0
⚡✨🌟  ▓━﷽━▓ 🌟✨⚡ 
┏┅●◑●
┣━━━● *NAMAZ KE MASA'IL*  
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz ki Farziyat- ✦*
┗───┯ ✿
✯,  Namaz baalig per farz hoti he, agar baalig hone ki alaamate zaahir ho jaye to namaz usi waqt Farz ho jati he,

✯, Aur agar koi alaamat zaahir na ho to ladka, ladki 15 saal ki umar poori hone per baalig samjhe ja’enge aur jis din Solhve Saal me qadam rakhenge us din se un per namaz v Roza Farz honge,

✯,Alaamat ye he k Ladke ko ahatlaam ho jaye ya Ladki ko haiz aa jaye vagera,

✯, Agar kisi ne baalig hone ke baad bhi Namaz v Roza me kotahi ki to ab wo tauba karke Namaz v Rozo ki qaza karna chahiye,

✯, Agar use ye yaad nahi k wo kab baalig hua tha to ladke ke liye hukm ye he k wo Terhve(13 ve) saal ke shuru hone se Namaz v Roza qaza kare, kyuki 12 saal ka ladka baalig ho sakta he,

✯, Aur Ladki ke liye ye hukm he k wo 9 baras pure hone aur 10 ve saal ke shuru hone se Namaz v Roze ki qaza kare, kyuki 9 baras ki ladki baalig ho sakti he,  

*★_Benamazi ko kaamil Musalman nahi keh sakte_,*

✯ ,Agar koi shakhs Allah aur Uske Rasool Sallallahu Alaihivasallam per imaan rakhta he, Aur Namaz ka bhi qaa’il he,
_ Magar susti ya gaflat ki vajah se Namaz nahi padhta to Esa shakhs musalman to he lekin Kaamil musalman ise nahi kaha ja sakta k wo Namaz jese Aham aur Buniyadi Rukn ko chhodne ki vajah se Imaam Abu Hanifa Rh, Imaam Maalik Rh, Imaam Shafa’i Rh aur ek rivayat me Imaam Ahmad bin Hambal Rh ke nazdeek sakht gunahgar aur badtareen faasiq he,

✯ ,Kalma e Shahadat ke baad islaam ka sabse bada rukn Namaz he, Namaze panjgana Ada karne se badhkar koi neki nahi aur Namaz na padhne se bada koi gunaah nahi,

✯ ,Agar koi shakhs Namaz nahi padhta aur khair ke doosre kaam karta he to hum ye to nahi keh sakte k wo qubool nahi honge lekin tarke namaz ka vabaal itna bada he k ye amaal uska tadarik nahi kar sakte,

✯ , Esa shakhs Jo Farz namaz ki ijazat nahi de uske yaha mulazmat hi jaa’iz nahi,
         
✯, Allah ta’aala ko Gafurur Raheem Samajh kar namaz na Ada karne wale ki saza —

 "_Allah ta’aala bila shubha Gafurur Raheem he lekin ese Gafurur Raheem ki nafarmani jab dhitai se ki jaye aur nafarmani karne wale ko sharmindgi bhi na ho to uska qahar bhi naazil ho sakta he,

✯, Musnad Ahmed, Tabrani, Majma ul zawaid, 2/21 me Hazrat Abdullah bin Umar Raziyallahu Anhu se rivayat he,
”__ Jo shakhs Namaz ka ahatmam karta he to namaz uske liye qayamat ke din noor hogi, uske ( pure imaandar hone ) ki daleel hogi, aur qayamat ke din azaab se bachne ka zariya hogi,

✯,  Jo shakhs Namaz ka ahatmam nahi karta uske liye qayamat ke din na noor hoga, na uske( pure imaandar hone ki) koi daleel hogi, na azaab se bachne ka koi zariya hoga aur wo qayamat ke din Firaun, Hamaan aur Ubai bin Half ke saath hoga, ”

✯, khulasa ye he k Shaitan ka makr aur dhoka he k gunaah kiye jao Allah Gafurur Raheem he wo bakhsh dega, Momin ki shaan ye honi chahiye k wo ahkaame ilaahi ki pabandi kare, Gunaho se bachta rahe aur fir Allah ta’aala ki rehmat v magfirat ki ummeed bhi rakhe,
                
✯, Namaz Farz he uska chhodna Gunahe kabira he aur Daadi rakhna wajib he aur iska: katarwana ya mundwana haraam aur gunaahe kabira he,

✯, Namaz qaa’im karne se muraad iski tamaam shara’it v adaab ke saath khoob ikhlas v tavajjo aur khushu v khuzu ke saath ise Ada karna he,

✯, Namaz ke liye masrufiyat ka bahana lagv he,

*✯, Kya pehle Akhlaaq ki durustgi ho fir namaz padhni chahiye??*

✯, Ye khayal durust nahi balki khud akhlaaq ki durustgi ke liye namaz zaruri he,
“__Ye shaitan ka chakkar he wo ibaadat se rokne ke liye esi ulti sidhi baate samjhata he, aur shaitan ko pura itminan he k ye shakhs marte dam tak apne akhlaaq durust nahi kar sakega taki namaz se hamesha ke liye mehroom rahega,

*__ Sidhi baat ye he k Aadmi Namaz ki bhi pabandi kare aur saath saath akhlaaq ki bhi koshish kare,*

✯, Duniyavi garaz ke liye namaz roza karna aur kaam nikal jane ke baad chhod dena bahut galat baat he aur isse zyada galat ye he k Aadmi apni haajat aur zarurat ke waqt bhi Allah ta’aala ki taraf ruju na ho,

✯, Namaz ke waqt apne kaarobar me is tarah mashgool rehna k namaz fot ho jaye ya jama’at ka ahatmam na karna haraam he,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
              *☞  नमाज़ की फ़र्ज़ीयत -*

✪_नमाज़ बालिग पर फ़र्ज़ होती है,अगर बालिग होने की अलामतें ज़ाहिर हो जाए तो नमाज़ उसी वक़्त फ़र्ज़ हो जाती है, और अगर कोई अलामत ज़ाहिर न हो तो लड़का,लड़की 15 साल की उम्र पूरी होने पर बालिग समझे जाएंगे और जिस दिन सोलहवें साल में क़दम रखेगे उस दिन से उन पर नमाज़ व रोज़ा फ़र्ज़ होंगे,
"_अलामत ये है कि लड़के को एहतेलाम हो जाए या लड़की को हैज़ आ जाए वगैरह,

✪_अगर किसी ने बालिग होने के बाद भी नमाज़ व रोज़ा में कोताही की तो अब वो तौबा कर के नमाज़ व रोज़ों की क़ज़ा करना चाहिए,

✪_अगर उसे ये याद नही की वो कब बालिग हुआ था तो लड़के के लिए हुक्म ये है कि वो तेरहवे साल के शुरू होने से नमाज़ व रोज़ा क़ज़ा करे,क्योंकि 12 साल का लड़का बालिग हो सकता है,

✪_और लड़की के लिए ये हुक्म है कि वो 9 बरस पुरे होने और 10 वे साल के शुरू होने से नमाज़ व रोज़े की क़ज़ा करे,क्योंकि 9 बरस की लड़की बालिग हो सकती है,

*★__ बेनामाज़ी को क़ामिल मुसलमान नही कह सकते_,*

✪_अगर कोई शख्स अल्लाह और उसके रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर ईमान रखता है,और नमाज़ का भी क़ाइल है,
_मगर सुस्ती या गफलत की वजह से नमाज़ नही पढ़ता तो ऐसा शख्स मुसलमान तो है लेकिन क़ामिल मुसलमान इसे नही कहा जा सकता कि वो नमाज़ जैसे अहम और बुनियादी रुक्न को छोड़ने की वजह से इमाम अबू हनीफा रह.,इमाम मालिक रह.,इमाम अहमद बिन हम्बल रह.,के नज़दीक सख्त गुनाहगार और बदतरीन फ़ासिक़ है,

✪_कल्माए शहादत के बाद इस्लाम के सबसे बड़ा रुक्न नमाज़ है,नमाज़े पंजगाना अदा करने से बढ़कर कोई नेकी नही और नमाज़ न पढ़ने से बड़ा कोई गुनाह नही,

✪_अगर कोई शख्स नमाज़ नही पढ़ता और खैर के दूसरे काम करता है तो हम ये तो नही कह सकते कि वो क़ुबूल नही होंगे लेकिन तर्के नमाज़ का वबाल इतना बड़ा है की ये आमाल उसका तदरिक नही कर सकते,

✪_ऐसा शख्स जो फ़र्ज़ नमाज़ की इजाज़त न दे उसके यहां मुलाज़मत ही जाइज़ नही,

✪_अल्लाह ताला को गफुर्ररहिम समझ कर नमाज़ न अदा करने वाले कि सज़ा

"_अल्लाह ताला बिला शुब्हा गफुरूरहीम है लेकिन ऐसे गफुरूरहीम की नाफरमानी जब ढिटाई से की जाए और नाफरमानी करने वाले को शर्मिंदगी भी न हो तो उसका कहर भी नाज़िल हो सकता है,

✪_मुसनद अहमद,तबरानी,मजमा उल ज़वाईद ,2/21 में हज़रत अब्दुल्लाह बिन उमर रज़ियल्लाहु अन्हु से रिवायत है,

"_जो शख्स नमाज़ का एहतमाम करता है तो नमाज़ उसके लिए क़यामत के दिन नूर होगी ,उसके (पूरे ईमानदार होने )की दलील होगी,और क़यामत के दिन अज़ाब से बचने का जरिया होगी,

"_जो शख्स नमाज़ का एहतेमाम नही करता उसके लिए क़यामत के दिन न नूर होगा न उसके (पूरे इम्मानदार होने की)कोई दलील होगी,न अज़ाब से बचने का कोई ज़रिया होगा और वो क़यामत के दिन फिरौन ,हामान और उबई बिन खल्फ के साथ होगा,

✪_खुलासा ये है कि शैतान का मकर और धोखा है कि गुनाह किये जाओ अल्लाह गफुरूरहीम है वो बख्श देगा,मोमिन की शान ये होनी चाहिए कि वो अहकामें इलाही की पाबंदी करे,गुनाहों से बचता रहे और फिर अल्लाह ताला की रहमत व मगफिरत की उम्मीद भी रखे !

✪_नमाज़ फ़र्ज़ है उसका छोड़ना गुनाहे कबीरा है और दाढ़ी रखना वाजिब है और इसका क़तरवाना या मुंडवाना हराम और गुनाहे कबीरा है,

✪_नमाज़ क़ाइम करने से मुराद इसकी तमाम शराइत व आदाब के साथ खूब इखलास व तवज्जोह और खुशु व खुज़ू के साथ इसे अदा करना है,

✪_नमाज़ के लिए मसरूफियत का बहाना लग्व है,

*☞ क्या पहले अख़लाक़ की दुरुस्तगी हो फिर नमाज़ पढ़नी चाहिए??*

✪_ये ख्याल दुरुस्त नही बल्कि खुद अख़लाक़ की दुरुस्तगी के लिए नमाज़ ज़रूरी है,

"_ये शैतान का चक्कर है इबादत से रोकने के लिए वो ऐसी उल्टी सीधी बातें समझाता है,और शैतान को पूरा इत्मीनान है कि ये शख्स मरते दम तक अपने अख़लाक़ दुरुस्त नही कर सकेगा ताकि नामाज़ से हमेशा के लिए महरूम रहेगा,

*"_सीधी बात ये है कि आदमी नमाज़ की भी पाबंदी करे और साथ साथ अख़लाक़ की भी कोशिश करे*

✪_दुनियावी गरज़ के लिए नमाज़ रोज़ा करना और काम निकल जाने के बाद छोड़ देना  बहुत गलत बात है और इससे ज़्यादा गलत बात ये है कि आदमी अपनी हाजत और ज़रूरत के वक़्त भी अल्लाह ताला की तरफ रुजू न हो,

✪_नमाज़ के वक़्त अपने कारोबार में इस तरह मशगूल रहना की नमाज़ फ़ौत हो जाए या जमात का एहतेमाम न करना हराम है।

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द-२,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Avqaat e Namaz- ✦*
┗───┯ ✿
✪_, Namaz sahi hone ke liye ek shart ye he k us Namaz ka waqt dakhil ho chuka ho, fir Jo Namaz waqt ke andar padhi gayi wo Ada hui aur Jo waqt nikalne ke baad padhi gayi wo qaza hui, aur Jo waqt se pehle padhi gayi wo na Ada hui, na qaza, balki sire se Namaz hui hi nahi,

✯, Ghar per Namaz padhna Aurto’n ke alawa sirf mazoor logo ke liye jaa’iz he, bager uzr ke masjid ki jama’at ka tark karna gunaahe kabira he,

✯, Imaam Abu Hanifa Rh ke nazdeek Namaze Fajar ese waqt me padhna afzal he k suraj nikalne se pehle ek jama’at sunnat ke mutabiq aur karayi Ja sake,

✯, Vitr ki namaz Tahajjud ke waqt padhna durust he balki jis shakhs ko tahajjud ke waqt uthne ka pura bharosa ho uske liye tahajjud ke waqt Vitr padhna afzal he,

✯, Vitr ki namaz subeh sadiq se pehle padh Lena zaruri he, Subeh sadiq hone ke baad vitr ki namaz qaza ho jati he,         

✪, Subeh sadiq ke baad Fajar ki sunnato ke alawa Tahajjud padhna ya koi aur nifl namaz padhna jaa’iz nahi,

✯, Qaza namaz padh sakte hai’n magar wo bhi logo ke saamne na padhe,

✯, Namaze Fajar ke baad Suraj nikalne tak nifl namaze padhna durust nahi, Qaza namaz, sazda tilawat aur Namaze janaza jaa’iz he,

✯, Jab suraj ka kinara tulu ho jaye us waqt se lekar Suraj ki zardi khatm hone tak ka waqt ( Qariban 15-20 minutes) makrooh he, isme Farz, nifl, Sazda tilawat aur Namaze Janaza sab mana he,

✯,Qurane kareem ki tilawat, zikr, tasbeeh, darood sharif is waqt bhi jaa’iz he,

✯, Subeh sadiq hone per Sehri ka waqt khatm ho jata he aur Namaz Fajar ka waqt shuru ho jata he,  


✯,  Zavaal ke waqt Nawafil vagera kuchh nahi padhni chahiye aur na ese waqt nawafil padhna chahiye k zawaal ka waqt darmiyan namaz me ho jaye,

:✯, Avqaat ke naqsho me Jo zawaal ka waqt likha hota he uska matlab ye hota he k iske baad namaz jaa’iz he,

 Zawaal me to zyada waqt nahi lagta lekin ahatyatan nisfunnahar se 5 minutes pehle aur 5 minutes baad namaz ko nahi padhna chahiye,

✯, Zawaal ka waqt Din me hota he Raat ko nahi, Raat ke kisi bhi hisse me Namaz aur sazde ki muman’at nahi,

 Raat ke 12 baje zawaal ka tasavvur galat he, aur din me bhi 12 baje zawaal ka waqt samajhna galat he kyuki mukhtlif shehro aur mukhtlif mosamo ke lihaaz se zawaal ka waqt mukhtlif hota he aur badalta rehta he,
✯, Asr ki namaz Hanfiya ke nazdeek misl avval ke baad asar ki namaz durust he, isliye fuqha Hanfiya Rh farmate he’n k misle saani ke baad asar ki namaz padhna mustahab he,

✯,Misle saani khatm ho jane ke baad zyada takheer isliye mustahab he k nawafil zyada padh sake,
“_ Takseer Nawafil ki garz se itni takheer ki jaye k Namaz ke baad guroob aftaab se pehle 6 meal safar paydal kiya ja sake,

*📓 Ahsanul fatawa, 2/113*

✯, Guroob ke baad ufaq per Jo shurkhi rehti he ( ye waqt taqriban sava ghanta hota he, kamo besh bhi ho sakta he ) tab tak Magrib ki namaz ho sakti he,

✯, Isha ki namaz padhe bager so Jana makrooh he aur hadees me is per bad dua aayi he,
✯ ,Agar Aadmi so jaye aur uth kar namaz padh le tab bhi namaz ho ja’egi       

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
              *☞  _अवका़ते नमाज़ -*

✪_,नामाज़ सही होने के लिए एक शर्त ये है कि उस नमाज़ का वक़्त दाखिल हो चुका हो,फिर जो नमाज़ वक़्त के अंदर पढ़ी गई वो अदा हुई और जो वक़्त निकलने के बाद पढ़ी गई वो क़ज़ा हुई,और जो वक़्त से पहले पढ़ी गई वो अदा न हुई,न क़ज़ा बल्कि सिरे से नमाज़ हुई ही नही,

✪_,घर पर नामाज़ पढ़ना औरतों के अलावा सिर्फ माज़ूर लोगों के लिए जाइज़ है,बगैर उज़्र के मस्जिद की जमात का तर्क करना गुनाहे कबीरा है,

✪_,इमाम अबू हनीफा के नज़दीक नमाज़े फजर ऐसे वक्त पढ़ना अफ़ज़ल है कि सूरज निकलने से पहले एक जमात सुन्नत के मुताबिक और कराई जा सके,

✪_,वित्र की नमाज़ तहज्जुद के वक़्त पढ़ना दुरुस्त है बल्कि जिस शख्स को तहज्जुद  के वक़्त उठने का पूरा भरोसा हो उसके लिए तहज्जुद के वक़्त वित्र पढ़ना अफ़ज़ल है,।

✪_,वित्र की नामाज़ सुबह सादिक़ से पहले पढ़ना ज़रूरी है,सुबह सादिक़ होने के बाद वित्र की नामाज़ क़ज़ा हो जाती है,
*
✪_सुबह सादिक़ के बाद फजर की सुन्नतों के अलावा तहज्जुद पढ़ना या कोई और नफ्ली नमाज़ पढ़ना जाइज़ नही,

✪_क़ज़ा नमाज़ पढ़ सकते हैं मगर वो भी लोगों के सामने न पढ़ें,

✪_नमाज़े फजर के बाद सूरज निकलने तक नफ्ली नमाज़ें पढ़ना दुरुस्त नही,क़ज़ा नमाज़ ,सज़दा तिलावत और नमाज़े जनाज़ा जाइज़ है,

✪_जब सूरज का किनारा तुलू हो जाए उस वक़्त से लेकर सूरज की ज़र्दी खत्म होने तक का वक़्त (करीबन 15-20 मिनट्स) मकरूह है,इसमें फ़र्ज़ ,नफिल,सज़दा तिलावत और नमाज़े जनाज़ा सब मना है,

✪_सुबह सादिक़ होने पर सेहरी का वक़्त खत्म हो जाता है और नामाज़ फजर का वक़्त शुरू हो जाता है,

✪_ज़वाल के वक़्त नवाफिल वगैरह कुछ नही पढ़नी चाहिए और न ऐसे वक्त नवाफिल पढ़ना चाहिए कि ज़वाल का वक़्त दरमियान नमाज़ में हो जाए,

✪_अवकात के नकशो में जो ज़वाल का वक़्त लिखा होता है उसका मतलब ये होता है कि इसके बाद नमाज़ जाइज़ है,

✪_ज़वाल में तो ज़्यादा वक़्त नही लगता लेकिन अहतेयातन निस्फुनहार से 5 मिनट बाद  नमाज़ को नही पढ़ना चाहिए,

✪_ज़वाल का वक़्त दिन में होता है रात को नही,रात के किसी भी हिस्से में नमाज़ और सज़दे की मुमानत नही,

✪_रात के 12 बजे ज़वाल का तसव्वुर गलत है,और दिन में भी 12 बजे ज़वाल का वक़्त समझना गलत है क्योंकि मुख्तलिफ शहरों और मुख्तलिफ मौसमों के लिहाज से ज़वाल का वक़्त मुख्तलिफ होता है और बदलता रहता है,

✪_असर की नमाज़ हनफ़िया के नज़दीक मिस्ल अव्वल के बाद असर की नमाज़ दुरुस्त है,इसीलिए फुकहा हनफ़िया रह. फरमाते हैं कि मिस्ले सानी के बाद असर की नमाज़ पढ़ना मुस्तहब है,

✪_मिस्ले सानी खत्म हो जाने के बाद ज़्यादा ताख़ीर इसीलिए मुस्तहब है कि नवाफिल ज़्यादा पढ़ सके,

✪_तकसीर नवाफिल की गरज से इतनी ताख़ीर की जाए कि नामाज़ के बाद ग़ुरूब आफताब से पहले 6 मील सफर पैदल किया जा सके,

*📚एहसानुल फतावा,2/113,*

✪_ग़ुरूब के बाद उफ़क पर जो सुर्खी रहती है(ये वक़्त तक़रीबन सवा घंटा होता है,कमो बेष भी हो सकता है)तब तक मग़रिब की नामाज़ हो सकती है,

✪_ईशा की नामाज़ पढ़े बगैर सो जाना मकरूह है और हदीस में इस पर बद दुआ आई है,

✪_अगर आदमी सो जाए और उठ कर नामाज़ पढ़ ले तब भी नामाज़ हो जाएगी,

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल- जिल्द-२,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞Shara’it E Namaz-* ✦*
┗───┯ ✿

✯, Namaz Baar gaahe khudavandi ki haziri he, isliye namaz ke waqt achchhe kapde pehanna chahiye, ese kapdo me namaz makrooh he jise pehan kar Aadmi aam majlis me na ja sake,

✯,  Mele kuchele kapdo me namaz makrooh he,

✯,  Nange sar namaz padhna, isi tarah Kandhe aur Baazu khule hone ki haalat me namaz padhna makrooh he,
“__ Bager uzr ke Aadhi aasteen wali qameez ya baniyan pehan kar namaz padhna makrooh he,

✯,  Salwaar, Pajaama, Tehband latkana gunaahe kabira he, hadees me is per bahut vaeyde aayi he,
“_ Ek hadees me he k uski namaz qubool nahi hoti,

✯,  Momin ka Pajaama aadhi pindli tak hona chahiye, Takhno tak ho to koi harj nahi, lekin Jo takhno se niche ho wo dozakh me he,
        
✯, Pajaama, Salwaar, Takhno se niche rakhne ki muma’anat sirf namaz ke saath khaas nahi, balki kisi haal me bhi takhno se niche rakhna jaa’iz nahi, aur Jo cheez namaz ke bahar mamnu ho wo namaz ke andar badarja avlaa mamnu hogi,

✯,, Tasveer wale kapdo me namaz makrooh he, ese kapdo me hargiz namaz nahi padhni chahiye,
“_ khaal agar mazbuh jaanwar ki ho ya uski dabagat kar li jaye to usme namaz jaa’iz he,

✯,, Napaak kapdo me bhool kar namaz padh Lena, –  
“__ Agar napaaki ka vazan saade 3 maashe tha ya agar najasat siyal thi to uska felaav ek rupiye ke sikke ke barabar tha to namaz ho gayi, lotane ki zarurat nahi, agar isse zyada to namaz lotana hogi,
“__ Jis tarah chori ki cheez bechne se uske paise halaal nahi ho jate isi tarah chori ke kapdo se kapda tabdeel kar liya jaye to wo bhi halaal nahi hoga, aur chori ke kapdo me namaz makrooh he

       
✯, Bilkul majboori me Napaak kapdo me Namaz padhne ki ijazat,

*____Chand masa’il –*

✯,  Mard ka Satar naaf se lekar ghutno tak he, Jiska chhipana Mard ke liye namaz me farz he,

✯,  Agar lungi ya pajaama napaak ho gaya, magar kurta, Qameez ya koi aur kapda mojood he jisse itna satar chhipaya ja sakta he Jo ouper likha gaya he to lungi pajaama utaar kar us paak kapde se satar chhipaye aur usse namaz padhe, esi soorat me napaak lungi ya pajaama me namaz jaa’iz nahi,

✯, Aur agar baqadre Farz satar chhipane ke koi paak kapda nahi aur napaak kapde ko paak karne ki bhi koi soorat nahi to uski 3 soorate he’n –

“__1- Wo kapda ek chothai ya isse zyada paak he, is soorat me us napaak kapde me hi namaz padhna zaruri he, barhana padhne ki ijazat nahi,

“__ 2- wo kapda pure ka pura napaak he is soorat me barhana namaz padhe, lekin beth kar padhe aur ruku, sazda ke bajaye ishara kare,

“_ 3- Wo kapda ek chothai se kam paak he to is soorat me akhtyar he chahe kapda pehan kar namaz padhe ya kapda utaarkar beth kar ishare se Namaz padhe,         

   
✯, Vazu namaz ke liye shart he, Bager Vazu namaz padhna sakht gunaah he, aur iska kaffara tauba astagfaar he,

✯,  Agar peshab pakhane ka taqaza shiddat se ho to namaz chhod deni chahiye, esi haalat me namaz makrooh tehrimi he aur iska lotana zaruri he,

✯,  Nakhoon badana makrooh aur khilafe fitrat he, Namaz ka hukm ye he k agar nakhoon ke andar koi esi cheez jam jaye jiski vajah se paani andar na pahunch sake to na vazu hoga aur na namaz hogi,
Aur agar nakhoon andar se bilkul saaf ho to namaz sahi he,
“__ Nakhoon badane ka rivaaj musalmano me na Jane kiski taqleed se aaya he magar ye rivaaj bahut hi qabile nafrat he,

✯,  Agar andhere ki vajah se qibla rukh galat na ho to andhere me namaz padhne me koi harj nahi, namaz ho jaa’egi,

✯,  Jalti aag agar saamne ho to uski taraf namaz padhna makrooh he,

         
✯, Jo jagah lahu v la’ib  ke liye makhsoos ho waha namaz makrooh he, Ayn lahu v la’ib ke waqt makrooh tehrimi varna makrooh tanzihi he,

✯, Tasveer saamne ho to namaz makrooh he,dukaan me tasveer wala maal is tarah rakha jaye k tasveere pichhle rukh ho jaye to karahat jati rahegi,

*__ Ghar me TV rakhna jaa’iz nahi, lekin jab aap namaz padh rahe he’n us waqt TV band he to us kamre me aapki namaz bila karahat sahi he aur agar TV chal raha he to esi jagah per namaz padhna makrooh he,

✯, Gair Muslim ke ghar ke khali Farsh per namaz padhne me koi harj nahi,

✯, Zameen khusk hone ke baad Namaz ke liye paak ho jati he aur agar jagah paak ho to waha namaz padh sakte hai’n, aur agar paak kapda bichha liya jaye to aur bhi achchha he,

✯, Shar’an kirayadaar ke jimme maalik ke mutalbe per makaan khali Kar dena laazim he aur khali na karne ki soorat me woh gaasib he aur gasab ki zameen me namaz qubool nahi hoti,

✯, Qabristaan me namaz makrooh he lekin agar waha masjid ho k waha namaz padhne wale ke saamne qabre na ho to namaz bila karahat jaa’iz he,         
        
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
                  *☞  शराइते नमाज़-*

✪_नमाज़ बारगाहे खुदावन्दी की हाजिरी है,इसीलिए नमाज़ के वक़्त अच्छे कपड़े पहनना चाहिए ,ऐसे कपड़ों में नामाज़ मकरूह है जिसे पहन कर आदमी  आम मजलिस में न जा सके,

✪_मैले कुचैले कपड़े में नमाज़ मकरूह है,

✪_नंगे सर नमाज़ पढ़ना ,इसी तरह कंधे और बाज़ू खुले होने की हालत में नमाज़ पढना मकरूह है,

✪_बगैर उज़्र के आधी आस्तीन वाली कमीज या बनियान पहन कर नमाज़ पढ़ना मकरूह है,

✪_सलवार ,पजामा,तेहबन्द लटकाना गुनाहे कबीरा है,हदीस में इस पर बहुत वईद आयी है,
एक हदीस में है कि उसकी नमाज़ क़ुबूल नही होती ,

✪_मोमिन का पजामा आधी पिंडली तक होना चाहिए ,टखनों तक हो तो कोई हर्ज नही ,लेकिन जो टखनों से नीचे हो वो दोज़ख में है,_,*

✪_पाजामा ,सलवार,टखनों से नीचे रखने की मुमानत सिर्फ नमाज़ के साथ खास नही ,बल्कि किसी हाल में भी टखनों से नीचे रखना जाइज़ नही,और जो चीज़ नमाज़ के बाहर ममनु हो वो नमाज़ के अंदर बदर्ज अवला ममनु होगी,

✪_तस्वीर वाले कपड़ों में नमाज़ मकरूह है,ऐसे कपड़ों में हरगिज़ नमाज़ नही पढ़नी चाहिए,

✪_खाल अगर मज़बूह जानवर की हो या उसकी दबागत कर ली जाए तो उसमें नमाज़ जाइज़ है,

*☞_नापाक कपड़ों में भूल कर नमाज़ पढ़ लेना,*

✪_अगर नापाकी का वजन साढ़े 3 माशे था या अगर नजासत सियाल थी तो उसका फैलाओ एक रुपये के सिक्के के बराबर था तो नमाज़ हो गई,लौटाने की ज़रूरत नही,अगर इससे ज़्यादा तो नमाज़ लौटाना होगा,

✪_जिस तरह चोरी की चीज़ बेचने से उसके पैसे हलाल नही हो जाते इसी तरह चोरी के कपड़ों से कपड़ा तब्दील कर लिया जाए तो वो भी हलाल नही होगा,और चोरी के कपड़ों में नमाज़ मकरूह है,

  *☞बिल्कुल मजबूरी में नापाक कपड़ों में नामाज़ पढ़ने की इजाज़त -चंद मसाइल*

✪_मर्द का सतर नाफ़ से लेकर घुटनों तक है जिसका छुपाना मर्द के लिए नमाज़ में फ़र्ज़ है,

✪_अगर लुंगी या पैजामा नापाक हो गया,मगर कुर्ता,क़मीज़ या कोई और कपड़ा मौजूद है जिससे इतना सतर छिपाया जा सकता है जो ऊपर लिखा गया है तो लुंगी पजामा उतार कर उस पाक कपड़े से सतर छिपाए और उससे नमाज़ पढ़े,ऐसी सूरत में नापाक लुंगी या पजामा में नमाज़ जाइज़ नही,

✪_और अगर बक़दरे फ़र्ज़ सतर छिपाने के कोई पाक कपड़ा नही और नापाक कपड़े को पाक करने की भी कोई सूरत नही तो उसकी 3 सूरतें हैं,

1-वो कपड़ा एक चौथाई या इससे ज़्यादा पाक है,इस सूरत में उस नापाक कपड़े में ही नमाज़ पढ़ना ज़रूरी है,बरहना पढ़ना की इजाज़त नही,

2-वो कपड़ा पूरा का पूरा नापाक है इस सूरत में बरहना नमाज़ पढ़े,लेकिन बैठ कर पढ़े और रुकू सज़दा की बजाए इशारा करे,

3-वो कपड़ा एक चौथाई से कम पाक है तो इस सूरत में इख़्तेयार है चाहे कपड़ा पहन कर नमाज़ पढ़े या कपड़ा उतारकर बैठ कर इशारे से नमाज़ पढ़े,

✪_वज़ू नामाज़ के लिए शर्त है,बगैर वज़ू नमाज़ पढ़ना सख्त गुनाह है,और इसका कफ़्फ़ारा तौबा अस्तग़फ़ार है,

✪_अगर पेशाब पाखाने का तक़ाज़ा शिद्दत से हो तो नमाज़ छोड़ देनी चाहिए,ऐसी हालत में नमाज़ मकरूह तहरीमी है और लौटाना ज़रूरी है,

✪_नाखून बढ़ाना मकरूह और ख़िलाफ़े फितरत है,नमाज़ का हुक्म ये है कि अगर नाखून के अंदर कोई ऐसी चीज़ जम जाए जिसकी वजह से पानी अंदर न पहुंच सके तो न वज़ू होगा और न नमाज़ होगी,और अगर नाखून अंदर से बिल्कुल साफ हो तो नमाज़ सही है,_नाखून बढ़ाने का रिवाज मुसलमानों में ना जाने किसकी तक़लीद से आया है मगर ये रिवाज बहुत ही क़ाबिले नफरत है,

✪_अगर अंधेरे की वजह से किबला रुख गलत न हो तो अंधेरे में नमाज़ पढ़ने में कोई हर्ज नही ,नमाज़ हो जाएगी,

✪_जलती आग अगर सामने हो तो उसकी तरफ नमाज़ पढ़ना मकरूह है,

✪_जो जगह लहू व लई'ब के लिए मख़सूस हो वहां नामाज़ मकरूह है,
_ऐन लहू व ल'इब के वक़्त मकरूह तहरीमी वरना मकरूह तंज़ीमी है,

✪_तस्वीर सामने हो तो नमाज़ मकरूह है,दुकान में तस्वीर वाला माल इस तरह रखा जाए कि तस्वीरें पिछले रुख हो जाए तो कराहत जाती रहेगी,

✪_घर मे टीवी रखना जाइज़ नही,लेकिन जब आप नमाज़ पढ़ रहे हैं उस वक़्त टीवी बन्द है तो उस कमरे में आपकी नमाज़ बिला कराहत सही है और अगर टीवी चल रही है तो ऐसी जगह पर नमाज़ पढ़ना मकरूह है,

✪_गैर मुस्लिम के घर के खाली फर्श पर नमाज़ पढ़ने में कोई हर्ज नही,

✪_ज़मीन खुश्क होने के बाद नमाज़ के लिए पाक हो जाती है और अगर जगह पाक हो तो वहां नमाज़ पढ़ सकते हैं,और अगर पाक कपड़ा बिछा लिया जाए तो और भी अच्छा है,

✪_शरअन किराए दार के जिम्मे मालिक के मुतालबे पर मकान खाली कर देना लाज़िम है और और खाली न करने की सूरत में वो ग़ासिब है और गसब कि ज़मीन में नमाज़ क़ुबूल नही होती,

✪_क़ब्रिस्तान में नमाज़ मकरूह है लेकिन अगर वहां मस्जिद हो कि वहां नामाज़ पढ़ने वाले के सामने क़ब्रे न हो तो नमाज़ बिला कराहत जाइज़ है,

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,* 
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞Namaz Ke Fara’iz_  ✦*
┗───┯ ✿
         
✯, Namaz ke 14 Farz he’n, Jinme Chand ese he’n Jinka Namaz se pehle hona zaruri he aur unko Namaz ke kharji Fara’iz bhi kehte he aur shara’ite Namaz bhi kaha jata he, Aur chand Faraiz ese he’n Jo dakhile Namaz he’n, Sabki fehrist ye he, :-
1- Badan ka paak hona,

 2- Kapdo ka paak hona,

 3- Satar ya Mardo ko naaf se ghutno tak aur Aurto’n ko chehra aur hatheliyo aur qadmo ke alawa Badan ko dhaankna,

 4- Namaz ki jagah ka paak hona,

 5- Namaz ka waqt hona,

 6- Qibla ki taraf rukh karna,

 7- Namaz ki niyat karna,

 8- Takbeere tehrima,

 9- Qayaam yani khada hona,

 10- Qiraat yani ek badi aayat ya teen chhoti aayate ya ek chhoti surat padhna,

 11- Ruku karna,

 12- Sajda karna,

 13- Qaada akhira,

 14- Apne iraade se Namaz khatm karna,

✯,  Faraiz ka hukm ye he k koi farz qasdan chhod diya ya bhool kar, dono soorto me Namaz na hogi, dobara padhna laazim hoga,

*📚 Sharah Al Bidaya, 1/92*         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Fiqahul ibaad,, 114*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नामाज़ के फ़राइज़_,*

✪_नमाज़ के 14 फ़र्ज़ है,जिनमे चंद ऐसे हैं जिनका नमाज़ से पहले होना ज़रूरी है और उनको नमाज़ के खारजी फ़राइज़ भी कहते हैं और शराइते नामाज़ भी कहा जाता है,और चंद फ़राइज़ ऐसे हैं जो दाखिले नामाज़ हैं सबकी फेहरिस्त ये है:-

1-बदन का पाक होना,

2-कपड़ों का पाक होना,

3-सतर या मर्दों को नाफ़ से घुटनों तक और औरतों को चेहरा और हथेलियों और क़दमों के अलावा बदन को ढांकना,

4-नमाज़ की जगह का पाक होना,

5-नामाज़ का वक़्त होना,

6-कि़बला की तरफ रुख होना,

7-नमाज़ की नीयत करना,

8-तकबीरे तहरीमा,

9-क़याम यानी खड़ा होना,

10-कि़रात यानी एक बड़ी आयात या तीन छोटी आयतें या एक छोटी सुरत पढ़ना,

11-रुकू करना,

12-सज्दा करना,

13-क़ा'अदा आखिरा,

14-अपने इरादे से नमाज़ खत्म करना,

✪_फ़राइज़ का हुक्म ये है कि फ़र्ज़ क़सदन छोड़ दिया या भूल कर,दोनों सूरतों में नमाज़ न होगी,दोबारा पढ़ना लाज़िम होगा,

*📚_ शरह अल बिदाया -१/१९२,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz Ke Wajibaat_ ✦*
┗───┯ ✿

✯, Namaz me ye wajibaat he’n –

 1- Alhamd ( surah Fatiha) puri padhna,
 2- uske saath koi surat milana,
 3- Farzo ki pehli do raka’ato me qiraat karna,
 4- Alhamd ( surah Fatiha) ko surat se pehle padhna,
 5- Ruku karke sidha khada hona,
 6- Dono sajdo ke darmiyan sidha hokar bethna,
 7- Pehla qaada karna,
 8- Attahiyaat padhna,
 9- Lafze Salaam se Namaz khatm karna,
 10- Imaam ke liye magrib v isha ki pehli do raka’ato me aur fajar v Juma v Eiden aur Taraveeh ki sabhi raka’ato me qiraat buland awaaz se padhna,
 11- Vitr me Duae qunoot padhna,
 12- Eiden me 6 zaa’id takbire kehna,

✯, Wajibaat me se agar koi wajib bhool kar chhot jaye to sajda sahu karna wajib hoga, Agar qasdan ( jaan boojhkar) kisi wajib ko chhod diya to dobara Namaz padhna wajib he sajda sahu se bhi kaam na chalega,

*📚 Durre Mukhtar, 1/470*        

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Fiqahul ibaad,, 115*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नमाज़ के वाजिबात_,*

✯,_नमाज़ में ये वाजिबात हैं:-

1-अलहम्द (सूरह फातिहा) पूरी पढ़ना,

2-उसके साथ कोई सुरत मिलाना,
3-फ़र्ज़ों की पहली 2 रक़ातों में किरात करना,
4-अलहम्द (सूरह फातिहा) को सूरत से पहले पढ़ना,
5-रुकू कर के सीधा खड़ा होना,
6-दोनों सजदों के दरमियान सीधा होकर बैठना,
7-पहला क़ा'अदा करना,
8-अत्तहियात पढ़ना,
9-लफ़्ज़े सलाम से नामाज़ खत्म करना,
10-इमाम के लिए मग़रिब व ईशा की पहली दो रक़ातों में और फजर व जुम्मा व ईदैन और तरावीह की सभी रक़ातों मे किरात बुलंद आवाज़ से पढ़ना,
11-वित्र में दुआए क़ुनूत पढ़ना,
12-ईदैन में 6 ज़ायद तकबीरे कहना,

✯,वाजिबात में से अगर कोई वाजिब भूल कर छूट जाए तो सज्दा सहु करना वाजिब होगा,अगर क़सदन (जान बूझकर )किसी वाजिब को छोड़ दिया तो दोबारा नमाज़ पढ़ना वाजिब है सज्दा सहु से भी काम न चलेगा, _,*
*( दुर्रे मुख्तार-1/470)*

*📚_ फिक़हुल इबादात_११५,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Mufasidaate Namaz ✦*
┗───┯ ✿
        
✯, in cheezo se Namaz Faasid ho jati he:-

 1- Baat karna thodi ho ya zyada, qasdan ho ya bhool kar,
 2- Salaam karna ya Salaam ka jawab Dena,
 3- Chheenkne wale ke jawab me Yarahmakallah kehna,
 4- Ranj ki khabar sunkar inna lillah pura ya thoda sa padhna ya achchhi khabar sunkar Alhamdulillah kehna ya azeeb cheez sunkar Subhanallah kehna,
 5- Dukh Takleef ki vajah se Aah! Oh! Ya Uff! Kehna,
 6- Quran Sharif dekh kar padhna,
 7- Alhamd ( surah Fatiha) ya surat me esi galti karna jisse Namaz Faasid ho jati he, ( Tafseel ulema ikraam se puchhe)
 8- Amale kaseer maslan esa kaam karna jise dekhne wala ye samjhe k ye shakhs Namaz nahi padh raha he ya maslan dono haatho se koi kaam karna,
 9- Qasdan ya bhool kar kuchh khana pina,
 10- Qibla se seena fir Jana,
 11- Dard ya musibat ki vajah se is tarah rona k awaaz me harf nikal jaye,
 12- Ruku v Sajda wali Namaz me awaaz ke saath hansna,

*📚 Durre Mukhtar, 1/643*        

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚   Fiqahul ibaad,, 116_*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞  मुफास्सीदाते नमाज़*

✪_इन चीजों से नमाज़ फ़ासिद हो जाती है,:-

1-बात करना थोड़ी हो या ज़्यादा,क़सदन हो या भूल कर,
2-सलाम करना या सलाम का जवाब देना,
3-छींकने वाले के जवाब में यरहमकल्लाह कहना,
4-रंज की खबर सुनकर इन्ना लिल्लाह पूरा या थोड़ा सा पढ़ना या अच्छि खबर सुनकर अल्हम्दुलिल्लाह कहना या अजीब चीज़ सुनकर सुब्हानल्लाह कहना,

5-दुख ,तकलीफ, की वजह से आह!ओह!या उफ्फ!कहना,

6-क़ुरआन शरीफ देख कर पढ़ना,
7-अलहम्द (सूरह फातिहा)या सुरत में ऐसी गलती करना जिससे नमाज़ फ़ासिद हो जाती है,(तफसील उलेमा किराम से पूछें)

