1
 *❀🎍﷽ 🎍❀*  

   *🕋 UMRAH KA TAREEQA 🕋*
 ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
          *☞ Umrah Ka Hukm _,*
❉ _ Saahibe istta’at ke liye zindgi me ek martaba Umrah Ada karna Sunnat he,

★ Ek se zyada Umrah karna mustahab he,

★ Baaz Ulma ke nazdeek Saahibe istta’at ke liye zindgi me ek baar Umrah karna wajib he,
  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*

         *☞ उमराह का हुक्म _,*

❉__ साहिबे स्तेतात के लिए जिंदगी में एक मर्तबा उमराह अदा करना सुन्नत है ।

❉__एक से ज़्यादा उमराह करना मुस्तहब है ।

❉__बाज़ उल्मा के नज़दीक साहिबे स्तेतात के लिए ज़िंदगी में एक बार उमराह करना वाजिब है।
       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
           *☞ Umrah ki Fazilat_,*
❉ _ Huzur Akram Sallallahu alaihivasallam ne irshad farmaya,
” Ek Umrah doosre Umrah tak un gunaho ka kaffara he Jo dono Umro ke darmiyan sarzad ho’n aur Hajj Mabroor ka badla to jannat he, ”

” Ramzan me Umrah ka sawab Hajj ke barabar he, ”

*📓 Bukhari, Muslim,*

★ Huzur Akram Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya,
” Pe dar pe Hajj Umrah kiya Karo, beshak ye dono garibi aur gunaho ko is tarah door kar dete he’n jis tarah bhatti lohe aur Sona v Chandi ke mel kuchel ko door kar deti he, ”
*📓 Tirmizi, Ibne maaja,*

★ Huzur Akram Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya,
” _Hajj Umrah karne wale Allah ta’aala ke mehman he’n, agar Allah ta’aala se dua kare to wo qubool farmaye, agar wo usse magfirat talab kare to wo unki magfirat farmaye, ”

*📓 Ibne maaja,*

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*

        *☞ उमराह की फज़ीलत_,*

❉__ हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- एक उमराह दूसरे उमरे तक उन गुनाहों का कफ्फारा हैं जो दोनों उमरों के दरमियान सरज़द हों और हज मबरूरर का बदला तो जन्नत है।

"_ रमजान में उमराह का सवाब हज के बराबर है।
*( बुहारी मुस्लिम )*

★__ हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-
"_पे दर पे हज उमराह किया करो बेशक यह दोनों गरीबी और गुनाहों को इस तरह दूर कर देते हैं जिस तरह भट्टी लोहे और सोना व चांदी के मेल कुचैल को दूर कर देती है ।
*( तिर्मीजी, इब्ने माजा )*

★_ हुज़ूर  अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-
"_ हज उमराह करने वाले अल्लाह ताला के मेहमान है ,अगर अल्लाह ताला से दुआ करें तो वह कुबूल फरमाएं, अगर वह उससे मग्फिरत तलब करें तो वह उसकी मग्फिरत फरमाए ।
*(( इब्ने माजा। )*

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *☞Safar ka Agaaz _,*

❉ _ ★ Ghar se Rawangi ke waqt 2 raka’at nifl Ada karke Allah ta’aala se Safar ki asaani ke liye aur Umrah ke qubool hone ki Duae kare,

★ Apni zaruriyaat ke samaan ke saath apna pass port, ticket aur kharch ke liye raqam bhi saath le le’n,

★ Mard Hazraat hasbe zarurat Ahraam ki chaadre’n bhi le le’n,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*

              *☞ सफर का आगाज़ _,*

❉ _ घर से रवानगी के वक्त 2 रकात निफ्ल अदा करके अल्लाह ताला से सफर कि आसानी के लिए और उमराह के क़ुबूल होने की दुआएं करें।

★_अपनी जरूरियात के सामान के साथ अपना पासपोर्ट टिकट और खर्च के लिए रकम भी साथ लेले ।

★_मर्द हजरत हस्बे ज़रूरत अहराम की चादरें भी ले ले।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
*☞ Safar me Namaz ko Qasar Karna_,*

❉ _ Agar aapka safar 48 meal yani taqriban 77 km.se zyada ho to Aap apne Shehar ki hudood se bahar nikalte hi shara’i musafir ho ja’enge, lihaza zuhar, Asr, aur isha ki 4 raka’at Farz ke bajae 2 raka’at Ada kare, Magrib aur Fajar puri Ada kare,

★ Agar kisi muqeem imaam ke pichhe Namaz padhe to imaam ke saath puri Namaz Ada kare,

★ Sunnato aur Nawafil ka hukm ye he k agar itminan ka waqt he to puri padhe aur agar zaldi he ya thakan he ya koi aur dushwari he to na padhe, koi gunah nahi, albatta Vitr aur Fajar ki 2 raka’at sunnato ko na chhode,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*

*☞  सफर में नमाज़ को कसर् करना_,*

★_ अगर आपका सफर 48 मील यानी तकरीबन 77 किलोमीटर से ज्यादा हो तो आप अपने शहर की हुदूद से बाहर निकलते ही शरई मुसाफिर हो जाएंगे , लिहाज़ा ज़ोहर असर और ईशा की 4 रका़त फर्ज के बजाय 2 रकात अदा करें। मगरिब और फजर पूरी अदा करें।

★_अगर किसी मुकीम इमाम के पीछे नमाज़ पढ़े तो इमाम के साथ पूरी नमाज अदा करें । सुन्नतों और नवाफिल का हुक्म यह हैं कि अगर इत्मीनान का वक्त है तो पूरी पढ़ें और अगर जल्दी है या थकान है या कोई और दुश्मनी है तो ना पड़े हैं ,कोई गुनाह नहीं। अलबत्ता वित्र और फजर की २ रक़ात सुन्नतों को ना छोड़े।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *☞ Umrah ke Arkaan_,*

❉ _⇨ Umrah me 4 kaam karne hote he’n,

★1- Miqaat se Umrah ka Ahraam baandhna,

★2- Masjide Haraam pahunch kar Betullah ka Tawaaf karna,

★3- Safa marva ki Sa’i karna,

★4- Sar ke Baal mundwana ya Katwana,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*

*☞ उमराह के अरकान_,*

❉__ उमराह में चार काम करने होते हैं :-

१_मिक़ात से उमराह का अहराम बांधना ।

२_मस्जिदए हराम पहुंचकर बैतुल्लाह का तवाफ करना ।

३_सफा मरवा की सई करना ।

४_सर के बाल मुंड़वाना या कटवाना।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
                  *☞ Miqaat_,,*

❉ _ Miqaat wo maqaam he jaha se Makka mukarrama jane wale ke liye Ahraam baandhna wajib he,

⇨ Miqaat asal me waqt muayyan aur makaan muayyan ka naam he,

*★1- Miqaate zamani –,*
Pure saal raat din me jab chahe aur jis waqt chahe Umrah ka ahraam baandh sakte hai’n, lekin Behiqi me Hazrat Ayesha Raziyallahu Anha ki hadees ke peshe nazar imaam Abu Hanifa Rh ne 5 din ( 9 zilhijja se 13 zilhijja tak) Umrah ki adaaygi ko makrooh tehrimi qaraar diya he, chahe hajj Ada kar raha ho ya nahi,

*★2- Miqaate Makaani:-*
Wo maqamaat jaha se Hajj ya Umrah karne wale Hazraat Ahraam baandhte he’n miqaat keh late he’n, Miqaat ke aitbaar se puri duniya ki sar zameen ko shari’at me 3 hisso me taqseem kiya he,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
               *☞ मिक़ात_,*

❉_ मीका़त वो मुका़म है जहां से मक्का मुकर्रमा जाने वाले के लिए अहराम बांधना वाजिब है ।

