1
✭﷽✭
                         *✿_سیرت النبی ﷺ_✿*
         *✭ SEERATUN NABI ﷺ.✭*
                *✿_सीरतुन नबी ﷺ. _✿*
                 *🌹صلى الله على محمدﷺ🌹*
            ▪•═════••════•▪                 
                        *POST- 2*
                          ─┉●┉─
╨─────────────────────❥
*┱✿___ Pehli Wahi _,*
★__ Unhone aate hi Kaha :- "_ Iqra Yani padhiye _,"
Aap  ﷺ ne farmaya:- "_ Mai'n nahi padh Sakta _,"( Yani Mai'n padha Likha nahi Hu'n )
Is per Jibraiyl Alaihissalam ne Aapko Seene se laga Kar bheencha , Aap farmate hai'n, Unhone mujhe is zor se bheencha k mujhe maut Ka gumaan hua ,iske baad Unhone mujhe Chhod diya, fir Kaha :- Padhiye, Yani Jo Mai'n kahu'n wo padhiye , is per Aapne farmaya :- Mai'n Kya padhu ?
★_ Tab Jibraiyl Alaihissalam ne Surah Al Alaq ki ye Aayaat padhi :-
( tarjuma ) :- Ey Paigambar  ﷺ Aap ( per Jo Qur'an Naazil hua karega ) Apne Rab Ka Naam Le Kar padha kijiye ( Yani jab padhe , Bismillahir Rahmaanir Raheem , Keh Kar padha kijiye ) Jisne makhlooqaat ko paida Kiya, Jisne insaan Ko Khoon ke lothde se paida Kiya, Aap Qur'an padha kijiye aur Aapka Rab bada Kareem hai ( Jo Chahta hai ata karta Hai aur esa hai ) Jisne Likhe padho ko qalam se Taleem di ( aur Aalam tor per ) insaano ko ( doosre zariye se ) un Cheezo ki taleeem di Jinko wo nahi jaanta tha _,"
★__ Aap ﷺ farmate hai'n :- Maine in Aayato ko usi Tarah padh diya, Jis ke baad wo farishta mere paas se Chala gaya , Esa Lagta tha goya mere Dil me Ek Tehreer likh di gayi ho ,Yani ye Kalmaat mujhe Zubaani Yaad ho gaye , iske baad Aap Ghar Tashreef laye _,
Baaz Rivayaat me aata hai k Jibraiyl Alaihissalam jab gaar me Aaye to Pehle Unhone Alfaaz kahe they :-
"_ Ey Muhammad ! Aap Allah Ke Rasool Hai'n aur Mai'n Jibraiyl Hu'n _,"
★_ Aapke Ghar Tashreef Aawri se Pehle Sayyada Khadija Raziyllahu Anha ne Hasbe mamool Aapke liye Khana Taiyaar Kar Ke ek Shakhs ke Haath Aapke pass bhijwa diya tha ,Magar us Shakhs ko Aap Gaar me Nazar na Aaye ,Us Shakhs ne waapas aa Kar ye Baat Sayyada Khadija Raziyllahu Anha ko batayi , Unhone Aapki Talash me Aapke Azeezo Aqarib ke ghar Aadmi bheje ,Magar Aap waha'n bhi na mile , isliye Sayyada Khadija Raziyllahu Anha pareshan ho gayi, Wo abhi isi Pareshani me thi k Aap Tashreef le Aaye , Aapne Jo Kuchh Dekha aur Suna tha Uski tafseel Sayyada Khadija Raziyllahu Anha se Bayan farmayi , Hazrat Jibraiyl Ka ye jumla bhi bataya k Ey Muhammad Aap Allah Ke Rasool Hai'n_,"
★__ Ye Sun Kar Sayyada Khadija Raziyllahu Anha ne Kaha :-
"_ Aapko Khush Khabri ho ... Aap Yaqeen kijiye ! Qasam hai us zaat ki Jiske qabze me Meri Jaan hai, Aap is Ummat ke Nabi honge _,"
★__ Fir Sayyada Khadija Raziyllahu Anha Aapko Apne Chacha zaad Bhai Warqa bin Nofal ke paas le gayi , Gaar wala Saara Waqia Unhe sunaya , Warqa bin Nofal Purani Kitaabo ke Aalim they,Saari Baat sun Kar wo pukaar uthe :-
"_ Quddus ... Quddus... Qasam hai us zaat ki Jiske qabze me Meri Jaan hai, Khadija ! Agar tum sach keh rahi ho to isme shak nahi Unke paas wahi namoose Akbar Yani  Jibraiyl Aaye they Jo Moosa Alaihissalam ke paas Aaya Karte they, Muhammad is Ummat ke Nabi Hai'n, Yeh is Baat per Yaqeen Kar Le'n _,"
Quddus Ka Matlab hai ,Wo zaat Jo har Ayb se Paak ho ,Ye lafz ta'ajjub ke waat Bola jata hai Jese hum keh dete Hai'n, Allah ... Allah ,
★_ Warqa bin Nofal ko Jibraiyl Ka Naam sun Kar Hairat hui thi k Arab ke doosre Shehro me logo ne ye Naam suna bhi nahi tha , Ye bhi Kaha jata hai k Warqa bin Nofal ne Aapke sar ko bosa diya aur fir Kaha tha :-
"_ Kaash ! Mai'n us Waqt tak zinda rehta jab Aap Logo'n Ko Allah Ta'ala ki taraf Daawat denge , Mai'n Aapki madad karta , is Azeem Kaam me badh chadh Kar hissa leta , Kaaah Mai'n us Waqt tak zinda rahu'n ,Jab Aapki Qaum Aapko jhutlayegi ,Aapko takaleef pahunchayegi , Aapke Saath junge ladi jayengi aur Aapko Yaha'n se nikaal diya Jayega , Agar Mai'n us Waqt tak zinda raha to Aapka Saath dunga , Allah Ke Deen ki himayat karunga _,"
Aap ye sun Kar Hairaan hue aur farmaya :- Meri Qaum mujhe watan se nikaal degi ?
Jawab me Warqa ne Kaha :- Haa'n ! Isliye k Jo Cheez Aap le Kar aaye Hai'n, use le Kar Jo bhi aaya us per zulm dhaaye gaye .. agar Maine wo zamana paya to Mai'n Zaroor Aapki Poori madad karunga_,"
Warqa ne Hazrat Khadija Raziyllahu Anha se ye bhi Kaha :- Tumhare Khawind Beshak Sachche Hai'n ,Dar Haqeeqat ye baate Nabuwat ki ibtida Hai'n....Ye is Ummat ke Nabi Hai'n_,"
★__ Lekin iske Kuchh hi muddat baad Warqa bin Nofal Ka inteqal ho gaya, Unhe Hujoon ke Muqaam per dafan Kiya gaya, Chunki Unhone Aapki tasdeeq ki thi isliye Nabi Kareem ﷺ ne unke bare me farmaya :- Maine Warqa ko Jannat me dekha hai ,Unke jism per Surkh libaas tha _,"
★__ Warqa SE Mulaqaat ke baad Aap ﷺ Ghar Tashreef le Aaye , Uske baad ek muddat tak Jibraiyl Alaihissalam Aapke saamne Nahi Aaye , Darmiyaan me Jo waqfa daala gaya isme Allah Ta'ala ki ye hikmat thi k Aapke Mubarak Dil per Jibraiyl Alaihissalam ko Dekh Kar Jo Khof paida ho gaya tha Uska Asar zaa'il ho Jaye aur Unke na Aane ki vajah se Aapke Dil me wahi Ka Shoq paida ho Jaye , Chunache esa hi hua , Jibraiyl Alaihissalam ki Aamad ke baad Silsila Ruk Jane ke baad Aapko sadma hua , Ka'i Baar Aap Pahaado ki chotiyo'n per Chad gaye Taki khud Ko waha'n SE gira Kar Khatm Kar de'n Lekin jab bhi Aap esa Karne ki Koshish Karte , Jibraiyl Alaihissalam Aapko pukaarte -"_ Ey Muhammad ! Aap Haqeeqat me Allah Ta'ala ke Rasool Hai'n_,"
★__ Ye Kalmaat sun Kar Aap Sukoon mehsoos Karte Lekin jab fir wahi Ka Waqfa Kuchh or guzarta to Aap be qaraar ho jate , ranj mehsoos Karte or is Tarah Pahaad ki choti per Chad jate , Chunache fir Jibraiyl Alaihissalam aa jate aur Aapko tasalli dete , Aakhir dobara wahi hui ,Surah Mudassir Ki Pehli teen Ayaat utri :-
(Tarjuma):- Ey Kapde me letne wale utho ! ( Yani Apni Jagah se utho aur Taiyaar ho Ja'o ) fir Kaafiro ko dara'o aur fir Apne Rab ki Bada'iya'n Bayan Karo aur Apne Kapde Paak rakho _"
★__ Is Tarah Aapko Nabuwat ke Saath tablig Ka Hukm diya gaya, ibne ishaaq likhte Hai'n:- "_ Sayyada Khadija Raziyllahu Anha Pehli Khatoon Hai'n Jo Allah aur Uske Rasool per imaan layi aur Allah ki taraf se Jo Kuchh Aap Hazrat  ﷺ le Kar Aaye ,uski tasdeeq ki , Mushrikeen ki taraf se Aapko jab bhi Takleef pahunchi ,Sadma pahuncha , Sayyada Khadija Raziyllahu Anha ne Aapko dilasa diya_,"
★_ Sayyada Khadija Raziyllahu Anha ke baad doosre Aadmi Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu Hai'n ,Jo Aap ke purane Dost they , Unhone Aapki Zubaan SE Nabuwat Milne Ka Zikr Sunte hi foran Aapki tasdeeq ki aur imaan le Aaye, Bachcho me Sayyadna Ali Raziyllahu anhu Hai'n Jo Aap per Pehle imaan late aur Unke imaan lane Ka Waqia Kuchh is Tarah hai _,
"★_  Ek Din Aap Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke paas Tashreef laye, Us Waqt Sayyada Khadija Raziyllahu Anha bhi Aapke Saath thi aur Aap unke Saath Chhup Kar Namaz padh rahe they, Unhone ye nayi Baat Dekh Kar puchha :- Ye Aap kya Kar rahe Hai'n ?
Nabi Kareem ﷺ ne irshad farmaya:- Ye Wo Deen hai Jisko Allah Ta'ala ne Apne liye Pasand farmaya hai aur iske liye Allah Ta'ala ne Apne Paigambar bheje Hai'n , Mai'n tumhe bhi us Allah ki taraf bulata Hu'n Laat aur Uzza ki ibaadat SE rokta Hu'n _,"
Hazrat Ali ne ye sun Kar arz Kiya :- Ye Ek nayi Baat hai ,iske bare me Maine Aaj SE Pehle kabhi nahi Suna , isliye Mai'n Apne bare me abhi Kuchh nahi keh Sakta , Mai'n Apne Waalid SE mashwara Kar Lu'n _,"
Unka Jawab sun Kar Aapne irshad farmaya:- Ali agar tum musalman nahi Hote to bhi is Baat ko chhupaye rakhna _,"
Unhone vaada Kiya aur iska Zikr Kisi Se na Kiya , Raat Bhar Sochte rahe , Aakhir Allah Ta'ala ne Unhe hidayat ata farmayi ,Savere Aapki khidmat me Haazir hue aur Musalman ho gaye ,
★_ Ulma ne Likha hai Us Waqt Hazrat Ali ki Umar 8 Saal ke qareeb thi,isse Pehle bhi Unhone Kabhi Buto'n ki ibaadat nahi ki thi, Wo Bachpan hi se Nabi Kareem ﷺ ke Saath rehte they ,
★__ Lekin Ahatyaat ke bavjood Hazrat Ali Raziyllahu anhu ke Waalid ko inke quboole islam Ka ilm ho gaya ,to unhone Hazrat Ali Raziyllahu anhu se iske mutalliq istafsaar Kiya , Apne Waalid Ka Sawal sun Kar Hazrat Ali Raziyllahu anhu ne farmaya :-
"_ Abba Jaan! Mai'n Allah aur Uske Rasool per imaan la chuka Hu'n aur jo Kuchh Allah ke Rasool le Kar Aaye Hai'n uski tasdeeq kar chuka Hu'n, Lihaza unke Deen me dakhil ho gaya Hu'n aur unki Pervi Akhtyar Kar chuka Hu'n _,"
Ye sun Kar Abu Taalib ne Kaha :- Jaha'n tak unki Baat hai ( Yani Muhammad ﷺ ki ) to Wo tumhe bhalayi ke Siva Kisi doosre Raaste per nahi lagayenge Lihaza unka Saath na chhodna _,"
★_ Abu Taalib Aksar Kaha Karte they:- Mai'n Jaanta Hu'n Mera Bhatija jo Kehta hai Haq hai, Agar mujhe ye dar na hota k Quresh ki Aurte'n mujhe sharm dilayengi to Mai'n Zaroor unki Pervi qubool Kar leta _,"
★__ Afeef Kandi Raziyllahu anhu Ek taajir they ,unka Bayan hai :- Islam lane se Pehle mai Ek martaba Hajj Ke liye Aaya ,Tijarat Ka Kuchh Maal khareedne ke liye Mai'n Abbas ibne Abdul Muttalib ke paas gaya ,Wo mere Dost they aur Yaman se Aksar Atr khareed Kar late they ,fir Hajj Ke mosam me Makka me farokht Karte they, Mai'n unke Saath Mina me betha tha k ek Nojawan Aaya ,Usne guroob  Hote Suraj ki taraf gor se dekha ,Jab Usne dekh liya k Suraj guroob ho chuka hai to Usne Bahut ahatmam SE Wazu Kiya ,fir Namaz Padhne laga Yani Kaaba ki taraf moonh Kar Ke ....fir Ek ladka Aaya Jo baalig hone ke qareeb tha ,Usne Wazu Kiya aur us Nojawan ke barabar khade ho Kar Namaz Padhne laga ,fir Ek Aurat Khaime se nikli aur Unke Pichhe namaz ki niyat baandh Kar khadi ho gayi, Iske baad us Nojawan ne ruku Kiya to us ladke aur Aurat ne bhi ruku Kiya, Nojawan , Nojawan Sajde me Gaya to woh Dono bhi Sajde me chale gaye, Ye manzar dekh kar Maine Abbas ibne Abdul Muttalib se Puchha :- Abbas ! Ye kya ho raha Hai _,"
Unhone bataya :- Ye mere Bhai Abdullah ke bete Ka Deen hai ,Muhammad ﷺ Ka Daava hai k Allah Ta'ala ne use Paigambar Bana Kar bheja hai ,Ye ladka Mera Bhatija hai Ali ibne Abu Taalib hai aur Aurat Muhammad ﷺ ki Bivi Khadija hai ,
★__ Ye Afeef Kandi Raziyllahu anhu musalman hue to Kaha Karte they:- Kaash ! Us Waqt unme chotha Aadmi Mai'n hota _,"
Is Waqi'e ke Waqt galiban Hazrat Zaid bin Haarisa aur Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu waha'n mojood nahi they Agarche us Waqt tak Dono musalman ho chuke they ,
★__ Hazrat Zaid bin Haarisa Raziyllahu anhu Gulaamo me Sabse Pehle imaan laye they, Ye Huzoor Akram ﷺ ke Azaad Karda Gulaam they ,Pehle ye Hazrat Khadija Raziyllahu Anha ke Gulaam they ,Shaadi ke baad Unhone Zaid bin Haarisa Raziyllahu anhu ko Aap ﷺ ki gulami me de diya tha ,
★__ Ye Gulaam Kis Tarah bane Ye bhi sun Le'n , Jahaalat ke zamane me inki Waalida inhe liye Apne Maa'n Baap ke Yaha'n ja rahi thi k Qafile ko loot liya gaya ,Daaku inke bete Zaid bin Haarisa Raziyllahu anhu ko bhi le gaye ,Fir inhe Ukaaz Ke mele me bechne ke liye laya gaya, idhar Sayyada Khadija Raziyllahu Anha ne Hakeem bin Huzaam Raziyllahu anhu ko mele me bheja ,Wo Ek Gulaam kharidna chahti thi, Aap Hakeem bin Huzaam Raziyllahu anhu ki Foofi thi ,Hakeem bin Huzaam Raziyllahu anhu mele me Aaye to waha'n inhone Zaid bin Haarisa Raziyllahu anhu ko bikte dekha , Us Waqt inki Umar 8 Saal thi , Hakeem bin Huzaam Raziyllahu anhu ko ye achche lage , Chunache Unhone Sayyada Khadija Raziyllahu Anha ke liye inhe khareed liya, Hazrat Khadija Raziyllahu Anha ko bhi ye Pasand Aaye aur Unhone inhe Apni Gulami me le liya ,Fir Nabi Kareem ﷺ ko Hadiya Kar diya, is Tarah Hazrat Zaid Bin Haarisa Raziyllahu anhu Aap ﷺ ke Gulaam bane ,
★__ Fir Jab Aapne islam ki Dawat di to foran imaan le Aaye, Baad me Huzoor Akram ﷺ ne inhe Azaad Kar diya tha Magar ye Umar Bhar Huzoor Akram ﷺ ki khidmat me rahe ,inke Waalid Ek muddat SE inki Talash me they ,Kisi ne Unhe bataya k Zaid Makka me dekhe gaye Hai'n ,
Inke Waalid aur Chacha inhe Lene ke liye foran Makka Muazzama ki taraf chal pade , Makka pahunch Kar ye Aap ﷺ ki khidmat me Haazir hue aur Aapko bataya k Zaid unke bete Hai'n ,
Saari Baat sun Kar Aapne irshad farmaya:-
"_ Tum Zaid se poochh lo ,agar ye Tumhare Saath Jana Chahe to mujhe koi aitraaz nahi aur Yaha'n mere paas rehna Chahe to unki marzi _,"
Zaid Raziyllahu anhu se poochha Gaya to inhone Nabi Kareem ﷺ ke Saath rehna Pasand Kiya ,
★__ Is per Baap ne Kaha :- Tera Bura ho Zaid ... Tu Azaadi ke muqable me Gulaami ko Pasand Kar raha Hai _,"
Jawab me Hazrat Zaid Raziyllahu anhu ne Kaha :- Haa'n ! inke ( Huzoor Akram ﷺ) muqable me Mai'n Kisi aur ki hargiz nahi chun Sakta _,"
Aap ﷺ ne Hazrat Zaid Raziyllahu anhu ki ye Baat suni to Aapko foran Hajre Aswad ke paas le gaye aur Elaan farmaya :- Aaj SE Zaid Mera Beta hai _,"
Inke Waalid aur Chacha mayoos ho gaye ,Taaham Nabi Kareem ﷺ ne Unhe ijazat di k Wo jab Chahe Zaid se Milne aa sakte Hai'n, Chunache Wo Milne ke liye aate rahe ,
"__ To ye they Hazrat Zaid bin Haarisa Raziyllahu anhu Jo Gulamo me Sabse Pehle imaan laye, Hazrat Zaid Waahid Sahabi Hai'n Jinka Qur'an E Kareem me Naam Le Kar Zikr Kiya gaya hai _,
★__ Mardo'n me Sabse Pehle Sayyadna Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu imaan laye , Aap Nabi Akram ﷺ ke Pehle hi Dost they , Huzoor Nabi Kareem ﷺ Aksar unke Ghar aate aur unse baate Kiya Karte they, Ek din Hazrat Hakeem bin Huzaam Raziyllahu anhu ke paas Bethe they k unki Ek Baandi waha'n aayi aur Kehne lagi :-
"_ Aaj Aapki Foofi Khadija ne ye Daava Kiya hai k unke Shohar Allah Ta'ala ki taraf se bheje hue Paigambar Hai'n jesa k Moosa Alaihissalam they _,"
★_ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Jo'nhi Hazrat Hakeem Raziyllahu anhu ki Baandi ki ye Baat suni chupke SE waha'n SE uthe aur Nabi Kareem ﷺ ke paas Aa gaye aur Aapse is bare me puchha , is per Aapne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko wahi Aane ka Poora Waqia sunaya aur bataya k Aapko Tablig Ka Hukm diya gaya hai ,Ye Sunte hi Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne arz Kiya:-
"_ Mere Maa'n Baap Aap per qurban Aap bilkul sach Kehte Hai'n waqa'i Allah Ke Rasool Hai'n_,"
Aapke is Tarah foran tasdeeq Karne ki bina per Nabi Akram ﷺ ne Aapko Siddiq Ka laqab ata farmaya _,"
★_ Is bare me doosri Rivayat ye Hai k Siddiq Ka laqab Aapne Unhe us Waqt diya tha jab Aap mairaaj ke Safar SE waapas Tashreef laye they Makka ke Mushrikeen ne Aapko jhutlaya tha ,us Waqt Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne us Waqie ko Sunte hi Fori tor per Aapko tasdeeq ki thi aur Aapne Unhe Siddiq Ka laqab ata farmaya tha,
Garz Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Aapki Nabuwat ki tasdeeq fori tor per Kar di ,
★__ Garz islam me  ye pehla laqab hai Jo Kisi Ko Mila ,Quresh me Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Ka martaba Bahut Buland tha ,Aap Bahut Khush Akhlaaq they , Quresh ke sardaaro me SE ek they ,Shareef ,Sakhi aur Daulatmand they , Rupiya Paisa Bahut Faraakh dili SE kharch Karte they, inki Qaum ke log inhe Bahut chahte they , Log inki Majlis me bethna Pasand Karte they, Apne zamane me Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Khwab ki tabeer batane me bahut maahir aur Mash'hoor they , Chunache Allama ibne Sireen Rehmatullah Kehte Hai'n:-
"_ Nabi Kareem ﷺ ke baad Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu is Ummat me Sabse Behatreen Tabeer batane wale Aalim Hai'n _,"
★_ Allam ibne Sireen Rehmatullah khwabo ki tabeer batane me bahut maahir they aur is Silsile me unki Kitaabe mojood Hai'n, Un Kitaabo me Khwabo ki Hairat angez tabeere darj Hai'n , Unki batayi hui tabeere bilkul durust Saabit Hoti rahi ,Matlab ye Hai k is maidaan ke maahir is bare me Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko Nabi Kareem ﷺ ke baad Sabse Behtar tabeer batane wale farma rahe Hai'n ,
"_Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Nasab naama Bayan Karne me bhi Bahut maahir they balki Kaha jata hai k is ilm ke Sabse bade Aalim they, Hazrat Zuber bin Muta'am bhi is ilm ke maahir they, Wo farmate hai'n :-
"_ Maine Nasab naamo Ka fun aur ilm Khaas tor per Quresh ke Nasab naamo Ka ilm Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu se hi haasil Kiya hai , isliye k wo Quresh ke Nasab naamo ke Sabse bade Aalim they,
★_ Quresh ke logo ko koi Mushkil pesh aati to Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu SE raabta Karte they, Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke bare me Nabi Kareem ﷺ farmaya Karte they :-
"_ Maine jise bhi islam ki Dawat di Usne Kuchh na Kuchh Soch bichaar aur Kisi qadar waqfe ke baad islam qubool Kiya Sivaye Abu Bakar ke ,Wo bager Hichkichahat ke foran musalman ho gaye , Abu Bakar Sabse Behtar raay dene wale Hai'n, Mere Paas Jibraiyl Alaihissalam Aaye aur Unhone Kaha k Allah Ta'ala Aapko Hukm Deta Hai Apne mamlaat me Abu Bakar SE mashwara Kiya Kare'n _,"
★__ Nabi Kareem ﷺ ke liye Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Wazeer ke darje me they , Aap har maamle me unse mashwara liya Karte they, Ek Hadees me aata hai , Nabi Akram ﷺ farmate hai'n :-
"_ Allah Ta'ala ne Meri madad ke liye Chaar Wazeer muqarrar farmaye Hai'n, inme SE Do Aasmaan walo me se Hai'n Yani Jibraiyl aur Mikaa'iyl ( Alaihissalam ) aur Do Zameen walo me se ek Abu Bakar aur Doosre Umar ( Raziyllahu anhum ) _,"
★_ Islam lane se Pehle Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne ek khwab dekha tha ,Khwab me Aapne Dekha k Chand Makka me utar Aaya hai aur Uska Ek ek hissa Makka ke har Ghar me dakhil ho gaya hai aur fir saara Ka saara Abu Bakar Raziyllahu anhu ki god me aa gaya, Aapne ye Khwab Ek iyasa'i Aalim ko sunaya ,Usne is Khwab ki ye Tabeer Bayan ki k Tum Apne Paigambar ki Pervi karoge Jiska Duniya intezar Kar rahi hai aur Jiske Zahoor Ka Waqt qareeb aa gaya hai aur ye k Perukaaro me SE Sabse  zyada Khush Qismat insaan honge ,
★__ Ek rivayat ke mutabiq Aalim ne Kaha tha :- Agar tum Apna Khwab Bayan Karne me Sachche ho to Bahut jald Tumhare gaa'nv me se ek Nabi Zaahir honge, Tum us Nabi ki Zindgi me Uske Wazeer banoge aur unki wafaat ke baad unke khalifa honge _,"
★__ Kuchh arse baad Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko Yaman Jane Ka ittefaq hua tha, Yaman me ye Ek Budhe Aalim ke Ghar thehre , Usne Aasmani Kitaabe padh rakhi thi , Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko Dekh Kar Usne Kaha :- Mera khayal hai Tum Haram ke rehne wale ho aur Mera khayal hai Tum Quresh ho aur Taymi Khandaan se  _,"
Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Jawab me farmaya:- Haa'n ! Tumne bilkul Theek Kaha _,"
Ab usne Kaha:- Mai'n Tumse Ek Baat aur Kehta Hu'n...tum Zara Apne pet per SE Kapda hata Kar dikha'o _,"
Hazrat Abu Bakar Siddiq uski Baat sun Kar Hairaan hue aur bole :- esa Mai'n us Waqt tak nahi karunga Jab tak k tum iski vajah Nahi bata doge _,"
Is per Usne Kaha :- Mai'n Apne mazboot ilm ki buniyad per Kehta Hu'n k Haram ke ilaaqe me Ek Nabi Ka Zahoor hone wala Hai, Unki madad Karne wala Ek Nojawan Hoga aur ek pukhta Umar wala Hoga , Jaha'n tak Nojawan Ka talluq hai Wo Mushkilaat me kood Jane wala Hoga , Jaha'n tak pukhta Umar ke Aadmi Ka talluq hai Wo Safed rang Ka Kamzor jism wala Hoga , Uske Pet per ek Baal daar Nishan Hoga ,Haram Ka rehne wala ,Taymi Khandaan Ka Hoga aur Ab ye zaroori nahi k tum mujhe Apna pet dikha'o Kyunki baqi sab Alaamate tumme mojood Hai'n ,
★_Uski is Baat per Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Apne pet per SE Kapda hataya , Waha'n unki naaf ke Ouper Syaah aur Safed Baalo wala Nishan mojood tha ,Tab Wo pukaar utha :- Parwardigaar e Kaaba ki qasam ! Tum Wohi ho _,"
╨─────────────────────❥
*┱✿___ पहली वही _,"*
★__ उन्होंने आते ही कहा :- "इक़रा " यानी पढ़िए ।
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया:- मैं नहीं पढ़ सकता (यानी मैं पढ़ा लिखा नहीं हूं)
इस पर जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने आपको सीने से लगाकर भींचा। आप फरमाते हैं उन्होंने मुझे इस जोर से भींचा कि मुझे मौत का गुमान हुवा ।इसके बाद उन्होंने मुझे छोड़ दिया ,फिर कहा :- पढ़िए , यानी जो मैं कहूं वह पढ़िए , इस पर आप ने फरमाया:- मैं क्या पढ़ूं ?
★_ तब जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने सूरह अल अ़लक़ की यह आयात पढ़ी :-
( तर्जुमा ) ए पैगंबर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ! आप (पर जो क़ुरान नाजिल हुआ करेगा ) अपने रब का नाम लेकर पढ़ा कीजिए( यानी जब पढ़ें बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम कहकर पढ़ा कीजिए ) जिसने मखलुका़त को पैदा किया जिसमें इंसान को खून के लो थोथड़े से पैदा किया, आप क़ुरान पढ़ा कीजिए और आपका रब बड़ा करीम है ( जो चाहता है अता करता है और ऐसा है) जिसने लिखे पढ़ों को क़लम से तालीम दी ( और आलम तौर पर)  इंसानों को (दूसरे ज़रियों से) उन चीजों की तालीम दी जिनको वह नहीं जानता था ।
★__आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फरमाते हैं :- मैंने इन आयतों को उसी तरह पढ़ दिया, जिसके बाद वह फरिश्ता मेरे पास से चला गया , ऐसा लगता था गोया मेरे दिल में एक तहरीर लिख दी गई हो , यानी यह कलमात मुझे जुबानी याद हो गए,
इसके बाद आप घर तशरीफ़ लाएं _,
बाज़ रिवायात में आता है कि जिब्राइल अलैहिस्सलाम जब गार में आए तो पहले उन्होंने यह अल्फाज़ कहे थे :-
"_ ऐ मोहम्मद ! आप अल्लाह के रसूल हैं और मैं जिब्राइल हूं ।
★__ आपके घर तशरीफ़ आवरी  से पहले सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा हू  ने हस्बे मामूल आपके लिए खाना तैयार करके एक शख्स के हाथ आपके पास भिजवा दिया था मगर उस शख्स को आप गार में नज़र ना आए उस शख्स ने वापस आकर यह बात सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा को बताई, उन्होंने आप की तलाश में आपके अजी़जो़ अक़ारिब के घर आदमी भेजे मगर आप वहां भी ना मिले। इसलिए सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा परेशान हो गई वह अभी इसी परेशानी में थी कि आप तशरीफ ले आए ।आपने जो कुछ देखा और सुना था कि तफसील सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा से बयान फरमाई, हजरत जिब्राइल का यह जुमला भी बताया कि - "_ए मुहम्मद ! आप अल्लाह के रसूल हैं_,"
★_ यह सुनकर सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा ने कहा- आपको खुशखबरी हो ...आप यकीन कीजिए ! क़सम है उस जा़त की जिसके क़ब्जे में मेरी जान है आप इस उम्मत के नबी होंगे ।
★__ फिर सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा आपको  अपने चाचा जाद भाई वरक़ा बिन नोफिल के पास ले गई । गार वाला सारा वाकि़या उन्हें सुनाया,  वरक़ा बिन नोफिल पुरानी किताबों के आलिम थे । सारी बात सुनकर वह पुकार उठे :-
क़ुद्दूस...क़ुद्दूस... क़सम है उस जा़त की जिसके क़ब्जे में मेरी जान है , खदीजा अगर तुम सच कह रही हो तो इसमें शक नहीं इनके पास वही नामूसे अकबर यानी जिब्राइल आए थे जो मूसा अलैहिस्सलाम के पास आया करते थे। मुहम्मद इस उम्मत के नबी हैं । ये इस बात पर यकीन कर लें।
क़ुद्दूस का मतलब है, वह जा़त जो हर ऐब से पाक हो ।यह लफ्ज़ ताज्जुब के वक्त बोला जाता है जैसे हम कह देते हैं ,अल्लाह.. अल्लाह _,
★_ वरका़ बिन नोफिल को जिब्राइल का नाम सुनकर हैरत इसलिए हुई थी कि अरब के दूसरे शहरों में लोगों ने यह नाम सुना भी नहीं था । यह भी कहा जाता है कि वरक़ा बिन नोफिल ने आपके सर को बोसा दिया था और फिर कहा था :-
काश मैं उस वक्त तक जिंदा रहता जब आप लोगों को अल्लाह ताला की तरफ दावत देंगे, मैं आपकी मदद करता ,इस अजी़म काम में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेता , काश मैं उस वक्त तक जिंदा रहूं जब आपकी कौम आपको झुठलाएगी, आपको तकालीफ पहुंचाएगी , आपके साथ जंगे लड़ी जाएंगी और आपको यहां से निकाल दिया जाएगा। अगर मैं उस वक्त तक जिंदा रहा तो आपका साथ दूंगा ,अल्लाह के दीन की हिमायत करूंगा ।
आप यह सुनकर हैरान हुए और फरमाया :- मेरी कौम मुझे वतन से निकाल देगी ?
जवाब में वरक़ा ने कहा -हां ! इसलिए जो चीज़ आप लेकर आए हैं उसे लेकर जो भी आया उस पर जुल्म ढाए गए ...अगर मैंने वह जमाना पाया तो मैं ज़रूर आपकी पूरी मदद करूंगा _,"
वरक़ा ने हजरत खदीजा रजियल्लाहु अन्हा से यह भी कहा :- तुम्हारे खाविंद बेशक सच्चे हैं , दर हक़ीक़त यह बातें नबूवत की इब्तिदा है ...यह इस उम्मत के नबी है ।
★_ लेकिन इसके कुछ ही मुद्दत बाद वरक़ा बिन् नोफिल का इंतकाल हो गया , उन्हें हुजून के मुकाम पर दफन किया गया । चूंकि उन्होंने आपकी तसदीक़ की थी इसलिए नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनके बारे में फरमाया है :-
मैंने वरक़ा  को जन्नत में देखा है उनके जिस्म पर सुर्ख लिबास था।"
★__ वरका़ से मुलाकात के बाद आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम घर तशरीफ ले आए , उसके बाद एक मुद्दत तक जिब्राइल अलैहिस्सलाम आपके सामने नहीं आए ।दरमियान में जो वक़फा डाला गया इसमें अल्लाह ताला की यह हिकमत थी कि आपके मुबारक दिल पर जिब्राइल अलैहिस्सलाम को देखकर जो खौफ पैदा हो गया था उसका असर जाइल हो जाए और उनके ना आने की वजह से आपके दिल में वही का शौक पैदा हो जाए । चुंनाचे ऐसा ही हुआ जिब्राइल अलैहिस्सलाम की आमद के बाद सिलसिला रुक जाने के बाद आपको सदमा हुआ । कई बार आप पहाड़ों की चोटियों पर चढ़ गए ताकि खुद को वहां से गिरा कर खत्म कर दें लेकिन जब भी आप ऐसा करने की कोशिश करते  जिब्राइल अलैहिस्सलाम आपको पुकारते:- "_ ए मुहम्मद ! आप हक़ीक़त में अल्लाह ता'ला के रसूल हैं।"
★__ यह कलिमात सुनकर आप सुकून महसूस करते लेकिन जब फिर वही का वक़फा कुछ और गुज़र जाता तो आप बेक़रार हो जाते ,रंज महसूस करते हैं और उसी तरह पहाड़ की चोटी पर चढ़ जाते , चुनांचे फिर जिब्राइल अलैहिस्सलाम आ जाते और आप को तसल्ली देते ,आखिर दोबारा वही हुई , सूरह मुदस्सिर की पहेली तीन आयात उतरी :-
"_ तर्जुमा ए कपड़े में लेटने वाले उठो ! ( यानी अपनी जगह से उठो और तैयार हो जाओ) फिर काफिरों को डराओ और फिर अपने रब की बढ़ाईयां बयान करो और अपने कपड़े पाक रखो _,"
★__ इसी तरह आपको नबूवत के साथ तबलीग का हुक्म दिया गया। इब्ने इसहाक़ लिखते हैं :-
"_ सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा पहली खातून है जो अल्लाह और उसके रसूल पर ईमान लाईं और अल्लाह की तरफ से जो कुछ आप हजरत  लेकर आए उसकी तस्दीक़ की। मुशरिकीन की तरफ से आपको जब भी तकलीफ पहुंची, सदमा पहुंचा, सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा ने आपको दिलासा दिया ।
★_सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा के बाद दूसरे आदमी हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु हैं, जो आपके पुराने दोस्त थे, उन्होंने आपकी जु़बान से नबूवत मिलने का जिक्र सुनते ही फौरन आपकी तसदीक़ की और ईमान ले आए । बच्चों में सैयदना अली रजियल्लाहु अन्हु हैं जो आप पर पहले ईमान लाए और उनके ईमान लाने का वाकि़या कुछ इस तरह है :-
★__ एक दिन आप हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास तशरीफ लाए उस वक्त सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा भी आपके साथ थी और आप उनके साथ छुपकर नमाज पढ़ रहे थे । उन्होंने यह नई बात देखकर पूछा:-  यह आप क्या कर रहे हैं ?
नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया:- "_यह वह दीन है जिसको अल्लाह ताला ने अपने लिए पसंद फरमाया है और इसके लिए अल्लाह ताला ने अपने पैगंबर भेजे हैं मैं तुम्हें भी अल्लाह की तरह बुलाता हूं लात और उज्जा़ की इबादत से रोकता हूं _,"
हजरत अली ने यह सुनकर अर्ज़ किया :- यह एक नई बात है इसके बारे में मैंने आज से पहले कभी नहीं सुना इसलिए मैं अपने बारे में अभी कुछ नहीं कह सकता, मैं अपने वालिद से मशवरा कर लूं _,"
उनका जवाब सुनकर आपने इरशाद फरमाया :- अली अगर तुम मुसलमान नहीं होते तो भी इस बात को छुपाए रखना _,"
उन्होंने वादा किया और इसका ज़िक्र किसी से ना किया। रात भर सोचते रहे । आखिर अल्लाह ता'ला ने उन्हें हिदायत अता फरमाई। सवेरे आप की खिदमत में हाज़िर हुए और मुसलमान हो गए।
उल्मा ने लिखा है उस वक्त हजरत अली की उमर 8 साल के क़रीब थी , इससे पहले भी उन्होंने कभी बुतों की इबादत नहीं की थी ,वह बचपन ही से नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के साथ रहते थे।
★__ लेकिन एहतियात के बावजूद हजरत अली रज़ियल्लाहु अन्हु के वालिद को उनके क़ुबूले  इस्लाम का इल्म हो गया तो उन्होंने हजरत अली रजियल्लाहु अन्हु से इसके मुताल्लिक इस्तफ्सार किया ।
अपने वालिद का सवाल सुनकर हजरत अली रजियल्लाहु अन्हु ने फरमाया :-अब्बा जान ! मैं अल्लाह और उसके रसूल पर ईमान ला चुका हूं और जो कुछ अल्लाह के रसूल लेकर आए हैं उसकी तस्दीक़ कर चुका हूं लिहाज़ा उनके दीन में दाखिल हो गया हूं और उनकी पैरवी अख्तियार कर चुका हूं _,"
यह सुनकर अबू तालिब ने कहा:-  जहां तक उनकी बात है (यानी मुहम्मद सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की ) तो वह तुम्हें भलाई के सिवा किसी दूसरे रास्ते पर नहीं लगाएंगे लिहाज़ा उनका साथ ना छोड़ना ।
★_अबू तालिब अक्सर यह कहा करते थे :- मैं जानता हूं मेरा भतीजा जो कहता है हक़ है ,अगर मुझे यह डर ना होता कि कुरैश की औरतें मुझे शर्म दिलाएंगी तो मैं ज़रूर उनकी पैरवी क़ुबूल कर लेता _,"
★_अफीफ कंदी रजियल्लाहु अन्हु एक ताजिर थे, उनका बयान है :- इस्लाम लाने से पहले मैं एक मर्तबा हज के लिए आया, तिजारत का कुछ माल खरीदने के लिए मैं अब्बास इब्ने अब्दुल मुत्तलिब के पास गया वह मेरे दोस्त थे और यमन से अक्सर अतर् खरीद कर लाते थे फिर हज के मौसम में मक्का में फरोख्त करते थे । मैं उनके साथ मीना में बैठा था । एक नौजवान आया, उसने गुरूब होते सूरज की तरफ गौर से देखा जब उसने देख लिया कि सूरज गुरुब हो चुका, तो उसने बहुत अहतमाम से वज़ु किया, फिर नमाज पढ़ने लगा यानी काबा की तरफ मुंह करके ..फिर एक लड़का आया जो बालिग होने के क़रीब था उसने वजू किया और उस नौजवान के बराबर खड़े होकर नमाज पढ़ने लगा, फिर एक औरत खैमे से निकली और उनके पीछे नमाज़ की नियत बांधकर खड़ी हो गई, इसके बाद उस नौजवान ने रुकू किया तो उस लड़के और औरत में भी रुकू किया, नौजवान  सजदे में गया तो वह दोनों भी सजदे में चले गए। यह मंजर देख कर मैंने अब्बास बिन अब्दुल मुत्तलिब से पूछा :-
"_ अब्बास यह क्या हो रहा है ?"
उन्होंने बताया :- यह मेरे भाई अब्दुल्लाह के बेटे का दीन है, मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का दावा है कि अल्लाह ताला ने उसे पैगंबर बनाकर भेजा है, यह लड़का मेरा भतीजा अली इब्ने अबु तालिब है और यह औरत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की बीवी खदीजा है _,"
★_यह अफीफ कंदी रजियल्लाहु अन्हु मुसलमान हो गए तो कहा करते थे :- काश उस वक्त उन में चौथा आदमी में होता।
इस वाक्य के वक्त गालिबन हज़रत ज़ैद बिन हारिसा और हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु वहां मौजूद नहीं थे अगरचे उस वक्त तक दोनों मुसलमान हो चुके थे।
★__ हजरत ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु गुलामों में सबसे पहले ईमान लाए थे, यह हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के आज़ाद करदा गुलाम थे ,पहले यह हजरत खदीजा रजियल्लाहु अन्हा के गुलाम थे, शादी के बाद उन्होंने ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु को आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की गुलामी में दे दिया था ।
★_यह गुलाम किस तरह बने ? यह भी सुन लें। जाहिलियत के ज़माने में इनकी वालीदा इन्हें लिए अपने मां-बाप के यहां जा रही थी कि काफ़िले को लूट लिया गया, डाकू इनके बेटे जै़द बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु को भी ले गए,  फिर इन्हें उकाज़ के मेले में बेचने के लिए लाया गया । इधर सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा ने हकीम बिन हुज़ाम रजियल्लाहु अन्हु को मेले में भेजा ,वह एक गुलाम खरीदना चाहती थी, आप हकीम बिन हुज़ाम रजियल्लाहु अन्हु  की फूफी थी । हकीम बिन हुज़ाम रजियल्लाहु अन्हु मेले में आए तो वहां इन्होंने ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु को बिकते देखा ,उस वक्त उनकी उम्र 8 साल थी । हकीम बिन हुज़ाम रजियल्लाहु अन्हु को यह अच्छे लगे चुनांचे इन्होंने सैयदा खदीजा रजियल्लाहु अन्हा के लिए इन्हें खरीद लिया ।हजरत खदीजा रजियल्लाहु अन्हा को भी यह पसंद आए और उन्होंने इन्हें अपनी गुलामी में ले लिया , फिर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को हदिया कर दिया ।इस तरह हजरत ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के गुलाम बने।
★_फिर जब आपने इस्लाम की दावत दी तो फौरन आप ईमान ले आए । बाद में हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इन्हें आज़ाद कर दिया था मगर यह उम्र भर हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में रहे । इनके वालिद एक मुद्दत से इनकी तलाश में थे किसी ने उन्हें बताया कि जैद मक्का में देखे गए हैं ,इनके वालिद और चाचा इन्हें लेने फौरन मक्का मुअज़्ज़मा की तरफ चल पड़े, मक्का पहुंचकर यह आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए और आपको बताया कि जैद इनके बेटे हैं ।
सारी बात सुनकर आपने इरशाद फरमाया :- तुम ज़ैद से पूछ लो, अगर यह तुम्हारे साथ जाना चाहे तो मुझे कोई एतराज़ नहीं और यहां मेरे पास रहना चाहे तो इनकी मर्जी।
ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु से पूछा गया तो इन्होंने नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के साथ रहना पसंद किया।
★_इस पर बाप ने कहा:-  तेरा बुरा हो ज़ैद... तू आजादी के मुक़ाबले में गुलामी को पसंद करता है _,"
जवाब में हजरत ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु ने कहा :- हां इनके (हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के)  मुक़ाबले में मैं किसी और को हरगिज़ नहीं चुन सकता _,"
आपने हजरत ज़ैद रजियल्लाहु अन्हु की यह बात सुनी तो आपको फौरन हजरे अस्वाद के पास ले गए और ऐलान फरमाया :-  आज से ज़ैद मेरा बेटा है ।
इनके वालिद और चाचा मायूस हो गए। नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इन्हें इजाज़त दे दी कि वह जब चाहे ज़ैद से मिलने आ सकते हैं चुनांचे वह मिलने के लिए आते रहे।
★_तो यह थे हज़रत ज़ैद बिन हारिसा रज़ियल्लाहु अन्हु जो गुलामों में सबसे पहले ईमान लाए,  हजरत ज़ैद वाहिद सहाबी हैं जिनका क़ुरआने करीम में नाम लेकर जि़क्र किया गया है।
★_मर्दों में सबसे पहले सैयदना अबु बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ईमान लाए,  आप नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पहले ही दोस्त थे, हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अक्सर उनके घर आते और उनसे बातें किया करते थे। एक दिन हजरत हकीम बिन हुज़ाम रजियल्लाहु अन्हु के पास बैठे थे कि उनकी एक बांदी वहां आई और कहने लगी -आज आपकी फूफी खदीजा ने यह दावा किया है कि उनके शौहर अल्लाह ताला की तरफ से भेजे हुए पैगंबर है जैसा कि मूसा अलैहिस्सलाम थे।
★_ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने जूंही हकीम रजियल्लाहु अन्हु की बांदी की यह बात सुनी चुपके से वहां से उठे और नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास आ गए और आपसे इस बारे में पूछा, इस पर आप ने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को वही आने का पूरा वाक़या सुनाया और बताया कि आपको तबलीग का हुक्म दिया गया है यह सुनते ही अबु बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :-
मेरे मां-बाप आप पर कुर्बान आप बिल्कुल सच कहते हैं वाक़ई आप अल्लाह के रसूल हैं ।
आपके इस तरह फौरन तस्दीक़ करने की बिना पर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने आपको सिद्दीक का लक़ब आता फरमाया।
★_इस बारे में दूसरी रिवायत यह है कि सिद्दीक का लक़ब उस वक्त दिया था जब आप मैराज़ के सफर से वापस तशरीफ लाए थे मक्का के मुशरिकीन ने आपको झुठलाया था । हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने इस वाक्य को सुनते ही फौरी तौर पर आपकी तसदीक़ की थी और आपने उन्हें सिद्दीक का लक़ब अता फरमाया था ।
गर्ज़ अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने आपकी नबूवत की तस्दीक़ फौरी तौर पर कर दी थी।