8-आमाले कसीर मसलन ऐसा काम करना जिसे देखने वाला ये समझे की ये शख्स नमाज़ नही पढ़ रहा है या मसलन दोनों हाथों से कोई काम करना,
9-क़सदन या भूल कर कुछ खाना पीना,
10-कि़बला से सीना फिर जाना,
11-दर्द या मुसीबत की वजह से इस तरह रोना की आवाज़ में हर्फ़ निकल जाए,
12-रुकू या सज्दा वाली नमाज़ में आवाज़ के साथ हंसना,_,*

*( दुर्रे मुख्तार-1/643)*

*📚_ फिक़हुल इबादात -116,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz ki Sunnate_ ✦*
┗───┯ ✿

✯, Ye cheeze Namaz me Sunnat he’n: –

 1- Takbeere Tehrima ke waqt dono haath uthana,
“_ Aurat kaandhe tak uthaegi aur Mard kaan ki lo tak,

 2- Mardo ko naaf ke niche aur Aurto’n ko seene per haath baandhna,
 3- Sana yani ” Subhanakallahumma ..”akheer tak padhna,
4- ” A’auzubillah ..” puri padhna,
 5- Bismillah ..puri padhna,

 6- Ruku aur Sajde ko jaate waqt balki har ek rukn se doosre rukn me muntqil hote waqt” Allah Akbar “kehna,
 7- Ruku se uthte hue ” Sami’ allahuliman hamida “aur ” Rabbana lakal hamd ” kehna,
8- Ruku me ” Subhana rabbiyal azeem ” kam se kam 3 martaba padhna,

 9- Sajde me ” Subhana rabbiyal a’ala ” kam se kam 3 martaba padhna,
 10- Dono sajdo ke darmiyan aur Attahiyat ke liye Mardo ko Baaye Paanv per bethna aur Daahina paanv khada karna, aur Aurto ‘n ko dono paanv sidhi taraf nikaal kar dhad ke Baaye hisse per bethna,
11- Darood Shareef padhna,
 12- Darood Shareef ke baad Dua padhna,
 13- Salaam ke waqt Daayi -Baayi taraf moonh ferna,
 14- Salaam ferne me Farishto, Muqtadiyo, Jinnato Jo haajir ho unki niyat karna, aur agar jama’at se Namaz padh raha he to muqtadi agar imaam ke pichhe ho to dono salaamo me imaam ki niyat kare, aur agar imaam Daayi Baayi jaanib he to jis taraf imaam ho us taraf ke salaam me imaam ki niyat kare,

*📚 Durre Mukhtar, 1/473,*
        
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 Fiqahul ibaad,, 117,*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
              *☞  नमाज़ की सुन्नतें*

✪_ये चीजें नामाज़ में सुन्नत हैं:-

1-तकबीरे तहरीमा के वक़्त दोनो हाथ उठाना,
"औरत कांधे तक उठाएगी और मर्द कान की लॉ तक,
2-मर्दों को नाफ़ के नीचे और औरतों को सीने पर हाथ बांधना,
3-सना यानी "सुब्हानकल्लाहुम्मा" आखीर तक पढ़ना,
4-आउजु़बिल्लाह पूरी पढ़ना,
5-बिस्मिल्लाह पूरी पढ़ना,
6-रुकू और सज्दे को जाते वक्त बल्कि हर एक रुक्न से दूसरे रुक्न में मुंतकिल होते वक़्त अल्लाहु अकबर कहना,
7-रुकू से उठते हुए "समी अल्लाहुलिमन हमीदा" और रब्बना लकल हम्द"कहना,
8-रुकू में "सुब्हाना रब्बियल अज़ीम"कम से कम 3 मर्तबा पढ़ना,
9-सज्दे में सुब्हाना रब्बियल आ'ला ,कम से कम 3 मर्तबा पढ़ना,
10-दोनों सज़दों के दरमियान और अत्तहियात क लिए मर्दों को बांये पांव पर बैठना और दाहिना पांव खड़ा करना,और औरतों को दोनो पांव सीधी तरफ निकाल कर धड़ के बांये हिस्से पर बैठना,

11-दरूद शरीफ पढ़ना,
12-दरूद शरीफ के बाद दुआ पढ़ना,
13-सलाम के वक़्त दाई -बाई तरफ मूंह फेरना,
14-सलाम फेरने में फरिश्तों,मुक्तादियों,जिन्नातों जो हाजिर हो उनकी नियत करना,और अगर जमात से नमाज़ पढ़ रहा है तो मुक़तदी अगर इमाम के पीछे हो तो दोनों सलामों में इमाम की नीयत करे, और अगर इमाम दाई बाई जानिब है तो जिस तरफ इमाम हो उस तरफ के सलाम में इमाम की नीयत करे,_,*

*📚दुर्रे मुख्तार-, 1/473,*
        
*📚 फिक़हुल इबादात, 117,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz ke Mustahabaat ✦*
┗───┯ ✿
        
✯, Namaz me ye cheeze Mustahab he’n: –

 1- Jaha tak mumkin ho khansi ko rokna,

 2- Jamaa’i aaye to moonh band karna,

 3- Khade hone ki haalat me Sajde ki jagah, Ruku me qadmo per aur Sajde me naak per aur Bethe hue goad me aur Salaam ke waqt kaande per nazar rakhna,

 4- Ruku v Sajde me munfarid ( Jo akele namaz padh raha ho) ko 3 martaba se zyada tasbihaat kehna,

 5- Har raka’at me khade hokar Surah Fatiha se pehle aur Surah Fatiha ke baad Soorat shuru karne se pehle” Bismillah ..” puri padhna,

 6- Surah Fatiha ki har aayat per waqfa karna,

✯, Namaz ki kisi sunnat ko chhodna makrooh he aur Mustahabaat per amal na karne se ajr me kami hoti he,

📚 *Durre Mukhtar, 1/477*
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚   Fiqahul ibaad,, 119*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
    *☞ नमाज़ के मुस्तहबात_,*

✪_नामाज़ में ये चीजें मुस्तहब हैं:-

1-जहां तक मुमकिन हो खांसी को रोकना,

2-जम्हाई आए तो मूंह बंद करना,

3-खड़े होने की हालत में सज्दे की जगह,रुकू में क़दमो पर और सज्दे में नाक पर और बैठे हुए गोद मे और सलाम के वक़्त कांधे पर नज़र रखना,

4-रुकू व सज्दे में मुंफरिद (जो अकेले नमाज़ पढ़ रहा हो) को 3 मर्तबा से ज़्यादा तसबिहात कहना,

5-हर रकअत में खड़े होकर सूरह फातिहा से पहले और सूरह फातिहा के बाद सूरत शुरू करने से पहले बिस्मिल्लाह पूरी पढ़ना,

6-सूरह फातिहा की हर आयात के बाद वक्फा करना,

✪_नमाज़ की किसी सुन्नत को छोड़ना मकरूह है और मुस्तहबात पर अमल न करने से अजर् में कमी होती है, _,*

*( दुर्रे मुख्तार-1/477)*

*📚_ फिक़हुल इबादात- 119,* 

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Makroohaat e Namaz ✦*
┗───┯ ✿
          
✯, Ye cheeze Namaz me makrooh he: –

 1- Kokh per haath rakhna,

 2- Kapda sametna,

 3- Jism ya kapde se khelna,

 4- Ungliya chatkhana ya ek haath ki ungliya doosre haath me dakhil karna,

 5- Daaye Baaye gardan modna,

 6- Angdaai Lena yani Namaz me susti utaarna,

 7- Kutte ki tarah bethna, yani dono janu ouper karke dono haath zameen per tek kar sureen ke bal bethna,

 8- Chaadar vagera ko latkana,

 9- Bager uzr ke chaar janu yani aalti paalti maarkar bethna,

 10- Tasveer wali jagah Namaz padhna,

 11- Tasveer wale kapdo me Namaz padhna,

 12- Peshab Pakhana ya bhookh ka taqaza hote hue Namaz padhna,

 13- Aankhe’n band karke Namaz padhna, ( albatta yaksui ke liye esa karna makrooh nahi ),

*📚 Hidaya,, 1/141, Shami, 1/638*
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Fiqahul ibaad,, 119*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
        *☞ मकरूहाते नमाज़*

✪_ये चीजें नामाज़ में मकरूह है:-

1-कोख पर हाथ रखना,

2-कपड़ा समेटना,

3-जिस्म या कपड़े से खेलना,

4-उंगलियां चटकाना या एक हाथ की उंगलियां दूसरे हाथ मे दाखिल करना,

5-दाएं बाएं गर्दन मोड़ना,

6-अंगड़ाई लेना यानी नमाज़ में सुस्ती उतारना,

7-कुत्ते की तरह बैठना,यानी दोनों जानू ऊपर कर के दोनों हाथ ज़मीन पैर तक सुरीन के बल बैठना,

8-चादर वगैरह कप लटकाना,

9-बगैर उज़्र के चार जानू यानी आलति पालती मारकर बैठना,

10-तस्वीर वाली जगह नमाज़ पढ़ना,

11-तस्वीर वाले कपड़ों में नमाज़ पढ़ना,

12-पेशाब पाखाना या भूक का तक़ाज़ा होते हुए नमाज़ पढ़ना,

13-आंखें बंद कर के नमाज़ पढ़ना,(अलबत्ता यकसुई के लिए ऐसा करना मकरूह नही) _,*

*(हिदाया- 1/141,शामी-, 1/638)*

*📚_ फिक़हुल इबादात-119,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz Ke Liye Niyat ✦*
┗───┯ ✿

✯, Namaze Juma me Farz aur Sunnat dono me Farze Juma aur Sunnate Juma ki hi niyat ki jati he,

✯, Niyat dil ka fayl he agar dil me iraada zuhar ki namaz padhne ka tha magar galti se Zuhar ki jagah Asr ka waqt zuban se nikal gaya to bhi namaz sahi ho gayi,

✯, Niyat ke alfaaz dil ko mutavajjah karne ke liye zubaan se Ada kiye jate hai’n,-

✯, Zuban se Namaz ki niyat ke alfaaz kehna na Quran v hadees se sabit he aur na Aaimma muqtadeen se, isliye asal niyat Dil hi ki he,
“___Magar logo per vasawis v khayalaat aur afkaar ka galba rehta he, jiski vajah se niyat ke waqt Dil mutavajjah nahi hota, Dil ko mutavajjah karne ke liye mutakhireen ne fatwa diya he k niyat ke alfaaz zubaan se bhi Ada kar lena behtar he, taki zubaan ke saath Dil bhi mutavajjah ho jaye,

✯, Namaz ba-jama’at me iqtda e imaam ki niyat yani me akela namaz nahi padh raha imaam ke saath padh raha hu, aur imaam ko bhi imaamat ki niyat yani me akela namaz nahi padh raha balki logo ko namaz padha raha hu’n,

✯, Niyat ki galti sazda sahu se durust nahi hoti, agar dil me dhyan hi nahi tha to namaz ki niyat baandh kar namaz naye sire se shuru kare,

✯, Vitr ki namaz ki niyat me waqte isha kehne ki zarurat nahi, albatta ye niyat karna zaruri he k me aaj ke vitr padh raha hu’n,

✯, Niyat ke liye namaz ka Tai kar Lena kaafi he Raka’ato ki tadaad ginne ki zarurat nahi,

✯, Niyat ke alfaaz chahe kisi bhi zubaan me kahe ( arbi, urdu vagera) jaa’iz he,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
             *☞  नमाज़ के लिए नियत*

✪_नमाज़े जुमा में फ़र्ज़ और सुन्नत दोनो में फर्ज़े जुमा और सुन्नते जुमा की ही नियत की जाती है,

✪_नियत दिल का फ़ेल है अगर दिल मे इरादा ज़ुहर की नमाज़ पढ़ने का था मगर गलती से ज़ुहर की जगह असर का वक़्त ज़ुबान से निकल गया तो भी नमाज़ सही हो गई,

✪_नियत के अल्फ़ाज़ दिल को मुतवज्जह करने के लिए ज़ुबान से अदा किए जाते हैं:-

✪_ज़ुबान से नमाज़ की नियत के अल्फ़ाज़ कहना न क़ुरआन व हदीस से साबित है और न आइम्मा मुक़तदी से,इसीलिए असल नियत दिल ही की है,

"_मगर लोगों पर वसाविस व खयालात और अफ़कार का ग़लबा रहता है,जिसकी वजह से नियत के वक़्त दिल मुतवज्ज़ह नही होता,दिल को मुतवज्ज़ह करने के लिए मुताख़िरीन ने फतवा दिया है कि नियत के अल्फ़ाज़ ज़ुबान से भी अदा कर लेना बेहतर है,ताकि ज़ुबान के साथ दिल भी मुतवज्ज़ह हो जाए,

✪_नमाज़ ब जमात में इक़्तेदा ए इमाम की नियत यानी मैं अकेला नमाज़ नही पढ़ रहा इमाम के साथ पढ़ रहा हुं ,और इमाम को भी इमामत की नियत यानी में अकेला नमाज़ नही पढ़ रहा बल्कि लोगो को नमाज़ पढ़ा रहा हूँ,

✪_नियत की गलती सज़दा सहु से दुरुस्त नही होती,अगर दिल मे ध्यान ही नही था तो नमाज़ की नियत बांध कर नमाज़ नए सिरे से शुरू करें,

✪_वित्र की नमाज़ की नीयत में वक़्ते ईशा कहने की ज़रूरत नही ,अलबत्ता ये नियत करना ज़रूरी है कि मैं आज की वित्र पढ़ रहा हूँ,

✪_नियत के लिए नामाज़ का तै कर लेना काफी है रक़ातों कि तादाद गिनने की ज़रूरत नही,

✪_नियत के अल्फ़ाज़ चाहे किसी भी ज़ुबान में कहे(अरबी ,उर्दू वगैरह जाइज़ है,_,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│।        *☞ Qibla Rukh ✦*
┗───┯ ✿        

✯, Qibla se mamooli fark ho to namaz ho jaa’egi aur agar 25 digri ya isse zyada ho to namaz nahi hogi,

✯, Agar musafir ko Qibla maloom na ho to pehle kisi se daryaft kare, agar waha koi batane wala na ho to khud soche, gor fikr karne ke baad jis taraf tabiyat ka rujhaan ho k Qibla is taraf hoga, usi taraf namaz padh le,

✯, Nabina Aadmi ke liye zaruri he k wo doosre se apne qibla rukh ko sahi kara liya kare, agar usne bager puchhe khud hi kisi bhi taraf rukh kar liya aur wo rukh qibla nahi tha to namaz nahi hogi,
aur agar namaz ke dauran wo qibla rukh se hat jaye to namaz ke andar hi usko qibla ki taraf kar diya jaye,

✯, Qibla rukh bethkar wazaif padhna, Duae karna to bahut achchhi baat he magar Qibla avval yani Betul Muqaddas ki taraf moonh karke bethna ya us taraf sazda karna galat he kyuki wo ab qibla nahi raha mansookh ho chuka he,

✯, Jis Janamaaz per Roza e Rasool ki tasveer ya koi naqso nigaar bani ho esi janamaaz ko fuqha ne khilafe aula likha he taki khayal naqso nigaar ki taraf na jaye,

✯, Halaal janwaro ki dabagat shuda khaal ki janamaaz paak he us per namaz Ada ki ja sakti he,

✯, Kiraaye ki chhadar, Dariyo ka paak hona maloom nahi hota isliye in per kapda bichhaye bager namaz nahi padhni chahiye,

✯, Haram sharif me namaz padhte hue namazi ka rukh ayn Betullah ki taraf hona shart he,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
                   *☞ किबला रुख*

✪_किबला से मामूली फर्क हो तो नमाज़ हो जाएगी और अगर 25 डिग्री या इससे ज़्यादा हो तो नमाज़ नही होगी,

✪_अगर मुसाफिर को क़िब्ला मालूम न हो तो पहले किसी से दरयाफ्त करे,अगर वहां कोई बताने वाला न हो तो खुद सोचे,गौर फिक्र करने के बाद जिस तरफ तबियत का रुझान हो कि क़िब्ला इस तरफ होगा ,उसी तरफ नमाज़ पढ़ ले,

✪_नाबीना आदमी के लिए ज़रूरी है कि वो दूसरे से अपने क़िब्ला रुख हो सही करा लिया करे,अगर उसने बगैर पूछे ही किसी भी तरफ रुख कर लिया और वो रुख क़िब्ला नही था तो नमाज़ नही होगी ,
और अगर नामाज़ के दौरान वो क़िब्ला रुख हट जाए तो नमाज़ के अंदर ही उसको क़िब्ला की तरफ कर दिया जाए,

✪_कि़बला रुख बैठकर वज़ाइफ पढ़ना,दुआए करना तो बहुत अच्छी बात है मगर क़िब्ला अव्वल यानी बैतूल मुक़द्दस की तरफ मुंह कर के बैठना या उस तरफ सज़दा करना गलत है क्योंकि वो अब क़िब्ला नही रहा मंसूख हो चुका है,

✪_जिस जानमाज़ पर रोज़ा ए रसूल की तस्वीर या कोई नक़्सो निगार बनी हो ऐसी जा नमाज़ को फुकहा ने ख़िलाफ़े औला लिखा है ताकि खयाल नक़्सो निगार की तरफ न जाए,

✪_हलाल जानवरो की दबागत शुदा खाल की जानमाज़ पाक है उस पर नमाज़ अदा की जा सकती है,

✪_किराए की चादर , दरियों का पाक होना मालूम नहीं होता इसीलिए इन पर कपड़ा बिछाए बगैर नमाज़ नही पढ़नी चाहिए,

✪_हरम शरीफ में नामाज़ पढ़ते हुए नमाज़ी का रुख एन बैतुल्लाह की तरफ होना शर्त है, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz Ada karne ka Tareeqa -✦*
┗───┯ ✿

✯, Qayaam ki haalat me nazar sazde ki jagah honi chahiye, Ruku me qadmo per, sazde me naak ki niple per, qa’ada me raano per aur Salaam kehte hue daaye aur baaye kandhe per,

✯, Namaz me dono paanvo ki aydiyo ke darmiyan faasla qareeb 4 angusht mustahab he,

✯, Takbire tehrima Farz he baqi Takbire sunnat he’n,

✯, Takbire tehrima ke waqt haath uthane ki 3 rivayaat he’n,
"_Ek Kandho ke barabar, Doosri kaano ke barabar aur Teesra sar ke barabar,

✯, Teeno rivayaat me koi ta’aruz nahi, haatho ka niche ka hissa kandho tak, angutha kaano ki lo tak, aur anguliya sar tak ho, Angutho ko kaano ki lo se mas karna,

✯, Durre Mukhtar me Takbeer kehte waqt hatheliyo ka rukh qibla rukh hona behtar he,

✯,  Takbire tehrima ki fazilat us shakhs ke liye he Jo imaam ki tehrima ke waqt mojood ho,
“__,  baaz ne isme zyada wusat paida karte hue kaha he k Jo shakhs qiraat shuru hone se pehle shareek ho jaye usko bhi ye fazilat hasil ho ja’egi,
“_ Aur baaz ne mazeed wusat dete hue kaha k Jo qiraat khatm hone se pehle shareek ho jaye usko bhi ye fazilat he,

✯,  Namaz me haath baandhna Sunnat se saabit he,
“__ Rafa yaden Takbire tehrima ke liye bila ittefaq sunnat he, iske alawa doosre mawaq’a per rafa yaden na karna behtar he,
“__ Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam se tarke rafa yaden bhi saabit he, Imaam Abu Hanifa Rh aur bahut se Aaimma e deen ne isi ko akhtyar kiya he, Jo Hazraat rafa yaden ke qaa’il he’n wo bhi isko mustahab aur afzal hi farmate he’n, farz aur wajib nahi kehte, isliye ye kehna k rafa yaden ke bager namaz nahi hoti khalis jahalat he,

✯,  Ruku me sar aur kamar ek seedh me aur taange aur ghutne ek seedh me hona chahiye,
"_,  Beth kar namaz padhne wala ruku me itna jhuke k sar ghutno ke barabar aa jaye,

✯, Sazde me peshani aur naak lagana dono zaruri he, sirf peshani lagana naak na lagana makrooh tehrimi he aur esi namaz ka lotana wajib he,

✯,  Namaz ka sazda zameen per karne per qudrat na ho to sazda ka ishara Kar lena kaafi he, koi cheez aage rakh kar us per sazda karna zaruri nahi,

✯,  Sazde ki haalat me kohniya itni zyada nahi felana chahiye k jisse doosro ko takleef ho,
"_ Imaam Abu Hanifa Rh. ke nazdeek Aurat ko zameen se chipak kar sazda karne ka hukm he,

✯,  Namaz me ruku ke baad itminaan ke saath sidha khada hona aur dono sajdo ke darmiyan itminaan se bethna ( rukn to nahi magar ) wajib he, iska ahatmam zarur karna chahiye,
“_ aur imaam ko bhi laazim he k namaz is tarah padhaye k muqtadi qoma aur jalsa itminaan se kar sake,

✯, ,Qa’ada me dono haath Raano per rakhe, ungliya’n qibla ki taraf is tarah rakhe k ungliyo’n ke sire ghutno ke qareeb tak pahunch jaye, magar ghutno ko pakde nahi varna ungliyo’n ka rukh qibla ki taraf nahi rahe ,    
  
✯, Attahiyaat me tashahud ke waqt sidhe haath ki shahadat ki ungli uthai jati he,

✯, Tashahud me angusht shahadat ke saath ishara karna sunnat he, ishare ka Tareeqa ye he k, ” Ashhadu Allailaha illallah ” kehte hue ” La” per ungli uthaye aur ” illallah ” per gira de,

✯,Shahadat ke baad ungliyo’n ka halqa salaam tak baqi rakh jaye aur shahadat ki ungli salaam tak badastoor alag rahe, shahadat ke baad ungliyo’n ko felaya na jaye, balki mutthi salaam tak badastoor band rehni chahiye,

✯, Fiqhi kitaabo me iski vajah ye likhi he k ungli uthane se ishara gairullah se uluhiyat kii nafi ki taraf he, aur ungli rakhne se ishara haq ta’aala Shanh ke liye uluhiyat ke asbaat ki taraf


✯, Attahiyaat dono qa’ado me padhna wajib he agar pehle qa’ade me muqtadi ki attahiyaat puri nahi hui aur imaam teesri raka’at ke liye khada ho gaya to muqtadi imaam ki pervi na kare balki apna tashahud ( attahiyaat) puri karke khada ho,
“__ isi tarah akhri qa’ade me muqtadi ka tashahud pura nahi hua tha k imaam ne salaam fer diya to muqtadi imaam ke saath salaam na fere
 balki apna tashahud pura karke salaam fere,

✯, Agar koi shakhs pehle qa’ade me aakar jama’at me shareek hua aur usne attahiyaat shuru ki thi k imaam khada ho gaya to ye shakhs imaam ke saath khada na ho balki attahiyaat puri padh kar khada ho,

✯, Agar koi shakhs akhri qa’ade me shareek hua abhi attahiyaat puri nahi ki thi k imaam ne salaam fer diya to ye shakhs foran khada na ho jaye balki attahiyaat puri karke khada ho,         
       
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नमाज़ अदा करने का तरीका-*

✪_क़याम की हालत में नज़र सज्दे की जगह होनी चाहिये, रुकू में क़दमो पर ,सज़दे में नाक की निपल पर,का़'दा में रानों पर और सलाम कहते हुए दायें और बायें कंधे पर,

✪_नमाज़ में दोनों पांवो की एड़ियों के दरमियान फासला क़रीब 4 अंगुष्त मुस्तहब है,

✪_तकबीरे तहरीमा फ़र्ज़ है बाकी तकबीरे सुन्नत है,

✪_तकबीरे तहरीमा के वक़्त हाथ उठाने की 3 रिवायात है,

१_एक कांधो के बराबर ,२_दूसरी कानो के बराबर ,३_और तीसरा सर के बराबर,

✪_तीनो रिवायात में कोई तारूज़ नही,हाथों के नीचे का हिस्सा कांधो तक,अंगूठा कानो की लॉ तक,और अंगुलिया सर तक हो,अंगूठो को कानो की लॉ से मस करना,

✪_दूर्रे मिखतार में तकबीर कहते वक़्त हथेलियों का रुख किबला रुख होना बहतर है,

✪_तकबीरे तहरीमा की फ़ज़ीलत उस शख्स के लिए है जो इमाम की तहरीमा के वक़्त मौजूद हो,
बाज़ ने इसमें ज़्यादा वुसअत पैदा करते हुए कहा है कि जो शख्स कि़रात शुरू होने से पहले शरीक हो जाए उसको भी ये फ़ज़ीलत हासिल हो जाएगी,
और बाज़ ने मज़ीद वुसअत देते हुए कहा कि जो कि़रात खत्म होने से पहले शरीक़ हो जाए उसको भी ये फ़ज़ीलत है,

✪_नमाज़ में हाथ बंधना सुन्नत से साबित है,

✪_रफा यदेन तकबीरे तहरीमा के लिए बिला इत्तेफ़ाक़ सुन्नत है,इसके अलावा दूसरे मौकों पर रफा यदेन न करना बेहतर है,

✪_रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से तरके रफा यदेन भी साबित है,इमाम अबू हनीफा रह. और बहुत से आइम्मा ए दीन ने इसी को इख्तियार किया है,जो हज़रात रफा यदेन के क़ाइल हैं वो भी इसको मुस्तहब और अफ़ज़ल  ही फरमाते हैं,फ़र्ज़ और वाजिब नही कहते,इसीलिए ये कहना कि रफा यदेन के बगैर नमाज़ नही होती खालिस जहालत है,

✪_रुकू में सर और कमर एक सीध में और टांगे और घुटने एक सीध में होना चाहिए,
"_बैठ कर नमाज़ पढ़ने वाला रुकू में इतना झुके कि सर घुटनो के बराबर आ जाए, _,*

✪_सज़दे में पेशानी और नाक लगाना दोनो ज़रूरी है,सिर्फ पेशानी लगाना ,नाक न लगना मकरूह तहरीमी है और ऐसी नमाज़ का लौटाना वाजिब है,

✪_नमाज़ का सज़दा ज़मीन पर करने पर कुदरत न हो तो सज़दा का इशारा कर लेना काफी है,कोई चीज़ आगे रख कर उस पर सज़दा करना ज़रूरी नही,

✪_सज़दे की हालत में कोहनियां इतनी ज्यादा नही फैलाना चाहिए कि जिससे दूसरों को तकलीफ हो,

✪_इमाम अबु हनीफा रह. के नज़दीक औरत को ज़मीन से चिपक कर सज़दा करने का हुक्म है,

✪_नमाज़ में रुकू के बाद इत्मीनान के साथ सीधा खड़ा होना और दोनों सजदों के दरमियान इत्मीनान से बैठना(रुक्न तो नही मगर)वाजि़ब है,इसका एहतेमाम ज़रूर करना चाहिए,

✪_और इमाम को भी लाज़िम है कि नमाज़ इस तरह पढ़ाए के मुक़तदी को़मा और जलसा इत्मीनान से कर सके,

✪_का़'अदा में दोनो हाथ रानों पर रखे,उंगलियां क़िब्ला की तरफ इस तरह रखे कि उंगलियो के सिरे घुटनो के क़रीब तक पहुंच जाए,मगर घुटनो को पकड़े नही वरना उंगलियो का रुख किबला की तरफ नही रहेगा, _,*

✪_अत्तहियात में तशह्हुद के वक़्त सीधे हाथ की शहादत की उंगली उठाई जाती है,

✪_तशह्हुद में अंगुष्त शहादत के साथ इशारा करना सुन्नत है,इशारे का तरीका ये है कि "अशहदु अल्लाइलाहा इल्लल्लाह" कहते हुए "ला" पर उंगली उठाए और "इल्लल्लाह"पर गिरा दे,

✪_शहादत के बाद उंगलियों का हलका सलाम तक बाकी रखा जाए और शहादत की उंगली सलाम तक बदस्तूर अलग रहे,शहादत के बाद उंगलियों को फैलाया न जाए,बल्कि मुट्ठी सलाम तक बदस्तूर बंद रहनी चाहिए,

"_फिक़ही किताबों में इसकी वजह ये लिखी है कि उंगली उठाने से इशारा गैरुल्लाह से उलूहियत की नफ़ी की तरफ है,और उंगली रखने से इशारा हक़ ताला शानुहु के लिए उलूहियत के असबात की तरफ है,

✪_अत्तहियात दोनो का़'अदो में पढ़ना वाजिब है अगर पहले का़'अदे में मुक़तदी की अत्तहियात पूरी नही हुई और इमाम तीसरी रक़अत के लिए खड़ा हो गया तो मुक़तदी इमाम की पैरवी न करे बल्कि अपना तशह्हुद (अत्तहियात)पूरी करके खड़ा हो,

✪_इसी तरह आखरी का़'अदे में मुक़तदी का तशह्हुद पूरा नही हुआ था कि इमाम ने सलाम फेर दिया तो मुक़तदी इमाम के साथ सलाम न फेरे बल्कि अपना तशह्हुद पूरा कर के सलाम फेरे,

✪_अगर कोई शख्स पहले का़'अदे में आकर जमात में शरीक हुआ और उसने अत्तहियात शुरू की थी कि इमाम खड़ा हो गया, तो ये शख्स इमाम के साथ खड़ा न हो बल्कि अत्तहियात पूरी पढ़ कर खड़ा हो,

✪_अगर कोई शख्स आखरी क़ा'अदे में शरीक हुआ अभी अत्तहियात पूरी नही की थी कि इमाम ने सलाम फेर दिया तो ये शख्स फौरन खड़ा  न हो जाए बल्कि अत्तहियात पूरी कर के खड़ा हो, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz me Darood Shareef ki kya haysiyat he ✦*
┗───┯ ✿

✯, Qurane Kareem ne ummat ko Do baato ka alag alag hukm farmaya he, Ek salaat aur doosri Salaam,
“_ Salaam ke hukm ki tameel to Attahiyaat me ” Assalamu alayka Ayyuhan nabiyu wa rahmatullahi wa barakatuh” padhne se ho jati he magar Salaat ke hukm ki tameel kin alfaz me ki jaye? Ye baat Sahaba ikraam Raziyallahu anhum ne Aap Sallallahu Alaihivasallam se daryaft ki aur Aap Sallallahu Alaihivasallam ne iske Jawab me “Darood Ibrahim” ke alfaaz taleem farmaye,

✯, Ek aur Hadees me Hazrat Fuzala bin Ubed Raziyallahu anhu se marvi he k Rasulullah Sallallahu alaihivasallam ne ek shakhs ke suna k apni namaz me Dua kar raha he, Usne na Allah ta’aala ki tamheed v Sana ki aur na Aap Sallallahu Alaihivasallam per Darood bheja,
“___Aap Sallallahu Alaihivasallam ne farmaya,
” is shakhs ne jaldbazi ki ”
Fir use bulakar farmaya,
” Jab tumme se koi shakhs Namaz padhe to Dua se pehle Allah ta’aala ki Sana bayaan kare, Fir Nabi Kareem Sallallahu Alaihivasallam per Darood bheje fir Hamd v Sana ke baad Dua kare, ”

*📚 Abu Dauwd, 1/208*

✯, Aap Sallallahu Alaihivasallam ke zamane se Aaj tak ummat ka ye ta’amul chala aata he k Aakhri qa’ade me Attahiyaat ke baad Darood Shareef padha jata he, aur fir Dua ki jati he fir Namaz ka salaam fera jata he,

✯,  Imaam Shafai Rh ke nazdeek Aakhri qa’ade me Darood Shareef Farz he, aur Digar Akabir ke nazdeek Sunnat he,
“__ Lekin ummat me iska koi bhi qaa’il nahi k Aakhri qa’ade me Darood Shareef na padha jaye, wese bhi Dua se pehle Allah ta’aala ki hamd v Sana karma fir Aap Sallallahu Alaihivasallam per Darood bhejna Dua ke Aadaab me se he, Aur ye qubooliyat ka qavi zariya he, To Namaz ke Aakhir me Dua se pehle Darood Shareef padhna is qayde ke tahat aayega,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नमाज़ में दरूद शरीफ की क्या हैसियत है*

✪_क़ुरआने करीम में उम्मत को दो बातों का अलग अलग हुक्म फरमाया है,एक सलात और दूसरी सलाम,

सलाम के हुक्म की तामील तो अत्तहियात में "अस्सलामु अलैका अय्यूहन नबीयू व रहमतुल्लाहि व बरकातुहू" पढ़ने से हो जाती है मगर सलात के हुक्म की तामील किन अल्फ़ाज़ में  की जाए?ये बात सहाबा किराम रज़ियल्लाहु अन्हुम ने आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से दरयाफ्त की और आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इसके जवाब में "दरूद इब्राहिम" के अल्फ़ाज़ तालीम फरमाए,

✪_एक और हदीस में हज़रत फुज़ाला बिन उबेद रज़ियल्लाहु अन्हु से मरवी है कि रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने एक शख्स से सुना कि अपनी नमाज़ में दुआ कर रहा है,उसने न अल्लाह ताला की तमहीद व सना की और न आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर दरूद भेजा,

आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया :-इस शख्स ने जल्दबाज़ी की

फिर उसे बुलाकर फरमाया,_जब तुममे से कोई शख्स नमाज़ पढ़े तो दुआ से पहले अल्लाह ताला की सना बयान करे,फिर नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर दरूद भेजे फिर हम्द के बाद दुआ करे,

*📚 अबु दाऊद- 1/208*

✪_आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के ज़माने से आज तक उम्मत का ये ता'मुल चला आता है कि आखरी का़यदे में अत्तहियात के बाद दरूद शरीफ पढ़ा जाता है,और फिर दुआ की जाती फिर नमाज़ का सलाम फेरा जाता है,

✪_इमाम शाफ़ई रह. के नज़दीक आखरी का़यदे में दरूद शरीफ फ़र्ज़ है,और दीगर अका़बिर के नज़दीक सुन्नत है,

✪_लेकिन उम्मत में इसका कोई क़ाइल नही की आखरी का़यदे में दरूद शरीफ न पढ़ी जाए,वैसे भी दुआ से पहले अल्लाह ताला की हम्द व सना करना फिर आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर दरूद भेजना दुआ के आदाब में से है,और ये कुबूलियत का क़वि ज़रिया है,तो नमाज़ के आखिर में दुआ से पहले दरूद शरीफ पढ़ना इस का़यदे के तहत आएगा, _,*

*📚_आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,* 

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Darood Shreef ke Baad Dua e Masoora Padhna ✦*
┗───┯ ✿
       
✯, Aakhri qa’ade me Darood Shareef ke baad Dua masnoon he , Qurane kareem ya Ahadees shareefa me Jo Duae’n aayi he’n unko Duae Masoora kaha jata he inme se koi bhi Dua padh lene se sunnat Ada ho ja’egi,
“_ Hadees me he k ” Allahumma inni zalamtu nafsi ” wali Dua Abu Bakar Siddiq Raziyallahu Anhu ki darkhwast per Aap Sallallahu Alaihivasallam ne unko sikhayi thi,

✯, Akhri qa’ade me jitni Duae’n chahe padh sakte hai’n lekin imaam ko chahiye k itna lamba na kare k muqtadi tang ho jaye,

✯, Namaz ke liye kam se kam har musalman ko 4 soorte yaad honi chahiye, Surah Fatiha ke baad ek hi soorat har raka’at me padhna makrooh he,

✯, Dil me padhne se Namaz nahi hoti, Zubaan se alfaz adaa karna zaruri he,
“_ Ek qaul ye bhi he k halki awaaz se is tarah padhe k khud sun sake, magar doosra na sune,
“_ Aur doosra qaul ye he k Zubaan se sahi alfaz ka adaa hona shart he, Apne aapko sunai dena shart nahi,

"_Pehla qaul zyada mashoor he aur doosra qaul zyada laa’iq etbaar he,

✯, Imaam ke pichhe Surah Fatiha padhna ikhtilafi masla he, Imaam Shafai Rh isko zaruri qaraar dete he’n aur Ahle hadees hazraat ka isi per Amal he,
“__Imaam Abu Hanifa Rh ke nazdeek qiraat muqtadi ka wazifa nahi balki imaam ka wazifa he, isliye Hanfiya ke nazdeek imaam ki iqtida me muqtadi ko qiraat karna jaa’iz nahi, khamosh khade rahe,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ दरूद शरीफ के बाद दुआए मासूरा पढ़ना*

✪_आखरी क़ा'दे में दरूद शरीफ के बाद दुआ मस्नून है,क़ुरआने करीम या अहादीस शरीफा मे जो दुआएं आयी हैं उनको दुआए मासूरा कहा जाता है इनमे से कोई भी दुआ पढ़ लेने से सुन्नत अदा हो जाएगी,

✪_हदीस में है कि अल्लाहुम्मा इन्नी ज़लमतु नफसी वाली दुआ अबू बकर सिद्दीक़ रज़ियल्लाहु अन्हु की दरख्वास्त पर आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने उनको सिखाई थी,

✪_आखरी क़ा'दे में जितनी दुआएं चाहे पढ़ सकते है लेकिन इमाम को चाहिए कि इतना लंबा न करे के मुक़तदी तंग हो जाए,

✪_नमाज़ के लिए कम से कम हर मुसलमान को 4 सूरतें याद होनी चाहिए ,सूरह फातिहा के बाद एक ही सुरत हर रक़अत में पढ़ना मक़रूह है,

✪_दिल मे पढ़ने से नमाज़ नही होती ,ज़ुबान से अल्फ़ाज़ अदा करना ज़रूरी है,

"_एक कॉ़ल ये भी है कि हल्की आवाज़ से इस तरह पढ़े की खुद सुन सके,मगर दूसरा न सुने,

"_और दूसरा कॉ़ल ये है कि ज़ुबान से सही अल्फ़ाज़ का अदा होना शर्त है ,अपने आपको सुनाई देना शर्त नही,

"_पहला कॉ़ल ज़्यादा मशहूर है और दूसरा कॉ़ल ज़्यादा लाइके एतबार है,

✪_इमाम के पीछे सूरह फातिहा पढ़ना इख्तिलाफी मसला है,इमाम शाफ़ई रह. इसको ज़रूरी क़रार देते हैं और अहले हदीस हज़रात का इसी पर अमल है,

✪_इमाम अबू हनीफा के नज़दीक किरात मुक़तदी का वज़ीफ़ा नही बल्कि इमाम का वज़ीफ़ा है,इसीलिए हंफ़िया के नज़दीक इमाम की इक़तिदा में मुक़तदी को किरात करना जाइज़ नही,खामोश खड़ा रहे, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Qiraat karna-_ ✦*
┗───┯ ✿

✯,  Qurane kareem me Soorte jis tarteeb se aayi he’n usi tarteeb se Namaz me padhni chahiye, Khilafe tarteeb padhna makrooh he,

"_Aakhri chhoti soorte ya to musalsal padhi jaye ya pehli raka’at me Jo soorat padhi he uske baad ek soorat chhodkar doosri na padhi jaye balki do soorte chhodkar teesri padhi jaye,

✯, Farz namaz me doosri raka’at ko pehli raka’at se teen aayato ki miqdaar lamba karna makrooh he, jabki dono soorato ki mutqarib ho

"_aur agar dono ki aayate badi chhoti ho to haroof v kalmaat ka etbaar hoga,

✯, Nifl Namaz me baaz ne doosri raka’at ka lamba karna bila karahat jaa’iz rakha he aur baaz ne niflo me doosri raka’at ke lamba karne ko makrooh farmaya he,

✯, Nifl ka har Dogana mustqil namaz he, isliye Nifl Namaz ki Teesri raka’at agar doosri raka’at se lambi ho jaye to koi harj nahi, Sunnate gair moakada ka bhi yahi hukm he,

✯, Sunnate Moakada me bhi behtar ye he k baad ki raka’ato ko pehli raka’ato se lamba na kiya jaye,

✯,Imaam Abu Hanifa Rh ke nazdeek qiraat farz namaz ki do raka’ato me farz he, Aakhri do raka’ato me wajib nahi balki inme sirf Surah Fatiha ka padhna mustahab he,,   
         
✯, Jin (chhooti hui) Raka’ato ko aap imaam ke salaam ferne ke baad puri karenge unme aap imaam ke taabe nahi balki apni akele namaz padh rahe he’n, isliye in raka’ato me Aapko apni Qiraat ki tarteeb malhooz rakhna to zaruri he,
__ maslan aapki 2 raka’ate reh gayi he to pehli raka’at me aapne Jo soorat padhi he doosri raka’at me uske baad wali soorat padhe isse pehle ki na padhe,
“_ Lekin imaam ki qiraat ki tarteeb ka lihaaz aapke zimme zaruri nahi pas Aap imaam ne Jo soorte padhi Aap baqiya raka’at me isse pehle ki soorat bhi padh sakte he’n aur baad ki bhi,

✯,  Chhar raka’at Sunnate Mokada ki pehli raka’at me Surah Falaq padhli to baqi raka’ato me Surah Naas padhta rahe,

✯,  Vitr ki pehli raka’at me Surah Falaq padhli to doosri raka’at me Surah Naas padhe aur Teesri raka’at me bhi Surah Naas ko dobara padh liya jaye,

✯,  Masjid ke namaziyo tak awaaz pahunchana ke liye Namaz me loudspeakers ka istemal aam ahle ilm ke nazdeek jaa’iz he, loudspeakers ki soorat me bhi mukabbir ka intezam hona chahiye taki loudspeakers kharab hone ya bijli chale Jaye to Takbeer keh sake aur namaz me khalal na ho,

,✯,  Masjid ke bahar ka loudspeakers Azaan ke alawa kholna jaa’iz nahi      

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
              *☞  किरात करना-*

✪_क़ुरआने करीम में सूरतें जिस तरतीब से आई है उसी तरतीब से नमाज़ में पढ़नी चाहिए,ख़िलाफ़े तरतीब पढ़ना मकरूह है,