मिक़ात असल में वक्त मुअय्यन और मकान मुअय्यन का नाम है,

★_ १_ मिक़ाते ज़मानी_, पूरे साल रात दिन में जब चाहे और जिस वक्त चाहे उमराह का अहराम बांध सकते हैं लेकिन बहकी़ में हजरत आयशा रजियल्लाहु अन्हा की हदीस के पेशे नज़र इमाम बू हनीफा रहमतुल्लाह ने 5 दिन( नो जि़ल हिज्जा से तेरह ज़िल हिज्जा तक) उमराह की अदायगी को मकरूह तेहरीमी क़रार दिया है। चाहे हज अदा कर रहा हो या नहीं

★_२_ मिक़ाते मकानी _, वह मकामात जहां से हज या उमराह करने वाले हजरात अहराम बांधते हैं मिक़ात कहलाते हैं। मिक़ात के एतबार से पूरी दुनिया की सर ज़मीन को शरीयत में तीन हिस्सों में तक्सीम किया है।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
                  *☞ Aafaaq_,*

❉ _ Haram aur Hil ke bahar puri duniya ki sar zameen Aafaaq kehlati he, Aafaaqi hazraat jab bhi Umrah ki niyat se Makka mukarrama Jana chahe to unke liye zaruri he k in 5 Miqaato me se kisi ek Miqaat per ya usse pehle Ahraam baandhle,

★ Jo miqaat ki hudood se bahar rehta he use Aafaaqi kehte he, Jese Indian, Pakistani, Misri, Shaami, Iraaqi, Iraani vagera,

*⇨ Yalmalam –*

★ Makka mukarrama se junub ki taraf 2 manzil per ek pahaad he, isko aaj kal Sa’adiya bhi kehte he’n, Ye Yaman aur India, Pakistan se aane walo ki Miqaat he,

*⇨ Zawalhalifa-*

★ Ahle Madina aur uske raaste se aane walo ke liye’ Zawalhalifa” Miqaat he jisko aajkal Bar-Ali kaha jata he, Madina munavvara ke qareeb hi ye miqaat he,Ye Madina munavvara ki taraf se aane walo ki miqaat he,

*⇨ Jahfah-*

★Ahle shaam aur uske raaste se aane walo ke liye ( maslan Misr, Libya, Aljazirair, Marakash vagera) Jahfah miqaat he, ye Makka mukarrama se taqriban 186 km he,

*⇨ Zaate Arq –*

★ Ye Iraaq se Makka Mukarrama aane wali ki Miqaat he, Makka mukarrama se taqriban 100 km mashriq me waq’a he

*⇨ Qiranul Manazil-*

★ Ahle Najd aur uske raaste se aane walo ke liye ( maslan Behren, Qatar, Riyaad vagera) miqaat he, isko aaj kal Alseelul kabeer kaha jata he, Ye Makka mukarrama se taqriban 78 km he,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
                *☞ आफाक़_,*

❉_ हरम और हिल के बाहर पूरी दुनिया की सरज़मीं आफाक़ कहलाती है ,आफाकी़ हज़रात जब भी उमराह की नियत से मक्का मुकर्रमा जाना चाहे तो उनके लिए जरूरी है कि इन पांच मिकातों में से किसी भी एक मिक़ात पर या उससे पहले अहराम बांध लें ।

★_ जो मिक़ात की हुदूद से बाहर रहता है उसे आफाकी़ कहते हैं जैसे इंडियन पाकिस्तानी मिश्री शामी इराकी ईरानी वगैरा ।

★_यलमलम  :- मक्का मुकर्रमा से जुनूब की तरफ दो मंजिल पर एक पहाड़ है इसको आजकल सादिया भी कहते हैं यह यमन और इंडिया पाकिस्तान से आने वालों की मिक़ात है।

★_ज़ुल हुलैफा _ अहले मदीना और उसके रास्ते में आने वालों के लिए ज़ुल हुलैफा मिका़त है,  जिसको आजकल बार-अली कहा जाता है , मदीना मुनव्वरा के करीब ही यह मिक़ात है ,यह मदीना मुनव्वरा की तरफ से आने वालों की मिक़ात है।

★_जहफाह_ अहले शाम और उसके रास्ते से आने वालों के लिए (मसलन मिस्र लीबिया अल जजीरा मराकस वगैरा ) जहफाह मिक़ात है । यह मक्का मुकर्रमा से तकरीबन 186 किलोमीटर है।

★_ज़ाते‌ अर्क़ _ यह इराक़ से मक्का मुकर्रमा आने वालों की मिक़ात है। मक्का मुकर्रमा तकरीबन 100 किलोमीटर मशरिक में वाक़े है।

★_क़िरानुल मनाज़िल _ अहले नज्द और उसके रास्ते से आने वालों के लिए (मसलन बहरेन क़तर रियाद वगैरा) मिक़ात है। इसको आजकल अलसीलुल कबीर कहा जाता है ।यह मक्का मुकर्रमा से तकरीबन 78 किलोमीटर है।


       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
                *☞ Haram_,*

❉ _Makka mukarrama aur uske charo taraf kuchh door tak ki zameen Haram kehlati he, is maqaam per har shakhs ke liye chahe wo muqeem ho ya Hajj v Umrah ke liye aaya ho chand cheeze karna haraam he isliye isko haram kaha jata he,

⇨1- Yaha ke khud uge darakht ya podhe ko kaatna,

⇨2- Yaha ke kisi jaanwar ka shikar karna ya usko chhedna,

⇨3- Giri padi cheez ka uthana,

★ Hudoode Haram ke andar musqil ya aarzi tor per qayaam pazeer yani ahle haram ko Umrah ka Ahraam baandhne ke liye Haram se bahar Jana hoga,

.               *☞ Hill_,*

❉ _Miqaat aur Haram ke darmiyan ki sar zameen Hil kehlati he, jisme wo cheeze halaal he’n Jo Haram me haraam thi,

★ Ahle Hil jinki riha’ish Miqaat aur hudoode Haram ke darmiyan he maslan Jaddah ke rehne wale Umrah ka Ahraam apne ghar se baandhenge,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*

                       *☞ हरम _,*

❉_ मक्का मुकाबला और उसके चारों तरफ कुछ दूर तक की जमीन हरम कहलाती है । इस मका़म पर हर शख्स के लिए चाहे मुक़ीम हो या हज व उमराह के लिए आया हो चंद चीजें करना हराम है इसलिए इसको हरम कहा जाता है ।

१_यहां के खुद उगे दरख्त या पौधे को काटना ।
२_यहां के किसी जानवर का शिकार करना या उसको छेड़ना।
३_ गिरी पड़ी चीज़ का उठाना।

★_हुदूदे हरम के अंदर मुस्तक़िल या आरजी़ तौर पर क़याम पज़ीर यानी अहले हरम को उमरा का अहराम बांधने के लिए हरम से बाहर जाना होगा।

                 *☞ हिल _,*

❉__ मिक़ात और हरम के दरमियान की सरज़मीन हिल कहलाती है ,जिसमें वह चीज़ें हलाल हैं जो हरम में हराम थी।

★_ अहले हिल जिनकी रिहाईश मिक़ात और हुदूदे हरम के दरमियान है मसलन जद्दा के रहने वाले उमराह का अहराम अपने घर से बांधेंगे।
       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
*☞ Ahraam ke masail -,*

❉ _ Gusl se faarig hokar ahraam baandhne se pehle khushbu lagana sunnat he,

★ Aurto'n ke liye ahraam ka koi khaas libaas nahi he aam libaas pehan le, chehre se kapda hata le, fir niyat karke ahista se talbiya padhle,