★__ गर्ज़ इस्लाम में यह पहला लक़ब है जो किसी को मिला , कुरेश में हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु का मर्तबा बहुत बुलंद था आप बहुत खुश अखलाक थे कुरेश के सरदारों में से एक थे। शरीफ सखी और दौलतमंद थे ,रुपया पैसा बहुत फराख दिली से खर्च करते थे । इनकी क़ौम के लोग इन्हें बहुत चाहते थे । लोग इनकी मजलिस में बैठना पसंद करते थे। अपने जमाने में हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु  ख्वाब की ताबीर बताने में बहुत माहिर और मशहूर थे । चुनांचे अल्लामा इब्ने शिरीन रहमतुल्लाह कहते हैं:-
"_ नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के बाद हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु इस उम्मत में सबसे बेहतरीन ताबीर बताने वाले आलिम है _,"
★__ अल्लामा इब्ने शिरीन रहमतुल्लाह ख्वाबों की ताबीर बताने में बहुत माहिर थे और इस सिलसिले में उनकी किताबें मौजूद हैं इन किताबों में ख्वाबों की हैरतअंगेज ताबीरे दर्ज हैं उनकी बताई हुई ताबीरे बिल्कुल दुरुस्त साबित होती रही । मतलब यह है कि इस मैदान के माहिर इस बारे में हजरत अबू बकर सिद्दीक रज़ियल्लाहु अन्हु को नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के बाद सबसे बेहतर ताबीर बताने वाले फरमा रहे हैं।
★_ अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु नसब नामा बयान करने में भी बहुत माहिर थे बल्कि कहा जाता है इस इल्म के सबसे बड़े आलिम थे हजरत जुबेर बिन मुत'अम भी इस इल्म के माहिर थे । वह फरमाते हैं :-
"_मैंने नसब नामों का फन और इल्म खासतौर पर कुरेश के नसब नामों का इल्म हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु से ही हासिल किया है इसलिए कि वह कुरेश के नसब नामों के सबसे बड़े आलिम थे।"
★__क़ुरेश के लोगों को कोई मुश्किल पेश आती तो हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु से राब्ता करते थे । अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु  के बारे में नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम फरमाया करते थे:-
"_ मैंने जिसे भी इस्लाम की दावत दी उसने कुछ ना कुछ सोच विचार और किसी क़दर वक़फा  के बाद इस्लाम कुबूल किया सिवाय अबू बकर के वह बगैर हिचकिचाहट के फौरन मुसलमान हो गए , अबू बकर सबसे बेहतर राय देने वाले हैं मेरे पास जिब्राइल अलैहिस्सलाम आए और उन्होंने कहा कि अल्लाह ताला आपको हुक्म देता है अपने मामलात में अबू बकर से मशवरा किया करें_"
★__ नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के लिए हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु वज़ीर के दर्जे में थे ।आप हर मामले में उनसे मशवरा लिया करते थे। एक हदीस में आता है:- 
नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम फरमाते हैं -
"_अल्लाह ताला ने मेरी मदद के लिए चार वज़ीर मुकर्रर फरमाए हैं इनमें से दो आसमान वालों में से हैं यानी कि जिब्राइल और मिका़ईल (अलेहिमुस्सलाम ) और दो जमीन वालों में से एक अबू बकर और दूसरे उमर (रज़ियल्लाहु अन्हुम)_,"
★__ इस्लाम लाने से पहले हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने एक ख्वाब देखा था , ख्वाब में आपने देखा चांद मक्का में उतर आया है और उसका एक एक हिस्सा मक्का के हर घर में दाखिल हो गया है और फिर सारा का सारा अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु की गोद में आ गया । आपने यह ख्वाब एक ईसाई आलिम को सुनाया उसने इस ख्वाब की ताबीर बयान की कि तुम अपने पैगंबर की पैरवी करोगे जिसका दुनिया इंतजार कर रही है और जिसके ज़हूर का वक़्त करीब आ गया है और यह पेरूकारों में से सबसे ज्यादा खुशकिस्मत इंसान होंगे।
★_एक रिवायत के मुताबिक आलिम ने कहा था- अगर तुम अपना ख्वाब बयान करने में सच्चे हो तो बहुत जल्द तुम्हारे गांव में से एक नबी ज़ाहिर होंगे तुम उस नबी की जिंदगी में उसके वज़ीर बनोगे और उनकी वफात के बाद उनके खलीफा होंगे।
★_कुछ अरसे बाद अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को यमन जाने का इत्तेफाक हुआ था। यमन में एक बूढ़े आदमी के घर ठहरे उसने आसमानी किताबें पढ़ रखी थी। अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को देखकर उसने कहा:- मेरा ख्याल है तुम हरम के रहने वाले हो और मेरा ख्याल है तुम कुरैश हो और तैयमी खानदान से हो _,"
अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने जवाब में फरमाया:- हां ! तुमने बिल्कुल ठीक करना ।
अब उसने कहा :-मैं तुमसे एक बात और कहता हूं ...तुम ज़रा अपने पेट पर से कपड़ा हटा का दिखाओ ।
हजरत अबू बकर सिद्दीक उसकी बात सुनकर हैरान हुए और बोले :- ऐसा मैं उस वक्त तक नहीं करूंगा जब तक कि तुम इसकी वजह नहीं बता दोगे।
इस पर उसने कहा :-मैं अपने मज़बूत इल्म की बुनियाद पर कहता हूं कि हरम के इलाक़े में एक नबी का ज़हूर होने वाला है उनकी मदद करने वाला एक नौजवान होगा और एक पुख्ता उमर वाला होगा। जहां तक नौजवान का ताल्लुक़ है वो मुश्किलात में कूद जाने वाला होगा , जहां तक पुख्ता उम्र के आदमी का ताल्लुक है वह सफेद रंग का कमजोर जिस्म वाला होगा, उसके पेट पर एक बालदार निशान होगा ,हरम का रहने वाला तैयमी खानदान का होगा और अब यह ज़रूरी नहीं कि तुम मुझे अपना पेट दिखाओ क्योंकि बाक़ी सब अलामतें तुम में मौजूद है ।
★_उसकी इस बात पर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने अपने पेट पर से कपड़ा हटाया ,वहां उनकी नाफ़ के ऊपर स्याह और सफेद बाल वाला निशान मौजूद था ,तब वह पुकार उठा :- परवरदिगार ए काबा की कसम ! तुम वही हो।
╨─────────────────────❥
*┱✿_ Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Ki Dawat -_,*
★__Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Kehte Hai'n :- Jab Mai'n Yaman me Apni kharidari aur Tijarati Kaam Kar chuka to rukhsat hone ke Waqt Uske Paas Aaya , Usne mujhse Kaha - Meri taraf SE Chand Shayr sun lo Jo Maine us Nabi ki Shaan me kahe Hai'n ,
Is per Maine Kaha - Achchhi Baat hai sunao,
Tab Usne mujhe wo Shayr sunaye , Uske baad jab Mai'n Makka Muazzama pahuncha to Nabi Kareem ﷺ Apni Nabuwat Ka elaan Kar chuke they, Foran hi mere paas Quresh ke bade bade Sardaar Aaye ,Unme zyada Aham Uqba bin Abi Mu'iyt ,Shiba , Abu Jahal aur Abul Bakhtari they ,Un logo ne mujhse Kaha :-
"_ Ey Abu Bakar ! Abu Taalib ke Yateem ne Daava Kiya hai k wo Nabi Hai'n, Agar Aapka intezar na hota to hum is Waqt tak Sabr na Karte , Ab Jabki Aap aa gaye Hai'n unse nibatna Aap hi Ka Kaam hai _,"
★_ Aur ye Baat Unhone isliye kahi thi k Hazrat Abu Bakar Raziyllahu anhu Nabi Kareem ﷺ ke qareebi Dost they ,Abu Bakar Raziyllahu anhu farmate Hai'n k Maine Achchhe Andaz SE un logo ko Taal Diya aur khud Aapke Ghar pahunch Kar Darwaze per dastak di, Aap bahar Tashreef laye, Mujhe Dekh Kar Aapne irshad farmaya:-
"_ Ey Abu Bakar ! Mai'n Tumhari aur Tamaam insano ki taraf Allah Ka Rasool Bana Kar bheja gaya Hu'n , isliye Allah Ta'ala per imaan le aao _"
Aapki Baat sun Kar Maine Kaha :- Aapke pass is Baat Ka saboot hai ?
Aapne Meri Baat sun irshad farmaya :- Us Budhe ke wo Shayr Jo Usne Aapko sunaye they _,"
Ye sun Kar Mai'n Hairaan reh gaya aur Bola :- mere dost ! Aapko unke bare me kisne bataya ?
Aap ne irshad farmaya:- us Azeem Farishte ne Jo mujhse Pehle bhi Tamaam nabiyo'n ke paas aata raha Hai _,"
Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne arz Kiya:- Apna Haath laiye ! Mai'n Gawahi deta Hu'n k Allah Ke Siva koi Ma'abood nahi aur ye k Aap Allah Ke Rasool Hai'n _,"
★_ Aap ﷺ mere imaan lane per Bahut Khush hue ,Mujhe Seene se lagaya ,Fir Kalma padh Kar Mai'n Aapke paas se waapas aa gaya ,
Musalman hone ke baad Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Jo Sabse Pehla Kaam Kiya Wo tha islam ki tablig , Unhone Apne jaanne walo ko islam Ka Paigaaam diya ,Unhe Allah aur Uske Rasool ki taraf bulaya , Chunache unki tablig ke natije me Hazrat Usman bin Affaan Raziyllahu anhu musalman hue , Hazrat Usman Raziyllahu anhu ke musalman hone ki khabar unke Chacha Hakam ko hui to Usne Unhe Pakad liya aur Kaha :- Tu Apne Baap Dada Ka Deen Chhod Kar Muhammad Ka Deen qubool karta Hai, Allah ki qasam ! Mai'n tujhe us Waqt tak nahi chhodunga jab tak k Tu is Deen ko nahi chhodega _,"
Uski Baat sun Kar Hazrat Usman Gani Raziyllahu anhu ne farmaya :- Allah ki qasam! Mai'n is Deen ko Kabhi nahi chhodunga _,"
Unke Chacha ne jab unki pukhtgi aur Saabit qadmi dekhi to Unhe Dhu'nve me khada Kar Ke takaleef pahunchayi ,Hazrat Usman Raziyllahu anhu Saabit qadam rahe ,Hazrat Usman Raziyllahu Anhu ki fazilat me Ek Hadees me Aaya hai k Nabi Kareem ﷺ ne farmaya :-
"_ Jannat me Har Nabi Ka Ek Rafeeq Yani Sathi hota hai aur mere Sathi waha'n Usman bin Affaan honge _,"
★__ Hazrat Abu Bakar Raziyllahu anhu ne islam ki tablig jari rakhi ,Aapki Koshish se Hazrat Usman Raziyllahu anhu ke baad Hazrat Zuber bin Awaam Raziyllahu anhu bhi musalman ho gaye, Us Waqt unki Umar 8 Saal thi, Isi Tarah Hazrat Abdurrahmaan bin Auf bhi Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki Koshish se musalman hue, Jahiliyat ke zamane me inka naam Abdul Al Ka'aba tha ,Nabi Kareem ﷺ ne Aapka Naam Abdurrahmaan rakha ,Ye Abdurrahmaan bin Auf Raziyllahu anhu Kehte Hai'n :-
"_ Umayya ibne Khalf Mera dost tha, Ek Roz Usne mujhse Kaha - Tumne us Naam ko Chhod diya Jo Tumhare Baap ne rakha tha_,"
Jawab me Maine Kaha :- Haa'n ! Chhod diya _,"
Ye sun Kar wo Bola :- Mai'n Rehman ko nahi jaanta , isliye Mai'n Tumhara Naam Abd ilaala rakhta Hu'n _," Chunache mushrik us Roz se mujhe Abd ilaala keh Kar pukaarne lage _,
★_ Hazrat Abdurrahmaan bin Auf Raziyllahu anhu Apne islam lane Ka Waqia is Tarah Bayan karte Hai'n :-
"_ Mai'n Aksar Yaman Jaya karta tha,Jab bhi waha'n jata Askaan bin Awakif Hamiri ke Makaan per thehra karta tha aur jab bhi Uske Yaha'n jata Wo mujhse puchha karta tha, Kya Wo Shakhs tum logo me Zaahir ho gaya hai Jiski Shohrat aur charche Hai'n , Kya Tumhare Deen ke maamle me Kisi ne mukhalfat ka elaan Kiya hai, Mai'n Hamesha Yaha Kaha karta tha k Nahi ,Esa koi Shakhs Zaahir nahi hua , Yaha'n tak k wo Saal aa gaya Jisme Nabi Kareem ﷺ Ka Zahoor hua , Mai'n us Saal Yaman gaya to usi ke Yaha'n thehra ,Usne Yahi Sawal puchha ,Tab Maine use bataya :- Haa'n unka Zahoor ho gaya hai, Unki mukhalfat bhi ho rahi hai _,"
★_ Hazrat Abdurrahmaan bin Auf ke bare me Nabi Kareem ﷺ ne irshad farmaya :- Tum Zameen walo me bhi Amanatdaar ho aur Aasman walo me bhi _,"
★__ Hazrat Abdurrahmaan bin Auf Raziyllahu anhu ke baad Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas Raziyllahu anhu ko bhi islam ki Dawat di, Unhone koi Hichkichahat Zaahir na ki foran Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke paas chale Aaye ,Aapse Aapke Paigaaam ke bare me puchha , Aap ﷺ ne Unhe bataya to ye usi Waqt musalman ho gaye, Us Waqt inki Umar 19 Saal thi, Ye Bani Zohra ke khandaan SE they , Aap ﷺ ki Waalda Majida Aamna bhi us khandaan se thi , Isliye Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas Raziyllahu anhu Huzoor Akram ﷺ ke Maamu kehlate they , Aapne Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas Raziyllahu anhu ke liye ek Baar farmaya :-
"_ Ye mere Maamu Hai'n, Hai Koi Jiske ese Maamu ho _,"
 ★_ Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas Raziyllahu anhu Jab islam laye aur unki Walda ko inke musalman hone Ka pata Chala to ye Baat Unhe Bahut nagawaar guzri , idhar ye Apni Walda ke Bahut farma bardaar they , Walda ne inse kaha :- Kya tum ye nahi samajhte k Allah Ta'ala ne tumhe Apne Bado ki Khatir daari aur Maa'n Baap ke Saath achcha maamla Karne Ka Hukm diya hai_,"
Hazrat Sa'ad Raziyllahu anhu ne Jawab diya :- Haa'n bilkul esa hi hai _,"
Ye Jawab sun Kar Walda ne Kaha:- Bas to khuda ki qasam Mai'n us Waqt tak Khana nahi khaungi jab tak Muhammad ke laye hue Paigaaam ko kufr nahi kahoge aur Asaaf aur Naa'ela Buto'n ko ja Kar chhuoge nahi _,"
★_ Us Waqt ke Mushrikeen Ka tareeqa ye tha k Wo in Buto'n ke Khule moonh me Khana aur Sharaab daala Karte they, Ab Walda ne Khana Pina Chhod diya, Hazrat Sa'ad Raziyllahu anhu ne Apni Walda se Kaha :-
"_ Khuda ki qasam Maa'n, Tumhe nahi Maloom ,Agar Tumhare paas Ek hazaar zindgiya'n hoti aur Wo sab ek ek Kar Ke is vajah se Khatm Hoti tab bhi Mai'n Nabi Kareem ﷺ ke Deen ko hargiz na chhodta , isliye ab ye Tumhari marzi hai Khao ya na Khao _,"
★_ Jab Maa'n ne inki ye mazbooti dekhi to Khana shuru Kar diya, taham Usne ab Ek aur Kaam darwaze per aa gayi aur Cheekh Cheekh Kar Kehne lagi :- Kya mujhe ese madadgaar nahi mil sakte Jo Sa'ad ke maamle me Meri madad kare Taki Mai'n ise Ghar me Qaid Kar du aur Qaid ki Haalat me ye mar Jaye ya Apne naye Deen ko Chhod de _,"
Hazrat Sa'ad farmate hai'n, Maine ye Alfaz sune to Maa'n SE Kaha :- Mai'n Tumhare Ghar Ka rukh bhi nahi karunga _,"
★__ Iske baad Hazrat Sa'ad Raziyllahu anhu Kuchh din tak Ghar na gaye , Walda tang aa gayi aur Usne Paigaaam bheja :- Tum Ghar aa jao ,doosro ke mehmaan ban Kar Hume sharminda na karo _,"
Chunache ye Ghar chale Aaye , Ab Ghar walo ne pyaar v Muhabbat se samjhana shuru Kiya, Wo unke Bhai Aamir ki misaal de Kar Kehte :- Dekho Aamir Kitna Achchha hai ,isne Apne Baap Dada Ka Deen nahi chhoda _,"
Lekin fir inke Bhai Aamir bhi Musalman ho gaye, Ab to Walda ke gaiz v gazab ki inteha na thi ,
★_ Maa'n ne Dono Buraiyo'n ko Bahut takaleef pahunchayi, Aakhir Aamir Raziyllahu anhu tang aa Kar Habsha ki Hijrat Kar gaye , Aamir Raziyllahu anhu ke Habsha Hijrat Kar Jane se Pehle Ek Roz Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas Raziyllahu anhu Ghar Aaye to Dekha Maa'n aur Aamir Raziyllahu anhu ke Charo taraf Bahut saare log Jama Hai'n, Maine puchha :- Log kyu Jana Hai'n ?
Logo ne bataya :- Ye Dekho Tumhari Maa'n ne Tumhare Bhai ko Pakad rakha hai aur Allah se Ahad Kar rahi hai k jab tak Aamir Be-Deeni nahi chhodega us Waqt tak ye na to khajoor ke saaye me bethegi aur na Khana khayegi aur na Pani piyegi _,"
Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas Raziyllahu anhu ne ye sun Kar Kaha :- Allah ki qasam ! Tum us Waqt tak khajoor ke saaye me na Betho aur us Waqt tak Kuchh na Khao piyo ,Jab tak k tum jahannam Ka iydhan na ban jao _,"
★_ Garz Unhone Maa'n ki koi Parwaah na ki aur Deen per date rahe , Isi Tarah Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki Koshisho SE Hazrat Talha Taymi Raziyllahu anhu bhi islam le Aaye, Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu inhe Huzoor Nabi Kareem ﷺ ki khidmat me laye aur ye Aapke Haath per musalman hue, iske baad Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu aur Hazrat Talha Raziyllahu anhu ne Apne islam lane Ka khul Kar elaan Kar diya , Inka elaan sun Kar Nofil ibne Udviya ne inhe Pakad liya , Us Shakhs ko Quresh Ka Sher Kaha jata tha, Usne Dono ko ek hi rassi SE baandh diya , Uski is Harkat per unke Qabile Banu Tameem ne bhi inhe na bachaya ,Ab chunki Nofil ne Dono ko ek hi rassi SE baandh diya tha aur Dono ke jism Aapas me bilkul mile hue they isliye inhe qarineen Kaha Jane laga ,Yani mile hue _,"
Nofil bin Udviya ke zulm ki vajah se Nabi Kareem ﷺ farmaya Karte they :- Ey Allah ! ibne Udviya ke Shar SE Hume bacha _,"
★_ Hazrat Talha Raziyllahu anhu Apne islam qubool Kar Lene Ka sabab is Tarah Bayan karte Hai'n :-
"_ Mai'n Ek martaba Basra ke Bazaar me gaya ,Maine waha'n Ek Raahib ko dekha Wo Apni Khanqah me khada tha aur Logo'n se keh raha tha :- is martaba Hajj SE Aane walo se puchho ,kya inme koi haram Ka Bashinda bhi hai ?"
Maine aage bad Kar Kaha - Mai'n Hu'n Haram Ka rehne wala _,"
Mera Jumla sun Kar Usne Kaha - kya Ahmad Ka Zahoor ho gaya hai ?"
Maine puchha - Ahmad Kaun ?"
Tab us Raahib ne Kaha :- "_ Ahmad bin Abdullah bin Abdul Muttalib...Ye uska Mahina hai , Woh is mahine me Zaahir Hoga ,Woh Aakhri Nabi hai , Uske Zaahir hone ki Jagah Haram hai aur uski Hijrat ki Jagah Wo ilaaqa hai Jaha'n Bagaat Hai'n ,Sabza Zaar Hai'n , isliye tum per zaroori hai k tum us Nabi ki taraf badhne me pehal Karo _,"
Us Raahib ki Kahi hui Baat mere Dil me naqsh ho gayi , Mai'n Tezi ke Saath waha'n se waapas rawana hua aur Makka Pahuncha _,"
★__ Yaha'n pahunch Kar Maine logo se Puchha :- Kya koi Naya Waqia bhi pesh Aaya hai ?"
Logo ne bataya :- Haa'n ! Muhammad bin Abdullah Ameen ne logo ko Allah ki taraf Dawat dena shuru ki hai ,Abu Bakar ne unki Pervi qubool Kar li hai _,"
Mai'n ye Sunte hi Ghar SE Nikla aur Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke paas pahunch gaya, Maine Unhe Raahib ki Saari Baat Suna di ,Saari Baat sun Kar Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Huzoor Nabi Kareem ﷺ ki khidmat me gaye aur Aapko ye Poora Waqia sunaya, Aap sun Kar Bahut Khush hue, Usi Waqt Mai'n bhi Musalman ho gaya _,"
Ye Hazrat Talha Raziyllahu anhu Asra Mubashshara me SE Hai'n ,Yani Jin Sahab Kiraam Raziyallahu Anhum ko Nabi Kareem ﷺ ne Duniya hi me Jannat ki basharat di , unme se ek Hai'n ,
★_ Is Tarah Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki Koshish se Jin Sahaba Kiraam Raziyallahu Anhum ne Kalma padha Unme se Paanch Ashra Mubashshara me Shamil Hai'n , Wo ye Hai'n - Hazrat Zuber , Hazrat Usman ,Hazrat Talha ,Hazrat Abdurrahmaan , Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas Raziyllahu Anhum , Baaz ne inme Chhate Sahabi Ka bhi izafa Kiya hai, Wo Hai'n- Hazrat Abu Ubaida bin Jarrah Raziyllahu anhu,
★_ In Hazraat me Hazrat Abu Bakar,Hazrat Usman ,Hazrat Abdurrahmaan aur Hazrat Talha Raziyllahu Anhum Kapde ke Taajir they, Hazrat Zuber Raziyllahu anhu Jaanwar Zibah Karte they aur Hazrat Sa'ad Raziyllahu anhu Teer banane Ka Kaam Karte they, 
★_ Inke baad Hazrat Abdullah ibne Masoud Raziyllahu anhu imaan laye ,Wo Apne islam lane Ka Waqia Yu'n Bayan karte Hai'n :- 
"_ Mai'n Ek din Uqba bin Abi Mu'iyt ke khandaan ki Bakriya'n chara raha tha, Us Waqt Rasulullah ﷺ waha'n aa gaye , Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu bhi Aapke Saath they ,Aapne puchha :- Kya Tumhare paas Doodh hai ?
Maine Kaha - Ji Haa'n ! Lekin Mai'n to Ameen Hu'n ( Yani ye Doodh to Amaanat hai ) ,
Aapne farmaya:- Kya Tumhare paas koi esi Bakri hai Jisne abhi koi Bachcha na diya ho ?
Maine Kaha- Ji Haa'n! Ek Esi Bakri hai _,"
Mai'n us Bakri ko Aapke qareeb le Aaya ,Uske Abhi than Poori Tarah nahi nikle they , Aapne uski thano ki Jagah per Haath faira, Usi Waqt us Bakri ke Than Doodh SE Bhar gaye _,
★_ Ye Waqi'a doosri Rivayat me Yu'n Bayan hua hai k Us Bakri ke Than Sookh chuke they, Aap ﷺ ne un per Haath faira to Wo Doodh SE Bhar gaye,
★__ Hazrat Abdullah ibne Masoud Raziyllahu anhu ye dekh Kar Hairaan ho gaye ,Wo Aapko ek saaf patthar tak le Aaye , Waha'n Beth Kar Aap ﷺ ne Bakri Ka Doodh Doha , Aapne Wo Doodh Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko pilaya ,Fir Mujhe pilaya aur Aakhir me Aapne khud piya ,Fir Aapne Bakri ke Than SE farmaya :- Simat Ja _,"
Chunache Than foran hi fir wese ho gaye Jese pehle they _,"
★__ Hazrat Abdullah ibne Masoud Raziyllahu anhu farmate Hai'n :- Jab Maine Rasulullah ﷺ Ka ye Mo'jza dekha to Aapse arz Kiya- Ey Allah ke Rasool ! Mujhe iski Haqiqat bataye'n _,"
Aapne ye sun Kar mere Sar per Haath faira aur farmaya :- Allah tum per Raham farmaye Tum to Jaankaar ho _,"
★__ Ye Abdullah bin Masoud Baap ki Bajaye Maa'n ki taraf se zyada Mash'hoor they , Inki Maa'n Ka Naam Umme Abd tha , inka was Bahut Chhota tha ,Nihayat duble patle they , Ek martaba Sahaba in per Hansne lage to Aap ﷺ ne irshad farmaya :- 
"_ Abdullah Apne martabe ke lihaaz se tarazu me Sabse bhaari hai _,"
Inhi ke bare me Nabi Kareem ﷺ ne irshad farmaya tha :- 
"_ Apni Ummat ke liye Mai'n bhi usi cheez per Raazi Ho gaya jis per ibne Umme Abd Yani Abdullah ibne Masoud Raazi ho gaye aur jis cheez ko Abdullah bin Masoud ne Ummat ke liye na-gawaar samjha , Maine bhi usko na-gawaar samjha _,"
★__ Aap ﷺ inki Bahut izzat Karte they, inhe Apne qareeb bithaya Karte they, inse Kisi Ko chhupaya nahi Karte they, isliye ye Aapke Ghar me aate Jate they, Ye Nabi Kareem ﷺ ke aage aage ya Saath Saath Chala Karte they, Aap jab Gusl farmate to ye hi Parde ke liye Chaadar taan Kar khade Hote they, Aap jab so jate to ye hi Aapko Waqt per jagaya Karte they, isi Tarah jab Aap Kahi Jane ke liye khade Hote they to Hazrat Abdullah ibne Masoud Raziyllahu anhu Aapko joote pehnate they , Fir jab Aap Kahi pahunch Kar beth jate to ye Aapke joote utha Kar Apne Haath me le liya Karte they, inki inhi baato ki vajah se Baaz Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum me Mash'hoor tha k ye Rasulullah ﷺ ke gharane walo me se Hai'n , inhe Aap ﷺ ne Jannat ki basharat di thi _,"
★_ Hazrat Abdullah bin Masoud Raziyllahu anhu farmaya Karte they :- 
"_ Duniya Tamaam ki Tamaam Gamo'n ki poonji hai ,isme agar koi Khushi hai to Wo Sirf Waqti faayde ke tor per hai _,"
★_ Hazrat Abdullah bin Masoud Raziyllahu anhu ke baad Hazrat Abuzar Gafaari Raziyllahu anhu imaan laye, Hazrat Abuzar Gafaari Raziyllahu anhu Apne islam lane Ka Waqia Bayan karte hue farmate hai'n :- 
"_ Aan'Hazrat  ﷺ per wahi Aane se bhi teen Saal Pehle SE Mai'n Allah Ta'ala ke liye Namaz padha karta tha aur jis Taraf Allah Ta'ala Mera rukh Kar dete , Mai'n us taraf chal padta tha , Usi zamane me Hume Maloom hua k Makka Muazzama me Ek Shakhs Zaahir hua hai, Uska Daava hai k wo Nabi hai , Ye sun Kar Maine Apne Bhai Anees SE Kaha - Tum us Shakhs ke paas Ja'o,usse  Baat cheet Karo aur aa Kar mujhe is Baat cheet ke bare me bata'o _,"
★__ Chunache Anees ne Nabi Kareem ﷺ SE Mulaqaat ki ,Jab wo waapas Aaye to Maine Aap ﷺ ke bare me puchha , Unhone bataya :- 
"__ Allah ki qasam ! Maine Ek ese Shakhs ke paas aa raha Hu'n Jo Achchhaiyo'n Ka Hukm Deta Hai AUR Buraiyo'n SE rokta hai _,
aur ek rivayat me hai k Maine tumhe usi Shakhs ke Deen per paya hai , Uska Daava hai k Use Allah ne Rasool Bana Kar bheja hai, Maine us Shakhs ko dekha k wo neki aur Buland Akhlaaq ki taleeem deta hai _,"
Maine puchha - log Uske bare me Kya Kehte Hai'n ?
Anees ne bataya :-. Log Uske bare me Kehte Hai'n k ye Kaahin aur Jadugar hai Magar Allah ki qasam wo Shakhs sachcha hai aur Wo log jhoote Hai'n _,"
Ye Tamaam baate sun Kar Maine Kaha - Bas Kaafi hai, Mai'n khud ja Kar unse milta Hu'n _,"
Anees ne foran Kaha - Zaroor ja Kar Milo Magar Makka walo se Bach Kar rehna _,"
★_ Chunache Maine Apne moze pehne ,Laathi Haath me li aur rawana ho gaya, Jab Mai'n Makka pahuncha to Maine Logo'n ke Saamne esa Zaahir Kiya jese Mai'n us Shakhs ko jannta hi nahi aur Uske bare me puchhna bhi Pasand nahi karta , Mai'n Ek maah tak Masjide Haraam me thehra raha ,Mere Paas Sivaye Zamzam Ke khane ko Kuchh Nahi tha ,Iske bavjood Mai'n Zamzam ki Barkat SE mota ho gaya , Mere Pet ki Silwate Khatm ho gayi, Mujhe Bhook Ka bilkul ahsaas nahi hota tha , Ek Raat jab Haram me koi Tawaaf Karne wala nahi tha ,Allah Ke Rasool ﷺ Ek saathi ( Abu Bakar Raziyllahu anhu ) ke Saath waha'n Aaye aur Betullaah Ka tawaaf Karne lage ,Iske baad Aapne aur Aapke Saathi ne Namaz padhi ,Jab Aap Namaz SE Faarig ho gaye to Mai'n Aapke Nazdeek Chala gaya aur Bola :- 
"_ Assalamu Alaikum Ya Rasulallah , Mai'n Gawahi deta Hu'n k Allah Ta'ala ke Siva koi ibaadat ke laa'iq nahi aur ye k Muhammad ﷺ Allah Ke Rasool Hai'n _,"
 ★__ Maine mm mehsoos Kiya Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke chehre per Khushi ke Asaar namudaar ho gaye, Fir Aapne mujhse puchha :- Tum kon ho ?
Maine Jawab me Kaha :- Ji Mai'n Gafaar Qabile Ka Hu'n , 
Aapne puchha- Yaha'n kabse Aaye hue ho ?
Maine arz Kiya- Tees Din aur Tees Raato SE Yaha'n Hu'n ,
Aapne puchha - Tumhe Khana kon khilata hai ?
Maine arz Kiya- mere paas Sivaye Zamzam Ke koi Khana nahi, isko pi pi Kar mota ho gaya Hu'n , Yaha'n tak k mere Pet ki Silwate tak Khatm ho gayi Hai'n aur mujhe Bhook Ka bilkul ahsaas nahi hota_,"
Aapne farmaya:- Mubarak ho ,Ye Zamzam Behatreen Khana aur Har Bimaari ki Dava hai _,"
★_ Zamzam Ke bare me Ahadees me aata hai, Agar tum Aabe Zamzam ko is niyat SE piyo k Allah Ta'ala tumhe iske zariye Bimariyo'n SE shifa ata farmaye to Allah Ta'ala shifa ata farmata hai aur agar is niyat SE piya Jaye k iske zariye Pet Bhar Jaye aur Bhook na rahe to Aadmi shikam Sher ho jata hai aur agar is niyat SE piya Jaye k Pyaas Ka Asar baqi na rahe to Pyaas Khatm ho Jati Hai, iske zariye Allah Ta'ala ne isma'iyl Alaihissalam ko Sairaab Kiya tha ,
Ek Hadees me aata hai k Ji Bhar Kar Zamzam Ka Pani Pina Apne Aapko nifaaq SE door Karna Hai, 
Aur ek Hadees me hai k Humme aur munafiqo me ye Farq hai k wo log Zamzam SE Sairaabi haasil Nahi Karte _,"
★_ Haa'n to Baat ho rahi thi Abuzar Gafaari Raziyllahu anhu ki ...Kaha jata hai k Abuzar Gafaari Islam me Pehle Aadmi Hai'n Jinhone Aap ﷺ ki islami Salaam ke Alfaz ke mutabiq salaam Kiya , inse Pehle Kisi ne Aap ﷺ ko in Alfaz me salaam nahi Kiya tha_,"
Ab Abuzar Raziyllahu anhu ne Aap ﷺ SE is Baat per bayt ki k Allah Ta'ala ke maamle me wo Kisi malamat karne  wale ki malamat SE nahi ghabrayenge aur ye k Hamesha Haq aur Sachchi Baat kahenge Chahe Haq sunne wale ke liye Kitna hi Kadwa kyu na ho _,"
★__ Ye Hazrat Abuzar Raziyllahu anhu Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki wafaat ke baad Mulke Shaam ke ilaaqe me Hijrat Kar gaye they ,Fir Hazrat Usman Raziyllahu anhu ki khilafat me inhe Shaam SE waapas bula liya gaya aur fir ye Rabza ke Muqaam per aa Kar rehne lage they , Rabza ke Muqaam per hi inki wafaat hui thi _,
★__ inke imaan lane ke bare me Ek rivayat ye Hai k jab ye Makka Muazzama Aaye to inki Mulaqaat Hazrat Ali Raziyllahu anhu se hui thi aur Hazrat Ali Raziyllahu anhu ne inko Aap ﷺ SE milwaya tha _,"
★__ Abuzar Raziyllahu anhu Kehte Hai'n:- Bayt Karne Ke baad Nabi Kareem ﷺ inhe Saath le gaye ,Ek Jagah Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne ek Darwaza khola ,Hum andar dakhil hue ,Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Hume Angoor pesh kiye ,is Tarah ye pehla Khana tha Jo Maine Makka me Aane ke baad Khaya _,"
Iske baad Nabi Akram ﷺ ne inse farmaya:- Ey Abuzar is maamle ko abhi chhupaye rakhna ,ab to tum Apni Qaum me waapas jao aur Unhe bata'o Taki Wo log mere paas aa sake ,Fir jab tumhe Maloom ho k Humne khud Apne maamle Ka khullam khulla elaan Kar diya hai to us Waqt tum Hamare paas aa Jana _,"
★__ Aap ﷺ ki Baat sun Kar Hazrat Abuzar Gafaari Raziyllahu anhu bole :- Qasam hai us zaat ki Jisne Aapko Sachchayi de Kar bheja , Mai'n un logo ke darmiyaan khade ho Kar pukaar pukaar Kar elaan karunga _,"
Hazrat Abuzar Raziyllahu anhu Kehte Hai'n- Mai'n imaan lane wale Dehaati logo me SE Paanchva Aadmi tha _,"
Garz Jis Waqt Quresh ke log Haram me Jama hue , inhone Buland Awaaz me chilla Kar Kaha :- Mai'n Gawahi deta Hu'n Sivaye Allah Ta'ala ke koi Ma'abood nahi aur Mai'n Gawahi deta Hu'n k Muhammad ﷺ Allah Ta'ala ke Rasool Hai'n _,"
★_ Buland Awaaz me ye Elaan sun Kar Qureshiyo ne Kaha :- is bad deen ko Pakad lo _,"
Unhone Hazrat Abuzar Raziyllahu anhu ko Pakad liya aur be inteha maara ,Ek rivayat me Alfaz ye Hai'n, Wo log in per Chad daude , Poori Quwwat se inhe maarne lage Yaha'n tak k ye behosh ho Kar gir pade , Us Waqt Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu darmiyaan me aa gaye ,Wo in per jhuk gaye aur Qureshiyo SE Kaha :- Tumhara Bura ho ! Kya tumhe Maloom nahi k ye Shakhs Qabila Gafaar se hai inka ilaaqa Tumhari Tijarat Ka Raasta hai _,
★__ unke  Kehne Ka Matlab ye tha k Qabila Gafaar ke log Tumhara Raasta band Kar denge , is per un logo ne inhe Chhod diya _,"
Abuzar Raziyllahu anhu farmate Hai'n- iske baad Mai'n Zamzam Ke Kunve ke paas Aaya, Apne badan SE Khoon dhoya ,Agle Din Maine fir elaan Kiya :- Mai'n Gawahi deta Hu'n k Allah Ke Siva koi ibaadat ke laa'iq nahi aur Muhammad ﷺ Allah Ke Rasool Hai'n_,"

★__ Unhone fir mujhe maara ,Us Roz bhi Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu hi ne mujhe unse chhudaya , fir Mai'n waha'n se waapas hua aur Apne Bhai Anees ke paas Aaya ,
📕_ Seeratun Nabi ﷺ_Qadam Ba Qadam ( Writer- Abdullah Farani ),,*     
 ╨─────────────────────❥
★_ हज़रत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की दावत_,"*
★__ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु कहते हैं :- जब मैं यमन में अपनी खरीदारी और तिजारती  काम कर चुका तो रुखसत होने के वक्त उसके पास आया , उसने मुझसे कहा :- मेरी तरफ से चंद शेर सुन लो जो मैंने उस नबी की शान में कहे हैं ।
इस पर मैंने कहा- अच्छी बात है , सुनाओ ।
तब उसने मुझे वो शेर सुनाएं। उसके बाद जब मैं मक्का मुअज्ज़मा पहुंचा तो नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अपनी नबूवत का ऐलान कर चुके थे । फौरन ही मेरे पास कुरेश के बड़े-बड़े सरदार आए उनमें ज्यादा अहम उक़्बा बिन अबी मुईत, शिबा, अबू जहल और अबुल बखतारी थे। उन लोगों ने मुझसे कहा :- अबू बकर ! अबू तालिब के यतीम ने दावा किया है कि वह नबी हैं अगर आपका इंतजार ना होता तो हम इस वक्त तक सब्र ना करते ,अब जबकि आप आ गए हैं उनसे निबटना आप ही का काम है_,"
★__ और यह बात उन्होंने इसलिए कही थी कि हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के क़रीबी दोस्त थे । अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि मैंने अच्छे अंदाज से उन लोगों को टाल दिया और खुद आपके घर पहुंच कर दरवाजे पर दस्तक दी । आप बाहर तशरीफ लाए, मुझे देखकर आपने इरशाद फरमाया - ए अबू बकर! मैं तुम्हारी और तमाम इंसानों की तरफ अल्लाह का रसूल बनाकर भेजा गया हूं , इसलिए अल्लाह ताला पर ईमान ले आओ _,"
आपकी बात सुनकर मैंने कहा:- आपके पास इस बात का सबूत है?
आपने मेरी बात सुनकर इरशाद फरमाया :- उस बूढ़े के वह शेर जो उसने आपको सुनाए थे।
यह सुनकर मैं हैरान रह गया और बोला :- मेरे दोस्त ! आपको उनके बारे में किसने बताया ?
आपने इरशाद फरमाया :-उस अज़ीम फरिश्ते ने जो मुझसे पहले भी तमाम नबियों के पास आता रहा है _,"
हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया :- अपना हाथ लाइए , मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं और यह कि आप अल्लाह के रसूल है _,"
★_आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम मेरे ईमान लाने पर बहुत खुश हुए ,मुझे सीने से लगाया। फिर कलमा पढ़कर मैं आपके पास से वापस आ गया।
मुसलमान होने के बाद हज़रत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने जो सबसे पहला काम किया वह था इस्लाम की तबलीग । उन्होंने अपने जानने वालों को इस्लाम का पैगाम दिया उन्हें अल्लाह और उसके रसूल की तरफ बुलाया चुनांचे उनकी तबलीग के नतीजे में हजरत उस्मान बिन अफ्फान रजियल्लाहु अन्हु मुसलमान हो गये । हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु के मुसलमान होने की खबर उनके चाचा हमक को हुई तो उसने उन्हें पकड़ लिया और कहा तू अपने बाप दादा के दीन  को छोड़कर मोहम्मद का दीन कुबूल करता है, अल्लाह की कसम मैं तुझे उस वक्त तक नहीं छोडूंगा जब तक कि तू इस दीन को नहीं छोड़ेगा ।
उसकी बात सुनकर हजरत उस्मान गनी रजियल्लाहु अन्हु ने फरमाया :- अल्लाह की कसम मैं इस दीन को कभी नहीं छोडूंगा ।
उनके चाचा ने जब उनकी पुख्तगी और साबित क़दमी देखी तो उन्हें धुंवें में खड़ा करके तकलीफ पहुंचाई , हज़रत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु साबित क़दम रहे। उस्मान रजियल्लाहु अन्हु की फजी़लत में एक हदीस में आया है ,नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया :-
"_जन्नत में हर नबी का एक रफीक़ यानी साथी होता है और मेरे साथी वहां उस्मान बिन अफ्फान होंगे _,"
[
★__ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने  इस्लाम की तबलीग ज़ारी रखी, आपकी कोशिश से हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु के बाद हजरत जु़बेर बिन आवाम रजियल्लाहु अन्हु भी मुसलमान हो गए उस वक्त उनकी उम्र 8 साल थी। इसी तरह हजरत अब्दुर्रहमान बिन औफ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की कोशिश से मुसलमान हुए , जाहिलियत के ज़माने में इनका नाम अब्दुल अल-का'बा था, नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने आपका नाम अब्दुर्रहमान रखा,  यह अब्दूर्रहमान बिन औफ रजियल्लाहु अन्हु कहते हैं कि उमैया इब्ने खल्फ मेरा दोस्त था एक रोज़ उसने मुझसे कहा- तुमने उस नाम को छोड़ दिया जो तुम्हारे बाप ने रखा था ।
जवाब में मैंने कहा& हां छोड़ दिया ।
यह सुनकर वह बोला मैं रहमान को नहीं जानता इसलिए मैं तुम्हारा नाम अब्द इलाला रखता हूं ।चुनांचे मुशरिक उस रोज़ से मुझे अब्द इलाला कहकर पुकारने लगे।
★_ हजरत अब्दुर्रहमान बिन औफ रजियल्लाहु अन्हु अपने इस्लाम लाने का वाक़या इस तरह बयान करते हैं :-  मैं अक्सर यमन जाया करता था ,जब भी वहां जाता असकान बिन अवाकिफ हमीरी के मकान पर ठहरा करता था और जब भी उसके यहां जाता वह मुझसे पूछा करता था -क्या वह शख्स तुम लोगों ने ज़ाहिर हो गया है जिसकी शोहरत और चर्चे हैं ,क्या तुम्हारे दीन के मामले में किसी ने मुखालफत का ऐलान किया है ? मैं हमेशा यही कहा करता था कि नहीं , ऐसा कोई शख्स जा़हिर नहीं हुआ ।
यहां तक कि वह साल आ गया जिसमें नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का ज़हूर हुआ , मैं उस साल यमन गया तो उसी के यहां ठहरा, उसने यही सवाल पूछा ,तब मैंने उसे बताया -हां उनका ज़हूर हो गया है उनकी मुखालफत भी हो रही है।
★_हजरत अब्दुर्रहमान बिन औफ के बारे में नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- तुम ज़मीन वालों में भी अमानत दार हो और आसमान वालों में भी ।"
★_हजरत अब्दुर्रहमान बिन औफ रजियल्लाहु अन्हु के बाद हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने हजरत साद बिन अबी वक़ास रजियल्लाहु अन्हु को भी इस्लाम की दावत दी, उन्होंने कोई हिचकिचाहट ज़ाहिर ना की फोरन हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के पास चले आए, आपसे आपके पैगाम के बारे में पूछा, आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने बताया तो यह उसी वक्त मुसलमान हो गए, उस वक्त उनकी उम्र 19 साल थी ।
यह बनी ज़ोहरा के खानदान से थे,  आपकी वाल्दा माजिदा आमना भी उस खानदान से थी इसलिए हजरत साद बिन अबी वका़स रजियल्लाहू अन्हु  हुजूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही  वसल्लम के मामू कहलाते थे । आपने हजरत साद बिन वक़ास रजियल्लाहु अन्हु के लिए एक बार फरमाया :-
"_यह मेरे मामू हैं , हे कोई जिसके ऐसे मामू हो ! _,"
★__ हजरत साद बिन अबी वका़स रजियल्लाहु अन्हु जब इस्लाम लाएं और इनकी वाल्दा को इनके मुसलमान होने का पता चला तो यह बात उन्हें बहुत नागवार गुज़री । इधर यह अपनी वाल्दा के बहुत फरमाबरदार थे। वालदा ने इनसे कहा :-  क्या तुम यह नहीं समझते कि अल्लाह ताला ने तुम्हें अपने बड़ों की खातिरदारी और मां-बाप के साथ अच्छा मामला करने का हुक्म दिया है ।
हजरत साद रजियल्लाहु अन्हु ने जवाब दिया :-  हां बिल्कुल ऐसा ही है ।
यह जवाब सुनकर वाल्दा ने कहा:- बस तो खुदा की कसम मैं उस वक्त तक खाना नहीं खाऊंगी जब तक मुहम्मद के लाए हुए पैगाम को कुफ्र नहीं कहोगे और असाफ और नायला बुतों को जाकर छुओगे नहीं _,"
★_उस वक्त के मुशरिकीन का तरीक़ा यह था कि वह इन बुतों के खुले मुंह में खाना और शराब डाला करते थे । अब वालदा ने खाना पीना छोड़ दिया , हजरत साद रजियल्लाहु अन्हु ने अपनी वाल्दा से कहा :- खुदा की कसम मां तुम्हें नहीं मालूम अगर तुम्हारे पास 1000 जिंदगियां होती और वह सब एक-एक करके इस वजह से खत्म होती तब भी मैं नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के दीन को हरगिज़ ना छोड़ता, इसलिए अब यह तुम्हारी मर्जी है खाओ या ना खाओ_,"
★_जब मां ने इनकी यह मजबूती देखी तो खाना शुरु कर दिया , ताहम उसने अब एक और काम किया दरवाज़े पर आ गई और चीख चीख कर कहने लगी :- क्या मुझे ऐसे मददगार नहीं मिल सकते जो साद के मामले में मेरी मदद करें ताकि मैं इसे घर में क़ैद कर दूं और क़ैद की हालत में यह मर जाए या अपने नए दीन को छोड़ दें ।
हजरत साद फरमाते हैं मैंने यह अल्फाज़ सुने तो मां से कहा- मैं तुम्हारे घर का रुख से भी नहीं करूंगा_"
★_इसके बाद हजरत साद रजियल्लाहु अन्हु कुछ दिन तक घर ना गए , वालदा तंग आ गई और उसने पैगाम भेजा- तुम घर आ जाओ दूसरों के मेहमान बन कर हमे शर्मिंदा ना करो।
चुनांचे यह घर चले आए अब घर वालों ने प्यार व मोहब्बत से समझाना शुरू किया,  वह इनके भाई आमिर की मिसाल देकर कहती :- देखो आमिर कितना अच्छा है उसने अपने बाप दादा का दीन नहीं छोड़ा ।
लेकिन फिर इनके भाई आमिर भी मुसलमान हो गए अब तो वालदा के गैज़ व गज़ब की इंतेहा ना रही ।
★__ मां ने दोनों भाइयों को बहुत तकालीफ पहुंचाई , आखिर आमिर रज़ियल्लाहु अन्हु ने तंग आकर हबशा को हिजरत कर गए,  आमिर रज़ियल्लाहु अन्हू के हबशा हिजरत कर जाने से पहले एक रोज़ हजरत साद बिन अबी वका़स रजियल्लाहू अन्हु  घर आए तो देखा कि मां और आमिर रज़ियल्लाहु अन्हु के चारों तरफ बहुत सारे लोग जमा हैं ।मैंने पूछा- लोग क्यों जमा है ?
लोगों ने बताया -यह देखो तुम्हारी मां ने तुम्हारे भाई को पकड़ रखा है और अल्लाह से अहद कर रही है कि जब तक आमिर बे-दीनी नहीं छोड़ेगा उस वक्त तक यह ना तो खजूर के साए में बैठेगी और खाना खाएगी और ना पानी पिएगी _,
हजरत साद बिन अबी वका़स रजियल्लाहू अन्हु ने यह सुनकर कहा:-  अल्लाह की क़सम !  तुम उस वक्त तक खजूर के साए में ना बैठो और उस वक्त तक कुछ ना खाओ पियो जब तक कि तुम जहन्नम का ईंधन ना बन जाओ ।"
★__ गर्ज़ उन्होने मां की कोई परवाह नहीं की और दीन पर डटे रहे । इसी तरह हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की कोशिशों से हजरत तल्हा तयमी रज़ियल्लाहु अन्हु भी इस्लाम ले आए । हजरत अबू बकर सिद्दीक रजि अल्लाह इन्हें हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में लाए , यह आपके हाथ पर मुसलमान हुए । इसके बाद हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु और हजरत तल्हा रजियल्लाहु अन्हु ने अपने इस्लाम लाने का खुल कर ऐलान कर दिया।  उनका एलान सुन कर नोफिल इब्ने उदविया ने इन्हें पकड़ लिया क्षय, उस शख्स को कुरेश का शेर कहा जाता था । उसने दोनों को एक ही रस्सी से बांध दिया, उसकी इस हरकत पर उनके कबीले बनू तमीम ने भी इन्हें ना बचाया । अब चुंकी नोफिल दोनों को एक ही रस्सी से बांधा था और दोनों के जिस्म आपस में बिल्कुल मिले हुए थे इसलिए इन्हें क़रीनीन कहा जाने लगा यानी मिले हुए ।
नोफिल बिन उदविया के जुल्म की वजह से नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम फरमाया करते थे - अल्लाह इब्ने उदविया के शर से हमें बचा _,"
★_हजरत तल्हा रजियल्लाहु अन्हु अपने इस्लाम कुबूल कर लेने का सबब इस तरह बयान करते हैं :-
"_  मैं एक मर्तबा बसरा के बाज़ार में गया , मैंने वहां एक राहिब को देखा , वह अपनी खानकाह में खड़ा था और लोगों से कह रहा था :- इस मर्तबा हज  से आने वालों से पूछो क्या इनमें कोई हरम का बाशिंदा भी है ।
मैंने आगे बढ़ कर कहा- मैं हूं हरम का रहने वाला ।
मेरा जुमला सुनकर उसने कहा- क्या अहमद का ज़हूर हो गया है?
मैंने पूछा -अहमद कौन?
तब उस राहिब ने कहा- अहमद बिन अब्दुल्लाह बिन अब्दुल मुत्तलिब... यह उसका महीना है, वह इस महीने में ज़ाहिर होगा ,वह आखरी नबी है , उसके ज़ाहिर होने की जगह हरम है और उसकी हिजरत की जगह वो इलाका़ है जहां बागात हैं सब्ज़ा जा़र है इसलिए तुम पर ज़रूरी है कि तुम उस नबी की तरफ बढ़ने में पहल करो _,"
उस राहिब की बात मेरे दिल में नक्श कर गई। मैं तेजी के साथ वहां से वापस रवाना हुआ और मक्का पहुंचा ।
★_यहां पहुंचकर मैंने लोगों से पूछा :- क्या कोई नया वाक़्या पेश आया है ?
लोगों ने बताया -हां मोहम्मद बिन अब्दुल्लाह अमीन ने लोगों को अल्लाह की तरफ दावत देना शुरू की है,  अबू बकर ने उनकी पैरवी क़ुबूल कर ली है _,"
मैं यह सुनते ही घर से निकला और अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के पास पहुंच गया। मैंने उन्हें राहिब की सारी बात सुना दी। सारी बात सुनकर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की खिदमत में गये और आपको यह पूरा वाक़या सुनाया । आप सुनकर बहुत खुश हुए, उसी वक्त में भी मुसलमान हो गया ।
यह हजरत तल्हा रजियल्लाहु अन्हु अशरा मुबश्शरा में से हैं यानी जिन सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने दुनिया ही में जन्नत की बशारत दी, उनमें से एक हैं।
 
★__ इसी तरह हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की कोशिश से जिन सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने कलमा पढ़ा उनमें से पांच अशरा मुबश्शरा में शामिल हैं ।वह यह है -हजरत जु़बेर, हजरत उस्मान, हजरत तल्हा, हजरत अब्दुर्रहमान, हजरत साद बिन अबी वका़स रजियल्लाहू अन्हुम , बाज़ ने इनमें छठे सहाबी का भी इज़ाफ़ा किया है ,वह है -हजरत अबू उबैदा बिन जर्राह रज़ियल्लाहु अन्हु।
★_इन हजरत में हजरत अबू बकर, हजरत उस्मान, हजरत अब्दुर्रहमान और हजरत तल्हा रजियल्लाहु अन्हुम कपड़े के ताजिर थे । हजरत जु़बेर रजियल्लाहु अन्हु जानवर ज़िबह करते थे और हजरत साद रजियल्लाहु अन्हु तीर बनाने का काम करते थे।
★__ इनके बाद हजरत अब्दुल्लाह बिन मस'ऊद रज़ियल्लाहु अन्हु ईमान लाए, वह अपने इस्लाम लाने का वाकि़या यूं बयान करते हैं :- 
"_ मैं एक दिन उक़बा बिन अबी मुईत के खानदान की बकरियां चरा रहा था उस वक्त रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम वहां आ गए अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु भी आपके साथ थे । आपने पूछा- क्या तुम्हारे पास दूध है ?
मैंने कहा -जी हां , लेकिन मैं तो अमीन हूं ( यानी यह दूध तो अमानत है)
आपने फरमाया - क्या तुम्हारे पास कोई ऐसी बकरी है जिसने अभी कोई बच्चा ना दिया हो? 
मैंने कहा -जी हां , एक ऐसी बकरी है। 
मैं उस बकरे को आपके क़रीब ले आया उसके अभी थन पूरी तरह नहीं निकले थे । आपने उसके थन की जगह पर हाथ फैरा, उसी वक्त उस बकरी के थन दूध से भर गए _,"
"_ यह वाक्य दूसरी रिवायत में यूं बयान हुआ है कि उस बकरी के थन सूख चुके थे आपने उन पर हाथ फेरा तो वह दूध से भर गए।
★_ हजरत अब्दुल्लाह बिन मस'ऊद रजियल्लाहू अन्हू यह देखकर हैरान रह गए । वह आपको एक साफ पत्थर पर ले आए । वहां बैठकर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने बकरी का दूध दोहा । आपने दूध अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को पिलाया, फिर मुझे पिलाया और आखिर में आपने खुद पिया । फिर आपने बकरी के थन से फरमाया - सिमट जा _",
चुनांचे थन फौरन ही फिर वैसे हो गए जैसे पहले थे।
★__ हजरत अब्दुल्लाह बिन मस'ऊद रजियल्लाहू अन्हू फरमाते हैं -जब मैंने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का यह मोज्जा़ देखा तो आपसे अर्ज किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! मुझे इसकी हकीकत बताएं ।
आपने मेरी बात सुनकर मेरे सर पर हाथ फेरा और फरमाया :- अल्लाह तुम पर रहम फरमाए तुम तो जानकार हो ।
★_यह अब्दुल्लाह बिन मस'ऊद बाप की बजाय मां की तरफ से ज्यादा मशहूर थे , इनकी मां का नाम उम्मेअब्द था । इनका क़द बहुत छोटा था, निहायत दुबले पतले थे । एक मर्तबा सहाबा इन पर हंसने लगे तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- 
"_ अब्दुल्लाह अपने मर्तबे के लिहाज़ से तराजू में सबसे भारी हैं।"
इन्हीं के बारे में नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया था :- 
"_अपनी उम्मत के लिए मैं भी उसी चीज़ पर राज़ी हो गया जिस पर इब्ने उम्मे अब्द यानी अब्दुल्लाह इब्ने मस'ऊद राज़ी हो गए और जिस चीज को अब्दुल्लाह बिन मस'ऊद ने उम्मत के लिए नागवार समझा मैंने भी उसको नागवार समझा _,"
★_ आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम इनकी बहुत इज्ज़त करते थे , इन्हें अपने क़रीब बिठाया करते थे , इनसे किसी को छुपाया नहीं करते थे। इसीलिए यह आपके घर में आते जाते थे। यह नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के आगे आगे या साथ-साथ चला करते थे । आप जब गुस्ल फरमाते तो यही पर्दे के लिए चादर तान कर खड़े होते थे,  आप जब सो जाते तो यही आपको वक्त पर जगाया करते थे। इसी तरह जब आप कहीं  जाने के लिए खड़े होते थे तो हजरत अब्दुल्लाह बिन मस'ऊद रजियल्लाहू अन्हू आपको जूते पहनाते थे, फिर जब कहीं पहुंच कर बैठ जाते तो यह आपके जूते उठाकर अपने हाथ में ले लिया करते थे। इनकी इन्हीं बातों की वजह से बाज़ सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम मैं मशहूर था कि यह रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के घराने वालों में से हैं। 
इन्हें आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने जन्नत की बशारत दी थी।
★_हजरत अब्दुल्लाह बिन मस'ऊद रजियल्लाहु अन्हु फरमाते थे :-  दुनिया तमाम की तमाम गमों की पूंजी है इसमें अगर कोई खुशी है तो वह सिर्फ वक्ति फायदे के तौर पर है।
★__ हजरत अब्दुल्लाह बिन मस'ऊद रजियल्लाहू अन्हू के बाद हजरत अबुज़र गफारी रज़ियल्लाहु अन्हु ईमान लाए, हजरत अबूज़र गफारी रज़ियल्लाहु अन्हु अपने इस्लाम लाने का वाक़या बयान करते हुए फरमाते हैं :- आन हज़रत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम पर वही आने से 3 साल पहले से मैं अल्लाह ताला के लिए नमाज़ पढ़ा करता था और जिस तरफ अल्लाह ताला मेरा रूख कर देते मैं उसी तरफ चल पडता था, उसी ज़माने में हमें मालूम हुआ कि मक्का में एक शख्स जाहिर हुआ है उसका दावा है कि वह नबी है। यह सुनकर मैंने अपने भाई अनीस से कहा- तुम उस शख्स के पास जाओ उससे बातचीत करो और आकर मुझे उस बातचीत के बारे में बताओ।
★_चुनांचे अनीस ने नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से मुलाकात की । जब वह वापस आए तो मैंने उनसे आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के बारे में पूछा उन्होंने बताया :-  अल्लाह की कसम मैं एक ऐसे शख्स के पास आ रहा हूं जो अच्छाइयों का हुक्म देता है और बुराइयों से रोकता है ।
और एक रिवायत में है कि मैंने तुम्हें उसी शख्स के दीन पर पाया है , उसका दावा है कि उसे अल्लाह ने रसूल बनाकर भेजा है मैंने उस शख्स को देखा है कि वह नेकी और बुलंद अखलाक़ की तालीम देता है _,"
मैंने पूछा-  लोग उसके बारे में क्या कहते हैं ? 
अनीस ने बताया - लोग उसके बारे में कहते हैं कि यह काहिन और जादूगर है ,मगर अल्लाह की क़सम वह शख्स सच्चा है और वह लोग झूठे हैं ।
यह तमाम बातें सुनकर मैंने कहा- बस काफी है मैं खुद जाकर उनसे मिलता हूं _,"
अनीस ने फौरन कहा- ज़रूर जाकर मिलो मगर मक्का वालों से बच कर रहना_,"
★_चुनांचे मैंने अपने मोजे़ पहने लाठी हाथ में ली और रवाना हो गया । जब मैं मक्का पहुंचा तो मैंने लोगों के सामने ऐसा जाहिर किया जैसे मैं उस शख्स को जानता ही नहीं और उसके बारे में पूछना भी पसंद नहीं करता । मैं एक माह तक मस्जिद ए हराम में ठहरा रहा। मेरे पास सिवाय जमजम के खाने को कुछ नहीं था इसके बावजूद में जमजम की बरकत से मोटा हो गया,  मेरे पेट की सिलवटें खत्म हो गई ,मुझे भूख का बिल्कुल एहसास नहीं होता था।  एक रोज़ जब हरम में कोई तवाफ करने वाला नहीं था अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम एक साथी (अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु ) के साथ वहां आए और बैतुल्लाह का तवाफ करने लगे । इसके बाद आपने और आपके साथी ने नमाज़ पढ़ी । जब आप नमाज से फारिग हो गए तब मैं आपके नज़दीक चला गया और बोला :-
"_  अस्सलामु अलैकुम या रसूलल्लाह , मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह ताला के सिवा कोई इबादत के लायक़ नहीं और यह कि मुहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अल्लाह के रसूल हैं।
 ★__ मैंने महसूस किया हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के चेहरे पर खुशी के आसार नमूदार हो गए फिर आपने मुझसे पूछा -तुम कौन हो?
 मैंने जवाब में कहा- जी मैं गफार कबीले का हूं ।  
आपने पूछा- यहां कब से आए हो? 
मैंने अर्ज़ किया -30 दिन और 30 रातों से यहां हूं। 
आपने पूछा- तुम्हें खाना कौन खिलाता है ?
मैंने अर्ज़ किया -मेरे पास सिवाय जमजम के कोई खाना नहीं इसको पी पीकर मोटा हो गया हूं यहां तक कि मेरे पेट की सिलवटें तक खत्म हो गई है और मुझे भूख का बिल्कुल एहसास नहीं होता ।
आपने फरमाया- मुबारक हो यह जमजम बेहतरीन खाना और हर बीमारी की दवा है।
★_ जमजम के बारे में अहादीस में आता है, अगर तुम आबे जमजम को इस नियत से पियो कि अल्लाह ताला तुम्हें इसके जरिए बीमारियों से शिफा अता फरमाए, तो अल्लाह ताला शिफा अता फरमाता है और अगर इस नियत से पिया जाए कि इसके जरिए पेट भर जाए और भूख ना रहे तो आदमी शिकमशेर हो जाता है और अगर इस नियत से पिया जाए कि प्यास का असर बाकी ना रहे तो प्यास खत्म हो जाती है ,इसके जरिए अल्लाह ताला ने इस्माइल अलैहिस्सलाम  को सैराब किया था।
एक हदीस में आता है कि जी भर कर जमजम का पानी पीना अपने आप को निफाक़ से दूर करना है। हदीस में है कि हममे और मुनाफिको में यह फर्क है कि वह लोग जमजम से सैराबी हासिल नहीं करते।
★__ हां तो बात हो रही थी अबूजर गफ्फारी  रजियल्लाहु अन्हु की... कहा जाता है कि अबूजर गफारी इस्लाम में पहले आदमी हैं जिन्होंने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को इस्लामी सलाम के अल्फ़ाज़ के मुताबिक सलाम किया ,उनसे पहले किसी ने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को इन अल्फ़ाज़ में सलाम नहीं किया था।
अबूजर रज़ियल्लाहु अन्हु ने  आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से इस बात पर बैत की कि  अल्लाह ताला के मामले में वह किसी मलामत करने वाले की मलामत से नहीं घबराएंगे और यह कि हमेशा हक और सच्ची बात कहेंगे चाहे हक़ सुनने वाले के लिए कितना ही कड़वा क्यों ना हो _,"
★_यह  हजरत अबूजर रज़ियल्लाहु अन्हु हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की वफात के बाद मुल्के शाम के इलाके में हिजरत कर गए थे फिर हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु की खिलाफत में इन्हें शाम से वापस बुला लिया गया और फिर यह रबज़ा के मुकाम पर आकर रहने लगे थे , रकबज़ा के मुकाम पर ही इनकी वफात हुई थी । 
★__इनके ( अबुज़र गफारी रज़ियल्लाहु अन्हु के ) ईमान लाने के बारे में एक रिवायत यह हैं कि जब यह मक्का मुअज्ज़मा आए तो इनकी मुलाक़ात हजरत अली रजियल्लाहु अन्हु से हुई थी और हजरत अली रजियल्लाहु अन्हु ने इनको आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से मिलाया था।
★__ अबूजर रज़ियल्लाहु अन्हु कहते हैं- बैत करने के बाद नबी करीम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम इन्हें साथ ले गए एक जगह हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने एक दरवाजा खोला, हम अंदर दाखिल हुए, अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने हमें अंगूर पेश किए इस तरह यह पहला खाना था जब मैंने मक्का में आने के बाद खाया_,"
इसके बाद नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया - ऐ अबूजर इस मामले को अभी छुपाए रखना ,अब तो तुम अपनी क़ौम में वापस जाओ और उन्हें बताओ ताकि वह लोग मेरे पास आ सके ,फिर जब तुम्हें मालूम हो कि हमने खुद अपने मामले का खुल्लम खुल्ला ऐलान कर दिया है तो उस वक्त तुम हमारे पास आ जाना।
★__ आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की बात सुनकर हजरत अबूजर गफारी रजियल्लाहु अन्हु बोले - क़सम है उस जात की जिसने आपको सच्चाई देकर भेजा मैं उन लोगों के दरमियान खड़े होकर पुकार पुकार कर ऐलान करूंगा। 
हजरत अबूजर रज़ियल्लाहु अन्हु कहते हैं-  मैं ईमान लाने वाले देहाती लोगों में से पांचवा आदमी था _,"
गर्ज़ जिस वक्त क़ुरेश के लोग हरम में जमा हुए इन्होंने बुलंद आवाज में चिल्लाकर कहा -मैं गवाही देता हूं सिवाय अल्लाह ताला के कोई माबूद नहीं और मैं गवाही देता हूं कि मुहम्मद सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम अल्लाह ताला के रसूल हैं।

★__ बुलंद आवाज में यह ऐलान सुनकर क़ुरेशियों ने कहा -इस बद दीन को पकड़ लो _,
उन्होंने हजरत अबूजर गफा़री रज़ियल्लाहु अन्हु को पकड़ लिया और बेइंतेहा मारा। एक रिवायत में अल्फाज़ यह हैं कि वह लोग इन पर चढ़ दौड़े पूरी कुव्वत से इन्हे मारने लगे, यहां तक कि यह बेहोश होकर गिर पड़े । उस वक्त हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु दरमियान में आ गए, वो इन पर झुक गए और क़ुरेशियों से कहा - तुम्हारा बुरा हो ! क्या तुम्हें मालूम नहीं कि यह शख्स क़बीला गफार से है इनका इलाका़ तुम्हारी तिजारत का रास्ता है।