✪_आखरी छोटी सूरतें या तो मुसलसल पढ़ी जाए या पहली रक़अत में जो सुरत पढ़ी है उसके बाद एक सूरत छोड़कर दूसरी न पढ़ी जाए बल्कि दो सूरतें छोड़कर तीसरी पढ़ी जाए,

✪_फ़र्ज़ नमाज़ में दूसरी रक़अत को पहली रक़अत से तीन आयतों की मिक़दार लंबा करना मक़रूह है,जबकि दोनो सूरतों की मुतक़रीब हो,

"_और अगर दोनों की आयतें बड़ी छोटी हो तो हरूफ व कलमात का एतबार होगा,

✪_नफ्ली नमाज़ में बाज़ ने दूसरी रक़अत का लंबा करना बिला कराहत जाइज़ रखा है और बाज़ ने नफ्ली में दूसरी रक़अत के लंबा करने को मकरूह फरमाया है,

✪_नफ्ली का हर दोगाना मुस्तक़िल नमाज़ है,इसीलिए नफ्ली नमाज़ की तीसरी रक़अत अगर दूसरी रक़अत से लंबी हो जाए तो कोई हर्ज नही,सुन्नते गैर मोअक़दा का भी यही हुक्म है,

✪_सुन्नते मोअक्क़दा में भी बेहतर ये है कि बाद कि रक़ातों को पहली रक़ा'तो से लंबा न किया जाए,

✪_इमाम अबू हनीफा के नज़दीक किरात फ़र्ज़ नमाज़ की दो रक़ातों में फ़र्ज़ है,आखरी दो रक़ातों में वाजिब नही बल्कि इनमे सिर्फ सूरह फातिहा का पढ़ना मुस्तहब है,, _,*

✪_जिन ( छूटी हुई ) रक़ातों को आप इमाम के सलाम फेरने के बाद पूरी करेंगे उनमे आप इमाम के ताबे नही बल्कि अपनी अकेले नमाज़ पढ़ रहे है,इसीलिए इन रक़ातों मे आपको अपनी किरात की तरतीब मलहूज़ रखना तो ज़रूरी है,

✪_मसलन आपकी 2 रकातें रह गई है तो पहली रक़अत में आपने जो सूरत पढ़ी है दूसरी रक़अत में उसके बाद वाली सूरत पढ़े इससे पहले की न पढ़े,
"_लेकिन इमाम की किरात की तरतीब का लिहाज़ आपके ज़िम्मे ज़रूरी नही पस आप इमाम ने जो सूरतें पढ़ी आप बकिया रक़अत में इससे पहले की सूरत भी पढ़ सकते हैं और बाद कि भी,

✪_चार रकअत सुन्नते मोअक़दा की पहली रक़अत में सूरह फलक पढ़ ली तो बाकी रक़ातों में सूरह नास पढता रहे,

✪_वित्र की पहली रक़अत में सूरह फलक पढली तो दूसरी रक़अत में सूरह नास पढ़े और तीसरी रकअत में भी सूरह नास को दोबारा पढ़ लिया जाए,

✪_मस्जिद के नमाज़ियों तक आवाज़ पहुंचाने के लिए नमाज़ में लाऊड स्पीकर का इस्तेमाल आम अहले इल्म के नज़दीक जाइज़ है,लाऊड स्पीकर की सूरत में भी मुक़बिर का इंतज़ाम होना चाहिए ताकि लाऊड स्पीकर खराब होने या बिजली चले जाए तो तकबीर कह सके और नमाज़ में खलल न हो,

✪_मस्जिद के बाहर का लाउडस्पीकर अज़ान के अलावा खोलना जाइज़ नही, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Jama’at Ki Safbandi ✦*
            
✯, Saf ki daayi Janib afzal he, Hadees me he k,
” Allah ta’aala aur uske farishte rehmat bhejte he’n safo ki daayi Janib,”

*📚 Mishkaat, 98,*

✯, Lekin agar daayi taraf Aadmi zyada ho to baayi taraf khade hona zaruri he taki dono janib ka tawazun barabar rahe,

"_Agar pehli saf me Jagah ho to pichhli safo se falangte hue aage badhna jaa’iz he lekin agar gunzaish nahi to logo ki gardano se falangna aur do Aadmiyo ke darmiyan zabardasti ghusna jaa’iz nahi, Hadees me iski mumanat aayi he aur ese shakhs per narazgi ka izhaar farmaya he,

✯, Safo me Kandhe se kandha milana zaruri he kyuki agar esa na kiya jaye to darmiyan me faasla rahega aur ye makrooh he, aur Takhne ke barabar Takhna rakhna zaruri he inka aapas me milaana zaruri nahi,

✯,Jo Bachche bilkul kam umar ho’n unko to masjid me laana hi jaa’iz nahi, Nabalig bachcho ke bare me asal hukm ye he k unki alag saf baalig mardo ki saf se pichhe ho,

✯, Agar Bachche ikaththe hokar udham machate ho ya bada majma hone ki vajah se unke gum ho Jane ka andesha ho to unko bado ki saf me khada karna chahiye taki unki vajah se bado ki namaz me khalal na aaye, aur ye hukm bhi un bachcho ka he Jo Namaz aur Vazu ki tameez rakhte ho varna zyada chhote Bachcho ko masjid me laana jaa’iz nahi,

✯, Hayya Alassalah tak Bethe rehna jaa’iz he aur iske baad takheer nahi karna chahiye, lekin afzal ye he k pehle safo ko durust kiya jaye fir aqaamat ho,

✯, Hayya Alassalah tak Bethe rehne per israar karna aur usko farz ya wajib ka darja de dena gulu fiddeen he, Aap Sallallahu alaihivasallam ke naam naami per angunthe choomna aur usko deen ki baat samajhna Bid’at he,

✯, Hayya Alassalah per uthna aur qadqamatissalah per imaam ka namaz shuru kar dena mustahab likha he lekin fuqha ne safbandi ko zaruri qaraar dete hue takheer ko sahi kaha he kyuki safo ko sidha rakhne ki shadeed takeed aayi he,

✯, Mustahab us fa’al ko kehte he Jiske chhodne wale ko malamat na ki jaye, Magar ahle Bid’at ne is fa’al ko apna sha’aar bana liya he aur amalan isko farz v wajib ka darja de rakha he, iske chhodne walo per na sirf malamat ki jati he balki unke khilaf ishtehar bazi bhi ki jati he,
“_ Mustahab me jab esa gulu kiya Jane lage to uska tark ( chhodna ) zaruri ho jata he,
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2,*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ जमात की सफबन्दी*

✪_सफ़ की दाई जानिब अफ़ज़ल है,हदीस में है कि,
अल्लाह ताला और उसके फरिश्ते रहमत भेजते हैं सफो कि दाई जानिब,

"_लेकिन अगर दाई तरफ आदमी ज़्यादा हो तो बाई तरफ खड़े होना ज़रूरी है ताकि दोनो जानिब का तवाजुन बराबर रहे,

✪_अगर पहली सफ़ में जगह हो तो पिछली सफो से फलांगते हुए आगे बढ़ना जाइज़ है लेकिन अगर गुंजाइश नही तो लोगो की गर्दनों से फलांगना और दो आदमियों के दरमियान ज़बरदस्ती घुसना जाइज़ नही,हदीस में इसकी मुमानत आयी है और ऐसे शख्स पर नाराजगी का इज़हार फरमाया है,

✪_सफो में कांधे से कांधा मिलाना ज़रूरी है क्योंकि अगर ऐसा न किया जाए तो दरमियान में फासला रहेगा और ये मकरूह है,और टखने के बराबर टखना रखना ज़रूरी है इनका आपस मे मिलाना ज़रूरी नही,

✪_जो बच्चे बिल्कुल कम उम्र हो उनको तो मस्जिद में लाना ही जाइज़ नही,नाबालिग बच्चों के बारे में असल हुक्म ये है कि उनकी अलग सफ़ बालिग मर्दों की सफ़ से पीछे हो,

✪_अगर बच्चे इकट्ठे हो कर उधम मचाते हो या बड़ा मजमा होने की वजह से उनके गुम हो जाने का अंदेशा हो तो उनको बड़ो की सफ़ में खड़ा करना चाहिए ताकि उनकी वजह से बड़ों की नमाज़ में खलल न आए,और ये हुक्म भी उन बच्चों का है जो नमाज़ और वज़ू की तमीज़ रखते हों वरना ज़्यादा छोटे बच्चों को मस्जिद में लाना जाइज़ नही,

✪_हय्या अलस्सलाह तक बैठे रहना जाइज़ है और इसके बाद ताख़ीर नही करना चाहिए ,लेकिन अफ़ज़ल ये है कि पहले सफों को दुरुस्त किया जाए फिर अक़ामत हो,

✪_हय्या अलस्सलाह तक बैठे रहने पर इसरार करना और उसको फ़र्ज़ या वाजिब का दर्जा दे देना गुलु फिद्दीन है,आप सलल्ललाहु अलैहि वसल्लम के नाम नामी पर अंगूठे चूमना और उसको दीन की बात समझना बिदअत है,

✪_हय्या अलस्सलाह पर उठना और क़दक़ामतिस्सलाह पर इमाम का नमाज़ शुरू कर देना मुस्तहब लिखा है लेकिन फुक़हा ने सफबन्दी को ज़रूरी क़रार देते हुए ताख़ीर को सही कहा है क्योंकि सफो को सीधा रखने की शदीद ताकीद आयी है,

✪_मुस्तहब उस फैल को कहते हैं जिसके छोड़ने वाले को मलामत न कि जाए,मगर अहले बिद्दत ने इस फैल को अपना श'आर बना लिया है और अमलन इसको फ़र्ज़ व वाजिब का दर्जा दे रखा है,इसके छोड़ने वालों पर न सिर्फ मलामत की जाती है बल्कि उनके खिलाफ इश्तेहार बाज़ी भी की जाती है,

"_मुस्तहब में जब ऐसा गुलु किया जाने लगे तो उसका तर्क (छोड़ना)ज़रुरी हो जाता है,,

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz Bajama’at ✦*
┗───┯ ✿

✯, Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya, k Jama’at ki namaz akele se 27 darja zyada hoti he, ( fazilat ke etbaar se)

*📚 Ravaah Maalik, Bukhari v Muslim,*

✯, Ba jama’at Namaz ka sawab 25 ya 27 guna tak hota he, aur JO Namaz miswaak karke padhi jati he uska sawab 70 guna he, Jama’at ke saath miswaak karke Namaz padhne per ye ( 27×70) 1890 tak pahunch jata he,

✯, Masjid me doosri jama’at karna makrooh he, Jagah badal kar kisi doosre hisse me aqamat ke bager Jama’at ho to jaa’iz he,

✯, Agar muqtadi akela ho to imaam ke barabar dahini taraf zara sa pichhe hokar khada ho,

Jo jama’at azaan ke bager hui wo sunnat ke mutabiq nahi hui isliye uska etbaar nahi, baad me aane wale azaan aur aqamat ke saath jama’at kar sakte he’n,

*📚 Fatawa Aalamgiri, 1/54*

✯, Zuhar aur Isha ki namaz me nifl ki niyat se doosri jama’at me shareek ho sakta he, Fazar, Asar aur Magrib me nahi,

✯,Apni Bivi aur Mahram aurat ke saath jama’at jaa’iz he, Aurat barabar khadi na ho balki alag saf me pichhe khadi hona chahiye,
“_ Iqtida ke sahi hone ke liye ye shart he k Muqtadi imaam se aage na bade, Jo muqtadi imaam se aage hua uski iqtida sahi nahi aur uski Namaz nahi hogi,

✯,Jama’at jitni zyada ho utni hi Afzal he, Aur Afzal hone ka matlab ye he k uska sawab bhi zyada he, 
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞  नमाज़ बा-जमात*

✪_रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया कि जमात की नमाज़ अकेले से 27 दर्जा ज़्यादा होती है,(फ़ज़ीलत के एतबार से)
*( रवाह मालिक बुखारी व मुस्लिम)*

✪_बा-जामात नमाज़ का सवाब 25 या 27 गुना तक होता है,और जो नमाज़ मिस्वाक कर के पढ़ी जाती है उसका सवाब 70 गुना है,जमात के साथ मिस्वाक कर के नामाज़ पढ़ने पर ये (27×70)1890 तक पहुंच जाता है,

✪_मस्जिद में दूसरी जमात करना मकरूह है,जगह बदल कर किसी दूसरे हिस्से में अक़ामत के बगैर जमात हो तो जाइज़ है,

✪_अगर मुक़तदी अकेला हो तो इमाम के बराबर दाहिनी तरफ ज़रा सा पीछे होकर खड़ा हो,

✪_जो जमात अज़ान के बगैर हुई वो सुन्नत के मुताबिक नही हुई इसीलिए उसका एतबार नही,बाद में आने वाले अज़ान और अक़ामत के साथ जमात कर सकते हैं,
*( फतावा आलमगीरी -१/५४)*

✪_जुहर और ईशा की नामाज़ में नफ्ल की नीयत से दूसरी जमात में शरीक हो सकता है,फजर ,असर ,और मग़रिब में नही,

✪_अपनी बीवी और महरम औरत के साथ जमात जाइज़ है,औरत बराबर खड़ी न हो बल्कि अलग सफ़ में पीछे खड़ी होना चाहिए,

✪_इक़तिदा के सही होने के लिए ये शर्त है कि मुक़तदी इमाम से आगे न बढ़े,जो मुक़तदी इमाम से आगे हुआ उसकी इक़तिदा सही नही और उसकी नमाज़ नही होगी,

✪_जमात जितनी ज्यादा हो उतनी ही अफ़जल है ,और अफज़ल होने का मतलब ये है कि उसका सवाब भी ज़्यादा है, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Ghar Per Namaz Padhna ✦*
┗───┯✿ 
    
✯, Namaz to ghar me ho jati he magar Farz namaz ke liye Masjid me Jana zaruri he aur bager uzr ke Masjid me na aane walo ke liye sakht wa’iyd aayi he, Sahaba ikraam ese shakhs ko munafiq samajhte the Jo Namaz ba jama’at ki pabandi nahi karta tha,

Bager kisi sahi uzr ke Masjidwar Jama’at ki namaz chhodne ki aadat gunaahe kabeera he,

✯,  Jama’at me shareek hona baaz Aaimma ke nazdeek Farz he, Baaz ke nazdeek Wajib aur baaz ke nazdeek esi sunnate Mokada he Jo wajib ke qareeb he,

✯, ” Mene iraada kiya k lakdiya jama karne ka hukm du, fir Namaz ki Azaan ka hukm du, Fir kisi shakhs ko hukm du k wo imamat kare, aur khud un logo ke gharo ke paas jau Jo Namaz me haajir nahi hote, Pas un per unke gharo ko aag laga du, ”

📚 *Mishkaat, 95 bahawala, Bukhari v Muslim,*

✯,  ” Jisne Moazin ki azaan suni usko masjid me aane se koi uzr, khof ya marz maana nahi tha, iske bavjood wo nahi aaya to usne Jo Namaz ghar per padi wo qubool nahi ki ja’egi, ”

📚 *Mishkaat, 96 bahawala Abu Dauwd,*

✯, ” Agar gharo me Aurte’n aur bachche na hote to me apne jawano ko hukm deta k Jo log isha ki namaz me hazir nahi hote unke gharo ko jala daale, ”
📚 *Mishkaat, 97 bahawala Musnad Ahmad,*
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
          *☞ घर पर नमाज़ पढ़ना*

✪_नमाज़ तो घर मे हो जाती है मगर फ़र्ज़ नमाज़ के लिए मस्जिद में जाना जरूरी है और बगैर उज़्र के मस्जिद में ना आने वालों के लिए सख्त वईद आयी है,सहाबा इकराम ऐसे शख्स को मुनाफ़िक़ समझते थे जो नमाज़ बा जमात की पाबंदी नही करता था,

✪_बगैर किसी सही उज़्र के मस्जिदवार जमात की नमाज़ छोड़ने की आदत गुनाहे कबीरा है,

✪_जमात में शरीक होना बाज़ आइम्मा के नज़दीक फ़र्ज़ है,बाज़ के नज़दीक वाजिब है और बाज़ के नज़दीक ऐसी सुन्नते मोअक्कि़दा जो वाजिब के क़रीब है,

✪_मैने इरादा किया कि लकड़ियां जमा करने का हुक्म दुं,फिर नमाज़ की अज़ान का हुक्म दुं,फिर किसी शख्स को हुक्म दुं की वो इमामत करे,और खुद उन लोगों के घरों के पास जाऊं जो नमाज़ में हाज़िर नही होते,पस उन पर उनके घरों को आग लगा दुं,
*(मिश्कात -९५ बा हवाला बुखारी व मुस्लिम)*

✪_जिसने मोअज़ीन की अज़ान सुनी उसको मस्जिद में आने से कोई उज़्र,ख़ौफ़ या मर्ज मा'ना नही था,इसके बावजूद वो नही आया तो उसने जो नमाज़ घर पर पढ़ी वो क़ुबूल नही की जाएगी,
*( मिश्कात -९६ बा हवाला अबु दाऊद)*

✪_अगर घरों में औरतें और बच्चे न होते तो मैं अपने जवानों को हुक्म देता की जो लोग इशा की नमाज़ में हाज़िर नही होते उनके घरों को जला डाले, _,*
*( मिश्कात ९७- बा हवाला मुसनद अहमद)*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Aurto’ n ki Namaz ke Chand Masail -1 ✦*
┗───┯ ✿
        
✯,Aurat ke Jawan hone ka waqt maloom ho to us waqt se Namaz Farz he, Varna Aurat per 9 saal pure hone per dasve saal se Namaz Farz samjhi ja’egi,

✯, Chehra, dono haath gatto tak aur paanv takhno tak, in teen a’aza ke alawa Namaz me pura badan dhankna Aurat ke liye Namaz ke sahi hone ki shart he, iske bager Namaz nahi hogi,

✯, Jo kapde Ese bareek ho k unke andar se badan nazar aaye unse Namaz nahi hoti, Namaz ke liye Dupatta mota istemal karna karna chahiye,

✪_Namaz ke dauran agar Sar khul jaye aur 3 baar Subhanallah kehne ki miqdaar tak khula rahe to Namaz toot ja’egi, Aur agar Sar khulte hi foran dhaank liya to Namaz ho gayi,

✯, Khade hokar Namaz padhna Farz he aur esa libaas jisme badan na khulta ho, Agar Badan pura dhaanka hua ho to Namaz saadi me bhi ho ja’egi, magar Saadi khud na-pasandida libaas he,

✪_Namaz me seene per dupatta hona aur Baanho ka chhupana laazmi he,
"_,Namaz padhte hue agar Sajde me dupatta niche aa jaye to bhi Namaz ho jati he,

✯,Khwateen ke liye Azaan ka intezar karna zaruri nahi, waqt ho jane ke baad avval waqt me Namaz padhna afzal he,
“__ Albatta agar waqt ka pata na chale to Azaan ka intezar kare,   
      
✯, Aurto’n ke liye ghar me Namaz afzal he, Chhat per agar baparda jagah ho to jaa’iz he, magar ghar me unki namaz afzal he,
 ”__ Aurat ka apne kamre me Namaz padhna apni ghar ki chaardwari me Namaz padhne se behtar he aur uska pichhle kamre me Namaz padhna agle kamre me Namaz padhne se behtar he, ”

*📚 Ravaah Abu Dauwd, Mishkaat, 96*

✯, Bivi Shohar ki iqtida me Namaz padh sakti he magar barabar khadi na ho balki pichhe khadi ho,

Aurat Mardo ki imamat nahi kar sakti aur Aurto’n ki imaamat kare to ye makrooh he,

✯,  Aurto’n per Juma farz nahi he, isliye aam dino ki taraf Zuhar ki namaz padhe, Eiden bhi Aurto’n per zaruri nahi,

✯, Aurto’n ko khaas ayyam me Namaz padhne ki ijazat nahi,
“___lekin khaas ayyam me Aurat ke liye ye behtar he k Namaz ke waqt Vazu karke musalle per beth kar kuchh zikr tasbeeh kar liya kare,

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ औरतों की नमाज़ के चंद मसाइल-*

✪_औरत के जवान होने का वक़्त मालूम हो तो उस वक़्त से नमाज़ फ़र्ज़ है,वरना औरत पर 9 साल पूरे होने पर दसवे साल से नमाज़ फ़र्ज़ समझी जाएगी,

✪_चेहरा,दोनो हाथ गट्टों तक और पांव टखनों तक,इन तीन आज़ा के अलावा नमाज़ में पूरा बदन ढांकना औरत के लिए नमाज़ के सही होने की शर्त है,इसके बगैर नमाज़ नही होगी,

✪_जो कपड़े ऐसे बारीक हो कि उनके अंदर से बदन नज़र आये उनसे नमाज़ नही होती ,नमाज़ के लिए दुपट्टा मोटा इस्तेमाल करना चाहिए,

✪_नमाज़ के दौरान अगर सर खुल जाए और 3 बार सुब्हानल्लाह कहने की मिक़दार तक खुला रहे तो नमाज़ टूट जाएगी,और अगर सर खुलते ही फौरन ढांक लिया तो नमाज़ हो गई,

✪_खड़े होकर नमाज़ पढ़ना फ़र्ज़ है और ऐसा लिबास जिसमे बदन न खुलता हो,अगर बदन पूरा ढांका हुआ हो तो नमाज़ साड़ी में भी हो जाएगी,मगर साड़ी ख़ुद ना पसंदीदा लिबास है,

✪_नमाज़ में सीने पर दुपट्टा होना और बाहों का छुपाना लाज़मी है,
"_नमाज़ पढ़ते हुए अगर सज्दे में दुपट्टा नीचे आ जाए तो भी नमाज़ हो जाती है,

✪_ख्वातीन के लिए अज़ान का इंतज़ार करना ज़रूरी नही,वक़्त हो जाने के बाद अव्वल वक़्त में नमाज़ पढ़ना अफ़ज़ल है,

"_अलबत्ता अगर वक़्त का पता न चले तो अज़ान का इंतज़ार करे, _,*

✪_औरतों के लिए घर मे नमाज़ अफ़ज़ल है,छत पर अगर बापर्दा जगह हो तो जाइज़ है,मगर घर मे उनकी नमाज़ अफ़ज़ल है,

✪_औरत का अपने कमरे में नमाज़ पढ़ना अपनी घर की चारदीवारी में नमाज़ पढ़ने से बेहतर है और उसका पिछले कमरे में नमाज़ पढ़ना अगले कमरे में नमाज़ पढ़ने से बेहतर है,

*📚 रवाह अबु दाऊद, मिश्कात-९६,*

✪_बीवी शौहर की इक़तिदा में नमाज़ पढ़ सकती है मगर बराबर खड़ी न हो बल्कि पीछे खड़ी हो,

✪_औरत मर्दों की इमामत नही कर सकती और औरतों की इमामत करे तो मकरूह है,

✪_औरतों पर जुमा फ़र्ज़ नही है,इसीलिए आम दिनों की तरह ज़ुहर की नमाज़ पढ़े, ईदें भी औरतों पर ज़रूरी नही,

✪_औरतों को खास अय्याम में नमाज़ पढ़ने की इजाज़त नही,

"_लेकिन खास अय्याम में औरत के लिए ये बेहतर है कि नामाज़ के वक़्त वज़ू कर के मुसल्ले पर बैठ कर कुछ ज़िक्र तस्बीह कर लिया करे, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Aurto’n ki Namaz ki Mukammal Tashreeh-✦*
┗───┯ ✿
✯, Aurto’n ki namaz bhi Mardo hi ki tarah he, albatta chand umoor me unke liye Mardo se alag hukm he, makhsoos masail zel he: –

*✯, Qayaam _*_ 1- Aurto’n ko qayaam me dono paanv mile hue rakhne chahiye yani unme faasla na rakhe, isi tarah ruku aur Sajde me bhi takhne milaye rakhe,

Jabki Mardo ke liye ye hukm he k qayaam me unke qadmo ke darmiyan 4 ya 5 ungliyo ka faasla rehta he,
2-Aurto’n ko chahe sardi ka uzr ho ya na ho har haal me chaadar ya dupatta vagera ke andar hi se haath uthana chahiye, bahar nahi nikaalna chahiye,
“_ Jabki Mardo ke liye hukm ye he k agar unhone chaadar oad rakhi ho to Takbire Tehrima ke waqt chaadar se bahar nikaal kar haath uthaye,
3- Aurto’n ko sirf kaandhe tak haath uthana chahiye,
“_ Jabki Mardo ko itne uthane chahiye k anguthe kaano ki lo ke barabar ho jaye balki kaano ki lo ko lag jaye,
4- Aurto’n ko Takbire Tehrima ke baad seene per haath baandhna chahiye,
“_ Jabki Mardo ko naaf ke niche,
5- Aurte’n haath baandhte waqt sirf apni dahini hatheli baaye haath ki pusht per rakh le, halka banana aur baayi kalai ko pakadna na chahiye,
“_ Jabki Mardo ke liye ye hukm he k daaye haath ke anguthe ka halka banakar baaye haath ko gatte se pakad le aur darmiyan ki 3 ungliya’n kalai per sidhi rakhe,

*✯, Ruku _* _1- Ruku me Aurto’n ko zyada jhukna nahi chahiye, balki sirf is qadar jhuke k unke haath ghutno tak pahunch jaye,
” _Jabki Mardo ko ye hukm he k is qadar jhuke k kamar bilmukabil sidhi ho jaye aur Sar aur Sureen barabar ho jaye,
2- Aurto’n ko ruku me dono haatho ki ungliya kushada kiye bager ( balki milakar) rakhni chahiye,
“_ Jabki Mardo ke liye hukm ye he k ruku me haatho ki ungliya kushada rakhe,
 3- Aurte’n ruku me hatho ko ghutno per rakhe magar zyada zor na de,aur ghutno ko pakde na rahe,
“_ Jabki Mardo ke liye hukm ye he k haatho ka ghutno per khoob zor dekar mazboot pakad kar ruku kare,
 4 – Ruku me Aurto’n ko apni kohniya apne pehlu se mili hui rakhe yani simti hui ruku kare,
“_ Jabki Mardo ko ye hukm he k kohniyo ko pehluo se alag rakhe,
*✯, Sajda* _1- Sajde me Aurto’n ko kohniya zameen per bichhi hui rakhni chahiye,
“_ Jabki Mardo ko kohniya zameen per bichhana makrooh he,

 2- Aurto’n ko sajde me dono payr ungliyo ke bal khade nahi rakhne chahiye balki dono payr dahini taraf nikaal kar kulho per bethe aur khoob simatkar aur dab kar sajda kare, Sureen uthaye hue na rakhe,
“_ Jabki Mardo ko hukm ye he k Sajde me dono paanv ungliyo ke bal khade rakhe aur sureen uthaye rakhe,

3- Sajde me Aurto’n ka Pet raano se mila hua hona chahiye aur baazu pehluo se mile hue hone chahiye, garz ye k khoob simatkar sajda kare,
“_ Jabki Mardo ka pet raano se aur baazu pehluo se alag rehne chahiye,

*✯, Qa’adah _*_1- Attahiyaat me bethte waqt Aurto’n ko dono payr dahini taraf nikaal kar baayi sureen per bethna chahiye, yani sureen zameen per rahe, payr na rakhe,
“_ Jabki Mardo ke liye ye hukm he k qaa’ada me apna dahina paanv khada rakhe aur baaya paanv bichhakar us per Beth jaye,

 2- Aurte’n qa’ada me haatho ki ungliya mili hui rakhe, 
“__Jabki Mard ungliyo ko apne haal per chhod de, na khuli rakhe na milaye,         
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ औरतों के नमाज़ की मुकम्मल तशरीह-*

✪_औरतों की नमाज़ भी मर्दों ही कि तरह है,अलबत्ता चंद उमूर में उनके लिए मर्दों से अलग हुक्म है,मख़सूस मसाइल जे़ल है:-

*✪_क़याम:-*_1-औरतों को क़याम में दोनों पांव मिले हुए रखने चाहिए यानी उनमे फासला न रखे ,इसी तरह रुकू और सज्दे में भी टखने मिलाए रखे,

"_जबकि मर्दों के लिए ये हुक्म है कि क़याम में उनके क़दमो के दरमियान 4 या 5 उंगलियो का फासला रहता है, 

2 _औरतों को चाहे सर्दी का उज़्र हो या न हो हर हाल में चादर या दुपट्टा वगैरह के अंदर ही से हाथ उठाना चाहिए ,बाहर नही निकालना चाहिए,

"_जबकि मर्दों के लिए हुक्म ये है कि अगर उन्होंने चादर ओढ़ रखी हो तो तकबीरे तहरीमा के वक़्त चादर से बाहर निकाल कर हाथ उठाए,

3-औरतों को सिर्फ कांधे तक हाथ उठाना चाहिए ,

"_जबकि मर्दों को इतने उठाने चाहिए कि अंगूठे कानो की लॉ के बराबर हो जाए बल्कि कानो की लॉ को लग जाए,

4-औरतों को तकबीरे तहरीमा के बाद सीने पर हाथ बांधना चाहिए ,
"_जबकि मर्दों को नाफ़ के नीचे,

5-औरतें हाथ बांधते वक़्त सिर्फ अपनी दाहिनी हथेली बाये हाथ की पुष्त पर रख ले ,हल्का बनाना और बांई कलाई को पकड़ना न चाहिए,

"_जबकि मर्दो के लिए ये हुक्म है कि दाये हाथ के अंगूठे के हल्का बनाकर बाय हाथ को गट्टे से पकड़ ले और दरमियान की 3 उंगलियां कलाई पर सीधी रखे,

✪_*रुकू*_1-रुकू में औरतों को ज़्यादा झुकना नही चाहिए ,बल्कि सिर्फ इस क़दर झुके की उनके हाथ घुटनो तक पहुंच जाए,

"_जबकि मर्दों को ये हुक्म है कि इस क़दर झुके की कमर बिल्कुल सीधी हो जाए और सर और सुरीन बराबर हो जाए,

2-औरतों को रुकू में दोनों हाथों की उंगलियां कुशादा किये बगैर (बल्कि मिलाकर)रखनी चाहिए,

"_जबकि मर्दों के लिए हुक्म है कि रुकू में हाथों की उंगलियां कुशादा रखे,

3-औरतें रुकु में हाथों को घुटनों पर रखे मगर ज़्यादा ज़ोर न दे ,और घुटनों को पकड़े न रहे,

"_जबकि मर्दों के लिए हुक्म ये है कि हाथों का घुटनों पर खूब ज़ोर देकर मज़बूत पकड़ कर रुकू करे,

4-रुकू में औरतें अपनी कोहनियां अपने पहलू से मिली रखे यानी सिमटी हुई रुकू रखे,

"_जबकि मर्दों को ये हुक्म है कि कोहनियों को पहलुओं से अलग रखे, _,*

*✪_सज्दा*_1-सज्दे में औरतों को कोहनिया ज़मीन पर बिछी हुई रखनी चाहिए,
"_जबकि मर्दों को कोहनियां ज़मीन पर बिछाना मकरूह है,

2-औरतों को सज्दे में दोनों पैर उंगलियो के बल खड़े नही रखना चाहिए बल्कि दोनो पैर दाहिनी तरफ निकाल कर कूल्हों पर बैठे और खूब सिमटकर और दाब कर सज्दा करे, सुरीन उठाए हुए न रखे,
"_जबकि मर्दों को हुक्म ये है कि सज्दे में दोनों पांव उंगलियों के बल खड़े रखे और सुरीन उठाए रखे,

3-सज्दे में औरतों का पेट रानों से मिला हुआ होना चाहिए और बाज़ू पहलुओं से मिले हुए होने चाहिए ,गरज़ ये की खूब सिमटकर सज्दा करे, जबकि मर्दों के पेट रानों से और बाज़ू पहलुओं से अलग रहने चाहिए,

*✪_कादा*_1- अत्तहियात में बैठते वक़्त औरतों को दोनो पैर दाहिनी तरफ निकाल कर बाई सुरीन पर बैठना चाहिए ,यानी सुरीन ज़मीन पर रहे,पैर न रखे,
"_जबकि मर्दों के लिए ये हुक्म है कि का़'दा में अपना दाहिना पांव खड़ा रखे और बाया पांव बिछाकर उस पर बैठ जाए,

2-औरतें का़'दा में हाथों की उंगलियां मिली हुई रखे,
"_जबकि मर्द उंगलियों को अपने हाल पर छोड़ दे,न खुली रखे न मिलाए, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,***
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Aurto’n ki Namaz ke Digar Masail ✦*
┗───┯✿         
✯, 1- Jab koi baat Namaz me pesh aaye, maslan Namaz padhte hue koi aage se guzre aur use rokna maqsood ho to Aurat taali bajaye jiska tareeqa ye he k daaye haath ki ungliyo ki pusht baaye haath ki hatheli per maare,
“_ Jabki Mardo ko esi zarurat ke liye “Subhanallah “kehne ka hukm he , magar Aurte’n ” Subhanallah” na kahe balki Jo tareeqa bataya gaya uske mutabiq taali bajaye,

✯,  2- Aurat Mardo ki imaamat na kare,

✯,  3- Aurte’n agar jama’at karaye to Jo Aurat imaam ho aage badhkar khadi na ho balki saf ke beech me khadi ho,
*”_ Aurto’n ki tanha jama’at makrooh he,*

✯,  4- Fitna v fasaad ki vajah se Aurto’n ka masjid me hazir hona makrooh he,

✯,  5- Aurte’n agar jama’at me shareek ho to Mardo aur Bachcho se pichhli saf per khadi ho,

✯,  6- Aurat per Juma Farz nahi, lekin agar juma ki namaz me shareeq ho jaye to uska juma Ada ho ja’ega aur zuhar ki namaz saaqit ho ja’egi,

✯,  7- Aurto’n ke zimme Eiden ki namaz wajib nahi,

 ✯, 8- Aurto’n per ayyame tashreeq yani farz Namazo ke baad ki takbeerate tashreeq wajib nahi, albatta agar koi Aurat jama’at me shareek hui to imaam ki pervi me us per bhi wajib he magar buland awaaz se na kahe kyuki uski awaaz bhi satar he,

✯,  9- Aurto’n ko Fajar ki Namaz jaldi andhere me padhna mustahab he, aur tamaam Namaze avval waqt me Ada karna mustahab he,

✯, 10- Aurto’n ko Namaz me buland awaaz se qiraat karne ki ijazat nahi,

✯,  11- Aurat azaan nahi de sakti,

✯, 12- Aurat masjid me a’atkaaf na kare balki apne ghar me us jagah Jo Namaz ke liye makhsoos ho a’atkaaf kare, aur agar ghar me koi jagah Namaz ke liye makhsoos nahi to a’atkaaf ke liye kisi jagah ko muqarrar kar le,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ औरतों की नमाज़ के दीगर मसाइल*

1-जब कोई बात नमाज़ में पेश आये,मसलन नमाज़ पढ़ते हुए कोई आगे से गुजरे और उसे रोकना मक़सूद हो तो औरत ताली बजाए जिसका तरीका ये है कि दाये हाथ की उंगलियों की पुश्त बाय हाथ की हथेली पर मारे,

*"_जबकि मर्दों को ऐसी ज़रूरत के लिए सुब्हानल्लाह कहने का हुक्म है अगर औरतें सुब्हानल्लाह न कहे बल्कि जो तरीका बताया गया उसके मुताबिक ताली बजाए,

2-औरत मर्दों की इमामत न करे,

3-औरतें अगर जमात कराए तो जो औरत इमाम हो आगे बढ़कर खड़ी न हो बल्कि सफ़ के बीच मे खड़ी हो,
*_औरतों की तन्हा जमात मकरूह है*

4-फितना व फसाद की वजह से औरतों का मस्जिद में हाज़िर होना मकरूह है,

5-औरतें अगर जमात में शरीक हो तो मर्दों और बच्चों से पिछली सफ़ पर खड़ी हो,

6-औरत पर जुम्मा फ़र्ज़ नही,लेकिन अगर जुम्मा की नमाज़ में शरीक हो जाए तो उसका जुम्मा अदा हो जाएगा और ज़ोहर की नमाज़ साकित हो जाएगी,

7-औरतों के ज़िम्मे ईदें की नमाज़ वाजिब नही,

8-औरतों पर अय्यामे तशरीक यानी फ़र्ज़ नमाज़ों के बाद की तकबिराते तशरीक वाजिब नही,

"_अलबत्ता अगर कोई औरत जमात में शरीक हुई तो इमाम की पैरवी में उस पर भी वाजिब है मगर बुलंद आवाज़ से न कहे क्योंकि उसकी आवाज़ भी सतर है,

9-औरतों को फजर की नमाज़ जल्दी अंधेरे में पढ़ना मुस्तहब है ,और तमाम नमाज़ें अव्वल वक़्त में अदा करना मुस्तहब है,

10-औरतों को नमाज़ में बुलंद आवाज़ से किरात करने की इजाज़त नही,

11-औरत अज़ान नही दे सकती,

12-औरत मस्जिद में एतेकाफ न करे बल्कि अपने घर मे उस जगह जो नमाज़ के लिए मख़सूस हो एतेकाफ करे,और अगर घर मे कोई जगह नमाज़ के लिए मख़सूस नही तो एतेकाफ के लिए किसी जगह को मुक़र्रर कर ले, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Sajdaa Sahu - ✦*
┗───┯ ✿

✯, Namaz ke wajibaat me se koi wajib bhoole se chhot jaye ya faraiz me se kisi farz me takheer ya takraar ho to esi soorat me Namaz ke akheer me tashahud mukammal karne ke baad daayi taraf salaam fer kar 2 sajde kiye jaye, iske baad dobara tashahud, darood Shreef v Dua padhkar salaam fer diya jaye, in dono sajdo ko sajdaa Sahu kaha jata he, isse Namaz me galti ka tadaruk hota he,
*📚 Hidaya, 1/164*

*👉🏻Masbooq ne imaam ke saath salaam fer diya,*

✯, Agar masbooq ( jiski kuchh raka’at chhot gayi ho aur baad me jamaat me shareeq hua ho) ne bhool se imaam ke saath salaam fer diya, salaam ke baad yaad aane per baqiya raka’at puri kar li to is per Sajdaa Sahu lazim he,
 *📚Durre Mukhtar, 1/696*

*👉🏻 Qa’ada avla me kitni zyadti se Sajdaa Sahu lazim hoga?*

✯, Agar qa’ada aula me attahiyat ke baad Darood Shareef bhool se shuru kar di aur ” Allahumma Salli alaa muhammadinv va alaa aali muhammadin,,,,,,, ki daal tak pahunchne se pehle pehle yaad aa gaya aur khada ho gaya to Sajdaa Sahu wajib nahi aur agar daal tak padh liya to Sajdaa Sahu wajib he,

*📚 Ahsanul Fatawa, 4/30, ba hawal – Shaami*
          
*👉🏻Surah Fatiha ka Takraar,*
✯,  Agar kisi ne bhoole se Surah Fatiha ka baaz hissa yani ” Maliki yavmiddeen ” ki ‘Ya’ tak muqarrar padh li to us per Sajdaa Sahu lazim he,
*📚Ahsanul Fatawa, 4/31 ba hawala -Durre Mukhtar,*

*👉🏻Vitr ki Teesri Raka’at me Surat Milana bhool gaya,*
✯,  Agar Vitr ki teesri raka’at me Surat milana bhool gaya ya Duae qunoot bhool gaya, ruku karke Sajda kar liya to Aakhir me Sajdaa Sahu karna wajib he,
*📚 Durre Mukhtar, 1/427*

*👉🏻 Bhool kar pehli raka’at ke baad Beth gaya,*
✯, Agar ek raka’at ke baad bhool kar Beth gaya aur Attahiyat shuru kar di to agar ” Ayyuhan nabiyyu ” me ایھا ke ھا(ha) tak padh liya fir yaad aaya ya uske baad yaad aaya to khade hokar baqiya Namaz mukammal karke Akheer me Sajdaa Sahu kare, agar “ایھا” ke ھا tak pahunchne se pehle yaad aa gaya aur khade hokar Namaz mukammal kar li to Sajdaa Sahu wajib na hoga, ”
*📚 Tafseel fi Ahsanul Fatawa 4/34*

*👉🏻Teen Sajde kar liye,*
✯,  Agar ek raka’at me bhool kar 3 sajde kar liye to Sajdaa Sahu wajib he,
*📚 Ganiyatul mustamla, 1/430*

*👉🏻,  Qa’ada Avla bhool gaya,*
✯,  Agar qa’ada Avla per bethna yaad na raha bhool kar khade hone laga to yaad aa gaya ab agar ghutne sidhe ho gaye to qa’ada ki taraf lotna jaa’iz nahi lekin ba vajah jahalat ghutne sidhe hone ke baad lot aaya aur tashahud padh li tab bhi Sajdaa Sahu se Namaz adaa ho ja’egi, ”
*📚 Shaami, 1/697*
         
*👉🏻Sajda  Sahu bhool gaya,*
✯, Agar kisi per Sajdaa Sahu wajib tha lekin sajdaa karna bhool gaya aur salaam fer diya to agar abhi Masjid se nahi nikla, kisi se koi baat nahi ki to foran Sajdaa Sahu kar le, iske baad attahiyaat, darood Shareef, Dua padh kar salaam fer de, agar masjid se bahar nikal gaya ya kisi se baat kar li to Namaz dohrana wajib he,
*📚 Durre Mukhtar, 1/704*

*👉🏻Imaam aur Muqtadi ka Sajdaa Sahu,*
✯, Agar Namaz me imaam per Sajdaa Sahu lazim ho to imaam ke saath muqtadiyo per Sajdaa Sahu karna wajib he, aur agar Muqtadi se koi sahu ho jaye to uski vajah se na muqtadi per Sajdaa Sahu he na imaam per,

✯,Masbooq se baqi Namaz me sahu ho jaye to us per Sajdaa Sahu lazim hoga,
*📚 Hidaya,, 1/165*

