1
╭ *﷽* ╮
               *▓ Q U R B A N I  ▓*
      ▦══─────────────══▦
            *☞ Fazai'l  e Qurbani ◈*
★ Hazrat Zaid bin Arkam Raziyallahu Anhu farmate Hai'n k Huzoor Sallallahu Alaihivasallam se Sahaba Kiraam Raziyllahu anhum ne daryaft kiya_" Ye Qurbani kya he?"
Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya,_" Qurbani tumhare baap ( Hazrat Ibrahim Alaihissalam) ki sunnat he,
"
Sahaba Raziyllahu anhum ne puchha,_" hamare liye is me kya sawab he?"
Aap Sallallahu Alaihivasallam ne farmaya,_" Ek Baal ke badle ek neki he, "
Oon ke mutallik farmaya,_" iske ek Baal ke badle bhi ek neki he,".
*®Mishkat Sharif, 129,*
★ Hazrat ibne Abbas Raziyllahu Anhu farmate hai'n" Qurbani se zyada koi doosra amal nahi he, illa ye k_Rishtedari ka paas kiya jaye,".
*® Tabrani •*
★ Qurbani ke Dino me qurbani karna bahut bada Amal he, Hadees Sharif me he k,_" Qurbani ke Dino me qurbani se zyada koi cheez Allah ta'ala ko mehboob nahi, or qurbani karte waqt khoon ka Jo qatra zameen per girta he, wo girne se pehle Allah ta'ala ke yaha maqbool ho jata he,"
*®Mishkaat, 123*
*Aapke Masail aur unka Hal,, JILD-4, Safa no 163,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
         *❂ फजा़इले क़ुर्बानी ❂*         
★__ हज़रत ज़ैद बिन अकरम रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं की हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम से सहाबा किराम रिज़वानुल्लाहि आज़मईन ने दरयाफ्त किया -यह कुर्बानी क्या है ?
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया -कुर्बानी तुम्हारे बाप हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम की सुन्नत है।
सहाबा रजियल्लाहु अन्हुम ने पूछा -हमारे लिए इसमें क्या सवाब है ?
आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने फरमाया -एक बाल के बदले एक नैकी है।
ऊन के मुताल्लिक फरमाया- इसके एक बाल के बदले भी एक नैकी है । *(मिश्कात शरीफ 129)*
★_  हज़रत इब्ने अब्बास रजियल्लाहु अन्हु फरमाते हैं:- कुर्बानी से ज्यादा कोई दूसरा अमल नहीं है इल्ला ये कि रिश्तेदारी का पास किया जाए_," *( तबरानी )*
★_ कुर्बानी के दिनों में कुर्बानी करना बहुत बड़ा अमल है । हदीस शरीफ में है कि कुर्बानी के दिनों में कुर्बानी से ज्यादा कोई चीज अल्लाह ताला को महबूब नहीं और कुर्बानी करते वक्त खून का जो क़तरा जमीन पर गिरता है वह गिरने से पहले अल्लाह ताला के यहां मकबूल हो जाता है_," *( मिश्कात 123 )*
*आपके मसाईल और उनका हल -जिल्द 4 सफा 163  _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞ Qurbani Kis per Wajib He aur Kis per nahi - ◈*
*◈ Chand soorato me qurbani karna wajib he, aur  Chand me nahi ◈*
★ 1- Kisi shakhs ne qurbani ki mannat maani ho to us per qurbani karna wajib he,
★ 2- Kisi shakhs ne marne se pehle qurbani ki vasiyat ki ho aur itna maal chhoda ho k uske tihai maal se uski taraf se qurbani ki ja sake to uski taraf se qurbani karna wajib he,
★ 3- Jis shakhs per sadqa Fitr wajib he us per qurbani ke Dino me qurbani karna bhi wajib he,
⇨ Jis shakhs ke paas rihaishi makaan, khane pine ka samaan, istemal ke kapdo aur rozmarah ki istemal ki doosri cheezo ke alawa Saade Bavan Tola chandi ki maliyat ka naqad rupya, maal tijarat ya digar samaan ho us per qurbani karna wajib he,
⇨ Maslan ek shakhs ke paas do makaan he, ek makaan uski rihaish ka aur doosra khali he to us per qurbani wajib he, jabki usi khali makaan ki qeemat Saade Bavan Tola chandi ki maliyat ke barabar ho,
⇨ ya maslan ek makaan me wo khud rehta ho aur doosra makaan kiraya per uthaya ho to us per bhi qurbani wajib he, albatta agar uska zaria ma'ash yahi makaan ka kiraya he to ye bhi zaruriyat zindgi me shumar hoga aur us per qurbani karna wajib nahi,
⇨ Ya Maslan kisi ke paas do Gaadiya hai, ek aam istemal ki he aur doosri za'id ( extra)he to us per bhi qurbani wajib he,
⇨ Ya maslan kisi ke paas do plot he ek makaan banane ke liye he aur doosra za'id ( extra) he, to agar uske doosre plot ki qeemat Saade Bavan Tola chandi ki maliyat ke barabar ho to us per qurbani wajib he,
★ Aurat ka mehar mu'ajjal agar itni maliyat ka ho to us per bhi qurbani wajib he, ya sirf walden ki taraf se diya gaya zever aur istemal se za'id ( extra) kapde nisaab ki maliyat ko pahunchte ho to us per bhi qurbani wajib he,
★ Ek shakhs mulazim he, uski mahana ( monthly) Tankhwah ( salary) se uske ahlo ayaal ki guzar basar ho sakti he us per qurbani wajib nahi, jabki uske paas koi aur maliyat na ho,
★ Ek shakhs ke paas Pedawar ki zameen he, jiski pedawar se uski guzar basar hoti he, wo Zameen uski zarooriyat me samjhi jayegi,
★ EK shakhs ke paas hal jotne ke liye bell ( ox) aur doodhari Gaay ( cow), Bhais( Buffalo) ke alawa aur maveshi itne hai k unki maliyat nisaab ko pahunch jaye to us per qurbani karna wajib he,
★ 4- Ek shakhs Sahibe nisaab nahi, na qurbani us per wajib he lekin usne shoq se qurbani ka janwar kharid liya to qurbani wajib he,
★ 5- Musafir per qurbani wajib nahi,
⇨ Sahi qaul ke mutabik bachche aur Majnoon per qurbani wajib nahi, chahe wo maaldar ho ,
★ Chandi ke nisaab bhar malik ho Jane per qurbani wajib he,
★ Qurbani sahibe nisaab per har saal wajib he,
★ Zakaat me nisaab per saal guzarna shart he lekin qurbani ke wajib hone ke liye saal guzarna shart nahi, balki koi shakhs qurbani din sahibe nisaab ho gaya to us per qurbani wajib hogi,
★ Bar sare rozgar sahibe nisaab balig ladke, ladkiya sab pee qurbani wajib he chahe abhi unki shadi na hui ho,
★ Ek hi ghar me Baap, Bete, Betiya, Bivi agar sahibe nisaab ho to har ek per alag alag qurbani wajib he,
★Maqrooz ko agar qarz Ada karne ke baad saade Bavan Tola chandi ki maliyat hajaat asliya se za'id mojood ho to qurbani wajib he,
★ Agar Qurbani ke din guzar gaye to, gaflat ya kisi aur uzr se qurbani na kar saka to qurbani ki qeemat fuqra masakeen per sadqa karna wajib he, lekin qurbani ke 3 dino me janwar ki qeemat sadqa kar dene se ye wajib Ada na hoga,
★ Sahibe nisaab per guzishta jitne saalo ki ( jabki wo sahibe nisaab tha aur qurbani nahi ki) qurbani wajib thi aur ada nahi ki to un saalo ka hisab karke ( ek hisse ki qeemat jitni banti he) wo raqam kisi faqeer per sadqa karna wajib he,
★ Gunzaiah ho to apne marhoom buzurgo ki taraf se aur Hujoor Akram Sallallahu Alaihivasallam ki taraf se zaroor qurbani ki jaye,
⇨ lekin agar sahibe nisaab he to pehle apni taraf se qurbani kare aur doosri qurbani marhoom buzurgo aur Hujoor S A ki taraf se alag kare,
★ Jis per qurbani wajib nahi agar wo bhi qurbani kare to use bhi poora sawab hoga,
⇨ Agar kisi Aadmi ne qurbani ki niyat se baqra liya aur fir qurbani se pehle hi bech diya to astagfar karte hue us raqam ka sadqa karna wajib he, or Agar qurbani us per wajib thi ( Sahibe nisaab tha) to doosra janwar kharid kar qurbani ke dino me qurbani kare,
* Aapke masail aur unka Hal,,,JILD-4, safa 164,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
  *❂ क़ुर्बानी किस पर वाजिब है और किस पर नहीं -❂*         
★_ चंदू सूरतों में कुर्बानी करना वाजिब है और चंद में नहीं :-
१_किसी शख्स ने कुर्बानी की मन्नत मानी हो तो उस पर कुर्बानी करना वाजिब है ।
२_किसी शख्स ने मरने से पहले कुर्बानी की वसीयत की हो और इतना माल छोड़ा हो कि उसके तिहाई माल से उसकी तरफ से कुर्बानी की जा सके तो उसकी तरफ से कुर्बानी करना वाजिब है।
३_ जिस शख्स पर सदका़ ए फितर् वाजिब  है उस पर कुर्बानी के दिनों में कुर्बानी करना भी वाजिब है ।
४_जिस शख्स के पास रिहायशी मकान ,खाने पीने का सामान, इस्तेमाल के कपड़ों और बाकी इस्तेमाल की दूसरी चीजों के अलावा साडे 52 तोला चांदी की मालियत का नक़द  रूपया, माले तिजारत या दीगर सामान हो उस पर कुर्बानी करना वाजिब है।
"_  मसलन एक शख्स के पास दो मकान है एक मकान उसकी रिहाइश का और दूसरा खाली है, तो उस पर कुर्बानी वाजिब है जबकि उसी खाली मकान की कीमत साडे 52 तोला चांदी की मालियत के बराबर हो।
या मसलन एक मकान में वह खुद रहता है दूसरा मकान किराए पर उठाया हो तो उस पर भी कुर्बानी वाजिब है अलबत्ता अगर उसका ज़रिया ए मास यही मकान का किराया है तो यह भी जरूरियाते जिंदगी में शुमार होगा और उस पर कुर्बानी करना वाजिब नहीं ।
या मसलन किसी के पास दो गाड़ियां हैं एक आम इस्तेमाल की है और दूसरी जायद है तो उस पर भी कुर्बानी है । या मसलन किसी के पास दो प्लॉट है एक मकान बनाने के लिए हैं और दूसरा जायद है तो अगर उसके दूसरे प्लॉट की कीमत साडे 52 तोला चांदी कीमत के बराबर हो तो उस पर कुर्बानी वाजिब है।
★__ औरत का महरे मुअजल अगर इतनी मालियात का हो तो उस पर भी कुर्बानी वाजिब है , या सिर्फ वालदेन की तरफ से दिया गया ज़ेवर और इस्तेमाल से जायद कपड़े निसाब की मालियत को पहुंचते हो तो उस पर भी कुर्बानी वाजिब है ।
★_एक शख्स मुलाजिम है उसकी माहाना तनख़ाह से उसके अहलो अयाल की गुज़र बसर हो सकती है उस पर कुर्बानी वाजिब नहीं  जबकि उसके पास कोई और मालियात  ना हो।
★_ एक शख्स के पास पैदावार की जमीन है जिस की पैदावार से उसकी गुज़र बसर होती है वो ज़मीन उसकी जरूरियात में समझी जाएगी ।
★_एक शख्स के पास हल जोतने के लिए बेल और दूधारी गाय भैंस के अलावा और मवेशी इतने हैं कि उनकी मालियात निसाब को पहुंच जाए तो उस पर कुर्बानी करना वाजिब है ‌।
★_५_ एक शख्स साहिबे निसाब नहीं ना कुर्बानी उस पर वाजिब लेकिन उसने शॉक से कुर्बानी का जानवर खरीद लिया तो कुर्बानी वाजिब है।
★_६_ मुसाफिर पर कुर्बानी वाजिब नहीं ।
"_सही काॅल के मुताबिक बच्चे और मजनून पर कुर्बानी वाजिब नहीं चाहे वह मालदार हो।      
★__ चांदी के निसाब भर मालिक हो जाने पर कुर्बानी वाजिब है ।
★_कुर्बानी साहिबे निसाब पर हर साल वाजिब है ।
★_जकात में निसाब पर साल गुजरना शर्त है लेकिन कुर्बानी के वाजिब होने के लिए साल गुजरना शर्त नहीं बल्कि कोई शख्स कुर्बानी के दिन साहिबे निसाब हो गया तो उस पर कुर्बानी वाजिब होगी ।
★_बर सरे रोजगार साहिबे निसाब बालिग लड़के लड़कियां सब पर कुर्बानी वाजिब हैं चाहे अभी उनकी शादी ना हुई हो ।
★_एक ही घर में बाप बेटे बेटियां बीवी अगर साहिबे निसाब हो तो हर एक पर अलग-अलग कुर्बानी वाजिब है ।
★_मकरूज अगर कर्ज अदा करने के बाद साडे 52 तोला चांदी की मालियत हाजाते असलिया से जायद मौजूद हो तो कुर्बानी वाजिब है ।
★_अगर कुर्बानी के दिन गुजर गए तो गफलत या किसी और उजर् से कुर्बानी ना कर सका तो कुर्बानी की कीमत फुकरा मसाकीन पर सदका़ करना वाजिब है लेकिन कुर्बानी के ३ दिनों में जानवर की कीमत सदका़ कर देने से यह वाजिब अदा ना होगा ।
★_साहिबे निसाब गुजिश्ता जितने सालों की (जबकि साहिबे निसाब था और कुर्बानी नहीं की)  कुर्बानी वाजिब थी और अदा नहीं की तो उन सालों का हिसाब करके (एक हिस्से की कीमत जितनी बनती है) वो रकम किसी फकीर पर सदका करना वाजिब है ।
★_गुंजाइश हो तो अपने मरहूम बुजुर्गों की तरफ से और हुजूर सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम की तरफ से जरूर कुर्बानी की जाए।
"_  लेकिन अगर साहिबे निसाब है पहले अपनी तरफ से कुर्बानी करें और दूसरी कुर्बानी मरहूम बुजुर्गों और हुजूर सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम  की तरफ से अलग करें।
★_ जिस पर कुर्बानी वाजिब नहीं अगर वह भी कुर्बानी करे तो उसे भी पूरा सवाब होगा ।
"_अगर किसी आदमी ने कुर्बानी की नियत से  बकरा लिया और फिर कुर्बानी से पहले ही बेच दिया तो इस्तगफार करते हुए  उस रकम का सदका करना वाजिब है, और अगर कुर्बानी उस पर वाजिब थी ( साहिबे निसाब था) तो दूसरा जानवर खरीदकर कुर्बानी के दिनों में कुर्बानी करें ।       
* आपके मसाइल और उनका हल जिल्द 4 सफा-१७३ _,*
      ▦══─────────────══▦
            *☞ Qurbani Ka Waqt ◈*
★ Baqra Eid ki 10 vi tareekh se lekar 12 vi tareekh ki shaam ( Suraj guroob hone se pehle) tak qurbani ka waqt he, in Dino me jab chahe qurbani kar sakte hai, lekin pehla din afzal he, fir doosra,
⇨ in 3 Dino ke doraan raat ke waqt qurbani karna bhi jaiz to he lekin behtar nahi,
★ Shehar( city) me Namaze eid se pehle qurbani karna durust nahi, agar kisi ne Eid se pehle janwar zibah kar liya to ye gosht ka janwar hua, qurbani ka nahi,
⇨ Albatta dehaat (small village)me Jaha Eid ki namaz nahi hoti Eid ke din subeh sadiq tuloo'a  ho jane ke baad qurbani karna durust he,
★ Agar shehri Aadmi khud to shehar me mojood he, magar qurbani ka janwar dehaat me bhej de aur waha subeh sadiq ke baad qurbani ho jaye to durust he,
★ Agar in 3 Dino ke andar musafir apne watan pahunch gaya ya usne kahi aqamat ki niyat kar li aur wo sahibe nisaab he to uske zimme qurbani wajib hogi,
★ Jis shakhs ke zimme qurbani wajib he uske liye in Dino me qurbani ka janwar zibah karna hi lazim he, agar itni raqam sadqa kheraat kar de to qurbani Ada nahi hogi aur ye shakhs gunahgar hoga,
