0

❁    *вɪѕмɪʟʟααнɪʀʀαнмαռɪʀʀαнєєм*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
            ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
          *SHAHADAT- E- HUSAIN*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
       *▣ SHAHEED E KARBALA ▣*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 1- Waq’aa Shaheed e karbala  ※*
◈ Saiyadna v Saiyadul Shabab Ahlal Jannat Hazrat Husain Raziyallahu Anhu ka waq’aa shahadat na sirf islami tareekh ka ek aham waq’aa he balki puri duniya ki tareekh me bhi isko ek khaas imtiyaz hasil he,
◈ isme ek taraf zulm v zor aur sangdili v behayai v fahash kashi ke ese holnaak aur hairat angez waq’aat he k insaan ko unka tasavvur bhi dushwar he, aur doosri taraf Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ke chashm charag aur unke 70-72 mutalliqeen ki chhoti si jama’at jinki nazeer tareekh me milna mushkil he aur in dono me aane wali naslo ke liye hazaro ibrate’n aur hikmate poshida hai’n,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 182*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
              *▣ शहीदे कर्बला  ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
      *※ 1- वाक़्या शहीदे कर्बला  ※*
★__ सैयदना व सैयदुल सहाबा अहलल जन्नत हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु का वाक्या ए शहादत ना सिर्फ़ इस्लामी तारीख का एक अहम वाक्या है बल्कि पूरी दुनिया की तारीख में भी इसको एक खास इम्तियाज़ हासिल है ।
★_इसमें एक तरफ जुल्म व ज़ोर  और संगदिली व बेहयाई व फहशकशी के ऐसे होलनाक और हैरतअंगेज वाक़यात है कि इंसान को उनका तसव्वुर भी दुश्वार है। और दूसरी तरफ रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के चश्मे चिराग और उनके 70-72  मुताल्लिकीन की छोटी सी जमात जिनकी नज़ीर तारीख़ में मिलना मुश्किल है और इन दोनों में आने वाली नस्लों के लिए हजारों इबरतें और हिक़मते पोशीदा है।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※  2- Khilafat e islamiya per ek Hadsa Azimiya  ※*
◈ Hazrat Usman Raziyallahu Anhu ki shahadat se fitno ka ek gair munqata silsila shuru ho jata he, isme munafikeen ki saazish, bhole bhale musalmano ke jazbaat se khelne ke waq’aat pesh aate hai’n, Musalmano ki aapas me talware chalti hai’n, musalman bhi wo Jo khairul khalaiq ba’adal ambiya kehlane ke mustahik hai’n,
◈ Khilafat ka silsila jab Ameer Muaviya Raziyallahu Anhu per pahunchta he to khilafate Rashida ka rang nahi rehta mulkiyat ki surat paida ho jati he, Ameer Muaviya Raz.ko mashwara diya jata he k zamana sakht fitno ka he, Aap apne baad ke liye koi esa intezam kare’n k musalmano me fir talware na nikle aur khilafate islamiya para para hone se bach jaye,
Halaat ke aitbaar se yaha’n tak koi gair shara’i namaqool baat bhi na thi,
◈ Lekin iske saath hi Aapke bete Yazeed ka naam Aapke baad khilafat ke liye pesh kiya jata he, Kufa ke 40 khushamad pasand log aate hai’n ya bheje jate hai’n k Ameer Muaviya Raz.se iski darkhwast kare’n k Aapke baad Aapke bete Yazeed se koi qabil aur milqi siyasat ka maahir nazar nahi aata, isliye baite khilafat ki jaye, Hazrat Muaviya Raz.ko shuru me kuchh ta’amul bhi hota he to Aapne makhsoos logo se mashwara kiya, unme ikhtilaf hota he, koi muwafqat me raay deta he aur koi mukhalfat me, Yazeed ka fisq v fijoor bhi us waqt khula nahi tha, bil akhir baite Yazeed ka qasd kiya jata he aur islaam per ye pehla haadsa azeem he k khilafate nabuwat mulqiyat me muntakil ho jati he,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 182*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
         *▣ शहीदे कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 2- खिलाफते इस्लामिया पर एक हादसा अज़ीमिया ※*
★__ हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु की शहादत से फितनों का एक गैर मुंक़ता सिलसिला शुरू हो जाता है इसमें मुनाफिकीन की साजिशें,भोले भाले मुसलमानों के जज़बात से खेलने के वाक़यात पेश आते हैं ।मुसलमानों की आपस में तलवारें चलती हैं, मुसलमान भी वो जो खैरुल खलाइक़ बा'दल अंबिया कहलाने के मुस्तहिक़ हैं ।
★_खिलाफत का सिलसिला जब अमीर मुआविया रजियल्लाहु अन्हु पर पहुंचता है तो खिलाफते रशीदा का रंग नहीं रहता मुल्कियत की सूरत पैदा हो जाती है । अमीर मुआविया रजियल्लाहु अन्हु को मशवरा दिया जाता है कि ज़माना सख्त फित्नों का है आप अपने बाद के लिए कोई ऐसा इंतजाम करें कि मुसलमानों में फिर तलवारे ना निकले और खिलाफते इस्लामिया पारा पारा होने से बच जाए।
हालात के एतबार से यहां तक कोई गैर शरई नामाकू़ल बात भी ना थी।
★_ लेकिन इसके साथ ही आपके बेटे यजी़द का नाम आपके बाद खिलाफत के लिए पेश किया जाता है, कूफा के 40 खुशामद पसंद लोग आते हैं या भेजे जाते हैं ,अमीर मुआविया रजियल्लाहु अन्हु  से की दरख्वास्त करें कि आपके बाद आपके बेटे यज़ीद से कोई का़बिल और मिल्की़ सियासत का माहिर नज़र नहीं आता इसलिए बैतै खिलाफत की जाए । हज़रत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु  को शुरू में कुछ ता'मुल भी होता है तो आपने मखसूस लोगों से मशवरा किया उनमें इख्तिलाफ होता है । कोई मुवाफक़त में राय देता है और कोई मुखालफत में , यज़ीद का फिस्क़ व फिजूर भी उस वक्त खुला नहीं था , बिल आखिर बैते यज़ीद का क़स्द किया जाता है और इस्लाम पर यह पहला हादसा अजी़म है कि ख़िलाफते नबुवत मुल्क़ियत में मुन्तक़िल हो जाती है।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 3- Islam per Bait aur Yazeed ka Waq’aa  ※*
◈ Shaam v Iraaq me maloom nahi kis tarah khushamad pasand logo ne Yazeed ke liye bait ka charcha kiya aur ye shohrat di gayi k Shaam v Iraaq, Kufa v Basra vagera Yazeed ki bait per mutfiq ho gaye, Ab Hijaaz ki taraf rukh kiya gaya, Hazrat Muaviya Raziyallahu Anhu ki taraf se Ameere Makka v Madina ko is kaam ke liye mamoor kiya gaya,
◈ Madina ka Aamil Marvaan tha, usne khutba diya aur logo se kaha k,
“Amirul Momineen Muaviya Raz.Hazrat Abu Bakar Raziyallahu Anhu, Hazrat Umar Raziyallahu Anhu ki sunnat ke mutabik ye chahte hai’n k apne baad ke liye Yazeed ki khilafat per Bait li jaye, ”
Hazrat Abdurrahman bin Abi Bakar Raziyallahu Anhu khade hue aur kaha,
” Ye galat he,  Ye Hazrat Abu Bakar aur Hazrat Umar Raz.ki sunnat nahi balki Kisra aur Qaisar ki sunnat he, Abu Bakar aur Umar Raz. ne khilafat apni aulaad me muntqil nahi ki aur na hi apne qunba v rishte me ki, ”
◈ Hijaaz ke aam musalmano ki nazre’n ahle bait per khususan Hazrat Husain Raziyallahu Anhu per lagi hui thi, jinko Hazrat Muaviya Raz.ke baad khilafat ke mustahik samajhte the, Wo isme Hazrat Husain Raz.Hazrat Abdullah bin Umar Raz.Hazrat Abdurrahman bin Abi Bakar Raz.Hazrat Abdullah bin Zubair Raz.Hazrat Abdullah bin Abbas Raz.ki raay ke muntzir the, k ye kya karte hai’n,
◈ in Hazraat ke saamne avval to kitaab v sunnat ka ye usool tha k khilafate islamiya khilafate nabuwat he, isme virasat ka koi kaam nahi k baap ke baad beta khalifa ho, balki zaruri he k azaadana intkhaab se khalifa ka taqarrur kiya jaye,
◈ Doosre Yazeed ke zaati halaat bhi iski ijazat nahi dete the k usko tamaam mumaliq islamiya ka khalifa maan liya jaye, in Hazraat ne is saazish ki mukhalfat ki aur unme se aksar akhir dam tak mukhalfat per hi rahe, isi haq goi aur himayate haq ke nateejo me Makka v Madina me, Kufa v Karbala me qatle aam ke waq’aat pesh aaye,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 183*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ इस्लाम पर बैत और यज़ीद का वाक़्या ※*
★__ शाम वे इराक में मालूम नहीं किस तरह खुशामद पसंद लोगों ने यजी़द के लिए बैत का चर्चा किया और यह शोहरत दी गई कि शाम व इराक ,कूफा व बसरा वगैरा यजी़द की बैत पर मुत्तफिक़ हो गए, अब हिजाज़ की तरफ रुख किया गया । हजरत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु  की तरफ से अमीरे मक्का व मदीना को इस काम के लिए मामूर किया गया।
★_ मदीना का आमिल मरवान था , उसने खुतबा दिया और लोगों से कहा की :- अमीरुल मोमिनीन मुआविया रजियल्लाहु अन्हु , हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु की सुन्नत के मुताबिक यह चाहते हैं कि अपने बाद के लिए यजी़द की खिलाफत पर बैत ली जाए ।"
हजरत अब्दुल रहमान बिन अबी बकर रजियल्लाहु अन्हु खड़े हुए और कहां यह गलत है यह हजरत अबू बकर और हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हुम की सुन्नत नहीं बल्कि किसरा और कैसर की सुन्नत है ,अबू बकर और उमर रजियल्लाहु अन्हुम ने खिलाफत अपनी औलाद में मुन्तक़िल नहीं की और ना ही अपने क़ुंबे व रिश्ते में की।
★_ हिजाज़ के आम मुसलमानों की नज़रें अहलेबैत पर खुसूसन हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु पर लगी हुई थी जिनको हजरत मुआविया रजियल्लाहु के बाद खिलाफत के मुस्तहिक़ समझते थे । वो इसमें हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, हजरत अब्दुल्लाह बिन उमर रजियल्लाहु अन्हु, हजरत अब्दुर्रहमान बिन अबी बकर रजियल्लाहु अन्हु, हजरत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रजियल्लाहु अन्हु, हजरत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रजियल्लाहु अन्हु की राय के मुंतजिर थे कि यह क्या करते हैं ।
★_ इन हज़रात के सामने अव्वल तो किताब व सुन्नत का यह उसूल था कि खिलाफत ए इस्लामिया खिलाफत ए नबूवत है। इसमें विरासत का कोई काम नहीं कि बाप के बाद बेटा खलीफा हो बल्कि ज़रूरी है की आजा़दाना इंतखाब से खलीफा का तक़र्रूर किया जाए।
★_दूसरे यज़ीद के जा़ती हालात भी इसकी इजाजत नहीं देते थे कि उसको तमाम मुमालिके इस्लामिया का खलीफा मान लिया जाए । इन हज़रात ने इस साजिश की मुखालफत की और इनमें से अक्सर आखिर दम तक मुखालफत पर ही रहे । इसी हक़ गोई और हिमायते हक़ के नतीजों में मक्का और मदीना में , कूफा व कर्बला में क़त्लेआम के वाक़यात पेश आए।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※  4- Hazrat Muaviya Raziyallahu Anhu Madina me  ※*
◈ Hazrat Muaviya Raziyallahi Anhu ne khud 51 hijri me Hijaaz ka safar kiya, Madina taiyaba tashreef laye, in sab hazraat se naram v garam guftgu hui, sabne khule tor per mukhalfat ki,
▣ 5- Ummul Momineen Hazrat Ayesha Raziyallahu Anha se shikayat aur unki Nasihat▣
◈_ Ameer Muaviya Raziyallahu Anhu  Hazrat Ayesha Raziyallahu Anha ke paas tashreef le gaye aur unse ye shikayat k ye Hazraat meri mukhalfat karte hai’n,
Hazrat Ayesha Raz.ne nasihat ki k mene suna he aap unper jabar karte hai’n aur qatl ki dhamki dete hai’n, Aapko hargiz esa nahi karna chahiye,
Hazrat Muaviya Raz. ne farmaya k ye galat he, ye Hazraat mere nazdeek wajibul ahatraam hai’n, me kabhi esa nahi kar sakta, lekin baat ye he k Shaam aur Iraaq aur aam islami shehro ke basinde Yazeed ki bait per mutfiq ho chuke hai’n, Baite khilafat mukammal ho chuki he, Ab ye chand Hazraat mukhalfat kar rahe hai’n, Ab aap hi batlaiye k musalmano ka kalma ek shakhs per mutfiq ho chuka he aur bait mukammal ho chuki he, kya me is bait ko mukammal hone ke baad tod du,?
Hazrat Ayesha Raz. ne farmaya, ye to aapki raay he aap jaane, lekin me ye kehti hu’n k in Hazraat per tashaddud na kijiye, ahatraam v rafaq ke saath inse guftgu kijiye,
Hazrat Muaviya Raz. ne inse vaada kiya k me esa hi karunga,
*® Ibne Kaseer,*
Hazrat Husain Raziyallahu Anhu,  Hazrat Abdullah bin Zubair Raz.,Hazrat Muaviya Raz.ke qayaam Madina ke zamane me ye mehsoos karte the k hume majboor kiya ja’ega, isliye ma’a ahal v ayaal Makka Mukarrama pahunch gaye, Hazrat Abdullah bin Umar Raz.aur Hazrat Abdurrahman bin Abi Bakar Raz. hajj ke liye Makka Mukarrama tashreef le gaye,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 184*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
  *※4- हज़रत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु मदीना में ※*
★__ हज़रत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु ने खुद 51 हिजरी में हिजाज़ का सफर किया मदीना तैयबा तशरीफ लाए, इन सब हज़रात से नारम व गरम गुफ्तगू हुई , सब ने खुले तौर पर मुखालफत की।
  *※ 5- उम्मुल मोमिनीन हज़रत आयशा रजियल्लाहु अन्हा से शिकायत और उनकी नसीहत ※*
★__ अमीर मुआविया रजियल्लाहु अन्हु हजरत आयशा रजियल्लाहु अन्हा के पास तशरीफ ले गए और उनसे शिकायत की कि यह हज़रात मेरी मुखालफत करते हैं ।
हज़रत आयशा रजियल्लाहु अन्हा ने नसीहत की कि मैंने सुना है आप उन पर जबर करते हैं और क़त्ल की धमकी देते हैं आपको हरगिज़ ऐसा नहीं करना चाहिए।
हज़रत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु ने फरमाया -यह गलत है यह हज़रात मेरे नज़दीक वाजिबुल अहतराम है मैं कभी ऐसा नहीं कर सकता लेकिन बात यह है कि शाम और इराक और आम इस्लामी शहरों के बाशिंदे यजी़द की बैत पर मुत्तफिक़ हो चुके हैं बैते खिलाफत मुकम्मल हो चुकी है , अब यह चंद हज़रात मुखालफत कर रहे है,  अब आप ही बताइए मुसलमानों का कलमा एक शख्स पर मुक्तफिक़ हो चुका और बैत मुकम्मल हो चुकी है क्या मैं इस बैत को मुकम्मल होने के बाद तोड़ दूं ?
हजरत आयशा रजियल्लाहु अन्हा ने फरमाया - यह तो आपकी राय है आप जाने , लेकिन मैं यह कहती हूं कि इन हज़रात पर तशद्दुद ना कीजिए , अहतराम व रफाक़ के साथ इनसे गुफ्तगू कीजिए।
हजरत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु ने इनसे वादा किया कि मैं ऐसा ही करूंगा ।
*( इब्ने कसीर )*
★__ हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, हजरत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हु, हजरत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु के क़यामे मदीना के ज़माने में यह महसूस करते थे कि हमें मजबूर किया जाएगा इसलिए मय अहलो अयाल मक्का मुकर्रमा पहुंच गए। अब्दुल्लाह बिन उमर रजियल्लाहु अन्हु और हजरत अब्दुर्रहमान बिन अबी बकर रजियल्लाहु अन्हु हज के लिए मक्का मुकर्रमा तशरीफ ले गए।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※  6- Hazrat Abdullah bin Umar Raziyallahu Anhu ka khutba  ※*
◈ Aapse pehle bhi khulfa the aur unke bhi aulaad thi, Aapka beta kuchh unke beto se behtar nahi, magar unhone apne beto ke liye wo raay qaa’im nahi ki Jo Aap apne bete ke liye kar rahe hai’n balki unhone musalmano ke ijtmai faayde ko saamne rakha, Aap mujhe tafreeq millat se darate hai’n, so Aap yaad rakhe k me firkabeen musalemeen ka sabab hargiz nahi banunga, Musalmano ka ek fard hu’n agar sab musalman kisi raay per pad gaye to me bhi unme shamil rahunga,”
◈ iske baad Hazrat Abdurrahman bin Abi Bakar Raz. se is maamle me guftgu farmai, unhone shiddat se inkaar kiya k me kabhi isko qubool nahi karunga, Fir Hazrat Abdullah bin Zubair Raz.ko bulakar khitab kiya unhone bhi wesa hi jawab diya,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 185*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
  *※ 6- हज़रत अब्दुल्लाह बिन उमर रजियल्लाहु अन्हु का खुत्बा ※*
★__ आपसे पहले भी खुलफा थे और उनके भी औलाद थी आपका बेटा कुछ उनके बेटों से बेहतर नहीं मगर उन्होंने अपने बेटों के लिए वह राय का़यम नहीं की जो आप अपने बेटे के लिए कर रहे हैं बल्कि उन्होंने मुसलमानों के इज्तिमाई फायदे को सामने रखा । आप मुझे तफरीक़े मिल्लत से डराते हैं सो आप याद रखें कि मैं फिरकाबीन मुस्लिमीन का सबब हरगिज़ नहीं बनूंगा मुसलमानों का एक फर्द हूं अगर सब मुसलमान किसी राय पर पड़ गए तो मैं भी उनमें शामिल रहूंगा।
★_इसके बाद हज़रत अब्दुर्रहमान बिन अबी बकर रजियल्लाहु अन्हु से इस मामले में गुफ्तगू फरमाई उन्होंने शिद्दत से इनकार किया कि मैं कभी इसको क़ुबूल नहीं करूंगा फिर अब्दुल्लाह बिन जु़बेर रजियल्लाहु अन्हु  को बुलाकर खिताब किया उन्होंने भी वैसा ही जवाब दिया।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 7- Ijtimai Tor per Hazrat Muaviya Raziyallahu Anhu ko Sahi Mashvara ※*
◈ iske baad Hazrat Husain Raziyallahu anhu aur Hazrat Abdullah bin Zubair Raziyallahu anhu ne khud jakar Hazrat Muaviya Raz.se mile aur unse kaha k Aapke liye ye kisi tarah bhi munasib nahi k Aap apne bete Yazeed ke liye bait per israar kare, Hum Aapke saamne 3 surate rakhte hai’n, Jo Aapke peshruo ki sunnat he,
⇨ 1- Aap wo kaam kare’n Jo Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ne kiya k apne baad kisi ko mutaiyan nahi farmaya balki musalmano ki aam raay per chhod diya,
⇨ 2- ya wo kaam kare’n Jo Hazrat Abu Bakar Raziyallahu Anhu ne kiya k ek ese shakhs ka naam pesh kiya jo na to unke khandan ka he, na unka koi qareebi rishtedar he aur uski ahliyat per bhi sab musalman mutfiq he,
⇨ 3- Ya wo Surat akhtyar kare’n Jo Hazrat Umar Raziyallahu Anhu ne ki k apne baad ka maamla 6 aadmiyo per chhod diya,
Iske siva hum koi chothi surar nahi samajhte, na qubool karne ke liye taiyaar hai’n, Magar Hazrat Muaviya Raz.ko is per israar raha k ab to Yazeed ke haath per Bait mukammal ho chuki he aur iski mukhalfat aap logo ko jaa’iz nahi,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 185*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 7- इज्तिमाई तौर पर हज़रत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु को सही मशवरा ※*
★__ इसके बाद हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु और हजरत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रजियल्लाहु अन्हु  खुद जाकर हजरत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु से मिले और उनसे कहा कि -आपके लिए यह किसी तरह भी मुनासिब नहीं कि आप अपने बेटे यजीद के लिए बैत पर इसरार करें हम आपके सामने तीन सूरते रखते हैं जो आपके पेशरू की सुन्नत है :-
★_१_आप वह काम करें जो रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने किया कि अपने बाद किसी को मुतैयन नहीं फरमाया बल्कि मुसलमानों की आम राय पर छोड़ दिया।
★_२_या वह काम करें जो हजरत अबू बकर रजियल्लाहु अन्हु ने किया कि एक ऐसे शख्स का नाम पेश किया जो ना तो उनके खानदान का है ना उनका कोई क़रीबी रिश्तेदार है और उसकी अहलियत पर भी सब मुसलमान मुत्तफिक़ है।
★_३_या वह सूरत अख्तियार करें जो हजरत उमर रजियल्लाहु अन्हु ने की कि अपने बाद का मामला 6 आदमी पर छोड़ दिया।
"_ इसके सिवा हम कोई चौथी सूरत नहीं समझते ना क़ुबूल करने के लिए तैयार हैं।
★_मगर हजरत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु को इस पर इसरार रहा कि अब तो यजीद के हाथ पर बैत मुकम्मल हो चुकी है और इसकी मुखालफत आप लोगों को जायज़ नहीं।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※  8- Hazrat Muaviya Raziyallahu Anhu ki Wafaat aur Yazeed ko Nasihat  ※*
◈ Wafaat se pehle Hazrat Muaviya Raz.ne Yazeed ko kuchh vasiyate farmai, inme ek ye bhi thi k mera andaza ye he k ahle Iraaq Hazrat Husain Raz.ko tumhare khilaf amaada karenge, agar esa ho aur muqable me tum kamyaab ho jao to unse darguzar karna aur unki qarabate Rasulullah ka pura ahatraam karna, unka sab musalmano per bada haq he,
*▣ 9- Yazeed ka Khat Waleed ke naam ▣*
◈ Yazeed ne takhte khilafat per aate hi waali Madina Waleed bin Utba bin Abi Sufiyan ko khat likha k Hazrat Husain Raz, Hazrat Abdullah bin Umar Raz.aur Hazrat Abdullah bin Zubair Raz.ko baite khilafat per majboor kare aur unhe is maamle me mohlat na de,
◈ waleed ne Marvaan bin Hakam ke mashvare se usi waqt in Hazraat ko bulawa bheja, to Hazrat Husain Raz. apni zakawat se puri baat samajh gaye k lagta he Ameer Muaviya Raz. ka inteqal ho gaya he aur ye log chahte hai’n k inteqal ki khabar mashoor hone se pehle hume Yazeed ki bait per majboor karenge,
◈ Hazrat Husain Raziyallahu Anhu Waleed ke paas pahunche to usne Yazeed ka khat saamne rakh diya, Hazrat Husain Raz. ne Hazrat Muaviya Raz.ke inteqal per izhare afsos kiya aur bait ke mutalliq farmaya k ,
⇨ “mere jese aadmi ke liye ye munasib nahi k khilwat me poshida tor per Bait kar lu’n, munasib ye he k Aap sabko jama kare’n aur sabke saamne baite khilafat ka maamla rakhe,”