*👉🏻Kai baar galti ka hukm,*
✯, Agar Namaz me kai baar sahu ho jaye to aakhir me ek hi baar Sajdaa Sahu wajib he,
*📚 Aalamgeer, 1/83*

✯, Tashhud se ek lafz bhi chhot gaya to Sajdaa Sahu wajib he,

✯, Tashahud ( attahiyaat) pura wajib he isme se ek lafz bhi reh gaya to Sajdaa Sahu wajib he,
*📚 Durre Mukhtar, 1/434*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
                   *"_सज्दा सहु_"*         

✪_नामाज़ के वाजिबात में से कोई वाजिब भूले से छूट जाए या फ़राइज़ में से किसी फ़र्ज़ में ताख़ीर या तकरार हो तो ऐसी सूरत में नामाज़ के आखीर में तशह्हुद मुकम्मल करने के बाद दाई तरफ सलाम फेर कर 2 सज्दे किये जाए,इसके बाद दोबारा तशह्हुद ,दरूद शरीफ व दुआ पढकर सलाम फेर दिया जाए ,इन  दोनों सजदों को सज्दा सहु कहा जाता है,इससे नामाज़ में गलती का तद्रुक होता है,

*👉🏻मसबूक ने इमाम के साथ सलाम फेर दिया*

✪_अगर मसबूक (जिसकी कुछ रकअत छूट गयी हो और बाद में जमात में शरीक हुए हो) ने भूल से इमाम के साथ सलाम फेर दिया ,सलाम के बाद याद आने पर बकि़या रक़अत पूरी कर ली तो इस पर सज्दा सहु लाज़िम है,

*👉🏻का़'दा अवला में कितनी ज़्यादती से सज्दा सहु लाज़िम होगा?*

✪_अगर का़'दा अवला में अत्तहियात के बाद दरूद शरीफ भूल से शुरू कर दी और "अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदिंव व आला आली मुहम्मदिन की दाल तक पहुंचने से  पहले पहले याद आ गया और खड़ा हो गया तो सज्दा सहु वाजिब नही और अगर दाल तक पढ़ लिया तो सज्दा सहु वाजिब है, _,*

*📚_अहसनुल फतावा-४/३० बा हवाला शामी,* 

*★_सूरह फातिहा का तकरार*:-  अगर किसी ने भूले से सूरह फातिहा का बाज़ हिस्सा यानी "मालिकी यवमिद्दीन" की या तक मुक़र्रर पढ़ ली तो उस पर सज्दा सहु लाज़िम है,
*( अह़सनहु फतावा-४/३१, बा हवाला दुर्रे मुख्तार)*

*★_ वित्र की तीसरी रक़अत में सुरत मिलाना भूल गया*:- अगर वित्र की तीसरी रक़अत में सुरत मिलाना भूल गया या दुआए क़ुनूत भूल गया, रुकू कर के सज्दा कर लिया तो आखिर में सज्दा सहु करना वाजिब है,
*( दुर्रे मुख्तार-१/४२७)*

*★_भूल कर पहली रक़अत के बाद बैठ गया*:- अगर एक रक़अत के बाद भूल कर बैठ गया और अत्तहियात शुरू कर दी तो अगर "अय्युहन्नाबियु" में "अय्युहा" के "हा" तक पढ़ लिया फिर याद आया या उसके बाद याद आया तो खड़े होकर बकि़या नमाज़ मुकम्मल कर के खीर में सज्दा सहु करे, अगर अय्युहा के हा तक पहुँचने से पहले याद आ गया और खड़े होकर नमाज़ मुकम्मल कर ली तो सज्दा सहु वाजिब न होगा,
*( तफसील फि अह़सनहु फतावा-४/३४)*

*★_तीन सज्दे कर लिए*:- अगर एक रक़अत मे भूल कर 3 सज्दे कर लिए तो सज्दा सहु वाजिब है,
*( ग़नीयतुल मुस्तमला-१/४३०)*

*★_का़'दा अवला भूल गया*:-अगर का़'दा अवला पर बैठना याद न रहा भूल कर खड़े होने लगा तो याद आ गया अब अगर घुटने सीधे हो गए तो का़'दा की तरफ लौटना जाइज़ नही लेकिन बा वजह जहालत घुटने सीधे होने के बाद लौट आया और तशह्हुद पढ़ ली तब भी सज्दा सहु से नमाज़ अदा हो जाएगी, _,*
*(शामी- १/६९७)*

*📚_ फिक़हुल इबादात-132,*

*✪_सज्दा सहु भूल गया*:-अगर किसी पर सज्दा सहु वाजिब था लेकिन सज्दा करना भूल गया और सलाम फेर दिया तो अगर अभी मस्जिद से नही निकला ,किसी से कोई बात नही की तो फौरन सज्दा सहु कर ले,इसके बाद,दरूद ,दुआ पढ़ कर सलाम फेर दे ,अगर मस्जिद से बाहर निकल गया या किसी से बात कर ली तो नमाज़ दोहराना वाजिब है,

*✪_इमाम और मुक्तदी का सज्दा सहु*:- अगर नमाज़ में इमाम पर सज्दा सहु लाज़िम हो तो इमाम के साथ मुक्तादियों पर सज्दा सहु करना वाजिब है,और अगर मुक़तदी से कोई सहु हो जाए तो उसकी वजह से न मुक़तदी पर सज्दा सहु है न इमाम पर,

"_ मसबूक से बाकी नमाज़ में सहु हो जाए तो उस पर सज्दा सहु लाज़िम होगा,

*✪_:-कई बार गलती का हुक्म*:-अगर नमाज़ में कई बार सहु हो जाए तो आखिर में एक ही बार सज्दा सहु वाजिब है,
*(आलमगीर,1/83)*

✪_तशह्हुद से एक लफ्ज़ भी छूट गया तो सज्दा सहु वाजिब है,
तशह्हुद (अत्तहियात )पूरा वाजिब है इसमें से एक लफ्ज़ भी रह गया तो सज्दा सहु वाजिब है, _,*
*(दुर्रे मुख्तार-१/४३४)*

*📚_ फिक़हुल इबादात-,*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Bimaar Ki Namaz -✦*
┗───┯ ✿
         
✯, Baaz Deendar Namazi log bimari ke Dino me Namaz me gaflat karte he’n, Ya to padte hi nahi ya bahut baddili se padte he’n Ya ye khayal karte he’n k jab Theek ho ja’enge Qaza pad lenge,

✯,  Ye baat bhi soch Lena chahiye k agar isi bimari ki haalat me maut aa gayi to un Namazo ka kya hoga?

✯,  Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ne apni bimari ke Dino me Namaz ka kis qadar khayal rakha k Aakhri marj jisme Aapka Visaal hua do Sahabi ke sahare ladkhadate hue saath aakar jama’at me shareek hue aur Ummat ke liye bhi yahi hukm he k jab tak khade hokar padhne ki taaqat ho khade hokar padhe aur jab khada hone ki taaqat na ho to bethkar padhe aur iski bhi taaqat na ho to letkar sar ke ishare se padhe,
  
 *👉🏻Beth kar namaz padhne ke masail* 
✯, Namaz kisi haal me na chhode khade hokar padhne ki taaqat ho to khada hokar Namaz padhta rahe aur jab khada na ho sake to bethkar Namaz padhe, Bethe Bethe ruku karke dono sajde kare aur ruku ke liye itna jhuke k peshani ghutno ke barabar aa jaye,
*📚 Sharah At- Tanveer, 1/791*

✯, Agar khada hone ki taaqat to he lekin khade hone se sakht takleef hoti ho ya bimari bad Jane ka dar he tab bhi bethkar Namaz padhna durust he,

✯, Agar ruku Sajda karne ki qudrat na ho to ruku aur Sajde ishare se adaa kare aur Sajde ke ishare me ruku se zyada jhuke,
*📚 Sharah Al- Bidaya, 1/144*

✯, Sajda karne ke liye Takiya vagera koi cheez rakh Lena aur us per Sajda karna behtar nahi, Jab sajda ki qudrat na ho to sirf ishara kar liya kare Takiye ke ouper sajda karne ki zarurat nahi,
*📚 Sharah Al- Tanveer, 1/793, Bahishti Zever, 2/156*     

*👉🏻Let kar namaz padhne ke Masail*

✯, Agar bethne ki taaqat nahi rahi to pichhe koi gaav taqiya vagera lagaka is tarah let jaye k sar khoob ouncha ho jaye, balki bethne ke qareeb ho jaye aur paanv qibla ki taraf faylade,,,, agar kuchh taaqat ho to qibla ki taraf paanv na faylaye balki ghutne khade rakhe, Fir sar ke ishare se Namza padhe, aur Sajde ke ishare me ruku ki banisbat zyada jhuke,
“_Agar gaav Taqiya se tek lagakar bhi is tarah na let sake k sar aur seena vagera ouncha rahe to qibla ki taraf paanv karke bilkul chit let jaye lekin sar ke niche koi ouncha taqiya rakh de k moonh qibla ki taraf ho jaye, aasman ki taraf na rahe, fir sar ke ishare se Namza padhe, Ruku ka ishara kam aur Sajde ka ishara zyada kare,
*📚 Durre Mukhtar, 1/793*

✯,Agar chit na lete balki Daayi ya Baayi karwat per qibla ki taraf moonh karke lete aur sar ke ishare se ruku Sajda kare to ye bhi jaa’iz he lekin chit letkar padhna zyada achchha he,
*📚 Durre Mukhtar, 1/794*

✯,Namaz shuru karne ke waqt bilkul theek tha fir jab kuchh Namaz padh chuka to Namaz hi me koi esi takleef shuru ho gayi k khada hona mushkil ho gaya to baqi namaz bethkar padhe aur ruku Sajda kar sake to kare varna sar ke ishare se kar le,
“_aur esa haal ho gaya ki bethne ki bhi qudrat nahi to isi tarah let kar baqi namaz puri kare

  *👉🏻Aankh ke Operation me Namaz ,*
✯, Kisi ki Aankh ka operation hua ho aur doctor ne usko hilne dulne se mana kar diya ho to let kar Namaz padhta rahe,
*📚 Fatawa Hindiya, 1/87*

*👉🏻 Ruku Sajde se Aajiz ka Hukm ,*
✯, Jo sakhsh ruku Sajde se aajiz lekin khade hone per qaadir ho usko akhtyar he chahe khade hokar Namaz padhe ruku Sajda ishare se kare ya chahe bethkar padhe,

Lekin bethkar padhna uske liye zyada behtar he,
*📚 Fatawa Hindiya, 1/87*

*👉🏻 Ishare se bhi Namaz padhne ki Taaqat na rahe ,*

✯,Agar sar se ishare karne ki bhi taaqat nahi rahi to Namaz na padhe, fir agar ek raat -din se zyada yahi haalat rahi to Namaz bilkul maaf ho gayi,
“_ theek hone ke baad qaza padhna bhi wajib nahi,

Aur agar Ek Raat-Din se zyada ye haalat nahi rahi balki ek Raat-Din me hi ishare se padhne ki taaqat aa gayi to ishare hi se unki qaza padhe,

aur ye iraada na kare k jab bilkul theek ho jaunga tab padunga, isliye k shayad bilkul hi theek hone se pehle mar jaye to gunahgar marega,
*📚 Fatawa Hindiya, 1/90 bahawala- Durre Mukhtar, 1/795*

✯, isi tarah agar bilkul tandurast Aadmi behosh ho jaye to agar behoshi Ek Raat-Din se zyada nahi hui to qaza padhna wajib he,
“_aur ek Raat-Din se zyada ho gayi to qaza padhna wajib nahi,         

 *👉🏻Dorane Namaz Uzr khatm ho gaya ,*

Bimari ki Vajah se bethkar Namza shuru ki aur Ruku Sajda kiya fir Namaz hi me theek ho gaya to usi Namaz ko khada hokar pura kare,
*📚 Fatawa Hindiya, 1/87*

✯,  Agar bimari ki Vajah se ruku Sajda ki taaqat nahi rahi isliye Sar ke ishare se ruku Sajda kiya fir jab kuchh Namaz padh chuka to ruku Sajda karne ki taaqat aa gayi to ab ye Namaz faasid ho gayi, usko pura na kare balki dobara padhe,

aur agar ishare se ruku Sajda karne se pehle tandurast ho gaya to pehli Namaz sahi he, us per bina’a jaa’iz nahi,
*📚 Fatawa Hindiya, 1/87*

*👉🏻 Jo sakhsh khud istanja na kar sake ,*
✯, Faalij gira aur esa bimaar ho gaya k paani se istanja nahi kar sakta to kapde ya dhele se ponchh liya kare aur isi tarah Namaz padhe, agar khud tayammum na kar sake to koi doosra tayammum kara de, aur agar dhele ya kapde se ponchhne ki taaqat bhi na ho to bhi Namaz qaza na kare usi tarah Namaz padhe,

✯,  Walden v olaad vagera kisi ke liye bhi uska Satar dekhna aur ponchhna durust nahi, Albatta miya bivi ek doosre ka Satar dekh sakte he’n,
*📚 Fatawa Hindiya, 1/49*

*👉🏻Napaak Bistar Badalne ka Hukm ,*
✯, Bimaar ka najis bistar badalne me agar use sakht takleef pahunchne ka andesha ho to usi per Namaz padh lena durust he,
*📚 Fatawa Hindiya, 1/88*

*👉🏻 Dorane Namaz Tek lagana ,*
✯, Agar koi shakhs qiraat taveel hone ki Vajah se khade khade thak jaye aur use takleef hone lage to uske liye kisi diwaar ya darakht ya lakdi vagera ka Tek laga Lena makrooh nahi,

*👉🏻 Bimari me Qaza Namaz ,*
✯, Tandurasti Ke zamane me kisi shakhs ki kuchh Namaze qaza ho gayi thi magar qaza padhne se pehle bimaar ho gaya, to bimaari ke zamane me jis tarah bhi Namaz padhne ki taaqat ho unki qaza padh le ye intzaar na kare k jab khade hone ki taaqat aa’egi tab padunga ya jab bethne ki aur Ruku Sajda karne ki taaqat aa’egi tab padunga, ye sab shaytani khayalaat he’n, Deendari ki baat ye he k foran padh le aur der na kare,
*📚 Fatawa Hindiya, 1/88*        

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Fiqahul ibaad,, 142,*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
         *☞  बीमार की नामाज़-*

✪_बाज़ दीनदार नमाज़ी लोग बीमारी के दिनों में नमाज़ में गफलत करते हैं,या तो पढ़ते ही नही या बहुत बददिली से पढ़ते हैं या ये खयाल करते हैं कि जब ठीक हो जाएंगे क़ज़ा पढ़ लेंगे,

"_ये बात भी सोच लेना चाहिए कि अगर इसी बीमारी की हालत में मौत आ गई तो उन नमाज़ों का क्या होगा?

✪_रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने अपनी बीमारी के दिनों में नमाज़ का किस कदर ख्याल रखा कि आखरी मर्ज जिसमे विसाल हुआ दो सहाबी के सहारे लड़खड़ाते हुए साथ आकर जमात में शरीक हुए और उम्मत के लिए भी यही हुक्म है कि जब तक खड़े होकर पढ़ने की ताकत हो खड़े होकर पढ़े और जब खड़ा होने की ताकत न हो तो बैठकर पढ़े और इसकी भी ताक़त न हो तो लेटकर सर के इशारे से पढ़े,

*👉🏻बैठ कर नमाज़ पढ़ने के मसाइल*

✪_नमाज़ किसी हाल में न छोड़ें खड़े होकर पढ़ने की ताकत हो तो खड़ा होकर नमाज़ पढता रहे, और जब खड़ा ना हो सके तो बैठकर नमाज़ पढ़े,बैठे बैठे रुकू कर के दोनों सज्दे करें और रुकू के लिए इतना झुके के पेशानी घुटनो के बराबर आ जाए,

✪_अगर खड़ा होने की ताकत तो है लेकिन खड़े होने से सख्त तकलीफ होती हो या बीमारी बढ़ जाने का डर है तब भी बैठकर नमाज़ पढ़ना दुरुस्त है,

✪_अगर रुकू सज्दा करने की कुदरत न हो तो रुकू और सज्दे इशारे और सज्दे के इशारे में रुकु से ज़्यादा झुके

✪_सज्दा करने के लिए तकिया वगैरह कोई चीज़ रख लेना और उस पर सज्दा करना बेहतर नही,जब सज्दा की कुदरत न हो तो सिर्फ इशारा कर लिया करे तकिए के ऊपर सज्दा करने की ज़रूरत नही, _,*

*👉🏻लेट कर नामाज़ पढ़ने के मसाइल*

✪_अगर बैठने की ताकत नही रही तो पीछे कोई गाव तकिया वगैरह लगा कर इस तरह लेट जाए कि सर खूब ऊंचा हो जाए,बल्कि बैठने के करीब हो जाए और पांव क़िब्ला की तरफ़ फैला दे,, अगर कुछ ताक़त हो तो क़िब्ला की तरफ पांव न फैलाए बल्कि घुटने खड़े रखे ,फिर सर के इशारे से नमाज़ पढ़े,और सज्दे के इशारे में रुकू की बनिस्बत ज़्यादा झुके,

✪_अगर गाव तकिया से टेक लगा कर भी इस तरह न लेट सके कि सर और सीना वगैरह ऊंचा रहे तो क़िब्ला की तरफ पांव कर के बिल्कुल चित लेट जाएं लेकिन सर के नीचे कोई ऊंचा तकिया रख दे कि मुंह क़िब्ला की तरफ हो जाए ,आसमान की तरफ न रहे,फिर सर के इशारे से नमाज़ पढ़े,रुकू का इशारा कम और सज्दे का इशारा ज़्यादा करे,

"_अगर चित न लेटे बल्कि दांई या बांई करवट पर क़िब्ला की तरफ मूंह कर के लेटे और सर के इशारे से रुकू सज्दा करे तो ये भी जाइज़ है लेकिन चित लेटकर पढ़ना ज़्यादा अच्छा है,
*( दुर्रे मुख्तार-1/794)*

✪_नमाज़ शुरू करने के वक़्त बिल्कुल ठीक था फिर जब कुछ नमाज़ पढ़ चुका तो नमाज़ ही में कोई ऐसी तकलीफ शुरू हो गई कि खड़ा होना मुश्किल हो गया तो बाक़ी नमाज़ बैठकर पढ़े और रुकू सज्दा कर सके तो करे वरना सर के इशारे से कर ले,
"_और ऐसा हाल हो गया कि बैठने की भी कुदरत नही तो इसी तरह लेट कर बाक़ी नमाज़ पूरी करे, _,*

*📚_ फिक़हुल इबादात-139,*

*👉🏻आंख के ऑपरेशन में नामाज़*

★_किसी की आंख का ऑपरेशन हुआ हो और डॉक्टर ने उसे हिलने  डुलने से मना कर दिया हो तो लेट कर नमाज़ पढ़ता रहे,

*👉🏻रुकू सज्दे से आजिज़ का हुक्म*

★_जो शख्स रुकू सज्दे से आजिज़ हो लेकिन खड़े होने पर क़ादिर हो उसको इख्तियार है चाहे खड़े होकर नमाज़ पढ़े रुकू सज्दा इशारे से करे या चाहे बैठकर पढ़े,

"_लेकिन बैठकर पढ़ना उसके लिए ज़्यादा बेहतर है,

*👉🏻इशारे से भी नामाज़ पढ़ने की ताकत न रहे*

✪_अगर सर से इशारे करने की भी ताक़त नही रही तो नमाज़ न पढ़े, फिर अगर एक रात दिन से ज़्यादा यही हालत रही तो नमाज़ बिल्कुल माफ हो गई,

ठीक होने के बाद क़ज़ा पढ़ना भी वाजिब नही,

"_और अगर एक रात दिन से ज़्यादा ये हालत नही रही बल्कि एक रात दिन में ही इशारे से पढ़ने की ताक़त आ गई तो इशारे ही से उनकी क़ज़ा पढ़े,

"_और ये इरादा न करे के जब बिल्कुल ठीक हो जाऊंगा तब पढूंगा,इसीलिए की शायद बिल्कुल ही ठीक होने से पहले  मर जाए तो गुनाहगार मरेगा,

✪_इसी तरह अगर बिल्कुल तंदरुस्त आदमी बेहोश हो जाए तो अगर बेहोशी एक रात दिन से ज़्यादा नही हुई तो क़ज़ा पढ़ना वाजिब है, और अगर एक रात दिन से ज़्यादा हो गई तो क़ज़ा पढ़ना वाजिब नही, _,*

*👉🏻दौराने नमाज़ उज़्र खत्म हो गया,*

✪_बीमारी की वजह से बैठकर नमाज़ शुरू की और रुकू किया फिर नमाज़ ही में ठीक हो गया तो उसी नमाज़ को खड़ा होकर पूरा करे,

✪_अगर बीमारी की वजह से रुकू सज्दा की ताकत नही रही इसीलिए सर के इशारे से रुकू सज्दा किया फिर जब कुछ नमाज़ पढ़ चुके तो रुकु सज्दा करने की ताकत आ गई तो अब ये नमाज़ फासिद हो गई,उसको पूरा न करे बल्कि दोबारा पढ़े,

"_और अगर इशारे से रुकू सज्दा करने से पहले तंदुरुस्त हो गया तो पहली नमाज़ सही है,उस पर बिना जाइज़ नही,

*👉🏻जो शख्स खुद इस्तिन्जा न कर सके*

✪_फालिज गिरा और ऐसा बीमार हो गया कि पानी से इस्तिन्जा नहीं कर सकता तो कपड़े या ढ़ेले से पोंछ लिया करे और इसी तरह नमाज़ पढ़े,अगर खुद तयम्मुम न कर सके तो कोई दूसरा तयम्मुम करा दे,और अगर ढ़ेले या कपड़े से पोछने की ताकत भी न हो तो भी नमाज़ क़ज़ा न करे उसी तरह नामाज़ पढ़े,

"_वालिदैन व औलाद वगैरह किसी के लिए भी उसका सतर देखना और पोछना दुरुस्त नही ,अलबत्ता मियां बीवी एक दूसरे का सतर देख सकते हैं,

*👉🏻नापाक बिस्तर बदलने का हुक्म*

✪_बीमार का नजिस बिस्तर बदलने में अगर उसे सख्त तकलीफ पहुंचने का अंदेशा हो तो उसी पर नमाज़ पढ़ लेना दुरुस्त है,

*👉🏻 दौराने नमाज़ टेक लगाना*

✪_अगर कोई शख्स कि़रात तवील होने की वजह से खड़े खड़े थक जाए और उसे तकलीफ होने लगे तो उसके लिए किसी दीवार या दरख़्त या लकड़ी वगैरह का टेक लगा लेना मकरूह नही,

*👉🏻 बीमारी में क़ज़ा नामाज़*

✪_तंदुरुस्ती के ज़माने में किसी शख्स की कुछ नमाज़ें क़ज़ा हो गयी थी मगर क़ज़ा पढ़ने से पहले बीमार हो गया,तो बीमारी के ज़माने में जिस तरह भी नमाज़ पढ़ने की ताकत हो उनकी क़ज़ा पढ़ ले ये इंतज़ार न करे के जब खड़े होने की ताकत आएगी तब पढूंगा या जब बैठने की और रुकू सज्दा करने की ताकत आएगी तब पढूंगा ,ये सब शैतानी खयालात हैं,दीनदारी की बात ये है कि फौरन पढ़ ले और देर न करे, _,*

*📚_ फिक़हुल इबादात -144,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Kursi per Bethkar Namaz Padhna-1 ✦*
┗───┯✿           
✯ Aajkal kursi per bethkar Namaz padhne ka ek aam rivaaj ho gaya he, Jisko bhi thodi bahut takleef ghutno me ya kamar me ho rahi ho wo sahuliyat ki khatir kursi per bethkar Namaz padhna shuru kar deta he, halanki baaz surato me kursi per bethkar Namaz padhna jaa’iz nahi,
“__ isliye is Masle ki puri vazahat likhi jati he k kis qism ke Mareez ke liye kursi per Namaz padhna jaa’iz aur kiske liye nahi,

 *👉🏻Jin soorto me ishare se Namza padhna jaa’iz nahi, sajda karna laazim he:-*

✯, 1- Jo Mareez qayaam per qaadir nahi albatta Ruku Sajda kar sakta ho to uske liye zameen per bethkar ba-qa’ada Ruku Sajda karna Farz he,

✯, 2- Jo Mareez zameen per bethkar ba-qa’ada Sajda nahi kar sakta magar Sar itna jhuka sakta ho k zameen tak zyada se zyada 2 Einto ( bricks) ke barabar taqriban Ek Baalisht ya isse kam faasla reh jaye to uske liye itni ya isse kam ounchi kisi cheez Tipaai vagera per Sajda karna laazim he, ishare se Namza nahi hogi,

✯, 3- Jo Mareez zameen per bethkar Namaz nahi padh sakta magar Kursi se utarkar zameen per Sajda kar sakta ho aur kursi per bethne ki ounchai ke barabar koi Tipaai bhi saamne nahi rakhi hui ho to ese Mareez ke liye kursi per bethkar ruku v Sajda ke liye ishara karna durust nahi, Zameen per utarkar ba-qa’ada Sajda karna zaruri he,

✯,4- Jo Mareez zameen per bethkar Sajda nahi kar sakta aur na itna sar jhuka sakta ho k zameen per Ek Baalisht faasla reh jaye magar Kursi per bethkar Namaz padhe to Kursi per bethne ki jagah ke barabar ounchi Tipaai vagera per Sar rakhkar Sajda kar sakta he aur Kursi aur Tipaai ka ghar me intezam ho sakta he Masjid me nahi ho sakta to masjid me kursi per ishare se Namza padhna durust nahi, ghar me Tipaai per Sajda karna laazim he,

✯,5- isi tarah agar kursi per bethne ki jagah ke barabar tak sar nahi jhuka sakta magar Kursi per bethne ki jagah se Ek Baalisht ya isse kam ounchai tak sar jhuka sakta he aur itni ounchi Tipaai mayassar he to us Tipaai per Sajda karna laazim he, ishare se Namza padhna sahi nahi,

✯, *_ Vaaze rahe k Aajkal Masajid me rakhi kursiyo ke saamne tirchhe lage hue mez (table) aam tor per Do Einto ( bricks) ki miqdaar ( taqriban ek Baalisht) se zyada ounchi hote he’n, is per agar ese shakhs ne Sajda kiya to wo ishare ke hukm me hoga aur ese shakhs ki Namaz ki sehat ke liye ishara kaafi nahi,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Fiqahul ibaad,, 144*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *👉🏻 कुर्सी पर बैठकर नामाज़ पढ़ना-1*

✪_आजकल कुर्सी पर बैठकर नमाज़ पढ़ने का एक आम रिवाज़ हो गया है,जिसको भी थोड़ी बहुत तकलीफ घुटनो में या कमर में हो रही हो वो सहूलियत की खातिर कुर्सी पर बैठकर नमाज़ पढ़ना शुरू कर देता है,हालांकि बाज़ सूरतों में कुर्सी पर बैठकर नमाज़ पढ़ना जाइज़ नही,

"_इसीलिए इस मसले की पूरी वजाहत लिखी जाती है कि किस कि़स्म के मरीज के लिए कुर्सी पर नमाज़ पढ़ना जाइज़ और किसके लिए नही,

*✪_जिन सूरतों में इशारे से नमाज़ पढ़ना जाइज़ नही,सज्दा करना लाज़िम है:-*
1-जो मरीज़ क़याम पर क़ादिर नही अलबत्ता रुकू सज्दा कर सकता हो तो उसके लिए जमीन पर बैठकर बाक़ायदा रुकू सज्दा करना फ़र्ज़ है,

2-जो मरीज़ ज़मीन पर बैठकर बाक़ायदा सज्दा नही कर सकता मगर सर इतना झुका सकता हो कि ज़मीन तक ज़्यादा से ज़्यादा 2 ईंटों के बराबर तक़रीबन एक बालिश्त या इससे कम फासला रह जाए तो उसके लिए इतनी या इससे कम ऊंची किसी चीज़ तिपाई वगैरह पर सज्दा करना लाज़िम है,इशारे से नमाज़ नही होगी,

3-जो मरीज़ ज़मीन पर बैठकर नमाज़ नही पढ़ सकता मगर कुर्सी से उतरकर ज़मीन पर सज्दा कर सकता हो और कुर्सी पर बैठने की ऊंचाई के बराबर कोई तिपाई भी सामने नही रखी हुई हो तो ऐसे मरीज़ के लिए कुर्सी पर बैठकर रुकू व सज्दा के लिए इशारा करना दुरुस्त नही,ज़मीन पर उतरकर बाक़ायदा सज्दा करना ज़रूरी है,

4-जो मरीज़ ज़मीन पर बैठकर सज्दा नही कर सकता और न इतना सर झुका सकता हो कि ज़मीन पर एक बालिश्त फासला रह जाए मगर कुर्सी पर बैठकर नमाज़ पढे तो कुर्सी पर बैठने की जगह के बराबर ऊंची तिपाई वगैरह पर सर रखकर सज्दा कर सकता है और कुर्सी और तिपाई का घर मे इंतज़ाम हो सकता है मस्जिद में नही हो सकता तो मस्जिद में कुर्सी पर इशारे से नमाज़ पढ़ना दुरुस्त नही,घर मे तिपाई पर सज्दा करना लाज़िम है,

5-इसी तरह अगर कुर्सी पर बैठने की जगह के बराबर तक सर नही झुका सकता मगर कुर्सी पर बैठने की जगह से एक बालिश्त या इससे कम ऊंचाई तक सर झुका सकता है और इतनी ऊंची तिपाई मयस्सर है तो उस तिपाई पर सज्दा करना लाज़िम है,इशारे से नमाज़ पढ़ना सही नही,

"_वाज़े रहे कि आजकल मस्जिद में रखी कुर्सियों के सामने तिरछे लगे हुए मेज़ आम तौर पर दो ईंटों की मिक़दार (तक़रीबन एक बालिश्त)से ज़्यादा ऊंची होते हैं इस पर अगर ऐसे शख्स ने सज्दा किया तो वो इशारे के हुक्म में होगा और ऐसे शख्स की नमाज़ की सेहत के लिए इशारा काफी नही, _,*

*📚_ फिक़हुल इबादात-144,*


┏───────────────────┯✿
│ *☞ Kursi per Bethkar Namaz Padhna-2 ✦*
┗───┯ ✿
*☞ Jin Soorto me ishare se Namaz Padhna Ja’iz he ,*

★1- Jo Mareez zameen per bethkar Namaz padhne per qaadir ho lekin ruku v Sajda karne per qaadir nahi, Maslan – kamar me takleef he ya Aankho ka operation kiya he, Sakht takleef ya naqabile bardasht jismani nuqsan ke andeshe ki bina per zameen per baqa’ada sajda nahi kar sakta he aur na itna jhuk sakta he k zameen tak ek Baalisht ya isse kam faasla reh jaye, to woh ishare se Namza padh sakta he magar isme bhi laaziman ahatyat kare k sajde ke liye ruku se zyada jhuke,

★ 2- Min darja soorate haal me Mareez kursi per Namaz padhna chahta he aur itna nahi jhuk sakta he k bethne ki jagah ke barabar ounchi Tipaai ya kursi ki Seat ke se taqriban ek Baalisht ya isse kam ounchi Tipaai per Sajda kar sake to woh kursi per bethkar ishare se ruku Sajda karke Namaz padh sakta he, uske saamne Tipaai vagera rakhna zaruri nahi,
Kyuki is soorat me use ishare se Namza padhne ki ijazat he,

★ Taham agar kisi ne saamne rakhi esi Tipaai ya nisb Takht Jo kursi ki Seat se do Einto ki miqdaar taqriban ek Baalisht ya 9 inch se zyada ouncha he, per Sajda kiya to isse Namaz ki Sehat per koi asar nahi padhega,

★3- Zameen per bethkar Sajda karne per qaadir nahi lekin agar kursi per bethkar Namaz adaa karna chahe aur kursi per bethne ki jagah ke barabar usse taqriban 9 inch ounchai tak Sar jhuka sakta he lekin apne mohalle se door he aur kisi esi cheez ka intezam nahi ho sakta to is soorate haal me ye Mareez kursi per bethkar ishare se Namaz padh sakta he,
*↳® Ba hawala – Durre Mukhtar, 2/684*         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚Fiqhul ibadaat, 145*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 

  *☞ कुर्सी पर बैठकर नामाज़ पढ़ना-2*

  *☞ जिन सूरतों में इशारे से नामाज़ पढ़ना जाइज़ है*

✪_1-जो मरीज़ ज़मीन पर बैठकर नमाज़ पढ़ने पर क़ादिर हो लेकिन रुकू व सज्दा करने पर क़ादिर नही,मसलन -कमर में तकलीफ है या आंखों का आपरेशन किया है,सख्त तकलीफ या नाक़ाबिले बर्दाश्त जिस्मानी नुकसान के अंदेशे की बिना पर ज़मीन पर बाक़ायदा सज्दा नही कर सकता है और न इतना झुक सकता है कि ज़मीन तक एक बालिश्त या इससे कम फासला रह जाए,तो वो इशारे से नमाज़ पढ़ सकता है,मगर इसमें भी लाज़िमन एहतियात करे कि सज्दे के लिए रुकू से ज़्यादा झुके,

✪_2-मिन दर्जा सूरते हाल में मरीज़ कुर्सी पर नमाज़ पढ़ना चाहता हैऔर इतना नही झुक सकता है कि बैठने की जगह के बराबर ऊंची तिपाई या कुर्सी की सीट के तक़रीबन एक बालिश्त या इससे कम ऊंची तिपाई पर सज्दा कर सके तो वो कुर्सी पर बैठकर इशारे से रुकू सज्दा कर के नमाज़ पढ़ सकता है,उसके सामने तिपाई वगैरह रखना ज़रूरी नही,
क्योंकि इस सुरत में उसे इशारे से नमाज़ पढ़ने की इजाज़त है,

"'_ताहम अगर किसी ने सामने रखी ऐसी तिपाई या निस्ब तख्त जो कुर्सी की सीट से दो ईंट की मिक़दार तक़रीबन एक बालिश्त या 9 इंच से ज़्यादा ऊंचा है,पर सज्दा किया तो इससे नामाज़ की सेहत पर कोई असर नही पड़ेगा,

✪_3-ज़मीन पर बैठकर सज्दा करने पर क़ादिर नही लेकिन अगर कुर्सी पर बैठकर नमाज़ अदा करना चाहे और कुर्सी पर बैठने की जगह के बराबर उससे तक़रीबन 9 इंच ऊंचाई तक सर झुका सकता है लेकिन अपने मोहल्ले से दूर है और किसी ऐसी चीज़ का इंतज़ाम नही हो सकता तो इस सूरते हाल में ये मरीज़ कुर्सी पर बैठकर इशारे से नमाज़ पढ़ सकता है, _,*
*( बा हवाला- दुर्रे मुख्तार-२/६८४)*

*📚_ फिक़हुल इबादात -१४५,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Musafir Ki Namaz-1 ✦*
┗───┯ ✿        
★Bahut se log Jab apne ghar, mohalle me mojood hote he’n to Namazo ka ahatmam karte he’n,Azkaar Tilawat aur Nawafil ka ahatmam karte he’n . Unko doosri jagah koi kaam pesh aa jaye, ya safar me nikalna pade, Safar door ka ho ya qareeb ka apni Namazo se gafil ho jate he’n, Bila vajah Namaze qaza kar lete he’n, k jab Safar se wapas ghar pahunchenge to padh lenge,

⇨Ye badi gaflat ki baat he aur bada gunaah bhi he, Jab tak koi shara’i uzr laahaq na ho Namaz aur digar ahkaam me susti karna bada gunaah he, Mard – Khwateen Sabko iska dhyan rakhna chahiye,

*👉🏻 Aadmi Shar’an Musafir kab banta he ,*

★Jo sakhsh 48 meal – ya 77.24 Kilometers ya isse door Jane ki niyat se apni aabadi ya Shehar ki hudood se bahar nikal jaye to usko Shara’i musafir kaha jata he, Uske liye Shari’at me kai ahkaam me takhfeef farmai he,
*® Makhuzaaz- Ahsanul Fatawa, Bahishti Zever, 2/10*

★Jis Raaste per Safar kiya Ja’ega uska etbaar he, Agar wo 48 meal (ya 77.25 kilometers ) ho to qasar laazim he, Chahe doosra raasta isse kam musafat ka ho,
*↳®Aapke Masail aur unka Hal, 2/380*
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 Fiqhul ibadaat, 147*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 

  *☞ मुसाफिर की नामाज़-१*

✪_बहुत से लोग जब अपने घर मोहल्ले में मौजूद रहते हैं तो नमाज़ों का एहतेमाम करते हैं,अज़कार तिलावत और नवाफिल का एहतेमाम करते हैं.उनको दूसरी जगह कोई काम पेश आ जाए ,या सफर में निकलना पड़े,सफर दूर का हो या क़रीब का अपनी नमाज़ों से गाफिल हो जाते हैं ,बिला वजह नमाज़ें क़ज़ा कर लेते हैं ,की जब सफर से वापस घर पहुचेंगे तो पढ़ लेंगे,

"_ये बड़ी गफलत की बात है और बड़ा गुनाह भी है,जब तक कोई शरई उज़्र लाहक़ न हो नमाज़ और दीगर अहकाम में सुस्ती करना बड़ा गुनाह है,मर्द ख्वातीन सबको इसका ध्यान रखना चाहिए,

*👉🏻आदमी शरअन मुसाफिर कब बनता है*

✪_जो शख्स 48 मील या 77.24 किलोमेटर्स या इससे दूर जाने की नीयत से अपनी आबादी या शहर की हुदूद से बाहर निकल जाए तो उसको शरई मुसाफिर कहा जाता है,उसके लिए शरीयत में कई अहकाम में तख़फ़ीफ फरमाई है,
*( माखुज़ाज़- अहसनुल फतावा , बहिस्ती ज़ेवर -२/१०)*

✪_जिस रास्ते पर सफर किया जाएगा उसका एतबार है,अगर वो 48 मील (या 77.25 किलोमेटर्स)हो तो कसर् लाज़िम है,चाहे दूसरा रास्ता इससे कम मुसाफत का हो, _,*
*(आपके मसाइल और उनका हल-२/३८०)*

*📚_ फिक़हुल इबादात-147*
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Musafir Ki Namaz-2 ✦*
┗───┯ ✿
*👉🏻 Dorane Safar Namaz ka Hukm,*

★ Jo sakhsh Shara’i musafir ho wo Zuhar, Asr aur isha ki farz Namaze 2 raka’ate padhe,

★ Agar kisi ne dorane safar in Namazo ko 4 raka’at padh li to gunahgar hoga,

★ Agar kisi ne dorane safar 4 raka’at wali farz Namazo ko bhoole se 2 raka’at ki bajae puri 4 padh li, agar doosri raka’at me attahiyaat padhi he tab to 2 raka’ate farz aur 2 raka’ate nifl ho ja’egi,

★ Aur agar Sajda sahu karna pade aur Sajda sahu nahi kiya ya 2 raka’at per bethkar attahiyaat na padhi dono haalat me 4 raka’ate nifl ho gayi, Ab Farz Namaz dobara padhe,
*↳ ® Sharah Tanveer, 1/828*

*👉🏻 Dorane Safar Qaza Namazo ka Hukm,*

★ Agar kisi ki Namaze safar me qaza ho gayi to ghar pahunch kar safar ki qaza Namaze 2 raka’ate hi qaza padhega,

★ Agar kisi ki. Namaze ghar me Qaza ho gayi ho to woh safar ke doran qaza padhna chahe to puri 4 raka’ate padhe,
*↳® Sharah Bidaya, 1/150*

*👉🏻 Haalate Safar me Sunnato ka Hukm,*

★ Jaldi ki haalat me Sunnat Fajar ki Sunnato ke Siva doosri sunnato ko chhodna jaa’iz he,

★ Koi jaldi na ho, Saathiyo se bichhadne ka Dar na ho, Ya Gaadi chhootne ka khof na ho balki itminaan ki haalat ho to Sunnat Mokadah padhna zaruri he,

★ Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam se Safar me Sunnate padhna saabit he,
*↳ ® Fatawa Hindiya, 1/89*
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 Fiqhul ibadaat, 148*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
    
  *☞ मुसाफिर की नामाज़-2*

*☞दौराने सफर नामाज़ का हुक्म*

★_जो शख्स शरई मुसाफिर हो वो ज़ुहर,असर और ईशा की फ़र्ज़ नमाज़ें 2 रकातें पढ़े,
अगर किसी ने दौराने सफर इन नमाज़ों को 4 रकअत पढ़ ली तो गुनाहगार होगा,

★_अगर किसी ने दौराने सफर 4 रकअत वाली फ़र्ज़ नमाज़ों को भूले से 2 रकअत की बजाए पूरी 4 पढ़ ली ,अगर दूसरी रकअत में अत्तहियात पढ़ी है तब तो 2 रकातें फ़र्ज़ और 2 रकातें नफ़्ल हो जाएगी,

"_और अगर सज्दा सहु करना पड़े और सज्दा सहु नही किया या 2 रकअत पर बैठकर अत्तहियात न पढ़ी दोनो हालात में 4 रकातें निफल हो गई,अब फ़र्ज़ नामाज़ दोबारा पढ़े,
*( शरह तनवीर -१/८२८)*

*☞दौराने सफर क़ज़ा नमाज़ों का हुक्म*

★_अगर किसी की नमाज़ें सफर में क़ज़ा हो गई तो घर पहुंच कर सफर की क़ज़ा नमाज़ें 2 रकातें ही क़ज़ा पढ़ेगा,

"_अगर किसी की नमाज़ें घर मे क़ज़ा हो गई हो तो वो सफर के दौरान क़ज़ा पढ़ना चाहे तो पूरी 4 रकातें पढ़े,
*( शरह बिदाया -१/१५०)*