★ Aurte'n baalo ki hifazat ke liye agar sar per rumaal baandh le to koi harj nahi, vazu ke waqt isko kholkar sar per masah zaruri he,

★ _Agar koi Aurat ese waqt me Makka mukarrama pahunchi k maahvari aa rahi ho to wo paak hone tak intezar kare, paak hone ke baad hi Umrah karne ke liye masjide Haraam me jaye, Umrah ki adaaygi tak usko ahraam me hi rehna hoga,

★_ Agar Aap pehle Madina munavvara ja rahe he’n to Madina munavvara Jane ke liye kisi ahraam ki zarurat nahi he lekin jab Aap Madina munavvara se Makka mukarrama jaye to fir Madina ki miqaat per ahraam baandhe,

★_ Ahraam ki haalat me agar ahatlaam ho jaye to isse ahraam me koi farq nahi padhta, Kapda jism dhokar gusl kar le, agar ahraam ki chadar badalne ki zarurat ho to doosri chadar istemal kar le, lekin miya bivi wale khaas talluqat se bilkul door rahe,

*◆ Ek Aham hidayat _,*_ Miqaat per pahunch kar ya isse pehle Ahraam baandhna zaruri he,
"_ lekin agar aap Hawai jahaaz se jaa rahe he’n aur Aapko Jaddah me utarna he to Hawai jahaaz me sawaar hone se pehle hi ahraam baandhle ya Hawai jahaaz me miqaat se pehle pehle baandhle, aur agar moqa ho to 2 raka’at bhi Ada kar le, fir niyat karke Talbiya padhle ,

★ Ahraam baandhne ke baad niyat karne aur Talbiya padhne me takheer ki ja sakti he, yani aap ahraam Hawai jahaaz me sawaar hone se pehle baandhle aur niyat miqaat aane se pehle karke Talbiya padh le,

★ Yaad rahe k Niyat aur Talbiya ke baad hi ahraam ki pabandi shuru hoti he,

*◆ Tambeeh_*_  Agar miqaat se bahar rehne wala ( jisko aafaaqi kehte he) bager ahraam miqaat se guzar gaya to aage jaakar kisi bhi jagah ahraam baandhle lekin us per ek Dam laazim ho gaya,
"_ Maslan Riyaad ka rehne wala bager ahraam ke Jadda pahunch gaya to Jadda ya Makka mukarrama se ahraam baandhne per ek Dam dena hoga,

*☆◎◆ Mamuaat Ahraam◆◎★*

⇨Ahraam baandh Kar talbiya padh lene ke baad ye cheeze haraam he—-

★ Khushbu lagana,
★Nakhun kaatna
★ Jism se baal door karna
★Chehre ka dhankna,
★ Miya Bivi wale khaas talluqat, jinsi sohbat ke kaam karna,
★Khushki ke jaanwaro ka shikaar karna,

*☆◎◆ Sirf Mardo ke liye mamnu◆◎☆*

★ Sile hue kapde pehanna,
★ Sar ko Topi ya kapde se dhaankna,
★ Esa juta pehanna jisse paanv ki darmayani haddi chhup jaye,

*☆◎◆Makroohate Ahraam◆◎★*

★ Badan se mel door karna,
★ Saabun ka istemal karna
★ Kangha karna

*☆◎◆ Ahraam ki haalat me jaa’iz umoor◆◎★*

★ Gusl karna lekin khushbudar sabun ka istemal na kare,
★ Ahraam ko dhona ya badalna,
★ Anguthi, Ghadi, Chashma, Belt, Chhatri vagera ka istemal karna
★ Ahraam ke ouper mazeed chadar daal kar sona, lekin Mard apne sar aur chehre ko aur Aurte apne chehre ko khula rakhe,
   ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
          *☞ अहराम के मसाइल- _,*

❉_गुस्ल से फारिग होकर अहराम बांधने से पहले खुशबू लगाना सुन्नत है ।

★_औरतों के लिए अहराम का कोई खास लिबास नहीं है आम लिबास पहन लें, चेहरे से कपड़ा हटा ले ,फिर नियत करके आहिस्ता से तलबिया पढ़ ले।

★_औरतें बालों की हिफाजत के लिए अगर सर पर बाल बांध लें तो कोई हर्ज नहीं , वज़ु के वक्त उसको निकालकर सर पर मसह जरूरी है।

★_अगर कोई औरत ऐसे वक्त में मक्का मुकर्रमा पहुंची कि माहावारी आ रही हो तो वह पाक होने तक इंतजार करें । पाक होने के बाद ही उमराह करने के लिए मस्जिदे हराम में जाए । उमराह की अदायगी तक उसको अहराम में ही रहना होगा।

★_अगर आप पहले मदीना मुनव्वरा जा रहे हैं तो मदीना मुनव्वरा जाने के लिए किसी अहराम की जरूरत नहीं है, लेकिन जब आप मदीना मुनव्वरा से मक्का मुकर्रमा जाएं तो फिर मदीना की मिक़ात पर अहराम बांधे।

★_अहराम की हालत में अगर एहतलाम हो जाए तो इससे अहराम में कोई फर्क नहीं पड़ता, कपड़ा जिस्म धोकर गुस्ल कर लें,  अगर अहराम की चादर बदलने की जरूरत हो तो दूसरी चादर इस्तेमाल करें लेकिन मियां बीवी वाले खास ताल्लुकात से बिल्कुल दूर रहे।

*◆_एक अहम हिदायत_,* _ मिक़ात पहुंचकर या इससे पहले अहराम बांधना जरूरी है ।
"_लेकिन अगर आप हवाई जहाज से जा रहे हैं और आपको जद्दा में उतरना है तो हवाई जहाज में सवार होने से पहले ही  अहराम बांध लें या हवाई जहाज में मिक़ात से पहले पहले बांध ले और अगर मौका हो तो 2 रकात भी अदा कर लें फिर नियत करके तलबिया पढ़ ले।

★_अहराम बांधने के बाद नियत करने और तलबिया पढ़ने में ताखीर की जा सकती है यानी आप एहराम हवाई जहाज में सवार होने से पहले बांध ले और नियत मिका़त आने से पहले करके तलबिया पढ़ ले।

★_ याद रहे कि नियत और तलबिया के बाद ही अहराम की पाबंदी शुरू होती है।

*◆_ तम्बीह _,* _ अगर मिक़ात से बाहर रहने वाला ( जिसको आफाकी़ कहते हैं) बगैर अहराम मिक़ात से गुजर गया तो आगे जाकर किसी भी जगह अहराम बांध ले लेकिन उस पर एक दम लाज़िम हो गया।

"_मसलन रियाद का रहने वाला बगैर अहराम के जद्दा पहुंच गया तो जद्दा या मक्का मुकर्रमा से अहराम बांधने पर एक दम देना होगा।
          *#_ ममनूआते अहराम _#*
❉_ अहराम बांधकर तलबिया पढ़ने के बाद यह चीजें हराम है:-
खुशबू लगाना ,नाखून काटना,  जिस्म से बाल दूर करना , चेहरे का ढांकना, मियां बीवी वाले खास ताल्लुकात जिंसी सोहबत के काम करना ,खुश्की के जानवरों का शिकार करना।

*#_सिर्फ मर्दों के लिए ममनू _#*_  सिले हुए कपड़े पहनना, सर को टोपी या कपड़े से ढंकना,  ऐसा जूता पहनना जिससे पांव की दरमियानी हड्डी छुप जाए।

*#_मकरुहाते अहराम _#* _ बदन से मेल दूर करना , साबुन का इस्तेमाल करना , कंघा करना ।