→ Waleed ne isko qubool kiya aur Hazrat Husain Raz. ko wapsi ki ijazat de di,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 40*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 8- हजरत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु की वफात और यज़ीद को नसीहत ※*
★__ वफात से पहले हजरत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु ने यज़ीद को कुछ वसीयतें फरमाई इनमें एक यह भी कि मेरा अंदाजा यह है अहले इराक़ हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु को तुम्हारे ख़िलाफ़ आमादा करेंगे, अगर ऐसा हो और मुकाबले में तुम कामयाब हो जाओ तो उनसे दर गुज़र करना और उनकी क़राबते रसूलुल्लाह का पूरा एहतराम करना उनका सब मुसलमानों पर बड़ा हक है।
*※ 9- यज़ीद का खत वलीद के नाम *※*
★__ यजीद ने तख्ते खिलाफत पर आते ही वाली मदीना वलीद बिन उतबा बिन अबी सुफियान को खत लिखा हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु हजरत अब्दुल्लाह बिन उमर रजियल्लाहु अन्हु और हजरत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रजियल्लाहु अन्हु को बैते खिलाफत पर मजबूर करें और उन्हें इस मामले में मोहलत ना दे।
★_ मजीद ने मरवान बिन हाकम के मशवरे से उसी वक्त इन हज़रात को बुलवा भेजा तो हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु  अपनी ज़क़ावत से पूरी बात समझ गए कि लगता है अमीरे माविया रजियल्लाहु अन्हु का इंतकाल हो गया है और यह लोग चाहते हैं कि इंतकाल की खबर मशहूर होने से पहले हमें यज़ीद की बैत पर मजबूर करेंगे।
★_हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु वलीद के पास पहुंचे तो उसने यजीद का खत सामने रख दिया । हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु ने हजरत मुआविया रजियल्लाहु अन्हु के इंतकाल पर इजहार ए अफसोस किया और बैत के मुताल्लिक फरमाया कि मेरे जैसे आदमी के लिए यह मुनासिब नहीं की खिलवत में पोशीदा तौर पर बैत कर लूं, मुनासिब है कि आप सबको जमा करें और सबके सामने बैते खिलाफत का मामला रखें ।
वलीद ने इसको क़ुबूल  किया और हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु को वापसी की इजाज़त दे दी ।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 10- Hazrat Husain Raz. aur Hazrat Abdullah bin Zubair Raz. Makka chale gaye  ※*
◈ Hazrat Abdullah bin Zubair Raz. apne bhai Jaafar Raz.ko saath lekar raato raat Madina chhod kar nikal gaye, Hazrat Husain Raz. ne bhi yahi surat akhtyar ki aur apni aulaad, mutalliqeen ko lekar Madina se nikal gaye aur Makka Mukarrama pahunch kar panaah li,
◈ Yazeed ko jab ye pata chala to usne Waleed ko hatakar Amr bin Sa’ad ko Ameer Madina bana diya aur uski pulis ka afsar Hazrat Abdullah bin Zubair Raz.ke bhai Amru bin Zubair ko banaya kyuki use maloom tha k dono bhaiyo me shadeed ikhtilaf he,
⇨Ye in Hazraat ki giraftari ke liye 2 hazaar jawano ko lekar Makka rawana hua aur Makka se bahar qayaam karke apne bhai Abdullah bin Zubair Raz. ke paas giraftari ke liye aadmi bheje k unhe Yazeed ka hukm he, Mai'n munasib nahi samajhta k Makka Mukarrama ke andar qitaal ho,
◈_Hazrat Abdullah bin Zubair Raz. ne apne chand nojawano ko muqable ke liye bhej diya jinhone unko shikast di aur Amru bin Sa’ad ne Ibne Alqama ke ghar me panah li,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 186*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 10- हज़रत हुसैन रजि़यल्लाहु अन्हु और हज़रत अब्दुल्लाह बिन ज़ुबैर रज़ियल्लाहु अन्हु मक्का चले गए ※*
★__ हज़रत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हु अपने भाई जाफर रज़ियल्लाहु अन्हु को साथ लेकर रातों-रात मदीना छोड़कर निकल गए। हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु ने भी यही सूरत अख्तियार की और अपनी औलाद , मुताल्लिक़ीन को लेकर मदीना से निकल गए और मक्का मुक़र्रमा पहुंचकर पनाह ली ।
★_ यज़ीद को जब यह पता चला तो उसने वलीद को हटाकर अमर् बिन सा'द को अमीरे मदीना बना दिया और उनकी पुलिस का अफसर हजरत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हु के भाई अमरु बिन जुबेर को बनाया क्योंकि उसे मालूम था कि दोनों भाइयों ने शदीद इख्तिलाफ है।
★_ यह इन हज़रात की गिरफ्तारी के लिए 2000 जवानों को लेकर मक्का रवाना हुआ और मक्का से बाहर क़याम करके अपने भाई अब्दुल्लाह बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हू के पास गिरफ्तारी के लिए आदमी भेजें कि उन्हें यजीद का हुक्म है , मैं मुनासिब नहीं समझता कि मक्का मुकर्रमा के अंदर क़िताल हो।
★_ हजरत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हु ने अपने चंद नौजवानों को मुकाबले के लिए भेज दिया जिन्होंने उनको शिकस्त दी और अमरू बिन सा'द ने इब्ने अल्क़मा के घर में पनाह ली ।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 11- Ahle Kufa ke Khutoot ※*
◈ idhar jab ahle kufa ko Hazrat Muaviya Raziyallahu anhu ki Wafaat ki khabar mili aur ye k Hazrat Husain Raziyallahu Anhu aur Hazrat Abdullah bin Zubair Raziyallahu anhu vagera ne baite Yazeed se inkaar kar diya to kuchh Shiya Suleman bin Sard khazai ke makaan per jama hue aur Hazrat Husain Raz. Ko khat likha k hum bhi Yazeed ke haath per Bait per taiyar nahi, Aap foran kufa aa jaye, Hum sab aapke haath per Bait karenge,
◈ iske 2 roz baad isi mazmoon ka khat likha aur doosre khutoot Hazrat Husain Raz. ke paas bejhe aur chand vafood bhi pahunche, Hazrat Husain Raz. vafood aur khatoot se mutassir hue magar hikmat aur danishmandi se ye kiya k bajaye khud Jane ke apne chachazad bhai Hazrat Muslim bin Aqeel ko kufa rawana kiya taki halaat ki tehqeeq ho,
⇨ Muslim bin Aqeel kufa pahunchkar Mukhtar ke ghar muqeem hue, chand roz ke qayaam se ye andaza laga liya k yaha’n ke aam musalman Hazrat Husain Raz.ki bait ke liye bechen hai’n, Aapne ye dekhkar Hazrat Husain Raz.ke liye baite khilafat shuru kar di, Chand roz me hi sirf Kufa se 18 hazaar musalmano ne Hazrat Husain Raz.ke liye bait kar li, aur ye silsila chalta raha,
⇨ Jab Muslim bin Aqeel ko ye itminan ho gaya k Hazrat Husain Raz.tashreef la’enge to beshak pura Iraaq unki bait ko aa jaega, unhone Hazrat Husain Raz.ke Kufa aane ki dawat de di,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 189*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 11- अहले क़ूफा के खुतूत  ※*
★__ इधर जब अहले क़ूफा को हजरत माविया रजियल्लाहु अन्हु की वफात की खबर मिली और यह कि हजरत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु और हजरत अब्दुल्लाह बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हु वगैरह ने बैते यजीद से इनकार कर दिया तो कुछ शिया सुलेमान बिन सर्द खज़ाई के मकान पर जमा हुए और हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु को खत लिखा कि हम भी यजीद के हाथ पर बैत पर तैयार नहीं, आप फौरन क़ूफा आ जाएं हम सब आपके हाथ पर बैत करेंगे ।
★__ इसके दो रोज़ बाद इसी मज़मून का खत लिखा और दूसरे खुतूत हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु के पास भेजे और चंद वफूद भी पहुंचे, हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु वफूद और खुतूत से मुतास्सिर हुए मगर हिकमत और दानिशमंदी से यह किया की बजाय खुद जाने के अपने चचाजाद भाई हजरत मुस्लिम बिन अक़ील को क़ूफा रवाना किया ताकि हालात की तहकी़क हो।
★_ मुस्लिम बिन अकी़ल क़ूफा पहुंचकर मुख्तार के घर में क़याम हुए चंद रोज के क़याम से ये अंदाजा लगा लिया कि यहां के आम मुसलमान हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु की बैत के लिए बेचैन है आपने यह देखकर हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु के लिए बैते खिलाफत शुरू कर दी। चंद रोज में हीं सिर्फ क़ूफा से 18000 मुसलमानों ने हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु के लिए बैत कर ली और यह सिलसिला चलता रहा।
★_ जब मुस्लिम बिन अकी़ल को यह इतमिनान हो गया कि हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु तशरीफ लाएंगे तो बेशक पूरा इराक उनकी बैत को आ जाएगा , उन्होंने हज़रत हुसैन रजि़यल्लाहु अन्हु को क़ूफा आने की दावत दे दी ।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
      *※ 12- Halaat me Inqlaab ※*
◈ Magar ye khat likhe Jane ke baad Kufa se kisi ne ek khat Yazeed ko bhej diya jisme Muslim bin Aqeel ke aane aur Hazrat Husain Raz.ke liye bait lene ka waq’aa zikr kiya gaya,
⇨ Yazeed ne ek farman nikaal kar Kufa ka Ameer Abdullah bin Ziyaad ko mukarrar kiya aur khat likha k Muslim bin Aqeel ko giraftaar kare aur qatl kare ya Kufa se nikaal de,
*▣ 13- Hazrat Husain Raziyallahu Anhu ka Khat Ahle Basra ke Naam ▣*
◈ idhar Hazrat Husain Raz.ka ek khat ahle Basra ke naam pahuncha jiska mazmoon ye tha,
” Aap log dekh rahe hai’n k Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ki sunnat mit rahi he aur bid’at felayi ja rahi he, Mai'n tumhe dawat deta Hu'n k kitabullah aur sunnate Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ki hifazat Karo aur uske ahkaam ki tanfeez ke liye koshish Karo, ‘”
◈ Lekin Jo shakhs khat lekar aaya tha, usko ibne Ziyaad ke saamne pesh kar diya gaya, Ibne Ziyaad ne us qasid ko qatl kar diya aur tamaam ahle Basra ko jama karke kaha,
⇨ ” Jo shakhs meri mukhalfat kare me uske liye azaabe aleem hu aur Jo muwafqat kare uske liye raahat hu,”
iske baad Yazeed ka hukm pakar Kufa ke liye rawana ho gaya,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 189*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
  *※ 12- हालात में इंकलाब  ※*
★__ मगर यह खत लिखे जाने के बाद क़ूफा से किसी ने एक खत यज़ीद को भेज दिया जिसमें मुस्लिम बिन अकी़ल के आने और हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु के लिए बैत लेने का वाकि़या जिक्र किया गया ।
★_ यजीद ने फरमान निकालकर क़ूफा के अमीर अब्दुल्लाह बिन जि़याद को मुकर्रर किया और खत लिखा कि मुस्लिम बिन अकी़ल को गिरफ्तार करें और कत्ल करें या क़ूफा से निकाल दें।
  *※_13- हज़रत हुसैन रजि़यल्लाहु अन्हु का खत अहले बसरा के नाम ※*
★__ इधर हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु  का एक खत अहले बसरा के नाम पहुंचा जिसका मज़मून यह था :- आप लोग देख रहे हैं कि रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम की सुन्नत मिट रही है और बिद'अत फैलाई जा रही है । मैं तुम्हें दावत देता हूं कि किताबुल्लाह और सुन्नते रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की हिफाज़त करो और उसके एहकाम की तनफीज़ के लिए कोशिश करो।"
★_ लेकिन जो शख्स खत लेकर आया था उसको इब्ने जियाद के सामने पेश कर दिया गया । इब्ने जियाद ने उस क़ासिद को क़त्ल कर दिया और तमाम अहले बसरा को जमा करके कहा :-
"_ जो शख्स मेरी मुखालफत करें मैं उसके लिए अज़ाबे अलीम हूं और जो मुवाफक़त करें उसके लिए राहत हूं ।"
_ इसके बाद यज़ीद का हुक्म पाकर फूफा के लिए रवाना हो गया।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 14- Ibne Ziyaad Kufa me ※*
◈ Kufa ke log Hazrat Husain Raziyallahu Anhu ki aamad ke muntzir the aur unme se bahut se log unhe pehchante bhi nahi the,
⇨ Jab ibne Ziyaad kufa pahuncha to to un logo ne yahi samjha k Hazrat Husain Raz.hai’n, wo jis majlis se guzarta ye kehkar istaqbal karte the, Marhaba ya ibne Rasulullah,
⇨ Ibne Ziyaad ye manzar khamoshi se dekhta aur dil me kudta tha k Kufa Per Hazrat Husain Raz. ka pura tasallut ho chuka he, Agle roz subeh ibne Ziyaad ne ahle kufa ko jama karke ek taqreer ki,
*▣ 15- Muslim bin Aqeel Raziyallahu Anhu ke Tassuraat ▣*
◈ Muslim bin Aqeel Raz. ne  jab ibne Ziyaad ke aane ki khabar suni to unhe khatra hua aur unhone Mukhtar bin Abi Ubed ka ghar chhodkar Hani bin Urva ke makaan per  panah li,
⇨ittefaqan Haani bin Urva bimar hue aur ibne Ziyaad unki bimari ki khabar pakar ayadat ke liye unke ghar pahuncha,Us waqt Umar bin Abd Salvi be kaha k mauka ganimat he k is waqt dushman ( Ibne Ziyaad) tumhare qaabu me he, qatl karado, lekin Haani bin Urva ne kaha k ye sharafat ke khilaf he k me usko apne ghar me qatl karu,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 192*
http://www.haqqkadaayi.com/2019/09/shahadat-e-husain-raz.html?m=0
* For Download Book _,*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
          *※ 14- इब्ने जियाद क़ूफा में ※*
★__ क़ूफा के लोग हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु की आमद के मुंतजिर थे और उनमें से बहुत से लोग उन्हें पहचानते भी नहीं थे। जब इब्ने जियाद क़ूफा पहुंचा तो उन लोगों ने यही समझा कि हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु है , वह जिस मजलिस से गुज़रता यह कहकर इस्तकबाल करते थे- मरहबा या इब्ने रसूलुल्लाह।
★_ इब्ने जियाद यह मंजर खामोशी से देखता और दिल में कुड़ता था कि कूफा पर हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु का पूरा तसल्लुत हो चुका है अगले रोज़ सुबह इब्ने जि़याद ने अहले क़ूफा को जमा करके एक तकरीर की ।
*※ 15- मुस्लिम बिन अकी़ल रज़ियल्लाहु अन्हु के तास्सुरात ※*
★__ मुस्लिम बिन अकील रजियल्लाहु अन्हु ने जब इब्ने जियाद के आने की खबर सुनी तो उन्हें खतरा हुआ और उन्होंने मुख्तार बिन अबी उबेद का घर छोड़ कर हानी बिन उरवा के मकान पर पनाह ली।
★_ इत्तेफाकन हानी बिन उरवा बीमार हुए और इब्ने जियाद उनकी बीमारी की खबर पाकर इयादत के लिए उनके घर पहुंचा। उस वक्त उमर बिन अब्द सालवी ने कहा कि मौका गनीमत है इस वक्त दुश्मन( इब्ने जियाद ) तुम्हारे का़बू में है कत्ल करा दो लेकिन हानी बिन उरवा ने कहा कि यह शराफत के खिलाफ है कि मैं उसको अपने घर में कत्ल करूं ।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※*16- Ahle Haq me aur Ahle Baatil me Farq ※*
◈ Muslim bin Aqeel Raz.se bhi kaha gaya k is faazir ko qatl kar de’n fir Aap mutmain hokar kasre imarat per bethe, magar unhone ye munasib nahi samajhta,
◈ Yaha’n ye baat qabile gor he k Muslim bin Aqeel Raz.ko apni maut saamne nazar aa rahi he aur na sirf apni balki pure khandaan Ahle bait ki maut bhi aur iske saath ek sahi islami maqsad ki nakaami bhi dekh rahe hai’n,
⇨ aur jis shakhs ke haatho ye sab kuchh hone wala he wo is tarah unke saamne he k bethe bethe usko qatl kar sakte hai’n, magar Ahle haq khususan Ahle bait ka johare sharafat aur taqazae itteba e sunnat dekhne aur yaad rakhne ke qaabil he k is waqt bhi unka haath nahi utha,
⇨ yahi ahle haq ki alaamat he k apni har harkat v sukoon aur har qadam per sabse pehle ye dekhte hai’n k Allah ta’aala aur uske Rasool ke nazdeek hamara ye qadam sahi he ya nahi,
*▣ 17- Haani bin Urva per Tashaddud v Maar peet ▣*
◈ Jab ibne Ziyaad ko Haani ke bare me pata chala k Muslim bin Aqeel Raz.ko panah di he to unko bulwakar Muslim bin Aqeel ko hawale karwane ko kaha, varna tumhe bhi qatl kar denge aur unse shadeed maar peet k gayi,
◈idhar shehar me mashhoor ho gaya k Haani bin Urva ko qatl kar diya gaya, jab ye khabar Umar bin Hijaaj ko pahunchi to wo qabila e mujajij ke bahut se jawano ko lekar mauke per pahunch gaye aur ibne Ziyaad ke makaan ka muhasba kar liya,
Ibne Ziyaad ne Qazi shareeh ko kaha k Aap bahar jaakar logo ko bataye k Haani bin Urva sahi saalim he, qatl nahi kiye gaye, me khud unko dekh kar aaya hu, Unki baat sunkar Umar bin Hijaaj ko itminaan ho gaya aur jawano ko wapas lauta diya,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 192*
    http://www.haqqkadaayi.com/2019/09/shahadat-e-husain-raz.html?m=0
* For Download Book_,*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 16- अहले हक़ और अहले बातिल में फर्क ※*
★__ मुस्लिम बिन अकी़ल रज़ियल्लाहु अन्हु से भी कहा गया की फाजिर ( इब्ने जियाद ) को क़त्ल कर दे फिर आप मुतमइन होकर कसरे इमारत पर बैठे मगर उन्होंने ये मुनासिब नहीं समझा।
★_ यहां यह बात काबिले गौर है मुस्लिम बिन अकी़ल रज़ियल्लाहु अन्हु को अपनी मौत सामने नज़र आ रही है और ना सिर्फ अपनी बल्कि पूरे खानदान अहले बैत की मौत भी और इसके साथ एक सही इस्लामी मक़सद की नाकामी ही देख रहे हैं और जिस शख्स के हाथों यह सब कुछ होने वाला है वह इस तरह उनके सामने है कि बैठे-बैठे उसको क़त्ल कर सकते हैं मगर अहले हक़ खुसूसन अहले बैत का जोहर ए शराफत और तक़ाज़ा इत्तेबा ए सुन्नत देखना और याद रखने के का़बिल है इस वक्त भी उनका हाथ नहीं उठा।
★_ यही अहले हक़ की अलामत है अपनी हर हरकत व सुकून और हर क़दम पर सबसे पहले यह देखते हैं कि अल्लाह ताला और उसके रसूल के नज़दीक हमारा यह क़दम सही है या नहीं।
  *※ 17- हानी बिन उरवा पर तशद्दुद व मारपीट ※*
★__ जब इब्ने जियाद को हानी के बारे में पता चला कि मुस्लिम बिन अकी़ल रज़ियल्लाहु अन्हु को पनाह दी है तो उनको बुलवाकर मुस्लिम बिन अकी़ल को हवाले करवाने को कहा वरना तुम्हें भी कत्ल कर देंगे और उनसे शदीद मारपीट की गई ।
★_इधर शहर में मशहूर हो गया की हानी बिन उरवा को क़त्ल कर दिया गया , जब यह खबर उमर बिन हिजाज को पहुंची तो वह क़बीला ए मुजाजीज के बहुत से जवानों को लेकर मौके पर पहुंच गए और इब्ने जियाद के मकान का मुहासबा कर लिया।
इब्ने जियाद ने का़जी शरीह को कहा कि आप बाहर जाकर लोगों को बताएं कि हानी बिन उरवा सही सालिम है, क़त्ल नहीं किया गये गये मैं खुद उनको देख कर आया हूं । उनकी बात सुन कर उमर बिन हिजाज को इतमिनान हो गया और जवानों को वापस लौटा दिया।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※18- Muslim bin Aqeel  Raziyallahu Anhu . ki bebasi ※*
◈ idhar Haani bin Urva ke qatl ki khabar Muslim bin Aqeel Raz.ko mili to wo bhi muqable ke liye taiyaar hokar nikle aur jin 18 hazaar muslmano ne unke haath per Bait ki thi unko jama kiya aur is lashkar ne ibne Ziyaad ke kasr ka muhasra kar liya,
⇨ ibne Ziyaad ke saath kasr me sirf 30 sipahi the aur kuchh khandaan ke sadaat the, ibne Ziyaad ne inme se chand ese logo ko muntkhab kiya jinka asar v rasookh unke qaba’il per tha Jo Muslim bin Aqeel Raz.ke saath shamil the,
⇨ inko kaha gaya k tum bahar jaakar apne apne halka e asar ke logo ko Muslim bin Aqeel ka saath dene se roko, maal, hukumat ka lalach dekar ya hukumat ki saza ka khof dilakar jis tarah bhi mumkin ho inko Muslim bin Aqeel se juda kar do,
◈ Idhar sadaat Shiya ko hukm diya k tum log kasr ki chhat per chadkar logo ko is bagawat se roko, Jab logo ne sadaat Shiya ki zubani baate suni to alag hona shuru ho gaye, Aurte’n apne beto, bhaiyo, shoharo ko wapas le Jane ke liye aane lagi, yaha tak k Muslim bin Aqeel Raz.ke saath sirf 30 log reh gaye aur jab waha se wapas hue to dekha k ek aadmi bhi unke saath nahi tha,to unhe ek Aurat ne apne ghar me panah di,
◈ us waqt ibne Ziyaad apne kasr se utarkar masjid me aaya aur pulis ke afsar ko hukm diya k shehar ke tamaam gali kucho ke darwazo per pehra laga do koi bahar na ja sake aur sab gharo ki talashi lo,
◈ idhar jab Aurat ke ladko ko talashi ka pata chala to unhone khud Muslim bin Aqeel Raz.ki khabar de di aur 70 sipahiyo ne unhe gher liya,unhone sabka muqabla kiya, is muqable me zakhmi ho gaye lekin unke bas me na aaye, log chhat per Chad kar un per patthar barsane lage, aur ghar me aag laga di,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 196*
       http://www.haqqkadaayi.com/2019/09/shahadat-e-husain-raz.html?m=0
* For Download Book_,*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 18-मुस्लिम बिन अकील रज़ियल्लाहु अन्हु की बेबसी ※*
★_ इधर हानी बिन उर्वा के कत्ल की खबर मुस्लिम बिन अकील रज़ि. को मिली तो वो भी मुक़ाबले के लिए तैयार हो कर निकले और जिन 18 हज़ार मुसलमानों ने उनके हाथ पर बेत की थी उनको जमा किया और इस लश्कर ने इब्ने ज़ियाद के कसर का मुहासबा कर लिया,
★_इब्ने ज़ियाद के साथ कसर में सिर्फ 30 सिपाही थे और कुछ खानदान के सादात थे, इब्ने ज़ियाद ने इनमे से चंद ऐसे लोगों को मुन्तख़ब किया जिनका असर व रसूख उनके क़बाइल पर था जो मुस्लिम बिन अकील रज़ि के साथ शामिल थे, इनको कहा गया कि तुम बाहर जाकर अपने अपने हल्का ए असर लोगों को मुस्लिम बिन अकी़ल का साथ देने से रोको ,माल ,हुकूमत का लालच देकर या हुकूमत की सज़ा का ख़ौफ़ दिलाकर जिस तरह भी मुमकिन हो इनको मुस्लिम बिन अकील से जुदा कर दो,