★ Jis shakhs per qurbani wajib thi aur in 3 Dino me qurbani nahi ki to uske baad qurbani karna durust nahi, ese shakhs ko tauba astagfar karte hue qurbani ke janwar ki maliyat sadqa kheraat karna chahiye,
* Aapke masail aur unka Hal,,, JILD-4, safa 165,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
         *❂ क़ुर्बानी का वक्त ❂*         
★__ बकरा ईद की दसवीं तारीख से लेकर 12 वीं तारीख शाम (सूरज गुरुब होने से पहले ) तक कुर्बानी का वक्त है, इन दिनों में जब चाहे कुर्बानी कर सकते हैं लेकिन पहला दिन अफज़ल है फिर दूसरा ।
_इन 3 दिनों के दौरान रात के वक्त कुर्बानी करना भी जाइज़ तो है लेकिन बेहतर नहीं ।
★_शहर में नमाजे ईद से पहले कुर्बानी करना दुरुस्त नहीं अगर किसी ने ईद से पहले जानवर जिबह कर लिया तो यह गोश्त का जानवर हुआ कुर्बानी का नहीं, अलबत्ता देहात में जहां ईद की नमाज नहीं होती ईद के दिन सुबह सादिक तुलु हो जाने के बाद कुर्बानी करना दुरुस्त है ।
अगर शहरी आदमी खुद तो शहर में मौजूद है मगर कुर्बानी का जानवर देहात में भेज दे और वहां सुबह सादिक के बाद क़ुर्बानी हो जाए तो दुरुस्त है।
★_ अगर इन 3 दिनों के अंदर मुसाफिर अपने वतन पहुंच गया या उसने कहीं अक़ामत की नियत कर ली और वह साहिबे निसाब है तो उसके जिम्मे कुर्बानी वाजिब होगी ।
★_जिस शख्स के जिम्मे कुर्बानी वाजिब है उसके लिए इन दिनों में कुर्बानी का जानवर जिबह करना लाजिम है , अगर इतनी रकम सदका़ खैरात कर दे तो कुर्बानी अदा नहीं होगी और यह शख्स गुनहगार होगा ।
★_जिस शख्स पर कुर्बानी वाजिब थी और इन ३ दिनों में कुर्बानी नहीं की तो उसके बाद कुर्बानी करना दुरुस्त नहीं ऐसे शख्स को तौबा इस्तगफार करते हुए कुर्बानी के जानवर की मालियत सदका़ करना चाहिए।
*आपके मसाईल और उनका हल जिल्द 4 सफा 165  _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Kisi doosre ki taraf se Niyat karna ◈*
★Qurbani me niyabat ja'iz he yani jis shakhs ke zimme qurbani wajib he agar uski ijazat se ya hukm se doosre shakhs ne uski taraf se qurbani kar di to ja'iz he, lekin agar kisi shakhs ke hukm ke bager uski taraf se qurbani ki to qurbani nahi hogi, isi tarah agar kisi shakhs ko uske hukm ke bager shareek kiya (hisse me)gaya to kisi ki bhi qurbani ja'iz nahi hogi,
★Aadmi ki zimme apni aulad ki taraf se qurbani karna zaroori nahi, agar aulad balig he aur maaldar ho to khud kare,
★ isi tarah Mard ke zimme Bivi ki taraf se qurbani karna lazim nahi,Agar bivi sahibe nisaab ho to uske liye alag qurbani ka intzam kiya jae,
★ Jis shakhs ko Allah ne tofeeq di ho woh apni wajib qurbani ke alawah apne marhoom Walden aur digar buzurgo ki taraf se bhi qurbani kare, iska bada azro sawab he,lekin pehle apni wajib qurbani ki jaye,
★ Hujoor Akram Sallallahu Alaihivasallam ke bhi hum per bade ahsanaat aur huqooq  hai,  Allah ta'ala ne gunjaish di ho to Aap S A ki taraf se bhi qurbani ki jae, magar apni Wajib qurbani pehle lazim he, usko chhodna ja'iz nahi,
★ Qurbani ka janwar zibah karte waqt zaban se niyat ke alfaz padna zaroori nahi, balki dil me niyay karna kafi he, aur Jo Duae hadees Paak me manqool he agar kisi ko yaad ho to unka padna mustahab he,
* Aapke masail aur unka Hal,,, JILD-4, safa 166,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*            
*❂ किसी दूसरे की तरफ से नियत करना ❂*         
★_क़ुरबानी में नियाबत जाइज़ है यानी जिस शख्स के ज़िम्मे क़ुरबानी वाजिब है अगर उसकी इजाज़त से या हुक्म से दूसरे शख्स ने उसकी तरफ से क़ुरबानी कर दी तो जाइज़ है,लेकिन अगर किसी शख्स के हुक्म के बगैर उसकी तरफ से क़ुरबानी की तो क़ुरबानी नही होगी ,इसी तरह अगर किसी शख्स को उसके हुक्म के बगैर शरीक़ किया गया (हिस्से में) तो किसी की भी क़ुरबानी जाइज़ नही होगी,
★_आदमी के ज़िम्मे अपनी औलाद की तरफ से क़ुरबानी करना ज़रूरी नही, अगर औलाद बालिग है और मालदार हो तो खुद करे, इसी तरह मर्द के ज़िम्मे बीवी की तरफ से क़ुरबानी करना लाज़िम नही,अगर बीवी साहिबे निसाब हो तो उसके लिए अलग क़ुरबानी का इंतज़ाम किया जाए,
★_जिस शख्स को अल्लाह ने तौफ़ीक़ दी हो वो अपनी वाजिब क़ुरबानी के अलावा अपने मरहूम वालिदैन और दीगर बुज़ुर्गों की तरफ से भी क़ुरबानी करे,इसका बड़ा अजरो सवाब है,लेकिन पहले अपनी वाजिब क़ुरबानी की जाए,
★_हुज़ूर अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के भी हम पर बड़े एहसानात और हुक़ूक़ हैं,अल्लाह ताला ने गुंजाइश दी हो तो आप स.अ. की तरफ से भी क़ुरबानी की जाए,मगर अपनी वाजिब क़ुरबानी पहले लाज़िम है,उसको छोड़ना जाइज़ नही,
★_क़ुरबानी का जानवर ज़िबह करते वक़्त ज़बान से नियत के अल्फ़ाज़ पढ़ना ज़रूरी नही,बल्कि दिल मे नियत करना काफी है,और जो दुआए हदीस पाक में मंक़ूल है अगर किसी को याद हो तो उनका पढ़ना मुस्तहब है,।
* आपके मसाईल और उनका हल जिल्द 4 सफा 166_,*
      ▦══─────────────══▦
*☞ Qurbani kin Janwaro'n Ki Jaa'iz he- ◈*
★ 1- Bakri, Bakra, Bhed, Dumba, Bhens, Bhensa,Gaay( cow), Ount, Ountni, ki qurbani durust he, inke alawa kisi aur janwar ki qurbani durust nahi,
★ 2- Gaay, Bhens, Ount me agar 7 aadmi shareek hokar qurbani kare to bhi durust he, magar zaroori he k kisi ka hissa 7 ve hisse se kam na ho, aur ye bhi shart he k sabki niyat qurbani ya aqeeqa ki ho, sirf gosht khane ke liye hissa rakhna maqsood na ho, agar ek aadmi ki niyat bhi sahi na hui to kisi ki bhi qurbani sahi na hogi,
★ 3- Kisi ne qurbani ke liye Bada janwar ( gaae, bhens, ount vagerah ) kharida aur kharidte waqt ye niyat thi k doosre logo ko bhi shareek kar lenge, aur baad me doosro ka hissa rakh liya to ye durust he,
⇨ lekin agar Bada janwar kharidte waqt doosre logo ko shareek karne ki niyat nahi thi balki poora janwar apni taraf se qurbani karne ki niyat thi, magar ab doosro ko bhi shareek karna chahta he to ye dekha jayega k us shakhs ke zimme qurbani wajib he ya nahi, agar qurbani wajib he to doosro ko bhi shareek to kar sakta he magar behtar nahi, aur agar uske zimme qurbani wajib nahi thi to doosro ko shareek karna durust nahi,
★ 4- Agar qurbani ka janwar gum ho gaya aur usne doosra janwar kharid liya, fir ittefaq se pehla bhi mil gaya to agar us shakhs ke zimme qurbani wajib thi tab to sirf ek janwar ki qurbani uske zimme hogi, aur agar qurbani wajib nahi thi to dono janwaro'n ki qurbani lazim hogi,
★ 5- Bakra, Bakri, agar ek saal se kam umar ki ho chahe ek hi din ki kami ho to uski qurbani karna durust nahi,
★ 6- Gaay, Bhens poore 2 saal ki ho to qurbani durust hogi, isse kam umar ki ho to durust nahi,
★ 7 - Ount ( camel) poore 5 saal ka ho to qurbani durust he,
★ 8- Bhed ya Dumba agar 6 mahine se zyada ka ho aur itna mota tazah ho k agar poore ek saal wale Bhed, Dumbo'n ke darmiyan chhoda jae to fark maloom na ho to uski qurbani karna durust he, aur agar fark maloom ho to qurbani durust nahi,
★ 9- Jo janwar andha ya kana ho uski ek aankh ki tihai (1/3)roshni ya tihai se zyada jati rahi ho,
ya ek kaan tihai ya tihai se zyada kat gaya ho to uski qurbani karna durust nahi,
★ 10- Jo janwar itna langda ho ki sirf 3 paanv ( legs) se chalta ho, Chothai paanv zameen per rakhta hi nahi ya rakhta ho magar usse chal nahi sakta to uski qurbani durust nahi,
⇨ aur agar chalne me chothe paanv ka Sahara to leta he magar langdakar chalta he to uski qurbani durust he,
★ 11- Agar janwar itna dubla ho ki uski haddiyo'n me gosht tak na raha ho to uski qurbani durust nahi,
⇨ agar esa dubla na ho to uski qurbani durust he, lekin janwar jitna mota, farba ho usi qadar qurbani achchhi he,
★ 12- Jis Janwar ke daant ( teeth) bilkul na ho'n ya zyada daant ( teeth) jhad gaye ho'n, uski qurbani durust nahi,
★ 13- Jis Janwar ke pedaishi Kaan na ho'n, uski qurbani karna durust nahi,
⇨agar kaan to ho'n magar chhote ho to uski qurbani durust he,
★ 14- Jis Janwar ke pedaishi tor per seeng na ho uski qurbani durust he,
⇨ aur agar seeng the magar toot gae to agar sirf ouper se khol utra he andar ka gooda baaqi he to qurbani durust he, aur agar jad hi se nikal gae ho'n to uski qurbani karna durust nahi,
★ 15- Khassi janwar ki qurbani ja'iz balki afzal he,
★ 16- Jis Janwar ke kharish ho to agar kharish ka asar sirf jild tak mehdood he to uski qurbani karna durust he aur agar kharish ka asar gosht tak pahunch gaya ho aur janwar uski vajah se lachar aur  kamjor ho gaya ho to uski qurbani durust nahi,
★ 17-Agar janwar kharidne ke baad usme koi aib esa paida ho gaya jiski vajaha se uski qurbani durust nahi to agar ye shakhs Saahibe Nisaab he aur qurbani wajib he to uski jagah tandurast janwar kharid kar qurbani kare, aur agar us shakhs ke zimme qurbani wajib nahi to woh usi janwar ki qurbani kare,
★ 18- Janwar pehle to sahi salim tha magar zibaha karte waqt Jo usko litaya to uski vajaha se usme kuchh aib paida ho gaya to uska koi harj nahi, uski qurbani durust he,
★ 19- Gabhan ( Haamla)Janwar ki qurbani jaa’iz he, agar pet ka bachcha zinda nikle to usko bhi zibaha kar liya jaye, Murda nikle to uska khana durust nahi, usko fenk diya jaye,
★ 20- Qurbani ke janwar ke agar zibaha karne se pehle bachcha paida ho gaya ya zibaha karte waqt uske pet se zinda bachcha nikal aaya to usko bhi zibaha kar diya jaye,,*
* Aapke masail aur unka Hal,,,JILD-4, safa 167,**
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
       *❂ कुर्बानी किन चीजों की जाइज़ है-❂*         
★_ १_ बकरी बकरा भैड दुंबा भैंस भैंसा गाय ऊंट ऊंटनी की कुर्बानी दुरुस्त है इनके अलावा किसी और जानवर की कुर्बानी दुरुस्त नहीं ।
★_२_गाय भैंस ऊंट में अगर 7 आदमी शरीक होकर कुर्बानी करें तो भी दुरुस्त है मगर ज़रुरी है कि किसी का हिस्सा सातवें हिस्से से कम ना हो और यह भी शर्त है कि सभी की नियत क़ुर्बानी या अक़ीके की हो सिर्फ गोश्त खाने के लिए हिस्सा रखना मकसूद ना हो ,अगर एक आदमी की नियत भी सही ना हो तो किसी की भी कुर्बानी सही ना होगी।
★_३_किसी ने कुर्बानी के लिए बड़ा जानवर खरीदा और खरीदते वक्त यह नियत थी कि दूसरे लोगों को भी शरीक कर लेंगे और बाद में दूसरों का हिस्सा रख लिया तो यह  दुरुस्त है । लेकिन अगर बड़ा जानवर खरीदते वक्त दूसरे लोगों को शरीक करने की नियत नहीं थी बल्कि पूरा जानवर अपनी तरफ से कुर्बानी करने की नियत थी मगर अब दूसरों को भी शरीक करना चाहता है तो यह देखा जाएगा कि उस शख्स के जिम्मे कुर्बानी वाजिब है या नहीं ,अगर कुर्बानी वाजिब है तो दूसरों को भी शरीक तो कर सकता है मगर बेहतर नहीं ,  और अगर उसके जिम्मे कुर्बानी वाजिब नहीं थी तो दूसरों को शरीक करना दुरुस्त नहीं।
★_४_ अगर कुर्बानी का जानवर गुम हो गया और उसने दूसरा जानवर खरीद लिया फिर इत्तेफाक से पहला भी मिल गया तो अगर उस शख्स के जिम्मे कुर्बानी  वाजिब थी तब तो सिर्फ एक जानवर की कुर्बानी उसके जिम्मे होगी और अगर कुर्बानी वाजिब नहीं थी तो दोनों जानवरों की कुर्बानी लाजिम होगी ।
★_५_बकरा बकरी अगर 1 साल से कम उम्र के हो चाहे एक ही दिन कम हो तो उसकी कुर्बानी  करना दुरुस्त नहीं।
★_६_ गाय भैंस पूरे 2 साल की हो तो कुर्बानी दुरुस्त होगी इससे कम उम्र की हो तो दुरुस्त नहीं।
★_७_ ऊंट पूरे 5 साल का हो तो कुर्बानी दुरुस्त है ।
★_८_भेड़ या  दूंबा अगर 6 महीने से ज्यादा का हो और इतना मोटा ताजा हो कि अगर पूरे 1 साल वाले भेड़ दुंबों के दरमियान में छोड़ा जाए तो फर्क मालूम ना हो तो उस की कुर्बानी करना दुरुस्त  है और अगर फर्क मालूम हो तो कुर्बानी दुरुस्त नहीं ।
★__९_ जो जानवर अंधा या काना हो उसकी एक आंख की तिहाई रोशनी या तिहाई से ज्यादा जाती रही हो , या एक कान तिहाई या तिहाई से ज्यादा कट गया हो तो उसकी कुर्बानी करना दुरुस्त नहीं।
★_१० _जो जानवर इतना लंगड़ा हो के सिर्फ 3 पांव से चलता हो, चौथाई पांव ज़मीन पर रखता ही नहीं या रखता हो मगर उससे चल नहीं सकता तो उसकी कुर्बानी दुरुस्त नहीं । और अगर चलने में चोथाई पांव का सहारा तो लेता है मगर लंगड़ा कर चलता है तो उसकी कुर्बानी दुरुस्त है।
★_११_ अगर जानवर इतना दुबला हो कि उसकी हड्डियों में गोश्त तक ना रहा हो तो उसकी कुर्बानी दुरुस्त नहीं ।अगर ऐसा दुबला ना हो तो उसकी कुर्बानी दुरुस्त  हैं लेकिन जानवर जितना मोटा फरबा हो उसी क़दर क़ुर्बानी अच्छी है ।
★_१२_ जिस जानवर के दांत बिल्कुल ना हो या ज्यादा दांत झड़ गये हो उसकी कुर्बानी दुरुस्त नहीं ।
★_१३_जिस जानवर के पैदाइशी कान ना हो उसकी कुर्बानी दुरुस्त नहीं । अगर कान तो हो मगर छोटे हो तो उसकी कुर्बानी दुरुस्त है ।
★_१४_जिस जानवर के पैदाइशी तौर पर सींग ना हो उसकी कुर्बानी दुरुस्त है और अगर सींग थे मगर टूट गए तो अगर सिर्फ ऊपर से खोल उतरा है अंदर का गूदा बाकी है तो कुर्बानी दुरुस्त  है और अगर जड़ ही से निकल गए हो तो उसकी कुर्बानी करना दुरुस्त नहीं।
★_१५_ खस्सी जानवर की कुर्बानी जायज़ बल्कि अफजल है।