*☞हालाते सफर में सुन्नतों का हुक्म*

★_जल्दी की हालत में फजर की सुन्नतों के सिवा दूसरी सुन्नतों को छोड़ना जाइज़ है,
कोई जल्दी न हो,साथियों से बिछड़ने का डर न हो,या गाड़ी छूटने के खौफ न हो बल्कि इत्मीनान की हालत हो तो सुन्नत मोअक़दह पढ़ना ज़रूरी है,

★_रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से सफर में सुन्नते पढ़ना साबित है, _,*
*( फतावा हिंदिया- १/८९)*

*📚_ फिक़हुल इबादात- १४८,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Musafir Ki Namaz -3 ✦*
         
*☞❂ Aqamat Ki Niyat ,*

★ Agar Musafir ne kisi maqaam per 15 din ya usse zyada theharne ki niyat ki to woh Namaze puri padhega,

★ Ya isi tarah waapsi per Shehar / Gaanv ki hudood me dakhil hote hi Namaze puri padhna laazim he,
*📚® Sharah Bidaya,* 
*📚®Fiqhul ibadaat, 148*

★ Safar se wapsi per jab musafir apne shehar ki hudood me dakhil ho jaye to safar ki namaz khatam ho jati he, hudoode shehar me dakhil hone ke baad puri namaz padna lazim he,
★ Jis Raaste per safar kiya jaye qasar namaz ke liye uska etbaar hoga or 48 meal per qasar karega, chahe doosra raasta isse kam musafat ka ho, ( Train, or Bus me bhi ye fark lazim pesh aata he)

★ Jis Shehar, kasba, Gaanv me insaan ki jaydaad v makan na ho wo watan asli nahi he, waha per musafir mana ja’ega or qasar ki shara’it lagu honge,

★ Kisi shehar, kasba, Gaanv me kiraye ka makan le rakha he to waha muqeem kehlayega or puri namaz Ada karega, 15 din ya usse zyada rehne ki niyat zaruri nahi,

★ Musafir agar kisi shehar me 15 din ya usse zyada rehne KI niyat kare to puri namaz Ada. karega, agar 15 din se kam rehne ki niyat he to qasar karega,

★ Aurat ki shadi ke baad Rukhsati ho chuki ho or wo apne mayke milne ke liye aati he to waha musafir hogi, Agar 15 din ya usse zyada rehne ki niyat he to puri namaz pade or 15 din se kam rehne ki niyat he to qasar padegi,

★ Hostel ya Madarsa me jab tak Aap Talibe ilm ki haisiyat se waha muqeem he’n , waha puri namaz pade,

⇨ Agar waha ek baar bhi 15 din ya isse Zyada kayaam nahi kiya to Aap waha musafir hai,,

★ Talibe ilm har haal me apne ghar per poori namaz Ada karega, chahe ek ghante ke liye gaya ho,

★ Agar musafir imaam he to 4 Raka’at Namaz me 2 rakaat per salam fer dega, or Muqtadi agar muqeem he to salam nahi ferenge balki uthkar apni baqi namaz puri kar lenge,,

★ Agar musafir muqeem imam ke pichhe bajamaat Namaz Ada karta he to puri namaz Ada karega,,        

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal, Jild- 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 

  *☞ मुसाफिर की नामाज़-3*

     *☞ अक़ामत की नीयत*

★_अगर मुसाफिर ने किसी मक़ाम पर 15 दिन या उससे ज़्यादा ठहरने की नीयत की तो वो नमाजे पूरी पढ़ेगा,
या इसी तरह वापसी पर शहर गांव की हुदूद में दाखिल होते ही नमाजे पूरी पढ़ना लाज़िम है,
*( शरह बिदाया , फिक़हुल इबादात-१४८)*

★_सफर से वापसी पर जब मुसाफिर अपने शहर की हुदूद में दाखिल हो जाए तो सफर की नमाज़ खत्म हो जाती है,हुदूदे शहर में दाखिल होने के बाद पूरी नमाज़ पढ़ना लाज़िम है,

★_जिस रास्ते पर सफर किया जाए कसर नमाज़ के लिए उसका एतबार होगा और 48 मील पर कसर करेगा,चाहे दूसरा रास्ता इससे कम मुसाफत का हो(ट्रैन,और बस में भी ये फर्क लाज़िम पेश आता है)

★_जिस शहर ,कस्बा ,गांव में इंसान की जायदाद व मकान न हो वो वतन असली नही है,वहां पर मुसाफिर माना जाएगा और क़सर की शराइत लागू होंगे,

★_किसी शहर,कस्बा,गांव में किराए का मकान ले रखा है तो वहां मुकीम कहलाएगा और पूरी नमाज़ अदा करेगा,15 दिन या उससे ज़्यादा रहने की नीयत ज़रूरी नही,

★_मुसाफिर अगर किसी शहर में 15 दिन या उससे ज़्यादा रहने की नीयत करे तो पूरी नमाज़ अदा करेगा,अगर 15 दिन से कम रहने की नीयत है तो क़सर करेगा,

★_औरत की शादी के बाद रुखसती हो चुकी है और वो अपने मायके मिलने के लिए आती है तो वहां मुसाफिर होगी ,अगर 15 दिन या उससे ज़्यादा रहने की नीयत है तो पूरी नामाज़ पढ़े और 15 दिन या उससे कम रहने की नीयत है तो क़सर पढ़ेगी,

★_होस्टल या मदरसा में जब तक आप तालिबे इल्म की हैसियत से वहां मुकीम है,वहां पूरी नमाज़ पढ़े,

"_अगर वहां एक बार भी 15 दिन या इससे ज़्यादा क़याम नही किया तो आप वहां मुसाफिर हैं,

★_तालिबे इल्म हर हाल में अपने घर पर पूरी नमाज़ अदा करेगा,चाहे एक घंटे के लिए गया हो,

★_अगर मुसाफिर इमाम है तो 4 रकअत नमाज़ में 2 रकअत पर सलाम फेर देगा, और मुक़तदी अगर मुकीम है तो सलाम नही फेरेंगे बल्कि उठकर अपनी बाकी नमाज़ पूरी कर लेंगे,,

★_अगर मुसाफिर मुकीम इमाम के पीछे बाजामात नमाज़ अदा करता है तो पूरी नमाज़ अदा करेगा, _,*

*📚_  आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Musafir Ki Namaz-4, ✦*
┗───┯ ✿
*👉🏻Driver Hamesha Safar me Qasr Padhe ,*
★Truk, Rail aur Bus chalane wale log chuki hamesha safar hi me hote he’n, isliye jab tak ye log Safar me he’n qasr he padhte rahenge,

★ Haa’n Jab kabhi apne ghar me jaye ya Aqamat ( 15 din ya isse zyada kayaam ki niyat) me aa jaye to puri namaz padhenge,
*↳ ®Sharah At-Tanveer, 1/833 Ahsanul Fatawa, 4/88*

*👉🏻 Hawai Jahaaz Me Namaz ,*
★ Ba waqt parvaaz Hawai Jahaaz me Namaz Chalte hue. Paani ke Jahaaz ki tarah he, Yani usme ba vajah Namaz jaa’iz he,

★ Agar zameen per utarne tak Namaz qaza ho Jane ka khatra ho to Jahaaz ke ouper hi Namaz padh li jaye, Utarne ka intezar na kiya jaye,
*↳® Ahsanul Fatawa, 4/89*

*👉🏻 Rail aur Bus me Namaz ,*
★Jo log Rail ya Bus me safar karte he’n, Wo koshish kare ki Stop ya Station aane per zameen per utarkar Namaz adaa kare, lekin Driver Bus na roke aur Stop aane ya station tak pahunchne me Namaz ka waqt nikal Jane ka khatra ho to Rail or Bus me Khade hokar qibla rukh hokar Namaz padhe,

★ Agar girne ka khatra ho to kisi cheez se Tek lagakar ya haath se koi cheez pakadkar khade ho,

★ Agar qibla rukh hone ki gunzaish na ho to 2 nashisto (Seato) ya gailry ke darmiyan qibla rukh khade hokar qayaam ruku ka farz Ada kare aur Sajde ke liye pichhli nashist ( seat) per Kursi ki tarah beth jaye yani paanv niche hi rahe, aur Saamne ki nashist ( seat) per Sajda kare,

★ Agar kisi vajah se qayaam ya istaqbale qibla ka Farz Ada na ho sake to us waqt jese bhi mumkin ho Namaz padh le, magar baad me esi Namaz ka ahata (lota le) kare,
*↳® Ahsanul Fatawa, 4/88*

*👉🏻 Dorane Safar Azaan ka Hukm,*
★ Dorane Safar agar sab saathi ek saath hi ek jagah per mojood ho to Namaz ke liye Azaan kehna mustahab he aur aqamat sunnate mokada he, Safar me Tanha Namaz padhne ka bhi yahi hukm he,

★ Rail ke dibbe me chunki sab log ek saath hi hote he’n isliye usme chahe ba jama’at Namaz ho ya tanha, dono soorto me Azaan mustahab he aur aqamat sunnate mokada he,

★Chalti Rail me ek dibbe ke musafir ka doosre dibbe ke musafir se koi talluq nahi, isliye har dibbe me Azaan, Aqamat mustakil hogi, agarche doosre dibbe se Azaan ki awaaz pahunch chuki ho,
*↳® Ahsanul Fatawa, 2/294*         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 ↳®Fiqhul ibadaat, 150*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
*
  *☞ मुसाफिर की नमाज़ _,*

✪_ड्राइवर हमेशा सफर में कसर पढ़े। ट्रक रेल और बस चलाने वाले लोग चूंकि हमेशा सफर में ही होते हैं ,इसलिए जब तक लोग सफर में हैं कसर ही पढ़ते रहेंगें,
हाँ जब कभी अपने घर को जाए या अकामत (15 दिन या इससे ज़्यादा क़याम  की नियत ) में आजाये तो पूरी नमाज़ पढ़ेंगे ,
*(शरह अत तनवीर ,1/833,अहसनुल फतावा ,4/88)*

*✪_हवाई जहाज़ में नमाज़:-* बा वक़्त परवाज़ हवाई जहाज़ में नमाज़ चलते हुए पानी के जहाज की तरह है यानी उसमे बा वजह नमाज़ जायज़ है,
अगर ज़मीन पर उतरने तक नमाज़ क़ज़ा हो जाने का खतरा है तो जहाज़ के ऊपर ही नमाज़ पढ़ ली जाए उतरने का इंतज़ार न करें,
*(अहसनुल फ़तावा,4/89)*

*✪_रेल ओर बस में नमाज़ :-* जो लोग रेल या बस में सफर करते हैं , वो कोशिश करे की स्टॉप या स्टेशन आने पर ज़मीन पर उतरकर नमाज़ अदा करें ,लेकिन ड्राइवर बस न रोके और स्टॉप आने या स्टेशन आने तक पहुचने में नमाज़ का वक़्त निकल जाने का खतरा हो तो रेल और बस में  खड़े होकर क़िब्ला रुख होकर नमाज़ पढ़े ,
"_अगर गिरने का खतरा हो तो किसी चीज़ से टेक लगाकर या हाथ से कोई चीज़ पकड़ कर खड़े हो,
"_अगर क़िब्ला रुख होने की गुंजाइश न हो तो 2 सीटों या गैलरी के दरमियाँ क़िब्ला रुख खड़े होकर क़याम रुकू का फर्ज अदा करें और सजदे के लिए पिछली सीट पर कुर्सी की तरह बैठ जायें यानी पाँव नीचे ही रहे , और सामने की सीट पर सजदा करें,
"_अगर किसी वजह से क़याम या इस्तक़बाले क़िब्ला का फ़र्ज़ अदा न हो सके तो उस वक़्त जैसे भी मुमकिन हो नमाज़ पढ़ले ,मगर बाद में ऐसी नमाज़ का अहाता (लौटा ले) करें,
*(अहसनुल फ़तवा ,4/88)*

*✪_दौरान सफर अज़ान का हुक्म :-* दौरान सफर अगर सब साथी एक साथ ही एक जगह पर मौजूद हो तो नमाज़ के लिए अज़ान कहना मुस्तहब है और अका़मत सुन्नते मोक़दा है , सफर में तन्हा नमाज़ पढ़ने का भी यही हुक़्म है,
"_रेल के डिब्बे में चूंकि मुसाफिर का दूसरे डिब्बे के मुसाफिर से कोई ताल्लुक नहीं, इसलिए हर डिब्बे में अज़ान अका़मत मुस्तक़िल होगी, अगरचे दूसरे डिब्बे से अज़ान की आवाज़ पहुँच चुकी हो,
*(अहसनुल फ़तवा 2/294 _,*

*📚_ फिक़हुल इबादात-१५०_,*
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz Ke Baad Dua - ✦*
┗───┯ ✿
*👉🏻 DUA ki Ahmiyat ,*

★” Dua momin ka hathiyar he, Deen ka sutoon he aur Aasmaan v Zameen ka noor he, ”
*↳ ®Musnad Abu Ya’alaa, Mustadrak Haakim,*

★” Dua ibaadat ka Magz he, ”
*↳® Tirmizi,*

★” Dua ayn ibaadat he ”
*↳ ®Musnad Ahmad, Tirmizi, Abu Dauwd,*

★” Tum apne Rab se Duniya aur akhirat ki afu v aafiyat maango, kyuki jab ye dono cheeze duniya me bhi mil gayi aur akhirat me bhi to tum kamyaab ho gaye, ”
*↳® Tirmizi*

★” Jiske liye Dua ka darwaza khul gaya uske liye rehmat ke darwaze khul gaye, aur Allah ta’aala se jitni cheeze maangi jati he usme Allah ta’aala ko sabse zyada ye pasand he k Aadmi aafiyat maange, ”
*↳® Tirmizi,*

★” Allah ta’aala Raheem v kareem he jab Banda uske saamne haath faylata he to use hayaa aati he k ise khali haath lota de, ”
*↳® Tirmizi, ibne maaja,*

*👉🏻 Dua ki Qubuliyat ke Avqaat ,*

★Dua to har shakhs ki qubool hoti he aur har waqt qubool hoti he ( khwah qubuliyat ki noiyat kuchh hi ho), Taham baaz Avqaat ese he’n jinme Dua ki qubuliyat ki zyada ummeed ki ja sakti he, unme se chand ye he’n: –
→1- Sajde ki haalat me,
→2- Farz namaz ke baad,
→3- Sahar ke waqt,
→4- Mozzin ki azaan ke waqt,
→5- Baraan rehmat ke nuzool ke waqt,
→6- Safar ki haalat me,
→7- Bimari ki haalat me,
→8- Zawaal ke waqt,
→9- Azaan aur Aqamat ke darmiyan,
→10- Din Raat me ek gair muayn ghadi,

★ Hadees paak me irshad he k apni zaat, apni olaad, apne mutalliqeen aur apne maal ke haq me baddua na kiya Karo, Din raat me ek ghadi esi aati he k jisme dua qubool ho jati he, esa na ho tumhari baddua bhi usi ghadi me ho aur wo qubool ho jaye, ( to fir pachtate rahoge)
*↳® Sahi Muslim,*         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2,*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ *
  *☞ नामाज़ के बाद दुआ-1*

*👉🏻 दुआ की अहमियत*
✪_दुआ मोमिन का हथियार है ,दीन का सुतून है और आसमान व ज़मीन का नूर है,
*( मुसनद अबु या'ला, मुसतदरक हाकिम )*

✪_दुआ इबादत का मगज़ है.
*( तिर्मिजी )*

✪_दुआ अयन इबादत है।
*( मुसनद अहमद, तिर्मिजी, अबु दाऊद)*

✪_तुम अपने रब से दुनिया और आख़िरत की अफु व आफ़ियत मांगो ,क्योंकि जब ये दोनो चीज़े दुनिया मे भी मिल गई और आख़िरत में भी तो तुम कामयाब हो गए,
*( तिर्मिजी )*

✪_जिसके लिए दुआ का दरवाजा खुल गया उसके लिए रहमत के दरवाजे खुल गए,और अल्लाह ताला से जितनी चीज़ें मांगी जाती है उसमें अल्लाह ताला को सबसे ज़्यादा ये पसंद है कि आदमी आफ़ियत मांगे,
*( तिर्मिजी )*

✪_अल्लाह ताला रहीम व करीम है जब बंदा उसके सामने हाथ फैलाता है तो उसे हया आती है कि इसे खाली हाथ लौटा दे,
*( तिर्मिजी ,इब्ने माजा )*

*👉🏻दुआ की कुबूलियत के औक़ात*

✪_दुआ तो हर शख्स की क़ुबूल होती है और हर वक़्त क़ुबूल होती है(ख्वाह कुबूलियत की नॉइयात कुछ ही हो)ताहम बाज़ औक़ात ऐसे हैं जिनमे दुआ की कुबूलियत की ज़्यादा उम्मीद की जा सकती है,उनमे से चंद ये हैं:-

1-सज्दे की हालत में,
2-फ़र्ज़ नामाज़ के बाद,
3-सहर के वक़्त,
4-मोअज़्ज़िन के अज़ान के वक़्त,
5-बरान रहमत के नुज़ूल के वक़्त,
6-सफर की हालत में,
7-बीमारी की हालत में,
8-ज़वाल के वक़्त,
9-अज़ान और अक़ामत के दरमियान,
10-दीन रात में एक गैर मुऐयन घड़ी,

✪_हदीस पाक में इरशाद है कि अपनी जात,अपनी औलाद,अपने मुताल्लिकिन और अपने माल के हक़ में बद्दुआ न किया करो,दिन रात में एक घड़ी ऐसी आती है कि जिसमे दुआ क़ुबूल हो जाती है,ऐसा न हो तुम्हारी बद्दुआ भी उसी घड़ी में हो और वो क़ुबूल हो जाए,(तो फिर पछताते रहोगे) _,*
*( सही मुस्लिम )*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz Ke Baad Ki Dua -2 ✦*
┗───┯ ✿

*👉🏻❂ Dua ka Tareeqa _*
★Dua maangne ka sahi tareeqa ye he k pehle Allah ta’aala ki hamdo sana kare, Fir Rasulullah Sallallahu alaihivasallam per Darood Shareef padhe, Fir apne liye aur Tamaam musalman bhaiyo ke liye magfirat ki dua kare, Fir Jo kuchh Allah ta’aala se maangna chahe maange,

★Sabse bada vaseela Allah ta’aala ki Rahimi v kareemi ka waasta dena he, aur Huzurv Sallallahu Alaihivasallam aur buzurgane deen ke tufayl Allah ta’aala se maangna bhi jaa’iz he,

★ Hadees paak me he k Huzur Sallallahu Alaihivasallam fuqran muhajireen ka hawala dekar Allah ta’aala se Fatah ki dua kiya karte the,
*↳® Mishkaat, 447*

*👉🏻 Dua aur Tasbihaat _*
★ Farz namaz ke baad Dua ki ahadees me targeeb v taleem di gayi he aur haath uthane ko dua ke adaab me shumar farmaya he,

★ imaam ke saath dua maangna zaruri nahi, muqtadi imaam se pehle dua maang kar ja sakta he,

*★ Sunnato ke baad ijtimai Dua ke liye imaam aur muqtadiyo ka Bethe rehna aur fir milkar dua karna sahi nahi, iska ahatmam v iltzam bid’at he,*

★ imaam Abu Hanifa Rh ke nazdeek dua aahista maangna chahiye,

★ Tasbeeh bid’at nahi balki zikre ilaahi ka zariya he, ( Tasbeeh haath me ho to zaban per khud ba khud zikr jari ho jata he) ,

★ Ungliyo per tasbihaat ka ginna jaa’iz hi nahi balki hadees shareef me tasbihaat ko ungliyo 
Per ginne ka hukm aaya he,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2* 

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
   *
  *☞ नमाज़ के बाद की दुआ-2*

    *👉🏻 दुआ का तरीका_,*

✪_दुआ मांगने का सही तरीका ये है कि पहले अल्लाह ताला की हम्दो सना करे,फिर रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर दरूद शरीफ पढ़े,फिर अपने लिए और तमाम मुसलमान भाइयों के लिए मग़फिरत की दुआ करे,फिर जो कुछ अल्लाह ताला से मांगना चाहे मांगे,

✪_सबसे बड़ा वसीला अल्लाह ताला की रहीमी व करीमी का वास्ता देना है,और हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम और बुजुर्गाने दीन के तुफैल अल्लाह ताला से मांगना भी जाइज़ है,

✪_हदीस पाक में है कि हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फुकरा मुहजीरीन का हवाला देकर अल्लाह ताला से फतह की दुआ किया करते थे,
*( मिशकात -४४७)*

*👉🏻दुआ और तसबिहात*

✪_फ़र्ज़ नमाज़ के बाद दुआ की अहादीस में तरग़ीब व तालीम दी गई है और हाथ उठाने को दुआ के आदाब में शुमार फरमाया है,

✪_इमाम के साथ दुआ मांगना ज़रूरी नही,मुक़तदी इमाम से पहले दुआ मांग कर जा सकता है,

*✪_सुन्नतों के बाद इज्तिमाई दुआ के लिए इमाम और मुक्तादियों का बैठे रहना और फिर मिलकर दुआ करना सही नही,इसका एहतमाम व इलतज़ाम बिद'अत है*

✪_इमाम अबू हनीफा रह. के नज़दीक दुआ आहिस्ता मांगना चाहिए,

✪_तस्बीह बिद्'अत नही बल्कि ज़िक्रे इलाही का जरिया है,(तस्बीह हाथ मे हो तो ज़बान पर ख़ुद ब खुद ज़िक्र जारी हो जाता है)

✪_उँगलियो पर तसबिहात का गिनना जाइज़ ही नही बल्कि हदीस शरीफ में तसबिहात को उंगलियों पर गिनने का हुक्म आया है, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz ke Baad Ki Dua -3 ✦*
┗───┯ ✿

*👉🏻★ Tasbihaate Fatmi ↷*
*( 33 martaba subhanallah, 33 martaba Alhamdulillah, aur 34 martaba Allahu Akbar )* ke hadees me bade fazail aaye he’n,
→Ye kalmaat Huzur Sallallahu Alaihivasallam ne apni laadli beti Hazrat Fatima Raziyallahu Anha ko sikhaye the,

★ Har namaz ke baad aur Raat ko sote waqt padhne ka ahatmam karna chahiye,

*👉🏻❂ Darood Sharif _*
★ Ek majlis me pehli baar jab Huzur e Akram Sallallahu Alaihivasallam ka naam Mubarak aaye to Darood Shareef
( Sallallahu Alaihivasallam)
padhna Wajib he aur har baar naam Mubarak ke saath Darood Shareef padhna Wajib nahi balki Mustahab he, chahe ek majlis me 100 baar naam Mubarak liya jaye to har baar “Sallallahu Alaihivasallam ”kehna mustahab he,

★ Dua ki qubuliyat ke liye avval aakhir Darood Shareef ka hona zyada ummeed bakhsh he,

★ Hazrat Umar Raziyallahu Anhu ka farman he k Dua Aasman v Zameen ke darmiyan mu’allaq rehti he jab tak k uske avval v Aakhir me Darood Shareef na ho,

*👉🏻❂ Ahadnama, Duae Ganjul arsh, Darood Taaj Vagera ki Shara’i Haysiyat _*

★”Wasiyat nama ” ke naam se Jo tehreer he khalis jhoot he, aur ye jhoot Taqriban ek sadi se barabar faylaya ja raha he,

*★Isi tarah aaj kal” Mojzah Zenab Alaihissalam” aur ” Bibi Sayyadah ki Kahani ” bhi so jhoot ghad ghad kar faylayi ja rahi he,*
*⇨Kya ye Duae Quran Hadees se Sabit he’n ?*
⇨Darood Mahi, Darood Lakhi, Dua e ganjul arsh, Duae jamila, Dua e Akasha, Ahadnama, Darood Taaj, Duae mustjaab ?

★ Digar Darood v Duae kisi hadees me to waarid nahi, na inki koi fazilat hi ahadees me zikr ki gayi he, Jo fazail inke shuru me darj kiye gaye he’n unko sahi samajhna hargiz jaa’iz nahi, kyuki ye khalis jhoot he aur jhooti baat Huzure Akram Sallallahu alaihivasallam ki taraf mansoob karna wabaal e azeem he, 

★ Jaha’n tak Alfaz ka talluq he ye alfaz khuda aur Rasool Sallallahu Alaihivasallam ke farmaan nahi he balki kisi shakhs ne mehnat v zahanat se inko khud tasneef kar liya he, inme se baaz alfaaz fil jumla sahi he’n aur Quran hadees ke alfaaz se musaba he’n aur baaz alfaaz qawaid shara ke lihaz se sahi bhi nahi he’n,

★ Ye kehna mushkil he k in Duao ka aur Darood ka rivaaj kese hua? Kisi sazish ke tahat ye sab kuchh hua he ya kitabo ke nasiro ne musalmano ki be ilmi se faayda uthaya he,?

⇨ Hamare Aqaabir in Duao ke bajaye Quran kareem aur Hadees Nabvi Sallallahu Alaihivasallam ke manqool alfaz ko behtar samajhte he’n aur inhi ko padhne ka mashvara dete he’n,

*👉🏻 Namaz ke Baad Musafa _*
★ Namaz ke baad musafa karne ki Rasm na sunnat he, na wajib he balki bid’at he,

★ agar koi shakhs door se aaya ho aur Namaz ke baad mile to uska musafa v muanqa ( Gale milna ) karna jaa’iz he,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
*
  *☞ नामाज़ के बाद कि दुआ-3*

*👉🏻तसबिहाते फातमी*

*✪_(33मर्तबा सुब्हानल्लाह,33मर्तबा अल्हम्दुलिल्लाह,और 34 मर्तबा अल्लाहु अकबर)* के हदीस में बड़े फ़ज़ाइल आए हैं,

✪_ये कलमात हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने अपनी लाडली बेटी हज़रत फातिमा रज़ियल्लाहु अन्हा को सिखाए थे,
_हर नमाज़ के बाद और रात को सोते वक्त पढ़ने का एहतमाम करना चाहिए,

*👉🏻दरूद शरीफ*

✪_एक मजलिस में पहली बार जब हुज़ूरे अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का नाम मुबारक आये तो दरूद शरीफ(सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) पढ़ना वाजिब है और हर बार नाम मुबारक के साथ दरूद शरीफ पढ़ना वाजिब नही बल्कि मुस्तहब है,चाहे एक मजलिस में 100 बार नाम मुबारक लिया जाए तो हर बार "सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम "कहना मुस्तहब है,

✪_दुआ की कुबूलियत के लिए अव्वल आखिर दरूद शरीफ का होना ज़्यादा उम्मीद बख्श है,

✪_हज़रत उमर रज़ियल्लाहु अन्हा का फरमान है कि दुआ आसमान व ज़मीन के दरमियान मुअल्लक रहती है जब तक कि उसके अव्वल व आखिर में दरूद शरीफ न हो,

*👉🏻अहदनामा ,दुआए गंजूल अर्श,दरूद ताज वगैरह की शरई हैसियत*

✪_"वसीयत नामा " के नाम से जो तहरीर है खालिस झूट है,और ये झूट तक़रीबन एक सदी से बराबर फैलाया जा रहा है,

*★_इसी तरह आज कल "मोजज़ाह ज़ैनब अलैहिस्सलाम "और बीबी सैय्यदा की कहानी" भी सौ झूट गढ़ गढ़ कर फैलाई जा रही है,*

*★_क्या ये दुआए क़ुरआन हदीस से साबित है?*

*"_दरूद माही ,दरूद लखी,दुआ ए गंजूल अर्श ,दुआए जमीला ,दुआए अक्शा ,अहदनामा,दरूद ताज़ दुआएं मुस्तहब है?*

✪_दीगर दरूद व दुआए किसी हदीस में तो वारिद नही,न इनकी कोई फ़ज़ीलत ही अहादीस में ज़िक्र की गई है,जो फ़ज़ाइल इनके शुरू में दर्ज किए गए हैं उनको सही समझना हरगिज़ जाइज़ नही,क्योंकि ये खालिस झूट हैं,और झूठी बात हुज़ूरे अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की तरफ से मंसूब करना वबाले अज़ीम है,

✪_जहां तक अल्फ़ाज़ का ताल्लुक है ये अल्फ़ाज़ खुदा और रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के फरमान नही है बल्कि किसी शख्स ने मेहनत व ज़हानत से इनको खुद तस्नीफ कर लिया है,इनमे से बाज़ अल्फ़ाज़ फिल जुमला सही है और क़ुरआन हदीस के अल्फ़ाज़ से मुसाबह हैं और बाज़ अल्फ़ाज़ क़वाइद शरह के लिहाज से सही भी नही है,

✪_ये कहना मुश्किल है कि इन दुआओ का दरूद का रिवाज कैसे हुआ?किसी साजिश के तहत ये सब कुछ हुआ है या किताबों के नासिरो ने मुसलमानों की बे इल्मी से फायदा उठाया है?

"_हमारे अका़बिर इन दुआओ के बजाए क़ु़रआन करीम और हदीस नबवी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के मंकूल अल्फ़ाज़ को बेहतर समझते हैं और इन्ही को पढ़ने का मशवरा देते हैं,

*👉🏻नमाज़ के बाद मुसाफा*

✪_नमाज़ के बाद मुसाफा करने की रस्म न सुन्नत है,न वाजिब है बल्कि बिद्दत है,

"_अगर कोई शख्स दूर से आया हो और नमाज़ के बाद मिले तो उसका मुसाफा व मुआनका (गले मिलना) करना जाइज़ है _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Vitr Ki Namaz –  ✦*
┗───┯ ✿
*👉🏻❂ Vitr Ki Namaz Wajib He ,*

★ Vitr ki Namaz Wajib he, aur wajib ka martaba Farz ke qareeb qareeb he, Chhod dene se bada gunaah hota he,

★ Agar kabhi chhoot jaye to jab moqa mile foran uski qaza padhni chahiye,
*↳® Sharah Bidaya, 1/128*

*👉🏻❂ Vitr ki Namaz ka Tareeqa,*

★ Vitr ki 3 raka’ate he’n, 2 raka’ate padhkar bethiye aur Attahiyaat padhe, Darood Sharif na padhe balki Attahiyaat padh lene ke baad Foran uth khada ho
→aur ‘Alhamdu ‘ aur Surat padhkar ‘ Allahu Akbar ‘ kahe ( Mard kaan ki lo tak aur Aurat kandho tak haath uthaye )
→ aur fir haath baandh le,
→Fir Duae qunoot padh kar Ruku, Sajda kare aur teesri raka’t per bethkar ‘ Attahiyaat’ aur ‘Darood Sharif’ aur ‘Dua ‘ padhkar salaam fere,

⇨ Vitr Ki teeno raka’ato me surat Milana wajib he,
*↳® Hidaya, 1/128*

*👉🏻❂ Agar Dua e Qunoot Padhna Bhool Jaye -,*
★ Agar Vitr ki Teesri raka’at me dua e qunoot padhna bhool gaya aur Ruku me chala gaya ya uske qareeb pahunch gaya k dono haath ghutno tak lag gaye to wapas na lote balki akhir me sajda sahu kare,

★ Agar itna nahi jhuka tha k ghutno tak haath pahunch jaye to khada hokar qunoot padh le, is soorat me sajda sahu nahi,

★ Agar teesri raka’at me dua e qunoot padhna bhool gaya aur Ruku me Jane ke baad yaad aaya to ab dua e qunoot na padhe balki Namaz ke akhir me Sajda sahu kar le,

★ Aur agar Ruku chhodkar uth khada hua aur dua e qunoot padh li tab bhi Namaz ho gayi, lekin esa nahi karna chahiye tha aur Sajda sahu karna is soorat me bhi wajib. he,
*↳® Sharah Tanveer, 1/700*
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
*
           *☞ वित्र की नामाज़-*

*👉🏻वित्र की नमाज़ वाजिब है,*

✪_वित्र की नमाज़ वाजिब है,और वाजिब का मर्तबा फ़र्ज़ के क़रीब क़रीब है,छोड़ देने से बड़ा गुनाह होता है,
"_अगर कभी छूट जाए तो जब मौका मिले फौरन उसकी क़ज़ा पढ़नी चाहिए,
           *( हिदाया-१/१२८)*

*👉🏻 वित्र की नमाज़ का तरीका*

✪_वित्र की 3 रकातें हैं, 2 रकातें पढकर बैठिए और अत्तहियात पढ़े,दरूद शरीफ न पढ़ें बल्कि अत्तहियात पढ़ लेने के बाद फौरन उठ खड़ा हो
और अल्हम्दु और सुरत पढकर अल्लाहु अकबर कहे (मर्द कान की लॉ तक और औरत कांधो तक हाथ उठाए)
और फिर हाथ बांध लें,
फिर दुआए क़ुनूत पढ़ कर रुकू,सज्दा करे और तीसरी रकअत पर बैठकर अत्तहियात और दरूद शरीफ और दुआ पढकर सलाम फेरे,

"_ वित्र की तीनों रक़ातों में सुरत मिलाना वाजिब है,

*👉🏻 अगर दुआए क़ुनूत पढ़ना भूल जाए*

✪_अगर वित्र की तीसरी रकअत में दुआए क़ुनूत पढ़ना भूल गया और रुकू में चला गया या उसके क़रीब पहुंच गया कि दोनों हाथ घुटनो तक लग गए तो वापस न लौटे बल्कि आखिर में सज्दा सहु करे,

✪_अगर इतना नही झुका था कि घुटनो तक हाथ पहुंच जाए तो खड़ा होकर क़ुनूत पढ़ ले,इस सूरत में सज्दा सहु नही,

✪_अगर तीसरी रकअत में दुआए क़ुनूत पढ़ना भूल गया और रुकू में जाने के बाद याद आया तो अब दुआए क़ुनूत न पढ़े बल्कि नमाज़ के आखिर में सज्दा सहु कर ले,

✪_और अगर रुकू छोड़कर उठ खड़ा हुआ और दुआए क़ुनूत पढ़ ली तब भी नमाज़ हो गई,लेकिन ऐसा नही करना चाहिए था और सज्दा सहु करना इस सूरत में भी वाजिब है, _,*
      *( शरह तनवीर-१/७००)*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

*👉🏻❂ Jisko Dua e Qunoot Yaad na Ho ,*

★ Jiski Dua e qunoot yaad na ho to wo ↴
” Rabbana Aatina Fiddunya Hasanatanv Va fil Aakhirati Hasanatanv va qina Azaabannaar ”
Padhe,
➙Ya 3 dafa ↴
” Allahummagfirli ”
Keh le,
➙ Ya 3 dafa ↴
” Ya Rab ”
Keh le,,
➙Ya koi aur Dua padhe Jo Quran Majeed ya Hadees me aayi ho to Namaz ho ja’egi,

➜Lekin saath hi Dua e qunoot seekhne ka Amal bhi jari rakhe, Jald se jald Dua e qunoot yaad karke usi ka mamool banaye,
*↳® Fiqhul ibadaat, 197,*

*👉🏻Mutafarrik Masai*

★ Jo shakhs jaagne ka bharosa rakhta ho uske liye Tahajjud ke waqt Vitr padhna afzal he, aur Jo bharosa na rakhta ho uske liye ishaa ke baad padhna behtar he,

★ Duae qunoot ka padhna wajib he, Ramzan me Dua e qunoot ka padhna imaam aur muqtadi dono per wajib he,

★ Vitr ki Teesri raka’at me Surah ikhlas hi ka padhna zaruri nahi, koi aur Surat bhi padh sakte he’n,

★ Huzur Sallallahu Alaihivasallam se Vitr ke baad do raka’at padhna saabit he, Magar aam ma’amul Vitr ke baad Nifl padhne ka nahi tha, isliye agar koi vitr ke baad Nifl padhta he to use mana nahi kiya jaye,

★ Aam tor per log Ye Nifl bethkar padhte he’n ye galat he ye Nifl bhi khade hokar padhna chahiye,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

*👉🏻 Ibadat kis Shakhs Per Maaf He ,*

★ Agar koi shakhs itna bimaar aur za’ief he k na vazu kar sakta he na tayammum , na khade hokar Namaz padh sakta he na bethkar , na letkar , Na ruku kar sakta he na ishara , na roza rakh sakta he na hajj kar sakta he,

★ Aur isi haalat me kuchh muddat tak zinda reh kar mar jaye to ye sab ibaadate usse maaf he, koi fidya ya vasiyat bhi wajib nahi,

→Qutube Fiqha Noorul iezaz me bhi iski tashreeh mojood he,
*● Wallahu Aalam ●*         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 Fatawa Mehmudiya, 7/545*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
         *☞  वित्र की नमाज़-*

*👉🏻जिसको दुआए क़ुनूत याद न हो*

★_जिसको दुआए क़ुनूत याद न हो तो वो 
*रब्बना आतिना फिददुनिया हसनतंव व फिल आख़िरती हसनतंव व क़िना अज़ाबन्नार*
पढ़े 
या 3 बार *"अल्लाहुम्मगफिरली"* कह ले
या 3 दफा *" या रब "* कह ले।
या कोई और दुआ पढ़े जो क़ुरआन मजीद या हदीस में आई हो तो नामाज़ हो जाएगी, लेकिन साथ ही दुआए क़ुनूत सीखने का अमल भी जारी रखे,जल्द से जल्द दुआए क़ुनूत याद कर के उसी का मामूल बनाएं,

*📚 फिक़हुल इबादात _,"*

       *👉🏻 मुतफर्रिक मसाइल*

★_जो शख्स जागने का भरोसा रखता हो उसके लिए तहज्जुद के वक़्त वित्र पढ़ना अफ़ज़ल है,और जो भरोसा न रखता हो उसके लिए इशा के बाद पढ़ना बेहतर है,

★_दुआए क़ुनूत का पढ़ना वाजिब है,रमज़ान में दुआए क़ुनूत का पढ़ना इमाम और मुक़तदी दोनो पर वाजिब है,

"_वित्र की तीसरी रकअत में सूरह इखलास का ही पढ़ना ज़रूरी नही,कोई और सूरह भी पढ़ सकते हैं,

★_हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से वित्र के बाद दो रकअत पढ़ना साबित है,मगर आम मामूल वित्र के बाद निफ्ल पढ़ने का नही था,इसीलिए अगर कोई वित्र के बाद निफ्ल पढ़ता है तो उसे मना नही किया जाए,

"_आम तौर पर लोग ये निफ्ल बैठकर पढ़ते हैं ये गलत है ये निफ्ल भी खड़े होकर पढ़ना चाहिए _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

  *☞ इबादत किस शख्स पर माफ है*

✪_अगर कोई शख्स इतना बीमार और ज़ईफ़ है कि न  वज़ू कर सकता है न तयम्मुम ,न खड़े होकर नमाज़ पढ़ सकता है ना बैठकर ,न लेटकर ,न रुकू कर सकता है न इशारा ,न रोज़ा रख सकता है न हज कर सकता है,

✪_और इसी हालत में कुछ मुद्दत तक जिंदा रह कर मर जाए तो ये सब इबादतें उससे माफ है,कोई फिदया या वसीयत भी वाजिब नही,

✪_क़ुतुबे फ़िक़्हा नूरुल इज़ाज़ में भी इसकी तशरीह मौजूद है,

       *__वल्लाहू आलम _,*

*📚_ फतावा मेहमूदिया-7/545,*
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Qaza Namaz- ✦*
┗───┯ ✿
*👉🏻❂ Qaza Namaz Padhiye Takheer Gunaah he ,*

★ Jiski koi Namaz chhoot gayi ho to jab yaad aaye foran uski qaza padhiye, Bager kisi uzr ke qaza padhne me der lagana gunaah he, Agar isi haalat me maut aa gayi to dohra gunaah hoga,
→Ek to Namaz qaza ho jane ka,
→Doosra Foran qaza na padhne ka,

              *❂ Masla ❂*

★ Agar kai Namaze qaza ho gayi ho to jaha tak ho sake jaldi se sabki qaza padhe,
→Ho sake to himmat karke ek hi waqt me sabki qaza padh le,

→Ye zaruri nahi k Zuhar ke waqt me zuhar ki qaza padhe aur Asr ke waqt me Asr ki qaza padhe, ye zaruri nahi,

★ Agar bahut si Namaze ya kai mahine ya kai saal ki qaza ho to unki qaza padhne me bhi jaha tak ho sake jaldi kare, Ek waqt me 2-2, 4-4 Namaze qaza padh liya kare, Agar koi uzr ho to ek waqt me ek hi qaza padh le, Baharhaal qaza padhne ki koshis kare,
*↳® Mishkat, 1/61*

*👉🏻❂ Qaza Namaz Padhne Ka Tareeqa ,*

★ Agar Qaza Namaze 6 se kam ho to tarteebvaar adaa karna zaruri he, K pehle Fajar ki, fir zuhar fir Asr is tarah,

★ Agar Qaza Namaze 6 se zyada zimme ho gayi ho to fir tarteeb ki riaayat laazim nahi, albatta din – tareekh aur waqt muqarrar karna zaruri he,

→Maslan is tarah niyat kare k me Jumeraat ki zuhar ki Namaz padhta hu’n,,, Me jumeraat ki Asr ki Namaz padhta hu’n,,,, is tarah,

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚↳® Fiqhul ibadaat, 136*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
       *☞ क़ज़ा नामाज़-*

*👉🏻क़ज़ा नमाज़ पढ़िए ताख़ीर गुनाह है*

✪_जिसकी कोई नमाज़ छूट गई हो तो जब याद आये फौरन उसकी क़ज़ा पढ़िए ,बगैर किसी उज़्र के क़ज़ा पढ़ने में देर लगाना गुनाह है, अगर इसी हालात में मौत आ गई तो दोहरा गुनाह होगा, एक तो नमाज़ क़ज़ा हो जाने का ,दूसरा फौरन क़ज़ा न पढ़ने का,