★_ उनके कहने का मतलब यह था कि कबीला गफार के लोग तुम्हारा रास्ता बंद कर देंगे। इस पर उन लोगों ने इन्हें छोड़ दिया।
अबूजर रज़ियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं -इसके बाद मै जमजम के कुएं के पास आया ,अपने बदन से खून धोया । अगले दिन मैंने फ़िर ऐलान किया- 
"_मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह के सिवा कोई इबादत के लायक़ नहीं और मुहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अल्लाह के रसूल है।

★__ उन्होंने फिर मुझे मारा उस रोज़ भी हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु ही ने मुझे उन से छुड़ाया । फिर मैं वहां से वापस हुआ और अपने भाई अनीस के पास आया।   
        
*📕_ सीरतुन नबी ﷺ _ क़दम बा क़दम (मुसन्निफ- अब्दुल्लाह फारानी) ,*
 ╨─────────────────────❥
★__ Abuzar Gafaari Raziyllahu Anhu Ki Apni Qaum Ko Dawat _,*
★__ Anees ne mujhe Kaha - Tum Kya Kar Aaye ho ?
Maine Jawab diya- Musalman ho gaya Hu'n aur Maine Muhammad ﷺ ki tasdeeq kar di hai , 
Is per Anees ne Kaha- Mai'n bhi Buto'n se bezaar Hu'n aur islam qubool Kar chuka Hu'n, 
Iske baad hum Dono Apni Walda ke paas Aaye to Wo Boli :- Mujhe pichhle Deen SE koi dilchaspi nahi rahi , Mai'n bhi islam qubool Kar chuki Hu'n , Allah Ke Rasool ﷺ ki tasdeeq Kar chuki Hu'n ,
★_ Iske baad hum Apni Qaum Gifaar ke paas Aaye ,Unse Baat ki ,Unme SE Aadhe to usi Waqt musalman ho gaye,Baqi logo ne Kaha- Jab Rasulullah ﷺ Tashreef layenge hum us Waqt musalman honge , Chunache jab Rasulullah ﷺ Madina munavvara Tashreef laye to Qabila Gifaar ke baqi log bhi musalman ho gaye ,
"_ In Hazraat ne Jo ye Kaha tha k Jab Rasulullah ﷺ Tashreef layenge hum us Waqt musalman honge to unke ye Kehne ki vajah ye thi k Nabi Kareem ﷺ ne Makka me Hazrat Abuzar Gafaari Raziyllahu anhu se irshad farmaya tha :- 
"_ Mai'n nakhlistaan Yani Khajooro ke baag ki sarzameen me jaunga Jo Yasrib ke Siva koi nahi hai , To Kya tum Apni Qaum Ko ye Khabar pahunchaoge , Mumkin hai is Tarah Tumhare zariye Allah Ta'ala un logo ko faayda pahuncha de aur tumhe unki vajah se Ajr mile _,"
★__ Iske baad Nabi Kareem ﷺ ke paas Qabila Aslam ke log Aaye , Unhone Aapse arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool ! Hum bhi isi Baat per musalman Hote Hai'n Jis per Hamare Bhai Qabila Gifaar ke log musalman hue_,"
Nabi Akram ﷺ ne ye sun Kar farmaya - Allah Ta'ala Gifaar ke logo ki magfirat farmaye aur Qabila Aslam ko Allah Salamat rakhe _,"
★_ Ye Abuzar Gafaari Raziyllahu anhu Ek martaba Hajj Ke liye Makka gaye , Tawaaf ke Dauraan Kaabe ke paas thehar gaye , Log unke Chaaro taraf Jama ho gaye , Us Waqt Unhone logo se Kaha :- Bhala bata'o ! Tumme se koi Safar me jane Ka iraada karta Hai to kya Wo Safar Ka Samaan Saath nahi leta ?
Logo'n ne Kaha - Beshak Saath leta hai ,
Tab Aapne farmaya :- To fir Yaad rakho ! Qayamat Ka Safar Duniya ke har Safar SE Kahi'n zyada lamba hai aur Jiska tum Yaha'n iraada Karte ho ,isiliye Apne Saath us Safar Ka wo Samaan le lo Jo tumhe faayda pahunchaye _,"
Logo'n ne Puchha :- Hume kya cheez faayda pahunchayegi ?
Hazrat Abuzar Gafaari Raziyllahu anhu bole :- Buland Maqsad ke liye Hajj Karo , Qayamat ke Din Ka Khayal Kar Ke ese Dino'n me Roze rakho Jo sakht Garmi ke din honge aur Qabr ki wehshat aur Andhere Ka khayal Karte hue ,Raat ki Tareeki me uth Kar Namaze Padho _,"
 ╨─────────────────────❥
★__ अबूजर गफा़री रज़ियल्लाहु अन्हु की अपनी क़ौम को दावत_,*
★__ अनीस ने मुझसे कहा -तुम क्या कर आए हो ?
मैंने जवाब दिया- मुसलमान हो गया हूं और मैंने मुहम्मद सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम की तस्दीक कर दी है ।
इस पर अनीस ने कहा- मैं भी बुतों से बेजार हूं और इस्लाम कुबूल कर चुका हूं ।
इसके बाद हम दोनों अपनी वाल्दा के पास आए ,तो वह बोली- मुझे पिछले दीन से कोई दिलचस्पी नहीं रही, मैं भी इस्लाम कुबूल कर चुकी हूं, अल्लाह के रसूल की तस्दीक कर चुकी हूं ।
★_उसके बाद हम अपनी क़ौम ग़िफार के पास आए ,उनसे बात की ,उनमें से आधे तो उसी वक्त मुसलमान हो गए । बाक़ी लोगों ने कहा -जब रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम तशरीफ लाएंगे हम उस वक्त मुसलमान होंगे । चुनांचे जब रसूलल्लाह सल्लल्लाहु अलेहीवसल्लम मदीना मुनावारा तशरीफ लाए क़बीला ग़िफार के बाक़ी लोग भी मुसलमान हो गए।
इन हजरात में जो यह कहा था कि जब रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम तशरीफ लाएंगे हम उस वक्त मुसलमान होंगे तो उनके यह कहने की वजह यह थी कि नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने मक्का में हजरत अबूजर गफा़री रज़ियल्लाहु अन्हु से इरशाद फरमाया था :-
"_मैं नखलिस्तान यानी खजूरों के बाग की सरज़मीन में जाऊंगा, जो यसरिब के सिवा कोई नहीं है ,तो क्या तुम अपनी क़ौम को यह खबर पहुंचा दोगे ? मुमकिन है इस तरह तुम्हारे ज़रिए अल्लाह ताला उन लोगों को फायदा पहुंचा दें और तुम्हें उनकी वजह से अज्र मिले।
★__ इसके बाद नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास क़बीला असलम के लोग आए उन्होंने आपसे अर्ज किया :- ऐ अल्लाह के रसूल ! हम भी उसी बात पर मुसलमान होते हैं जिस पर हमारे भाई क़बीला ग़िफार के लोग मुसलमान हुए हैं ।
नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने यह सुनकर फरमाया :- अल्लाह ताला ग़िफार के लोगों की मग्फिरत फरमाए और क़बीला असलम को अल्लाह सलामत रखे।
★_यह हजरत अबूजर ग़फारी रज़ियल्लाहु अन्हु एक मर्तबा हज के लिए मक्का गए , तवाफ के दौरान काबे के पास ठहर गए, लोग इन के चारों तरफ जमा हो गए। उस वक्त उन्होंने लोगों से कहा :-भला बताओ तो ! तुममे से कोई सफर में जाने का इरादा करता है तो क्या वह सफर का सामान साथ नहीं लेता ?
लोगों ने कहा- बेशक साथ लेता है।
तब आपने फरमाया- तो फिर याद रखो क़यामत का सफर दुनिया के हर सफर से कहीं ज्यादा लंबा है और जिसका तुम यहां इरादा करते हो ,इसीलिए अपने साथ उस सफर का वो सामान ले लो जो तुम्हें फायदा पहुंचाए_," 
लोगों ने पूछा- हमें क्या चीज़ फायदा पहुंचाएगी ?
हजरत अबूजर बोले - बुलंद मक़सद के लिए हज करो, क़यामत के दिन का ख्याल करके ऐसे दिनों में रोजे रखो जो सख्त गर्मी के दिन होंगे और क़ब्र की वहशत और अंधेरे का ख्याल करते हुए रात की तारीकी में उठ कर नमाज़े पढ़ो।
 ╨─────────────────────❥
★_ Hazrat Khalid bin Saied Raziyllahu Anhu Ka Khwab_,*
★__ Hazrat Abuzar Gafaari Raziyllahu anhu ke baad Hazrat Khalid bin Saied Raziyllahu Anhu imaan laye ,Kaha jata hai, Dehaat ke logo me SE musalman hone walo me ye Teesre ye chothe Aadmi they , Ek Qaul ye Hai k Paanchve they ,Ye Apne Buraiyo'n me Sabse Pehle musalman hue,
★_ Inke islam lane Ka Waqia Yu'n hai k inhone Khwab me jahannam ko dekha, Uski Aag Bahut Khofnaak Andaz me bhadak rahi thi ,Ye khud jahannam ke kinaare khade they , Khwab me inhone dekha k inka Baap inhe jahannam me dhakelna Chahta hai Magar Nabi Kareem ﷺ inka Daaman Pakad Kar inhe Dozakh me girne SE rok rahe Hai'n, Us Waqt ghabrahat ke Aalam me inki Aankh khul gayi , inhone foran Kaha :- Mai'n Allah ki qasam kha Kar Kehta Hu'n k ye Khwab sachcha hai _,"
★__ Saath hi inhe Yaqeen ho gaya k Jahannam SE inhe Rasulullah ﷺ hi bacha sakte Hai'n, Foran Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke paas Aaye, Unhe Apna Khwab sunaya , Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne farmaya :- is Khwab me Tumhari Bhala'i aur Khayr Poshida hai , Allah Ke Rasool mojood Hai'n, Unki Pervi Karo _,"
★__ Chunache Hazrat Khalid bin Saied Raziyllahu Anhu foran hi Nabi Kareem ﷺ ki khidmat me Haazir hue, Unhone Aap ﷺ SE Puchha :- Ey Muhammad ! Aap kis Baat ki Dawat dete Hai'n_,"
Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Mai'n is Baat ki Dawat Deta Hu'n k Allah Ek hai ,Uska koi Shareek nahi, Koi Uske barabar Ka nahi aur ye k Muhammad Allah Ke Bande aur Rasool Hai'n aur tum Jo ye Pattharo ki ibaadat Karte ho Usko Chhod do ,Ye Patthar na Sunte Hai'n aur na faayda pahuncha sakte Hai'n _,"
Ye Sunte hi Hazrat Khalid bin Saied Raziyllahu Anhu musalman ho gaye ,
★__ inke Waalid Ka Naam Saied bin Aas tha ,Use Bete ke islam qubool Karne Ka pata Chala to Aag baboola ho gaya, Bete ko Kode SE maarna shuru Kiya Yaha'n tak k itne Kode maare k Koda toot gaya , Fir usne Kaha :- 
"_ Tune Muhammad ki Pervi ki Halanki Tu Jaanta hai Wo Poori Qaum ke khilaf ja raha Hai, Wo Apni Qaum ke Ma'aboodo ko Bura Kehta hai _,"
Ye sun Kar Hazrat Khalid bin Saied Raziyllahu Anhu bole :- Allah ki qasam! Wo Jo Paigaaam le Kar Aaye Hai'n Maine usko qubool Kar liya hai _,"
Is Jawab per Wo aur Gazabnaak hua aur Bola :- Khuda ki qasam ! Mai'n tera Khana Pina band Kar dunga _,"
Hazrat Khalid bin Saied Raziyllahu Anhu ne Jawab diya :- Agar Aap Mera Khana Pina band Kar denge to Allah Ta'ala mujhe Roti dene wala Hai _,"
★__ Tang aa Kar Saied ne Bete ko Ghar SE nikaal diya Saath hi Apne baqi Beto SE Kaha :- Agar tumme se Kisi ne bhi isse Baat cheet ki , Mai'n Uska bhi Yahi hashr karunga _,"
Hazrat Khalid bin Saied Raziyllahu Anhu Ghar SE Nikal Kar Huzoor Nabi Kareem ﷺ ki khidmat me aa gaye ,Iske baad wo Aapke Saath hi rehne lage ,Baap SE bilkul be talluq ho gaye, Yaha'n tak k Jab Musalmano ne Kaafiro ke mazalim SE tang aa Kar Habsha ki taraf Hijrat ki to ye Hijrat Karne walo me se Pehle Aadmi they 
★__ Ek martaba inka Baap bimaar hua ,Us Waqt Usne qasam khayi ,Agar khuda ne mujhe is bimaari SE sahat de di to Mai'n Makka me Kabhi Muhammad ke khuda ki ibaadat nahi hone dunga _,"
Baap ki ye Baat Hazrat Khalid bin Saied Raziyllahu Anhu tak pahunchi to unhone Kaha :- Ey Allah use is marz se Kabhi nijaat na dena , 
Chunache inka Baap usi marz me mar gaya ... Khalid bin Saied Raziyllahu Anhu Pehle Aadmi Hai'n Jinhone Bismillahir Rahmaanir Raheem likhi _," 
★__ inke baad inke Bhai Amru bin Saied Raziyllahu Anhu musalman ho gaye, Unke musalman hone Ka sabab ye hua k inhone Khwab me Ek Noor Dekha .. Noor Zamzam Ke paas se nikla aur usse Madina ke Baag tak Roshan ho gaye aur itne Roshan hue k unme Madina ki taza khajoore nazar aane lagi , Inhone ye Khwab Logo'n se bayan kiya to inse Kaha gaya - Zamzam Abdul Muttalib ke khandaan Ka Ku'nwa hai aur ye Noor bhi usi unhi me se Zaahir Hoga ,Fir jab inke Bhai Khalid Raziyllahu Anhu musalman ho gaye to inhe Khwab ki Haqeeqat Nazar Aane lagi , Chunache ye bhi Musalman ho gaye ,
★_ Inke alawa Saied ki Aulaad me se Rayaan aur Hakam bhi Musalman hue ,Hakam Ka Naam Nabi Kareem ﷺ ne Abdullah rakha _,
★__ Isi Tarah ibtedayi Dino me Musalman hone walo me Hazrat Suheb Raziyllahu Anhu bhi they ,inka Baap Iraan ke Baadshah Kisra Ka governor tha ,Ek martaba Qaisar ki Faujo ne Uske ilaaqe per Hamla Kiya , Is Ladayi me Suheb Raziyllahu giraftaar ho gaye, inhe Gulaam bana liya gaya ,Us Waqt ye Bachche they , Chunache ye Gulaami ki Haalat me hi Room me Pale bade , Wahi'n Jawan hue ,Fir Arab ke Kuchh Logo'n ne inhe Khareed liya aur Farokht Karne Ke liye Makka ke qareeb Ukaaz Ke Bazaar me le Aaye ,is Bazaar me Mela Lagta tha us mele me Gulaamo ki khareed farokht Hoti thi ,Mele se ek Shakhs Abdullah bin Jad'aan ne khareed liya ,
★__ Is Tarah ye Makka me Gulaamo ki Zindgi guzaar rahe they k Nabi Kareem ﷺ Ka Zahoor ho gaya, inke Dil me aayi k Ja Kar Baat to suno ... Ye Soch Kar Ghar se nikle ,Raaste me inki Mulaqaat Ammaar bin Yaasir Raziyllahu Anhu se hui , Unhone inse Puchha :- Suheb Kaha'n ja rahe ho ?
Ye foran bole :- Mai'n Muhammad ke paas ja raha Hu'n Taki unki Baat sunu aur dekhu ...Wo kis cheez ki taraf Dawat dete Hai'n ..,
Ye sun Kar Ammaar bin Yaasir Raziyllahu Anhu bole :- Mai'n bhi isi iraade se nikla Hu'n , 
Ye sun Kar Suheb Raziyllahu Anhu bole :- Tab fir ikatthe hi chalte Hai'n, 
Ab Dono Ek Saath qadam Uthane lage 
,💕ʀєαd, ғσʟʟσɯ αɳd ғσʀɯαʀd 💕,*
 ╨─────────────────────❥
★_ हज़रत खालिद बिन सईद रज़ियल्लाहु अन्हु का ख्वाब _,"*
★_ हजरत अबूजर गफारी रजियल्लाहु अन्हु के बाद हजरत खालिद बिन सईद रज़ियल्लाहु अन्हु ईमान लाए, कहा जाता है देहात के लोगों में से मुसलमान होने वालों में यह तीसरे या चौथे आदमी थे । एक क़ौल यह है कि 5 वे थे , यह अपने भाइयों में सबसे पहले मुसलमान हुए।
★_ इनके इस्लाम लाने का वाकि़या यूं है :- इन्होंने ख्वाब में जहन्नम को देखा ,उसकी आग बहुत खौफनाक अंदाज में भड़क रही थी ,यह खुद जहन्नम के किनारे खड़े थे । ख्वाब में इन्होंने देखा कि उनका बाप इन्हें जहन्नम में धकेलना चाहता है मगर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम इनका दामन पकड़ कर इन्हें दोजख में गिरने से रोक रहे हैं। उसी वक्त घबराहट के आलम में इनकी आंख खुल गई, इन्होंने फौरन कहा:-  मैं अल्लाह की क़सम खाकर कहता हूं यह ख्वाब सच्चा है।
★__ साथ ही इन्हें यकीन हो गया कि जहन्नम से इन्हें रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ही बचा सकते हैं । फौरन अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के पास आए उन्हें अपना ख्वाब सुनाया। अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने फ़रमाया:-  इस ख्वाब में तुम्हारी भलाई और खैर पोशीदा है ,अल्लाह के रसूल मौजूद है उनकी पेरवी करो ।
★__ चुंनाचे हजरत खालिद बिन सईद रज़ियल्लाहु अन्हु फौरन ही नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए, इन्होंने आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से पूछा :- ए मोहम्मद ! आप किस बात की दावत देते हैं ?
आपने इरशाद फरमाया :- मैं इस बात की दावत देता हूं कि अल्लाह एक है उसका कोई शरीक़ नहीं, कोई उसके बराबर का नहीं और यह कि मुहम्मद अल्लाह के बंदे और रसूल है और तुम जो यह पत्थरों की इबादत करते हो उसको छोड़ दो यह पत्थर ना सुनते हैं ना देखते हैं ना नुकसान पहुंचा सकते हैं और ना फायदा पहुंचा सकते हैं ।
यह सुनते ही हजरत खालिद बिन सईद रज़ियल्लाहु अन्हु मुसलमान हो गए। 
★_ इनके वालिद का नाम सईद बिन आस था, उसे बेटे के इस्लाम कबूल करने का पता चला तो आग बबूला हो गया । बेटे को कोड़े से मारना शुरू किया यहां तक कि इतने कोड़े मारे कि कोड़ा टूट गया । फिर उसने कहा :- तूने मुहम्मद की पैरवी की हालांकि तू जानता है वह पूरी क़ौम के ख़िलाफ़ जा रहा है वह अपनी क़ौम के मा'बूदों को बुरा कहता है। 
यह सुनकर हजरत खालिद बिन सईद रज़ियल्लाहु अन्हु बोले - अल्लाह की क़सम ! वह जो पैगाम लेकर आए हैं मैंने उसको क़ुबूल कर लिया है ।
इस जवाब पर वह और गजब नाक हुआ और बोला- खुदा की क़सम !  मैं तेरा खाना पीना बंद कर दूंगा ।
हजरत खालिद बिन सईद रज़ियल्लाहु अन्हु ने जवाब दिया - अगर आप मेरा खाना पीना बंद कर देंगे तो अल्लाह ताला मुझे रोटी देने वाला है_,"
★_ तंग आ कर सईद ने बेटे को घर से निकाल दिया साथ ही अपने बाक़ी बेटों से कहा- अगर तुममें से किसी ने भी इससे बातचीत की मैं उसका भी यही हश्र करूंगा ।
हजरत खालिद बिन सईद रज़ियल्लाहु अन्हु घर से निकलकर हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में आ गए। इसके बाद वह आपके साथ ही रहेने लगे । बाप से बिल्कुल बे-ताल्लुक हो गए, यहां तक की जब मुसलमानों ने काफीरो के मजा़लिम से तंग आकर हबशा की तरफ हिजरत की तो यह हिजरत करने वालों में से पहले आदमी थे ।
★_एक मर्तबा इनका बाप बीमार हुआ । उस वक्त उसने कसम खाई -अगर खुदा ने मुझे इस बीमारी से सहत दे दी तो मैं मक्का में कभी मुहम्मद के खुदा की इबादत नहीं होने दूंगा ।
बाप की यह बात हजरत खालिद बिन सईद रज़ियल्लाहु अन्हु तक पहुंची तो उन्होंने कहा - अल्लाह उसे इस मर्ज से कभी निजात ना देना ।
चुनांचे इनका बाप उसी मर्ज में मर गया। खालिद बिन सईद रज़ियल्लाहु अन्हु पहले आदमी हैं जिन्होंने "_बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम _," लिखी ।
★__ इनके बाद इनके भाई अमरू बिन सईद रज़ियल्लाहु अन्हु मुसलमान हो गए । इनके  मुसलमान होने का सबब यह हुआ कि इन्होंने ख्वाब में एक नूर देखा... नूर ज़मज़म के पास से निकला और उससे मदीना के बाग तक रोशन हो गए और इतने रोशन हुए कि उनमें मदीने की ताजा खजूरे नजर आने लगी । इन्होंने यह ख्वाब लोगों से बयान किया तो इनसे कहा गया ज़मज़म अब्दुल मुत्तलिब के खानदान का कुआं है और यह नूर भी उन्हीं में से जाहिर होगा । फिर जब इनके भाई खालिद रज़ियल्लाहु अन्हु मुसलमान हो जाए तो इन्हें ख्वाब की हकीकत नजर आने लगी चुनांचे यह भी मुसलमान हो गए।
★_इनके अलावा सईद की औलाद में से रयान और हकम भी मुसलमान हुए । हकम का नाम नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने अब्दुल्लाह रखा।
★_ इसी तरह इब्तेदाई दिनों में मुसलमान होने वालों में हज़रत सुहेब रज़ियल्लाहु अन्हु भी थे। इनका बाप ईरान के बादशाह किसरा का गवर्नर था ।एक मर्तबा क़ैसर की फौजों ने इसके इलाके पर हमला किया । उस लड़ाई में सोहेब रज़ियल्लाहु अन्हु गिरफ्तार हो गए यह गुलाम बना लिये गये । उस वक्त यह बच्चे थे चुंनाचे यह गुलामी की हालत में ही रूम में पले बढ़े वहीं जवान हुए फिर अरब के कुछ लोगों ने इन्हें खरीद लिया और फरोख्त करने के लिए मक्का के करीब उका़ज के बाजार में ले आए । इस बाजार में मेला लगता था और मेले में गुलामों की खरीद-फरोख्त होती थी मेले से एक शख्स अब्दुल्लाह ने खरीद लिया।
★_इस तरह यह मक्का में गुलामी की जिंदगी गुजार रहे थे कि नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का ज़हूर हो गया । इनके दिल में आई कि जाकर बात तो सुनूं... यह सोचकर घर से निकले , रास्ते में इनकी मुलाकात अम्मार बिन यासिर रज़ियल्लाहु अन्हु से हुई ।उन्होंने इनसे पूछा :- सुहेब कहां जा रहे हो ?
यह फौरन बोले :- मैं मुहम्मद के पास जा रहा हूं ताकि उनकी बात सुनूं और देखू... वह किस चीज की तरफ दावत देते हैं ।
यह सुनकर अम्मार बिन यासिर रज़ियल्लाहु अन्हु बोले :- मैं भी इसी इरादे से घर से निकला हूं ।
यह सुनकर सुहेब रज़ियल्लाहु अन्हु बोले :- तब फिर इकट्ठे ही चलते हैं । 
अब दोनों एक साथ कदम उठाने लगे।,*
 ╨─────────────────────❥
★_ Islam Ka Pehla Markaz _,* 

★_ Hazrat Suheb aur Hazrat Ammaar Raziyllahu Anhum Dono Aap ﷺ ki khidmat me Haazir hue, Aapne Dono ko Apne paas bithaya ,Jab ye Beth Gaye to Aapne inke Saamne islam pesh Kiya aur Qurane Kareem ki Jo Ayaat Aap per us Waqt tak Naazil ho chuki thi Wo padh Kar sunayi , in Dono ne usi Waqt islam qubool Kar liya , Usi Roz Shaam tak ye Dono Nabi Kareem ﷺ ke paas rahe ,Shaam ko Dono chupke se chale Aaye,

★_ Hazrat Ammaar Raziyllahu Anhu sidhe Apne Ghar pahunche to inke Maa'n Baap ne inse Puchha k Din Bhar Kaha'n they , inhone foran hi bata Diya k wo Musalman ho chuke Hai'n, Saath hi inhone unke Saamne bhi islam pesh Kiya aur us Din Unhone Qurane Paak Ka Jo hissa Yaad Kiya tha Wo unke Saamne tilawat Kiya , Un Dono ko ye kalaam Behad Pasand Aaya, Dono foran hi bete ke haath per Musalman ho gaye ,Isi Buniyad per Nabi Kareem ﷺ Hazrat Ammaar bin Yaasir Raziyllahu Anhu ko Al Tayyab Al Muteeb Kaha Karte they Yani Paakbaaz aur Paak Karne wala ,

★_ isi Tarah Hazrat Imran Raziyllahu Anhu islam laye to Kuchh arse baad inke Waalid Hazrat Husen Raziyllahu Anhu bhi Musalman ho gaye , inke islam lane ki tafseel Yu'n hai _,
"_ Ek martaba Quresh ke log Nabi Kareem ﷺ se Mulaqaat ke liye aaye ,Unme Hazrat Husen Raziyllahu Anhu bhi they, Quresh ke log to bahar reh gaye ,Husen Raziyllahu Anhu andar chale gaye, Nabi Kareem ﷺ ne inhe dekh kar farmaya :- in buzurg ko Jagah do _,
Jab Wo beth gaye tab Hazrat Husen Raziyllahu Anhu ne Kaha :- Ye Aapke bare me hume kesi baate Maloom ho rahi Hai'n, Aap Hamare Ma'aboodo ko Bura Kehte Hai'n ?
Nabi Kareem ﷺ ne irshad farmaya :- Ey Husen Aap Kitne Ma'aboodo ko poojte Hai'n ?
Hazrat Husen Raziyllahu Anhu ne Jawab diya :- Hum Saat Ma'aboodo ki ibaadat Karte Hai'n, unme SE Kuchh to Zameen me Hai'n, Ek Asmaan per ,
Is per Aapne farmaya :- aur agar Aapko koi nuqsaan pahunch Jaye to fir Aap kisse madad maangte Hai'n ?

★_ Hazrat Husen Raziyllahu Anhu bole - is Soorat me Hum usse Dua maangte Hai'n Jo Asmaan per hai ,
Ye Jawab sun Kar Aapne farmaya:- Wo to tanha tumhari Duae'n sun Kar Poori karta Hai aur tum Uske Saath doosro ko bhi Shareek Karte ho , Ey Husen kya tum Apne is shirk SE Khush ho , islam qubool Karo , Allah Ta'ala tumhe salaamti dega _,"
Hazrat Husen Raziyllahu Anhu ye Sunte hi Musalman ho gaye, Usi Waqt inke bete Hazrat Imran Raziyllahu Anhu uth Kar Baap ki taraf bade aur unse lipat gaye ,

★__ iske baad Hazrat Husen Raziyllahu Anhu ne waapas Jane Ka irada Kiya to Aap  ﷺ ne Apne Sahaba Kiraam Raziyallahu Anhum se farmaya :- inhe inke Ghar tak pahuncha Kar aaye'n ,
Hazrat Husen Raziyllahu Anhu jab Darwaze se Bahar nikle to waha'n Quresh ke log mojood they, inhe dekhte hi bole :- Lo ye bhi Be-Deen ho gaya _,"
Iske baad wo sab log Apne gharo ko laut gaye aur Sahaba kiraam ne Hazrat Husen Raziyllahu Anhu ko unke Ghar tak pahunchaya  _,"
 ★_ isi Tarah Teen Saal tak Nabi Kareem ﷺ Khufiya tor per tablig Karte rahe ,is Dauraan Jo Shakhs bhi Musalman hota tha Wo Makka ki ghatiyo'n me Chhup Kar Namaze Ada karta tha,

★__ Fir Ek Din esa hua k Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas Raziyllahu anhu Kuchh doosre Sahaba ke Saath Makka ki ek ghaati me they Achanak waha'n Quresh ki ek Jama'at pahunch gayi ,Us Waqt Sahaba Namaz padh rahe they, Mushriko ko ye dekh Kar Bahut gussa Aaya,Wo in per Chad daude,Saath me Bura Bhala bhi keh rahe they, Ese me Hazrat Sa'ad bin Abi Waqaas Raziyllahu ne inme SE ek ko Pakad liya aur usko Ek zarb lagayi ,isse uski khaal fat gayi ,Khoon beh nikla ,Ye pehla Khoon hai Jo islam ke Naam per bahaya gaya ,

★_ Ab Qureshi dushmani per utar Aaye, is bina per Nabi Kareem ﷺ Hazrat Arqam Raziyllahu Anhu ke Makaan per Tashreef le Aaye Taki Dushmano se bachav rahe , is Tarah Hazrat Arqam Raziyllahu Anhu Ka ye Makaan islam Ka pehla markaz bana , is makaan ko Daare Arqam Kaha jata hai,Nabi Kareem ﷺ ke Daare Arqam me Tashreef lane se Pehle logo ki ek Jama'at musalman ho chuki thi, Ab Namaz Daare Arqam me Ada hone lagi ,Nabi Kareem ﷺ Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ko wahi'n per Namaz padhate , Wahi'n Beth Kar ibaadat Karte aur Musalmano ko Deen ki Taleeem dete ,is Tarah Teen Saal guzar gaye ,Fir Allah Ta'ala ne Aapko Elaaniya Tablig Ka Hukm farmaya -,_"

★_ Elaaniya Tablig ki ibtida bhi Daare Arqam SE hui ,Pehle Aap ﷺ Yaha'n Khufiya tor per Dawat dete rahe they Yaha'n tak k Allah Ta'ala ne Surah Ash Shu'araa me Aapko Hukm farmaya :- 

"_ Aur Aap Apne Nazdeek ke Ahle khandaan ko daraiye _," 
Ye Hukm milte hi Aap kaafi pareshan hue , Yaha'n tak k Aapki Fufiyo'n ne khayal Kiya k Aap Kuchh Bimaar Hai'n Chunache Wo Aapki Bimaar Pursi ke liye Aapke pass aayi ,Tab Aapne unse farmaya :- 
"_ Mai'n Bimaar nahi Hu'n Balki mujhe Allah Ta'ala ne Hukm diya hai k Mai'n Apne Qareebi Rishtedaro ko Aakhirat ke azaab SE darau'n , isliye Mai'n Chahta Hu'n k Tamaam Bani Abdul Muttalib ko Jana Karo aur Unhe Allah ki taraf Aane ki Dawat du'n _,"
Zaroor Jama Kare'n Magar Abu Lahab ko na bulaiyega Kyunki Wo hargiz Aapki Baat nahi maanega _,"
 ★__ Abu Lahab Ka doosra Naam Abd Uzza tha ,Ye Aap ﷺ Ka Chacha tha aur Bahut Khoobsurt tha Magar Bahut sangdil aur magroor tha ,
Doosre Din Nabi Kareem ﷺ ne Bani Abdul Muttalib ke paas Dawat bheji ,is per Wo sab Aapke Yaha'n Jama ho gaye,inme Abu Lahab bhi tha ,Usne Kaha - 
"_ Ye Tumhare Chacha aur unki Aulaade Jama Hai'n,Tum Jo Kuchh kehna Chahte ho kaho aur Apni Be Deeni ko Chhod do ,Saath hi tum ye bhi samajh lo k Tumhari Qaum me Yani Humme itni Taaqat nahi hai k Tumhare Khatir saare Arbo se Dushmani le sake ,Lihaza agar tum Apne maamle per ade rahe to Khud Tumhare khandaan walo hi Ka Sabse zyada Farz Hoga k Tumhe Pakad Kar Qaid Kar de Kyunki Quresh ke Tamaam khandaan aur Qabile tum per Chad daude isse to Yahi Behtar hoga k hum hi tumhe Qaid Kar de'n ,
Aur mere Bhatije Haqeeqat ye Hai k Tumne Jo Cheez Apne Rishtedaro ke Saamne pesh ki hai isse badtar cheez Kisi aur Shakhs ne Aaj tak pesh Nahi ki hogi _,"

★_ Aapne uski Baat ki taraf koi tavajjoh nahi Farmayi aur haazreen ko Allah Ka Paigaaam sunaya ,Aapne farmaya :- 
"_ Ey Quresh ! Kaho Allah Ke Siva koi Ma'abood nahi aur Muhammad Allah Ke Rasool Hai'n _"
Aapne unse ye bhi farmaya :- 
"_ Ey Quresh ! Apni jaano ko jahannam ki Aag se bacha'o _,"

★_  Waha'n Sirf Aapke Rishtedar hi jama nahi they balki Quresh ke doosre Qabile bhi mojood they, isliye Aapne unke Qabile ke Naam Le le Kar Unhe mukhatib farmaya Yani Aapne ye Alfaz ada farmaye :- 
"__ Ey Bani Haashim ..Ey Bani Abd Shamsh ,Apni jaano ko jahannam ki Aag se bacha'o, Ey Bani Abd Munaaf ,Ey Bani Zohra, Ey Kaab bin Lu'i ,Ey Bani Mar'o bin Kaab Apni jaano ko jahannam ki Aag se bacha'o, Ey Safiya ,Muhammad ki Foofi Apne Aapko jahannam ki Aag se bacha'o _,"

★_  Ek rivayat ke mutabiq Aapne ye Alfaz bhi farmaye :- 
"_ na Mai'n Duniya me tumhe faayda pahuncha sakta Hu'n na Aakhirat me koi faayda Pahunchane Ka Akhtyar rakhta Hu'n, Sivaye us Soorat ke k tum Kaho - Laa ilaaha illallaah _, Chunki Tumhari mujhse Rishtedari hai isliye is ke bharose per kufr aur shirk ke Andhero'n me gum na rehna _,"
Is per Abu Lahab aag baboola ho gaya, Usne tilmila Kar Kaha - 
Tu Halaak ho Jaye ,Kya tune Hume isi liye Jama Kiya tha ,
Fir sab log chale gaye ,
: ★_ Iske baad Kuchh din tak Aap ﷺ Khamosh rahe ,Fir Aap ﷺ ke paas Jibraiyl Alaihissalam Naazil hue , Unhone Aapko Allah ki jaanib SE Allah Ta'ala ke paigaaam ko har taraf faila dene Ka Hukm sunaya ,
Aap ﷺne dobara logo ko jama farmaya ,Unke Saamne ye khutba irshad farmaya :- Allah ki qasam ! Jiske Siva koi Ma'abood nahi, Mai'n khaas tor per Tumhari taraf aur Aam tor per saare insaano ki taraf Allah Ka Rasool Bana Kar bheja gaya Hu'n, Allah ki qasam ! Tum Jis Tarah jaagte ho usi Tarah Ek Din Hisaab Kitaab ke liye dobara jagaye jaoge ,Fir tum Jo Kuchh Kar rahe ho Uska Hisaab Tumse liya Jayega , Achchhaiyo'n aur Nek Amaal ke badle me tumhe Achchha Badla  milega aur burayi Ka Badla Bura milega , Waha'n bila Shubha Hamesha Hamesha ke liye Jannat hai ya Hamesha Hamesha ke liye jahannam hai ,Allah ki qasam ! Ey Bani Abdul Muttalib ! Mere ilm me esa koi Nojawan nahi Jo Apni Qaum ke liye isse Behtar aur A'ala koi cheez le Kar Aaya Hu'n, Mai'n Tumhare waaste Duniya aur Akhirat ki bhalayi le Kar Aaya Hu'n _,"

★__ Aap ﷺ ke is khutbe ko sun Kar Abu Lahab ne sakht tareen Andaz me Kaha :- Ey Bani Abdul Muttalib ! Allah ki qasam ! Ye Ek Firma hai isse Pehle k koi doosra is per Haath daale ,Behtar ye Hai k tum hi is per qaabu pa lo ye maamla esa hai k agar tum iski Baat sun Kar musalman ho jate ho to ye Tumhare liye Zillat v ruswa'i ki Baat hogi ,Agar tum ise doosre Dushmano SE bachane ki Karoge to tum khud qatl ho jaoge _,"
Uske Jawab me uski Behan Yani Nabi Kareem ﷺ ki Foofi S'adiya Raziyllahu anha ne Kaha - Bhai Kya Apne Bhatije ko is Tarah ruswa Karna Tumhare liye munasib hai aur Fir Allah ki qasam ! Bade bade Aalim ye khabar dete aa rahe Hai'n k Abdul Muttalib ke khandaan me SE ek Nabi Zaahir hone wale Hai'n, Lihaza Mai'n to kehti Hu'n Yahi Wo Nabi Hai'n _,"
Abu Lahab ko ye sun Kar gussa Aaya ,Wo Bola - Allah ki qasam! Bilkul bakwaas aur gharo me bethne wali Aurto'n ki baate Hai'n ,Jab Quresh ke khandaan hum per chadayi Karne aayenge aur saare Arab unka Saath denge to unke muqable me Hamari kya chalegi ,Khuda ki qasam unke liye hum Ek tar niwale ki haisiyat honge _,"
Is per Abu Taalib bol uthe :- Allah ki qasam ! Jab tak Hamari Jaan me Jaan he hum inki Hifazat karenge _,"

★_ Ab Nabi Kareem ﷺ Safa Pahaadi per Chad gaye aur Tamaam Quresh ko islam ki Dawat di ,Un sabse farmaya :- 
"_ Ey Quresh ! Agar Mai'n tum Sabse kahu'n k is Pahaad ke Pichhe SE Lashkar aa raha Hai AUR Wo tum per hamla Karna Chahta hai to kya tum mujhe jhoota khayal Karoge ?_,"
Sabne Ek Zubaan ho Kar Kaha - Nahi ! Isliye k Humne Aapko Aaj tak Jhoot Bolte hue nahi Suna _,"
Ab Aapne farmaya:- Ey Giroh Quresh! Apni jaano ko jahannam SE bachao , isliye k Mai'n Allah Ta'ala ke Yaha'n Tumhare liye Kuchh nahi Kar sakunga , Mai'n Tumhe us Zabardast Azaab SE Saaf dara raha Hu'n Jo Tumhare Saamne hai , Mai'n tum logo ko do Kalme Kehne ki Dawat Deta Hu'n,Jo Zubaan SE Kehne me bahut Halle Hai'n Lekin Taraazu me behad wazan wale Hai'n, 
Ek is Baat ki gawahi k Allah Ke Siva koi ibaadat ke laa'iq nahi, doosre ye k Mai'n Allah Ka Rasool Hu'n, Ab tumme se kon hai Jo Meri is Baat ko qubool karta Hai _,"

★__ Aapke Khamosh hone per unme SE koi na Bola to Aapne Apni Baat fir dohrayi ,fir Aapne Teesri Baar Apni Baat dohrayi Magar is Baar bhi sab Khamosh khade rahe ,itna hua k sabne Aapki Baat Khamoshi SE sun li aur waapas chale gaye ,
: ★_ Ek Din Quresh ke log Masjide Haraam me Jama they , Buto'n ko Sajde Kar rahe they,Aap ﷺ ne ye manzar dekha to farmaya :- 
"_ Ey Giroh Quresh ! Allah ki qasam,tum Apne Baap Ibrahim Alaihissalam Ke Raaste SE hat gaye ho _,"
Aapki Baat ke Jawab me Quresh bole :- 
"_ Hum Allah Ta'ala ki Muhabbat hi me Buto'n ko Poojte Hai'n Taki is Tarah hum Allah Ta'ala ke qareeb ho sake'n _,"
( Afsos Aaj kal anginat log bhi Qabro ko Sajda bilkul is khayal se Karte Hai'n aur khud Ko Musalman Kehte Hai'n )

Is moqe per Allah Ta'ala ne unki Baat ke Jawab me Wahi Naazil farmayi :- 
"_ *( Tarjuma)* _ Aap farma dijiye ! Agar tum Allah Ta'ala se Muhabbat rakhte ho to Meri Pervi Karo ,Allah Ta'ala Tumse Muhabbat Karne lagenge aur Tumhare sab Gunaaho Ko Maaf Kar denge _," *( Surah Aale Imran - 31)*

★_ Quresh ko ye Baat Bahut nagawaar guzri, Unhone Abu Taalib se Shikayat ki :- 
"_ Abu Taalib! Tumhare Bhatije ne Hamare Ma'aboodo ko Bura Kaha hai ,Hamare Deen me Ayb nikaale Hai'n ,Hume be Aqal thehraya hai ,Usne Hamare Baap Dada tak ko gumraah Kaha hai , isliye ya to Hamari taraf se Aap nibte ya Hamare aur Uske darmiyaan SE hat Jaye'n , Kyunki khud Aap bhi usi Deen per chalte Hai'n Jo hamara hai aur Uske Deen ke Aap bhi khilaf Hai'n _,"
Abu Taalib ne Unhe Naram Alfaz me ye Jawab de Kar waapas bhej diya k _ Achchha Mai'n Unhe samjhaunga _,"

★__ idhar Allah Ta'ala ne Hazrat Jibraiyl Alaihissalam ko Aapki khidmat me bheja ,Hazrat Jibraiyl Nihayat Haseen Shakl v Soorat me Behatreen Khushbu lagaye Zaahir hue  aur bole :- 
"_ Ey Muhammad ! Allah Ta'ala Aapko Salam farmate hai'n aur farmate hai'n k Aap Tamaam Jinno aur insaano ki taraf se Allah Ta'ala ke Rasool Hai'n, isliye Unhe Kalma e Laa ilaaha illallaah ki taraf bulaye'n _,"

Ye Hukm milte hi Quresh ko Aapne barahe raaat tablig shuru Kar di aur Haalat us Waqt ye thi k Kaafiro ke paas Poori Taaqat thi aur Wo Aapki Pervi Karne Ke liye hargiz Taiyaar nahi they ,Kufr aur Shirk unke Dilo'n me basa hua tha , Buto'n ki Muhabbat unke andar sarayat Kar chuki thi, unke Dil is Shirk aur gumraahi ke Siva koi cheez bhi qubool Karne per amaada nahi they ,Shirk ki ye bimaari logo me Poori Tarah Sama chuki thi _,

★__ Aap ﷺ ki tablig Ka ye Silsila jab Bahut bad gaya to Quresh ke darmiyaan har Waqt Aap hi Ka Zikr hone laga , Wo log Ek doosre SE bad Chad Kar Aapse Dushmani per utar Aaye , Aapke qatl ke mansoobe banane lage , Yaha'n tak sochne lage k Aapka Ma'ashrati Boycot Kar diya Jaye Lekin ye log Pehle Ek Baar Fir Abu Taalib ke paas gaye aur unse bole :-"_ Abu Taalib ! Hamare darmiyaan Aap bade Qabil, izzatdaar aur Buland martaba Aadmi Hai'n ,Humne Aapse darkhwast ki thi k Aap Apne Bhatije ko roke ,Magar Aapne Kuchh nahi Kiya ,Hum log ye Baat Bardasht nahi Kar Sakte k Hamare Ma'aboodo ko aur Baap Daada'o ko Bura Kaha Jaye , Hume be Aqal Kaha Jaye ,Aap Unhe samjha Le'n Varna hum Aapse aur unse us Waqt tak muqabla karenge jab tak k Dono fareeqo me SE ek Khatm na ho Jaye _,"   ,*
 ╨─────────────────────❥
★_ इस्लाम का पहला मरकज़ _,*

★__ हजरत सुहेब और हजरत अम्मार रज़ियल्लाहु अन्हु दोनों आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुए, आपने दोनों को अपने पास बिठाया । जब यह बैठ गए तो आपने इनके सामने इस्लाम पेश किया और क़ुरान ए करीम की जो आयात आप पर उस वक्त तक नाजि़ल हो चुकी थी वह पढ़कर सुनाई, इन दोनों ने उसी वक्त इस्लाम क़ुबूल कर लिया । उस रोज़ शाम तक यह दोनों नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास रहे ,शाम को दोनों चुपके से चले आए ।

★_हजरत अम्मार रज़ियल्लाहु अन्हु सीधे अपने घर पहुंचे तो इनके मां-बाप ने इनसे पूछा कि दिन भर कहां थे ? इन्होंने फौरन ही बता दिया कि वह मुसलमान हो चुके हैं ,साथ ही इन्होंने आपके सामने भी इस्लाम पेश किया और उस दिन इन्होंने कुराने पाक का जो हिस्सा याद किया था वह इनके सामने तिलावत किया । दोनों को यह कलाम बेहद पसंद आया ,दोनों फौरन ही बेटे के हाथ पर मुसलमान हो गए । इसी बुनियाद पर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम हजरत अम्मार बिन यासिर रज़ियल्लाहु अन्हु को अल तैयब अल मुतीब कहा करते थे यानी पाक़बाज़ और पाक करने वाले।

★_ इसी तरह हजरत इमरान रज़ियल्लाहु अन्हु इस्लाम लाए तो कुछ अरसे बाद इनके वालिद हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु भी मुसलमान हो गए।  इनके इस्लाम लाने की तफसील यूं हैं :-
"_  एक मर्तबा क़ुरेश के लोग नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से मुलाक़ात के लिए आए , इनमें हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु भी थे, क़ुरेश के लोग तो बाहर रह गए हुसैन रजियल्लाहु अन्हु अंदर चले गए। नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इन्हें देख कर फरमाया -इन बुजुर्ग को जगह दो । 
जब वह बैठ गए तब हुसैन रजियल्लाहु अन्हु ने कहा- यह आपके बारे में हमें कैसी बातें मालूम हो रही हैं , आप हमारे मा'बूदों को बुरा कहते हैं ? 
नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-ए हुसैन आप कितने मा'बूदों को पूजते हैं ? 
हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु ने जवाब दिया-  हम सात मा'बूदों की इबादत करते हैं ,इनमें छः तो ज़मीन में है, एक आसमान पर ।
इस पर आप ने फरमाया :- और अगर आपको कोई नुकसान पहुंच जाए तो फिर आप किस से मदद मांगते हैं?

★_हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु बोले - इस सूरत में हम उससे दुआ मांगते हैं जो आसमान में है।
यह जवाब सुनकर आप ने फरमाया :-  वह तो तन्हा तुम्हारी दुआएं सुनकर पूरी करता है और तुम उसके साथ दूसरों को भी शरीक़ करते हो। ए हुसैन क्या तुम अपने इस शिर्क से खुश हो ? इस्लाम क़ुबूलबूल करो अल्लाह ताला तुम्हें सलामती देगा ।
हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु यह सुनते ही मुसलमान हो गए । उसी वक्त इनके बेटे हजरत इमरान रज़ियल्लाहु अन्हु बाप की तरफ बढ़े और इनसे लिपट गए।

★_ इसके बाद हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु ने वापस जाने का इरादा किया तो आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने अपने सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम से फरमाया -  इन्हें इनके घर तक पहुंचा कर आएं । 
हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु जब दरवाजे से बाहर निकले ,वहां क़ुरेश के लोग मौजूद थे ,इन्हें देखते ही बोले - लो यह भी बे-दीन हो गया ।
इसके बाद वह सब लोग अपने घरों को लौट गए। सहाबा किराम ने हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु को इनके घर पहुंचाया।
: ★__ इसी तरह 3 साल नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम खुफिया तौर पर तबलीग करते रहे। इसी दौरान जो शख्स भी मुसलमान होता था वह मक्का की घाटियों में छुपकर नमाजे अदा करता था।

★_फिर 1 दिन ऐसा हुआ कि हजरत साद बिन अबी वका़स रजियल्लाहू अन्हु कुछ दूसरे सहाबा के साथ मक्का की एक घांटी में थे कि अचानक वहां कुरेश की एक जमात आ गई , उस वक्त सहाबा नमाज पढ़ रहे थे। मुशरिकों को यह देखकर बहुत गुस्सा आया , वह इन पर चढ़ दौड़े ,साथ में बुरा भला भी कह रहे थे। ऐसे में हजरत साद बिन अबी वका़स रजियल्लाहू अन्हु ने उनमें से एक को पकड़ लिया और उसको एक जर्ब लगाई, इससे उसकी खाल फट गई खून बह निकला ।यह पहला फूल है जो इस्लाम के नाम पर बहाया गया।

★_अब कुरैशी दुश्मनी पर उतर आए । इस बिना पर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम हजरत अरक़म रजियल्लाहु अन्हु के मकान पर तशरीफ ले आएं ताकि दुश्मनों से बचाव रहे ।इस तरह हजरत अरक़म रजियल्लाहु अन्हु का यह मकान इस्लाम का पहला मरकज़ बना । इस मकान को दारे अरक़म कहा जाता है। नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के दारे अरक़म में तशरीफ लाने से पहले लोगों की एक जमात मुसलमान हो चुकी थी । अब नमाज दारे अरक़म में अदा होने लगी ।नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम को यहीं पर नमाज पढ़ाते, यहीं बैठ कर इबादत करते और मुसलमानों को दीन की तालीम देते । इस तरह 3 साल गुज़र गए, फिर अल्लाह ताला ने आपको एलानिया तबलीग का हुक्म फरमाया ।

★_ एलानिया तबलीग की इब्तदा भी दारे अरक़म से हुई ,पहले आप यहां खुफिया तौर पर दावत देते रहे थे यहां तक कि अल्लाह ताला ने सूरह शू'अरा मे आपको हुक्म फरमाया :- 
"_और आप अपने नज़दीक के अहले खानदान को डराएं _,"
 यह हुक्म मिलते ही आप काफी परेशान हुए यहां तक कि आपकी फूफियों ने खयाल किया कि आप कुछ बीमार हैं । चुनांचे वह आपकी बीमार पुर्सी के लिए आपके पास आईं, तब आपने उनसे फरमाया-  मैं बीमार नहीं हूं बल्कि मुझे अल्लाह ताला ने हुक्म दिया है कि मैं अपने करीबी रिश्तेदारों को आखिरत के अज़ाब से डराऊं , इसलिए मैं चाहता हूं तमाम बनी अब्दुल मुत्तलिब को जमा करूं और उन्हें अल्लाह की तरफ आने की दावत दूं। 
यह सुनकर आपकी फूफियों  ने कहा -ज़रूर जमा करें मगर अबू लहब  को ना बुलाइएगा क्योंकि वह हरगिज आपकी बात नहीं मानेगा।
[22/10, 7:27 am] ★☝🏻★: ★__ अबू लहब का दूसरा नाम अब्द उज्जा था। यह आपका चाचा था और बहुत खूबसूरत था मगर बहुत संगदिल और मगरूर था ।
दूसरे दिन नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने बनी अब्दुल मुत्तलिब के पास दावत भेजी इस पर वह सब आपके यहां जमा हो गए । इनमें अबु लहब भी था, उसने कहा:-  यह तुम्हारे चाचा और उनकी औलादे जमा है तुम जो कुछ कहना चाहते हो कहो और अपनी बेदीनी को छोड़ दो, साथ ही तुम यह भी समझ लो कि तुम्हारी कौम में यानी हम में इतनी ताकत नहीं है कि तुम्हारी खातिर सारे अरबो से दुश्मनी ले सके लिहाजा अगर अपने मामले पर अड़े रहे तो खुद तुम्हारे खानदान वालों ही का सबसे ज्यादा फर्ज होगा कि तुम्हें पकड़ कर कैद कर दे क्योंकि कुरेश के तमाम खानदान और कबीले तुम पर चढ़ दौड़े इससे तो यही बेहतर होगा कि हम ही तुम्हें कि हम ही तुम्हें क़ैद कर दें,
मेरे भतीजे हक़ीक़त यह है कि तुमने जो चीज अपने रिश्तेदारों के सामने पेश की है इससे बदतर चीज किसी और शख्स ने आज तक पेश नहीं की होगी।

★_आपने उसकी बात की तरफ कोई तवज्जो नहीं फरमाई और हाजरीन को अल्लाह का पैगाम सुनाया, आपने फरमाया :- ए क़ुरेश ! कहो अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं और मोहम्मद अल्लाह के रसूल हैं ।
आपने उनसे यह भी फरमाया :- ए कुरेश अपनी जानों को जहन्नम की आग से बचावो ।

★_वहां सिर्फ आपके रिश्तेदार ही जमा नहीं थे बल्कि कुरेश के दूसरे कबीले भी मौजूद थे इसलिए आपने उन कबीलों के नाम ले लेकर उन्हें मुखातिब फरमाया यानी  आपने यह अल्फाज़ अदा फरमाएं :- ए बनी हाशिम अपनी जानों को जहन्नम के अज़ाब से बचाव ,..ए बनी अब्द शम्श अपनी जानों को जहन्नम की आग से बचाव , ए बनी अब्द मुनाफ, ए बनी ज़ोहरा, ए काब बिन लुवई ,ए बनी मरू बिन काब अपनी जानों को जहन्नम की आग से बचावो, ए सफिया मोहम्मद की फूफी, अपने आपको जहन्नम की आग से बचावो ।

*★_एक रिवायत के मुताबिक आपने यह अल्फाज़ भी फरमाए :- न मैं दुनिया मैं तुम्हें फायदा पहुंचा सकता हूं ना आखिरत में कोई फायदा पहुंचाने का अख्त्यार रखता हूं सिवाय इस सूरत के कि तुम कहो  " ला इलाहा इलल्लाह _" क्योंकि तुम्हारी मुझसे रिश्तेदारी है इसलिए इसके भरोसे पर कुफ्र और शिर्क के अंधेरों में गुम ना रहना।
इस पर अबु लहब आग बबूला हो गया उसने तिल मिलाकर कहा :- तू हलाक हो जाए क्या तूने हमें इसलिए जमा किया था। 
फिर सब लोग चले गए।
 ★__ इसके बाद कुछ दिन तक आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम खामोश रहे । फिर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास जिब्राइल अलैहिस्सलाम नाजि़ल हुए उन्होंने आपको अल्लाह की जानिब से अल्लाह ताला के पैगाम को हर तरफ फैला देने का हुक्म सुनाया।
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने दोबारा लोगों को जमा फरमाया,  उनके सामने यह खुत्बा इरशाद फरमाया :- 
"_अल्लाह की कसम ! जिस के सिवा कोई माबूद नहीं ,मैं खासतौर पर तुम्हारी तरफ आमतौर पर सारे इंसानों की तरफ अल्लाह का रसूल बनाकर भेजा गया हूं ।अल्लाह की क़सम ! तुम जिस तरह जागते हो उसी तरह एक दिन हिसाब किताब के लिए दोबारा जगाए जाओगे ,फिर तुम जो कुछ कर रहे हो उसका हिसाब तुम से लिया जाएगा अच्छाइयों और नेक आमाल के बदले में तुम्हें अच्छा बदला मिलेगा और बुराई का बदला बुरा मिलेगा । वहां बिला शुब्हा हमेशा हमेशा के लिए जन्नत है या हमेशा के लिए जहन्नम है।
 अल्लाह की क़सम ! ए बनी अब्दुल मुत्तलिब मेरे इल्म में ऐसा कोई नौजवान नहीं जो अपनी कौम के लिए इससे बेहतर और आला कोई चीज लेकर आया हो, मैं तुम्हारे वास्ते दुनिया और आखिरत की भलाई लेकर आया हूं।

★_आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के इस खुत्बे को सुनकर अबू लहब बोला - ए बनी अब्दुल मुत्तलिब अल्लाह की कसम ! यह एक फितना है इससे पहले कि कोई दूसरा इस पर हाथ डाले बेहतर यह है कि तुम ही इस पर काबू पा लो । यह मामला ऐसा है कि अगर तुम इसकी बात सुनकर मुसलमान हो जाते हो तो यह तुम्हारे लिए ज़िल्लत व रुसवाई की बात होगी, अगर तुम इसे दूसरे दुश्मनों से बचाने की करोगे तो तुम खुद क़त्ल हो जाओगे _,"