★_१६_ जिस जानवर के खारिश हो तो अगर खारिश का असर सिर्फ जिल्द तक महदूद है तो उसकी कुर्बानी करना दुरुस्त है और अगर खारिश का असर गोश्त तक पहुंच गया हो और जानवर उसकी वजह से लाचार और कमजोर हो गया है तो उसकी कुर्बानी दुरुस्त नहीं।    
★__१७_ अगर जानवर खरीदने के बाद उसमें कोई ऐब ऐसा पैदा हो गया जिसकी वजह से उसकी कुर्बानी दुरुस्त नहीं तो अगर यह शख्स साहिबे निसाब है और कुर्बानी वाजिब है तो उसकी जगह तंदूरुस्त जानवर खरीदकर कुर्बानी करें और अगर उस शख्स के जिम्मे कुर्बानी वाजिब नहीं तो वह उसी जानवर की कुर्बानी करें ।
★_१८_  जानवर पहले तो सही सालिम था मगर जिबह करते वक्त जो उसको लिटाया तो उसकी वजह से उसमें कुछ ऐब पैदा हो गया तो उसका कोई हर्ज नहीं उसकी कुर्बानी दुरुस्त है।
★_१९_ गाबन (हामला) जानवर की कुर्बानी जायज़ है अगर पेट का बच्चा जिंदा निकले तो उसको भी जिबह कर लिया जाए ,मुर्दा निकले तो उसका खाना दुरुस्त नहीं उसको फेंक दिया जाए।
★_२०_ कुर्बानी के जानवर के अगर जिबह करने से पहले बच्चा पैदा हो गया या जिबह करते वक्त उसके पेट से जिंदा बच्चा निकल आया तो उसको भी जिबह कर दिया जाए ।       
*आपके मसाईल और उनका हल - जिल्द ४, सफा-१६९  _,*
      ▦══─────────────══▦
      *☞  Qurbani ke Hissedar ◈*
★ Bada janwar me 7 hissedar ho sakte hai’n, lekin agar hissedar kam ho to bhi qurbani ho jaegi, lekin unme se har ek ka hissa ek se kam na ho yani hisse poore hona chahiye,
⇨ Maslan ek Bhains ke 2 hissedar ho to ek hissedar ko 3 hisse aur doosre hissedar ko 4 hisse, Ya ek hissedar ke ek hissa aur doosre hissedar ko 6 hisse, ( Ye nahi k  Saade teen- teen hisse kare, hisse poore hona chahiye)
★ Mushtarik kharide hue Bakre, Bhed, Dumbe ki qurbani durust nahi,
⇨ Maslan 3-4 Aadmio’n ne milkar ek Bakra kharid kar qurbani kar de, Qurbani ka ek hissa ek hi Aadmi ki janib se ho sakta he,
⇨ Albatta agar koi ek shakhs poora ek hissa apni jaanib se ya kisi ko sawab pahunchane ke liye kisi doosre ki taraf se qurbani kare to sahi hoga,
★ Janwar zibaha ho Jane ke baad qurbani ke hisse tabdeel karna ja’iz nahi,
* Aapke masail aur unka Hal,,, JILD-4, safa 193,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
           *❂ क़ुर्बानी के हिस्सेदार ❂*         
★__ बड़ा जानवर में सात हिस्सेदार हो सकते हैं लेकिन अगर हिस्सेदार कम हो तो भी कुर्बानी हो जाएगी लेकिन उनमें से हर एक का हिस्सा एक से कम ना हो यानी हिस्से पूरे होना चाहिए। मसलन एक भैंस  के 2 हिस्सेदार हो तो एक हिस्सेदार को 3 हिस्से और दूसरे हिस्सेदार को चार हिस्से या एक हिस्सेदार को एक हिस्सा और दूसरे हिस्सेदार को छ:  हिस्से ( यह नहीं कि साढे तीन -तीन हिस्से करें हिस्से पूरे होनी चाहिए )
★_मुश्तरिक खरीदे हुए बकरे भेड़ दुंबे की कुर्बानी दुरुस्त नहीं। मसलन तीन चार आदमियों ने मिलकर एक बकरा खरीद कर कुर्बानी कर दी ,कुर्बानी का एक हिस्सा एक ही आदमी की जानिब से हो सकता है, अलबत्ता अगर कोई एक शख्स पूरा एक हिस्सा अपनी जानिब से या किसी को सवाब पहुंचाने के लिए किसी दूसरे की तरफ से कुर्बानी करें तो सही होगा।
★_ जानवर जिबह हो जाने के बाद कुर्बानी के हिस्से तब्दील करना जायज़ नहीं ।
* आपके मसाईल और उनका हल जिल्द 4 सफा-१९३ _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞ Qurbani Ke Adaab ◈*
★ Qurbani khud apne haath se ( Aurte’n bhi ) zibaha karna mustahab he, lekin Jo shakhs zibaha karna nahi jaanta ho ya kisi vajah se zibaha na karna chahta ho, use zibaha karne wale ke paas mojood rehna behtar he,
★ Qurbani ka janwar zibaha karte waqt zaban se niyat ke alfaz padna zaroori nahi balki dil me niyat kar lena kaafi he, aur baaz duae’n Jo hadees Paak me manqool he agar kisi ko yaad ho to unka padna mustahab he,
★ Qurbani ke janwar ko chand roz pehle paalna afzal he,
★ Qurbani ke janwar ka doodh nikaalna ya uske Baal kaatna jaa’iz nahi, agar kisi ne esa kar liya to doodh aur Baal ya unki qeemat ka sadqa karna wajib he,
★ Qurbani se pehle chhuri ko khoob tez kare aur ek janwar ko doosre janwar ke saamne zibaha na kare,
★ Zibaha ke baad Khaal utaarne aur Gosht ke tukde karne me jaldi na kare, jab tak poori tarah janwar thanda na ho jaye,
★ Qurbani ke janwar ko qibla rukh hona mustahab he, lekin jis tarah bhi zibaha karne me  sahulat ho koi harj nahi,
★ Qurbani Daaye ( right) haath se kare, Baaye haath se qurbani karna khilafe sunnat hoga, albatta koi uzr ho to fir kiya ja sakta he,
★ Masheeni Zibaha ( Jo masheen ke zariye zibaha kiya gaya ho) ko ahle ilm ne sahi qaraar nahi diya he,
★ Zibaha karne ke waqt ” Bismillaah Allaahu Akbar ” kehna zaroori he,
⇨ Agar koi musalman zibaha karte waqt” Bismillaah Allaahu Akbar ” kehna bhool jaye to wo zibaha to  halaal he lekin agar koi jaan boojhkar “Bismillah” nahi pade to uska zibaha halaal nahi, aur jis shakhs ko maloom ho k ye halaal nahi us shakhs ka khana bhi halaal nahi,
* Aapke masail aur unka Hal,, JILD-4, safa 200,**
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
    *❂ क़ुर्बानी के आदाब ❂*         
★__ कुर्बानी खुद अपने हाथ से ( औरतें भी) जिबह करना मुस्तहब है लेकिन जो शख्स जिबह करना नहीं जानता हो या किसी वजह से जिबह ना करना चाहता हो उसे जिबह करने वाले के पास मौजूद रहना बेहतर है।
★_ कुर्बानी का जानवर जिबह करते वक्त जुबान से नियत के अल्फाज पढ़ना जरूरी नहीं बल्कि दिल में नियत कर लेना काफी है और बाज़ दुआएं जो हदीसे पाक में मंक़ूल है उन्हें अगर किसी को याद हो तो उनका पढ़ना मुस्तहब है ।
★_कुर्बानी के जानवर को चंद रोज पहले पालना अफजल है। कुर्बानी के जानवर का दूध निकालना या उसके बाल काटना जायज़ नहीं अगर किसी ने ऐसा कर लिया तो दूध और बाल या उनकी कीमत सदका़ करना वाजिब है ।
★_कुर्बानी से पहले छुरी को खूब तेज करें और एक जानवर को दूसरे जानवर के सामने जिबह ना करें ।जिबह के बाद खाल उतारने और गोश्त के टुकड़े करने में जल्दी ना करें जब तक पूरी तरह जानवर ठंडा ना हो जाए।
★_ कुर्बानी के जानवर को क़िब्ला रुख होना मुस्तहब है लेकिन जिस तरह भी जिबह करने में सहूलियत हो कोई हर्ज नहीं ।
★_कुर्बानी दाएं हाथ से करें बाएं हाथ से कुर्बानी करना खिलाफे सुन्नत होगा , अलबत्ता कोई उजर् हो तो किया जा सकता है ।
★_ मशीनी जिबह ( जो मशीन के ज़रिए जिबह किया गया हो)  को अहले इल्म ने सही करार नहीं दिया है।
★_ जिबह करने के वक्त "_बिस्मिल्लाह अल्लाहु अकबर_" कहना ज़रूरी है अगर कोई मुसलमान जिबह करते वक्त "_बिस्मिल्लाह अल्लाहु अकबर" कहना भूल जाए तो जिबह तो हलाल है लेकिन अगर कोई जानबूझकर बिस्मिल्लाह नहीं पड़े तो उसका जिबह हलाल नहीं और जिस शख्स को मालूम हो कि यह हलाल नहीं उस शख्स का खाना भी हलाल नहीं ।
*आपके मसाईल और उनका हल जिल्द 4 सफा २००  _,*
      ▦══─────────────══▦
       *☞  Qurbani ka Gosht  ◈*
★ Qurbani ka Gosht agar kai aadmiyo’n ke darmiyan mushtarik ho to usko atkal se taqseem karna jaa’iz nahi balki khoob ahatyaat se tol kar barabar hisse karna durust he, haan!  Agar kisi ke hisse me sar aur paanv laga diye jaye to uske wazan ke hisse me kami jaa’iz he,
★ Qurbani ka Gosht khud khaye, dost ahbaab me taqseem kare, gareeb masakeen ko de aur behtar ye he k iske 3 hisse kiye jaye, ek apne liye, ek dost ahbaab, azeezo aqarib ko hadiya dene ke liye aur ek zaroorat mand nadaaro’n me taqseem karne ke liye,
⇨ agar kisi ne tihaai hisse se bhi kam khairat kiya, baki sab kha liya, azeezo aqarib ko de diya tab bhi gunah nahi,
★ Qurbani ki khaal apne istemal ke liye rakh sakte hai’n, kisi ko hadiya kar sakte hai’n, lekin agar usko farokht( sell ) kar diya to uski raqam ko khud istemal na kare balki kisi gareeb per sadqa kar dena wajib he,
★ Qurbani ki khaal ki raqam masjid ki marammat me ya kisi aur nek kaam me lagana jaa’iz nahi, balki kisi gareeb ko uska maalik banana zaroori he,
★ Qurbani ki khaal ya uski raqam kisi esi Jama’at ya anjuman ko dena durust nahi jiske bare me ye andesha ho k mustahqeen ko nahi denge balki khud ke programo me kharch karenge,
★ Qurbani ki khaal ya uski raqam kisi ese idaare, madarse ko dena durust he Jo waqa’i mustahqeen me taqseem karte hai’n,
★ Qurbani ke jaanwar ka doodh nikaal kar istemal karna ya uske Baal utaarna durust nahi, agar iski zaroorat ho to iski raqam sadqa kar dena chahiye,
★ Qurbani ke jaanwar ki jhol, rassi bhi sadqa kar dena chahiye,
★ Qurbani ka Gosht qasaab ( butcher) ko ujrat me dena jaa’iz nahi,