*#_अहराम की हालत में जायज़ उमूर_#* _  गुस्ल करना लेकिन खुशबूदार साबुन का इस्तेमाल ना करें। अहराम को धोना या बदलना । अंगूठी घड़ी चश्मा बेल्ट छतरी वगैरह का इस्तेमाल करना ।अहराम के ऊपर मजीद चादर डालकर सोना लेकिन मर्द अपने सर और चेहरे को और औरतें अपने चेहरे को खुला रखें।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
*☞ Masjide Haraam ki haajri_,*

★Makka mukarrama pahunch kar samaan vagera apni qayamgah me rakhkar Aaraam ki zarurat ho to thoda Araam karle varna gusl ya vazu karke Umrah karne masjide Haraam ki taraf sukoon, itminaan ke saath talbiya padhte hue jaye,

★ Darbare ilaahi ki azmat v jalaal ka lihaaz rakhte hue Daaya qadam andar rakh kar masjid me dakhil hone ki dua padhte hue dakhil ho jaye,

*◎◆ Qaba Sharif per pehli Nazar◆◎*

★ Jis waqt Khana Qaba per pehli nazar padhe to Allah ta’aala ki badai bayaan karke Jo chahe apni zubaan me Allah ta’aala se maange, kyuki ye dua qubool hone ka khaas waqt he,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
       *☞ मस्जिदे हराम की हाजरी_,*

❉_ मक्का मुकर्रमा पहुंचकर सामान वगैरा अपनी क़यामगाह में रखकर आराम की जरूरत हो तो थोड़ा आराम कर लें वरना गुस्ल या वजू करके उमराह करने मस्जिदे हराम की तरह सुकून इत्मीनान के साथ तलबिया पढ़ते हुए जाएं।

★_दरबार ए इलाही की अज़मत व जलाल का लिहाज़ रखते हुए दांया क़दम अंदर रखकर मस्जिद में दाखिल होने की दुआ पढ़ते हुए दाखिल हो जाएं।

*★_काबा शरीफ पर पहली नजर:-*  _जिस वक्त खाना काबा पर पहली नजर पड़े तो अल्लाह ताला की बढ़ाई बयान करके जो चाहे अपनी ज़ुबान में अल्लाह ताला से मांगे क्योंकि यह दुआ कबूल होने का खास वक्त है।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
                *☞ Tawaaf-_,*

❉ _ Masjide Haraam me dakhil hokar Kaaba sharif ke us hisse me aa jaye jaha Hajre Aswad laga hua he aur Tawaaf ki niyat kar le

★_ Umrah ki sa’i bhi karni he isliye Mard Hazraat iztbaa kar le yani Ahraam ki chadar ko Daaye bagal ke niche se nikaal kar mondhe ke ouper daal le,

★_ Fir Hajre Aswad ke saamne khade hokar ‘ Bismillah Allahu Akbar” kehte hue Hajre Aswad ko bosa le ya dono haatho ki hatheliyo ko Hajre Aswad ki taraf karke haatho ka bosa le,

★_ Fir Kaaba ko Baayi taraf rakhkar Tawaaf shuru kare,

★_ Mard Hazraat pehle 3 chakkar me ( agar mumkin ho to) Ramal kare yani zara mondha hilakar akadte hue chhote chhote qadam ke saath tez chale,

★_ Tawaaf ke waqt nigah saamne rakhe yani Kaaba sharif aapke Baayi jaanib rahe,

★_ Tawaaf ke dauran bager haath uthaye yaad ho to Duae karte rahe ya Zikr karte rahe,

★_ Aage ek nisf daayre ki shakl ki 4-5 foot ounchi diwaar aapke Baayi jaanib aa’egi isko Hateem kehte he,_ Hateem darasal Betullah ka hi hissa he, isme namaz padhna esa hi he jese Betullah ke andar Namaz padhna, agar Tawaaf ke baad moqa mil jaye to zarur nifl Ada kare,

★_ iske baad jab khana Kaaba ka jab teesra kona aa jaye jisko Rukne Yamani kehte he, ( Agar mumkin ho to) dono haath ya sirf Daahina haath us per fere ya uski taraf ishara kiye bager yuhi guzar jaye,

★_Rukne Yamani aur Hajre Aswad ke darmiyan chalte hue ye dua baar baar padhe,

*→Rabbana aatina fiddunya hasanata'nv va fil akhirati hasanata'nv va qina azaaban naar ←*

★_Fir Hajre Aswad ke saamne pahunch kar uski taraf hatheliyo ka rukh kare, Bismillah Allahu Akbar kahe aur hatheliyo ka bosa le,

☑ is tarah aapka ek chakkar pura ho gaya, iske baad baqi 6 chakkar bilkul isi tarah pure kare, kul 7 chakkar karne he’n, Akhri chakkar ke baad Hajre Aswad ka istlaam kare aur Safa chale jaye,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
                   *☞ तवाफ _,*

❉_ मस्जिद ए हराम में दाखिल होकर काबा शरीफ के उस हिस्से में आ जाएं जहां हजरे अस्वद लगा हुआ है और तवाफ की नियत कर लें।

★_ उमराह की स'ई भी करनी है इसलिए मर्द हजरात इज़तबा कर लें यानी अहराम की चादर को दाएं बगल के नीचे से निकालकर मोंढे के ऊपर डाल लें ।

★_फिर हजरे अस्वद के सामने खड़े होकर बिस्मिल्लाह अल्लाहू अकबर कहते हुए हजरे अस्वद को बौसा ले या दोनों हाथों की हथेलियों को हजरे अस्वद की तरफ करके हाथों का बौसा लें

★_फिर काबा को बाएं तरफ रखकर तवाफ शुरू करें।

★_मर्द हजरात पहले तीन चक्कर में (अगर मुमकिन हो तो) रमल करें यानी जरा मोंढा हिला कर अकड़ते हुए छोटे छोटे क़दम के साथ तेज़ चले।

★_ तवाफ के वक्त निगाह सामने रखें यानी का़बा शरीफ आपके बांई जानिब रहे।

★_ तवाफ के दौरान बगैर हाथ उठाए याद हो तो दुआएं करते रहें या जिक्र करते रहें।

★_आगे एक निस्फ दायरे की शक्ल की 4-5 फुट ऊंची दीवार आपके बांई जानिब आएगी इसको हतीम कहते हैं ,हतीम दरअसल बैतुल्लाह का ही हिस्सा है इसमें नमाज पढ़ना ऐसा ही है जैसे बैतुल्लाह के अंदर नमाज पढ़ना । अगर तवाफ के बाद मौक़ा मिल जाए तो जरूर निफ्ल अदा करें।

★_ इसके बाद जब खाना काबा का तीसरा कोना आ जाए जिसको रुकने यमानी कहते हैं, अगर मुमकिन हो तो दोनों हाथ या सिर्फ दाहिना हाथ उस पर फेरे या उसकी तरफ इशारा किए बगैर यूं ही गुजर जाएं ।

★_ रुक्ने यमानी और हजरे अस्वद के दरमियान चलते हुए यह दुआ बार-बार पढ़ें :-

*"_ रब्बना आतिना फिद्दुनया हसनतंव वा फिल आखिरति हसनतंव वा क़िना  अज़ाबन नार _,"*

★_फिर हजरे अस्वद के सामने पहुंचकर उसकी तरफ हथेलियों का रुख करें बिस्मिल्लाह अल्लाहू अकबर कहें और हथेलियों का बौसा ले।

★_इस तरह आप का एक चक्कर पूरा हो गया ,इसके बाद बाकी 6 चक्कर बिल्कुल इसी तरह पूरे करें। कुल 7 चक्कर करने हैं ,आखिरी चक्कर के बाद हजरे अस्वद का इस्तलाम करें और सफा चले जाएं।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
 *☞ Tawaaf ke baaz aham Masail _,*