उसके जवाब में उसकी बहन यानी नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की फूफी सफिया रज़ियल्लाहु अन्हा  ने कहा - भाई क्या अपने भतीजे को इस तरह रूसवा करना तुम्हारे लिए मुनासिब है और फिर अल्लाह की क़सम ! बड़े बड़े आलिम खबर देते आ रहे हैं कि अब्दुल मुत्तलिब के खानदान में से एक नबी ज़ाहिर होने वाले हैं लिहाज़ा मैं तो कहती हूं ,यही वह नबी है ।
अबुलहब को यह सुनकर गुस्सा आया वह बोला - अल्लाह की क़सम ! यह बिल्कुल बकवास और घरों में बैठने वाली औरतों की बातें हैं। जब कुरेश के खानदान हम पर चढ़ाई करने आएंगे और सारे अरब उनका साथ देंगे तो उनके मुकाबले में हमारी क्या चलेगी । खुदा की कसम उनके लिए हम एक तर  निवाले की हैसियत होंगे ।
इस पर अबू तालिब बोल उठे :- अल्लाह की कसम! जब तक हमारी जान में जान है हम इनकी हिफाजत करेंगे ।

★_अब  नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम सफा पहाड़ी पर चढ़ गए और तमाम कुरेश को इस्लाम की दावत दी, उन सब से फरमाया :-
"_ ए  क़ुरेश ! अगर मैं तुमसे यह कहूं कि इस पहाड़ के पीछे से एक लश्कर आ रहा है और वह तुम पर हमला करना चाहता है तो क्या तुम मुझे झूठा ख्याल करोगे ? 
सब ने एक ज़ुबान होकर कहा - नहीं ,इसलिए कि हमने आपको आज तक झूठ बोलते हुए नहीं सुना ।
अब आपने फरमाया :- ए गिरोह कुरेश अपनी जानों को जहन्नम से  बचाओ इसलिए कि मैं अल्लाह ताला के यहां तुम्हारे लिए कुछ नहीं कर सकूंगा , मैं तुम्हें उस जबरदस्त अज़ाब से साफ डरा रहा हूं जो तुम्हारे सामने है, मैं तुम लोगों को दो कल्में कहने की दावत देता हूं ,जो ज़ुबान से कहने में बहुत हल्के हैं लेकिन तराजू में बेहद वजन वाले हैं ।
एक इस बात की गवाही कि अल्लाह के सिवा कोई इबादत के लायक़ नहीं, दूसरे यह कि मैं अल्लाह का रसूल हूं ।अब तुम में से कौन है जो मेरी इस बात को कुबूल करता है।

★_आपके खामोश होने पर उनमें से कोई ना बोला तो आपने अपनी बात फिर दोहराई फिर आपने तीसरी बात दोहराई मगर इस बार भी सब खामोश खड़े रहे । इतना हुआ कि सबने आपकी बात खामोशी से सुन ली और वापस चले गए ।
[24/10, 8:53 pm] ★☝🏻★: ★__ एक दिन कुरेश के लोग मस्जिद ए हराम में जमा थे, बुतों को सजदे कर रहे थे , आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने यह मंजर देखा तो फरमाया :- ए गिरोह कुरेश ! अल्लाह की क़सम , तुम अपने बाप इब्राहिम अली सलाम के रास्ते से हट गए हो _,"
आपकी बात के जवाब में क़ुरेश बोलें :- हम अल्लाह ताला की मोहब्बत ही में बुतों को पूजते हैं ताकि इस तरह हम अल्लाह ताला के करीब हो सके।
( अफसोस आजकल अनगिनत लोग क़ब्रों को सजदा इस खयाल से करते हैं और खुद को मुसलमान कहते हैं )

इस मौके पर अल्लाह ताला ने उनकी बात के जवाब में वहीं नाजिल फरमाई :- 
*(तर्जुमा )*_ आप फरमा लीजिए ! अगर तुम अल्लाह ताला से मोहब्बत रखते हो तो मेरी पेरवी करो अल्लाह ताला तुमसे मुहब्बत करने लगेंगे और तुम्हारे सब गुनाहों को माफ कर देंगे _," *( सूरह आले इमरान-३१)*

★__ कुरेश को यह बात बहुत नागवार गुजरी , उन्होंने अबू तालिब से शिकायत की :- अबू तालिब !  तुम्हारे भतीजे ने हमारे मा'बूदों को बुरा कहा है हमारे दीन में ऐब निकाले हैं हमें बेअक़ल ठहराया है उसने हमारे बाप दादा तक को गुमराह कहा है । इसलिए या तो हमारी तरफ से आप निबटें या हमारे और उसके दरमियान  से हट जाए क्योंकि खुद आप भी उसी दीन पर चलते हैं जो हमारा है और उसके दीन के आप भी खिलाफ हैं _,"
अबू तालिब ने उन्हें नरम अल्फ़ाज़ में यह जवाब देकर वापस भेज दिया- अच्छा मैं उन्हें समझाऊंगा।

★_ इधरअल्लाह ताला ने हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम को आप की खिदमत में भेजा । हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम निहायत हसीन शक्ल सूरत में बेहतरीन खुशबू लगाए जाहिर हुए और बोले :-  ए मोहम्मद ! अल्लाह ताला आपको सलाम फरमाते हैं और फरमाते हैं कि आप तमाम जिन्नों और इंसानों की तरफ से अल्लाह ताला के रसूल हैं इसलिए उन्हें कलमा ला इलाहा इल्लल्लाह की तरफ बुलाए । यह हुक्म मिलते ही आपने कुरेश को बरा हे रास्ता तबलीग शुरू कर दी और हालत उस वक्त यह थी कि काफिरों के पास पूरी ताकत थी और वह आपकी पैरवी करने के लिए हरगिज़ तैयार नहीं थे ,कुफ्र और शिर्क उनके दिलों में बसा हुआ था, बुतों की मोहब्बत उनके अंदर सरायत कर चुकी थी ,उनके दिल इस शिर्क और गुमराही के सिवा कोई चीज़ भी क़ुबूल करने पर आमादा नहीं थे ,शिर्क की यह बीमारी लोगों में पूरी तरह समा चुकी थी।

★_आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की तबलीग का यह सिलसिला जब बहुत बढ़ गया तो कुरेश के दरमियान हर वक्त आप ही का जिक्र होने लगा। वह लोग एक दूसरे से बढ़ चढ़कर आप से दुश्मनी पर उतर आए ,आप के क़त्ल के मंसूबे बनाने लगे, यहां तक सोचने लगे कि आपका माशरती बायकाट कर दिया जाए। लेकिन यह लोग पहले एक बार फिर अबू तालिब के पास गए और उनसे बोले :- अबू तालिब !  हमारे दरमियान आप बड़े काबिल, इज्जतदार और बुलंद मर्तबा आदमी है हमने आपसे दरख्वास्त की थी कि आप अपने भतीजे को रोके , मगर आपने कुछ नहीं किया । हम लोग यह बात बर्दाश्त नहीं कर सकते कि हमारे माबूदों को और बाप दादाओं को बुरा कहा जाए ,हमें बेअक़ल कहा जाए । आप उन्हें समझा ले वरना हम आपसे और उनसे उस वक्त तक मुकाबला करेंगे जब तक की दोनों फरीक़ों में से एक खत्म ना हो जाए ।
 ╨─────────────────────❥
★__Kadi Aazma'ish _,*

★__ Quresh to ye keh Kar chale gaye,Abu Taalib pareshan ho gaye,Wo Apni Qaum ke Gusse SE Achchhi Tarah waaqif they ,Doosri Taraf Wo is Baat ko Pasand Nahi Kar sakte they k Koi bhi Shakhs Huzoor Nabi Kareem ﷺ ko ruswa Karne ki Koshish kare , isliye Unhone Huzoor Nabi Kareem ﷺ SE Kaha :- 
"_ Bhatije ! Tumhari Qaum ke log mere paas Aaye they , Unhone mujhse Ye Kaha hai ....., Isliye Apne Ouper aur Mujh per Raham Karo aur Mujh per esa bojh na daalo Jisko Mai'n utha na saku'n _,"

★__ Abu Taalib ki guftgu SE Nabi Akram ﷺ ne khayal Kiya k Ab Chacha unka Saath Chhod rahe Hai'n,Wo bhi ab Aapki madad nahi karna chahte ,Aapki Hifazat SE Haath utha rahe Hai'n, isliye Aapne farmaya :- 
"_ Chacha Jaan ! Allah ki qasam, Agar ye log mere Daaye'n Haath per Suraj aur Baaye'n Haath per Chaand rakh de'n aur ye Kahe'n k Mai'n is ( Dawat ke) Kaam ko Chhod du'n to bhi Mai'n Hargiz ise Nahi chhodunga Yaha'n tak k Khud Allah Ta'ala isko Zaahir farma de'n _,"
Ye Kehte hue Aapki Awaaz bhara gayi ,Aapki Aankho'n me Aa'nsu aa gaye ,Fir Aap uth Kar Jane lage ,Lekin usi Waqt Abu Taalib ne Aapko pukara :- Bhatije ! idhar aao _,"
Aap unki taraf mude to unhone Kaha :- Ja'o Bhatije ! Jo Dil Chahe Kaho ,Allah ki qasam Mai'n tumhe Kisi haal me nahi chhodunga _,"

★__ Jab Quresh Ko Andaza ho gaya k Abu Taalib Aapka Saath chhodne per Taiyaar nahi Hai'n to Wo Ammara bin Waleed ko Saath le Kar Abu Taalib ke paas Aaye aur bole :- 
"_ Abu Taalib ! Ye Ammara bin Waleed hai , Quresh Ka Sabse zyada bahdur , Taaqatwar aur Sabse zyada Haseen Nojawan hai , Tum ise le Kar Apna Beta Bana lo aur iske badle me Apne Bhatije ko Hamare Hawale Kar do , isliye k wo Tumhare aur Tumhare Baap Dada ke Deen ke khilaf ja raha Hai, Usne Tumhari Qaum me foot daal di hai aur unki aqle kharaab Kar di hai , Tum use Hamare Hawale Kar do taki hum use qatl Kar de'n...insaan ke badle me hum insaan de rahe Hai'n _,"
Quresh ki ye behooda Tajveez sun Kar Abu Taalib ne Kaha :- 
"_Allah ki qasam! Ye hargiz nahi ho Sakta, kya tum ye samajhte ho k koi Ountni Apne Bachche ko Chhod Kar Kisi doosre Bachche ki Aarzumand ho Sakti hai _,"
Unka Jawab sun Kar Muta'am bin Adi ne Kaha - Abu Taalib ! Tumhari Qaum ne Tumhare Saath insaaf Ka maamla Kiya hai aur Jo Baat Hume na-pasand usse chhutkare ke liye Koshish ki hai ,Ab Mai'n nahi Samajhta k iske baad tum unki koi aur peshkash qubool Karoge _,"

★_ Jawab me Abu Taalib bole :- Allah ki qasam ! Unhone mere Saath insaaf nahi Kiya , Balki tum sabne mil Kar mujhe ruswa Karne aur mere khilaf Gath jod Karne Ke liye ye sab Kuchh Kiya hai, isliye ab Jo Tumhare Dil me Aaye Kar lo _,"
Baad me ye Shakhs Yani Ammara bin Waleed Habsha me kufr ki Haalat me mara ,us per jaadu Kar diya gaya tha ,Uske baad ye wahshat zada ho Kar jungalo aur khaa'ntiyo'n me maara maara fira karta tha, Isi Tarah doosra Shakhs Muta'am bin Adi bhi Kufr ki Haalat me mara ,
 ★__ Garz jab Abu Taalib ne Quresh ki ye peshkash bhi Thukra di to maamla Had darje sangeen ho gaya ,Doosri Taraf Abu Taalib ne Quresh ke khatarnaak iraado ko bhaanp liya , Unhone Bani Haashim aur Bani Abdul Muttalib ko bulaya,Unse darkhwast ki k sab mil Kar Aapki Hifazat Kare'n,Aapka bachaav Kare'n ,Unki Baat sun Kar Sivaye Abu Lahab ke sab Taiyaar ho gaye, Abu Lahab ne unka Saath na diya ,Ye bad bakht sakhti Karne aur Aapke khilaf Awaaz Uthane se Baaz na Aaya ,Isi Tarah Jo log Aap per imaan le Aaye they unki mukhalfat me bhi Abu Lahab hi Sabse pesh pesh tha ,Aapko aur Aapke Saathiyo'n ko takaleef Pahunchane me bhi ye Quresh se badh chadh Kar tha ,

★__ Aapko Takaleef Pahunchane ke Silsile me Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu Ek Waqia Bayan karte Hai'n :-
"_ Ek Roz Mai'n Masjide Haraam me tha k Abu Jahal waha'n Aaya aur bola :- Mai'n khuda ki qasam kha Kar Kehta Hu'n agar Mai'n Muhammad ko Sajda Karte hue Dekh Lu'n to Mai'n uski gardan maar du'n _,"
Hazrat Abbaas Raziyallahu Anhu farmate hai'n, ye sun Kar Mai'n foran Nabi Kareem ﷺ ki taraf gaya aur Aapko bataya k Abu Jahal kya keh raha Hai ,
Nabi Akram ﷺ ye sun Kar Gusse ki Haalat me Bahar nikle aur tez tez chalte Masjide Haraam me dakhil ho gaye , Yaha'n tak k guzarte Waqt Aapko diwaar ki ragad lag gayi ,Us Waqt Aap Surah Al Alaq ki Aayat ,1-2 padh rahe they, 
*"_ (Tarjuma_,)* _ Ey Paigambar! Aap Apne Rab Ka Naam Le Kar ( Qur'an) padha kijiye ! Wo Jisne Makhlooqaat ko paida Kiya ,Jisne Unhe Khoon Ke Lothde SE Paida Kiya _,"

★__ Tilawat Karte hue Aap is Soorat ki Aayat 6 tak pahunch gaye :- 
*"_ (Tarjuma_),*_ Sach much Beshak Kaafir Aadmi Had se nikal Jata Hai _,"
Yaha'n tak k Aapne Soorat ka Aakhri Hissa Padha Jaha'n Sajde ki Aayat hai aur iske Saath hi Aap Sajde me gir gaye, Usi Waqt Kisi ne Abu Jahal SE Kaha :- 
"_ Abul Hakam ! Ye Muhammad Sajde me pade Hai'n _,"
Ye Sunte hi Abu Jahal foran Aapki taraf bada ,Aapke Nazdeek pahuncha,Lekin Fir Achanak waapas aa gaya, Logo ne Hairaan ho Kar puchha :- Abul Hakam kya hua ? 

★_ Jawab me Usne aur zyada Hairaan ho Kar Kaha - Jo Mai'n dekh raha Hu'n,Kya tumhe Wo Nazar nahi aa raha ?
Uski Baat sun Kar log aur zyada Hairaan hue aur bole:- Tumhe kya Nazar aa raha Hai Abul Hakam ?
Is per Abu Jahal ne Kaha :- mujhe Apne aur Unke darmiyaan Aag ki Ek Khandaq Nazar aa rahi hai _,"
[ ★__ Is Tarah Ek Din Abu Jahal ne Kaha :- Ey Giroh Quresh ! Jesa k tum dekh rahe ho , Muhammad Tumhare Deen me Ayb daal raha Hai , Tumhare Ma'aboodo ko Bura keh raha Hai,Tumhari Aqlo ko kharaab bata raha Hai aur Tumhare Baap Dadao ko gaaliya'n de raha Hai , isliye Mai'n Khuda ke Saamne Ahad karta Hu'n k Kal Mai'n Muhammad ke liye itna bada Patthar le Kar bethunga Jiska bojh Wo Bardasht nahi Kar sakenge , Jo'nhi Wo Sajde me Jayenge Mai'n Wo Patthar unke Sar per de marunga ,uske baad tum logo ko Akhtyar hai ,chaho to is maamle me Meri madad Karna aur mujhe Panaah dena ,Chaho to mujhe Dushmano ke hawale Kar dena ,fir Bani Abd Munaaf Mera Jo bhi Hashr Kare'n _,"
Ye Sun Kar Quresh bole :- Allah ki qasam hum tumhe Kisi qeemat per daga nahi denge , isliye Jo tum Karna Chahte ho itminan se Karo _,"

★__ Doosre Din Abu Jahal Apne Program ke mutabiq Ek bahut bhaari patthar utha laya aur Laga Nabi Akram ﷺ Ka intezar Karne ,idhar Nabi Akram ﷺ bhi Aadat ke mutabiq Subeh ki Namaz ke baad waha'n Tashreef le Aaye, Us Waqt Aapka qibla Baitul Muqaddas ki taraf tha ,Aap Namaz ke liye Rukne Yamaani aur Hajre Aswad ke darmiyaan khade hua Karte they, Kaabe ko Apne aur Baitul Muqaddas ke darmiyaan Kar liya Karte they, 

Aapne aate hi Namaz ki niyat baandh li ,udhar Quresh ke log Apne Apne gharo me bethe intezar Kar rahe they k dekhe Aaj kya hota hai? Abu Jahal Apne Program me Kamyaab hota hai ya nahi ?Fir Jo'nhi Aap Sajde me gaye ,Abu Jahal ne Patthar uthaya aur Aapki taraf badha ,Jese hi Wo Aapke Nazdeek hua ,Ek dam us per Larza taari ho gaya, Chehre Ka rang ud gaya , Ghabrahat ke Aalam me waha'n se Pichhe hat Aaya , Patthar per Uske Haath is Tarah jam gaye k Usne Chaha Haath us per se hata le ,Lekin hata na saka _,

★__ Quresh ke log foran Uske ird gird Jama ho gaye aur bole :- Abul Hakam kya hua ?
Usne Jawab diya:- Mai'ne Raat ko Tumse Jo Kaha tha Usko Poora Karne Ke liye Mai'n Muhammad ki taraf badha Magar Jese hi unke qareeb pahuncha,Ek Jawaan ount mere Raaste me aa gaya, Maine us jesa Zabardast ount Aaj tak nahi dekha ,Wo Ek dam Meri taraf badha Jese mujhe kha lega _,"

★_ Jab is Waqi'e Ka Zikr Nabi Akram ﷺ se Kiya gaya to Aapne farmaya:- Wo Jibraiyl Alaihissalam they Agar Wo mere Nazdeek aata to Wo Zaroor use Pakad Lete _,"
[: ★__ Ek Roz Huzoor Nabi Kareem ﷺ Khana Kaaba me Namaz padh rahe they k Abu Jahal Aapke pass Aaya aur bola:- Kya Maine Aapko isse mana nahi Kiya tha,Aap jaante nahi , Mai'n Sabse bade Giroh wala Hu'n _,"
Is per Surah Al Alaq ki Aayat 17-18 Naazil hui :- 
"_ *( Tarjuma)* So ye Apne Giroh ke logo ko bula le ,agar Usne esa Kiya to hum bhi Dozakh ke pyaado ko bula lenge _,"

"_ Hazrat ibne Abbaas Raziyallahu Anhu farmate hai'n:- Agar Abu Jahal Apne Giroh ko bulata to Allah Ta'ala ke Azaab ke Farishte use Pakad kar tahas nahas kar dete _,"

★__ Ek Roz Abu Jahal Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke Saamne Aaya aur Aapse mukhatib hua :- Aapko Maloom hai Mai'n Bat'ha walo Ka muhafiz Hu'n aur Mai'n Yaha'n Ek Shareef tareen Shakhs Hu'n _,"
Us Waqt Allah Ta'ala ne Surah Dukhaan ki Aayat 49 Naazil farmayi :- 
*"_( Tarjuma)*_ Chakh Tu bada mo'ziz mukarram hai _,"
Aayat ka ye jumla Dozakh ke Farishte Abu Jahal ko daant te Waqt fatkaarte hue lagenge _,"

★__ Abu Lahab bhi Huzoor Akram ﷺ ki iyza rasaani me aage aage tha ,Nabi Kareem ﷺ ki tablig me rukawate daalta tha ,Aap ﷺ ko Bura Bhala Kehta tha ,Uski Bivi Umme Jameel bhi Uske Saath shamil thi ,Wo jangal se kaante daar lakdiya'n kaat Kar laati aur Nabi Kareem ﷺ ke Raaste me bichhati ,is per Allah Ta'ala ne Surah Al Masadd Naazil farmayi, isme Abu Lahab ke Saath uski Bivi ko bhi Azaab ki khabar di gayi ,Wo Gusse me Aag baboola ho gayi , Patthar Haath me liye Aap ﷺ ki taraf badi ,Us Waqt Aap ﷺ ke Saath Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu they ,

★_ Unhone Abu Lahab ki Bivi ko aate Dekha to farmaya :- Allah ke Rasool ! Ye Aurat badi Zubaan daraaz hai ,agar Aap Yaha'n thehre to iski bad Zubaani se Aapko Takleef pahunchegi ',"
Unki Baat sun Kar Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne farmaya:- Abu Bakar! Fikr na karo ,Wo Mujhe na dekh sakegi _,"
Itne me umme Jameel Nazdeek pahunch gayi ,use waha'n Sirf Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Nazar Aaye ,Wo aate hi boli :- Abu Bakar ! Tumhare Dost ne mujhe zaleel Kiya hai, Kaha'n hai Tumhara Dost Jo Shayr padhta hai _,"
Abu Bakar bole :- Kya tumhe mere Saath koi Nazar aa raha Hai_,"
"_Kyu kya baat hai ,mujhe to Tumhare Saath koi Nazar nahi aa raha_,"
Unhone puchha :- Tum unke Saath kya Karna chahti ho ?
Jawab me Usne Kaha :- mai:'n ye Patthar Uske moonh per maarna chahti Hu'n, Usne meri Shaan me naaziba Shayr kahe Hai'n_,"

★__ Wo Surah Masadd ki Aayaat ko Shayr samajh rahi thi, is per Unhone Kaha - Nahi Allah ki qasam ! Wo Shayar nahi Hai'n, Wo to Shayr Kehne jaante hi nahi ,na Unhone tumhe zaleel Kiya hai_,"
Ye sun kar Wo waapas lot gayi ,Baad me Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Aap ﷺ se Puchha - Ey Allah ke Rasool ! Wo Aapko dekh kyu nahi saki _,"
Aapne irshad farmaya:- Ek farishte ne mujhe Apne Paro me chhupa liya tha _,"
Ek rivayat ke mutabiq Aapne ye Jawab irshad farmaya tha :- Mere aur Uske darmiyaan Ek Aad paida kar di gayi thi ,
 ★__ Abu Lahab Ke ek bete Ka Naam Utba tha aur Doosre Ka Naam Utaiba tha ,Elaane Nabuwat SE Pehle Rasoole Kareem ﷺ ne Apni Do Betiyo'n Hazrat Ruqayya aur Hazrat Umme Qulsum Raziyllahu Anhuma Ka nikaah Abu Lahab ke in Dono Beto'n SE Kar diya tha,Sirf Nikaah hua tha ,Abhi Rukhsati nahi hui thi, Islam Ka Agaaz hua aur Surah Lahab Naazil hui to Abu Lahab ne Gusse me aa Kar Apne Beto'n SE Kaha :- Agar Tum Muhammad ki Betiyo'n ko talaaq Nahi doge to Mai'n Tumhara Chehra nahi dekhunga _,"

★_ Chunache in Dono ne Unhe Talaaq de di ( Dekha Jaye to Aap ﷺ ki Betiyo'n ke liye isme Hikmat thi goya Allah Ta'ala ne Chaha k ye Paak Sahabzadiya'n Utba aur Utaiba ke Yaha'n na ja sake'n ), Ye Rishta islam SE Dushmani ki buniyad per Khatm Kiya gaya,Yani Aap Dono chunki Nabi Kareem ﷺ ki Sahabzadiya'n thi isliye ye qadam uthaya gaya ,

"_ is moqe per Utaiba Nabi Kareem ﷺ ki khidmat me Haazir hua aur Usne Aapki shaan me gustakhi ki ,Aap Sahabzadiyo'n ki vajah se Pehle hi gamgeen they ,in Halaat me Aapne Uske Haq me Bad -Dua farmayi :- Ey Allah ! Is per Apne Kutto me SE ek Kutta musallat farma de _,"

★_ Utaiba ye Bad -Dua sun Kar waha'n SE lot Aaya ,Usne Apne Baap Abu Lahab ko Saara haal sunaya,Iske baad Dono Baap Beta Ek Qafile ke Saath Mulk Shaam ki taraf rawana ho gaye,Raaste me ye log Ek Jagah thehre, Waha'n qareeb hi Ek Raahib ki ibaadat gaah thi , Raahib unke paas Aaya ,Usne Kaha - "_ is ilaaqe me jungli darinde rehte Hai'n _,"
Abu Lahab ye sun Kar Khofzada ho gaya,Nabi Kareem ﷺ ki Bad -Dua Yaad aa gayi,Usne Qafile walo se Kaha - Tum log Meri Haisiyat SE Ba khabar ho aur ye bhi jaante ho k Mera tum per kya Haq hai _,"
Unhone ek Zubaan ho Kar Kaha:- Beshak Hume Maloom hai _"
Abu Lahab ye sun Kar Bola :- Tab fir Hamari madad Karo , Mai'n Muhammad ki Bad -Dua ki vajah se khofzada ho gaya Hu'n , isliye tum log Apna Samaan is ibaadatgaah ki taraf Rakh Kar us per mere Bete Ka bistar laga do aur uske Charo taraf tum log Apne Bistar laga lo _,"

★__ UN Logo'n ne esa hi Kiya ,Yahi nahi Unhone Apne Charo taraf Apne Ounto'n ko bhi bitha diya ,is Tarah Utaiba in Sabke ayn darmiyaan me aa gaya, Ab Wo sab uski paasbaani Karne lage ,
: ★_ in Tamaam Ahatyaati tadabeer ke bavjood Nabi Kareem ﷺ ki peshgoyi Poori ho gayi ,Nisf Raat ke qareeb Ek Sher waha'n Aaya aur soye hue logo ko soonghne laga ,Ek Ek ko soonghte hue wo aage badta raha Yaha'n tak k wo lambi chhalang laga Kar Utaiba tak pahunch gaya,bas fir kya tha ,Usne use Cheer faad Kar Halaal Kar dala ,

★_ Takaleef Pahunchane Ka Ek aur Waqia is Tarah pesh Aaya k Ek Roz Aap ﷺ Masjide Haraam me Namaz padh rahe they, Qareeb hi Kuchh jaanwar zibah kiye gaye they ,Wo log Apne Buto'n ke Naam per qurban Karte they,Un Jaanwaro ki ek Ojhdi abhi tak Wahi'n padi thi ,ese me Abu Jahal ne Kaha - Kya koi Shakhs esa hai Jo is Ojhdi ko Muhammad ke Ouper daal de _,"

Ek rivayat ke mutabiq Kisi ne Kaha - Kya tum ye manzar nahi dekh rahe ho Tumme SE kon hai Jo waha'n Jaye Jaha'n Fala Qabile ne Jaanwar zibah kiye Hai'n , unka gobar ,leed ,Khoon aur Ojhdi waha'n pade Hai'n, Koi Shakhs waha'n ja Kar Gandhi utha laye aur Muhammad ke Sajde me Jane Ka intezar kare ,Fir Jo'nhi Wo Sajde me Jaye Wo Shakhs Gandhi unke Kandho ke darmiyaan rakh de _,"

★__ Tab Mushriko me SE ek Shakhs utha ,Uska Naam Uqba bin Abi Mu'iyt tha ,Ye Apni Qaum me Sabse zyada bad bakht tha ,Ye gaya aur Ojhdi utha laya ,Jab Aap ﷺ Sajde me gaye to Ojhdi Aap per rakh di ,
Is per Mushrikeen zor zor se Hansne lage Yaha'n tak k wo hansi SE behaal ho gaye aur ek doosre per girne lage ,Ese me Kisi ne Hazrat Faatima Az Zohra Raziyllahu anha ko ye Baat bata di, Wo roti hui Haram me aayi ,Nabi Kareem ﷺ usi Tarah Sajde me they aur Ojhdi Aapke Kandho per thi ,Sayyada Faatima Raziyllahu anha ne Ojhdi ko Aap per se hataya ,Uske baad Aap Sajde se uthe aur Namaz ki Haalat me khade ho gaye, Namaz se Faarig ho Kar Aap ﷺ ne un logo ke Haq me Bad -Dua farmayi :- Ey Allah ! Tu Quresh ko Zaroor Saza de ,Ey Allah Tu Quresh ko Zaroor Saza de, Ey Allah Tu Quresh ko Zaroor Saza de_,"

★__ Quresh Jo maare hansi ke lot pot ho rahe they Ye Bad -Dua Sunte hi unki hansi kafoor ho gayi ,is Bad -Dua ki vajah se Wo Dehshat zada ho gaye, iske baad Aapne Naam Le le Kar bhi Bad -Dua farmayi :- 
"_ Ey Allah ! Tu Amru bin Hisham ko Saza de ( Yani Abu Jahal ko ) Uqba bin Abi Mu'iyt aur Umayya bin Khalf ko Saza de _,"

Hazrat Abdullah bin Masoud Raziyllahu Anhu Kehte Hai'n :- Allah ki qasam ! Aap ﷺ ne Jin Jin Qureshiyo Ka Naam Liya tha ,Maine Unhe Gazwa E Badar me khaak v Khoon me lathda hua dekha aur fir unki Laasho ko ek gadhe me faink diya gaya _,"
 ╨─────────────────────❥
★_ कड़ी आज़माइश _*,

★__ कुरेश तो यह कह कर चले गए, अबू तालिब परेशान हो गए, वह अपनी कौम के गुस्से से अच्छी तरह वाकिफ थे ।दूसरी तरफ इस बात को पसंद नहीं कर सकते थे कि कोई भी शख्स हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को रुसवा करने की कोशिश करें, इसलिए उन्होंने रसूल नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से कहा :- भतीजे ! तुम्हारे क़ौम के लोग मेरे पास आए थे उन्होंने मुझसे यह यह... कहा है इसलिए अपने ऊपर और मुझ पर रहम करो और मुझ पर ऐसा बोझ ना डालो जिसको मैं उठा ना सकूं _,"

अबू तालिब की इस गुफ्तगू से नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने ख्याल किया कि अब चचा उनका साथ छोड़ रहे  हैं ,वह भी अब आपकी मदद नहीं करना चाहते आप की हिफाजत से हाथ उठा रहे हैं ,इसलिए आप ने फरमाया :-
"_  चाचा जान! अल्लाह की कसम ! अगर यह लोग मेरे दाएं हाथ पर सूरज और बाएं हाथ पर चांद रख दें और यह कहे कि मैं इस काम को छोड़ दूं तो भी मैं हरगिज इसे नहीं छोडूंगा यहां तक कि खुद अल्लाह ताला इसको ज़ाहिर फरमा दे।
यह कहते हुए आपकी आवाज भर्रा गई , आपकी आंखों में आंसू आ गए, फिर आप उठकर जाने लगे लेकिन उसी वक्त अबू तालिब में आपको पुकारा :-  भतीजे इधर आओ । 
आप उनकी तरफ मुड़े तो उन्होंने कहा :-  जाओ भतीजे , जो दिल में चाहे कहो ,अल्लाह की कसम मैं तुम्हें किसी हाल में नहीं छोडूंगा।

★_जब कुरेश को अंदाजा हो गया कि अबू तालिब आपका साथ छोड़ने पर तैयार नहीं है तो वो अम्मारा बिन वलीद को साथ लेकर अबू तालिब के पास आए और बोले :- अबू तालिब यह अम्मारा बिन वलीद है कुरेश का सबसे ज्यादा बहादुर ताकतवर और सबसे ज्यादा हंसी नौजवान हैं ,तुम इसे लेकर अपना बेटा बना लो और इसके बदले में अपने भतीजे को हमारे हवाले कर दो इसलिए कि वह तुम्हारे और तुम्हारे बाप दादा के दीन के खिलाफ जा रहा है, उसने तुम्हारी क़ौम में फूट डाल दी है और उनकी अक़्लें खराब कर दी हैं ,तुम उसे हमारे हवाले कर दो ताकि हम उसे कत्ल कर दें.... इंसान के बदले में हम तुम्हें इंसान दे रहे ।
कुरेश कि यह बेहूदा तजवीज़ सुनकर अबू तालिब ने कहा :- अल्लाह की क़सम ! यह हरगिज नहीं हो सकता क्या तुम यह समझते हो कि कोई ऊंटनी अपने बच्चे को छोड़कर किसी दूसरे बच्चे की आरजूमंद हो सकती है_," 
उनका जवाब सुनकर मुत'अम बिन अदी ने कहा :- अबू तालिब तुम्हारी क़ौम ने तुम्हारे साथ इंसाफ का मामला किया है और जो बात तुम्हें नापसंद है उससे छुटकारे के लिए कोशिश की है अब मैं नहीं समझता कि इसके बाद तुम उनकी कोई और पेशकश कबूल करोगे ।

जवाब में अबू तालिब बोले :- "_ अल्लाह की कसम ! उन्होंने मेरे साथ इंसाफ नहीं किया बल्कि तुम सब ने मिलकर मुझे रुसवा करने और मेरे खिलाफ गठजोड़ करने के लिए यह सब कुछ किया है , इसलिए अब जो तुम्हारे दिल में आए कर लो _,"
बाद में यह शख्स यानी अम्मारा बिन वलीद हबशा मे कुफ्र की हालत में मरा , इस पर जादू कर दिया गया था, उसके बाद यह वहशतज़दा हो कर जंगलों और घाटियों में मारा मारा फिरा करता था, इस तरह दूसरा शख्स मुत'आम बिन अदी भी कुफ्र की हालत में मरा ।
 ★__ गर्ज़ जब अबू तालिब ने कुरेश की यह पेशकश भी ठुकरा दी तो मामला हद दर्जे संगीन हो गया । दूसरी तरफ अबू तालिब ने कुरेश के खतरनाक इरादों को भांप लिया ,उन्होंने बनी हाशिम और बनी अब्दुल मुत्तलिब को बुलाया, उनसे दरख्वास्त की कि सब मिलकर आप की हिफाजत करें ,आपका बचाव करें । उनकी बात सुनकर सिवाय अबू लहब के सब तैयार हो गए , अबू लहब ने उनका साथ ना दिया , यह बद बख्त सख्ती करने और आप के खिलाफ आवाज़ उठाने से बाज़ ना आया । इसी तरह जो लोग आप पर ईमान ले आए थे उनकी मुखालफत में भी अबू लहब ही सबसे पैश पैश था । आपको और आपके साथियों को तकलीफ पहुंचाने में भी यह कुरेश से बढ़ चढ़कर था।

★__ आपको तकलीफ पहुंचाने के सिलसिले में हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु एक वाक्या बयान करते हैं, फरमाते हैं :- 
एक रोज़ मैं मस्जिद ए हराम में था कि अबू जहल वहां आया और बोला -मैं खुदा की क़सम खाकर कहता हूं अगर मैं मोहम्मद को सजदा करते हुए देख लूं तो मैं उनकी गर्दन मार दूं ।
हजरत अब्बास रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं, यह सुनकर मैं फौरन नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की तरफ गया और आपको बताया कि अबू जहल क्या कह रहा है। नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम यह सुनकर गुस्से की हालत में बाहर निकले और तेज तेज चलते मस्जिद ए हराम में दाखिल हो गए यहां तक कि गुज़रते वक्त आपको दीवार की रगड़ लग गई। उस वक्त आप सूरह अल अलक़ की आयत 1-2 पढ़ रहे थे ।
*"_तर्जुमा_,*_ ए पैगंबर आप अपने रब का नाम लेकर (क़ुरान) पढ़ा कीजिए ! वह जिसने मखलुक़ात को पैदा किया जिसने उन्हें खून के लोथड़े से पैदा किया _,"

★__ तिलावत करते हुए आप इस सूरत की आयत 6 तक पहुंच गए , 
*( तर्जुमा )*_सचमुच बेशक काफिर आदमी हद से निकल जाता है_,"
आपने सूरत का आखरी हिस्सा पड़ा जहां सजदे की आयत है और इसके साथ ही आप सजदे में गिर गए , उसी वक्त किसी ने अबू जहल से कहा -अबुल हसम यह मुहम्मद सजदे में पड़े हैं। 
यह सुनते ही अबू जहल फौरन आपकी तरह बढ़ा ,आपके नजदीक पहुंचा लेकिन फिर अचानक वापस आ गया ।लोगों ने हैरान होकर पूछा -अबुल हकम क्या हुआ ?

★__ जवाब में उसने और ज्यादा हैरान होकर कहा -जो मैं देख रहा हूं क्या तुम्हें वह नज़र नहीं आ रहा ?
उसकी बात सुनकर लोग और ज्यादा हैरान हो गए और बोले- तुम्हें क्या नजर आ रहा है अबुल हकम ?
इस पर अबू जहल ने कहा -मुझे अपने और उनके दरमियां आग की एक खंदक नज़र आ रही है।
 ★__ इसी तरह एक दिन अबू जहल ने कहा :- ए गिरोह कुरेश जैसा कि तुम देख रहे हो मुहम्मद तुम्हारे दीन में ऐब डाल रहा है तुम्हारे मा'बूदों को बुरा कह रहा है तुम्हारी अक़लों को खराब बता रहा है और तुम्हारे बाप दादाओं को गालियां दे रहा है, इसलिए मैं खुदा के सामने अहद करता हूं कि कल मैं मुहम्मद के लिए इतना बड़ा पत्थर लेकर बैठूंगा जिसका बोझ वह बर्दाश्त नहीं कर सकेंगे जोंही वह सजदे में जाएंगे मैं वह पत्थर उनके सर पर  दे मारूंगा , इसके बाद तुम लोगों को अख्तियार है चाहो तो इस मामले में मेरी मदद करना और मुझे पनाह देना ,चाहो तो मुझे दुश्मनों के हवाले कर देना फिर बनी अब्दे मुनाफ मेरा जो भी हश्र करें ।
यह सुनकर कुरेश ने कहा :-अल्लाह की कसम हम तुम्हें किसी कीमत पर दगा नहीं देंगे इसलिए जो तुम करना चाहते हो इतमिनान से करो ।

★__ दूसरे दिन अबू जहल अपने प्रोग्राम के मुताबिक एक बहुत भारी पत्थर उठा लाया और लगा नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का इंतजार करने। इधर नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम आदत के मुताबिक सुबह की नमाज के बाद वहां शरीफ ले आए। उस वक्त आपका क़िब्ला बेतुल मुकद्दस की तरफ था आप नमाज के लिए रुकने यमानी और हजरे अस्वद के दरमियान खड़े हुआ करते थे, काबे को अपने और बेतुल मुकद्दस के दरमियान कर लिया करते थे ।

"_आपने आते ही नमाज़ की नियत बांधी, इधर कुरेश के लोग अपने-अपने घरों में बैठे इंतजार कर रहे थे कि देखें आज क्या होता है ?अबू जहल अपने प्रोग्राम में कामयाब होता है या नहीं ? फिर जोंही आप सज्दे में गए अबू जहल ने पत्थर उठाया और आपकी तरफ बढ़ा, जैसे ही वह आपके नजदीक हुआ एकदम उस पर लर्ज़ा तारी हो गया, चेहरे का रंग उड़ गया घबराहट के आलम में वहां से पीछे हटा। इधर पत्थर पर उसके हाथ इस तरह जम गए उसने चाहा हाथ उस पर से हटा ले लेकिन हटा ना सका।

★__ क़ुरेश के लोग फौरन उसके गिर्द जमा हो गए और बोले :-अबुल हकम क्या हुआ?
 उसने जवाब दिया:- मैंने रात को तुमसे जो कहा था उसका पूरा करने के लिए मैं मुहम्मद की तरह बड़ा मगर जैसे ही उनके करीब पहुंचा एक जवान ऊंट मेरे रास्ते में आ गया मैंने उस जैसा जबरदस्त ऊंट आज तक नहीं देखा, वह एकदम मेरी तरफ बड़ा जैसे मुझे खा लेगा।

★__ इस वाक्य़े का जिक्र नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से किया गया तो आप ने फरमाया :- वह जिब्राइल अलैहिस्सलाम थे अगर वो मेरे नज़दीक आता तो वो ज़रूर उसे पकड़ लेते।
 ★__ एक रोज़ हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम खाना काबा में नमाज पढ़ रहे थे कि अबू जहल आपके पास आया और बोला:- क्या मैंने आपको इससे मना नहीं किया था आप जानते नहीं मैं सबसे बड़े गिरोह वाला हूं ।
इस पर सूरह अल-अलक़ की आयत 17-18 नाजिल हुई।
*"_( तर्जुमा)* _ सो यह अपने गिरोहों के लोगों को बुला ले, अगर उसने ऐसा किया तो हम भी दोजख के प्यादों को बुला लेंगे।

"_ हज़रत इब्ने अब्बास रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं- अगर अबू जहल अपने गिरोहों को बुलाता तो अल्लाह ताला के अजा़ब के फरिश्ते उसे पकड़कर तहस-नहस कर देते _।"

★__ एक रोज़ अबू जहल हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के सामने आया और आपसे मुखातिब हुआ :- आपको मालूम है मैं बतहा वालों का मुहाफिज हूं और मैं यहां एक शरीफ तरीन शख्स हूं ।
उस वक्त अल्लाह ताला ने सूरह दुखान की आयत 49 नाजिल फरमाई :-
*"( तर्जुमा )* _चख तू बड़ा मो'जिज़ मुकर्रम है। 
आयत का यह जुमला दोजख के फरिश्ते अबू जहल को डांटते वक्त फटकारते हुए कहेंगे।

★__ अबू लहब भी हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की ईज़ा रसानी में आगे-आगे था ,नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की तबलीग में रुकावट डालता था। आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को बुरा भला कहता था । उसकी बीवी उम्में जमील भी उसके साथ शामिल थी ,वह जंगल से कांटेदार लकड़ियां काट कर लाती और नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के रास्ते में बिछाती, इस पर अल्लाह ताला ने सूरह अल मसद नाजि़ल फरमाई , इसमें अबू लहब के साथ उसकी बीवी को भी अजा़ब की खबर दी गई। वह गुस्से में आग बबूला हो गई पत्थर हाथ में लिए आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम की तरफ बड़ी । उस वक्त आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के साथ अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु थे।

★_ उन्होंने अबू लहब की बीवी को आते देखा तो फरमाया:- अल्लाह के रसूल यह औरत बहुत ज़ुबान दराज़ है अगर आप यहां ठहरे तो इसकी बद ज़ुबानी से आपको तकलीफ पहुंचेगी ।
उनकी यह बात सुनकर हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया :-अबू बकर फिक्र ना करो वह मुझे ना देख सकेगी ।
इतने में उम्मे जमील नजदीक पहुंच गई ,उसे वहां सिर्फ अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु नज़र आए, वह आते ही बोली:- अबू बकर तुम्हारे दोस्त ने मुझे ज़लील किया है ,कहां है तुम्हारा दोस्त जो शेर पड़ता है?
 अबू बकर बोले :-क्या तुम्हें मेरे साथ कोई नजर आ रहा है?
क्यों क्या बात है ,मुझे तो तुम्हारे साथ कोई नजर नहीं आ रहा ।
उन्होंने पूछा:- तुम उनके साथ क्या करना चाहती हो ?
जवाब में उसने कहा:- मैं यह पत्थर उसके मुंह पर मारना चाहती हूं उसने मेरी शान में ना जे़बा शेर कहे हैं।

★_  वह सूरह अल मसद की आयात को शेर समझ रही थी ,इस पर उन्होंने कहा :- नहीं अल्लाह की कसम ! वह शायर नहीं है ,वह तो शेर कहना जानते ही नहीं, ना उन्होंने तुम्हें ज़लील किया है ।
यह सुनकर वह वापस लौट गई, बाद में अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से पूछा:- ऐ अल्लाह के रसूल ! वह आपको देख क्यों नहीं सकी ?
आपने इरशाद फरमाया :- एक फरिश्ते ने मुझे अपने परों में छिपा लिया था ।
एक रिवायत के मुताबिक आपने यह जवाब इरशाद फरमाया था:- मेरे और उसके दरमियान एक आड़ पैदा कर दी गई थी।
: ★__ अबू लहब के एक बेटे का नाम उतबा था और दूसरे का नाम उतैबा था। ऐलाने नबुवत से पहले रसूले करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने अपनी दो बेटियों हजरत रुकैया और हजरत उम्मे कुलसुम रज़ियल्लाहु अन्हुमा का निकाह इन दोनों बेटों से कर दिया था, यह सिर्फ निकाह हुआ था अभी रुखसती नहीं हुई थी , इस्लाम का आगाज़ हुआ और सूरह लहब नाज़िल हुई तो अबू लहब ने गुस्से में आकर अपने बेटों से कहा :-अगर तुम मुहम्मद की बेटियों को तलाक नहीं दोगे तो मैं तुम्हारा चेहरा नहीं देखूंगा।

★_ चुनांचे उन दोनों ने इन्हें तलाक़ दे दी (देखा जाए तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की बेटियों के लिए इसमें हिकमत थी गोया अल्लाह ताला ने चाहा कि ये पाक साहबजादियां उतबा और उतैबा के यहां ना जा सके)  यह रिश्ता इस्लाम से दुश्मनी की बुनियाद पर खत्म किया गया यानी आप दोनों चूंकि नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की साहबजादियां थी इसलिए यह क़दम उठाया गया।

"_ इस मौके पर उतैबा नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में हाजिर हुआ और उसमें आप की शान में गुस्ताखी की। आप साहबजादियों की वजह से पहले ही गमगीन थे, इन हालात में आपने उसके हक़ में बद्दुआ फरमाई :- ए अल्लाह इस पर अपने कुत्तों में से एक कुत्ता मुसल्लत फरमा दे ।

★_ उतैबा यह बद्दुआ सुनकर वहां से लौट आया, उसने अपने बाप को सारा हाल सुनाया । इसके बाद दोनों बाप-बेटा एक काफिले के साथ मुलके शाम की तरफ रवाना हो गए ।रास्ते में यह लोग एक जगह ठहरे वहां करीब ही एक राहिब की इबादतगाह थी , राहिब इनके पास आया, उसने इन्हें बताया -इस इलाके में जंगली दरिंदे रहते हैं ।
अबु लहब यह सुनकर खौफज़दा हो गया ,नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की बद्दुआ याद आ गई । उसने काफिले वालों से कहा:- तुम लोग मेरी हैसियत से बा-खबर हो और यह भी जानते हो कि मेरा तुम पर क्या हक़ है ,"
उन्होंने एक ज़ुबान होकर कहा:- बेशक हमें मालूम है ।
अबु लहब यह सुनकर बोला :-तब फिर तुम हमारी मदद करो ,मैं मुहम्मद की बद्दुआ की वजह से खौफज़दा हो गया हूं इसलिए तुम लोग अपना सामान इस इबादतगाह की तरफ रखकर उस पर मेरे बेटे का बिस्तर लगा दो और उसके चारों तरफ तुम लोग अपने बिस्तर लगा लो_,"

★_उन लोगों ने ऐसा ही किया यही नहीं उन्होंने उसके चारों तरफ अपने ऊंटों को भी बिठा दिया । इस तरह उतैबा उन सब के ऐन दरमियान में आ गया ।अब वह सब उसकी पासबानी करने लगे।
 ★__ इन तमाम अहत्याती तदाबीर के बावजूद भी हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की पेशगोई पूरी हो गई। निस्फ रात के करीब एक शेर वहां आया और सोते हुए लोगों को सूंघने लगा , एक एक को सूंघते हुए वह आगे बढ़ता रहा यहां तक कि वह लंबी छलांग लगाकर उतैबा तक पहुंच गया । बस फिर क्या था उसने उसे चीरफाड कर हलाक कर डाला।

★_ तकालीफ पहुंचाने का एक और वाकि़या इस तरह पेश आया कि एक रोज आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मस्जिद ए हराम में नमाज पढ़ रहे थे । क़रीब ही कुछ जानवर ज़िबह किए गए थे, वह लोग अपने बुतों के नाम पर कुर्बानी करते थे उन जानवरों की एक औझड़ी अभी तक वही पड़ी थी । ऐसे में अबू जहल ने कहा- क्या कोई शख्स ऐसा है जो इस औझड़ी को मोहम्मद के ऊपर डाल दें ?

★_एक रिवायत के मुताबिक किसी ने कहा-  क्या तुम यह मंजर नहीं देख रहे हो ,तुम में से कौन है जो वहां जाए जहां फलां क़बीले के जानवर ज़िबह किए हैं, उनका गोबर लीद खून और औझड़ी वहां पड़े हैं कोई शख्स वहां जाकर गंदगी उठा लाए और मुहम्मद के सजदे में जाने का इंतजार करें फिर जोंही वह सजदे में जाए वह शख्स गंदगी उनके कंधों के दरमियान रख दे _,"

★_ तब मुशरिको में से एक शख्स उठा उसका नाम उक़बा बिन अबी मुईत था , यह अपनी क़ौम में सबसे ज्यादा बदबख्त था यह गया और वो औझड़ी उठा लाया । जब आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम सजदे में गए तो औझड़ी आप पर रख दी।
इस पर क़ुरेश जोर-जोर से हंसने लगे यहां तक कि वह हंसी से बेहाल हो गए और एक दूसरे पर गिरने लगे। ऐसे में किसी ने हजरत फातमा अज़ ज़ौहरा रज़ियल्लाहु अन्हा को यह बात बता दी ,वह रोती हुई हरम में आई।  नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम उसी तरह सजदे में थे और वो औझड़ी आपके कंधों पर थी । सैयदा फातिमा रजियल्लाहु अन्हा ने औझड़ी को आप पर से हटाया ।इसके बाद आप सजदे से उठे और नमाज की हालत में खड़े हो गए ।नमाज से फारिग होकर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने उन लोगों के हक़ में बद-दुआ फरमाई :- 
"_ऐ अल्लाह तू क़ुरेश को जरूर सजा दे, ऐ अल्लाह तू क़ुरेश को जरूर सजा दे, ऐ अल्लाह तू क़ुरेश को जरूर सजा दे,_,"

★_ क़ुरेश जो मारे हंसी के लोटपोट हो रहे थे यह बद्दुआ सुनते ही उनकी हंसी काफूर हो गई ,इस बद्दुआ की वजह से वह दहशत ज़दा हो गए। इसके बाद आपने नाम ले लेकर भी बद दुआ फरमाई :- 
"_ ऐ अल्लाह तू अमरु बिन हिशाम को सजा दे (यानी अबू जहल को ) उक़बा बिन अबी मुईत और उमैया बिन खल्फ को सजा दे ।

★_हजरत अब्दुल्लाह बिन मसूद रज़ियल्लाहु अन्हु कहते हैं :- अल्लाह की कसम ! आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने जिन जिन क़ुरेशियों का नाम लिया था मैंने उन्हें गजवा ए बदर में खाक़ व खून में लिथड़ा हुआ देखा और फिर उनकी लाशों को एक गड्ढे में फेंक दिया गया ।
 ╨─────────────────────❥
*★_ Qurbaniya'n hi Qurbaniya'n _,*

★__ Isi Tarah Ek Waqia Hazrat Usman Raziyllahu anhu is Tarah Bayan farmate hai'n :- 
"_ Ek Roz Nabi Kareem ﷺ Tawaaf farma rahe they, Us Waqt Aapka Haath Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke haath me tha , Hajre Aswad ke paas Teen Aadmi bethe they ,Jab Aap Hajre Aswad ke paas se guzre aur Unke qareeb pahunche to un teeno ne Aapki zaate Ba Barkat per Chand Jumle kase ,in jumlo ko sun Kar Aapko Takleef pahunchi , Takleef ke Asaar Aapke Chehre SE Zaahir hue , Doosre Faire me Abu Jahal ne Kaha- Tum Hume in Ma'aboodo ki ibaadat Karne se rokte ho Jinhe Hamare Baap Dada Poojte Aaye Hai'n, Lekin hum Tumse Sulah nahi Kar Sakte _,"
Jawab me Aap ﷺ ne farmaya :- Mera bhi Yahi haal hai _,"
Fir Aap aage bad gaye ,Teesre Faire me bhi Unhone esa hi Kaha ,Fir chhothe Faire me ye teeno Ek dam Aapki taraf Jhapte ,

★__ Hazrat Usman Raziyllahu anhu farmate Hai'n :- Abu Jahal ne Ek dam aage bad Kar Aap ﷺ ke Kapde Pakadne ki Koshish ki , Maine Aage bad Kar ek Ghoonsa Uske Seene per maara ,isse Wo Zameen per gir pada ,Doosri Taraf SE Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Umayya bin Khalf ko dhakela ,Teesri taraf khud Huzoor Nabi Kareem ﷺ ne Utba bin Abi Mu'iyt ko dhakela , Aakhir ye log Aapke pass SE hat gaye, Us Waqt Aapne irshad farmaya :- Allah ki qasam ! Tum log us Waqt tak nahi maroge jab tak Allah ki taraf se iski Saza nahi bhugat loge _,"

★__ Hazrat Usman Raziyllahu anhu farmate Hai'n :- Ye Alfaz sun Kar un teeno me se ek bhi esa nahi tha Jo khof ki vajah se kaanpne na laga ho _"
Fir Aapne irshad farmaya :- Tum log Apne Nabi ke liye Bahut bure Saabit hue _,"
Ye farmane ke baad Aap Apne Ghar ki taraf lot gaye , Hum Aapke Pichhe Pichhe chale ,
Jab Aap Apne Darwaze per pahunche to Achanak Hamari taraf mude aur farmaya :- Tum log gam na karo , Allah Ta'ala khud Apne Deen ko failane wala, Apne Kalme ko Poora Karne wala aur Apne Nabi ki madad Karne wala hai , Un logo ko Allah Bahut jald Tumhare Haatho zibah karwayega _,"

★_ iske baad hum bhi Apne Apne gharo ko chale gaye aur fir Allah ki qasam Gazwa E Badar ke Din Allah Ta'ala ne un logo ko Hamare Haatho zibah karaya _,
: ★_ Ek Roz esa hua k Aap Khana Kaaba Ka tawaaf Kar rahe they,Ese me Uqba bin Abi Mu'iyt waha'n aa gaya,Usne Apni Chaadar utaar Kar Aapki gardan me daali aur usko bal dene laga ,Is Tarah Aapka gala ghutne laga ,Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu daud Kar Aaye aur use Kandho SE pakad Kar dhakela,Saath hi Unhone farmaya :- 
"_ Kya tum us Shakhs ko qatl Karna Chahte ho Jo ye Kehta hai k Mera Rab Allah hai... Aur Jo Tumhare Rab ki taraf se khuli nishaniya'n le Kar Aaya hai _",

★__ Bukhari ki ek Hadees ke mutabiq Hazrat Amru bin Zuber Raziyllahu anhu se rivayat hai k Maine Ek martaba Hazrat Amru bin Aas Raziyllahu Anhu se Puchha :- mujhe bataiye ! Mushrikeen ki taraf se Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke Saath Sabse zyada badtareen aur sakht tareen sulook kisne Kiya tha ?
Jawab me Hazrat Amru bin Aas Raziyllahu Anhu ne farmaya :- 
"_ Ek martaba Huzoor Nabi Kareem ﷺ Kaaba me Namaz Ada farma rahe they k Uqba bin Abi Mu'iyt Aaya ,Usne Aapki gardan me Kapda daal Kar usse Poori Quwwat se Aapka gala ghonta ,Us Waqt Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne use dhakel Kar hataya _,"

Ye Qaul Hazrat Amru bin Aas Raziyllahu Anhu Ka hai , Unhone Yahi Sabse Sakht bartaav Dekha Hoga Varna Aap ﷺ ke Saath isse Kahi zyada sakht bartaav Kiya gaya _,"

★__ Fir Jab Musalmano ki tadaad 38 ho gayi to Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Aap ﷺ se arz Kiya :- 
"_ Ey Allah ke Rasool ! Masjide Haraam me Tashreef le chaliye Taki hum waha'n Namaz Ada Kar sake'n _,"
Is per Aap ﷺ ne irshad farmaya :- Abu Bakar! Abhi Hamari tadaad thodi hai _,"
Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne fir isi khwahish Ka izhaar Kiya , Aakhir Huzoor Nabi Kareem ﷺ Apne Tamaam Sahaba ke Saath Masjide Haraam me pahunch gaye,Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne khade ho Kar khutba diya ,Logo ko Kalma padh Lene ki Dawat di ,is Tarah Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Sabse Pehle Shakhs Hai'n Jinhone Masjid me khade ho Kar is Tarah Tablig farmayi _,"
 ★_ Us Khutbe ke Jawab me Mushrikeen Makka Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu aur Doosre Musalmano per toot pade aur Unhe maarne lage ,Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko to unhone Sabse zyada maara pita , Maar peet ki inteha Kar di gayi ,Uqba to Unhe Apne jooto SE maar raha tha, Usme dohra tala laga hua tha ,Usne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke Chehre per un jooto se itni zarbe lagayi k Chehra lahu luhaan ho gaya ,

★__ Ese me Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke Qabile Banu Tameem ke log Waha'n pahunch gaye, Unhe dekhte hi Mushrikeen ne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko Chhod diya, Un logo ne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko ek Kapde per Lita diya aur behoshi ki Haalat me Ghar le Aaye ,Un sabko Yaqeen ho chuka tha k Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Aaj zinda nahi bachenge ,iske baad Banu Tameem ke log waapas Haram Aaye , Unhone Kaha :- Allah ki qasam ! Agar Abu Bakar mar gaye to hum Uqba ko qatl Kar denge _,"
Ye log fir Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ke paas Aaye , Unhone aur Hazrat Abu Bakar  Raziyllahu anhu ke Waalid ne unse Baar Baar Baat Karne ki Koshish ki , Lekin Aap bilkul behosh they , Aakhir Shaam ke Waqt Kahi'n ja Kar Aapko hosh Aaya aur bolne ke qabil hue , Unhone Sabse Pehle ye puchha :- Aan'Hazrat ﷺ Ka kya haal hai ? 