★ isi tarah qurbani ki khaal ki raqam ko Imaam ya Mo’azzin ki ujrat me dena bhi durust nahi,
* Aapke masail aur unka Hal,,JILD-4, safa no 169,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
         *❂ कुर्बानी का गोश्त ❂*         
★__ कुर्बानी का गोश्त अगर कई आदमियों के दरमियान मुस्तरिक हो तो उसको अटकल से तक़सीम करना जायज नहीं है बल्कि खूब एहतियात से तोडलकर बराबर हिस्से करना दुरुस्त है। हां अगर किसी के हिस्से में सर और पांव लगा दिया जाए तो उसके वजन के हिस्से में कमी जायज़ है ।
★_ कुर्बानी का गोश्त खुद खाएं दोस्त अहबाब में तक़सीम करें, गरीब मसाकीन को दें और बेहतर यह है कि इसके 3 हिस्से किए जाए एक अपने लिए, एक दोस्त अहबाब अजीज़ो अकारिब को हदिया देने के लिए और एक जरूरतमंद नादारों में तक़सीम करने के लिए ।
अगर किसी ने तिहाई हिस्से से भी कम है खैरात किया बाक़ी सब खा लिया ,अज़ीज़ो अका़रिब को दे दिया तब भी गुनाह नहीं ।
★_कुर्बानी की खाल अपने इस्तेमाल के लिए रख सकते हैं किसी को हदिया कर सकते हैं लेकिन अगर उसको बैच दिया तो उसकी रक़म को खुद इस्तेमाल ना करें बल्कि किसी गरीब पर सदका कर देना वाजिब है ।
★_कुर्बानी की खाल की रक़म मस्जिद की मरम्मत या किसी और नेक काम में लगाना जायज़ नहीं बल्कि किसी गरीब को उसका मालिक बनाना जरूरी है।
★_ कुर्बानी की खाल या उसकी रक़म किसी ऐसी जमात या अंजुमन को देना दुरुस्त नहीं जिसके बारे में यह अंदेशा हो कि मुस्तहिकीन को नहीं देंगे खुद के प्रोग्रामों में खर्च करेंगे ।
★_कुर्बानी की खाल या उसकी रकम किसी ऐसे इदारे, मदरसे को देना जो वाकई मुस्तहिकी़न में तक़सीम करते हैं ।
★_कुर्बानी के जानवर का दूध निकाल कर इस्तेमाल करना या उसके बाल उतारना दुरुस्त नहीं अगर इसकी जरूरत हो तो इसकी रक़म सदका़ कर देना चाहिए ।
★_कुर्बानी के जानवर की झोल रस्सी भी सदका कर देना चाहिए।
★_ कुर्बानी का गोश्त कसाब को उजरत में देना जायज नहीं ।
★_इसी तरह कुर्बानी की खाल की रक़म को इमाम या मौज्जिन की उजरत में देना भी दूरुस्त नहीं।
* आपके मसाईल और उनका हल जिल्द 4 सफा-१६९ _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞ Chand Galtiyo’n ki islaah ◈*
★ Baaz log ye kotahi karte hai’n k taaqat na hone ke bavjood sharm ki vajah se qurbani karte hai’n k log ye kahenge k unhone qurbani nahi ki, mahaz dikhawe ke liye qurbani karna durust nahi, jisse wajib huqooq faut ho jaye,
★ Bahut se log mahaz gosht khane ki niyat se qurbani ki niyat kar lete hai’n, agar ibadat ki niyat na ho to unko sawab nahi milega, aur agar ese logo’n ne kisi aur ke saath hissa rakha ho to kisi ki bhi qurbani nahi hogi,
★ Baaz log ye samajhte hai’n k agar ghar me ek qurbani ho jana kaafi he, isliye log esa karte hai’n k ek saal apni taraf se qurbani kar li, ek saal bivi ki taraf se kar di, ek saal ladke ki taraf se kar di, ek saal ladki ki taraf se kar di, ek saal marhoom walden ki taraf se kar di,
 khoob achchhi tarah yaad rakhna chahiye k ghar ke jitne logo per qurbani wajib he ( jiske paas Sade Bavan Tola chandi ki maliyat he) unme se har ek ki taraf se qurbani karna wajib he,
⇨ Maslan miya’n bivi agar do no saahibe Nisaab ho’n to do no ki taraf se do qurbaniya’n laajim hai’n, Isi tarah agar baap beta do no saahibe Nisaab hai’n to chahe ek saath ikatthe rehte ho magar har ek ki taraf se alag alag qurbani wajib he,
★ Baaz log ye samajhte hai’n qurbani umar bhar me ek baar kar lena kaafi he, ye khayal bilkul galat he, jis tarah zakaat aur sadqa Fitr har saal wajib hota he, usi tarah saahibe Nisaab per bhi qurbani har saal wajib he,
★ Kuchh log bade jaanwar  me hissa rakh lete hai’n lekin ye nahi dekhte k jin logo ka hissa apne saath rakhe hai’n woh kese log hai’n, ye badi galti he,
⇨ Agar 7 hissedaro’n me se ek bhi be-deen ho ya usne qurbani ki niyat nahi ki balki mahaz gosht khane ki niyat ho to sabki qurbani barbaad ho jaegi, isliye hissa lete waqt hissedaro’n ka intkhab badi ahatyaat se karna chahiye,
* Aapke masail aur unka Hal,,,,JILD-4, Safa no 170,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
  *❂ चंद गलतियों की इस्लाह ❂*         
★__ बाज़ लोग यह गलतियां करते हैं कि ताक़त ना होने के बावजूद शर्म की वजह से कुर्बानी करते हैं कि  लोग यह कहेंगे कि उन्होंने कुर्बानी नहीं की ,  महज़ दिखावे के लिए कुर्बानी करना दुरुस्त नहीं जिससे वाजिब फौत हो जाए।
★_ बहुत से लोग महज़ गोश्त खाने की नियत से कुर्बानी की नियत कर लेते हैं ,अगर इबादत की नियत ना हो उसको सवाब नहीं मिलेगा और अगर ऐसे लोगों ने किसी और के साथ हिस्सा रखा तो किसी की भी कुर्बानी नहीं होगी।
★_बाज़ लोग यह समझते हैं कि  घर में एक कुर्बानी हो जाना काफी है इसलिए लोग ऐसा करते हैं कि एक साल अपनी तरफ से कुर्बानी कर ली,  एक साल बीवी की तरफ से , एक साल लड़के की तरफ से एक साल लड़की की तरफ से कर दी , एक साल मरहूम वालदैन की तरफ से कर दी ।
 खूब अच्छी तरह याद रखना चाहिए कि घर के जितने लोगों पर कुर्बानी वाजिब है (जिसके पास साडे 52 तोला चांदी की मालियत है ) उनमें से हर एक की तरफ से कुर्बानी करना वाजिब है ।
मसलन मियां बीवी दोनों साहिबे निसाब है दोनों की तरफ से दो कुर्बानियां लाजिम है। इसी तरह अगर बाप बेटा दोनों साहिबे निसाब है तो चाहे एक साथ इकट्ठे रहते हैं मगर हर एक की तरफ से अलग अलग कुर्बानी वाजिब है।
★_ बाज़ लोग की यह समझते हैं कि कुर्बानी उमर भर में एक बार कर लेना काफी है ,यह ख्याल बिल्कुल गलत है जिस तरह जकात और सदका़ ए फितर् हर साल वाजिब होता है इसी तरह साहिबे निसाब पर कुर्बानी हर साल वाजिब होती है ।
★_कुछ लोग बड़े जानवर में हिस्सा रख लेते हैं लेकिन यह नहीं देखते कि जिन लोगों का हिस्सा अपने साथ रखा है वह कैसे लोग हैं यह बड़ी गलती है। अगर सात हिस्सेदारों में से एक भी बेदीन हो या उसने कुर्बानी की नियत नहीं की बल्कि महज गोश्त खाने की नियत हो सब की कुर्बानी बर्बाद हो जाएगी , हिस्सा लेते वक्त हिस्सेदारों का इंतखाब अहतयात से करना चाहिए ।
*आपके मसाईल और उनका हल जिल्द 4 सफा १७०  _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Qurbani ki Shara’i Haisiyat ◈*
★ Qurbani ek aham ibadat aur Sha’aar e islam he,
★ Zamana e Jahalat me bhi isko ibadat samjha jata tha, magar Buto’n ke naam per qurbani karte the,
⇨ isi tarah aaj bhi doosre mazhabo’n me qurbani mazhabi rasm ke tor per Ada ki jati he,
Mushrikeen aur Iesai buto’n ke naam per ya Maseeh ke naam per qurbani karte hai’n,
★ Surah Kausar me Allah ta’ala ne apne Rasool Sallallahu Alayhivasallam ko hukm diya he k jis tarah namaz Allah ta’ala ke Siva kisi ki nahi ho sakti, isi tarah qurbani bhi Allah ta’ala ke naam per hona chahiye,
★ Doosri ek aur Aayat me isi mafhoom ko doosre unwan se bayaan farmaya he,
” Beshak meri namaz aur meri qurbani aur meri zindgi aur meri maut Allah ke liye he, Jo tamam Jahaano ka paalne wala he,”
★ Rasoolullah Sallallahu Alayhivasallam ne hijrat se 10 saal Madina Tayyaba me qayaam farmaya, har saal barabar qurbani ki,
*® Tirmizi Sharif,*
★ Isse maloom hua k qurbani sirf Makka Muazzamah me Hajj ke moqe per hi wajib nahi balki har shakhs per, har Shahar me wajib hogi basharte k Shari’at ne qurbani ke wajib hone ki Jo shara’it bayaan kiye hai’n woh payi jaye, Nabi Kareem Sallallahu Alayhivasallam Musalmano ko iski takeed farmate the, isiliye Jamhoor Ulema e islam ke najdeek qurbani wajib he,
*®Shaami,*
* Aapke masail aur unka Hal,,,JILD-4, Safa no, 171,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
      *❂ कुर्बानी की शरई हैसियत ❂*         
★__ कुर्बानी एक अहम इबादत और शआरे इस्लाम है । ज़माना ए जाहिलियत में भी इसको इबादत समझा जाता था मगर बुतों के नाम पर कुर्बानी करते थे । इसी तरह आज भी दूसरे मजाहिबों में कुर्बानी मजहबी रस्म के तौर पर अदा की जाती है । मुशरिकीन और ईसाई बुतों के नाम पर या मसीह के नाम पर कुर्बानी करते हैं।
★_  सूरह कौसर में अल्लाह ताला ने अपने रसूल सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम को हुक्म दिया है कि जिस तरह नमाज अल्लाह ताला के सिवा किसी की नहीं हो सकती इसी तरह कुर्बानी अल्लाह ताला के नाम पर होना चाहिए ।
★_दूसरी एक और आयत में इसी मफहूम को दूसरे उनवान से बयान फ़रमाया है , बेशक मेरी नमाज और मेरी कुर्बानी और मेरी जिंदगी और मेरी मौत अल्लाह के लिए हैं जो तमाम जहानों का पालने वाला है ।
★_ रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने हिजरत से 10 साल मदीना तैय्यबा मे क़याम फरमाया हर साल बराबर कुर्बानी की । *( तिर्मिज़ी )*