            *_मसला_*

✪_अगर कई नमाज़ें क़ज़ा हो गई हो तो जहां तक हो सके जल्दी से सब की क़ज़ा पढ़े,

✪_हो सके तो हिम्मत कर के एक ही वक़्त में सबकी क़ज़ा पढ़ ले,
ये ज़रूरी नही की ज़ुहर के वक़्त में ज़ुहर की क़ज़ा पढ़े और असर के वक़्त में असर की क़ज़ा पढ़े,ये ज़रूरी नही,

✪_अगर बहुत सी नमाज़ें या कई महीने या कई साल की क़ज़ा हो तो उनकी क़ज़ा पढ़ने में भी जहां तक हो सके जल्दी करे,एक वक्त में 2-2,4-4नमाज़ें क़ज़ा पढ़ लिया करे,अगर कोई उज़्र हो तो एक वक्त में एक ही क़ज़ा पढ़ ले ,बहरहाल क़ज़ा पढ़ने की कोशिश करे,
*( मिशकात )*
*👉🏻क़ज़ा नामाज़ पढ़ने का तरीका*

✪_अगर क़ज़ा नमाज़ें 6 से कम हो तो तरतीबवार अदा करना ज़रूरी है ,की पहले फजर की ,फिर ज़ुहर फिर असर इस तरह,

✪_अगर क़ज़ा नमाज़ें 6 से ज़्यादा ज़िम्मे हो गई हो तो फिर तरतीब की रिआयत लाज़िम नही,अलबत्ता दिन तारीख और वक़्त मुक़र्रर करना ज़रूरी है,

✪_मसलन इस तरह नियत करे कि मै जुम्मेरात की ज़ुहर की नमाज़ पढ़ता हूँ,मैं जुमेरात की असर की नमाज़ पढ़ता हूं इस तरह _,*

*📚_ फिक़हुल इबादात-136*
*👉🏻❂ Qaza Ke Din- Tareekh Yaad na Ho ,*

★ Agar bahut si Namaze qaza ho gayi, Ab Din – Tareekh , Mahine- Saal kuchh bhi yaad na ho to is tarah niyat kare k,
→ Fajar ki jitni Namaze mere zimme he’n unme se Jo sabse avval he uski qaza padhta hu’n,
→ Ya zuhar ki jitni Namaze mere zimme he’n unme se jo sabse avval he uski qaza padhta hu’n,

★ is tarah niyat karke barabar qazae’n padhte rahe Yaha tak k Dil gawahi de de k ab tamaam Namaze qaza ho chuki he’n to qaza padhna chhod de,
*↳® Durre Mukhtar, 1/690*

*👉🏻❂ Qaza Namazo Ke Avqaat ,*

★ Teen avqaate mamnu’a ke alawa har waqt qaza Namaz padhi ja sakti he,
→Ye zaruri nahi ki zuhar ke waqt Zuhar ki Namaz hi qaza padhe balki ek waqt me 2-3-4 Jitni qaza Namaz chahe padh sakte he’n,

★ Aur Tarteeb se padhna bhi zaruri nahi, agar Fajar ki qaza padhi aur mazeed 2 raka’at ka waqt mojood he to doosre din ki Fajar ki qaza bhi padh le,
→Kyuki 6 ya isse zyada Namaze zimme laazim ho jane se tarteeb saqit ho jati he,
*↳® Sharah Tanveer, 1/709, Sharah Bidaya, 1/162*

*👉🏻❂ Behoshi Ki Haalat me Qaza Namazo ka Hukm ,*

★ Agar Behosh ho jaye to hosh me aane ke baad dekhe k behoshi ek din ek raat se zyada rahi he ya isse kam,

★ Agar ek din raat tak behoshi rahi ya isse kam to itne avqaat ki qaza Namaze padhna laazim he,

★ Agar behoshi ek din raat se zyada rahi yani 6 Namaze zimme laazim ho gayi to qaza laazim nahi balki maaf He,
*↳® Hidaya -1/170*
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 ↳® Fiqhul ibadaat,*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 

*👉🏻क़ज़ा के दिन -तारीख याद न हो*

✪_अगर बहुत सी नमाज़ें क़ज़ा हो गई ,अब दिन -तारिख ,महीने -साल कुछ भी याद न हो तो इस तरह नियत करे कि,

"_फजर की जितनी नमाज़ें मेरे ज़िम्मे हैं उनमें से जो सबसे अव्वल है उसकी क़ज़ा पढ़ता हूँ,
या ज़ुहर की जितनी नमाज़े मेरे ज़िम्मे है उनमें से जो सबसे अव्वल है उसकी क़ज़ा पढ़ता हूँ,

"_इस तरह नियत कर के बराबर क़ज़ाएँ पढ़ते रहे यहां तक के दिल गवाही दे दे कि अब तमाम नमाज़ें क़ज़ा हो चुकी हैंतो क़ज़ा पढ़ना छोड़ दें,
*(दुर्रे मुख्तार-1/690)*

*👉🏻क़ज़ा नमाज़ों के अवकात*

✪_तीन अवक़ातें ममनू के अलावा हर वक़्त क़ज़ा नमाज़ पढ़ी जा सकती है,
ये ज़रूरी नही की ज़ुहर के वक़्त ज़ुहर की नमाज़ ही क़ज़ा पढ़े बल्कि एक वक्त में 2-3-4 जितनी क़ज़ा नामाज़ चाहे पढ़ सकते हैं,

"_और तरतीब से पढ़ना भी ज़रूरी नही ,अगर फजर की क़ज़ा पढ़ी और मज़ीद 2 रकअत का वक़्त मौजूद है तो दूसरे दिन की फजर की क़ज़ा भी पढ़ सकते हैं

"_क्योंकि 6 या इससे ज़्यादा नमाज़ें ज़िम्मे लाज़िम हो जाने से तरतीब साकित हो जाती है,
*( शरह तनवीर, शरह बिदाया)*

*👉🏻बेहोशी की हालत में क़ज़ा नमाज़ों का हुक्म*

✪_अगर बेहोश हो जाए तो होश में आने के बाद देखे के बेहोशी एक दिन या एक रात से ज़्यादा रही है या इससे कम,
"_अगर एक दिन रात तक बेहोशी रही या इससे कम तो इतने अवकात की क़ज़ा नमाज़ें पढ़ना लाज़िम है,
"_अगर बेहोशी एक दिन रात से ज़्यादा रही यानी 6 नमाज़े ज़िम्मे लाज़िम हो गई तो क़ज़ा लाज़िम नही बल्कि माफ है, _,*
*(हिदाया-170)*

*📚_ फिक़हुल इबादात ,*

*👉🏻❂ Shadi ke Moqe per Namaz se Gaflat ,*

★ Shadi Byaah isi tarah digar taqribaat ke moqe per Mard Aurate’n aksar Namaze qaza kar dete he’n, Apni nikali hui rasmo ko to esi pabandi se puri karte he’n k goya bilkul farz he aur khudavand kareem ke farzo se bilkul Gaflat barti jati he, Baaz to Namaz ko hi bhula dete he’n aur baaz ye khayal kar lete he’n k baad me padh lenge, is tarah qaza kar dete he’n,

★Dulhan jab tak Dulhan rehti he Namaz padhti hi nahi, Namaz padhne ko besharmi samjha jata he ye ajeeb baat he Khane pine aur Behaya Rasmo me to Sharm nahi he aur Namaz padhne me sharm aade aati he,

★ isi tarah is zamane me bahut se Namzai log bhi shadi Byaah aur digar taqribaat vagera ke moqe per Namaz se gafil ho jate he’n, Ye nihayat afsos ki baat he,
*↳® Fiqhul ibadaat, 106*

*👉🏻❂ Qaza Namaz Ghar me Padhe Ya Masjid me ,*

★ Masjid me bhi qaza Namazo ka padhna jaa’iz he, magar logo ko ye pata na chale k ye qaza Namaze padhta he,
→ Kyuki ka qaza Karna gunaah he aur gunaah ka izhaar bhi gunaah he,

*👉🏻❂ Jaagne Ki Raato me Nawafil ki Bajae Qaza Namaze Padhe ,*

★ Jis shakhs ke zimme qaza Namaze ho usko Jaagne wali raato ( Shabe Qadr, Shabe Baraat vagera) me Nawafil padhne ke bajae qaza Namaze padhni chahiye,
⇨ Chahe Masjide Nabvi Sallallahu Alaihivasallam me padhe ya Haram Sharif me,

*👉🏻❂ Jo sakhsh Tauba kar le, Uske Zimme bhi Guzishta Qaza Baqi he ,*

★ Jo sakhsh galti aur Kotahi ki Vajah se Namaze Qaza karta raha, Fir usne tauba kar li aur Ahad kiya k ab koi Namaz qaza nahi karega,
→Tab bhi guzishta Namaze uske zimme baqi rahegi aur unka qaza karna us per laazim hoga,

★ Agar zindgi me apni Namaze puri nahi kar saka to marte waqt uske zimme vasiyat karna zaruri hoga k uske zimme itni Namaze qaza he’n aur unka Fidiya adaa kar diya jaye,
→ Yahi hukm zakaat, Roza, aur Hajj vagera digar faraiz ka he,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 

*👉🏻शादी के मौके पर नमाज़ से गफलत*

✪_शादी बियाह इसी तरह दीगर ताक़रीबात के मौके पर मर्द औरतें अक्सर नमाज़े क़ज़ा कर देते हैं ,अपनी निकली हुई रस्मो को तो ऐसी पाबंदी से पूरी करते हैं कि गोया बिल्कुल फ़र्ज़ है और खुदावंद करीम के फ़र्ज़ों से बिल्कुल गफलत बरती जाती है,बाज़ तो नामाज़ को ही भुला देते हैं ,और बाज़ ये खयाल कर लेते हैं कि बाद में पढ़ लेंगे ,इस तरह क़ज़ा कर देते हैं ,

✪_दुल्हन जब तक दुल्हन रहती हैं नामाज़ पढ़ती ही नही,नामाज़ पढ़ने को बेशर्मी समझा जाता है ये अजीब बात है खाने पीने और बेहया रस्मों में तो शर्म नही है और नमाज़ पढ़ने में शर्म आड़े आती है,

"_इसी तरह इस ज़माने में बहुत से नमाज़ी लोग भी शादी ब्याह और दीगर ताक़रीबात वगैरह के मौके पर नमाज़ से गाफिल हो जाते हैं ,ये निहायत अफसोस कि बात है,
*( फिक़हुल इबादात-१०६)*

*👉🏻क़ज़ा नमाज़ घर मे पढ़े या मस्जिद में?*

✪_मस्जिद में भी क़ज़ा नमाज़ों को पढ़ना जाइज़ है,मगर लोगों को ये पता न चले के क़ज़ा नमाज़ें पढ़ता है , क्योंकि क़ज़ा करना गुनाह है और गुनाह का इज़हार भी गुनाह है,

*👉🏻जागने की रातों में नवाफिल के बजाए क़ज़ा नमाज़ें पढ़े*

✪_जिस शख्स के ज़िम्मे क़ज़ा नमाज़े हो उसको जागने वाली रातों (शबे क़द्र, शबे बारात,वगैरह )में नवाफिल पढ़ने के बजाए क़ज़ा नमाजे पढ़नी चाहिए,
"_चाहे मस्जिद नबवी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम में पढ़े या हरम शरीफ में,

*👉🏻जो शख्स तौबा कर ले ,उसके ज़िम्मे भी गुज़िश्ता क़ज़ा बाकी है*

✪_जो शख्स गलती और कोताही की वजह से नमाज़ें क़ज़ा करता रहा,फिर उसने तौबा कर ली और अहद किया कि अब कोई नामाज़ क़ज़ा नही करेगा,तब भी गुज़िश्ता नमाज़ें उसके ज़िम्मे बाकी रहेगी और उनका क़ज़ा करना उस पर लाज़िम होगा,

✪_अगर ज़िंदगी मे अपनी नमाज़ें पूरी नही कर सका तो मरते वक्त उसके ज़िम्मे वसीयत करना ज़रूरी होगा कि उसके ज़िम्मे इतनी नमाज़ें क़ज़ा हैं और उनका फिदिया अदा कर दिया जाए,

"_यही हुक्म ज़कात ,रोज़ा,और हज वगैरह दीगर फ़राइज़ का है, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

*👉🏻❂ Qaza Namaz ke Mutallik Galat Aqaa’id -*

✘ Baaz log kehte he’n k Jumatul Vida ke din 2 raka’at Namaz qaza e umri ki niyat se padhna chahiye, Kehte he’n k isse pure saal ki Namaze Ada ho jati he,
“__ Shariat me Qaza e umri ki koi istlaah nahi, Shariat ka hukm to ye he k Musalman ko Namaz qaza nahi karni chahiye kyuki hadees me he k
→Jo sakhsh jaan bujhkar Namaz qaza kar de Allah ta’ala ka zimma usse bari he,

★Kisi cheez ki fazilat ke liye zaruri he k woh Huzur Sallallahu Alaihivasallam se saabit ho kyuki bager vahi e ilaahi ke kisi cheez ki fazilat aur uska sawab maloom nahi ho sakta,

⇨Isi tarah Maahe Rajjab ki Namaz aur Rozo ke bare me, aur isi tarah Jumatul Vida ki Namaz aur Roze ke bare me Jo fazail bayan kiye jate he’n ye Huzur Sallallahu Alaihivasallam se qat’an saabit nahi, Isliye in fazail ka aqeeda rakhna bilkul galat he,
⇨Shariat ka masla to ye he k agar koi shakhs ek Farz tark kar de to saari umr ki nifli ibadaat bhi us ek Farz ki talafi nahi kar sakti,

*👉🏻❂ 27 Ramzan aur Qaza Umri ,*

★ Shari’at Mtaharah me Quran hadees se koi esa kanoon saabit nahi k 27 Ramzan ul Mubarak ya aur kisi Mubarak din 12 Raka’at ya 4 Raka’at padhne se Umar bhar ki qaza Namazo ka kaffara ho jaye,

★ Esi suni sunai baato per yaqeen nahi Hona chahiye,

*👉🏻❂ Ek Galat Rivayat ,*

★ Rasulullah Sallallahu alaihivasallam ne farmaya k jis shakhs ki Namaze qaza ho gayi ho aur use maloom na ho k kitni Namaze qaza hui he’n to use chahiye k Peer ki Raat me 50 raka’at Namaz padh le, Har raka’at me Surah Fatiha ke baad Surah ikhlas padhe aur farig hokar darood padhe, in raka’to ko Allah ta’ala sab qaza Namazo ka kaffara kar dega, agarche wo ek so baras ki kyu na ho,
           ✘⇧⇧⇧✘
⇨ Magar Ye hadees laaiqe etmaad nahi, Muhaddiseen ne isko moju yani manghadant kaha he,
“__ Qaza Namazo ka Kaffara yahi he k Namaz qaza karne se tauba ki jaye aur guzishta Umar ki qaza shuda Namazo ko ek ek karke qaza kiya jaye,
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 

*👉🏻क़ज़ा नामाज़ के मुतालीक गलत अक़ाइद*

✪_बाज़ लोग कहते हैं कि जमातुल विदा के दिन 2 रकअत नमाज़ क़ज़ा ए उमरी की नीयत से पढ़ना चाहिए,कहते हैं कि इससे पूरे साल की नमाज़ें अदा हो जाती है,

"_शरीअत में क़ज़ाए उमरी की कोई इस्तलाह नही,शरीअत का हुक्म तो ये है कि मुसलमान को नमाज़ क़ज़ा नही करनी चाहिए क्योंकि हदीस में है कि जो शख्स जान बूझकर नमाज़ क़ज़ा कर दे अल्लाह ताला का ज़िम्मा उससे बरी है,
किसी चीज़ की फ़ज़ीलत के लिए ज़रूरी है कि वो हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से साबित हो क्योंकि बगैर वहिए इलाही के किसी चीज़ की फ़ज़ीलत और उसका सवाब मालूम नही हो सकता,

✪_इसी तरह माहे रज्जब की नामाज़ और रोज़ों के बारे में ,और इसी तरह जमातुल विदा की नामाज़ और रोज़े के बारे में जो फ़ज़ाइल बयान किये जाते हैं ये हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम  से क़तअन साबित नही ,इसीलिए इन फ़ज़ाइल का अक़ीदा रखना बिल्कुल गलत है,शरीयत का मसला तो ये है कि अगर कोई शख्स एक फ़र्ज़ तर्क कर दे तो सारी उम्र की निफली इबादत भी उस एक फ़र्ज़ की तलाफ़ी नही कर सकती,

*👉🏻 27रमज़ान और क़ज़ाए उमरी*

✪_शरीयत मताहरा में क़ुरआन हदीस से कोई ऐसा कानून साबित नही की 27 रमज़ान उल मुबारक या और किसी मुबारक दिन 12 रकअत या 4 रकअत पढ़ने से उम्र  भर की क़ज़ा नमाज़ों का कफ़्फ़ारा हो जाए,ऐसी सुनी सुनाई बैतों पे यकीन नही करना चाहिए,

*👉🏻एक गलत रिवायत*

✪_रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया की जिस शख्स की नमाज़ें क़ज़ा हो गई हो और उसे मालूम न हो कि कितनी नमाज़ें क़ज़ा हुई हैं तो उसे चाहिए कि पीर की रात में 50 रकअत नामाज़ पढ़ ले ,हर रकअत में सूरह फातिहा के बाद सूरह इखलास पढ़े और फारिग हो कर दरूद पढ़े ,इन रक़ातों को अल्लाह ताला सब क़ज़ा नमाज़ों का कफ़्फ़ारा कर देगा,अगरचे वो एक सौ बरस की क्यों न हो,

"×_मगर ये हदीस लायके एतेमाद नही,मुहद्दिसीन ने इसको मौजू यानी मनगढंत कहा है,

✪_क़ज़ा नमाज़ों का कफ़्फ़ारा यही है कि नमाज़ क़ज़ा करने से तौबा की जाए और गुज़िश्ता उम्र की क़ज़ा शुदा नमाज़ों को एक एक कर के क़ज़ा किया जाए, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

**
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Isha  Ke  Baad  Guftgu ( Baat Cheet ) Makrooh  Hai ✦*
┗───┯ ✿
★  Huzur  Akram  Sallallahu  Alaihivasallam  ne  Isha  ki  Namaz  ke  baad Baat cheet  karne  se  mana  farmaya  he,
→ Albatta  3  soorto  me  isme  chhoot  he,
1- Ye  k  Aadmi  mehmaan  ki  dildari  ke  liye  usse  baat  cheet  kare,
2- Miya  Bivi  aapas  me  guftgu  kare,
3- Ye  k  kuchh  log  safar  me  ho  aur  raat  guzaarne  ke  liye  guftgu  kare,
→ Iske  alawa  isha  ke  baad  guftgu  karna  Makrooh  aur  Na  pasandida  he,

★ Musalmano  ke  Din  bhar  ke  Amaal  ka  khatma  nek  amal  per  hona  chahiye  aur  wo  isha  ki  Namaz  he,

*↳® Aapke Masail aur unka Hal, 2/360*

⇨ Aaj  kal  Khaaskar  Nojawano  ka  Ye  Amal  ban  chuka  he  k  Raat  der  tak  idhar  udhar  ki baat  cheet  karne  me,  Ghoomne  firne  me  waqt  ko  barbaad  karte  he’n,
“__Der  se  sone  ka  ye  bhi  asar  dekha  gaya  he  k  Der  tak  soye  pade  rehte  he’n  aur  Fajar  ki   Namaz  qaza  kar  dete  he,  Subeh  ki  Barkaat   bhi  chheen  li  jati  he,

is  Aadat  ko  badalna  zaruri  he, *( Apni Baat )*
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ इशा के बाद गुफ्तगू (बात करना )मकरूह है*

★_हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इशा की नमाज़ के बाद गुफ्तगू करने से मना फरमाया है,
अलबत्ता 3 सूरतों में इसमें छूट है,

1-ये की आदमी मेहमान की दिलदारी के लिए उससे बात चीत करे,
2-मियां बीवी आपस मे गुफ्तगू करें,
3-या कि कुछ लोग सफर में हो और रात गुजारने के लिए गुफ्तगू करे,

इसके अलावा ईशा के बाद गुफ्तगू करना मकरूह है और न पसंदीदा है,

★_मुसलमानों के दिन भर के आमाल का खात्मा नेक अमल पर होना चाहिए और वो इशा की नमाज़ है,

*(आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,)*

★_आजकल खासकर नौजवानों का ये अमल बन चुका है की रात देर तक इधर उधर की बात चीत करने में,घूमने में वक़्त को बर्बाद करते हैं,

देर से सोने का ये भी असर देखा गया है कि देर तक सोए पड़े रहते हैं और फजर की नमाज़ क़ज़ा कर देते हैं ,सुबह की हरकतें भी छीन ली जाती है,
इस आदत को बदलना ज़रूरी है, _,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namazi Ke Saamne Se Guzarna ✦*
┗───┯ ✿

✯ Namazi  ke  saamne  se  guzarna  gunaah  he  magar  isse  Namazi  ki  Namaz  nahi  tooti,

★ Koi  bhoole  se  guzar  gaya  to  majoor  he,

★ Agar  koi  maydan  me  ya  badi  Masjid  me  Namaz  padh  raha  ho  to  teen  safo  ki  jagah  chhodkar  usko  aage  se  guzarne  ki  gunzaish  he,

★ agar  chhoti  Masjid  me  mutlaqan  gunzaish  nahi  to  jo  shakhs  bilkul  NamaZi  ke  saamne  betha  ho  usko  uthkar  jane  ki  ijazat  he,

★ Agar  Namazi  ke  liye  kisi  aur  jagah  Namaz  padhne  ki  gunzaish  na  ho  aur  guzarne  walo  ke  liye  doosri  jagah  se  guzarne  ki  gunzaish  he  to  guzarne  wala  gunahgar  hoga,

★ Agar  Namazi  ke  liye  doosri  jagah  gunzaish  thi  magar  guzarne  wale  ke  liye  aur  koi  raasta  nahi  to  is  soorat  me  Namazi  gunahgar  hoga,

★ Dono  ke  liye  gunzaish  ho,  Namazi  ke  liye  doosri  jagah  Namaz  padhne  ki  aur  guzarne  wale  ke  liye  aur  taraf  se  nikalne  ka  doosra  raasta  tha,  is  soorat  me  dono  gunahgar  honge,

★ Namazi  ke  aage  se  guzarne  wale  ko  haath  ke  ishare  se  rok  de  agar  na  ruke  to  jane  de  wo  khud  gunahgar  hoga,

★ Hadees  me  chhote  Bachcho  ko  Masjid  me  le  Jane  ki  muma’anat  aayi  he, 
→ chhote  Bachche  aksar  Namaziyo  ke  saamne  se  guzarte  he’n,

★ Khana  Kaaba  ka  tawaaf  karne  wala  tawaf  ki  haalat  me   Namazi  ke  aage  se  guzar  sakta  he ,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नमाज़ी के सामने से गुजरना*

★_नमाज़ी के सामने से गुजरना गुनाह है मगर इससे नमाज़ी की नमाज़ नही टूटती,
कोई भूले से गुज़र गया तो माजूर है,

★_अगर कोई मैदान में या बड़ी मस्जिद में नमाज़ पढ़ रहा हो तो तीन सफों की जगह छोड़कर उसको आगे से गुज़रने की गुंजाईश है,

★_अगर छोटी मस्जिद में मुतलकन गुंजाइश नही तो जो शख्स बिल्कुल नमाज़ी के सामने बैठा हो उसको उठकर जाने की इजाज़त है,

"_अगर नमाज़ी के लिए किसी और जगह नमाज़ पढ़ने की गुंजाइश न हो और गुज़रने वालों के लिए दूसरी जगह से गुजरने की गुंजाइश है तो गुज़रने वाला गुनाहगार है,

"_अगर नमाज़ी के लिए दूसरी जगह गुंजाइश थी मगर गुज़रने वाले के लिए और कोई रास्ता नही तो इस सुरत में नमाज़ी गुनाहगार होगा,

"_दोनो के लिए गुंजाइश हो,नमाज़ी के लिए दूसरी जगह नमाज़ पढ़ने की और गुज़रने वाले के लिए और तरफ से निकलने का दूसरा रास्ता था,इस सूरत में दोनों गुनाहगार होंगे,

★_नमाज़ी के आगे से गुजरने वाले को हाथ के इशारे से रोक दे अगर न रुके तो जाने दे वो खुद गुनाहगार होगा,

★_हदीस में छोटे बच्चों को मस्जिद में ले जाने की मुमानत आई है,
छोटे बच्चे अक्सर नमाज़ियों के सामने से गुजरते हैं

★_खाना काबा का तवाफ़ करने वाला तवाफ़ की हालत में नमाज़ी के आगे से गुज़र सकता है, _,

*📚_आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,* 
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz Todne Ke Uzraat ✦*
┗───┯ ✿
★ Ek  Dirham ( qariban  saade  Teen  masha  Chandi)  ke  nuqsan  ka  andesha  ho  to  Namaz  todne  ki  ijazat  he,

★ Namaz  ke  doraan  gumshuda  cheez  yaad  aaye  to  Namaz  tod  kar  use  utha  laye,

★ Kisi  shakhs  ki  jaan  bachane  ki  koi  tadbeer  kar  sakta  ho  to  Namaz  Tod  de,

★ Agar  koi  behosh  hokar  gir  jaye  to  usko  uthane  ke  liye  Namaz  Tod  sakte  he’n,
   
★_ Agar  Namaz  me  achanak  koi  zehrila  keeda  aa  jaye  aur  Namazi  ki  taraf  badhe  to  agar  namaz  tode  bager  usko  maar  sakte  ho  to  theek  varna  uske  liye  namaz  Tod  sakte  he’n,

★ Durre  mukhtar  me  likha  he  k  agar  Farz  namaz  me  ho  to  Walden  ke  bulane  per  namaz  na  tode  sivae  iske  k  wo  kisi  nagahani  musibat  me  mubtila  hokar  usko  madad  ke  liye  pukare,
→ is  soorat  me  Walden  ki  khususiyat  nahi  balki  kisi  ki  jaan  bachane  ke  liye  namaz  Todna  zaruri  he ,
⇨ aur  agar  nifl  Namaz  me  ho  aur  Walden  ko  iska  ilm  ho  to  na  tode,  aur  agar  ilm  na  ho  to  Namaz  Tod  kar  jawab  de, 
        
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नमाज़ तोड़ने के उज़रात*

★_एक दिरहम (करीबन साढे तीन माशा चांदी)के नुकसान का अंदेशा हो तो नमाज़ तोड़ने की इजाज़त है,

★_नामाज़ के दौरान गुमशुदा चीज़ याद आए तो नमाज़ तोड़ कर उसे उठा लाए,

★_किसी शख्स की जान बचाने की कोई तदबीर कर सकता हो तो नमाज़ तोड़ दे,

★_अगर कोई बेहोश होकर गिर जाए तो उसको उठाने के लिए नमाज़ तोड़ सकते हैं,

★_अगर नमाज़ में अचानक कोई ज़हरीला कीड़ा आ जाए तो और नमाज़ी की तरफ बढ़े तो अगर नामाज़ तोड़े बगैर उसको मार सकते हो तो ठीक वरना उसके लिए नामाज़ तोड़ सकते हैं,

★_दूर्रे मुख्तार में लिखा है कि अगर फ़र्ज़ नमाज़ में हो तो वाल्दैन के बुलाने पर नमाज़ न तोड़े सिवाए इसके के वो किसी नागहानी मुसीबत में मुब्तिला हो कर उसको मदद के लिए पुकारे,

इस सूरत में वाल्दैन की खुसूसियत नही बल्कि किसी की जान बचाने के लिए नमाज़ तोड़ना ज़रूरी है,

"_और अगर निफ्ल नमाज़ में हो तो और वाल्दैन को इसका इल्म हो तो न तोड़े,और अगर इल्म न हो तो नमाज़ तोड़कर इसका जवाब दे, _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,* 
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz me Vazu Ka Toot jana ✦*
┗───┯ ✿
        
★ Dorane  Namaz  Vazu  toot  jane  per  Namaz  ko  wahi  chhod  kar  chup  chaap  Vazu  kar  aaye  aur  munasib  yahi  he  k  Vazu  ke  baad  dobara  namaz  shuru  Kare,

★ Agar  imaam  sahab  ka  Vazu  toot  jaye  to  saf  me  se  kisi  ko ( imaamat  ke  liye) aage  kar  de  aur  khud  Vazu  karke  muqtadiyo  ki  saf  me  shareek  ho  jaye,

★ Bevazu  Namaz  padhte  rehna  sakht  gunaah  he,  baaz  ulma  farmate  he’n  k  isse  andesha  e  kufr  he,

★ Saf  me  nikalne  ki  gunzaish  na  ho  to  saf  ke  aage  se  guzar  kar  ek  taraf  ko  nikal  jaye,

→ aur  agar  kisi  tarah  nikalna  mumkin  hi  na  ho  to  Namaz  todkar  Namaz  se  kharij  ho  jaye,  yani  apni  jagah  per  betha  rahe,

★ Agar  kisi  ka  Vazu  Bimari  ki  vajah  se  na  theharta  ho  to  wo  mazoor  kehla’ega ,  aur  Namaz  ke  waqt  usko  ek  baar  Vazu  kar  Lena  kaafi  he,  iske  baad  waqt  ke  andar  jitni  Namaze  chahe  padhta  rahe  is  khaas  uzr  ki  vajah  se  uska  Vazu  nahi  tootega  haa’n  agar  kisi  aur  vajah  se  Vazu  toot  jaye  to  aur  baat  he,  aur  jab  Namaz  ka  waqt  nikal  jaye  to  uska  Vazu  toot ja’ega  ab  dobara  Vazu  kare,
*( Behtar  ye  he  k  is  masle  ko  apne  Ulma  kiraam  se  Samajha  jaye )*
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नमाज़ में वज़ू का टूट जाना_,*

✪_दौराने नमाज़ वज़ू टूट जाने पर नमाज़ को वही छोड़ कर चुप चाप वज़ू कर आएं और मुनासिब यही है कि वज़ू के बाद दोबारा नमाज़ शुरू करे,

✪_अगर इमाम सहाब का वज़ू टूट जाए तो सफ़ में से कोई इमामत के लिए आगे हो जाए और ख़ुद वज़ू कर के मुक्तादियों की सफ़ में शरीक हो जाए,

✪_बेवज़ू नमाज़ पढ़ना सख्त गुनाह है,बाज़ उलमा फरमाते हैं कि इससे कुफ्र का अंदेशा है,

✪_सफ़ में निकलने की गुंजाइश न हो तो सफ़ के आगे से गुज़र कर एक तरफ को निकल जाए,

✪_और अगर किसी तरह निकलना मुमकिन ही न हो तो नमाज़ तोड़कर नमाज़ से खारिज हो जाए,यानी अपनी जगह पर बैठा रहे,

✪_अगर किसी का वज़ू बीमारी की वजह से न ठहरता हो तो वो माज़ूर कहलाएगा,और नमाज़ के वक़्त उसको एक बार वज़ू कर लेना काफी है,इसके बाद वक़्त के अंदर जितनी नमाज़ें चाहे पढ़ता रहे। इस खास उज़्र की वजह से उसका वज़ू नही टूटेगा। हाँ अगर किसी और वजह से वज़ू टूट जाए तो और बात है,और जब नमाज़ का वक़्त निकल जाए तो उसका वज़ू टूट जाएगा अब दोबारा वज़ू करे,
*(बेहतर ये है कि इस मसले को अपने उलमा किराम से समझा जाए)* _,*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,* 

*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Sunnat Namazo Ki Adaaygi -1✦*
┗───┯ ✿         
✯, Jis  cheez  ki  Huzur  Sallallahu   Alaihivasallam  ne  aksar  pabandi  farmai  ho  aur  jiske  Tark  ko  laa’iq e  malamat  qaraar  diya  gaya  ho  wo  Sunnat  mokada  he,

★ Aur  jis  cheez  ki  targeeb  Huzur  Sallallahu  Alaihivasallam  ne  di  ho  magar  uske  chhodne  per  malamat  na  ki  gayi  ho  wo  Sunnat  e gair  mokada  he,

★ Namaz  to  chahe  Farz  ho  chahe  Sunnat  v  Nifl  ho  sab  Allah  ta’aala  hi  ke  liye  hoti  he, 
→ Ye  khayal  galat  he  k  Sunnate  Nabi  Kareem  Sallallahu  Alaihivasllam  ke  liye  he,

★ Farz  Namaz  me  Jo  kami ( yani  khushu v khuzu  me  Jo  kami )  reh  jati  he  usko  pura  karne  ke  liye  Sunnate  aur  Nifl  he’n,

★ Sunnat  mokada  ka  chhodna  bura  he  aur  iske  chhodne  ki  aadat  bana  Lena  bhi  Gunaah  he, 

→ Sunnate  gair  mokada  aur  Nawafil  me  akhtyar  he  chahe  padhe,  ya  chhod  de,

*❂ Kya Aaj Ke Mashini Daur Me Farz Padh Lena Kaafi he? ❂*
                    
★ Mashini   daur   ki   masrufiyaat   ke   bavjood   khurafaat   ke   liye,  gap   shap   ke   liye,   tafreeh   ke   liye   aur   namaloom   kin   kin   cheezo   ke   liye   waqt   nikaala   jata   he   to   mashini   daur   masrufiyat   ka   nazla  sirf   Namaz   hi   per   kyu   giraya   jaye ?
  
  ✯, Sunnate  ghar  me  padhna  afzal  he,
→ magar  iske  liye  shart  ye  he  k  ghar  ka  mahol  pur  sukoon  ho  aur  ghar  jate  hi  gharelu  kaamo  ki  tashvysh  lahaq  na  ho  jaye,
→ agar  esa  andesha  ho  to  Masjid  me  Sunnate  padhna  afzal  he,

★ Sunnat v Nifl  ke  liye  mutlaq  Namaz  ki  niyat  kaafi  he,  isme  waqt  aur  raka’at  ki  niyat  karne  ki  zarurat  nahi,

*❂ Fajar Ki Sunnato Ki Takeed ,*                    

★ Fajar  ki  Sunnato  ki  takeed  zyada  he,  isliye  agar  Namaz  Fajar  fot  ho  jaye  to  Suraj  Tulu  hone  ke  baad  zavaal  se  pehle  isko  Sunnato  Sahit  padhne  ka  hukm  he,

★ Fiqha  Hanafi  ka  masla  ye  he  k  agar  Jama’at  ki  doosri  raka’at  ( balki  tashahud  bhi )  mil  Jane  ki  ummeed  ho  to  kisi  alag  jagah  per  Fajar  ki   Sunnate  pehle  adaa  kare  tab  Jama’at  me  shareek  ho,

★ Waqt  nikal  Jane  ke  baad  Fajar  ki  Sunnato  ke  alawa  baqi  kisi  Sunnat  ki  qaza  nahi,

*❂Sunnato ke liye Jagah Badalna,*
                     
★ Zuhar  aur  isha  ki  Sunnate  agar  reh  jaye  to  Farzo  ke  baad  padhe,  Pehle  do  raka’at  baad  wali  padhe,  fir  chaar  raka’at  pehli  wali  padhe,  agar  pehle  chaar,  fir  do  padh  le  tab  bhi  sahi  he,

★ Sunnate  Mokada,  gair  mokada,  Nifl  aur  vitr  ki  tamaam  raka’ato  me  Surah  Fatiha  ke  baad  Surat  milana  wajib  he,  varna  namaz  nahi  hogi,  aur  agar  Surah  Fatiha  ya  Surat  milana  bhool  gaya  to  Sajda  Sahu  wajib  hoga,

★ Farz  Namaz  se  farig  hokar  imaam  aur  muqtadi  dono  ke  liye  jagah  badal  Lena  mustahab  he,

⇨” Kya  tumme  se  ek  Aadmi  is  baat  se  qaasir  he  k  farz  namaz  ke  baad  sunnat  shuru  kare  to  zara  aage  pichhe  ya  daaye  baaye  ho  liya  kare, ”
*📚 Sunan Abu Dauwd 1/144,*         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2,*     
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ सुन्नत नमाज़ों की अदायगी-*

★_जिस चीज़ की हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने अक्सर पाबंदी फरमाई हो और जिसके तर्क को लाइक ए मलामत क़रार दिया गया हो वो सुन्नत मोअक्कदा है,

★_और जिस चीज़ की तरग़ीब हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने दी हो मगर उसके छोडने पर मलामत न कि गयी हो वो सुन्नत ए गैर मोअक्कदा है,

★_नमाज़ तो चाहे फ़र्ज़ हो चाहे सुन्नत व निफल हो सब अल्लाह ताला ही के लिए होती है,
"_ये खयाल गलत है कि सुन्नतें नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के लिए है,

★_फ़र्ज़ नामाज़ में जो कमी (यानी खुशु व खुज़ू में जो कमी )रह जाती है उसको पूरा करने के लिए  सुन्नतें और निफल है,

★_सुन्नत मोअक्क़दा का छोड़ना बुरा है और इसके छोड़ने की आदत बना लेना भी गुनाह है,

"_सुन्नते गैर मोअक्क़दा और नवाफिल में इख़्तेयार है चाहे पढ़े,या छोड़ दे,

*❂_क्या आज के मशीनी दौर में फ़र्ज़ पढ़ लेना काफी है?❂*_*

★_मशीनी दौर की मसरूफियात के बावजूद खुराफात के लिए ,गप शप के लिए ,तफरीह के लिए और नामालूम किन किन चीजों के लिए वक़्त निकाला जाता है तो मशीनी दौर मसरूफियात का नज़ला सिर्फ नमाज़ ही पर क्यों गिराया जाए? _,*

✪_सुन्नतें घर मे पढ़ना अफ़ज़ल है,
"_मगर इसके लिए शर्त ये है कि घर का माहौल पुर सुकून हो और घर जाते ही घरेलू कामो की तश्वीश लाहक़ न हो जाए,

✪_अगर ऐसा अंदेशा हो तो मस्जिद में सुन्नते पढ़ना अफ़ज़ल है,सुन्नत व निफल के लिए मुतलक़ नमाज़ की नीयत काफी है,इसमें वक़्त और रक़अत की नियत करने की ज़रूरत नही,

*👉🏻फजर के सुन्नतों की ताक़ीद_,*

✪_फजर की सुन्नतों की ताक़ीद ज़्यादा है,इसीलिए अगर नमाज़ फ़ौत हों जाए तो सूरज तुलू होने के बाद ज़वाल से पहले इसको सुन्नतों सहित पढ़ने का हुक्म है,

"_फ़िक़हा हनफ़ी का मसला ये है कि अगर जमात की दूसरी रक़अत (बल्कि तशह्हुद भी)मिल जाने की उम्मीद हो तो किसी अलग जगह पर फजर की सुन्नते पहले अदा करे तब जमात में शरीक हो,

✪_वक़्त निकल जाने के बाद फजर की सुन्नतों के अलावा बाकी किसी सुन्नत की क़ज़ा नही,

*👉🏻 सुन्नतों के लिए जगह बदलना_,*

✪_ज़ुहर और इशा की सुन्नतें अगर रह जाए तो फ़र्ज़ों के बाद पढ़े,पहले दो रक़ात बाद वाली पढ़े,फिर चार रक़ात पहली वाली पढ़े,अगर पहले चार,फिर दो पढ़ ले तब भी सही है,

✪_सुन्नते मोअक्कदा ,गैर मोअक्कदा निफल और वित्र की तमाम रक़ातो में सूरह फातिहा के बाद सुरत मिलाना वाजिब है,वरना नमाज़ नही होगी,और अगर सूरह फातिहा या सुरत मिलाना भूल गया तो सज्दा सहु वाजिब होगा,

✪_फ़र्ज़ नमाज़ से फारिग होकर इमाम और मुक़तदी दोनो के लिए जगह बदल लेना मुस्तहब है,

✪_क्या तुममे से एक आदमी इस बात से क़ासिर है कि फ़र्ज़ नमाज़ के बाद सुन्नत शुरू करे तो ज़रा आगे पीछे या दाये बाये हो लिया करे, _,*

*( सुनन अबु दाऊद )*

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz E Juma- * ✦*
┗───┯ ✿

*❂ Juma Ki Namaz Chhodne Ka Gunaah,*
                     
★  Paanch  waqt  Namazo  ki  tarah  Juma  ki  Namaz  adaa  karna  bhi  har  musalman  aaqil  baalig  azaad  mard  per  farz  he,

★ Aur  Juma  azeem  sha’ar -e -islam  me  se  he,

★ Juma  ki  farziyat  se  inkaar  karne  se  aadmi  kaafir  ho  jata  he  aur  bila  uzr  isko  tark  karna  bada  gunaah  he,  is  per  sakht  wa’ied  aayi  he,  isse  aadmi  faasiq  balki  isse  badkar  munafiq  ke  darje  tak  pahunch  jata  he,
*↳®  Ravaah  Bayhki,*                     

★  Rasulullah  Sallallahu  Alaihivasallam  ne  farmaya  k,
→” Jo  sakhsh  bila  uzr  Juma  ki  Namaz  chhod  deta  he  wo  esi  kitaab  me  munafiq  likha  jata  he  Jo  na  kabhi  mitai  jati  he  aur  na  tabdeel  ki  jati  he,”

★ Aur  baaz  rivayaat  me  ye  he  k  Jo  sakhsh  3  Juma  chhod  de  ye  wa’ied  uske  liye  he,
*↳® Musnad, Shafa’i*         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 *↳® Fiqhul ibadaat, 151*
*❂ Juma Ki Namaz Padhne Ka Tareeqa ,*                     

★ Juma  ki  pehli  azaan  ke  baad  khutba  ki  azaan  se  pehle  4  raka’at  sunnat  mokada  he,
★ Fir  khutba  ke  baad  Juma  ki  2  raka’at  farz  imaam  ke  saath  padhe ,
★ Fir  4  raka’at  sunnat  padhe , ye  sunnate  bhi mokada  he,
★ Fir  2  raka’at  sunnat padhe,  Ye  2  raka’at  bhi  baaz  Hazraat  ke  nazdeek  mokada  he,
*↳® Bahishti Gohar,* 

