺ ko Hadiya Kar dete , usme Aap ﷺ ki Joza Mohatrama Ka qayaam ho jata , Yaha'n tak k Rafta Rafta Hazrat Harisa Raziyllahu Anhu ne Apne saare Makaan isi Tarah Huzoor ﷺ Ko Hadiya Kar diye ,

 ╨─────────────────────❥
★_ मस्जिदे नबवी की तामीर _,"*

★__ आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम जब क़ूबा से मदीना मुनव्वरा तशरीफ लाए तो साथ अक्सर मुहाजिरीन भी मदीना मुनव्वरा गए थे उस वक्त अंसारी मुसलमानों का जज़्बा काबिले दीद था,  उन सब की ख्वाहिश थी कि मुहाजिरीन उनके यहां ठहरे। इस तरह उनके दरमियान बहस हुई आखिर अंसारी हजरात ने मुहाजिरीन के लिए कु़रा अंदाजी की, इस तरह जो मुहाजिर जिस अंसारी के हिस्से में आए वह उन्हीं के यहां ठहरे । अंसारी मुसलमानों ने उन्हें ना सिर्फ अपने घरों में ठहराया बल्कि उन पर अपना माल और दौलत भी खर्च किया।

★_ मुहाजिरीन की आमद से पहले अंसारी मुसलमान एक जगह बा जमात नमाज़ अदा करते थे , हजरत अस'द बिन ज़रारा रजियल्लाहु अन्हु उन्हें नमाज़ पढ़ाते थे , जब आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम तशरीफ लाए तो सबसे पहले मस्जिद बनाने की फ़िक्र हुई। 
आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम अपनी ऊंटनी पर सवार हुए और उसकी लगाम ढ़ीली छोड़ दी, ऊंटनी चल पड़ी ,वह उस जगह जाकर बैठ गई जहां आज मस्जिद-ए-नबवी है। जिस जगह मुसलमान नमाज़ अदा करते रहे थे वह जगह भी उसके आसपास ही थी उस वक्त वहां सिर्फ दीवारें खड़ी की गई थी उन पर छत नहीं थी । ऊंटनी के बैठने पर आप सल्लल्लाहु अलेह वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-बस ! मस्जिद इस जगह बनेगी _,"

★_इसके बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अस'द बिन जरारा रज़ियल्लाहु अन्हु से फरमाया :- तुम यह जगह मस्जिद के लिए फरोख्त कर दो _," 
वह जगह दरअसल दो यतीम बच्चों सहल और सोहेल की थी और अस'द बिन ज़रारा रजियल्लाहु अन्हु उनके सरपरस्त थे । 
यह रिवायत भी आई है कि उनके सरपरस्त मा'ज़ बिन उफरा रज़ियल्लाहु अन्हु थे। आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की बात सुनकर हजरत अबू अयूब अंसारी रजियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :- आप यह जमीन ले लें, मैं इसकी कीमत उन दोनों को अदा कर देता हूं ।
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इससे इनकार फरमाया और 10 दीनार में ज़मीन का टुकड़ा खरीद लिया । यह क़ीमत हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के माल से अदा की गई ।
( वाह ! क्या क़िस्मत पाई अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने क़यामत तक मस्जिद-ए-नबवी के नमाजि़यों का सवाब उनके नामा आमाल में लिखा जा रहा है )

★_यह रिवायत भी है कि आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन दोनों यतीम लड़कों को बुलवाया , जमीन के सिलसिले में उनसे बात की ,उन दोनों ने अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! हम यह जमीन हदिया करते हैं ।
आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने उन यतीमों का हदिया क़ुबूल करने से इनकार फरमा दिया और 10 दीनार में जमीन का टुकड़ा उनसे खरीद लिया । हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को हुक्म दिया कि वह उन्हें 10 दिनार अदा कर दें ,चुनांचे  उन्होंने वह रकम अदा कर दी।

★_जमीन की खरीद के बाद आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने मस्जिद की तामीर शुरू करने का इरादा फरमाया , ईंटें बनाने का हुक्म दिया। फिर गारा तैयार किया गया ।आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने अपने दस्ते मुबारक से पहली ईंट रखी, फिर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजिल्लाहु अन्हु को हुक्म दिया कि दूसरी ईट वो रखें उन्होंने आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की लगाई हुई ईंट के बराबर दूसरी मीटर हजरत उमर रजि अल्लाह वालों को बुलाया गया उन्होंने सिद्धि के अकबर अल्लाहु अन्हु की ईंट के बराबर 30 लीटर रखी अब आपने हजरत उस्मान रजि अल्लाह वालों को बुलाया उन्होंने हजरत उमर रजि अल्लाहु अन्हु की ईंट के बराबर चौथी रखी साथ ही आप सल्लल्लाहो वाले वसल्लम ने इरशाद फरमाया मेरे बाद यही अलीशा होंगे मुस्तकीम ने इस हदीस को सही कहा है

★_फिर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने आम मुसलमानों को हुक्म फरमाया -अब पत्थर लगाना शुरू कर दो।
: ★_ मुसलमान पत्थरों से बुनियादी भरने लगे ,बुनियादें तकरीबन 3 हाथ (साढ़े 4 फुट) गहरी थी ,इसके लिए ईटों की तामीर उठाई गई दोनों जानिब पत्थरों की दीवारें बनाकर खजूर की टहनियों की छत बनाई गई और खजूर के तनो के सुतून बनाए गए, दीवारों की ऊंचाई इंसानी पद के बराबर थी।

★_इन हालात में कुछ अंसारी मुसलमानों ने कुछ माल जमा किया वह माल आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के पास लाए और अर्ज किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! इस माल से मस्जिद बनाएं और उसको आरास्ता कीजिए हम कब तक छप्पर के नीचे नमाज़ पढ़ेंगे _" ,
इस पर हुजूर अकरम सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-  मुझे मस्जिदों को सजाने का हुक्म नहीं दिया गया _,"
इस सिलसिले में एक और हदीस के अल्फ़ाज़ यह है :- कयामत क़ायम होने की एक निशानी यह है कि लोग मस्जिदों में आराइश और ज़ेबाइश करने लगेंगे जैसे यहूद और नसारा अपने कलीसाओं और गिरजों में जे़ब व ज़ीनत करते हैं।

★_मस्जिद-ए-नबवी की छत खजूर की छाल और पत्थरों की थी और उस पर थोड़ी सी मिट्टी थी जब बारिश होती तो पानी अंदर टपकता यह पानी मिट्टी मिला होता , इससे मस्जिद के अंदर कीचड़ हो जाता । यह बात महसूस करके सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने अर्ज़ किया:- या रसूलल्लाह ! अगर आप हुक्म दे तो छत पर ज्यादा मिट्टी बिछा दी जाए ताकि उस में से पानी ना रिसे ,मस्जिद में ना लटके _,"
आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया:- नहीं ! यूं ही रहने दो_,"

★_मस्जिद की तामीर के काम में तमाम मुहाजिरीन और अन्सार सहाबा ने हिस्सा लिया यहां तक कि खुद हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने भी अपने हाथों से काम किया ।आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अपनी चादर में ईंटें भर भर कर लाते यहां तक कि सीना मुबारक गुबार आलूद हो जाता ।सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को ईंटे उठाते देखा तो वो और ज्यादा जां नफसानी से ईंटे ढोने लगे (यहां ईंटों से मुराद पत्थर हैं ) , एक मौके पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने देखा कि बाकी सहाबा तो एक-एक पत्थर उठा कर ला रहे हैं और हजरत अम्मार बिन यासिर रजियल्लाहु अन्हु दो पत्थर उठाकर  ला रहे थे तो उनसे पूछा :- अम्मार , तुम भी अपने साथियों की तरह एक एक पत्थर क्यों नहीं लाते? उन्होंने अर्ज़ किया :- इसलिए कि मैं अल्लाह ताला से ज्यादा अजरो जवाब चाहता हूं_,"

★_हजरत उस्मान बिन मज़'ऊन रज़ियल्लाहु अन्हु बहुत नफीस और सफाई पसंद थे वह भी मस्जिद की तामीर के लिए पत्थर ढो रहे थे, पत्थर उठाकर चलते तो उसको अपने कपड़ों से दूर रखते ताकि कपड़े खराब ना हो अगर मिट्टी लग जाती तो फौरन चुटकी से उसको झाड़ने लग जाते दूसरे सहाबा देख कर मुस्कुरा जाते।
[: ★__ मस्जिद की तामीर के बाद हुजूर अकरम सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम उसमें 5 माह तक बैतूल मुकद्दस की तरफ मुंह करके नमाज़ें पढ़ते रहे इसके बाद अल्लाह ताला के हुक्म से क़िब्ले का रुख बैतुल्लाह की तरफ हो गया । मस्जिद का पहले फर्श कच्चा था फिर उस पर कंकरिया बिछा दी गई यह इसलिए बिछाई गई कि एक रोज़ बारिश हुई फर्श गीला हो गया । अब जो भी आता अपनी झोली में कंकरिया भरकर लाता और अपनी जगह पर उनको बिछा का नमाज़ पढ़ता। तब नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हुक्म दिया कि सारा फर्श ही कंकरिया का बिछा दो।

★_फिर जब मुसलमान ज्यादा हो गए तो नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने मस्जिद को बड़ा करने का इरादा फरमाया। मस्जिद के साथ जमीन का एक टुकड़ा हजरत उस्मान ग़नी रजियल्लाहु अन्हु का था ,यह टुकड़ा उन्होंने एक यहूदी से खरीदा था । जब हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु को मालूम हुआ कि हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मस्जिद को बड़ा करना चाहते हैं तो उन्होंने अर्ज किया :-  अल्लाह के रसूल ! आप मुझसे जमीन का यह टुकड़ा जन्नत के एक मकान के बदले में खरीद लें_,"
चुनांचे नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने ज़मीन का टुकड़ा उनसे ले लिया। मस्जिद ए नबवी के बारे में आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-  अगर मेरी यह मस्जिद सना के मका़म तक भी बन जाए (यानि इतनी बड़ी हो जाए ) तो भी यह मेरी मस्जिद ही रहेगी, यानी मस्जिद-ए-नबवी ही रहेगी।

★_ इससे ज़ाहिर हो रहा है कि आप ने मस्जिद-ए-नबवी के वसी होने की इत्तेला पहले ही दे दी थी और हुआ भी यही । बाद के दौर में इसकी तोसी होती रही है और इस का सिलसिला जारी है और आगे भी जारी रहेगा।

★_मस्जिद-ए-नबवी के साथ ही सैयदा आयशा सिद्दीका रजियल्लाहु अन्हा और सैयदा सौदा रज़ियल्लाहु अन्हा के लिए दो हुजरे बनाए गए , ये हुजरे मस्जिद-ए-नबवी से बिल्कुल मिले हुए थे , इन हुजरों की छत भी मस्जिद की तरह खजूरों की छाल से बनाई गई थी । 
मस्जिद-ए-नबवी की तामीर तक आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम हजरत अबू अयूब अंसारी रजियल्लाहु अन्हु के घर में क़याम पजी़र रहे आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उनके मकान में निचली मंजिल में क़याम फरमाया था । हजरत अबू अयूब अंसारी रजियल्लाहु अन्हु और उनकी बीवी ने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से दरख्वास्त की थी :- हुजूर ! आप ऊपर वाली मंजिल में क़याम फरमाइए _,"
इस पर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने जवाब में फरमाया :-  मुझे नीचे ही रहने दो ..क्योंकि लोग मुझसे मिलने के लिए आएंगे इसमें सहूलियत रहेगी_,"

★_ हजरत अबू अयूब अंसारी रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं :-  एक रात हमारी पानी की घड़िया टूट गई हम घबरा गए कि पानी नीचे ना टपकने लगे और आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को परेशानी ना हो ..तो हमने फौरन उस पानी को अपने लिहाफ में जज़्ब करना शुरू कर दिया और हमारे पास एक ही लिहाफ था वह दिन सर्दी के थे _," 
इसके बाद हजरत अबू अयूब अंसारी रजियल्लाहु अन्हु ने फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से ऊपर वाली मंजिल पर क़याम करने की दरख्वास्त कि आखिर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने उनकी बात मान ली।

★_ उनके घर के क़याम के दौरान आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के लिए खाना हजरत असद बिन ज़रारा और हजरत साद बिन उबादा रजियल्लाहु अन्हु के यहां से भी आता था ।
[ ★_ इस तामीर से फारिग होने के बाद हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हज़रत ज़ैद बिन हारिसा और हज़रत ज़ैद बिन राफे रजियल्लाहु अन्हुम को मक्का भेजा ताकि हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के घर वालों को ले आए। हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन्हें सफर में खर्च करने के लिए 500 दिरहम और दो ऊंट दिए , रहबर के तौर पर उनके साथ अब्दुल्लाह बिन अरीक़त को भेजा। सैयदना अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने यह अखराजात बर्दाश्त किए , उनके घर वालों को लाने की जिम्मेदारी भी इन्हें सौंपी गई ,इस तरह यह हजरात मक्का मुअज्ज़मा से आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की साहब जादियो हजरत फातिमा रज़ियल्लाहु अन्हा, हजरत उम्मे कुलसुम रज़ियल्लाहु अन्हा को, आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की एहलिया मोहतरमा हजरत सौदा बिन्त ज़मा रज़ियल्लाहु अन्हा और दाया उम्मे ऐमन रज़ियल्लाहु अन्हा ( जो हजरत ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु की अहलिया थी ) और उनके बेटे हजरत उसामा रज़ियल्लाहु अन्हु को ले कर मदीना मुनव्वरा आ गए । हजरत उसामा बिन ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की दाया के बेटे थे और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को हद दर्जे अज़ीज़ थे।

★__ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की बेटी हजरत जेनब रजियल्लाहु अन्हा चुंकी शादीशुदा थी और उनके शौहर उस वक्त तक मुसलमान नहीं हुए थे इसलिए उन्हें हिजरत करने से रोक दिया गया । हजरत जे़नब रजियल्लाहु अन्हा ने बाद में हिजरत की थी और अपने शौहर को कुफ्र की हालत में मक्का छोड़ आई थी , उनके शहर अबुल आस बिन रबी'आ रज़ियल्लाहु अन्हू थे , यह गज़वा बदर के मौक़े पर काफिरों के लश्कर में शामिल हुए , गिरफ्तार हुए लेकिन उन्हें छोड़ दिया गया,  फिर यह मुसलमान हो गए।
आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की चोथी बेटी हजरत रुकैया रज़ियल्लाहु अन्हा अपने शौहर हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु के साथ पहले ही हबशा हिजरत कर गई थी यह बाद में हबशा से मदीना पहुंचे थे।

★_ हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु के घर वाले भी साथ ही मदीना मुनव्वरा आ गए, उनमें उनकी जोज़ा मोहतरमा हजरत उम्मे रोमान, हजरत आयशा सिद्दीका़ और उनकी बहन हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हुमा शामिल थी , हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के बेटे हजरत अब्दुल्लाह रज़ियल्लाहु अन्हु भी साथ आए। हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की जौज़ा हजरत उम्मे रोमान रज़ियल्लाहु अन्हा के बारे में नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया था :- जिस शख्स को जन्नत की हूरों में से कोई हूर देखने की ख्वाहिश हो, वह उम्मे रोमान को देखें _,"

★_ हिजरत के इस सफर में हजरत असमा रज़ियल्लाहु अन्हा को मदीना मुनव्वरा पहुंचने से पहले क़ुबा में ठहरना पड़ा ,उनके यहां हजरत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रजियल्लाहु अन्हु पैदा हुए,  बच्चे की पैदाइश के बाद मदीना पहुंची और अपना बच्चा आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की गोद में बरकत हासिल करने के लिए पेश किया । यह हिजरत के बाद मुहाजिरीन के यहां पहला बच्चा था जिनकी पैदाइश पर मुसलमानों को बेहद खुशी हुई क्योंकि कुफ्फार ने यह मशहूर कर दिया था कि जब से रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम और मुहाजिरीन मदीना आए हैं इनके यहां कोई नरीना नहीं हुई क्योंकि हमने उन पर जादू कर दिया है। अब्दुल्लाह बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हू की पैदाइश पर उन लोगों की बात गलत साबित हो गई इसलिए मुसलमानों को बहुत खुशी हुई।

★_ मस्जिद-ए-नबवी की तामीर मुकम्मल हो गई तो रात के वक्त उसमें रोशनी का मसला सामने आया । इस गर्ज़ के लिए पहले पहल खजूर की शाखें जलाई गई । फिर हजरत तमीम दारी रजियल्लाहु अन्हु मदीना मुनव्वरा आए तो वह अपने साथ कंदीलें, रस्सियां और जैतून का तेल लाए।
[🖊: ★__ हजरत तमीम दारी रजियल्लाहु अन्हु ने ये क़ंदीलें मस्जिद में लटका दिए फिर रात के वक्त उनको जला दिया , यह देखकर हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया :-  हमारी मस्जिद रोशन हो गई अल्लाह ताला तुम्हारे लिए भी रोशनी का सामान फरमाए,  अल्लाह की क़सम ! मेरे कोई और बेटी होती तो मैं उसकी शादी तुमसे कर देता _," 
बाज़ रिवायात में है कि सबसे पहले हजरत उमर फारूक रजियल्लाहु अन्हु ने मस्जिद में क़ंदील जलाई थी ।

★_ मस्जिद-ए-नबवी की तामीर के साथ आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने दो हुजरे अपनी बीवियों के लिए बनवाए थे( बाक़ी हुजरे जरूरत के मुताबिक बाद में बनाए गए)  उन दो में से एक सैयद आयशा सिद्दीका़ रज़ियल्लाहु अन्हा का था और दूसरा सैयदा सौदा रज़ियल्लाहु अन्हा का ।
मदीना मुनव्वरा में वह ज़मीने जो किसी की मिल्कियत नहीं थी उन पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मुहाजिरीन के लिए निशानात लगा दिए यानी यह ज़मीनें उनमें तक़सीम कर दी,  कुछ जमीनें आपको अंसारी हजरात ने हदिया की थी , आप सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ने उनको भी तक़सीम फरमा दिया और उन जगहों पर उन मुसलमानों को बसाया जो पहले क़बा में ठहर गए थे लेकिन बाद में जब उन्होंने देखा कि क़ुबा में जगह नहीं है तो वह भी मदीना चले आए थे।

★_आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने अपने बीवियों के लिए जो हुजरे बनवाएं वह कच्चे थे, खजूर की शाखों ,पत्तों और छाल से बनाए गए थे । उन पर मिट्टी लीपी गई थी।
हजरत हसन बसरी रहमतुल्लाहि अलैह मशहूर ताबइ है और यह तो आपको पता ही होगा कि ताबई उसे कहते हैं जिसने किसी सहाबी को देखा हो । वह कहते हैं कि जब मैं छोटा था तो हजरत उस्मान गनी रजियल्लाहु अन्हु की खिलाफ के दौर में उम्माहातुल मोमिनीन के हुजरों में जाता था । उनकी छतें इस क़दर नीची थी कि उस वक्त अगरचे मेरा क़द छोटा था लेकिन मैं हाथ से छतों को छू लिया करता था।
हसन बसरी रहमतुल्लाहि अलैह उस वक्त पैदा हुए थे जब हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु के खिलाफत को अभी 2 साल बाक़ी थे । वह नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की ज़ौजा हजरत उम्मे सलमा रज़ियल्लाहु अन्हु की बांदी खैयरा के बेटे थे , हजरत उम्मे सलमा रजियल्लाहु अन्हा इन्हें सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम के पास किसी काम से भेजा करती थी , सहाबा किराम इन्हें बरकत की दुआएं दिया करते थे। हजरत उम्मे सलमा रजियल्लाहु अन्हा इन्हें हजरत उमर फारूक रजियल्लाहु अन्हु के पास भी ले गई थी। हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने इन्हें इन अल्फाज़ में दुआ दी थी :-  ऐ अल्लाह ! इन्हें दीन की समझ अता फरमा और लोगों के लिए यह पसंदीदा हों _,"

★_ मस्जिद-ए-नबवी के चारों तरफ हज़रत हारिसा बिन नौमान के मकानात थे , आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपनी हयात मुबारक में मुताद्दिद  निकाह फरमाए थे जिनमें दिनी हिकमते और मसलिहते थी । जब भी आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम निकाह फरमाते तो हज़रत हारिसा बिन नौमान रज़ियल्लाहु अन्हु अपना एक मकान यानि हुजरा आप सल्लल्लाहु अलैहे वसल्लम को हदिया कर देते,  इसमें आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की ज़ौजा मोहतरमा का क़याम हो जाता । यहां तक कि रफ्ता रफ्ता हजरत हारिसा बिन नौमान रज़ियल्लाहु अन्हु ने अपने सारे मकान इसी तरह आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को हदिया कर दिए ।
 ╨─────────────────────❥
: *★_ Islami Bhai chara _,*

★_ Isi zamane me Aan Hazrat ﷺ ne Muhajireen aur Ansar Musalmano ke Saamne Yahoodiyo'n SE Sulah Ka Mu'ahida Kiya ,Is Mu'ahide ki ek tehreee bhi likhwayi gayi , Mu'ahide me Tay paya Gaya  k Yahoodi Musalmano SE Kabhi Jung nahi karenge ,Kabhi Unhe Takleef nahi pahunchayenge aur ye k Aan Hazrat ﷺ ke muqable me wo Kisi ki madad nahi karenge aur agar koi Achanak Musalmano per hamla kare to ye Yahoodi Musalmano Ka Saath denge ,
In shara'it ke muqable me Musalmano ki taraf se Yahoodiyo'n ki Jaan v Maal aur Unke  mazhabi mamlaat me Azaadi ki zamanat di gayi , Ye Mu'ahida Jin Yahoodi qaba'il se Kiya gaya unke Naam Bani Qeenqa , Bani Qureza aur Bani Nazeer Hai'n ,

★_ Iske Saath hi Aap ﷺ ne Muhajireen aur Ansar ke darmiyaan Bhai Chara karaya ,is Bhai Chara SE Musalmano ke darmiyaan Muhabbat aur khuloos Ka be misaal Rishta Qaa'im hua , is Bhai Chara ko muwakhaat Kehte Hai'n, Bhai Chara Ka ye qayaam Hazrat Anas bin Maalik Raziyllahu Anhu ke Makaan per hua ,Ye Bhai Chara Masjide Nabvi ki Tameer ke baad hua , is moqe per Aap ﷺ ne irshad farmaya tha :- 
"_ Allah Ke Naam per sab aapas me do do Bhai ban Ja'o _,"
Is Bhai Chara ke baad Ansari Musalmano ne Muhajireen ke Saath Jo sulook Kiya Wo rehti Duniya Tak Yaad rakha Jayega , Khud Muhajireen per is sulook Ka is qadar Asar hua k wo pukaar uthe :- 
"_ Ey Allah ke Rasool ! Humne in Jese log Kabhi nahi dekhe , inhone Hamare Saath is qadar Hamdardi aur Gam gusari ki hai ,is qadar fayyazi Ka maamla Kiya hai k iski koi misaal nahi mil Sakti .. Yaha'n tak k Mehnat aur Mashakkat ke Waqt Wo Hume alag rakhte Hai'n aur Sila Milne Ka Waqt Aata hai to Hume usme barabar Ka Shareek Kar Lete Hai'n..Hume to dar hai ..bas Akhirat Ka Saara Sawab ye Tanha na samet le Jaye'n -,"
Unki ye Baat sun Kar Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne irshad farmaya :- Nahi ! Esa us Waqt tak nahi ho Sakta,jab tak tum unki tareef Karte rahoge aur Unhe Duae'n dete rahoge _,"

★_ Baaz ulma ne Likha hai k Bhai Chara karana Huzoor Nabi Kareem ﷺ ki Khususiyat me SE hai , Aap ﷺ se Pehle Kisi Nabi ne apne ummatiyo'n me is Tarah Bhai Chara nahi karaya ,

★_ Is Silsile me Rivayat milti hai k Ansari Musalmano ne Apne Muhajireen Bhaiyo'n ko Apni har cheez me se nisf hissa de diya , Kisi ke paas do Makaan they to Ek Apne Bhai ko de diya, Isi Tarah Har Cheez Ka nisf Apne Bhai ko de diya Yaha'n tak k ek Ansari ki do Biviya'n thi , Unhone Apne Muhajir Bhai SE Kaha k Meri Do Biviya'n Hai'n, Mai'n unme se ek ko talaaq de Deta Hu'n ,iddat Poori hone ke baad tum usse Shadi Kar Lena ,Lekin Muhajir Musalman ne is Baat ko Pasand nahi farmaya ,
[ *★_ इस्लामी भाईचारा _,*

★_ उसी जमाने में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मुहाजिरीन और अन्सार मुसलमानों के सामने यहूदियों से सुलह का मुआहिदा किया इस मुआहिदे की एक तहरीर भी लिखवाई । मुआहिदा में तैय पाया कि यहूदी मुसलमानों से कभी जंग नहीं करेंगे कभी उन्हें तकलीफ नहीं पहुंचाएंगे और यह की आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के मुक़ाबले में वह किसी की मदद नहीं करेंगे और अगर कोई अचानक मुसलमानों पर हमला करें तो यहूदी मुसलमानों का साथ देंगे।
इन शराइत के मुक़ाबले में मुसलमानों की तरफ से यहूदियों की जान व माल और उनके मज़हबी मामलात में आज़ादी की जमानत दी गई । यह मुआहिदा जिन यहूदी क़बाइल से किया गया उनके नाम बनी क़ीनका , बनी क़ुरेजा और बनी नज़ीर है।

★_ इसके साथ ही आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने मुहाजिरीन और अन्सार के दरमियान भाईचारा कराया इस भाईचारे से मुसलमानों के दरमियान मोहब्बत और खुलूस का बेमिसाल रिश्ता कायम हुआ । इस भाईचारे को मुवाखात कहते हैं । भाईचारे का यह क़याम हजरत अनस बिन मालिक रज़ियल्लाहु अन्हु के मकान पर हुआ, यह भाईचारा मस्जिद-ए-नबवी की तामीर के बाद हुआ। इस मौक़े पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया था :-  अल्लाह के नाम पर तुम सब आपस में दो दो भाई बन जाओ _,"
इस भाईचारे के बाद अंसारी मुसलमानों ने मुहाजिरीन के साथ जो सलूक किया वह रहती दुनिया तक याद रखा जाएगा , खुद मुहाजिरीन पर इस सुलूक का इस क़दर असर हुआ कि वह पुकार उठे :- ऐ अल्लाह के रसूल ! हमने इन जैसे लोग कभी नहीं देखे इन्होंने हमारे साथ इस क़दर हमदर्दी और गम गुसारी की है ,इस क़दर फैयाजी़ का मामला किया है कि इसकी कोई मिसाल नहीं मिल सकती ..यहां तक कि मेहनत और मशक्कत के वक्त वह हमें अलग रखते हैं और सिला मिलने का वक्त आता है तो हमें उसमें बराबर का शरीक कर लेते हैं.. हमें तो डर है.. बस आखिरत का सारा सवाब यह तनहा ना समेट ले जाए _,"
उनकी यह बात सुनकर हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- नहीं ! ऐसा उस वक्त तक नहीं हो सकता जब तक तुम उनकी तारीफ करते रहोगे और उन्हें दुआएं देते रहोगे _,"

★_ बाज़ उल्मा ने लिखा है कि भाईचारा कराना हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खुसूसियत में से हैं । आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से पहले किसी भी नबी ने अपने उम्मतियों में इस तरह भाईचारा नहीं कराया ।

★_इस सिलसिले में रिवायत मिलती है कि अन्सारी मुसलमानों ने अपने मुहाजिर भाइयों को अपनी हर चीज में से निस्फ हिस्सा दे दिया , किसी के पास दो मकान थे तो एक अपने भाई को दे दिया,  इसी तरह हर चीज़ का निस्फ अपने भाई को दे दिया,  यहां तक कि एक अंसारी की दो बीवियां थी उन्होंने अपने मुहाजिर भाई से कहा कि मेरी दो बीवियां है मैं उनमें से एक को तलाक दे देता हूं इद्दत पूरी होने के बाद तुम उससे शादी कर लेना लेकिन मुहाजिर मुसलमान ने इस बात को पसंद नहीं फरमाया।
 ╨─────────────────────❥
 ★_Azaan Padhne Ka Tareeqa_,*

★_ Jo'nhi Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ki Azaan goonji aur Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ke kaano me ye Alfaz pade to Wo jaldi SE Chaadar sambhalte hue uthe aur tez tez chalte Masjide Nabvi me pahunche ,Masjid me pahunch Kar Unhe Abdullah bin Zaid Raziyllahu Anhu ke Khwab ke bare me Maloom hua to unhone arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Us zaat ki qasam Jisne Aapko Haq de Kar bheja hai, Maine bhi bilkul Yahi Khwab dekha hai _,"
Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki Zubaani Khwab ki tasdeeq sun Kar Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Allah Ka Shukr hai _,"