★_इससे मालूम हुआ की कुर्बानी सिर्फ मक्का मुअज़्ज़मा में हज के मौके पर ही वाजिब नहीं बल्कि हर शख्स पर हर शहर में वाजिब होगी बशर्ते की शरीयत ने कुर्बानी के वाजिब होने की जो शराइत बयान किए हैं वह पाई जाए । नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम मुसलमानों को इसकी ताकीद फरमाते थे इसलिए जम्हूर उलेमा ए इस्लाम के नजदीक कुर्बानी वाजिब है । *( शामी )*
* आपके मसाईल और उनका हल जिल्द 4 सफा- १७१ _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Qurbani ke Mutafarrik Masail -,*
✮ 1- Fiqha me tashreeh he k Haiwanat ki umar me waqif logo ke qaul ka etbaar hoga nawaqif ka nahi,
✮ 2- Qurbani ke Jaanwar ke daanto( teeth) ka maiyaar ye he k Jaanwar Ghaans kha sakta ho, to uski qurbani jaa’iz he, varna nahi kyuki Daanto( teeth) se maqsood yahi he,
✮ 3- Dumbe ki dum ( tail) ka etbaar nahi, agar poori bhi kati hui ho to bhi qurbani jaa’iz he,
✮ 4- Jaanwar udhaar ya qisto ( instal) per kharid kar qurbani karna jaa’iz he,
✮ 5- Maqrooz per nisaab se qarz Ada karne ke baad agar nisaab me kami nahi aati, nisaab kamil baqi rehta ho to qurbani wajib he,
✮ 6- Niche likhi soorato’n me qurbani ke jaanwar ka doodh or Gobar istemal me lana aur usse nafa hasil karna jaa’iz he,
⇣⇣⇣⇣⇣⇣⇣⇣⇣⇣⇣⇣
⇢1- Jaanwar ghar ka paaltu ho,
⇢2- Jaanwar ghar ka paaltu nahi lekin Jaanwar ko kharidte waqt qurbani ki niyat na ho,
⇢3- Jaanwar qurbani ki niyat se to kharida he lekin bahar char kar guzar na karta ho balki ghar me hi chara khata ho,
✮ 7- Qurbani ke gosht ka farokht ( sell) karna na-jaa’iz he,
✮ 8- Qurbani ke gosht ki haddiya’n ( bones) gosht pakane se pehle ya baad me farokht( sell)  karna jaa’iz nahi,
✮ -9 Qurbani ke Jaanwar ka behta hua khoon bhi usi tarah napaak he jis tarah kisi aur Jaanwar ka, khoon ke agar mamooli chhinte pad jae’n Jo majmu’i taur per ek rupya ke sikke ki chodai se kam ho to namaz ho jayegi varna nahi, albatta Jo khoon gosht per laga hua hota he woh napaak nahi,
*↳ ( Aapke masail aur unka Hal)*
✮ 10- Qurbani ka Gosht aur khaal kaafir ko Dena jaa’iz he,
✮ 11- Bank ya insurance ka mulajim( worker) ya koi bhi esa shakhs qurbani me shareek ho jiski kul ya aksar aamdani haraam ho, uski shirkat se kisi ki bhi qurbani sahi nahi hogi,
✮ 12- Haraam maal per qurbani wajib nahi,
✮ 13- Qurbani ke shareek ko zibah ki ujrat lena jaa’iz nahi,
✮ 14- Qurbani karne ka iraada ho ya na ho, Qurbani ke gosht se pehle kuchh na khana mustahab he,⇨ Ye hukm sirf 10 vi Zilhijja ke liye khaas he,
✮ 15- Ashra- e – Zilhijja me jis shakhs per qurbani wajib he woh hajamat na kare aur nakhoon na kaate,
⇨ Shart ye he k zere naaf aur baglo ki safai aur nakhoon kaate hue 40 roz na guzre ho, agar 40 roz guzar gaye ho to umoor mazkura ki safai wajib he,
* Ahsanul Fatawa,,, Jild, 7,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
  *❂ क़ुर्बानी के मुतफर्रिक मसाइल ❂*   
★_ फिक़हा में तशरीह है कि हैवानात की उमर में वाकिफ लोगों के क़ौल का एतबार होगा ना वाकिफ का नहीं ।
★_ कुर्बानी के जानवर के दांतों का मैयार यह है जानवर घास खा सकता हो तो उसकी कुर्बानी जायज़ है वरना नहीं क्योंकि दांतों से मक़सूद यही है।
★_ दुंबे की दुम का ऐतबार नहीं अगर पूरी भी कटी हो तो भी कुर्बानी जायज़ है ।
★_ जानवर उधार या किस्तों पर खरीद कर कुर्बानी करना जायज़ है ।
★_मकरूज़ पर निसाब से कर्ज अदा करने के बाद अगर निसाब में कमी नहीं आती निसाब कामिल बाकी रहता हो तो कुर्बानी वाजिब है ।
★_नीचे लिखी सूरतों में कुर्बानी के जानवर का दूध और गोबर इस्तेमाल में लाना और उससे नफा हासिल करना जायज़ है:-
१_  जानवर घर का पालतू हो ,
२_ जानवर घर का फालतू नहीं लेकिन जानवर को खरीदते वक्त कुर्बानी की नियत ना हो ।
३_जानवर कुर्बानी की नियत से तो खरीदा है लेकिन बाहर चरकर गुज़र ना करता हो बल्कि घर में ही चारा खाता हो ।
★_कुर्बानी के गोश्त का फरोख्त करना नाजायज़ है।
★_कुर्बानी के गोश्त की हड्डियां गोश्त पकाने से पहले या बाद में फरोख्त करना जायज़ नहीं।
★_ कुर्बानी के जानवर का बहता हुआ खून भी उसी तरह नापाक है जिस तरह किसी और जानवर का। खून के अगर मामूली छींटे पड़ जाएंगे तो मजमूई तौर पर ₹1 के सिक्के की चौड़ाई से कम हो तो नमाज हो जाएगी वरना नहीं , अलबत्ता जो खून गोश्त पर लगा हुआ होता है वह नापाक नहीं । *( आपके मसाईल और उनका हल)*
★_कुर्बानी का गोश्त और खाल काफिर को देना जायज़ है ।  
★_बैंक या इंश्योरेंस का मुलाजिम या कोई भी ऐसा शख्स कुर्बानी में शरीक हो जिसकी कुल या अक्सर आमदनी हराम हो उसकी शिरकत से किसी की भी कुर्बानी सही नहीं होगी ।
★_हराम माल पर कुर्बानी वाजिब नहीं ।
★_कुर्बानी के शरीक को जिबह की उजरत लेना जायज़ नहीं।
★_ कुर्बानी करने का इरादा हो या ना हो कुर्बानी के गोश्त से पहले कुछ ना खाना मुस्ताहब है। यह हुक्म सिर्फ 10वी जि़ल हिज्जा के लिए खास है ।
★_अशरा ए जि़लहिज्जा में जिस शख्स पर कुर्बानी वाजिब है वह हजामत ना करें और नाखून ना काटे ।शर्त यह है कि जेरे नाफ और बालों की सफाई और नाखून काटे हुए 40 रोज़ ना गुज़रे हों,  अगर 40 रोज़ गुज़र गए हो तो उमूरे मज़कूरा की सफाई वाजिब है।  
* अहसनुल फतावा- जिल्द-७,* _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat- ✦*
*✪ Qurbani ke liye Jaanwar Kharid kar Faqeer ho gaya ✪*
⇨ Ek shakhs ne  maaldar hone ke waqt Bakra qurbani ki niyat se kharida, lekin qurbani ke din aane se pehle gareeb ho gaya, ab woh shakhs us Bakre ko bechkar uski qeemat apne kaam me la sakta he ya nahi??
⇢Ya us Bakre ki qurbani us per wajib he, mutabik Shar’a kya hukm hoga??
✮ Agar qurbani ke akheer din woh shakhs Saahibe Nisaab na ho to uske zimme qurbani wajib nahi, us Bakre ko farokht ( sell) karke uski qeemat apne kaam me kharch karna durust he,
aur agar qurbani ke akheer din me bhi woh shakhs Saahibe Nisaab ho jaye to us per qurbani wajib hogi chahe Bakre ki kare ya aur ki,
*✪ Hadiya Kiye hue Jaanwar me Qurbani ki Niyat ✪*
⇨ Jis per qurbani wajib nahi gurbat ki vajah se, woh agar qurbani ka Jaanwar kharid leta he to us per qurbani wajib ho jati he, isi tarah agar bager kharide usko kisi ne Hadiya ya Sadqa ke taur per Jaanwar de diya aur usne dil me qurbani ki niyat kar li, to kya fir bhi us per qurbani wajib ho jati he,??
✮ is tarah us per qurbani wajib nahi hoti,
* Fatawa Mehmoodiya,, JILD-17, Safa no-317-318,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*               
*❂ चंद अहम सवालात के जवाबात ❂* 
*☞ कुर्बानी के लिए जानवर खरीद कर बेच दिया _,*       
*★_ एक शख्स ने मालदार होने के वक्त बकरा कुर्बानी की नियत से खरीदा लेकिन कुर्बानी के दिन आने से पहले गरीब हो गया ,अब वह शख्स उस बकरे को बेचकर उसकी कीमत अपने काम में ला सकता है या नहीं, या उस बकरे की कुर्बानी वाजिब है,  मुताबिक शरई हुकम  क्या होगा ?*
☞_ अगर कुर्बानी के अखीर दिन वह शख्स साहिबे निसाब ना हो तो उसके जि़म्में कुर्बानी वाजिब नहीं उस बकरे को बेच करके उसकी कीमत अपने काम में खर्च करना दुरुस्त है और अगर कुर्बानी के अखीर दिन में भी वह शख्स साहिबे निसाब हो जाए तो उस पर कुर्बानी वाजिब होगी चाहे बकरे की करें या और की ।
*❂ हदिया किये हुए जानवर में कुर्बानी की नियत ❂*
*★_ जिस पर  कुर्बानी वाजिब नहीं गुरबत की वजह से वह अगर कुर्बानी का जानवर खरीद लेता है तो उस पर कुर्बानी वाजिब हो जाती है, इसी तरह अगर बगैर खरीदें उसको किसी ने हदिया या सदक़े के तौर पर जानवर दे दिया और उसने दिल में कुर्बानी की नियत कर ली, तो क्या फिर भी उस पर कुर्बानी वाजिब हो जाती है ?*
☞ इस तरह उस पर कुर्बानी वाजिब नहीं होती ।
* फतावा महमूदिया जिल्द- 17 ,सफा नंबर 317- 318 _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞ Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat  ✦*
*✪ Gabhan Jaanwar ki Qurbani ✪*
⇨ Ek shakhs ne ek Gaay  ki qurbani ki niyat ki thi, ittefaq se  wo Gaay Gabhan ho gayi, ab us haamla ko qurbani kar diya jaye ya nahi,?
⇰ya bachcha paida hone ke baad kiya jaye,?
⇰ya Aainda saal kiya jaye,?ya Sadqa kar diya jaye,??
✮ Agar mahaz niyat ki thi, nazar ( mannat) nahi maani thi, to usse us per is makhsoos jaanwar ki qurbani lazim nahi hui, usko akhtyar he chahe qurbani kare ya na kare, ab kare ya fir baad me kare, ya baad qurbani sadqa kar de, ya Jo dil chahe kare,
 Jo Jaanwar qareebatul wiladat ho aur jiske zibaha karne se bachcha mar Jane ka andesha ho uska zibaha karna makrooh he,
,
* Fatawa Mehmoodiya,, JILD-17, safa no 322,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
               