★__ Ghar me mojood afraad ne unki is Baat Ka koi Jawab na diya ,idhar Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Baar Baar Apna Sawal dohra rahe they , Aakhir unki Waalda ne Kaha:- Allah ki qasam ! Hume Tumhare Dost ke bare me Kuchh Maloom nahi _,"
Ye sun Kar Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne farmaya:- Achchha to fir Umme Jameel bint Khattaab ke paas jaiye ,Unse Aan'Hazrat ﷺ Ka haal daryaft Kar Ke mujhe bataiye _,"

"__ Umme Jameel Raziyllahu Anha Hazrat Umar Raziyllahu anhu ki Behan thi ,islam qubool Kar chuki thi, Lekin abhi tak Apne islam ko chhupaye hue thi ,Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki Waalda unke paas pahunchi , Unhone Umme Jameel Raziyllahu Anha SE Kaha :- Abu Bakar Muhammad bin Abdullah ki khairiyat poochhte Hai'n _,"
Umme Jameel Raziyllahu Anha chunki Apne Bhai Hazrat Umar Raziyllahu anhu se darti thi ,Wo abhi tak imaan nahi laye they, isliye Unhone Kaha :- Mai'n nahi jaanti _,"
Saath hi Wo Boli :- Kya Aap mujhe Apne Saath le Jana chahti Hai'n_,?
Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ki Waalda ne foran Kaha :- Haa'n !,

★__ Aap Dono waha'n SE Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke paas Aaye, Umme Jameel Raziyllahu Anha ne Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ko zakhmo se choor dekha to Cheekh padi :- Jin logo ne Tumhare Saath ye sulook Kiya hai Wo yaqinan faasiq aur Bad tareen log Hai'n ,Mujhe Yaqeen hai Allah Ta'ala unse Aapka badla lega _,"
Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Kaha :- Rasulullah ﷺ Ka kya haal hai ?
Umme Jameel Raziyllahu Anha ese logo ke Saamne Baat Karte hue darti thi Jo abhi imaan nahi laye they, Chunache Boli :- Yaha'n Aapki Waalda mojood Hai'n _,"
Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu foran bole :- Unki taraf se be fikr rahe'n, ye Aapka raaz Zaahir nahi karengi _,"
Ab Umme Jameel Raziyllahu Anha ne Kaha:- Rasulullah ﷺ khairiyat SE Hai'n _,"
Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Puchha :- Huzoor ﷺ is Waqt Kaha'n Hai'n ?
Umme Jameel ne farmaya :- Daare Arqam me _,"
Ye sun Kar Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu bole :- Allah ki qasam! Mai'n us Waqt tak na Kuchh khaunga ,na piyunga Jab tak k Mai'n Rasulullah ﷺ SE mil na Lu'n _,"
 ★_ Un Dono ne Kuchh der intezar Kiya ..Taki bahar Sukoon ho Jaye ... Aakhir ye Dono Unhe Sahara de Kar le Chali aur Daare Arqam pahunch gayi , Jo'nhi Nabi Akram ﷺ ne Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ki ye Haalat dekhi to Aapko behad sadma hua ,Aapne aage bad Kar Abu Bakar Raziyllahu Anhu ko gale se laga liya , Unhe Bosa diya, Baqi Musalmano ne bhi Unhe gale se lagaya aur Bosa diya,Fir Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Aap ﷺ se Arz Kiya :- Aap per mere Maa'n Baap qurban ho ,Ey Allah ke Rasool ! Mujhe Kuchh to nahi hua ,Sivaye iske k mere Chehre per chote'n aayi Hai'n ,Ye Meri Waalda mere Saath aayi Hai'n, Mumkin hai Allah Ta'ala Aapke Tufail inhe Jahannam ki Aag se bacha le _,"

Nabi Kareem ﷺ ne unki Waalda ke liye Dua farmayi ,Fir Unhe islam ki Dawat di , Wo usi Waqt imaan le aayi _,Jisse Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu aur Tamaam Sahaba ko behad Khushi hui ,

★_ Ek Roz Sahaba kiraam Nabi Kareem ﷺ ke gird Jama they ,Ese me Kisi ne Kaha :- Allah ki qasam ! Quresh ne Aaj tak Nabi Kareem ﷺ ke alawa Kisi aur ki Zubaan Buland Awaaz me Qur'an nahi Suna , isliye tum me SE Kon hai Jo unke Saamne Buland Awaaz me Qur'an padhe _,"
Ye sun Kar Hazrat Abdullah bin Masoud Raziyllahu Anhu bol uthe :- Mai'n unke Saamne Buland Awaaz SE Qur'an padhunga _,"

Hazrat Abdullah bin Masoud Raziyllahu Anhu ki Baat sun Kar Sahaba ne Kaha:- Hume Quresh ki taraf se Aapke bare me khatra hai ,Hum to esa Aadmi chahte Hai'n Jiska Khandaan Quresh SE uski Hifazat karta rahe _,"
Iske Jawab me Hazrat Abdullah bin Masoud Raziyllahu Anhu ne farmaya:- Tum Meri Parwaah na karo ,Allah Ta'ala khud Meri Hifazat farmayenge _,"

★__ Dopahar ke baad Hazrat Abdullah bin Masoud Raziyllahu Anhu Baitullah me pahunch gaye,Aap Maqaame Ibrahim ke paas khade ho gaye,Us Waqt Quresh Apne Apne gharo me they ,Ab inhone Buland Awaaz SE Qur'an padhna shuru Kiya _,
Quresh ne ye Awaaz suni to Kehne lage :- Muhammad Jo Kalaam le Kar Aaye Hai'n,Ye Wohi padh raha Hai _"
Ye Sunte hi Mushrikeen unki taraf daud pade aur lage Unhe maarne peetne , Abdullah bin Masoud Raziyllahu Chote Khaate Jate they aur Qur'an Padhte jate they , Yaha'n tak k unhone Soorat Ka zyadatar hissa tilawat Kar daala _,

★__ Iske baad waha'n SE Apne Saathiyo'n ke paas aa gaye , Unka Chehra us Waqt tak lahu luhaan ho chuka tha ,Unki ye Haalat dekh Kar Musalman bol uthe:- Hume Tumhari taraf se isi Baat Ka khatra tha _,"
Hazrat Abdullah bin Masoud Raziyllahu Anhu ne farmaya:- Allah ki qasam ! Allah Ke Dushmano ko Maine Apne liye Aaj se zyada Halka aur Kamzor Kabhi nahi paya ,Agar tum log Kaho to Kal fir unke Saamne ja Kar Qur'an padh Sakta Hu'n _,"
Is per Musalman bole :- Nahi ,Wo log Jis cheez ko na Pasand Karte Hai'n Aap Unhe Wo kaafi Suna Aaye Hai'n _,"
 ★__ Kuffar Ka ye Zulmo Sitam Jaari raha,Ese me Ek Din Huzoor Aqdasﷺ Safa ki Pahadi ke paas mojood they, Abu Jahal Aapke Pass SE guzra ,Usne Aapko dekh liya aur Laga gaaliya'n dene ,Usne Aapke Sir per Mitti bhi fainki , Abdullah bin Jad'aan ki Baandi ne ye manzar dekha ,Fir Abu Jahal Aapke pass SE chal Kar Haram me dakhil hua , Waha'n Mushrikeen Jama they,Wo unke Saamne Apna Kaarnama Bayan Karne laga ,Usi Waqt Aapke Chacha Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu Haram me dakhil hue ,Ye us Waqt tak musalman nahi hue they,Talwaar unke Kamar SE latak rahi thi,Wo us Waqt shikaar SE waapas Aaye they ,Unki Aadat thi k Jab Shikaar se laut te to Pehle haram ja Kar Tawaaf Karte they,fir Ghar jate they ,

★__Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu Haram me dakhil hone se Pehle Abdullah bin Jad'aan ki Baandi ke paas se guzre,Usne Saara manzar Khamoshi se dekha aur Suna tha ,Usne Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu se Kaha :- Ey Hamza ! Kuchh khabar bhi Hai ,abhi abhi Yaha'n Hakam bin Hisham ( Abu Jahal ) ne Tumhare Bhatije ke Saath kya sulook Kiya hai, Wo Yaha'n Bethe they,Abu Jahal ne Unhe dekh liya,Unhe Takleef pahunchayi , gaaliya'n di aur Bahut buri Tarah pesh Aaya,Aapke Bhatije ne Jawab me use Kuchh bhi na Kaha _,"
Saari Baat sun Kar Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ne Kaha :- Tum Jo Kuchh Bayan Kar rahi ho ,kya tumne Apni Aankho'n se dekha hai _,"
Usne foran Kaha :- Haa'n , Maine khud dekha hai _,"

★__ Ye Sunte hi Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu Josh me aa gaye, Chehra Gusse se tamtama utha ,Foran Haram me dakhil hue, Waha'n Abu Jahal mojood tha ,Wo Qureshiyo ke darmiyaan me betha tha,Ye sidhe us tak ja pahunche ,Haath me kamaan thi ,Bas Wohi kheech Kar Uske Sir per de maari ,Abu Jahal Ka sir fat gaya ,Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ne usse Kaha :- 
"_ Tu Muhammad ko gaaliya'n deta hai,Sun le ! Mai'n bhi Uska Deen Akhtyar karta Hu'n ,Jo Kuchh Wo Kehta hai Wohi Mai'n bhi Kehta Hu'n, Ab agar  tujh me himmat hai to mujhe Jawab de _,"
Abu Jahal unki minnat samajat Karte hue Bola :- Wo Hume Be Aqal batata hai ,Hamare Ma'aboodo ko Bura Kehta hai,Hamare Baap Dada ke Raaste ke khilaf chalta hai _,"
Ye sun Kar Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu bole :- Aur Khud Tumse zyada Be Aqal aur  Bewaqoof kon Hoga Jo Allah ko Chhod Kar Patthar Ke tukdo ko Poojte ho , Mai'n Gawahi deta Hu'n k Allah Ke Siva koi Ma'abood nahi aur Mai'n Gawahi deta Hu'n k Muhammad Allah Ke Rasool Hai'n _,"

★__ Unke ye Alfaz sun Kar Abu Jahal ke khandaan ke Kuchh log Ek dam Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ki taraf bade aur Unhone Kaha :- ab Tumhare bare me bhi Hume Yaqeen ho gaya hai k tum bhi be deen ho gaye ho _,"
Jawab me Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ne farmaya :- 
"_Aa'o ...kon hai mujhe isse rokne wala ,Mujh per Haqeeqat Roshan ho gayi hai , Mai'n Gawahi deta Hu'n k wo Allah Ke Rasool Hai'n,Jo Kuchh Wo Kehte Hai'n Wo Haq aur Sachchayi hai ,Allah ki qasam ! Mai'n Unhe nahi chhodunga, Agar tum Sachche ho to mujhe rok Kar dikha'o _,"
Ye sun Kar Abu Jahal ne Apne logo se Kaha :- Abu Ammara ( Yani Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu) ko Chhod do ,Maine waqa'i inke Bhatije ke Saath abhi Kuchh Bura sulook Kiya tha _,"

★_ Wo log hat gaye , Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu Ghar pahunche, Ghar aa Kar Unhone Uljhan mehsoos ki k Mai'n ye Quresh ke Saamne kya keh Aaya Hu'n ... Mai'n to Quresh Ka Sardaar Hu'n _,
 Lekin fir unka zameer Unhe malamat Karne laga , Aakhir Shadeed Uljhan ke Aalam me Unhone Dua ki :- 
"_ Ey Allah ! Agar ye Sachcha Raasta hai to mere Dil me ye Baat daal de aur Agar esa nahi hai to fir mujhe is Mushkil se nikaal de ,Jisme Mai'n ghir gaya Hu'n _,"
: ★_ Wo Raat Unhone isi Uljhan me guzaari , Aakhir Subeh hui to Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke paas pahunche ,Aapse arz Kiya :- Bhatije ! Mai'n ese maamle me ulajh gaya Hu'n k mujhe isse nikalne Ka koi Raasta samjhaye nahi deta aur ek Esi soorate haal me rehna Jiske bare me Mai'n nahi jaanta ,Ye Sachchayi hai ya nahi ,Bahut sakht maamla hai _,"

★__ Is per Aan'Hazrat ﷺ Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ki taraf mutavajjah hue ,Aapne Unhe Allah Ke Azaab se daraya ,Sawab ki Khush Khabri sunayi ,Aapke Wa'az v Nasihat Ka ye Asar hua k Allah Ta'ala ne Unhe imaan Ka Noor ata farma diya ,Wo bol uthe:- "_ Ey Bhatije ! Mai'n Gawahi deta Hu'n k tum Allah Ke Rasool ho ,Bas Ab tum Apne Deen ko khol Kar pesh Karo _,"

"_ Hazrat ibne Abbaas Raziyallahu Anhu farmate hai'n :- is Waqi'e per Qur'an Paak ki ye Aayat Naazil hui :- 
"_ *( Tarjuma)* _ Esa Shakhs Jo k Pehle Murda tha ,Fir Humne use zinda Kar diya aur Humne use Ek esa Noor de diya k wo use liye hue chalta firta hai _" *( Surah Al An'aam )*

★_ Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu ke imaan lane per Huzoor Nabi Kareem ﷺ ko Bahut zyada Khushi hui, iski Ek vajah to ye thi k Hazrat Hamza Raziyllahu Anhu Aapke Sage Chacha they ,Doosri vajah ye thi k wo Quresh me Sabse zyada Mo'azzaz fard they , iske Saath hi Wo Quresh ke Sabse zyada Bahadur , Taaqatwar aur khuddaar insaan they ,aur isi buniyad per jab Quresh ne dekha k Ab Rasulullah ﷺ ko mazeed Quwwat haasil ho gayi hai to unhone Aapko Takaleef Pahunchane Ka Silsila band Kar diya ,Lekin Apne Tamaam zulm v Sitam ab Wo Kamzor Musalmano per dhaane lage ,

★_ Kisi Qabile Ka bhi koi Shakhs musalman ho jata Wo Uske Pichhe Haath dho Kar pad jate , Ese logo ko qaid Kar dete ,bhooka pyaasa rakhte ,tapti Ret per litate , Yaha'n tak k Uska ye haal ho jata k Sidhe bethne ke qabil bhi na rehta , is zulm aur zyadti per Sabse zyada Abu Jahal logo ko uksaata tha ,

"_ Ese hi logo me Ek Hazrat Bilaal Habshi Raziyllahu Anhu bhi they, Aapka Poora Naam Bilaal bin Rabaah tha ,Ye Umayya bin Khalf ke Gulaam they, 

★__ Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu Makka me Paida hue they, Pehle Abdullah bin Jad'aan Taymi ke Gulaam they, Abdullah bin Jad'aan ke 100 Gulaam they,Ye Umme SE ek they ,Jab islam Ka Agaaz hua aur Uska Noor faila to Abdullah bin Jad'aan ne Apne 99 Gulaamo ko is Khof SE Makka SE bahar bhej diya k Kahi'n Wo Musalman na ho Jaye , Bas Usne Hazrat Bilaal bin Rabaah Raziyllahu Anhu ko Apne paas rakh liya ,Ye uski Bakriya'n charaya Karte they,islam ki Roshni Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu tak bhi pahunchi ,Ye imaan le Aaye Magar inhone Apne islam ko chhupaye rakha ,Ek Roz inhone Kaaba ke Chaaro taraf rakhe Buto'n per Gandhi daal di ,Saath hi Wo un per thookte jate they aur Kehte jate they :- Jisne Tumhari ibaadat ki Wo Rabaah ho gaya_,"

★_ Ye Baat Quresh ko Maloom ho gayi ,Wo foran Abdullah bin Jad'aan ke paas Aaye...aur usse bole :- Tum Be-Deen ho gaye ho _,"
Usne Hairaan ho Kar Kaha:- Kya mere bare me bhi ye Baat Kahi ja Sakti hai?"
Is per Wo bole :- Tumhare Gulaam Bilaal ne Aaj esa Kiya hai _,"
"_ Kya ?" Wo Hairat zada reh gaya_,
 ★__ Abdullah bin Jad'aan ne foran Quresh ko 100 dirham diye Taki Buto'n ki Jo toheen hui hai Uske badle unke naam per Kuchh jaanwar zibah Kar diye  Jaye ,Fir Wo Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ki taraf badha ,Usne Unhe Rassi se baandh diya , Tamaam din bhooka aur pyaasa rakha ,Fir to ye Uska Roz Ka mamool ban gaya,Jab Dopahar ke Waqt Suraj Aag barsane Lagta to Unhe Ghar se nikaal Kar tapti hui Ret per chit Lita deta ,Us Waqt Ret is qadar Garam Hoti thi k agar us per gosht Ka tukda rakh diya jata to Wo bhi bhun jata tha, Wo isi per bas nahi karta tha, Ek Wazni patthar mangata aur Unke Seene per rakh Deta Taki wo Apni Jagah per se Hil bhi na sake ,Fir Wo badbakht unse Kehta :- 
"_ Ab ya to Tu Muhammad ki risaalat aur Paigambari se inkaar Kar aur Laat v Uzza ki ibaadat Kar Varna Mai'n tujhe Yaha'n isi Tarah litaye rakhunga , Yaha'n tak k tera Dam nikal jayega _,"

★__ Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu uski Baat ke Jawab me farmate :- " Ahad....Ahad ..,
Yani Allah Ta'ala Ek hai ,Uska koi Shareek nahi,
Jab Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu Kisi Tarah islam se na hate to tang aa Kar Abdullah bin Jad'aan ne Unhe Umayya bin Khalf ke hawale Kar diya ,Ab ye Shakhs un per isse bhi Zyada zulm v Sitam dhaane laga _,

★__ Ek Roz Unhe isi qism ki Khofnaak sazae'n di ja rahi thi k Huzoor Nabi Kareem ﷺ us taraf se guzre , Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu Shiddate Takleef ki Haalat me Ahad Ahad pukaar rahe they, Aapne Unhe is Haalat me dekh Kar farmaya :- Bilaal ! Tumhe ye Ahad Ahad hi nijaat dilayega _,"

★__ Fir Ek Roz Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu us taraf se guzre , Umayya bin Khalf ne Unhe garam Ret per Lita rakha tha , Seene per ek bhaari patthar rakha hua tha, Unhone ye dardnaak manzar dekh Kar Umayya bin Khalf se Kaha :- "- Kya is miskeen ke bare me tumhe Allah Ka Khof nahi aata , Aakhir kab tak tum ise Azaab diye jaoge _,"
Umayya bin Khalf ne jal Kar Kaha :- "_ Tum hi ne ise kharaab Kiya hai, isliye tum hi ise nijaat kyu nahi dilate _,"
Uski Baat sun Kar Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu bole :- Mere Paas bhi Ek Habshi Gulaam hai ,Wo isse zyada Taaqatwar hai aur Tumhare hi Deen per hai , Mai'n inke badle me tumhe Wo de Sakta Hu'n_,"
Ye sun Kar Umayya Bola :- "_ Mujhe Ye Sauda Manzoor hai _,"

★__ Ye Sunte hi Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Apna Habshi Gulaam Uske hawale Kar diya, Uske badle me Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ko le liya aur Azaad Kar diya _,"

Sub'hanallah ! Kya khoob Sauda hua , Yaha'n ye Baat Jaan Leni Chahiye k Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu Ka Habshi Gulaam Duniya ke lihaaz se Bahut qeemti tha ,Ye bhi Kaha jata hai k Umayya bin Khalf ne Gulaam ke Saath 10 avqiya Sona bhi talab Kiya tha aur Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne Uska ye mutalba bhi maan liya tha , Chunache Aapne use Ek Yamani Chaadar aur Kuchh Sona diya tha, Saath hi Aapne Umayya bin Khalf se farmaya tha :- Agar tum mujhse 100 avqiya Sona bhi talab Karte to bhi Mai'n tumhe de deta _,"
 ★_ Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ke alawa Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne aur bhi Bahut SE Gulaam miskeeno ko khareed Kar Azaad farmaya tha,Ye Wo musalman Gulaam they Jinhe Allah Ka Naam Lene ki vajah se zulm Ka nishana banaya ja raha tha, inme Ek Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ki Waalda Humama Raziyllahu Anha thi ,Ek Aamir bin Fahira Raziyllahu Anhu they ,inhe Allah Ka Naam Lene per bade bade sakht Azaab diye jate , Ye Qabila Bani Tameem ke Ek Shakhs ke Gulaam they,Wo Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu Ka Rishtedar tha ,Aapne Apne Rishtedar SE khareed Kar inhe bhi Azaad farmaya,
 Ek Sahab Abu Fakiya Raziyllahu Anhu they ,Ye Safwaan bin Umayya Raziyllahu Anhu ke Gulaam they,Ye Hazrat Bilaal Raziyllahu Anhu ke Saath hi Musalman hue they, Safwaan bin Umayya Raziyllahu Anhu bhi ibtida me Musalmano ke sakht mukhalif they ,Wo Fateh makka ke baad islam laye they,

★_ Ek Roz inhone Hazrat Fakiya Raziyllahu Anhu ko Garam Ret per Lita rakha tha, Ese me Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu us taraf se guzre, Us Waqt Safwaan bin Umayya Raziyllahu Anhu ye Alfaz keh rahe they :- 
"_ ise abhi aur Azaab do , Yaha'n tak k Muhammad Yaha'n aa Kar Apne Jaadu se ise nijaat dilaye _,"
Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne usi Waqt Safwaan bin Umayya Raziyllahu Anhu se inhe Khareed Kar Azaad Kar diya,

★__ Isi Tarah Zunera Raziyllahu Anha naami ek Aurat ko musalman hone ki buniyad per is qadar Khofnaak sazae'n di gayi k wo bechari andhi ho gayi ,Ek Roz Abu Jahal ne unse Kaha :- Jo Kuchh Tum per beet rahi hai,Ye Sab Laat v Uzza Kar rahe Hai'n _,"
Ye Sunte hi Zunera Raziyllahu Anha ne Kaha :- Hargiz nahi ,Allah ki qasam, Laat v Uzza na koi nafa pahuncha Sakte Hai'n na koi nuqsaan..ye Jo Kuchh ho raha Hai,Aasmaan wale ki marzi se ho raha Hai,Mere Parwardigaar ko ye bhi Qudrat hai k wo mujhe Meri Aankho'n ki Roshni lota de _,"

★__ Doosre Ye subeh uthi to inki Aankho'n ki Roshni Allah Ta'ala ne lota di thi , is Baat Ka jab Kaafiro ko pata Chala to Wo bol uthe :- Ye Muhammad Ki Jaadugari hai ,
Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne inhe bhi khareed Kar Azaad Kar diya,
Aapne Zunera Raziyllahu Anha ki beti ko bhi khareed Kar Azaad Kiya , isi Tarah Nahdiya Naam ki ek Baandi thi ,Inki  Ek beti bhi thi ,Dono Waleed bin Mugira ki baandiya'n thi ,inhe bhi Hazrat Abu Bakar Raziyllahu Anhu ne Azaad Kar diya,

★__ Aamir bin Fahira ki Behan aur unki Walda bhi imaan le aayi thi ,Ye Hazrat Umar ke musalman hone se Pehle unki baandiya'n thi, Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ne inhe bhi khareed Kar Azaad Kar diya,
Imaan lane wale Jin logo per zulm dhaaye gaye unme SE ek Hazrat Khabbaab bin Art Raziyllahu Anhu bhi Hai'n , Kaafiro ne inhe islam se fairne ki koshishe ki Magar ye Saabit qadam rahe ,inhe Jahiliyat ke zamane me giraftaar Kiya gaya tha, Fir inhe Ek Aurat Umme Anmaar ne khareed liya, Ye Ek lohaar they ,Nabi Kareem ﷺ inki diljoi farmate farmate they,Jab ye musalman ho gaye aur Umme Anmaar ko ye Baat Maloom hui to Usne inhe Bahut Khofnaak sazae'n di,Wo Lohe Ka kada le Kar aag me Garam Karti ,Khoob Surkh Karti ,Fir usko Hazrat Khabbaab Raziyllahu Anhu ke Sar per rakh deti , Aakhir Hazrat Khabbaab Raziyllahu Anhu ne Aap ﷺ se Apni musibat Ka Zikr Kiya to Aapne inke liye Dua farmayi,
Nabi Kareem ﷺ ki Dua ke foran baad us Aurat ke Sar me Shadeed dard shuru ho gaya , isse Wo Kutto ki Tarah bhonkti thi , Akhir Kisi ne use ilaaj bataya k wo loha tapa Kar Sar per rakhwaye ,Usne ye Kaam Hazrat Khabbaab Raziyllahu Anhu ke zimme lagaya ,Ab Aap Wo halqa khoob garam Kar Ke Uske Sar per rakhte ,
 ★_ Hazrat Khabbaab Raziyllahu Anhu farmate hai'n k ek Roz Mai'n Huzoor Nabi Kareem ﷺ ki khidmat me Gaya aur Wo zamana tha Jab Hum per khoob zulm Kiya jata tha, Maine Aap ﷺ se Arz Kiya :- Ey Allah ke Rasool, Kya Aap Hamare liye Dua nahi farmate _,"
Mere Alfaz Sunte hi Aap sidhe ho Kar beth gaye,Aapka Chehra Mubarak Surkh ho gaya,Fir Aapne farmaya :- 
"_ Tumse pehli Ummat ke logo ko Apne Deen ke liye Kahi'n zyada Azaab Bardasht Karne pade , Unke Jismo per Lohe ki kanghiya'n ki Jati thi ,Jisse Unki Khaal aur Haddiya'n alag ho jati thi ,Magar ye takaleef bhi Unhe unke Deen se na hata saki ,Unke Saro per Aare Chala Chala Kar unke Jism do Kar diye gaye Magar Wo Apna Deen chhodne per Taiyaar fir bhi na hue , 
is Deene islam ko Allah Ta'ala is Tarah faila dega k San'aa ke Muqaam se Hazar Mot Jane wale sawaar ko Sivaye Allah Ta'ala ke Kisi Ka Khof nahi hoga , Yaha'n tak k charwaahe ko Apni Bakriyo'n ke mutalliq Bhaidiyo'n Ka Dar nahi Hoga _,"

★__ Hazrat Khabbaab bin Art Raziyllahu Anhu farmate hai'n Ek Din mere liye Aag dehkayi gayi ,Fir Wo Aag mere Kamar per rakh di gayi aur fir usko us Waqt tak nahi hataya gaya jab tak k wo aag Meri Kamar ki charbi se bujh na gayi _,"

★__ Ese hi logo me Hazrat Ammaar bin Yaasir Raziyllahu Anhu bhi they, Hazrat Ammaar bin Yaasir Raziyllahu Anhu ko unke Deen se fairne ke liye Mushriko ne Tarah Tarah ke zulm kiye ,Aag se jala jala Kar Azaab diye ,Magar Wo Deen per Qaa'im rahe ,

★__ Allama ibne Jozi Rehmatullah likhte Hai'n:- 
"_ Ek martaba Aan'Hazrat ﷺ us taraf Tashreef le ja rahe they,us Waqt Hazrat Ammaar Raziyllahu Anhu ko Aag se jala Kar Takleef pahunchayi ja rahi thi, Unki Kamar per jalne ki vajah se Kodh Jese Safed daag pad gaye they , Aan'Hazrat ﷺ ne unke Sar per Haath faira aur farmaya :- 
"_Ey Aag thandi aur Salaamti wali ban ja ,Jesa k Tu Ibrahim Alaihissalam Ke liye ho gayi thi _,"
Is Dua ke baad Unhe Aag ki Takleef mehsoos nahi Hoti thi ,
 ★__ Hazrat Umme Haani Raziyllahu Anha kehti Hai'n k Hazrat Ammaar bin Yaasir,Unke Waalid Yaasir ,Unke Bhai Abdullah aur unki Walda Sumayya Raziyllahu Anhum ,in Sabhi ko Allah Ka Naam Lene ki vajah se sakht tareen Azaab diye gaye ,Ek Roz Jab inhe Takleef pahunchayi ja rahi thi to Nabi Kareem ﷺ us taraf se guzre, Aapne inki takaleef ko dekh kar farmaya:-  Ey Allah ,Aale Yaasir Ki magfirat farma_,"

★_ Inki Walda Sumayya Raziyllahu Anha ko Abu Jahal ke chacha Huzefa bin ibne Mugira ne Abu Jahal ke hawale Kar diya, Ye uski Baandi thi ,Abu Jahal ne inhe neza maara ,isse Wo Shaheed ho gayi ,is Tarah islam me inhe Sabse Pehli Shaheed hone Ka aizaaz haasil hua ,Aakhir inhe Mazalim ki vajah se Hazrat Ammaar Raziyllahu Anhu ke Waalid Yaasir Raziyllahu Anhu bhi Shaheed ho gaye ,
 ╨─────────────────────❥
★_ क़ुर्बानियां ही क़ुर्बानियां _,*

★__ इसी तरह का एक वाक्या हजरत उस्मान गनी रजियल्लाहु अन्हु इस तरह बयान फ़रमाते है :- 
"_ एक रोज नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम तवाफ फरमा रहे थे उस वक्त आपका हाथ हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु के हाथ में था। हजरे अस्वाद के पास तीन आदमी बैठे थे ,जब आप हजरे अस्वद के पास से गुजरे और उनके करीब पहुंचे तो उन तीनों ने आप की जा़त बा बरकत पर चंद जुमले कसे ।इन जुमलो को सुनकर आपको तकलीफ पहुंची तकलीफ के आसार आपके चेहरे से ज़ाहिर हुए ।
 दूसरे फेरे में अबू जहल ने कहा:- तुम हमें इन माबूदों की इबादत करने से रोकते हो जिन्हें हमारे बाप दादा पूजते आए हैं, लेकिन हम तुमसे सुलह नहीं कर सकते।
 जवाब में आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- मेरा भी यही हाल है ।
फिर आप आगे बढ़ गए तीसरे फेरे में भी उन्होंने ऐस ही कहा, फिर चौथे फेरे में यह तीनों एकदम आपकी तरफ झपटे ।

★_हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं :-अबू जहल ने एकदम आगे बढ़कर आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के कपड़े पकड़ने की कोशिश की, मैंने आगे बढ़कर एक घूंसा उसके सीने पर मारा इससे वह जमीन पर गिर पड़ा। दूसरी तरफ से अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने उमैया बिन खल्फ को धकेला, तीसरी तरफ खुद हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उतबा बिन मुईत को धकेला ।आखिर यह लोग आपके पास से हट गए उस वक्त आपने इरशाद फरमाया :- अल्लाह की क़सम ! तुम लोग उस वक्त तक नहीं मारोगे जब तक अल्लाह की तरफ से इसकी सजा नहीं भुगतोगे।

★_हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं:- यह अल्फाज़ सुन कर उन तीनों में से एक भी ऐसा नहीं था जो खौफ की वजह से कांपने ना लगा हो । 
फिर आपने इरशाद फरमाया ;-तुम लोग अपने नबी के लिए बहुत  बुरे साबित हुए ।
यह फरमाने के बाद आप अपने घर की तरफ लौट गए ,हम आपके पीछे-पीछे चले, जब आप अपने दरवाजे पर पहुंचे तो अचानक हमारी तरफ मुड़े और फरमाया :- तुम लोग गम ना करो अल्लाह ताला खुद अपने दीन को फैलाने वाला ,अपने कलमें को पूरा करने वाला और अपने नबी की मदद करने वाला है, इन लोगों को अल्लाह बहुत जल्द तुम्हारे हाथों जि़बह करवाएगा _,"

★_ इसके बाद हम भी अपने अपने घर को चले गए और फिर अल्लाह की क़सम गजवा ए बदर के दिन अल्लाह ताला ने इन लोगों को हमारे हाथों ज़िबह करवाया।
: ★__ एक रोज़ ऐसा हुआ कि आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम खाना काबा का तवाफ कर रहे थे। ऐसे में उक़बा बिन अबी मुईत  वहां आ गया । उसने अपनी चादर उतार कर आपकी गर्दन में डाली और उसको बल देने लगा। इस तरह आपका गला घुटने लगा। अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु दौड़कर आए और उसे कंधों से पकड़कर धकेला ।साथ ही उन्होंने फरमाया :-  क्या तुम उस शख्स को क़त्ल करना चाहते हो जो यह कहता है कि मेरा रब अल्लाह है... और जो तुम्हारे रब की तरफ से खुली निशानियां लेकर आया है।

★_बुखारी की एक हदीस के मुताबिक हजरत अमरु बिन जुबेर रज़ियल्लाहु  अन्हू से रिवायत है कि मैंने एक मर्तबा हजरत अमरु बिन आस रज़ियल्लाहु अन्हू से पूछा :- मुझे बताइए मुशरिकीन की तरफ से हुज़ूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के साथ सबसे ज्यादा बदतरीन और सख्त तरीन सुलूक किसने किया था ?
 जवाब में हजरत अमरू बिन आस रज़ियल्लाहु अन्हु ने फ़रमाया :- 
"_ एक मर्तबा हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम काबे में नमाज अदा फरमा रहे थे उक़बा बिन अबी मुईत आया, उसने आपकी गर्दन में कपड़ा डालकर उससे पूरी कु़वत से आपका गला घोंटा, उसी वक्त हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने उसे धकेल कर हटाया ।

"_यह क़ौल हजरत अमरू बिन आस रज़ियल्लाहु अन्हु का है, उन्होंने यही सबसे सख्त बर्ताव देखा होगा वरना आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के साथ इससे कहीं ज़्यादा सख़्त बर्ताव किया गया।

★_फिर जब मुसलमानों की तादाद 38 हो गई तो हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने आपसे अर्ज़ किया :- ऐ अल्लाह के रसूल मस्जिद ए हराम में तशरीफ ले चलिए ताकि हम वहां नमाज अदा कर सके ।
इस पर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :-अबू बकर अभी हमारी तादाद थोड़ी है।
 अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने फिर से ख्वाहिश का इज़हार किया ।आखिर हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अपने तमाम सहाबा के साथ मस्जिदे हराम में पहुंच गए। हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने खड़े होकर खुतबा दिया , लोगों को कलमा पढ़ने की दावत दी ।
इस तरह हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु सबसे पहले शख्स हैं जिन्होंने मजमे में खड़े होकर इस तरह तबलीग फरमाई।
 ★_उस खुतबे के जवाब में मूशरिकीने मक्का हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु और दूसरे मुसलमानों पर टूट पड़े और उन्हें मारने लगे । हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को तो उन्होंने सबसे ज्यादा मारा पीटा मारपीट की इंतेहा कर दी गई। उक़बा तो उन्हें अपने जूतों से मार रहा था उसमें दौहरा तला लगा हुआ था ,उसने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के चेहरे पर उन जूतों से इतनी जरबे लगाई कि चेहरा लहूलुहान हो गया।

★_ऐसे में हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के क़बीले बनू तमीम के लोग वहां पहुंच गए उन्हें देखते ही मुशरिकीन ने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को छोड़ दिया । उन लोगों ने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को एक कपड़े पर लिटा दिया और बेहोशी की हालत में घर ले आए । उन सब को यक़ीन हो चुका था कि अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु आज जिंदा नहीं बचेंगे ।इसके बाद बनू तमीम के लोग वापस हरम आए ,उन्होंने कहा :- अल्लाह की क़सम! अगर अबू बकर मर गए तो हम उक़बा को क़त्ल कर देंगे ।
यह लोग फिर हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु के पास आए उन्होंने और हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु के वालिद ने उनसे बार-बार बात करने की कोशिश की लेकिन आप बिल्कुल बेहोश थे ।आखिर शाम के वक्त कहीं जाकर आपको होश आया और बोलने के का़बिल हुए ।उन्होंने सबसे पहले यह पूछा आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का क्या हाल है ?

★_घर में मौजूद अफराद ने उनकी इस बात का कोई जवाब ना दिया, इधर अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु बार-बार अपना सवाल दोहरा रहे थे ।आखिर उनकी वाल्दा ने कहा :-अल्लाह की क़सम ! हमें तुम्हारे दोस्त के बारे में कुछ मालूम नहीं ।
यह सुनकर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने फ़रमाया :-अच्छा तो फिर उम्मे जमील बिंते खत्ताब के पास जाइए ,उनसे आन हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का हाल दरयाफ्त करके मुझे बताइए। 

"_उम्मे जमील रज़ियल्लाहु अन्हा हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की बहन थी । इस्लाम क़ुबूल कर चुकी थी लेकिन अभी तक अपने इस्लाम को छुपाए हुए थी । हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की वाल्दा उनके पास पहुंची। उन्होंने उम्मे जमील रज़ियल्लाहु अन्हा से कहा :- अबू बकर मोहम्मद बिन अब्दुल्लाह की खैरियत पूछते हैं।
उम्मे जमील रज़ियल्लाहु अन्हा चूंकि अपने भाई हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु से डरती थी, वह अभी तक ईमान नहीं लाए थे इसलिए उन्होंने कहा :-मैं नहीं जानती। 
साथ ही वह बोली :-क्या आप मुझे अपने साथ ले जाना चाहती हैं ?
हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु की वाल्दा ने फौरन कहा:- हां ।

★_आप दोनों वहां से हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के पास आई, उम्मे जमील रज़ियल्लाहु अन्हा ने अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु को ज़ख्मों से चूर देखा तो चीख पड़ी :-  जिन लोगों ने तुम्हारे साथ यह सलूक किया है वह यक़ीनन फासिक़ और बदतरीन लोग हैं, मुझे यकीन है अल्लाह ताला उनसे आपका बदला लेगा।
हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने कहा :- रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का क्या हाल है ?
उम्मे जमील रज़ियल्लाहु अन्हा ऐसे लोगों के सामने बात करते हुए डरती थी जो अभी ईमान नहीं लाए थे , चुनांचे बोली :-यहां आपकी वाल्दा मौजूद हैं।
हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु फौरन बोले :-उनकी तरफ से बेफिक्र रहें, यह आपका राज़ जाहिर नहीं करेंगी ।
अब उम्मे जमील रज़ियल्लाहु अन्हा ने कहा :- रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम खैरियत से हैं ।
अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने पूछा :-  हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम इस वक्त कहां है? 
उम्मे जमील ने फरमाया :- दारे अरक़म में ।
यह सुनकर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु बोले :- अल्लाह की क़सम ! मैं उस वक्त तक ना कुछ खाऊंगा ,ना पिउंगा जब तक में रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से मिल ना लूं ।
 ★__ इन दोनों ने कुछ देर इंतजार किया ताकि बाहर सुकून हो जाए आखिर यह दोनों उन्हें सहारा देकर ले चली और दारे अरकम पहुंच गई । ज्योंही नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु की यह हालत देखी तो आपको बेहद सदमा हुआ, आपने आगे बढ़कर अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु को गले से लगा लिया ,उन्हें बोसा दिया ‌। बाक़ी मुसलमानों ने भी उन्हें गले से लगाया और बोसा दिया । फिर हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम से अर्ज किया :- आप पर मेरे मां-बाप कुर्बान हो , अल्लाह के रसूल मुझे कुछ तो नहीं हुआ सिवाय इसके कि मेरे चेहरे पर चोटें आई हैं। यह मेरी वाल्दा मेरे साथ आई हैं, मुमकिन है अल्लाह ताला आपके तुफैल इन्हें जहन्नम की आग से बचा ले _,"
नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उनके लिए दुआ फरमाई, फिर उन्हें इस्लाम की दावत दे , वह उसी वक्त ईमान ले आईं, जिससे अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु और तमाम सहाबा को बेहद खुशी हुई।

★_एक रोज़ सहाबा किराम नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के गिर्द जमा थे। ऐसे में किसी ने कहा :- अल्लाह की क़सम! कुरेश ने आज तक नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के अलावा किसी और की ज़ुबान से बुलंद आवाज़ में क़ुरान नहीं सुना ,इसलिए तुम में से कौन है जो उनके सामने बुलंद आवाज़ में क़ुरान पढ़े ।
यह सुनकर हजरत अब्दुल्लाह बिन मसूद रज़ियल्लाहु अन्हु बोल उठे :- मैं उनके सामने बुलंद आवाज़ से क़ुरान पढ़ुंगा।
अब्दुल्लाह बिन मसूद रजियल्लाहु अन्हु की बात सुनकर सहाबा ने कहा :-हमें कुरेश की तरफ से आपके बारे में खतरा है। हम तो ऐसा आदमी चाहते हैं जिसका खानदान कुरेश से उसकी हिफाजत़ करता रहे ।
इसके जवाब में हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसूद रज़ियल्लाहु अन्हु ने फरमाया :-तुम मेरी परवाह ना करो अल्लाह ताला खुद मेरी हिफाज़त फरमा एंगे।

★_दोपहर के बाद हजरत अब्दुल्लाह बिन मसूद रज़ियल्लाहु अन्हु बैतुल्लाह में पहुंच गए। आप मक़ामे इब्राहिम के पास खड़े हो गए। उस वक्त कुरेश अपने-अपने घरों में थे ।अब उन्होंने बुलंद आवाज से क़ुरान पढ़ना शुरू किया । क़ुरेश ने यह आवाज़ सुनी तो कहने लगे :- इस गुलाम ज़ाद को क्या हुआ ?
कोई और बोला:- मोहम्मद जो कलाम लेकर आएं हैं यह वही पढ़ रहा है ।
यह सुनते ही मुशरिकीन उनकी तरफ दौड़े और लगे उन्हें मारने पीटने । अब्दुल्लाह बिन मसूद रज़ियल्लाहु अन्हु चोटे खाते जाते थे और कुरान पढ़ते जाते थे ,यहां तक कि उन्होंने सूरत का ज्यादातर हिस्सा तिलावत कर डाला।

★_इसके बाद वहां से अपने साथियों के पास आ गए ।उनका चेहरा उस वक्त तक लहूलुहान हो चुका था। उनकी यह हालत देख कर मुसलमान बोल उठे :- हमें तुम्हारी तरफ से इसी बात का खतरा था ।
हजरत अब्दुल्लाह बिन मसूद रज़ियल्लाहु अन्हु ने फरमाया :- अल्लाह की क़सम ! अल्लाह के दुश्मनों को मैंने अपने लिए आज से ज्यादा हल्का और कमज़ोर कभी नहीं पाया ,अगर तुम लोग कहो तो कल फिर उनके सामने जाकर क़ुरान पढ़ सकता हूं। 
इस पर मुसलमान बोले:- नहीं ,वह लोग जिस चीज को नापसंद करते हैं आप उन्हें वह काफी सुना आए हैं।
★__ कुफ्फार का यह जुल्मों सितम जारी रहा ,ऐसे में एक दिन हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम सफा की पहाड़ी के पास मौजूद थे । अबू जहल आपके पास से गुज़रा उसने आपको देख लिया और लगा गालियां देने । उसने आपके सर पर मिट्टी भी फेंकी।  अब्दुल्लाह बिन जद'आन की बांदी ने यह मंजर देखा । फिर अबू जहल आपके पास से चलकर हरम में दाखिल हुआ वहां मुशरिकीन जमा थे । वह उनके सामने अपना कारनामा बयान करने लगा । उसी वक्त आपके चाचा हजरत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु हरम में दाखिल हुए ।यह उस वक्त तक मुसलमान नहीं हुए थे । तलवार उनकी कमर से लटक रही थी,  वह उस वक्त शिकार से वापस आए थे । उनकी आदत थी कि जब शिकार से लौटते तो पहले हरम जाकर तवाफ करते थे, फिर घर जाते थे।

★_ हज़रत हमज़ा रज़ियल्लाहु अन्हु हरम में दाखिल होने से पहले अब्दुल्लाह बिन जद'आन की बांदी के पास से गुज़रे । उसने सारा मंजर खामोशी से देखा और सुना था। उसने हज़रत हमज़ा रज़ियल्लाहु अन्हु से कहा :- ऐ हमज़ा ! कुछ खबर भी है ? अभी-अभी यहां  हकम बिन हिशाम (अबु जहल )  ने तुम्हारे भतीजे के साथ क्या सलूक किया है ? वो यहां बैठे थे अबू जहल ने उन्हें देख लिया उन्हें ,तकलीफ पहुंचाई , गालियां दी और बहुत बुरी तरह पेश आया। आपके भतीजे ने जवाब में उसे कुछ भी ना कहा ।
सारी बात सुनकर हजरत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु ने कहा :- तुम जो कुछ बयान कर रही हो क्या यह तुमने अपनी आंखों से देखा है? 
उसने फौरन कहा:-  हां , मैंने खुद देखा है_,"

★__ यह सुनते ही हज़रत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु जोश में आ गए। चेहरा गुस्से से तमतमा उठा। फौरन हरम में दाखिल हो गए। वहां अबू जहल मौजूद था , वह क़ुरेशियों के दरमियान में बैठा था। यह सीधे उस तक जा पहुंचे हाथ में कमान थी , बस वही खींचकर उसके सिर पर दे मारी। अबू जहल का सिर फट गया। हजरत हमजा रज़ियल्लाहु अन्हु ने उससे कहा:- 
"_ तू मोहम्मद को गालियां देता है, सुन लें !  मैं भी उसका दीन अख्त्यार करता हूं , जो कुछ वह कहता है वही मैं भी कहता हूं । अब अगर तुझ में हिम्मत है तो मुझे जवाब दे_," 
अबू जहल उनकी मिन्नत समाजत करते हुए बोला :- वह हमें बे अक़ल बताता है, हमारे मा'बूदों का बुरा कहता है, हमारे बाप दादा के रास्ते के खिलाफ चलता है ।
यह सुनकर हज़रत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु बोले :-  और खुद तुमसे ज्यादा बे अक़ल और बेवकूफ कौन होगा जो अल्लाह  को छोड़कर पत्थर के टुकड़ों को पूजते हो । मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह के सिवा कोई मा'बूद नहीं और मैं गवाही देता हूं कि मुहम्मद अल्लाह के रसूल है_,"

★_ उनके यह अल्फाज़ सुनकर अबू जहल के खानदान के कुछ लोग एकदम हजरत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु की तरफ बड़े और उन्होंने कहा :- अब तुम्हारे बारे में भी हमें यक़ीन हो गया है कि तुम भी बेदीन हो गए हो।
जवाब में हजरत हमज़ा रज़ियल्लाहु अन्हु ने फरमाया :- 
आओ.. कौन है मुझे इससे रोकने वाला , मुझ पर हक़ीक़तत रोशन हो गई है। मैं गवाही देता हूं कि वह अल्लाह के रसूल है जो कुछ वह कहते हैं वह हक़ और सच्चाई है । अल्लाह की क़सम ! मैं उन्हें नहीं छोडूंगा , अगर तुम सच्चे हो तो मुझे रोक कर दिखाओ_," 
यह सुनकर अबू जहल ने अपने लोगों से कहा :-  अबू अम्मारा (यानी हज़रत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु ) को छोड़ दो , मैंने वाक़ई इनके भतीजे के साथ अभी कुछ बुरा सुलूक किया था_,"

★_ वो लोग हट गए । हज़रत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु घर पहुंचे । घर आकर उन्होंने उलझन महसूस की कि मैं यह क़ुरेस के सामने क्या कहन आया हूं .. मैं तो कुरेश का सरदार हूं_," 
लेकिन फिर उनका ज़मीर उन्हें मलामत करने लगा , आखिर शदीद उलझन के आलम में उन्होंने दुआ की :- 
"_ ऐ अल्लाह ! अगर यह सच्चा रास्ता है तो मेरे दिल में यह बात डाल दें और अगर ऐसा नहीं है तो फिर मुझे इस मुश्किल से निकाल दें जिसमें मैं  घिर गया हूं _,"
★__ वह रात इन्होंने इसी उलझन में गुजारी ।आखिर सुबह हुई तो हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम के पास पहुंचे ,आपसे अर्ज किया :- 
"_ भतीजे ! मैं ऐसे मामले में उलझ गया हूं कि मुझे इससे निकलने का कोई रास्ते समझाई ही नहीं देता और एक ऐसी सूरते हाल में रहना जिसके बारे में मैं नहीं जानता यह सच्चाई है या नहीं , बहुत सख्त मामला है _,"

★_इस पर आन'हजरत सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम हजरत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु की तरफ मुतवज्ज़ह हुए, आपने उन्हें अल्लाह के अज़ाब से डराया, सवाब की खुशखबरी सुनाई । आपके वाज़ व नसीहत का यह असर हुआ कि अल्लाह ताला ने इन्हें ईमान का नूर अता फरमा दिया। वह बोल उठे :-  भतीजे ! मैं गवाही देता हूं कि तुम अल्लाह के रसूल हो ,बस अब तुम अपने दीन को खोल कर पेश करो।

"_हज़रत इब्ने अब्बास रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं :- इस वाक्य़ पर कुराने पाक की यह आयत नाजिल हुई :- 
*(तर्जुमा)*_  ऐसा शख्स जो कि पहले मुर्दा था फिर हमने उसे जिंदा कर दिया और हमने उसे एक ऐसा नूर दे दिया कि वह इसे लिए हुए चलता फिरता है । (सूरह अल अन'आम)

★_ हजरत हमजा रज़ियल्लाहु अन्हु के ईमान लाने पर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को बहुत ज्यादा खुशी हुई, इसकी एक वजह तो यह थी कि हजरत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु आपके सगे चाचा थे । दूसरी वजह यह थी कि वह पूरे क़ुरेश में सबसे ज्यादा मौअज्ज़ज़ फर्द थे , इसके साथ ही वह क़ूरेश के सबसे ज्यादा बहादुर, ताकतवर और खुद्दार इंसान थे। और इसी बुनियाद पर जब क़ुरेश ने देखा कि अब रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को मजीद क़ुव्वत हासिल हो गई है तो उन्होंने आपको तकलीफ पहुंचाने का सिलसिला बंद कर दिया लेकिन अपने तमाम जु़ल्मो सितम अब वह कमजोर मुसलमानों ढ़ाने लगे।

★_ किसी क़बीले का भी कोई शख्स मुसलमान हो जाता वह उसके पीछे हाथ धोकर पड़ जाते । ऐसे लोगों को कैद कर देते, भूखा प्यासा रखते, तपती रेत पर लिटाते , यहां तक कि उसका यह हाल हो जाता कि सीधे बैठने के काबिल भी ना रहता । इस ज़ुल्म और ज्यादती पर सबसे ज्यादा अबु जहल लोगों को उकसाता था। 

★_ऐसे ही लोगों में से एक हजरत बिलाल हब्शी रज़ियल्लाहु अन्हु भी थे । आपका पूरा नाम बिलाल बिन रबाह था। यह उमैया बिन खल्फ के गुलाम थे।

★_हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु मक्का में पैदा हुए थे । पहले अब्दुल्लाह बिन जद'आन तैयमी के गुलाम थे । अब्दुल्लाह बिन जद'आन के १०० गुलाम थे यह उनमें से एक थे । जब इस्लाम का आगाज़ हुआ और उसका नूर फैला तो अब्दुल्लाह बिन जद'आन ने अपने 99 गुलामों को इस खौफ से मक्का के बाहर भिजवा दिया कि कहीं वह मुसलमान ना हो जाएं। बस उसने हजरत बिलाल बिन रबाह रज़ियल्लाहु अन्हु को अपने पास रख लिया। यह उसकी बकरियां चराया करते थे । इस्लाम की रोशनी हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु तक भी पहुंची। यह ईमान ले आए  मगर इन्होंने अपने इस्लाम को छुपाए रखा।
एक रोज़ इन्होंने काबा के चारों तरफ रखें बुतों पर गंदगी डाल दी, साथ ही वह उन पर थूकते जाते थे और कहते जाते थे :- जिसने तुम्हारी इबादत की वह तबाह हो गया ।

★_यह बात क़ुरेश को मालूम हो गई। वह फौरन अब्दुल्लाह बिन जद'आन के पास आए और उससे बोले:-  तुम बेदीन हो गए हो ,
उसने हैरान होकर कहा :- क्या मेरे बारे में भी यह बात कही जा सकती है ?
इस पर वह बोले :- तुम्हारे गुलाम  बिलाल ने आज ऐसा किया है _,"
"_ क्या _," वह हैरतजदा रह गया ।
 ★__ अब्दुल्लाह बिन जद'आन ने फौरन क़ुरेश को एक सौ  दिरहम दिए ताकि बुतों की जो तोहीन हुई है उसके बदले उनके नाम पर कुछ जानवर ज़िबह कर दिए जाएं । फिर वह हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु की तरफ बढ़ा, उसने उन्हें रस्सी से बांध दिया, तमाम दिन भूखा और प्यासा रखा। फिर तो यह उसका रोज़ का मामूल बन गया। जब दोपहर के वक्त सूरज आग बरसाने लगता तो उन्हें घर से निकाल कर तपती हुई रेत पर चित्त लिटा देता । उस वक्त रेत इस क़दर गर्म होती थी कि अगर उस पर गोश्त का टुकड़ा रख दिया जाता तो वह भी भुन जाता था। वह इसी पर बस नहीं करता था । एक वज़नी पत्थर मंगाता और उनके सीने पर रख देता ताकि वह अपनी जगह पर से हिल भी ना सके । फिर वह बदबख्त उनसे कहता :- 
"_ अब या तो मोहम्मद की रिसालत और पेगम्बरी से इंकार कर और लात व उज्जा़ की इबादत कर वरना मैं तुझे यहां इस तरह लिटाए रखूंगा यहां तक कि तेरा दम निकल जाएगा_,"

★_ हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु उसकी बात के जवाब में फरमाते :- अहद....अहद..।
यानी अल्लाह ताला एक है उसका कोई शरीक नहीं ।
जब हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु किसी तरह इस्लाम से ना हटे तो तंग आकर अब्दुल्लाह बिन जद'आन ने इन्हें उमैया बिन खल्फ के हवाले कर दिया । अब यह शख्स इन पर उससे भी ज़्यादा जु़ल्मों सितम ढाने लगा।

★_एक रोज़ इन्हें इसी कि़स्म की खौफनाक सज़ा दी जा रही थी, हुज़ूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम उस तरफ से गुज़रे। हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु शिद्दते तकलीफ की की हालत में अहद अहद  पुकार रहे थे ।
आपने उन्हें इस हालत में देखकर फरमाया :- बिलाल तुम्हें यह अहद अहद ही निजात दिलाएगा।

★_ फिर एक रोज़ हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु उस तरफ से गुज़रे। उमैया बिन खल्फ ने उन्हें गर्म रेत पर लिटा रखा था ,सीने पर एक भारी पत्थर रखा हुआ था । उन्होंने यह दर्दनाक मंजर देखकर उमैया बिन खल्फ से कहा :- क्या इस मिस्कीन के बारे में तुम्हें अल्लाह का खौफ नहीं आता ,आखिर कब तक तुम इसे अजा़ब दिए जाओगे। 
उमैया बिन खल्फ ने जलकर कहा :- तुम्हीं ने इसे खराब किया है इसलिए तुम ही से निजात क्यों नहीं दिला देते ।
उसकी बात सुनकर हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु बोले  :- मेरे पास भी एक हब्शी गुलाम है वह इनसे ज्यादा ताकतवर है और तुम्हारे ही दीन पर है , मैं इनके बदले में तुम्हें वह दे सकता हूं ।
यह सुनकर उमैया बोला :- मुझे यह सौदा मंजूर है।

★_यह सुनते ही अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने अपना हब्शी गुलाम उसके हवाले कर दिया ,उसके बदले में हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु को ले लिया और आज़ाद कर दिया।