★_ Ab Paancho Waqt ki Namazo ke liye Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu Azaan dete , in Paanch Namazo ke alawa Kisi moqe per logo ko Jama Karna hota Maslan Suraj Grhan aur Chaand Grhan ho jata ya Baarish talab Karne Ke liye Namaz padhna Hoti to Wo " Assalaatu Jami'ah " Keh Kar elaan Karte they ,
Is Tarah Nabi Akram ﷺ ke zamane tak Hazrat Bilaal Raziyllahu Mo'azin rahe ,Unki gair mojoodgi me Hazrat Abdullah ibne Maktoom Raziyllahu Anhu Azaan dete they ,

★_ Aan Hazrat ﷺ ke zahoor se Pehle Madina Munavvara ke Yahoodi Qabila Aus aur Khazraj ke logo se ye Kaha Karte they :- Bahut jald Ek Nabi Zaahir honge ,Unki esi esi sifaat hongi ( Yani Huzoor Akram ﷺ ki nishaniya'n bataya Karte they ) Hum unke Saath mil Kar tum logo ko saabqa Qaumo ki Tarah tahas nahas Kar denge ,Jis Tarah Qaume Aad aur Qaume Samood ko tabaah Kiya gaya, Hum bhi tum logo ko is Tarah tabaah Kar denge _,"
Jab Nabi Paak  ﷺ Ka zahoor mubarak ho gaya to Yahi Yahood Huzoor Paak ﷺ ke khilaf ho gaye aur Saazishe Karne lage , 
Jab Aus aur Khazraj ke log islam ke daaman me aa gaye to Baaz Sahaba ne in Yahoodiyo'n SE Kaha :- Ey Yahoodiyo'n ! Tum humse Kaha Karte they k Ek Nabi Zaahir hone wale Hai'n Unki esi esi sifaat hongi, hum un per imaan la Kar tum logo ko tabaah v barbaad Kar denge Lekin ab Jabki unka zahoor ho gaya hai to tum Un per imaan kyu nahi laate ,Tum to Hume Nabi Kareem ﷺ Ka Huliya tak bataya Karte they,

★_ Sahaba kiraam Rizwanullah Alaihim Ajma'iyn ne jab ye Baat Kahi to Yahoodiyo'n me Salaam bin Mashkam bhi tha , Ye Qabila Bani Nazeer ke bade Aadmiyo'n me se tha ,Isne unki ye Baat sun Kar Kaha - Inme Wo nishaniya'n nahi Hai'n Jo hum tum SE Bayan karte they _,"
Is per Allah Ta'ala ne Surah Baqra ki Aayat number 89 Naazil farmayi :- 

*( Tarjuma )* _ Aur jab Unhe Kitaab pahunchi ( Yani Qur'an ) Jo Allah Ta'ala ki taraf se hai aur uski bhi tasdeeq Karne wali hai Jo Pehle se inke paas hai Yani Toraat ,Halanki isse Pehle Wo Khud ( is Nabi ke Waseele SE ) Kuffar ke khilaf Allah se madad talab Karte they, Fir Wo cheez Aa pahunchi Jisko Wo Khud jaante pehchante they ( Yani Huzoor ﷺ ki Nabuwat ) to Uska Saaf inkaar Kar Bethe Bas Allah ki maar ho ese Kaafiro per _,"
[09/02, 9:04 am] Jio Phone Old: *★_ Azaan Padhne Ka Tareeqa _,*

★_ In Kaamo SE Faarig hone ke baad ye masla Saamne Aaya k Namaz ke liye logo ko kese bulaya kare , Aap ﷺ ne Apne Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum SE mashwara Kiya , Is Silsile me Ek mashwara ye diya gaya k Namaz Ka Waqt hone per ek jhnada lehra diya Jaye ,Log unko dekhenge to samajh Jayenge k Namaz Ka Waqt ho gaya hai aur ek doosre ko bata diya karenge , Lekin Huzoor Akram ﷺ ne is Tajveez ko Pasand na farmaya ,
Fir Kisi ne Kaha k bigul Baja diya kare , Huzoor Akram ﷺ ne isko bhi na Pasand farmaya Kyunki ye tareeqa Yahoodiyo'n Ka tha , Ab Kisi ne Kaha naqoos Baja Kar elaan Kar diya kare , Aap ﷺ ne isko bhi Pasand na farmaya ,isliye k ye iysaa'iyo'n Ka Tareeqa hai ,

★_ Kuchh logo ne mashwara Diya k Aag jala di Jaya kare , Aap ﷺ ne is Tajveez ko bhi Pasand na farmaya isliye k ye tareeqa majusiyo'n Ka tha , Ek mashwara ye diya gaya k ek Shakhs muqarrar Kar diya Jaye k wo Namaz Ka Waqt hone per gasht lagaya kare , Chunache is raay ko qubool Kar liya gaya , Chunache Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ko elaan Karne wala muqarrar Kar diya gaya ,

★_ Unhi Dino Hazrat Abdullah bin Zaid Raziyllahu Anhu ne Khwab dekha , Unhone ek Shakhs ko dekha Uske jism per do Sabz Kapde they aur Uske Haath me Ek naqoos ( bigul ) tha ,Hazrat Abdullah bin Zaid Raziyllahu Anhu farmate hai'n k Maine usse puchha :- Kya tum ye naqoos farokht Karte ho _," Usne Puchha - Tum iska kya Karoge _,?"
Maine Kaha :- Hum isko Baja Kar Namaziyo ko Jama karenge _,"
 is per Wo Bola :- Kya Mai'n tumhe iske liye isse Behtar tareeqa na bata du'n _,"
Maine kaha- Zaroor bataiye _,"
Ab Usne Kaha - Tum ye Alfaz pukaar Kar logo ko Jama Kiya Karo _,"
Aur Usne Azaan ke Alfaz dohra diye ,Yani Poori Azaan padh Kar Unhe Suna Di , Fir Takbeer Kehne Ka tareeqa bhi bata diya _,

★_ Subeh hui to Hazrat Abdullah bin Zaid Raziyllahu Anhu Aap ﷺ ki khidmat me Haazir hue aur Apna ye Khwab sunaya ., Khwab sun Kar Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Beshak ! Ye Sachcha Khwab hai , in sha Allah ! Tum ja Kar ye Kalmaat Bilaal ko sikha do Taki wo inke zariye Azaan de , unki Awaaz Tumse Buland hai aur zyada dilkash bhi Hai _,"
Hazrat Abdullah Raziyllahu Anhu Hazrat Bilaal ke paas Aaye, Unhone Kalmaat seekhne per subeh ki Azaan di. .is Tarah Sabse Pehle Azaan Fajar ki Namaz ke liye di gayi ,
 ╨─────────────────────❥
 ★_ अज़ान पढ़ने का तरीका _,*

★_ इन कामों से फारिग होने के बाद यह मसला सामने आया कि नमाज के लिए लोगों को कैसे बुलाया करें ।आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम से मशवरा किया , इस सिलसिले में एक मशवरा यह दिया गया कि नमाज का वक्त होने पर एक झंडा लहरा दिया जाए लोग उसको देखेंगे तो समझ जाएंगे कि नमाज का वक्त हो गया है और एक दूसरे को बता दिया करेंगे । लेकिन हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इस तजवीज़ को पसंद ना फरमाया । फिर किसी ने कहा कि बिगुल बजा दिया करें,  हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इसको भी नापसंद फरमाया क्योंकि यह तरीक़ा यहूदियों का था। किसी ने कहा नाकूस बजा कर ऐलान कर दिया करें ,आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इसको भी पसंद ना फरमाया इसलिए कि यह ईसाईयों का तरीक़ा है।

★_ कुछ लोगों ने मशवरा दिया कि आग जला दी जाए जाया करें आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इस तजवीज़ को भी पसंद ना फरमाया इसलिए यह तरीक़ा मजूसियों का था । एक मशवरा यह दिया गया कि एक शख्स मुक़र्रर कर दिया जाए कि वह नमाज का वक्त होने पर गश्त लगाया करें , इस राय को कुबूल कर लिया गया। चुनांचे हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु को ऐलान करने वाला मुकर्रर कर दिया गया ।

★_ उन्हीं दिनों हजरत अब्दुल्लाह बिन ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु ने ख्वाब देखा , उन्होंने एक शख्स को देखा उसके जिस्म पर दो सब्ज़ कपड़े थे और उसके हाथ में एक नाकूस था, हजरत अब्दुल्लाह बिन ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं मैंने उससे पूछा- क्या तुम यह नाकूस फरोख्त करते हो , उसने पूछा -तुम इसका क्या करोगे , मैंने कहा हम इसको बजाकर नमाजियों को जमा करेंगे। इस पर वह बोला क्या मैं तुम्हें इसके लिए इससे बेहतर तरीक़ा ना बता दूं ,मैंने कहा ज़रूर बताइए ।अब उसने कहा तुम यह अल्फाज़ पुकार कर लोगों को जमा किया करो और उसने अज़ान के अल्फाज़ दोहरा दिए  यानी पूरी अज़ान पढ़कर उन्हें सुना दी, फिर तकबीर कहने का तरीक़ा भी बता दिया_,

★_ सुबह हुई तो हजरत अब्दुल्लाह बिन ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए और अपना यह ख्वाब सुनाया, ख्वाब सुनकर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया - बेशक ! यह सच्चा ख्वाब है , इंशाल्लाह ! तुम जाकर यह कलमात बिलाल को सिखा दो ताकि वह इसके जरिए अज़ान दे, उनकी आवाज तुमसे बुलंद है और ज्यादा दिलकश भी है_,"
हजरत अब्दुल्लाह रज़ियल्लाहु अन्हु हजरत बिलाल के पास आए, उन्होंने कलमात सीखने पर सुबह की अज़ान दी ..इस तरह सबसे पहले अजा़न फजर की नमाज़ के लिए दी गई।
: ★_ अज़ान पढ़ने का तरीका _,*

★_ ज्योंही हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु की अज़ान गूंजी और हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु के कानों में ये अल्फाज़ पड़े तो बहुत जल्दी से चादर संभालते हुए उठे और तेज़ तेज़ चलते हुए मस्जिद-ए-नबवी में पहुंचे , मस्जिद में पहुंचकर उन्हें अब्दुल्लाह बिन ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु के ख्वाब के बारे में मालूम हुआ तो उन्होंने अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! उस जात की कसम जिसने आपको हक़ देकर भेजा है मैंने भी बिल्कुल यही ख्वाब देखा है _,"
हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की ज़ुबानी ख्वाब की तस्दीक़ सुनकर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-  अल्लाह का शुक्र है_,"

★_ अब पांचों वक्त की नमाज़ों के लिए हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु अज़ान देते ,इन पांच नमाजो के अलावा किसी मौके़ पर लोगों को जमा करना होता मसलन- सूरज ग्रहण और चांद ग्रहण हो जाता या बारिश तलब करने के लिए नमाज पढ़ना होती तो वह "अस्सलातू जामि'आ " कहकर एलान करते थे ।
इस तरह नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के जमाने तक हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु मोअज्ज़िन रहे ,उनकी गैरमौजूदगी में हजरत अब्दुल्लाह बिन मकतूम रज़ियल्लाहु अन्हु अज़ान देते थे।

★_ आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के ज़हूर से पहले मदीना मुनव्वरा के यहूदी क़बीला ओस और खज़रज के लोगों से यह कहा करते थे:-  बहुत जल्द एक नबी जाहिर होंगे उनकी ऐसी ऐसी सिफात होंगी (यानी हुजूर अकरम सल्लल्लाहो सल्लम की निशानियां बताया करते थे) हम उनके साथ मिलकर तुम लोगों को साबका़ क़ौमों की तरह तहस-नहस कर देंगे जिस तरह क़ौमे आद , और क़ौमे समूद को तबाह किया गया हम भी तुम लोगों को इस तरह तबाह कर देंगे _,"
जब नबी पाक सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का ज़हूर मुबारक हो गया तो यही यहूद हुजूर पाक सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के खिलाफ हो गए और साजिशें करने लगे । जब औस और खज़रज के लोग इस्लाम के दामन में आ गए तो बाज़ सहाबा ने यहूदियों से कहा :- ऐ यहूदियों ! तुम हमसे कहा करते थे कि एक नबी जाहिर होने वाले है उनकी ऐसी ऐसी सिफात होंगी हम उन पर ईमान ला कर तुम लोगों को तबाह व बर्बाद कर देंगे लेकिन अब जबकि उनका जहूर हो गया है तो तुम उन पर ईमान क्यों नहीं लाते तुम तो हमें नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का हुलिया तक बताया करते थे_,"

★_ सहाबा किराम रिज़वानुल्लाहि अलैहिम अज़म'ईन ने जब यह बात कही तो यहूदियों में सलाम बिन मशकम भी था , यह क़बीला बनी नज़ीर के बड़े आदमीयों में से था,  इसने उनकी यह बात सुनकर कहा -इनमें वह निशानियां नहीं है जो हम तुमसे बताया करते थे _," इस पर अल्लाह ताला ने सूरह बक़रा की आयत नंबर 89 नाजिल फरमाई :- 

" (तर्जुमा ) _ और जब उन्हें किताब पहुंची (यानी कुरान) जो अल्लाह ताला की तरफ से है और उसकी भी तस्दीक़ करने वाली है जो पहले से ही इनके पास है यानी तौरात, हालांकि इससे पहले वह खुद (इस नबी के वसीले से ) कुफ्फार के खिलाफ अल्लाह से मदद तलब करते थे, फिर वह चीज़ आ पहुंची जिसको वह खुद जानते पहचानते थे (यानी हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की नबूवत ) तो उसका साफ इंकार कर बैठे बस अल्लाह की मार हो ऐसे काफिरों पर _,"

 ╨─────────────────────❥
: *★_ Yahoodiyo'n ke sawalaat _,*

★_ Is bare me Ek Rivayat me hai k ek Raat Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Yahoodiyo'n ke Ek bade sardaar Maalik bin Saif SE farmaya:- Mai'n tumhe us zaat ki qasam de Kar puchhta Hu'n k Jisne Moosa Alaihissalam per Toraat Naazil farmayi, Kya Toraat me ye Baat mojood hai k Allah Ta'ala mote taaze "' Habr" Yani Yahoodi Raahib SE Nafrat karta Hai , Kyunki tum bhi ese hi mote taaze ho , Tum Wo Maal kha kha Kar mote hue Jo tumhe Yahoodi la la Kar dete Hai'n _,"
Ye Baat sun Kar Maalik bin Saif bigad gaya aur bol utha :- Allah Ta'ala ne Kisi bhi insaan per koi cheez nahi utaari _,"

★_ Goya is Tarah Usne Khud Hazrat Moosa Alaihissalam per Naazil hone wali Kitaab Toraat Ka bhi inkaar Kar diya...aur esa Sirf jhunjhlahat ki vajah se Kaha ,Doosre Yahoodi is per bigde , Unhone usse  Kaha :- Ye Humne tumhare bare me Kya Suna hai _,"
Jawab me Usne Kaha :- Muhammad ne mujhe Gussa dilaya tha ...bas Mai'ne Gusse me ye Baat keh di _,"
Yahoodiyo'n ne uski is Baat ko Maaf na Kiya aur use Sardaari SE hata diya ,Uski Jagah Ka'ab bin Ashraf ko Apna sardaar muqarrar Kiya ,

★_ Ab Yahoodiyo'n ne Huzoor Akram ﷺ ko tang Karna shuru Kar diya, Ese Sawalaat puchhne ki Koshish Karne lage Jinke Jawabaat unke khayal me Aap ﷺ na de sakenge ,Maslan Ek Roz Unhone Puchha :- Ey Muhammad (ﷺ) ! Aap Hume bataye'n Rooh kya cheez hai ?
Aap ﷺ ne is Sawal ke bare me wahi Ka intezar farmaya, Jab Wahi Naazil hui to Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Rooh mere Rab ke Hukm se Bani hai _,"

Yani Aap ﷺ ne Qurane Kareem ki ye Aayat padhi :- 
"_( Tarjuma) _ Aur ye log Aapse Rooh ke mutalliq puchhte Hai'n , Aap farma dijiye k Rooh mere Rab ke hukm SE bani hai _," *( Surah Bani Israiyl ,Aayat -85)*

★_ Fir Unhone Qayamat ke bare me Puchha k kab aayegi , Aap ﷺ ne Jawab me irshad farmaya :- iska ilm mere Rab ke paas hai ... Uske Waqt ko Allah Ke Siva koi aur Zaahir nahi karega _," *( Surah Al A'araaf )*

Is Tarah Do Yahoodi Aap ﷺ ke paas Aaye aur Puchha :- Aap bataye'n, Allah Ta'ala ne Moosa Alaihissalam ki Qaum Ko kin Baato ki takeed farmayi thi _,"
Jawab me Aap ﷺ ne irshad farmaya :- 
"_ Ye k Allah Ke Saath Kisi Ko shareek na thehrao , Badkaari na karo , aur Haq ke Siva ( Yani Shara'i Qanoon ke Siva ) Kisi ese Shakhs ki Jaan na lo Jisko Allah Ta'ala ne tum per Haraam Kiya hai ,Chori mat Karo ,Sahar aur Jaadu Tona Kar Ke Kisi Ko nuqsaan na pahunchao , Kisi Baadshah aur Haakim ke paas Kisi ki chugal khori na karo ,Sood Ka Maal na Khao ,Gharo me bethne wali ( Paak Daaman ) Aurto'n per bohtaan na baandho , Aur Ey Yahoodiyo'n ! Tum per Khaad tor per ye Baat laazim hai k Hafte ke din Kisi per zyadti na karo isliye k Yahoodiyo'n Ka mutbarak Din hai _,"

★_ Ye hidayat sun Kar Dono Yahoodi bole :- Hum Gawaahi dete Hai'n k Aap ﷺ Nabi Hai'n _,"
Is per Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Tab fir tum Musalman kyu nahi ho jate ?"
Unhone Jawab diya :- Hume dar hai ,Agar hum Musalman ho gaye to Yahoodi Hume qatl Kar daalenge _,"
 ★_ Do Yahoodi Aalim mulke Shaam me rehte they, Unhe Abhi Nabi Kareem ﷺ ke zahoor ki khabar nahi hui thi ,Dono Ek martaba Madina Munavvara Aaye ,Madina Munavvara ko Dekh Kar ek doosre SE Kehne lage :- Ye Shehar us Nabi ke Shehar SE Kitna milta julta hai Jo Aakhri zamane me Zaahir hone wale Hai'n _,"
Iske Kuchh der ke baad Unhe pata Chala k Aan Hazrat ﷺ Ka zahoor ho chuka hai aur Aap ﷺ Makka Muazzama SE Hijrat Kar ke is Shehar Madina Munavvara me aa chuke Hai'n , Ye khabar Milne per Dono Aap ﷺ ki khidmat me Haazir hue, Unhone Kaha :- Hum Aapse Ek sawal puchhna chahte Hai'n, Agar Aap ne Jawab de diya to hum Aap per imaan le aayenge _,"
Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Puchho ! Kya puchhna chahte ho ?

★_ Unhone Kaha :- Hume Allah ki Kitaab me SE Sabse badi gawahi aur Shahadat ke mutalliq bataye'n _,"
Unke Sawal per Surah Aale imraan ki Aayat -19 Naazil hui, Aap ﷺ ne Wo unke Saamne tilawat farmayi :- 
"_ ( Tarjuma )_ Allah ne iski Gawaahi di hai k Sivaye uski zaat ke koi Ma'abood hone ke laa'iq nahi aur Farishto ne bhi aur Ahle ilm ne bhi Gawaahi di hai aur Wo is shaan ke Maalik Hai'n k aitdaal ke Saath intezam ko qaa'im rakhne wale Hai'n , Unke Siva koi Ma'abood hone ke laa'iq nahi, Wo Zabardast Hai'n , Hikmat wale Hai'n ,Bila Shuba Deene Haq aur maqbool Allah Ta'ala ke Nazdeek Sirf islam hai _,"

★_ Ye Aayat sun Kar Dono Yahoodi islam le Aaye , isi Tarah Yahoodiyo'n ke Ek aur Bahut bade Aalim they , Unka Naam Husain bin Salam tha , Ye Hazrat Yusuf Alaihissalam ki Aulaad me se they , Inka Talluq Qabila Bani Qeenqa se tha , Jis Roz Aap ﷺ Hijrat Kar ke Hazrat Abu Ayyub Ansari Raziyllahu Anhu ke Ghar me riha'ish pazeer hue ,Ye usi Roz Aap ﷺ ki khidmat me Haazir hue, Jo'nhi inhone Aap ﷺ Ka Chehra mubarak dekha ,Foran samajh gaye k ye Chehra Kisi Jhoote Ka nahi ho Sakta ,Fir Jab inhone Aap ﷺ Ka Kalaam Suna to foran pukaar uthe :- Mai'n Gawaahi deta Hu'n k Aap Sachche Hai'n aur Sachchayi le Kar Aaye Hai'n _,"

★_ Fir inka islami Naam Aap ﷺ ne Abdullah bin Salam rakha , islam qubool Karne Ke baad ye Apne Ghar gaye , Apne islam lane ki tafseel Ghar walo ko sunayi to Wo bhi islam le Aaye ,
: ★_ Chand Yahoodiyo'n ne Aap ﷺ se Sawal Puchha - Aap ye bataye'n, us Waqt log Kaha'n honge jab Qayamat ke Din Zameen aur Aasmaan ki Shakle'n tabdeel ho jayengi ?
Is per Aan'Hazrat ﷺ ne Jawab diya :- Us Waqt log Pul Siraat ke qareeb Andhere me honge _,"

★_ Isi Tarah Ek martaba Yahoodiyo'n ne Huzoor Aqdasﷺ SE Baadlo ki garaj aur kadak ke bare me Puchha , Jawab me Aap ﷺ ne irshad farmaya :- 
"_ Ye us Farishte ki Awaaz hai Jo Baadal Ka nigraa'n hai ,Uske Haath me Aag Ka Ek Koda hai ,Usse Wo Baadlo'n ko haa'nkta hua us taraf le jata hai Jaha'n Pahunchne ke liye Allah Ta'ala Ka Hukm hota hai _,"

★_ Un Yahoodiyo'n hi me se ek giroh munafiqeen Ka tha , Ye Baat Zara wazahat SE samajh Le'n , Madina Munavvara me jab islam ko urooj haasil hua to Yahoodiyo'n Ka iqtidaar Khatm ho gaya ,Bahut SE Yahoodi is khayal SE Musalman ho gaye k ab unki jaane khatre me Hai'n, Siva Apni Jaan bachane ke liye Wo Jhoot moot ke Musalman ho gaye ,Ab Agarche Kehne ko Wo Musalman they Lekin unki Hamdardiya'n aur Muhabbate ab bhi Yahoodiyo'n ke Saath thi , Zaahir me wo Musalman they, Andar SE wahi Yahoodi they , in logo ko Allah aur Uske Rasool ne Munafiq qaraar diya hai , Inki tadaad Teen So ke qareeb thi ,
Inhi munafiqo me Abdullah ibne Uba'i bhi tha .. ye munafiqo Ka Sardaar tha ,
Ye Munafiqeen Hamesha is taak me rehte they k Kab aur Kis Tarah Musalmano ko nuqsaan Pahuncha sake'n ... Musalmano ko pareshan Karne aur nuqsaan Pahunchane Ka koi moqa ye Haath SE Jane Nahi dete they ,

: ★__ इस बारे में एक रिवायत में है एक रात हजूर नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने यहूदियों के बड़े सरदार मालिक बिन सैफ से फरमाया -मैं तुम्हें उस जात की कसम देकर पूछता हूं कि जिसने मूसा अलैहिस्सलाम पर तौरात नाज़िल फरमाई, क्या तौरात में यह बात मौजूद है कि अल्लाह ताला मोटे ताज़े हबर यानी यहूदी राहिब से नफरत करता है क्योंकि तुम भी ऐसे ही मोटे ताजे हो , तुम वह माल खा खा कर मोटे हुए जो तुम्हें यहूदी ला ला कर देते हैं_,"
 यह बात सुनकर मालिक बिन सैफ बिगड़ गया और बोल उठा- अल्लाह ताला ने किसी भी इंसान पर कोई चीज नहीं उतारी _,"

★_गोया इस तरह है उसने खुद हजरत मूसा अलैहिस्सलाम पर नाजिल होने वाली किताब तौरात का भी इंकार कर दिया और ऐसा सिर्फ झुंझलाहट की वजह से कहा, दूसरे यहूदी उस पर बिगड़े उन्होंने उससे कहा - यह हमने तुम्हारे बारे में क्या सुना है ? जवाब में उसने कहा- मुहम्मद ने मुझे गुस्सा दिला दिया था बस मैंने गुस्से में यह बात कही थी ।
यहूदियों ने उसकी इस बात को माफ ना किया और उसे सरदारी से हटा दिया उसकी जगह काब बिन अशरफ को सरदार मुकर्रर किया। 

★_अब यहूदियों ने हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को तंग करना शुरू कर दिया ऐसे सवालात पूछने की कोशिश करने लगे जिनके जवाबात उनके ख्याल में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ना दे सकेंगे । मसलन एक रोज उन्होंने पूछा :- ए मोहम्मद (सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ) आप हमें बताएं रूह क्या चीज है? आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इस सवाल के बारे में वही का इंतजार फरमाया, जब वही नाजिल हुई तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- रूह मेरे रब के हुक्म से बनी है_,"

यानी आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने कुरान ए करीम की यह आयत पढ़ी -
(तर्जुमा )..और यह लोग आपसे रूह के मुताल्लिक पूछते हैं ,आप फरमा कि रूह मेरे रब के हुक्म  से बनी है _," *(सूरह बनी इसराईल -८५)*

★फिर उन्होंने कयामत के बारे में पूछा कि कब आएगी ,आप सल्लल्लाहु अलेह वसल्लम ने जवाब में इरशाद फरमाया :- इसका इल्म मेरे रब के पास है.. उसके वक्त को अल्लाह के सिवा कोई और जाहिर नहीं करेगा _," *(सूरह अल आराफ )*

इस तरह 2 यहूदी आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास आए और पूछा आप बताएं अल्लाह ताला ने मूसा अलैहिस्सलाम की क़ौम को किन बातों की ताकीद फरमाई थी , जवाब में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- यह कि अल्लाह के साथ किसी को शरीक ना ठहरावो, बदकारी ना करो और हक के सिवा (यानी शरई कानून के सिवा ) किसी ऐसे शख्स की जान ना लो जिसको अल्लाह ताला ने तुम पर हराम किया है, चोरी मत करो , सहर और जादू टोना करके किसी को नुकसान ना पहुंचाओ, किसी बादशाह और हाकिम के पास किसी की चुगलखोरी ना करो, सूद का माल ना खाओ,  घरों में बैठने वाली( पाक दामन) औरतों पर बोहतान ना बांधों और ऐ यहूदियों तुम पर खास तौर पर यह बात लाज़िम है कि हफ्ते के दिन किसी पर ज्यादती ना करो इसलिए कि यहूदियों का मुतबर्रक दिन है।

यह हिदायत सुनकर दोनों यहूदी बोले हम गवाही देते है कि आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम नबी हैं ।
इस पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया तब फिर तुम मुसलमान क्यों नहीं हो जाते? 
उन्होंने जवाब दिया- हमें डर है हम अगर मुसलमान हो गए तो यहूदी हमें क़त्ल कर डालेंगे।
: ★_ दो यहूदी आलिम मुल्के शाम में रहते थे उन्हें अभी नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के ज़हूर की खबर नहीं हुई थी । दोनों एक मर्तबा मदीना मुनव्वरा आए मदीना मुनव्वरा को देखकर एक दूसरे से कहने लगे- यह शहर उस नबी के शहर से कितना मिलता-जुलता है जो आखरी ज़माने में ज़ाहिर होने वाले हैं_," इसके कुछ देर के बाद उन्हें पता चला कि आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का ज़हूर हो चुका है और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मक्का मुअज़्ज़मा से हिजरत करके इस शहरे मदीना में आ चुके हैं । यह खबर मिलने पर दोनों आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाज़िर हो गए। उन्होंने कहा -हम आपसे एक सवाल पूछना चाहते हैं अगर आपने जवाब दे दिया तो हम आप पर  ईमान ले आएंगे ।
आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया- पूछो क्या पूछना चाहते हो!