*✦ चंद सवालात के जवाबात ✦*
*❂ गाबन जानवर की कुर्बानी ❂* 
       
*☞ एक शख्स ने एक गाय की कुर्बानी की नियत की थी इत्तेफाक से वह गाय गाबन हो गई अब उस हामला को कुर्बानी कर दिया जाए या नहीं ? या बच्चा पैदा होने के बाद किया जाए या आइंदा साल किया जाए ? या सदका़ कर दिया जाए ?*
★_ अगर महज़ नियत की थी नजर (मन्नत) नहीं मानी थी तो उससे उस पर इस मखसूस जानवर की कुर्बानी लाज़िम नहीं हुई , उसको अख्तियार है चाहे कुर्बानी करें या ना करें ,अब करें या फिर बाद में करें, या बाद कुर्बानी सदका कर दे या जो दिल चाहे करें ।
➡ जो जानवर करीबतुल विलादत हो और जिसके जिबह करने से बच्चा मर जाने का अंदेशा हो उसका जिबह करना मकरूह है।
* फतावा महमूदिया ,जिल्द 17 ,सफा नंबर 322 _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞ Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat  ✦*
*✪ Kisi ki taraf se bila- ijazat Qurbani karna ✪*
⇨ Zaid safar me tha, uske walid ne uski taraf se bager uski ijazat ke qurbani ki is khayal se k jab woh safar se wapas aayega to usse qurbani ke paise le lunga,
⇰Jab woh safar se wapas aaya to walid ne ladke se kaha k mene Teri taraf se qurbani kar di thi, usne kaha k achchha kiya aur usne qurbani ki qeemat de di, Baap beta do no alahda alahda rehte the, To us ladke ki qurbani durust hui ya nahi??
⇰Uski qurbani ki vajah se doosro ( hissedar) ki qurbani me koi nuqs to nahi aaya??
✯ Jabki Bete ki taraf se pehle se ijazat nahi thi, khud hi qurbani kar di is bharose per k baad me paisa le lenge, to uski taraf se qurbani sahi nahi hogi, agarche usne paise de diye ho,
✮Agar bade jaanwar me uski taraf se hissa liya tha to kisi bhi shareek ki qurbani Ada nahi hui, sabke jimme lazim he k apni qurbani ki qeemat sadqa kare,
* Fatawa Mehmoodiya,, JILD-17, safa no 322,* ,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
               
*✦ चंद सवालात के जवाबात ✦*
*❂ किसी की तरफ से बगैर इजाजत कुर्बानी ❂*
*☞ जैद सफर में था इसके वालिद ने उसकी तरफ से बगैर उसकी इजाजत के कुर्बानी की इस ख्याल से कि जब वह सफर से वापस आएगा तो उससे कुर्बानी के पैसे ले लूंगा । जब वह सफर से वापस आया तो वालिद ने लड़के से कहा कि मैंने तेरी तरफ से कुर्बानी कर दी थी, उसने कहा अच्छा किया और उसने कुर्बानी की कीमत दे दी , बाप बेटा दोनों अलहदा अलहदा रहते थे ।तो उस लड़के की कुर्बानी दुरुस्त होगी या नहीं?
उसकी कुर्बानी की वजह से दूसरे (हिस्सेदार) की कुर्बानी में कोई  नुक्स तो नहीं आया ?
★__ जबकि बेटे की तरफ से पहले से इजाजत नहीं थी खुद ही कुर्बानी कर दी इस भरोसे पर कि बाद में पैसे ले लेंगे तो उसकी तरफ से कुर्बानी सही नहीं होगी अगरचे उसने पैसे दे दिए हो ।
अगर बड़े जानवर में उसकी तरफ से हिस्सा लिया था तो किसी भी शरीक़ की कुर्बानी अदा नहीं हुई। सबके जिम्मेमें लाज़िम है कि अपनी कुर्बानी की कीमत सदका करें ।
* फतावा महमूदिया ,जिल्द 17 ,सफा नंबर 322 _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat - ✦*
*✪ Mayyat ki Taraf se Qurbani ✪*
*⇨ Agar zinda Aadmi apna hissa to na le aur Mayyat ki taraf se hissa le, to esa karna durust he ya apna hissa bhi le, aur Mayyat ki taraf se bhi le tab karna durust he??*
✮ Agar zinda Aadmi Saahibe Nisaab he to usko apna hissa lena wajib he, agar nahi lega to gunahgar hoga, aur fir uski qeemat ka sadqa karna wajib hoga,
Taham Mayyat ki taraf se hissa lega to uska sawab Mayyat ko pahunch jayega,
✮ Agar Mayyat ne vasiyat ki he to ek tihai tarka se hissa lekar qurbani karna wajib hoga, Agar vasiyat nahi ki to wajib nahi,
✮ Agar koi vaaris balig ho aur apne rupye se hissa lekar Mayyat ko sawab pahuncha de to shar’an durust he,
*✪ Nar aur Maada me kiski qurbani Afzal he ✪*
*⇨ Nar ki qurbani afzal he ya maada ki??*
✮ Agar qeemat aur gosht me barabar ho to Maada ki qurbani afzal he,
*. ↳ Shaami, 5/205,,*
*Fatawa Mehmudiya,Jild 17,safa 322-340,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
*❂ चंद अहम सवालात के जवाबात- ❂*
*❂मैयत की तरफ से कुर्बानी ❂*
*☞ अगर जिंदा आदमी अपना हिस्सा तो ना ले और मैयत की तरफ से हिस्सा ले तो ऐसा करना दुरुस्त है या अपना हिस्सा भी ले और मैयत की तरफ से भी ले तब करना दुरुस्त है ?*
★__ अगर जिंदा आदमी साहिबे निसाब है तो उसको अपना हिस्सा लेना वाजिब है अगर नहीं लेगा तो गुनहगार होगा और फिर उसकी कीमत का सदका करना वाजिब  होगा ।
ताहम मैयत की तरफ से हिस्सा लेगा तो उसका सवाब मैयत को पहुंच जाएगा ।
★_अगर मैयत ने वसीयत की है तो एक तिहाई तरका से हिस्सा लेकर कुर्बानी करना वाजिब है,  अगर वसीयत नहीं की तो वाजिब नहीं।
★_अगर कोई वारिस बालिग हो और अपने रुपए से हिस्सा लेकर मय्यत को सवाब पहुंचा दे तो शर्अन दुरुस्त है ।
*❂ नर और मादा में किस की कुर्बानी अफज़ल है ❂*
*☞ नर की कुर्बानी अफज़ल है या मादा की _,*
★_ अगर क़ीमत और गोस्त में बराबर हो तो मादा की कुर्बानी अफज़ल है -
*(शामी- 5 /205 )*    
* फतावा महमूदिया जिल्द 17 सफा-३२२-३४० _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat-  ✦*
*✪ Saatva hissa Afzal he ya Bakra ✪*
*⇨ Bade jaanwar me Saatva hissa lekar qurbani karna behtar he ya Bakre ki qurbani behrar he ???*
✮ Mustakil Bakre ki qurbani afzal he, jabki iski qeemat Bade jaanwar ke saatve hisse ke barabar ho ya zyada ho,
*↳. ( Durre Mukhtar, 5/205)*
*✪ 6 Shreeko ne ek Hissa Huzur Sallallahu Alayhivasallam ke liye kiya ✪*
*⇨ Agar chand shakhs milkar saatva hissa Huzur S.A. ke naam kare to karna durust he ya nahi?*
*⇰ya ek hi shakhs us hisse ki qeemat Ada kare tab durust he???*
✮ Ek shakhs qeemat Ada kare tab bhi durust he, sab shurka ( hissedar) milkar kare tab bhi durust he,
*Fatawa Mehmoodiya,,, JILD-17, safa no 342,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
*☞ चंद अहम सवालात के जवाबात,*
*❂ सातवां हिस्सा अफज़ल है या बकरा ❂*
*☞ बड़े जानवर में सातवां हिस्सा लेकर कुर्बानी करना बेहतर है या बकरे की कुर्बानी बेहतर है ?*
★__ मुस्तकिल बकरे की कुर्बानी अफज़ल है जबकि इसकी कीमत बड़े जानवर के सातवें हिस्से के बराबर हो या ज्यादा हो ।
*(दुर्रे मुख्तार 5 /205 )*      
*❂ 6 शरीकों ने एक हिस्सा हुजूर सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम के लिए किया  ❂*
*☞अगर चंद शख्स मिलकर सातवां हिस्सा हुजूर सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के नाम करें तो करना दुरुस्त है या नहीं ??*
*या एक ही शख्स उस हिस्से की कीमत अदा करें तब दुरुस्त है ??*
★_ एक शख्स कीमत अदा करें तब भी दुरुस्त हैं सब हिस्सेदार मिलकर करें तब भी दुरुस्त है ।
* फतावा महमूदिया जिल्द 17 सफा ३४२ _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat - ✦*
*✪ Ek Qurbani ke Hisse Ka Sawab kai logo’n ko pahunchana ✪*
*⇨ Zaid ek qurbani apni taraf se karta he aur ek apne Walden, Dada, Dadi, Nana, Nani, garz muta’addid amwaat ki taraf se karta he, To kya is tarah qurbani durust hogi,??*
*⇰Aur in logo’n ko ek qurbani ka sabko sawab pahunch jayega???*
✮ is tarah qurbani durust ho jayegi aur sawab bhi sabko pahunch jayega,
✮ Hazrat Nabi Akram Sallallahu Alayhivasallam ne ek qurbani ka sawab poori ummat ko pahunchaya he,
*↳    ( Shaami,  5 / 208)*
*✪ Qurbani me Walima ✪*
*⇨ Zaid ne Apne ladke ki shadi ki aur 11 Zilhijja ko wo walima karta he, is tarah qurbani ke jaanwar me ek hissa walima ki niyat se leta he,*
*⇰Shar’an iski ijazat he ya nahi??⇰Aur kisi ( hissedar) ki qurbani kharab to nahi hogi??*
✮ Walima Masnoona ki niyat se qurbani ke jaanwar me hissa lene me kisi bhi hissedar ki qurbani batil nahi hogi,
✮Jis tarah k Aqeeka ki  niyat se hissa lene se batil nahi hoti,
*↳ ( Shaami,  5/ 208 )*
*Fatawa Mehmoodiya,,,JILD- 17, Safa no. 422,*
    ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*     
  *☞ चंद  अहम सवालात के जवाबात,*   
*❂ एक कुर्बानी के हिस्से का सवाब कई लोगों को पहुंचाना ❂*         
*☞ जे़द एक कुर्बानी अपनी तरफ से करता है और एक अपने वालदेन दादा दादी नाना नानी गर्ज़ मुताद्दिद अमवात की तरफ से करता है तो क्या इस तरह कुर्बानी दुरुस्त होगी??*
*_ और इन लोगों को एक कुर्बानी का सबको सवाब पहुंच जाएगा??*
★_ इस तरह कुर्बानी दुरुस्त हो जाएगी और सवाब भी सबको पहुंच जाएगा । हजरत नबी करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने एक कुर्बानी का सवाब पूरी उम्मत को पहुंचाया है।
*( शामी -5 /208)*
        *❂ कुर्बानी में वलीमा ❂*         
*☞ ज़ैद ने अपने लड़के की शादी की और 11 जि़लहिज्जा को वह वलीमा करता है इस तरह कुर्बानी के जानवर में एक हिस्सा वलिमा की नियत से लेता है शर'न इसकी इजाजत है या नहीं ??*
*और किसी हिस्सेदार की कुर्बानी खराब तो नहीं होगी??*
★_ वलीमा मसनूना की नियत से कुर्बानी के जानवर में हिस्सा लेने में किसी भी हिस्सेदार की कुर्बानी बातिल नहीं होगी जिस तरह की अकी़के की नियत से हिस्सा लेने से बातिल नहीं होती  ।
*(शामी- 5 /208)*
* फतावा महमूदिया जिल्द 17 सफा-४२२ _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat –✦*
*✪ Khidmat guzaro’n ko qurbani ka Gosht dena ✪*
*⇨ Mut’addid Jagaho per ye dastoor he k Kasaai, Naai, Dhobi, Bhangi vagerah bhi qurbani ka Gosht maangte hai’n, aur unko diya bhi jata he,agar na diya jaye to woh samajhte hai’n k hamara haq maar liya aur bahut naraaz hote hai’n, To shar’an ab iska kya hukm he,??*
*⇰inko dena sahi he ya nahi??*
✮ Ye haqqul khidmat samajhna bhi galat he aur is tarah dena bhi mana he, agar is tarah de diya he to jis qadar diya he uski qeemat sadqa kar di jaye,
*↳ ( Shaami,  5/209)*
 Bager haqqatul khidmat ke kisi ko bhi dene me koi muzaeka nahi,
*✪ Qurbani ka Gosht Farokht karna ✪*
*⇨ Qurbani karne wala apni qurbani ke gosht ko farokht kar sakta he ya nahi??*
*⇰Agar usne khud qurbani na ki doosro’n ke yaha’n  se gosht aaya ho tab kya hukm he??*
✮ Apni qurbani ka Gosht Farokht karna makrooh he, agar farokht kar diya to qeemat sadqa karna wajib he,
✯Agar gosht kisi doosre shakhs ne qurbani ka diya ho to usko farokht karna durust he,
* Fatawa Mehmoodiya,,JILD-17, Safa no 436,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
               