❉ _ Masjide Haraam me dakhil hone ke baad Talbiya band kar de,

★_ Tawaaf ke dauran koi makhsoos dua zaruri nahi balki Jo chahe aur jis zubaan me chahe dua maangte rahe, agar kuchh bhi na pade khamosh rahe tab bhi Tawaaf sahi hoga,

★_ Tawaf ke dauran Jama’at ki namaz shuru hone lage ya thakan ho jaye to tawaaf rok de fir jis jagah se Tawaaf band kiya tha usi jagah se Tawaaf shuru kar de,

★_ Nifli Tawaaf me Ramal yani akad kar chalna aur iztiba nahi hota,

★_ Namaz ki haalat me baazuo ko dhakna chahiye kyuki iztiba sirf tawaaf ki haalat me sunnat he

★ Agar Tawaaf ke dauran vazu toot jaye to Tawaaf rok kar vazu karke Fir Tawaaf usi jagah se shuru kar de jaha se Tawaaf band kiya tha, Kyuki bager Vazu Tawaaf karna jaa’iz nahi,

★_ Tawaaf nifli ho ya Farz usme 7 hi chakkar hote he, aur iski ibtida Hajre Aswad ke istlaam se hi hoti he aur iske baad 2 raka’at namaz padhi jati he,

★_ Agar Tawaaf ke chakkaro ki tadaad me shak ho jaye to kam tadaad shumar karke baqi chakkaro se Tawaaf mukammal kare,

★ _Masjide Haraam ke andar ouper ya niche ya mutaaf me kisi bhi jagah Tawaaf Kar sakte he

★_ Tawaaf Hateem ke bahar se hi kare, agar Hateem ke andar dakhil hokar Tawaaf karenge to wo motbar nahi,

★ _Kisi aurat ko Tawaaf ke dauran Haiz aa jaye to foran Tawaaf band kar de aur Masjid se bahar chali jaye,

★_Khwateen Tawaaf me Ramal yani akadkar chalna na kare ye sirf Mardo ke liye khaas he

★_ Hujoom hone ki soorat me Khwateen Hajre Aswad ka bosa lene ki koshish na kare bas door se ishara kar le, isi tarah hujoom hone per Rukne Yamani ko bhi na chhue

★_ Agar Hajre Aswad ke saamne se ishara kiye bager guzar gaye aur agar hujoom zyada he to wapas aane ki koshish na kare kyuki Tawaaf ke dauran Hajre Aswad ka bosa lena, uski taraf ishara karna sunnat he wajib nahi,

☑ Aham masla,
Mazoor shakhs jiska vazu nahi theharta ( maslan peshab ke qatre muslsal girte ho ya musalsal riyah kharij hoti rehti ho ya aurat ko bimari ka khoon aa raha ho) to uske liye hukm ye he k wo Namaz ke ek waqt me vazu kare, fir us vazu se us waqt me chahe Jitne Tawaaf kare, namaze padhe, Tilawat kare, Doosri namaz ka waqt dakhil hote hi vazu toot ja’ega, agar Tawaaf mukammal hone se pehle hi doosri namaz ka waqt dakhil ho jaye to vazu karke Tawaaf mukammal kare,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
     *☞तवाफ के बाज़ अहम मसाइल _,*

❉__ मस्जिद ए हराम में दाखिल होने के बाद तलबिया बंद कर दें।

★_ तवाफ के दौरान कोई मखसूस दुआ जरूरी नहीं बल्कि जो चाहे और जिस जुबान में चाहे दुआ मांगते रहे अगर कुछ भी ना पड़े खामोश रहे तब भी तवाफ सही होगा।

★_ तवाफ के दौरान जमात की नमाज शुरू होने लगे या थकान हो जाए तो तवाफ रोक दें फिर जिस जगह से तवाफ बंद किया था, उसी जगह से तवाफ शुरू कर दें।

★_निफ्ली तवाफ में रमल यानी अकड कर चलना और इज्तिबा नहीं होता।

★_नमाज की हालत में बाजुओं को ढंकना चाहिए क्योंकि इज्तिबा सिर्फ तवाफ की हालत में सुन्नत है ।

★_अगर तवाफ के दौरान वजू टूट जाए तो तवाफ रोक कर वज़ू करके फिर तवाफ उसी जगह से शुरू कर दें जहां से तवाफ बंद किया था क्योंकि बगैर वज़ू तवाफ करना जायज नहीं ।

★_ तवाफ निफ़्ली हो या फर्ज़ उसमें सात ही चक्कर होते हैं और इसकी इब्तदा हजरे अस्वद के इस्तलाम से ही होती है और इसके बाद 2 रकात नमाज पढ़ी जाती है ।

★_अगर तवाफ के चक्कर की तादाद में शक हो जाए तो कम तादाद शुमार करके बाक़ी चक्करों से तवाफ मुकम्मल करें।

★_ मस्जिद ए हराम के अंदर ऊपर या नीचे या मुताफ में किसी भी जगह तवाफ कर सकते हैं ,

★_ तवाफ हतीम के बाहर से ही करें अगर हातिम के अंदर दाखिल हो कर तवाफ करेंगे तो वह मौतबर नहीं ।

★_किसी औरत को तवाफ के दौरान हैज आ जाए तो फौरन तवाफ बंद कर दें और मस्जिद से बाहर चली जाएं ।
★_ खवातीन तवाफ में रमल यानी अकड कर चलना ना करें यह सिर्फ मर्दों के लिए खास है।

★_ हुजूम होने की सूरत में खवातीन हजरे अस्वद का बौसा लेने की कोशिश ना करें बस दूर से इशारा कर लें, इसी तरह हुजूम होने पर रुकने यमानी को भी ना छुए ।

★_अगर हजरे अस्वद के सामने से इशारा किए बगैर गुजर गए और अगर हुजूम ज्यादा है तो वापस आने की कोशिश ना करें क्योंकि तवाफ के दौरान हजरे अस्वद का बोसा लेना उसकी तरफ इशारा करना सुन्नत है वाजिब नहीं।

*👉🏻 अहम मसला :-* _  माजूर शख्स जिसका वज़ू नहीं ठहरता (मसलन पेशाब के कतरे मुसलसल गिरते हो या मुसलसल रिया खारिज होती रहती हो या औरत को बीमारी का खून आ रहा हो)  तो उसके लिए हुक्म यह है कि वह नमाज के एक वक्त में वज़ू करें फिर उस वज़ू से उस वक्त में चाहे जितने तवाफ करें, नमाज से पढ़े ,तिलावत करें ,दूसरी नमाज का वक्त दाखिल होते ही वज़ू टूट जाएगा। अगर तवाफ मुकम्मल होने से पहले ही दूसरी नमाज का वक्त दाखिल हो जाए तो वज़ू करके तवाफ मुकम्मल करें।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
         *☞ 2 Raka’at Namaz_,*

❉ _Tawaaf se faarig hokar Maqame Ibrahim ke aaye, Sahuliyat se Maqame Ibrahim ke pichhe jagah mil jaye to waha, varna Masjide Haraam me kisi bhi jagah Tawaaf ki 2 raka’at Ada kare,

★_ Tawaaf ki in 2 raka’at ke mutalliq Nabi Akram Sallallahu Alaihivasallam ki sunnat ye he k Pehli raka’at me Surah Kafiroon aur doosri raka’at me Surah ikhlaas padhi jaye,

★_ Hujoom ke dauran Maqame Ibrahim ke paas Tawaaf ki 2 raka’at namaz padhne ki koshish na kare kyuki isse Tawaaf karne walo ko takleef hoti he, balki Masjide Haraam me kisi bhi jagah Ada kar le,