★_ सुब्हानल्लाह ! क्या खूब सौदा हुआ । यहां यह बात जान लेनी चाहिए कि हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु का हब्शी गुलाम दुनिया के लिहाज़ से बहुत की़मती था । यह भी कहा जाता है कि वह उमैया बिन खल्फ ने गुलाम के साथ 10 ओक़िया सोना भी तलब किया था और हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने उसका यह मुतालबा भी मान लिया था ।आपने उसे एक यमनी चादर और कुछ सोना दिया था । साथ ही आपने उमैया बिन खल्फ से फरमाया था :-  अगर तुम मुझसे सौ ओकि़या सोना भी तलब करते तो भी मैं तुम्हें दे देता _,"
 ★_ हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु के अलावा हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने और भी बहुत से गुलाम मुसलमानों को खरीद कर आज़ाद करवाया था। यह वह मुसलमान गुलाम थे ,जिन्हें अल्लाह का नाम लेने की वजह से जु़ल्म का निशाना बनाया जा रहा था । इनमें एक हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु की वाल्दि हमामा रज़ियल्लाहु अन्हा थी, एक आमिर बिन फहीरा रज़ियल्लाहु अन्हु थे ,इन्हें अल्लाह का नाम लेने पर बड़े बड़े अज़ाब दिए जाते , ये क़बीला बनी तमीम के एक शख्स के गुलाम थे । वह हजरत अबू बकर सिद्दीक रज़ियल्लाहु अन्हु का रिश्तेदार था। आपने अपने रिश्तेदार से खरीद कर इन्हें भी आज़ाद फरमाया, एक साहब अबू फकिया रज़ियल्लाहु अन्हु थे ,  यह सफवान बिन उमैया रज़ियल्लाहु अन्हु के गुलाम थे, यह हजरत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु के साथ मुसलमान हुए थे ।
सफवान बिन उमैया रज़ियल्लाहु अन्हु भी इब्तेदा में मुसलमानों के सख्त मुखालिफ थे , वह फतह मक्का के बाद इस्लाम लाए थे।

★_ एक रोज़ इन्होंने हजरत अबू फकिया रजियल्लाहु अन्हु को गर्म रेत पर लिटा रखा था ,ऐसे में हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु उस तरफ से गुज़रे,  उस वक्त सफवान बिन उमैया रज़ियल्लाहु अन्हु यह अल्फाज कह रहे थे :- 
"_इसे अभी और अज़ाब दो यहां तक कि मुहम्मद यहां आकर अपने जादू से इसे निजात दिलाएं _,"
हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने उसी वक्त सफवान बिन उमैया रज़ियल्लाहु अन्हु से इन्हें खरीद कर आजाद कर दिया।

★_ इसी तरह जुनेरा रज़ियल्लाहु अन्हा नामी एक औरत को मुसलमान होने की बुनियाद पर इस क़दर खौफनाक सजा दी गई कि वह बेचारी अंधी हो गई । एक रोज अबू जहल में उनसे कहा :- 
"_जो कुछ तुम पर बीत रही है यह सब लात व उज्जा़ कर रहे हैं _," 
यह सुनते ही जुनेरा रज़ियल्लाहु अन्हा ने कहा:-  हरगिज़ नहीं, अल्लाह की कसम ! लात व उज्जा़ ना कोई नफा पहुंचा सकते हैं ना कोई नुकसान ,यह जो कुछ हो रहा है आसमान वाले की मर्जी से हो रहा है ,मेरे परवरदिगार को यह भी कुदरत है कि वह मुझे मेरी आंखों की रोशनी लौटा दे _,"

★_दूसरे दिन वह सुबह उठी तो उनकी आंखों की रोशनी अल्लाह ताला ने लौटा दी थी। इस बात का जब काफिरों को पता चला तो वह बोल उठे :- 
"_यह मोहम्मद की जादूगरी है_,"
हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने इन्हें भी खरीद कर आज़ाद कर दिया।
आपने जुनेरा रज़ियल्लाहु अन्हा की बेटी को भी खरीद कर आज़ाद किया । इसी तरह नहदिया नाम की एक बांदी थी उनकी एक बेटी भी थी दोनों वलीद बिन मूगीरा की बांदियां थी, इन्हें भी हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु ने आज़ाद कर दिया।

★_आमिर बिन फहीरा की बहन और उनकी वाल्दा भी ईमान ले आई थी , यह हजरत उमर के मुसलमान होने से पहले उनकी बांदियां थी । हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु ने इन्हें भी खरीद कर आज़ाद कर दिया।
 ईमान लाने वाले जिन लोगों पर जुल्म ढाए गए उनमें से एक हजरत खब्बाब बिन अर्त रज़ियल्लाहु अन्हु भी है । काफिरों ने इन्हें इस्लाम से फैरने की कोशिशें की मगर यह साबित क़दम रहे , इन्हें जाहिलियत के जमाने में गिरफ्तार किया गया था, फिर इन्हें एक औरत उम्मे अनमार ने खरीद लिया। यह एक लोहार थे, नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम उनकी दिलजोई फरमाते थे, इनके पास तशरीफ ले जाया करते थे। जब यह मुसलमान हो गए और उम्मे अनमार को यह बात मालूम हुई तो उसने उन्हें बहुत खौफनाक सज़ा दी । वह लोहे का कड़ा लेकर आग में गर्म करती,  खूब सुर्ख करती फिर उसको हजरत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु के सर पर रख देती । आखिर हजरत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु ने आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम से अपनी मुसीबत का जिक्र किया तो आपने इनके लिए दुआ फरमाई। 
नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की दुआ के फौरन बाद उस औरत के सर में शदीद दर्द शुरू हो गया ,इससे वह कुत्तों की तरह भौंकती थी । आखिर किसी ने उसे इलाज बताया कि वह लोहा तपा कर सर पर रखवाये,  उसने यह काम हजरत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु  के जि़म्मे लगाया। अब आप वह हल्का़ खूब गर्म करके उसके सर पर रखते।
 ★_ हजरत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि एक रोज़ मैं हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की खिदमत में गया और यह वह ज़माना था जब हम पर खूब जु़ल्म किया जाता था । मैंने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से अर्ज़ किया :- ए अल्लाह के रसूल, क्या आप हमारे लिए दुआ नहीं फरमाते ।
मेरे अल्फाज सुनते ही आप सीधे होकर बैठ गए, आपका चेहरा मुबारक सुर्ख हो गया, फिर आपने फरमाया :- 
"_ तुमसे पहली उम्मत के लोगों को अपने दीन के लिए कहीं ज़्यादा अज़ाब बर्दाश्त करने पड़े। उनके जिस्मों के ऊपर लोहे की कंघियां की जाती थी जिससे उनकी खाल और हड्डियां अलग हो जाती थी, मगर यह तकलीफ भी उन्हें उनके दीन से ना हटा सकी , उनके सरों पर आरे चला चला के उनके जिस्म दो कर दिए गए ,मगर वह अपना दीन छोड़ने को तैयार फिर भी ना हुए। 
इस दीन ए इस्लाम को अल्लाह ताला इस तरह फैला देगा कि सन'आ के मका़म से हज़रमौत जाने वाले सवार को सिवाय अल्लाह ताला के किसी का खौफ नहीं होगा यहां तक कि चरवाहे को अपनी बकरियों के मुताल्लिक भेड़ियों का डर नहीं होगा ।

★_ हज़रत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं :- एक दिन मेरे लिए आग दहकाई गई ,फिर वह आग मेरी कमर पर रख दी गई और फिर उसको उस वक्त तक नहीं हटाया गया जब तक कि वह आग मेरी कमर की चर्बी से बुझ ना गई।

★_ ऐसे ही लोगों में हजरत अम्मार बिन यासिर रजियल्लाहु अन्हु भी थे । हज़रत अम्मार बिन यासिर रजियल्लाहु अन्हु को उनके दीन से फिरने के लिए मुशरिक़ो ने तरह-तरह के ज़ुल्म किये , आग से जला जला कर अज़ाब दिए , मगर वह दीन पर क़ायम रहे।

★_ अल्लमा इब्ने जौज़ी रहमतुल्लाह लिखते हैं :-  एक मर्तबा आन'हज़रत सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम उस तरफ तशरीफ ले जा रहे थे ,उस वक्त हजरत अम्मार रज़ियल्लाहु अन्हु को आग से जला जला कर तकलीफ पहुंचाई जा रही थी, उनकी कमर पर जलने की वजह से कोढ़ जैसे सफेद दाग पड़ गए थे । आन'हज़रत सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने उनके सर पर हाथ फेरा और फरमाया :- 
"_ए आग ठंडी और सलामती वाली बन जा ,जैसा कि तू इब्राहिम अलैहिस्सलाम के लिए हो गई थी _," 
इसके बाद उन्हें आग की तकलीफ महसूस नहीं होती थी।
 ★_ हजरत उम्मे हानी रज़ियल्लाहु अन्हा कहती हैं कि हजरत अम्मार बिन यासिर ,इनके वालिद यासिर, इनके भाई अब्दुल्लाह और इनकी वाल्दा सुमैया रजियल्लाहु अन्हुम, इन सभी को अल्लाह का नाम लेने की वजह से सख्त तरीन अज़ाब दिए गए । एक रोज़ जब इन्हें तकालीफ पहुंचाई जा रही थी तो नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम उस तरफ से गुज़रे,  आपने इनकी तकालीफ को देखकर फरमाया :- अल्लाह आले यासिर की मग्फिरत फरमा _,"

★_ इनकी वाल्दा सुमैया रज़ियल्लाहु अन्हा को अबू जहल के चाचा हुजै़फा बिन इब्ने मूगीरा ने अबू जहल के हवाले कर दिया। यह उसकी बांधी थी । अबू जहल ने इन्हें नेज़ा मारा ,इससे वह शहीद हो गई । इस तरह इस्लाम में इन्हें सबसे पहली शहीद होने का एज़ाज़ हासिल हुआ । आखिर इन्हीं मज़ालिम की वजह से हजरत अम्मार रज़ियल्लाहु अन्हु के वालिद यासिर रजियल्लाहु अन्हु भी शहीद हो गए।
 ╨─────────────────────❥
: ★_ Apne in Mazalim aur Badtareen Harkaat ke Saath Saath ye log Huzoor Akram ﷺ se Mo'jzaat Ka mutalba bhi Karte rehte they ,
Ek Roz Abu Jahal doosre Sardaaro ke Saath Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke paas Aaya aur bola :- 
"_ Ey Muhammad ! Agar tum Sachche ho to Hume Chaand ke do tukde Kar Ke dikha'o,Wo bhi is Tarah k Ek tukda Abu Qabays Pahaad per Nazar aaye aur Doosra Qaiqiyan Pahaad per Nazar aaye_,"

"_ Matlab ye tha k Dono tukde kaafi faasle per ho Taki Uske do tukde hone me koi shak na reh Jaye _,,

★__ Us Roz mahine ki chodhvi Tareekh thi ,Chaand Poora tha ,Aap ﷺ ne unki ye Azeeb farma'ish sun Kar farmaya :- Agar Mai'n esa Kar dikhau'n to kya tum imaan le aaoge _,"
Unhone ek Zubaan ho Kar Kaha :- Haa'n bilkul hum imaan le aayenge _,"
Aap  ﷺ ne Allah Ta'ala se Dua farmayi k Aapke Haath se esa ho Jaye , Chunache Chaand foran do tukde ho gaya, Uska Ek hissa Abu Qabays ke Pahaad ke Ouper Nazar Aaya ,doosra Qaiqiyan Pahaad per,

★__ Us Waqt Nabi Kareem ﷺ ne irshad farmaya :- Lo ab Gawahi do _,"
Unke dilo per to Qifl pade they ,Kehne lage :- Muhammad ne hum logo ki Aankho'n per jaadu Kar diya hai_,"
Kuchh ne Kaha :- Muhammad ne Chaand per Jaadu Kar diya hai Magar unke Jaadu Ka Asar Saari Duniya ke logo per nahi ho Sakta _,"

"_ Matlab ye tha k har Jagah ke log Chaand ko do tukde nahi dekh rahe honge ,Ab unhone Kaha :- Hum doosre Shehro se Aane walo se ye Baat puchhenge _,"
★__ Chunache jab Makka me doosre Shehro ke log dakhil hue to unhone Chaand ke bare me unse Puchha ,Aane wale sab logo ne Yahi Kaha :- Haa'n Haa'n ! Humne bhi Chaand ko do tukde Hote dekha hai _,"
Ye Sunte hi Mushrik bol uthe :- Bas ! Fir to ye aam jadu hai ,iska Asar sab per hua hai _,"
Kuchh ne Kaha :- Ye Ek esa Jaadu hai Jisse Jadugar bhi mutassir hue Hai'n _,"
Yani Jaadugaro ko bhi Chaand do tukde nazar Aaya hai _,

★__ Is per Allah Ta'ala ne Surah Qamar ki Aayat Naazil farmayi :- 
"_ (Tarjuma) :- Qayamat Nazdeek aa pahunchi aur Chaand shaq ho gaya aur ye log koi Mo'jza dekhte Hai'n to Taal dete Hai'n aur Kehte Hai'n Ye Jaadu hai Jo abhi Khatm ho Jayega _,"

★__ Mukhtalif Qaumo ki Tareekh se ye Baat Saabit Hoti Hai k Chaand Ka do tukde Hona Sirf Makka me Nazar nahi Aaya tha Balki doosre Mulko me bhi iska mushahida Kiya gaya tha _,
Isi Tarah Ek din Mushrikeen ne Kaha :- 
"_ Agar Aap waqa'i Nabi Hai'n to in Pahaado ki hata dijiye jinki vajah se Hamara Shehar tang ho raha Hai,Taki Hamari Aabaadi fayl Kar bas Jaye aur Apne Rab SE keh Kar esi nehre jaari Kara de'n Jesi Shaam aur iraaq me Hai'n aur Hamare Baap Daada'o ko dobara zinda Kara ke dikha'o , Un dobara zinda hone walo me Qusa'i bin Kilaab Zaroor ho ,isliye k wo Nihayat Daana aur Aqalmand buzurg tha ,Hum usse puchhenge ,Aap Jo Kuchh Kehte Hai'n Sach hai ya Jhoot ,

Agar Hamare in buzurgo ne Aapki tasdeeq Kar di aur Aapne Hamare ye mutalbe Poore Kar diye to hum Aapki Nabuwat Ka iqraar Kar lenge aur Jaan lenge k Aap waqa'i Allah ki taraf se bheje hue Hai'n ,Allah Ta'ala ne Aapko Hamari taraf Rasool Bana Kar bheja hai...jesa k Aap Daava Karte Hai'n_,"

★__ Unki ye baate sun Kar Nabi Kareem ﷺ ne irshad farmaya :- Mujhe in baato ke liye Tumhari taraf Rasool Bana Kar nahi bheja gaya Balki Mai'n to is Maqsad ke liye bheja gaya Hu'n k Ek Allah ki ibaadat Karo _,"
: ★__ Ek mushrik Kehne laga :- 
"_ Aap is Tarah Khana khate Hai'n Jis Tarah hum khate Hai'n, Usi Tarah bazaaro me chalte Hai'n Jis Tarah hum chalte Hai'n , Hamari Tarah hi Zindgi ki zaruriyaat Poori Karte Hai'n, Lihaza Aapko kya Haq hai k Nabi keh Kar khud Ko numaya Kare'n aur ye k Aapke Saath koi farishta kyu nahi utra Jo Aapki tasdeeq karta _,"

★__ Is per Allah Ta'ala ne Surah Furqaan Ki Aayat 7 Naazil farmayi :- 
"_( Tarjuma ) Aur ye Kaafir log Rasulullah ﷺ ki nisbat Yu'n Kehte Hai'n k is Rasool ko kya ho gaya hai k wo Hamari Tarah khata hai aur bazaaro me chalta firta hai,Uske Saath koi farishta kyu nahi bheja gaya k Uske Saath reh Kar daraya karta , Uske Paas gayb se koi khazana aa padta ya Uske Paas koi ( gaybi ) baag hota Jisse ye Khaya karta aur imaan lane walo se ye ye zaalim log ye bhi Kehte Hai'n k tum to Ek Be Aqal Aadmi ki Raah per chal rahe ho _,"

★__ Fir Jab Unhone ye Kaha k Allah Ta'ala ki zaat isse Bahut Buland hai k wo hum hi me SE ek Bande ko Rasool Bana Kar bheje to is per Allah Ta'ala ne Surah Yunus ki Aayat Naazil farmayi :- 
"_ ( Tarjuma ) _ Kya in Makka ke logo ko is Baat se Ta'ajjub hua k Humne unme SE ek Shakhs ke paas wahi bhej di k sab Aadmiyo'n ko Allah Ke ahkamaat ke khilaf chalne per daraye aur Jo imaan le Aaye, Unhe Khush Khabri suna de'n k Unhe Apne Rab ke paas pahunch Kar Poora martaba milega _,"

★__ Iske baad un logo ne Aap ﷺ se Kaha :- 
"_ Hum per Aasman ke tukde tukde Kar Ke gira do ,Jesa k Tumhara Daava hai k Tumhara Rab Jo Chahe Kar Sakta Hai, Hume Maloom hua hai k Tum Jis Rehmaan Ka Zikr Karte ho Wo Rehmaan Yamaama Ka Ek Shakhs hai ,Wo tumhe ye baate sikhata hai ,Hum log Allah ki qasam Kabhi Rehmaan per imaan nahi layenge _,"

★__ Yaha'n Rehmaan se Un logo ki muraad Yamaama ke Yahoodi Kaahin se thi , is Baat ke Jawab me Allah Ta'ala ne Surah Ar Ra'ad ki Aayat 30 Naazil farmayi :- 
"_ ( Tarjuma)_ Aap farma dijiye k Wohi Mera murabbi hai aur nigehbaan hai , Uske Siva koi ibaadat ke qaabil nahi ,Maine usi per bharosa Kar liya aur uski ke paas mujhe Jana hai _,"

Us Waqt Aap per Ranj aur Gam ki kaifiyat taari thi ,Aapki Ayn khwahish thi k wo log imaan qubool Kar Le'n ,Lekin esa na ho saka, isliye gamgeen they, isi Haalat me Aap waha'n se uth gaye ,
: ★__ Mushrikeen ne is qism ki aur bhi farma'ishe ki ,Kabhi Wo Kehte Safa Pahaad ko sone Ka Bana Kar dikha'o, Kabhi Kehte Sidi ke zariye Aasman per Chad Kar dikha'o aur Farishto ke Saath waapas aao , Unki Tamaam baato ke Jawab me Allah Ta'ala ne Hazrat Jibraiyl Alaihissalam ko Aapki khidmat me bheja, Unhone aa Kar Kaha :- 
"_ Ey Muhammad ﷺ Allah Ta'ala Aapko salaam farmate hai'n aur farmate hai'n k agar Aap Chahe to Safa Pahaad ko sone Ka Bana diya Jaye ,isi Tarah unke Jo mutalbaat Hai'n Unko bhi Poora Kar diya Jaye , Lekin iske baad bhi agar ye log imaan nahi laye to fir saabqa Qaumo ki Tarah in per holnaak Azaab Naazil Hoga ,Esa Azaab k Aaj tak Kisi Qaum per Naazil nahi hua Hoga aur agar Aap esa nahi chahte to Mai'n in per rehmat aur tauba Ka Darwaza khula rakhunga _,"

Ye sun Kar Aapne arz Kiya:- Baari Ta'ala ! Aap Apni Rehmat aur Tauba Ka Darwaza khula rakhe _,"

★__ Dar Asal Aap jaante they k Quresh ke ye Mutalbaat Jahalat ki buniyad per Hai'n , Kyunki ye log Rasoolo ke bhejne ki hikmat ko nahi jaante they... Rasoolo Ka bheja Jana to dar asal Makhlooq Ka imtehaan hota hai Taki wo Rasoolo ki tasdeeq Kare'n aur Rab Ta'ala ki ibaadat Kare'n ,Agar Allah Ta'ala darmiyaan se saare parde hata de aur sab log Aankho'n se sab Kuchh dekh Le'n to Fir to Ambiya aur Rasoolo ko bhejne ki zarurat hi baqi nahi Rehti aur gayb per imaan lane Ka koi ma'ani hi nahi rehta _,

★__ Makka ke Mushrikeen ne Do Yahoodi Aalimo ke paas Apne Aadmi bheje ,Ye Yahoodi Aalim Madina me rehte they, Dono Qaasido ne Yahoodi Aalimo se Mulaqaat ki aur unse Kaha :- Hum Aapke paas Apna Ek maamla le Kar Aaye Hai'n,Hum logo me Ek Yateem ladka hai ,Uska Daava hai k wo Allah Ka Rasool hai ,
Ye sun Kar Yahoodi Aalim bole :- Hume Uska Huliya bata'o ,
Qaasido ne Nabi Akram ﷺ Ka Huliya bata diya , Tab Unhone puchha :- Tum logo me SE kin logo ne unki Pervi ki hai ?
Unhone Jawab diya:- Kam darje ke logo ne _,"
Ab Unhone Kaha :- 
"_ Tum jaa Kar unse Teen Sawaal Karo ,Agar Unhone in teeno sawalaat ke jawabaat de diye to Wo Allah Ke Nabi Hai'n aur agar Jawab na de sake to fir samajh Lena Wo koi jhoota Shakhs hai _,"
 ╨─────────────────────❥
★: चांद दो टुकड़े हो गया _,*
★__ अपने इन मज़ालिम और बदतरीन हरकात के साथ साथ यह लोग हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम से मौज़जा़त का मुतालबा भी करते रहते थे । एक रोज़ अबू जहल दूसरे सरदारों के साथ हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के पास आया और बोला :- मोहम्मद ! अगर तुम सच्चे हो तो हमें चांद के दो टुकड़े करके दिखाओ वह भी इस तरह की एक टुकड़ा अबू क़ुबैस पहाड़ पर नजर आए और दूसरा कै़यक़'आन पहाड़ पर नजर आए। 
मतलब यह था कि दोनों टुकड़े काफी फासले पर हो ताकि उसके दो टुकड़े होने में कोई शक ना रह जाए।

★_उस रोज महीने की 14वी तारीख थी चांद पूरा था। आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने उनकी यह अजीब फरमाइश सुनकर फरमाया :- अगर मैं ऐसा कर दिखाऊं तो क्या तुम ही ईमान ले आओगे ?
उन्होंने एक ज़ुबान होकर कहा :- हां , बिल्कुल हम ईमान ले आएंगे। 
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अल्लाह ताला से दुआ फरमाई कि आपके हाथ से ऐसा हो जाए। चुनांचे चांद फौरन दो टुकड़े हो गया, उसका एक हिस्सा अबू क़ुबैस पहाड़ के ऊपर नजर आया दूसरा कैयक़'आन पहाड़ पर।

★_उस वक्त नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- लो , अब गवाही दो ।
उनके दिलों पर तो कि़फ्ल पड़े थे, कहने लगे :- मोहम्मद ने हम लोगों की आंखों पर जादू कर दिया है।
कुछ ने कहा :- मोहम्मद ने चांद पर जादू कर दिया है मगर उनके जादू का असर सारी दुनिया के लोगों पर नहीं हो सकता ।

"_मतलब यह था कि हर जगह के लोग चांद को दो टुकड़े नहीं देख रहे होंगे ,अब उन्होंने कहा:- हम दूसरे शहरों से आने वालों से यह बात पूछेंगे।
★__ चुनांचे जब मक्का में दूसरे शहरों के लोग दाखिल हुए तो उन्होंने चांद के बारे में उनसे पूछा, आने वाले सब लोगों ने यही कहा:-  हां हां ! हमने भी चांद को दो टुकड़े होते देखा है ।
यह सुनते ही मुशरिक बोल उठे :- बस फिर तो यह आम जादू है इसका असर सब पर हुआ है।
 कुछ ने कहा :-यह ऐसा जादू है जिससे जादूगर भी मुतास्सिर हुए हैं। यानी जादूगरों को भी चांद दो टुकड़े नजर आया है।

★_इस पर अल्लाह ताला ने सूरह क़मर की आयत नाजिल फरमाई :- 
*"_( तर्जुमा )* _कयामत नज़दीक आ पहुंची और चांद शक हो गया और यह लोग कोई मौज्ज़ा देखते हैं तो टाल देते हैं और कहते हैं यह जादू है जो अभी खत्म हो जाएगा।

★_मुख्तलिफ क़ौमों की तारीख से यह बात साबित होती है कि चांद का दो टुकड़े होना सिर्फ मक्का में नजर नहीं आया था बल्कि दूसरे मुल्कों में भी इसका मुशाहिद किया गया था ।
इसी तरह एक दिन मुशरिकीन ने कहा :-अगर आप वाक़ई नबी हैं तो इन पहाड़ों को हटा दीजिए जिनकी वजह से हमारा शहर तंग हो रहा है ताकि हमारी आबादी फैलकर बस जाए और अपने रब से कहकर ऐसी नहरें जारी करा दें जैसी शाम और इराक में है और हमारे बाप दादा को दोबारा जिंदा करा के दिखाओ ,उन दोबारा जिंदा होने वालों में क़ुसई बिन किलाब जरूर हो इसलिए कि वह निहायत दाना और अक़लमंद बुजुर्ग था , हम उससे पूछेंगे आप जो कुछ कहते हैं सच है या झूठ।

अगर हमारे इन बुजुर्गों ने आप की तस्दीक कर दी और आपने हमारा यह मुतालबे भी पूरे कर दिए तो हम आपके नबूवत का इक़रार कर देंगे और जान लेंगे कि आप वाक़ई अल्लाह की तरफ से भेजे हुए हैं अल्लाह ताला ने आपको हमारी तरफ रसूल बनाकर भेजा है जैसा कि आप दावा करते हैं।

★_उनकी ये बातें सुनकर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया :- मुझे इन बातों के लिए तुम्हारी तरह रसूल बनाकर नहीं भेजा गया बल्कि मैं तो इस मक़सद के लिए भेजा गया हूं कि एक अल्लाह की इबादत करो।
★__ एक मुशरिक कहने लगा :- आप इस तरह खाना खाते हैं जिस तरह हम खाते हैं इस तरह बाजारों में चलते हैं जिस तरह हम चलते हैं हमारी तरह जिंदगी की जरूरियात पूरी करते हैं लिहाज़ा आपको क्या हक है कि नबी कहकर खुद को नुमाया करें और यह कि आपके साथ कोई फरिश्ता क्यों नहीं होता जो आप की तस्दीक करता।

★_इस पर अल्लाह ताला ने सूरह फुरकान की आयत 7  नाजिल  फरमाई :-
*"_( तर्जुमा )*_ और यह काफिर लोग रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की निस्बत यू कहते हैं कि इस रसूल को क्या हो गया है कि वह हमारी तरह खाना खाता है और बाजारों में चलता फिरता है इसके साथ कोई फरिश्ता क्यों नहीं भेजा गया कि वह इसके साथ रह कर डराया करता , इसके पास गैब से कोई खजाना आ पड़ता या इसके पास कोई ( गैबी ) बाग होता जिससे यह खाया करता और ईमान लाने वालों से यह ज़ालिम लोग यह भी कहते हैं कि तुम तो एक बे अक़ल आदमी की राह पर चल रहे हो ।

★_फिर जब उन्होंने यह कहा कि अल्लाह ताला की जा़त इससे बहुत बुलंद है कि वह हम ही में से एक बंदे को रसूल बनाकर भेजें तो इस पर अल्लाह ताला ने सूरह यूनुस की आयत नाजिल फरमाई :- 
*"_( तर्जुमा )*_ क्या इन मक्का के लोगों को इस बात से ताज्जुब हुआ कि हमने इनमें से एक शख्स के पास वही भेज दी कि सब आदमियों को अल्लाह के अहकामात के खिलाफ चलने पर डराए और जो ईमान ले आए उन्हें खुशखबरी सुना दे की उन्हें अपने रब के पास पहुंचकर पूरा रुतबा मिलेगा।

★_इसके बाद उन लोगों ने आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से कहा :- हम पर आसमान के टुकड़े टुकड़े कर के गिरा दो जैसा कि तुम्हारा दावा है कि तुम्हारा रब जो चाहे कर सकता है, हमें मालूम हुआ है कि तुम जिस रहमान का ज़िक्र करते हो वह रहमान यमामा का एक शख्स है, वह तुम्हें यह बातें सिखाता है । हम लोग अल्लाह की क़सम कभी रहमान पर ईमान नही लाएंगे।

★_यहां रहमान से इन लोगों की मुराद यमामा के एक यहूदी काहिन से था, इस बात के जवाब में अल्लाह ताला ने सूरह रा'द की आयत नाजिल फरमाई :- 
*"_( तर्जुमा)*_  आप फरमा दीजिए कि वही मेरा मुरब्बी और निगहबान है उसके सिवा कोई इबादत के काबिल नहीं ,मैंने उसी पर भरोसा कर लिया और उसी के पास मुझे जाना है।

"_उस वक्त आप पर रंज और गम की कैफियत तारी थी ।आपकी ख्वाइश थी यह लोग ईमान कबूल कर ले लेकिन ना हो सका इसलिए गमगीन थे इसी हालत में आप वहां से उठ गए।
★__मुशरिकीन ने इस किस्म की और भी फरमाइशें की । कभी वह कहते सफा पहाड़ को सोने का बना कर दिखाओ, कभी कहते सीढ़ी के जरिए आसमान पर चढ़कर दिखाओ और फरिश्तों के साथ वापस आओ । उनकी तमाम बातों के जवाब में अल्लाह ताला ने हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम को आपकी खिदमत में भेजा । उन्होंने आ कर के कहा :- ए मोहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अल्लाह ताला आपको सलाम फरमाते हैं और फरमाते हैं कि अगर आप चाहें तो सफा पहाड़ को सोने का बना दिया जाए , इस तरह उनके जो मुतालबात हैं उनको भी पूरा कर दिया जाए लेकिन इसके बाद भी अगर यह लोग ईमान ना लाए तो फिर साबका़ क़ौमो की तरह उन पर होलनाक़ अज़ाब नाज़िल होगा ,ऐसा अज़ाब कि आज तक किसी क़ौम पर नाज़िल नहीं हुआ होगा और अगर आप ऐसा नहीं चाहते हैं तो मैं उन पर रहमत और तौबा का दरवाजा खुला रखूंगा।

यह सुनकर आपने अर्ज़ किया :- बारी ता'ला !  आप अपनी रहमत और तौबा का दरवाजा खुला रखें।

★__ दरअसल आप जानते थे कि कुरेश के यह मुतालबात जहालत की बुनियाद पर है क्योंकि यह लोग रसूलों को भेजने की हिकमत को नहीं जानते थे.. रसूलों का भेजा जाना तो दरअसल मखलूक़ का इंतिहान होता है ताकि वह रसूलों की तस्दीक़ करें और रब ता'ला की इबादत करें। अगर अल्लाह ता'ला दरमियां से सारे परदे हटा दे और सब लोग आंखों से सब कुछ देख ले तो फिर तो अंबिया और रसूलों को भेजने की ज़रूरत ही बाक़ी नहीं रहती और गैब पर ईमान लाने का कोई मा'नी ही नहीं रहता।

★__मक्का के मुशरीकीन ने 2 यहूदी आलिमों के पास अपने आदमी भेजें । यहूदी आलिम मदीना में रहते थे । दोनों कासिदों ने यहूदी आलिमों से मुलाकात की और उनसे कहा हम आपके पास अपना एक मामला लेकर आए हैं, हम लोगों में एक यतीम लड़का है उसका दावा है कि वह अल्लाह का रसूल है। 
यह सुनकर यहूदी आलिम बोले :- हमें उसका हुलिया बताओ ।
क़ासिदों ने नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का हुलिया बता दिया ,तब उन्होंने पूछा :-तुम लोगों में से किन लोगों ने उनकी पैरवी की है। 
उन्होंने जवाब दिया :-कम दर्जे के लोगों ने ।
अब उन्होंने कहा:- तुम जाकर उनसे तीन सवाल करो अगर उन्होंने इन तीन सवालों के जवाब दे दिए तो वह अल्लाह के नबी है और अगर जवाब ना दे सके तो फिर समझ लेना वह कोई झूठा शख्स है ।
╨─────────────────────❥
★__ Teen Sawaal _,*

★__ Pehle unse un nojawano ke bare me Sawaal Karo Jo Pichhe zamane me Kahi'n nikal gaye they, Yani Ashaabe Kahaf ke bare me puchho k unka kya Waqia tha ,isliye k unka Waqia Nihayat Ajeeb v gareeb hai ,Hamari Purani Kitaabo ke alawa is Waqi'e Ka Zikr Kahi'n nahi milega ..Agar Wo Nabi Hai'n to Allah Ta'ala ki taraf se khabar pa Kar unke bare me bata denge ..Varna nahi bata sakenge _,"
Fir unse Ye puchhna k Sikandar Zulqarnain kon tha ,Uska kya qissa hai ,Fir unse Rooh ke bare me puchhna k wo kya cheez hai _,"
Agar Unhone Pehle Dono sawaalo Ka Jawab de diya aur Unka Waqia bata diya aur Teesre Sawaal Yani Rooh ke bare me bata diya to Tum log samajh Lena k wo Sachche Nabi Hai'n, is Soorat me Tum unki Pervi karna ,

★__ Ye log ye Teen Sawalaat le Kar waapas Makka Aaye aur Quresh SE Kaha :- Hum esi cheez le Kar Aaye Hai'n k isse Hamare aur Muhammad ke darmiyaan Faisla ho Jayega _,"
Iske baad Unhone sabko tafseel sunayi ,Ab ye Mushrikeen Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke paas Aaye, Unhone Aap SE Kaha :- 
"__ Ey Muhammad ! Agar Aap Allah Ke Sachche Rasool Hai'n to Hamare Teen Sawalaat ke Jawabaat bata de'n, Hamara Pehla Sawal ye Hai k Ashaabe Kahaf kon they ? Doosra Sawaal hai k Zulqarnain kon they ? Aur Teesra Sawaal ye Hai k Rooh kya cheez hai ?
Aapne Unke Sawalaat sun Kar farmaya :- Mai'n in Sawalaat ke Jawabaat tumhe Kal dunga _",

★__ Nabi Akram ﷺ ne is Jumle me "_in Sha Allah_" na farmaya ,Yani ye na farmaya " in sha Allah Mai'n tumhe Kal Jawab dunga _,"
Quresh Aapka Jawab sun Kar waapas chale gaye, Aan'Hazrat ﷺ wahi Ka intezar Karne lage ,Lekin wahi na aayi ,Doosre Din Wo log aa gaye, Aap Unhe koi Jawab na de sake,Wo log lage baate Karne , Unhone ye tak keh diya :- Muhammad ke Rab ne inhe Chhod diya _,"
Un logo me Abu Lahab ki Bivi Umme Jameel bhi thi ,Usne bhi ye Alfaz kahe :- Mai'n dekhti Hu'n k Tumhare Maalik ne tumhe Chhod diya hai aur Tumse Naraaz ho gaya hai _,"

★__ Nabi Akram ﷺ ko Quresh ki ye baate Bahut shaaq guzri ,Aap Bahut Pareshan aur gamgeen ho gaye, Aakhir Jibraiyl Alaihissalam Surah Kahaf le Kar Naazil hue ,Allah Ta'ala ki taraf se Aapko hidayat ki gayi :- 
"_ Aur Aap Kisi Kaam ki nisbat Yu'n na Kaha kijiye k isko Kal Kar dunga Magar Allah Ke chahne ko Mila liya kijiye ( Yani in sha Allah Kaha kijiye ) Aap Bhool Jaye'n to Apne Rab Ka Zikr kya kijiye aur Keh dijiye k mujhe Ummeed hai Mera Rab mujhe ( Nabuwat ki daleel banne ke aitbaar se ) isse bhi Nazdeek tar Baat bata dega _," *( Surah Kahaf )*

"__ Matlab ye tha k Jab Aap ye Kahe'n k Aainda Fala Waqt per Mai'n ye Kaam karunga to Uske Saath in sha Allah Zaroor Kaha Kare'n ,Agar Aap us Waqt Apni Baat ke Saath in sha Allah milana Bhool Jaye'n aur baad me Yaad aa Jaye to us Waqt in sha Allah keh diya Kare'n , isliye k Bhool Jane ke baad Yaad Aane per Wo in sha Allah keh dena bhi esa hai Jese guftgu ke Saath keh dena hota hai ,
 ★__ Is moqe per Wahi me Dayr is bina per hui thi k Aapne in sha Allah nahi Kaha tha,Jab Jibraiyl Alaihissalam Surah Kahaf le Kar Aaye to Aapne unse Puchha tha :- Jibraiyl tum itni muddat mere paas Aane SE ruke rahe isse tashveesh paida hone lagi thi _,"
Jawab me Hazrat Jibraiyl Alaihissalam ne arz Kiya :- 
"_ Hum Aapke Rab ke Hukm ke bager na Ek zamane SE doosre zamane me dakhil ho sakte Hai'n,na Ek Jagah se Doosri Jagah ja sakte Hai'n,Hum to Sirf Uske Hukm per Amal Karte Hai'n aur Ye Jo Kuffar keh rahe Hai'n k Aapke Rab ne Aapko Chhod diya hai to Aapke Rab ne Aapko hargiz nahi chhoda balki ye sab uski hikmat ke mutabiq hua hai _,"

★__ Fir Hazrat Jibraiyl Alaihissalam ne Aapko Ashaabe Kahaf ke bare me bataya, Zulqarnain ke bare me bataya aur Fir Rooh ke bare me wazahat ki ,

Ashaabe Kahaf ki tafseel Tafseer ibne Kaseer ke mutabiq Yu'n hai :-- 
"_ Woh Chand Nojawan they ,Deene Haq ki taraf Maa'il ho gaye they aur Raahe Hidayat per aa gaye they ,Ye Nojawan parhezgaar they ,Apne Rab Ko Ma'abood maante they Yani Toheed ke Qaa'il they ,imaan me Roz ba Roz bad rahe they aur Ye Log Hazrat Iysaa Alaihissalam Ke Deen per They ,Lekin Baaz Rivayaat se ye bhi Maloom hota hai k Ye waqi'a Hazrat Iysaa Alaihissalam se Pehle Ka Hai , isliye k Ye Sawaal Yahoodiyo'n ne Puchhe they aur iska Matlab ye Hai k Yahoodiyo'n ki Kitaabo me ye waqi'a mojood tha, isse Yahi Saabit Hota Hai k Ye waqi'a Hazrat Iysaa Alaihissalam se Pehle Ka Hai ,

★__ Qaum ne inki mukhalfat ki ,in logo ne Sabr Kiya  , Us Zamane ke Baadshah Ka Naam Daqiyanoos tha ,Wo mushrik tha , Usne sabko Shirk per laga rakha tha,Tha bhi Bahut Zaalim, But parasti karata tha , Waha'n Salaana mela Lagta tha, Ye Nojawan Apne Maa'n Baap ke Saath us mele me gaye , Waha'n inhone But Parasti Hote dekhi ,Ye waha'n se bezaar ho Kar Nikal Aaye aur Sab Ek Darakht ke niche Jama ho gaye, isse Pehle ye log alag alag they ,Ek doosre ko jaante nahi they ,Aapas me Baat Cheet shuru hui to Maloom hua Ye sab But parasti se bezaar ho Kar mele se chale Aaye Hai'n ,Ab ye aapas me ghul mil gaye , inhone Allah ki ibaadat ke liye ek Jagah muqarrar Kar li ,Rafta Rafta mushrik Qaum ko inke bare me pata chal gaya , Wo inhe Pakad Kar Baadshah ke paas le gaye, Baadshah ne inse Sawalaat kiye to inhone Nihayat dileri se shirk se Bari hone Ka elaan Kiya , Baadshah aur Darbariyo ko bhi Toheed ki Dawat di ,

★__ Inhone Saaf keh diya ,Hamara Rab Wohi hai Jo Aasman aur Zameen Ka khaliq hai aur ye na Mumkin hai k hum Uske Siva Kisi aur ki ibaadat Kare'n , Unki is saaf goyi per Baadshah bigda , Usne inhe daraya dhamkaya aur Kaha k agar ye Baaz na aaye to Mai'n inhe sakht Saza dunga _,"
Baadshah Ka Hukm sun Kar inme koi kamzori paida na hui ,inke Dil aur Mazboot ho gaye Lekin Saath hi inhone mehsoos Kar liya k Yaha'n reh Kar wo Apni Deendari per Qaa'im nahi reh sakenge , isliye inhone sabko Chhod Kar waha'n SE nikalne Ka iraada kar liya , Jab ye log Apne Deen ko bachane ke liye Qurbani dene per Taiyaar ho gaye to in per Allah Ta'ala ki Rehmat Naazil hui ,inse Farma diya gaya :- 
"_ Ja'o Tum Kisi gaar me panaah Haasil Karo tum per Tumhare Rab ki Rehmat hogi aur Wo Tumhare Kaam me Asaani aur Raahat muhayya farmayega _,"
 ★__ Pas ye log moqa pa Kar Waha'n se bhaag nikle aur ek Pahaad ke gaar me Chhup gaye ,Qaum ne inhe har taraf Talash Kiya Lekin Wo na mile ...Allah Ta'ala ne inhe unke dekhne se Aajiz Kar diya...bilkul isi qism Ka Waqia Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke Saath pesh Aaya tha jab Aapne Hazrat Abu Bakar Siddiq Raziyllahu anhu ke Saath Gaare Sor me panaah li thi ,Lekin Mushrikeen gaar ke moonh tak Aane ke bavjood Aapko nahi dekh sake they ,
Is Waqi'e me bhi Chand Rivayaat me tafseel is Tarah hai k Baadshah ke Aadmiyo'n ne inka puchha Kiya tha aur gaar tak pahunch gaye they,Lekin gaar me Wo in logo ko Nazar nahi Aaye they,
Qurane Kareem Ka elaan hai k us gaar me subeh v Shaam dhoop aati Jati Hai ,
Ye gaar Kis Shehar ke Kis Pahaad me hai ,Ye yaqeeni tor per Kisi Ko Maloom nahi....fir Allah Ta'ala ne in per neend taari Kar di ,Allah Ta'ala inhe Karwate badalwate rahe ,inka Kutta bhi gaar me inke Saath tha ,

★__ Allah Ta'ala ne Jis Tarah Apni Qudrate Kaamila se inhe sula diya tha ,usi Tarah inhe jaga diya ,Wo 309 Saal tak sote rahe they, ab 309 Saal baad jaage to bilkul ese they Jese abhi Kal hi soye they ,

★__ inke Badan ,Khaal ,Baal garz har cheez bilkul Sahi Salamat thi ,Yani Jese site Waqt they bilul wese hi they ,Kisi qism ki koi Tabdeeli waqe nahi hui thi, Wo aapas me Kehne lage :- Kya Bha'i !  Bhala hum Kitni Dayr tak sote rahe Hai'n ?
Ek ne Jawab diya :- Ek Din ye isse bhi kam _,"

"_ Ye Baat Usne isliye kahi thi k wo subeh ke Waqt soye they aur jab jaage to Shaam Ka Waqt tha , isliye Unhone Yahi khayal Kiya k wo Ek Din ya usse Kam soye Hai'n, Fir Ek ne ye keh Kar Baat Khatm Kar di :- iska durust ilm to Allah ko hai _,"

★__ Ab inhe Shadeed Bhook Pyaas Ka ahsaas hua , Unhone socha Bazaar SE Khana mangwana Chahiye ,Paise unke paas they , inme se Kuchh Wo Allah Ke Raaste me kharch Kar chuke they, Kuchh inke paas baqi they , Ek ne Kaha :- 
"_ Humme SE koi Paise le Kar Bazaar Chala Jaye aur Khane ki koi Pakiza aur Umda cheez le aaye aur jaate hue aur aate hue is Baat Ka khayal rakhe k Kahi'n logo ki Nazar us per na pad Jaye , Sauda Khareedte Waqt bhi Hoshiyari se Kaam le ,Kisi ki nazro me na Aaye ,Agar Unhe Hamare bare me Maloom ho gaya to Hamari Khayr nahi , Daqiyanoos ke Aadmi abhi tak Hume Talash Karte fir rahe honge _,"

★"__ Chunache unme se ek gaar se Bahar nikla , Use Saara naqsha hi Badla Nazar Aaya ,Ab use kya Maloom tha k Wo 309 Saal tak sote rahe they, Usne dekha koi cheez Apne Pehle haal per nahi thi , Shehar me use koi bhi Jana pehchana Nazar na Aaya ,Ye Hairaan tha , Pareshan tha aur dare dare Andaz me aage bad raha tha ,Uska dimaag chakra raha tha, Soch raha tha kal Shaam to hum is Shehar ko Chhod Kar gaye they fir ye Achanak kya ho gaya hai, Jab zyada pareshan hua to Usne Apne Dil me Faisla kiya ,Mujhe jald az jald sauda Kar Ke Saathiyo'n ke paas pahunch Jana Chahiye, Aakhir wo Ek Dukaan per pahuncha , Dukaandar ko Paise diye aur khane pine Ka Samaan talab Kiya , Dukaandar us Sikke ko dekh Kar Hairatzada reh gaya ,Usne Wo sikka Saath wale Dukaandar ko dikhaya aur Bola :- Bha'i Zara dekhna , Ye sikka kis zamane Ka Hai ? 
Usne doosre ko diya ,is Tarah Sikka Ka'i Haatho me ghoom gaya , Ka'i Aadmi waha'n Jama ho gaye,
 ★__ Aakhir Unhone usse puchha :- Tum ye Sikka Kaha'n se laye ho ? Tum kis Mulk ke rehne wale ho ?
Jawab me Usne Kaha - Mai'n to isi Shehar Ka rehne wala Hu'n,Kal Shaam hi ko to Yaha'n se gaya Hu'n, Yaha'n Ka Baadshah Daqiyanoos hai _,"
Wo sab uski Baat sun Kar hans pade  aur bole :- Ye to koi paagal hai ,ise Pakad Kar Baadshah ke paas le chalo _,"
Aakhir use Baadshah ke Saamne pesh Kiya gaya, Waha'n usse sawalaat hue ,Usne Tamaam haal keh sunaya ,
Baadshah aur sab log uski kahani sun Kar Hairatzada reh gaye , Aakhir Unhone Kaha :- Achchha Theek hai ,Tum Hume Apne Saathiyo'n ke paas le chalo ...Wo gaar Hume bhi dikha'o _,"

★__ Chunache sab log Uske Saath gaar ki taraf rawana hue, Un Nojawano se mile aur Unhe bataya k Daqiyanoos ki Badshaahi Khatm hue Teen Sadiya'n beet chuki hai aur ab Yaha'n Allah Ke Nek Bando ki hukumat hai , Bahar Haal un nojawano ne Apni Baqi'a Zindgi usi gaar me guzaari aur Wahi'n wafaat payi ,Baad me logo ne unke Aizaaz ke tor per Pahaad ki bulandi per ek Masjid tameer ki thi _,

"_ Ek Rivayat ye bhi Hai k Jab Shehar Jane wala pehla Nojawan logo ko le Kar gaar ke qareeb pahuncha to Usne Kaha :- Tum log yahi'n thehro , Mai'n Ja Kar Unhe khabar Kar du'n ,
Ab ye unse alag ho Kar gaar me dakhil ho gaya, Saath hi Allah Ta'ala ne un per bhi neend taari Kar di... Baadshah aur Uske saathi use Talash Karte reh gaye ...na Wo Mila aur na hi Wo gaar Unhe Nazar Aaya ,Allah Ta'ala ne unki nazro se gaar ko aur un sabko chhupa diya _,

★__ Unke bare me log khayal Zaahir Karte rahe k wo Saat they ,Aathva unka Kutta tha ,Ya Wo no they ,Dasva unka Kutta tha,Baharhaal unki ginti Ka Sahi ilm Allah hi ko hai ,
Allah Ta'ala ne Apne Nabi  ﷺ se irshad farmaya:- 
"_ Unke bare me zyada bahas na Kare'n aur na unke bare me Kisi se daryaft Kare'n ( Kyunki unke bare me log Apni taraf se baate Karte Hai'n koi Sahi daleel unke paas nahi )
 ★__ Mushrikeen Ka doosra Sawaal tha , Zulqarnain kon tha ? Zulqarnain ke bare me Tafsilaat Yu'n milti Hai'n :- 
"_ Zulqarnain ek Nek ,Khuda Raseeda aur Zabardast Baadshah tha ,Unhone Teen badi muhimaat sar ki , Pehli Muhim me wo us Muqaam tak pahunche Jaha'n Suraj guroob hota hai, Yaha'n Unhe ek esi Qaum Mili Jiske bare me Allah ne Unhe Akhtyar diya k Chahe to us Qaum Ko Saza de'n, Chahe to unke Saath Nek sulook Kare'n _,
Zulqarnain ne Kaha k , Jo Shakhs Zaalim hai Hum use Saza denge aur Marne Ke baad Allah Ta'ala bhi use Saza denge , Albatta Momin Bando ko Nek Badla milega _,"

★__ Doosri Muhim me wo us Muqaam tak pahunche Jaha'n se Suraj Tulu hota hai, Waha'n Unhe ese log mile Jinke Makanaat ki koi Chhat vagera nahi thi , 
Teesri Muhim me wo do ghaantiyo'n ke darmiyaan pahunche , Yaha'n ke log unki Baat nahi samajhte they , Unhone isharo me ya Tarjumaan ke zariye Yajooj Majooj ki tabaah kaariyo'n Ka shikwa Karte hue unse darkhwast ki k wo unke aur Yajooj Majooj ke  darmiyaan band bana de'n , Zulqarnain ne  Lohe ki Chaadre mangwayi ,Fir unse ek Diwaar bana di , Usme Taamba pighla Kar daala gaya, is Kaam ke hone per Zulqarnain ne Kaha :- Ye Allah Ka fazal hai k mujhse itna bada Kaam ho gaya _,"
Qayamat ke qareeb Yajooj Majooj us Diwaar ko todne me Kamyaab ho Jayenge ,

★__ Zulqarnain ke bare me Mukhtalif wazahate Kitaabo me milti Hai'n, Qarnain ke ma'ani do simto ke Hai'n , Zulqarnain Duniya ke do kinaaro tak pahunche they isliye Unhe Zulqarnain Kaha gaya , Baaz ne Qarnain ke ma'ani Seeng ke liye Hai'n ,Yani Do Seengo wale ,Inka Naam Sikandar tha ,Lekin ye Unaan ke Sikandar nahi Hai'n Jise Sikandare Aazam Kaha jata hai, Yunaani Sikandar Kaafir tha Jabki ye Muslim aur Wali Allah they ,Ye Saam bin Nooh Alaihissalam ki Aulaad me se they , Khizr Alaihissalam inki fauj Ka jhanda Uthane wale they ,

★__ Teesra Sawaal Yani Rooh ke bare me Allah Ta'ala ne irshad farmaya :- 
"_ Ye log Aapse Rooh ke bare me puchhte Hai'n ,Aap farma dijiye k Rooh mere Rab ke Hukm se Qaa'im hai ,Yani Rooh ki Haqeeqat usi ke ilm me hai ,Uske Siva is bare me koi nahi jaanta ,
Rooh ke bare me Yahoodiyo'n ki Kitaabo me bhi bilkul Yahi Baat darj thi k Rooh Allah Ke Hukm SE Qaa'im hai ,Uska ilm Allah hi ke paas hai AUR Usne Apne Siva Kisi Ko nahi diya , 
Yahoodiyo'n ne Mushriko se Pehle hi keh diya tha k agar Unhone Rooh ke mutalliq Kuchh bataya to samajh Lena ,Wo Nabi nahi Hai'n, Agar Sirf ye Kaha k Rooh Allah Ke Hukm SE Qaa'im hai to samajh Lena k wo Sachche Nabi Hai'n, Aapne bilkul Yahi Jawab irshad farmaya,
╨─────────────────────❥
*★__ तीन सवालात _,"*

★__पहले उनसे उन नौजवानों के बारे में सवाल करो जो पीछे जमाने में कहीं निकल गए थे यानी असहाबे कहफ के बारे में पूछो कि उनका क्या वाक्य था। इसलिए कि उनका वाक्य निहायत अजीब और गरीब है। हमारी पुरानी किताबों के अलावा इस वाक्य का जिक्र कहीं नहीं मिलेगा ....अगर वो नबी है तो अल्लाह ताला की तरफ से खबर पाकर उनके बारे में बता देंगे वरना नहीं बता सकेंगे। फिर उनसे पूछना कि सिकंदर ज़ुलक़रनैन कौन था ? उसका क्या किस्सा है। फिर उनसे रूह के बारे में पूछना कि वो क्या चीज है ?
अगर उन्होंने पहले दोनों सवालों का जवाब दे दिया और उनका वाक्य बता दिया और तीसरे सवाल यानी रूह के बारे में बता दिया ,तो तुम लोग समझ लेना कि वह सच्चे नबी है इस सूरत में तुम उनकी पैरवी करना।

★_यह लोग यह तीन सवालात लेकर वापस मक्का आए और क़ुरेश से कहा -हम ऐसी चीज लेकर आए हैं कि इससे हमारे और मुहम्मद के दरमियान फैसला हो जाएगा । इसके बाद उन्होंने सबको तफ्सील सुनाई। अब यह मुशरिकीन हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास आए ,उन्होंने आपसे कहा- मुहम्मद ! अगर आप अल्लाह के सच्चे रसूल हैं तो हमारे तीन सवालात के जवाबात बता दे,  हमारा पहला सवाल यह है कि असहाबे कहफ कौन थे ? दूसरा सवाल यह है कि जु़लक़रनैन कौन थे ? तीसरा सवाल यह है कि रूह क्या चीज है ? 
आपने उनके सवालात सुनकर फरमाया :- मैं इन सवालात के जवाबात तुम्हें कल दूंगा ।

★_नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इस जुमले में इंशाल्लाह ना फरमाया । यानी यह ना फरमाया- इंशा अल्लाह मैं तुम्हें कल जवाब दूंगा ।
कुरेश आपका जवाब सुनकर वापस चले गए । आन'हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम वही का इंतजार करने लगे लेकिन वही ना आई । दूसरे दिन वो लोग आ गए आप उन्हें कोई जवाब ना दे सके। वह लोग लगे बातें करने उन्होंने यह तक कह दिया- मुहम्मद के रब ने उन्हें छोड़ दिया । 
उन लोगों में अबू लहब की बीवी उम्मे जमील भी थी उसने भी यह अल्फाज़ कहे :- मैं देखती हूं कि तुम्हारे मालिक ने तुम्हें छोड़ दिया है और तुमसे नाराज़ हो गया है।

★_नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को कुरेश की यह बातें बहुत शाक़ गुज़री । आप बहुत परेशान और गमगीन हो गए। आखिर जिब्राइल अलैहिस्सलाम सुरह कहफ लेकर नाज़िल हुए । अल्लाह की तरफ से आपको हिदायत की गई :- 
"_  और आप किसी काम की निस्बत यूं ना कहा कीजिए कि इसको कल कर दूंगा मगर अल्लाह के चाहने को मिला लिया कीजिए ( यानी इंशाल्लाह कहा कीजिए ) आप भूल जाएं तो अपने रब का जिक्र किया कीजिए और कह दीजिए कि मुझे उम्मीद है मेरा रब मुझे ( नबुवत की दलील बनने के एतबार से ) इससे भी नज़दीक तर बात बता देगा ।
*( सूरह कहफ )*

"_ मतलब यह था कि जब आप यह कहे कि आइंदा फलां वक्त पर मैं यह काम करूंगा तो उसके साथ इंशाल्लाह जरूर कहां करें अगर आप उस वक्त अपनी बात के साथ इंशाल्लाह मिलाना भूल जाए और बाद में याद आ जाए तो उस वक्त इंशाल्लाह कह दिया करें इसलिए कि भूल जाने के बाद याद आने पर वह इंशाल्लाह कह देना भी ऐसा है जैसे गुफ्तगू के साथ कह देना होता है।
 ★__ इस मौके पर वही में देर इसी बिना पर हुई थी कि आपने इंशाल्लाह नहीं कहा था । जब जिब्राइल अलैहिस्सलाम सुरह कहफ लेकर आए तो आपने उनसे पूछा था :- जिब्राइल ! तुम इतनी मुद्दत मेरे पास आने से रुके रहे इससे तशवीश पैदा होने लगी थी ।
जवाब में हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने अर्ज़ किया:-  हम आपके रब के हुक्म के बगैर ना एक जमाने से दूसरे जमाने में दाखिल हो सकते है ना एक जगह से दूसरी जगह जा सकते हैं , हम तो सिर्फ उसके हुक्म पर अमल करते हैं और यह जो कुफ्फार कह रहे हैं कि आपके रब ने आपको छोड़ दिया है तो आपके रब ने आप को हरगिज़ नहीं छोड़ा बल्कि यह सब उसकी हिकमत के मुताबिक हुआ है ।