★_इधर सादात शिया को हुक्म दिया कि तुम लोग कसर की छत पर चढ़कर लोगों को इस बगावत से रोको , जब लोगों ने सादात शिया की जुबानी बातें सुनी तो अलग होना शुरू हो गए, औरतें अपने बेटों,भाइयों , शौहरों को वापस ले जाने के लिए आने लगी,यहां तक कि मुस्लिम बिन अकील रज़ि के साथ सिर्फ 30 लोग रह गए और जब वहां से वापस हुए तो देखा कि एक आदमी भी उनके साथ नही था,तो उन्हें एक औरत ने अपने घर मे पनाह दी,
★_उस वक़्त इब्ने ज़ियाद अपने कसर से उतरकर मस्जिद में आया और पोलिस के अफसर को हुक्म दिया कि शहर के तमाम गली कूचों के दरवाजे पर पहरा लगा दो कोई बाहर न जा सके और सब घरों की तलाशी लो,
★_इधर जब औरत के लड़कों को तलाशी के पता चला तो उन्होंने खुद मुस्लिम बिन अकील रज़ि, की खबर दे दी और 70 सिपाहियों  ने उन्हें घेर लिया, उन्होंने सबका मुक़ाबला किया, इस मुकाबले में जख्मी हो गए लेकिन उनके बस में न आए,लोग छत पर चढ़ कर उन पर पत्थर बरसाने लगे, और घर मे आग लगा दी।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 19- Muslim bin Aqeel Raz.ki giraftari  ※*
◈ Muhammad bin Asas ne pukaar kar kaha k me Aapko aman deta hu, apni jaan halakat me na dalo,
Muslim bin Aqeel Raz.tane tanha 70 sipahiyo ka muqabla karte hue zakhmo se choor choor hokar thak kar ek diwar ke sahare tik gaye, aur unki aankho se aansu beh nikle, farmaya,
” Me apni jaan ke liye nahi rota hu balki Husain Raz.aur aale Husain ki jaano ke liye ro raha hu’n, Jo meri tehreer per anqareeb kufa pahunchne wale hai’n, kam se kam meri ek baat maan lo k ek aadmi Husain Raz.ke paas foran rawana kar do Jo unko meri haalat ki ittela karke ye kahe k Aap raaste se hi lot jaye, kufa walo ke khutoot se dhokha na khaye, ye wahi log hai’n jinki bewafai se pareshan hokar Aapke walid apni maut ki tamanna kiya karte the,”
⇨Muhammad bin As’as ne vaada kiya aur vaade ke mutabik ek aadmi khat dekar  Hazrat Husain Raz.ko rokne ke liye rawana kar diya, Jis waqt ye qaasid unke paas pahuncha us waqt Hazrat Husain Raz.makaame Ziyala tak pahunch chuke the, khat padkar Aapne farmaya,
” Jo cheez ho chuki he wo hokar rahegi, hum sirf Allah ta’aala se apni jaano ka sawaab chahte hai’n aur ummat ke fasaad ki faryaad karte hai’n,”
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 196*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 19-मुस्लिम बिन अकील रज़ि. की गिरफ्तारी ※*
★_ मुहम्मद बिन असस ने पुकार कर कहा कि मैं आपको अमन देता हूँ, अपनी जान हलाकत में न डालो,
मुस्लिम बिन अकील रज़ि. तने तन्हा 70 सिपाहियों का मुकाबला करते हुए ज़ख्मों से चूर चूर होकर थक कर एक दीवार के सहारे टिक गए, और उनकी आंखों से आंसू बह निकले ,फरमाया,-
"_मैं अपनी जान के लिए नही रोता हूं बल्कि हुसैन रज़ि. और आले हुसैन की जानों के लिये रो रहा हूँ, जो मेरी तहरीर पर अनक़रीब कूफ़ा पहुंचने वाले हैं,कम से कम मेरी एक बात मान लो के एक आदमी हुसैन रज़ि. के पास फ़ौरन रवाना कर दो जो उनको मेरी हालत की इत्तेला कर के ये कहें कि आप रास्ते से ही लौट जाए,कूफ़ा वालों के खुतूत से धोखा न खाए,ये वही लोग हैं जिनकी बेवफाई से परेशान हो कर आपके  वालिद अपनी मौत की तमन्ना किया करते थे_"
★_मुहम्मद बिन असस ने वादा किया और वादे के मुताबिक एक आदमी को खत देकर हज़रत हुसैन रज़ि. को रोकने के लिए रवाना कर दिया,जिस वक्त ये क़ासिद उनके पास पहुंचा उस वक़्त हज़रत हुसैन रज़ि. मक़ामे ज़ियाला तक पहुंच चुके थे ,खत पढ़कर आपने फरमाया,
"_जो चीज़ हो चुकी है वो होकर रहेगी,हम सिर्फ अल्लाह ताला से अपनी जानों का सवाब चाहते हैं और उम्मत के फसाद की फरियाद करते हैं,,
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 20- Muslim bin Aqeel Raz.ki Shahadat aur Vasiyat ※*
◈ Muslim bin Aqeel Raz.pehle hi samajhte the k Muhammad bin As as ka amaan dena koi cheez nahi, ibne Ziyaad mujhe qatl karega,
Unhone kaha k ,
” mujhe vasiyat karne ki mohlat do, ”
ibne Ziyaad ne mohlat de di, aur unhone Amr bin Sa’ad se kaha k_“mere aur aapke darmiyan qarabat he aur me is qarabat ka vaasta dekar kehta hu’n k mujhe tumse ek kaam he, Jo raaz he wo me tanhai me bata sakta hu’n, ”
◈_ Alhida hokar Muslim bin Aqeel Raz.ne kaha k kaam ye he k mere zimme 700 dirham qarz he Jo mene kufa me fala aadmi se liye the wo meri taraf se Ada kar do,
→doosra kaam ye he k Husain Raz.ke pass ek aadmi bhej kar unko raaste se wapas kar do,
◈_ Amr bin Sa’ad ne ibne Ziyaad se vasiyat puri karne ki ijazat chahi to usne kaha, beshak Ameen aadmi kabhi khayanat nahi karta, tum inka qarz Ada kar sakte ho baqi raha Husain Raz.ka maamla so agar wo hamare muqable ke liye na aaye to hum bhi unke muqable ke liye nahi ja’enge, aur wo aaye to hum bhi muqabla karenge,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 200*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 20-मुस्लिम बिन अकील रज़ि. की शहादत और वसीयत ※*
★_मुस्लिम बिन अकील रज़ि.पहले ही समझते थे कि मुहम्मद बिन असस का अमान देना कोई चीज़ नही,इब्ने ज़ियाद मुझे क़त्ल करेगा, उन्होंने कहा कि, मुझे वसीयत करने की मोहलत दो,
इब्ने ज़ियाद ने मोहलत दे दी , और उन्होंने अम्र बिन साद से कहा के मेरे और आप के दरमियान क़राबत है और मैं इस क़राबत का वास्ता देकर कहता हूं कि मुझे तुमसे एक काम है,जो राज़ है वो मैं तन्हाई में बता सकता हूँ,
★_अलाहिदा होकर मुस्लिम बिन अकील रज़ि.ने कहा कि काम ये है कि मेरे ज़िम्मे 700 दिरहम क़र्ज़ है जो मैंने कूफ़ा में फला आदमी से लिये थे वो मेरी तरफ से अदा कर दो,दूसरा काम ये है कि हुसैन रज़ि. के पास एक आदमी भेज कर उनको रास्ते से वापस कर दो,
★_अम्र बिन साद ने इब्ने ज़ियाद से वसीयत पूरी करने की इजाज़त चाही तो उसने कहा, बेशक अमीन आदमी कभी खयानत नही करता ,तुम इनका क़र्ज़ अदा कर सकते हो बाकी रहा हुसैन रज़ि. का मामला सो अगर वो हमारे मुक़ाबले के लिए न आए तो हम भी उनके मुक़ाबले के लिए नही जाएंगे ,और वो आये तो हम भी मुक़ाबला करेंगे,
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※  21- Muslim bin Aqeel Raz.aur ibne Ziyaad ka maamla ※*
◈ Ibne Ziyaad ne kaha,
Ey Muslim!  Tune bada zulm kiya k musalmano ka nazam ek kalma tha, sab ek imaam ke taabe the, tumne aakar inme tafarruqa daala aur logo ko apne Ameer ke khilaf bagawat per aamada kiya, ”
⇨ Muslim bin Aqeel Raz.ne farmaya, k
” maamla ye nahi he balki is shehar kufa ke logo ne khutoot likhe k tumhare baap ne inke nek aur shareef logo ko qatl kar diya, unka khoon nahaq bahaya aur yaha ke awaam per kisra v qaisar jesi hukumat karni chahi, isliye hum majboor hue k adal qaa’im karne aur kitaab sunnat ke ahkaam nafiz karne ki taraf logo ko bulaye aur samjhaye, ”
⇨Is per ibne Ziyaad aur zyada bigad gaya, uske hukm ke muwafiq unko shaheed karke niche daal diya gaya,
( inna lillahi va inna ilayhi raajioun )
◈ Hazrat Muslim bin Aqeel Raziyallahu anhu ko qatl karne ke baad Haani bin Urva ko bazaar me lejakar qatl kiya gaya,
⇨Ibne Ziyaad ne in dono ke sar kaat kar Yazeed ke paas bhej diye,
⇨ Yazeed ne shukriya ka khat likha k mujhe ye khabar mili he k Husain Raz. Iraaq ke qareeb pahunch gaye hai’n, isliye jasoos saare shehar me fela do aur jis per zara bhi Husain Raz.ki taa’id ka shubha ho usko qaid kar lo magar Siva uske Jo tumse muqabla kare kisi ko qatl na Karo,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 200*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 21-मुस्लिम बिन अकील रज़ि. और इब्ने ज़ियाद का मामला _,*
★_इब्ने ज़ियाद ने कहा ,ऐ मुस्लिम!तूने बड़ा ज़ुल्म किया कि मुसलमानों का नज़्म एक कलमा था, सब एक ईमान के ताबे थे,तुमने आकर इनमे तफर्रुक़ा डाला और लोगों को अपने अमीर के खिलाफ बगावत पर आमादा किया,
मुस्लिम बिन अकील रज़ि. ने फरमाया की मामला ये नही है बल्कि इस शहर कूफ़ा के लोगों ने खुतूत लिखे की तुम्हारे बाप ने इनके नेक और शरीफ लोगों को क़त्ल कर दिया,उनका खून नाहक़ बहाया और यहां के अवाम पर किसरा व क़ैसर जैसी हुकूमत करनी चाही,इसीलिए हम मजबूर हुए के अदल क़ाइम करने और किताब सुन्नत के अहकाम नाफ़िज़ करने की तरफ लोगों को बुलाए और समझाए,
इस पर इब्ने ज़ियाद और ज़्यादा बिगड़ गया,उसके हुक्म के मुवाफिक उनको शहीद कर के नीचे डाल दिया गया,
(इन्ना लिल्लाहि व इन्ना इलैही राजिऊन)
★_हज़रत मुस्लिम बिन अकील रज़ियल्लाहु अन्हु को क़त्ल करने के बाद हानी बिन उर्वा को बाजार में ले जाकर क़त्ल किया गया, इब्ने ज़ियाद ने इन दोनों के सर काट कर यज़ीद के पास भेज दिए,
यज़ीद ने शुक्रिया का खत लिखा कि मुझे ये खबर मिली है कि हुसैन रज़ि.इराक़ के क़रीब पहुंच गए हैं,इसीलिए जासूस सारे शहर में फैला दो और जिसपर ज़रा भी हुसैन रज़ि. की ताइद का शुब्हा हो उसकों क़ैद कर लो मगर सिवाय उसके जो तुमसे मुक़ाबला करे किसी को क़त्ल न करो,
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 22- Hazrat Husain Raziyallahu Anhu ka Kufa Jane ka Azm  ※*
◈ Hazrat Husain Raz.ke pass ahle Kufa ke 150 khutoot aur bahut se vafood pehle pahunch chuke the,
→ fir Muslim bin Aqeel Raz.ne 18 hazaar muslmano ki bait ki khabar ke saath unhe kufa aane ki dawat de di thi, to Hazrat Husain Raz.ne kufa Jane ka azm kar liya,
→ lekin jab ye baat mashhoor hui to bajuz Abdullah bin Zubair Raz.ke aur kisi ne bhi kufa Jane ka mashwara nahi diya, bahut se hazraat aapki khidmat me hazir hue aur ahle Kufa v Iraaq ke vaado, baito per bharosa na karne ka aur waha Jane me bada khatra hone ka mashwara diya,
*▣ 23- Hazrat Abdullah ibne Abbas Raziyallahu Anhu ka Mashwara ▣*
◈_ Ibne Abbas Raz.ko jab Hazrat Husain Raz.ke iraade ki khabar hui to tashreef laye aur farmaya,_” Bhai me isse aapko khuda ki panah me deta hu’n, Khuda ke liye Aap mujhe ye batae k Aap kisi esi qaum ke liye ja rahe hai’n jinhone apne ouper musallat hone wale Ameer ko qatl kar diya• aur wo log apne shehar per qaabiz ho chuke hai’n aur apne dushmano ko nikaal chuke hai’n to beshak aapko unke bulawe per foran chale Jana chahiye, ”
→Hazrat Husain Raz.ne iske jawab me farmaya,_” Achchha me Allah se istkhara karta hu’n, fir Jo kuchh samajh me aa’ega amal karunga, ”
◈_ Doosre roz ibne Abbas Raz.fir tashreef laye aur farmaya,→ ” bhai me sabr karna chahta hu’n magar sabr nahi hota, mujhe aapke is qadam se halakat ka sakht khatra he, Ahle Iraaq bewafa ahad shikan log hai’n,→Aap unke paas na jaye, Aap ahle hijaaj ke Muslim rehnuma aur sardaar hai’n aur agar ahle Iraaq aapse mazeed taqaza kare to aap unko likho k pehle Ameer v Hukkam ko apne shehar se nikaal do fir mujhe bulao,
→• mere bhai agar aap Jana hi taiy kar chuke hai’n to khuda ke liye aurto’n aur bachcho ko saath na le jaye, mujhe khof he k kahi aap isi tarah apni aurto’n aur bachcho ke saamne qatl kiye jaye jis tarah Hazrat Usman Raz.qatl kiye gaye,”
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 201*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 22_ हज़रत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु का कूफा जाने का अज़्म ※*
★__हजरत हुसैन रजि अल्लाह हू अनु के पास अहले क़ूफा के 150 खुतूत और बहुत से वफूद पहले पहुंच चुके थे फिर मुस्लिम बिन अकी़ल रज़ियल्लाहु अन्हु ने 18000 मुसलमानों की बैत की खबर के साथ उन्हें कूफा आने की दावत दे दी थी तो हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु ने फूफा जाने का अज़्म कर लिया ।
"_लेकिन जब यह बात मशहूर हुई तो बस अब्दुल्लाह बिन जुबेर रज़ियल्लाहु अन्हु के और किसी ने भी क़ूफा जाने का मशवरा नहीं दिया। बहुत से हजरात आप की खिदमत में हाजिर हुए और अहले क़ूफा व इराक के वादों बैतों पर भरोसा ना करने का और वहां जाने में बड़ा खतरा होने का मशवरा दिया।
*※ 2 8- हज़रत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रजियल्लाहु अन्हु का मश्वरा ※*
★__ इब्ने अब्बास रजियल्लाहु अन्हु को जब हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु के इरादे की खबर हुई तो तशरीफ लाए और फरमाया :-  भाई मै इससे आपको खुदा की पनाह में देता हूं खुदा के लिए आप मुझे यह बताएं कि आप किसी ऐसी कौम के लिए जा रहे हैं जिन्होंने अपने ऊपर मुसल्लत होने वाले अमीर को क़त्ल कर दिया और वह लोग अपने शहर पर काबिज़ हो चुके हैं और अपने दुश्मनों को निकाल चुके हैं तो बेशक आपको उनके बुलावे पर फौरन चले जाना चाहिए।
★_ हजरत हुसैन रजियल्लाहु अन्हु ने इसके जवाब में फरमाया :- अच्छा मै अल्लाह से इस्तिखारा करता हूं फिर जो कुछ समझ में आएगा अमल कर लूंगा
★_दूसरे रोज़ इब्ने अब्बास रजियल्लाहु अन्हु फिर तशरीफ लाए और फरमाया :- भाई मैं सब्र करना चाहता हूं मगर सब्र नहीं होता मुझे आपके इस क़दम से हलाकत का सख्त खतरा है अहले इराक बेवफा अहद शिकन लोग हैं आप उनके पास ना जाए। आप पहले हिजाज़ के मुस्लिम रहनुमा और सरदार हैं और अगर अहले इराक आपसे मजीद तकाज़ा करें तो आप उनको लिखो कि पहले अमीर व हुक्काम को अपने शहर से निकाल दो फिर मुझे बुलाओ ।
"_मेरे भाई अगर आप जाना ही तय कर चुके हैं तो खुदा के लिए औरतों और बच्चों को साथ ना ले जाए मुझे खौफ है कि कहीं आप इसी तरह अपनी औरतों और बच्चों के सामने कत्ल किए जाएं जिस तरह हजरत उस्मान रजियल्लाहु अन्हु कत्ल किए गए ।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 24- Hazrat Husain Raz.ki Kufa rawangi ※*
◈ Hazrat Husain Raz. apne nazdeek ek deeni zarurat samajhkar khuda ke liye azm kar chuke the,
◈_ Mashwara dene walo ne unko khatraat se aagah kiya magar maqsad ki ahmiyat ne unko khatraat ka muqabla karne ke liye majboor kar diya,
◈ Aur Zilhijja 60 ki 3 ya 8 tareekh ko aap rawana ho gaye us waqt Yazeed ki taraf se Makka ka hakim Amr bin Sa’ad bin Aas muqarrar tha,
→ usko unki rawangi ki khabar mili to chand aadmi raaste per unko rokne ke liye bheje, lekin Hazrat Husain Raz.ne waapsi se inkaar farmaya aur aage bad gaye,
*▣ 25- Farzooq Sha’ir se Mulaqat ▣*
◈ _Raaste me Farzooq Sha’ir Iraaq ki taraf se aata hua mila,  Husain Raziyallahu Anhu ne usse puchha,_ahle Iraaq ko tumne kis haal me chhoda,
Farzooq ne jawab diya_‘” Ahle Iraaq ke quloob to aapke saath he magar unki talware bani umaiya ke saath he aur taqdeer aasman se naazil hoti he aur Allah ta’aala Jo chahta he karta he,”
◈ Hazrat Husain Raz.ne farmaya,
” tum sach kehte ho, Allah hi ke haath me tamaam kaam he wo Jo chahta he karta he aur hamara rab har roz ek nayi shaan me he, Agar taqdeer ilaahi hamari muraad ke muwafik hui to hum Allah ka shukr karenge aur shukr karne me bhi unhi ki i’aanat talab karte hai’n k adae shukr ki tofeeq de aur agar taqdeer ilaahi hamari muraad me haa’il ho gayi to wo shakhs khata per nahi jiski niyat haq ki himayat ho aur jisse dil me khof e khuda ho, ”
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 203*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 24-हज़रत हुसैन रज़ि. की कूफ़ा रवानगी_※*
★_हज़रत हुसैन रज़ि. अपने नज़दीक एक दीनी ज़रूरत समझकर खुदा के लिए अज़्म कर चुके थे, मशवरा देने वालों ने उन्हें ख़तरात से आगाह किया मगर मक़सद की अहमियत ने उनको ख़तरात का मुकाबला करने के लिए मजबूर कर दिया,
★_और ज़िल्हिज्जा 60 की 3 या 8 तारीख को आप रवाना हो गए उस वक़्त यज़ीद की तरफ से मक्का का हाकिम अमर् बिन साद बिन आस मुक़र्रर था, उसको उनकी रवानगी की खबर मिली तो चंद आदमी रास्ते पर उनको रोकने के लिए भेजे , लेकिन हज़रत हुसैन रज़ि. ने वापसी से इनकार फरमाया और आगे बढ़ गए,
*※_25-फ़र्ज़ूक शायर से मुलाक़ात_※*
★_रास्ते मे फ़र्ज़ूक शायर इराक की तरफ से आता हुआ मिला,हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु ने उससे पूछा अहले इराक को तुमने किस हाल में छोड़ा,
फ़र्ज़ूक ने जवाब दिया '"अहले इराक के कु़लूब तो आपके साथ है मगर उनकी तलवारें बनी उमैय्या के साथ है और तक़दीर आसमान से नाज़िल होती है और अल्लाह ता'ला जो चाहता है करता है,
★_हज़रत हुसैन रज़ि. ने फरमाया :- तुम सच कहते हो,अल्लाह ही के हाथ मे तमाम काम है वो जो चाहता है करता है और हमारा रब हर रोज़ एक नई शान में है,अगर तक़दीर इलाही हमारी मुराद के मुवाफिक हुई तो हम अल्लाह का शुक्र करेंगे और शुक्र करने में भी उन्ही की इ'आनत तलब करते हैं कि अदाए शुक्र की तौफ़ीक़ दे,और अगर तक़दीर इलाही हमारी मुराद में हाइल हो गई तो वो शख्स खता पर नही जिसकी नियत हक़ की हिमायत हो और जिसके दिल मे ख़ौफ़े खुदा हो,
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 26- Hazrat Husain Raz.ka khwab aur Azm ki vajah ※*
◈ Hazrat Abdullah bin Jaafar Raz.ne jab Hazrat Husain Raz.ki rawangi ki khabar suni to apne beto ko khat dekar tezi se rawana kiya k unhe raaste me hi rok do,
•→ ye khat likhkar pehle Abdullah bin Jaafar Raz.Yazeed ki taraf se wali e Makka Amr bin Sa’ad ke paas tashreef le gaye aur unse vaada e tehreer likhwaya k wapas aa jaye to unke saath Makka me achchha sulook kiya jaega,
◈ Jab ye khat Hazrat Husain Raz.ke pass pahuncha to us waqt aapne apne azm ki ek aur vajah bayaan ki mene Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ko khwab me dekha
→aur mujhe Aap Sallallahu Alaihivasallam ki taraf se ye hukm diya gaya he, me is hukm ki baja aawri ki taraf ja raha hu’n, chahe mujh per kuchh bhi guzar jaye,
Unhone puchha k khwab kya he?
Farmaya k ” Aaj tak mene wo khwab kisi se bayan nahi kiya he, na karunga yaha tak k me apne parvardigar se ja milu,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 203*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 26-हज़रत हुसैन रज़ि. का ख्वाब और अज़्म की वजह※*
★_ हज़रत अब्दुल्लाह बिन जाफर रज़ि. ने जब हज़रत हुसैन रज़ि. की रवानगी की खबर सुनी तो अपने बेटों को खत देकर तेज़ी से रवाना किया कि उन्हें रास्ते मे ही रोक दो,
ये खत लिखकर पहले अब्दुल्लाह बिन जाफर रज़ि. यज़ीद की तरफ से वाली ए मक्का अमर् बिन साद के पास तशरीफ़ ले गए और उनसे वादा ए तहरीर लिखवाया के वापस आ जाए तो उनके साथ मक्का में अच्छा सुलूक किया जाएगा,
★_जब ये खत हज़रत हुसैन रज़ि. के पास पहुंचा तो उस वक़्त आपने अपने अज़्म की एक और वजह बयान की मैंने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को ख्वाब में देखा।और मुझे आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की तरफ से ये हुक्म दिया गया है,मैं इस हुक्म की बजा आवरी की तरफ जा रहा हूँ,चाहे मुझ पर कुछ भी गुज़र जाए,
उन्होंने पूछा कि ख्वाब क्या है?
फरमाया की आज तक मैंने वो ख्वाब किसी से बयान नही किया है, न करूँगा यहां तक कि मैं अपने परवरदिगार से जा मिलूं,।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 27- Kufa walo ke Naam Hazrat Husain Raz.ka Khat ※*
◈ Hazrat Husain Raz.jab maqaam e Haajir per pahunche to ahle Kufa ke naam ek khat likh kar Hazrat Qais ke haath rawana kiya,
⇨ khat me apne aane ki ittela aur jis kaam ke liye unko ahle Kufa ne bulaya tha usme puri koshish karne ki hidayat thi,
◈ Hazrat Qais jab ye khat lekar Qaadsiya tak pahunche to waha unko giraftar kar Ibne Ziyaad ke paas bhej diya gaya,
⇨Ibne Ziyaad ne unko hukm diya k kasre imarat ki chhat se ( m’aazallah) Hazrat Husain Raz.per Sab v Shitam aur laan taan kare,
→ magar Hazrat Qais ne buland awaaz se Hazrat Husain Raz.ke aane ka maqsad ko bayaan kar diya,
⇨ isse naraaz hokar ibne Ziyaad ne unko kasr ki bulandi se fek dene ka hukm diya aur Hazrat Qais shaheed kar diye gaye,
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 203*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※27-कूफ़ा वालों के नाम हज़रत हुसैन रज़ि. का खत※*
★_हज़रत हुसैन रज़ि. जब मक़ामे हाजिर पर पहुंचे तो अहले कूफ़ा के नाम एक खत लिख कर हज़रत क़ैस के हाथ रवाना किया,
खत में आपने आने की इत्तेला और जिस काम के लिए उनको अहले कूफ़ा ने बुलाया था उसमें पूरी कोशिश करने की हिदायत थी,
★_हज़रत क़ैस जब ये खत ले कर क़ादसिया तक पहुंचे तो वहां उनको गिरफ्तार कर इब्ने ज़ियाद के पास भेज दिया गया,
इब्ने ज़ियाद ने उनको हुक्म दिया कि कसरे इमारत की छत से (माजल्लाह)हज़रत हुसैन रज़ि. पर सब व शितम और लान तान करे, मगर हज़रत क़ैस ने बुलंद आवाज़ से हज़रत हुसैन रज़ि. के आने का मक़सद को बयां कर दिया, इससे नाराज हो कर इब्ने ज़ियाद ने उनको कसर की बुलंदी से फेक देने का हुक्म दिया और हज़रत क़ैस शहीद कर दिए गए ।
*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*