*☞ Maqame Ibrahim_,*

★_ Ye ek Patthar he jis per khade hokar Hazrat Ibrahim Alaihissalam ne Kaaba ko tameer kiya tha, Us patthar per Hazrat Ibrahim Alaihissalam ke qadmo ke nishanat he’n,

★_ Ye Kaaba sharif ke saamne ek jaalidar shishe ke chhote se qubba me mehfooz he, jiske atraaf peetal ki khushnuma jaali nasab he,

★ Huzur Akram Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya,
” Hajre Aswad aur Maqame Ibrahim qeemti pattharo me se do patthar he’n , Allah ta’aala ne dono pattharo ki roshni khatm kar di he, Agar Allah ta’aala esa na karta to ye dono patthar Mashrik aur Magrib ke darmiyan har cheez ko roshan kar dete, ”

*📘 Ibne Khuzema,*

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
        *☞ दो रक़अत नमाज़_,*

❉__ तवाफ से फारिग होकर मक़ामें इब्राहिम को आएं, सहूलियत से मक़ामें इब्राहिम के पीछे जगह मिल जाए तो वहां, वरना मस्जिद ए हराम में किसी भी जगह तवाफ की 2 रकात अदा करें ।

★_तवाफ की इन दो रका़त के मुताल्लिक नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की सुन्नत यह है कि पहली रक़ात में सूरह काफिरून और दूसरी रका़त में सूरह इख़लास पड़ी जाए ।

★_ हुजूम के दौरान मका़में इब्राहिम के पास तवाफ की 2 रका़त नमाज़ पढ़ने की कोशिश ना करें क्योंकि इससे तवाफ करने वालों को तकलीफ होती है बल्कि मस्जिदे हराम में किसी भी जगह अदा कर लें।

       *☞ मक़ामे इब्राहीम _,"*

★__ यह एक पत्थर है जिस पर खड़े होकर हजरत इब्राहीम अलैहिस्सलाम ने काबा को तामीर किया था ,उस पत्थर पर हजरत इब्राहीम अलैहिस्सलाम के क़दमों के निशानात हैं ।

★_ यह काबा शरीफ के सामने एक जालीदार शीशे के छोटे से कुब्बा में महफूज़ है जिसके अंदर पीतल की खुशनुमा जाली नसब है ।
हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-हजरे अस्वद और मुक़ामे इब्राहीम की़मती पत्थरों में से दो पत्थर हैं, अल्लाह ताला ने दोनों पत्थरों की रोशनी खत्म कर दी है अगर अल्लाह ताला ऐसा ना करते तो यह दोनों पत्थर मशरिक और मग़रिब के दरमियान हर चीज़ को रोशन कर देते ।
*( इब्ने ख़ुज़ैमा )*

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
                *☞ Multazim_,*

❉ _Tawaaf aur Namaz se faarig hokar agar moqa mil jaye to Multzim per aaye,

★ _Hajre Aswad aur Kaaba sharif ke darwaze ke darmiyan 2 meter ke qareeb Kaabe ki diwar ka Jo hissa he wo Multazim kehlata he,

★_ isse chimat kar khoob duae maange , ye dua qubool hone ki khaas jagah he,

★_ Hujjaj ikraam ko takleef dekar Multazim per pahunchna jaa’iz nahi he, lihaza Tawaaf karne walo ki tadaad agar zyada ho to waha pahunchne ki koshish na kare kyuki waha Duae karna sirf sunnat he, wajib nahi,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
              *☞ मुल्तज़िम_,*
❉__ तवाफ और नमाज़ से फारिग होकर अगर मौक़ा मिल जाए तो मुल्तज़िम पर आएं,

★_ हजरे अस्वद और काबा शरीफ के दरवाजे के दरमियान 2 मीटर के क़रीब काबे की दीवार का जो हिस्सा है वह मुल्तजि़म कहलाता है ,इससे चिमट कर खूब दुआएं मांगें, यह दुआ कबूल होने की खास जगह है ।

★_हुज्जाज किराम को तकलीफ देकर मुल्ताजि़म पर पहुंचना जायज़ नहीं है लिहाज़ा तवाफ करने वालों की तादाद अगर ज्यादा हो तो वहां पहुंचने की कोशिश ना करें क्योंकि वहां दुआएं करना सिर्फ सुन्नत है वाजिब नहीं।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
                *☞ Aabe Zam Zam_,*

❉ _ Tawaaf se faarig hokar qibla Rukh hokar Bismillah padh kar 3 saans me khoob ser hokar zam zam ka paani piye aur Alhamdulillah keh kar ye Dua ( Agar yaad ho to) padhe

” Allahumma inni as’aluka ilman naafi’anv va rizqanv vaasi’anv va shifa’an min kulla daa’i, ”

Tarjuma, –
Ey Allah me aapse nafa dene wale ilm ka aur qushada rizq ka aur har marz se shifayabi ka sawaal karta hu’n,

★ Masjide Haraam me har jagah Zam Zam ka paani ba-asaani mil jata he, Zam Zam ka paani khade hokar pina mustahab he,

★ Hazrat Abdullah bin Abbas Raziyallahu Anhu farmate he’n k mene Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ko Zam Zam pilaya to Aap Sallallahu Alaihivasallam ne khade hokar piya,

📘 Bukhari,

★ Zam Zam ka paani pikar uska kuchh hissa sar aur badan per daalna bhi mustahab he,

★ Hazrat Jaabir Raziyallahu Anhu kehte he’n k mene Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ko ye farmate hue suna,

” Zam Zam ka paani jis niyat se piya jaye wahi faa’ida isse hasil hota he,

📘 Ibne maaja,

★ Hazrat Abdullah bin Abbas Raziyallahu Anhu se rivayat he k Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya,

” Rue zameen per sabse behtar paani zam zam he Jo bhooke ke liye khana aur bimaar ke liye shifa he,

📘 Tabrani,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
             *☞ आबे जमजम _,*
❉__ तवाफ से फारिग होकर क़िब्ला रुख होकर बिस्मिल्लाह पढ़कर 3 सांस में खूब शैर हो कर जमजम का पानी पिएं और अल्हम्दुलिल्लाह कह कर यह दुआ (अगर याद हो तो )पढ़ें :-

*"_ अल्लाहुम्मा इन्नी अस'अलुका इल्मन नाफि'अंव वा रिज़क़ंव वासि'अंव वा शिफा़'अन मिन कुल्ला दा'ई _,"*
*( तर्जुमा )_,ऐ अल्लाह मैं आपसे नफा  देने वाले इल्म का और कुशादा रिज़्क़ का और हर मर्ज़ से शिफायाबी का सवाल करता हूं।

★_ मस्जिद ए हराम में हर जगह जमजम का पानी आसानी से मिल जाता है । जमजम का पानी खड़े होकर पीना मुस्तहब है।

★_हजरत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि मैंने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को जमजम पिलाया तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने खड़े होकर पिया । *( बुखारी )*

★_जमजम का पानी पीकर उसका कुछ हिस्सा सर और बदन पर डालना भी मुस्तहब है।

★_हजरत जाबिर रज़ियल्लाहु अन्हु कहते हैं कि मैंने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को यह फरमाते हुए सुना :-
"_ जमजम का पानी जिस नियत से पिया जाए वही फायदा इससे हासिल होता है । *(  इब्ने माजा )*

★_हज़रत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रजियल्लाहु अन्हु से रिवायत है कि रसूलल्लाह सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-
"_ रूए ज़मीन पर सबसे बेहतर पानी जमजम है जो भूखे के लिए खाना और बीमार के लिए शिफा हैं  । *( तबरानी )*

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
*☞ Safa Marva ke darmiyan Sa’i _*

❉ _Safa per pahunch kar behtar ye he k zubaan se ( yaad ho to ) kahe

→” Abda’u bima bada Allahu bihi, Bismillahir Rahmaanir Raheem   innas safa va marvata min Saha’aiirillahi ”