★__ फिर हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने आपको असहाबे कहफ के बारे में बताया जु़लकरनैन के बारे में बताया और फिर रूह के बारे में वजाहत की। असहाबे कहफ की तफसील इब्ने कसीर के मुताबिक यूं है  :- 

"_वह चंद नौजवान थे दीने हक़ की तरफ माइल हो गए थे और राहे हिदायत पर आ गए थे यह नौजवान परहेज़गार थे अपने रब को माबूद मानते थे यानी तोहिद के कायल थे। ईमान में रोज़ ब रोज़ बढ़ रहे थे और यह लोग हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम के दीन पर थे लेकिन बाज़ रिवायात से यह भी मालूम होता है कि यह वाक्या हजरत ईसा अलैहिस्सलाम से पहले का है इसलिए कि यह सवाल यहूदियों ने पूछे थे और इसका मतलब यह है कि यहूदियों की किताबों में यह वाक्या मौजूद था इससे यही साबित होता है कि यह वाक्या हजरत ईसा अलैहिस्सलाम से पहले का है ।

★_ क़ौम ने इनकी मुखालफत की , इन लोगों ने सब्र किया । उस जमाने के बादशाह का नाम दक़ियानूस था वह मुशरिक था उसने सबको शिर्क पर लगा रखा था। था भी बहुत ज़ालिम । बुतपरस्ती कराता था । वहां सालाना मेला लगता था,यह नौजवान अपने मां बाप के साथ उस मेले में गए वहां उन्होंने बुतपरस्ती होते देखी ,यह वहां से बेजार होकर निकल आए और सब एक दरख्त के नीचे जमा हो गए । इससे पहले यह लोग अलग अलग थे , एक दूसरे को जानते नहीं थे। आपस में बातचीत शुरू हुई तो मालूम हुआ यह सब बुत परस्ती से बेजार हो कर मेले से चले आए हैं। अब यह आपस में घुल मिल गए इन्होंने अल्लाह की इबादत के लिए एक जगह मुक़र्रर कर ली । रफ्ता रफ्ता मुशरिक क़ौम को इनके बारे में पता चल गया। वह इन्हें पकड़कर बादशाह के पास ले गए। बादशाह ने सवालात किये तो इन्होंने निहायत दिलेरी से शिर्क से बरी होने का ऐलान किया । बादशाह और दरबारियों को तौहीद की दावत दी ।
★_ इन्होंने साफ कह दिया कि हमारा रब वही है जो आसमान और ज़मीन का मालिक है और यह नामुमकिन है कि हम उसके सिवा किसी और की इबादत करें।
 उनकी साफगोई पर बादशाह बिगड़ा,  उसने उन्हें डराया धमकाया और कहा कि अगर ये बाज़ ना आएं तो इन्हें सख्त सजा दूंगा ।
बादशाह का हक्म सुन का इनमें कोई कमजोरी पैदा ना हुई इनके दिल और मजबूत हो गए लेकिन साथ ही उन्होंने महसूस कर लिया कि यहां रह कर अपनी दीनदारी पर क़ायम नहीं रह सकेंगे इसलिए इन्होंने सब को छोड़कर वहां से  निकलने का इरादा कर लिया, जब यह लोग अपने दीन को बचाने के लिए कुर्बानी देने को तैयार हो गए तो अल्लाह ताला की रहमत नाज़िल हुई, इनसे फरमा दिया गया :-  जाओ किसी गार में पनाह हासिल करो तुम पर तुम्हारे रब की रहमत होगी और वह तुम्हारे काम में आसानी और राहत मुहैया फरमाएगा।
 *★__ बस यह लोग मौका पाकर वहां से बाहर निकले अरे पहाड़ के गार में छुपे क़ौम ने इन्हें हर तरफ तलाश किया लेकिन वह ना मिले अल्लाह ताला ने इन्हें इनके देखने से आजिज़ कर दिया। बिल्कुल इसी कि़स्म का वाकि़या हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के साथ पेश आया था जब आपने हजरत अबू बकर सिद्दीक रजियल्लाहु अन्हु के साथ गारे सौर ने पनाह ली थी लेकिन मुशरिकीन गार के मुंह तक आने के बावजूद आपको नहीं देख सके थे ।इस वाक्य में भी चंद रिवायात में तफसील इस तरह है कि बादशाह के आदमियों में इनका पीछा किया था और गार तक पहुंच गए थे लेकिन गार में वह इन लोगों को नज़र नहीं आए थे ।
क़ुरआने करीम का ऐलान है कि उस गार में सुबह व शाम धूप आती जाती है ।
यह गार किस शहर के किस पहाड़ में है यकीनी तौर पर किसी को मालूम नहीं ।
फिर अल्लाह ताला ने इन पर नींद तारी कर दी , अल्लाह ताला इन्हें करवटें बदलवाते रहे ,इनका कुत्ता भी गार में इनके साथ था।

★_अल्लाह ताला ने जिस तरह अपनी कुदरत ए कामिला से इन्हें सुला दिया था उसी तरह इन्हें जगा दिया । यह 309 साल तक सोते रहे थे अब 309 साल बाद जागे तो बिल्कुल ऐसे थे जैसे अभी कल ही सोए थे।

★_इनके बदन खाल बाल गर्ज़ हर चीज़ बिल्कुल सही सलामत थी यानी जैसे सोते वक्त थे बिल्कुल वैसे ही थे किसी किस्म की कोई तब्दीली वाक़े नहीं हुई थी यह आपस में कहने लगे :- क्यों भई भला हम कितनी देर तक सोते रहे हैं।
एक ने जवाब दिया:- एक दिन या इससे भी कम ।
यह बात उसने इसलिए कही थी कि वह सुबह के वक्त सोए थे और जब जागे तो शाम का वक्त था। इसलिए उन्होंने यह खयाल किया कि वह एक दिन या इससे कम सोये हैं , फिर एक ने यह कहकर बात खत्म कर दी:- इसका दुरुस्त इल्म तो अल्लाह को है ।

★_ अब इन्हें शदीद भूख प्यास का एहसास हुआ इन्होंने सोचा बाज़ार से खाना मंगवाना चाहिए, पैसे इनके पास थे उनमें से कुछ यह अल्लाह के रास्ते में खर्च कर चुके थे कुछ इनके पास बाकी थे। एक ने कहा:-  हममे से कोई पैसे लेकर बाज़ार चला जाए और खाने की कोई पाक़ीज़ा उम्दा चीज़ ले आए और जाते हुए और आते हुए इस बात का ख्याल रखें कि कहीं लोगों की नज़र उस पर ना पड़ जाए , सौदा खरीदते वक्त भी होशियारी से काम ले ,किसी की नजरों में ना आए ,अगर उन्हें हमारे हमारे बारे में मालूम हो गया तो हमारी खैर नहीं , दक़ियानूस के आदमी अभी तक हमें तलाश करते फिर रहे होंगे।

★_चुंनाचे इनमें से एक गार से बाहर निकला। उसे सारा नक्शा ही बदला नज़र आया, अब उसे क्या मालूम था कि वह 309 साल तक सोते रहे हैं उसने देखा कोई चीज़ अपने पहले हाल पर नहीं थी , शहर में कोई भी उसे जाना पहचाना नज़र ना आया , यह हैरान था परेशान था और डरे डरे अंदाज़ में आगे बढ़ रहा था, उसका दिमाग चकरा रहा था ।सोच रहा था कल शाम तो हम इस शहर को छोड़कर गए हैं फिर यह अचानक क्या हो गया । जब ज्यादा परेशान हुआ तो उसने अपने दिल में फैसला किया मुझे जल्द से जल्द सौदा लेकर अपने साथियों के पास पहुंच जाना चाहिए। आखिर वह एक दुकान पर पहुंचा। दुकानदार को पैसे दिए और खाने-पीने का सामान तलब किया। दुकानदार सिक्के को देखकर हैरतज़दा हो गया, उसने वो सिक्का साथ वाले दुकानदार को दिखाया और बोला भाई जरा देखना सिक्का किस जमाने का है ।
उसने दूसरे को दिया ,इस तरह सिक्का कई हाथों में घूम गया कई आदमी वहां जमा हो गए।
★: ★__ आखिर उन्होंने उससे पूछा- तुम यह सिक्का कहां से लाए हो?  तुम किस मुल्क के रहने वाले हो ?
जवाब में उसने कहा -मैं तो इसी शहर का रहने वाला हूं कल शाम ही तो यहां से गया हूं, यहां का बादशाह दकियानूस है ।
वह सब उसकी बात सुनकर हंस पड़े और बोले -यह तो पागल है। इसे पकड़ कर बादशाह के पास ले चलो ।
आखिर उसे बादशाह के सामने पेश किया गया, वहां उससे सवालात हुए , उसने तमाम हाल कह सुनाया। बादशाह और सब लोग उसकी कहानी सुनकर हैरतजदा रह गये,  आखिर उन्होंने कहा :- अच्छा ठीक है, तुम हमें अपने साथियों के पास ले चलो...वो गार हमें भी दिखाओ _,"

★_चुंनाचे सब लोग उसके साथ गार की तरफ रवाना हुए, उन नौजवानों से मिले और उन्हें बताया कि दक़ियानूस की बादशाही खत्म हुए सदियां बीत चुकी है और अब यहां अल्लाह के नेक बंदे की हुकूमत है ।बहरहाल उन नौजवानों ने अपने बक़िया जिंदगी उसी गार में गुज़ारी और वही वफात पाई, बाद में लोगों ने उनके एजाज़ के तौर पर पहाड़ की बुलंदी पर एक मस्जिद की तामीर की थी ।

एक रिवायत यह भी है कि जब शहर जाने वाला पहला नौजवान लोगों को लेकर गार के करीब पहुंचा तो उसने कहा तुम लोग यहीं ठहरो मैं जाकर उन्हें खबर कर दूं, अब यह उनसे अलग होकर गार में दाखिल हो गया, साथ ही अल्लाह ताला ने उन पर भी नींद तारी कर दी, बादशाह और उसके साथी उसे तलाश करते रह गए ..ना वह मिला और ना ही वो गार उन्हें नज़र आया, अल्लाह ताला ने उनकी नज़रों से गार को और उन सब को छुपा दिया।

★_ उनके बारे में लोग ख्याल जाहिर करते रहे कि वह सात थे आठवां उनका कुत्ता था या वह नो थे दसवां उनका कुत्ता था । बहर हाल उनकी गिनती का सही इल्म अल्लाह ही को है। अल्लाह ताला ने अपने नबी सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम सें इरशाद फरमाया :-  उनके बारे में ज्यादा बहस ना करें और ना उनके बारे में किसी से दरयाफ्त करें (क्योंकि उनके बारे में लोग अपनी तरफ से बातें करते हैं कोई सही दलील उनके पास नहीं)।
★__ मुशरिकीन का दूसरा सवाल था जु़लक़रनैन कौन था ?जु़लक़रनैन के बारे में तफसीलात यूं मिलती है :- 
"_ जु़लक़रनैन एक नेक खचदा रशीदा और जबरदस्त बादशाह था ,उन्होंने तीन बड़ी मुहिमात सर की । पहली मुहिऊ में वह उस मुकाम पर पहुंचे जहां सूरज गुरुब होता है, यहां उन्हें एक ऐसी क़ौम मिली जिसके बारे में अल्लाह ने उन्हें अख्त्यार दिया चाहे तो उस क़ौम को सजा दे , चाहे तो उनके साथ नेक सुलूक करें। 
जु़लक़रनैन ने कहा कि जो शख्स जालिम है हम उसे सजा देंगे और मरने के बाद अल्लाह ताला भी उसे सजा देंगे अलबत्ता मोमिन बंदों को नेक बदला मिलेगा।

★_दूसरी मुहिम में वह उस मुकाम तक पहुंचे जहां से सूरज तुलू होता है , वहां उन्हें ऐसे लोग हैं जिनके मकानात की कोई छत वगैरह नहीं थी ।
तीसरी मुहिम में वह दो घाटियों के दरमियान पहुंचे , यहां के लोग उनकी बात नहीं समझते थे,  उन्होंने इशारों में या तर्जुमान के जरिए याजूज माजूज की तबाह कारियों का शिकवा करते हुए उनसे दरख्वास्त की कि वो उनके और याजूज माजूज के दरमियान बंध बना दें ।
जु़लक़रनैन ने लोहे की चादर मंगाई फिर उनसे एक दीवार बना दी उसमें तांबा पिघला कर डाला गया , इस काम के होने पर जु़लक़रनैन ने कहा :-यह अल्लाह का फज़ल है कि मुझसे इतना बड़ा काम हो गया _,"
कयामत के क़रीब याजूज माजूज उस दीवार को तोड़ने में कामयाब हो जाएंगे।

★_जु़लक़रनैन के बारे में मुख्तलिफ वजाहहतें किताबों में मिलती हैं , क़रनेम के मा'नी दो सिम्तों के है , जु़लक़रनैन दुनिया के दो किनारों तक पहुंचे थे इसलिए उन्हें जु़लक़रनैन कहा गया । बाज़ ने क़रनेन  के मा'नी सींग के लिए है यानी दो सींग वाले, उनका नाम सिकंदर था लेकिन यह यूनान के सिकंदर नहीं है जिसे सिकंदर-ए-आजम कहा जाता है , यूनानी सिकन्दर काफिर था जबकि यह मुस्लिम और वली अल्लाह थे, यह साम बिन नूह अलैहिस्सलाम की औलाद में से थे । खिज़र् अलैहिस्सलाम इनकी फौज का झंडा उठाने वाले थे।

★_तीसरा सवाल यानी रूह के बारे में अल्लाह ताला ने इरशाद फरमाया :- 
"_ यह लोग आपसे रूह के बारे में पूछते हैं आप फरमा दीजिए कि रूह मेरे रब के हुक्म से क़ायम है यानी रुह की हक़ीक़त उसी के इल्म में है उसके सिवा इस बारे में कोई नहीं जानता ।
रूह के बारे में यहूदियों की किताबों में भी बिल्कुल यही बात दर्ज थी कि रूह अल्लाह के हुक्म से क़ायम है उसका इल्म अल्लाह ही के पास है और उसने अपने सिवा किसी को नहीं दिया । 

यहूदियों ने मुशरिकों से पहले ही कह दिया था कि अगर उन्होंने रूह के मुतालिक कुछ बताया तो समझ लेना वो नबी नहीं है । अगर सिर्फ यह कहा कि रूह अल्लाह के हुक्म से क़ायम है तो समझ लेना कि वह सच्चे नबी है। आपने बिल्कुल यही जवाब इरशाद फरमाया।
╨─────────────────────❥
: *★_ Mushrikeen Ki Gustakhiya'n  _,*
__ Ek Roz Huzoor Nabi Kareem ﷺ Apne Chand Sahaba Raziyllahu Anhum ke Saath Masjide Haraam me Tashreef farma they ,Ese me Qabila Zaid Ka Ek Shakhs waha'n Aaya ,Us Waqt Nazdeek hi Qureshe Makka bhi majma lagaye Waha'n Bethe they, Qabila Zaid Ka wo Shakhs unke Nazdeek gaya aur ird gird ghoomne laga ,Fir Usne Kaha :- 
"_ Ey Quresh, Koi Shakhs kese Tumhare ilaaqe me dakhil ho Sakta Hai AUR koi Taajir kese Tumhari sarzameen per aa Sakta Hai Jabki tum har Aane wale per zulm Karte ho ?
★__ Ye Kehte hue jab Wo us Jagah pahuncha Jaha'n Aap ﷺ Tashreef farma they to Aapne usse farmaya :- Tum per kisne zulm Kiya_,"
Usne bataya :- Mai'n Apne Ounto'n me SE Teen Behatreen ount bechne ke liye le Kar Aaya tha Magar Abu Jahal ne Yaha'n un teeno Ounto'n ki asal qeemat se Sirf Ek tihayi qeemat lagayi , aur esa Usne Jaan boojh Kar Kiya , Kyunki Wo Jaanta hai Wo Apni Qaum Ka Sardaar hai ,Uski lagayi hui qeemat se zyada raqam koi nahi lagayega ,Matlab ye k ab mujhe wo ount is qadar Kam qeemat per farokht Karne padenge ,Ye zulm nahi to aur kya hai, Mera Tijarat Ka ye Safar bekaar Jayega _,"
★__ Nabi Kareem ﷺ ne uski Poori Baat sun Kar farmaya :- 
Tumhare ount Kaha'n Hai'n _,"
Usne bataya :- Yahi'n Khazurah ke Muqaam per hai _,"
Aap us Waqt uthe ,Apne Sahaba ko Saath liya , Ounto'n ke paas pahunche, Aapne dekha ount waqa'i Bahut umda they ,Aapne usse unka Bhaav Kiya aur Aakhir Khush dili se sauda Tay ho gaya, Aapne Wo ount usse khareed liye , Fir Aapne unme SE Do zyada umda farokht Kar diye aur unki qeemat Beva Aurto'n me Taqseem farma di , Wahi'n Bazaar me Abu Jahal betha tha ,Usne ye Sauda Hote hue dekha lekin Ek lafz bol na saka ,Aap Uske Paas Aaye aur farmaya :- 
"_ Khabardaar Amru ( Abu Jahal Ka Naam ) agar Tumne Aainda Harkat ki to Bahut sakhti se pesh aaunga _,"
Ye Sunte hi Wo khofzada Andaz me Bola :- 
"_ Muhammad , Mai'n Aainda esa nahi karunga ... Mai'n Aainda esa nahi karunga_,"
 ★_ Iske baad Huzoor Nabi Kareem ﷺ waha'n SE lot Aaye ,idhar Raaste me Umayya bin Khalf Abu Jahal SE Mila ,Uske Saath doosre Saathi bhi they, Un logo ne Abu Jahal SE Puchha :- 
"_ Tum to Muhammad ke haatho Bahut ruswa ho Kar aa rahe ho ,Esa Maloom hota hai k ya to tum unki Pervi karna chahte ho ya tum unse khofzada ho gaye ho _,"
Is per Abu Jahal ne Kaha :- 
"_ Mai'n Hargiz Muhammad ki Pervi nahi Kar Sakta ,Meri Jo kamzori tum logo ne dekhi hai Uski vajah ye Hai k jab Maine Muhammad ( ﷺ ) ko dekha to unke Daaye'n Baaye'n Bahut saare Aadmi Nazar Aaye ,Unke Haatho me neze aur bhaale they aur Wo unko Meri taraf lehra rahe they, Agar Mai'n us Waqt unki Baat na maanta to Wo sab log mujh per toot padte _,"
★__ Abu Jahal ek Yateem Ka sar parast bana ,fir uska Saara Maal gazb Kar Ke use nikaal baahar Kiya ,Wo Yateem Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke paas Abu Jahal ke khilaf faryaad le Kar Aaya, Huzoor ﷺ us yaeem ko liye Abu Jahal ke paas pahunche, Aapne usse farmaya :- is Yateem Ka Maal waapas Kar do _,"
Abu Jahal ne foran Maal us ladke ke hawale Kar diya _,"
*★__ Mushrikeen ko ye Baat Maloom hui to Bahut Hairaan hue , Unhone Abu Jahal SE Kaha :- Kya Baat hai ? Tum is qadar buzdil kab se ho gaye k foran hi Maal us ladke ke hawale Kar diya_,"
Is per Usne Kaha- Tumhe nahi Maloom, Muhammad ( ﷺ) ke daaye Baaye'n mujhe Bahut Khofnaak hathiyar Nazar Aaye they , Mai'n unse dar gaya ,Agar Mai'n us Yateem Ka Maal na lotata to Wo un hathiyaro se mujhe maar daalte _,"
★__ Qabila Khush'am ki ek shaakh Arasha thi ,Uske Ek Shakhs se Abu jahal ne Kuchh ount khareede ,Lekin qeemat ada na ki ,Usne Quresh ke logo se faryaad ki ,Un logo ne Huzoor Nabi Kareem ﷺ Ka mazaaq udane Ka program banaya, Unhone us Arashi se Kaha :- Tum Muhammad ke paas ja Kar fariyad Karo _,"
Esa Unhone isliye Kiya tha k unka khayal tha k Huzoor Nabi Kareem ﷺ Abu Jahal Ka Kuchh nahi bigaad sakte ,
★_ Arashi Huzoor Nabi Kareem ﷺ ke paas gaya ,Aapne foran use Saath liya aur Abu jahal ke Makaan per pahunch gaye, Uske Darwaze per dastak di ,Abu Jahal ne andar se Puchha :- Kon hai ?
Aapne farmaya:- Muhammad !
Abu Jahal foran bahar nikal aaya ,Aapka Naam Sunte hi Uska Chehra zard pad chuka tha, Aapne usse farmaya:- is Shakhs Ka Haq foran ada Kar do _,"
Usne Kaha - Bahut Achchha , abhi laya _,"
Usne usi Waqt Uska Haq Ada Kar diya ,ab Wo Shakhs waapas usi Qureshi Majlis me Aaya aur unse Bola :- 
Allah Ta'ala un ( Yani Aan'Hazrat ﷺ) ko jazae Khayr de ,Allah ki qasam, Unhone Mera Haq mujhe dila diya _,"
★__ Mushrik Logo ne bhi Apna Ek Aadmi unke Pichhe bheja tha aur usse Kaha tha k wo dekhta rahe , Huzoor Akram ﷺ kya Karte Hai'n, Chunache jab Wo waapas Aaya to unhone usse puchha :- waha'n ,Tumne kya dekha ?
Jawab me Usne Kaha:- Maine Ek Bahut hi Ajeeb aur Hairat naak Baat dekhi hai _,"
Allah ki qasam! Muhammad ne Jese hi Uske Darwaze per dastak di to Wo foran is Haalat me Bahar Nikal Aaya goya Uska Chehra bilkul bejaan aur zard ho raha tha, Muhammad ne usse Kaha k iska haq Ada Kar do ,Wo Bola ,Bahut Achchha , Ye keh Kar wo andar gaya aur usi Waqt Uska Haq la Kar de diya _" 
★__ Qureshi Sardaar ye Saara Waqia sun Kar Bahut Hairaan hue ,Ab unhone Abu Jahal SE Kaha :- Tumhe sharm nahi aati ,Jo Harkat Tumne ki esi to Humne Kabhi nahi dekhi _,"
Jawab me Usne Kaha - Tumhe Kya pata , Jo'nhi Muhammad ne mere Darwaze per dastak di aur Maine unki Azwaaz suni to Mera Dil Khof aur Dehshat se bhar gaya ,Fir Mai'n bahar Aaya to Maine dekha k ek Bahut qadaawar ount mere Sar per khada hai ,Maine Aaj tak itna bada ount nahi dekha tha ,Agar Mai'n unki Baat maanne se inkaar kar deta to Wo ount mujhe kha leta _",
★__ Kuchh Mushrik ese bhi they Jo mustaqil tor per Aapka mazaaq udaya Karte they, Allah Ta'ala ne unke bare me irshad farmaya :- 
"_ ( Tarjuma)_ Ye log Jo Aap per Hanste Hai'n aur Allah Ta'ala ke Siva doosro ko Ma'abood qaraar dete Hai'n,Unse Aap ke liye hum kaafi Hai'n _, ( Surah Al Hajr ,Aayat -95)
"_ In mazaaq udane walo me Abu Jahal,Abu Lahab ,Uqba bin Mu'iyt,Hakam bhi Aas bin Umayya ( Jo Hazrat Usman Raziyllahu anhu Ka Chacha tha ) aur Aas bin Waa'il shamil they ,

★__ Abu Lahab ki Harkaat me SE ek Harkat ye thi k wo Aan'Hazrat ﷺ ke Darwaze per Gandhi faink Jaya karta tha, Ek Roz Wo Yahi Harkat Kar Ke ja raha tha k use Uske Bhai Hamza Raziyllahu Anhu ne wo Gandhi utha Kar foran Abu Lahab ke Sar per daal di ,
★__ Isi Tarah Uqba bin Mu'iyt Nabi Kareem ﷺ ke Darwaze per Gandhi daal Jaya karta tha, Uqba ne Ek Roz Aapke Chehre mubarak ki taraf thooka ,Wo thook lot Kar usi ke Chehre per aa pada ,Jis Hisse per Wo thook gira , Waha'n Kodh jesa nisaan ban gaya _,"
: ★__ Ek martaba Uqba bin Mu'iyt Safar SE waapas Aaya to Usne Ek Badi Dawat di, Tamaam Qureshi Sardaaro ko khane per bulaya ,is moqe per Usne Aan'Hazrat ﷺ ko bhi bulaya Magar jab Khana mehmano ke Saamne chuna gaya to Aap ﷺ ne khane se inkaar Kar diya aur Farmaya :- 
"_ Mai'n us Waqt tak tumhara khana nahi khaunga jab tak k Tum ye na kaho ,Allah Ta'ala ke Siva koi ibaadat ke laa'iq nahi_,"
★__ Chunki Mehmaan Nawazi Arab ke logo ki khaas alamat thi aur Wo Mehmaan ko Kisi qeemat per Naraaz Nahi hone dete they isliye Uqba ne keh diya :- Mai'n Gawahi deta Hu'n k Allah Ke Siva koi Ma'abood nahi _,"
Ye sun Kar Aap ﷺ ne Khana kha liya , Khane ke baad Sab log Apne Ghar chale gaye,Uqba bin Abi Mu'iyt, Ubai bin Khalf Ka dost tha ,Logo ne use bataya k Uqba ne Kalma padh liya hai , Ubai bin Khalf Uske Paas Aaya aur bola:- Uqba , kya tum Be-Deen ho gaye ho ?
Jawab me Usne Kaha :- 
"_ Khuda ki qasam ! Mai'n Be-Deen nahi hua ( Yani musalman nahi hua Hu'n ) ,Baat Sirf itni si hai k ek mo'ziz Aadmi mere Ghar Aaya aur Usne ye keh diya k Mai'n jab tak Uske Kehne ke mutabiq Toheed ki gawahi nahi dunga ,Wo mere Yaha'n Khana nahi khayega ,Mujhe is baat SE sharm aayi k Ek Shakhs mere Ghar Aaye aur Khana khaye bager Chala Jaye , isliye Maine wo Alfaz keh diye aur Usne Khana kha liya, Lekin sach Yahi hai k Maine wo Kalma Dil se nahi Kaha tha _,"
★__ Ye Baat sun Kar Ubai bin Khalf Ko itminan na hua ,Usne Kaha :- 
"_ Mai'n us Waqt tak na Apni shakl tumhe dikhaunga ,na Tumhari shakl dekhunga jab tak k tum Muhammad Ka moonh na chida'o ,Unke moonh per na thooko aur Unke moonh per na maaro _,"
Ye sun Kar Uqba ne Kaha - Ye Mera Tumse Vaada hai _,
Iske baad jab Huzoor Nabi Kareem ﷺ us bad bakht ke Saamne aaye ,Usne Aapka moonh chidaya ,Aapke Chehre mubarak per thooka ,Lekin Uska thook Aapke Chehre mubarak tak na pahuncha Balki khud Uske moonh per aa Kar gira , Usne mehsoos Kiya ,goya Aag Ka koi Angaara Uske Chehre per aa gaya hai ,Uske Chehre per jalne Ka Nishan baqi reh gaya aur marte dam tak raha ,
★__ Isi Uqba bin Mu'iyt ke bare me Surah Furqaan ki Aayat 37 Naazil hui :- 
"_ ( Tarjuma)_ Jis Roz Zaalim Apne Haath kaat kaat Kar khayega aur kehega ,Kya hi Achchha hota Mai'n Rasool ke Saath Deen ki Raah per lag jata _", 
Is Aayat Ki Tafseer me Likha hai :-
"_ Jis Roz Zaalim Aadmi jahannam me Kohni tak Apna Ek Haath daanto se kaatega ,Fir doosre Haath ko kaat Kar khayega, Jab doosra kha chuka Hoga to pehla fir ug aayega aur Wo usko kaatne lagega ,Garz is Tarah karta rahega _,"
★__ Isi Tarah Hakam bin Aas Aan'Hazrat ﷺ ke Saath maskharapan karta tha, Ek Roz Aap ﷺ chale ja rahe they,Ye Aapke Pichhe chal pada ,Aapka mazaaq udane ke liye moonh aur naak se Tarah Tarah ki Awaaze nikaalne laga , Aap chalte chalte uski taraf mude aur farmaya :- Tu esa hi ho ja _,"
Chunache Uske baad ye esa hi ho gaya tha k Uske moonh aur naak se esi hi Awaaze nikalti rehti thi , Ek maah tak ye behoshi ki Haalat me raha ,Uske baad Marne tak Uske moonh aur naak se esi hi Awaaze nikalti rahi _,"
★_ Isi Tarah Aas bin Waa'il bhi Aap ﷺ Ka mazaaq udaya Karta tha ,Wo Kaha karta tha :- 
"_ Muhammad, Apne Aapko aur Apne Saathiyo'n ko ( na'uzu billaah ) ye keh Kar dhoka de rahe Hai'n k wo Marne Ke baad dobara zinda kiye Jayenge , Khuda ki qasam Hamari Maut Sirf zamane ki gardish aur Waqt ke guzarne ki vajah se aati hai _,"
 ★__ Isi Aas bin Waa'il Ka Ek Waqia aur hai :- Hazrat Khabbaab Raziyllahu Makka me lohaar Ka kaam Karte they,Talwaare banate they , Unhone Aas bin Waa'il ko Kuchh Talwaare farokht ki thi , Unki isne abhi Qeemat ada nahi ki thi, Khabbaab Raziyllahu Anhu ne usse qeemat Ka taqaza Karne Ke liye gaye to Usne Kaha :- Khabbaab,tum Muhammad ke Deen per chalte ho ,Kya Wo ye Daava Nahi karte k Jannat wali ko Sona ,chaandi ,Qeemti Kapde ,Khidmatgaar aur Aulaad marzi ke mutabiq milegi ?"
Hazrat Khabbaab Raziyllahu Anhu bole :- Haa'n ,Yahi Baat hai _,"
Ab Aas ne inse Kaha :- Mai'n us Waqt tak tumhara qarz nahi dunga jab tak k tum Muhammad ke Deen Ka inkaar nahi Karoge _,"
Jawab me Hazrat Khabbaab Raziyllahu Anhu ne farmaya :- Allah ki qasam Mai'n Muhammad  ﷺ Ka Deen nahi chhod Sakta _,"
★__ is Tarah in mazaaq udane walo me se ek Aswad bin yagos bhi tha ,Ye Huzoor ﷺ Ka Maamu zaad tha , Jab bhi Musalmano ko dekhta to Apne Sathiyo'n se Kehta :- Dekho Tumhare Saamne ru'e Zameen ke Wo Baadshah aa rahe Hai'n Jo Kisra aur Qaisar ke waaris banne wale Hai'n _,"
Ye Baat Wo isliye Kehta tha Kyunki Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum me SE Aksar ke libaas fate purane Hote they, Wo muflis aur nadaar they aur Aap ﷺ ye pesh goi farma chuke they k Mujhe Iraan aur Rom ki Saltnato ki kunjiya'n di gayi Hai'n _,"
Aswad Aap ﷺ se ye bhi Kaha karta tha:- Muhammad , Aaj Tumne Aasman ki baate nahi sunayi ,Aaj Aasman ki kya khabre Hai'n _,"
Ye aur iske Saathi jab Aap ﷺ aur Aap ﷺ ke Sahaba Raziyllahu Anhum ko dekhte to Seetiya'n bajate they ,Aankhe matkate they ,
★__ isi qism Ka Ek Aadmi Nazar bin Haaris tha , Ye bhi Aap ﷺ Ka mazaaq udane walo me Shamil tha ,unme SE Aksar log Hijrat SE Pehle hi Mukhtalif Aafato aur Balaa'o me giraftaar ho Kar halaak hue _,
In mazaaq udane walo me se ek Hazrat Khalid bin Waleed Raziyllahu Anhu ke Baap Waleed bin Mugira bhi tha ,Ye Abu Jahal Ka Chacha tha, Quresh ke daulatmand logo me iska shumaar hota tha , Hajj ke zamane me Tamaam Haajiyo'n ko Khana khilata tha ,Kisi Ko chulha nahi jalane deta tha, Log uski Bahut Tareef Karte they, Uske qaseede Padhte they , Uske Bahut SE bagaat they ,Ek Baag to esa tha Jisme Tamaam Saal phal Lagta tha, Lein Usne Aap ﷺ ki is qadar Takaleef Pahunchayi k Aap ﷺ ne Uske liye Bad -Dua farma di , Uske baad iska Tamaam Maal Khatm ho gaya ,Bagaat Tabaah ho gaye, Fir Hajj Ke Dino me koi Uska Naam Lene wala bhi na raha _,"
 ★__ Ek Roz Jibraiyl Alaihissalam Aap ﷺ ke pass Tashreef laye, Us Waqt Aap ﷺ Baitullah Ka tawaaf Kar rahe they, Jibraiyl Alaihissalam ne aa Kar arz Kiya :- Mujhe Hukm diya gaya hai k Mai'n Aap ﷺ Ko mazaaq udane walo se nijaat dilau'n_,"
Ese me Waleed bin Mugira udhar se guzra , Jibraiyl Alaihissalam ne Aap ﷺ se Puchha :- Aap ise Kesa samajhte Hai'n ?
Aap ﷺ ne farmaya:- Allah Ta'ala Ka Bura Banda hai _,"
Ye sun Kar Jibraiyl Alaihissalam ne Waleed ki pindli ki taraf ishara Kiya aur bole :- Maine use Anjaam tak pahuncha diya _,"
★__ Fir Aas bin Waa'il Saamne se guzra to Jibraiyl Alaihissalam ne Puchha :- ise Aap ﷺ kesa Aadmi pate Hai'n ?
Aap ﷺ ne farmaya :- Ye bhi Ek Bura Banda hai _,"
Hazrat Jibraiyl Alaihissalam ne Uske Payr ki taraf ishara Kiya aur bole :- Maine use Anjaam tak pahuncha diya hai_,"
Iske baad Aswad waha'n se guzra , Uske bare me Aap ﷺ ne Yahi farmaya k Bura Aadmi hai , Hazrat Jibraiyl Alaihissalam ne uski Aankh ki taraf ishara Kiya aur bole:- Maine use Anjaam tak pahuncha diya hai _,"
★__ Fir Haaris bin Aytla guzra ,Hazrat Jibraiyl Alaihissalam ne Uske Pet ki taraf ishara Kar Ke Kaha - Maine use Anjaam tak pahuncha diya hai_"
Is Waqi'e ke baad Aswad bin Yagos Apne Ghar se nikla to usko loo ke thapedo ne jhulsa diya ,Uska Chehra Jal Kar bilkul Siyaah ho gaya,Jab Ye Waapas Apne Ghar me dakhil hua to Ghar ke log use pehchan na sake , Unhone use Ghar se nikaal diya aur Darwaza band Kar diya , Iske Saath hi ye Zabardast Pyaas me mubtila ho gaya, Musalsal Paani Pita rehta tha , Yaha'n tak k Uska Pet fat gaya ,
★__ Haaris bin Aytla ke Saath ye hua k Usne Ek namkeen machhli kha li , Uske baad use Shadeed Pyaas ne aa liya ,Ye Paani Pita raha , Yaha'n tak k Uska bhi pet far gaya ,
Waleed bin Mugira ek Roz ek Shakhs ke paas se guzra ,Wo Shakhs Teer Bana raha tha , ittefaq se ek Teer Uske Kapdo me ulajh gaya ,Waleed ne Takabbur ki vajah se jhuk Kar Uska Teer nikaalne ki Koshish na ki aur aage badhne laga to Wo Teer uski pindli me chubh gaya ,Iski vajah se Zehar fayl gaya aur Wo mar gaya, 
Aas bin Waa'il ke talwe me Ek Kaanta chubha , uski vajah se Uske Payr per itna waram aa gaya k wo chakki ke Paat ki taraf chapta ho gaya,is Haalat me uski maut waqe ho gayi ,
Hazrat ibne Abbaas Raziyallahu Anhu ki rivayat ke mutabiq ye log Ek hi Raat me halaak hue ,
 ★__ Nabi Kareem ﷺ ne mehsoos farmaya k Qureshe Makka Musalmano ko be tahasha takaleef pahuncha rahe Hai'n aur Musalmano me abhi itni Taaqat nahi k wo is bare me Kuchh keh sake , Chunache Aap ﷺ ne Musalmano se farmaya :- Tum log ru'e Zameen per idhar udhar fayl jao ,Allah Ta'ala fir tumhe Ek Jagah Jama farma dega _,"
Hum Kaha'n Jaye'n ? Sahaba kiraam Raziyallahu Anhum ne Puchha , Aap ﷺ ne Mulk Habsha ki taraf ishara Karte hue farmaya :- 
"_ Tum log Mulk Habsha ki taraf chale Ja'o, isliye k waha'n Ka Baadshah Nek hai ,Wo Kisi per zulm nahi hone deta, Wo Sachchayi ki sar Zameen hai , Yaha'n tak k Allah ttumhari in musibato ka khatma Kar Ke tumhare liye Asaaniya'n paida Kar de _,"
Hadees me aata hai k Jo Shakhs Apne Deen ko bachane ke liye idhar se udhar Kahi'n gaya ,Chahe wo Ek Baalisht hi Chala ,Uske liye Jannat waajib Kar di Jati Hai, 
★_ Chunache is Hukm ke baad Bahut SE Musalman Apne Deen ko bachane ke liye Apne watan se Hijrat Kar gaye , inme Kuchh ese bhi they Jinhone Apne Bivi Bachcho samet Hijrat ki , inme Hazrat Usman Gani Raziyllahu Anhu bhi they, Unke Saath unki Bivi Yani Aap ﷺ ki Sahabzadi Hazrat Ruqayya Raziyllahu Anha bhi Hijrat Kar gayi ,
Hazrat Usman Gani Raziyllahu Anhu Sabse Pehle Hijrat Karne wale Shakhs Hai'n ,
★__ isi Tarah Hazrat Abu Salma Raziyllahu Anhu ne bhi Apni Bivi Hazrat Umme Salma ke Saath Hijrat ki , Hazrat Aamir ibne Ubai bin Rabiya Raziyllahu Anhu ne bhi Apni Bivi ke Saath Hijrat ki ,Jin Sahaba ne Tanha Hijrat ki Unke naam ye Hai'n :- Hazrat Abdurrahmaan bin Auf,Hazrat Usman ibne Maz'uon, Hazrat Suhail ibne Bayza, Hazrat Zuber bin Awaam aur Hazrat Abdullah bin Masoud Raziyllahu Anhum ,
★__ Kuffar ko jab inki Hijrat Ka pata Chala to Wo Ta'aqub me daude , Lekin us Waqt tak ye Hazraat Bahri Jahaaz per sawaar ho chuke they, Wo Jahaaz Taajiro ke they ,is Tarah ye Hazraat Habsha Pahunchne me Kamyaab ho gaye , Kuchh arse baad in logo ne Ek galat khabar suni ,Wo ye thi k Tamaam Qureshe Makka Musalman ho gaye Hai'n , is ittela ke baad Habsha ke Bahut SE muhajireen Makka rawana hue , Nazdeek pahunch Kar pata Chala k ittela galat thi , Ab inhone Habsha Jana munasib na samjha aur Kisi na Kisi ki panaah Haasil Kar Ke Makka me dakhil ho gaye ,
★__ Panaah Haasil Karne wale in Muhajireen ne jab Apne Musalman Bhaiyo'n per usi Tarah Balki Pehle SE bhi Zyada zulm v Sitam dekha to Unhe ye gawara na hua k hum panaah ki vajah se is zulm SE mehfooz rahe'n ,Lihaza inhone Apni Apni Panaah lota di aur Kaha k Apne Bhaiyo'n ke Saath zulm v Sitam Ka saamna karenge ,
╨─────────────────────❥
*★__ मुशरिकीन की गुस्ताखियां _,*

★__ एक रोज हुज़ूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम अपने चंद सहाबा रज़ियल्लाहु अन्हुम के साथ मस्जिद ए हराम में तशरीफ़ फरमा थे ऐसे में क़बीला ज़ैद का एक शख्स आया उस वक्त नज़दीक ही कुरेशे मक्का भी मजमा लगाए वहां बैठे थे। कबीला ज़ैद का यह शख्स उनके नज़दीक आया और इर्द गिर्द घूमने लगा फिर उसने कहा :-  ऐ क़ुरेश ! कोई शख्स कैसे तुम्हारे इलाके में दाखिल हो सकता है और कोई ताजिर कैसे तुम्हारी सर ज़मीन पर आ सकता है जबकि तुम हर आने वाले पर ज़ुल्म करते हो।

★_यह कहते हुए लोग वह उस जगह पहुंचा जहां आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम तशरीफ़ फरमा थे तो आपने उससे फरमाया :- तुम पर किसने ज़ुल्म किया ?
उसने बताया मैं अपने ऊंटों में से तीन बेहतरीन ऊंट बेचने के लिए लेकर आया था मगर अबु जहल ने यहां उन तीनों ऊंटों की असल कीमत से सिर्फ एक तिहाई कीमत लगाई और ऐसा उसने जानबूझकर किया क्योंकि वह जानता है वह अपने क़ौम का सरदार है इसकी लगाई हुई कीमत से ज्यादा रक़म कोई नहीं लगाएगा । मतलब यह है कि आज मुझे वो ऊंट इस कदर कम कीमत पर फरोख्त करने पड़ेंगे,  यह ज़ुल्म नहीं तो और क्या है,  मेरा तिजारत का यह सफर बेकार जाएगा।

★_नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने उसकी पूरी बात सुनकर फरमाया:- तुम्हारे ऊंट कहां है ?
उसने बताया यहीं खज़ूरा के मका़म पर है ।
आप उस वक्त उठे, अपने सहाबा को साथ लिया, ऊंटों के पास पहुंचे आपने देखा ऊंट वाक़ई बहुत उम्दा थे आपने उससे उनका भाव किया और आखिर खुश दिली से सोदा तैय हो गया, आपने वह ऊंट उससे खरीद लिए फिर आपने उनमें से दो ज्यादा उम्दा फरोख्त कर दिए और उनकी कीमत बेवा औरतो में तक़सीम फरमा दी,  वहीं बाजार में अबू जहल बैठा था,  उसने यह सौदा होते देखा लेकिन एक लफ्ज़ बोल ना सका। आप उसके पास आए और फरमाया :- खबरदार अमरू ( अबू जहल का नाम ) अगर तुमने आइंदा हरकत की तो बहुत सख्ती से पेश आऊंगा। 
यह सुनते ही वह खौफज़दा अंदाज़ में बोला :- मुहम्मद मैं आइंदा ऐसा नहीं करूंगा ...मैं आइंदा ऐसा नहीं करूंगा।
★__ इसके बाद हुज़ूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम वहां से लौट आए । इधर रास्ते में उमैया बिन खल्फ अबूजहल से मिला उसके साथ दूसरे साथी भी थे । उन लोगों ने अबू जहल से पूछा -तुम तो मुहम्मद के हाथों बहुत रूसवा होकर आ रहे हो ,ऐसा मालूम होता है कि या तो तुम उनकी पैरवी करना चाहते हो या तुम उनसे खौफज़दा हो गए हो। 
इस पर अबूजहल ने कहा :- मैं हरगिज़ मुहम्मद की पैरवी नहीं कर सकता मेरी जो कमजोरी तुमने देखी है इसकी वजह यह है कि जब मैंने मुहम्मद (सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ) को देखा तो उनके दाएं बाएं बहुत सारे आदमी नजर आए उनके हाथों में नेजे और भांले थे और वह उनको मेरी तरफ लहरा रहे थे, अगर मैं उस वक्त उनकी बात न मानता तो वह सब लोग मुझ पर टूट पड़ते।

★__अबू जहल एक यतीम का सरपरस्त  बना , फिर उसका सारा माल गज़्ब  करके उसे निकाल बाहर किया । वह यतीम हुज़ूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास अबू जहल के खिलाफ फरियाद लेकर आया। हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम उस यतीम को लिए अबू जहल के पास पहुंचे । आपने उससे फरमाया :- इस यतीम का माल वापस करो ।
अबू जहल ने फौरन माल लड़के के हवाले कर दिया।

★_मुशरिकीन को यह बात मालूम हुई तो बहुत हैरान हुए उन्होंने अबूजहल से कहा :-क्या बात है, तुम इस क़दर बुजदिल कब से हो गए कि फौरन माल उस लड़के के हवाले कर दिया।
इस पर उसने कहा :- तुम्हें नहीं मालूम मुहम्मद (सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम) के दाएं बाएं मुझे बहुत खौफनाक हथियार नज़र आए थे मैं उनसे डर गया अगर मैं उस यतीम का माल ना लौटाता तो वह उन हथियारों से मुझे मार डालते।

★_कबीला खुश'अम की एक शाख आराशा थी उसके एक शख्स से अबू जहल ने कुछ ऊंट खरीदें लेकिन कीमत अदा ना की, उसने कुरेश के लोगों से फरियाद की । उन लोगों ने हुज़ूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का मजाक उड़ाने का प्रोग्राम बना लिया, उन्होंने उस आराशी से कहा -तुम मुहम्मद के पास जाकर फरियाद करो ।
ऐसा उन्होंने इसलिए कहा था कि उनका ख्याल था कि हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम अबू जहल का कुछ नहीं बिगाड़ सकते।

★_ आराशी हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के पास गया, आपने फौरन उसे साथ लिया और अबुजहल के मकान पर पहुंच गए। उसके दरवाजे पर दस्तक दी ।अबू जहल ने अंदर से पूछा कौन है ,आपने फरमाया- मुहम्मद ।
अबू जहल फौरन बाहर निकल आया आपका नाम सुनते ही उसका चेहरा ज़र्द पढ़ चुका था, आपने उससे फरमाया :- इस शख्स का हक फौरन अदा कर दो। 
उसने कहा -बहुत अच्छा ,अभी लाया ।
उसने उसी वक्त उसका हक़ अदा कर दिया। 
अब वह शख्स वापस उसी कुरेशी मजलिस में आया और उनसे बोला :- अल्लाह ताला उन ( यानी मुहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ) को जज़ाऐ खैर दे, अल्लाह की कसम उन्होंने मेरा हक़ मुझे दिलवा दिया।
 ★__ मुशरिक लोगों ने भी अपना एक आदमी उनके पीछे भेजा था और उससे कहा था कि वह देखता रहे , हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम क्या करते हैं । चुनांचे  जब वह वापस आया तो उन्होंने उससे पूछा -वहां तुमने क्या देखा ?
जवाब में उसने कहा- मैंने एक बहुत ही अजीब और हैरत नाक बात देखी है अल्लाह की क़सम मुहम्मद ने जैसे ही उसके दरवाजे पर दस्तक दी तो वह फौरन उसी हालत में बाहर निकल आया, उसका चेहरा बिल्कुल बेजान और ज़र्द हो रहा था ।मुहम्मद ने उससे कहा कि इसका हक अदा कर दो, वह बोला बहुत अच्छा ,यह कहकर वे अंदर गया और उसी वक्त उसका हक़ ला कर दे दिया।

★_कुरेशी सरदार यह सारा वाक्या सुनकर बहुत हैरान हो गए और उन्होंने अबू जहल से कहा:-  तुम्हें शर्म नहीं आती जो हरकत तुमने की ऐसी तो हमने कभी नहीं देखी ।
जवाब में उसने कहा- तुम्हें क्या पता जोंही मुहम्मद ने मेरे दरवाजे पर दस्तक दी और मैंने उनकी आवाज सुनी तो मेरा दिल खौफ और दहशत से भर गया, फिर मैं बाहर आया तो मैंने देखा कि एक बहुत कद्दावर उंट मेरे सर पर खड़ा है मैंने आज तक इतना बड़ा ऊंट कभी नहीं देखा था अगर मैं उनकी बात मानने से इनकार कर देता तो वह मुझे खा लेता।

★_कुछ मुशरिक ऐसे भी थे जो मुस्तकिल तौर पर आप का मजाक उड़ाया करते थे अल्लाह ताला ने उनके बारे में इरशाद फरमाया :-
*(तर्जुमा )*_ यह लोग जो आप पर हंसते  हैं और अल्लाह ताला के सिवा दूसरों को मा'बूत क़रार देते हैं उनसे आपके लिए हम काफी है। *( सूरह अल हजर् आयत ९५)*

★_उन मजाक उड़ाने वालों में अबुजहल, अबुलहब, उक़बा बिन अबी मुईत, हक़म बिन आस बिन उमैया (जो हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु का चाचा था) और आस बिन वाइल शामिल थे।

★_अबुलहब की हरकतों में से एक हरकत यह भी थी कि वह आन'हजरत सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के दरवाज़े पर गंदगी फेंक जाया करता था । एक रोज़ वह यही हरकत करके जा रहा था कि उसे उसके भाई हजरत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु ने देख लिया। हजरत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु ने वह गंदगी उठाकर फौरन अबुलहब के सर पर डाल दी।

★_इसी तरह उक़बा बिन अबी मुईत नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के दरवाजे पर गंदगी डाल जाया करता था । उक़बा ने एक रोज़ आपके चेहरे मुबारक की तरफ थूका । वो थूक  लौट कर उसी के चेहरे पर आ पड़ा।जिस हिस्से पर वो थूक गिरा वहां कोड जैसा निशान बन गया।
★__ एक मर्तबा उक़बा बिन मुईत सफर से वापस आया तो उसने एक बड़ी दावत दी,  तमाम कुरेशी सरदारों को खाने पर बुलाया । इस मौके पर उसने आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को भी बुलाया मगर जब खाना मेहमानों के सामने चुना गया तो आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने खाने से इंकार कर दिया और फरमाया :-  मैं उस वक्त तक तुम्हारा खाना नहीं खाऊंगा जब तक कि तुम यह ना कहो, अल्लाह ताला के सिवा कोई इबादत के लायक़ नहीं ।

★_चूंकी मेहमान नवाजी़ अरब के लोगों की खास अलामत थी और वो मेहमान को किसी कीमत पर नाराज़ नहीं होने देते थे इसलिए उक़बा ने कह दिया :- मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं। 
यह सुनकर आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने खाना खा लिया । खाने के बाद सब लोग अपने घर चले गए। उक़बा बिन अबी मुईत,उबई बिन खल्फ का दोस्त था । लोगों ने उसे बताया कि उक़बा ने कलमा पढ़ लिया है, उबई बिन खल्फ उसके पास आया और बोला:-  क्या तुम बे दीन हो गए हो ?
जवाब में उसने कहा :- खुदा की क़सम! मैं बेदीन नहीं हुआ (यानी मुसलमान नहीं हुआ ) हूं, बात सिर्फ इतनी सी है कि एक मोज़्ज़िज़ आदमी मेरे घर आया और उसने यह कह दिया कि मैं जब तक उसके कहने के मुताबिक तोहीद की गवाही नहीं दूंगा वह मेरे यहां खाना नहीं खाएगा , मुझे इस बात से शर्म आई कि एक शख्स मेरे घर आए और खाना खाए बगैर चला जाए। इसलिए मैंने वो अल्फ़ाज़ कह दिए और उसने खाना खा लिया लेकिन सच यही है कि मैंने वह कलमा दिल से नहीं कहा था।

★_यह बात सुनकर उबई बिन खल्फ को इत्मिनान ना हुआ, उसने कहा :- मैं उस वक्त तक ना अपनी शक्ल तुम्हें दिखाऊंगा ना तुम्हारी शक्ल देखुंगा जब तक कि तुम मुहम्मद का मुंह ना चिढ़ाओ, उनके मुंह पर ना थूको और उनके मुंह पर ना मारो ।
यह सुनकर उक़बा ने कहा :- यह मेरा तुमसे वादा है ।
इसके बाद जब हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम उस बदबख्त के सामने आए , उसने आपका मुंह चिढ़ाया ,आपके चेहरे मुबारक थूका लेकिन उसका थूक आपके चेहरे मुबारक तक ना पहुंचा बल्कि खुद उसके मुंह पर आकर गिरा। उसने महसूस किया गोया कोई अंगारा उसके चेहरे पर आ गया है ,उसके चेहरे पर जलने का निशान बाक़ी रह गया और मरते दम तक रहा।

★_ इसी उक़बा बिन अबी मुईत के बारे में सूरह फुरका़न की आयत से 37 नाजि़ल हुई :- 
*"_(तर्जुमा)*_ जिसे रोज़ ज़ालिम अपने हाथ काट काट कर खाएगा और कहेगा, क्या ही अच्छा होता मैं रसूल के साथ दीन की राह पर लग जाता_",

इस आयत की तफसीर में लिखा है:- "_ जिस रोज़ ज़ालिम आदमी जहन्नम में कोहनी तक अपना एक हाथ दांतों से काटेगा फिर  दूसरे हाथ को काट कर खाएगा, जब दूसरा खा चुका होगा तो पहला फिर उग आएगा और वह उसको काटने लगेगा गर्ज़ इस तरह करता रहेगा_,"

★_इसी तरह हकम बिन आस आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के साथ मसखरापन करता था । एक रोज़ आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम चले जा रहे थे, यह आपके पीछे चलना पड़ा , आप का मजाक उड़ाने के लिए मुंह और नाक से तरह-तरह की आवाजें निकालने लगा । आप चलते चलते उसकी तरफ मुड़े और फरमाया:-
"_तू ऐसा ही हो जा _,"
 उसके बाद वह ऐसा ही हो गया था कि उसके मुंह और नाक से ऐसी ही आवाज़ें निकलती रहती थी, एक माह तक यह बेहोशी की हालत में रहा उसके बाद मरने तक उसके मुंह और नाक से ऐसी ही आवाज़ें निकलती रही ।

★_ इसी तरह आस बिन वाइल भी आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का मजाक उड़ाया करता था । वह कहा करता था :- 
"_ मुहम्मद ,अपने आपको और अपने साथियों को ( नाऊज़ु बिल्लाह ) यह कहकर धोखा दे रहे हैं कि वह मरने के बाद दोबारा जिंदा किए जाएंगे , खुदा की क़सम हमारी मौत सिर्फ ज़माने की गर्दिश और वक्त के गुज़रने की वजह से आती है।
★_इसी आस बिन वाइल का एक वाक्य और है :- हजरत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु मक्का में लोहार का काम करते थे , तलवारे बनाते थे, उन्होंने आस बिन वाइल को कुछ तलवारे फरोख्त की थी उनकी इसने अभी कीमत अदा नहीं की थी। खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु उससे कीमत का तकाज़ा करने के लिए गए तो उसने कहा :-  खब्बाब ! तुम मुहम्मद के दीन पर चलते हो , क्या वह यह दावा नहीं करते कि जन्नत वालों को सोना चांदी कीमती कपड़े खिदमतगार और औलाद मर्जी के मुताबिक मिलेगी ?
हज़रत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु बोले :- हां , यही बात है ।
अब आस ने इनसे कहा:-  मैं उस वक्त तक तुम्हारा कर्ज नहीं दूंगा जब तक कि तुम मुहम्मद के दीन का इनकार नहीं करोगे ।
जवाब में हजरत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु ने फरमाया :- अल्लाह की क़सम, मैं मुहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का दीन नहीं छोड़ सकता ।

★_इसी तरह इन मजाक उड़ाने वालों में से एक असवद बिन यागोश भी था , यह हुज़ूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का मामूज़ाद था, जब भी मुसलमानों को देखता तो अपने साथियों से कहता:-  देखो तुम्हारे सामने रूऐ ज़मीन के वह बादशाह आ रहे हैं जो किसरा और केसर के वारिस बनने वाले हैं। 
यह बात वो इसलिए भी कहता था क्योंकि सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम में से अक्सर के लिबास फटे पुराने होते थे ,वो मुफलिस और नादार थे और आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम यह पेशगोई फ़रमा चुके थे कि मुझे ईरान और रौम की सल्तनतों की कुंजियां दी गई है _,"
असवद आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम से यह भी कहा करता था :-  मुहम्मद , आज तुमने आसमान की बातें नहीं सुनाई,  आज आसमान की क्या खबरें हैं।
यह और इसके साथी जब आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम और  आपके सहाबा रज़ियल्लाहु अन्हुम को देखते तो सीटी बजाते थे ,आंखें मटकाते थे ।