★_उन्होंने कहा हमें अल्लाह की किताब में से सबसे बड़ी गवाही और शहादत के मुताल्लिक बताएं, उनके सवाल पर सूरह आले इमरान की आयत 19 नाजि़ल हुई ,वो आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने उनके सामने तिलावत फरमाई :- 
( तर्जुमा)_  अल्लाह ने इसकी गवाही दी है कि सिवाय उसकी जात के कोई माबूद होने के लायक़ नहीं और फरिश्तों ने भी और अहले इल्म ने भी गवाही दी है और वह इस शान के मालिक हैं की एतदाल के साथ इंतजाम को क़ायम रखने वाले हैं ,उनके सिवा कोई माबूद होने के लायक़ नहीं, वह जबरदस्त हैं, हिकमत वाले हैं, बिना शुबा दीने हक़ और मक़बूल अल्लाह ताला के नज़दीक सिर्फ इस्लाम है ।

★_यह आयत सुनकर दोनों यहूदी इस्लाम ले आए। इसी तरह यहूदियों के एक और बहुत बड़े आलिम थे उनका नाम हुसैन बिन सलाम था, यह हजरत यूसुफ अलैहिस्सलाम की औलाद में से थे ,इनका ताल्लुक क़बीला बनी क़ीनका से था । जिस रोज़ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम हिजरत करके हजरत अबू अयूब अंसारी रजियल्लाहु अन्हु के घर में रिहाइश पज़ीर हुए, यह उसी रोज़ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हो गए । जोंही इन्होंने आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का चेहरा मुबारक देखा फौरन समझ गए कि यह चेहरा किसी झूठे का नहीं हो सकता। फिर जब इन्होंने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का कलाम सुना तो फौरन पुकार उठे :- मैं गवाही देता हूं कि आप सच्चे हैं और सच्चाई लेकर आए हैं_,"

★_ फिर इनका इस्लामी नाम आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अब्दुल्लाह बिन सलाम रखा। इस्लाम कुबूल करने के बाद यह अपने घर गए अपने इस्लाम लाने की तफसील घरवालों को सुनाई तो वो भी इस्लाम ले आए।
: ★_ चंद यहूदियों ने आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से सवाल पूछा -,आप यह बताएं ,उस वक्त लोग कहां होंगे जब क़यामत के दिन ज़मीन और आसमान की शक्लें तब्दील हो जाएंगी _,"
इस पर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने जवाब दिया :- "_उस वक्त लोग पुल सिरात के करीब अंधेरे में होंगे_,"

★_इसी तरह एक मर्तबा यहूदियों ने हुजूर सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम से बादलों की गरज और कड़क के बारे में पूछा । जवाब में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- 
"_ यह फरिश्ते की आवाज़ है जो बादल का निगरां है उसके हाथ में आग का एक कोड़ा है इससे वह बादलों को हांकता हुआ उस तरफ ले जाता है जहां पहुंचाने के लिए अल्लाह ताला का हुक्म होता है_,"

★_ उन यहूदियों ही में से एक गिरोह मुनाफिकीन का था ।यह बात ज़रा वजाहत से समझ लें,  मदीना मुनव्वरा में जब इस्लाम को उरूज हासिल हुआ तो यहूदियों का इक्तीदार खत्म हो गया , बहुत से यहूदी इस ख्याल से मुसलमान हो गए कि अब उनकी जान खतरे में है सिवाय अपनी जान बचाने के लिए वह झूठ मुठ के मुसलमान हो गए। अब अगरचे  कहने का वह मुसलमान थे लेकिन उनकी हमदर्दियां और मोहब्बतें अब भी यहूदियों के साथ थी। ज़ाहिर में मुसलमान थे अंदर से वही यहूदी थे । इन लोगों को अल्लाह और उसके रसूल ने मुनाफिक क़रार दिया है , इनकी तादाद 300 के क़रीब थी ।
इन्ही मुनाफ़िक़ों में अब्दुल्लाह इब्ने उब'ई था,  यह मुनाफ़िक़ों का सरदार था , यह मुनाफिक़ीन हमेशा इस ताक में रहते थे कि कब और किस तरह मुसलमानों को नुक़सान पहुंचा सके, मुसलमानों को परेशान करने और नुक़सान पहुंचाने का कोई मौक़ा हाथ से जाने नहीं देते थे।
 ╨─────────────────────❥
: *★_ Qible Ki tabdeeli Ka Hukm_,*

★_ Isi Saal 2 Hijri ke Dauraan Qible Ka rukh tabdeel hua aur us Waqt tak Musalman Baitul Muqaddas ki taraf moon Kar Ke Namaz Ada Karte rahe they ,
Qible ki tabdeeli Ka Hukm Zuhar ki Namaz ke Waqt Aaya , Ek Rivayat me ye Hai k Asar ki Namaz me Hukm Aaya tha , Qible ki tabdeeli isliye hui k Huzoor Akram ﷺ ne ye Aarzu ki thi k Qibla Baitullah ho _,

★_ Khaas tor per ye Aarzu isliye thi k Yahoodi Kehte they ," Muhammad Hamari mukhalfat bhi Karte Hai'n aur Hamare Qible ki taraf rukh Kar Ke Namaz bhi Padhte Hai'n ,Agar hum Sidhe Raaste per na Hote to tum Hamare Qible ki taraf rukh Kar Ke Namaz na padha Karte _,"
Unki Baat per Huzoor Akram ﷺ ne Dua ki k Hamara qibla Baitullah ho Jaye aur Allah Ta'ala ne ye Dua Manzoor farmayi ,

★_ Qible ki tabdeeli Ka Hukm Namaz ki Haalat me Aaya , Chunache Aap ﷺ ne Namaz ke Dauraan hi Apna rukh Baitullah ki taraf Kar liya aur Aap ﷺ ke Saath hi Tamaam Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne bhi rukh tabdeel Kar liya ,Ye Namaz Masjide Qiblatain me ho rahi thi ,

★_Hazrar ibaad bin Baseer Raziyllahu Anhu ne bhi Ye Namaz Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke Saath padhi thi ,Ye Masjid SE Nikal Kar Raaste me do Ansariyo ke paas se guzre .. Wo Namaz padh rahe they aur us Waqt Ruku me they , Inhone dekh Kar Ibaad bin Baseer Raziyllahu Anhu ne Kaha :- Mai'n Allah ki qasam kha Kar Kehta Hu'n k Maine abhi Aan Hazrat ﷺ ke Saath Ka'aba ki taraf moonh Kar Ke Namaz padhi hai _,"
Quba walo ko ye khabar Agle Din subeh ki Namaz ke Waqt pahunchi , Wo log us Waqt Doosri raka'at me they k Munaadi ne Elaan Kiya :- Logo'n Kgabardaar ho Ja'o ! Qible Ka rukh Ka'aba ki taraf tabdeel ho gaya hai _,"
Namaz Padhte hue Log Qible ki taraf ghoom gaye , is Tarah Musalmano Ka Qibla Baitullah bana ,
 *★_ क़िब्ला की तब्दीली का हुक्म _,*

★_ इसी साल 2 हिजरी के दौरान कि़ब्ले का रुख खुद तब्दील हुआ और उस वक्त तक मुसलमान बेतुल मुकद्दस की तरफ मुंह करके नमाज अदा करते रहे थे। कि़ब्ले की तब्दीली का हुक्म ज़ुहर की नमाज के वक्त आया । एक रिवायत में यह है कि असर की नमाज में हुक्म आया था । कि़ब्ला की तब्दीली इसलिए हुई की हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने यह आरजू की थी कि क़िब्ला बेतुल्लाह हो।

★_खास तौर पर यह आरजू इसलिए की थी कि यहूदी कहते थे ,"_मोहम्मद हमारी मुखालिफत भी करते हैं और हमारे क़िब्ला की तरफ रूख करके  नमाज भी पढ़ते हैं अगर हम सीधे रास्ते पर ना होते तो तुम हमारे क़िब्ला की तरफ रुख करके नमाज़ें ना पढ़ा करते _,"
उनकी बात पर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने दुआ की कि हमारा क़िब्ला बेतुल्लाह हो जाए और अल्लाह ताला ने यह दुआ मंजूर फरमाई ।

★_ क़िब्ला की तब्दीली का हुक्म नमाज की हालत में आया चुनांचे आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने नमाज़ के दौरान ही अपना रुख बैतुल्लाह की तरफ कर लिया,  आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के साथ ही तमाम सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने भी रुख तब्दील कर लिया, नमाज मस्जिदे क़िब्लातैन में हो रही थी।

★_ हजरत इबाद बिन बशीर रज़ियल्लाहु अन्हु ने भी यह नमाज़ हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के साथ पड़ी थी, यह मस्जिद से निकलकर रास्ते में दो अंसारियों के पास से गुज़रे ,वह नमाज पढ़ रहे थे और उस वक्त रूकू में थे.. इन्हें देख कर इबाद बिन बसीर रज़ियल्लाहु अन्हु ने कहा :- मैं अल्लाह की क़सम खाकर कहता हूं कि मैंने अभी आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के साथ काबा की तरफ मुंह करके नमाज पढ़ी है।
कू़बा वालों को यह खबर अगले दिन सुबह की नमाज़ के वक्त पहुंची , वह लोग उस वक्त दूसरी रकात में थे कि मुनादी ने ऐलान किया :- लोगों खबरदार हो जाओ कि़ब्ले का रुख काबा की तरफ तब्दील हो गया है _," 
नमाज पढ़ते हुए लोग क़िब्ला की तरफ घूम गए । इस तरह मुसलमानों का क़िब्ला बैतुल्लाह बना।
 ╨─────────────────────❥
 *★_ Ramzan Ke Roze aur Sadqa Fitr Ka Hukm _,*

★_ Isi Saal Yani 3 Hijri me Ramzan Ke Roze aur Sadqa e Fitr Ka Hukm Naazil hua , Fir Masjide Nabvi me minbar nasab Kiya gaya,Jab tak Minbar nahi tha , Aap ﷺ Khajoor ke Ek tane SE tek laga Kar khade hote they aur Khutba dete they, Jab Minbar ban gaya aur Aap ﷺ ne Khajoor is tane ki bajaye Minbar par khutba irshad farmaya to Wo Tana rone laga ... Uske rone ki Awaaz esi Buland hui k Tamaam logo ne us Awaaz ko Suna , Awaaz is qadar dardnaak thi k Saari Masjid Hil gayi ,Wo is Tarah ro raha tha Jese koi ountni Apne Bachche ke gum hone per roti hai ,

★_ Uske rone ki Awaaz sun Kar Aan Hazrat ﷺ Minbar par SE Utar Kar Uske paas pahunche aur use apne Seene SE lagaya , Uske baad usme SE ek Bachche ke sisakne ki Awaaze aane lagi , Huzoor Akram ﷺ ne us per Pyaar se Haath faira aur farmaya :- Pur Sukoon aur Khamosh ho Ja_,"
Tab Kahi'n ja Kar Uska Rona band hua ,Uske baad Aap ﷺ ne us Tane ko Minbar ke niche dafan Karne Ka Hukm diya ,

★_ Aap ﷺ ne Ek Baar irshad farmaya :- Mere Ghar aur mere  Minbar ke darmiyaan ki Jagah Jannat ke Baago me SE ek Baag hai _,"
Yani ye Muqaam Jannat hi Ka Ek Muqaam hai ,Allah Ta'ala ne is Muqaam ko Jannat me Shamil Kar diya hai_,
[
 *★_ रमजान के रोजे और सदक़ा फित्र का हुक्म _,*

★__ इसी साल यानी 3 हिजरी में रमज़ान के रोज़े और सदका़ ए फितर का हुक्म नाजिल हुआ , फिर मस्जिद-ए-नबवी में मिंबर नसब किया गया। जब तक मिंबर नहीं था आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम खजूर के एक तने से टेक लगाकर खड़े होते थे और खुतबा देते थे । जब मिंबर बन गया और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने खजूर के इस तने की बजाय मिंबर पर खुतबा फरमाया तो वह तना रोने लगा । उसके रोने की आवाज़ ऐसी बुलंद हुई कि तमाम लोगों ने उस आवाज़ को सुना, वो आवाज़ इस क़दर दर्दनाक थी कि सारी मस्जिदें हिल गई । वह इस तरह रो रहा था जैसे कोई ऊंटनी अपने बच्चे के खोने पर रोती है।

★_उसके रोने की आवाज सुनकर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मिंबर पर से उतर कर उसके पास पहुंचे और उसे अपने सीने से लगाया । उसके बाद उसमें से एक बच्चे के सिसकने की आवाज़ आने लगी। हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उस पर प्यार से हाथ फैरा और फरमाया :- पुर सुकून और खामोश हो जा _,"
तब कहीं जाकर उसका रोना बंद हुआ। उसके बाद आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उस तने को मिंबर के नीचे दफन करने का हुक्म दिया।

★_आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने एक बार इरशाद फरमाया :- मेरे घर और मेरे मिंबर के दरमियान की जगह जन्नत के बागों में से एक बाग है , यानी ये मुकाम जन्नत ही का एक मुका़म है। अल्लाह ताला ने इस मुका़म को जन्नत में शामिल कर दिया है।
 ╨─────────────────────❥
*★_ Quresh Ka Tijarati Qafila _,"*

★_ Quresh ke Ek Tijarati Qafile per Hamle ki garaz SE Aap ﷺ rawana hue the Lekin Jab Aap ﷺ Ashira ke Muqaam per pahunche to Qafila us Muqaam SE guzar Kar Shaam ki taraf rawana ho chuka tha .. Chunache   Aap ﷺ waapas Tashreef le Aaye they ,Fir jab Aap ﷺ ko ittela mili k wo Qafila Shaam SE waapas aa Raha hai aur us Samaane Tijarat Ka munafa Musalmano ke khilaf istemal Hoga isliye Aap ﷺ ne Hukm diya :- Quresh Ka Tijarati Qafila aa Raha hai, isme unka Maal v Daulat hai ,Tum us per Hamla Karne Ke liye badho , Mumkin hai Allah tumhe isse Faayda de _,"

★_ Udhar us Qafile ke Sardaar Abu Sufiyaan (Raziyllahu Anhu) they ..Ye Quresh ke bhi Sardaar they ( us Waqt tak imaan nahi laye they, Fatah Makka ke moqe per imaan laye ) unki Aadat thi k Jab Unka Qafila Hijaaj ki sarzameen per pahunchta to Jasooso ko bhej Kar Raaste ki khabare Maloom Kar Lete they , Unhe Aap ﷺ Ka Khof bhi tha , Chunache unke Jasoos ne bataya k Aan Hazrat ﷺ us Tijarati Qafile ko gherne ke liye rawana ho chuke Hai'n, Ye Sun Kar Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu Khofzada  ho gaye, Unhone foran Ek Shakhs ko Makka ki taraf rawana Kiya aur Saath hi use ye hidayaat di :- 
"_ Tum Apne ount ke kaan kaat do ,Kajawa ulat do , Apni Kameez Ka agla aur pichhla Daaman faad do ,isi Haalat me Makka me dakhil Hona , Unhe batana k Muhammad ( ﷺ) Apne Ashaab ke Saath unke Qafile per Hamla Karne wale Hai'n, Esa isliye Kiya Taki Mushrikeen jald madad ko aa Jaye'n ,

★_ Wo Shakhs Bahut Tezi se rawana hua , Ab abhi ye Makka pahuncha nahi tha k waha'n Aatika bint Abdul Muttalib ne Ek Khwab dekha, Ye Huzoor Nabi Kareem ﷺ ki Foofi thi , ( Ye Maloom nahi ho saka k baad me ye islam le aayi thi ya nahi , Rivayat me ikhtilaf paya jata hai .. Kuchh rivayaat kehti Hai'n imaan le Aayi thi, Kuchh me hai k Unhone islam qubool nahi Kiya tha ) Khwab Bahut khofnaak tha ,Ye Dar gayi , Unhone Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu ko Apna Khwab sunaya ...Lekin is shart per sunaya k wo Kisi aur ko nahi sunayenge , Unhone Puchha :- Achchha Theek hai .. Tum Khwab suna'o ,Tumne kya dekha hai _?,

★_ Aatika bint Abdul Muttalib ne Kaha :- Maine Khwab dekha k Ek Shakhs ount per sawaar Chala aa raha Hai , Yaha'n tak k wo Abtakh ke paas aa Kar ruka ( Abtakh Makka Muazzama se Kuchh faasle per hai ) Waha'n khade ho Kar Usne Poori Awaaz SE pukaar pukaar Kar Kaha :- Logo'n Teen Din ke andar andar Apni Qatl Gaaho me chalne ke liye Taiyaar ho Ja'o _," Fir Maine dekha k log Uske Gird Jama ho gaye Hai'n ,Fir Wo waha'n se chal Kar Baitullah me dakhil hua ,Log Uske Pichhe Pichhe chale aa rahe they, Fir Wo Shakhs ount samet Kaaba ki Chhat per Nazar Aaya l, Waha'n bhi Usne pukaar Kar ye Alfaz kahe , Uske baad Abu Qubes ke Pahaad per Chad gaya , Waha'n bhi Usne pukaar Kar ye Alfaz kahe ,Fir Usne Ek patthar utha Kar ludhka diya , Patthar waha'n SE ludhakta Pahaad ke Daaman me pahuncha to Achanak toot Kar tukde tukde ho gaya, Fir Makka ke gharo me se koi Ghar na bacha Jaha'n Uske tukde na pahunche Ho'n _,"

★_ Ye Khwab sun Kar Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu ne Kaha :- Allah ki qasam Aatika ! Tumne Bahut Ajeeb Khwab dekha hai..tum khud bhi iska Tazkira Kisi Se na Karna _,"

★_ Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu waha'n SE nikle to Raaste me Unhe Waleed bin Utba Mila , ye unka Dost tha ,Abbaas Raziyallahu Anhu ne Khwab usse Bayan Kar diya aur Vaada liya k Kisi ko batayega nahi ,Waleed ne ja Kar ye Khwab Apne bete Utba ko Suna diya ,Is Tarah ye Khwab aage hi aage chalta raha, Yaha'n tak k Har taraf aam ho gaya, Makka me is Khwab per zor shor SE tabsira hone laga , Aakhir teen Din baad wo Shakhs ount per sawaar Makka me dakhil hua Jise Hazrat Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu ne bheja tha ,Wo Makka ki vaadi ke darmiyaan me pahunch Kar ount per khada ho gaya aur pukaara :- Ey Quresh ,Apne Tijarati Qafile ki khabar lo ,Tumhara Jo Maal v Daulat Abu Sufiyaan le Kar aa rahe Hai'n, Us per Muhammad( ﷺ) hamla Karne wale Hai'n...jald madad ko pahuncho _,"

★_ Is Tijarati Qafile me Saare Qureshiyo Ka Maal laga hua tha, Chunache Sab ke sab Jung Ki Taiyaari Karne lage ,Jo maaldaar they Unhone gareebo ki madad ki ..Taki zyada se zyada afraad Jung ke liye Jaye ,Jo bade Sardaar they Wo logo ko Jung per ubhaarne lage ,Ek Sardaar Suhail bin Amru ne Apni Taqreer me Kaha :- Ey Qureshiyo ,Kya ye Baat tum Bardasht Kar loge k Muhammad (ﷺ) aur Unke bedeen saathi Tumhare Maal aur Daulat per qabza Kar Le'n ,Lihaza Jung ke liye niklo ... Jiske paas Maal Kam ho Uske liye Mera Maal Haazir hai _,"

★_ Is Tarah sab Sardaar Taiyaar hue ,Lekin Abu Lahab ne koi Taiyaari na ki ,Wo Aatika ke Khwab ki vajah se Khofzada ho gaya tha ,Wo Kehta tha :- Aatika Ka Khwab bilkul Sachcha hai aur usi Tarah Zaahir Hoga _,"
Abu Lahab khud nahi gaya Lekin Usne Apni Jagah Aas bin Hisham ko Chaar Hazaar dirham de Kar Jung ke liye Taiyaar Kiya , Yani Wo uski taraf se Chala Jaye _,

★_ Udhar Khoob Taiyariya'n ho rahi thi, idhar Aan Hazrat ﷺ Madina Munavvara SE rawana hue ,Madina se Bahar baare Utba naami Ku'nwe ke pass Lashkar ko padaav Ka Hukm farmaya, Aap ﷺ ne Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko is Ku'nwe SE Pani pine Ka Hukm diya aur khud bhi piya ,Yahi'n Aap ﷺ ne Hukm farmaya :- Musalmano ko gin liya Jaye _,"
Sabko gina gaya ,Aap ﷺ ne sabka mu'ana bhi farmaya,Jo Kam Umar they Unhe waapas farma diya , Waapas kiye Jane walo me Hazrat Usama bin Zaid aur Ra'afe bin Khadija , Bar'a bin Aazib ,Usaid bin Zaheer , Zaid bin Arqam aur Zaid bin Saabit Raziyllahu Anhum shamil they,
Jab inhe waapas chale Jane Ka Hukm hua to Umair bin Abu Waqaas Raziyllahu Anhu rone lage , Aakhir Aap ﷺ ne Unhe ijazat de di , Chunache Wo Jung me Shareek hue ,Us Waqt inki Umar 16 Saal thi ,

 ╨─────────────────────❥
*★_ क़ुरेश का तिजारती क़ाफिला _,*

★_ कुरेश के एक तिजारती काफ़िले पर हमले की गरज़ से आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम रवाना हुए थे लेकिन जब आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम अशीरा के मुकाम पर पहुंचे तो काफ़िला उस मुकाम से गुज़रकर शाम की तरफ रवाना हो चुका था,  चुनांचे आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम वापस तशरीफ ले आए थे । फिर जब आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को इत्तेला मिली कि वह काफ़िला शाम से वापस आ रहा है और उस सामाने तिजारत का मुनाफा मुसलमानों के खिलाफ इस्तेमाल होगा इसलिए आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हुक्म दिया:-  क़ुरेश का तिजारती काफिला आ रहा है इसमें उनका माल व दौलत है तुम उस पर हमला करने के लिए बड़ों , मुमकिन है अल्लाह तुम्हें इससे फायदा दे _,"

★_उधर इस काफ़िले के सरदार अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु थे, यह कुरेश के भी सरदार थे, (उस वक्त तक ईमान नहीं लाए थे फतह मक्का के मौक़े पर ईमान लाए )  उनकी आदत थी कि जब उनका काफिला हिजाज़ की सरज़मीन पर पहुंचता तो जासूसों को भेजकर रास्ते की खबरें मालूम कर लेते थे उन्हें आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का खौफ भी था, चुनांच  उनके जासूस ने बताया कि आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उस तिजारती काफिले को घेरने के लिए रवाना हो चुके हैं । यह सुनकर अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु खौफज़दा हो गए उन्होंने फौरन एक शख्स को मक्का की तरफ रवाना किया और साथ ही उसे यह हिदायत दी तुम अपने ऊंट के कान काट दो कजावा उलट दो अपनी कमीज़ का अगला और पिछला दामन फाड़ दो इसी हालत में मक्का में दाखिल होना उन्हें बताना कि मोहम्मद (सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ) अपने असहाब के साथ उनके काफिले पर हमला करने वाले हैं ऐसा इसलिए किया ताकि मुशरिकीन जल्द मदद को आ जाएं ।

★_वह शख्स बहुत तेज़ी से रवाना हुआ , अब अभी यह मक्का पहुंचा नहीं था कि वहां आतिका बिन्ते अब्दुल मुत्तलिब ने एक ख्वाब देखा । (यह हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की फूफी थी , यह मालूम नहीं हो सका कि बाद में यह इस्लाम ले आई थी या नहीं रिवायत में इख्तिलाफ पाया जाता है कुछ रिवायत कहती हैं ईमान ले आई थी कुछ में है कि उन्होंने इस्लाम क़ुबूल नहीं किया था ) ख्वाब बहुत खौफनाक था यह डर गई इन्होंने हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु को अपना ख्वाब सुनाया लेकिन इस शर्त इस शर्त पर सुनाया कि वे किसी और को नहीं सुनाएंगे ..उन्होंने पूछा अच्छा ठीक है तुम ख्वाब सुनाओ तुमने क्या देखा है ?

★_ आतिका बिन्ते अब्दुल मुत्तलिब ने कहा :- मैंने ख्वाब देखा कि एक शख्स ऊंट पर सवार चला आ रहा है यहां तक कि वह अबतख के पास आकर रुका (अबतख मक्का मुअज्ज़मा से कुछ फासले पर है ) वहां खड़े होकर उसने पूरी आवाज से पुकार पुकार कर कहा - लोगों 3 दिन के अंदर अंदर अपनी क़त्लगाहों में चलने के लिए तैयार हो जाओ ,"  फिर मैंने देखा कि लोग उसके गिर्द जमा हो गए हैं फिर वह वहां से चलकर बैतुल्लाह में दाखिल हुआ लोग उसके पीछे पीछे चले आ रहे थे फिर वह शख्स ऊंट समेत काबा की छत पर नजर आया वहां भी उसने पुकार कर यह अल्फाज़ कहे, उसके बाद वह अबू कु़बेस के पहाड़ पर चढ़ गया वहां भी उसने पुकार कर यह अल्फाज़ कहे, फिर उसने एक पत्थर उठा कर लुढ़का दिया पत्थर वहां से लुढ़कता पहाड़ के दामन में पहुंचा तो अचानक टूट कर टुकड़े-टुकड़े हो गया फिर मक्का के घरों में से कोई घर ना बचा जहां उसके टुकड़े ना पहुंचे हो _,

★_यह ख्वाब सुनकर हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने कहा- अल्लाह की कसम आतिका तुमने बहुत अजीब ख्वाब देखा है तुम खुद भी इसका तज़किरा किसी से ना करना।

★__ हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु वहां से निकले तो रास्ते में उन्हें वलीद बिन उत्बा मिला, यह उनका दोस्त था ,अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने ख्ववाब उससे बयान कर दिया और वादा लिया कि किसी को बताएगा नहीं,  वलीद ने जा कर यह ख्वाब अपने बेटे हो उतबा को सुना दिया इस तरह यह ख्वाब आगे ही आगे चलता रहा यहां तक कि हर तरफ आम हो गया। मक्का में इस बात पर जोर शोर से तब्सिरा होने लगा, आखिर 3 दिन बाद वह शख्स ऊंट पर सवार मक्का में दाखिल हुआ जिसे हजरत अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु ने भेजा था वह मक्का की वादी के दरमियान में पहुंचकर ऊंट पर खड़ा हो गया और पुकारा :- ऐ क़ुरेशियों ! अपने तिजारती काफ़िले की खबर लो, तुम्हारा जो माल व दौलत अबू सुफियान लेकर आ रहे हैं उस पर मोहम्मद (सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम) हमला करने वाले हैं जल्दी मदद को पहुंचो_,"

★_ उस तिजारती काफ़िले में सारे कुरेशिया का माल लगा हुआ था चुनांचे सब के सब जंग की तैयारी करने लगे ,जो मालदार थे उन्होंने गरीबों की मदद की ताकि ज्यादा से ज्यादा अफराद जंग के लिए जाएं , जो बड़े सरदार थे वह लोगों को जंग पर उभारने लगे, एक सरदार सोहेल बिन अमरू ने अपनी तक़रीर में कहा :- ऐ  क़ुरेशियों ! क्या यह बात तुम बर्दाश्त कर लोगे कि मोहम्मद (सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम) और उनके बेदीन साथी तुम्हारे माल और दौलत पर कब्ज़ा कर ले,  लिहाज़ा जंग के लिए निकलो.. जिसके पास माल कम हो उसके लिए मेरा माल हाजिर है_,"

★_इस तरह सब सरदार तैयार हुए लेकिन अबु लहब ने कोई तैयारी ना कि वह आतिका के ख्वाब की वजह से खौफजदा हो गया था ,वह कहता था - आतिका का ख्वाब बिल्कुल सच्चा है और उसी तरह जाहिर होगा _,"
अबु लहब खुद नहीं गया लेकिन उसने अपनी जगह आस बिन हिशाम को 4000 दिरहम देकर जंग लिए तैयार किया यानी वह उसकी तरफ से चला जाए।

★_ उधर खूब तैयारियां हो रही थी इधर आन हजरत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मदीना मुनव्वरा से रवाना हुए , मदीना से बाहर बारे उतबा नामी कुएं के पास लश्कर को पढ़ाव का हुक्म फरमाया, आप सल्लल्लाहु अलेही  वसल्लम ने सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को कुएं से पानी पीने का हुक्म दिया और खुद भी पिया, यहीं आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया - मुसलमानों को गिन लिया जाए _," 
सबको गिना गया , आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सबका मुआयना भी फरमाया ,जो कम उम्र थे उन्हें वापस फरमा दिया , वापस किए जाने वालों में हजरत ओसामा बिन ज़ैद और राफ़े बिन खदीजा ,बरा बिन आज़िब, उसैद बिन ज़हीर, ज़ैद बिन अरक़म और ज़ैद बिन साबित रज़ियल्लाहु अन्हुम शामिल थे ।
जब इन्हें वापस चले जाने का हुक्म हुआ तो उमैर बिन अबी वक़ास रज़ियल्लाहु अन्हु रोने लगे,  आखिर आप सल्लल्लाहु अलैहि सल्लम ने उन्हें इजाज़त दे दी चुनांचे वह जंग में शरीक़ हुए, उस वक्त उनकी उम्र 16 साल थी ,

 ╨─────────────────────❥
★_ Badar Ki Taraf Rawaangi _,*

★_ Roha ke Muqaam per Aan Hazrat ﷺ ne Lashkar ko ginne Ka Hukm diya, ginne per Maloom hua Mujahideen ki tadaad 313 hai ,Aap ﷺ ye sun Kar Khush hue aur farmaya :- Ye Wohi tadaad hai Jo Taloot ke Saathiyo'n ki thi ,Jo unke Saath Nehar tak pahunche they ( Taloot Bani Israiyl ke Ek Nek mujahid Baadshah they ,unki qayadat me 313 Musalmano ne Jaloot naami Be deen Baadshah ki fauj ko shikast di thi )_,"

★_ Lashkar me Ghodo ki tadaad Sirf Paanch thi ,Ount Sattar ke qareeb they , isliye Ek Ek ount teen teen ya Chaar Chaar Aadmiyo'n ke hisse me diya gaya , Aap ﷺ ke hisse me Jo ount Aaya usme Do aur Saathi bhi Shareek they ,Aap ﷺ bhi us ount per Apni baari ke hisaab SE sawaar Hote aur Saathiyo'n ki baari per Unhe sawaar hone Ka Hukm farmate.. Agarche Wo Apni baari bhi Aap ﷺ ko dene ki khwahish Zaahir Karte .Wo Kehte :- Ey Allah ke Rasool! Aap sawaar rahe'n..hum paidal chal lenge _,"
Jawab me Aap ﷺ farmate :- tum Dono paidal chalne me mujhse zyada mazboot nahi ho aur na Mai'n Tumhare muqable me uski Rehmat se beniyaaaz Hu'n ( Yani Mai'n bhi tum Dono ki Tarah Ajar v sawaab Ka khwahish mand Hu'n )_,"