★ Fir Kaaba ki taraf rukh kar ke Dua ki tarah haath uthale aur 3 martaba Allahu Akbar kahe,

★ Aur agar yaad ho to 3 baar ye Dua padhe,

→Laa ilaaha illallahu vahdahu La sharika lahu lahul mulku va lahul hamdu Yuhyi va Yumeet va huva alaa kulli shayin qadeer,
laa ilaaha illallahu vahdahu anjaza va’adahu va na-sa-ra abdahu va hazamal ahzaaba vahdahu, ”

★ iske baad khade hokar khoob Duae manage, ya duae qubool hone ka khaas maqaam aur khaas waqt he,

*◎◆Sa’i se mutalliq baaz Aham Masail-◆◎*

★ Sa’i ke liye vazu karna zaruri nahi albatta afzal v behrar he,

★ Haiz ki haalat me bhi Sa’i ki ja sakti he albatta Tawaaf Haiz ki haalat me hargiz na kare balki Masjide Haraam me bhi dakhil na ho,

★ Tawaaf se faarig hokar agar Sa’i karne me takheer ho jaye to koi harj nahi,

★ Sa’i ko Tawaaf ke baad karna shart he, Tawaaf ke bager Sa’i motbar nahi,

★ Safa Marva per pahunch kar Betullah ki taraf haath se ishara na kare balki Dua ki tarah dono haath uthakar Dua kare,

★ Sa’i ke dauran Namaz shuru hone lage ya thak jaye to Sa’i ko rok de fir jaha se band kiya tha usi jagah se shuru kar de,

★ Tawaaf ki tarah Sa’i bhi paydal chal kar karna chahiye, albatta agar koi uzr ho to Wheel chair per bhi Sa’i kar sakte hai’n,

★ Agar Sa’i ke chakkaro ki tadaad me shak ho to kam tadaad shumar karke baqi chakkaro se Sa’i mukammal kare,

★ Khwateen Sa’i me Sabz sutoono ( jaha hari tube lite lagi hui he’n) ke darmiyan Mardo ki tarah doad kar na chale,

★Agar chahe to Sa’i ke baad bhi 2 raka’at namaz Ada kar le kyuki baaz rivayaat me iska zikr milta he,

★ Nifli Sa’i ka koi saboot nahi he, albatta nifli Tawaaf zyada se zyada karne chahiye,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
    *☞ सफा मरवा के दरमियान सई _,*

❉_ सफा पर पहुंचकर बेहतर यह है कि ज़ुबान से (याद हो तो ) कहें :-
*"_ अब्दऊ बिमा ब-द- अल्लाहु बिही बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम इन्नस्सफा़ वल मरवता मिन श'आइरिल्लाहि , फ़मन हज्जल बैता आवि'अ त-म-रा फला जुनाहा अलैहि अंय्यतव्व-फ़ बिहिमा , व मन त-तव्व'आ खैरन फ़इन्नल्लाहा शाकिरुन अलीम _,"*

"_फिर काबा की तरफ रुख करके दुआ की तरह हाथ उठाया ले और तीन मरताबा "_अल्लाहु अकबर "  कहे ।

"_और अगर याद हो तो 3 बार यह दुआ पढ़ें :-
*"_ ला इलाहा इल्लल्लाहु वहदहू ला शरीका लहू लहुल मुल्कु व लहुल हम्दु युहयी व युमीतु व हुवा अला कुल्लि शैइन क़दीर , लाइलाहा इल्लल्लाहु वहदहू अनजज़ा वहदहू व न-स-र अब्दहू व ह-ज़-मल अहज़ाबा वहदहू _,"*

"_इसके बाद खड़े होकर खूब दुआएं मांगे, यह दुआएं क़ुबूल होने का खास मुका़म और खास वक्त है।

*☞__ सही से मुतालिक बाज़ मसाईल_,*

★_स'ई के लिए वज़ु करना जरूरी नहीं अलबत्ता अफज़ल व बेहतर है ।

"_ हैज़ की हालत में भी स'ई की जा सकती है , अलबत्ता तवाफ हैज की हालत में हरगिज़ ना करें बल्कि मस्जिदे हराम में भी दाखिला ना हो।

"_तवाफ से फारिग हो कर अगर स'ई करने में ताखीर हो जाए तो कोई हर्ज नहीं।

★_स'ई को तवाफ के बाद करना शर्त है ,तवाफ के बगैर स'ई मौतबर नहीं।

"_सफा मरवा पर पहुंचकर बैतुल्लाह की तरफ हाथ से इशारा ना करें बल्कि दुआ की तरह दोनों हाथ उठाकर दुआ करें ।

★_ _स'ई के दौरान नमाज शुरू होने लगे या थक जाए तो स'ई को रोक दें फिर जहां से बंद किया था उसी जगह से शुरू कर दें।

"_ तवाफ की तरह स'ई भी पैदल चलकर करना चाहिए अलबत्ता अगर कोई उज़्र हो तो व्हीलचेयर पर भी स'ई कर सकते हैं।

★_अगर स'ई के चक्करों की तादाद में शक हो तो कम तादाद  शुमार कर के बाक़ी चक्करों से स'ई मुकम्मल करें।

★_ खवातीन स'ई में सब्ज़ सुतूनों (जहां हरी ट्यूब लाइट लगी हुई है) के दरमियान मर्दों की तरह दौड़ कर ना चले।

★_अगर चाहें तो स'ई के बाद भी 2 रकात नमाज़ अदा कर लें क्योंकि बाज़ रिवायाय में इसका जिक्र मिलता है।

★_निफ्ली स'ई का कोई सबूत नहीं है अलबत्ता निफ्ली तवाफ ज्यादा से ज्यादा करने चाहिए।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
*☞ Baal Mundwana ya katwana_*

❉ _Tawaaf aur Sa’i se faarig hokar sar ke baal mundwa de'n ya katwa de'n,

★ Mardo ke liye mundwana afzal he, kyuki Nabi Kareem Sallallahu Alaihivasallam ne Baal mundwane walo ke liye rehmat v magfirat ki Duae 3 martaba farmayi he aur Baal katwane wale ke liye sirf ek martaba,

★ Allah ta’ala ne apne paak kalaam Qurane kareem me halaq karane walo ka zikr pehle aur Baal katwane walo ka zikr baad me kiya he,

★ Khwateen choti ke aakhir me se ek pore ke barabar Baal khud kaat le ya kisi mehram se katwale,

*◎◆ Tambeeh, ◆◎*

★ Baaz Mard Hazraat chand Baal sar ke ek taraf se aur chand Baal doosri taraf se Qenchi se kaat kar ahraam khol dete he’n, ye sahi nahi he, esi soorat me jamhoor Ulma ke nazdeek Dam wajib hoga, lihaza ya to sar ke baal mundwaye ya is tarah baalo ko katwaye k pure sar ke Baal kat jaye,

★Agar Baal zyada hi chhote ho to mundwana hi laazim he,

★sar ke baal mundwane ya katwane se pehle na ahraam khole aur na hi nakhun vagera kaate varna Dam laazim hoga,

★ Baal ka hudoode Haram me katwana zaruri he, lihaza Jaddah me Baal mundwane ki soorat me Dam laazim hoga,

★ Jab Baal katwane ka waqt ho jaye yani Tawaaf, Sa’i se faarig ho gaye to ek doosre ke Baal kaat sakte hai’n,

⇨ Alhamdillah ab aap ka Umrah pura ho gaya, Ahraam utaar de, Sile hue kapde pehan le, ab aapke liye wo sab cheeze jaa’iz ho gayi Jo ahraam ki haalat me na-jaa’iz ho gayi thi,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*
       *☞ बाल मुंडवाना या कटवाना_,*