★_ इसी किस्म का एक आदमी  नज़र बिन हारिश था। यह भी आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का मजाक उड़ाने वालों में शामिल था । उनमें से अक्सर लोग हिजरत से पहले ही मुख्तलिफ आफतों और बलाओं में गिरफ्तार होकर हलाक हुए।

इन मजाक उड़ाने वालों में से एक हजरत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहु अन्हु के बाप वलीद बिन मुगीरा भी था । यह अबू जहल का चाचा था ।क़ुरेश के दौलतमंद लोगों ने इसका शुमार होता था। हज के जमाने में तमाम हाजियों को खाना खिलाता था, किसी को चुल्हा नहीं जलाने देता था ,लोग उसकी बहुत तारीफ करते थे उसके कसीदे पढ़ते थे । उसके बहुत से बागात थे एक बाग तो ऐसा था जिसमें तमाम साल फल लगता था लेकिन उसने आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को इस क़दर तकलीफ पहुंचाई कि आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इसके लिए बद्दुआ फरमा दी। उसके बाद इसका तमाम माल खत्म हो गया बागात तबाह हो गए। फिर हज के दिनों में कोई उसका नाम लेने वाला भी ना रहा।
 ★__ एक रोज जिब्राइल अलैहिस्सलाम आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पास तशरीफ लाए । उस वक्त आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम बैतुल्लाह का तवाफ कर रहे थे। जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने आकर अर्ज़ किया :- मुझे हुक्म दिया गया है कि मैं आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को मज़ाक उड़ाने वालों से निजात दिलाऊं। 
ऐसे में वलीद बिन मुगीरा उधर से गुजरा , जिब्राइल अलैहिस्सलाम में आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से पूछा :- आप इसे कैसा समझते हैं? 
आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया :- अल्लाह ता'ला का बुरा बंदा है ।
यह सुनकर जिब्राइल अलैहिस्सलाम में वलीद की पिंडली की तरफ इशारा किया और बोले:- मैंने उसे अंजाम तक पहुंचा दिया।

★_फिर आस बिन वाईल सामने से गुजरा तो जिब्राइल अलैहिस्सलाम में पूछा :- इसे आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम कैसा आदमी पाते हैं? 
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया :- यह भी एक बुरा बंदा है ।
हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने उसके पैर की तरफ इशारा किया और बोले :- मैंने उसे अंजाम तक पहुंचा दिया है ।
इसके बाद अस्वद वहां से गुजरा, उसके बारे में आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने यही फरमाया कि बुरा आदमी है हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने उसकी आंख की तरफ इशारा किया और बोले :- मैंने उसे अंजाम तक पहुंचा दिया।

★_ फिर हारिस बिन ऐयतला गुज़रा । हजरत जिब्राइल अलैहिस्सलाम ने उसके पेट की तरफ इशारा करके कहा :- मैंने उसे अंजाम तक पहुंचा दिया है।

"_ इस वाक्य के बाद अस्वद बिन यागोस अपने घर से निकला तो उसको लू के थपेड़ों ने झुलसा दिया। उसका चेहरा जलकर बिल्कुल सियाह हो गया । जब यह वापस अपने घर में दाखिल हुआ तो घर के लोग उसे पहचान ना सके । उन्होंने उसे घर से निकाल दिया और दरवाजा बंद कर दिया,  इसके साथ ही यह ज़बश्रदस्त प्यास में मुब्तिला हो गया। मुसलसल पानी पीता रहता था ,यहां तक कि उसका पेट फट गया।

★_हारिस बिन ऐयतला के साथ यह हुआ कि उसने एक नमकीन मछली खा ली, उसके बाद उसे शदीद प्यास ने आ लिया, यह पानी पीता रहा यहां तक कि उसका भी पेट फट गया। वलीद बिन मुगीरा एक रोज़ एक शख्स के पास से गुज़रा, वह शख्स तीर बना रहा था, इत्तेफाक से एक तीर उसके कपड़ों में उलझ गया वलीद ने तकब्बुर की वजह से झुककर उसका तीर निकालने की कोशिश ना की और आगे बढ़ने लगा तो वो तीर उसकी पिंडली में चुभ गया । इसकी वजह से ज़हर फैल गया और वह मर गया।
आस बिन वाइल के तलवे में एक कांटा चुभा इसकी वजह से उसके पैर पर इतना वरम आ गया कि वह चक्की के पाट की तरह हो गया , इस हालत में उसकी मौत वाक़े हो गई। हज़रत इब्ने अब्बास रजियल्लाहु अन्हु की रिवायत के मुताबिक ये लोग एक ही रात में हलाक हुए।
 ★__ नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने महसूस फरमाया कि कुरैशे मक्का मुसलमानों को बेतहाशा तकलीफ पहुंचा रहे हैं और मुसलमानों में अभी इतनी ताकत नहीं है वह इस बारे में कुछ कह सके , चुनांचे आप सल्लल्लाहू वसल्लम ने मुसलमानों से फरमाया :- तुम लोग हुए ज़मीन पर इधर-उधर फैल जाओ अल्लाह ता'ला फिर तुम्हें एक जगह जमा फरमा देगा_," 
"_हम कहां जाएं ? सहाबा किराम रजियल्लाहु अन्हुम ने पूछा ।
आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने मुल्क हबशा की तरफ इशारा करते हुए फरमाया :- तुम लोग मुल्क हबशा चले जाओ क्योंकि वहां का बादशाह नेक है ,वह किसी पर जु़ल्म नहीं होने देता वह सच्चाई की सरज़मीन है , यहां तक अल्लाह तुम्हारी इन मुसीबतों को खत्म करके तुम्हारे लिए आसानियां पैदा कर दे_,"

हदीस में आता है कि जो शख्स अपने दीन को बचाने के लिए इधर से उधर कहीं गया चाहे वह एक बालिश्त ही चला उसके लिए जन्नत वाजिब कर दी जाती है।

★__ चुनांचे इस हुक्म के बाद बहुत से मुसलमान अपने दीन को बचाने के लिए अपने वतन से हिजरत कर गए इनमें कुछ ऐसे भी थे जिन्होंने अपने बीवी बच्चों समेत हिजरत की, इनमें हजरत उस्मान गनी रजियल्लाहु अन्हु भी थे, उनके साथ उनकी बीवी यानी आप सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम की साहबजा़दी हजरत रुक़ैया रज़ियल्लाहु अन्हा भी हिजरत कर गई । हजरत उस्मान गनी रजियल्लाहु अन्हु सबसे पहले हिजरत करने वाले शख्स हैं।

★_इसी तरह हजरत अबू सलमा रजियल्लाहु अन्हु ने भी अपनी बीवी हजरत उम्में सलमा रजियल्लाहु अन्हा के साथ हिजरत की । हजरत आमिर इब्ने उबई बिन रबिया रज़ियल्लाहु अन्हु ने भी अपनी बीवी के साथ हिजरत की ।
जिन सहाबा ने तनहा हिजरत की उनके नाम है :- अब्दुर्रहमान बिन औफ, हजरत उस्मान बिन मा'ज़ून, हजरत सुहैल इब्ने बैयज़ा, हजरत जु़बेर बिन आवाम और हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसूद रज़ियल्लाहु अन्हुम ।

★_ कुफ्फार को जब इनकी हिजरत का पता चला तो वह ता'क़ुब में दौड़े लेकिन उस वक्त तक यह हज़रात बहरी जहाज पर सवार हो चुके थे वह जहाज ताजिरों के थे, इस तरह यह हजरात हबशा पहुंचने में कामयाब हो गए । 
कुछ अरसे बाद इन लोगों ने एक गलत खबर सुनी कि तमाम कुरेशे मक्का मुसलमान हो गए हैं , इस इत्तेला के बाद हबशा के बहुत से मुहाजिरीन मक्का रवाना हुए,  नजदीक पहुंचकर पता चला कि इत्तेला गलत थी । अब इन्होंने हबशा जाना मुनासिब ना समझा और किसी ना किसी की पनाह हासिल करके मक्का में दाखिल हो गए।

★_ पनाह हासिल करने वाले इन मुहाजिरीन ने जब अपने मुसलमान भाइयों पर उसी तरह बल्कि पहले से भी ज्यादा जुल्मों सितम देखा , तो उन्होंने यह हमारा ना हुआ कि हम पनाह की वजह से इस ज़ुल्म से महफूज रहें लिहाजा उन्होंने अपनी-अपनी पनाह लौटा दी और कहा कि अपने भाइयों के साथ ज़ुल्म व सितम का सामना करेंगे।
╨─────────────────────❥
 *★_ Hazrat Umar Raziyllahu Anhu islam late Hai'n_,*

★__ Hazrat Umar Raziyllahu Anhu us Waqt tak islam se Dushmani per Kamar baandhe hue they,Ek Roz Wo Makka ki ek Gali SE guzar rahe they k unki Mulaqaat ek Qureshi Shakhs se hui ,Unka naam Hazrat Na'iem ibne Abdullah Raziyllahu Anhu tha ,Ye us Waqt tak Apni Qaum ke Khof se Apne islam ko chhupaye hue they, Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ke haath me Talwaar thi ,Ye pareshan ho gaye ,Unse Puchha k kya iraade Hai'n ? 
Wo Bole :- Muhammad ko qatl Karne ja raha Hu'n _,"
Ye sun Kar Hazrat Na'iem Raziyllahu Anhu ne Kaha :- Pehle Apne Ghar ki khabar lo ,Tumhari Behan aur Behno'i Musalman ho chuke Hai'n _,"

★_ Ye sun Kar Hazrat Umar Raziyllahu Anhu Jalaal me aa gaye,Behan ke Ghar Ka rukh Kiya , Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki Behan Ka Naam Fatima tha , Unke Shohar Hazrat Saied bin Zuber Raziyllahu Anhu they ,Ye Ashra Mubashshara me Shamil Hai'n, Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ke Chacha Zaad Bhai bhi they, idhar khud Hazrat Saied ki Behan Hazrat Aatika Raziyllahu Anha Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ki Bivi thi ,

★_ Behan ke Darwaze per pahunch Unhone Kar dastak di , Andar se Puchha gaya - Kon Hai'n ?
Unhone apna Naam bataya to andar rk dam Khamoshi chha gayi ,
Andar us Waqt Hazrat Khabbaab bin Art Raziyllahu Anhu Qur'an padha rahe they, Unhone Foran Qur'an ke awraaq chhupa diye , Hazrat Fatima Raziyllahu Anha ne uth Kar Darwaza khola _,"

★_ Hazrat Umar Raziyllahu Anhu foran bole :- Ey Apni Jaan ki Dushman Maine Suna hai Tu be deen ho gayi hai _,
Saath hi Unhone Unhe maara , Unke jism SE Khoon behne laga ,Khoon ko dekh Kar boli :- Umar , Tum Kuchh bhi Kar lo , Mai'n musalman ho chuki Hu'n, 
Ab Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne Puchha :- Ye Konsi Kitaab tum padh rahe they , mujhe dikha'o ?
Hazrat Fatima Raziyllahu Anha boli :- Ye Kitaab Tumhare Haath me hargiz nahi di ja Sakti , isliye k tum napaak ho , Pehle gusl Kar lo ,Fir dikhayi ja Sakti hai,

★_ Aakhir Unhone gusl Kiya , Fir Qur'an majeed ke awraaq dekhe ,Jese hi unki Nazar Bismillahir Rahmaanir Raheem per padi , UN per Haybat taari ho gayi , Aage Surah Taaha thi , Uski ibtidayi Aayaat  padh Kar to unki Haalat gayur ho gayi ,Bole :- Mujhe Rasulullah ( ﷺ) ke paas le chalo ,

Hazrat Khabbaab bin Art Raziyllahu Anhu aur Hazrat Saied bin Zuber Raziyllahu Anhu idhar udhar chhupe hue they, Unke Alfaz sun Kar Saamne aa gaye ,Baaz Rivayaat me ye aata hai k Hazrat Saied bin Zuber Raziyllahu Anhu ko bhi Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne maara pita tha , iska Matlab hai Sirf Hazrat Khabbaab bin Art Raziyllahu Anhu chhupe hue they ,
Bahar Haal us moqe per Wo Saamne aa gaye aur bole :- Ey Umar ! Tumhe basharat ho , Allah Ke Rasool ﷺ ne Dua maangi thi k Ey Allah ,Do Aadmiyo'n me se ek ke zariye islam ko izzat ata farma, Ya to Amru bin Hisham ( Abu Jahal ) ke zariye ya fir Umar bin Khattaab ke zariye ,
 ★_ Ek Rivayat ke mutabiq Aap ﷺ ne farmaya tha :- in Dono me SE Jo tujhe mehboob ho Uske zariye islam ko izzat ata farma_,"
Aap ﷺ ne ye Dua Budh ke Roz maangi thi ,Jumeraat ke Roz ye waqi'a pesh Aaya , Hazrat Khabbaab bin Art aur Hazrat Saied bin Zuber Raziyllahu Anhum unhe Daare Arqam le gaye,
Darwaze per dastak di gayi , Andar se Puchha gaya- Kon Hai'n ? Unhone Kaha :- Umar ibne Khattaab, 
Ye Baat Huzoor Akram ﷺ ko batayi gayi k Darwaze per Umar bin Khattaab Hai'n, Aapne irshad farmaya:- Darwaza khol do ,Agar Allah Ta'ala ne Uske Saath Khayr Ka iraada farmaya hai to hidayat pa lega _,"

★_ Darwaza khola gaya ,Hazrat Hamza Raziyllahu ne Unhe andar Aane ki ijazat di, Fir Do Sahaba ne Unhe Daaye'n Baaye'n SE pakad Ka Aapki khidmat me pahunchaya ,Aapne farmaya :- inhe Chhod do_,
Unhone Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ko Chhod diya, Wo Nabi Akram ﷺ ke Saamne Beth Gaye, Aap ﷺ ne unke Kurte Ka Daaman Pakad Kar Unhe Apni taraf kheencha aur farmaya :- Ey ibne Khattaab, Allah Ke liye hidayat Ka Raasta Akhtyar Karo _,
Unhone Foran Kaha :- Mai'n Gawahi deta Hu'n k Allah Ta'ala ke Siva koi Ma'abood nahi aur ye k Aap Allah Ke Rasool Hai'n_,"

★_ Unke ye Alfaz Sunte hi Nabi Akram ﷺ aur Musalmano ne Khushi SE betaab ho Kar is qadar zor SE Takbeer Kahi ,Makka ke goshe goshe tak ye Awaaz pahunch gayi , Aapne teen baar unke Seene per Haath maar Kar farmaya:- Ey Allah ! Umar ke Dil me Jo mail hai Usko nikaal de aur uski Jagah imaan Bhar de _,"

★_ iske baad Hazrat Umar Raziyllahu Anhu Quresh ke paas pahunche, Unhe k wo islam le Aaye Hai'n , Quresh unke gird Jama ho gaye aur Kehne lage, 
Lo Umar bhi Be-Deen ho gaya hai,
Utba bin Rabiya Aap per jhapta , Lekin Aapne use utha Kar Zameen per patakh diya , Fir Kisi Ko unki taraf badne ki zurrat na hui , iske baad Aapne elaan farmaya :- Allah ki qasam, Aaj ke baad musalman Allah Ta'ala ki ibaadat chhup Kar nahi karenge , 
Is per Nabi Akram ﷺ Musalmano ke Saath Daare Arqam se nikle , Hazrat Umar Raziyllahu Anhu Talwaar Haath me le Aage Aage chal rahe they,Wo Kehte ja rahe they :- Laa ilaaha illallaahu Muhammadur Rasulullah_,
Yaha'n tak k sab Haram me dakhil ho gaye, Hazrat Umar Raziyllahu Anhu ne Quresh se famaya :-Tumme SE Jisne bhi Apni Jagah se Harkat ki ,Meri Talwaar Uska Faisla karegi _,"
╨─────────────────────❥
★_ हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु इस्लाम लाते हैं _,*

★__ हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु उस वक्त तक इस्लाम से दुश्मनी पर कमर बांधे हुए थे। एक रोज़ वो मक्का की एक गली से गुज़र रहे थे उनकी मुलाकात एक कुरेशी शख्स से हुई उनका नाम हजरत न'ईम बिन अब्दुल्लाह रज़ियल्लाहु अन्हु था, यह उस वक्त तक अपनी क़ौम के खौफ से अपने इस्लाम को छुपाए हुए थे । हज़रत उमर रजियल्लाहु अन्हु के हाथ में तलवार थी, यह परेशान हो गए उनसे पूछा कि क्या इरादा है ।वह बोले- मुहम्मद को क़त्ल करने जा रहा हूं।
यह सुनकर हजरत न'ईम रज़ियल्लाहु अन्हु ने कहा- पहले अपने घर की खबर लो तुम्हारी बहन और बहनोई मुसलमान हो चुके हैं।

★_यह सुनकर हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु जलाल में आ गए , बहन के घर का रुख किया हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की बहन का नाम फातिमा था उनके शौहर हजरत सईद बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हु थे ,यह अशरा मुबश्शरा में शामिल है। हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु के चचा जाद भाई भी थे, इधर खुद हजरत स'ईद की बहन हजरत आतिका रज़ियल्लाहु अन्हा हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की बीवी थी।

★_बहन के दरवाजे पर पहुंच कर उन्होंने दस्तक दी, अंदर से पूछा गया कौन है , उन्होंने अपना नाम बताया तो अंदर एकदम खामोशी छा गई , अंदर उस वक्त हजरत खब्बाब बिन अर्त रज़ियल्लाहु अन्हु कुरान पढ़ा रहे थे उन्होंने फौरन कुरान के औराक़ छुपा दिए। हजरत फातिमा रज़ियल्लाहु अन्हा उठ कर दरवाज़ा खोला।

★ हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु फोरन बोले :- अपनी जान की दुश्मन मैंने सुना है तू बेदीन हो गई है , साथ ही उन्होंने उन्हें मारा, उनके जिस्म से खून बहने लगा खून को देखकर बाली :- उमर तुम कुछ भी कर लो मैं मुसलमान हो चुकी हूं ।
अब हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने पूछा -यह कौन सी किताब तुम पढ़ रहे थे ,मुझे दिखाओ ।
हजरत फातिमा रज़ियल्लाहु अन्हा बोली:- यह किताब तुम्हारे हाथ में हरगिज़ नहीं दी जा सकती इसलिए कि तुम नापाक हो, पहले गुस्ल कर लो फिर दिखाई जा सकती है।

★ आखिर उन्होंने गुस्ल किया फिर कुरान मजीद के औराक़ देखे जैसे ही उनकी नज़र बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम पर पड़ी , उन पर हैबत तारी हो गई आगे सूरह ताहा थी उसकी इब्तेदाई आयात पढ़कर तो उनकी हालत गयूर हो गई बोले :-मुझे रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम) के पास ले चलो।

★_हजरत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु और हजरत सईद बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हू इधर उधर छुपे हुए थे, उनके अल्फाज़ सुनकर सामने आ गए। वाज़ रिवायात में यह आता है कि हजरत स'ईद रज़ियल्लाहु अन्हु को भी हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने मारा पीटा था, इसका मतलब है सिर्फ हजरत खब्बाब रज़ियल्लाहु अन्हु छुपे हुए थे, बहरहाल उस मौके पर वह सामने आ गए और बोले :- ए उमर ! तुम्हें बशारत हो रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने यह दुआ मांगी थी कि ए अल्लाह दो आदमी में से एक के ज़रिए इस्लाम को इज्ज़त अता फरमा , या तो अमरु बिन हिशाम (अबू जहल ) या फिर उमर बिन खत्ताब के जरिए।
★__ एक रिवायत के मुताबिक आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने फरमाया था :- इन दोनों में से जो तुझे महबूब हो उसके ज़रिए इस्लाम को इज्जत अता फरमा।
आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने यह दुआ बुध के रोज मांगी थी जुम्मेरात के रोज़ यह वाक़्या पेश आया । हजरत खब्बाब बिन अर्त  और हजरत सईद बिन जु़बेर रजियल्लाहु अन्हुम उन्हें दारे अरक़म ले गए। दरवाजे पर दस्तक दी गई ।अंदर से पूछा गया कौन है ? उन्होंने कहा:- उमर इब्ने खत्ताब। 
यह बात हुजूर अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को बताई गई कि दरवाजे पर उमर बिन खत्ताब है ।आपने इरशाद फरमाया :- दरवाजा खोल दो अगर अल्लाह ताला ने उसके साथ खैर का इरादा फरमाया है तो हिदायत पा लेगा ।

★__ दरवाजा खोला गया। हजरत हमजा़ रज़ियल्लाहु अन्हु ने उन्हें अंदर आने की इजाज़त दी, फिर दो सहाबा ने उन्हें दाएं बाएं से पकड़कर आप की खिदमत में पहुंचाया ।आपने फरमाया :- इन्हें छोड़ दो ।
उन्होंने हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु को छोड़ दिया , वह नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के सामने बैठ गए ।आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने उनके कुर्ते का दामन पकड़ कर उन्हें अपनी तरफ खींचा और फरमाया :- अल्लाह के लिए हिदायत का रास्ता अख़्तियार करो ।
उन्होंने फौरन कहा :- मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह ताला के सिवा कोई मा'बूद नहीं और यह कि आप अल्लाह के रसूल हैं_,"

★__ उनके यह अल्फाज़ सुनते ही नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम और मुसलमानों ने खुशी से बेताब होकर इस क़दर ज़ोर से तकबीर कहीं कि मक्का के गोशे गोशे तक यह आवाज़ पहुंच गई । आपने तीन बार उनके सीने पर हाथ मारकर फरमाया :- ऐ  अल्लाह ! उमर के दिल में जो मैल है उसको निकाल दे और उसकी जगह ईमान भर दे _,"

★_इसके बाद हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु क़ुरेश के पास पहुंचे उन्हें कहा कि वह इस्लाम ले आए हैं , कुरेश उनके गिर्द जमा हो गए और कहने लगे :- लो उमर भी बेदीन हो गया है, 
उतबा बिन रबिया आप पर छपटा लेकिन आपने उसे उठा कर ज़मीन पर पटक दिया, फिर किसी को उनकी तरफ आने की ज़ुर्रत ना हुई । इसके बाद आपने एलान फरमाया :- अल्लाह की क़सम, आज के बाद मुसलमान अल्लाह ताला की इबादत छुपकर नहीं करेंगे ।
नबी अकरम सल्लल्लाहु अलेही  वसल्लम मुसलमानों के साथ दारे अरक़म से निकले । हज़रत उमर रजियल्लाहु अन्हु तलवार हाथ में ले आगे आगे चल रहे थे वह कहते जा रहे थे :-  ला इलाहा इल्लल्लाहु मुहम्मदुर रसूलुल्लाह _," 
यहां तक की सब हरम में दाखिल हो गए । हज़रत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने क़ुरेश से फरमाया:- तुम में से जिसने भी अपनी जगह से हरकत की , मेरी तलवार उसका फैसला करेगी।
╨─────────────────────❥
[21/11, 12:18 pm] ★☝🏻★: *★__ Boycott _,*

★_ Iske baad Rasulullah ﷺ aur Tamaam Musalmano ne Kaaba Ka tawaaf shuru Kiya , Hazrat Umar Raziyllahu Anhu aage aage rahe , Musalmano ne Kaabe ke gird Namaz Ada ki ,Sabne Buland Awaaz se Qur'an ki tilawat bhi ki , Jabki isse Pehle Musalman esa nahi Kar Sakte they ,
Ab Tamaam Quresh ne mil Kar Nabi Kareem ﷺ ko qatl Karne Ka Faisla kiya, Unhone Aan'Hazrat ﷺ ke khandaan walo SE Kaha :- 
"_ Tum humse doguna Khoon baha le lo aur iski ijazat de do k Quresh Ka koi Shakhs Aan'Hazrat ﷺ ko qatl Kar de ,Taki Hume Sukoon mil Jaye aur Tumhe faayda pahunch Jaye _,"

★__ Aan'Hazrat ﷺ ke khandaan walo ne is Tajveez ko maanne se inkaar Kar diya, is per Quresh ne Gusse me aa Kar ye Tay Kiya k Tamaam Banu Haashim aur Banu Abdul Muttalib Ka Ma'ashrati Boycot Kiya Jaye aur Saath hi Unhone Tay Kiya k Banu Haashim ko bazaaro me na aane Diya Jaye Taki Wo koi cheez na khareed sake , Unse Shadi Biyaah na Kiya Jaye aur na unke liye koi Sulah qubool ki Jaye , Unke maamle me koi Naram dili na Akhtyar ki Jaye , Yani un per Kuchh bhi guzre ,Unke Dil me Raham Ka jazba paida na hone diya Jaye aur ye Boycott us Waqt tak jaari rehna Chahiye jab tak k Bani Haashim ke log Aan'Hazrat ﷺ ko qatl Karne Ke liye Quresh ke hawale na Kar de'n ,

★__ Quresh ne  is mu'ahide ki Ba- Qa'yda Tehreere'n likhi ,Us per Poori tarah Amal karane aur Uska Ahatmam Karane ke liye usko Kaabe me latka diya ,is Mu'ahide ke baad Abu Lahab ko Chhod Kar Tamaam Bani Haashim aur Bani Abdul Muttalib Sho'ab Abi Taalib me chale gaye, Ye Makka se Bahar Ek ghaati thi ,
Abu Lahab chunki Quresh Ka pakka tarafdaar aur Aap ﷺ Ka badtareen Dushman bhi tha , isliye us Ghaati me Jane per Majboor na Kiya gaya, Yu'n bhi Usne Nabi Kareem ﷺ ke qatl ke mansoobe me Quresh Ka Saath diya tha, Unki mukhalfat nahi ki thi,

★_ Nabi Akram ﷺ Sho'ab Abi Taalib me mahsoor ho gaye, Us Waqt Aapki Umar Mubarak 46 Saal thi , 
Bukhari me hai k us Ghaati me Musalmano ne Bahut Mushkil aur sakht Waqt guzara ,Quresh ke Boycott ki vajah se Unhe khane pine ki koi cheez nahi milti thi ,Sab log Bhook se behaal rehte they , Yaha'n tak k unhone Ghaas Foos aur Darakhto ke patte kha Kar ye din guzare _,"
[21/11, 12:50 pm] ★☝🏻★: ★__ Jab bhi Makka me Bahar SE koi Qafila aata to ye Majboor aur bekas Hazraat waha'n pahunch jate Taki unse khane pine ki cheeze khareed Le'n Lekin Saath hi Abu Lahab waha'n pahunch jata aur Kehta :- Logo'n Muhammad ke Saathi agar tumse Kuchh khareedna Chahe to us cheez ke daam is qadar bada do k ye Tumse Kuchh khareed na sake'n, Tum log Meri Haisiyat aur Zimmedari ko Achchhi Tarah jaante ho _,"

★__ Chunache Wo Taajir Apne Maal ki qeemat Bahut zyada bada chada Kar batate aur Hazraat nakaam ho Kar Ghaati me lot aate , Waha'n Apne Bachcho ko Bhook aur Pyaas SE bilakta tadapta dekhte to Aankho'n me Aa'nsu aa jate , udhar Bachche Unhe khaali Haath dekh Kar aur zyada rone lagte , Abu Lahab un Taajiro se Saara Maal khud khareed leta ,

"__ Yaha'n ye Baat zahan nasheen Kar Le'n k Aan'Hazrat ﷺ aur Unke khandaan ke log Quresh ke is Mu'ahide ke baad Halaat Ka rukh dekhte hue khud us Ghaati me chale Aaye they , Ye Baat Nahi k Qureshe Makka ne Unhe giraftaar Kar Ke waha'n qaid Kar diya tha,

★_ Is Boycott ke Dauraan Bahut se Musalman Hijrat Kar Ke Habsha chale gaye, Ye Habsha ki taraf Doosri Hijrat thi , is Hijrat me 38 Mardo'n aur 12 Aurto'n ne hissa liya , In logo me Hazrat Jaafar bin Abu Taalib Raziyllahu Anhu aur unki Bivi Asma bint Umays Raziyllahu Anha bhi thi , inme  Miqdaad bin Aswad Raziyllahu Anhu, Abdullah bin Masoud Raziyllahu Anhu, Abdullah bin jahash aur Uski Bivi Umme Habiba bint Abu Sufiyaan Raziyllahu Anha bhi thi, 
Ye Abdullah bin Jahash Habsha Ja Kar islam se fir gaya tha aur Usne Iyasa'i mazhab akhtyar Kar liya tha , Isi Haalat me uski maut waqe hui , Uski Bivi Umme Habiba Raziyllahu Anha islam per rahi , Unse baad me Aan'Hazrat ﷺ ne nikaah farmaya _,"
╨─────────────────────❥
[22/11, 7:48 am] ★☝🏻★: *★__ बाॅयकाट _,*

★__ इसके बाद रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम और तमाम मुसलमानों ने काबा का तवाफ शुरू किया । हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु आगे आगे रहे। मुसलमानों ने काबे के गिर्द नमाज  अदा की , सब ने बुलंद आवाज़ से क़ुरान की तिलावत भी की जबकि इससे पहले मुसलमान ऐसा नहीं कर सकते थे ।
अब तमाम कुरेश ने मिलकर नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम को क़त्ल करने का फैसला किया ।उन्होंने आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के खानदान वालों से कहा:- तुम हमसे दो गुना खून बहा ले लो और इसकी इजाजत दे दो कि कुरेश का कोई शख्स आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को क़त्ल कर दें ताकि हमें सुकून मिल जाए और तुम्हें फायदा पहुंच जाए_,"

★_आन'हजरत सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम के खानदान वालों ने इस तजवीज़ को मानने से इंकार कर दिया । इस पर क़ुरेश ने गुस्से में आकर यह तैय किया कि तमाम बनू हाशिम और बनू अब्दुल मुत्तलिब का माशरती बायकाट किया जाए और साथ ही उन्होंने तैय किया कि बनू हाशिम को बाजारों में ना आने दिया जाए ताकि वह कोई चीज़ ना खरीद सके ,उनसे शादी बियाह ना किया जाए और ना उनके लिए कोई सुलह कु़बूल की जाए ,उनके मामले में कोई नरम दिली ना अख्त्यार की जाए यानी उन पर कुछ भी गुज़रे उनके दिल में रहम का जज्बा पैदा ना होने दिया जाए और यह बायकॉट उस वक्त तक जारी रहना चाहिए जब तक कि बनी हाशिम के लोग आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को क़त्ल करने के लिए क़ुरेश के हवाले ना कर दें।

★_कुरैश ने इस मुहाइदे की बाका़यदा तहरीरें लिखी, उस पर पूरी तरह अमल कराने और उसका अहतमाम कराने के लिए इसको काबे में लटका दिया। इस मुआहिदे के बाद अबुलहब को छोड़कर तमाम बनी हाशिम और बनी मुत्तलिब शोएब अबी तालिब में चले गए , यह मक्का से बाहर एक घाटी थी ।
अबुलहब चूंकी कुरेश का पक्का तरफ्दार और आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का बदतरीन दुश्मन भी था इसलिए इस घाटी में जाने पर मजबूर ना किया गया। यूं भी उसने नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम के कत्ल के मंसूबे में क़ुरेश का साथ दिया था उनकी मुखालफत नहीं की थी।

★_नबी अकरम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम शोएब अबी तालिब में महसूर हो गए ,उस वक्त आपकी उमर मुबारक 46 साल थी । बुखारी में है कि उस घांटी में मुसलमानों ने बहुत मुश्किल और सख्त वक्त गुजा़रा,  क़ुरेश के बायकाट की वजह से उन्हें खाने-पीने की कोई चीज़ नहीं मिलती थी ,सब लोग भूख से बेहाल रहते थे यहां तक कि उन्होंने घांस फूस और दरख्तों के पत्ते खाकर यह दिन गुजा़रे।
[22/11, 8:03 am] ★☝🏻★: ★__ जब भी मक्का में बाहर से कोई काफिला आता तो यह मजबूर और बेकस हजरात वहां पहुंच जाते ताकि उनसे खाने-पीने की चीजें खरीद ले लेकिन साथ ही अबू लहब वहां पहुंच जाता और कहता :- लोगों मोहम्मद के साथी अगर तुम से कुछ खरीदना चाहे तो उस चीज़ के दाम इस क़दर बढ़ा दो कि वे तुमसे कुछ खरीद ना सकें, तुम लोग मेरी हैसियत और जिम्मेदारी को अच्छी तरह जानते हो_,"

★_चुनांचे वो ताजिर अपने माल की कीमत बहुत ज्यादा बढ़ा चढ़ाकर बताते और ये हजरात नाकाम होकर घाटी में लौट आते, वहां अपने बच्चों को भूख और प्यास से बिलकता तड़पता देखते तो आंखों में आंसू आ जाते। उधर बच्चे उन्हें खाली हाथ देखकर और ज्यादा रोने लगते, अबुलहब उन ताजिरो से सारा माल खुद खरीद लेता।

"_यहां यह बात जहनसीन कर लें कि आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम और उनके खानदान के लोग कुरेश के इस मुहाइदे के बाद हालात का रुख देखते हुए खुद उस घाटी में चले आए थे । यह बात नहीं कि कुरैशे मक्का  ने उन्हें गिरफ्तार करके वहां पर क़ैद कर दिया था।

★_इस बायकाट के दौरान बहुत से मुसलमान हिजरत करके हबशा चले गए । यह हबशा की तरफ दूसरी हिजरत थी, इस हिजरत में 38 मर्द और 12 औरतों ने हिस्सा लिया। इन लोगों में हजरत जाफर बिन अबू तालिब रज़ियल्लाहु अन्हु और उनकी बीवी अस्मा बिन्ते उमेस रज़ियल्लाहु अन्हा भी थी ,इनमें मिक़दाद बिन अस्वद रज़ियल्लाहु अन्हु, अब्दुल्लाह बिन मसूद रजियल्लाहु अन्हु ,अब्दुल्लाह बिन जहश और उसकी बीवी उम्मे हबीबा बिन्ते अबू सुफियान रज़ियल्लाहु अन्हा भी थी। यह अब्दुल्लाह बिन जहश हबशा जाकर इस्लाम से फिर गया था और उसने ईसाई मज़हब अख्त्यार कर लिया था ,इसी हालत में उसकी मौत वाक़े हुई, उसकी बीवी उम्मे हबीबा रज़ियल्लाहु अन्हा इस्लाम पर रहीं उनसे बाद में आन'हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने निकाह फरमाया।
╨─────────────────────❥
[22/11, 8:50 am] ★☝🏻★: *★__ Najaashi Ke Darbaar me _,"*

★__ In Musalmano ko Habsha me Behatreen panaah mil gayi ,is Baat SE Quresh ko aur zyada Takleef hui , Unhone inke Pichhe Hazrat Amru bin Aas Raziyllahu Anhu aur Amaarah bin Waleed ko bheja Taki ye waha'n ja Kar Habsha ke Baadshah ko Musalmano ke khilaf bhadkaye'n ( Hazrat Amru bin Aas Raziyllahu Anhu baad me Musalman hue ) ,
Ye Dono Habsha ke Baadshah Najaashi Ke liye Bahut SE Tohfe le Kar gaye , Baadshah ko Tohfe pesh kiye , Tohfo me qeemti Ghode aur reshmi jubbe shamil they, Baadshah ke alawa Unhone Paadriyo'n aur doosre Bade Logo'n Ko bhi Tohfe diye ..Taki wo sab inka Saath de'n , Baadshah ke Saamne Dono ne use Sajda Kiya , Baadshah ne Unhe Apne Daaye'n Baaye'n bitha liya _,

★_ Ab unhone Baadshah SE Kaha :- Hamare Khandaan ke Kuchh log Aapki Sarzameen per Aaye Hai'n, Ye log Humsw aur Hamare Ma'aboodo SE bezaar ho gaye Hai'n, Unhone Aapka Deen bhi Akhtyar nahi Kiya ,Ye Ek ese Deen me dakhil ho gaye Hai'n Jisko na hum jaante Hai'n na Aap , Ab Hume Quresh ke bade Sardaaro ne Aapke paas bheja hai Taki Aap un Logo'n Ko Hamare Hawale Kar de'n _,"

★_ Ye Sun Kar Najaashi ne Kaha :- Wo log Kaha'n Hai'n ?_,"
Unhone Kaha :- Aap hi ke Yaha'n hai _,"
Najaashi ne Unhe bulane ke liye foran Aadmi bhej diye , Ese me Un Paadriyo'n aur doosre Sardaaro ne Kaha:- Aap un Logo'n Ko in Dono ke hawale Kar de'n ,isliye k unke bare me ye zyada jaante Hai'n _,"

★_ Najaashi ne esa Karne SE inkaar Kar diya, Usne Kaha :- Pehle Mai'n unse Baat karunga k wo Kis Deen per hai'n _x
Ab Musalman Darbaar me Haazir hue ,Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ne Apne Saathiyo'n SE Kaha :- Najaashi SE Mai'n Baat karunga _,"
Idhar Najaashi ne Tamaam iyasa'i Aalimo ko Darbaar me talab Kar liya tha Taki Musalmano ki Baat Sun sake'n, Wo Apni Kitaabe bhi utha laye they _,"

★_ Musalmano ne Darbaar me dakhil Hote Waqt islami Tareeqe ke mutabiq Salam Kiya , Baadshah ko Sajda na Kiya , is per Najaashi Bola :- Kya Baat hai ,Tumne mujhe Sajda kyu nahi Kiya ?
Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu foran bole :- Hum Allah Ke Siva Kisi Ko Sajda nahi Karte , Allah Ta'ala ne Hamare darmiyaan Ek Rasool bheje Hai'n ... Aur Hume Hukm diya k Allah Ke Siva Kisi Ko Sajda na karo , Allah Ke Rasool ki taleeem ke mutabiq Humne Aapko Wohi Salam Kiya Jo Jannat Walo Ka Salam hai _,"
Najaashi is Baat ko Jaanta tha , isliye k ye Baat injeel me thi ,
[22/11, 11:42 am] ★☝🏻★: ★_ Iske baad Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ne Kaha :- Allah Ke Rasool ne Hume Namaz Ka Hukm diya hai aur zakaat Ada Karne Ka Hukm diya hai, 
Us Waqt Hazrat Amru bin Aas ( Raziyllahu Anhu) ne Najaashi ko bhadkane ke liye usse Kaha :- Ye Log ibne Mariyam Yani Iysaa Alaihissalam Ke bare me Aapse Mukhtalif Aqeeda rakhte Hai'n, Ye Unhe Allah Ka Beta nahi maante _,"
Is per Najaashi ne Puchha :- Tum Iysaa ibne Mariyam aur Mariyam Alaihimussalam ke bare me Kya Aqeeda rakhte ho ?"
Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ne Kaha :- unke bare me hum Wohi Kehte Hai'n Jo Allah Ta'ala farmata hai Yani k Wo Roohullah aur Kalmatullah Hai'n aur Kunwari Mariyam ke Batan se Paida hue Hai'n _,"

★_ Fir Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ne Baadshah ke Darbaar me ye Taqreer ki :- 
"_ Ek Baadshah ! Hum Ek gumraah Qaum they ,Pattharo ko Poojte they ,Murdaar Jaanwaro Ka gosht khate they ,Be Haya'i ke Kaam Karte they, Rishtedaro ke Huqooq gasb Karte they, Padosiyo'n ke Saath Bura sulook Karte they, Hamara har Taaqatwar Aadmi Kamzor ko daba Lete tha , Ye thi Hamari Haalat , 
Fir Allah Ta'ala ne Humme SE usi Tarah Ek Rasool bheja ,Jesa k humse Pehle Logo'n me Rasool bheje jate rahe Hai'n, Ye Rasool hum hi me SE Hai'n , Hum unka Hasab Nasab ,unki Sachchayi aur Paak Daamani Achchhi Tarah jaante Hai'n, Unhone Hume Allah Ta'ala ki taraf bulaya k hum use Ek jaane , Uski ibaadat kare aur ye k Allah Ke Siva Jin Pattharo aur Buto'n ko Hamare Baap Dada Poojte chale Aaye Hai'n, Hum Unhe Chhod de'n _,"

★_ Unhone Hume Hukm diya k hum Sirf Allah Ta'ala ki ibaadat Kare'n, Namaz padhe'n , Zakaat de'n , Roze Rakhe'n , Unhone Hume sach bolne , Amaanat Poori Karne , Rishtedaro ki khabar giri Karne , Padosiyo'n se Achchha Sulook Karne , Buraiyo'n aur Khoon bahane SE bachne aur Bad Kaari SE Door rehne Ka Hukm diya, isi Tarah gandi baate Karne ,Yateemo ka Maal khane aur gharo me bethne wali Aurto'n per tohmat lagane SE mana farmaya , Humne unki tasdeeq ki ,Un per imaan laye aur Jo talimaat Wo le Kar Aaye unki Pervi ki , Bas is Baat per Hamari Qaum Hamari Dushman ban gayi Taki Hume fir Pattharo ki pooja per Majboor Kar sake , Un Logo'n ne hum per bade bade zulm kiye ,naye SE naye zulm dhaaye ,Hume har tarah tang kiya _,"

"_ Aakhir kaar jab unka zulm had se badh gaya aur ye Hamare Deen ke Raaste me rukawat ban gaye to hum Aapki Sarzameen ki taraf Nikal pade ,Humne doosro ke muqable me Aapko Pasand Kiya , Hum to Yaha'n ye Ummeed le Kar Aaye Hai'n k Aapke Mulk me hum per zulm nahi Hoga _,"
[22/11, 12:07 pm] ★☝🏻★: ★_ Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ki takreer sun Kar Najaashi ne Kaha:- Kya Aapke pass Apne Nabi per Aane wali Wahi Ka Kuchh hissa mojood hai ?
Haa'n mojood hai - Jawab me Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu bole .
Wo Mujhe padh Kar sunaiye - Najaashi Bola ,
Is per Unhone Qurane Kareem SE Suraj Mariyam ki Chand Aayaat padhi , Aayaat sun Kar Najaashi aur Uske Darbariyo ki Aankho'n me Aa'nsu aa gaye, Najaashi Bola :- Hume Kuchh or Ayaat sunao_,"
Is per Hazrat Jaafar Raziyllahu Anhu ne Kuchh or Ayaat sunayi , 
Tab Najaashi ne Kaha :- Allah ki qasam ! Ye to Wohi Kalaam hai Jo Hazrat Iysaa Alaihissalam le Kar Aaye they , Khuda ki qasam Mai'n in logo ko Tumhare hawale nahi karunga _,"

★_ Is Tarah Qureshi Wafad Na-Kaam lota , Doosri Taraf Makka ke Musalman usi Tarah Ghaati Sho'ab Abi Taalib me muqeem they , Wo usme Teen Saal tak rahe ,Ye Teen Saal Bahut musibato ke Saal they , Usi Ghaati me Hazrat Abdullah ibne Abbaas Raziyallahu Anhu paida hue , Ye halaat Dekh Kar Kuchh Naram Dil log bhi gamgeen Hote they, Ese log Kuchh Khana Pina in Hazraat tak Kisi na kisi Tarah pahuncha diya Karte they, 

"_ Ese me Allah Ta'ala ne Aap ﷺ ko ittela di k Quresh ke Likhe hue Mu'ahide ko Deemak ne chaat liya hai , Mu'ahide ke Alfaz me Sivaye Allah Ke Naam ke aur Kuchh baqi nahi bacha , Aan'Hazrat ﷺ ne ye Baat Abu Taalib ko batayi ,

★__ Abu Taalib foran gaye aur Quresh ke logo se Kaha :- Tumhare Ahad naame ko Deemak ne chaat liya hai ye khabar mujhe mere Bhatije ne di hai , Us Mu'ahide per Sirf Allah Ka Naam baqi reh gaya hai, agar Baat isi Tarah hai jesa k mere Bhatije ne bataya hai to maamla Khatm ho jata hai ,Lekin agar tum ab bhi Baaz na aaye to fir Sun lo ,Allah ki qasam ! Jab tak Humme Aakhri Aadmi bhi baqi hai,us Waqt tak hum Muhammad ﷺ ko Tumhare hawale nahi karenge _,"
Hume Tumhari Baat Manzoor hai..hum Mu'ahide ko dekh Lete Hai'n _,"

★_ Unhone Mu'ahida mangwaya ,Usko waqa'i Deemak chaat chuki thi, Sirf Allah Ka Naam baqi tha , is Tarah Mushrik us Mu'ahide SE Baaz aa gaye, Ye Mu'ahida jis Shakhs ne Likha tha Uska Haath Shul ho gaya tha,
Mu'ahide Ka ye haal dekhne ke baad Qureshi log Sho'ab Abi Taalib pahunche , Unhone Nabi Kareem ﷺ aur Aapke Saathiyo'n SE Kaha :- Aap Apne Apne gharo me aa Jaye'n, Wo Mu'ahida ab Khatm ho gaya hai _,"
╨─────────────────────❥
[23/11, 7:48 am] ★☝🏻★: *★_ नजाशी के दरबार में _,*

★__ इन मुसलमानों को हबशा में बेहतरीन पनाह मिल गई इस बात से कुरेश को और ज्यादा तकलीफ हुई उन्होंने इनके पीछे हजरत अमरू बिन आस रजियल्लाहु अन्हु और अमाराह बिन वलीद को भेजा ताकि ये वहां जाकर हबशा के बादशाह को मुसलमानों के खिलाफ भड़काऐं, ( हजरत अमरु बिन आस रज़ियल्लाहु अन्हु बाद में मुसलमान हुए ),
ये दोनों हबशा के बादशाह नजाशी के लिए बहुत से तोहफे लेकर गए ,बादशाह को तोहफे पेश किए,  तोहफों में कीमती घोड़े और रेशमी जुब्बे शामिल थे। बादशाह के अलावा उन्होंने पादरियों और दूसरे बड़े लोगों को भी तोहफे दिए ताकि वह सब इनका साथ दें । बादशाह के सामने दोनों ने उसे सजदा किया बादशाह ने उन्हें अपने दाएं बाएं बिठा लिया था ।

★_अब उन्होंने बादशाह से कहा:-  हमारे खानदान के कुछ लोग आपकी सरज़मीन पर आएं हैं यह लोग हमसे और हमारे मा'बूदों से बेजा़र हो गए हैं उन्होंने आपका दीन भी अख्त्यार नहीं किया , ये एक ऐसे दीन में दाखिल हो गए हैं जिसको ना हम जानते हैं ना आप । अब हमें क़ुरेश के बड़े सरदारों ने आपके पास भेजा है ताकि आप उन लोगों को हमारे हवाले कर दें ।

★_ यह सुनकर नजाशी ने कहा :-  वह लोग कहां है? 
उन्होंने कहा :- आप ही के यहां हैं। 
नजाशी ने उन्हें बुलाने के लिए फौरन आदमी भेजें , ऐसे में उन पादरियों और दूसरे सरदारों ने कहा :- आप उन लोगों को इन दोनों के हवाले कर दें इसलिए कि उनके बारे में ये ज्यादा जानते हैं।

★_ नजाशी ने ऐसा करने से इंकार कर दिया ,उसने कहा :- पहले मैं उनसे बात करूंगा कि वह किस दीन पर है ।
अब मुसलमान दरबार में हाजिर हुए, हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु ने अपने साथियों से कहा- नजाशी से मैं बात करूंगा। 
इधर नजाशी ने तमाम ईसाई आलिमों को दरबार में तलब कर लिया था ताकि मुसलमानों की बात सुन सके ,वो अपने किताबें भी उठा लाए थे।

★_ मुसलमानों ने दरबार में दाखिल होते वक्त इस्लामी तरीके के मुताबिक सलाम किया, बादशाह को सजदा ना किया । इस पर नजाशी बोला:- क्या बात है ? तुमने मुझे सजदा क्यों नहीं किया। 
हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु बोले :- हम अल्लाह के सिवा किसी को सजदा नहीं करते, अल्लाह ताला ने हमारे दरमियान एक रसूल भेजे हैं.. और हमें हुक्म दिया कि अल्लाह के सिवा किसी को सजदा ना करो, अल्लाह के रसूल की तालीम के मुताबिक हमने आपको वही सलाम किया जो जन्नत वालों का सलाम है। 
नजाशी इस बात को जानता था इसलिए कि यह बात इंजील में थी।
[23/11, 8:12 am] ★☝🏻★: ★__ इसके बाद हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु ने कहा :- अल्लाह के रसूल ने हमें नमाज़ का हुक्म दिया है , और ज़कात अदा करने का हुक्म दिया है ,
उस वक्त हजरत अमरु बिन आस (रज़ियल्लाहु अन्हु) ने नजाशी को भड़काने के लिए उससे कहा :- यह लोग इब्ने मरियम यानी ईसा अलैहिस्सलाम के बारे में आपसे मुख्तलिफ अकी़दा रखते हैं , ये उन्हें अल्लाह का बेटा नहीं मानते।
इस पर नजाशी ने पूछा :- तुम ईसा इब्ने मरियम और मरियम अलैहिमुस्सलाम के बारे में क्या अक़ीदा रखते हो ?
हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु ने कहा :- उनके बारे में हम वही कहते हैं जो अल्लाह ता'ला फरमाता है यानी कि वो रूहुल्लाह और कलामतुल्लाह है और कुंवारी मरियम के बतन से पैदा हुए हैं।

★_ फिर हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु ने बादशाह के दरबार में यह तक़रीर की :- 
"_ ऐ बादशाह ! हम एक गुमराह कौ़म थे , पत्थरों को पूजते थे मुरदार जानवरों का गोश्त खाते थे बे-हयाई के काम करते थे रिश्तेदारों के हुक़ूक़ गसब करते थे पड़ोसियों के साथ बुरा सलूक करते थे हमारा हर ताकतवर आदमी कमजोर को दबा लेता था, यह थी हमारी हालत । 
फिर अल्लाह ताला ने हममे से उसी तरह एक रसूल भेजा जैसा कि हम से पहले लोगों में और रसूल भेजे जाते रहे हैं ,यह रसूल हम ही में से हैं हम उनका हसब नसब उनकी सच्चाई और पाक दामनी अच्छी तरह जानते हैं। उन्होंने हमें अल्लाह ता'ला की तरह बुलाया कि हम उसे एक जाने, उसकी इबादत करें और यह कि अल्लाह के सिवा जिन पत्थरों और बुतों को हमारे बाप दादा पूजते चले आए हैं हम उन्हें छोड़ दें_,"

★_ उन्होंने हमें हुक्म दिया कि हम सिर्फ अल्लाह ता'ला की इबादत करें, नमाज पढ़े जकात दें, रोज़े रखें ,उन्होंने हमें सच बोलने ,अमानत पूरी करने, रिश्तेदारों की खबर गिरि करने, पड़ोसियों से अच्छा सुलूक करने बुराइयों और खून बहाने से बचने और बदकारी से दूर रहने का हुक्म दिया । इसी तरह गंदी बातें करने , यतीमों का माल खाने और घरों में बैठने वाली औरतों पर तोहमत लगाने से मना फ़रमाया। हमने उनकी तस्दीक़ की, उन पर ईमान लाए और जो तालिमात वो लेकर आएं उनकी पेरवी की , बस इस बात पर हमारी कौ़म हमारी दुश्मन बन गई ताकि हमें फिर पत्थरों की पूजा पर मजबूर कर सके ,उन लोगों ने हम पर बड़े-बड़े जुल्म किए, नए से नए जुल्म ढाए, हमें हर तरह तंग किया_,"

"_ आखिरकार जब उनका जु़ल्म हद से बढ़ गया और यह हमारे दीन के रास्ते में रुकावट बन गए तो हम आपकी सरजमीन की तरफ निकल पड़े ,हमने दूसरों के मुकाबले में आपको पसंद किया, हम तो यहां यह उम्मीद लेकर आए हैं कि आपके मुल्क में हम पर जुल्म नहीं होगा।
[23/11, 8:31 am] ★☝🏻★: ★_ हजरत जाफर रजियल्लाहु अन्हु की तक़रीर सुनकर नजाशी ने कहा :- क्या आपके पास अपने नबी पर आने वाली वही का कुछ हिस्सा मौजूद है ? 
हां मौजूद है। जवाब में हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु बोले ।
वह मुझे पढ़ पढ़कर सुनाइए। नजाशी बोला ।
इस पर उन्होंने क़ुरान ए करीम से सूरह मरियम की चंद आयात पढ़ी, आयात सुनकर नजाशी और उसके दरबारियों की आंखों में आंसू आ गए ।नजाशी बोला :- हमें कुछ और आयात सुनाओ ।
इस पर हजरत जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु ने कुछ और आयात सुनाई । तब नजाशी ने कहा :- अल्लाह की क़सम, यह तो वही कलाम है जो हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम लेकर आए थे। खुदा की क़सम, मैं इन लोगों को तुम्हारे हवाले नहीं करूंगा।

★_इस तरह कुरेशी वफद नाकाम लौटा । दूसरी तरफ मक्का के मुसलमान उसी तरह घाटी शोएब अबी तालिब में मुक़ीम थे, वह उसमें 3 साल तक रहे ।यह 3 साल बहुत मुसीबतों के साल थे , उसी घाटी में हजरत अब्दुल्लाह इब्ने अब्बास रजियल्लाहु अन्हु पैदा हुए । यह हालात देखकर कुछ नरम दिल लोग भी गमगीन होते थे , ऐसे लोग कुछ खाना पीना इन हजरात तक किसी ने किसी तरह पहुंचा दिया करते थे।

"_ऐसे में अल्लाह ताला ने आप सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को इत्तेला दी कि क़ुरेश के लिखे हुए मु'आहिदे को दीमक ने चाट लिया है, मु'आहिदे के अल्फ़ाज़ में सिवाय अल्लाह के नाम के और कुछ बाकी़ नहीं बचा। आन'हज़रत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने यह बात अबु तालिब को बताई।

★_अबू तालिब फौरन गए और क़ुरेश के लोगों से कहा:-  तुम्हारे अहद नामे को दीमक ने चाट लिया है यह खबर मुझे मेरे भतीजे ने दी है, उस मु'आहिदे पर सिर्फ अल्लाह का नाम बाक़ी रह गया है। अगर बात इसी तरह है जैसा कि मेरे भतीजे ने बताया है तो मामला खत्म हो जाता है लेकिन अगर तुम अब भी बाज़ ना आए तो फिर सुनो अल्लाह की क़सम जब तक हममे आखिरी आदमी भी बाक़ी है उस वक्त तक हम मुहम्मद सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम को तुम्हारे हवाले नहीं करेंगे _,"
हमें तुम्हारी बात मंजूर है.. हम मु'आहिदे को देख लेते हैं _,"

★_ उन्होंने मु'आहिदा मंगवाया, उसको वाक़ई दीमक चाट चुकी थी सिर्फ अल्लाह का नाम बाक़ी था । इस तरह मुशरिक उस मु'आहिदे से बाज़ आ गए । 
मु'आहिदा जिस शख्स ने लिखा था उसका हाथ शुल हो गया था। मु'आहिदे का यह हाल देखने के बाद कुरेशी लोग शोएब अबी तालिब पहुंचे, उन्होंने नबी करीम सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम और आपके साथियों से कहा :-आप अपने घरों में आ जाएं वह मु'आहिदे खत्म हो गया है।
╨─────────────────────❥
[24/11, 8:28 am] ★☝🏻★: *★_ Gam Ka Saal _,"*

★__ Is Tarah 3 Saal baad Nabi Akram ﷺ aur Aapke Saathi Apne gharo ko lot aaye aur zulm Ka ye baab band hua ,
Is Waqi'e ke baad Najraan Ka Ek Wafad Aap ﷺ ki khidmat me Haazir hua, Ye log iyasa'i they , Najraan unki Basti Ka Naam tha ,Ye Basti Yaman aur Makka ke darmiyaan waqe thi aur Makka ke qariban 7 manzil door thi , Is Wafad me 20 Aadmi they, Nabi Kareem ﷺ ke bare me Unhe un Muhajireen se Maloom hua tha Jo Makka se Hijrat Kar Ke Habsha chale gaye they ,

★_' Aan'Hazrat ﷺ us Waqt Haram me they , Ye log Aapke Saamne beth gaye, Udhar Qureshe Makka bhi Aas paas Bethe they, Unhone Apne Jaan Aap ﷺ aur us Wafad ki Baat cheet ki taraf laga diye , Jab Najraan ke ye log Aap ﷺ se baate Kar chuke to Aapne Unhe islam ki Dawat di, Qurane Kareem ki Kuchh Aya