          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *※ 28- Muslim bin Aqeel Raz.ke qatl ki khabar pakar Hazrat Husain Raz.ka sathiyo se mashwara ※*

◈ Raaste me ek padaav per achanak Abdullah bin Mati’a se mulaqaat hui, unhone bhi kaha:-
,” Ey ibne Rasulullah !  Me aapko Allah ka aur izzate islam ka vaasta dekar kehta hu k Aap is iraade se ruk jaye,
→Aap agar banu umaiya se unki iqtdaar ko lena chahenge to wo Aapko qatl kar denge, Aap esa hargiz na kare, Aap kufa na jaye, ”

⇨ magar Hazrat Husain Raz.ne apna iraada nahi badla,

◈_ Maqaame Sa’albiya me pahunchkar Aapko Muslim bin Aqeel Raz.ke qatl ki khabar mili Jo Muhammad bin As as ke bheje hue qasid ne di,
⇨ye khabar sunkar Aapke baaz saathiyo ne bhi aapse wapas laut Jane ka israar kiya, magar Banu Aqeel josh me aa gaye aur kehne lage k hum Muslim bin Aqeel Raz.ka badla lenge ya unki tarah jaan de denge,

→ Baaz saathiyo ki ye raay thi k Aap Muslim bin Aqeel Raz.nahi hai’n, Aapki shaan kuchh aur he, Hume ummeed he jab Ahle Kufa Aapko dekhenge to Aapke saath ho jaa’enge,

◈_ Yaha’n tak k fir aage badna tai karke safar kiya gaya aur Maqaame Ziyala pahunch kar padaav dala,
⇨ Yaha’n ye khabar mili k Aapke razai bhai Abdullah ibne laqeet jinko raaste se Muslim bin Aqeel Raz.ki taraf bheja gaya tha unko bhi qatl kar diya gaya,

→is khabar ke baad Hazrat Husain Raz.ne apne saathiyo ko jama karke farmaya,:-
”_ Ahle Kufa ne hume dhokha diya he, Ab jiska ji chahe wapas ho jaye,me kisi ki zimmedari apne sar lena nahi chahta ”

◈ is elaan ke baad raaste se saath hone wale log sab chal diye aur ab Hazrat Husain Raz.ke saath sirf wahi log reh gaye Jo Makka se unke saath the,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 206*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 28-मुस्लिम बिन अकील रज़ि. के कत्ल की खबर पाकर हज़रत हुसैन रज़ि. का साथियों से मशवरा※*

★_ रास्ते मे एक पड़ाव पर अचानक अब्दुल्लाह बिन मतिया से मुलाक़ात हुई,उन्होंने भी कहा:-
"_ऐ इब्ने रसूलुल्लाह !मैं आप को अल्लाह का और इज़्ज़ते इस्लाम का वास्ता देकर कहता हूं कि आप इस इरादे से रुक जाए,
आप अगर बनु उमैया से उनकी इक़्तेदार को लेना चाहेंगे तो वो आप को क़त्ल कर देंगे ,आप ऐसा हरगिज़ न करे,आप कूफ़ा न जाये,

★_मगर हज़रत हुसैन रज़ि. ने अपना इरादा नही बदला,मक़ामे साल्विया में पहुंचकर आपको मुस्लिम बिन अकील रज़ि. के कत्ल की खबर मिली जो मुहम्मद बिन अस अस के भेजे हुए क़ासिद ने दी, ये खबर सुनकर आपके बाज़ साथियों ने भी आपसे वापस लौट जाने का इसरार किया,मगर बनु अकील जोश में आ गए और कहने लगे कि हम मुस्लिम बिन अकील रज़ि. का बदला लेंगे या उनकी तरह जान दे देंगे,

★_बाज़ साथियों की ये राय थी कि आप मुस्लिम बिन अकील रज़ि. नही हैं, आपकी शान कुछ और है,हमे उम्मीद है जब अहले कूफ़ा आपको देखेंगे तो आप के साथ हो जाएंगे।

★_यहां तक कि फिर आगे बढ़ना तै कर के सफर किया गया और मक़ामे ज़ियाला पहुंच कर पड़ाव डाला, यहां ये खबर मिली कि आप के रज़ाई भाई अब्दुल्लाह इब्ने लकीत जिनको रास्ते से मुस्लिम बिन अकील रज़ि. की तरफ भेजा गया था उनको भी क़त्ल कर दिया गया,इस खबर के बाद हज़रत हुसैन रज़ि. ने अपने साथियों को जमा कर के फरमाया:-
"_अहले कूफ़ा ने हमे धोखा दिया है,अब जिसका जी चाहे वापस हो  जाय,मैं किसी की ज़िम्मेदारी अपने सर लेना नही चाहता""

★_इस एलान के बाद रास्ते से साथ होने वाले लोग सब चल दिये और अब हज़रत हुसैन रज़ि. के साथ सिर्फ वही लोग रह गए जो मक्का से उनके साथ थे,

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*

          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *※ 29-Ibne Ziyaad ki taraf se Har bin Yazeed Ek Hazaar ka Lashkar lekar Pahuncha  ※*

◈_ Raaste me dopahar ke waqt door se ghudsawar fauj nazar aayi,⇨ye dekh kar Hazrat Husain Raz.aur unke saathiyo ne ek pahaad ke nazdeek pahunch kar muhaaz jung banane me masroof hi the k Har bin Yazeed ki fauj muqable per aa gayi,

→Hazrat Husain Raz.ne apne saathiyo se farmaya, khoob paani pikar aur ghodo ko pilakar sairaab ho jao,

◈_ Yaha’n Namaze zuhar ka waqt aa gaya aur sab namaz ke liye jama ho gaye, Hazrat Husain Raz.ne fareeq muqabil ko sunane ke liye ek taqreer farmayi:-
⇨Taqreer sunkar  sab khamosh rahe, Hazrat Husain Raz.ne namaz ke liye aqaamat kehne ka hukm diya aur Har bin Yazeed se farmaya, Tum apne lashkar ke saath alag namaz padoge ya humare saath,
” _Har ne kaha, k nahi hum sab Aapke pichhe namaz padenge, Hazrat Husain Raz.ne namaz zuhar padaai aur apni jagah tashreef le gaye,

◈ Fir namaze Asar bhi Aapne padai aur sab shareek hue, Asar ke baad Aapne ek khutba diya,jisme apne aane ka maqsad bayaan kiya,

◈ Har bin Yazeed ne kaha k hume khutoot aur vafood ki koi khabar nahi,,
⇨ Aapne 2 thele Jo khutoot se bhare hue the aur un logo ke saamne udel diye,
→Har bin Yazeed ne kaha k,_” beharhaal hum in khutoot ke likhne wale nahi hai’n, Hume ameer ki taraf se ye hukm mila he k hum Aapko us waqt tak na chhode jab tak ibne Ziyaad ke paas kufa na pahuncha de, ”

⇨ Hazrat Husain Raz.ne jawab diya,_”  isse to maut behtar he, ”

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 206*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※ 29-इब्ने ज़ियाद की तरफ से हर बिन यज़ीद एक हज़ार का लश्कर लेकर पहुंचा ※*

★_रास्ते मे दोपहर के वक़्त दूर से घुड़सवार फौज नज़र आई, ये देख कर हज़रत हुसैन रज़ि. और उनके साथियों ने एक पहाड़ के नज़दीक पहुंच कर मुहाज़ जंग बनाने में मसरूफ ही थे कि हर बिन यज़ीद की फौज मुक़ाबले पर आ गई,

★_हज़रत हुसैन रज़ि. ने अपने साथियों से फरमाया,खूब पानी पीकर और घोड़ों को पिलाकर सैराब हो जाओ,

★_यहां नमाज़ें ज़ुहर का वक़्त आ गया और सब नमाज़ के लिए जमा हो गए,हज़रत हुसैन रज़ि. ने फरीक मुक़ाबिल को सुनाने के लिए एक तक़रीर फरमाई:-
तक़रीर सुनकर सब खामोश रहे,,हज़रत हुसैन रज़ि. ने नमाज़ के लिए अक़ामत कहने का हुक्म दिया और हर बिन यज़ीद से फरमाया,तुम अपने लश्कर के साथ अलग नमाज़ पढोगे या हमारे साथ,

हर ने कहा ,की नही हम सब आपके पीछे नमाज़ पढ़ेंगे ,हज़रत हुसैन रज़ि. ने नमाज़ ज़ुहर पढ़ाई और अपनी जगह तशरीफ़ ले गए, फिर नमाज़े असर भीआपने पढ़ाई और सब शरीक हुए,असर के बाद आपने एक खुतबा दिया ,जिसमे आपने आने का मक़सद बयान किया,

★_हर बिन यज़ीद ने कहा कि हमे खुतूत और वफूद की कोई खबर नही,,

आपने 2 थैले जो खुतूत से भरे हुए थे और उन लोगों के सामने उड़ेल दिए,

हर बिन यज़ीद ने कहा कि बहर हाल हम इन खुतूत के लिखने वाले नही हैं,हमे अमीर की तरफ से ये हुक्म मिला कि हम आपको उस वक़्त तक न छोड़े जब तक इब्ने ज़ियाद के पास कूफ़ा न पहुंचा दे,,

हज़रत हुसैन रज़ि. ने जवाब दिया,,इससे तो मौत बेहतर है,

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*

          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

     *※ 30- Har bin Yazeed ka Aitraaf  ※*

◈ Har bin Yazeed ne Hazrat Husain Raz.se kaha k,_” mujhe aapke qitaal Ka hukm nahi diya gaya he balki me aapse us waqt tak juda na hou jab tak aapko kufa na pahuncha du,

isliye Aap esa kar sakte hai’n k koi esa raasta akhtyar kare Jo na kufa pahunchaye na Madina, Yaha tak k me ibne Ziyaad ko khat likhu aur Aap bhi Yazeed ko ya ibne Ziyaad ko likhe,

Shayad Allah ta’aala mere liye koi esa mukhlis paida kar de k me aapke muqable aur aapki iza se bach jau,

◈_ Isliye Hazrat Husain Raz.ne Azeeb aur Qadsiya ke raaste se baayi janib chalna shuru kar diya aur Har bin Yazeed bhi laskar ke saath chalta raha, is dauran Hazrat Husain Raz.ne teesra khutba diya,

◈_ Har bin Yazeed kuchh to pehle se ahle bait ka ahatram dil me rakhta tha kuchh Aapke khutbo se mutassir ho raha tha,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 209*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══

*※ 30-हर बिन यज़ीद का ऐतेराफ़*

★_हर बिन यज़ीद ने हज़रत हुसैन रज़ि. से कहा कि ,,मुझे आपके कि़ताल का हुक्म नही दिया गया है बल्कि मैं आपसे उस वक़्त तक जुदा न होऊं जब तक आपको कूफ़ा न पहुंचा दु,इसीलिए आप ऐसा कर सकते है कि कोई ऐसा रास्ता अखतेयार करे जो ना कूफ़ा पहुंचाए न मदीना ,यहां तक कि मैं इब्ने ज़ियाद को खत लिखूं और आप भी यज़ीद को या इब्ने ज़ियाद को लिखे, शायद अल्लाह ताला मेरे लिए कोई ऐसा मुखलिस पैदा कर दे कि मैं आपके मुक़ाबले और आपकी इज़ा से बच जाऊ,

★_इसीलिए हज़रत हुसैन रज़ि. ने अजी़ब और क़ादसिया के रास्ते से बाईं जानिब चलना शुरू कर दिया और हर बिन यज़ीद भी लश्कर के साथ चलता रहा,इस दौरान हज़रत हुसैन रज़ि. ने तीसरा खुतबा दिया,

★_हर बिन यज़ीद कुछ तो पहले से अहले बैत का अहतराम दिल मे रखता था कुछ आपके खुतबो से मुतास्सिर हो रहा था, ※*

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
     *
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *※ 31- Tirmah bin Adi ka mashvara  ※*

◈_ isi haal me 4 aadmi kufa se Hazrat Husain Raz.ke madadgar pahunche jinka sardar Tirmah bin Adi tha,

⇨ Har bin Yazeed ne chaha k unhe giraftar kare ya kufa wapas kar de,  magar Hazrat Husain Raz.ne farmaya k :,_” ye mere madadgar aur rafeeq hai’n, inki esi hi hifazat karunga jesi apni jaan ki, Har bin Yazeed ne unko ijazat de di,”

◈ _Hazrat Husain Raz.ne in logo se kufa ka haal daryaft kiya, unhone bataya k, _” Kufa ke bade bade sardaro ko badi badi rishwate de di gayi he, ab wo sab aapke mukhalif hai’n, albatta awaam ke quloob aapke saath hai’n ,
→ magar iske bavjood jab muqabla hoga to talwaare unki bhi aapke muqable per aa’engi,

→me dekhta hu’n aapke saath to koi kuvvat aur jama’at nahi, me kufa se nikalne se pehle itna bada lashkar dekh chuka hu’n Jo isse pehle meri aankh ne na dekha tha,
⇨ me aapko khuda ki qasam deta hu’n Aap ek balisht bhi unki taraf na bade, Aap mere saath chale, Aapko apne pahada aaja me thehraunga Jo nihayat mehfooz qila jesa he, fir aaja aur salmi do no pahadi kabile ke log aapki madad ko aa jaa’enge,

→ Is waqt agar aapki raay muqable ki hi he to me aapke liye 20 hazaar bahadur sipahiyo ka jimma leta hu’n,

◈_ Hazrat Husain Raz.ne farmaya,_” Allah ta’aala aapki qaum ko jaza e khair de, magar hamare aur Har bin Yazeed ke darmiyan ek baat Tai ho chuki he, ab uske paband hai’n aur hume kuchh pata nahi k humare saath kya hone wala he,”

◈_ Tirmah bin Adi rukhsat ho gaye aur apne saath samaane rasad lekar dobara aane ka vaada kar gaye, aur fir aaye bhi magar raaste me Hazrat Husain Raz.ki Shahadat ki galat khabar sunkar lot gaye,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 209*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
  *※ 31-तिरमह बिन अदि का मशवरा※*

★_ इसी हाल में 4 आदमी कूफ़ा से हज़रत हुसैन रज़ि. के मददगार पहुंचे जिनका सरदार तिरमह बिन आदि था, हर बिन यज़ीद ने चाहा कि उन्हें गिरफ्तार करे या कूफ़ा वापस कर दें,मगर हज़रत हुसैन रज़ि. ने फरमाया की:__ये मेरे मददगार और रफ़ीक़ हैं,इनकीं ऐसी ही हिफाज़त करूँगा जैसी अपनी जान की,हर बिन यज़ीद ने उनको इजाज़त दे दी,"

★_हज़रत हुसैन रज़ि. ने इन लोगों से कूफ़ा का हाल दरयाफ्त किया,उन्होंने बताया कि," कूफ़ा के बड़े बड़े सरदारों को बड़ी बड़ी रिश्वतें दे दी गई है,अब वो सब आपके मुखालिफ है,अलबत्ता अवाम के कुलूब आपके साथ हैं,

_मगर इसके बावजूद जब मुक़ाबला होगा तो तलवारे उनकी भी आपके मुक़ाबले पर आएंगी,

_मैं देखता हूँ आपके साथ तो कोई कुव्वत और जमात नही, मैं कूफ़ा से निकलने से पहले इतना बड़ा लश्कर देख चुका हूं जो इससे पहले मेरी आँख ने न देखा था,

_मैं आपको खुद की कसम देता हूं आप एक बालिश्त भी उनकी तरफ न बढ़े ,आप मेरे साथ चले,आपको अपने पहाड़ आजा में ठहराऊंगा जो निहायत महफूज़ किला है,फिर आजा और सलमि दोनो पहाड़ी क़बाइल के लोग आपकी मदद को आ जाएंगे,

_इस वक़्त अगर आपकी राय मुक़ाबले की ही है तो मैं आपके लिए 20 हज़ार बहादुर सिपाहियों के जिम्मा लेता हूँ,

★_ हज़रत हुसैन रज़ि. ने फरमाया,_अल्लाह ताला आपकी क़ौम को जज़ाए खैर दे,मगर हमारे और हर बिन यज़ीद के दरमियान एक बात तय हो चुकी है,अब उसके पाबंद हैं और हमे कुछ पता नही की हमारे साथ क्या होने वाला है,"

★_ तिरमह बिन आदि रुखसत हो गए और अपने साथ सामाने रसद ले कर दोबारा आने का वादा कर गए,और फिर आए भी मगर रास्ते मे हज़रत हुसैन रज़ि. की शहादत की गलत ख़बर सुनकर लौट गए, ※*

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
  
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *※ 32- Hazrat Husain Raziyallahu Anhu ka Khwab ※*

◈_ Nasr bani Muqatal per per pahunch kar aapko zara ganudgi hui to ” inna lillah” kehte hue bedaar hue,

⇨Aapke Sahabzade Ali Akbar Raz.ne suna to ghabrakar saamne aaye,
puchha Abba jaan kya baat he?

Aapne farmaya,:-”_  mene khwab me dekha koi ghudsawar mere pass aaya aur usne kaha k kuchh log chal rahe hai’n aur unki maut unke saath chal rahi he, isse me samjha k ye hamari maut ki khabar he, ”

→Sahabzade ne arz kiya, Kya hum haq per nahi he?
Farmaya –:”_ Qasam us zaat ki jiski taraf sab bandgane khuda ka ruju’a he bila subha hum haq per hai’n, ”

→ Arz kiya –:“Fir hume kya dar he jab k hum haq per mar rahe  hai’n, ”

◈_ Hazrat Husain Raz.ne unhe shabash di,farmaya –:-” Allah ta’aala tumko jaza e khair ataa kare tumne apne baap ka sahi haq ada kiya, ”

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 209*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 32-हज़रत हुसैन रज़ि. का ख्वाब*※*

★_ नस्र बनी मुक़तल पर पहुंच कर आपको ज़रा गुनदगी हुई तो "इन्ना लिल्लाह"कहते हुए बेदार हुए, आपके साहबज़ादे अली अकबर रज़ि. ने सुना तो घबराकर सामने आए,पूछा अब्बा जान क्या बात है?

आपने फरमाया :-मैंने ख्वाब में देखा कोई घुड़सवार मेरे पास आया और उसने कहा कि कुछ लोग चल रहे है और मौत उनके साथ चल रही है,इससे मैं समझा के ये हमारी मौत की खबर है,"

साहबज़ादे ने अर्ज़ किया कि क्या हम हक़ पर नही है?

फरमाया:-क़सम उस जा़त की जिसकी तरफ सब बन्दगाने खुदा का रूजु है बिला शुब्हा हम हक़ पर हैं,"

अर्ज़ किया-फिर हमें क्या डर है जब कि हम हक़ पर मर रहे हैं,"

हज़रत हुसैन रज़ि. ने उन्हें शाबाशी दी,फरमाया:-अल्लाह ताला तुम्हे जज़ाए खैर अता करे तुमने अपने बाप का सही हक़ अदा किया," 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*

          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *※ 33- Ashabe Husain Raz. Ka iraada e qitaal aur Hazrat Husain Raz. Ka Jawab k me Qitaal nahi karunga ※*

◈_ Maqaame Nenvi per ek sawaar Har bin Yazeed ke liye ek khat lekar aaya jisme likha tha k Jis waqt tumhe mera ye khat mile tum Husain ( raz.) Per maidan tang kar do,
→ aur unko ese khule maidan ki taraf le jao jaha paani na ho,

→aur mene qasid ko hukm diya he k jab tak mere is hukm ki tameel na kar do tumhare saath rahega, ”

◈ _Har bin Yazeed ne ye khat Hazrat Husain Raz.ko bhi suna diya k is waqt mere sar per jasoos musallat he, me is waqt koi masalhat nahi kar sakta,

◈ Us waqt Zubair bin Alqeen Raz.ne arz kiya k ,:-” har aane wali ghadi ek mushkilaat me izaafa kar rahi he, aur hamare liye is lashkar se qitaal karna asaan he banisbat uske Jo iske baad aaega, ”

◈ Hazrat Husain Raz.ne farmaya,:-”  me qitaal me pehal nahi karna chahta,”

Zubair Raz.ne kaha k,:-” Aap qitaal me pahal na kare balki hume us basti me le jaye Jo hifazat ki jagah ho aur dariya e faraat ke kinare per ho, is per agar ye log hume waha Jane se roke to hum qitaal kare, ”

⇨ Aapne puchha,:-”  ye konsi jagah he? ”

Kaha gaya,” Aqar he, ”
Aapne farmaya ,_“me Aqar se panah maangta hu’n, ”

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 213*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※ 33-असहाबे हुसैन रज़ि. का इरादाए कताल और हज़रत हुसैन रज़ि. का जवाब की मैं किताल नही करूँगा_※*

★_मक़ामे नेनवी पर एक सवार हर बिन यज़ीद के लिए एक खत ले कर आया जिसमे लिखा था कि जिस वक्त तुम्हे ये मेरा खत मिले तुम हुसैन रज़ि. पर मैदान तंग कर दो, और उनको ऐसे खुले मैदान की तरफ लेजाओ जहां पानी न हो, और मैंने क़ासिद को हुक्म दिया है  की जब तक मेरे इस हुक्म की तामील न कर दो तुम्हारे साथ रहेगा,"

★_हर बिन यज़ीद ने ये खत हज़रत हुसैन रज़ि. को भी सुना दिया कि इस वक़्त मेरे सर पर जासूस मुसल्लत है,मैं इस वक़्त कोई मसलहत नही कर सकता,

★_उस वक़्त ज़ुबैर बिन अलक़ीन रज़ि. ने अर्ज़ किया कि:-हर आने वाली घड़ी एक मुश्किलात में इज़ाफ़ा कर रही है ,और हमारे लिए इस लश्कर से कि़ताल करना आसान है बनिस्बत जो इसके बाद आएगा,"

हज़रत हुसैन रज़ि. ने फरमाया:-मैं कि़ताल में पहल नही करना चाहता,"

ज़ुबैर रज़ि. ने कहा कि :-आप कि़ताल मे पहल न करे बल्कि हमे उस बस्ती में ले जाये जो हिफाज़त की जगह हो और दरियाए फरात के किनारे पर हो,इस पर अगर ये लोग हमें वहां जाने से रोके तो हम कि़ताल करे,"

आपने पूछा :-ये कौनसी जगह है?
कहा गया,"अक़र् है,"

आपने फरमाया ,"मैं अक़र् से पनाह मांगता हूं," 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*

          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *※ 34- Amr bin Sa’ad ka lashkar aur Paani band karne ka hukm ※*

◈ Ibne Ziyaad ne Amr bin Sa’ad ko majboor karke fauj ke saath muqable ke liye bhej diya,

⇨Amr bin Sa’ad ne aakar Hazrat Husain Raz.se Kufa aane ki vajah puchhi,

→ Aapne saara kissa bayaan kiya aur farmaya,
” agar ab bhi unki raay badal gayi he to me wapas Jane ke liye taiyaar hu’n,”

◈ Amr bin Sa’ad ne ibne Ziyaad ko is mazmoon ka khat likha k Husain ( raz ) wapas Jane ko taiyaar hai’n,

⇨ Ibne Ziyaad ne jawab diya k ,:-” Husain ( raz.) ke saamne sirf ek baat rakho k Yazeed ke haath per Bait kare, Jab wo esa kare to fir hum gor karenge k unke saath kya maamla kiya jaye,”
→ aur Amr bin Sa’ad ko hukm diya k un per paani band kar do,

◈_ aur paani band kar diya gaya, ye waaq’aa Shahadat se 3 din pehle ka he, yaha tak k jab ye sab hazraat pyas se pareshan ho gaye to Hazrat Husain Raz.ne apne bhai Abbas bin Ali Raz.ko 30 pyado ke saath paani lene bheja,

⇨ Paani lane per Amr bin Sa’ad ki fauj se muqabla bhi hua, magar 20 mashke paani bhar laye, iske baad Amr bin Sa’ad ke paas baat cheet ka paigam bheja,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 213*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※*34-अम्र बिन साद का लश्कर और पानी बंद करने का हुक्म*※*

★_इब्ने ज़ियाद ने अम्र बिन साद को मजबूर करके फौज के साथ मुक़ाबले के लिए भेज दिया,
अम्र बिन साद ने आकर हज़रत हुसैन रज़ि.  से कूफ़ा आने की वजह पूछी,

आपने सारा किस्सा बयान किया और फरमाया :-अगर अब भी उनकी राय बदल गयी है तो तो मैं वापस जाने के लिए तैयार हूं,

★_अम्र बिन साद ने इब्ने ज़ियाद को इस मज़मून का खत लिखा कि हुसैन (रज़ि.)वापस जाने को तैयार हैं,

★_इब्ने ज़ियाद ने जवाब दिया कि :-हुसैन रज़ि. के सामने सिर्फ एक बात रखो की यज़ीद के हाथ पर बैत करे,जब वो ऐसा करे तो फिर हम गौर करेंगे कि उनके साथ क्या मामला किया जाए,"