*☞ चंद अहम सवालात के जवाबात_,*
*❂ खिदमत गुजारों को कुर्बानी का गोश्त देना ❂*
*☞ मुताद्दिद जगहों पर यह दस्तूर है कि कसाई नाई धोबी भंगी वगैरह भी कुर्बानी का गोश्त मांगते हैं और उनको दिया भी जाता है अगर ना दिया जाए तो वह समझते हैं कि हमारा हक मार लिया और बहुत नाराज होते हैं तो शर'अन अब इसका क्या हुक्म है , इनको देना सही है या नहीं ?*
★_ यह हकक़तुल खि़दमत समझना भी गलत है और इस तरह देना भी मना है अगर इस तरह दे दिया है तो जिस कदर दिया है उसकी कीमत सदका कर दी जाए ।
*( शामी- 5 /209)*
★_ बगैर हकक़तुल खिदमत के किसी को भी देने में कोई मुज़ायका नहीं ।
*❂ कुर्बानी का गोश्त फरोख्त करना ❂*
*☞  कुर्बानी करने वाला अपनी कुर्बानी के गोश्त को फरोख्त कर सकता है या नहीं ?*
*अगर उसने खुद कुर्बानी ना की दूसरों के यहां से गोश्त आया हो तब क्या हुकुम है ?*
★_अपनी कुर्बानी का गोश्त फरोख्त करना मकरूह है अगर फरोख्त कर दिया तो कीमत सदका करना वाजिब है ।
अगर गोश्त किसी दूसरे शख्स ने कुर्बानी का दिया हो तो उसको फरोख्त करना दुरुस्त है ।      
* फतावा महमूदिया जिल्द 17 सफा-४३६ _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat ✦*
*✪ Qurbani ke Gosht se isaale sawab aur Maruja Fatiha✪*
*⇨ India me baaz logo ke yaha ye dastoor he k murdo ki arvaah ko isaale sawab ka yani Fatiha  ke liye qurbani ke gosht se to Murdo’n ko fatiha nahi dilate hai’n balki kehte hai’n k jis shakhs ke naam se qurbani hoti he usko is gosht ka sawab milega, isliye alag se gosht manga kar baad pakane ke Murdo’n ki Fatiha dilate hai’n,*
*⇰Ye Jahil rasm kabile tark v bid’at he ya nahi??*
*⇰Awaam ka ye kehna he k qurbani ka sawab jiske naam qurbani ki gayi usko mil gaya, sab arvaah ko nahi milega aur na hi is qurbani wale gosht se milega, isliye alag kharidte hai’n,,*
✮ Awaam ka ye aqeeda aur khayal galat aur baatil he, Jisne qurbani ki usko to uska sawab mila hi he, Gosht ko Khuda waaste dene ka sawab mustkil he, Qurbani ki vajah se is me kami nahi aati,
✮ Tareeqa e maruja per yani khana saamne rakh kar us per Fatiha padna bhi shar’an be-asal aur bid’at he, iska tark karna zaroori he
. *↳( Raahe Sunnat,  275)*
✮ Bager iltzam tareekh v haiyyat vagerah ke jab bhi tofeeq ho galla, khana, kapda, naqad rupya vagerah Jo bhi dena chahe dekar ya Namaz, roza, quran, dua padkar sawab pahunchaya ja sakta he,
✮ Jis cheez ki faqeer miskeen ko zyada zaroorat ho us cheez ko dene se zyada sawab milta he,
*➖ Wallahu Aalam ➖*
* Fatawa Mehmoodiya,, JILD-17, Safa no, 437*
     ○═┅═┅═┅══○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
            
*☞ चंद अहम सवालात के जवाबात_,*
*❂ कुर्बानी के गोश्त से इसाले सवाब और मरुजा फातिहा ❂*  
*☞ इंडिया में बाज़ लोगों के यहां यह दस्तूर है के मुर्दों की रुहों को इसाले सवाब का यानी फातिहा के लिए कुर्बानी के गोश्त से तो मुर्दों को फातिहा नहीं दिलाते हैं बल्कि कहते हैं कि जिस शख्स के नाम से कुर्बानी होती है उसको इस गोस्त का सवाब मिलेगा इसलिए अलग से गोश्त मंगवा कर बाद पकाने के मुर्दों की फातिहा दिलाते हैं , यह जाहिल रस्म काबिले तर्क व बिद'अत है या नहीं  ??*
*_अवाम का यह कहना है कि कुर्बानी का सवाब जिसके नाम कुर्बानी की गई उसको मिल गया सब रूहों  को नहीं मिलेगा और ना ही इस कुर्बानी वाले गोश्त से मिलेगा इसलिए अलग खरीदते हैं ?*
★_ अवाम का यह अक़ीदा और ख्याल गलत और बातिल है,  जिसने कुर्बानी की उसको तो उसका सवाब मिला ही है गोश्त को खुदा वास्ते देने का सवाब मुस्तकिल है ,कुर्बानी की वजह से इसमें कमी नहीं आती ।
★_ तरीका़ ए मरूजा पर यानी खाना सामने रखकर उस पर फातिहा पढ़ना भी शर'अन बेअसल और बिद'अत है ,उसका तर्क करना जरूरी है ।
*( राहे सुन्नत -२७५ )*
★_ भव्य इल्तजा़म ,तारीख व  हैयत वगैरह के जब भी तौफीक हो गला खाना कपड़ा नगद रुपया वगैरह जो भी देना चाहें दे कर या नमाज़ रोज़ा क़ुरान दुआ पढ़कर सवाब पहुंचाया जा सकता है ।
★_ जिस चीज की फकीर मिस्कीन को ज्यादा ज़रूरत हो उस चीज को देने से ज्यादा सवाब मिलता है ।
*( वल्लाहु आलम )*      
* फतावा महमूदिया जिल्द 17 सफा-४३७ _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat -✦*
*✪ Charm Qurbani ya uski qeemat ka walid ya Aulad ko Dena ✪*
*⇨ Qurbani ki khaal apne walid ya Aulad ko Dena kesa he,??*
*⇰Agar uski qeemat apne walid ya Aulad ko Dena kesa he jabki wo gareeb ho’n??*
✮ Jis tarah qurbani ka Gosht inko Dena sahi he usi tarah qurbani ki khaal bhi inko Dena sahi he,
*↳. ( Shaami,  5/209)*
 Lekin Qurbani ki Khaal ko farokht karke uski qeemat Dena jaa’iz nahi, qeemat ese shakhs ko de de jisko zakaat de sakte hai’n, Walid ya Aulad ko zakaat dena durust nahi, qurbani ki khaal ki qeemat ka bhi sadqa karna wajib he,
*↳. ( Shaami,  5/205)*
*✪ Qurbani ka Khoon aur Haddiyo’n ka Kya Hukm he ✪*
*⇨ Qurbani ke khoon ka kya hukm he , yuhi chhod diya jaye??⇰iske ahatraam ka kya tareeka he??*
*⇰ Qurbani ki haddiyo’n ( bones) ka kya karna chahiye??*
✮ Shariat ne qurbani ke khoon ke ahatraam karne ka hukm nahi kiya, jis tarah doosre zibaha ka khoon napaak aur najis he, usi tarah qurbani ka khoon bhi napaak aur najis he,
yunhi chhod diya jaye ya gadde me mitti daal kar daba diya jaye,
✮ Haddiyo’n ko dafan kar diya jaye,
* Fatawa Mehmoodiya,, JILD-17, Safa nò. 481,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
*☞ चंद अहम सवालात के जवाबात ,*         
  *❂चर्म कुर्बानी या उसकी कीमत का वालिद या औलाद को देना _,❂*
*☞ कुर्बानी की खाल अपने वालिद या औलाद को देना कैसा है ?*
*_या उसकी कीमत अपने वालिद या औलाद को देना कैसा है जबकि वह गरीब हों ?*
★__ जिस तरह कुर्बानी का गोश्त इनको देना सही है उसी तरह कुर्बानी की खाल भी इनको देना सही है। *( शामी- 5 /209)*
:__ लेकिन कुर्बानी की खाल को फरोख्त करके उसकी कीमत देना जायज़ नहीं। क़ीमत ऐसे शख्स को दें दे जिसको जकात दे सकते हैं। वालिद या औलाद को जकात देना दुरुस्त नहीं ।कुर्बानी की खाल की क़ीमत का भी सदका़ करना वाजिब है । *(शानी -5/ 205)*
*❂ कुर्बानी का खून और हड्डियों का क्या हुक्म है ❂*
*☞ कुर्बानी के खून का क्या हुक्म है। यूं ही छोड़ दिया जाए ??  इसके अहतराम का क्या तरीका़ है??*
*"_ कुर्बानी की हड्डियों का क्या करना चाहिए ?*
★__ शरीयत ने कुर्बानी के खून के अहतराम करने का हुक्म नहीं किया, जिस तरह दूसरे जिबह का खून नापाक है उसी तरह कुर्बानी का खून भी नापाक और नजिस है । यूंही छोड़ दिया जाए या गड्ढे में मिट्टी डालकर दबा दिया जाए । हड्डियों को दफन कर दिया जाए ।
* फतावा महमूदिया जिल्द 17 सफा 481_,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat –✦*
*✪ Zilhijja ke Roze aur Qurbani se khane ki ibteda ✪*
*⇨ Zilhijja ki 9 vi tareekh ka ek roza he ya 2 rakhne chahiye?⇰Aur 10 tareekh ko kya ye zaroori he k roza qurbani ke gosht se khola jaye??*
✮ 1 Zilhijja se 9 Zilhijja tak roze rakhne ka bahut sawab he , aur 9 Zilhijja ka roza ka in sabse zyada ajr he,

✮ Mustahab ye he k 10 Zilhijja ko khane ki ibteda apni qurbani se kare isse pehle na khaye’n, lekin isse pehle khana bhi makrooh ya najaa’iz nahi he,
*✪ Galti se ek ne doosre ki Qurbani Zibaha ki ✪*
*⇨ 2 Aadmio’n ne qurbani ke liye 2 bakriya’n kharidi, magar inme koi shinakht esi nahi thi k do no apni apni bakrio’n ko pehchan sake,*
*⇰Ya Shinakht to thi magar bhool gaye aur do no ne ek doosre ki bakri ki qurbani kar di, baad me maloom hua k kisi ne bhi apni bakri ki qurbani nahi ki balki har ek ne doosre ki bakri ki qurbani ki he,⇰Esi soorat me kya do no ko dobara qurbani lazim hogi,??*
✮ Nahi, balki do no ki qurbani ho gayi,
*↳  ( Shaami,  5/210)*
* Fatawa Mehmoodiya,, JILD-17, Safa no 499,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*             
              
*☞ चंद अहम सवालात के जवाबात_,*
  *❂ ज़िलहिज्जा के रोज़े और कुर्बानी से खाने की इब्तिदा  ❂*  
*☞ जि़लहिज्जा की नवी तारीख का एक रोजा है या दो रखना चाहिए ??*
*"_और 10 तारीख को क्या ज़रूरी है कि रोज़ा कुर्बानी के गोश्त से खोला जाए ?* 
★__ एक जि़लहिज्जा से नौ जि़लहिज्जा तक रोज़े रखने का बहुत सवाब है और नौ जि़लहिज्जा का रोजे़ का इन सबसे ज्यादा अजर है ।
★_मुस्ताहब यह है कि १० ज़िलहिज्जा को खाने की इब्तिदा अपनी कुर्बानी से करें इससे पहले ना खाएं लेकिन इससे पहले खाना भी मक़रूह या नाजायज नहीं है ।
  *❂  गल्ती से एक ने दूसरे की कुर्बानी ज़िबह की ❂*

*☞ दो आदमियों ने कुर्बानी के लिए दो बकरियां खरीदी मगर इन में कोई शिनाख्त ऐसी नहीं थी कि दोनों अपनी अपनी बकरियों को पहचान सके ??*
*"_ यह शिनाख्त तो थी मगर भूल गए और दोनों ने एक दूसरे की बकरी की कुर्बानी कर दी ,बाद में मालूम हुआ कि किसी ने भी अपनी बकरी की कुर्बानी नहीं की बल्कि हर एक ने दूसरे की बकरी की कुर्बानी की है ।ऐसी सूरत में क्या दोनों को दोबारा कुर्बानी लाज़िम होगी ??*
★_ नहीं बल्कि दोनों की कुर्बानी हो गई । *(शामी -5 /210)*
    
* फतावा महमूदिया जिल्द 17 सफा 499 _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞ Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat – ✦*

*✪ 2 Raka’at Nafl aur Baal Nakhun na Tarashne se Qurbani ka Sawab  ✪*

*⇨ Zaid ne apne khutbe me kaha k jis shakhs me Qurbani ki istta’at na ho agar wo Eidul Azha ki namaz ke baad ghar per 2 Raka’at namaz pade aur har Raka’at me Surah Fatiha ke baad Surah  kausar pade to usko Qurbani ke barabar sawab milta he,*
*⇰Isi tarah sar ke baal aur nakhun na tarashe to Qurbani ke barabar sawab milta he, Ye kaha’n tak asliyat rakhta he???*

✮ is tarah 2 Raka’at padne se Qurbani ka sawab milna mene kisi kitaab me nahi dekha,

✮ Albatta nakhun aur baal ke mutalliq baaz ulema se esa suna he aur Ahadees me Qurbani  karne walo’n ke liye isko mustahab qaraar diya gaya he,

✮ Hadees Mubarak se ye maloom hota he k sirf Qurbani Karne wale shakhs ke liye mustahab he k wo zilhijja ke Pehle ashre me Baal aur nakhun na kaate,