★_ Roha ke Muqaam per ek ount thak Kar beth gaya , Aap ﷺ paas se guzre to pata Chala ount thak Kar beth gaya hai aur uth nahi raha , Aap ﷺ ne Kuchh Pani liya ,Usse kulli ki ,Kulli wala Pani ount wale ke bartan me daala aur ount ke moonh me daal diya , Ount foran uth khada hua aur fir is qadar tez Chala k Lashkar ke Saath ja mila , us per thakawat ke koi asaar baqi na rahe ,
Is gazwe ke moqe per Huzoor Akram ﷺ ne Hazrat Usman Raziyllahu anhu ko Madina Munavvara hi me theharne Ka Hukm farmaya, Vajah iski ye thi k unki Zoja Mohatrama aur Aap ﷺ ki Beti Sayyada Ruqayya Raziyllahu Anha bimaar thi , Aap ﷺ ne Hazrat Usman Raziyllahu anhu se farmaya :- Tumhe Yaha'n theharne Ka bhi Ajar milega aur Jihaad Karne Ka Ajar bhi mileage _,"
Is moqe per Aap ﷺ ne Madina Munavvara me Hazrat Abu Lubaba Raziyllahu Anhu ko Apna qaa'im Muqaam banaya ,
Talha bin Ubaid aur Saied bin Zaid Raziyllahu Anhum ko jasoosi ki zimmedari so'anpi Taki ye dono Lashkar SE aage ja Kar Quresh ke Tijarati Qafile ki khabar laye , Nabi Kareem ﷺ ne Unhe Madina Munavvara SE hi rawana farma diya tha ,

★_ Roha ke Muqaam SE islami Lashkar aage rawana hua ,Arqe Zabiya ke Muqaam per ek dehaati mila ,Usse Dushman ke bare me Kuchh Maloom na ho saka , Ab Lashkar fir aage bada ,is Tarah islami Lashkar Zafraan ki vaadi tak pahunch gaya , Is Jagah Aap ﷺ ko ittela mili k Qureshe Makka Ek Lashkar le Kar Apne Qafile ko bachane ke liye Makka se kooch Kar chuke Hai'n ,

 ★_ Aap ﷺ ne ye ittela Milne per Tamaam Lashkar ko ek jagah Jama farmaya aur unse mashwara Kiya Kyunki Madina munavvara SE Musalman Sirf Ek Tijarati Qafile ko rokne ke liye rawana hue they ... Kisi ba qaayda Lashkar ke muqable ke liye nahi nikle they ..is per Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne baari baari Apni raay di .. Hazrat Miqdaad Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- 
"_ Ey Allah ke Rasool ! Aapko Allah Ta'ala ne Hukm farmaya hai ,Uske mutabiq Amal farmaye'n ,Hum Aapke Saath Hai'n , Allah ki qasam ! Hum us Tarah nahi kahenge Jis Tarah Moosa Alaihissalam ko Bani Israiyl ne Kaha tha k Aap aur Aapka Rab ja Kar lad Lijiye ,hum to Yahi'n bethe Hai'n ...Balki hum to ye Kehte Hai'n hum Aapke Saath Hai'n ,Hum Aapke aage Pichhe aur Daaye'n Baaye'n ladenge , Aakhir dam tak ladenge _,

★_ Hazrat Miqdaad Raziyllahu Anhu ki Taqreer sun Kar Aap ﷺ Ka Chehra Khushi SE chamakne laga ,Aap ﷺ muskurane lage ,Hazrat Miqdaad Raziyllahu Anhu ko Dua di ,Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu aur Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne bhi taqareer ki ..unki taqareer ke baad Nabi Kareem ﷺ ne Ansari Hazraat ki taraf dekha , Kyunki abhi tak unme SE koi khada nahi hua tha ,ab Ansari bhi Aap ﷺ Ka ishara samajh gaye , Chunache Hazrat Sa'ad bin Ma'az Raziyllahu Anhu uthe aur Arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Shayad Aapka ishara Hamari taraf hai..to arz hai k hum imaan la chuke Hai'n, Aapki tasdeeq Kar chuke Hai'n aur Gawaahi de chuke Hai'n, hum har haal me Aapka Hukm maanenge ,farmabardari karenge _,"

★_ Unki Taqreer sun Kar Aap ﷺ ke Chehre per Khushi ke asaar Zaahir hue , Chunache Aap ﷺ ne farmaya :- Ab utho ,kooch Karo , Tumhare liye khush khabri hai ,Allah Ta'ala ne mujhse vaada farmaya hai k wo Hume Fatah dega _,"

*★_ Zafraan ki vaadi SE rawana ho Kar Aap ﷺ Badar ke Muqaam per pahunche, Us Waqt tak Qureshi Lashkar bhi Badar ke qareeb pahunch chuka tha, Aap ﷺ ne Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ko Qureshi Lashkar ki khabar Maloom Karne Ke liye bheja ,Unhe Do Mashki ( Pani bharne wale ) mile , Wo Qureshi Lashkar ke Mashki they , Un Dono SE Lashkar ke bare me kaafi malumaat haasil hui .. Unhone Lashkar me Shamil bade bade Sardaaro ke Naam bhi bata diye .. Is per Huzoor Akram ﷺ ne Apne Sahaba Raziyllahu Anhum SE farmaya ;- Makka ne Apna Dil aur Jigar nikaal Kar Tumhare muqable ke liye bheje Hai'n _," 
Yani Apne Tamaam Mo'azziz aur Bade bade log bhej diye Hai'n _,

 ★_ is Dauraan Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu Qafile Ka Raasta badal chuke they aur is Tarah unka Qafila Bach Gaya ..Jabki is Qafile ko bachane ke liye Jo Lashkar Aaya tha usse islami Lashkar Ka aamna saamna ho gaya , idhar Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu ne jab dekha k Qafila to ab bach gaya isliye Unhone Abu Jahal ko Paigaam bheja k waapas Makka ki taraf laut chalo Kyunki hum islami Lashkar SE Bach Kar Nikal Aaye Hai'n,Lekin Abu Jahal ne waapas Jane se inkaar Kar diya,
Qureshi Lashkar ne Badar ke Muqaam per us Jagah Padaav daala Jis Jagah Paani Nazdeek tha ,Doosri Taraf islami Lashkar ne jis Jagah Padaav daala Pani waha'n SE faasle per tha , isse Musalmano ko Pareshani hui ,Tab Allah Ta'ala ne waha'n Baarish barsa di aur unki Pani ki Takleef door ho gayi ,Jabki isi Barish ki vajah se Kaafir Pareshan hue ,Wo Apne Padaav SE nikalne ke qabil na rahe.. Matlab ye k Barish Musalmano ke liye Rehmat aur Kaafiro ke liye Zehmat Saabit hui ,

★_ Subeh hui to Allah Ke Rasool ﷺ ne Elaan farmaya :- Logo ! Namaz ke liye Taiyaar ho Ja'o_,"
Chunache Subeh ki Namaz Ada ki gayi...fir jab Aap ﷺ ne Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko khutba diya,Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Mai'n tumhe esi Baat ke liye ubhaarta Hu'n Jiske liye tumhe Allah Ta'ala ne ubhara hai ,Tangi aur Sakhti ke moqo per sabr Karne SE Allah Ta'ala Tamaam Takaleef SE bacha leta hai aur Tamaam Gamo se nijaat ata farmata hai _,"

★_ Ab Aap ﷺ Lashkar ko le Kar Aage badhe, ..aur Quresh SE Pehle Pani ke qareeb pahunch Gaye , Muqaame Badar per Pani Ka chashma tha ,Aap ﷺ ko waha'n rukte dekh Kar Hazrat Khabbaab Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Qayaam ke liye ye Jagah munasib nahi hai , Mai'n is ilaaqe se Achchhi Tarah waqif Hu'n ..Aap waha'n Padaav daale Jo Dushman ke Pani SE qareeb tareen ho ,Hum waha'n Ek Hauz bana Kar Pani usme Jama Kar lenge ,is Tarah Hamare paas pine Ka Pani Hoga ..hum Pani ke doosre ghade aur chashme baat denge, is Tarah Dushman ko Pani nahi milega _,"

★_ Aap ﷺ ne is raay ko Bahut Pasand farmaya.. Ek Rivayat ke mutabiq usi Waqt Hazrat Jibraiyl Alaihissalam Allah Ta'ala Ka paigaam laye aur bataya k Hazrat Khabbaab Raziyllahu Anhu ki raay Bahut umda hai ,
Is Raay ke baad Aap ﷺ Lashkar ko le Kar Aage bade aur us chashme per aa gaye Jo us Jagah se qareeb tareen tha Jaha'n Quresh ne Padaav daala tha , Musalmano ne Yaha'n qayaam Kiya aur Aap ﷺ ne Unhe doosre ghade bharne Ka Hukm diya, 

★_ Fir Nabi Kareem ﷺ ne us Kachche Ku'nwe per ek Hauz banwaya , Jaha'n islami Lashkar ne Padaav daala tha, Aap ﷺ ne usme Pani bharwa diya aur Dol dalwa diye ,is Tarah Hazrat Khabbaab Raziyllahu Anhu ke mashware per Amal hua , Uske baad SE Hazrat Khabbaab Raziyllahu Anhu ko Zi Raay Kaha Jane laga tha _,
 ╨─────────────────────❥
: *★_  बदर की तरफ रवानगी _,*

★__ रोहा के मुका़म पर आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने लश्कर को गिनने का हुक्म दिया गिनने पर मालूम हुआ मुजाहिदीन की तादाद 313 है, आप सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम यह सुनकर खुश हुए और फरमाया :- यह वही तादाद है जो तालूत के साथियों की थी जो उनके साथ नहर तक पहुंचे थे _," ( तालूत बनी इसराइल के एक नेक मुजाहिद बादशाह थे उनकी क़यादत में 313 मुसलमानों ने जालूद नामी बेदीन बादशाह की फौज को शिकस्त दी थी)

★_ लश्कर में घोड़ों की तादाद सिर्फ पांच थी ऊंट 70 के करीब थे इसलिए एक एक ऊंट  तीन तीन या चार चार आदमियों के हिस्से में दिया गया , आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के हिस्से में जो ऊंट आया उसमें दो और साथी भी शरीक़ थे , आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम भी उस ऊंट पर अपनी बारी के हिसाब से सवार होते और साथियों की बारी पर उन्हें सवार होने का हुक्म फरमाते अगरचे वह अपनी बारी भी आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को देने की ख्वाहिश ज़ाहिर करते ,वह कहते -अल्लाह के रसूल आप सवार रहें, हम पैदल चल लेंगे _," जवाब में आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम फरमाते :- तुम दोनों पैदल चलने में मुझसे ज्यादा मजबूत नहीं हो और ना मैं तुम्हारे मुक़ाबले में उसकी रहमत से बेनियाज़ हूं _," (यानी में भी तुम दोनों की तरह अजर् व सवाब का ख्वाहिश मंद हूं )

★_ रोहा के मुकाम पर एक ऊंट थक कर बैठ गया आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम पास से गुज़रे तो पता चला ऊंट थक कर बैठ गया है और उठ नहीं रहा है , आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने कुछ पानी लिया उससे कुल्ली की , कुल्ली वाला पानी ऊंट वाले के बर्तन में डाला और ऊंट के मुंह में डाल दिया,  ऊंट फौरन उठ खड़ा हुआ और फिर इस क़दर तेज़ चला कि लश्कर के साथ जा मिला ,उस पर थकावट के कोई आसार बाक़ी ना रहे।
इस गज़वे के मौक़े पर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु को मदीना मुनव्वरा ही में ठहरने का हुक्म फरमाया , वजह इसकी यह थी कि उनकी जोज़ा मोहतरमा और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की बेटी सैयदा रुक़ैया रजियल्लाहु अन्हु बीमार थी ,आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु से फरमाया - तुम्हें यहां ठहरने का भी अजर् मिलेगा और जिहाद करने का अजर् भी मिलेगा _,"
इस मौक़े पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने मदीना मुनव्वरा में हजरत अबू लुबाबा रज़ियल्लाहु अन्हु को अपना क़ाइम मुकाम बनाया, तलहा बिन उबैद और स'ईद बिन ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु को जासूसी की जिम्मेदारी सौंपी ताकि यह दोनों लश्कर से आगे जाकर कुरेश के तिजारती काफ़िले की खबर लाएं , नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उन्हें मदीना मुनव्वरा से ही रवाना फरमा दिया था।

★_ रोहा के मुका़म से इस्लामी लश्कर आगे रवाना हुआ , अरक़े ज़बिया के मुकाम पर एक देहाती मिला उससे दुश्मन के बारे में कुछ मालूम ना हो सका अब लश्कर फिर आगे बढ़ा इस तरह इस्लामी लश्कर जफरान की वादी तक पहुंच गया इस जगह आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को इत्तेला मिली कि कुरैशे मक्का एक लश्कर लेकर अपने काफ़िले को बचाने के लिए मक्का से कूच कर चुके हैं ।
२/४८
_ आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम यह इत्तेला मिलने पर तमाम लश्कर को एक जगह जमा फरमाया और उनसे मशवरा किया क्योंकि मदीना मुनव्वरा से मुसलमान सिर्फ एक तिजारती काफिले को रोकने के लिए रवाना हुए थे किसी बाका़यदा लश्कर के मुक़ाबले के लिए नहीं निकले थे। इसपर सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने बारी-बारी अपनी राय दी । हजरत मिक़दाद जी रज़ियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :- 
"_ ऐ अल्लाह के रसूल ! आपको अल्लाह ताला ने हुक्म फरमाया है, उसके मुताबिक़ अमल फरमाएं, हम आपके साथ हैं, अल्लाह की क़सम ! हम उस तरह नहीं कहेंगे जिस तरह मूसा अलैहिस्सलाम को बनी इसराइल ने कहा था कि आप और आपका रब जाकर लड़ लीजिए हम तो यहीं बैठे हैं , बल्कि हम तो यह कहते हैं हम आपके साथ हैं हम आपके आगे पीछे और दाएं बाएं लड़ेंगे आखिरी दम तक लड़ेंगे _,"

★_ हजरत मिक़दाद रज़ियल्लाहु अन्हू की तक़रीर सुनकर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का चेहरा खुशी से चमकने लगा । आप सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम मुस्कुराने लगे । हजरत मिक़दाद रजियल्लाहु अन्हु को दुआ दी ,अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु और हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने भी तक़रीर की .. उनकी तक़रीर के बाद नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने अंसारी हजरात की तरफ देखा ,अभी तक उनमें से कोई खड़ा नहीं हुआ था। अब अंसारी भी आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का इशारा समझ गए । चुनांचे हजरत सा'द बिन माज़ रज़ियल्लाहु अन्हु उठे और अर्ज़ किया :- 
"_ ऐ अल्लाह के रसूल ! शायद आपका इशारा हमारी तरफ है , तो अर्ज़ है कि हम ईमान ला चुके हैं आप की तस्दीक कर चुके हैं और गवाही दे चुके हैं हम हर हाल में आपका हुक्म मानेंगे , फरमा बरदारी करेंगे _,"

★_ उनकी तक़रीर सुनकर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के चेहरे पर खुशी के आसार ज़ाहिर हुए, चुनांचे आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- 
"_ अब उठो कूच करो तुम्हारे लिए खुशखबरी है अल्लाह ताला ने मुझे वादा फ़रमाया है कि वह हमें फतेह देगा _,"

★_ ज़फरान की वादी से रवाना होकर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम बदर के मुक़ाम पर पहुंचे उस वक्त तक कुरेशी लश्कर भी बदर के क़रीब पहुंच चुका था। आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हज़रत अली रज़ियल्लाहु अन्हु को कुरेशी लश्कर की खबर मालूम करने के लिए भेजा , उन्हें दो मस्की ( पानी भरने वाले ) मिले ,वो कुरैशी लश्कर के मस्की थे , उन दोनों से लश्कर के बारे में काफी मालूमात हासिल हुई उन्होंने लश्कर में शामिल बड़े-बड़े सरदारों के नाम भी बता दिए । इस पर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने सहाबा रजियल्लाहु अन्हुम से फरमाया :- 
"_  मक्का ने अपना दिल और जि़गर निकाल कर तुम्हारे मुक़ाबले के लिए भेजे हैं _," यानी अपने तमाम मो'अज़्ज़िज़ और बड़े-बड़े लोग भेज दिए हैं।
[
 ★_ इस दौरान अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु काफ़िले का रास्ता बदल चुके थे और इस तरह उनका का़फिला बच गया जबकि इस काफिले को बचाने के लिए जो लश्कर आया था उससे इस्लामी लश्कर का आमना-सामना हो गया । इधर अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु ने जब देखा कि का़फिला तो अब बच गया इसलिए उन्होंने अबू जहल को पैगाम भेजा कि वापस मक्का की तरफ लौट चलो क्योंकि हम इस्लामी लश्कर से बचकर निकल आए हैं लेकिन अबू जहल ने वापस जाने से इंकार कर दिया । कुरेशी लश्कर ने बदर के मुका़म पर उस जगह पड़ाव डाला जिस जगह पानी नज़दीक था दूसरी तरफ इस्लामी लश्कर ने जिस जगह पड़ाव डाला पानी वहां से फासले पर था इससे मुसलमानों को परेशानी हुई, तब अल्लाह ताला ने वहां बारिश बरसा दी और उनकी पानी की तकलीफ दूर हो गई जबकि इसी बारिश की वजह से काफिर परेशान हुए वह अपने पड़ावों से निकलने के का़बिल ना रहे। मतलब यह कि बारिश मुसलमानों के लिए रहमत और काफिरों के लिए ज़हमत साबित हुई।

★_ सुबह हुई तो अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया - लोगों ! नमाज़ के लिए तैयार हो जाओ _," चुनांचे सुबह की नमाज अदा की गई फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सहाबा किराम रजियल्लाहू अन्हू को खुतबा दिया । आप सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- 
"_ मैं तुम्हें ऐसी बात के लिए उभारता हूं जिसके लिए तुम्हें अल्लाह ताला ने उभारा है तंगी और सख्ती के मौकों पर सब्र करने से अल्लाह ताला तमाम तकलीफ से बचा लेता है और तमाम गमों से निजात अता फरमाता है_,"

★_ अब आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम लश्कर को लेकर आगे बढ़े और कुरेश से पहले पानी के क़रीब पहुंच गए । मुकामें बदर पर पानी का चश्मा था । आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को वहां रुकते देखकर हजरत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! क़याम के लिए यह जगह मुनासिब नहीं है, मैं इस इलाके से अच्छी तरह वाक़िफ हूं आप वहां पड़ाव डाले जो दुश्मन के पानी से क़रीब तरीन हो। हम वहां एक हौज बनाकर पानी उसमें जमा कर लेंगे। इस तरह हमारे पास पीने का पानी होगा ,हम पानी के दूसरे गड़े और चश्मे बांट देंगे इस तरह दुश्मन को पानी नहीं मिलेगा _,"

★_ आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इस राय को बहुत पसंद फरमाया । एक रिवायत के मुताबिक उसी वक्त हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम अल्लाह ताला का पैगाम लाए और बताया कि हजरत खब्बाब रजियल्लाहु अन्हु की राय बहुत उम्दा है ।इस राय के बाद आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम लश्कर को लेकर आगे बढ़े और उस चश्मे पर आ गए जो उस जगह से क़रीब तरीन था जहां कुरेश ने पड़ाव डाला था। मुसलमानों ने यहां क़याम किया और आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने उन्हें दूसरे गड़े भरने का हुक्म दिया ।

★_ फिर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने उस कच्चे कुएं पर एक हौज बनवाया जहां इस्लामी लश्कर ने पड़ाव डाला था ,आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उसमें पानी भरवा दिया और ढोल डलवा दिया ।इस तरह हजरत खब्बाब रजियल्लाहु अन्हु के मशवरे पर अमल हुआ। उसके बाद से हजरत खब्बाब रजियल्लाहु अन्हु को जी़ राय कहा जाने लगा ।

 ╨─────────────────────❥
 *★__ Maidaan E Badar me _,*

★_ Is moqe per Hazrat Sa'ad bin Ma'az Raziyllahu Anhu ne Aap ﷺ se arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Kyu na hum Aapke liye ek Areesh bana de ( Areesh Khajoor ki Shaakho aur Patto Ka Ek Saaybaan hota hai ) Aap usme Tashreef rakhe , Uske paas Aapki sawariya'n Taiyaar rahe aur hum Dushman SE ja Kar muqabla Kare'n _,"
Nabi Akram ﷺ ne unka Mashwara qubool farmaya , Chunache Aap ﷺ ke liye Saaybaan banaya gaya , Ye Ek ounche teele per banaya gaya tha , Us Jagah se Aap ﷺ poore Maidane Jung Ka mu'aina farma sakte they, 
Huzoor Akram ﷺ ne wahi'n qayaam farmaya, Sahaba Raziyllahu Anhum ne puchha :- Aapke Saath Yaha'n kon rahega Taki Mushriko me SE koi Aapke Qareeb na aa sake_,"
Ye Sun Kar Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu aage bade aur Apni Talwaar Ka Saaya Aap ﷺ ke Sar per Karte hue bole :- Jo Shakhs bhi Aapki taraf badne ki jurrat karega ,use Pehle is Talwaar SE nimatna padega _,"

★_ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke juraat mandana Alfaz ki buniyad per Huzoor ﷺ ne Unhe Sabse Bahadur Shakhs qaraar diya , 
Ye Baat Jung shuru hone se Pehle ki hai , Jab Jung shuru hui to Hazrat Ali Raziyllahu Anhu bhi is Saaybaan ke Darwaze per khade they , aur Hazrat Sa'ad bin Ma'az Raziyllahu Anhu bhi Ansari Sahaba ke Ek daste ke Saath waha'n mojood they aur Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu Anhu andar Aap ﷺ ki Hifazat per mamoor they ,

★_ Is Tarah subeh hui ,Fir Qureshi Lashkar Ret ke Teele ke Pichhe SE namudaar hua , isse Pehle Huzoor Akram ﷺ ne Kuchh Mushriko ke naam le le Kar farmaya k Fala'n is Jagah qatl Hoga , Fala'n is Jagah qatl Hoga, Hazrat Anas bin Maalik Raziyllahu Anhu farmate hai'n k Jin logo ke naam le Kar Huzoor Akram ﷺ ne farmaya tha k is Jagah qatl Hoga Wo bilkul wahi'n qatl hue , Ek inch bhi idhar udhar pade nahi paye gaye, 

★_ Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne jab dekha k Quresh Ka Lashkar lohe Ka Libaas pehne hue aur Hathiyaro SE khoob les badha Chala aa raha Hai to Allah Rabbul izzat SE Yu'n Dua farmayi :- 
"_ Ey Allah ! Ye Quresh ke log ,Ye tere Dushman Apne Tamaam Bahaduro ke Saath bade guroor ke aalam me tujhse Jung Karne ( Yani tere Ahkamaat ke khilaf varzi ) aur tere Rasool ko jhutlane ke liye aaye Hai'n , 
Ey Allah ! Aapne mujhse Apni madad aur Nusrat Ka vaada farma farmaya hai , Lihaza Wo madad bhej de ,
 Ey Allah ! tune mujh per Kitaab Naazil farmayi hai aur mujhe Saabit qadam rehne Ka Hukm farmaya hai , Mushriko ke is Lashkar per hume Galba ata farma, Ey Allah ! Unhe Aaj halaak farma de_,"

★_ Ek aur Rivayat me Aap ﷺ ki Dua me ye Alfaz bhi Aaye Hai'n , 
"_ Ey Allah ! Is Ummat ke Fir'oun Abu Jahal ko Kahi'n panaah na de ,thikana na de _,"
Garz jab Qureshi Lashkar thehar gaya to unhone Umer bin Wahab Jahmi Raziyllahu Anhu ko Jasoosi ke liye bheja ,Ye Ueer bin Wahab Raziyllahu Anhu baad me Musalman ho gaye they aur Bahut Achchhe Musalman Saabit hue they , Aap ﷺ ke Saath Gazwa Uhad me Shareek hue , Quresh ne Umer Raziyllahu Anhu SE Kaha :- Ja Kar Muhammad ke Lashkar ki tadaad Maloom Karo aur Hume khabar do _,"

: ★_ Umer Raziyllahu Anhu Apne ghode per sawaar ho Kar nikle , Unhone isami Lashkar ke gird Ek Chakkar lagaya ,fir waapas Quresh ke paas Aaye aur ye khabar di :- 
"_ Unki tadaad Taqriban 300 hai , Mumkin hai Kuchh zyada ho ..Magar Ey Quresh ! Maine dekha hai un logo ko laut Kar Apne gharo me Jane ki koi Tamanna nahi aur Mai'n samajhta Hu'n unme SE koi Aadmi us Waqt tak nahi maara Jayega jab tak k Kisi ko qatl na Kar de ,Goya Tumhare bhi itne hi Aadmi maare Jayenge ..jitna k unke .. iske baad fir Zindgi Ka Kya Maza reh Jayega ,isliye Jung shuru Karne SE Pehle is bare me gor Kar lo _,"

★_ Unki ye Baat sun Kar kuchh logo ne Abu Jahal SE Kaha :- Jung ke iraade SE Baaz aa Ja'o aur waapas chalo , Bhalai isi me hai _,"
Waapas chalne Ka mashwara dene Walo me Hakeem bin Hizaam Raziyllahu Anhu bhi they ,Abu Jahal ne unki Baat na maani aur Jung per tul gaya aur Jo log waapas chalne ki keh rahe they Unhe Buzdili Ka taana diya ,is Tarah Jung Tal na saki ,
Abhi Jung shuru nahi hui thi k Aswad Makhzumi ne Quresh ke Saamne elaan Kiya - Mai'n Allah Ke Saamne Ahad karta Hu'n k ya to Musalmano ke banaye hue Hauz SE Pani piyunga ..ya usko Tod dunga ya fir is Koshish me Jaan de dunga _,"

★_ Fir Ye Aswad maidaan me nikla ,Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu iske muqable me Aaye , Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ne us per Talwaar Ka vaar Kiya ,Uski pindli kat gayi ,Us Waqt ye Huaz ke qareeb tha ,Taang Kar Jane ke baad ye Zameen per chit gira ,Khoon Tezi SE beh raha tha,is Haalat me ye Hauz ki taraf sarka aur Hauz SE Pani pine laga , Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu foran uski taraf lapke aur Doosra vaar Kar Ke Uska Kaam Tamaam Kar diya,

★_ Uske baad Quresh ke Kuchh aur Log Hauz ki taraf bade ,Unme Hazrat Hakeem bin Hizaam Raziyllahu Anhu bhi they , Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Unhe aate dekh Kar farmaya :- inhe Aane do ,Aaj ke Din inme se Jo bhi Hauz SE Pani pi lega ,Wo Yahi'n Kufr ki Haalat me qatl Hoga _,"
Hazrat Hakeem bin Hizaam Raziyllahu Anhu ne Pani nahi piya ,Ye Qatl hone se bach gaye aur baad me islam laye ,Bahut Achchhe Musalman Saabit hue ,
[
 ★_ Ab Aap Sabse Pehle Utba ,Uska Bhai Shayba aur Beta Waleed Maidaan me aage nikle aur lalakara - Humse Muqable ke liye kon aata hai ?
Is lalkaar per Musalmano me se Teen Ansari naujawan nikle ,ye teeno Bhai they ,unke Naam Ma'uz , Ma'az aur Auf Raziyllahu Anhum they , Unke Waalid Ka Naam Ufra tha , in teeno Nojawano ko dekh Kar Utba ne Puchha - Tum kon ho ? 
Unhone Jawab diya- Hum Ansari Hai'n , 
Is per Utna ne Kaha - Tum Hamare barabar ke nahi .. Hamare muqable me Muhajireen me se Kisi Ko bhejo ,Hum Apni Qaum ke Aadmiyo'n SE muqabla karenge _,"
Is per Nabi Kareem ﷺ ne Unhe waapas Aane Ka Hukm farmaya, Ye teeno Apni Safo me waapas aa gaye, Aap ﷺ ne unki tareef farmayi aur Unhe Shabaahi di , Ab Aap ﷺ ne Hukm farmaya:- Ey Ubeda bin Haaris utho , Ey Hamza utho , Ey Ali utho _,"

★_ Ye Teeno Foran Apni Safo me SE nikal Kar un teeno ke Saamne pahunch gaye , inme Ubeda bin Haaris Raziyllahu Anhu zyada Umar ke they ,Budhe they ,Inka muqabla Utba bin Rabi'a se hua , Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu Ka muqabla Shayba se aur Hazrat Ali Ka muqabla Waleed se hua ,
Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ne Shayba ko waar Karne Ka moqa na diya aur ek hi waar me Uska Kaam Tamaam Kar diya, isi Tarah Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ne Ek hi waar me Waleed Ka Kaam Tamaam Kar diya, Albatta Ubeda bin Haaris Raziyllahu Anhu aur Utba ke darmiyaan talwaaro ke waar shuru ho gaye, 