और अम्र बिन साद को हुक्म दिया कि उनपर पानी बन्द कर दो।

★_और पानी बंद कर दिया गया,ये वाकिया शहादत से 3 दिन पहले का है,यहां तक कि जब ये सब हज़रात प्यास से परेशान हो गए तो हज़रत हुसैन रज़ि. ने अपने भाई अब्बास बिन अली रज़ि. को 30 प्यादों के साथ पानी लेने भेजा,

पानी लाने पर अम्र बिन साद की फौज से मुक़ाबला भी हुआ,मगर 20 मशके पानी भर लाए,इसके बाद अम्र बिन साद के पास बात चीत का पैगाम भेजा,  

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
  
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *※ 35- Hazrat  Husain Raz. Ka irshad k 3 baato me se koi ek akhtyar kar  ※*

◈ Hazrat Husain Raziyallahu Anhu ne farmaya k,

” humare bare me Aap 3 surato me se koi akhtyar kar lo,

→•1- me jaha se aaya hu’n wahi wapas laut jau,

→••2- ya me Yazeed ke paas pahunch jau aur khud usse apna maamla Tai kar lu,

→•3- ya mujhe musalmano ki kisi sarhad per pahunchado Jo haal waha ke aam logo ka hoga me usi me basar kar lu,

⇨( Baaz ulema ne akhri 2 surato ka inkaar kiya he)

◈ Amr bin Sa’ad ne ye sunkar fir ibne Ziyaad ke paas khat likha k,

” Allah ta’aala ne jung ki aag bujha di aur musalmano ka kalma muttafiq kar diya,

mujhe Hazrat Husain Raz.ne 3 surato ka akhtyar diya he aur zaahir he inme aapka maqsad pura hota he aur ummat ki isme salaah v falaah he, ”

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 40*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※ 35-हज़रत हुसैन रज़ि. का इरशाद की 3 बातों में से कोई एक इख्तियार कर_ ※*

★_हज़रत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु ने फरमाया की -हमारे बारे में आप 3 सूरतों में से कोई इख्तियार कर लो,

1-मैं जहां से आया हु वही वापस लौट जाऊं,

2- या मैं यज़ीद के पास पहुंच जाऊं और खुद उससे अपना मामला तै कर लूं,

3- या मुझे मुसलमानों की किसी सरहद पर पहुंचा दो जो हाल वहां के आम लोगों का होगा मैं उसी में बसर कर लूं
(बाज़ उलमा ने आखरी दो सूरतों का इनकार किया है)

★_अम्र बिन साद ने ये सुनकर फिर इब्ने ज़ियाद के पास खत लिखा कि -अल्लाह ताला ने जंग की आग बुझा दी और मुसलमानों का कलमा मुत्तफ़िक़ कर दिया,

मुझे हज़रत हुसैन रज़ि. ने 3 सूरतों का इख्तियार दिया है और ज़ाहिर है इनमे आपका मक़सद पूरा होता है,और उम्मत की इसमें सलाह और फलाह है,

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*

          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ 36-Ibne Ziyaad ka Sharto ko Qubool karna aur Shimar ka inkaar ▣*

◈ Ibne Ziyaad bhi Amr bin Sa’ad ke is khat se mutassir hua aur kaha k,
,” ye khat ek ese Aadmi ka he Jo Ameer ki itaat bhi chahta he aur apni qaum ki aafiyat ka bhi khwahishmand he, humne ise qubool kar liya,”

◈ Shimar Ziljoshan ne kaha k ,
” kya Aap Husain( raz.) Ko mohlat dena chahte hai’n k kuwwat hasil karke fir tumhare muqable per aaye, wo agar aaj tumhare haath se nikal gaye to fir kabhi un per qaabu na pa sakoge,

→ Aap unhe majboor kare k wo aapke paas aaye fir chahe aap saza de ya maaf kare, ”

◈ Ibne Ziyaad ne Shimar ki raay qubool karke Amr bin Sa’ad ko isi mazmoon ka khat khud Shimar ke haath bheja aur ye hidayat di k,
” agar Amr bin Sa’ad hukm ki tameel foran na kare to use qatl kar diya jaye aur uski jagah tum khud lashkar ke Ameer ho, ”

⇨ Shimar ko rawana hone se pehle khayal aaya k Hazrat Husain Raz.ke saathiyo me uske fufizaad bhai bhi hai’n, ibne Ziyaad se unke liye amaan liya aur rawana ho gaya,

◈ 9 Muharram ki tareekh ko jab Shimar khat lekar pahuncha to Amr bin Sa’ad sab samajh gaya k ye sab surat Shimar ki vajah se pesh aayi he, kaha k ,
” tumne bada zulm kiya, musalmano ka kalma muttafiq ho raha tha usko khatm karke qatl v qitaal ka bazaar garm kar diya,”

◈ jab Hazrat Husain Raz.ko ye pegaam pahunchaya gaya to Aapne isko qubool karne se inkaar kar diya k is zillat se maut behtar he,
 *※  ※

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 213*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 36-इब्ने ज़ियाद का शर्तों को क़ुबूल करना और शिमार का इनकार_※*

★इब्ने ज़ियाद भी अम्र बिन साद के इस खत से मुतास्सिर हुआ और कहा कि ,
ये खत एक ऐसे आदमी का है जो अमीर की इताअत भी चाहता है और अपनी क़ौम की आफ़ियत का भी ख्वाहिशमंद है,हमने इसे क़ुबूल कर लिया,"

शिमर ज़िलजोशन ने कहा कि,
क्या आप हुसैन (रज़ि.) को मोहलत देना चाहते हैं कि कुव्वत हासिल कर के फिर तुम्हारे मुक़ाबले पर आए,वो अगर आज तुम्हारे हाथ से निकल गए तो फिर कभी उन पर काबू न पा सकोगे,

आप उन्हें मजबूर करे कि वो आपके पास आए फिर चाहे आप सज़ा दें या माफ करे,"

★_इब्ने ज़ियाद ने शिमर की राय क़ुबूल कर के अम्र बिन साद को इसी मज़मून का खत खुद शिमर के हाथ भेजा और ये हिदायत दी कि,
अगर अम्र बिन साद हुक्म की तामील फ़ौरन न करे तो उसे क़त्ल कर दिया जाए और उसकी जगह तूम खुद लश्कर के अमीर हो,"

★_शिमर को रवाना होने से पहले खयाल आया कि हज़रत हुसैन रज़ि. के साथियों में उसके फुफ़िज़ाद भाई भी हैं, इब्ने ज़ियाद से उनके लिए अमान लिया और रवाना हो गया,

★_9मुहर्रम की तारीख को जब शिमर खत लेकर पहुंचा तो अम्र बिन साद सब समझ गया कि ये सब सूरत शिमर की वजह से पेश आई है,कहा कि
तुमने बड़ा ज़ुल्म किया ,मुसलमानों का कलमा मुत्तफ़िक़ हो रहा था उसको खत्म कर के क़त्ल व कि़ताल का बाज़ार गर्म कर दिया,"

★_जब हज़रत हुसैन रज़ि. को ये पैगाम पहुंचाया गया तो आपने इसको क़ुबूल करने से इनकार कर दिया कि इस ज़िल्लत से मौत बेहतर है, 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
  
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ 37- Hazrat Husain Raz.ka Huzur Sallallahu Alaihivasallam ko Khwab me dekhna ▣*

◈ Hazrat Husain Raziyallahu Anhu apne kheme me bethe the k isi haalat me kuchh oungh aakar aankh band ho gayi k ek awaaz ke saath bedaar hue,

⇨ Aapki hamshira Hazrat Zenab Raz.dodi aayi to farmaya k ,
” mene Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ko khwab me dekha farmaya k ab hamare paas aane wale ho, ”

◈ Hamshira ye sunkar rone lagi, Hazrat Husain Raz.ne unhe tasalli di,

→ isi haalat me Shimar lashkar lekar saamne aa gaya aur bila mohlat qitaal ka elaan sunaya,

⇨ Hazrat Husain Raz.ne ek raat ki mohlat maangi k me aaj ki raat vasiyat aur namaz aur dua v astagfaar kar saku,

→Shimar ne mashwara karke mohlat de di,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 213*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 37-हज़रत हुसैन रज़ि. का हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को ख्वाब में देखना ।※*

★_हज़रत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु अपने खेमें में बैठे थे कि इसी हालात में कुछ ऊंघ आकर आंख बंद हो गई के एक आवाज़ के साथ बेदार हुए,

आपकी हमशीरा हज़रत ज़ैनब रज़ि. दौड़ी आई तो फरमाया कि,
मैंने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को ख्वाब में देखा फरमाया के अब हमारे पास आने वाले हो,
हमशीरा ये सुनकर रोने लगी, हज़रत हुसैन रज़ि. ने उन्हें तसल्ली दी,

★_इसी हालात में शिमर लश्कर ले कर सामने आ गया और बिला मोहलत कि़ताल का एलान सुनाया,

हज़रत हुसैन रज़ि. ने एक रात की मोहलत मांगी कि मैं आज की रात वसीयत और नमाज़ और दुआ व अस्तग़फ़ार कर सकूं,

★_शिमर ने मशवरा कर के मोहलत दे दी, 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ 38- Hazrat Husain Raz. Ki Taqreer ▣*

◈ Hazrat Husain Raz.ne apne ahle bait aur ashaab ko jama kiya aur ek khutba diya jisme Hamd v sana, Darood v Salaam ke baad farmaya k,
” Me samajhta hu’n kal hamara akhri din he, me aap sabko khushi se ijazat deta hu’n k sab is raat ki tareeki me mutfarriq ho jao aur jaha panah mile chale jao aur mere ahle bait me se ek ek ka haath pakad lo aur mukhtalif ilaaqo me fel jao,

→  kyuki dushman mera talabgar he, wo mujhe pa’ega to doosro ki taraf iltfaat na karega, ”

◈ Ye taqreer sunkar Aapke bhai, aulaad,  bhaiyo ki  aulad, aur Abdullah bin Jaafar Raz.ki aulad, Banu Aqeel sab ek awaaz hokar bole,

” wallah hum hargiz na ja’enge, hume Allah ta’aala aapke baad baaqi na rakhe, ”

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 213*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
   *※ 38- हज़रत हुसैन रज़ि. की तक़रीर※* 

★_हज़रत हुसैन रज़ि. ने अपने अहले बैत और असहाब को जमा किया और एक खुतबा दिया जिसमें हम्द व सना ,दुरूद व सलाम के बाद फरमाया कि,

"_मैं समझता हूं कि कल हमारा आखरी वक़्त है,मैं आप सबको खुशी से इजाज़त देता हूँ कि सब इस रात की तारीकी़ में मुतफर्रिक हो जाओ और जहां पनाह मिले चले जाओ और मेरे अहले बैत में से एक का हाथ पकड़ लो और मुख्तलिफ इलाकों में फैल जाओ,
क्योंकि दुश्मन मेरा तलबगार है,वो मुझे पाएगा तो दूसरों की तरफ इल्तिफ़ात न करेगा,"

★_ये तक़रीर सुनकर आपके भाई, औलाद ,भाइयों की औलाद,और अब्दुल्लाह बिन जाफर रज़ि. की औलाद ,बनु अकी़ल सब एक आवाज़ हो कर बोले,
"_वल्लाह हम हरगिज़ न जाएंगे,हमे अल्लाह ताला आपके बाद बाक़ी न रखे," ※*

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
   
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *※  39- Ahle bait ko Vasiyat  ※*

◈ Hazrat Husain Raz. ne apni hamshira Hazrat Zenab Raz.aur ahle bait ko vasiyat ki,
” _me tumhe khuda ki qasam deta hu’n k tum meri shahadat per tum na kapde faadna, aur seena kubi vagera hargiz na karna, awaaz se rone aur chillane se bachna, ”

⇨ ye vasiyat karke Aap aur tamaam ashaab Shabe Tahajjud aur Dua v Astagfaar me mashgool ho gaye,

◈_ Ye ashura ki raat thi aur subeh ko Yome AshUra aur roze Juma tha,

*▣ 40 – Har bin Yazeed Hazrat Husain Raz.ke saath ▣*

◈_ Subeh namaz se farig hote hi Amr bin Sa’ad lashkar lekar saamne aa gaya, Hazrat Husain Raz.ke saath us waqt 72 ashaab the, 30 sawaar the aur 40 pyade the, Aapne bhi muqable ke liye safbandi farmai,

◈_ Amr bin Sa’ad ne apne lashkar ko 4 hisso me taqseem karke har hisse ka ek Ameer banaya tha, unme ek hisse ka Ameer Har bin Yazeed tha,

→ ( Jo sabse pehle ek hazar ka lashkar lekar bheja gaya tha, aur Hazrat Husain Raz.ke saath saath chal raha tha, aur unke khutbo se mutassir ho chuka tha, uske dil ahle bait athaar ki muhabbat ka jazba bedaar ho chuka tha,)

→Apna ghoda dodakar Hazrat Husain Raz.ke lashkar me aa mila aur arz kiya,
” _mujhe andaza nahi tha k ye log aapke khilaf is had tak pahunch ja’enge, agar me jaanta to hargiz aapko na rokta, ab meri saza yahi he k me aapke saath qitaal karta hua apni jaan de du, ”
aur esa hi hua,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 214*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※39-अहले बैत को वसीयत※*

★_हज़रत हुसैन रज़ि. ने अपनी हमशीरा हज़रत ज़ैनब रज़ि. और अहले बैत को वसीयत की

"_मैं तुम्हे खुदा की क़सम देता हूं कि मेरी शहादत पर तुम न कपड़े फाड़ना,और सीना कुबि वगैरह हरगिज़ न करना,आवाज़ से रोने और चिल्लाने से बचना,"

★_ये वसीयत कर के आप और तमाम असहाब शबे तहज्जुद और दुआ ब इस्तग़फ़ार में मशगूल हो गए,

★_ये आशूरा की रात थी और सुबह को यौमे आशूरा और रोज़े जुमा था,

*※_ 40-हर बिन यज़ीद हज़रत हुसैन रज़ि. के साथ_※*

★_सुबह नमाज़ से फारिग होते ही अम्र बिन साद लश्कर ले कर सामने आ गया, हज़रत हुसैन रज़ि. के साथ उस वक़्त 72 असहाब थे,30 सवार थे और 40 प्यादे थे ,आपने भी मुक़ाबले के लिए सफबन्दी फरमाई,

★_अम्र बिन साद ने अपने लश्कर को 4 हिस्सों में तक़सीम कर के हर हिस्से का एक अमीर बनाया था,उनमे एक हिस्से का अमीर हर बिन यज़ीद था,

(जो सबसे पहले एक हज़ार का लश्कर लेकर भेजा गया था,और हज़रत हुसैन रज़ि. के साथ साथ चल रहा था,और उनके खुतबों से मुतास्सिर हो चुका था,उसके दिल अहले बैत अतहार की मोहब्बत का जज़्बा बेदार हो चुका था,)

अपना घोड़ा दौड़ाकर हज़रत हुसैन रज़ि. के लश्कर में आ मिला और अर्ज़ किया,
"_मुझे अंदाज़ा नही था कि ये लोग आपके खिलाफ इस हद तक पहुंच जाएंगे ,अगर मैं जानता तो हरगिज़ आपको ना रोकता ,अब मेरी सज़ा यही है कि मैं आपके साथ कि़ताल करता हुआ अपनी जान दे दूं,_"
और ऐसा  ही हुआ,  

          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *※ 41- Dono lashkaro ka Muqabla aur Hazrat Husain Raz. Ka Khitaab  ※*

◈_ Hazrat Husain Raz.ghode per sawaar hue aur aage badkar ba awaaz buland farmaya,-
”_ logo meri baat suno, zaldi na Karo, taki me haq nasihat kar du Jo mere jimme he aur taki me apne yaha aane ki vajah bata du, fir agar tum mera uzr qubool Karo aur meri baat ko sachcha jano aur mere saath insaaf Karo to isme tumhari falaah v sa’aadat he aur fir tumhare liye mere qitaal ka koi raasta nahi, aur agar mera uzr qubool na Karo to tum sab milkar muqarrar Karo apna kaam aur jama karlo apne shareeko ko k na rahe tumko apne kaam me shubha, fir kar guzro mere saath aur mujhe mohlat na do,

→( Ye wahi alfaaz hai’n Jo Hazrat Nooh Alaihissalam ne apni qaum se kahe the)

◈_ Hazrat Husain Raz.ke ye alfaaz behno aur aurto’n ke kaano me pade to jabt na kar saki, rone ki awaaze buland ho gayi,

→Hazrat Husain Raz.ne apne bhai Abbas Raz.ko bheja k inko nasihat karke khamosh karaye, aur us waqt farmaya,
”_ Allah ta’aala ibne Abbas per raham farmaye, unhone sahi kaha tha k aurto’n ko saath na le jao, ”

◈_ Hamd v Sana ke baad farmaya,
”_ Ey  logo.! tum mera nasab dekho me kon hu’n, fir apne dilo me gor Karo k kya ye tumhare liye jaa’iz he k tum mujhe qatl Karo? Kya me tumhare Nabi Sallallahu Alaihivasallam ki Sahabzadi ka beta nahi hu’n? Kya me us baap ka beta nahi hu’n Jo Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ka chachazad bhai wasi ul momineen billah tha,? Kya Sayyadul Shohda  Hazrat Hamza Raz.mere baap ke chacha nahi? Kya Jaafar Tayaar mere chacha nahi?

→Kya tumhe ye hadees mashoor nahi pahunchi k Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ne mujhe aur mere bhai Hasan ko Saiyada Shabab Ahlal Jannat aur apni aankho ki thandak farmaya?

Agar tumhe meri baat ka yaqeen nahi to tumhare andar ese log mojood hai’n jinse iski tasdeek ho sakti he,
Kya ye cheeze tumhare liye mera khoon bahane se rokne ke liye kafi nahi he, Mujhe batao k mene kisi ko qatl kiya he k jiske qasaas me mujhe qatl kar rahe ho, ya mene kisi ka maal luta he ya kisi ko zakhm diya he,”

◈_ iske baad Hazrat Husain Raz.ne kufa ke bade sardar logo ka naam lekar pukara,
” _Ey Sheesh bin Rabi, Ey Hijaz bin Jahra,  Ey  Qais bin Ashas, Ey  Zaid bin Haris kya tum logo ne mujhe bulane ke liye khutoot nahi likhe?”

◈ Ye sab log mukar gaye k humne nahi likhe,
Hazrat Husain Raz.ne farmaya,
”_ mere pass tumhare khutoot mojood hai’n,
iske baad farmaya,
” Ey logo agar tum mera aana pasand nahi karte to mujhe chhod do, me kisi esi zameen me chala jaunga jaha mujhe aman mile, ”

→Qais bin Ashas ne kaha k,
” _Aap apne chachazad bhai ibne Ziyaad ke hukm per kyu nahi utar aate, wo fir aapke bhai hai’n Aapke saath bura sulook nahi karenge, ”

Hazrat Husain Raz. ne farmaya,
” _Muslim bin Aqeel Raz.ke qatl ke baad bhi tumhari yahi raay he? Wallah me isko kabhi qubool nahi Kari karunga, ”

◈ _iske baad Hazrat Zubair bin Alqeen  Raz. ne nasihat ki k apni is harkat se baaz aa jao Zalimo ab bhi hosh me aao, Fatma Raz.ka beta Sumaiya ke bete ( ibne Ziyaad) se zyada muhabbat v ikraam ka mustahiq he, ”

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 216*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※ 41-दोनो लश्करों का मुकाबला और हज़रत हुसैन रज़ि. का खिताब*※*

★_हज़रत हुसैन रज़ि. घोड़े पर सवार हुए और आगे बढ़कर बा  आवाज़ बुलंद फरमाया,
"_लोगों मेरी बात सुनो ,जल्दी न करो,ताकि मैं हक़ नसीहत कर दूं जो मेरे ज़िम्मे है और ताकि मैं अपने यहां आने की वजह बता दूं,फिर अगर तुम मेरा उज़्र क़ुबूल करो और मेरी बात को सच्चा जानो और मेरे साथ इंसाफ करो तो इसमें तुम्हारी फलाह है व सआदत है और फिर तुम्हारे लिए मेरे कि़ताल का कोई रास्ता नही,और अगर मेरा उज़्र क़ुबूल न करो तो तुम सब मिलकर मुक़र्रर करो अपना काम और जमा कर लो अपने शरीक़ों को कि न रहे तुमको अपने काम मे शुब्हा ,फिर कर गुज़रो मेरे साथ और मुझे मोहलत न दो,

(ये वही अल्फ़ाज़ हैं जो हज़रत नूह अलैहिस्सलाम ने अपनी क़ौम से कहे थे)

★_हज़रत हुसैन रज़ि. के ये अल्फ़ाज़ बहनों और औरतों के कानों में पड़े तो जब्त न कर सकी ,रोने की आवाज़ें बुलंद हो  गई,

★_हज़रत हुसैन रज़ि. ने अपने भाई अब्बास रज़ि. को भेजा कि इनको नसीहत कर के खामोश कराए,और उस वक़्त फरमाया,

"_अल्लाह ताला इब्ने अब्बास पर रहम फरमाए,उन्होंने सही कहा था कि औरतों को साथ न ले जाओ,"

★_हम्द व सना के बाद फरमाया ,
"_ऐ लोगों!तुम मेरा नसब देखों मैं कौन हूँ,फिर अपने दिलों में गौर करो कि क्या ये तुम्हारे लिए जाइज़ है कि तुम मुझे क़त्ल करो?

क्या मैं तुम्हारे नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की साहबजा़दी का बेटा नही हूं ?क्या मैं उस बाप का बेटा नही हु जो रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का चचाज़ाद भाई वासी उल मोमिनीन बिल्लाह था?क्या सय्यदुल शोहदा हज़रत हमजा रज़ि. मेरे बाप के चाचा नही? क्या जाफर तैयार मेरे चाचा नही?

क्या तुम्हें ये हदीस मशहूर नही पहुंची के रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने मुझे और मेरे भाई हसन को सैयदा शबाब अहलल जन्नत और अपनी आंखों की ठंडक फरमाया?

अगर तुम्हें मेरी बात का यकीन नही तो तुम्हारे अंदर ऐसे लोग मौजूद है जिनसे इसकी तस्दीक हो सकती है,क्या ये चीज़े तुम्हारे लिए मेरा खून बहाने से रोकने के लिए काफी नही है,मुझे बताओ कि मैंने किसी को क़त्ल किया है कि जिसके क़सास में मुझे क़त्ल कर रहे हो,या मैंने किसी का माल लुटा है या किसी को ज़ख्म दिया है,"

★_इसके बाद हज़रत हुसैन रज़ि. ने कूफ़ा के बड़े सरदार लोगों का नाम लेकर पुकारा,
"_ ऐ शीश बिन रबी,ऐ हिजाज़ बिन जहरा,ऐ क़ैस बिन असस,ऐ ज़ैद बिन हारिस क्या तुम लोगों ने मुझे बुलाने के लिए खुतूत नही लिखे?