*📓 Fatawa Mehmoodiya,,JILD-17, Safa no 486,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
*☞ चंद अहम सवालात के जवाबात_,*
*❂ दो रकात निफ्ल और बाल नाखून ना तराशने से कुर्बानी का सवाब ❂*          

*☞ जैद ने अपने खुतबे में कहा कि किसी शख्स में कुर्बानी की इस्तेतात ना हो अगर वह ईद उल अज़हा की नमाज़ के बाद घर पर 2 रकात नमाज़ पढ़े और हर रकात में सूरह फातिहा के बाद सूरह कौसर पड़े तो उसको कुर्बानी के बराबर सवाब मिलता है ??*
*"_इसी तरह सर के बाल और नाखून ना तराशे तो कुर्बानी के बराबर सवाब मिलता है । यह कहां तक असलियत रखता है ???*

★__ इस तरह 2 रकात पढ़ने से कुर्बानी का सवाब मैंने किसी किताब में नहीं देखा । अलबत्ता नाखून और बाल के मुताल्लिक बाज़ उल्मा से ऐसा सुना है और हदीस में कुर्बानी करने वालों के लिए उसको मुस्तहब क़रार दिया गया है , 
हदीस मुबारक से मालूम होता है कि कुर्बानी करने वाले शख्स के लिए मुस्तहब है कि वह ज़िल हिज्जा के पहले अशरे में बाल और नाखून ना काटे ।

*📘फतावा महमूदिया जिल्द 17 सफा-486 _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  Chand Aham Sawalaat ke Jawabaat –✦*

*✪ Qurbani ke jaanwar ki Rassi ka Sadqa karna ✪*

*⇨ Qurbani ke jaanwar ko jis rassi ya zanzeer se baandha he, uska sadqa karna zaroori he to bajaye zanzeer ke agar uski qeemat Ada kar di jaye to durust he ya nahi??*

✮ Rassi ya Zanzeer ka sadqa karna mustahab he, Farz nahi, qeemat Ada karne se uska to sawab hoga lekin rassi ke sadqa ka sawab na hoga,

 Qurbani ke jaanwar ko agar ma’a rassi kharida he, to ( rassi Jo jaanwar ke saath aayi he) usko sadqa kar diya jaye, (agar bager rassi ke kharida he) aur apni rassi me usko rakha he to usko sadqa karne ka hukm nahi he,

*📓 Fatawa Mehmoodiya,, JILD-17, Safa no 499,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
  *                
*☞ चंद अहम सवालात के जवाबात_,*
 *❂ कुर्बानी के जानवर की रस्सी का सदका़ करना ❂*          

*☞ कुर्बानी के जानवर को जिस रस्सी या जंजीर से बांधा है उसका सदका करना जरूरी है तो बजाय जंजीर के अगर उसकी कीमत अदा कर दी जाए तो दुरुस्त है या नहीं ??*

★_रस्सी या जंजीर का सदका करना मुस्तहब है फर्ज नहीं । कीमत अदा करने से उसका तो सवाब होगा लेकिन रस्सी के सदके का सवाब ना होगा।

➡ कुर्बानी के जानवर को अगर मय रस्सी खरीदा है तो( रस्सी जो जानवर के साथ आई है) उसको सदका कर दिया जाए । (अगर बगैर रस्सी के खरीदा है ) और अपनी रस्सी में उसको रखा है तो उसको सदका करने का हुक्म नहीं है ।

*📘 फतावा महमूदिया जिल्द 17 सफा-499 _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞ Adaab E Qurbani -*
【01】  Janwar ko zibah karne se Pehle chara khilaye paani pilaye bhooka pyasa Rakhna makrooh hai,
【02】 Janwar ko zibah karne Le jate waqt ghaseet kar Le jana makrooh hai,
【03】 Aasaani se giraye beja shakhti karna makrooh hai,
【04】 QibLa rukh bayi karwat Litaye ki jaan Aasaani se nikle iske khilaaf karna makrooh hai,
【05】 Chaar pairo'n me se teen bandhe,
【06】 Chhuri tez rakhe, kundhi chhuri se zibah karna makrooh hai,
【07】 Chhuri ko tez karna hoto janwar se chhupa kar teez kare janwar ke samne chhuri tez karna makrooh hai,
【08】 Janwar ko Letane se Pehle chhuri tez karle baad me chhuri tez karna makrooh hai ,hadees shareef me hai k ek shakhs ek janwar ko pachhad kar Chhuri tez karne Laga ye dekh kar Aap sallallahu Alaihivasallam ne farmaya tum bakre ko ek se zyada maut dena chahte ho,
【09】 Ek janwar ke saamne doosra janwar Zibah karna makrooh hai,
【10】 Letane ke baad foran zibah kare be-fayda der karna makrooh hai,
【11】 Shakhti se zibah na kare k sar Alag ho jaye, k ye makrooh hai, 
【12】 gardan ke Oupar se zibah karna makrooh hai, mana hai Kyunki isme janwar ko zayad Az zaroorat iza Rasani  hai, 
【13】 Zibah ke baad janwar sard hone se Pehle gardan Alag na kare aur na chamda utare k ye makrooh hai,
*→ Upar jo Adaab o Ahkaam likhe gaye hain Qurbani ke janwar ke sath makhsoos nahi balke har zibah ke liye hain,*

*📓 _Hidaya, Durre Mukhtar ,Shami*

     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
             *❂ आदाबे कुर्बानी ❂*          
★__ १_ जानवर को जिबह करने से पहले चारा खिलाएं पानी पिलाएं भूखा प्यासा रखना मकरूह है ।
२_ जानवर को जिबह करने ले जाते वक्त घसीट कर ले जाना मकरूह है ।
३_आसानी से गिराए बेजा सख्ती करना मकरूह है।
४_ क़िब्ला रुख बाईं करवट लिटाएं कि जान आसानी से निकले इसके खिलाफ करना मकरूह है।

★_५_  चार पैरों में से 3 बांधें,
६_ छुरी तेज़ रखें कुंधी छुरी से जिबह करना मकरूह है ।
७_छुरी को तेज़ करना हो तो जानवर से छुपाकर तेज़ करें जानवर के सामने छुरी तेज़ करना मकरूह है ।
८_जानवर को लेटाने से पहले छुरी तेज कर ले बाद में छुरी तेज़ करना मकरूह है । हदीस शरीफ में है कि एक शख्स एक जानवर को पछाड़ कर छुरी तेज़ करने लगा ।यह देखकर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया तुम बकरे को एक से ज़्यादा मौत देना चाहते हो ।
९_एक जानवर के सामने दूसरे जानवर को जिबह ना करना मकरूह है ।
१०_ लेटाने के बाद फोरन जिबह करें बेफायदा देर करना मकरूह है 

★_ ११_सख्ती से जिबह ना करें कि  सर अलग हो जाए ।  
१२_गर्दन के ऊपर से जिबह करना मकरू है ,मना है क्योंकि इसमें जानवर को  जा़यद अज़ जरूरत इज़ा रसानी है ।
१३_जिबह के बाद जानवर सर्द होने से पहले गर्दन अलग ना करें और ना चमड़ा उतारें कि  यह मकरूह है ।

*"_ऊपर जो आदाब व अहकाम लिखे गए हैं कुर्बानी के जानवर के साथ मखसूस नहीं बल्कि हर जिबह के लिए हैं ।*

*📘 हिदाया , दुर्रे मुख्तार, शामी _,*
      ▦══─────────────══▦
*☞  TARTEEB QURBANI_,*

✮_Qurbani ka janwar Apne haath se zibah kare Agar khud na kar sake to doosre se zibah karaye, Janwar pyasa na ho Qibla rukh Litaye Or ye Ayat padhe :-

*←إِنِّى وَجَّهْتُ وَجْهِىَ لِلَّذِى فَطَرَ ٱلسَّمَٰوَٰتِ وَٱلْأَرْضَ حَنِيفًا ۖ وَمَآ أَنَا۠ مِنَ ٱلْمُشْرِكِينَ  (6:79)*
*←قُلْ إِنَّ صَلَاتِى وَنُسُكِى وَمَحْيَاىَ وَمَمَاتِى لِلَّهِ رَبِّ ٱلْعَٰلَمِينَ  (6:162)*
*←لَا شَرِيكَ لَهُۥ ۖ وَبِذَٰلِكَ أُمِرْتُ وَأَنَا۠ أَوَّلُ ٱلْمُسْلِمِينَ  (6:163)*

*→Tarjumah :* Maine mutavajjah kiya apne muh ko usi ki taraf jisne banaye Aasman or Zameen sab se yaksu ho kar or Mai'n nahi hu'n Shirk karne walo'n me se beshak meri namaz or meri Qurbani or mera jeena or marna Allah ta’ala hi ke liye hai jo paalne wala sare Jaha'n ka hai uske Liye koi Shareek nahi hai or Mai'n usi ka hukm kiya gaya hu'n or Mai'n musalmano me se hu'n
اللهم منك ولك

Allah humma minka waLak 
phir bismiLahi Allah hu akbar keh kar Zibah kare ,

*☞QURBANI KE BAAD KI DUA_,*
*→Zibaah karne ke baad ye dua padhe*

*◆←اللهم تقبله منی كماتقبلة من حبيبك محمد وخليلك إبراهيم عليهما السلام*

*→Allah humma taqab’baLhu min’ni kama taqab’baLta min habeebika muhammadiyun wa khaLeeLika Ibrahima Alaihimassalaam*

*✮→Tarjumah :* Ey Allah is qurbani ko mujhse qubooL farma jesa k Aapne qubooL kiya apne habeeb sallallahu alaihivasallam se or Apne khaleeL Hazrat Ibrahim Alaihissalam se

→Note; Agar kisi or ki taraf se zibaah kare mini ki bajaye Lafz min’fuLanin kahe or fuLanin ki jagah uska Naam Lele

*📁Mishkat/1/128*

*☞ QURBANI KE BAAD KI DUA KA SABOOT_,*

✮→Mishkat Sharif babuL fiL Azhiyah me Sahi Muslim ki riwayat se hazrat Ayesha Raziyllahu anha ki hadees Zikr ki hai k Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne Ek siyah Rang ka seengo waLa medha zibah farmaya phir ye dua padhi

■←بسم الله اللهم تقبل من محمد و آل محمد ومن امة محمد

*📓_Masa’il e Qurbani _*
*Alhamdulillah__________,,* 
 ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═○
               *▓  क़ुर्बानी  ▓*              
       *❂ तरतीब ए कुर्बानी ❂*          

★__ कुर्बानी का जानवर अपने हाथ से जिबह करें अगर खुद ना कर सकें तो दूसरे से जिबह कराएं। जानवर प्यासा ना हो क़िब्ला रुख लिटाएं और यह आयत पढ़ें :-

*←إِنِّى وَجَّهْتُ وَجْهِىَ لِلَّذِى فَطَرَ ٱلسَّمَٰوَٰتِ وَٱلْأَرْضَ حَنِيفًا ۖ وَمَآ أَنَا۠ مِنَ ٱلْمُشْرِكِينَ  (6:79)*
*←قُلْ إِنَّ صَلَاتِى وَنُسُكِى وَمَحْيَاىَ وَمَمَاتِى لِلَّهِ رَبِّ ٱلْعَٰلَمِينَ  (6:162)*
*←لَا شَرِيكَ لَهُۥ ۖ وَبِذَٰلِكَ أُمِرْتُ وَأَنَا۠ أَوَّلُ ٱلْمُسْلِمِينَ  (6:163)*

*★_तर्जुमा:-*  मैंने मुतवज्जह किया अपने मुंह को उसी की तरफ जिसने बनाए आसमान और जमीन सबसे यकसूं हो कर और मैं नहीं हूं शिर्क करने वालों में से बेशक मेरी नमाज़ और मेरी कुर्बानी और मेरा जीना और मरना अल्लाह ताअला ही के लिए है जो पालने वाला सारे जहां का है उसके लिए कोई शरीक नहीं है और मैं उसी का हुक्म किया गया हूं और मैं मुसलमानों में से हूं ।

*_اللهم منك ولك_,*

(अल्लाहुम्मा मिनका वा लक ) फिर बिस्मिल्लाहि अल्लाहु अकबर कहकर जिबह करें ।

*★_कुर्बानी के बाद की दुआ :-* जिबह करने के बाद यह दुआ पढ़े :- 

*◆←اللهم تقبله منی كماتقبلة من حبيبك محمد وخليلك إبراهيم عليهما السلام*

*★_तर्जुमा:-*  ऐ अल्लाह इस कुर्बानी को मुझसे क़ुबूल फरमा  जैसा कि आपने कुबूल किया अपने हबीब सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम और अपने खलील हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम से ।
*★__कुर्बानी के बाद की दुआ का सबूत:-*  _मिश्कात शरीफ बाबुल फिल अज़हिया में सही मुस्लिम की रिवायत से हजरत आयशा रजियल्लाहु अन्हा की हदीस जिक्र की है कि आप हजरत सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम  ने एक सियाह रंग का सींगों वाला मैंडा जिबह फरमाया फिर यह दुआ पढ़ी ।

*■←بسم الله اللهم تقبل من محمد و آل محمد ومن امة محمد_,*

*📘मसाइले कुर्बानी  _,*
     ○═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅═┅○
           *✍ Haqq Ka Daayi ,*
http://www.haqqkadaayi.com/
*👆🏻👆🏻Visit for Daily updates,*
*Telegram*_ https://t.me/haqqKaDaayi    
┣━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━┫
❂❂❂
 

Post a Comment

  1. Bakre ke daath toot Gaye to kya kare

    ReplyDelete

 
Top