★_ Dono ke darmiyaan Kuchh der tak talwaaro ke waar Hote rahe Yaha'n tak k Dono zakhmi ho gaye, Us Waqt tak Hazrat Hamza aur Hazrat Ali Raziyllahu Anhum inki taraf bade aur Utba Ka Khatm Kar diya , Fir zakhmi Ubeda bin Haaris Raziyllahu Anhu ko utha Kar Lashkar me le Aaye , Unhe Aap ﷺ ke paas Lita diya gaya , Unhone Puchha :- Ey Allah ke Rasool! Kya Mai'n Shaheed nahi Hu'n ?
Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Mai'n Gawaahi deta Hu'n k Tum Shaheed ho _,"
Uske baad Safra ke Muqaam per Hazrat Ubeda bin Haaris Raziyllahu Anhu Ka inteqal ho gaya , Unhe wahi'n dafan Kiya gaya, Jabki Huzoor ﷺ Gazwa Badar se Faarig hone ke baad Madina Munavvara ki taraf laut rahe they ,

★_ Jung se Pehle Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Sahaba Raziyllahu Anhum ki Safo ko Ek neze ke zariye sidha Kiya tha , Safo ko sidha Karte hue Hazrat Sawaad bin Gaziya Raziyllahu Anhu ke paas se guzre, Ye Saf se qadre aage bade hue they, Huzoor Akram ﷺ ne Ek Teer se Unke pet ko chhua aur farmaya - Sawaad ! Saf SE aage na niklo ,sidhe khade ho jao _,"
Is per Hazrat Sawaad Raziyllahu Anhu ne arz Kiya- Allah Ke Rasool ! Aap ne mujhe is Teer SE Takleef pahunchayi , Aapko Allah Ta'ala ne haq aur insaaf de Kar bheja hai Lihaza mujhe badla de'n _,"
Aapne foran Apna Pet khola aur unse farmaya - Lo ab Apna badla le lo _,"
Hazrat Sawaad aage bade aur Aapke seene se lag gaye aur Aapke Shikam mubarak ko bosa diya , is per Aap ﷺ ne daryaft Kiya - Sawaad ! Tumne esa kyu Kiya ?
Unhone arz Kiya - Allah Ke Rasool ! Aap dekh rahe Hai'n ,Jung Sar per hai , isliye Maine socha , Aapke Saath Zindgi Ke Jo Aakhri lamhaat basar ho ,Wo is Tarah Basar ho k Mera Jism Aapke Jism mubarak se mas Kar raha ho ..( Yani agar Mai'n is Jung me Shaheed ho gaya to ye Meri Zindgi Ke Aakhri lamhaat Hai'n ) 
Ye sun Kar Huzoor Akram ﷺ ne unke liye Dua farmayi ,

★_ Ek rivayat me aata hai,Jis Musalman ne bhi Nabi Kareem ﷺ ke Jism ko chhoo liya , Aag us Jism ko nahi chhu'egi , Ek rivayat me Yu'n hai k ,Jo cheez bhi Huzoor Akram ﷺ ke Jism ko lag gayi ,Aag use nahi jalayegi _,"

 ★_ Fir Jab Huzoor Akram ﷺ ne Safo ko sidha Kar diya to farmaya :- Jab Dushman qareeb aa Jaye to Unhe teero SE Pichhe hatana aur Apne Teer us Waqt tak na chalao jab tak k wo Nazdeek na aa Jaye'n ( Kyunki zyada faasle SE teerandazi Aksar bekaar Saabit Hoti Hai aur Teer Zaaya Hote rehte Hai'n ) isi Tarah Tawaare bhi us Waqt tak na So'antna jab tak k Dushman bilkul qareeb na aa Jaye _,"
Iske baad Aap ﷺ ne Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko ye Khutba diya :- Musibat ke Waqt Sabr Karne SE Allah Ta'ala Pareshaniya'n door farmate hai'n aur Gamo se nijaat ata farmata Hai'n_,"

★_ Fir Aap ﷺ Apne Saaybaan me Tashreef le gaye, us Waqt Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Aapke Saath they , Saaybaan ke Darwaze per Hazrat Sa'ad bin Ma'az Raziyllahu Anhu Kuchh Ansari Musalmano ke Saath nangi talwaare liye khade they Taki Dushmano ko Nabi Kareem ﷺ ki taraf badne SE rok sake ,Aap ﷺ ke liye waha'n sawariya'n bhi mojood thi Taki zarurat ke Waqt Aap sawaar ho sake'n ,

★_Musalmano me Sabse Pehle Mahj'a Raziyllahu Anhu aage bade ,Ye Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ke Gulaam they, Aamir bin Hazrami ne inhe teer maar Kar Shaheed Kar diya, 
Idhar Nabi Kareem ﷺ Apne Saaybaan me Allah Ta'ala ke Huzoor ne Sajde me gir Kar Yu'n Dua ki :- Ey Allah ! Agar Aaj momino ki jama'at Halaak ho gayi to fir Teri ibaadat Karne wala koi nahi rahega _,"
Fir Huzoor Aqdasﷺ Apne Saaybaan SE nikla Kar Sahaba ke darmiyaan Tashreef laye aur Unhe Jung per ubhaarne ke liye farmaya:- Qasam hai us zaat ki Jiske qabze me Muhammad ki Jaan hai ,Jo Shakhs bhi Aaj in Mushriko ke muqable me sabr aur himmat ke Saath ladega ,Unke Saamne Seena Taane Jama rahega aur Peet nahi ferega ,Allah Ta'ala use Jannat me dakhil karega _,"

★_ Hazrat Umer bin Hamaam Raziyllahu Anhu us Waqt khajoore kha rahe they, Ye Alfaz sun Kar Khajoore Haath SE gira di aur bole :- waah waah ! To mere aur Jannat ke darmiyaan Sirf itna faasla hai k in Mushriko me SE koi mujhe qatl Kar de _," ye Kehte hi Talwaar So'ant Kar Dushmano se bhid gaye aur ladte ladte Shaheed ho gaye, 
Hazrat Auf bin Ufra Raziyllahu Anhu ne Aap ﷺ se Puchha :- Allah Ke Rasool ! Bande ki kis Amal per Allah ki Ha'nsi aati hai _," ( Yani uske konse Amal SE Allah Ta'ala Khush Hote Hai'n) ,
Jawab me Aapne farmaya:- Jab koi mujahid zira Baktar pehne bager Dushman per Hamla aawar ho _,"
Ye Sunte hi Unhone Apne Jism per SE zira Baktar utaar Kar phe'nk di aur Talwaar So'ant Kar Dushman per toot pade , Yaha'n tak k ladte ladte Shaheed ho gaye,

★_ Jung ke Dauraan Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Ek Mutthi Kankriyo'n ki uthayi aur Mushriko per fe'nk di ,Esa Karne Ke liye Huzoor ﷺ Ko Hazrat Jibraiyl Alaihissalam ne Kaha tha , 
Kankriyo'n ko mutti me fe'nkte Waqt Huzoor ﷺ ne irshad farmaya :- Ye Chehre Kharaab ho Jaye'n _,"
Ek Rivayat ke mutabiq ye Alfaz Aaye Hai'n:- Ey Allah ! inke Dilo ko Khof se Bhar de , Unke Paanv ukhaad de'n _,"
Allah Ke Hukm aur Huzoor ﷺ ki Dua SE koi Mushrik esa na bacha jis per Wo Kankriya'n na padi ho ,Un Kankriyo'n ne unko bad hawaas Kar diya, Aakhir Natija ye nikla k Wo shikasht kha Kar bhaage , Musalman unka pichha Karne lage ,Unhe qatl aur Giraftaar Karne lage ,

★_ Kankriyo'n ki mutthi ke bare me Allah Ta'ala ne Qurane Kareem me irshad farmaya ;- 
"_ Aur Ey Nabi ! Kankriyo'n ki mutthi Aapne nahi Balki Humne Fe'nki thi _," ( Surah Al Anfaal-Aayat -17) 

★_ Badar ki Jung me Allah Ta'ala ne Farishto ke zariye bhi madad farmayi thi , Us Roz Hazrat Zuber bin Awaam Raziyllahu Anhu ne Nihayat sarfaroshi se Jung ki , unke Jism per Bahut bade bade zakhm they ,

★_ Us Jung me Hazrat Akasha bin Mohsin Raziyllahu Anhu ki Talwaar ladte ladte toot gayi to Aan Hazrat ﷺ ne Unhe Khajoor ki ek chhadi inayat farmayi ,Wo chhadi unke Haath me aate hi mo'jzaati tor per ek chamakdaar Talwaar ban gayi , Hazrat Akasha Raziyllahu Anhu us Talwaar SE ladte rahe Yaha'n tak k Allah Ta'ala ne Musalmano ko Fatah ata farmayi ,Us Talwaar Ka Naam Aun rakha gaya ,Ye Talwaar Tamaam gazwaat me Hazrat Akasha Raziyllahu Anhu ke paas rahi aur usi Talwaar SE wo Jung Kiya Karte they,Unke inteqal ke baad ye Talwaar unki Aulaad ko virasat me milti rahi , Ek se doosre ke paas pahunchti rahi ,

★_ Isi Tarah Hazrat Salma bin Aslam Raziyllahu Anhu ki Talwaar bhi toot gayi thi , Huzoor Akram ﷺ ne Unhe Khajoor ki jad ata farmayi aur farmaya :- isse lado _," Unhone Jo'nhi us Jad ko haath me liya ,Wo Ek Nihayat Behatreen Talwaar ban gayi aur us Gazwe ke baad unke paas rahi ,

★_ Hazrat Khabeeb bin Abdur Rahman Raziyllahu Anhu Bayan karte Hai'n k ek Mushrik ne mere Dada per Talwaar Ka vaar Kiya , Us vaar me unki Ek Pasli alag ho gayi , Huzoor Akram ﷺ ne Lu'abe dahan laga Kar tooti Pasli uski Jagah rakh di ,Wo Pasli Apni Jagah per is Tarah jam gayi Jese Tooti hi nahi thi ,

★_ Hazrat Rafa'a bin Maalik Raziyllahu Anhu Kehte Hai'n k ek Teer Meri Aankh me aa Kar laga , Meri Aankh foot gayi, Mai'n isi Haalat me Huzoor Akram ﷺ ki khidmat me Haazir hua , Aap ﷺ ne Meri Aankh me Apna Lu'abe dahan daal diya, Aankh usi Waqt Theek ho gayi aur Zindgi bhar us Aankh me Kabhi koi Takleef nahi hui ,

★_ Ab Aap ﷺ ne Hukm farmaya k Mushriko ki Laasho ko un jagaho SE utha laya Jaye Jaha'n unke qatl hone ki nishan dahi ki thi , Hazrat Umar Raziyllahu Anhu farmate hai'n k Nabi Akram ﷺ ne Jung SE ek din Pehle hi Hume bata diya tha k in sha Allah kal ye Utba bin Rabi'a ke qatl ki Jagah hogi ,Ye Shayba bin Rabi'a ke qatl Ki Jagah hogi ,Ye Umayya bin Khalf ke qatl ki Jagah hogi , 
Aap ﷺ ne Apne daste mubarak se un jagaho ki nishan dahi farmayi thi..Ab jab laashe Jama Karne Ka Hukm mila aur Sahaba kiraam Laasho ki Talash me nikle to Mushriko ki Laashe bilkul unhi jagaho per padi mili, Huzoor Akram ﷺ ne un Tamaam Laasho ko Ek gadhe me daalne Ka Hukm farmaya ,


★_ Jab Tamaam Mushriko ko gadhe me daal diya gaya to Huzoor Nabi Kareem ﷺ us gadhe ke Ek kinaare per aa khade hue ..Wo Waqt Raat Ka tha , Bukhari aur Muslim ki rivayat me hai k Jab Nabi Kareem ﷺ ki Gazwa me Fatah haasil Hoti to Aap ﷺ us Muqaam per teen Raat qayaam farmaya Karte they, Teesre Din Aapne Lashkar ko Taiyaari Ka Hukm diya, 
Huzoor ﷺ ne Fatah ki khabar Madina munavvara bhej di , Madina Munavvara me Fatah ki khabar Hazrat Zaid bin Haarisa Raziyllahu anhu laye they , Unhone Khush khabri Buland Awaaz me Yu'n sunayi :- Ey giroh Ansar ! Tumhe Khush khabri ho , Rasulullah ﷺ ki salaamti aur Mushriko ke qatl aur giraftari ki , Qureshi Sardaro me SE Fala Fala qatl aur Fala Fala giraftaar ho gaye Hai'n _,"

★_ Fatah ki ye khabar waha'n us Waqt pahunchi jab Madina Munavvara me Huzoor ﷺ ki sahabzaadi wafaat pa chuki thi aur Unke Shohar Hazrat Usman Raziyllahu anhu unko dafan Kar Ke qabr ki Mitti barabar Kar rahe they ,
Aan Hazrat ﷺ ko jab Hazrat Ruqayya Raziyllahu Anha ki wafaat ki ittela di gayi to irshad farmaya :- "_ Alhamdulillah ! Allah Ta'ala Ka shukr hai , Shareef Betiyo''n Ka dafan Hona bhi izzat ki Baat hai _,"

★_ Fatah ki khabar sun Kar ek Munafiq Bola - Asal Baat ye Hai k Tumhare saathi shikasht kha Kar titar bitar ho gaye Hai'n aur ab Wo Kabhi Ek Jagah Jama nahi sakenge , agar Muhammad (ﷺ) zinda Hote to Apni ountni per khud sawaar Hote Magar ye Zaid ese Bad hawas ho rahe Hai'n k Unhe khud bhi pata nahi k kya keh rahe Hai'n _,"

Is per Hazrat Osama Raziyllahu Anhu ne usse Kaha - "_ Oh Allah Ke Dushan ! Muhammad ﷺ ko aa Lene de ,fir tujhe Maloom ho Jayega ..kise Fatah hui aur kise shikasht hui Hai ?

★_ Fir Nabi Kareem ﷺ Madina munavvara ki taraf rawana hue, Raaste me Safra ki ghaanti me pahunche to us Jagah Aap ﷺ ne maale ganimat Taqseem farmaya ,Is Maal me 150 ount aur 10 ghode they ,iske alawa har qism Ka Samaan , Hathiyar,Kapde aur be shumaar khaale ,oun vagera bhi is maale ganimat me Shamil tha , Ye cheeze Mushrik Tijarat ke liye Saath le Aaye they ,
Aap ﷺ ne us Maal me se un logo ke bhi hisse nikale Jo Gazwa Badar me Haazir nahi ho sakte they, Ye wo log they Jinhe khud Aan Hazrat ﷺ ne Kisi vajah se Jung me hissa Lene SE rok diya tha Kyunki Hazrat Ruqayya Raziyllahu Anha bimaar thi aur khud Hazrat Usman Raziyllahu anhu ko Chechak nikli hui thi, isliye Aap ﷺ ne Hazrat Usman Raziyllahu Anhu ko Ashaabe Badar me shumaar farmaya ,

★_ isi Tarah Hazrat Abu Lubaba Raziyllahu Anhu they ,Unhe khud Aap ﷺ ne Madina walo ke paas Bator muhafiz chhoda tha aur Hazrat Aasim bin Adi Raziyllahu Anhu ko Aap ﷺ ne Quba aur Aaliya walo ke paas chhoda tha,
Isi Tarah Huzoor ﷺ ne un logo Ka bhi hissa nikala Jinhe Jasoosi ki garaz SE bheja gaya tha Taki Wo Dushman ki khabar laye , Ye log us Waqt waapas lote they jab Jung Khatm ho chuki thi,
 ╨─────────────────────❥
 *★_ मैदाने बदर में _,*

★_ इस मौके पर हजरत साद बिन माज़ रज़ियल्लाहु अन्हु ने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से अर्ज़ किया- ऐ अल्लाह के रसूल ! क्यों ना हम आपके लिए एक अरीश बना दे ( अरीश खजूर की शाखों और पत्तों का एक साएबान होता है ) आप उसमे तशरीफ़ रखें उसके पास आप की सवारियां तैयार रहें और हम दुश्मन से जाकर मुक़ाबला करें। नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उनके मशवरे को क़ुबूल फरमाया , चुनांचे आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के लिए साएबान बनाया गया। यह एक ऊंचे टीले पर बनाया गया था उस जगह से आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम पूरे मैदान-ए-जंग का मुआयना फरमा सकते थे। हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने वही क़याम फरमाया। सहाबा रजियल्लाहु अन्हुम ने पूछा -आपके साथ यहां कौन रहेगा ,ताकि मुशरिकों में से कोई आपके क़रीब ना आ सके ?  यह सुनकर अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु आगे बढ़े और अपनी तलवार का साया आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के सर पर करते हुए बोले :-  जो शख्स भी आपकी तरफ बढ़ने की ज़ुर्रत करेगा उसे पहले इस तलवार से निपटना पड़ेगा_,"

★_ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के जो ज़ुर्रत मंदाना अल्फाज़ की बुनियाद पर हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उन्हें सबसे बहादुर शख्स क़रार दिया ।
यह बात जंग शुरू होने से पहले की है ,जब जंग शुरू हुई तो हजरत अली रजियल्लाहु अन्हु भी इस साएबान के दरवाजे पर खड़े थे और हजरत साद बिन माज़ रज़ियल्लाहु अन्हु भी अंसारी सहाबा के दस्ते के साथ वहां मौजूद थे और हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु अंदर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की हिफाज़त पर मामूर थे ।

★_ इस तरह सुबह हुई फिर कुरेशी लश्कर रेत के टीले के पीछे से नमूदार हुआ । इससे पहले हुजूर अकरम सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ने कुछ मुशरिकों के नाम ले लेकर फरमाया कि फलां इस जगह क़त्ल होगा फलां इस जगह क़त्ल होगा। हजरत अनस बिन मालिक रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि जिन लोगों के नाम लेकर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया था कि इस जगह कत्ल होगा वह बिल्कुल वहीं क़त्ल हुएं, एक इंच भी इधर-उधर पड़े नहीं पाए गए।

★_ हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने जब देखा कि क़ुरेश का लश्कर लोहे का लिबास पहने हुए और हाथियों से खूब लैस बड़ा चला आ रहा है तो अल्लाह रब्बुल इससे यूं दुआ फरमाई :-  ऐ अल्लाह ! ये क़रेश के लोग तेरे दुश्मन अपने तमाम बहादुरों के साथ बड़े गुरूर के आलम में तुझ से जंग करने ( यानी तेरे अहकामात के खिलाफ वर्जी ) और तेरे रसूल को झुठलाने के लिए आए हैं ।
ऐ अल्लाह ! आपने मुझसे अपनी मदद और नुसरत का वादा फरमा फरमाया है , लिहाज़ा वह मदद भेज दे ,
ऐ अल्लाह ! तूने मुझ पर किताब नाजिल फरमाई हैं और मुझे साबित क़दम रहने का हुक्म फरमाया है, मुशरिकों के इस लश्कर पर हमें गलबा अता फरमा, 
ऐ अल्लाह ! उन्हें आज हलाक फरमा दे_,"

★_ एक ओर रिवायत में आप सल्लल्लाहु अलेही सल्लम की दुआ मे यह अल्फाज़ भी आए हैं :- 
"_  ऐ अल्लाह ! इस उम्मत के फिरौन अबू जहल को कहीं पनाह ना दे , ठिकाना ना दे _,"
गर्ज़ जब कुरेशी लश्कर ठहर गया तो उन्होंने उमेर बिन वहब जहमी रज़ियल्लाहु अन्हु को जासूसी के लिए भेजा । यह उमैर बिन वहब रज़ियल्लाहु अन्हु बाद में मुसलमान हो गए थे और बहुत अच्छे मुसलमान साबित हुए थे। आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के साथ गज़वा उहद में शरीक़ हुए,  कुरैश ने उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु से कहा:-  जाकर मोहम्मद के लश्कर की तादाद मालूम करो और हमें खबर दो ।
 ★_ उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु अपने घोड़े पर सवार होकर निकले उन्होंने इस्लामी लश्कर के गिर्द  एक चक्कर लगाया फिर वापस कुरेश के पास आए और यह खबर दी :-  उनकी तादाद तकरीबन 300 है मुमकिन है कुछ ज्यादा हो मगर ऐ क़ुरेश ! मैंने देखा है उन लोगों को लौट कर अपने घरों में जाने की कोई तमन्ना नहीं और मैं समझता हूं उनमें से कोई आदमी उस वक्त तक नहीं मारा जाएगा जब तक कि किसी को क़त्ल ना कर दे गोया तुम्हारे भी उतने ही आदमी मारे जाएंगे जितने कि उनके , इसके बाद फिर जिंदगी का क्या मज़ा रह जाएगा, इसलिए जंग शुरू करने से पहले इस बारे में गौर कर लो _,"

★_ उनकी बात सुनकर कुछ लोगों ने अबू जहल से कहा - जंग के इरादे से बाज़ आ जाओ और वापस चलो भलाई इसी में है_,"
वापस चलने का मशवरा देने वालों में हकीम बिन हिज़ाम रजियल्लाहु अन्हु भी थे , अबू जहल ने उनकी बात नहीं मानी और जंग पर तुल गया और जो लोग वापस चलने की कह रहे थे उन्हें बुजदिली का ताना दिया। इस तरह जंग टल ना सकी। 
अभी जंग शुरू नहीं हुई थी कि असवद मखज़ूमि ने कुरेश के सामने ऐलान किया - मैं अल्लाह के सामने अहद करता हूं कि या तो मुसलमानों के बनाए हुए हौज़ से पानी पी लूंगा या उसको तोड़ दूंगा या फिर इस कोशिश में जान दे दूंगा_,"

★_ फिर यह असवद मैदान में निकला , हजरत हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु  उसके मुकाबले में आए । हजरत हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु ने उस पर तलवार का वार किया ,उसकी पिंडली कट गई उस वक्त यह हौज़ के क़रीब था,  टांग कट जाने के बाद यह ज़मीन पर गिरा, खून तेज़ी से बह रहा था इस हालत में यह हौज़ की तरफ सरका और हौज़ से पानी पीने लगा। हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु फोरन उसकी तरफ लपके और दूसरा वार करके उसका काम तमाम कर दिया ।

★_उसके बाद क़ुरेश के कुछ और लोग हौज की तरफ बड़े उनमें हजरत हकीम बिन हिज़ाम रजियल्लाहु अन्हु भी थे, नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उन्हें आते देखकर फरमाया - इन्हें आने दो ,आज के दिन इनमें से जो भी होज से पानी पी लेगा, वो यहीं कुफ्र की हालत में क़त्ल होगा _,"
हजरत हकीम बिन हिजा़म रज़ियल्लाहु अन्हु ने पानी नहीं पिया , यह क़त्ल होने से बच गए और बाद में इस्लाम लाए , बहुत अच्छे मुसलमान साबित हुए।
[
 ★_ अब सबसे पहले उतबा, उसका भाई शैबा और बेटा वलीद मैदान में आगे निकले और ललकारे - हमसे मुक़ाबले के लिए कौन आता है ? इस ललकार पर मुसलमानों में से तीन अंसारी नौजवान निकले यह तीनों भाई थे उनके नाम म'ऊज़, माज़ और औफ रजियल्लाहु अन्हुम थे , इनके वालिद का नाम उफरा था,  इन तीनों नौजवानों को देखकर उतबा ने पूछा- तुम कौन हो? उन्होंने जवाब दिया हम अंसारी हैं । इस पर उन्होंने कहा - तुम हमारे बराबर के नहीं हमारे मुक़ाबले में मुहाजिरीन में से किसी को भेजो हम अपनी क़ौम के आदमियों से मुकाबला करेंगे ।
इस पर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उन्हें वापस आने का हुक्म फरमाया ,यह तीनों अपनी सफों में वापस आ गए , आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उनकी तारीफ फरमाई और उन्हें शाबाशी दी। अब आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने हुक्म फरमाया -  ए उबेदा बिन हारिस उठो , ए हमज़ा उठो, ऐ अली उठो _,"

★_ यह तीनों फौरन अपनी सफों में से निकल कर उन तीनों के सामने पहुंच गए , इनमें उबैदा बिन हारिस रज़ियल्लाहु अन्हु ज़्यादा उम्र के थे ,बूढ़े थे , उनका मुकाबला उतबा बिन रबिआ से हुआ , हजरत हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु का मुक़ाबला शैबा से और हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु का मुक़ाबला वलीद से हुआ।
हजरत हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु ने शैबा को वार करने का मौका ना दिया और एक ही वार में उसका काम तमाम कर दिया , इसी तरह हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु ने एक ही वार में वलीद का काम तमाम कर दिया ,अलबत्ता उबैदा बिन हारिस रज़ियल्लाहु अन्हु और उतबा के दरमियान तलवारों के वार शुरू हो गए।

★_ दोनों के दरमियान कुछ देर तक तलवारों के वार होते रहे यहां तक कि दोनों जख्मी हो गए , हजरत हमजा़ और हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हुम इनकी तरफ बड़े और उतबा को खत्म कर दिया, फिर जख्मी उबैदा बिन हारिस रज़ियल्लाहु अन्हु को उठाकर लश्कर में ले आए ,उन्हें आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के पास लेटा दिया गया । उन्होंने पूछा - ऐ अल्लाह के रसूल ! क्या मैं शहीद नहीं हूं ? आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया - मैं गवाही देता हूं कि तुम शहीद हो । उसके बाद सफरा के मुकाम पर हजरत उबैदा बिन हारिस रज़ियल्लाहु अन्हु का इंतकाल हो गया ,उन्हें वहीं दफन किया गया जबकि हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम गज़वा बदर से फारिग होने के बाद मदीना मुनव्वरा की तरफ लौट रहे थे ।

★_ जंग से पहले हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने सहाबा रज़ियल्लाहु अन्हुम की सफों को एक नेज़े के ज़रिए सीधा किया था ।  सफों को सीधा करते हुए हजरत सवाद रजियल्लाहु अन्हु के पास से गुज़रे, यह सफ से क़दरे आगे बढ़े हुए थे , हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने एक तीर से इनके पेट को छुआ और फरमाया -  सवाद ! सफ से आगे ना निकलो, सीधे खड़े हो जाओ । इस पर हजरत सवाद रजियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया -  अल्लाह के रसूल ! आपने मुझे इस तीर से तकलीफ पहुंचाई ,आपको अल्लाह ताला ने हक़ और इंसाफ देकर भेजा है लिहाज़ा मुझे बदला दें । आपने फौरन अपना पेट खोला और उनसे फरमाया - लो तुम ! अब अपना बदला ले लो _,"
हजरत सवाद आगे बढ़े और आपके सीने से लग गए और आपके सिकम मुबारक को बौसा दिया । इस पर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने दरयाफ्त किया - तुमने ऐसा क्यों किया ?
उन्होंने अर्ज़ किया - अल्लाह के रसूल ! आप देख रहे हैं जंग सर पर है इसलिए मैंने सोचा आपके साथ जिंदगी के जो आखरी लम्हात बसर है वह इस तरह बसर हो कि मेरा जिस्म आपके जिस्म मुबारक से मस कर रहा हो.. ( यानी अगर मैं इस जंग में शहीद हो गया तो यह मेरी जिंदगी के आखिरी लम्हात हैं ) यह सुनकर हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनके लिए दुआ फरमाई ।

★_ एक रिवायत में आता है,  जिस मुसलमान ने भी नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के जिस्म को छू लिया , आग उस जिस्म को नहीं छुएगी _,",  
एक रिवायत में यूं है कि , जो चीज़ भी हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के जिस्म को लग गई ,आग उसे नहीं जलाएगी _,",

★_ फिर जब हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सफों को सीधा कर दिया तो फरमाया - जब दुश्मन क़रीब आ जाए तो उन्हें तीरों से पीछे हटाना और अपने तीर उस वक्त तक ना चलाओ जब तक कि वह नज़दीक ना आ जाए (क्योंकि ज्यादा फासले से तीरंदाजी अक्सर बेकार साबित होती है और तीर जा़या होते हैं ) इसी तरह तलवारे भी उस वक्त तक ना सोंतना जब तक कि दुश्मन बिल्कुल क़रीब ना आ जाए। इसके बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हु को खुतबा दिया :- मुसीबत के वक्त सब्र करने से अल्लाह ताला परेशानियां दूर फरमाते हैं और गमों से निजात अता फरमाते हैं _,"

★_ फिर आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अपने सायबान में तशरीफ ले गए उस वक्त हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु आपके साथ थे, सायबान के दरवाज़े पर हजरत सा'द बिन माज़ रजियल्लाहु अन्हु कुछ अंसारी मुसलमानों के साथ नंगी तलवारें लिए खड़े थे ताकि दुश्मनों को नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की तरफ बढ़ने से रोक सके । आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के लिए वहां सवारियां भी मौजूद थी ताकि ज़रूरत के वक्त आप सवार हो सकें।