★_ये सब लोग मुकर गए के हमने नही लिखे,हज़रत हुसैन रज़ि. ने फरमाया,
"_मेरे पास तुम्हारे खुतूत मौजूद हैं, इसके बाद फरमाया,

"_ऐ लोगों अगर तुम मेरा आना पसंद नही करते तो मुझे छोड़ दो,मैं किसी ऐसी ज़मीन में चला जाऊंगा जहां मुझे अमन मिले,"

★_क़ैस बिनअसस ने कहा कि,
"_आप अपने चचाज़ाद भाई इब्ने ज़ियाद के हुक्म पर क्यों नही उतर आते, वो फिर आपके भाई हैं आपके साथ बुरा सुलूक नही करेंगे,"

हज़रत हुसैन रज़ि. ने फरमाया,
"_मुस्लिम बिन अकील रज़ि. के कत्ल के बाद भी तुम्हारी यही राय है ?वल्लाह मैं इसको क़ुबूल नही करूँगा"

★_इसके बाद हज़रत ज़ुबैर बिन अलक़ीन रज़ि. ने नसीहत की कि अपनी इस हरकत से बाज़ आ जाओ जालिमो अब भी होश में आओ,फातिमा रज़ि. का बेटा सुमैया के बेटे (इब्ने ज़ियाद )से ज़्यादा मुहब्बत व इकराम का मुस्तहिक़ है," ※*

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
   
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *※  42- Shimar ka pehla Teer  ※*

◈_ Jab guftgu taveel hone lagi to Shimar ne pehla teer chala diya,

→ Jab Har bin Yazeed ne khitaab kiya to un per bhi teer feke gaye,

◈_ iske baad teerandazi ka silsila shuru ho gaya, dushmano ke bhi kaafi aadmi maare gaye, Hazrat Husain Raz.ke rafqaa bhi baaz shaheed ho gaye,

◈ _Ghamasan ki jung hui, ghode chhod kar pyade aa gaye, Ab dushmano ne khemo me aag lagana shuru kar diya,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 216*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
  *※ 42-शिमर का पहला तीर※*

★_जब गुफ़्तगू तवील होने लगी तो शिमर ने पहला तीर चला दिया,

जब हर बिन यजीद ने खिताब किया तो उनपर भी तीर फेके गए,

★_इसके बाद तीरंदाज़ी का सिलसिला शुरू हो गया,दुश्मनो के भी काफी आदमी मारे गए,हज़रत हुसैन रज़ि. के रफका़ भी बाज़ शहीद हो गए,

★_घमासान की जंग हुई,घोड़े छोड़ के प्यादे आ गए,अब दुश्मनो ने खेमो में आग लगाना शुरू कर दिया, 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*

          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ 43- Ghamasaan me Namaze Zuhar ka Waqt  ▣*

◈ _Hazrat Husain Raz.ke aksar ashaab shaheed ho chuke the aur dushmano ke daste Hazrat Husain Raz.ke qareeb pahunch chuke the,

→Abu Shamama Sa’adi ne arz kiya k,
”_ meri jaan aap per qurban ho me chahta hu k aapke saamne qatl kiya jau, lekin dil ye chahta he k Zuhar ka waqt ho chuka he, ye namaz ada karke parvardigar ke saamne jau,

◈_ Hazrat Husain Raz.ne awaaz buland karke farmaya, ,
”_ Jung multavi karo yaha tak k hum namaz pad le, ”

Esi ghamasaan jung me kon sunta aur Abu Shamama isi haalat me shaheed ho gaye,

⇨ unke baad Hazrat Husain Raz.ne apne chand ashaab ke saath namaze Zuhar salatul khof ke mutabik Ada ki, Namaz ke baad fir qitaal shuru hua, Har koi chahta tha k me Hazrat Husain Raz.ke saamne pehle shaheed ho jau, isliye har shakhs nihayat shiddat v shuja’at se muqabla kar raha tha,

→Hazrat Husain Raz.ke bade sahabzade Hazrat Ali Akbar Raz.ye sher padte hue aage bade,

⇨ ( Tarjuma )
” Me Husain bin Ali Raz.ka beta hu’n, Qasam he rabbul bait ki hum Rasool Sallallahu Alaihivasallam ke qareebtar hai’n, ”

→ Kambakht Murrah bin Munqaz ne unko neza maarkar gira diya aur unki laash ke tukde tukde kar diye,

→Amr bin Sa’ad ne Hazrat Qasim bin Hasan Raz.ke sar per talwaar maari, Hazrat Husain Raz.ne daudkar unko sambhala, aur Amr per talwaar se hamla kiya jisse kuhni se uska haath kat gaya, Aapne apne bhatije ki laash ko uthaya aur apne bete aur doosre ahle bait ki laasho ke paas lita diya,

◈_ Hazrat Husain Raz.taqreeban tanha beyaar v madadgar reh gaye lekin unki taraf badne ki kisi ko himmat na thi, Hazrat Husain Raz.ke qatl aur uske gunah ko apne sar koi lena nahi chahta tha,

Yaha tak k qabila kundah ka ek shaqi ul qalb Malik bin Naseer aage bada aur Hazrat Husain Raz.ke sar per talwaar se hamla kiya, Aap shadeed zakhmi ho gaye, apne chhote bete Abdullah Raz.ko bulaya aur apni god me betha liya,

Bani Asad ke ek badnaseeb ne unko bhi teer maar kar shaheed kar diya, Hazrat Husain Raz.ne us masoom bachche ka khoon lekar zameen per bikher diya aur dua ki,
”_ Ya Allah ! Tu hi in zalimo se humara inteqam le, ”

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 222*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※ 43- घमासान में नमाज़े ज़ुहर का वक़्त ※*

★_हज़रत हुसैन रज़ि. के अक्सर असहाब शहीद हो चुके थेऔर दुश्मनो के दस्ते हज़रत हुसैन रज़ि. के क़रीब पहुंच चुके थे,

अबु शमामा सादी ने अर्ज़ किया कि ,_मेरी जान आप पर क़ुर्बान हो मैं चाहता हु की आपके सामने क़त्ल किया जाऊं, लेकिन दिल ये चाहता है कि ज़ुहर का वक़्त हो चुका है,ये नमाज़ अदा कर के परवरदिगार के सामने जाऊं,

★_हज़रत हुसैन रज़ि. ने आवाज़ बुलंद कर के फरमाया,
"जंग मुल्तवी करो यहां तक कि हम नमाज़ पढ़ लें,"

★_ऐसी घमासान जंग में कौन सुनता और अबू शमामा इसी हाल में शहीद हो गए,

उसके बाद हज़रत हुसैन रज़ि. ने अपने चंद असहाब के साथ नमाज़े ज़ुहर सलातुल ख़ौफ़ के मुताबिक अदा की,नमाज़ के बाद फिर किताल शुरू हुआ,हर कोई चाहता था कि मैं हज़रत हुसैन रज़ि. के सामने पहले शहीद हो जाऊं, इसीलिए हर शख्स निहायत शिद्दत ब शुजात से मुक़ाबला कर रहा था,

★_हज़रत हुसैन रज़ि. के बड़े साहबज़ादे हज़रत अली अकबर रज़ि. ये शेर पढ़ते हुए आगे बढ़े,

(तर्जुमा)
"मैं हुसैन बिन अली रज़ि. का बेटा हु क़सम है रबूल बैत की हम रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के क़रीबतर हैं,"

कमबख्त मुर्राह बिन मुन्काज़ ने उनको नेजा मारकर गिरा दिया और उनकी लाश  के टुकड़े टुकड़े कर दिए,

अम्र बिन साद ने हज़रत क़ासिम बिन हसन रज़ि. के सर पर तलवार मारी , हज़रत हुसैन रज़ि. ने दौड़कर उनको संभाला ,और अम्र पर तलवार से हमला किया जिससे कुहनी से उसका हाथ कट  गया,आपने अपने भतीजे की लाश को उठाया और अपने बेटे और दूसरे अहले बैत की लाशों के पास लिटा दिया,

★_हज़रत हुसैन रज़ि. तक़रीबन तन्हा बेयार मददगार रह गए लेकिन उनकी तरफ बढ़ने की किसी को हिम्मत न थी ,हज़रत हुसैन रज़ि. के कत्ल और उसके गुनाह को अपने सर कोई लेना नही चाहता था,

यहां तक कि क़बीला कुण्दह का एक शकी उल क़ल्ब मलिक बिन नसीर आगे बढ़ा और हज़रत हुसैन रज़ि. के सर पर तलवार से हमला किया,आप शदीद ज़ख्मी हो गए,अपने छोटे बेटे अब्दुल्लाह रज़ि. को बुलाया और अपनी गोद मे बैठा लिया,

बनी असद के एक बदनसीब ने उनको भी तीर मार कर शहीद कर दिया,हज़रत हुसैन रज़ि. ने उस मासूम बच्चे का खून लेकर ज़मीन पर बिखेर दिया और दुआ की,
या अल्लाह !तू ही इन जालिमो से हमारा इन्तेक़ाम ले" 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*

          ◆══◆══◆══◆══◆══◆

 *▣ 44- Hazrat Husain Raz. Ki Shahadat ▣*

◈_ Us waqt aapki pyaas had tak pahunch chuki thi, Aap paani pine ke liye dariya e faraat ke qareeb tashreef le gaye ,

→Zalim Husen bin Nameer ne aapke moonh per nishana karke Teer feka Jo aapko laga aur dahan Mubarak se khoon jaari ho gaya,

inna lillahi va inna ilayhi raajioun,

◈_ Shimar 10 Aadmiyo ko lekar Hazrat Husain Raz.ki taraf bada, Shadeed pyas aur zakhmo ke bavjood aap unka dilerana muqabla kar rahe the aur jis taraf Aap badte ye bhagte nazar aate,

⇨ Shimar ne jab ye dekha k Hazrat Husain Raz.ke qatl karne se har shakhs bachna chahta he to awaaz di k sab ek saath hamla Karo, is per bahut se badnaseeb aage bade, nezo aur talwaro se ek saath hamla kiya aur ye ibne Rasulullah, khaire khalkullah fil arz zalimo ka dilerana muqabla karte hue shaheed ho gaye,

inna lillahi va inna ilayhi raajioun,

◈_ Shimar ne khola bin Yazeed se kaha k inka sar kaat lo, magar uska haath kaanp gaya, fir Shaqi badbakht Sannan Bin Anas ne kaam anjaam diya,

⇨Aapki laash ko dekha to 33 zakhm nezo ke, 34 zakhm talwaro ke the,

“Fa raziyallahu anhum va arzah varzuqna hubba va hab min vaalidah, ”

◈_ Hazrat Husain Raz.aur ahle bait ke qatl se farig hokar ye zalim Hazrat Ali Asgar zenul Abideen Raz.ki taraf mutavajjah hue,

⇨ Shimar ne unko bhi qatl karna chaha, Hameed bin Muslim ne kaha,

” Tum bachche ko qatl karte ho jab k wo mareez bhi he, ”

To Shimar ne unhe chhod diya,

→Amr bin Sa’ad ne kaha k aurto ke khemo ke paas koi na jaye aur is mareez bachche ko koi na chhede,

◈_ ibne Ziyaad ka hukm tha k qatl ke baad laash ko ghodo ki taapo se ronda jaye, un zalimo ne ye bhi kar dala,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 222*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 44-हज़रत हुसैन रज़ि. की शहादत※*

★_उस वक़्त आपकी प्यास हद तक पहुंच चुकी थी,आप पानी पीने के लिए दरिया ए फरात के क़रीब तशरीफ़ ले गए,

ज़ालिम हुसेन बिन नमीर ने आप के मुंह पर निशाना कर के तीर फेका जो आपको लगा और दहन मुबारक से खून जारी हो गया,

इन्ना लिल्लाहि व इन्ना इलैही राजिऊन

★_शिमर 10 आदमियों को लेकर हज़रत हुसैन रज़ि. की तरफ बढ़ा ,शदीद प्यास और ज़ख्मों के बावजूद आप उनका दिलेराना मुकाबला कर रहे थे और जिस तरफ आप बढ़ते ये भागते नज़र आते,

शिमर ने जब ये देखा कि हज़रत हुसैन रज़ि. के कत्ल करने से हर शख्स बचना चाहता है तो आवाज़ दी कि सब एक साथ हमला करो,इस पर बहुत से बदनसीब आगे बढ़े,नैज़ों और तलवारों से एक साथ हमला किया और ये इब्ने रसूलुल्लाह ,खैरे खलकुल्लाह फिल अर्ज़ जालिमो का दिलेराना मुकाबला करते हुए शहीद हो गए,

 इन्ना लिल्लाहि व इन्ना इलैही राजिऊन,

★_शिमर ने खोला बिन यज़ीद से कहा कि इनका सर काट लो,मगर उसका हाथ कांप गया,फिर शकी बदबख्त सननं बिन अनस ने काम अंजाम दिया,

आपकी लाश को देखा तो 33 ज़ख्म नैज़ों ,34 ज़ख्म तलवारों के थे,

फ़ा रज़ियल्लाहु अन्हुम व अर्ज़ह वर्ज़ूकना हुब्बा व हब मिन वालीदाह,

★_हज़रत हुसैन रज़ि. और अहले बैत के कत्ल से फारिग हो कर ये ज़ालिम हज़रत अली असगर जेनुल अबिदीन रज़ि. की तरफ मुतवज्जह हुए,

शिमर ने उनको भी क़त्ल करना चाहा, हमीद बिन मुस्लिम ने कहा,

तुम बच्चे को क़त्ल करते हो जब कि वो मरीज़ भी है,

तो शिमर ने उन्हें छोड़ दिया,

अम्र बिन साद ने कहा कि औरतों के खेमो के पास कोई न जाए और इस मरीज़ बच्चे को कोई न छेड़े ,

★_इब्ने ज़ियाद का हुक्म था कि क़त्ल के बाद लाश को घोड़ों कि टापों से रौंदा जाए,उन जालिमो ने ये भी कर डाला।। 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*

          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ 45- Hazrat Husain Raz. aur unke Rafqa ke Sar Mubarak ibne Ziyaad ke Darbaar me ▣*

◈_Jung ke khatme per maqtuleen ki shumar ki gayi to Hazrat Husain Raziyallahu anhu ke ashaab me 72 Hazraat shaheed hue aur Amr bin Sa’ad ke lashkar ke 88 sipahi maare gaye, Hazrat Husain Raz.aur unke Rafqa ko 2 din baad dafan kiya gaya,

◈_ Khola bin Yazeed aur Hameed bin Muslim in Hazraat ke saro ko lekar kufa rawana hue aur ibne Ziyaad ke saamne pesh kiya, ibne Ziyaad ne sabko jama karke saro ko saamne rakha aur ek chhadi se Hazrat Husain Raz.ke dahan Mubarak ko chhone laga, Zaid bin Arqam Raziyallahu Anhu se raha nahi gaya aur bol uthe,

⇨” k chhadi ko in mubarak honto se hata le, qasam he us zaat ki jiske Siva koi ma’abood  nahi k mene Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ko dekha he k in honto ka bosa dete the,”

ye kehkar ro pade,

⇨Ibne Ziyaad ne kaha k tum agar bude na hote to me tumhari bhi gardan uda deta,

→ Hazrat Zaid bin Arqam Raz.ye kehte hue bahar aa gaye k,

” Ey  qaume Arab! tumne Saiyadunnisa Fatma ke bete ko qatl kar diya aur Marjana ke bete ko apna Ameer bana liya, wo tumhare achchhe logo ko qatl karega aur shariro ko gulam bana’ega, tumhe kya hua Jo is zillat per raazi ho gaye,”

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 227*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*※ 45-हज़रत हुसैन रज़ि. और उनके रफका के सर मुबारक इब्ने ज़ियाद के दरबार मे※*

★_जंग के खात्मे पर मक़तूलीन की शुमार की गई तो हज़रत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु के असहाब में 72 हज़रात शहीद हुए और अम्र बिन साद के लश्कर के 88 सिपाही मारे गए, हज़रत हुसैन रज़ि. और उनके रफका़ को 2 दिन बाद दफन किया गया,

★_खोला बिन यज़ीद और हमीद बिन मुस्लिम इन हज़रात के सरों को लेकर कूफ़ा रवाना हुए और इब्ने ज़ियाद के सामने पेश किया,इब्ने ज़ियाद ने सबको जमा कर के सरों को सामने रखा और एक छड़ी से हज़रत हुसैन के रज़ि. के दहन मुबारक को छूने लगा,ज़ैद बिन अर्क़म रज़ियल्लाहु अन्हु से रहा नही गया,और बोल उठे,

"_कि छड़ी को इन मुबारक होंठों से हटा लें ,क़सम है उस ज़ात की जिसके सिवा कोई माबूद नही के मैंने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को देखा है इन होंठों को बोसा देते हुए,"

ये कह कर रो पडे,

इब्ने ज़ियाद ने कहा कि तुम अगर बूढ़े न होते तो मैं तुम्हारी गर्दन को उड़ा देता,

हज़रत ज़ैद बिन अर्क़म रज़ि. ये कहते हुए बाहर आ गए कि

"_ऐ क़ौमे अरब!तुमने सैयदुन्निसा फात्मा के बेटे को क़त्ल कर दिया और मरजाना क बेटे को अपना अमीर बना लिया,वो तुम्हारे अच्छे लोगों को क़त्ल करेगा और शरीरों को गुलाम बनाएगा,तुम्हे क्या हुआ जो इस ज़िल्लत पर राजी हो गए," 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
  
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ 46- Baqiya Ahle bait Kufa me ▣*

◈_ Amr bin Sa’ad 2 roz baad baaqi ahle bait ko lekar kufa pahuncha, aur sabko ibne Ziyaad ke saamne pesh kiya, ibne Ziyaad ne Hazrat  Ali Asgar Raz.ko bhi qatl karne ka iraada kiya to Hazrat Ali Asgar Raz. ne kaha k mere baad in aurto’n ka kon kafeel hoga?

◈_Idhar Hazrat Zenab Raz.unki fufi unko lipat gayi aur kehne lagi,
“_Ey  ibne Ziyaad!  kya abhi tak humare khoon se Teri pyaas nahi bujhi, me tujhe khuda ki kasam deti hu’n, inko qatl kare to humko bhi inke saath qatl kar de, ”

Ali Asgar Raz. ne farmaya,
"_, Ey ibne Ziyaad !! agar tere aur in aurto’n ke darmiyan koi qarabat ( rishtedari) he to inke saath kisi saleh muttaqi musalman ko bhejna, Jo islam ki taleem ke mutabik inki rafaqat kare, ”

→Ye sunkar ibne Ziyaad ne kaha,-
”_ Achchha is ladke ko chhod do k ye khud apni aurto’n ke saath jaye, ”

◈_ iske baad ibne Ziyaad ne ek namaz ke baad khutba diya jisme Hazrat Husain Raz.,Hazrat Ali Raz. Per sab v shitam kiya, us majme me ek naabina Sahabi Abdullah bin Afeef Azdi Raz.the, wo khade ho gaye aur kaha,

→” Ey  ibne Ziyaad.! tu kazaab bin kazaab he, tum Ambiya ki aulaad ko qatl karte ho aur Siddiqeen si baate banate ho, ”

⇨Ibne Ziyaad ne unhe giraftar karna chaha lekin unke qabile ke log khade ho gaye to unko chhod diya,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 227*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※ 46-बकिया अहले बैत कूफ़ा में_, ※*

★_अम्र बिन साद 2 रोज़ बाद बाक़ी अहले बैत को लेकर कूफ़ा पहुंचा ,और सबको इब्ने ज़ियाद के सामने पेश किया,इब्ने ज़ियाद ने हज़रत अली असगर रज़ि. को भी क़त्ल करने का इरादा किया तो हज़रत अली असगर रज़ि. ने कहा कि मेरे बाद इन औरतों का कौन कफील होगा?

★_इधर हज़रत ज़ैनब रज़ि. उनकी फूफी उनको लिपट गयी और कहने लगी,

"_ऐ इब्ने ज़ियाद ! क्या अभी तक हमारे खून से  तेरी प्यास नही बुझी,मैं तुझे खुदा की कसम देती हूं,इनको क़त्ल करे तो हमको भी इनके साथ क़त्ल कर दे,"

अली असगर रज़ि. ने फरमाया,

"_ऐ इब्ने ज़ियाद !!अगर तेरे और इन औरतों के दरमियान कोई क़राबत (रिश्तेदारी)है तो इनके साथ किसी सालेह मुत्तक़ी मुसलमान को भेजना ,जो इस्लाम की तालीम के मुताबिक इनकीं रफाक़त करे,"

ये सुनकर इब्ने ज़ियाद ने कहा,-

"_अच्छा इस लड़के को छोड़ दो कि ये खुद अपनी औरतों के साथ जाए,"

★_इसके बाद इब्ने ज़ियाद ने एक नमाज़ के बाद खुतबा दिया जिसमें हज़रत हुसैन रज़ि. ,हज़रत अली रज़ि. पर सब व शितम किया,उस मजमे में एक नाबीना सहाबी अब्दुल्लाह बिन अफीफ अज़दी रज़ि. थे,वो खड़े हो गए और कहा,

"_ऐ इब्ने ज़ियाद!तू कज़ाब बिन कज़ाब है,तुम अम्बिया की औलाद को क़त्ल करते हो और सिद्दिक़ीन सी बातें बनाते हो,"

इब्ने ज़ियाद ने उन्हें गिरफ्तार करना चाहा लेकिन उनके क़बाइल के लोग खड़े हो गए तो उनकों छोड दिया,

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
  
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ 47- Sar Mubarak ko Kufa ke Bazaro me Firaya gayA ▣*

◈ _ibne Ziyaad ki shaqawat ne isi per bas nahi kiya balki hukm diya k Hazrat Husain Raz.ke sar Mubarak ko ek lakdi per rakhkar kufa ke bazaro aur gali kucho me ghumaya jaye,,

⇨ iske baad mulqe shaam Yazeed ke paas bhej diya gaya, aur saath hi aurto’n aur bachcho ko bhi rawana kar diya gaya,

◈_ inaam ke lalach me Har bin Qais Yazeed ke paas Fateh ki khabar lekar pahuncha aur maidane karbala ki tafseel bayaan ki,

⇨ Ye haal sunkar Yazeed ki aankho se aansu beh nikle aur kaha,
→” Me tumse itni hi itaat chahta tha k bager qatl kiye giraftaar kar lo, Allah ta’aala ibne Sumaiya ( ibne Ziyaad) per laanat kare, usne inko qatl Kara diya, Khuda ki Qasam me waha hota to me maaf kar deta, Allah ta’aala Husain (Raz.) per raham farmaye, ”

◈_ Sar Mubarak jis waqt Yazeed ke saamne rakha gaya to Yazeed ke haath me ek chhadi thi aur Hazrat Husain Raz.ke daanto per chhadi fer kar ashaar padne laga,
→” Hamari qaum ne hamare liye insaaf na kiya to hamari khoo’n chaka’n Talwaro ne insaaf kiya, jinhone ese mardo ke sar faad diye Jo hum per sakht the aur wo taalluqat qata’a karne wale zalim the,”

◈_ Hazrat Abu Barza Aslami Raziyallahu Anhu bhi wahi mojood the, Aapne kaha k,
“Ey  Yazeed !  apni chhadi Hazrat Husain Raz.ke daanto per lagata he aur mene Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ko dekha he k inko bosa dete the,”

Ey  Yazeed!  qayamat ke roz tu aaega to Teri shafa’at ibne Ziyaad hi karega aur Hazrat Husain Raziyallahu Anhu aaenge to unke Shafi’a Muhammad Mustfa Sallallahu Alaihivasallam honge, ”

Ye kehkar Abu Barza Raz.majlis se nikal gaye,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 229*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※ 47-सर मुबारक को कूफ़ा के बाजारों में फिराया गया※*

★_ इब्ने ज़ियाद की शकावत ने इसी पर बस नही किया बल्कि हुक्म दिया की हज़रत हुसैन रज़ि. के सर मुबारक को एक लकड़ी पर रख कर कूफ़ा के बाजारों और गली कूचों में घुमाया जाए,,

इसके बाद मूलके शाम यज़ीद के पास भेज दिया गया,और साथ ही औरतों और बच्चों को भी रवाना कर दिया गया,

★_इनाम के लालच में हर बिन क़ैस यज़ीद के पास फतेह की खबर ले कर पहुंचा और मैदाने कर्बला की तफसील बयान की,

ये हाल सुनकर यज़ीद की आंखों से आंसू  बह निकले और कहा,
मैं तुमसे इतनी ही इताअत चाहता था कि बगैर क़त्ल किये गिरफ्तार कर लो,अल्लाह ताला इब्ने सुमैया (इब्ने ज़ियाद)पर लानत करे,उसने इनको क़त्ल करा दिया,खुदा की कसम मैं वहां होता  तो मैं माफ कर देता,अल्लाह ताला हुसैन रज़ि पर रहम फरमाए,""

★_ सर मुबारक जिस वक्त यज़ीद के सामने रखा गया तो यज़ीद के हाथ मे एक छड़ी थी और हज़रत हुसैन रज़ि. के दांतों पर छड़ी फेर कर अशआर पढ़ने लगा,

"_हमारी क़ौम ने हमारे लिए इंसाफ न किया तो हमारी खून चाकां तलवारों ने इंसाफ किया,
जिन्होंने ऐसे मर्दों के सर फाड़ दिए हो हम पर सख्त थे और वो ताल्लुक़ात क़ता करने वाले ज़ालिम थे,"

★_हज़रत अबू बर्ज़ा अस्लमी रज़ियल्लाहु अन्हु भी वही मौजूद थे,आपने कहा कि,

"_ऐ यज़ीद! अपनी छड़ी हज़रत हुसैन रज़ि. के दांतों पर लगाता है और मैंने देखा कि रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम इनको बोसा देते थे,"

ऐ यज़ीद!क़यामत के रोज़ तू आएगा तो तेरी शफ़ाअत इब्ने ज़ियाद ही करेगा और हज़रत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु आएंगे तो उनके शफी'अ मुहम्मद मुस्तुफा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम होंगे,"

ये कह कर अबू बर्ज़ा रज़ि.मजलिस से निकल गए, 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
  
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ 48- Yazeed ke Ghar Maatam ▣*

◈ _Jab Yazeed ki bivi Hindah bint Abdullah ne ye suna k Hazrat Husain Raziyallahu Anhu ko qatl kar diya gaya aur unka sar Mubarak laya gaya he to wo chaadar oad kar bahar nikal aayi aur kehne lagi,
→ “Ey   Amirul Momineen.! kya ibne binte Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ke saath ye maamla kiya gaya he,”

→Usne kaha,
” Khuda ibne Ziyaad ko halaak kare usne jaldi ki aur qatl kar dala,”

Hindah sunkar ro padi,

◈_ Aurte’n, bachche Yazeed ke saamne laaye gaye aur sar Mubarak majlis me rakha hua tha, Hazrat Husain Raz.ki dono sahabzadiya Fatima aur Sakina Raziyallahu anhuma ki nazar apne walid maajid ke sar per padi to besakhta rone lagi k awaaz nikal gayi,

⇨ unki awaaz sunkar Yazeed ki aurte’n bhi chilla uthi aur Yazeed ke ghar me ek maatam barpa ho gaya,

*▣ 49- Ahle bait ki Madina Waapsi ▣*

◈_ iske baad Ahle bait ko hifazat ke saath madina ki taraf rawana kar diya gaya,

◈_ Hazrat Husain Raziyallahu anhu aur unke ashaab ke qatl ki khabar jab Madina pahunchi to Madina me kohraam mach gaya, Madina ke daro diwaar ro rahe the aur jab ahle bait ke baqia nafoos Madina pahunche to Madina walo ke zakhm taza ho gaye,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 230*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※ 48-यज़ीद के घर मातम_※*

★_जब यज़ीद की बीवी हिंदाह बिन्त अब्दुल्लाह ने ये सुना कि  हज़रत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु को क़त्ल कर दिया गया और उनका सर मुबारक लाया गया है तो वो चादर ओढ़ कर बाहर निकल आई और कहने लगी,

ऐ अमीरुल मोमीनून !क्या इब्ने बिन्ते रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के साथ ये मामला किया गया है,"

उसने कहा ,
खुदा इब्ने ज़ियाद को हलाक करे उसने जल्दी की और क़त्ल कर डाला

हिंदाह सुनकर रो पड़ी,

★_औरतें बच्चे यज़ीद के सामने लाये गए और सर मुबारक मजलिस में रखा हुआ था,हज़रत हुसैन रज़ि. की दोनों साहब्ज़ादियाँ फातिमा और सकीना रज़ियल्लाहु अन्हुमा की नज़र अपने वालिद माजिद के सर पर पड़ी तो बेसाख्ता रोने लगी के आवाज़ निकल गई,

उनकी आवाज़ सुनकर यज़ीद की औरतें भी चिल्ला उठी और यज़ीद के घर मे एक मातम बरपा हो गया ,

*※49-अहले बैत की मदीना वापसी ※*

★_इसके बाद अहले बैत को हिफाज़त के साथ मदीना की तरफ रवाना कर दिया गया,

★_हज़रत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु और उनके असहाब के कत्ल की खबर जब मदीना पहुंची तो मदीना में कोहराम मच गया,मदीना के दरों दीवार रो रहे थे और जब अहले बैत के बकि़या नफूस मदीना पहुंचे तो मदीना वालों के जख्म ताज़ा हो गए ।

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
   
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ 50 – Shahadat ke waqt Huzur Sallallahu Alaihivasallam ko Khwab me dekha gaya ▣*

◈_ Behqi ne dalail me basanad rivayat likhi he k, Hazrat Abdullah bin Abbas Raziyallahu Anhu ne ek raat Huzur Sallallahu Alaihivasallam ko khwab me dekha k dopahar ka waqt he, Aap paraganda Baal pareshan haal hai’n, Aapke haath me ek sheeshi he jisme khoon he,

ibne Abbas Raz.farmate hai’n k mene arz kiya k ‘
“isme kya he?”