❉__ तवाफ और स'ई से फारिग होकर सर के बाल मुंडवा दें या कतरवा दें, मर्दों के लिए मुंडवाना अफज़ल है क्योंकि नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने बाल मुंडवाने वालों के लिए रहमत व मग्फिरत की दुआएं 3 मर्तबा फरमाई और बाल कटवाने वाले के लिए सिर्फ एक मर्तबा।

★_ अल्लाह ताला ने अपने पाक कलाम कलाम में हलक़ कराने वालों का जिक्र पहले और बाल कटवाने वालों का जिक्र बाद में किया है ।

★_ खवातीन चोटी के आखिर में से एक पौरे के बराबर बाल खुद काट लें या किसी महरम से कटवा लें।

                *☞ तंबीह _,*

★_ बाज़ मर्द हजरात चंद बाल सर के एक तरफ से और चंद बाल दूसरी तरफ से कैंची से काटकर अहराम खोल देते हैं यह सही नहीं है , ऐसी सूरत में जमहूरे उल्मा के नजदीक दम वाजिब होगा, लिहाजा या तो सर के बाल मुंडवाएं या इस तरह बालों को कटवाएं कि पूरे सर के बाल कट जाए ।

★_अगर बाल ज्यादा ही छोटे हो तो मुंडवाना ही लाजिम है।

★_सर के बाल मुंडवाने या कटवाने से पहले ना अहराम खोलें और ना ही नाखून वगैरा कांटे वरना दम लाज़िम होगा।

★_ बाल का  हुदूदे हरम में कटवाना जरूरी है लिहाजा जद्दा में बाल मुंडवाने की सूरत में दम लाज़िम होगा ।

★_जब बाल कटवाने का वक्त हो जाए यानी तवाफ से फारिग हो गए तो एक दूसरे के बाल काट सकते हैं।

👉🏻 अल्हमदुलिल्लाह अब आपका उमराह पूरा हो गया है,  अहराम उतार दें, सिले हुए कपड़े पहन ले ।अब आपके लिए वह सब चीज़े जायज़ हो गई जो अहराम की हालत में नाजायज़ हो गई थी।

       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
*☞ Mutaddid Umre karna_,*

❉ _Umrah ki adaaygi ke baad apni taraf se ya apne mutalliqeen ki taraf se nifli Umre karna chahiye,

★ Hill me kisi jagah maslan Tan’eem jakar gusl karke ahraam baandhle, 2 raka’at namaz padh kar niyat kare, Talbiya padhe fir Umrah ka Jo tareeqa bayaan kiya gaya he uske mutabiq Umrah kare,

★ Kisi Marhoom, ya intehai boodhe ya ese bimar shakhs jiski sahat ki bazahir tawaqqa nahi he, ki jaanib se bila shubha Umrah badal kiya ja sakta he,

★lekin Sahat mand, zinda shakhs ki jaanib se Umrah badal ki adaaygi me Fuqha ka ikhtilaf he , ahatyaat Sahat mand shakhs ki taraf se Umrah badal na karne me he,

•﹏••﹏••﹏••﹏•

☆◎◆Tawaaf e Vida, ◆◎☆

★ Waapsi ke waqt Tawaafe vidaa karna chahe to kar le lekin Sirf Umrah ke safar me Tawaafe vidaa zaruri nahi,

  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*

*☞ मुताद्दिद ( एक से ज्यादा ) उमरें करना _,*

❉_उमरे की अदायगी के बाद अपनी तरफ से या अपने मुताल्लिकीन की तरफ से निफ्ली उमरे करना चाहिए।

★_ हिल में किसी जगह ,मसलन- तन'ईम जाकर गुस्ल करके अहराम बांध ले, 2 रकात नमाज पढ़कर नियत करें, तलबिया पढ़े, फिर उमरे का जो तरीक़ा बयान किया गया है उसके मुताबिक उमराह करें ।

★_किसी मरहूम या इंतेहाई बूढ़े या ऐसे बीमार शख्स जिसकी सहत कि बा जाहिर तवक़्क़ो नहीं है ,की जानिब से बिला शुबा उमराह बदल किया जा सकता है।

"_ लेकिन सेहतमंद जिंदा शख्स की जानिब से उमराह बदल की अदायगी में फुक़हा का इख्तिलाफ है , एहतियात सेहतमंद शख्स की तरफ से उमराह बदल ना करने में है।

           *☞ तवाफे विदा _,*

★__ वापसी के वक्त तवाफे विदा करना चाहें तो कर लें लेकिन सिर्फ उमराह के सफर में तवाफे विदा ज़रूरी नहीं।
*
       ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
*☞ Umrah se mutalliq baaz zaruri Masail_,*

❉ _Aurat bager mehram ya shohar ke Umrah ka Safar ya koi doosra Safar nahi kar sakti he, Agar koi Aurat bager mehram ya shohar ke Umrah kare to uska Umrah to Ada ho ja’ega lekin esa karne me bada gunaah he,

★ Aurte’n Mard ki taraf se aur Mard Aurto’n ki taraf se nifli Umrah badal kar sakte hai’n,

★ Ahraam ki haalat ahraam ke kapde utaar kar gusl bhi kar sakte hai’n aur ahraam tabdeel bhi kar sakte hai’n,

★ Baaz logo ne ye mashhoor kar rakha he k kisi ne Umrah kiya to us per Hajj farz ho jata he, ye galat he, Agar wo saahibe istetaat nahi he yani agar uske paas itna maal nahi he k wo Hajj Ada kar sake to us per Umrah ki adaaygi ki vajah se Hajj farz nahi hota, agarche wo Umrah Hajj ke mahine me hi ada kiya jaye, fir bhi iski vajah se Hajj farz nahi hoga,

*➖ Alhamdulillah Mukammal Hue ➖,*

*📚 Umrah Ada Karne Ka Tareeqa- Mufti Najeeb Qasmi Sahab _,*
  ▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔▔
        *🕋 उमराह का तरीक़ा 🕋*

*☞ उमरा से मुतालिक बात जरूरी मसाईल_,*

❉_ औरत बगैर मेहरम या शौहर के उमराह का सफर या कोई दूसरा सफर नहीं कर सकती है, अगर कोई औरत बगैर मेंहरम या शौहर के उमरा करें तो उसका उमराह तो अदा हो जाएगा लेकिन ऐसा करने में बड़ा गुनाह है ।

★_ औरतें मर्द की तरफ से और मर्द औरतों की तरफ से निफ्ली उमरा बदल कर सकते हैं ।

★_अहराम की हालत में अहराम के कपड़े उतार कर गुस्ल भी कर सकते हैं और अहराम तब्दील भी कर सकते हैं।

★_ बाज़ लोगों ने यह मशहूर कर रखा है कि किसी ने उमराह किया तो उस पर हज फर्ज हो जाता है, यह गलत है ,अगर वो साहिबे इस्तेतात नहीं है यानी अगर उसके पास इतना माल नहीं है कि वह हज अदा कर सके तो उस पर उमराह की अदायगी की वजह से हज फर्क नहीं होता , अगरचे उमराह हज के महीने में अदा किया जाए फिर भी इसकी वजह से हज फर्ज नहीं होगा ।

*"__अल्हम्दुलिल्लाह मुकम्मल हुए _,"*

*📚 उमराह करने का तरीक़ा - मुफ्ती नजीब क़ासमी सा.,*    ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅○
           *✍ Haqq Ka Daayi ,*
http://www.haqqkadaayi.com/
*👆🏻👆🏻Visit for Daily updates,*
*Telegram*_ https://t.me/haqqKaDaayi 
┣━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━┫
❂❂❂

Post a Comment

 
Top