★_ मुसलमानों में सबसे पहले महज'आ रजियल्लाहू अन्हू आगे बढ़े यह हज़रत उमर रजियल्लाहु अन्हु के गुलाम थे , आमिर बिन हज़रमी ने इन्हें तीर मारकर शहीद कर दिया ।
इधर नबी करीम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने सायबान में अल्लाह ताला के हुज़ूर में सजदे में गिरकर यूं दुआ की :- ऐ अल्लाह ! अगर आज मोमिनो की जमात हलाक हो गई तो फिर तेरी इबादत करने वाला कोई नहीं रहेगा _,"
फिर हुजूर अक़दस सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम अपने सायबान से निकलकर सहाबा के दरमियान तशरीफ लाए और उन्हें जंग पर उभारने के लिए फरमाया :- क़सम है उसे जात की जिसके कब्जे में मोहम्मद की जान है , जो शख्स भी आज इन मुशरिकों के मुकाबले में सब्र और हिम्मत के साथ लड़ेगा उनके सामने सीना ताने जमा रहेगा और पीट नहीं फैरेगा , अल्लाह ताला उसे जन्नत में दाखिल करेगा _,"

★_ हजरत उमैर बि हमाम रजियल्लाहु अन्हु उस वक्त खजूर खा रहे थे यह अल्फाज सुन कर खजूरे हाथ से गिरा दी और बोले - वाह-वाह ! तो मेरे और जन्नत के दरमियान सिर्फ इतना फासला है कि मुशरिकों में से कोई मुझे कत्ल कर दें _," यह कहते ही तलवार सौंत पर दुश्मनों से भिड़ गए और लड़ते लड़ते शहीद हो गए ।
हजरत औफ बिन उफरा रज़ियल्लाहु अन्हु ने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से पूछा- अल्लाह के रसूल ! बंदे के किस अमल पर अल्लाह को हंसी आती है ( यानी उसके कौन से अमल से अल्लाह ताला खुश होते हैं ), जवाब में आप ने फरमाया जब कोई मुजाहिद जि़रा बख्तर पहने बगैर दुश्मन पर हमला आवर हो _," यह सुनते ही उन्होंने अपने जिस्म पर से जि़रा बख्तर उतार कर फेंक दी और तलवार सोंतकर दुश्मन पर टूट पड़े यहां तक कि लड़ते लड़ते शहीद हो गए।

★_ जंग के दौरान हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने एक मुट्ठी कंकरियों की उठाई और मुशरिकों पर फैंक दी, ऐसा करने के लिए हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने कहा था , कंकरियों को मुट्ठी में फेंकते वक्त हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- ये चेहरे खराब हो जाएं _," 
एक रिवायत के मुताबिक यह अल्फाज आए हैं ,"_ उनके दिलों को खौफ से भर दे ,उनके पांव उखाड़ दे _," अल्लाह के हुक्म और हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की दुआ से कोई मुशरिक ऐसा ना बचा जिस पर वह कंकरिया ना पड़ी हो ,उन कंकरियों ने उनको बदहवास कर दिया। आखिर नतीजा ये निकला कि वह शिकस्त खाकर भागे , मुसलमान उनका पीछा करने लगे उन्हें क़त्ल और गिरफ्तार करने लगे ।

★_ कंकरियों की मुट्ठी के बारे में अल्लाह ताला ने क़ुरान ए करीम में इरशाद फरमाया :- 
"_ और ए नबी ! कंकरियों की मुट्ठी आपने नहीं बल्कि हमने फेंकी थी _," ( सूरह अल अन्फाल-१७)

: ★_ बदर की जंग में अल्लाह ताला फरिश्तों के जरिए भी मदद फरमाई थी। उस रोज़ हजरत जुबेर बिन अवाम रज़ियल्लाहु अन्हु ने निहायत सरफरोशी से जंग की, उनके जिस्म पर बहुत बड़े बड़े ज़ख्म थे।

★_ उस जंग में हजरत अकाशा बिन महासिन रजियल्लाहु अन्हु की तलवार लड़ते-लड़ते टूट गई तो आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन्हें खजूर की एक छड़ी इनायत फरमाई, वो छड़ी उनके हाथ में आते ही मौजजा़ती तौर पर एक चमकदार तलवार बन गई , हजरत अकाशा रज़ियल्लाहु अन्हु उस तलवार से लड़ते रहे यहां तक कि अल्लाह ताला ने मुसलमानों को फतह अता फरमा दी , उस तलवार का नाम औन रखा गया ,यह तलवार तमाम गजवात में हजरत अकाशा रज़ियल्लाहु अन्हु के पास रही और उसी तलवार से वो जंग किया करते थे , उनके इंतकाल के बाद यह तलवार उनकी औलाद को विरासत में मिलती रही, एक से दूसरे के पास पहुंचती रही।

★_ इसी तरह हजरत सलमा बिन असलम रजियल्लाहु अन्हु की तलवार भी टूट गई थी हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने उन्हें खजूर की जड़ अता फरमाई और फरमाया - इस से लड़ो _,"  उन्होंने जोंहि उस जड़ को हाथ में लिया वह  निहायत बेहतरीन तलवार बन गई और उस गज़वे के बाद उनके पास रही ।

★_ हज़रत खबीब बिन अब्दुर रहमान रजियल्लाहु अन्हु बयान करते हैं कि एक मुशरिक ने मेरे दादा पर तलवार का वार किया उस वार में उनकी एक पसली अलग हो गई , हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने लुआबे दहन लगाकर टूटी पसली उसकी जगह रख दी , वह पसली अपनी जगह पर इस तरह जम गई जैसे टूटी ही नहीं थी ।

★_ हजरत रफ'आ बिन मालिक रज़ियल्लाहु अन्हु कहते हैं कि एक तीर मेरी आंख में आकर लगा मेरी आंख फूट गई मैं इसी हालत में हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुआ , आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने मेरी आंख में अपना लुआबे दहन डाल दिया ,आंख उसी वक्त ठीक हो गई और जिंदगी भर उस आंख मे कभी तकलीफ नहीं हुई।

★_ अब आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया कि मुशरिकों की लाशों को उन जगहों से उठा लाया जाए जहां उनके क़त्ल होने की निशानदेही की थी, हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने जंग से एक दिन पहले ही बता दिया था कि इंशा अल्लाह कल यह उतबा बिन रबिआ के कत्ल की जगह होगी, यह शैबा बिन रबिआ के क़त्ल की जगह होगी , यह उमैया बिन खल्फ के क़त्ल की जगह होगी, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने दस्ते मुबारक से उन जगहों की निशानदेही फरमाई थी.. अब जब लाशें जमा करने का हुक्म मिला और सहाबा किराम लाशों की तलाश में निकले तो मुशरिकों की लाशें बिल्कुल उन्हीं जगहों पर पड़ी मिली ,हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उन तमाम लाशों को एक गड्ढे में डालने का हुक्म फरमाया।
: ★_ जब तमाम मुशरिकों को गड्ढे में डाल दिया गया तो हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम उस गड्डे के एक किनारे पर आ खड़े हुए वह वक्त रात का था । बुखारी और मुस्लिम की रिवायत में है कि जब नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की गज़वा में फतह हासिल होती तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम उस मुका़म पर तीन रात क़याम फरमाया करते थे , तीसरे दिन आपने लश्कर को तैयारी का हुक्म दिया , हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फतह खबर मदीना मुनव्वरा भेज दी , मदीना मुनव्वरा में फतह की खबर हज़रत ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु लाए थे , उन्होंने खुश शबरी बुलंद आवाज में यूं सुनाई :- ए गिरोहों अंसार ! तुम्हें खुशखबरी , हो रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की सलामती और मुशरिकों के क़त्ल और गिरफ्तारी की , कुरेशी सरदारों में से फलां फलां क़त्ल और फलां फलां गिरफ्तार हो गये हैं ।

★_ फतेह कि यह खबर वहां उस वक्त पहुंची जब मदीना मुनव्वरा में हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की साहबजा़दी वफात पा चुकी थी और उनके शौहर हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु उनको दफन करके कब्र की मिट्टी बराबर कर रहे थे । आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को जब रुक़ैया रजियल्लाहु अन्हा की वफात की इत्तला दी गई तो इरशाद फरमाया :- अल्हम्दुलिल्लाह ! अल्लाह अल्लाह ताला का शुक्र है, शरीफ बेटियों का दफन होना भी इज्जत की बात है _,"

★_ फतह की खबर सुनकर एक मुनाफिक बोला - असल बात यह है कि तुम्हारे साथी शिकस्त खाकर तितर-बितर हो गए हैं और अब वह कभी एक जगह जमा नहीं हो सकेंगे , अगर मोहम्मद ( सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम)  जिंदा होते तो अपनी ऊंटनी पर खुद सवार होते मगर यह ज़ैद ऐसे बदहवास हो रहे हैं कि उन्हें खुद भी पता नहीं कि क्या कह रहे हैं _,"

इस पर हजरत ओसामा रज़ियल्लाहु अन्हु ने उस से कहा :- ओ अल्लाह के दुश्मन ! मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को आने दे फिर तुझे मालूम हो जाएगा ..किसे फतह हुई और किसे शिकस्त हुई है ?"

★_ फिर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम मदीना मुनव्वरा की तरफ रवाना हो गए , रास्ते में सफरा की घाटी में पहुंचे तो उस जगह आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने माले गनीमत तक्सीम फरमाया । इस माल में 150 ऊंट और 10 घोड़े थे इसके अलावा हर कि़स्म का सामान, हथियार, कपड़े और बेशुमार खाले और ऊन वगैरह भी इस माले गनीमत में शामिल था । यह चीजें मुशरिक तिजारत के लिए साथ ले आए थे,  आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उस माले गनीमत में से उन लोगों के भी हिस्से निकालें जो गज़वा बदर में हाजिर नहीं हो सके थे यह वो लोग थे जिन्हें खुदा आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने किसी वजह से जंग में हिस्सा लेने से रोक दिया था,  क्योंकि हजरत रुक़ैया रजियल्लाहु अन्हा बीमार थी और खुद हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु को चेचक निकली हुई थी,  इसलिए आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु को असहाबे बदर में शुमार फरमाया।

★_ इसी तरह हजरत अबू लुबाबा रज़ियल्लाहु अन्हु थे उन्हें खुद आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने मदीना वालों के पास बतौर मुहाफिज़ छोड़ा था और हजरत आसिम बिन अदी रज़ियल्लाहु अन्हु को आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने कू़बा और आलिया वालों के पास छोड़ा था । 
इसी तरह हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उन लोगों का भी हिस्सा निकाला जिन्हें जासूसी की गर्ज़ से भेजा गया था ताकि वह दुश्मन की खबर लाएं , यह लोग उस वक्त वापस लौटे थे जब जंग खत्म हो चुकी थी।
 ╨─────────────────────❥
: *★_ Badar me Fatah ke Baad_,*

★_ Fir Aap ﷺ Madina Munavvara me dakhil hue to Shehar ki Bachchiyo'n ne Daf Baja Kar istaqbaal Kiya , Wo us Waqt ye geet ga rahi thi :- 
"_ Hamare Saamne Chodhvi Ka Chaand Tulu hua hai, is Ni'amat ke badle me hum per Hamesha Allah Ta'ala Ka shukr Ada Karna waajib hai _,"

★_ Doosri Taraf Makka Muazzama me Quresh ki shikasht ki khabar pahunchi , Khabar lane wale ne pukaar Kar Kaha :- Logo Utba aur Shayba qatl ho gaye,Abu Jahal aur Umayya bhi qatl ho gaye aur Quresh ke Sardaaro me se Fala Fala bhi qatl ho gaye...Fala Fala giraftaar Kar liye gaye _,"
Ye khabar wehshat naak thi , Khabar Sun Kar Abu Lahab ghisat'ta hua bahar aaya ,Usi Waqt Abu Sufiyaan bin Haaris Raziyllahu Anhu waha'n pahunchne, Ye Huzoor ﷺ ke chachazaad Bhai they ,Us Waqt Musalman nahi hue they,Ye Badar me Mushrikeen ki taraf se Shareek hue they, Abu Lahab ne Unhe dekhte hi Puchha :- Mere Nazdeek aao aur suna'o..kya khabar hai ?

★_ Abu Sufiyaan bin Haaris (Raziyllahu Anhu) ne Jawab me Maidane Jung ki Jo kaifiyat sunayi ,Wo ye thi :- 
"_ Khuda ki qasam ! Bas Yu'n samjh lo k Jese hi Hamara Dushman SE takraav hua ,Humne goya Apni gardane unke Saamne pesh Kar di aur Unhone Jese chaha Hume qatl Karna shuru Kar diya,Jese chaha giraftaar Kiya ,Fir bhi Mai'n Quresh ko ilzaam nahi dunga Kyunki Hamara Waasta Jin logo se pada hai, Wo Safed rang ke they aur Siyaah aur Safed rang ke ghodo per sawaar they, Wo Zameen aur Aasmaan ke darmiyaan fir rahe they, Allah ki qasam unke Saamne koi cheez theharti nahi thi _,"

★_ Abu Ra'afe Raziyllahu Anhu Kehte Hai'n, Ye Sunte hi Maine Kaha :- Tab to Khuda ki qasam Wo Farishte they _,"
Meri Baat Sunte hi Abu Lahab Gusse me aa gaya ,Usne Poori Taaqat se thappad mere moonh per de maara , fir mujhe utha Kar patakh diya aur mere Seene per Chad Kar mujhe be tahasha maarne laga ,
Waha'n Meri maalkin Yani Umme Fazal bhi mojood thi , Unhone ek lakdi Ka paaya utha Kar itne zor SE Abu Lahab ko maara k Uska sar fat gaya ,Saath hi Umme Fazal ne sakht Lehje me Kaha :- Tu ise isliye Kamzor samajh Kar maar raha Hai k iska Aaqa Yaha'n mojood nahi _,"

★_ Is Tarah Abu Lahab zaleel ho Kar waha'n se rukhsat hua , Junge Badar me is qadar zillat Aamez shikasht ke baad Abu Lahab Saat Roz SE zyada zinda na raha , Taaoun me mubtila ho Kar mar gaya ,Use dafan Karne ki zurrat bhi koi nahi Kar raha tha, Aakhir usi Haalat me uski laash sadne lagi , Shadeed Badbu fail gayi ,Tab Uske Beto'n ne Ek gadha khoda aur Lakdi ke zariye uski Laash ko gadhe me dhakel diya ,Fir door hi SE sang baari Kar Ke us gadhe ko Pattharo se paat diya ,

: ★_ Is shikasht per Makka ki Aurto'n ne Ka'i maah tak Apne qatl hone Walo Ka sog manaya , Is Jung me Aswad bin Zam'a naami Mushrik ki teen aulaade halaak hui ,Ye wo Shakhs tha k Makka me jab Huzoor Nabi Kareem ﷺ ko dekhta tha to Aap ﷺ Ka mazaaq udaya karta tha aur Kehta tha :- logo dekho to , Tumhare Saamne ru'e Zameen Ke Baadshah fir rahe Hai'n Jo Qaisar v Kisra ke mulko ko Fatah karenge _,"
Uski Takleef dah Baato per Aap ﷺ ne use andha hone ki bad dua di thi , us bad dua se wo andha ho gaya tha , 

★_ Baaz Rivayaat me aata hai k Aap ﷺ ne Uske Andha hone aur uski Aulaad ke Khatm ho Jane ki bad dua farmayi thi, Allah Ta'ala ne Aap ﷺ ki Dua qubool farmayi , Chunache Pehle Wo andha hua fir uski Aulaad junge Badar me maari gayi ,

★_ Jung ke baad Aap ﷺ ne Qaidiyo'n ke bare me mashwara farmaya ,Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu Ka mashwara ye tha k unko fidiya le Kar riha Kar diya Jaye , Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki raay ye thi k Unhe qatl Kar diya Jaye ,Aap ﷺ ne Baaz maslihato ke tahat Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu Ka mashwara Pasand farmaya aur un logo ki Jaan bakhshi Kar di , Unse fidiya le Kar Unhe riha Kar diya ,
Taaham is Silsile me Allah Ta'ala ne Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki raay ko Pasand Karte hue Surah Al Anfaal-Aayat 67 ta 70 Naazil farmayi, in Aayaat me Allah Ta'ala ne waaze Kiya k un Qaidiyo'n ko qatl Kiya Jana Chahiye tha ,

★_ Badar ke Qaidiyo'n me Huzoor Nabi Kareem ﷺ ki Beti Hazrat Zenab Raziyllahu Anha ke khawind Abul Aas Raziyllahu Anhu bhi they, Jo us Waqt Musalman nahi hue they, Us Waqt Hazrat Zenab Raziyllahu Anha Makka me thi ,Jab inhe Maloom hua k Fidiya le Kar riha Karne Ka Faisla hua hai to inhone Shohar ke fidiye me Apna Haar bhej diya, Ye Haar Hazrat Zenab Raziyllahu Anha ko unki Waalida Hazrat Khadija Raziyllahu Anha ne inki Shadi ke moqe per diya tha, Fidiye me ye haar Abul Aas Raziyllahu Anhu Ka Bhai le Kar Aaya tha , Usne Haar Huzoor Aqdasﷺ ki khidmat me pesh Kiya ,Haar ko dekh Kar Aan Hazrat ﷺ ki Aankho'n me Aa'nsu aa gaye, Hazrat Khadija Raziyllahu Anha Yaad aa gayi , Huzoor Aqdasﷺ ne Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum SE farmaya :- 
"_ Tum munasib samjho to Zenab ke Shohar ko riha Kar do aur Uska ye haar bhi waapas Kar do _,"
Sahaba Raziyllahu Anhum ne foran Kaha :- Zaroor ya Rasulullah !

★_ Chunache Abul Aas Raziyllahu Anhu ko riha Kar diya gaya aur Zenab Raziyllahu Anha Ka haar lota diya gaya, Albatta Aap ﷺ ne Abul Aas Raziyllahu Anhu se vaada liya tha k Makka jate hi Wo Zenab Raziyllahu Anha ko Madina bhej denge , Unhone vaada Kar liya ,
[29/02, 5:07 pm] Enamul Uloom☝🏻: ★_ Yaha'n ye Baat bhi waaze rahe k Hazrat Zenab Raziyllahu Anha ki Shaadi Abul Aas Raziyllahu Anhu se us Waqt hui thi jab Huzoor Aqdasﷺ ne islam ki Dawat shuru nahi ki thi , Jab Huzoor Aqdasﷺ ne islam ki Dawat shuru ki to Mushrikeen ne Abul Aas Raziyllahu Anhu per zor diya tha k wo Zenab Raziyllahu Anha ko talaaq de de'n ,Lekin Unhone esa Karne se inkaar Kar diya tha, Albatta Abu Lahab ke Dono beto ne Huzoor Nabi Kareem ﷺ ki Betiyo'n Hazrat Ruqayya Raziyllahu Anha aur Hazrat Kulsum Raziyllahu Anha ko talaaq de di ,Abhi Sirf unka nikah hua tha,Rukhsati nahi hui thi, Jab Nabi Kareem ﷺ ki Maloom hua tha k Abul Aas Raziyllahu Anhu ne Mushriko Ka mutalba maanne SE inkaar Kar diya to Huzoor Aqdasﷺ ne unke Haq me dua farmayi thi, Abul Aas Raziyllahu Anhu Gazwa Badar ke Kuchh arsa baad Musalman ho gaye they ,

★_ Hazrat Zenab Raziyllahu Anha ko lane ke liye Madina munavvara SE Hazrat Zaid bin Haarisa Raziyllahu anhu ko bheja gaya , Abul Aas Raziyllahu Anhu ne vaade ke mutabiq inhe unke Saath bhej diya , ( us Waqt tak Hijaab Ka Hukm Naazil na hua tha ) is Tarah wo Madina aa gayi, Raaste me Dushman ne rukawat banne ki Koshish ki thi ,Lekin Abul Aas Raziyllahu Anhu ke Bhai unke Raaste me aa gaye aur Mushrik nakaam rahe ,

★_ Qaidiyo'n me Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu ke Bhai Waleed bin Waleed (Raziyllahu Anhu) bhi they, inhe inke Bhai Hishaam aur Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu ne riha karaya , inka fidiya Ada Kiya gaya ,Jab Wo inhe le Kar Makka Pahunche to waha'n Unhone islam qubool Kar liya, is per unke Bhai Bahut bigde , Unhone Kaha :- Agar tumne Musalman hone Ka iraada Kar liya tha to wahi'n Madina me kyu nahi ho gaye _,"

★_ Bhaiyo'n ki Baat ke Jawab me Hazrat Waleed bin Waleed Raziyllahu Anhu bole :- Maine Socha agar Mai'n Madina Munavvara me Musalman ho gaya to log kahenge , Mai'n qaid SE ghabra Kar Musalman ho gaya Hu'n _,"
Ab Unhone Madina Munavvara Hijrat Ka iraada Kiya to unke Bhaiyo'n ne inko qaid Kar diya, Huzoor Akram ﷺ ko ye Baat Maloom hui to unke liye Qunoote Nazila me rihayi ki Dua farmane lage , Aakhir Ek Din Waleed bin Waleed Raziyllahu Anhu Makka se nikal bhaagne me kamyaab ho gaye aur Aap ﷺ ke paas Madina Munavvara pahunch gaye ,

: ★_ Ese hi ek Qaidi Hazrat Wahab bin Umer Raziyllahu Anhu ( Jo baad me islam laye ) ne bhi Gazwa Badar me Musalmano SE Jung ki thi aur Shikasht ke baad Qaidi Bana liye gaye they, Wahab bin Umer Raziyllahu Anhu ke Waalid Ka Naam Umer tha ..inke Ek Dost they ,Safwaan ( Raziyllahu Anhu ) in Dono Dosto ka talluq Makka ke Quresh SE tha , Dono us Waqt tak islam nahi laye they aur Musalmano ke Badtareen Dushman they ,Ek Roz ye Dono Hajre Aswad ke paas bethe they ,Dono Badar me Quresh ki shikasht ke bare me baate Karne lage ...qatl hone wale bade bade Sardaaro Ka Zikr Karne lage ,

★_ Safwaan Raziyllahu Anhu ne Kaha :- Allah ki qasam ! Sardaaro ke qatl ho Jane ke baad Zindgi Ka Maza hi Khatm ho gaya hai_,"
Ye sun Kar Umer Raziyllahu Anhu ne Kaha :- Tum sach kehte ho ,Khuda ki qasam ! Agar mujhe Apne Pichhe Bivi Bachcho Ka khayal na hota to Mai'n Muhammad (ﷺ) ke paas pahunch Kar Unhe qatl Kar deta ( Ma'azallaah) ,Mere paas waha'n pahunchne ki vajah bhi mojood hai ,Mera Apna Beta Wahab unke qaid me hai ,Wo Badar ki ladayi me Shareek tha.._,"
Ye Sunna tha k Safwaan Raziyllahu Anhu ne vaada Karte hue Kaha :- Tumhara Qarz mere Zimme hai , Wo Mai'n Ada karunga aur Tumhare Bivi Bachcho ki zimmedari bhi mere Zimme hai ,Jab tak Wo zinda rahenge Mai'n unki Kifaalat karunga _,"
Umer Raziyllahu Anhu ne ye sun Kar Huzoor ﷺ ke qatl Ka Pukhta azm Kar liya aur Kaha - "_ Bas to fir Theek hai ,Ye maamla mere aur Tumhare darmiyaan raaz rahega ... Na tum Kisi Se is Saari Baat Ka Zikr Karoge ,na Mai'n _,"

★_ Safwaan Raziyllahu Anhu ne vaada Kar liya, Umer Raziyllahu Anhu ne Ghar Ja Kar Apni Talwaar nikali ,Uski Dhaar ko tez Kiya aur fir usko Zehar me bujhaya ,Fir Makka se Madina Ka rukh Kiya , Masjide Nabvi me pahunch Kar Umer Raziyllahu Anhu ne dekha Hazrat Umar Raziyllahu Anhu Kuchh doosre Musalmano ke Saath bethe Gazwa Badar ki baate Kar rahe they, Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki Nazar in per padi to foran uth khade hue , Kyunki Unhone Umer Raziyllahu Anhu ke Haath me nangi talwaar dekh li thi, Unhone Kaha :- Ye Khuda Ka Dushman Zaroor Kisi Bure iraade se Aaya hai _,"
Fir Wo foran waha'n SE Nabi Kareem ﷺ ke Hujre mubarak me gaye aur Arz Kiya :- Allah Ke Rasool ! Khuda Ka Dushman Umer nangi talwaar liye Aaya hai _,"
Huzoor Akram ﷺ ne irshad farmaya:- Umar ,use mere paas andar le aao _,"

★_ Hazrat Umar Raziyllahu Anhu foran bahar nikle , Talwaar Ka patka Pakad Kar Unhe andar Kheench laye , Us Waqt waha'n Kuchh Ansari mojood they , Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne unse farmaya :- Tum log bhi mere Saath andar aa jao .. Kyunki mujhe iski niyat per shak hai _,"
Chunache Wo andar aa gaye, Aan Hazrat ﷺ ne jab dekha k Hazrat Umar Raziyllahu Anhu Umer Raziyllahu Anhu ko is Tarah Pakad Kar la rahe Hai'n to Aap ﷺ ne foran farmaya :- "_ Umar, ise Chhod do .. Umer ,aa Ja'o _,"
Chunache Umer Aap ﷺ ke qareeb aa gaye aur jahiliyat ke adaab ki Tarah " SUBEH BA KHAIR "Kaha , Huzoor Aqdasﷺ ne irshad farmaya :- 
"_ Umer , Hume islam ne Tumhare is Salam se Behtar salam inayat farmaya hai ,Jo Jannat walo Ka Salam hai ... Ab tum bata'o ,tum kis liye aaye ho ?"
Umer Raziyllahu Anhu bole :- Mai'n Apne Qaidi Bete ke Silsile me Baat Karne Aaya Hu'n _,"
Is per Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Fir is Talwaar Ka Kya Matlab...sach bata'o ,kis liye aaye ho ?"
Umer Raziyllahu Anhu bole :- Mai'n waqa'i Apne Bete ki rihayi ke Silsile me Aaya Hu'n _,"

: ★_ Chunki Hazrat Umer Raziyllahu Anhu ke iraade SE mutalliq Allah Ta'ala ne Huzoor ﷺ Ko wahi ke zariye Pehle SE bata diya tha , isliye Aap ﷺ ne irshad farmaya :- 
"_ Nahi Umer ! Ye Baat nahi..Balki Baat ye Hai k Kuchh din Pehle tum aur Safwaan Hajre Aswad ke paas bethe they aur tum Dono Apne maqtoolo ke bare me baate Kar rahe they, Un maqtoolo ki Jo Badar ki ladayi me maare gaye aur Jinhe Ek gadhe me daal diya gaya tha , Us Waqt tumne Safwaan SE Kaha tha k agar tumhe Kisi Ka qarz na Ada Karna hota aur Pichhe tumhe Apne Bivi Bachcho ki fikr na hoti to Mai'n ja Kar Muhammad (ﷺ) ko qatl Kar deta, is per Safwaan ne Kaha tha ,Agar tum ye Kaam Kar daalo to qarz ki Adaygi Wo Kar dega aur Tumhare Bivi Bachcho Ka bhi khayal Wohi rakhega ,Unki Kifaalat karega ,Magar Allah Ta'ala tumhara iraada Poora hone nahi denge _,"

★_ Umer Raziyllahu Anhu ye sun Kar Hakka bakka reh gaye, Kyunki us Guftgu ke bare me Sirf Unhe pata tha ya Safwaan Raziyllahu Anhu ko , Chunache Ab Umer Raziyllahu Anhu foran bol uthe :- 
"_ Mai'n Gawaahi deta Hu'n k Aap Allah ke Rasool Hai'n aur Ey Allah ke Rasool ! Aap per Jo Aasmaan SE khabre Aaya Karti Hai'n aur Jo wahi Naazil Hoti Hai,Hum usko jhutlaya Karte they, Jaha'n tak is maamle ka talluq hai .. To us Waqt Hajre Aswad ke paas mere aur Safwaan ke Siva koi teesra Shakhs mojood nahi tha aur na hi Hamari Guftgu ki Kisi Ko khabar hai , Kyunki humne Raazdaari Ka ahad Kiya tha, isliye Allah ki qasam ! Aapko Allah Ta'ala ke Siva aur koi is Baat ki khabar nahi de Sakta , Pas Hamdo Sana hai us zaate Baari Ta'ala ke liye Jisne islam ki taraf Meri rehnumayi ki aur hidayat farmayi aur mujhe is Raaste per chalne ki Tofeeq farmayi _,"

★_ Iske baad Umer Raziyllahu Anhu ne Kalma padha aur Musalman ho gaye,Tab Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum SE farmaya :- 
"_ Apne Bhai ko Deen ki Taleem do aur inhe Qur'an Paak padhao aur inke Qaidi ko riha Kar do _,"
Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne foran Hukm ki tameel ki ,