Farmaya –
” Husain ka khoon he, me Allah ta’aala ke saamne pesh karunga, ”

Hazrat ibne Abbas Raz.ne usi waqt logo ko khabar de di k Husain Raz.shaheed ho gaye,

⇨is khwab se chand roz baad shahadat ki khabar pahunchi aur hisaab lagaya gaya to theek wahi din aur wahi waqt aapki shahadat ka tha,

◈_ Tirmizi ne sulmi se rivayat kiya he k wo ek roz Hazrat umme Salma Raziyallahu Anha ke paas gaye to ro rahi thi, mene puchha to farmaya,
” _Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ko khwab me is tarah dekha he k Aapke sar Mubarak aur daadi Mubarak per mitti padi hui he, ”

Mene puchha k ,”ye kya haal he?  ”

Farmaya k ,” me abhi Husain ke qatl per mojood tha, ”

◈_ Abu Naiem ne dalail: me Hazrat Umme Salma Raziyallahu Anha se rivayat kiya he k Hazrat Husain Raziyallahu Anhu ke qatl per mene Jinnat ko rote dekha he,
 *
*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 230*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※50-शहादत के वक़्त हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को ख्वाब में देखा गया※*

★_बहकी़ ने दलाइल में बासनद रिवायत लिखी हैं कि ,हज़रत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रज़ियल्लाहु अन्हु ने एक रात हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को ख्वाब में देखा कि दोपहर का वक़्त है,आप परागन्दा बाल परेशान हाल हैं,आपके हाथ में एक शीशी है जिसमे खून है,

इब्ने अब्बास रज़ि. अन्हु फरमाते हैं कि मैने अर्ज़ किया कि 
इसमें क्या है?

फरमाया-
हुसैन का खून है मैं अल्लाह ताला के सामने पेश करूँगा,"

हज़रत इब्ने अब्बास रज़ि. ने उसी वक़्त लोगों को ख़बर दे दी कि हुसैन रज़ि. अन्हु शहीद हो गए,

"_इस ख्वाब के चंद रोज़ बाद शहादत की खबर पहुंची और हिसाब लगाया गया तो ठीक वही वक़्त और वही दिन आपकी शहादत का था,

★_तिर्मिज़ी ने सुलमी से रिवायत किया है कि वो एक रोज़ उम्मे सलमा रज़ि. अन्हा के पास गए तो रो रही थी,मैंने पूछा तो फरमाया,

"रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को ख्वाब में इस तरह देखा है कि आपके सर मुबारक और दाढ़ी मुबारक पर मिट्टी पड़ी हुई है,"

मैंने पूछा कि ये क्या हाल है?

फरमाया की "मैं अभी हुसैन के कत्ल पर मौजूद था"

★_अब नईम ने दलाइल में हज़रत उम्मे सलमा रज़ियल्लाहु अन्हा से रिवायत किया है कि हज़रत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु के कत्ल पर मैंने जिन्नात को रोते देखा है,  

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
  *▣ 51-Hamara Amal kya Hona chahiye  ▣*

◈_ Agar Hazrat Husain Raziyallahu Anhu ki zaat v sifaat ka zikr aayega to hum bila shubha sar jhuka denge,

⇨ aur unke naqse qadam per sar ke bal chalne ko bhi imaan v sa’adat samjhenge,

⇨ Aur Yazeed aur uske qaba’ir v misaal ba uyoob saamne aayenge to hum asal haqeeqat ko samajh kar khamoshi akhtyar karne ko makool jazba samjhenge,

⊙_ Ab uska maamla Allah ta’aala ke saath he humare saath nahi_,⊙

*® Hazrat Maulana Qari Taiyab Sahab •☆*

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 40*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
  *※ 51-हमारा अमल क्या होना चाहिए ※*

★_अगर हज़रत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु की ज़ात व सिफ़ात का ज़िक्र आएगा तो हम बिला शुब्हा सर झुका लेंगे,

और उनके नक्शे कदम पर सर के बल चलने को भी ईमान व सआदत समझेंगे,

और यज़ीद और उसके क़बाइर व मिसाल बा उयूब सामने आएंगे तो हम असल हक़ीक़त को समझ कर खामोशी इख़्तेयार करने को माकूल जज़्बा समझेंगे,

※ _अब उसका मामला अल्लाह ताला के साथ है हमारे साथ नही, ※*

*👉🏻 हज़रत मौलाना क़ारी तैयब साहब _,*

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
          ◆══◆══◆══◆══◆══
*▣ 52-Waq’aa e Karbala ka Ranj v Alam ▣*

◈_ Har kalma go chahe shiya ho ya sunni , sabko is dahshatnaak aur dard angez waq’aa se be inteha ranj v alam he,

⇨koi nahi Jo Hazrat Husain Raz.ki mazlumiyat se magmoom na ho, Taqriban 1374 saal guzarne ke bavjood is waq’aa ko koi bhool nahi paya iski yaad taaza apne seeno me rehti he,

*▣_ 53- Izhare Gam ke Tareeqe Me Farq _▣*

◈_ Ahle sunnat wal jama’at is dardnaak waq’aat ko apne seene me rakhne ke bavjood ek bahadur sahibe waqaar insaan ki tarah sanjeedgi ko haath se jaane nahi dete,

⇨Jabki iske khilaf Shiya logo ne is ranj v alam ka izhaar karne ke liye Sunnat se moonh mod liya aur 10 ve muharram ko izhaare gam ka wo tareeqa akhtyar kar liya Jo naja’iz aur haraam he,

⇨jinse musalmano ke aqa’id faasid hote hai’n, Shiya logo ke kamjor tabiyat ke rehnuma apne faayde ki khatir haq ko chhipate hai’n aur akhirat ke nata’iz ko nazar andaaz karte hai’n,

⇨ Afsos ye he k aaj bahut se hamare Sunni bhai bhi inki pervi kar rahe aur apni akhirat kharab kar rahe, ,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 265*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※ 52-वाकियाए कर्बला का रंज व आलम_※*

★_हर कलमागो चाहे शिया हो या सुन्नी ,सबको इस दहशतनाक और दर्द अंगेज़ वाक़या से बे इंतेहा रंज व अलम है,

कोई नही जो हज़रत हुसैन रज़ि. की मज़लूमियत से मगमूम न हो,तक़रीबन 1374 साल गुज़रने के बावजूद इस वाक़या को कोई भूल नही पाया इसकी याद ताजा अपने सीनों में रहती है,

*※_53-इज़हारे गम के तरीके में फर्क ※*

★_अहले सुन्नत वल जमात इस दर्दनाक वाक़यात को अपने सीने में रखने के बावजूद एक बहादुर साहिबे वक़ार इंसान की तरह संजीदगी को हाथ से जाने नही देते,

जबकि इसके खिलाफ शिया लोगों ने इस रंज व गम का इज़हार करने के लिए सुन्नत से मुंह मोड़ लिया और 10 वे मुहर्रम को इज़हारे गम का वो तरीका इख्तियार कर लिया जो नाजाइज़ और हराम है,

जिनसे मुसलमानों के अक़ाइद फ़ासिद होते हैं,शिया लोगों के कमजोर तबियत के रहनुमा अपने फायदे की खातिर हक़ को छिपाते हैं और आख़िरत के नताइज़ को नज़र अंदाज़ करते हैं,

अफसोस ये है कि आज बहुत से हमारे सुन्नी भाई भी इनकीं पैरवी करते हैं और अपनी आख़िरत खराब कर रहे हैं, 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
   
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ 54- Taaziyadari ke Mutalliq Ulmae Ahle Sunnat Ka Faisla ▣*

◈ _Hazrat  Shah Abdul Aziz Rh.Muhaddis Dehlvi Fatawa Azizi matbua muztabai, Safa 74 per likhte hai’n,

■ Taaziyadari Bid’at he aur Bid’ate Shiya he aur Bid’ate Shiya isme shamil hone walo ko khuda ki laanat me giraftaar kar deti he,
aur uske faraiz aur nawafil bhi baargahe ilahi me maqbool nahi hote, ”

■ Marsiya khwani ki majlis me ziyarat aur giryazari ki niyat se jana bhi jaa’iz nahi kyuki waha’n koi ziyarat nahi he jiake vaaste koi aadmi jaye aur Taaziya lakdiyo ki jo banai gayi he ye ziyarat ke qaabil nahi balki mitaane ke qaabil he,

*® Fatawa Azizi matbua muztabai, Safa 73_*

■ Taaziye ke Taboot ki ziyarat karna aur us per Fateha padna aur Marsiya padna aur Kitaab sunna aur fariyaad karna aur rona, seena peetna, Imaam Husain Raziyallahu Anhu ke maatam me apne aapko zakhmi karna ye sab cheeze Shar’an najaa’iz he,

*®Fatawa Azizi matbua muztabai, safa 155_,*

⇨ Hum Musalmano ka farz he k Taaziye ke juloos me Shirkat se parhez kare’n aur apne ahal v ayaal ko bhi bachaye, Har musalman ko is Bid’at v Jahalat se rokna hum sabka farz he,

*➖ Allah Tamaam Ahle imaan ko Haq ki Samajh Ataa farmaye, ( Ameen ya Rabbul Aalameen, ■)*

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 40*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *※54-ताजियादारी के मुतालिक अहले सुन्नत का फैसला ※*

★_हज़रत शाह अब्दुल अजीज रह. मुहद्दिस देहलवी फतावा आजिज़ी मतबुआ मुज़तबै ,सफा 74 पर लिखते है,

"_ताजियादारी बिदअत है और बिदअते शिया है और बिद'अते शिया इसमें शामिल होने वालों को खुदा की लानत में गिरफ्तार कर देती है, और उसके फ़राइज़ और नवाफिल भी बारगाहे इलाही में मक़बूल नही होते,

"_मर्सिया ख्वानी की मजलिस में ज़ियारत और गिरयाज़ारी की नियत से जाना भी जाइज़ नही क्योंकि वहां कोई ज़ियारत नही है जिसके वास्ते कोई आदमी जाए और ताज़िया लकड़ियों की जो बनाई गई है ये ज़ियारत के काबिल नही बलकी मिटाने के क़ाबिल है,

*(फतवा अजी़ज़ी मतबुआ मुज़तबै सफा 73)*

★_ताज़िये के ताबूत की ज़ियारत करना और उस पर फातेहा पढ़ना और मर्सिया पढ़ना और किताब सुनना और फरियाद करना और रोना,सीना पीटना,इमाम हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु के मातम में अपने आपको ज़ख्मी करना ये सब चीजें शरन नाजाइज़ है,

*(फतवा अजी़ज़ी मतबुआ मुज़तबै सफा 155)*

★_हम मुसलमानों का फर्ज है कि ताज़िये के जुलूस में शिरकत से परहेज करें और अपने अहल व अयाल को भी बचाए ,हर मुसलमान को इस बिदअत व जहालत से रोकना हम सबका फ़र्ज़ है,

*(अल्लाह तमाम अहले ईमान को हक़ की समझ अता फरमाए,आमीन या रब्बुल आलमीन, )*

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
          *▣  Galat. Aqaaid  ▣*
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
      *▣ Taaziya aur Alam ▣* 

◈_ Maahe muharram me Taaziya ma’a Alam ke nikaalna aur uske saath marsiya padna, Juloos ke saath Shareeq hona aur Chadawa chadana aur nazre husain ki Sabeel lagana, uska pena aur pilana aur usko sawab samajhna, Ye sab afaal Bid’at aur Najaa’iz hai’n aur Rawafiz ka sha’ar he, inme shirkat bhi najaa’iz he,

*📓 Fatawa Mehmudiya,, 2/44*

*▣ Taaziye ke Samne Laathi Chalana aur Khel Tamasha ▣*

◈_ Muharram ke mahine me Taaziyo ke juloos ke saamne laathiya chalana aur doosre khel tamashe Jo khele jate hai’n, Shar’an be asal aur najaa’iz he, Ye Rawafiz ka tareeqa he, Hazrat Ali Raziyallahu Anhu se sabit nahi,

*📓 Fatawa Mehmudiya,, 2/45*

*▣ Taaziye ki Mannat ▣*

◈ _Taaziye ki mannat durust nahi, Jin bado ne iski mannat maankar banana shuru kiya wo galti per the aur is fail ki vajah se gunahgar hue aur Aapko iska itteba karna jaa’iz nahi, Taaziye vagera hargiz na banaye, qat’an tark kar dijiye,

◈_ Ye aqeeda rakhna k Taaziya nahi bana’enge  to koi nuqsaan jaani maali pahunchega, ese aqaa’id se imaan saalim nahi rehta,

◈_ Taaziye banana aur us per nazar niyaaz chadana, usse mannat maanna haraam v shirk he, Sadqa khairat Jo kuchh karna ho shari’at ke mutabik mahaz khuda ke liye kar diya jaye, Taaziye per chadane aur usse mannat maanne aur gairullah ke naam per khana khilane se wo khana bhi najaa’iz ho jata he, iska sawab nahi hota balki gunah hota he,

*📓 Fatawa Mehmudiya,, 2/46*

*▣ Isaale Sawab aur Islam ke khilaf Afaal ▣*

◈_ Ayyame muharram me majlise muaqad karna, imaamo ke naam ka khichda pakana, Sharbat pilana, apni aulaad ko imaamo ka faqeer banana( faqiri pehnana),ye sab afaal taalime islaam ke khilaf he aur Allah ta’aala aur uske Sachche Rasool Sallallahu Alaihivasallam ki naraazgi ka sabab he,in  Sabse tauba laazim he,

◈ _isaale sawaab ke liye kuchh khana gareeb miskeen  ko khilakar, ya naqad dekar, ya Qurane paak padkar ya koi ibadat karke murdo ko sawaab pahunchana bager kisi tareekh v haiyat ke iltzaam ke shar’an durust he,

*📓 Fatawa Mehmudiya,, 2/46*

*▣ Panjatan Paak ka Misdaaq ▣*

◈_ Huzur Sallallahu Alaihivasallam, Hazrat Ali, Hazrat Fatima, Hazrat Hasan aur Hazrat Husain Raziyallahu Anhum ko shamil karke Panjatan Paak kehna,  Agar Panjatan Paak ka ye matlab he k in sabka maqaam v darja muttahid he to ye galat he,

*📓 Fatawa Mehmudiya,, 2/47*

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 40*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ गलत अक़ाइद ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
  *※  ताज़िया और अलम ※*

*★_माहे मुहर्रम में ताज़िया मा अलम के निकालना और उसके साथ मर्सिया पढ़ना ,जुलूस के साथ शरीक होंना और चढ़ावा चढ़ाना और नज़रे हुसैन की सबील लगाना ,उसका पीना और पिलाना और उसका सवाब समझना,ये सब अफ़आल बिद्दत और नाजाइज़ है और रवाफिज़ का श'आर है,इनमे शिरकत भी नाजाइज़ है,
*(फतावा मेहमुदिया,,2/44)*

*※*ताज़िये के सामने लाठी चलाना और खेल तमाशा※*

★_मुहर्रम के महीने में ताजियों के जुलूस के सामने लाठियां चलाना और दूसरे खेल तमाशे जो खेले जाते हैं,शरन बे असल और नाजाइज़ है,ये रवाफिज़ का तरीका है,हज़रत अली रज़ियल्लाहु अन्हु से साबित नही,
*(फतवा मेहमुदिया,,2/45)*

*※ ताज़िये की मन्नत ※*

★_ताज़िये की मन्नत दुरुस्त नही ,जिन बड़ों ने इसकी मन्नत मानकर बनाना शुरू किया वो गलती पर थे और इस फेल की वजह से गुनाहगार हुए और आपको इसकी इत्तेबाअ करना जाइज़ नही,ताज़िये वगैरह हरगिज़ न बनाए,क़तअन तर्क कर दीजिए,

ये अक़ीदा रखना की ताज़िया नही बनाएंगे तो कोई नुकसान जानी माली पहुंचेगा ,ऐसे अक़ाइद से ईमान सालिम नही रहता,

ताज़िये बनाना और उस पर नज़र नियाज़ चढ़ाना ,उससे मन्नत मानना हराम व शिर्क है,सदक़ा खैरात जो कुछ करना हो शरीयत के मुताबिक महज़ खुदा के लिए कर दिया जाए,ताज़िये पर चढ़ाने और उससे मन्नत मानने और गैरुल्लाह के नाम पर खाना खिलाने से वो खाना भी नाजाइज़ हो जाता है,इसका सवाब नही होता बल्कि गुनाह होता है,

*※ इसाले सवाब और इस्लाम के खिलाफ अफ़आल※*

*★_अय्यामे मुहर्रम में मजलिसे मुअक़द करना,इमामो के नाम का खिचड़ा पकाना ,शर्बत पिलाना ,अपनी औलाद को इमामो का फ़क़ीर बनाना(फकीरी पहनाना),ये सब अफ़आल तालीमें इस्लाम के खिलाफ है और अल्लाह ताला और उसके सच्चे रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की नाराजगी का सबब है,इन सबसे तौबा लाज़िम है,

★_इसाले सवाब के लिए कुछ खाना गरीब मिस्कीन को खिलाकर ,या नक़द देकर,या क़ुरआने पाक पढकर या कोई इबादत कर के मुर्दों को सवाब पहुंचाना बगैर किसी तारीख व हैयत के इलतज़ाम के शर'न दुरुस्त है,
*(फतावा मेहमुदिया,,2//46)*

*※पंजतन पाक का मिसदाक़※*

★_हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ,हज़रत अली,हज़रत फातिमा,हज़रत हसन,और हज़रत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हुम को शामिल कर के पंजतन पाक कहना,अगर पंजतन पाक का ये मतलब है कि इन सबका मक़ाम व दर्जा मुत्तहिद है तो ये गलत ही,
*( फतावा मेहमुदिया,,2/47 )*

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
*
 ◰ ◱ ◴ ◵ ◶ ◷ ◸ ◹ ◺ ◸ ◹ ◺ ◶ ◷ ◸ ◹ ◺ ◸
              ━─━─━─━─━─━─━─               ◳ ◴ ◵ ◶
*▣  Qatilane Husain Raz. Ka ibratnaak Anjaam  ▣*
 ◆══◆══◆══◆══◆══◆
◈ _Imaam Zahri farmate hai’n k •Jo log qatle Husain  Raz. me shamil the unme se ek bhi nahi bacha jisko akhirat se pehle duniya me saza na mili ho, koi qatl kiya gaya, kisi ka chehra sakht syaah ho gaya ya masakh ho gaya ya chand roz me hi milk saltnat chhin gayi aur zahir he k ye inke amaal ki asli saza nahi, balki uska ek namoona he Jo logo ko ibrat ke liye duniya me dikha diya gaya,

*▣ 1- Qaatile Husain Raz. andha ho gaya ▣*

◈_ Ibne Jozi Reh.ne rivayat kiya he k ek buda aadmi Hazrat Husain Raz.ke qatl me shamil tha wo dafatan naabina ho gaya to logo ne sabab pucha,

⇨ Usne kaha mene Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ko khwab me dekha k aasteen chadaye hue hai’n, haath me talwar he ,

→aur Aap Sallallahu Alaihivasallam ke saamne chamde ka wo farsh he jis per kisi ko qatl kiya jata he aur us per qaatilane Husain Raz.me se 10 Aadmiyo ki laashe zibah ki hui padi hai’n,

→uske baad Aap Sallallahu Alaihivasallam ne mujhe daanta aur khoone Husain Raz. ki ek salai meri aankho me laga di, Subeh jab utha to me andha tha,

*® As’aaf_,*

*▣  2- Moonh kala ho gaya ▣*

◈_ Ibne jozi Reh. ne naqal kiya he jis shakhs ne Hazrat Husain Raz.ke sar Mubarak ko apne ghode ki gardan me latkaya tha,

•→uske baad use dekha gaya k uska moonh kala tarkol ki tarah ho gaya he logo ne puchha k •,
→tum saare Arab me khush ru aadmi the tumhe kya hua?

→ Usne kaha k jis roz mene ye sar ghode ki gardan me latkaya jab zara soya to dekha do aadmi mere baazu pakadte hai’n aur mujhe ek dahakti hui aag per le jate hai’n,

→aur isi haalat me chand roz ke baad mar gaya,

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 236*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
  *▣ क़ातिलाने हुसैन रज़ि. का इबरत्नाक अंजाम ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆

★_इमाम ज़हरी फरमाते है कि जो लोग क़त्ले हुसैन रज़ि. में शामिल थे उनमे से एक भी नही बचा जिसको आख़िरत से पहले दुनिया मे सज़ा न मिली हो,कोई क़त्ल किया गया,किसी का चेहरा सख्त सियाह हो गया,या मसख हो गया,या चंद रोज़ में ही मिल्क सल्तनत छीन ली गई और ज़ाहिर है कि ये इनके अमाल की असली सज़ा नही ,बल्कि उसका एक नमूना है जो लोगों को इबरत के लिए दुनिया मे दिखा दिया गया,

*▣ 1-क़ातिले हुसैन रज़ि. अंधा हो गया ▣*

★_इब्ने जोजी़ रह. ने रिवायत किया है कि एक बूढ़ा आदमी हज़रत हुसैन रज़ि. के कत्ल में शामिल था वो दफ़अतन नाबीना हो गया तो लोगों ने सबब पूछा,

उसने कहा मैंने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को ख्वाब में देखा कि आस्तीन चढ़ाए हुए हैं,हाथ मे तलवार है, और आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के सामने चमड़े का वो फर्श है जिसपर किसी को क़त्ल किया जाता है और उस पर क़ातिलाने हुसैन रज़ि. में से 10 आदमियों की लाशें ज़िबह की हुई पड़ी है,

उसके बाद आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने मुझे डांटा और  खूने हुसैन रज़ि. की एक सलाई मेरी आँखों मे लगा दी,सुबह जब उठा तो मैं अंधा था,
*( असाफ )*

*▣ 2-मूंह काला हो गया _▣*

★_इब्ने जौज़ी रह. ने नक़ल किया है जिस शख्स ने हज़रत हुसैन रज़ि. के सर मुबारक को अपने घोड़े की गर्दन में लटकाया था, उसके बाद उसे देखा गया कि उसका मुंह काला तारकोल की तरह हो गया है लोगों ने पूछा कि 
तुम सारे अरब में खुशरूह आदमी थे तुम्हे क्या हुआ?