*👉🏻 Juma Sahi hone ki Shart ,*
                    
★ 1- Shehar  ya  esa  bada  Qasba  hona,  Jiski  sadke  Shehar  jesi  ho  aur  usme  Shehri  Sahuliyaat  mojood  ho  yani  zaruriyaat  zindgi  muhayya  ho,  aur  Thana,  Daak khana  vagera  bhi  mojood  ho,

★ 2- Zuhar  ka  waqt  hona,
★ 3- Khutba  hona,
★ 4- Khutba  ka  Namaz  se  pehle  hona,

★ 5-Jama’at  yani  imaam  ke  Siva  kam  se  kam  3  aadmiyo  ka  shuru  khutba  se  pehli  raka’at  ke  sazde  tak  mojood  rehna,

★ 6- Juma  ki  Namaz  Elaan e Aam  ke  saath  padhna  yani  us  jagah  Namaziyo  ko  dakhil  hone  se  na  roke,
*↳®  Durre  Mukhtar, 1/546*

*❂ Juma Faut ho Jane ka Hukm ,*                    

★  Agar  kisi  se  Juma  faut  ho  jaye  to  baad  me  4  raka’at  zuhar  ki  qaza  padhe,
“__Ab  uske  liye  akele  Jume  ki  niyat  se  2  raka’at  padhna  jaa’iz  nahi,  Ab  uske  zimme  zuhar  hi  ki  qaza  wajib  he,
*↳®  Durre Mukhtar, 2/17*
         
  
*❂ Jume  Ki  Azaan  Avval  ke  Baad  Khareed  Farokht ,*                    

★  Jab  apne  mohalle  ki  Masjid  me  Juma  ki  Azaan  Avval  ho  jaye  to  khareed  farokht  ko  foran  moqoof ( postpone)  kar  dena  laazim  he,

Kyuki  Azaane  Avval  ke  baad  khareed  farokht  Makrooh  Tehrimi  he,

★ Agar  kisi  ne  Azaane  Avval  ke  baad  khareed  farokht  kar  li  ho  to  gunaah  se  bachne  ke  liye  us  maamle  ( sauda )  ko  khatm  karna  laazim  he,
*↳®  Durre Mukhtar, 4/147*

*❂  Mimbar per Khade hokar Khutba Padhna,*                     

★  Mimbar  per  khade  hokar  khutba  padhna  sunnat  he,

★ Huzur  Akram  Sallallahu  Alaihivasallam  aur  Khulfa e Rashedeen  Raziyallahu  Anhum  ka  yahi  mamool  tha,
*↳®  Durre  Mukhtar, 2/161*

*❂ Khutba ke Doraan Mamnu’a Cheeze ,*
                     
★  Jab  khutba  shuru  ho  jaye  to  tamaam  Hazireen  ke  liye  uska ( khutba ) sunna  wajib  he,  Chahe  imaam  ke  nazdeek  bethe  ho  ya  door,

★ Koi  esa  Kaam  Jo  khutba  sunne  me khalal  daale  Makrooh  Tehrimi  he,

*”_Maslan* – Khana,  Pina,  Baat cheet  Karna,  Chalna Firna,  Salaam karna,  ya  Jawab  dena,  Tasbeeh  padhna,  Kisi  ko  shara’i  masla  batana,,,, Jese  Namaz  ki  haalat  me  mamnu’a  he’n  wese  hi  Khutba  ke  waqt  bhi  mamnu’a  he’n,

Albatta  Khateeb  ke  liye  jaa’iz  he  Khutba  padhne  ki  haalat  me  kisi  ko  shara’i  masla  batane  ki  zarurat  mehsoos  kare  to  bata  sakta  he,
*↳® Ba-Hawala  Shaami, 1/111,*         
 ↴❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 ↳® Fiqhul ibadaat, 152*

*❂ Khutba Ke Baaz Aham Masail ,*
                     
★ Khutbe  ke  darmiyan  kisi  khas  haalat  me  bethna  masnoon  nahi,  jis  tarah  sahulat  ho  Beth  jaye  magar  imam  ki  taraf  mutawajjah  rahe,  or  khutba  Gor  se  sune,

⇨ Logo  ne  ye  Jo  dastoor  bana  rakha  he  k  pehle  khutbe  me  namaz  ki  tarah  haath  baandhe,  or  Doosre  khutbe  me  Qa’ade  ki  tarah  ghutno  per  haath  rakhe,  Shariyat  me  iski  koi  asal  nahi,,,,

★ Khutbe  ke  darmiyan  namaz  padna  bhi  jaa’iz  nahi,

★ Khutbe  ke  darmiyan  buland  awaz  se  Darood  Sharif  bhi  padna  jaa’iz  nahi,, Balki  Apne  dil  hi  me  pade,

★ Khutbe  ki  Azan  ka  jawab  bhi  dil  hi  me  de,  ba- awaaz  nahi,

★ Khutbe  ke  darmiyan  baat -cheet  karna,  hansna,  janamaz  se  ya or  kisi  cheez  se   khelna  najaa’iz  or  haraam  he,

*❂ Juma Ke Baaz Aham Masail ,*
                    
★ Juma  sirf  Shehar,  Bade  kasbo  ki  hudood  ke  andar  hi  jaa’iz he,

★ IMAM  Abu  Haifa  R A  ke  nazdeek  chhoti  basti  me  juma  jaa’iz  nahi  aur Jo  padhte  he’n  wo. log  Zuhar  ki  namaz  bhi  chhodne  wale  gunahgar  samjhe  ja’enge  aur  iska  bawal  sar  per  rahega,

⇨ Aur Jo  ye  kaha  jata  he  k  Jaha’n  Juma. shuru  ho  waha’n  band  na  kiya  jaye, iska  matlab  ye  he  k  masla  samjha  diya  jaye  uske  bavjood  nahi  maante,  to  wo  apne  amal  ke  khud  zimmedar  honge,  magar  chhoti  basti  me  juma  padhna  kisi  haal  me  bhi  jaa’iz  nahi  aur  Jo  shari’at  ke  masle  ke  khilaf  Jume  me  imamat  kar  raha  he,  wo  bhi  kam  gunahgar  nahi,,

★ Jume  se  pehle aur  baad  ki  Sunnate -Sunnate  juma  hi  kehlati  he’n  isliye. sunnate  juma  hi  ki  niyat  kare  zuhar  ki  nahi, 

*★ ” Jumatul  Vida ”  yani  Ramzanul  Mubarak  ka  akhri  juma,*

→ Hadees shareef  me  iski  koi  khushoosi here fazilat  zikr  nahi  ki  gayi  he,,
→ Jese  Ramzan ul Mubarak  ke  doosre  Jume  he’n , ese  hi  Akhri  Juma  bhi  he,

★ Fuqha  ne  Akhri  Juma  ” Juma tul  Vida”  me  Firaak  or  Vida  ke  Mazameen  ko  makrooh  likha  he,,
         
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नमाजे जुमा-,*

*👉🏻जुम्मा की नामाज़ छोड़ने का गुनाह*

✪_पांच वक़्त नमाज़ों की तरह जुमा की नमाज़ अदा करना भी हर मुसलमान आकिल बालिग आज़ाद मर्द पर फ़र्ज़ है,

"_और जुमा अज़ीम श'आरे इस्लाम मे से है,

✪_जुमा की फ़र्ज़ीयत से इनकार करने से आदमी काफ़िर हो जाता है और बिला उज़्र इसको तर्क करना बड़ा गुनाह है,इस पर सख्त वईद आयी है,इससे आदमी फ़ासिक़ बल्कि इससे बढ़कर मुनाफ़िक़ के दर्जे तक पहुंच जाता है,

✪_रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया की ,
जो शख्स बिला उज़्र जुमा की नमाज़ छोड़ देता है वो ऐसी किताब में मुनाफ़िक़ लिखा जाता है जो न कभी मिटाई जाती है और न तब्दील की जाती है,

"_और बाज़ रिवायात में ये है कि जो शख्स 3 जुमा छोड़ दे ये वईद उसके लिए है, _,*

*☞जुमा की नमाज़ पढ़ने का तरीका*

✪_जुमा की पहली अज़ान के बाद खुतबा की अज़ान से पहले 4 रक्कत सुन्नत मोअक्कदा है,
_फिर खुतबा के बाद जुमा की 2 रक़ात फ़र्ज़ इमाम के साथ पढ़े,
फिर 4 रक़ात सुन्नत पढ़े ,ये 2 रक़ात भी बाज़ हज़रात के नज़दीक मोअक्कदा है,

*☞ जुम्मा सही होने की शर्त*

✪_1-शहर या ऐसा बड़ा क़स्बा होना,जिसकी सड़के शहर जैसी हो और उसमें शहरी सहूलियत मौजूद हो यानी ज़रूरियात ज़िंदगी मुहैय्या हो,और थाना डाक खाना वगैरह भी मौजूद हो,

✪_2-ज़ुहर का वक़्त होना,
3-खुतबा होना,
4-खुतबा का नमाज़ से पहले होना,

✪_5-जमात यानी इमाम के सिवा कम से कम 3 आदमियों का शुरू खुतबा से पहली रक़ात के सज्दे तक मौजूद रहना ,

✪_6-जुमा की नमाज़ एलान ए आम के साथ पढ़ना यानी उस जगह नमाज़ियों को दाखिल होने से न रोके,

*☞जुमा फ़ौत हो जाने का हुक्म*

✪_अगर किसी से जुमा फ़ौत हो जाए तो बाद में 4 रक़ात ज़ुहर की क़ज़ा पढ़े, अब उसके लिए अकेले जुमे की नीयत से 2 रक़ात पढ़ना जाइज़ नही,अब उसके ज़िम्मे ज़ुहर ही कि क़ज़ा वाजिब है, _,*

*✪_जुम्मे की अज़ान अव्वल के बाद खरीद फरोख्त ✪_*

★जब अपने मोहल्ले की मस्जिद में जुमा की अज़ान अव्वल हो जाए तो खरीद फरोख्त को फौरन मौक़ुफ कर देना लाज़िम है,
क्योंकि अज़ाने अव्वल के बाद खरीद फरोख्त मकरूह तहरीमी है,

★_अगर किसी ने अज़ाने अव्वल के बाद खरीद फरोख्त कर ली हो तो गुनाह से बचने के लिए उस मामले (सौदा)को खत्म करना लाज़िम है,

*✪_मिम्बर पर खड़े होकर खुतबा पढ़ना _✪_*

★_मिम्बर पर खड़े होकर खुतबा पढ़ना सुन्नत है,
हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम और खुल्फा ए राशिदीन रज़ियल्लाहु अन्हुम का यही मामूल था,

*✪_खुतबा के दौरान ममनु चीजें✪_*

★_जब खुतबा शुरू हो जाए तो तमाम हाज़िरीन के लिए उसका खुतबा सुनना वाजिब है,चाहे इमाम के नज़दीक बैठे हो या दूर,

★_कोई ऐसा काम जो खुतबा सुनने में खलल डाले मकरूह तहरीमी है,

*✪_मसलन*-खाना ,पीना,बात चीत करना,चलना फिरना,सलाम करना ,या जवाब देना ,तस्बीह पढ़ना,किसी को शरई मसला बताना ,,,जैसे नमाज़ की हालत में ममनु है वैसे ही खुतबा के वक़्त भी ममनु है,

"_अलबत्ता खतीब के लिए जाइज़ है खुतबा पढ़ने की हालत में किसी को शरई मसला बताने की ज़रूरत महसूस करे तो बता सकता है, _,*

*📚_ फिक़हुल इबादात _,*

*☞खुतबा के बाज़ अहम मसाइल*

★_खुतबे के दरमियान किसी खास हालत में बैठना मस्नून नही,
जिस तरह सहूलत हो बैठ जाए मगर इमाम की तरफ मुतवज्जह रहे,औऱ खुतबा गौर से सुने ,

"_लोगों ने जो दस्तूर बना रखा है कि पहले खुतबे में नमाज़ की तरह हाथ बांधे,और दूसरे खुतबे में क़ा'अदे की तरह घुटनो पर हाथ रखे,शरीयत में इसकी कोई असल नही,,

★_खुतबे के दरमियान नमाज़ पढ़ना भी जाइज़ नही,

★_खुतबे के दरमियान बुलंद आवाज़ से दरूद शरीफ भी पढ़ना जाइज़ नही,बल्कि अपने दिल ही में पढ़े,

★_खुतबे की अज़ान का जवाब भी दिल ही में दे ,बा आवाज़ नही,

★_खुतबे के दरमियान बात चीत करना ,हंसना,जनामाज़ से या ओर किसी चीज़ से खेलना नाजाइज़ और हराम है,

*☞जुमा के बाज़ अहम मसाइल*

★_जुमा सिर्फ शहर ,बड़े कस्बों की हुदूद के अंदर ही जाइज़ है,
इमाम अबू हनीफ़ा के नज़दीक छोटी बस्ती में जुमा जाइज़ नही,और जो पढ़ते हैं वो लोग ज़ुहर की नमाज़ भी छोडने वाले गुनाहगार समझे जाएंगे और इसका बवाल सर पर रहेगा,

”_और जो ये कहा जाता है कि जहां जुमा,शुरू हो वहां बन्द न किया जाए,इसका मतलब ये है कि मसला समझा दिया जाए उसके बावजूद नही मानते,तो वो अपने अमल के खुद ज़िम्मेदार होंगे ,मगर छोटी बस्ती में जुमा पढ़ना किसी हाल में भी जाइज़ नही और जो शरीयत के मसले के खिलाफ जुमे में इमामत कर रहा है,वो भी कम गुनाहगार नही,,

★_जुमे से पहले और बाद की सुन्नतें ,सुन्नते जुमा ही कहलाती है इसीलिए सुन्नते जुमा ही कि नियत करे ज़ुहर की नही,

*☞जमातुल विदा यानी रमज़ानुल मुबारक का आखरी जुमा*

✪_हदीस शरीफ में इसकी कोई खुसूसी फ़ज़ीलत ज़िक्र नही की गई है,, जैसे रमज़ान उल मुबारक के दूसरे जुमे हैं ,ऐसे ही आखरी जुमा भी है,

✪_फुक़हा ने आखरी जुमा जुमातुल विदा में फ़िराक़ और विदा के मज़ामीन को मकरूह लिखा है,, 

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ IMAMAT -✦*
┗───┯ ✿          
*👉🏻❂ Imamat Sahi hone Ki Shara’it ❂*
                    
★ 1-Musalman hona,
★ 2- Aaqil hona, ( Pagal, Majnu, Diwana na ho )
★ 3- Baalig hona,
★ 4- Mard hona, ( Aurat ki imamat sahi nahi)
★ 5- Farz Qiraat ke ba-qadr yaad hona,

★ 6- Namaz se maan’a koi uzr na ho,
⇨Maslan – Nakseer vagera na chali ho,
⇨Neez namaz ki koi shart maslan – Taharat, Satar vagera na chhoot rahi ho,
      
*↳® Ba- Hawala– Noorul Eyza, Shami,*          

*👉🏻❂  Nabina  ki  imamat  ka  Hukm ❂*
                    
★ Nabina  ki  iqtida  makrooh  tanjihi  he,

Albatta  agar  Nabina  ilm v Amal,  Taqwa v Taharat  ke  lihaaz  se  doosro  se  afzal  ho  to  usko  imaam  banane  me  koi  karahat  nahi,  Balki  usko  imaam  banana  afzal  he,

*↳ ® Ba- Hawala— Shami,*
    
*👉🏻❂  Daadi  Katane  Wale  ki  Imamat  ❂*                   

★ Daadi ek qabza ( ek  musht ) se kam kataana haraam he,  Aur elaaniya gunaah ka irtkaab he,

★ isliye kataane ya mundane wala faasik he aur faasik ki imamat makrooh tehrimi he,

★isliye ese shakhs ko imaam banana jaa’iz nahi, Agar koi esa shakhs jabran imaam ban gaya ya Masjid ki intezami commety ne bana diya aur hataane per Qudrat na ho to kisi doosri masjid me saaleh imaam talaash kare ( Yani doosri masjid me ba-jama’at Namaz padhe ) ,

Agar mayassar na ho to jama’at na chhode balki faasik ke pichhe hi Namaz padh le,  Uska azaab v Vabaal Masjid ke muntazimeen ( intezamiya commety ) per hoga,
*↳ ® Ba- Hawala— Shami,  Ahsanul fatawa-3/26*
*👉🏻❂  Shafa’i  aur  Ahle Hadees  ki  imamat  ❂*
                   
★ Agar ye yaqeen ho k imaam namaz ke arkaan v Shara’it me doosre mazahib ki riaayat karta he to uski iqtida bila karahat jaa’iz he,

★ Agar riaayat na karne ka yaqeen ho to uske pichhe padhi hui Namaz sahi nahi hogi,

Aajkal ke Gair Muqallideen sirf ye hi nahi k riaayate mazahib ka khayal nahi  rakhte balki usko galat samajhte he’n aur umda uske khilaaf ka ahatmam karte he’n aur isko sawab samajhte he’n, isliye uski iqtida se jaha tak mumkin ho ahatraaz laazim he, Magar ba-waqte zarurat unke pichhe Namaz padh le,  Jama’at na chhode,

★ Ye Tafseel us waqt he k ye imaam sahi ul aqeeda ho,  Agar uska aqeeda faasid he,  Muqallid ko mushrik samajhta he aur sab salf ( yani Aaimma ko gaali galoch ) karta he,  to uski imamat makrooh tehrimi he,      

*↳® Ahsanul fatawa, 3/282* 

*👉🏻❂ Bid’ati  ki  imamat  ka  Hukm  ❂*
                  
★ Aajkal ke Firqa e mubtda’a ke aqaa’id Shirk ki had tak pahunche hue he’n, isliye unke pichhe Namaz nahi hoti,

★ Albatta agar koi bid’ati shikiya aqaa’id na rakhta ho, sirf teeja, chaliswa vagera jesi bid’ato me mubtila ho uski imamat makrooh tehrimi he, 

*↳ ® Ganiyat, 480*

★ Koi sahi ul aqeeda imaam mil jaye to bid’ati ki iqtida me Namaz na padhe, varna usi ke pichhe Namaz padh le, Jama’at na chhode,

★ Bid’ati ki iqtida me padhi hui namaz agarche makrooh tehrimi he magar waajibul a’aadah nahi ( lotane ki zarurat nahi), Ye ese bid’ati ka Hukm he Jo mushrik na ho,  Shirkiya aqaa’id rakhne wale ka Hukm ouper likha ja chuka he, uske pichhe qatan Namaz nahi hoti,
         
*👉🏻❂  Jahri  Qiraat  ki  Miqdaar ,*
                 
★ Imaam  ke  liye  Jahri  NamaZo  me   qiraat  ki  miqdaar  ye  he  k, itni  awaaz  me  qiraat  padhe  k  pehli  Saf  ke  NamaZi  qiraat  sunle,
Tamaam  Namazio’n  ko  sunana  laazim  nahi, 

*↳ ®  Ba- Hawala—- Durre Mukhtar, 1/499*         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 ↳®Fiqhul ibadaat, 243,*        
*           *❂  Mutafarrik. ❂*
                   
★ Qiraat ki baaz galtya’n esi he k unse Namaz Faasid ho jati he, isliye qiraat me galtiya’n karne wale shakhs ko imaam banana jaa’iz nahi,

★Imaam ke hote hue kisi aur ko imaamat nahi karni chahiye, bager imaam ki ijazat ke Namaz makrooh Tehrimi he,

★ Kisi ahal ke hote hue ijazat ke bager usse kamtar imaamat kare to uski imaamat  khilafe afzal aur makrooh tanzihi hogi,

★Dadi munde shakhs ke pichhe Namaz makrooh Tehrimi he, lekin agar puri jamaat me koi bhi ba shara aadmi nahi to tanha tanha Namaz padhne ke bajaye ese shakhs ke pichhe Jo Namaz padha sakta ho aur Namaz ke zaruri masail se waqif ho to ese imaam ke pichhe Namaz padhna tanha padhne se behtar he,   

  ★ Taraveeh ki ujarat jaa’iz nahi, Panjgana Namaz ki imaamat ki ujrat ko mutakhryn ne jaa’iz rakha he,

★ Ek imaam do masjido me imaamat nahi kar sakta kyuki uski pehli Namaz Farz hogi aur doosri nifl, Farz padhne walo ki iqtida nifl wale ke pichhe sahi nahi,

★ Agar sirf ek Mard aur ek Aurat muqtadi ho to Jo Mard muqtadi he wo imaam ki dahini janib (zara sa pichhe hatkar) barabar khada ho jaye aur Aurat pichhli saf me akeli khadi ho,

★ Imaam ka Mehrab me khada hona makrooh he, Mehraab to qibla ki shanakht ke liye hoti he, imaam ka musalla mehraab se zara sa bahar hona chahiye, taki imaam jab khada ho to uske paanv mehraab se bahar ho,

★ Immam ovper wali manzil se bhi imaamat kar sakta he, lekin behtar munasib ye he k imaam pehli manzil me rahe,

★ Agar Umar ke lihaz se baalig he aur abhi Dadi nahi nikli uski imaamat sahi he, isi tarah jis shakhs ki qudrati Dadi na ho uski imaamat bhi sahi he,
                    
★_ Huzoor Akram Sallallahu Alaihivasallam ne Dadi badhane ka hukm diya he, albatta baaz Sahaba ikraam Raziyallahu anhum se ek musht se zyada ka kaatna saabit he, isse tamaam fuqha e ummat ne ek musht se zyada ke kaatne ko jaa’iz aur isse kam ke kaatne ko haraam farmaya he, ese imaam ke pichhe Namaz jaa’iz nahi,

★ Imaam agar musafir ho to wo qasr padhega aur uske pichhe Jo log muqeem he’n wo apni baqi raka’ate ( 4 raka’at wali namaz me )puri kar lenge, agar imaam muqeem ho aur muqtadi musafir ho to wo imaam ke saath puri Namaz padhega,

★ Jo imaam siyaah  khizab lagata ho uske pichhe Namaz makrooh Tehrimi he,

★ Salwaar, Pajama aadhi pindli tak rakhna sunnat he, Takhno tak rakhne ki ijazat he aur Takhno se niche rakhna haraam he aur Namaz me ye fa’al aur bhi haraam he,
⇨ Jo imaam salwaar ya pajama takhno se nicha rakhne ka aadi ho agar wo isse baaz na aaye to usko imamat se hata dena durust he,

★ Faasiq haraam aur kabeera gunaah karne wale ki iqtida me adaa ki gayi Namaz makrooh Tehrimi he,

★ Bank ke mulazim ki imaamat makrooh Tehrimi he, Bank ki mulazmat jaa’iz nahi, Bank ki tankhwah chuki sood se milti he isliye wo bhi halaal nahi,

★ Jo shakhs T V dekhta ho, Gana sunta ho, cinema dekhta ho wo faasiq he uske pichhe Namaz makrooh Tehrimi he, usko imaam na banaya jaye,

★ Rishwat lena kabeera gunah he, iska murtkib faasiq he aur faasiq ki imamat makrooh Tehrimi he,

★  Qatil ne apne gunaah se tauba kar li ho to uske pichhe Namaz bila karahat jaa’iz he, varna makrooh Tehrimi he,
  ┗───┯ ✿
✯, Kya imaam Sunnate Mokada padhe bager imaamat kara sakta he ?
⇨ Imaam ne Sunnate na padhi ho tab bhi wo jama’at kara sakta he, imaam sahab ko chahiye k sunnato se pehle faarig hone ka ahatmam kiya kare aur agar kabhi imaam pehle faarig na ho sake to muqtadiyo ko chahiye k imaam ko sunnato ka moqa de diya kare,

★ Agar Namazi aage pichhe ho ya saf me jagah khali ho to imaam ko hidayat karni chahiye,

★ Imaam ki awaaz (muqtadiyo tak ) pahunche ya na pahunche iqtida sahi he aur sawaab me bhi koi kami nahi aati,

★ Imaam ko chahiye k namaz me muqtadiyo ki riaayat kare aur itni lambi namaz na padhaye k log tang ho jaye, imaam ko halki Namaz padhane ka hukm he, kyuki muqtadiyo me koi kamzor hoga, koi bimaar hoga, koi haajat mand hoga,
⇨ Ek aur Hadees me hukm he k jama’at me Jo sabse kamzor Aadmi ho uski riaayat karte hue Namaz padhaye,
★ Imaam ko chahiye k namaz ke baad muqtadiyo ki taraf pusht karke na bethe, balki ya to muqtadiyo ki taraf moonh karke beth jaye ya daaye baaye moonh karke beth jaye,
⇨ Namaz ke baad imaam ko muqtadiyo ki taraf moonh karke bethna koi zaruri nahi, daaye, baaye jis taraf chahe beth sakta he,

★ Imaam se kisi duniyavi sabab se naraazgi rakhna bura he, Jis imaam se naraazgi ho Namaz uske pichhe jaa’iz he,
⇨ imaam se agar masle me ikhtilaf ho jaye chahe imaam ki galti ho ya muqtadi ki, uske pichhe padhi hui Namaz sahi he,                
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
               *☞  इमामत-*

*👉🏻इमामत सही होने की शराइत*

1-मुसलमान होना,
2-आकि़ल होना,(पागल,मजनू,दीवाना न हो)
3-बालिग होना,
4-मर्द होना,(औरत की इमामत सही नही)
5-फ़र्ज़ किरात के बक़दर याद होना,
6-नमाज़ से माना कोई उज़्र न हो,
मसलन -नकसीर वगैराह न चली हो,

✪_नीज़ नामाज़ की कोई शर्त मसलन तहारत,सतर वगैरह न छूट रही हो,

*👉🏻नाबीना की इमामत का हुक्म*

✪_नाबीना की इक़तिदा मकरूह तंजीही है, अलबत्ता अगर नाबीना इल्म व अमल ,तक़वा व तहारत के लिहाज से दूसरों से अफ़ज़ल हो तो उसको इमाम बनाने में कोई कराहत नही,बल्कि उसको इमाम बनाना अफ़ज़ल है,

*👉🏻दाढ़ी काटने वाले की इमामत*

✪_दाढ़ी एक क़ब्ज़ा (एक मुश्त)से कम कटाना हराम है,और एलानिया गुनाह का इरतेकाब है,
इसीलिए कटाने या मुंडाने वाला फ़ासिक़ है और फ़ासिक़ की इमामत मकरूह तहरीमी है,

"_इसीलिए ऐसे शख्स को इमाम बनाना जाइज़ नही,अगर कोई ऐसा शख्स जबरन इमाम बन गया या मस्जिद की इन्तेजामी कमेटी ने बना दिया और हटाने पर कुदरत न हो तो किसी दूसरी मस्जिद में सालेह इमाम तलाश करे (यानी दूसरी मस्जिद में बा जमात नमाज़ पढ़े)

✪_अगर मयस्सर न हो तो जमात न छोड़े बल्कि फ़ासिक़ के पीछे ही नमाज़ पढ़ ले,उसका अज़ाब व वबाल मस्जिद के मुन्तज़िमींन (इंतेजामिया कमेटी)पर होगा, _,*


*👉🏻शाफ़ई और अहले हदीस की इमामत*

✪_अगर ये यकीन हो कि इमाम नमाज़ के अरकान व शराइत में दूसरे मज़ाहिब की रिआयत करता है तो उसकी इक़तिदा बिला कराहत जाइज़ है,
अगर रिआयत न करने का यक़ीन हो तो उसके पीछे पढ़ी हुई नमाज़ सही नही होगी

"_आजकल के गैर मुक़ल्लीदीन सिर्फ ये ही नही की रियायते मज़ाहिब का खयाल नही रखते बल्कि उसको गलत समझते हैं और उम्दा उसके खिलाफ का एहतेमाम करते हैं और इसको सवाब समझते हैं,इसीलिए उसकी इक़तिदा से जहां तक मुमकिन हो अहतेराज़ लाज़िम है,
मगर बा वक़्ते ज़रूरत उनके पीछे नमाज़ पढ़ ले,जमात न छोड़े,

✪_ये तफसील उस वक़्त है कि ये इमाम सही उल अक़ीदा हो,अगर उसका अक़ीदा फ़ासिद है,मुक़ल्लीद को मुशरिक समझता है और सब सल्फ(यानी आइम्मा को गाली गलौच)करता है,तो उसकी इमामत मकरूह तहरीमी है,

*👉🏻 बिद'ति की इमामत का हुक्म*

✪_आजकल के फ़िरक़ा ए मुबतदा के अक़ाइद शिर्क की हद तक पहुंचे हुए हैं,इसीलिए उनके पीछे नमाज़ नही होती ,
अलबत्ता अगर कोई बिद'ति शिर्किया अक़ाइद न रखता हो,सिर्फ तीजा ,चालीसवां वगैरह जैसी बिद'तों में मुब्तिला हो उसकी इमामत मकरूह तहरीमी है,

✪_कोई सही उल अक़ीदा इमाम मिल जाए तो बिद'ति की इक़तिदा में नमाज़ न पढ़े, वरना उसी के पीछे नमाज़ पढ़ ले,जमात न छोड़े,

बिद्दति की इक़तिदा में पढ़ी हुई नामाज़ अगरचे मकरूह तहरीमी हैं मगर वाजिबुल आदाह नही(लौटाने की ज़रूरत नही)ये ऐसे बिद्दति का हुक्म है जो मुशरिक न हो ,शिर्किया अक़ाइद रखने वाले का हुक्म ऊपर लिखा जा चुका है,उसके पीछे क़तअन नामाज़ नही होती,

*👉🏻ज़हरी कि़रात की मिक़दार*

✪_इमाम के लिए ज़हरी नमाज़ों में क़िरात की मिक़दार ये है कि,
इतनी आवाज़ में कि़रात पढ़े कि पहली सफ़ के नमाज़ी क़िरात सुनले,तमाम नमाज़ियों को सुनाना लाज़िम नही, _,*

*📚_ फिक़हुल इबादात- 243,*

मुतफर्रिक ,*

★_कि़रात के बाज़ गलतियां ऐसी हैं कि जिनसे नमाज फासिद हो जाती हैं इसलिए कि़रात में गलतियां करने वाले शख्स को इमाम बनाना जायज नहीं।

★_इमाम के होते हुए किसी और को इमामत नहीं करनी चाहिए बगैर इमाम की इजाज़त के नमाज़ मकरूह तहरीमी है।

★_ किसी अहल के होते हुए इजाजत के बगैर उससे कमतर इमामत करे तो उसकी इमामत खिलाफे अफज़ल और मकरूह तंजी़ही होगी ।

★_ दाढ़ी मुंडे हुए शख्स के पीछे नमाज मकरूह तहरीमी हैं ,लेकिन अगर पूरी जमात में कोई भी बा शराह आदमी नहीं तो तन्हा तन्हा नमाज़ पढ़ने के बजाय ऐसे शख्स के पीछे जो नमाज़ पढ़ा सकता हो और नमाज़ के ज़रूरी मसाइल से वाकिफ हो तो ऐसे इमाम के पीछे नमाज़ पढ़ना तन्हा नमाज़ पढ़ने से बेहतर है ।

★_तरावीह की उजरत जायज़ नहीं , पंजगाना नमाज़ की इमामत की उजरत को मुताखिरीन ने जायज़ रखा है।

★_एक इमाम दो मस्जिदों में इमामत नहीं कर सकता क्योंकि उसकी पहली नमाज फर्ज होगी और दूसरी निफ्ल, फर्ज़ पढ़ने वालों की इक़्तदा निफ्ल वाले के पीछे सही नहीं।

★_अगर सिर्फ एक मर्द और एक औरत हो तो जो मर्द मुक़तदी है  वह इमाम की दाहिनी जानिब ( जरा सा पीछे हटकर) बराबर खड़ा हो जाए और औरत पिछली सफ में अकेली खड़ी हो।

★_इमाम का मेहराब में खड़ा होना मकरूह है, मेहराब तो क़िब्ला की सनाख्त के लिए होती है , इमाम का मुसल्ला मेहराब से जरा सा बाहर होना चाहिए ताकि इमाम जब खड़ा हो तो उसके पांव मेहराब से बाहर हो।

★_इमाम ऊपर वाली मंजिल से भी इमामत कर सकता है लेकिन बेहतर मुनासिब यह है कि इमाम पहली मंजिल में रहे।

★_अगर उम्र के लिहाज़ से बालिग है और अभी डाढ़ी नहीं निकली उसकी इमामत सही है, इसी तरह जिस शख्स की कुदरती डाढ़ी ना हो उसकी इमामत भी सही है।

*📚_ आपके मसाईल और उनका हल-जिल्द 2, _,*
✪_ हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने डाढ़ी बढ़ाने का हुक्म दिया है , अलबत्ता बाज़ सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम से एक मुश्त से ज्यादा का काटना साबित है , इससे तमाम फुक़हा ए उम्मत ने एक मुश्त से ज्यादा के काटने को जायज़ और इससे कम के काटने को हराम फरमाया है, ऐसे इमाम के पीछे नमाज़ जायज़ नहीं ।

✪_ इमाम अगर मुसाफिर हो तो वह कसर पड़ेगा और उसके पीछे जो लोग मुक़ीम हैं वह अपनी बाक़ी रक़ातें (चार रका़त वाली नमाज़ में) पूरी कर लेंगे , अगर इमाम मुकीम हो और मुक्तदी मुसाफिर हो तो वह इमाम के साथ पूरी नमाज़ पड़ेगा। 

✪__ जो इमाम सियाह खिज़ाब लगाता हो उसके पीछे नमाज़ मकरूह तेहरीमी है ।

✪_सलवार, पाजामा आधी पिंडली तक  रखना सुन्नत है, टखनों तक रखने की इजाज़त है और टखनों से नीचे रखना हराम है और नमाज़ में यह काम और भी हराम है ।

✪__जो इमाम सलवार या पाजामा टखनों से नीचे रखने का आदी हो अगर वह इससे बाज़ ना आए तो उसको इमामत से हटा देना दुरुस्त है ।

✪_फासिक़ , हराम और कबीरा गुनाह करने वाले की इक़्तदा में अदा की गई नमाज़ मकरूह तेहरीमी है ।

✪_ बैंक के मुलाजि़म की इमामत मकरूह तेहरीमी है , बैंक की मुलाजमत जायज़ नहीं ,बैंक की तंख्वाह चूंकि सूद से मिलती है इसलिए वह भी हलाल नहीं ।

✪_ जो शख्स टीवी देखता हो, गाना सुनता हो , सिनेमा देखता हो उसके पीछे नमाज़ मकरूह तेहरीमी है, उसको इमाम ना बनाया जाए ।

✪_रिश्वत लेना कबीरा गुनाह है इसका मुर्तकिब फासिक है और फासिक की इमामत मकरूह तेहरीमी है ।

✪_ क़ातिल ने अपने गुनाह से तौबा कर ली हो तो उसके पीछे नमाज़ बिला कराहत जायज़ है,  वरना मकरूह तेहरीमी है।
✪_ क्या इमाम सुन्नते मौक़दा पढ़े बगैर इमामत करा सकता है ?

"_ इमाम ने सुन्नते ना पड़ी हो तब भी वह जमात करा सकता है इमाम साहब को चाहिए कि सुन्नतों से पहले फारिग होने का एहतमाम किया करें और अगर कभी इमाम पहले फारिग ना हो सके तो मुक्तदियों को चाहिए कि इमाम को सुन्नतों का मौक़ा दे दिया करें।

✪_अगर नमाज़ी आगे पीछे हो या सफ में जगह खाली हो तो इमाम को हिदायत करनी चाहिए।

✪_इमाम की आवाज (मुक्तदियों तक) पहुंचे या ना पहुंचे इक़्तदा सही है और सवाब में भी कोई कमी नहीं आती।

✪_ इमाम को चाहिए कि नमाज़ में मुक्तदियों की रियायत करें और इतनी लंबी नमाज़ ना पढ़ाऐ कि लोग तंग हो जाएं । इमाम को हल्की नमाज़ पढ़ाने का हुक्म है क्योंकि मुक्तदियों में कोई कमज़ोर होगा कोई बीमार होगा कोई हाजत मंद होगा ।
एक और हदीस में हुक्म है कि जमात में जो सबसे कमज़ोर आदमी हो उसकी रियायत करते हुए नमाज पढ़ाऐ।

✪_ इमाम को चाहिए कि नमाज के बाद मुक्तदियों की तरफ पुश्त करके ना बैठे बल्कि या तो मुक़्तदियों की तरफ मुंह करके बैठ जाए या दाएं बाएं मुंह करके बैठ जाए । 
नमाज के बाद इमाम को मुक्तदियों की तरह मुंह करके बैठना कोई ज़रूरी नहीं दाएं बाएं जिस तरह चाहे बैठ सकते हैं।

✪_ इमाम से किसी दुनियावी सबब से नाराज़गी रखना बुरा है, जिस इमाम से नाराज़गी हो नमाज़ उसके पीछे जायज़ है। "_इमाम से अगर मसले में इख्तिलाफ हो जाए चाहे इमाम की गलती हो या मुक्तदी की, उसके पीछे पड़ी हुई नमाज़ सही है ।

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Muqtadi Ke  Masail ✦*
┗───┯ ✿
✯, Muqtadi ka ruku v Sajda aur qoma v jalsa imaam ke saath hi hona chahiye basharte k muqtadi imaam ke rukn shuru karne ke baad us rukn ko shuru kare neez ye k imaam se aage nikalne ka andesha na ho,
⇨ agar imaam ke uthne bethne ki raftaar sust ho aur ye andesha ho k agar imaam ke saath hi rukn shuru kiya to imaam se aage nikal ja’ega to esi haalat me thoda sa tawakkuf karna chahiye,

★ Muqtadi ko takbeere ahista kehni chahiye aur ahista ka matlab ye he k awaaz sirf uske kaano ko sunai de,  imaam ko buland awaaz se,

★ Jab imaam qiraat shuru kar de to sana chhod deni chahiye aur Sirri Namazo me ( zuhar, Asr ) me ye khayal ho k imaam qiraat shuru nahi ki hogi to sana padh le, uske baad chhod de,

★ Shafai Hazraat Fajar ki doosri raka’at me ruku ke baad aur sajde se pehle khade hokar duae qunoot padhte he’n, hamare nazdeek ( Hanafiya) haath chhodkar khamosh khade rehna behtar he aur jab imaam sajde me jaye to Sajde me chale jaye,

★ Jama’at ki namaz me qiraat imaam ka wazifa he, muqtadi ko khamoshi ka hukm he,

★ Imaam Abu Hanifa Rh ke nazdeek imaam ki qiraat muqtadi ke liye kaafi he, lihaza imaam ke pichhe soorate padhna sahi nahi, Aur Ahle hadees hazraat imaam ke pichhe sirf Fatiha padhne ka hukm karte he’n,
⇨ Imaam ke pichhe qiraat ke maamle me apne apne maslak per amal kare, Ikhtilafi Masail me ek doosre se ulajhna nahi chahiye,

★ Imaam ke salaam ferne tak muqtadi qa’ada me doosri duae bhi padh sakta he,

★ Ruku aur Sajda me Imaam se pehle jana gunaah he, imaam se pehle salaam ferna naja’iz aur  makrooh Tehrimi he,

★ Imaam ki iqtida ke liye Saf me hona zaruri he,         

  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ मुक़तदी के मसाइल _,*

✪_ मुक़तदी का रूकु व सजदा और को़मा व जलसा इमाम के साथ ही होना चाहिए बशर्ते कि मुक़तदी इमाम के रूक्न शुरू करने के बाद उस रूक्न को शुरू करे और ये कि इमाम से आगे निकलने का अंदेशा ना हो।

"_ अगर इमाम के उठने बैठने की रफ्तार सुस्त हो और यह अंदेशा हो कि अगर इमाम के साथ ही रुक्न शुरू किया तो इमाम से आगे निकल जाएगा तो ऐसी हालत में थोड़ा सा तवक्कुफ करना चाहिए ।

✪___मुक़तदी को तकबीरे आहिस्ता कहनी चाहिए और आहिस्ता का मतलब यह है कि आवाज सिर्फ उसके गानों को सुनाई दे , इमाम को बुलंद आवाज से।

✪_ जब इमाम क़िरात शुरू कर दे तो सना छोड़ देना चाहिए और सिर्री नमाज में ( जुहर व असर) यह ख्याल हो कि इमाम ने क़िरात शुरू नहीं की होगी तो सना पढ़ ले उसके बाद छोड़ दे।

✪_ शाफई हजरात फजर की दूसरी रकात मे रुकू के बाद और सजदे से पहले खड़े होकर दुआ ए कुनूत पड़ते हैं ,हमारे नजदीक (हंफिया) हाथ छोड़कर खामोश खड़े रहना बेहतर है और जब इमाम सजदे में जाए तो सजदे में चले जाएं ।

✪_ जमात की नमाज में क़िरात इमाम का वजी़फा है मुक़तदी को खामोशी का हुक्म है।

✪_ इमाम अबू हनीफा रहमतुल्लाह के नज़दीक इमाम की क़िरात मुक़तदी के लिए काफी है लिहाज़ा इमाम के पीछे सूरते पढ़ना सही नहीं और अहले हदीस हजरात इमाम के पीछे सिर्फ फातिहा पढ़ने का हुक्म करते हैं।

"_ इमाम के पीछे क़िरात के मामले में अपने अपने मसलक पर अमल करें इखतिलाफी मसाइल में एक दूसरे से उलझना नहीं चाहिए।

✪_इमाम के सलाम फेरने तक मुक़तदी क़ा'दा में दूसरी दुआएं भी पड़ सकता है।

✪_ रुकू और सजदे में इमाम से पहले जाना गुनाह है इमाम से पहले सलाम फेरना नाजायज़ और मकरूह तेहरीमी है।

✪_ इमाम की इक़्तदा के लिए सफ में होना जरूरी है।

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Masbooq Aur Laahiq ✦*
┗───┯ ✿
       