★_ Ab Hazrat Umer Raziyllahu Anhu ne arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Mai'n har Waqt is Koshish me laga rehta tha k Allah Ke is Noor ko bujha du'n aur Jo log Allah Ke Deen Ko qubool Kar chuke Hai'n Unhe khoob Takleef pahunchaya karta tha, Ab Meri Aapse darkhwast hai k Aap mujhe Makka Jane ki ijazat de'n, Taki waha'n ke logo ko Allah ki taraf bulau'n aur islam ki Dawat du'n , Mumkin hai Allah Ta'ala Unhe hidayat ata farma de _,"
Huzoor Akram ﷺ ne Unhe Makka Jane ki ijazat de di , Chunache ye waapas Makka aa gaye, inki Tableeg se inke Bete Wahab Raziyllahu Anhu bhi Musalman ho gaye ,
[04/03, 8:12 am] Enamul Uloom☝🏻: ★_ Jab Hazrat Safwaan Raziyllahu Anhu ko ye ittela mili k Umer Raziyllahu Anhu Musalman ho gaye Hai'n to Wo Bhochaka reh gaye aur qasam kha li ab Kabhi Umer Raziyllahu Anhu se nahi bolenge ,Apne Ghar walo ko Deen ki Dawat dene ke baad Umer Raziyllahu Anhu Safwaan Raziyllahu Anhu ke paas aaye aur pukaar Kar Kaha :- 
"_ Ey Safwaan ! Tum Hamare Sardaaro me se ek Sardaar ho ,Tumhe Maloom hai k hum Pattharo ko poojte rahe Hai'n aur Unke Naam per qurbaniya'n dete rahe Hai'n ,bhala ye bhi koi Deen hua.. Mai'n Gawaahi deta Hu'n k Allah Ta'ala ke Siva koi Ma'abood nahi aur ye k Muhammad ﷺ Allah Ke Rasool Hai'n _,"

★_ Unki ye Baat sun Kar Safwaan Raziyllahu Anhu ne koi jawab na diya , Baad me Fatah Makka ke moqe per Umer Raziyllahu Anhu ne unke liye Amaan talab ki thi aur Fir ye bhi imaan le aaye they,

★_ Isi Tarah un Qaidiyo'n me Nabi Akram ﷺ ke Chacha Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu bhi they , Sahaba kiraam ne inhe Bahut sakhti SE baandh rakha tha, Rassi ki sakhti inhe Bahut Takleef de rahi thi aur Wo karaah rahe they, inki is Takleef ki vajah se Huzoor Akram ﷺ bhi Tamaam Raat Bechain rahe .. Jab Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko Maloom hua k Huzoor Akram ﷺ is vajah se Bechain Hai'n to foran Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu ki Rassiya'n dheeli Kar di.. Yahi nahi Unhone baai Tamaam Qaidiyo'n ki Rassiya'n bhi dheeli Kar di ..fir inhone Apna fidiya Ada Kiya aur riha hue , usi moqe per Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu Musalman ho gaye they Magar Unhone Makka walo SE Apna Musalman Hona poshida rakha ,

★_ Qaidiyo'n me Ek Qaidi Abu Uzza Jamhi bhi tha , isne Huzoor Nabi Kareem ﷺ se iltija ki :- Ey Allah ke Rasool ! Mai'n Baal Bachcho wala Aadmi Hu'n aur khud Bahut zarurat mand Hu'n ... Mai'n Fidiya Nahi Ada Kar Sakta ..mujh per reham farmaiye _,"
Ye Shayar tha , Musalmano ke khilaf Shayr likh likh Kar Aapko Takleef pahunchaya karta tha, iske bavjood Aap ﷺ ne iski darkhwast Manzoor farmayi aur bager fidiya ke ise riha Kar diya..Albatta isse vaada Kiya k Aainda Wo Musalmano ke khilaf Ash'aar nahi likhega ...isne vaada Kar liya, Lekin riha hone ke baad Jab ye Makka pahuncha to isne fir Apna Kaam shuru Kar diya, Musalmano ke khilaf Ash'aar likhne laga ,Ye Makka ke Mushrikeen SE Kaha karta tha :- Maine Muhammad per Jaadu Kar diya tha , isliye Unhone mujhe bager Fidiya ke riha Kar diya _,"

★_ Agle Saal ye Shakhs Gazwa Uhad ke moqe per Mushriko ke Lashkar me Shamil hua aur Apne Ash'aar SE Mushriko ko Josh dilata raha ,isi ladayi me ye qatl hua ,

 ╨─────────────────────❥
 *★_  बदर में फतह के बाद _,*

★_ फिर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मदीना मुनव्वरा में दाखिल हुए तो शहर की बच्चियों ने दफ बजा कर इस्तक़बाल किया ,वो उस वक्त यह गीत गा रही थी हमारे सामने चौधरी का चांद तनु हुआ है स्नेहा मत के बदले में हम पर हमेशा अल्लाह ताला का शुक्र अदा करना वाजिब है_,"

★_ दूसरी तरफ मक्का मुअज्ज़मा मे कुरैश की शिकस्त की खबर पहुंची , खबर लाने वाले ने पुकार कर कहा :-  लोगों उतबा और शैबा क़त्ल हो गए, अबू जहल और उमैया भी क़त्ल हो गए और कुरेश के सरदारों में से फला फला भी क़त्ल हो गए ,..फला फला गिरफ्तार कर लिए गए _,"
यह खबर वहशतनाक थी, खबर सुनकर अबू लहब उन्हें घिसटता हुआ बाहर आया , उसी वक्त अबू सुफियान बिन हारिस रज़ियल्लाहु अन्हु वहां पहुंचे,  वह हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के चचाजाद भाई थे, उस वक्त मुसलमान नहीं हुए थे  ,यह बदर में मुशरिकीन की तरफ से शरीक़ हुए थे , अबू लहब ने उन्हें देखते ही पूछा :- मेरे नज़दीक आओ और सुनाओ ...क्या ख़बर है ?

★_ अबू सुफियान बिन हारिस रज़ियल्लाहु अन्हु ने जवाब में मैदान-ए-जंग की जो कैफियत सुनाई वह यह थी :- 
"_  खुदा की क़सम ! बस यह समझ लो कि जैसे ही हमारा दुश्मन से टकराव हुआ हमने गोया अपने गरदने उनके सामने पेश कर दी और उन्होंने जैसे चाहा हमें क़त्ल करना शुरू कर दिया जैसे चाहा गिरफ्तार किया फिर भी मैं कुरेश को कोई इल्जाम नहीं दूंगा क्योंकि हमारा वास्ता जिन लोगों से पड़ा है वह सफेद रंग के थे और स्याह और सफेद रंग के घोड़ों पर सवार थे वह जमीन और आसमान के दरमियान फिर रहे थे , अल्लाह की क़सम उनके सामने कोई चीज ठहरती नहीं थी _,"

★_ अबू राफे रजियल्लाहु अन्हु कहते हैं, यह सुनते ही मैंने कहा- तब तो खुदा की क़सम वह फरिश्ते थे _,"
मेरी बात सुनते ही अबु लहब गुस्से में आ गया उसने पूरी ताकत से थप्पड़ मेरे मुंह पर दे मारा ,फिर मुझे उठा कर पटक दिया और मेरे सीने पर चढ़कर मुझे बेतहाशा मारने लगा । वहां मेरी मालकिन यानी उम्में फ़ज़ल भी मौजूद थी उन्होंने एक लकड़ी का पाया उठाकर इतने ज़ोर से अबू लहब को मारा कि उसका सर फट गया , साथ ही उम्मे फ़ज़ल ने सख्त लहजे में कहा :- तू इसे इसलिए कमज़ोर समझ कर मार रहा है कि इसका आका़ यहां मौजूद नहीं _,"

★_ इस तरह अबु लहब ज़लील होकर वहां से रुखसत हुआ । जंग-ए-बदर में इस क़दर ज़िल्लत आमेज़ शिकस्त के बाद अबू लहब सात रोज़ से ज्यादा जिंदा नहीं रहा, ताऊन में मुब्तला होकर मर गया , उसे दफन करने की ज़ुर्रत भी कोई नहीं कर रहा था,  आखिर ऐसी हालत में उसकी लाश सड़ने लगी , शदीद बदबू फैल गई तब उसके बेटों ने एक गड्ढा खोदा और लकड़ी के जरिए उसकी लाश को गड्ढे में धकेल दिया फिर दूर ही से पत्थर फेंक करके उस गड्ढे को पत्थरों से पाट दिया।

: ★_ इस शिकस्त पर मक्का की औरतों ने कई माह तक अपने क़त्ल होने वालों का शौग मनाया, इस जंग में असवद बिन ज़मा नामी मुशरिक की तीन औलादे हलाक हुई, यह वह शख्स था कि मक्का में जब हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को देखता था तो आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का मज़ाक़ उड़ाया करता था और कहता था - "_ लोगों देखो तो , तुम्हारे सामने रूए ज़मीन के बादशाह फिर रहे हैं जो क़ैसर व किसरा के मुल्कों को फतह करेंगे _",
उसकी तकलीफ देह बातों पर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उसे अंधा होने की बद्दुआ दी थी इस बद्दुआ से वह अंधा हो गया था।

★_ बाज़ रिवायात में आता है कि आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उसके अंधा होने और उसकी औलाद के खत्म हो जाने की बद्दुआ फरमाई थी अल्लाह ताला ने आप सल्लल्लाहु अलेही सल्लम की दुआ क़ुबूल फरमाई, चुनांचे पहले वह अंधा हुआ फिर उसकी औलाद जंग-ए-बदर में मारी गई ।

★_ जंग के बाद आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने क़ैदियों के बारे में मशवरा फरमाया , हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु का मशवरा यह था कि उनको फिदया देकर रिहा कर दिया जाए, हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की राय यह थी कि उन्हें क़त्ल कर दिया जाए, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने बाज़ मसलिहतों के तहत हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु का मशवरा पसंद फरमाया और उन लोगों की जान बख्सी कर दी, उनसे फिदया लेकर उन्हें रिहा कर दिया । ताहम इस सिलसिले में अल्लाह ताला ने हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की राय को पसंद करते हुए सूरह अल अनफाल की आयत 67 से 70 तक नाजि़ल फरमाई,इन आयात में अल्लाह ताला ने वाज़े किया कि उन कैदियों को क़त्ल किया जाना चाहिए था।

★_ बदर के कैदियों में हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की बेटी हजरत जे़नब रज़ियल्लाहु अन्हा के खाविंद अबुल आस रज़ियल्लाहु अन्हु भी थे जो उस वक्त मुसलमान नहीं हुए थे,  उस वक्त हजरत जे़नब रज़ियल्लाहु अन्हा मक्का में थी, जब जे़नब रज़ियल्लाहु अन्हा को मालूम हुआ कि फिदिया लेकर रिहा करने का फैसला हुआ है तो उन्होंने शौहर के फिदये में अपना हार भेज दिया ,यह हार हजरत जेनब रजियल्लाहु अन्हा को उनकी वालिदा हजरत खदीजा रज़ियल्लाहु अन्हा ने उनकी शादी के मौके़ पर दिया था,  फिदिए में यह हार अबुल आस रजियल्लाहु अन्हु का भाई लेकर आया था। उसने हार हुजूर सल्लल्लाहू वसल्लम की खिदमत में पेश किया, हार को देख कर आन हजरत सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की आंखों में आंसू आ गए हजरत खदीजा रज़ियल्लाहु अन्हा याद आ गई , हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम से फरमाया :- 
"_ तुम मुनासिब समझो तो ज़ेनब के शौहर को रिहा कर दो और उसका यह हार भी वापस कर दो_," 
सहाबा रजियल्लाहु अन्हुम ने फौरन कहा :-  ज़रूर या रसूलल्लाह !

★_ चुनांचे अबुल आस रज़ियल्लाहु अन्हु को रिहा कर दिया गया और ज़ेनब रज़ियल्लाहु अन्हा का हार लौटा दिया गया । अलबत्ता आपने अबुल आस रज़ियल्लाहु अन्हु से वादा लिया था कि मक्का जाते ही वो ज़ेनब रज़ियल्लाहु अन्हा को मदीना भेज देंगे , उन्होंने वादा कर लिया।

: ★_ यहां यह बात भी वाज़े रहे कि हजरत जे़नब रज़ियल्लाहु अन्हा की शादी अबुल आस रज़ियल्लाहु अन्हु से उस वक्त हुई थी जब हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इस्लाम की दावत शुरू नहीं की थी ,जब हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इस्लाम की दावत शुरू की तो मुशरिकीन ने अबुल आस रजियल्लाहु अन्हु पर ज़ोर दिया था कि वह जे़नब रज़ियल्लाहु अन्हा को तलाक दे दे लेकिन उन्होंने ऐसा करने से इनकार कर दिया था, अलबत्ता अबू लहब के दोनों बेटों ने हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की बेटियों हजरत रुक़ैया रजियल्लाहु अन्हा और हजरत कुलसुम रज़ियल्लाहु अन्हा को तलाक दे दी, अभी सिर्फ उनका निकाह हुआ था रुखसती नहीं हुई थी । जब नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को मालूम हुआ था कि अबुल आस रज़ियल्लाहु अन्हु ने मुशरिकीन का मुतालबा मानने से इंकार कर दिया तो हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनके हक़ में दुआ फरमाई थी, अबुल आस रज़ियल्लाहु अन्हु गज़वा बदर के कुछ अरसा बाद मुसलमान हो गए थे।

★_ हजरत जे़नब रज़ियल्लाहु अन्हा को लाने के लिए मदीना मुनव्वरा से हज़रत ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हू को भेजा गया , अबुल आस रज़ियल्लाहु अन्हु ने वादे के मुताबिक इन्हें उनके साथ भेज दिया ( उस वक्त तक हिजाब का हुक्म नाजिल नहीं हुआ था ) इस तरह वह मदीना आ गई ,रास्ते में दुश्मन ने रुकावट बनने की कोशिश की थी लेकिन अबुल आस रजियल्लाहु अन्हु के भाई उनके रास्ते में आ गए और मुशरिक नाकाम रहे।

★_ कैदियों में हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु के भाई वलीद बिन वलीद (रज़ियल्लाहु अन्हु) भी थे , इन्हें इनके भाई हिशाम और खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु ने रिहा कराया , इनका फिदिया अदा किया गया, जब वह इन्हें लेकर मक्का पहुंचे तो वहां उन्होंने इस्लाम कबूल कर लिया इस पर इनके भाई बहुत बिगड़े , उन्होंने कहा :- अगर तुमने मुसलमान होने का इरादा कर लिया था तो वहीं मदीना में क्यों नहीं हो गए ?

★_ भाइयों की बात के जवाब में हजरत वलीद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु बोले :- मैंने सोचा अगर मैं मदीना मुनव्वरा में मुसलमान हो गया तो लोग कहेंगे मैं क़ैद से घबराकर मुसलमान हो गया हूं _,"
अब इन्होंने मदीना मुनव्वरा हिजरत का इरादा किया तो इनके भाइयों ने इनको कैद कर दिया। हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को यह बात मालूम हुई तो उनके लिए क़ुनूते नाजि़ला में रिहाई की दुआ फरमाने लगे,  आखिर एक दिन वलीद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु मक्का से निकल भागने में कामयाब हो गए और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के पास मदीना मुनव्वरा पहुंच गए।

 ★_ ऐसे ही एक कैदी हजरत वहब बिन उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु ( जो बाद में इस्लाम लाए) ने भी गजवा बदर में मुसलमानों से जंग की थी और शिकस्त के बाद कैदी बना लिए गए थे,  वहब बिन उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु के वालिद का नाम उमैर था ..इनके एक दोस्त थे सफवान रजियल्लाहु अन्हु। इन दोनों का ताल्लुक मक्का के कुरेश से था , दोनों उस वक्त तक इस्लाम नहीं लाए थे और मुसलमानों के बदतरीन दुश्मन थे। एक रोज़ यह दोनों हजरे अस्वद के पास बैठे थे दोनों बदर में कुरेश की शिकस्त के बारे में बातें करने लगे.. क़त्ल होने वाले बड़े-बड़े सरदारों का जिक्र करने लगे।

★_ सफवान रजियल्लाहु अन्हु ने कहा-  अल्लाह की क़सम! सरदारों के कत्ल हो जाने के बाद जिंदगी का मज़ा ही खत्म हो गया है _," 
यह सुनकर उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु ने कहा -तुम सच कहते हो, खुदा की क़सम ! अगर मुझे अपने पीछे बीवी बच्चों का ख्याल ना होता तो मैं मुहम्मद( सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम) के पास पहुंचकर उन्हें क़त्ल कर देता ( मा'ज़ल्लाह ) , मेरे पास वहां पहुंचने की वजह भी मौजूद है, मेरा अपना बेटा वहब उनके कैद में है ,वह बदर की लड़ाई में शरीक था _"
यह सुनना था कि सफवान रजियल्लाहु अन्हु ने वादा करते हुए कहा - तुम्हारा कर्ज़ मेरे जिम्मे हैं वह मैं अदा करूंगा और तुम्हारे बीवी बच्चों की जिम्मेदारी भी मेरे जिम्मे हैं जब तक वह जिंदा रहेंगे मैं उनकी किफालत करूंगा _,
उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु ने यह सुनकर हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के क़त्ल का पुख्ता अज़्म कर लिया और कहा -  बस तो फिर ठीक है, यह मामला मेरे और तुम्हारे दरमियान राज़ रहेगा, ना तुम किसी से इस सारी बात का ज़िक्र करोगे ,ना मैं _,"

★_  सफवान रजियल्लाहु अन्हु ने वादा कर लिया, उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु ने घर जाकर अपनी तलवार निकाली उसकी धार को तेज़ किया और फिर उसको ज़हर में बुझाया , फिर मक्का से मदीना का रुख किया,  मस्जिद-ए-नबवी में पहुंचकर उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु ने देखा हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु दूसरे मुसलमानों के साथ बैठे गज़वा बदर की बातें कर रहे थे,  हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की नज़र उन पर पड़ी तो फौरन उठ खड़े हुए क्योंकि उन्होंने उनके हाथ में नंगी तलवार देख ली थी, उन्होंने कहा :- यह खुदा का दुश्मन ज़रूर किसी बुरे इरादे से आया है _,"
फिर वह फौरन वहां से नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के हुजरे मुबारक मे गए और अर्ज़ किया:-  अल्लाह के रसूल ! खुदा का दुश्मन उमैर नंगी तलवार लिए आया है _,"
हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया- उमर उसे मेरे पास अंदर ले आओ _,"

★_ हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु फौरन बाहर निकले , तलवार का फटका पकड़कर उन्हें अंदर खींच लाए, उस वक्त वहां कुछ अंसारी मौजूद थे ,हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने उनसे फरमाया - तुम लोग भी मेरे साथ अंदर आ जाओ क्योंकि मुझे इसकी नियत पर शक है _,"
चुनांचे वो अंदर आ गए , आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने जब देखा कि हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु को इस तरह पकड़ कर ला रहे है तो आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने फौरन फरमाया - उमर ,इसे छोड़ दो..उमैर , आ जाओ _," 
चुनांचे उमैर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के करीब आ गए और जाहिलियत के आदाब की तरह " सुबह बा खैर " कहा , हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया - उमैर हमें इस्लाम ने तुम्हारे इस सलाम से बेहतर सलाम इनायत फरमाया है जो जन्नत वालो का सलाम है .अब तुम बताओ तुम किस लिए आए ?
उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु बोले- मैं अपने बेटे के सिलसिले में बात करने आया हूं , इस पर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया - फिर इस तलवार का क्या मतलब.. सच बताओ किस लिए आए हो ?
उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु बोले- मैं वाक़ई अपने बेटे की रिहाई के सिलसिले में आया हूं _,"
[
 ★__ चुकी हजरत उमेर रज़ियल्लाहु अन्हु के इरादे से मुताल्लिक़ अल्लाह ताला ने हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को बा ज़रिए वही पहले से बता दिया था इसलिए आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- नहीं उमैर , यह बात नहीं बल्कि बात यह है कि कुछ दिन पहले तुम और सफवान हजरे अस्वद के पास बैठे थे और तुम दोनों अपने मक़तूलों के बारे में बातें कर रहे थे उन मक़तूलों की जो बदर की लड़ाई में मारे गए और जिन्हें एक गड्ढे में डाल दिया गया था , उस वक्त तुमने सफवान से कहा था कि अगर तुम्हें किसी का कर्ज़ ना अदा करना होता और पीछे तुम्हें अपने बीवी बच्चों की फिक्र ना होती तो मैं जाकर मोहम्मद (सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ) को क़त्ल कर देता ,इस पर सफवान ने कहा था अगर तुम यह काम कर डालो तो कर्ज़ की अदायगी वह कर देगा और तुम्हारे बीवी बच्चों का भी ख्याल वही रखेगा ,उनकी किफालत करेगा, मगर अल्लाह ताला तुम्हारा इरादा पूरा होने नहीं देंगे_,"

★_ उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु यह सुनकर हक्का-बक्का रह गए क्योंकि उस गुफ्तगू के बारे में सिर्फ उन्हें पता था या सफवान रजियल्लाहु अन्हु को , चुनांचे अब उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु फौरन बोल उठे :- 
"_ मैं गवाही देता हूं कि आप अल्लाह के रसूल हैं और ए अल्लाह के रसूल ! आप पर जो आसमान से खबर आया करती हैं और जो वही नाजि़ल होती है हम उसको झूठलाया करते थे जहां तक इस मामले का ताल्लुक है तो उस वक्त हजरे अस्वद के पास मेरे और सफवान के सिवा कोई तीसरा शख्स मौजूद नहीं था और ना ही हमारी गुफ्तगू की किसी को खबर है क्योंकि हमने राज़दारी का अहद किया था इसलिए अल्लाह की क़सम, आपको अल्लाह ताला सिवा और कोई इस बात की खबर नहीं दे सकता,  पस हम्दो सना है उस जा़ते बारी ताला के लिए जिसने इस्लाम की तरफ मेरी रहनुमाई की और हिदायत फरमाई और मुझे इस रास्ते पर चलने की तौफीक फरमाई _,"

★_ इसके बाद उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु ने कलमा पढ़ा और मुसलमान हो गए । तब हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम से फरमाया- "_ अपने भाई को दीन की तालीम दो और इन्हें कुराने पाक पढ़ाओ और इनके कैदी को रिहा करो_,"
सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने फौरन हुक्म की तामिल की।

★_ अब हजरत उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु  ने अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! मैं हर वक्त इस कोशिश में लगा रहता था कि अल्लाह के इस नूर को बुझा दूं और जो लोग अल्लाह के दीन को कुबूल कर चुके हैं उन्हें खूब तकलीफ पहुंचाया करता था अब मेरी आपसे दरख्वास्त है कि आप मुझे मक्का जाने की इजाजत दें ताकि वहां के लोगों को अल्लाह की तरह बुलाऊं और इस्लाम की दावत दूं, मुमकिन है अल्लाह ताला उन्हें हिदायत अता फरमा दे _,"
हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उन्हें मक्का जाने की इजाजत दे दी चुनांचे यह वापस आ गए , इनकी तबलीग से इनके बेटे वहब रजियल्लाहु अन्हु भी मुसलमान हो गए।

 ★_ जब हजरत सफवान रजियल्लाहु अन्हु को इत्तला मिली कि उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु मुसलमान हो गए हैं तो वह भौचक्का रह गए और क़सम खा ली अब कभी उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु से नहीं बोलेंगे , अपने घरवालों को दीन की दावत देने के बाद उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु सफवान रजियल्लाहु अन्हु के पास आए और पुकार कर कहा :- 
"_ ऐ सफवान ! तुम हमारे सरदारों में से एक सरदार हो , तुम्हें मालूम है कि हम पत्थरों को पूजते रहे हैं और उनके नाम पर कुर्बानियां देते रहे हैं भला यह भी कोई दीन हुआ.. मैं गवाही देता हूं मैं अल्लाह ताला के सिवा कोई माबूद नहीं और यह कि मुहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अल्लाह के रसूल है _,"
उनकी बात सुनकर सफवान रजियल्लाहु अन्हु ने कोई जवाब ना दिया,  बाद में फतह मक्का के मौक़े पर उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु ने  इनके लिए अमान तलब की थी और फिर यह भी ईमान ले आए थे ।

★_ इसी तरह उन कैदियों में नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के चाचा हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु भी थे,  सहाबा किराम ने इन्हें बहुत सख्ती से बांध रखा था ,रस्सी की सख्ती इन्हें बहुत तकलीफ दे रही थी और वह कराह रहे थे इनकी इस तकलीफ की वजह से हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम भी तमाम रात बेचैन रहे। जब सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को मालूम हुआ कि हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम इस वजह से बेचैन है तो फौरन हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु की रस्सियां ढीली कर दी, यही नहीं बाक़ी तमाम क़ैदियों की रस्सियां भी ढीली कर दी , फिर इन्होंने अपना फिदिया अदा किया और रिहा हुए, इसी मौक़े पर हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु मुसलमान हो गए थे मगर इन्होंने मक्का वालों से अपना मुसलमान होना पोशीदा रखा ।

★_ कैदियों में एक कै़दी अबु उज़्जा़ जम्ही भी था,  इसने हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम से इल्तजा की :- ऐ अल्लाह के रसूल ! मैं बाल बच्चों वाला आदमी हूं और खुद बहुत जरूरतमंद हूं ..मैं फिदया नहीं अदा कर सकता ..मुझ पर रहम फरमाइए _," 
यह शायर था मुसलमानों के खिलाफ शेर लिख लिख कर आपको तकलीफ पहुंचाया करता था , इसके बावजूद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इसकी दरखास्त मंजूर फरमाई और बगैर फिदिये इसे रिहा कर दिया... अलबत्ता इससे वादा लिया कि आइंदा वह मुसलमानों के खिलाफ अश'आर नहीं लिखेगा , इसने वादा कर लिया लेकिन रिहा होने के बाद जब यह मक्का पहुंचा तो इसने फिर अपना काम शुरू कर दिया, मुसलमानों के खिलाफ अश'आर लिखने लगा , यह मक्का के मुशरिकों से कहा करता था - मैंने मोहम्मद पर जादू कर दिया था इसलिए उन्होंने मुझे बगैर फिदिये के रिहा कर दिया ।

★_ अगले साल यह शख्स गज़वा उहद के मौके पर मुशरिकों के लश्कर में शामिल हुआ और अपने अश'आर से मुशरिकों को जोश दिलाता रहा, इसी लड़ाई में यह क़त्ल हुआ।

 ╨─────────────────────❥
[★_ Sayaada Fatima Raziyllahu Anha Ki Rukhsati_,*

★_ Badar ke Fateh ki khabar Shahe Habsha tak Pahunchi to Wo Bahut Khush hue ,Hazrat Zaafar Raziyllahu Anhu aur Kuchh doosre Musalman us Waqt tak Habsha hi me they , Shahe Habsha ne Unhe Apne Darbaar me bula Kar ye Khush khabri sunayi ,Badar ki ladayi me Shareek hone wale Sahaba Badri kehlaye ,Unhe bahut Fazilat haasil hai ,

★_ Hazrat Abu Huraira Raziyllahu Anhu se rivayat hai k Aan Hazrat ﷺ ne irshad farmaya :- 
"_ Allah Ta'ala ne Ashaabe Badar per Apna Khaas Fazal v Karan farmaya hai aur unse keh diya hai k Jo chaaho Karo , Mai'n Tumhare Gunaah Maaf Kar chuka ...ye ye farmaya k Tumhare liye Jannat waajib ho chuki hai _,"
Matlab ye k unke pichhle Gunaah to Maaf ho hi chuke Hai'n,Aainda bhi agar unse koi Gunaah hue to Wo bhi Maaf Hai'n ,

★_ Gazwa Badar ke baad Aap ﷺ ne Apni Chhoti Beti Hazrat Fatima Raziyllahu Anha ki Shaadi Hazrat Ali Raziyllahu Anhu se Kar di ,Shadi se Pehle Aap ﷺ ne Hazrat Fatima  Raziyllahu Anha se Puchhta k Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ki taraf se  Rishta Aaya hai ,wo isme kya kehti Hai'n, Hazrat Fatima Raziyllahu Anha Khamosh rahi ,Goya Unhone koi aitraaz na Kiya ,Tab Huzoor Nabi Akram ﷺ ne Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ko bulaya aur unse Puchha - Tumhare paas kya Kuchh hai ? ( Yani Shadi ke liye kya intezam hai ?) 
Unhone Jawab diya :- mere paas Sirf Ek ghoda aur ek zira hai _,"
Ye sun Kar Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Ghoda to Tumhare liye Zaroori hai ,Albatta tum zira ko farokht Kar do _,"

★_ Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ne zira 480 dirham me farokht Kar di aur raqam la Kar Aap ﷺ ki khidmat me pesh Kar di, 
Is Silsile me Ek Rivayat ye bhi Hai k Jab Hazrat Usman Raziyllahu anhu ko pata Chala k Shadi ke Silsile me Hazrat Ali Apni zira bech rahe Hai'n to unhone farmaya:- Ye Zira islam ke Shehsawaar Ali ki hai ,Ye hargiz farokht nahi Honi Chahiye_,"
Fir Unhone Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ke Gulaam ko bulaya aur Unhe 400 Durham dete hue Kaha :- Ye dirham us zira ke badle me Ali ko de de'n _,"
Saath hi Unhone zira bhi waapas Kar di ...bahar haal is Tarah Shadi Ka kharch Poora hua ,

★_ Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Hazrat Ali Raziyllahu Anhu aur Hazrat Fatima Raziyllahu Anha ke Nikaah Ka khutba padha ,Fir Aap ﷺ ne Dono ke liye Dua farmayi ,

: *★_ Hazrat Zenab Bint Jahash Raziyllahu Anha Se Nikaah_,*

★_ Gazwa Badar ke baad Chand Chhote chhote gazwaat aur hue ,Kuchh Dino baad Huzoor Akram ﷺ ne Hazrat Zenab bint Khuzema Raziyllahu Anha se aur fir Hazrat Zenab bint Jahash Raziyllahu Anha se Nikaah farmaya , Hazrat Zenab bint Jahash Raziyllahu Anha Ka pehla Nikaah Zaid bin Haarisa Raziyllahu anhu se hua tha , Ye Huzoor Aqdasﷺ ke moonh bole bete they, un Dono me nibh na saki ,Lihaza talaaq ho gayi aur Uske baad Aap ﷺ ne unse Nikaah farmaya,

★_ Ye Nikaah Allah Ta'ala ne Aasman per farmaya tha aur is bare me Aap ﷺ per wahi Naazil hui thi, Jab Wahi Naazil hui to Aap ﷺ ne Hazrat Ayesha Siddiqa Raziyllahu Anha se farmaya :- 
"_ Zenab ko ja Kar Khush khabri suna do ,Allah Ta'ala ne Aasman per unse Mera nikaah Kar diya hai _,"
Is bare me Allah Ta'ala ne Surah Al Ahzaab me Aayat bhi Naazil farmayi...Taki log shak v Shuba na Kare'n k Aap ﷺ ne Apne moonh bole bete ki talaaq shuda Bivi SE Nikaah Kiya hai ,

★_ Dar Asal Arab ke Jahaalat zada ma'ashre me moonh bole bete ko haqeeqi bete ki tarah Mehram samjha jata tha aur uski Talaaq Shuda Bivi SE Shadi na-jaa'iZ samjhi Jati thi ,Saath Saath use Virasat me bhi hissa milta tha ,islsm ne is farsuda rasm ko bilkul Khatm Kar diya, iski ibtida Huzoor ﷺ ne ki , Aap ﷺ ne Apne Sahaba Raziyllahu Anhum ko Dawat Walima bhi khilayi ,Usi Roz Parde ki Aayat Naazil hui ,
 ╨─────────────────────❥
: *★_ सैयदा फातिमा रज़ियल्लाहु अन्हा की रुखसती _,*

★__ बदर के फतह की खबर शाहे हब्शा तक पहुंची तो वह बहुत खुश हुए हजरत ज़ाफर रजियल्लाहू अन्हू और कुछ दूसरे मुसलमान उस वक्त तक हब्शा ही में थे , शाहे हब्शा ने उन्हें अपने दरबार में बुलाकर यह खुशखबरी सुनाइई, बदर की लड़ाई में शरीक होने वाले सहाबा बदरी कहलाए,  उन्हें बहुत फजी़लत हासिल है ।

★_ हजरत अबू हुरैरा रजियल्लाहु अन्हु से रिवायत है कि आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- अल्लाह ताला ने असहाबे बदर पर अपना खास फजल व करम फरमाया है और उनसे कह दिया है कि जो चाहो करो मैं तुम्हारे गुनाह माफ कर चुका ... या यह फरमाया तुम्हारे लिए जन्नत वाजिब हो चुकी है _,"
मतलब यह है कि उनके पिछले गुनाह तो माफ हो ही चुके हैं आइंदा अगर उनसे कोई गुनाह हुए तो वह भी माफ हैं। 

★_ गज़वा बदर के बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपनी छोटी बेटी हजरत फातिमा रज़ियल्लाहु अन्हा की शादी हजरत अली रजियल्लाहु अन्हु से कर दी ।, शादी से पहले आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने हजरत फातिमा से पूछा कि हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु की तरफ से रिश्ता आया है तुम इस बारे में क्या कहती हो ? हजरत फातिमा रज़ियल्लाहु अन्हा खामोश रहीं गोया उन्होंने कोई एतराज़ ना किया, तब हुजूर नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु को बुलाया और उनसे पूछा- तुम्हारे पास क्या कुछ है ? (यानी शादी के लिए क्या इंतजाम है ?)
उन्होंने जवाब दिया- मेरे पास सिर्फ एक घोड़ा और एक जि़रा है_," 
यह सुनकर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया - घोड़ा तो तुम्हारे लिए ज़रूरी है अलबत्ता तुम ज़िरा को फरोख्त कर दो,  

★_हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु ने ज़िरा 480 दिरहम में फरोख्त कर दी और रक़म लाकर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में पेश कर दी ।
इस सिलसिले में एक रिवायत यह भी है कि जब हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु को पता चला कि शादी के सिलसिले में हजरत अली अपनी ज़िरा बेच रहे हैं तो उन्होंने फरमाया :- यह ज़िरा इस्लाम के शह सवार अली की है यह हरगिज़ फरोख्त नहीं होनी चाहिए , फिर उन्होंने हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु के गुलाम को बुलाया और उन्हें 400 दिरहम देते हुए कहा :- यह दिरहम उस ज़िरा के बदले में अली को दे दें_,"
 साथ ही उन्होंने ज़िरा भी वापस कर दी। ..बहरहाल इस तरह शादी का खर्च पूरा हुआ ।

★_ हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु और हजरत फातिमा रज़ियल्लाहु अन्हा के निकाह का खुतबा पढ़ा , फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने दोनों के लिए दुआ फरमाई।
 *★_ हजरत ज़ेनब बिन्त जहश रज़ियल्लाहु अन्हा से निकाह _,*

★_ गजवा बदर के बाद चंद छोटे-छोटे गज़वात और हुए ,कुछ दिनों बाद हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हजरत जे़नब बिन्त खुजे़मा रज़ियल्लाहु अन्हा और फिर हजरत जे़नब बिन्त जहश रज़ियल्लाहु अन्हा से निकाह फरमाया। हजरत जे़नब बिन्त जहश रज़ियल्लाहु अन्हा का पहला निकाह ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु से हुआ था , यह हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के मुंह बोले बेटे थे ,उन दोनों में निभ नहीं सकी लिहाजा तलाक हो गई और उसके बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनसे निकाह फरमाया ।
*★_ हजरत ज़ेनब बिन्त जहश रज़ियल्लाहु अन्हा से निकाह _,*

★_ गजवा बदर के बाद चंद छोटे-छोटे गज़वात और हुए ,कुछ दिनों बाद हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हजरत जे़नब बिन्त खुजे़मा रज़ियल्लाहु अन्हा और फिर हजरत जे़नब बिन्त जहश रज़ियल्लाहु अन्हा से निकाह फरमाया। हजरत जे़नब बिन्त जहश रज़ियल्लाहु अन्हा का पहला निकाह ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु से हुआ था , यह हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के मुंह बोले बेटे थे ,उन दोनों में निभ नहीं सकी लिहाजा तलाक हो गई और उसके बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनसे निकाह फरमाया ।

★_ यह निकाह अल्लाह ताला ने आसमान पर फरमाया था और इस बारे में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम पर वही नाज़िल हुई थी , जब वही नाजि़ल हुई तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने आयशा सिद्दीका रजियल्लाहु अन्हा से फरमाया  :- जे़नब को जाकर खुशखबरी सुना दो अल्लाह ताला ने आसमान पर उनसे मेरा निकाह कर दिया है _,"
इस बारे में अल्लाह ताला ने सुरह अहज़ाब में आयत भी नाजि़ल फरमाई ... ताकि लोग शक व शुबा ना करें कि आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने अपने मुंह बोले बेटे की तलाकशुदा बीवी से निकाह किया है।

★_ दरअसल अरब के जहालत ज़दा माशरे में मुंह बोले बेटे को हकी़की़ बेटे की तरह महरम समझा जाता था और उसकी तलाकशुदा बीवी से शादी ना-जायज़ समझी जाती थी , साथ-साथ उसे विरासत में भी हिस्सा मिलता था । इस्लाम ने इस फरसूदा रस्म को बिल्कुल खत्म कर दिया, इसकी इब्तिदा हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने की , आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने सहाबा रजियल्लाहु अन्हु को दावत ए वलीमा भी खिलाई । उसी रोज पर्दे की आयत नाजि़ल हुई। 

 ╨─────────────────────❥
: *★_ Gazwa Uhad Ki Taiyaari_,*

★_ 3 Hijri me Gazwa Uhad pesh Aaya , Uhad Madina Munavvara SE Do meel ke faasle per hai , Is Pahaad ke bare me Aan Hazrat ﷺ Ka irshad hai :- 
"_ Ye Uhad Humse Muhabbat karta Hai aur hum isse Muhabbat karte Hai'n , Jab tum iske paas se guzro to iske darakhto Ka phal tabarruk ke tor per kha liya Karo , Chahe thoda sa hi kyu na ho _,"

★_ Gazwa Uhad kyu hua ? Iska Jawab ye Hai k Gazwa Badar me Mushriko ko Badtareen shikasht hui thi, Sab jama ho Kar Apne Sardaar Hazrat Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu ke paas Aaye aur unse Kaha :- 
"_ Badar ki ladayi me Hamare be shumaar Aadmi qatl hue Hai'n, Hum unke Khoon Ka badla lenge .. Aap Tijarat SE Jo Maal kama Kar late Hai'n,Us Maal ke nafe SE Jung ki Taiyaari ki Jaye _,"
Hazrat Abu Sufiyaan Raziyllahu Anhu ne unki baat Manzoor Kar li aur Jung ki Taiyariya'n zor shor SE shuru ho gayi, Kaha jata hai k Samaane Tijarat Jo nafa hua tha,Wo 50 Hazaar Dinaar tha ,

★_ Aakhir Qureshi Lashkar Makka se nikla aur Madina Munavvara ki taraf rawana hua, Quresh ke Lashkar me Aurte'n bhi thi , Aurte'n Badar me maare Jane walo Ka noha Karti Jati thi , is Tarah ye Apne Mardo'n me Josh paida Kar rahi thi, unhe shikasht khane ya Maidane Jung se bhaag Jane per sharm dila rahi thi,

★_ Quresh ki jungi Taiyaari ki ittela Huzoor ﷺ ke Chacha Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu ne bheji , Unhone ye ittela Ek khat ke zariye bheji ,Khat le Jane wale ne Teen din Raat musalsal Safar Kiya aur ye khat Aap ﷺ tak pahunchaya ,Aap ﷺ us Waqt Quba me they , Huzoor Aqdasﷺ Quba SE Madina Munavvara pahunche aur Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum SE Qureshi Lashkar SE muqable ke Silsile me mashwara Kiya , Huzoor ﷺ ki raay ye thi k Quresh per Shehar SE bahar hamla Karne Ke bajaye Shehar me reh Kar Apna difa Kiya Jaye , Chunache Aap ﷺ ne farmaya :- 
"_ Agar Tumhari raay ho to tum Madina Munavvara me reh Kar hi muqabla Karo , Un logo ko wahi'n rehne do Jaha'n Wo Hai'n , Agar wo waha'n pade rehte Hai'n to Wo Jagah unke liye Badtareen Saabit hogi aur agar un logo ne Shehar me aa Kar hum per hamla Kiya to hum Shehar me unse Jung karenge aur Shehar ke pecho kham ko hum unse zyada jaante Hai'n ,
★_ Aap ﷺ ne Jo raay di thi, Tamaam bade Sahaba kiraam ki bhi Wohi raay thi , Munafiqo ke Sardaar Abdullah ibne Uba'i ne bhi Yahi mashwara diya ,Ye Shakhs Zaahir me Musalman tha aur Apne logo Ka Sardaar tha,

★_ Doosri Taraf Kuchh pur Josh Nojawan Sahaba aur Pukhta Umar ke Sahaba ye chahte they k Shehar SE Nikal Kar Dushman Ka muqabla Kiya Jaye ,Ye Mashwara dene walo me Zyada wo log they Jo Gazwa Badar me Shareek nahi ho sake they aur Unhe is Baat Ka afsos tha , Wo Apne Dilo ke armaan nikaalna chahte they, Chunache in logo ne Kaha - 
"_ Hume Saath le Kar Dushmano ke muqable ke liye bahar chale'n Taki wo Hume Kamzor aur Buzdili na samjhe ,Varna unke hausle bahut bad Jayenge aur hum to ye Soch bhi nahi sakte k wo Hume dhakelte hue Hamare gharo me ghus aaye aur Ey Allah ke Rasool ! Jo Shakhs bhi Hamare ilaaqe me Aaya ,humse shikasht kha Kar gaya hai,ab to Aap Hamare darmiyaan mojood Hai'n,ab Dushman kese hum per gaalib aa Sakta Hai ?"
Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ne bhi inki ta'iyd ki , Aakhir Aap ﷺ ne unki Baat maan li ,Fir Aap ﷺ ne Juma ki Namaz padhayi aur logo ke Saamne waaz farmaya, Unhe Hukm diya :- 
"_ Musalmano ! Poori Tan dahi aur Himmat ke Saath Jung Karna ,Agar tum logo ne Sabr SE Kaam liya to Allah Ta'ala tumhe Fatah aur Kaamraani ata farmayenge , ab Dushman ke Saamne Ja Kar ladne ki Taiyaari Karo _,"

★_ Log ye Hukm sun Kar Khush ho gaye , Iske baad Aap ﷺ ne Sabke Saath Asr ki Namaz padhi ,Us Waqt tak ird gird SE bhi log aa gaye they, Fir Aap ﷺ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu aur Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ke Saath Ghar me Tashreef le gaye, Un Dono ne Aap ﷺ ke Sar per Amaama baandha aur Jungi Libaas pehnaya ,Bahar log Aap ﷺ Ka intezar Kar rahe they aur safe baandhe khade they ,

★_ Us Waqt Hazrat Sa'ad bin Ma'az aur Hazrat Used bin Huzer Raziyllahu Anhu ne Musalmano SE Kaha :- 
"_ Rasulullah ﷺ ki marzi Shehar me reh Kar ladne ki thi ,Tum logo ne Unhe bahar nikal Kar ladne per majboor Kiya ... Behtar Hoga ,Tum ab bhi is maamle ko un per Chhod do , Huzoor ﷺ Jo bhi Hukm de'nge , unki Jo bhi raay hogi , Bhala'i usi me hogi , isliye Huzoor ﷺ ki farmabardari Karo _,"
☝🏻: ★_ Bahar ye Baat ho rahi thi, itne me Huzoor ﷺ bahar Tashreef le Aaye, Aap ﷺ ne Jungi Libaas pehan rakha tha, dohri zira pehan rakhi thi, in zirho Ka Naam Zaatul Fazool aur Faza tha ,Ye Aap ﷺ ko Bani Qinqa'a SE maale ganimat SE Mili thi ,
Inme SE zaatul Fazool Wo zira hai k Jab Huzoor ﷺ Ka inteqal hua to ye Ek Yahoodi ke paas Rehan rakhi hui thi, Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Yahoodi ko raqam Ada Kar Ke use waapas liya tha, Zirhe Aap ﷺ ne Libaas ke Ouper pehan rakhi thi ,

★_ Aap ﷺ ne us moqe per Teen Parcham banwaye, Ek Parcham Qabila Aus Ka tha , Ye Hazrat Usaid bin Huzer Raziyllahu Anhu ke Haath me tha , Doosra Parcham Muhajireen Ka tha ,Ye Hazrat Ali Raziyllahu Anhu ya Hazrat Mus'ab bin Umair Raziyllahu Anhu ke Haath me tha , Teesra Parcham Qabila Khazraj Ka tha ,Ye Hibaab bin Manzar Raziyllahu Anhu ke Haath me tha,
Is Tarah Aan Hazrat ﷺ Ek Hazaar Ka Lashkar le Kar rawana hue, Lashkar me Aap ﷺ ke aage Sa'ad bin Ma'az aur Sa'ad bin Ubaada Raziyllahu Anhum chal rahe they, Ye Dono Qabila Aus aur Khazraj ke Sardaar they ,

★_ Aap ﷺ ne Madina Munavvara me Ek Nabina Sahabi Hazrat Abdullah bin Umme Maktoom Raziyllahu Anhu ko Apna Qaa'im Maqaam muqarrar farmaya , Madina Munavvara SE kooch Kar Ke Aap ﷺ Saniya ke Muqaam per pahunche, fir Yaha'n se rawana ho Kar Shekhen ke Muqaam per pahunche, Shekhen do pahaado Ka Naam tha, Yaha'n Aap ﷺ ne Lashkar Ka mua'ina farmaya aur Kam Umar Nojawano ko waapas bhej diya, Ye ese Nojawan they Jo abhi 15 Saal ke nahi hue they , inme Ra'afe bin Khadij aur Samra bin Jundub Raziyllahu Anhum bhi they, Lekin fir Aap ﷺ ne Hazrat Ra'afe Raziyllahu Anhu ko ijazat de di,

★_ Ye dekh Kar Hazrat Samra bin Jundub Raziyllahu Anhu ne Kaha :- Aapne Ra'afe ko ijazat de di Jabki mujhe waapas Jane Ka Hukm farmaya, Haalanki Mai'n Ra'afe SE zyada Taaqatwar Hu'n _,"
Is per Aap ﷺ ne farmaya :- 
"_ Achchha to fir tum Dono me kushti ho Jaye _,"
Dono me kushti Ka muqabla hua , Samra bin Jundub Raziyllahu Anhu ne Ra'afe bin Khadij Raziyllahu Anhu ko pachhaad diya ,is Tarah Unhe bhi Jung me hissa lene ki ijazat ho gayi ,
 ★_ Aap ﷺ Fauj ke mu'aine SE Faarig hue to Suraj guroob ho gaya, Hazrat Zuber Raziyllahu Anhu ne Azaan di ,Aap ﷺ ne Namaz padhayi ,Fir isha ki Namaz Ada ki gayi ,Namaz ke baad Aap ﷺ Araam farmane ke liye layt gaye ,Raat ke Waqt pehra dene ke liye Aap ﷺ ne Pachaas Mujahido ko muqarrar Kiya ,Unka Salaar Hazrat Muhammad bin Muslima Raziyllahu Anhu ko muqarrar farmaya, Ye Tamaam Raat islami Lashkar ke gird pehra dete rahe, Raat ke Aakhri hisse me Aap ﷺ ne Shekhen SE kooch farmaya aur subeh ki Namaz ke Waqt Uhad Pahaad ke qareeb pahunch gaye ,

★_ islami Lashkar ne Jaha'n Padaav daala us Muqaam Ka Naam Shaut tha , Aap ﷺ ne Yaha'n Fajar ki Namaz Ada farmayi ,Us Waqt Lashkar me Abdullah bin ubai bin Salol bhi tha ,Ye munafiq tha ,Uske Saath teen so Jawan they ,Ye sab ke sab Munafiq they , is Muqaam per pahunch Kar Abdullah bin ubai ne Kaha :- 
"_ Aapne Meri Baat nahi maani aur un nov Umar ladko Ka mashwara maana , Halanki unka Mashwara koi mashwara hi nahi hai ,Ab khud hi Hamari raay ke bare me Andaza ho Jayega ,hum bila vajah kyu jaane de'n, isliye Saathiyo'n ! Waapas chalo _,"
Is Tarah ye log waapas lot gaye ,Ab Huzoor ﷺ ke Saath Sirf Saat So Sahaba reh gaye,

★_ Us Roz Musalmano ke paas Sirf Do ghode they, Unme SE ek Aan Hazrat ﷺ Ka tha aur Doosra Abu Bardah Raziyllahu Anhu Ka tha , Shaut ke Muqaam SE chal Kar Aap ﷺ ne Uhad ki ghaanti me Padaav daala, Aap ﷺ ne Padaav daalte Waqt is Baat Ka khayal rakha k Pahaad Aap ﷺ ki pusht ki taraf rahe,
Us Jagah Raat Basar ki gayi ,Fir Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ne subeh ki Azaan di, Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne safe Qaa'im ki aur Aap ﷺ ne Unhe Namaz padhayi ,Namaz ke baad Huzoor ﷺ ne Musalmano ko khutba diya,Usme Jihaad ke bare me irshad farmaya, Jihaad ke alawa Huzoor ﷺ ne Halaal Rozi kamaane ke bare me bhi nasihat farmayi aur farmaya :- 
"_Jibraiyl ( Alaihissalam ) ne mere Dil me ye Wahi daali hai k koi Shakhs us Waqt tak nahi marega Jab tak k wo Apne hisse Ke rizq Ka Ek Ek daana haasil nahi Kar leta ( Chahe Kuchh dayr me haasil ho Magar usme koi Kami waqe nahi ho Sakti ) , isliye Apne Parwardigaar SE darte raho aur Rizq ki talab me Nek Raaste Akhtyar Karo ( esa hargiz nahi Hona Chahiye k Rizq me dayr lagne ki vajah se tum Allah ki nafarmani haasil Karne Lago ) 

★_ Aap ﷺ ne ye bhi irshad farmaya :- Ek Momin Ka doosre Momin SE esa hi Rishta hai Jese Sar aur Badan Ka Rishta hota hai , Agar Sar me Takleef ho to Saara Badan dard SE kaanp uthta hai ..,

☝🏻: *★_ गज़वा उहद की तैयारी _,*

★__ 3 हिजरी में गज़वा उहद पेश आया , उहद पहाड़ मदीना मुनव्वरा से 2 मील के फासले पर हैं, इस पहाड़ के बारे में आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का इरशाद है :- 
"_ यह उहद हमसे मोहब्बत करता है और हम इससे मोहब्बत करते हैं , जब तुम इसके पास से गुज़रो तो इसके दरख़्तों का फल तबर्रुक के तौर पर खा लिया करो चाहे थोड़ा सा ही क्यों ना हो _,"

★_ गज़वा उहद  क्यों हुआ ? इसका जवाब यह है कि गज़वा बदर में मुशरिकों को बदतरीन शिकस्त हुई थी , सब जमा होकर अपने सरदार हजरत अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु के पास आए और उनसे कहा :- 
"_ बदर की लड़ाई में हमारे बेशुमार आदमी क़त्ल हुए हैं हम उनके खून का बदला लेंगे आप तिजारत से जो माल कमा कर लाते हैं उस माल के नफे से जंग की तैयारी की जाए _,"
हजरत अबू सुफियान रजियल्लाहु अन्हु ने उनकी बात मंजूर कर ली, और जंग की तैयारियां जोर-शोर से शुरू हो गई । कहा जाता है कि सामाने तिजारत से जो नफा हुआ था वह पचास हजार दीनार था।

★_ आखिर कुरेशी लश्कर मक्का मुअज़्ज़मा से निकला और मदीना मुनव्वरा की तरफ रवाना हुआ, स
क़ुरेश के लश्कर में औरतें भी थी, औरते बदर में मारे जाने वालों का नोहा करती जाती थी इस तरह यह अपने मर्दों में जोश पैदा कर रही थी उन्हें शिकस्त खाने या मैदान-ए-जंग से भाग जाने पर शर्म दिला रही थी।

★_ कुरेश की जंगी की तैयारियों की इत्तेला हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के चाचा हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ने भेजी , उन्होंने यह इत्तेला एक खत के जरिए भेजी , खत ले जाने वाले ने 3 दिन रात मुसलसल सफर किया और यह खत आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम तक पहुंचाया । आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम उस वक्त क़ुबा में थे, हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम क़ुबा से मदीना मुनव्वरा पहुंचे और सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम से कुरेशी लश्कर से मुकाबले के सिलसिले में मशवरा किया , हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की राय यह थी कि क़ुरेश पर शहर से बाहर हमला करने के बजाय शहर में रहकर अपना दिफा किया जाए, चुनांचे आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- 
"_ अगर तुम्हारी राय हो तो तुम मदीना मुनव्वरा में रहकर ही मुक़ाबला करो , उन लोगों को वहीं रहने दो जहां वह हैं , अगर वह वहां पड़े रहते हैं तो वह जगह उनके लिए बदतरीन साबित होगी और अगर उन लोगों ने शहर में आकर हम पर हमला किया तो हम शहर में उनसे जंग करेंगे और शहर के पेच व खम को हम उनसे ज्यादा जानते हैं_,"
☝🏻: ★_ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने जो राय दी थी, तमाम बड़े सहाब किराम की भी वही राय थी, मुनाफ़िक़ों के सरदार अब्दुल्ला इब्ने उब'ई ने भी यही मशवरा दिया , यह शख्स जाहिर में मुसलमान था और अपने लोगों का सरदार था।

★_ दूसरी तरफ कुछ पुर जोश नौजवान सहाबा और पुख्ता उम्र के सहाबा यह चाहते थे कि शहर से निकलकर दुश्मन का मुकाबला किया जाए यह मशवरा देने वालों में ज्यादा वह लोग थे जो गज़वा बदर में शरीक नहीं हो सके थे और उन्हें इस बात का अफसोस था वह अपने दिलों के अरमान निकालना चाहते थे, चुनांचे इन लोगों ने कहा:- 
"_ हमें साथ लेकर दुश्मनों के मुकाबले के लिए बाहर चलें ताकि वह हमें कमजोर और बुजदिल ना समझे, वरना उनके हौसले बहुत बढ़ जाएंगे और हम तो यह सोच भी नहीं सकते कि वह हमें धकेलते हुए हमारे घरों में घुस आएं और अल्लाह के रसूल जो शख्स भी हमारे इलाके में आया हमसे शिकस्त खाकर गया है ,अब तो आप हमारे दरमियान मौजूद हैं अब दुश्मन कैसे हम पर गालिब आ सकता है ?"
हजरत हमजा़ रजियल्लाहु अन्हु ने भी इनकी ताइद की, आखिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनकी बात मान ली, फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने जुमा की नमाज पढ़ाई और लोगों के सामने वाज़ फरमाया उन्हें हुक्म दिया :- 
"_ मुसलमानों पूरी तन देही और हिम्मत के साथ जंग करना, अगर तुम लोगों ने सब्र से काम लिया तो अल्लाह ताला तुम्हें फतेह और कामरानी अता फरमाएंगे ,अब दुश्मन के सामने जाकर लड़ने की तैयारी करो _,"

★_ लोग यह हुक्म सुनकर खुश हो गए, इसके बाद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने सबके साथ असर की नमाज पढ़ी उस वक्त तक इर्द-गिर्द से भी लोग आ गए थे फिर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु और हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु के साथ घर में तशरीफ ले गए , उन दोनों ने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के सर पर अमामा बांधा और जंगी लिबास पहनाया । बाहर लोग आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का इंतजार कर रहे थे और सफे बांधे खड़े थे।

★_ उस वक्त हजरत साद बिन माज़ और हजरत उसैद बिन हुज़ैर रज़ियल्लाहु अन्हुम ने मुसलमानों से कहा :- 
"_ रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही  वसल्लम की मर्जी शहर में रहकर लड़ने की थी तुम लोगों ने उन्हें बाहर निकल कर लड़ने पर मजबूर किया,.. बेहतर होगा, तुम अब भी इस मामले को उन पर छोड़ दो , हुजूर सल्लल्लाहु सल्लम जो भी हुक्म देंगे उनकी जो भी राय होगी भलाई उसी में होगी इसलिए हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की फरमा बरदारी करो।
: ★_ बाहर यह  बात हो रही थी, इतने में हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम बाहर तशरीफ ले आए, आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने जंगी लिबास पहन रखा था दोहरी ज़िरा पहन रखी थी, उन ज़िराहों के नाम जा़तुल फज़ूल और फज़ा था ,यह आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को बनी क़िनक़ा से माले गनीमत में मिली थी । इनमें से जा़तुल फज़ूल वह ज़िरा है कि जब हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का इंतकाल हुआ तो एक यहूदी के पास रहन रखी हुई थी , हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने यहूदी को रक़म अदा करके उसे वापस लिया था । जि़रहें आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने लिबास के ऊपर पहन रखी थी।

★_ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इस मौक़े पर तीन परचम बनवाएं । एक परचम क़बीला औस का था ,यह हजरत उसैद बिन हुज़ैर रज़ियल्लाहु अन्हु के हाथ में था । दूसरा परचम मुहाजिरीन का था, यह हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु या हजरत मुस'ब बिन उमैर रज़ियल्लाहु अन्हु के हाथ में था । तीसरा परचम कबीला खज़रज का था , यह हिबाब बिन मंज़र रजियल्लाहु अन्हु के हाथ में था । इस तरह आन हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम 1000 का लश्कर लेकर रवाना हुए , लश्कर में आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के आगे सा'द बिन माज़ और सा'द बिन उबादा रजियल्लाहु अन्हुम चल रहे थे , यह दोनों क़बीला औस और खज़रज के सरदार थे ।

★_ आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने मदीना मुनव्वरा में एक नाबीना सहाबी हजरत अब्दुल्लाह बिन मकतूम रज़ियल्लाहु अन्हु को अपना कायम मुकाम मुकर्रर फरमाया। मदीना मुनव्वरा से कूच करके आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम सानिया के मुकाम पर पहुंचे, फिर यहां से रवाना होकर शेखैन के मुकाम पर पहुंचे , शेखैन दो पहाड़ों का नाम था ।यहां आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने लश्कर का मुआयना फरमाया और कम उम्र नौजवानों को वापस भेज दिया ।यह ऐसे नौजवान थे जो अभी 15 साल के नहीं हुए थे , इनमें राफे बिन खदीज और समरा बिन ज़ुंदुब रज़ियल्लाहु अन्हुम भी थे , लेकिन फिर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने हजरत राफे रजियल्लाहु अन्हु को इजाजत दे दी।

★_ यह देखकर हजरत समरा बिन ज़ुंदुब रज