उसने कहा कि जिस रोज़ मैंने ये सर घोड़े की गर्दन में लटकाया जब ज़रा सोया तो देखा दो आदमी मेरे बाज़ू पकड़ते हैं और मुझे एक दहकती हुई आग पर ले जाते है,

और इसी हालात में चंद रोज़ के बाद मर गया,
 ◆══◆══◆══◆══◆══◆
  *▣ 3- Aag me jal gaya ◈*

◈ _Ibne jozi Reh.ne Sadi se naqal kiya he k unhone ek shakhs ki dawat ki, majlis me ye zikr chala k Hazrat Husain Raz.ke qatl me Jo bhi shamil hua usko duniya me bhi jald saza mil gayi,
→us shakhs ne kaha bilkul galat he me khud unke qatl me shamil tha mera kuchh bhi nahi bigda,

→Ye shakhs majlis se uthkar ghar gaya, jaate hi chiraag ki batti durust karte hue uske kapdo me aag lag gayi, aur wahi jal bhun kar reh gaya,
⇨ Sadi kehte hai’n k mene khud usko subeh dekha to koyla ho chuka tha,

*▣ 4- Teer maarne wala pyaas se Tadap Tadap kar mar gaya ▣*

◈_ Jis shakhs ne Hazrat Husain Raz.ko teer mara aur paani nahi peene diya us per Allah ta’aala ne esi pyaas musallat kar di k kisi tarah pyaas bujhti na thi paani kitna hi piya jaye, pyaas se tadapta rehta tha, Yaha tak k uska pet fat gaya aur Mar gaya,

    *▣ 5-Halaakat e Yazeed ▣*   

◈_ Shahadate Husain Raziyallahu Anhu ke baad Yazeed ko bhi ek din chen naseeb na hua, tamaam islamic mumalik me khoone shohda ka mutalba aur bagawate shuru ho gayi,

⇨ Uski zindgi uske baad 2 saal 8 maah aur ek rivayat ke me 3 saal 8 maah se zyada nahi rahi, Duniya me bhi Allah ta’aala ne usko zaleel kiya aur isi zillat ke saath halaak ho gaya,

*▣ 6- Kufa per Mukhtar ka Tasallut aur Qaatilane Husain Raz. Ki ibratnaak halakat ▣*

◈_ Qaatilane Husain Raz. Per tarah tarah ki afaat ka ek silsila to tha hi, Shahadat ke waq’a se 5 saal baad hi 66 hijri me Mukhtar ne qaatilo se qasaas lene ka iraada zahir kiya to aam musalman uske saath ho gaye aur thode hi arse me usko ye quwat hasil ho gayi k kufa aur Iraaq per uska tasallut ho gaya,

⇨ Usne elaane aam kar diya qaatilane Husain Raz.ke Siva sabko aman diya jata he aur qaatilo ki tafteesh aur talashi per puri quwat laga di aur ek ek ko giraftaar karke qatl kiya, ek roz me 248 aadmi is jurm me qatl kiye gaye, uske baad khaas logo ki talash aur giraftari shuru ho gayi,

◈_ Amru bin Hijaaj pyaas aur garmi me bhaga, pyaas ki vajah se behosh hokar gir pada aur zibah kar diya gaya,

◈ _Simar ziljoshan Jo Hazrat Husain Raz.ke bare me sabse zyada shaqi aur sakht tha usko qatl karke laash kutto ke saamne daal di gayi,

◈_ Abdullah bin Used, Malik bin Basheer, Hamal bin Maalik ka muhasra karke sabko qatl kar diya, Maalik bin Basheer ke do no haath do no payr kaat kar maidan me daal diya tadap tadap kar mar gaya,

◈_  Usman bin Khalid aur Basheer bin Shamit ne Muslim bin Aqeel Raz.ke qatl me iaanat ki thi, inko qatl karke jala diya gaya,

◈_ Amr bin Sa’ad Jo Hazrat Husain Raz. Ke muqable per lashkar ki kamaan kar raha tha, usko qatl karke uska sar Mukhtar ke saamne laaya gaya, Mukhtar ne uske bete Hafs ko bhi qatl karke kaha,
” _Amr bin Sa’ad ka qatl to Husain Raz.ke badle me he aur Hafs ka qatl Ali bin Husain Raz.ke badle me aur haqeeqat ye he k fir bhi barabari nahi hui, agar me 3 chothai Quresh ko qatl kar du to Hazrat Husain Raz.ki ek ungli ka bhi badla nahi ho sakta,”

◈_ Hakeem bin Tufel jisne Hazrat Husain Raz.ko teer maara tha uska badan teero se chhalni kar diya gaya, Zaid bin Rafad ko teer aur patthar barsakar maara gaya fir jala diya gaya, Salaam bin Anas jisne Sar Mubarak kaatne ka aqdaam kiya tha Kufa se bhaag gaya, uska ghar munhadim kar diya gaya,

⇨ Qaatilane Husain Raziyallahu Anhu ka ye ibratnaak anjaam maloom karke besakhta ye aayat zuban per aayi,

*Tarjuma –*, Azaab esa hi hota he aur akhirat ka azaab isse bada he, kaash we samajh lete,

◈_ Abdullah bin Umereshi ka bayan he k mene kufa ke Qasre imarat Hazrat Husain Raz.ka sar Mubarak Abdullah bin Ziyaad ke saamne ek dhaal per rakha hua dekha, fir usi Qasr meAbdullah bin Ziyaad ka sar  Mukhtar ke saamne dekha fir usi Qasr me Mukhtar ka sar kata hua Moasib bin Zubair ke saamne dekha, 
*® Tareekh Khulfa,*

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 237,*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
*▣ *क़ातिलाने हुसैन रज़ि. का इबरतनाक अंजाम* ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
 *▣ 3-आग में जल गया *▣*

★_इब्ने जौज़ी रह. ने सदी से नक़ल किया है कि उन्होंने एक शख्स की दावत की,मजलिस में ये ज़िक्र चला कि हज़रत हुसैन रज़ि. के कत्ल में जो भी शामिल हुआ उसको दुनिया मे भी जल्द सज़ा मिल गई,
उस शख्स ने कहा बिल्कुल गलत है मैं खुद उनके क़त्ल में शामिल था मेरा कुछ भी नही बिगड़ा,

ये शख्स मजलिस से उठकर घर गया,जाते ही चिराग को बत्ती दुरुस्त करते हुए उसके कपड़ों में आग लग गयी,और वहीं जलभूनकर रह गया,
सादी कहते हैं कि मैने खुद उसको सुबह देखा तो कोयला हो चुका था,

*▣4-तीर मारने वाला प्यास से तड़प तड़प कर मर गया*▣

★_जिस शख्स ने हज़रत हुसैन रज़ि. को तीर मारा और पानी पीने नही दिया उस पर अल्लाह ताला ने ऐसी प्यास मुसल्लत कर दी कि किसी तरह प्यास बुझती न थी पानी कितना ही पिया जाए,प्यास से तड़पता रहता था,यहां तक कि उसका पेट फैट गया और मर गया,

*▣ 5-हलाकते यज़ीद*▣

★_शहादते हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु के बाद यज़ीद को भी एक दिन भी चैन नसीब न हुआ,तमाम इस्लामिक मुमालिक में खूने शोहदा का मुतालबा और बगावतें शुरू हो गई, उसकी जिंदगी उसके बाद 2 साल 8 माह और एक रिवायत में 3 साल 8 माह से ज़्यादा नही रही,दुनिया मे भी अल्लाह ताला ने उसको ज़लील किया,और इसी ज़िल्लत के साथ हलाक हो गया,

*▣ 6 कूफ़ा पर मुख्तार का तसल्लुत और क़ातिलाने हुसैन रज़ि. की इबरतनाक हलाकत*▣

★_क़ातिलाने हुसैन रज़ि. पर तरह तरह की आफात का एक सिलसिला तो था ही ,शहादत के वाक़या से 5 साल बाद ही 66 हिजरी में मुख्तार ने क़ातिलों से क़सास लेने का इरादा किया तो आम मुसलमान उसके साथ हो गए और थोड़े ही अरसे में उसको ये कुव्वत हासिल हो गई कि कूफ़ा और इराक पर उसका तसल्लुत हो गया,

★_उसने ऐलाने आम कर दिया क़ातिलाने हुसैन रज़ि. के सिवा सबको अमन दिया जाता है और क़ातिलों की तफ्तीश और तलाशी पर पूरी कुव्वत लगा दी जाती है और एक एक को गिरफ्तार कर के कत्ल किया,एक रोज़ में 248 आदमी इस जुर्म में क़त्ल किये गए,उसके बाद खास लोगों की तलाश और गिरफ्तारी शुरू हो गई,

★_अम्र बिन हिजाज़ प्यास और गर्मी में भागा,प्यास की वजह से बेहोश हो कर गिर पड़ा और ज़िबह कर दिया गया,

★_सिमर ज़िलजोशन जो हज़रत हुसैन रज़ि. के बारे में सबसे ज़्यादा शकी और सख्त था उसको क़त्ल कर के लाश कुत्तों के सामने डाल दी गई,

★_अब्दुल्लाह बिन उसेद ,मालिक बिन रशीद,हमाल बिन मालिक का मुहासबा कर के सबको क़त्ल कर दिया,मालिक बिन बशीर के दोनों हाथ और दोनो पैर काट कर मैदान में डाल दिए तड़प तड़प कर मर गया,

★_उस्मान बिन खालिद और बशीर बिन शामित ने मुस्लिम बिन अकील रज़ि. के कत्ल में इआनत की थी ,इनको क़त्ल कर के जला दिया गया,

★_अम्र बिन साद जो हज़रत हुसैन रज़ि. के मुकाबले पर लश्कर की कमान कर रहा था,उसको क़त्ल कर के उसका सर मुख्तार के सामने लाया गया,मुख्तार ने उसके बेटे हफ़सा को भी कत्ल कर के कहा,

"अम्र बिन साद का क़त्ल तो हुसैन रज़ि. के बदले में है और हफ़सा का क़त्ल अली बिन हुसैन रज़ि. के बदले में और हक़ीक़त ये है कि फिर भी बराबरी नही हुई,अगर मैं 3 चौथाई क़ुरैश को क़त्ल कर दूं तो हज़रत हुसैन रज़ि. की एक उंगली का भी बदला नही हो सकता"

★_हकीम बिन तुफैल जिसने हज़रत हुसैन रज़ि. को तीर मारा था उसका बदन तीरों से छलनी कर दिया गया,ज़ैद बिन रफद को तीर और पत्थर बरसाकर मारा गया फिर जला दिया गया,सलाम बिन अनस जिसने सर मुबारक काटने का अक़दाम किया था कूफ़ा से भाग गया,उसका घर मुँहदीम कर दिया गया,

★_क़ातिलाने हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु का ये इबरतनाक अंजाम मालूम कर के बेसाख्ता ये आयात ज़ुबान पर आई,

*"तर्जुमा-* :- अज़ाब ऐसा ही होता है और आख़िरत का अज़ाब इससे बड़ा है,काश वो समझ लेते,

★_अब्दुल्लाह बिन उमेरेशी का बयान है कि मैने कूफ़ा के कसर् इमारत हज़रत हुसैन रज़ि. का सर मुबारक अब्दुल्लाह बिन ज़ियाद के सामने एक ढाल पर रखा हुआ देखा,फिर उसी कसर् में अब्दुल्लाह बिन ज़ियाद का सर मुख्तार के सामने देखा फिर उसी कसर में मुख्तार का सर कटा हुआ मोअसिब बिन ज़ुबैर के सामने देखा,       

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
   
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
*▣ Hazrat Husain Raziyallahu Anhu ne Kis maqsad ke liye Jaan Dï  ▣*         

◈ Aap pehle pad chuke hai’n, Hazrat Husain Raz.ne ahle Basra ko Jo khat likha tha, jiske chand jumle ye he,

” Aap log dekh rahe hai’n k Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ki sunnat mit rahi he, aur bida’at felai ja rahi he, me tumhe dawat deta hu k kitaabullah aur sunnate Rasulullah Sallallahu Alaihivasallam ki hifazat Karo aur uske ahkaam ki tanfeez ke liye koshish Karo,”

*® Kamil ibne Aseer, 4/9*

◈_ Farzooq Sha’ir ke jawab me Jo kalamaat kufa ke raaste me aapne irshad farmaye uske chand jumle ye he,

” Agar taqdeer ilaahi hamari muraad ke muwafiq hoti he to hum Allah ka shukr karenge aur hum shukr Ada karne me bhi uski iaanat talab karte hai’n, k adae shukr ki tofeeq di aur agar taqdeer ilaahi muraad me haa’il ho gayi to us shakhs ka koi kusoor nahi Jiski niyat haq ki himayat ho aur jiske dil me khuda ka khof ho, ”

*® Ibne Aseer,*

◈ _Maidane jung me khutbe ke ye alfaz jisme zulm v jor ke muqable ke liye mahaz Allah ke liye khade hone ka zikr he,

→ ” Maut me kisi jawan ke liye aar nahi, Jabki uski niyat khair aur musalman hokar jihaad kar raha ho, ”

Jab sahabzade Ali Akbar ne kaha tha, k
→ ” Abba jaan kya hum haq per nahi he’n? Aapne farmaya,” Qasam he us zaat ki jiski taraf sab bandgane khuda ka ruju he bila shubha hum haq per hai’n,

◈_ Ahle bait ke saamne  Aapke akhri irshadaat ke Aapke ye jumle pade,

” me Allah ta’aala ka shukr Ada karta hu raahat me bhi aur musibat me bhi, Ya Allah me Aapka shukr Ada karta hu k aapne hume sharafate nabuwat se nawaza aur hume kaan, aankh aur dil diye jisse hum aapki ayaat samjhe aur hume aapne quran sikhaya aur deen ki samajh Ataa farmai, hume aap shukr guzaar bando me dakhil farma lijiye, ”

◈_ in khutbaat aur kalmaat ko sunne, padne ke baad baad bhi kya kisi musalman ko ye shubha ho sakta he k Hazrat Husain Raz ka ye jihaad aur hairat angez qurbani apni hukumat v iqtdaar ke liye the, Bade zaalim hai’n wo log Jo us muqaddas hasti ki azimusshan qurbani ko unki tasrihaat ke khilaf baaz duniyavi izzat v iqtdaar ki khatir qaraar dete hai’n, Haqeeqat wahi he Jo shuru me likh chuka hu’n k Hazrat Husain Raz.ki saari qurbani sirf isliye thi,

★ Kitaab v sunnat ke qanoon ko sahi tor per rivaaj de’n,
★ Islam ke nijaam adal ko az sar no qaa’im kare’n,
★ Islaam me khilafat nabuwat ke bajae mulukiyat v Aamriyat ki bid’at ka muqabla kare’n,

★ Haq ke muqable me na zor v zar ki numaish se maroub ho’n aur na jaan maal aur aulad ka khof us raaste me haa’il ho,
har khof, musibat, mashaqqat me har waqt Allah ko yaad rakhe, aur isi per har haal me tawakkul aur etmaad ho aur badi se badi musibat me bhi uske shukr guzaar bande saabit ho’n,

◈_ Koi he Jo jigar gosha e Rasool Sallallahu Alaihivasallam ki is pukaar ko sune aur unke mishan ko unke naqse qadam per anjaam dene ke liye taiyaar ho, unke akhlaq hasna ki pervi ko apni zindgi Ka maqsad banale,

⇨Ya Allah hum sabko apni aur apne Rasool Sallallahu Alaihivasallam aur Aapke Ashaab Raziyallahu Anhum v ahle bait athaar ki muhabbat e kaamila aur itteba e kaamil naseeb farmae,

*® Shaheede karbala ba hawala deeni dastarkhwan,*

*⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 240*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
            *▣ शहीद ए कर्बला ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆
  *※ हज़रत हुसैन रज़ियल्लाहु अन्हु ने किस मक़सद के लिए जान दी※*

★_आप पहले पढ़ चुके हैं ,हज़रत हुसैन रज़ि. ने अहले बसरा को जो खत लिखा था,जिसके चंद जुमले ये है,

"आप लोग देख रहे हैं कि रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की सुन्नत मिट रही है,और बिद्दत फैलाई जा रही है,मैं तुम्हे दावत देता हूं कि कितबुल्लाह और सुन्नते रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की हिफाज़त करो और उसके अहकाम की तन्फीज़ के लिए कोशिश करो,"
*(कामिल इब्ने असीर,4/9)*

★_फ़र्ज़ुक शायर के जवाब में जो कलेमात कूफ़ा के रास्ते मे आपने इरशाद फरमाया उसके चंद जुमले ये है,

अगर तक़दीर इलाही हमारी मुराद के मुवाफिक होती है तो हम अल्लाह का शुक्र करेंगे और हम शुक्र अदा करने में भी उसकी इआनत तलब करते हैं,की अदाए शुक्र की तौफ़ीक़ दी और अगर तक़दीर इलाही मुराद में हाएल हो गई तो उस शख्स का कोई कुसूर नही जिसकी नियत हक़ की हिमायत हो और जिसके दिल मे खुदा का ख़ौफ़ हो,
*(इब्ने असीर,)*

★_मैदान जंग में खुतबे के ये अल्फ़ाज़ जिसमे ज़ुल्म व जोर के मुकाबले के लिए महज़ अल्लाह के लिए खड़े होने का ज़िक्र है,

मौत में किसी जवान के लिए आड़ नही,जबकि उसकी नियत खैर और मुसलमान होकर जिहाद कर रहा हो,

जब साहबज़ादे अली अकबर ने कहा था कि,

अब्बा जान क्या हम हक़ पर नही हैं? आपने फरमाया," क़सम है उस ज़ात की जिसकी तरफ सब बन्दगाने खुदा का रुजू है बिला शुब्हा हम हक़ पर हैं,

★_अहले बैत के सामने आपके आखरी इर्शादात के आपके ये जुमले पड़े,

"मै अल्लाह ताला का शुक्र अदा करता हु राहत में भी और मुसीबत में भी,या अल्लाह मैं आपका शुक्र अदा करता हु की आपने हमे शराफ़ाते नुबूवत से नवाजा और हमें कान आंख और दिल दिए जिससे हम आपकी आयात समझे और दीन की समझ आता फरमाई ,हमे आप शुक्र गुज़ार बंदों में दाखिल फर्मा लीजिए,"

★_इन खुतबात और कलिमात को सुनने पढ़ने के बाद भी क्या किसी मुसलमान को ये शुभा हो सकता है कि हज़रत हुसैन रज़ि. का ये जिहाद और हैरत अंगेज़ क़ुरबानी अपनी हुकूमत और इक़्तेदार के लिए थी,बड़े ज़ालिम हैं वो लोग जो उस मुक़द्दस हस्ती की अज़ीमुश्शान क़ुरबानी को उनकी तसरिहात के खिलाफ बाज़ दुनियावी इज़्ज़त और इक़्तेदार की खातिर क़रार देते हैं,हक़ीक़त वहीं है जो शुरू में लिख चुका हूं कि हज़रत हुसैन रज़ि. की सारी क़ुरबानी सिर्फ इसीलिए थी,

★_किताब व सुन्नत के कानून को सही तौर पे रिवाज दें,
★_इस्लाम के निजाम अदल को अज़ सर नो क़ाइम करें
★_इस्लाम मे खिलाफत नुबूवत के बजाए मुलुकीयत ब आमरियात की बिद्दत का मुकाबला करें
★_हक़ के मुकाबले में न ज़ोर व ज़ार की नुमाइश से मरॉब हों और न जान माल और औलाद का ख़ौफ़ उस रास्ते मे हाएल हों,

★_हर ख़ौफ़ ,मुसीबत,मशक़्क़त,में हर वक़्त अल्लाह को याद रखे,और इसी पर हर हाल में तवक़्क़ल और एतेमाद हो और बड़ी से बड़ी मुसीबत में भी उसके शुक्र गुज़ार बंदे साबित हों

★_कोई है जो जिगर गोशाए रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की इस पुकार को सुने और उनके मिशन को उनके नक़्शे क़दम पर अंजाम देने के लिए तैयार हो,उनके अख़लाक़ हँसना की पैरवी को अपनी ज़िंदगी का मक़सद बनाले,

"_ या अल्लाह हम सब को अपनी और अपने रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम और आपके असहाब रज़ियल्लाहु अन्हुम व अहले बैत अतहर की मुहब्बते कामिला और इत्तेबै कामिल नसीब फरमाए, 

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*
   
          ◆══◆══◆══◆══◆══◆
।          *▣  Musannif   ▣*

◈ 1- Hazrat Shaikh Mujaddid Alfisani Rh,

◈ 2- Qutubul Aalam Maulana Rasheed Ahmed Gangoi Rh

◈ 3- Hakeemul Ummat Hazrat Thanvi Rh

◈ 4- Hakeemul Islaam Qari Muhammad Taiyab Rh

◈*5- Mufti e Aazam Maulana Mufti Shafi Usmani Rh,

◈ 6- Wali e Kamil Hazrat Maulana Ahmed Ali Lahori Rh

◈ 7- Shaheedul Islaam Hazrat Maulana Muhammad Yusuf Ludiyanvi Rh

◈ 8- Aalime Rabbani Hazrat Maulana Mufti Abdul Qadir Rh

◈ 9- Mufakkir Islaam Sayyad Abul Hasan Nadvi Rh

◈ 10 – Shaikhul Islaam Hazrat Maulana Mufti Taqi usmani Madzillhu,

*☆Alhamdulillah Mukammal Hue☆*

 * *⚀•RєԲ:➻┐Shahadate Husain Rd, ( Majmua ifadaat), 2,*

    •–▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤▤–●–▤–•
           ︽︽︽︽︽︽︽︽︽︽
                *शहादत ए हसैन*
            ︾︾︾︾︾︾︾︾︾︾
                     *▣ मुसन्निफ़ ▣*
         ◆══◆══◆══◆══◆══◆

1-हज़रत शेख मुजद्दीद अल्फसानी रह.

2-क़ुतुबुल आलम मौलाना रशीद अहमद गंगोही रह.

3- हकीमुल उम्मत हज़रत थानवी रह.

4-हकीमुल इस्लाम कारी मुहम्मद तैयब रह..

5-मुफ़्ती ऐ आज़म मौलाना मुफ़्ती शफी उस्मानी रह.

6-वली ए कामिल हज़रत मौलाना अहमद अली लाहोरी रह।

7-शाहीदुल इस्लाम हज़रत मौलाना मुहम्मद यूसुफ लुधियानवी रह.

8-आलिमे रब्बानी हज़रत मौलाना मुफ़्ती अब्दुल कादिर रह.

9-मुफक्कीर इस्लाम सय्यद अबुल हसन नदवी रह.

10-शैखुल इस्लाम हज़रत मौलाना मुफ़्ती ताकि उस्मानी मदज़िल्लाहु,

  *※अल्हम्दुलिल्लाह मुकम्मल हुए।  ※*        

*⚀•हवाला:➻┐शहादते हुसैन रजियल्लाहु अन्हु, ( मजमुआ इफादात)*

◰ ◱ ◴ ◵ ◶ ◷ ◸ ◹ ◺ ◸ ◹ ◺ ◶ ◷ ◸ ◹ ◺ ◸
              ━─━─━─━─━─━─━─               ◳ ◴ ◵ ◶ ◷ ◸ ◹ ◺ ◸ ◹ ◺ ◶ ◷ ◸ ◹ ◺ ◸ ◹ ◺
           *✍ Haqq Ka Daayi ,*
http://www.haqqkadaayi.com/
*Visit for Daily updates,*
*Telegram*_ https://t.me/haqqKaDaayi
              ◐═══◐═══◐═══◐═══◐
۞✵۞

Post a Comment

 
Top