✯, Jis shakhs se imaam ke pichhe Namaz ki kuchh raka’ate reh gayi ho aur wo baad ki raka’ato me imaam ke saath shareek usko masbooq kehte he’n, maslan Jo shakhs imaam  ke saath doosri raka’at me shareek hua wo Masbooq he,

★ Masbooq Aakhri qa’ade me imaam ke pichhe sirf Attahiyat padhe aur imaam ke salaam ferne ka intezar kare fir jab imaam salaam ferle to khada ho jaye aur jitni raka’ate reh gayi ho wo poori kare,

★ Agar ek raka’at reh gayi ho to uthkar jis tarah pehli raka’at padhi jati he Sana se shuru kare aur Surah Fatiha aur Surat padhkar raka’at puri kare, Aur agar do raka’ate reh gayi ho to uthkar pehli do raka’ato ki tarah padhe,

★ Agar 3 raka’ate reh gayi ho to pehli raka’at Sana se shuru karke Surah Fatiha aur koi Surat padhe aur us raka’at per qa’ada kare, doosri raka’at me Surah Fatiha aur Surat padhe aur Teesri me sirf Surah Fatiha padhe aur aakhri qa’ada kare,

★ Jo shakhs ibtida me imaam ke saath namaz me shareek hua tha magar kisi vajah se uski baad ki raka’ate imaam ke saath nahi hui usko “Laahiq” kehte he’n, maslan Jo shakhs imaam ke saath pehli raka’at me shareek tha magar doosri raka’at me kisi vajah se shareek nahi raha ,Laahiq he,  

★ Ruku me shareek hone wala khada hokar Allahu Akbar kahe aur bager Sana padhe Allahu Akbar kehkar Ruku me chala jaye,
⇨ Imaam jis haalat me bhi ho masbooq ko usi haalat me Shareek ho jana chahiye imaam ke qayaam ka intezar na kare,

★Baad me shareek hone wala bhi imaam ke saath Sajda Sahu kare,

★ Agar Masbooq ne imaam ke saath hi salaam fer diya tha to uthkar Namaz  puri kar le, Sajda Sahu ki zarurat nahi, aur agar imaam ke faarig hone ke baad Salaam fera to Namaz puri karke akhir me Sajda Sahu kare,
                 
  ❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚  Aapke Masail aur unka Hal,,Jild 2*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
       *☞ मसबूक़ और लाहिक़ _,*
✪_ जिस शख्स से इमाम के पीछे नमाज़ की कुछ रक़ाते रह गई हो और वह बाद की रक़ातो मे इमाम के साथ शरीक़ हुआ हो उसको मसबूक़ कहते हैं । मसलन जो शख्स इमाम के साथ दूसरी रका़त में शरीक हुआ वह मसबूक़ है ।

✪_ मजबूर आफखरी का़अ'दे में इमाम के पीछे सिर्फ अत्तहियात पढ़ें और इमाम के सलाम फेरने का इंतजार करें फिर जब इमाम सलाम फेर ले तो खड़ा हो जाए और जितनी रका़ते रह गई हो वह पूरी करें।

✪_ अगर एक रकात रह गई हो तो उठकर जिस तरह पहली रक़ात पढ़ी जाती है सना से शुरू करें और सूरह फातिहा और सूरत पढ़कर रका़त पूरी करें ।
और अगर दो रका़ते रह गई हो तो उठकर पहली दो रका़तो की तरह पड़े । 
अगर तीन रका़ते रह गई हो तो पहली रक़ात सना से शुरू करके सूरह फातिहा और कोई सूरत पड़े और उस रका़त पर का़'अदा करें। दूसरी रका़त में सूरह फातिहा और सूरत पढ़े और तीसरे में सिर्फ सूरह फातिहा पड़े और आखिरी का़'अदा करें।

✪_जो शख्स इब्तिदा में इमाम के साथ नमाज में शरीक हुआ था मगर किसी वजह से उसकी बाद की रक़ाते इमाम के साथ नहीं हुई उसको लाहिक़ कहते हैं ,मसलन जो शख्स इमाम के साथ पहली रका़त में शरीक़ था मगर दूसरी रका़त में किसी वजह से शरीक़ नहीं रहा, लाहिक़ है।

✪_ रूकु में शरीक होने वाला खड़ा होकर अल्लाहू अकबर कहे और बगैर सना पढ़ें अल्लाहू अकबर कहकर रुकु में चला जाए। 
"_इमाम जिस हालत में भी हो मसबूक़ को  उसी हालत में शरीक हो जाना चाहिए इमाम के क़याम का इंतजार ना करें।

✪_बाद में शरीक होने वाला भी इमाम के साथ सजदा सहू करें।

✪_ अगर मसबूक़ ने इमाम के साथ ही सलाम फैर दिया था तो उठकर नमाज पूरी कर ले सजदा सहू की जरूरत नहीं और अगर इमाम के फारिग होने के बाद सलाम फैरा तो नमाज पूरी कर के आखिर में सजदा सहू करें।

*📚_ आपके मसाइल और उनका हल-जिल्द 2,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞Namaz me Khawateen Ka Satar ✦*
┗───┯ ✿
✪_Ye Baat Khoob Achchhi Tarah Samajh lo k Namaz ki shara'it me A'aza Ka chhupana bhi hai , Isme Mard aur Aurat Ka Hukm alag alag hai ,Naaf SE le Kar ghutne ke Khatm tak Mardo'n ko chhupana farz hai aur Aurto'n ko saara Badan chhupana Farz hai ,

✪_Peeth ,Kamar ,Sar ,Seena, Baazu ,Pindliya'n ,Mondhe ,Gardan vagera sab dhanke rahe , Haa'n agar Chehra Ya Qadam Ya Gatto tak Haath khule rahe to Namaz ho jayegi , Kyunki Ye teeno cheeze Satar SE Mustasna Hai'n ,Agar Ye bhi dhanke rahe tab bhi Namaz ho jayegi ,

✪_ Aur ye bhi samajh Lena Chahiye k Bareek Kapda pehanna na Pehanna barabar hai Yani Jis Kapde SE Baal aur Khaal Nazar aate ho Wo Kapda na pehanne ke Hukm me hai aur isse Satar Ka Hukm Poora nahi hota ,

✪_ Aaj Kal Aurto'n Ko faishon Ka Josh hai aur Libaas Shara'i ke taqaze ke mutabiq nahi pehanti, Unko Allah Ta'ala ke Azaab SE darna Chahiye ,

*📓 Fiqhul ibadaat - 167_,*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞  नमाज में खवातीन का सतर_,*

✪_ यह बात खूब अच्छी तरह समझ लो कि नमाज़ की शराइत में आ'जा़ का छुपाना भी है। इसमें मर्द और औरत का हुक्म अलग अलग है । नाफ से लेकर घुटने के खत्म तक मर्दों को छुपाना फर्ज है और औरतों को सारा बदन छुपाना फर्ज है।

✪_ पीठ, कमर ,सर, सीना , बाजू़ पिंडलियां , मोंढे, गर्दन बगैरा सब ढकें रहे। हां अगर चेहरा या क़दम या गट्टो तक हाथ खुले रहे तो नमाज़ हो जाएगी क्योंकि यह तीनो चीज़े मसतर से मुसतस्ना है। अगर यह भी ढ़कें रहे तब भी नमाज़ हो जाएगी।

✪_और यह भी समझ लेना चाहिए कि बारीक कपड़ा पहनना ना पहनना बराबर है यानी जिस कपड़े से बाल और खाल नज़र आते हो वह कपड़ा ना पहनने के हुक्म में है और इससे सतर का हुक्म पूरा नहीं होता ।

✪_आजकल औरतों को फैशन का जोश है और लिबास शरई तक़ाज़े के मुताबिक नहीं पहनती उनको अल्लाह ताला के अजा़ब से डरना चाहिए।

*📚_ फिक़हुल इबादात-१६७_,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Napaak Kapde Ka Istemal ✦*
┗───┯ ✿

✪_ Agar Kisi ke paas Namaz ke liye Koi Paak Kapda mojood nahi hai aur dho Kar Paak Karke Padhne ki bhi koi Soorat nahi esi soorat me bhi Namaz qaza na kare Balki na Paak Kapde me hi padh le _,"

*( Ba-Hawala - Durre Mukhtaar-1/425)*

 *☞ Kapde Ke istemal se mazoor Hona _,*

✪_ Ab agar Kisi Ko Kapde mayassar na ho Yani Namaz ka Waqt ho chuka hai ,Kisi uzr ki bina per Kapda dastyaab hi nahi to Namaz tark na kare Balki Beth Kar bager Kapde ke Namaz padh le _"
*(  Sharah Bidaya - 1/90)*

*📓 Fiqhul ibadaat- 168_,*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नापाक कपड़ों का इस्तेमाल _,*

✪_अगर किसी के पास नमाज के लिए कोई पाक कपड़ा मौजूद नहीं है और धोकर पाक करके पढ़ने की भी कोई सूरत नहीं , ऐसी सूरत में भी नमाज़ कजा़ ना करें बल्कि नापाक कपड़े में ही पढ़ ले ।
*(बा-हवाला -दुर्रे मुख्तार -1/ 425)* 

*☞ कपड़े के इस्तेमाल से माज़ूर होना_,* 

★_अब अगर किसी को कपड़े मयस्सर ना हो यानी नमाज़ का वक्त हो चुका हो किसी उज्र की बिना पर कपड़ा दस्तयाब ही नहीं तो नमाज़ तर्क ना करें बल्कि बैठकर बगैर कपड़े के नमाज़ पढ़ लें ।
*( शरह बिदाया- 1/90 )*

*📚_ फिक़हुल इबादात -१६८_,*

*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Bareek Libaas me Namaz Ka Hukm ✦*
┗───┯ ✿
✪_ Aurat Ka Namaz ke liye esa Bareek Dupatta istemal Karna Jisme Sar ,Gardan ,Halaq aur Halaq ke niche Ka Bahut sa hissa Nazar aata rahe ,Isi Tarah Baazu Kohniya'n aur Kalaaiya'n na chhupe ya Pindliya'n khuli rahe To esi Soorat me Namaz bilkul nahi hogi ,

✪_ Lihaza Namaz Ke Waqt saare Jism ko chhupane Ka Khaas ahatmaam kare ,iske liye Mota Dupatta istemal kare, isi Tarah Kameez bhi Moti honi Chahiye Jisse Jism Ki rangat Nazar na aaye ,

 *☞ Chust Libaas me Namaz Ka Hukm _,*

✪_ Esa Chust aur Tang Libaas pehanna Jisse A'aza e Makhfiya Ki shakl nazar Aaye Haraam hai , is tor per A'aza e Makhfiya dikhana bhi Haraam hai aur dekhna bhi Haraam hai Agarche bila Shehwat ho ,

✪_  Esa Libaas agar itna mota ho k usme Badan Ka Rang Nazar na aata ho to isme Agarche Namaz Ka Farz Ada ho Jayega Magar Haraam Libaas me Namaz Makrooh hai aur Lautana Waajib hogi ,Albatta agar Aurat ne Namaz ke Waqt Chust Kurte ko Badi Chaadar ya Dupatte SE chhupa Kar Namaz padhi to esi Namaz me karahat na hogi ,

*📓 Fiqhul ibadaat - 168_,*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ बारीक लिबास में नमाज़ का हुक्म _,*

✪_ औरतों का नमाज के लिए ऐसा बारीक दुपट्टा इस्तेमाल करना जिसमें सर गर्दन हलक़ और हलक़ के नीचे का बहुत सा हिस्सा नज़र आता रहे ।इसी तरह बाज़ू कोहनियां और कलाइयां ना छिपे या पिंडलियां खुली रहे तो ऐसी सूरत में नमाज़ बिल्कुल नहीं होगी ।

"_लिहाज़ा नमाज़ के वक्त सारे जिस्म को छिपाने का खास अहतमाम करें , इस मक़सद के लिए मोटा दुपट्टा इस्तेमाल करें। इसी तरह कमीज़ भी मोटी होनी चाहिए जिससे जिस्म की रंगत नज़र ना आए।

  *☞ चुस्त लिबास में नमाज़ का हुक्म _,*

✪_ ऐसा चुस्त और तंग लिबास पहनना जिससे आजा़ ए मखफिया (गुप्तांग ) की शक्ल नज़र आए हराम है। इस तौर पर आजा़ ए मखफिया दिखाना भी हराम है और देखना भी हराम है, अगरचे बिला क़राहत हो ।

"_ऐसा लिबास अगर इतना मोटा हो कि उसमें बदन का रंग नज़र ना आता हो तो उसमें अगरचे नमाज़ का फ़र्ज़ अदा हो जाएगा मगर हराम लिबास में नमाज़ मकरूह है और वापस लौटाना वाजिब होगी। अलबत्ता अगर औरत ने नमाज़ के वक्त कुरते को बड़ी चादर या दुपट्टे से छिपाकर नमाज़ पढ़ी तो ऐसी नमाज में कराहत ना होगी।

*📚_ फिक़हुल इबादात-१६८_,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz me Satar Khul Jane Ka Hukm ✦*
┗───┯ ✿

✪_ Agar Namaz Padhne me Aurat ki Chothayi pindli ya Chothayi raan ya Chothayi Haath khul Jaye aur itni Der khuli rahe Jitni Der me Teen Baar Sub'hana Rabbiyal A'ala keh sakte to Namaz Jati rahi ,fir se padhe aur Agar itni Der nahi khuli rahi Jitni Der me Teen Baar Sub'hana Rabbiyal A'ala  keh sake Balki khulte hi dhaank liya to Namaz ho gayi ,

✪_Isi Tarah Jitne Badan Ka dhaankna waajib hai usme se jab bhi koi Chothayi uzv khul Jayega to Namaz nahi hogi , Jese Chothayi Kaan ya Chothayi Sar ya Chothayi baal ya Chothayi pet ya Chothayi Peeth ya Chothayi Gardan ya Chothayi Seena ya Chothayi chhaati vagera khul Jane se Namaz na hogi ba sharte k teen Baar Sub'hana Rabbiyal A'ala kene ke baqadr khula rahe 

*( Ba Hawala - Durre Mukhtaar - 1/423)*

 *☞ Aadhi Aasteen Kurte me Namaz Ka Hukm_,*

✪_Aadhi Aasteen Kutta ya Blows ya Frok pehan Kar Kisi Aurat ne Namaz padhi aur Apni Baa'nho ko Chaadar vagera SE nahi chhupaya tab bhi Namaz na hogi ,Ye Sirf Aurto'n Ka Hukm hai ,

 *☞ Mele Kapdo me Namaz Padhne Ka Hukm_,*

✪_ Istemal ke Aam Kapde Jisme Mel ,daag v dhabbe Nazar aate Hai'n Unko pehan Kar Namaz padhna Makrooh hai , Lihaza Namaz Ke alag Saaf suthre Kapde hone Chahiye Taki Allah Ta'ala ke Darbaar me Husn v Jamaal Ke Saath Haazri di ja sake ,

*( Durre Mukhtaar-1/640)*

*📓 Fiqhul ibadaat-170_,*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ _नमाज में सतर खुल जाने का हुक्म  _,*

★__ अगर नमाज पढ़ने में औरत की चौथाई पिंडली या चौथाई रान या चौथाई हाथ खुल जाए और इतनी देर खुली रहे जितनी देर में तीन बार सुबहाना रब्बीयल आ'ला कह सकते तो नमाज़ जाती रही फिर से पढ़ें ।
और अगर इतनी देर नहीं खुली रही जितनी देर में तीन बार सुब्हाना रब्बियल आ'ला कह सकते बल्कि खुलते ही ढंक लिया तो नमाज़ हो गई।

★_ इसी तरह जितने बदन का ढ़ांकना वाजिब है उसमें से जब भी कोई चौथाई उज्व खुल जाएगा तो नमाज नहीं होगी। जैसे चौथाई कान या चौथाई सर या चौथाई बाल चौथाई पेट या चौथाई पीठ या चौथाई गर्दन या चौथाई सीना या चौथाई छाती वगैरह खुल जाने से नमाज़ ना होगी बशर्ते कि तीन बार सुब्हाना रब्बियल आ'ला कहने के मिक़दार खुला रहे ।
*( दुर्रे मुख्तार - 1/423 )*

*☞ _आधी आस्तीन कुर्ते में नमाज _,*

★_ आधी आस्तीन या बिना आस्तीन कुर्ता या ब्लाउज या फ्राक पहनकर अगर किसी औरत ने नमाज़ पढ़ी और अपनी बाहों को चादर वगैरह से नहीं छुपाया तब भी नमाज ना होगी यह सिर्फ औरतों का हुक्म है।

*☞ मेले कपड़ों में नमाज़ पढ़ने का हुक्म_*

★_ इस्तेमाल के आम कपड़े जिसमें मेल ,दाग व धब्बा नजर आए उनको पहनकर नमाज़ पढ़ना मकरूह है। लिहाजा नमाज के लिए अलग साफ-सुथरे कपड़े होने चाहिए ताकि अल्लाह ताला के दरबार में हुस्न व जमाल के साथ हाज़िरी दी जा सके ।
*( दूर्रे मुख्तार- 1/640 )*

*📚_ फिक़हुल इबादात - १७०_,*
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Ruku v Sajde Ke Galat Tareeqe Ki islaah  ✦*
┗───┯ ✿

✪_ Ruku SE khade hote Waqt is qadar sidhe khada Hona Chahiye k Jism me koi kham baqi na rahe , Baaz (Mard v Khwateen ) Khade Hote Waqt Sidhe khade hone ki bajaye Sirf khade hone Ka ishara Kar dete Hai'n aur Jism ke Jhukaav ki Haalat me hi Sajde Ke liye chale Jate Hai'n , 

✪_Inke Zimme Namaz Ka Lautana Waajib ho jata hai ,Lihaza isse sakhti ke Saath parhez Kare'n , Jab tak Sidhe hone Ka itminan na ho Jaye Sajde me na Jaye , Ye Hukm Mard v Aurat ke liye yaksa hai ,Lihaza Mard v Aurat Dono ko ahatmaam SE sidha khada Hona Chahiye ,

✪_ Isi Tarah Ek Sajde SE uth Kar itminan se Beth Jaye fir Doosra Sajda Kare'n , Zara sa Sar utha Kar Sidhe hue bager doosra Sajda Kar Lena Gunaah hai , aur is Tarah Karne SE Namaz Ka Lautana Waajib ho jata hai, Is Hukm me bhi Mard v Aurat Dono barabar Hai'n ,

*📓 Fiqhul ibaadat - 172_,*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ रुकू व सजदे के गलत तरीके़ की इस्लाह_,* 

✪_रुकू से खड़े होते वक्त इस क़दर सीधे खड़े होना चाहिए कि जिस्म में कोई खम बाक़ी ना रहे । बाज़ (मर्द व खवातीन) खड़े होते वक्त सीधे खड़े होने के बजाय सिर्फ खड़े होने का इशारा कर देते हैं और जिस्म के झुकाव की हालत में ही सजदे के लिए चले जाते हैं।

✪__ उनके जिम्मे नमाज का लौटाना वाजिब होता है ,लिहाज़ा इससे सख्ती के साथ परहेज़ करें। जब तक सीधे होने का इत्मीनान ना हो जाए सजदे में ना जाएं । यह हुक्म मर्द औरत दोनों के लिए यकसां है । लिहाजा मर्द व औरत दोनों को अहतमाम से सीधा खड़ा होना चाहिए।

✪__इसी तरह एक सजदे से उठकर इत्मीनान से बैठ जाएं फिर दूसरा सजदा करें । जरा सा सर उठा कर सीधे हुए बगैर दूसरा सजदा कर लेना गुनाह है, और इस तरह करने से नमाज़ का लौटाना वाजिब हो जाता है । इस हुक्म में मर्द और औरत दोनों बराबर हैं। _,*

*📚_ फिक़हुल इबादात- १७२_,*
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz me bila zarurat khujlana ✦*
┗───┯ ✿
✪_Namaz me A'aza Jawarah ko Sukoon se rakhna Chahiye ,Khushu v Khuzu ke Saath Namaz padhni Chahiye ,Namaz me bila zarurat Ek Baar bhi Khujlana Makrooh Tehrimi hai , aur Namaz Ka Lautana Waajib hai , 

✪_Agar koi esi zarurat pesh aa Jaye k Khujaye bager yaksu'i barqaraar na rahe to Ek Baar Khujlana bila karahat jaa'iz hai , Teen Baar is Tarah Khujlana k darmiyaan Ek rukn ( Yani Teen martaba Sub'hana Rabbiyal A'ala ) ki miqdaar waqfa na ho to ye Mufasside Namaz hai , isliye Khoob ahatyaat Karna zaruri hai , 

*☞_Namaz me La haul padhna ,*

✪_Agar Duniyavi umoor ke mutalliq koi waswasa Namaz me aane ki vajah se La haul padhi to Namaz faasid ho jayegi aur agar Umoore Aakhirat ke mutalliq padhi to Namaz faasid na hogi , 

*☞_Peshaab Pakhana Ke Taqaza ke Saath Namaz Ada Karna _,* 

✪_Peshaab Pakhane Ka is qadar Shadeed Taqaza ho k Namaz me yaksu'i aur itminan Khatm ho Jaye to esi Haalat me Namaz padhna Makrooh Tehrimi hai , isliye Namaz shuru Karne SE Pehle agar esa Taqaza ho to shuru Karna jaa'iz nahi ,

"_Aur agar shuru Karne Ke baad darmiyaan me esa Taqaza paida hua to Namaz Qat'a Kar de ( Chhod de ) faragat ke baad itminan se padhe ,

✪_ Albatta agar Dono Soorat me Namaz qaza hone Ka khatra ho ,Maslan Fajar Ka bilkul Aakhri Waqt hai aur faragat ke liye Jaye to Suraj nikal aayega to esi Soorat me Namaz padh le qaza na hone de ,ba sharte k qabile Bardasht ho ,

*📓 _ Fiqhul ibaadat- 176_,*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नमाज़ में बिला जरूरत खुजलाना _,*

✪_नमाज में आ'जा़ ज़वारा को सुकून से रखना चाहिए खुशू व खुज़ू के साथ नमाज पढ़नी चाहिए , नमाज में बिला ज़रूरत एक बार भी खुजलाना मकरूह तहरीमी है और नमाज का लौटाना वाजिब है। 

✪_अगर कोई ऐसी जरूरत पेश आ जाए कि खुजलाए बगैर यकसुई बरकरार ना रहे तो एक बार खुजलाना बिला कराहत जायज़ है , 3 बार इस तरह खुजलाना कि दरमियान एक रुकन ( यानी 3 मर्तबा सुब्हाना रब्बियल आ'ला ) की मिक़दार वक़्फा ना हो तो यह मुफस्सिदे नमाज़ है इसलिए खूब अहतयात करना ज़रूरी है ।

 *☞ _नमाज में ला हौल पढ़ना _,*

✪_अगर दुनियावी उमूर के मुताल्लिक कोई वसवसा नमाज़ में आने की वजह से लाहौल पड़ी तो नमाज़ फासिद हो जाएगी और उमूरे आखिरत के मुताल्लिक पड़ी तो नमाज़ फासिद ना होगी ।

 *☞ _पैशाब पाखाने का तक़ाज़े के साथ नमाज़ अदा करना _,*

✪_पैशाब पाखाने का इस क़दर शदीद तक़ाज़ा हो की नमाज में यकसूई और इत्मीनान खत्म हो जाए तो ऐसी हालत में नमाज़ पढ़ना मकरूह तेहरीमी है इसलिए नमाज़ शुरू करने से पहले अगर ऐसा तकाज़ा हो तो शुरू करना जायज़ नहीं ।

"_और अगर शुरू करने के बाद दरमियान में ऐसा तकाज़ा पैदा हुआ तो नमाज़ क़ता कर दे (छोड़ दे ) फरागत के बाद इत्मीनान से पढ़ें ।

✪_अलबत्ता अगर दोनों सूरत में नमाज़ कजा़ होने का खतरा हो मुसलन फजर का बिल्कुल आखिरी वक्त है और फरागत के लिए जाए तो सूरज निकल आएगा तो ऐसी सूरत में नमाज़ पढ़ लें कज़ा ना होने दे , बाशर्ते कि काबिले बर्दाश्त हो ।

*📚_ फिक़हुल इबादात -176_,*
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Namaz me Aankhe band na Kare ✦*
┗───┯ ✿
✪_ Namaz ke Dauraan mustaqil Aankhe band rakhna Makrooh hai , Agar Aankhe band rakhne me Yaksu'i haasil Hoti ho tab bhi Afzal Yahi hai k Aankhe khol Kar Namaz padhi jaye , Taaham agar Aankhe Kabhi khol le aur Kabhi band Kare mustaqil band na rakhe to is Soorat me karahat na hogi ,
*( Durre Mukhtaar- 1/ 684)*

*☞ Namaz me Ha'nsna _,*

✪_ Namaz me Kisi Ko Ha'nsi aa gayi aur Ha'nsi me daa'nt khul gaye ,Awaaz bilkul na nikli to na wazu toota na Namaz gayi ,
Aur agar itni Awaaz nikli k Khud ya bilkul qareeb wale Shakhs ne bhi sun li to Namaz toot gayi ,Magar wazu nahi toota ,

Aur agar itni zor se ha'nsa k Ahle majlis ne Awaaz sun li to wazu bhi jaata raha basharte ye ha'nsne wala namazi Baalig  Mard ya Aurat  ho, Kyu'nki ha'nsne SE Bachcho Ka wazu nahi toot ta ,
*( Durre Mukhtaar- 1/ 134 )* 

*📓 Fiqhul ibadaat - 180_,*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ नमाज़ में आंखें बंद ना करें _,*

✪_ नमाज के दौरान मुस्तकिल आंखें बंद रखना मकरूह है अगर आंखें बंद करने से यकसूई हासिल होती है तब भी अफज़ल यही है कि आंखें खोल कर नमाज़ पढ़ी जाए। 
ताहम अगर आंखें कभी खोल दें और कभी बंद करें मुस्तकिल बंद ना रखे तो इस सूरत में कराहत ना होगी। 
*( दुर्रे मुख्तार-  1 /684 )*

      *☞ नमाज़ में हंसना _,*

✪_ नमाज में किसी को हंसी आ गई और हंसी में दांत खुल गए आवाज बिल्कुल नहीं निकली तो ना वज़ु टूटा ना नमाज़ गई 
और अगर इतनी आवाज़ निकली कि खुद या बिलकुल क़रीब वाले शख्स ने भी सुन ली तो नमाज़ टूट गई मगर वजू नहीं टूटा ।

और अगर इतनी जोर से हंसा कि अहले मजलिस ने आवाज सुन ली तो वज़ु भी जाता रहा बशर्ते कि हंसने वाला नमाज़ी बालिग मर्द या औरत हो क्योंकि हंसने से बच्चों का वज़ु नहीं टूटता।
*( दुर्रे मुख्तार-1/134)*

*📚_ फिक़हुल इबादात- १८०_,*

┏───────────────────┯✿
│.      *☞ Gadde Per Sajda ✦*
┗───┯ ✿
✪_ Gadde per Namaz Ka Hukm ye Hai k Agar Gadda bilkul Halka hai k Us per Sajda Zameen per Sajda ki Tarah hai Sar us per Tik jata hai , Ya Mota Gadda hai Lekin itna sakht hai k Sar ke Mukammal Bojh Ko Bardasht Kar leta hai to Dono soorto me Gadde per Namaz Sahi ho jayegi , Aur Agar Bardasht na Kar sake Balki dabta hi Chala jaye to us per Namaz sahi na hogi _,"
*( Durre Mukhtaar- 1/468 )*

 *☞ Khaad Wali Ghaa'ns per Namaz _,*

✪_ Jis Ghaa'ns per Khaad daali gayi ho us per Namaz Sahi hone ki do Soorte Hai'n ,Ek ye k Khaad bilkul Mitti ban Jaye aur Uska Alag se Vajood Nazar na aaye ,
Doosri Soorat ye k Ghaa'ns itni ghani aur Badi ho k Khaad tak Namaz Ka koi uzv na pahunche , 
Khaad se Najis Pani Jo Ghaa'ns ko laga ho jab Wo Pani khushk ho Jaye to Ghaa'ns Paak ho jayegi ,
*( Ahsanul Fatawa - 3/440 )* 

*📓 Fiqhul ibadaat- 180 _,*
            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
            *☞ गद्दे पर सजदा _,*

✪_ गद्दे पर नमाज़ का हुक्म यह है कि अगर गद्दा बिल्कुल हल्का है कि उस पर सजदा ज़मीन पर सजदा की तरह है , सर उस पर टिक जाता है या मोटा गद्दा है लेकिन इतना सख्त है कि सर के मुकम्मल बोझ को बर्दाश्त कर लेता है तो दोनों सूरतों में गद्दे पर नमाज सही हो जाएगी , और बर्दाश्त ना कर सके बल्कि दबता ही चला जाए तो उस पर नमाज सही नहीं होगी ।
*(  दुर्रे मुख्तार - 1/468 )*

  *☞ खाद वाली घांस पर नमाज़ _,*

✪_ जिस घांस पर खाद डाली गई हो उस पर नमाज सही होने की दो सूरतें हैं , एक यह कि खाद बिल्कुल मिट्टी बन जाए और उसका अलग से वजूद नजर ना आए ।
दूसरी सूरत यह है कि घांस इतनी घनी और बड़ी हो कि खाद तक नमाज़ का कोई उज्व ना पहुंचे, खाद से नजिस पानी जो घांस को लगा हो, जब वह पानी खुश्क हो जाए तो घांस पाक हो जाएगी ।
*( एहसनुल फतावा - 3/440 )* 

*📚_ फिक़हुल इबादात - १८० _,* 

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Ishraaq ,Chaasht aur Tahajjud Ka Waqt ✦*
┗───┯ ✿
✪_ 1_ Suraj Tulu ke baad Jab Suraj me itni Tezi aa Jaye k us per Kuchh der tak Nazar jamana Mushkil ho to Ishraaq Ka Waqt shuru ho jata hai , iski miqdaar har Muqaam v Mausam me Mukhtalif Hoti Hai , Ishraaq Ka Waqt nisfun nahaar ( Dopahar Ka Waqt ) tak rehta hai Magar Shuru me padhna Afzal hai ,

✪_ 2_ Chaasht Ka Waqt Ishraaq ke baad shuru ho Kar nisfun nahaar (Dopahar ke Waqt) tak hai aur iska Afzal Waqt din Ka Ek Chothayi hissa guzarne ke baad hai ,

✪_ 3_ Tahajjud Ka Waqt isha ki Namaz ke baad se Subeh Saadiq tak hai , Jo Shakhs Raat ke tihayi Tahajjud me mashgool rehna Chahe Uske liye Afzal Waqt ye Hai k Raat ke Teen hisse Kar Ke darmiyaani hisse me Tahajjud padhe , Avval Aakhir me soye , Agar Aadhi Raat Tahajjud me guzaarna Chahe to Aakhri nisf Afzal hai ,

"_Agar Tahajjud ke liye Aankh na khulne Ka khatra ho to Namaze Isha ke baad Vitr se Pehle Do raka'at Tahajjud ki niyat se padh Kar fir Vitr padhe aur Fir uth Kar Tahajjud Padhne Ka iraada bhi rakhe ,Agar Aankh na khuli to bhi Tahajjud Ka Sawab mil Jayega ( in sha Allah ) ,  

*📓 Fiqhul ibaadaat- 184_,*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ इशराक़ ,चाश्त और तहज्जुद का वक्त _,*

✪_१_ सूरज तुलु के बाद जब सूरज में इतनी तेज़ी आ जाए कि उस पर कुछ देर तक नज़र जमाना मुश्किल हो तो इशराक का वक्त शुरू हो जाता है , इसकी मिक़दार हर मुकाम व मौसम में मुख्तलिफ होती है । इशराक का वक्त निस्फुन नहार (दोपहर का वक्त ) तक रहता है मगर शुरू में पढ़ना अफज़ल है ।

✪_२_ चाश्त का वक्त इशराक के बाद शुरू होकर निस्फुन नहार (दोपहर के वक्त ) तक है और इसका अफज़ल वक्त दिन का एक चौथाई हिस्सा गुजरने के बाद है।

✪_ ३_ तहज्जुद का वक्त इशा की नमाज के बाद से सुबह सादिक तक है , जो शख्स रात के तिहाई तहज्जुद में मशगूल रहना चाहे उसके लिए अफज़ल वक्त यह है कि रात के तीन हिस्से कर के दरमियानी हिस्से में तहज्जुद पड़े अव्वल आखिर में सोए ।
अगर आधी रात तहज्जुद में गुजारना चाहे तो आखिरी निस्फ अफज़ल है।

"_अगर तहज्जुद के लिए आंख ना खुलने का खतरा हो तो नमाजे इशा के बाद वित्र से पहले दो रका'त तहज्जुद की नियत से पढ़कर फिर वित्र पढ़े और फिर उठकर तहज्जुद पढ़ने का इरादा भी रखें । अगर आंख ना खुली तो भी तहज्जुद का सवाब मिल जाएगा। (इंशा अल्लाह )

*📚_ फिक़हुल इबादात- १८४ _,*
*
┏───────────────────┯✿
│ *☞ Sunan Mo'kada Ki Fazilat ✦*
┗───┯ ✿

✪_ Rasulullah ﷺ ne farmaya :- Jisne Din aur Raat me Farz Namaz ke alawa Barah (12) raka'ate padhi ,Allah Ta'ala Uske Liye Jannat me Ek Mahal Taiyaar karenge _," 
*( Ravaah Tirmizi -1/81 )*

"_ Yaha'n 12 raka'ato SE muraad Sunan Mo'kada Hai'n ,2 Fajar ki ,6 Zohar ki ( 4 Farz SE Pehle 2 Farz ke baad ) , 2 Magrib ki aur 2 isha ke baad ki _,

*☞ Awwabeen Ki Fazilat :-* 

✪_ Hadees me hai :- Jisne Magrib aur isha ke darmiyaan chhe (6) raka'ate is Tarah padhi k darmiyaan me koi buri Baat nahi ki ,Usko Barah (12) Saal ki nifl ibaadat ke Barabar Sawab diya jayega _,"
*( Ravaah fi Al Jami'a Sageer Ba Sanad Za'ief )*

*☞ Jahannam SE nijaat Ka Parwana _,*

✪_ Hadees me hai :- Jis Shakhs ne do raka'at Namaz esi Tanhayi me padhi Jaha'n Allah Ta'ala aur A'amaal likhne wale Farishto ke Siva koi dekhne wala na ho ,Uske liye Dozakh se  Nijaat Ka Parwana likh diya jayega _," 
*( Ravaah imaam Al Saywti Ba Sanad Za'ief )*

*📓 Fiqhul ibaadaat-254_,*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ सुनन मो'क़दा की फजीलत _,*

✪_ रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया :- जिसने दिन रात में फर्ज़ नमाज़ के अलावा 12 रकाते पढ़ी अल्लाह ताला उसके लिए जन्नत में एक महल तैयार करेंगे _,"
*( रवाह फि अल जामि'आ सगीर )* 

"_ यहां 12 रकातो से मुराद सुनन मो'क़दा है -2 फजर की , 6 ज़ौहर की ,2 मगरिब की और 2 इशा के बाद की ,

*☞ अव्वाबीन की फजीलत _,* 

✪_हदीस में है :- जिसने मगरिब और इशा के दरमियान 6 रकातें इस तरह पढ़ी कि दरमियान में कोई बुरी बात नहीं कि उसको 12 साल की निफ्ली इबादत के बराबर सवाब दिया जाएगा ।
*( रवाह फि अल जामि'आ सगीर )*

*☞ जहन्नम से निजात का परवाना _,*

✪_ हदीस में है :- जिस शख्स ने 2 रकात नमाज ऐसी तन्हाई में पढ़ी जहां अल्लाह ताला और आमाल लिखने वाले फरिश्तों के सिवा कोई देखने वाला ना हो उसके लिए दोजख से निजात का परवाना लिख दिया जाएगा ।
*( रवाह इमाम अल सैवती बा सनद ज़'ईफ )*

*📚_ फिक़हुल इबादात- २५४_,*

┏───────────────────┯✿
│ *☞ Salaatut Tasbeeh Kï Namaz ✦*
┗───┯ ✿
❉_ Salatut Tasbeeh Kï 4 Raka’ate he’n, Jinko ek salaam se padha jata he ,is namaz Kï Ahadees me badi fazilate’n manqool he’n ,insaan iske zariye kam se kam waqt ke andar zyada se Zyada NAFA haasil kar sakta he ,
⇏isliye saal bhar me waqtan fa waqtan iske padhne Kï koshish karni chahiye aur Mubarak Raato me to isko aur bhi Zyada ahatmam Se padhna chahiye aur ye koi mushkil nahi ,bas Dil me Neki ke husool ka jazba Shoq hona chahiye, Allah Ta’ala Amal Kï Tofeeq ATA farmaye ,(Aameen ),

*☞ Salatut Tasbeeh Ke  Fazail :–*

❉ 1 – Ye wo NAMAZ he Jiske padhne Kï barkat Se 10 qism ke Gunaah maaf ho jate he’n,
⇏ Salat-ul-tasbeeh padhne se 1-agle , 2-pichle , 3-purane , 4-naye, 5-galti se kiye huye ,6- jaan bujh kar kiye huye,7- chote, 8- bade, 9- chhup par kiye huye ,10-aur khullam khullah kiye huye sab gunaah maaf hote he’n ,

❉ 2: — Ye Wo Namaz he Jiske padhne Kï Jiske bare me Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya, :-Agar Rozana ,hafta ,Mahina ya kam se kam Saal me bhi agar  padh sakte ho to  to apni poori Zindgi me kam Se kam ek martaba padh lo ,isse is Namaz Kï Ahmiyat ka andaza lagaya ja sakta he ,

⇏3 :– Ye Wo Namaz he Jiske bare me Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya k agar tum saari Duniya  ke logo se bhi Zyada Gunahgar honge to tumhare Gunaah maaf kar diye jayenge ,

❉ 4 :- Ye Wo Namaz he Jise Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne apne Chacha Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu ko batate hue is Namaz ko Tohfa ,bakhshish aur khush khabri qaraar diya ,

⇏5:- Ye Wo Namaz he Jisko padhte hue Bande ko 300 martaba Teesra Kalma Kï Soorat me Allah Ta’ala Kï Hamdo Sana karne Kï Sa’adat haasil hoti he ,
*_Halanki Ek martaba Teesra Kalma padhne per Jannat me ek darakht lag jata he ,
*_Teesra Kalma Allah Ta’ala ko sabse Mehboob Kalma  he ,
*_ Jannat ek chatiyal maidaan he aur Teesra Kalma Jannat ke Podhe he’n ,
*_ Teesra Kalma ke har ek Kalme ka sawab Uhad pahaad se Zyada he ,
*_ Teesre Kalme ka har Kalma A’amaal Naame me tulne ke aitbaar se sabse zyada wazni he ,

❉ 6 :– Ye Wo Namaz he Jiska har zamane me Ulma e UMMAT ,Muhaddiseen ,Fuqha aur Soofiyo ne ahatmam kiya he ,

❉ 7 :- Ye Wo Namaz he Jiske bare me Hazrat Abdul Azeez bin Ravvad Reh. Farmate he’n k Jiska jannat me Jane ka iraada ho uske liye zaroori he k Salatut Tasbeeh ko mazbooti se pakad le ,

❉ 8 :- Ye Wo Namaz he Jiske bare me Hazrat Abu Sufiyan Hyri Reh. Farmate he’n k Mai’n ne musibato aur gamo ke izaale ke liye Salatut Tasbeeh Jesi koi cheez nahi dekhi ,

❉ 9 :–Ye Wo Namaz he Jiske bare me Allama Taqiuddin Sabki Reh. Farmate he’n k Jo Shakhs is Namaz ki Fazilat v Ahmiyat ko Sun kar bhi gaflat Akhtyar kare Wo Deen ke bare me Susti karne wala he ,Sulha ke kaamo se door he ,Usko pakka Aadmi na samjha jaye ,
         
  *❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴*
*📚 Fazail -E – Zikr ,*

            ┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄ 
      ┏┅●◑● 
      ┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
  *☞ सलातुत तस्बीह की नमाज़  _,*

✪_ सलातुल तस्बीह की चार रका'ते हैं जिनको एक सलाम से पढ़ा जाता है ।इस नमाज की हदीस में बड़ी फजीलतें मनकूल है । इंसान इसके जरिए कम से कम वक्त के अंदर ज्यादा से ज्यादा नफा हासिल कर सकता है। इसलिए साल भर में वक्तन फा वक़्तन इसके पढ़ने की कोशिश करनी चाहिए और मुबारक रातों में तो इसको और भी ज्यादा अहतमाम से पढ़ना चाहिए और यह कोई मुश्किल नहीं बस दिल में नेकी के हुसूल का जज़बा व शौक होना चाहिए। अल्लाह ताला अमल की तौफीक अता फरमाए (आमीन),

  *☞ सलातुत तस्बीह की फजीलत_,*

✪_१_  यह वह नमाज है जिसके पढ़ने की बरकत से 10 किस्म के गुनाह माफ हो जाते हैं:- 
सलातुत तस्बीह पढ़ने से अगले, पिछले, पुराने, नए ,गलती से किए हुए ,जानबूझकर किए हुए, छोटे, बड़े ,छुपकर किए हुए और खुल्लम खुल्ला किए हुए सब गुनाह माफ होते हैं।

✪_२_यह वह नमाज से किसके पढ़ने के बारे में आप हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया:- अगर रोज़ाना हफ्ता महीना या कम से कम साल में भी अगर पढ़ सकते हो तो अपनी पूरी जिंदगी में कम से कम एक मर्तबा पढ़ लो ,इससे इस नमाज़ की अहमियत का अंदाज़ा लगाया जा सकता है।

✪_३_ यह वह नमाज़ है जिसके बारे में आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमायì